Role of Calories in Our Body

carbohydrate fat and protein intake

Overview

The Importance of a Healthy Diet
You must establish a calorie deficit by eating fewer calories than you burn in order to lose weight. By doing so, regardless of the carbohydrate, fat and protein content of your diet, you compel your body to pull energy from its existing stores (body fat). It's critical to account for the kind of foods you're eating once you've established a calorie deficit, as some are more diet-friendly and nutritious than others. Here are certain meals and macronutrients to pay attention to, as well as ones to avoid.

Choose foods that are high in nutrients

Nutrient-dense foods have a high concentration of nutrients while being low in calories.
Fiber, lean protein, healthy fats, vitamins, minerals, and other helpful components like phytochemicals are all found in nutrient-dense diets. Dairy, beans, lentils, whole grains, fruits, vegetables, and lean meats and fish are examples of these foods. A lot of these meals are also high in fibre and have a lot of water in them. Water and fibre can help you feel fuller for longer, allowing you to consume fewer overall calories throughout the day.

Consume foods that are high in protein
Protein improves satiety, prevents muscle loss, and has the largest thermic impact, meaning it requires more calories to breakdown than carbs or fats. Meat, fish, poultry, eggs, and dairy are all good sources of lean animal protein. Plant-based sources of protein, such as soy, grains, and certain vegetables, such as green peas, are also available. Protein smoothies or meal-replacement beverages are also a wonderful way to get more protein in between meals or in place of a meal.

Limit your intake of high-carbohydrate and high-fat foods

Some foods can help you lose weight, while others can undermine your efforts. Foods that contain both fats and carbohydrates trigger your brain's reward centre and boost your appetites, leading to overeating and weight gain. This tempting mixture of fats and carbs can be found in doughnuts, pizza, cookies, crackers, potato chips, and other highly processed food. Carbs and fats do not have addictive properties when consumed separately, but when consumed combined, they might be difficult to resist.

The best Macronutrient Ratio is one that you can maintain over time

carbohydrate fat and protein ratio

While your diet's macronutrient composition may not directly effect fat reduction, it can have an impact on your ability to stick to a low-calorie diet. This is significant since studies have shown that sticking to a low-calorie diet is the single most important predictor of weight loss. Most people, however, find it difficult to stick to a diet, which is why so many diets fail.

Individualize your macronutrient ratio based on your preferences and health to improve your chances of success on a low-calorie diet. People with type 2 diabetes, for example, may find it simpler to control their blood sugars on a low-carb diet rather than a high-carb diet.

Conversely, otherwise healthy persons may discover that a high-fat, low-carb diet makes them feel less hungry and is easier to stick to than a low-fat, high-carb diet. However, not everyone should follow a diet that emphasises a high intake of one macronutrient (such as fats) and a low intake of another (such as carbohydrates). Instead, you could discover that sticking to a diet with the proper macronutrient balance, which is equally good for weight loss, is possible.

The Institute of Medicine of the National Academies recommends that persons consume the following macronutrient distribution ranges (AMDR):
Carbohydrates account for 45–65 percent of their calories.
Fats account for 20–35 percent of their calories.
Proteins account for 10–35 percent of their calorie intake.
In any case, pick a diet that fits your lifestyle and preferences the best. It's possible that some trial and error will be required.

Carbohydrates

Each gramme of carbohydrate contains 4 calories. Carbohydrates should account for 50 to 60 percent of your total daily calories. Carbohydrates contain the most glucose and provide the greatest energy quickly. Carbohydrates are converted to glucose 100 percent of the time in your body.
Your body may store glucose in your liver in addition to providing immediate energy. Extra carbohydrate is stored as glycogen in your liver and released when your body requires it. The quantity of glycogen your liver can store, however, is limited. Once your liver reaches that limit, the excess glucose is converted to fat by your body.

Carbohydrates are divided into two categories: healthy and unhealthy.
1. Healthy Carbohydrates: Carbohydrates that are good for you are also known as complex or slower-acting carbohydrates. Multigrain bread, brown rice, lentils, and beans are among the ingredients. This form of carbohydrate elevates blood sugar gradually and over a longer period of time. This keeps you from feeling hungry for extended periods of time and helps to keep your blood sugar levels in check.
2. Unhealthy Carbohydrates: Carbohydrates that aren't so good for you are also known as basic or fast-acting carbs. Candy, cookies, cake, soda, juice, and sweetened beverages are all included. This form of carbohydrate swiftly boosts blood sugar levels, but only for a short time. As a result, while these carbs are effective in restoring blood sugar levels, they do not satisfy hunger as well as healthy carbs.

Carbohydrates can be simple or complicated, depending on the size of the molecule.
1. Simple carbohydrates include many types of sugar, such as glucose and sucrose (table sugar). They are the quickest source of energy because they are small molecules that can be swiftly broken down and absorbed by the body. They cause a rapid rise in blood glucose levels (blood sugar). Simple carbs are abundant in fruits, dairy products, honey, and maple syrup, and they are responsible for the sweetness of most candies and desserts.
2. Complex carbohydrates are made up of a series of basic carbs strung together in a continuous string. Complex carbohydrates must be broken down into simple carbohydrates before they can be absorbed since they are larger molecules than simple carbs. As a result, they deliver energy to the body more slowly than simple carbohydrates, but faster than protein or fat. They are less likely to be turned to fat because they are digested more slowly than simple carbohydrates. They also raise blood sugar levels more slowly and to lower levels than simple carbs, but for a longer period of time.

Starches and fibres, which are found in wheat products (such as breads and pastas), other grains (such as rye and corn), beans, and root vegetables, are examples of complex carbohydrates (such as potatoes and sweet potatoes).

Carbohydrates can be useful in a variety of ways.
• Refined
• Unrefined

The term "refined" refers to a food that has been heavily processed. Fiber and bran have been stripped away, along with many of the vitamins and minerals they contain. As a result, the body processes these carbs quickly, and they supply little nutrition while having similar calorie counts. Enrichment refers to the addition of vitamins and minerals to refined foods in order to boost their nutritional value. Obesity and diabetes are more likely in people who eat a diet high in simple or refined carbohydrates.
When humans consume more carbs than they require at the time, the body stores part of them (as glycogen) in their cells and turns the remainder to fat. Glycogen is a complex carbohydrate that the body can convert to energy quickly and easily. Glycogen is a type of carbohydrate that is stored in the liver and muscles. During periods of severe exertion, muscles consume glycogen for energy. The amount of carbohydrates stored as glycogen is nearly enough for a day's worth of calories. Carbohydrates are stored in a few different human tissues as complex carbohydrates that cannot be used for energy.
Carbohydrates should account for roughly 50 to 55 percent of total daily calories, according to most experts. Added sugars should account for no more than 10% of total daily calories. Syrups and other caloric sweeteners used in other food products are referred to as added sugars. Added sugars are included on food labels as an ingredient. Brown sugar, corn syrup, dextrose, fructose, glucose, high-fructose corn syrup, honey, invert sugar, lactose, malt syrup, maltose, molasses, raw sugar, sucrose, trehalose, and turbinado sugar are among them. Sugars found naturally in foods like fruit and milk are not added sugars.

Proteins

carbohydrate fat and protein intake

Protein also contains 4 calories per gramme. Protein should account for 12 to 20% of your total daily calories in a healthy diet. Protein is required by the body for development, maintenance, and energy. Protein may be stored and is mostly utilised by your muscles. Protein is converted to glucose by your body in about 60% of the time. It takes 3 to 4 hours for protein to have an effect on blood sugar levels. When it does have an effect, diets high in protein do not cause a significant increase in blood sugar.

