What is Lyme disease?

Introduction

lyme disease

Lyme disease is a communicable disease caused by the bacteria Borrelia burgdorferi. B. burgdorferi is transmitted to humans by a bite from an infected black-legged tick or deer tick. The tick becomes infected after feeding on infected deer, birds, or mice.

This tick has got to be present on the skin for at least 36 hours to pass on the infection. Many people with Lyme disease have no memory of a tick bite. Lyme disease was first known in the town of Old Lyme in Connecticut (1975). It is the most common tickborne infection in Europe and the United States.

People who live or spend time in wooded areas known for transmission of the disease are more likely to get this illness. People with domestic animals that visit forested areas also have a higher risk of getting Lyme disease.

These ticks come in three sizes, depending on their stage of life. Larvae are the size of grains of sand, nymphs the size of poppy seeds, and adults the size of an apple seed.

lyme disease ticks

Nature of the disease

The disease usually has its onset in summer. Early skin lesions have an expanding ring form, often with a central clear zone. Fever, chills, myalgia and headache are common. Meningeal involvement may follow. Central nervous system and other complications may occur weeks or months after the onset of illness. Arthritis may develop up to 2 years after onset.

Lyme Disease Symptoms

People with Lyme disease may react to it differently, and the Lyme disease symptoms can vary in severity.

Although Lyme disease is commonly divided into three stages (early localized, early disseminated, and late disseminated), Lyme disease symptoms can still overlap. Some people can also reach a later stage of disease without having symptoms of earlier disease.

These are some of the more common Lyme disease symptoms:
• a flat, circular rash that looks like a red oval or bull’s-eye anywhere on your body
• fatigue
• joint pain and swelling
• muscle aches
• headache
• fever
• swollen lymph nodes
• sleep disturbances
• difficulty concentrating

lyme disease symptoms

Lyme disease symptoms in children

Children generally experience similar Lyme disease symptoms as adults. Lyme disease symptoms that they usually experience are:
• fatigue
• joint and muscle pain
• fever
• other flu-like symptoms
These symptoms may occur soon after the infection, or months or years later. Children may have Lyme disease and not have the bull’s-eye rash.

What does the rash look like?

About 20% to 30% of Lyme rashes have a bull's-eye appearance, concentric circles around a center point, but most are round and uniformly red and at least 5 centimeters (about 2 inches) across.

Most are just red; they do not have the classic ring within a ring. The rash expands gradually over a period of days and can grow to about 12 inches across. It may feel warm to the touch, but it rarely itches or is painful, and it can appear on any part of the body.

lyme disease rash

What are the stages of Lyme infection?

Lyme disease can occur in three stages:
• early localized
• early disseminated
• late disseminated

The Lyme disease symptoms experienced will depend on which stage the disease is in. The progression of Lyme disease can vary on individual. Some people who have it don’t undergo all three stages.

Stage 1: Early localized disease

Lyme disease symptoms usually start 1 to 2 weeks after the tick bite. One of the earliest signs of the disease may be a bull’s-eye rash. The rash occurs at the site of the tick bite, usually, but not always, as a central red spot surrounded by a clear spot with an area of redness at the edge. It may be warm to the touch, but it isn’t painful and doesn’t itch. This rash will gradually fade in most people.

The formal name for this rash is erythema migrans. Erythema migrans is said to be characteristic of Lyme disease. However, many people don’t have this symptom. Some people have a rash that’s solid red, while people with dark complexions may have a rash that resembles a bruise. The rash can occur with or without systemic viral or flu-like symptoms.

Other symptoms commonly seen in this stage of Lyme disease include:
• chills
• fever
• enlarged lymph nodes
• sore throat
• vision changes
• fatigue
• muscle aches
• headaches

lyme disease stages

Stage 2: Early disseminated Lyme disease

Early disseminated Lyme disease occurs several weeks to months after the tick bite. There will be a general feeling of being unwell, and a rash may appear in areas other than the tick bite. This stage of the disease is primarily characterized by evidence of systemic infection, which means infection has spread throughout the body, including to other organs.

Symptoms may include:
• multiple erythema multiforme (EM) lesions
• disturbances in heart rhythm, which can be caused by Lyme carditis
• neurologic conditions, such as numbness, tingling, facial and cranial nerve palsies, and meningitis

The symptoms of stages 1 and 2 can overlap.

Stage 3: Late disseminated Lyme disease

Late disseminated Lyme disease occurs when the infection hasn’t been treated in stages 1 and 2. Stage 3 can occur months or years after the tick bite.

This stage may have symptoms like:
• arthritis of one or more large joints
• brain disorders, such as encephalopathy, which can cause short-term memory loss, difficulty concentrating, mental fogginess, problems with following conversations and sleep disturbance
• numbness in the arms, legs, hands, or feet

Lyme disease causes

Lyme disease is caused by the bacteria Borrelia burgdorferi and Borrelia mayonii, carried primarily by black-legged ticks or deer ticks. Young brown ticks often are not any bigger than a poppy seed, which can make them nearly impossible to spot.

To contract Lyme disease, an infected deer tick must bite you. The bacteria enter the skin through the bite and ultimately make their way into the bloodstream.

In most cases, to transmit Lyme disease, a deer tick must be attached for 36 to 48 hours. If you discover an attached tick that appears swollen, it may have fed long enough to transmit bacteria. Removing the tick as soon as possible might prevent infection.

lyme disease causes

Who is likely to get Lyme disease?