Fat

Fats have the highest calorie content of any nutrient, at 9 calories per gramme. Fat should account for roughly 30% of total daily calories in a healthy diet. This entails consuming 50 to 80 grammes of fat every day. Fat also provides energy to the body, but only around 10% of fat is converted to glucose.

Fat has little effect on blood sugar on its own. When you eat fat with a carbohydrate, however, the rise in blood sugar is slowed. Because fat slows digestion, once your blood sugar rises, it might keep your blood sugar levels elevated for a longer time.

Different forms of fat exist, and some are better for you than others. Mono-unsaturated or poly-unsaturated fats are the best choices. At normal temperature, these fats are liquid. Mono-unsaturated fats are particularly beneficial since they lower your blood's bad cholesterol (LDL). Olive, canola, avocado, and nut oils are examples of these fats.

Saturated and trans fats should be avoided. At room temperature, fats containing primarily trans fats and saturated fats are solid. Saturated fats should account for no more than 10% of your daily calories, and trans fats should be avoided at all costs.

1. Saturated Fats: Butter, calf fat, and coconut, palm, and palm kernel oils are the richest sources of saturated fats. Saturated fats are found in higher-fat meats and dairy products, as well as cakes, cookies, and several snack foods. Saturated fat can be found in a variety of foods, including pizza, casseroles, burgers, tacos, and sandwiches At room temperature, these types of fats are solid. Saturated fat can also be found in hardened fats like coconut or palm kernel oils, as well as hydrogenated oils. These have the potential to harm your heart and arteries.

2. Trans fats: Trans fats or trans fatty acids, are found naturally in some foods but can also be manufactured artificially. Food producers are phasing out trans fats since they are unhealthy. Some processed foods, such as desserts, microwave popcorn, frozen pizza, margarine, and coffee creamer, nonetheless contain trans fats.

While keeping total fat intake within the recommended range, replace saturated and trans fats with these two forms of healthy fats:
1. Monounsaturated Fats: Canola, olive, peanut, sunflower, and safflower oils, as well as avocados, peanut butter, and most nuts, contain the most of these.
2. Polyunsaturated fats: are lipids that are rich in omega-3 fatty acids. Sunflower, corn, soybean, and cottonseed oils, as well as fatty fish, walnuts, and certain seeds, have the highest concentrations.
Oils are liquid at normal temperature and contain predominantly monounsaturated and polyunsaturated fats. When these fats substitute saturated fats, they appear to reduce the risk of heart disease. However, this does not imply that you can consume more than the Dietary Guidelines recommend.

To reduce the amount of saturated fat in your diet, do the following:
1. Remove the skin from chicken and choose cuts of meat with minimal fat.
2. Use dairy products that are low in fat or fat-free.
3. For cooking, use oils like olive or canola.
4. Vegetables, healthy grains, low-fat and fat-free dairy products, or lean cuts of meat and poultry should be substituted for foods high in saturated fats.

Macronutrient Diet

The Macronutrient Diet is a revolutionary approach to dieting that emphasises macronutrients over calories.
The four types of food molecules that the body can break down for energy are known as macronutrients. This diet tracks three types of macronutrients:
• Protein is a calorie-dense food with 4 calories per gramme.
• Carbohydrates have a calorie content of 4 per gramme.
• The calorie content of fat is 9 calories per gramme.

Alcohol is the fourth macronutrient, at 7 calories per gramme, however it isn't part of the macronutrient diet.
The macronutrient diet is simple to follow and just entails a few steps:
1. Calculating your macros: Calculations are used to figure out how many grammes of carbohydrate, fat and protein you'll need each day to reach your weight-loss goals.
2. Meeting your macros: Once you've established your macros, all you have to do is stick to them every day. Food consumption is monitored and changed as needed.

Many people find this diet to be a welcome break from stringent calorie tracking or removing entire food groups because it allows them to eat whatever they want. This diet is commonly employed by those who wish to lose weight, but it can also be adapted to help people gain weight.

Macros and How to Calculate Them

carbohydrate fat and protein intake

Calculating your macros is the first step in starting the Macronutrient diet.
The general procedure is as follows:
1. Calculate your basal metabolic rate: Based on your age, sex, height, and weight, standardised equations are used to determine how much energy your body uses at rest. This is referred to as your BMR (basal metabolic rate).
2. Adjust for activity level: To boost calories based on your activity level, multiply your BMR by an activity factor. This is referred to as your TDEE (total daily energy expenditure).
3. Adjust according to your weight-loss goals: If you want to lose weight, cut your calorie consumption by 15–25%. If you want to gain weight, increase your calorie intake by 5–15 percent.
4. Decide on your macros: Protein should be consumed at a rate of 0.7–1.0 grammes per pound of body weight. Consumption of fat should be 0.25–0.4 grammes per pound of body weight. Carbohydrates get all of the remaining calories.

The primary idea behind weight loss is to lower calories while increasing protein in order to maintain lean muscle mass while lowering body fat.
The final Macronutrient diet plan should tell you how many calories and how many grammes of carbohydrate, fat and protein to consume each day after you've completed all of the calculations.

Benefits of Macronutrient Diet

1. It Has the Potential to Be an Eye-Opening Experience: Macronutrient diet is a fantastic educational tool for folks who are inexperienced with the macronutrient composition of foods because it focuses on macronutrients rather than calories.
A Snickers bar and 5.5 ounces of salmon, for example, have nearly the same number of calories but drastically different macronutrient profiles. While both the candy bar and the salmon are high in fat, the Snickers bar is high in carbohydrates, while the salmon is high in protein. For someone who has never tracked macros before, it's simple to see how learning to meet them might be eye-opening.

2. It Assists You in Reaching Your Weight-Loss Objectives: So far, the evidence on whether or not changing your macros improves weight loss is inconsistent. Some data suggests that high-protein diets, such as IIFYM, can boost metabolism and help people lose weight for longer, but further research is needed.
Regardless, studies have consistently demonstrated that calorie restriction leads to weight loss in the short run. Following the IIFYM diet should result in weight reduction because it cuts calories by 15–25% for persons who wish to lose weight. Food tracking has also been associated to weight loss success, thus IIFYM's tracking component may be advantageous as well.

3. There Are No Foods That Are Prohibited: Macronutrient diet allows you to eat whatever you want as long as it fits into your macros. This is an excellent approach to teach people about balance and where the majority of their carbohydrate, fat and protein come from. Allowing all meals can also alleviate some of the stress and guilt associated with other, more restrictive dieting techniques, resulting in a more pleasurable experience.

4. It's more adaptable and easier to follow: It's simple to organise your meals around your lifestyle with IIFYM, and you won't feel restricted. If you know you'll be eating out, for example, you can look up nutrition information ahead of time and change the rest of your day's meals as needed. Because you're less likely to feel confined, this flexibility can make IIFYM simpler to keep to. IIFYM is suitable for a wide range of individuals, including those on specific diets such as vegan, vegetarian, paleo, or gluten-free. Because there are no constraints, the IIFYM plan can accommodate a wide range of cuisines and cooking techniques.

Some downside of Macronutrient Diet

1. It's Still a Diet: Even while IIFYM is more adaptable than other diets, it is still a diet. Diets do not work in the long run, according to a slew of studies, and the vast majority of people regain at least some of the weight they lost. Other elements such as motivation, emotions, sleep, and stress, in addition to diet, may help people lose weight more successfully. Online coaches are available through the IIFYM programme, however they are not needed to have any official nutrition or dietetics expertise. Working with a dietitian or other nutrition specialist to address these issues in a more tailored way may be a safer and more successful option.

2. Micronutrients aren't given enough attention: With so much emphasis on macronutrients, micronutrients such as vitamins and minerals are often overlooked. While IIFYM promotes a whole-foods diet, no monitoring is done to ensure that participants get enough vitamins and minerals. Many fad diets don't include enough vitamins and minerals, according to research, so it's possible that at least some people on the IIFYM diet aren't getting enough. It's a good idea to check your IIFYM diet for micronutrients to make sure you're receiving enough. If necessary, you may also wish to consider taking a multivitamin-mineral supplement.

3. Doesn't Take Health Issues into Consideration: IIFYM may not be suitable for everyone, particularly those with medical issues that necessitate special diets. People with diabetes, for example, must keep track of their carbohydrate intake, while those with kidney illness must keep track of their salt, phosphorus, and protein intake. Although an IIFYM diet may be modified to accommodate these unique factors, more extensive advice from a dietitian or other nutrition specialist is required.

4. Could Put Some People at Risk of Eating Disorders: While macronutrient tracking might assist people in achieving their health objectives, it has the potential to cause disordered eating in some people. Food and fitness tracking have been linked to the development of eating disorders, particularly in young women, according to research. According to one study, 73 percent of college students with eating disorders feel that utilising tracking apps contributed to their condition's development. Before advising diets like IIFYM, healthcare providers should test for eating problems.

Conclusion

Macronutrient diet is a flexible eating solution for those looking to reduce weight and gain muscle mass without feeling deprived. It entails calculating how many grammes of carbohydrate, fat and protein you need to consume each day and then keeping track of your food intake to ensure you fulfil these macros. Macronutrient diet, on the other hand, does not track micronutrients and may not be appropriate for persons who have certain medical conditions or are at risk of developing an eating disorder. Some people find it difficult to lose weight and keep it off in the long run, and they may benefit from working with a nutritionist for further advice and assistance. Many people find macronutrient diet to be less restrictive and easier to stick to than other diets because it allows them to eat whatever they want. It's a good alternative for people who want to lose weight while maintaining flexibility and balance.

Related topics:

1.What is self-care & importance of self-care

Self-care means doing activities that makes us feel good and releases stress. Along with other day to day activites, self-care is also important for the body as well as the soul. To know more visit: What is self-care & importance of self-care

2. Yoga for self-care

Yoga is one of the most essential componet of self-care. It makes you feel good about yourself and has a positive impact on your physical as well as mental health. To know more visit: Yoga for self-care

3. Benefits of self-care

There are several benefits of self care such as improved productivity, improved immune system, enhanced self-knowledge and self- compassion.The main benefit is that it brings happiness to your life. To know more visit: Benefits of self-care

4. How to start a self-care routine

As many people face difficulty in starting a self-care routine, it is better to start including small self-care practices such as meditaion, yoga or excercise in your daily routine. To know more visit: How to start a self-care routine

5. How to manage stress

Self-care is an important tool that helps us to feel healthy and happy and reduces stress even in the most stressful conditions. Self-care relaxes out body and soul as it reduces the negative feelings and anxeity.To know more visit: How to manage stress




The above essentials are available with AFD SHIELD.
AFD Shield capsule is a combination of 12 natural ingredients among which are Algal DHA, Ashwagandha, Curcumin and Spirullina. AFD Shield reduces TG, increases HDL and improves age related cognitive decline. It also reduces stress and anxiety and performs anti-aging activity.Moreover, it also enhances the immunomodulatory activity, improves immunity and reduces inflammation and oxidative stress. Nutralogicx: AFD SHIELD

आपका कार्बोहाइड्रेट, वसा और प्रोटीन का सेवन

carbohydrate fat and protein intake

अवलोकन

एक स्वस्थ आहार का महत्व
वजन कम करने के लिए आपको कम कैलोरी खाकर कैलोरी की कमी स्थापित करनी चाहिए। ऐसा करके, अपने आहार की कार्ब, वसा या प्रोटीन सामग्री की परवाह किए बिना, आप अपने शरीर को अपने मौजूदा स्टोर (शरीर की वसा) से ऊर्जा खींचने के लिए मजबूर करते हैं। यह खाद्य पदार्थों की तरह आप खा रहे है एक बार आप एक कैलोरी घाटा स्थापित किया है के लिए खाते के लिए महत्वपूर्ण है, के रूप में कुछ अधिक आहार के अनुकूल है और दूसरों की तुलना में पौष्टिक । यहां कुछ भोजन और मैक्रोन्यूट्रिएंट्स पर ध्यान देने के साथ-साथ लोगों को बचने के लिए भी हैं ।

ऐसे खाद्य पदार्थों का चयन करें जो पोषक तत्वों में उच्च हों।

पोषक तत्व घने खाद्य पदार्थों में कैलोरी कम होने के दौरान पोषक तत्वों की मात्रा अधिक होती है। फाइबर,दुबला प्रोटीन, स्वस्थ वसा, विटामिन, खनिज, और फाइटोकेमिकल्स जैसे अन्य सहायक घटक सभी पोषक तत्व-घने आहार में पाए जाते हैं। डेयरी, सेम, दाल, साबुत अनाज, फल, सब्जियां, और दुबला मांस और मछली इन खाद्य पदार्थों के उदाहरण हैं। इनमें से बहुत सारे भोजन में फाइबर भी अधिक होता है और उनमें बहुत सारा पानी होता है। पानी और फाइबर आपको लंबे समय तक फुलर महसूस करने में मदद कर सकते हैं, जिससे आप दिन भर में कम समग्र कैलोरी का उपभोग कर सकते हैं।

प्रोटीन में उच्च खाद्य पदार्थों का सेवन करें। प्रोटीन तृप्ति में सुधार करता है, मांसपेशियों की हानि को रोकता है, और सबसे बड़ा थर्मिक प्रभाव पड़ता है, जिसका अर्थ है कि इसे कार्ब्स या वसा की तुलना में टूटने के लिए अधिक कैलोरी की आवश्यकता होती है। मांस, मछली, पोल्ट्री, अंडे, और डेयरी दुबला पशु प्रोटीन के सभी अच्छे स्रोत हैं । प्रोटीन के पौधे आधारित स्रोत, जैसे सोया, अनाज, और हरी मटर जैसी कुछ सब्जियां भी उपलब्ध हैं। प्रोटीन स्मूदी या भोजन बदलने वाले पेय पदार्थ भोजन के बीच या भोजन के स्थान पर अधिक प्रोटीन प्राप्त करने का एक अद्भुत तरीका भी है।

उच्च कार्बोहाइड्रेट और उच्च वसा वाले खाद्य पदार्थों के अपने सेवन को सीमित करें। कुछ खाद्य पदार्थ आपको अपना वजन कम करने में मदद कर सकते हैं, जबकि अन्य आपके प्रयासों को कमजोर कर सकते हैं। जिन खाद्य पदार्थों में वसा और कार्बोहाइड्रेट दोनों होते हैं, वे आपके मस्तिष्क के इनाम केंद्र को ट्रिगर करते हैं और आपकी भूख को बढ़ावा देते हैं, जिससे अधिक खाने और वजन बढ़ जाता है। वसा और कार्ब्स का यह आकर्षक मिश्रण डोनट, पिज्जा, कुकीज़, पटाखे, आलू चिप्स और अन्य अत्यधिक प्रसंस्कृत भोजन में पाया जा सकता है। कार्ब्स और वसा का अलग से सेवन करने पर नशे की लत गुण नहीं होते हैं, लेकिन जब संयुक्त रूप से सेवन किया जाता है, तो उनका विरोध करना मुश्किल हो सकता है।