Lyme infection is more common in males up to age 15 and between the ages of 40 and 60. These are people who are more likely to be outside, and go playing, camping, hunting, and hiking.

Lyme infection drops off in older teens and those in their 20s because they're inside on their computers. Older adults tend to have more time to work in their backyards, which is where most Lyme infection is transmitted.

Lyme disease diagnosis

Diagnosing Lyme disease begins with an examination of the health history, which includes looking for reports of tick bites or residence in a prevalent area. The healthcare provider will also perform a physical exam to look for the presence of a rash or other symptoms characteristic of Lyme disease. Testing during early localized infection is not recommended.

Blood tests are most reliable a couple of weeks after the initial infection, when antibodies are present. The healthcare provider may order the following tests:

• Enzyme-linked immunosorbent assay (ELISA) is used to detect antibodies against B. burgdorferi.

• Western blot is used to confirm a positive ELISA test. It checks for the presence of antibodies to specific B. burgdorferi proteins.

• Polymerase chain reaction (PCR) is used to evaluate people with persistent Lyme arthritis or nervous system symptoms. It is performed on joint fluid or cerebrospinal fluid (CSF). PCR testing on CSF for diagnosis of Lyme disease is not routinely recommended due to low sensitivity. A negative test doesn’t rule out the diagnosis. In contrast most people will have positive PCR results in joint fluid if tested prior to antibiotic therapy.

Treatment of Lyme Disease

Even though all stages of Lyme disease respond to antibiotics, early treatment is more likely to prevent complications.

Antibiotics like doxycycline, amoxicillin, or cefuroxime, taken orally for two to three weeks, are effectual during the early stages of the disease. If early disease is localized, people may need treatment for only 10 days. If people cannot take any of these drugs, azithromycin is occasionally used but is less efficient. Generally, doxycycline is not given to children under 8 years old or to pregnant or breastfeeding women.Antibiotics can also help relieve many of the Lyme disease symptoms.

For arthritis because of Lyme disease, antibiotics like amoxicillin, cefuroxime, or doxycycline are given orally for 28 days, or ceftriaxone is given intravenously for 28 days.

For most neurologic abnormalities and for a type of abnormal heart rhythm (arrhythmia) called third-degree heart block (complete heart block), ceftriaxone or penicillin is given intravenously for 2 to 4 weeks. Sometimes a temporary pacemaker is needed for complete heart block. Doxycycline, given orally for 2 to 3 weeks, can help treat less severe first-degree heart block and Bell palsy.

Antibiotics eradicate the bacteria and, in most people, relieve arthritis. However, arthritis sometimes lasts even after all the bacteria are gone because inflammation continues. Even after successful antibiotic treatment, some people still have other symptoms like fatigue, headache, and mental problems.

Nonsteroidal anti-inflammatory drugs, like aspirin or ibuprofen, may relieve the pain of swollen joints. Fluid that collects in affected joints could be drained. Using crutches might help.

What do you do if there is a tick under the skin?

Remove it with a pair of fine-tipped tweezers as soon as possible, pulling upward with steady pressure. If parts of the tick remain in the skin, also try to remove them with the tweezers. After everything is out, clean the bite area with rubbing alcohol or soap and water. You're not likely to get infected if you remove the tick within 36 to 48 hours.Some people have an allergic reaction to ticks, so they'll notice a bite right away.

Post-Lyme Disease Syndrome

If a person is treated for Lyme disease with antibiotics but continue to experience symptoms, it is known as post Lyme disease syndrome or post-treatment Lyme disease syndrome. About 10 to 20 percent of people with Lyme disease experience this syndrome. The cause for this is unknown.

Post-Lyme disease syndrome can affect the mobility and cognitive skills. Treatment is primarily focused on easing pain and discomfort. Most people recover, but it can take months or years for that to happen.

Post-Lyme disease symptoms

The symptoms of post Lyme disease syndrome are similar to those that occur in the earlier stages. These symptoms may include:

• fatigue
• difficulty sleeping
• aching joints or muscles
• pain or swelling in your large joints, such as your knees, shoulders, or elbows
• difficulty concentrating and short-term memory problems
• speech problems

Lyme disease prevention

lyme disease prevention

The best way to prevent Lyme disease is to avoid areas where deer ticks live, particularly wooded, bushy areas with long grass. Risk of getting Lyme disease can be decreased by following some simple precautions:

• Cover up - When in wooded or grassy areas, wear shoes, long trousers tucked into the socks, a long-sleeved shirt, a hat and gloves. Try to stick to trails and avoid walking through low bushes and long grass. Keep the dog/pet on a leash.

• Use insect repellents - Apply insect repellent with a 20% or higher concentration of DEET to the skin. Parents should apply repellent to their children, avoiding their hands, eyes and mouth.
Keep in mind that chemical repellents can be toxic, so follow directions carefully. Apply products with permethrin to clothing or buy pretreated clothing.

• Do your best to tick-proof your yard - Clear brush and leaves where ticks live. Mow the lawn regularly. Stack wood neatly in dry, sunny areas to discourage rodents that carry ticks.

• Check the clothing, yourself, your children and your pets for ticks - Be especially cautious after spending time in wooded or grassy areas. Deer ticks are often no bigger than the head of a pin, so one might not discover them unless searched carefully.
It's helpful to shower as soon as come indoors. Ticks often remain on the skin for hours before attaching themselves. Showering and using a washcloth might remove unattached ticks.

• Don't assume you're immune – A person can get Lyme disease more than once.

• Remove a tick as soon as possible with tweezers - Gently grasp the tick near its head or mouth. Don't squeeze or crush the tick, but pull carefully and steadily. Once the entire tick is removed, dispose it off by putting it in alcohol or flushing it down the toilet, and apply antiseptic to the bite area.

Lyme disease transmission

Ticks that are infected with the bacterium B. burgdorferi can attach to any part of the body. They’re more commonly found in areas of the body that are hard to see, like the scalp, armpits, and groin area. The infected tick must be attached to the body for a minimum of 36 hours in order to transmit the bacterium.

Most people with Lyme disease were bitten by immature ticks, called nymphs. These tiny ticks are very difficult to see. They feed during the spring and summer. Adult ticks also carry the bacteria, but they’re easier to see and can be removed before transmitting it.

There is no evidence that Lyme disease can be transmitted through air, food, or water. There’s also no evidence that it can be transmitted between people through touching, kissing, or having sex.

lyme disease transmission

Is Lyme disease contagious?

There is no evidence that Lyme disease is contagious between people. Pregnant women cannot transmit the disease to their fetus through their breast milk. Lyme disease is an infection caused by bacteria transmitted by blacklegged deer ticks. These bacteria are found in bodily fluids, but there’s no evidence that Lyme disease can be spread to another person through sneezing, coughing, or kissing. There is also no evidence that Lyme disease can be sexually transmitted or transmitted through a blood transfusion.

Living with Lyme disease

After you’ve been treated for Lyme disease with antibiotics, it may take weeks or months for all the symptoms to disappear. The following steps can help to promote recovery:

• Eat healthy foods and avoid foods that contain a large amount of sugar.
• Get lots of rest.
• Try to reduce stress.
• Take an anti-inflammatory medication when necessary to ease pain and discomfort.

When to see a doctor

If you've been bitten by a tick and have symptoms

Only a minority of tick bites results in Lyme disease. The longer the tick remains attached to the skin, the greater the risk of getting the disease. Lyme infection is unlikely if the tick is attached for less than 36 to 48 hours.

If you think you've been bitten and have Lyme disease symptoms, particularly if you live in an area where Lyme disease is common, contact your doctor. Treatment for Lyme disease is more effective if begun early.

See your doctor even if symptoms disappear

Visit your doctor even if signs and symptoms disappear — the absence of symptoms doesn't mean the disease is gone. Untreated, Lyme disease can spread to other parts of your body for several months to years after infection, causing arthritis and nervous system problems. Ticks can also transmit other illnesses, such as babesiosis and Colorado tick fever.

Risk factors

Where you live or vacation can affect your chances of getting Lyme disease. So can your profession and the outdoor activities you enjoy. The most common risk factors for Lyme disease include:

• Spending time in wooded or grassy areas - In the United States, deer ticks are found mostly in the heavily wooded areas of the Northeast and Midwest. Children who spend a lot of time outdoors in these regions are especially at risk. Adults with outdoor jobs also are at increased risk.

• Having exposed skin - Ticks attach easily to bare flesh. If you're in an area where ticks are common, protect yourself and your children by wearing long sleeves and long pants. Don't allow your pets to wander in tall weeds and grasses.

• Not removing ticks promptly or properly - Bacteria from a tick bite can enter your bloodstream if the tick stays attached to your skin for 36 to 48 hours or longer. If you remove a tick within two days, your risk of getting Lyme disease is low.

Complications

Untreated Lyme disease can cause:

• Chronic joint inflammation (Lyme arthritis), particularly of the knee

• Neurological symptoms, such as facial palsy and neuropathy

• Cognitive defects, such as impaired memory

• Heart rhythm irregularities

Associated Co-Morbidities

• Babesia
Babesia microti is a parasite that enters the bloodstream along with Borrelia at the time of the tick bite and attacks and destroys the host’s red blood cells. It can be potentially life-threatening, especially in individuals who are elderly, immuno-compromised, do not have a spleen, or have other diseases involving the kidney or liver. If not treated, complications can include hemodynamic instability, anemia, thrombocytopenia, organ failure, or death.

• Chronic Fatigue Syndrome
Individuals who present with symptoms of significant fatigue and malaise consistent with a diagnosis of Chronic Fatigue Syndrome often test positive for Borrelia antibodies, suggesting a prior infection even in individuals with no previous clinical diagnosis of Lyme disease. In a double-blind study performed in Germany in 1999, researchers found that individuals who tested positive for Borrelia antibodies and had a history of tick bites were significantly more likely to report symptoms of fatigue and malaise than individuals who had a history of tick bites but tested negative for Borrelia antibodies.

• Fibromyalgia Syndrome
Similar studies have found temporal links between Borrelia infection and the development of clinically diagnosable Fibromyalgia, the etiology of which is generally multifactorial and can be triggered by environmental factors, trauma, stress, infection, and possibly vaccination.

• Cardiac Dysfunction
Cardiac problems arising as a result of Lyme disease may occur in 4 to 10% of affected individuals. Potential problems include myocarditis, heart conduction block, and arrhythmia. Symptoms of cardiac involvement include bradycardia, tachycardia, irregular heartbeat, dizziness, syncope, and shortness of air.

• Neurological Disorders
Neurological and mental health co-morbidities develop in approximately 5% of Lyme disease patients, especially if the disease is not successfully treated initially. Neurological sequelae include radiculopathy and paresthesias in the extremities. Associated mental health changes include mild cognitive impairments, mood disorders, depression, and anxiety.