सबसे अच्छा मैक्रोन्यूट्रिएंट अनुपात वह है जिसे आप समय के साथ बनाए रख सकते हैं।

carbohydrate fat and protein intake

जबकि आपके आहार की मैक्रोन्यूट्रिएंट संरचना सीधे वसा में कमी का प्रभाव नहीं डाल सकती है, यह कम कैलोरी वाले आहार से चिपके रहने की आपकी क्षमता पर प्रभाव डाल सकती है। यह महत्वपूर्ण है क्योंकि अध्ययनों से पता चला है कि कम कैलोरी वाले आहार से चिपके रहना वजन घटाने का सबसे महत्वपूर्ण कारक है। हालांकि, ज्यादातर लोगों को आहार से चिपके रहना मुश्किल लगता है, यही वजह है कि इतने सारे आहार विफल हो जाते हैं। कम कैलोरी वाले आहार पर सफलता की संभावनाओं में सुधार करने के लिए अपनी प्राथमिकताओं और स्वास्थ्य के आधार पर अपने मैक्रोन्यूट्रिएंट अनुपात को व्यक्तिगत करें। उदाहरण के लिए, टाइप 2 मधुमेह वाले लोगों को उच्च कार्ब आहार के बजाय कम कार्ब आहार पर अपने रक्त शर्करा को नियंत्रित करना आसान लग सकता है।
इसके विपरीत, अन्यथा स्वस्थ व्यक्तियों को पता चल सकता है कि एक उच्च वसा, कम कार्ब आहार उन्हें कम भूख महसूस करता है और कम वसा वाले, उच्च कार्ब आहार की तुलना में छड़ी करना आसान होता है। हालांकि, हर किसी को एक आहार का पालन नहीं करना चाहिए जो एक मैक्रोन्यूट्रिएंट (जैसे वसा) के उच्च सेवन और दूसरे (जैसे कार्बोहाइड्रेट) का कम सेवन पर जोर देता है। इसके बजाय, आप यह जान सकते हैं कि उचित मैक्रोन्यूट्रिएंट बैलेंस के साथ आहार से चिपके रहना, जो वजन घटाने के लिए समान रूप से अच्छा है, संभव है।
राष्ट्रीय अकादमियों के चिकित्सा संस्थान की सिफारिश की है कि व्यक्तियों के निम्नलिखित मैक्रोन्यूट्रिएंट वितरण पर्वतमाला (AMDR) का उपभोग:
कार्बोहाइड्रेट उनकी कैलोरी का 45-65 प्रतिशत है।
वसा उनकी कैलोरी का 20-35 प्रतिशत के लिए खाते हैं ।
प्रोटीन उनकी कैलोरी की मात्रा का 10-35 प्रतिशत है।
किसी भी मामले में, एक आहार चुनें जो आपकी जीवनशैली में फिट बैठता है और सबसे अच्छी प्राथमिकताएं देता है। यह संभव है कि कुछ परीक्षण और त्रुटि की आवश्यकता होगी।

कार्बोहाइड्रेट

कार्बोहाइड्रेट के प्रत्येक ग्राम में 4 कैलोरी होती है। कार्बोहाइड्रेट अपने कुल दैनिक कैलोरी का 50 से 60 प्रतिशत के लिए खाते चाहिए. कार्बोहाइड्रेट में सबसे अधिक ग्लूकोज होता है और सबसे बड़ी ऊर्जा जल्दी प्रदान करता है। कार्बोहाइड्रेट आपके शरीर में समय का 100 प्रतिशत ग्लूकोज में परिवर्तित हो जाते हैं।
आपका शरीर तत्काल ऊर्जा प्रदान करने के अलावा आपके जिगर में ग्लूकोज स्टोर कर सकता है। अतिरिक्त कार्बोहाइड्रेट आपके जिगर में ग्लाइकोजन के रूप में संग्रहीत किया जाता है और जब आपके शरीर को इसकी आवश्यकता होती है तो जारी किया जाता है। ग्लाइकोजन की मात्रा आपके जिगर को स्टोर कर सकते हैं, हालांकि, सीमित है। एक बार जब आपका लिवर उस सीमा तक पहुंच जाता है, तो अतिरिक्त ग्लूकोज आपके शरीर द्वारा वसा में परिवर्तित हो जाता है।

कार्बोहाइड्रेट को दो श्रेणियों में विभाजित किया गया है: स्वस्थ और अस्वस्थ।
1. स्वस्थ कार्बोहाइड्रेट: कार्बोहाइड्रेट जो आपके लिए अच्छे हैं, उन्हें जटिल या धीमी-गतिमान कार्बोहाइड्रेट के रूप में भी जाना जाता है। मल्टीग्रेन ब्रेड, ब्राउन राइस, दाल और बीन्स सामग्री में से हैं। कार्बोहाइड्रेट का यह रूप रक्त शर्करा को धीरे-धीरे और लंबे समय तक ऊपर उठाता है। यह आपको विस्तारित अवधि के लिए भूख महसूस करने से रखता है और आपके रक्त शर्करा के स्तर को जांच में रखने में मदद करता है।

2. अस्वस्थ कार्बोहाइड्रेट: कार्बोहाइड्रेट जो आपके लिए इतना अच्छा नहीं है, उन्हें बुनियादी या तेजी से काम करने वाले कार्ब्स के रूप में भी जाना जाता है। कैंडी, कुकीज़, केक, सोडा, रस, और मीठा पेय पदार्थ सभी शामिल हैं। कार्बोहाइड्रेट का यह रूप तेजी से रक्त शर्करा के स्तर को बढ़ा देता है, लेकिन केवल थोड़े समय के लिए। नतीजतन, जबकि ये कार्ब्स रक्त शर्करा के स्तर को बहाल करने में प्रभावी होते हैं, वे भूख के साथ-साथ स्वस्थ कार्ब्स को संतुष्ट नहीं करते हैं।

कार्बोहाइड्रेट अणु के आकार के आधार पर सरल या जटिल हो सकता है।
1. साधारण कार्बोहाइड्रेट में कई प्रकार की चीनी शामिल होती है, जैसे ग्लूकोज और सुक्रोज (टेबल शुगर)। वे ऊर्जा का सबसे तेज स्रोत हैं क्योंकि वे छोटे अणु हैं जिन्हें तेजी से तोड़ा जा सकता है और शरीर द्वारा अवशोषित किया जा सकता है। वे रक्त शर्करा के स्तर (रक्त शर्करा) में तेजी से वृद्धि का कारण बनते हैं। सरल कार्ब्स फल, डेयरी उत्पादों, शहद और मेपल सिरप में प्रचुर मात्रा में होते हैं, और वे अधिकांश कैंडी और डेसर्ट की मिठास के लिए जिम्मेदार होते हैं।
2. जटिल कार्बोहाइड्रेट एक सतत स्ट्रिंग में एक साथ ताना बुनियादी कार्ब्स की एक श्रृंखला से बना रहे हैं। जटिल कार्बोहाइड्रेट को सरल कार्बोहाइड्रेट में तोड़ा जाना चाहिए इससे पहले कि वे अवशोषित हो सकें क्योंकि वे साधारण कार्ब्स की तुलना में बड़े अणु हैं। नतीजतन, वे सरल कार्बोहाइड्रेट की तुलना में शरीर को अधिक धीरे-धीरे ऊर्जा प्रदान करते हैं, लेकिन प्रोटीन या वसा की तुलना में तेजी से। वे वसा की ओर मुड़ने की संभावना कम होती है क्योंकि वे सरल कार्बोहाइड्रेट की तुलना में अधिक धीरे-धीरे पचते हैं। वे रक्त शर्करा के स्तर को और अधिक धीरे-धीरे और सरल कार्ब्स की तुलना में निचले स्तर तक बढ़ाते हैं, लेकिन लंबे समय तक।

स्टार्च और फाइबर, जो गेहूं के उत्पादों (जैसे ब्रेड और पास्ता) में पाए जाते हैं, अन्य अनाज (जैसे राई और मक्का), सेम और रूट सब्जियां, जटिल कार्बोहाइड्रेट (जैसे आलू और मीठे आलू) के उदाहरण हैं।
कार्बोहाइड्रेट कई तरह से उपयोगी हो सकता है।
• परिमार्जित
• अपरिष्कृत

"परिष्कृत" शब्द एक भोजन को संदर्भित करता है जिसे भारी संसाधित किया गया है। फाइबर और चोकर दूर छीन लिया गया है, विटामिन और खनिजों वे होते है के कई के साथ । नतीजतन, शरीर इन कार्ब्स को जल्दी से संसाधित करता है, और वे समान कैलोरी गिनती करते समय थोड़ा पोषण की आपूर्ति करते हैं। संवर्धन उनके पोषण मूल्य को बढ़ावा देने के लिए परिष्कृत खाद्य पदार्थों के लिए विटामिन और खनिजों के अलावा को संदर्भित करता है । मोटापा और मधुमेह जो लोग सरल या परिष्कृत कार्बोहाइड्रेट में उच्च आहार खाने में अधिक होने की संभावना है।
जब मनुष्य उस समय की अपेक्षा से अधिक कार्ब्स का उपभोग करते हैं, तो शरीर उनकी कोशिकाओं में उनमें से कुछ (ग्लाइकोजन के रूप में) स्टोर करता है और शेष को वसा में बदल देता है। ग्लाइकोजन एक जटिल कार्बोहाइड्रेट है जिसे शरीर जल्दी और आसानी से ऊर्जा में परिवर्तित कर सकता है। ग्लाइकोजन एक प्रकार का कार्बोहाइड्रेट है जो यकृत और मांसपेशियों में संग्रहीत होता है। गंभीर परिश्रम की अवधि के दौरान, मांसपेशियों ऊर्जा के लिए ग्लाइकोजन का उपभोग करते हैं। ग्लाइकोजन के रूप में संग्रहीत कार्बोहाइड्रेट की मात्रा कैलोरी के एक दिन के मूल्य के लिए लगभग पर्याप्त है। कार्बोहाइड्रेट जटिल कार्बोहाइड्रेट के रूप में कुछ अलग मानव ऊतकों में संग्रहीत कर रहे हैं कि ऊर्जा के लिए इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है।
कार्बोहाइड्रेट कुल दैनिक कैलोरी का लगभग ५० से ५५ प्रतिशत के लिए खाते चाहिए, ज्यादातर विशेषज्ञों के अनुसार । जोड़ा शर्करा कुल दैनिक कैलोरी का कोई 10% से अधिक के लिए खाते चाहिए । अन्य खाद्य उत्पादों में उपयोग किए जाने वाले सिरप और अन्य गरमी मिठास को अतिरिक्त शर्करा के रूप में जाना जाता है। जोड़ा शर्करा एक घटक के रूप में खाद्य लेबल पर शामिल हैं । ब्राउन शुगर, कॉर्न सिरप, डेक्सट्रोज, फ्रक्टोज, ग्लूकोज, हाई-फ्रक्टोज कॉर्न सिरप, शहद, उलटा चीनी, लैक्टोज, माल्ट सिरप, माल्टोज, शीरा, कच्ची चीनी, सुक्रोज, ट्रेहलोस और टर्बिनाडो चीनी उनमें से हैं। फल और दूध जैसे खाद्य पदार्थों में प्राकृतिक रूप से पाए जाने वाले शर्करा को शर्करा नहीं जोड़ा जाता है।

प्रोटीन

carbohydrate fat and protein intake

प्रोटीन में प्रति ग्राम 4 कैलोरी भी होती है। प्रोटीन एक स्वस्थ आहार में अपने कुल दैनिक कैलोरी का 12 से 20% के लिए खाते चाहिए । विकास, रखरखाव और ऊर्जा के लिए शरीर द्वारा प्रोटीन की आवश्यकता होती है। प्रोटीन संग्रहीत किया जा सकता है और ज्यादातर अपनी मांसपेशियों द्वारा उपयोग किया जाता है। प्रोटीन लगभग 60% समय में आपके शरीर द्वारा ग्लूकोज में परिवर्तित हो जाता है। प्रोटीन का ब्लड शुगर लेवल पर असर पड़ने में 3 से 4 घंटे का समय लगता है। जब यह एक प्रभाव पड़ता है, प्रोटीन में उच्च आहार रक्त शर्करा में एक महत्वपूर्ण वृद्धि का कारण नहीं है ।

वसा

वसा किसी भी पोषक तत्व की सबसे अधिक कैलोरी सामग्री है, 9 कैलोरी प्रति ग्राम पर । वसा एक स्वस्थ आहार में कुल दैनिक कैलोरी का लगभग 30% के लिए खाते चाहिए । यह हर दिन वसा के 50 से 80 ग्रामों का उपभोग करने पर जोर देता है। फैट शरीर को ऊर्जा भी प्रदान करता है, लेकिन केवल लगभग 10% वसा ग्लूकोज में परिवर्तित हो जाता है।
फैट का ब्लड शुगर पर खुद बहुत कम असर पड़ता है। जब आप कार्बोहाइड्रेट के साथ फैट खाते हैं, तो ब्लड शुगर में वृद्धि धीमी हो जाती है। क्योंकि वसा पाचन धीमा कर देता है, एक बार अपने रक्त शर्करा उगता है, यह अपने रक्त शर्करा के स्तर को लंबे समय के लिए ऊंचा रख सकते हैं ।
वसा के विभिन्न रूप मौजूद हैं, और कुछ दूसरों की तुलना में आपके लिए बेहतर हैं। मोनो-असंतृप्त या पॉली-अनसैचुरेटेड वसा सबसे अच्छा विकल्प हैं। सामान्य तापमान पर ये वसा तरल होते हैं। मोनो-असंतृप्त वसा विशेष रूप से फायदेमंद होते हैं क्योंकि वे आपके रक्त के खराब कोलेस्ट्रॉल (एलडीएल) को कम करते हैं। जैतून, कैनोला, एवोकाडो और अखरोट के तेल इन वसा के उदाहरण हैं।