• Autism
Although controversy exists over whether or not autism is truly a co-morbidity of Lyme disease, recent research shows a correlation between the two. Chronic infectious diseases including the Borrelia organism that causes Lyme have been associated with other co-infections that may weaken the foetal or infant immune system, putting affected individuals at increased risk for developing autism spectrum disorders.

Management of Lyme disease

Until you feel better, get proper rest and pace your activities. Then slowly return to normal activity. After you finish treatment, follow up with your doctor. For those who have lingering symptoms after treatment, a healthy lifestyle becomes even more important. This includes exercise, good nutrition and enough rest. Again, follow-up with your doctor is important to help in your recovery.

• Treatment of Lyme disease is most often successful.

• Blood tests may be negative (normal) in the first weeks of infection. Thus, early-stage Lyme disease should be diagnosed and treated based on a person's exposure risk and typical symptoms.

• When symptoms linger after treatment, proper self-care and physician follow-up will help in recovery.

• Reduce the risk of Lyme disease by avoiding tick habitats at certain times of the year, checking your body for ticks and promptly removing any tick you find.

Physical Therapy Management

physical therapy management

Early-stage Lyme disease can only be treated with antibiotics and other adjunct medications such as analgesics. Some doctors will refer patients with chronic Lyme disease symptoms that do not respond to medication to physical therapy. The role that physical therapy plays in the treatment of Lyme disease is primarily to:
• Relieve pain,
• Prepare de-conditioned patients to begin a home-based exercise program
• Educate patients regarding proper exercise technique and frequency, duration, and resistance appropriate to achieve wellness benefits without exacerbating Lyme-related symptoms.

Physical therapy interventions include:
• Massage,
• Range of motion,
• Myofascial release
• Modalities including ultrasound, moist heat, and paraffin.
• Generally, ice packs and electrical stimulation are contraindicated, though there is no research to support this.
• Exercise prescription is aimed at improving strength and gradually increasing the patient's conditioning level which may be severely impaired as a result of chronic Lyme infection. Whole-body workouts generally feature extensive stretching, light callisthenics, and light resistance training with low loads and high repetitions.

In addition, many patients with specific neurological complications such as Facial Palsy may also be referred for physical therapy. Electrical stimulation of paralyzed or weak facial muscles following Lyme-related neurological insult is considered a fairly common practice, though the research does not fully support its use. There are few randomized controlled trials investigating its effectiveness and those that do exist indicate that it may be neither harmful nor beneficial with many therapists taking a conservative approach and waiting several months between symptom onset and initiation of an e-stim program to allow natural neurological recovery to occur. Neuromuscular retraining has been demonstrated to be beneficial in facial palsy, as has EMG biofeedback.

Physical Therapists should be aware of the signs of Lyme Arthritis which typically manifests approximately four months after Erythema Migrans. It is most common in the knee but can be found in multiple joints.

Lyme Disease and Pregnancy

Some small studies have linked Lyme disease during pregnancy to developmental differences or fetal death. Confirming this will require further research. There have been no reports of transmission through breastfeeding. However, a doctor may recommend stopping breastfeeding while receiving treatment. During pregnancy, people need a different type of antibiotic to treat Lyme disease.

Treating Lyme disease while pregnant

Most cases of Lyme disease can be effectively treated with 2 to 4 weeks of antibiotics. Depending on the symptoms and when you were diagnosed, you may require a longer course or repeat treatment with antibiotics.

Some people experience symptoms that continue more than 6 months after treatment. Research continues into the causes of these persistent symptoms and possible treatment methods.

Treatment for pregnant women with Lyme disease is similar to that of other individuals. However, certain antibiotics, such as doxycycline should not be used as it can affect the fetus.

No life-threatening effects on the fetus have been found in cases where the mother receives appropriate antibiotic treatment for her Lyme disease.

Conclusion

Lyme disease can develop if a black-legged tick passes on B. burgdorferi bacteria through a bite. Early on, a person may develop a rash with a ring or bull’s-eye shape. Treatment with antibiotics is usually effective. Complications such as joint pain can arise later and may require a different approach.

Related topics:

1. What are Hemorrhoids?

Male infertility is a condition in a man that reduces the chances of producing offspring. There are many modern treatments available to treat this condition. To know more visit: What are Hemorrhoids?

2. What Is Fertility and Infertility?

Fertility and infertility are related to the ability of a person to produce offspring. The cause of infertility could be many. It can be tested and treated. To know more visit: What Is Fertility and Infertility

3. Importance Of Proper Nutrition

Proper nutrition provides your body all the necessary nutrients, this can be achieved by eating a well-balanced diet. Poor nutrition can cause health issues. To know more visit: Importance Of Proper Nutrition

4. What Is Immunity?

Immunity is the ability of the body to recognize what belongs to self and what is foreign. The immune system works to build resistance to harmful organisms. To know more visit: What Is Immunity




The above essentials are available with AFD SHIELD.

AFD Shield capsule is a combination of 12 natural ingredients among which are Algal DHA, Ashwagandha, Curcumin and Spirullina. AFD Shield reduces TG, increases HDL and improves age related cognitive decline. It also reduces stress and anxiety and performs anti-aging activity.Moreover, it also enhances the immunomodulatory activity, improves immunity and reduces inflammation and oxidative stress.
Nutralogicx: AFD SHIELD




लाइम रोग क्या है?