सैचुरेटेड और ट्रांस फैट से बचना चाहिए। कमरे के तापमान पर, मुख्य रूप से ट्रांस वसा और संतृप्त वसा युक्त वसा ठोस होते हैं। संतृप्त वसा आपके दैनिक कैलोरी का 10% से अधिक नहीं होना चाहिए, और ट्रांस वसा को हर कीमत पर टाला जाना चाहिए।
1. संतृप्त वसा: मक्खन, बछड़ा वसा, और नारियल, हथेली, और पाम गिरी तेल संतृप्त वसा के सबसे अमीर स्रोत हैं। संतृप्त वसा उच्च वसा वाले मांस और डेयरी उत्पादों के साथ-साथ केक, कुकीज़ और कई स्नैक खाद्य पदार्थों में पाए जाते हैं। संतृप्त वसा पिज्जा, पुलाव, बर्गर, टैकोस, और कमरे के तापमान पर सैंडविच सहित खाद्य पदार्थों की एक किस्म में पाया जा सकता है, वसा के इन प्रकार ठोस हैं । संतृप्त वसा नारियल या पाम गिरी तेलों, साथ ही हाइड्रोजनीकृत तेलों जैसे कठोर वसा में भी पाया जा सकता है। इनमें आपके दिल और धमनियों को नुकसान पहुंचाने की क्षमता होती है।
2. ट्रांस वसा: ट्रांस वसा या ट्रांस फैटी एसिड, कुछ खाद्य पदार्थों में स्वाभाविक रूप से पाए जाते हैं, लेकिन यह भी कृत्रिम रूप से निर्मित किया जा सकता है । खाद्य उत्पादकों बाहर चरणबद्ध ट्रांस वसा के बाद से वे अस्वस्थ हैं । डेसर्ट, माइक्रोवेव पॉपकॉर्न, फ्रोजन पिज्जा, मार्जरीन और कॉफी क्रीमर जैसे कुछ प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थों में फिर भी ट्रांस फैट होते हैं।

अनुशंसित सीमा के भीतर कुल वसा का सेवन रखते हुए, संतृप्त और ट्रांस वसा को स्वस्थ वसा के इन दो रूपों के साथ प्रतिस्थापित करें:
1. मोनोअनसैचुरेटेड फैट: कैनोला, जैतून, मूंगफली, सूरजमुखी, और कुसुम तेल, साथ ही एवोकाडो, मूंगफली का मक्खन, और सबसे नट्स, इनमें से अधिकांश होते हैं।
2. पॉलीअनसैचुरेटेड फैट लिपिड होते हैं जो ओमेगा-3 फैटी एसिड से भरपूर होते हैं। सूरजमुखी, मक्का, सोयाबीन, और सूती तेल, साथ ही फैटी मछली, अखरोट, और कुछ बीज, सबसे अधिक सांद्रता है ।

तेल सामान्य तापमान पर तरल होते हैं और इसमें मुख्य रूप से मोनोअनसैचुरेटेड और पॉलीअनसैचुरेटेड वसा होते हैं। जब ये वसा संतृप्त वसा का विकल्प होता है, तो वे हृदय रोग के जोखिम को कम करते दिखाई देते हैं। हालांकि, इसका मतलब यह नहीं है कि आप आहार दिशानिर्देशों की सिफारिश से अधिक उपभोग कर सकते हैं।

अपने आहार में संतृप्त वसा की मात्रा को कम करने के लिए, निम्नलिखित करें:
1. चिकन से त्वचा को निकालें और न्यूनतम वसा के साथ मांस के कटौती का चयन करें।
2. ऐसे डेयरी उत्पादों का सेवन करें जो वसा या वसा मुक्त कम हों।
3. खाना पकाने के लिए, जैतून या कनोला जैसे तेलों का उपयोग करें।
4. सब्जियां, स्वस्थ अनाज, कम वसा और वसा मुक्त डेयरी उत्पादों, या मांस और पोल्ट्री के दुबला कटौती संतृप्त वसा में उच्च खाद्य पदार्थों के लिए प्रतिस्थापित किया जाना चाहिए ।

मैक्रोन्यूट्रिएंट डाइट

मैक्रोन्यूट्रिएंट डाइटिंग के लिए एक क्रांतिकारी दृष्टिकोण है जो कैलोरी पर मैक्रोन्यूट्रिएंट्स पर जोर देता है।
शरीर ऊर्जा के लिए जिन चार प्रकार के खाद्य अणुओं को तोड़ सकता है, उन्हें मैक्रोन्यूट्रिएंट्स के रूप में जाना जाता है । यह आहार तीन प्रकार के मैक्रोन्यूट्रिएंट्स को ट्रैक करता है:
• प्रोटीन एक कैलोरी-सघन भोजन है जिसमें 4 कैलोरी प्रति ग्राम है।
• कार्बोहाइड्रेट में 4 प्रति ग्राम की कैलोरी की मात्रा होती है।
• वसा की कैलोरी सामग्री 9 कैलोरी प्रति ग्राम है।
अल्कोहल चौथा मैक्रोन्यूट्रिएंट है, प्रति ग्राम 7 कैलोरी पर, हालांकि यह मैक्रोन्यूट्रिएंट आहार का हिस्सा नहीं है।

मैक्रोन्यूट्रिएंट आहार का पालन करना सरल है और बस कुछ कदम उठाना पड़ता है:
1. अपने मैक्रो की गणना: गणना यह पता लगाने के लिए कि आपको अपने वजन घटाने के लक्ष्यों तक पहुंचने के लिए प्रत्येक दिन कितने ग्रैम्स प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट और वसा की आवश्यकता होगी।
2. अपने मैक्रो से मिलना: एक बार जब आप अपने मैक्रो को स्थापित कर लेते हैं, तो आपको बस हर दिन उनसे चिपके रहना होगा। खाद्य खपत पर नजर रखी जाती है और जरूरत के अनुसार बदल दिया जाता है ।

कई लोगों को इस आहार को कड़े कैलोरी ट्रैकिंग या पूरे खाद्य समूहों को हटाने से एक स्वागत योग्य ब्रेक लगता है क्योंकि यह उन्हें जो कुछ भी वे चाहते हैं उसे खाने की अनुमति देता है। यह आहार आमतौर पर उन लोगों द्वारा नियोजित किया जाता है जो वजन कम करना चाहते हैं, लेकिन लोगों को वजन बढ़ाने में मदद करने के लिए इसे अनुकूलित भी किया जा सकता है।

मैक्रो और उनकी गणना कैसे करें

अपने मैक्रो की गणना एमकलापन विशेषज्ञ आहार शुरू करने में पहला कदम है।
सामान्य प्रक्रिया इस प्रकार है:
1. अपने बेसल मेटाबोलिक दर की गणना करें: आपकी उम्र, लिंग, ऊंचाई और वजन के आधार पर, मानकीकृत समीकरणों का उपयोग यह निर्धारित करने के लिए किया जाता है कि आपका शरीर आराम से कितनी ऊर्जा का उपयोग करता है। इसे आपके बीएमआर (बेसल मेटाबोलिक रेट) के रूप में जाना जाता है।
2. गतिविधि स्तर के लिए समायोजित करें: अपने गतिविधि स्तर के आधार पर कैलोरी को बढ़ावा देने के लिए, अपने बीएमआर को एक गतिविधि कारक द्वारा गुणा करें। इसे आपके टीडीई (कुल दैनिक ऊर्जा व्यय) के रूप में जाना जाता है।
3. अपने वजन घटाने के लक्ष्यों के अनुसार समायोजित करें: यदि आप अपना वजन कम करना चाहते हैं, तो अपनी कैलोरी खपत में 15-25% की कटौती करें। यदि आप वजन बढ़ाना चाहते हैं, तो अपनी कैलोरी की मात्रा में 5-15 प्रतिशत की वृद्धि करें।
4. अपने मैक्रो पर निर्णय लें: प्रोटीन का सेवन शरीर के वजन के प्रति पाउंड 0.7-1.0 ग्राम की दर से किया जाना चाहिए। वसा की खपत शरीर के वजन के प्रति पाउंड 0.25-0.4 ग्राम होनी चाहिए। कार्बोहाइड्रेट शेष कैलोरी के सभी मिलता है।