परिचय

लाइम रोग

लाइम रोग एक संचारी रोग है जो बोरेलिया बर्गडोरफेरी बैक्टीरिया के कारण होता है। बी. बर्गडोरफेरी एक संक्रमित काले पैर वाली टिक या हिरण टिक के काटने से मनुष्यों में फैलता है। संक्रमित हिरण, पक्षियों या चूहों को खाने के बाद टिक संक्रमित हो जाता है।

इस टिक को संक्रमण फैलाने के लिए त्वचा पर कम से कम 36 घंटे तक मौजूद रहना चाहिए। लाइम रोग वाले बहुत से लोगों को टिक काटने की कोई याद नहीं है। लाइम रोग को सबसे पहले कनेक्टिकट (1975) के ओल्ड लाइम शहर में जाना जाता था। यह यूरोप और संयुक्त राज्य अमेरिका में सबसे आम टिक-जनित संक्रमण है।

जो लोग जंगली इलाकों में रहते हैं या समय बिताते हैं, जो बीमारी के संचरण के लिए जाने जाते हैं, उन्हें यह बीमारी होने की संभावना अधिक होती है। जिन लोगों के पालतू जानवर जंगली इलाकों में जाते हैं, उनमें भी लाइम रोग होने का खतरा अधिक होता है।

ये टिक तीन आकारों में आते हैं, जो उनके जीवन स्तर पर निर्भर करते हैं। लार्वा रेत के दाने के आकार के होते हैं, अप्सराएँ खसखस ​​के आकार के होते हैं, और वयस्क एक सेब के बीज के आकार के होते हैं।

लाइम रोग टिक

रोग की प्रकृति

इस रोग की शुरुआत आमतौर पर गर्मियों में होती है। प्रारंभिक त्वचा के घावों में एक विस्तारित रिंग रूप होता है, अक्सर एक केंद्रीय स्पष्ट क्षेत्र के साथ। बुखार, ठंड लगना, माइलियागिया और सिरदर्द आम हैं। मेनिंगियल भागीदारी का पालन कर सकते हैं। केंद्रीय तंत्रिका तंत्र और अन्य जटिलताएं बीमारी की शुरुआत के हफ्तों या महीनों बाद हो सकती हैं। गठिया शुरू होने के 2 साल बाद तक विकसित हो सकता है।

लाइम रोग के लक्षण

लाइम रोग वाले लोग इस पर अलग तरह से प्रतिक्रिया कर सकते हैं, और लाइम रोग के लक्षण गंभीरता में भिन्न हो सकते हैं।

हालांकि लाइम रोग को आमतौर पर तीन चरणों में विभाजित किया जाता है (प्रारंभिक स्थानीयकृत, प्रारंभिक प्रसार, और देर से प्रसारित), लाइम रोग के लक्षण अभी भी ओवरलैप हो सकते हैं। कुछ लोग पहले की बीमारी के लक्षणों के बिना भी बीमारी के बाद के चरण में पहुंच सकते हैं।

ये कुछ अधिक सामान्य लाइम रोग के लक्षण हैं:
• एक चपटा, गोलाकार दाने जो आपके शरीर पर कहीं भी लाल अंडाकार या सांड की आंख जैसा दिखता है
• थकान
• जोड़ों का दर्द और सूजन
• मांसपेशियों में दर्द
• सिरदर्द
• बुखार
• सूजी हुई लिम्फ नोड्स
• नींद में खलल
• मुश्किल से ध्यान दे

लाइम रोग के लक्षण

बच्चों में लाइम रोग के लक्षण

बच्चे आमतौर पर वयस्कों के समान ही लाइम रोग के लक्षणों का अनुभव करते हैं। लाइम रोग के लक्षण जो वे आमतौर पर अनुभव करते हैं वे हैं:
• थकान
• जोड़ों और मांसपेशियों में दर्द
• बुखार
• फ्लू जैसे अन्य लक्षण
ये लक्षण संक्रमण के तुरंत बाद, या महीनों या वर्षों बाद हो सकते हैं। बच्चों को लाइम रोग हो सकता है और उन्हें बुल-आई रैश नहीं हो सकता है।

रैश कैसा दिखता है?

लाइम रैशेज के लगभग 20% से 30% में एक बुल-आई रूप होता है, एक केंद्र बिंदु के चारों ओर संकेंद्रित वृत्त होते हैं, लेकिन अधिकांश गोल और समान रूप से लाल और कम से कम 5 सेंटीमीटर (लगभग 2 इंच) होते हैं। पार।

अधिकांश केवल लाल हैं; उनके पास रिंग के भीतर क्लासिक रिंग नहीं है। दाने धीरे-धीरे दिनों की अवधि में फैलते हैं और लगभग 12 इंच तक बढ़ सकते हैं। यह स्पर्श करने के लिए गर्म महसूस कर सकता है, लेकिन यह शायद ही कभी खुजली या दर्द होता है, और यह शरीर के किसी भी हिस्से पर दिखाई दे सकता है।

लाइम रोग दाने

लाइम संक्रमण के चरण क्या हैं?

लाइम रोग तीन चरणों में हो सकता है:
• जल्दी स्थानीयकृत
• जल्दी प्रसारित
• देर से प्रसारित

अनुभव किए गए लाइम रोग के लक्षण इस बात पर निर्भर करेंगे कि रोग किस चरण में है। लाइम रोग की प्रगति अलग-अलग हो सकती है। कुछ लोग जिनके पास यह है, वे तीनों चरणों से नहीं गुजरते हैं।

चरण 1: प्रारंभिक स्थानीय रोग

लाइम रोग के लक्षण आमतौर पर टिक काटने के 1 से 2 सप्ताह बाद शुरू होते हैं। रोग के शुरुआती लक्षणों में से एक बुल-आई रैश हो सकता है। दाने टिक काटने की जगह पर होते हैं, आमतौर पर, लेकिन हमेशा नहीं, एक केंद्रीय लाल धब्बे के रूप में जो किनारे पर लाली के क्षेत्र के साथ एक स्पष्ट स्थान से घिरा होता है। यह स्पर्श करने के लिए गर्म हो सकता है, लेकिन यह दर्दनाक नहीं है और खुजली नहीं करता है। अधिकांश लोगों में यह दाने धीरे-धीरे फीके पड़ जाएंगे।

इस दाने का औपचारिक नाम इरिथेमा माइग्रेंस है। एरीथेमा माइग्रेन को लाइम रोग की विशेषता कहा जाता है। हालांकि, बहुत से लोगों में यह लक्षण नहीं होता है। कुछ लोगों के पास ठोस लाल दाने होते हैं, जबकि गहरे रंग के लोगों में एक खरोंच जैसा दाने हो सकता है। रैश प्रणालीगत वायरल या फ्लू जैसे लक्षणों के साथ या बिना हो सकते हैं।

लाइम रोग के इस चरण में आमतौर पर देखे जाने वाले अन्य लक्षणों में शामिल हैं:
• ठंड लगना
• बुखार
• बढ़े हुए लिम्फ नोड्स
• गले में खराश
• दृष्टि में परिवर्तन
• थकान
• मांसपेशियों में दर्द
• सिरदर्द

लाइम संक्रमण के चरण

चरण 2: प्रारंभिक प्रसार लाइम रोग

प्रारंभिक रूप से फैलने वाला लाइम रोग टिक काटने के कई हफ्तों से लेकर महीनों बाद तक होता है। अस्वस्थ होने की एक सामान्य भावना होगी, और टिक काटने के अलावा अन्य क्षेत्रों में दाने दिखाई दे सकते हैं। रोग के इस चरण में मुख्य रूप से प्रणालीगत संक्रमण के साक्ष्य की विशेषता होती है, जिसका अर्थ है कि संक्रमण पूरे शरीर में फैल गया है, जिसमें अन्य अंग भी शामिल हैं।

लक्षणों में ये शामिल हो सकते हैं:
• एकाधिक पर्विल मल्टीफॉर्म (ईएम) घाव
• हृदय ताल में गड़बड़ी, जो लाइम कार्डिटिस के कारण हो सकती है
• तंत्रिका संबंधी स्थितियां, जैसे सुन्नता, झुनझुनी, चेहरे और कपाल तंत्रिका पक्षाघात, और दिमागी बुखार

चरण 1 और 2 के लक्षण ओवरलैप हो सकते हैं।

चरण 3: देर से फैलने वाला लाइम रोग

देर से फैलने वाला लाइम रोग तब होता है जब चरण 1 और 2 में संक्रमण का इलाज नहीं किया गया है। चरण 3 टिक काटने के महीनों या वर्षों बाद हो सकता है।

इस चरण में निम्न लक्षण हो सकते हैं:
• एक या अधिक बड़े जोड़ों का गठिया
• मस्तिष्क विकार, जैसे कि एन्सेफेलोपैथी, जो अल्पकालिक स्मृति हानि, ध्यान केंद्रित करने में कठिनाई, मानसिक धुंधलापन, निम्नलिखित बातचीत में समस्याएं और नींद की गड़बड़ी का कारण बन सकता है
• हाथ, पैर, हाथ या पैर में सुन्नता

लाइम रोग के कारण

लाइम रोग बैक्टीरिया बोरेलिया बर्गडोरफेरी और बोरेलिया मेयोनी के कारण होता है, जो मुख्य रूप से काले पैर वाली टिक या हिरण टिक द्वारा किया जाता है। युवा भूरे रंग के टिक अक्सर खसखस ​​से बड़े नहीं होते हैं, जिससे उन्हें पहचानना लगभग असंभव हो जाता है।

लाइम रोग को अनुबंधित करने के लिए, एक संक्रमित हिरण टिक आपको अवश्य काटेगा। बैक्टीरिया काटने के माध्यम से त्वचा में प्रवेश करते हैं और अंततः रक्तप्रवाह में अपना रास्ता बना लेते हैं।

ज्यादातर मामलों में, लाइम रोग को प्रसारित करने के लिए, एक हिरण टिक को 36 से 48 घंटों के लिए संलग्न किया जाना चाहिए। यदि आप एक संलग्न टिक पाते हैं जो सूजे हुए दिखाई देते हैं, तो हो सकता है कि यह बैक्टीरिया को प्रसारित करने के लिए पर्याप्त समय तक खिलाए। जितनी जल्दी हो सके टिक को हटाने से संक्रमण को रोका जा सकता है।

लाइम रोग के कारण

लाइम रोग होने की संभावना किसे है?