वजन घटाने के पीछे प्राथमिक विचार प्रोटीन को कम करते हुए शरीर में वसा को कम करते हुए दुबला मांसपेशियों को बनाए रखने के लिए प्रोटीन में वृद्धि करना है।
अंतिम मैक्रोन्यूट्रिएंट डाइट प्लान आपको बताना चाहिए कि सभी गणनाओं को पूरा करने के बाद प्रत्येक दिन कितनी कैलोरी और कितने ग्रैम प्रोटीन, फैट और कार्बोहाइड्रेट का उपभोग करें।

carbohydrate fat and protein intake

मैक्रोन्यूट्रिएंट डाइट के लाभ

1. यह एक आंख खोलने का अनुभव होने की क्षमता है: मैक्रोन्यूट्रिएंट आहार उन लोगों के लिए एक शानदार शैक्षिक उपकरण है जो खाद्य पदार्थों की मैक्रोन्यूट्रिएंट संरचना के साथ अनुभवहीन हैं क्योंकि यह कैलोरी के बजाय मैक्रोन्यूट्रिएंट्स पर केंद्रित है। एक स्नैकर्स बार और 5.5 औंस सामन, उदाहरण के लिए, लगभग एक ही संख्या में कैलोरी है, लेकिन काफी अलग मैक्रोन्यूट्रिएंट प्रोफाइल है। कैंडी बार और सामन दोनों में फैट ज्यादा होता है, वहीं स्नैकर्स बार में कार्बोहाइड्रेट ज्यादा होता है, जबकि सामन में प्रोटीन ज्यादा होता है। किसी ऐसे व्यक्ति के लिए जिसने पहले कभी मैक्रो को ट्रैक नहीं किया है, यह देखना आसान है कि उनसे मिलना सीखना आंख खोलना कैसे हो सकता है।

2. यह आपको अपने वजन घटाने के उद्देश्यों तक पहुंचने में सहायता करताहै: अब तक, आपके मैक्रो को बदलने या न बदलने पर सबूत वजन घटाने में सुधार असंगत है। कुछ आंकड़ों से पता चलता है कि उच्च प्रोटीन आहार, जैसे मैक्रोन्यूट्रिएंट आहार, चयापचय को बढ़ावा दे सकते हैं और लोगों को लंबे समय तक वजन कम करने में मदद करते हैं, लेकिन आगे शोध की जरूरत है । बावजूद, अध्ययनों ने लगातार यह दर्शाया है कि कैलोरी प्रतिबंध अल्पावधि में वजन घटाने की ओर ले जाता है। मैक्रोन्यूट्रिएंट डाइट डाइट के बाद वजन में कमी आनी चाहिए क्योंकि यह वजन कम करने की इच्छा रखने वाले व्यक्तियों के लिए कैलोरी में 15-25% की कटौती करता है। खाद्य ट्रैकिंग भी वजन घटाने की सफलता के लिए जुड़ा हुआ है, इस प्रकार मैक्रोन्यूट्रिएंट डाइट का ट्रैकिंग घटक भी लाभप्रद हो सकता है।

3. कोई खाद्य पदार्थ नहीं है कि निषिद्ध कर रहेहैं: एमकलानृश्य आहार आप जो कुछ भी आप चाहते है के रूप में लंबे समय के रूप में यह अपने मैक्रो में फिट बैठता है खाने के लिए अनुमति देता है । यह संतुलन के बारे में लोगों को सिखाने के लिए एक उत्कृष्ट दृष्टिकोण है और जहां उनके प्रोटीन, लिपिड, और कार्बोहाइड्रेट के बहुमत से आते हैं । सभी भोजन की अनुमति भी तनाव और अन्य, अधिक प्रतिबंधात्मक परहेज़ तकनीकों के साथ जुड़े अपराध के कुछ कम कर सकते हैं, एक और अधिक सुखद अनुभव में जिसके परिणामस्वरूप.

4. यह अधिक अनुकूलनीय और पालन करने के लिए आसान है: मैक्रोन्यूट्रिएंट डाइट के साथ अपनी जीवनशैली के आसपास अपने भोजन को व्यवस्थित करना आसान है, और आप प्रतिबंधित महसूस नहीं करेंगे। यदि आप जानते हैं कि आप बाहर खा रहे होंगे, उदाहरण के लिए, आप समय से पहले पोषण जानकारी देख सकते हैं और आवश्यकतानुसार अपने दिन के भोजन के बाकी हिस्से को बदल सकते हैं। क्योंकि आप सीमित महसूस करने की संभावना कम कर रहे हैं, इस लचीलापन मैक्रोन्यूट्रिएंट आहार को रखने के लिए सरल बना सकते हैं। मैक्रोन्यूट्रिएंट डाइट व्यक्तियों की एक विस्तृत श्रृंखला के लिए उपयुक्त है, जिसमें विशिष्ट आहार जैसे शाकाहारी, शाकाहारी, पेलियो या लस मुक्त शामिल हैं। क्योंकि कोई बाधाएं नहीं हैं, मैक्रोन्यूट्रिएंट डाइट प्लान व्यंजनों और खाना पकाने की तकनीकों की एक विस्तृत श्रृंखला को समायोजित कर सकता है।

मैक्रोन्यूट्रिएंट डाइट के कुछ नकारात्मक पक्ष

1. यह अभी भी एक आहार है: यहां तक कि जब मैक्रोन्यूट्रिएंट आहार अन्य आहारों की तुलना में अधिक अनुकूलनीय है, यह अभी भी एक आहार है। आहार लंबे समय में काम नहीं करते, अध्ययन के कई के अनुसार, और लोगों के विशाल बहुमत वजन वे खो के कुछ हासिल । आहार के अलावा प्रेरणा, भावनाओं, नींद और तनाव जैसे अन्य तत्वों से लोगों को अधिक सफलतापूर्वक वजन कम करने में मदद मिल सकती है। मैक्रोन्यूट्रिएंट डाइट प्रोग्राम के माध्यम से ऑनलाइन कोच उपलब्ध हैं, हालांकि उन्हें किसी आधिकारिक पोषण या आहार विशेषज्ञता की आवश्यकता नहीं है। इन मुद्दों को अधिक सिलवाया तरीके से संबोधित करने के लिए आहार विशेषज्ञ या अन्य पोषण विशेषज्ञ के साथ काम करना एक सुरक्षित और अधिक सफल विकल्प हो सकता है।

2. सूक्ष्म पोषक तत्वों को पर्याप्त ध्याननहीं दिया जाता है: मैक्रोन्यूट्रिएंट्स पर इतना जोर देने के साथ, विटामिन और खनिज जैसे सूक्ष्म पोषक तत्वों की अक्सर अनदेखी की जाती है। जबकि मैक्रोन्यूट्रिएंट डाइट एक पूरे खाद्य आहार को बढ़ावा देता है, यह सुनिश्चित करने के लिए कोई निगरानी नहीं की जाती है कि प्रतिभागियों को पर्याप्त विटामिन और खनिज मिलें। कई सनक आहार पर्याप्त विटामिन और खनिज शामिल नहीं है, अनुसंधान के अनुसार, तो यह संभव है कि मैक्रोन्यूट्रिएंट आहार आहार पर कुछ लोगों को पर्याप्त नहीं हो रही है । यह सुनिश्चित करने के लिए कि आप पर्याप्त प्राप्त कर रहे हैं, माइक्रोन्यूट्रिएंट्स के लिए अपने मैक्रोन्यूट्रिएंट डाइट डाइट की जांच करना एक अच्छा विचार है। यदि आवश्यक हो, तो आप मल्टीविटामिन-मिनरल सप्लीमेंट लेने पर भी विचार कर सकते हैं।