लाइम संक्रमण 15 वर्ष की आयु तक और 40 से 60 वर्ष की आयु के पुरुषों में अधिक आम है। ये वे लोग हैं जिनके बाहर रहने की संभावना अधिक होती है, और वे खेल, शिविर, शिकार, और लंबी पैदल यात्रा।

लाइम का संक्रमण बड़े किशोरों और 20 वर्ष की उम्र के लोगों में कम हो जाता है क्योंकि वे अपने कंप्यूटर के अंदर होते हैं। वृद्ध वयस्कों के पास अपने पिछवाड़े में काम करने के लिए अधिक समय होता है, जहां से अधिकांश लाइम संक्रमण फैलता है।

लाइम रोग निदान

लाइम रोग का निदान स्वास्थ्य इतिहास की जांच के साथ शुरू होता है, जिसमें किसी प्रचलित क्षेत्र में टिक काटने या निवास की रिपोर्ट की तलाश शामिल है। स्वास्थ्य सेवा प्रदाता एक दाने या लाइम रोग की विशेषता वाले अन्य लक्षणों की उपस्थिति को देखने के लिए एक शारीरिक परीक्षा भी करेगा। प्रारंभिक स्थानीयकृत संक्रमण के दौरान परीक्षण की अनुशंसा नहीं की जाती है।

रक्त परीक्षण प्रारंभिक संक्रमण के कुछ सप्ताह बाद सबसे विश्वसनीय होते हैं, जब एंटीबॉडी मौजूद होते हैं। स्वास्थ्य सेवा प्रदाता निम्नलिखित परीक्षणों का आदेश दे सकता है:

• एंजाइम-लिंक्ड इम्युनोसॉरबेंट परख (एलिसा) का उपयोग बी. बर्गडोरफेरी के खिलाफ एंटीबॉडी का पता लगाने के लिए किया जाता है।

• पश्चिमी धब्बा का उपयोग सकारात्मक एलिसा परीक्षण की पुष्टि के लिए किया जाता है। यह विशिष्ट बी. बर्गडोरफेरी प्रोटीन के प्रति एंटीबॉडी की उपस्थिति की जांच करता है।

• पोलीमरेज़ चेन रिएक्शन (PCR) का उपयोग लाइम गठिया या तंत्रिका तंत्र के लक्षणों वाले लोगों का मूल्यांकन करने के लिए किया जाता है। यह संयुक्त द्रव या मस्तिष्कमेरु द्रव (सीएसएफ) पर किया जाता है। कम संवेदनशीलता के कारण लाइम रोग के निदान के लिए सीएसएफ पर पीसीआर परीक्षण की नियमित रूप से अनुशंसा नहीं की जाती है। एक नकारात्मक परीक्षण निदान से इंकार नहीं करता है। इसके विपरीत अधिकांश लोगों का संयुक्त द्रव में सकारात्मक पीसीआर परिणाम होगा यदि एंटीबायोटिक चिकित्सा से पहले परीक्षण किया गया हो।

लाइम रोग का उपचार

भले ही लाइम रोग के सभी चरण एंटीबायोटिक दवाओं के प्रति प्रतिक्रिया करते हैं, प्रारंभिक उपचार जटिलताओं को रोकने की अधिक संभावना है।

डोक्सीसाइक्लिन, एमोक्सिसिलिन, या सेफुरोक्साइम जैसे एंटीबायोटिक्स, जो दो से तीन सप्ताह तक मौखिक रूप से लिए जाते हैं, रोग के प्रारंभिक चरण के दौरान प्रभावी होते हैं। यदि प्रारंभिक रोग स्थानीयकृत है, तो लोगों को केवल 10 दिनों के लिए उपचार की आवश्यकता हो सकती है। यदि लोग इनमें से कोई भी दवा नहीं ले सकते हैं, तो कभी-कभी एज़िथ्रोमाइसिन का उपयोग किया जाता है लेकिन यह कम कुशल होता है। आम तौर पर, 8 साल से कम उम्र के बच्चों या गर्भवती या स्तनपान कराने वाली महिलाओं को डॉक्सीसाइक्लिन नहीं दिया जाता है। एंटीबायोटिक्स भी लाइम रोग के कई लक्षणों को दूर करने में मदद कर सकते हैं।

लाइम रोग के कारण गठिया के लिए, एमोक्सिसिलिन, सेफुरोक्साइम, या डॉक्सीसाइक्लिन जैसे एंटीबायोटिक्स 28 दिनों के लिए मौखिक रूप से दिए जाते हैं, या 28 दिनों के लिए सेफ्ट्रिएक्सोन अंतःशिरा रूप से दिया जाता है।

अधिकांश तंत्रिका संबंधी असामान्यताओं के लिए और एक प्रकार की असामान्य हृदय ताल (अतालता) के लिए जिसे थर्ड-डिग्री हार्ट ब्लॉक (पूर्ण हृदय ब्लॉक) कहा जाता है, सेफ्ट्रिएक्सोन या पेनिसिलिन को 2 से 4 सप्ताह के लिए अंतःशिरा में दिया जाता है। कभी-कभी पूर्ण हृदय अवरोध के लिए अस्थायी पेसमेकर की आवश्यकता होती है। 2 से 3 सप्ताह के लिए मौखिक रूप से दी जाने वाली डॉक्सीसाइक्लिन, कम गंभीर फर्स्ट-डिग्री हार्ट ब्लॉक और बेल पाल्सी के इलाज में मदद कर सकती है।