3. स्वास्थ्य संबंधी मुद्दों को ध्यान मेंनहींरखता है: मैक्रोन्यूट्रिएंट डाइट हर किसी के लिए उपयुक्त नहीं हो सकता है, विशेष रूप से उन चिकित्सा मुद्दों के साथ जो विशेष आहार की आवश्यकता होती है। उदाहरण के लिए, मधुमेह वाले लोगों को अपने कार्बोहाइड्रेट के सेवन का ट्रैक रखना चाहिए, जबकि गुर्दे की बीमारी वाले लोगों को अपने नमक, फास्फोरस और प्रोटीन के सेवन का ट्रैक रखना चाहिए। यद्यपि इन अद्वितीय कारकों को समायोजित करने के लिए एक मैक्रोन्यूट्रिएंट डाइट आहार को संशोधित किया जा सकता है, आहार विशेषज्ञ या अन्य पोषण विशेषज्ञ से अधिक व्यापक सलाह की आवश्यकता होती है।

4. कुछ लोगों को खाने के विकारों के जोखिम में डाल सकता है: जबकि मैक्रोन्यूट्रिएंट ट्रैकिंग लोगों को उनके स्वास्थ्य उद्देश्यों को प्राप्त करने में सहायता कर सकती है, इसमें कुछ लोगों में अव्यवस्थित भोजन करने की क्षमता है। शोध के अनुसार, भोजन और फिटनेस ट्रैकिंग को विशेष रूप से युवा महिलाओं में खाने के विकारों के विकास से जोड़ा गया है । एक अध्ययन के अनुसार, खाने विकारों के साथ कॉलेज के छात्रों के ७३ प्रतिशत लगता है कि ट्रैकिंग क्षुधा का उपयोग उनकी हालत के विकास में योगदान दिया । मैक्रोन्यूट्रिएंट डाइट जैसे आहार को सलाह देने से पहले, स्वास्थ्य सेवा प्रदाताओं को खाने की समस्याओं के लिए परीक्षण करना चाहिए।

समाप्ति

मैक्रोन्यूट्रिएंट आहार उन लोगों के लिए एक लचीला भोजन समाधान है जो वजन कम करने और वंचित महसूस किए बिना मांसपेशियों को प्राप्त करने की तलाश में हैं। यह गणना करने पर जोर देता है कि आपको प्रत्येक दिन उपभोग करने के लिए प्रोटीन, वसा और कार्बोहाइड्रेट के कितने ग्रामों की आवश्यकता है और फिर आप इन मैक्रो को पूरा करने के लिए अपने भोजन के सेवन का ट्रैक रखते हैं। दूसरी ओर, मैक्रोन्यूट्रिएंट आहारसूक्ष्म पोषक तत्वों को ट्रैक नहीं करता है और उन व्यक्तियों के लिए उपयुक्त नहीं हो सकता है जिनके पास कुछ चिकित्सा स्थितियां हैं या खाने में विकार विकसित होने का खतरा है। कुछ लोगों को वजन कम करना और इसे लंबे समय में बंद रखना मुश्किल लगता है, और उन्हें आगे की सलाह और सहायता के लिए पोषण विशेषज्ञ के साथ काम करने से लाभ हो सकता है। बहुत से लोग मैक्रोन्यूट्रिएंट आहार को कम प्रतिबंधात्मक और अन्य आहारों की तुलना में छड़ी करने में आसान पाते हैं क्योंकि यह उन्हें जो कुछ भी वे चाहते हैं उसे खाने की अनुमति देता है। यह उन लोगों के लिए एक अच्छा विकल्प है जो लचीलापन और संतुलन बनाए रखते हुए अपना वजन कम करना चाहते हैं।

संबंधित विषय:

1. स्व-देखभाल और स्व-देखभाल का महत्व क्या है

सेल्फ-केयर का मतलब है ऐसी गतिविधियाँ करना जो हमें अच्छा महसूस कराती हैं और तनाव मुक्त करती हैं। अन्य दिन-प्रतिदिन के क्रियाकलापों के साथ-साथ आत्म-देखभाल शरीर के साथ-साथ आत्मा के लिए भी महत्वपूर्ण है। अधिक यात्रा जानने के लिए: आत्म-देखभाल का आत्म-देखभाल और महत्व क्या है।

2. स्वयं की देखभाल के लिए योग

योग आत्म-देखभाल के सबसे आवश्यक डेटासेट में से एक है। यह आपको अपने बारे में अच्छा महसूस कराता है और आपके शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य पर सकारात्मक प्रभाव डालता है। अधिक यात्रा जानने के लिए: स्वयं की देखभाल के लिए योग

3. स्व-देखभाल के लाभ

आत्म देखभाल के कई लाभ हैं जैसे कि बेहतर उत्पादकता, बेहतर प्रतिरक्षा प्रणाली, बढ़ा हुआ आत्म-ज्ञान और आत्म-करुणा। मुख्य लाभ यह है कि यह आपके जीवन में खुशी लाता है। अधिक यात्रा जानने के लिए: स्व-देखभाल के लाभ

4. सेल्फ-केयर रूटीन कैसे शुरू करें

चूंकि कई लोगों को एक स्व-देखभाल दिनचर्या शुरू करने में कठिनाई का सामना करना पड़ता है, इसलिए बेहतर होगा कि आप अपनी दिनचर्या में ध्यान, योग या एक्सर्साइज़ जैसी छोटी आत्म-देखभाल प्रथाओं को शामिल करें। अधिक यात्रा जानने के लिए: Hसेल्फ-केयर रूटीन कैसे शुरू करें

5. तनाव को कैसे प्रबंधित करें

स्व-देखभाल एक महत्वपूर्ण उपकरण है जो हमें स्वस्थ और खुश महसूस करने में मदद करता है और सबसे तनावपूर्ण परिस्थितियों में भी तनाव को कम करता है। स्व-देखभाल से शरीर और आत्मा को आराम मिलता है क्योंकि यह नकारात्मक भावनाओं और चिंता को कम करता है। अधिक जानकारी के लिए देखें: तनाव को कैसे प्रबंधित करें




उपर ब्लॉग में बताई गई उपलब्धिया AFD-SHIELD के साथ उपलब्ध हैं
एएफडी शील्ड कैप्सूल 12 प्राकृतिक अवयवों का एक संयोजन है जिनमें से अलगल डीएचए, अश्वगंधा, करक्यूमिन और स्पिरुलिना हैं। एएफडी शील्ड टीजी को कम करता है, एचडीएल बढ़ाता है और उम्र से संबंधित संज्ञानात्मक गिरावट में सुधार करता है। यह तनाव और चिंता को भी कम करता है और एंटी-एजिंग गतिविधि करता है। इसके अलावा, यह इम्युनोमॉड्यूलेटरी गतिविधि को बढ़ाता है, प्रतिरक्षा में सुधार करता है और सूजन और ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करता है। न्यूट्रोग्लिग्क्स: एएफडी-शील्ड

AFDIL Ltd.
+91 9920121021

order@afdil.com

Read Also:


Disclaimer
Home