एंटीबायोटिक्स बैक्टीरिया को खत्म कर देते हैं और ज्यादातर लोगों में गठिया से राहत दिलाते हैं। हालांकि, गठिया कभी-कभी सभी बैक्टीरिया के चले जाने के बाद भी बना रहता है क्योंकि सूजन जारी रहती है। सफल एंटीबायोटिक उपचार के बाद भी, कुछ लोगों में अभी भी थकान, सिरदर्द और मानसिक समस्याओं जैसे अन्य लक्षण होते हैं।

गैर-स्टेरायडल विरोधी भड़काऊ दवाएं, जैसे एस्पिरिन या इबुप्रोफेन, सूजन वाले जोड़ों के दर्द से राहत दिला सकती हैं। प्रभावित जोड़ों में जमा होने वाले द्रव को निकाला जा सकता है। बैसाखी का उपयोग करने से मदद मिल सकती है।

अगर त्वचा के नीचे टिक हो जाए तो आप क्या करते हैं?

जितनी जल्दी हो सके बारीक टिप वाले चिमटी से इसे हटा दें, स्थिर दबाव के साथ ऊपर की ओर खींचे। यदि टिक के हिस्से त्वचा में रह जाते हैं, तो उन्हें भी चिमटी से निकालने का प्रयास करें। सब कुछ खत्म हो जाने के बाद, काटने वाली जगह को रबिंग अल्कोहल या साबुन और पानी से साफ करें। यदि आप ३६ से ४८ घंटों के भीतर टिक हटाते हैं तो आपको संक्रमित होने की संभावना नहीं है। कुछ लोगों को टिक से एलर्जी की प्रतिक्रिया होती है, इसलिए वे तुरंत एक काटने को नोटिस करेंगे।

पोस्ट-लाइम रोग सिंड्रोम

यदि किसी व्यक्ति को लाइम रोग के लिए एंटीबायोटिक दवाओं के साथ इलाज किया जाता है, लेकिन लक्षणों का अनुभव करना जारी रहता है, तो इसे पोस्ट लाइम रोग सिंड्रोम या पोस्ट-ट्रीटमेंट लाइम रोग सिंड्रोम के रूप में जाना जाता है। लाइम रोग वाले लगभग 10 से 20 प्रतिशत लोग इस सिंड्रोम का अनुभव करते हैं। इसका कारण अज्ञात है।

पोस्ट-लाइम रोग सिंड्रोम गतिशीलता और संज्ञानात्मक कौशल को प्रभावित कर सकता है। उपचार मुख्य रूप से दर्द और परेशानी को कम करने पर केंद्रित है। अधिकांश लोग ठीक हो जाते हैं, लेकिन ऐसा होने में महीनों या वर्षों लग सकते हैं।

लाइम के बाद रोग के लक्षण

पोस्ट लाइम रोग सिंड्रोम के लक्षण उन लक्षणों के समान हैं जो पहले के चरणों में होते हैं। इन लक्षणों में शामिल हो सकते हैं:

• थकान
• सोने में कठिनाई
• जोड़ों या मांसपेशियों में दर्द
• आपके बड़े जोड़ों में दर्द या सूजन, जैसे आपके घुटने, कंधे, या कोहनी
• ध्यान केंद्रित करने में कठिनाई और अल्पकालिक स्मृति समस्याएं
• भाषण समस्याएं

लाइम रोग की रोकथाम

लाइम रोग की रोकथाम

लाइम रोग को रोकने का सबसे अच्छा तरीका उन क्षेत्रों से बचना है जहां हिरण टिकते हैं, विशेष रूप से लंबी घास वाले जंगली, जंगली क्षेत्रों में। कुछ सरल सावधानियों का पालन करके लाइम रोग होने के जोखिम को कम किया जा सकता है:

• ढकना - जब जंगली या घास वाले क्षेत्रों में हों, तो जूते पहनें, मोजे में बंधी लंबी पतलून, एक लंबी बाजू की शर्ट, एक टोपी और दस्ताने। पगडंडियों से चिपके रहने की कोशिश करें और कम झाड़ियों और लंबी घास से चलने से बचें। कुत्ते/पालतू को पट्टे पर रखें।

• कीट विकर्षक का उपयोग करें - त्वचा पर डीईईटी की 20% या अधिक सांद्रता वाले कीट विकर्षक लगाएं। माता-पिता को चाहिए कि वे अपने बच्चों के हाथों, आंखों और मुंह से परहेज करते हुए विकर्षक लगाएं।
ध्यान रखें कि रासायनिक विकर्षक विषाक्त हो सकते हैं, इसलिए निर्देशों का सावधानीपूर्वक पालन करें। कपड़ों पर पर्मेथ्रिन युक्त उत्पाद लगाएं या उपचारित कपड़े खरीदें।

• अपने यार्ड पर टिक-प्रूफ करने की पूरी कोशिश करें - जहां टिक रहते हैं वहां ब्रश और पत्तियों को साफ करें। लॉन की नियमित रूप से जुताई करें। सूखे, धूप वाले क्षेत्रों में लकड़ी को बड़े करीने से ढेर करें ताकि कृन्तकों को टिकने से रोका जा सके

• कपड़ों, अपने आप को, अपने बच्चों और अपने पालतू जानवरों को टिक के लिए जांचें - जंगली या घास वाले क्षेत्रों में समय बिताने के बाद विशेष रूप से सतर्क रहें। हिरण के टिक अक्सर पिन के सिर से बड़े नहीं होते हैं, इसलिए जब तक ध्यान से न खोजा जाए तब तक कोई उन्हें खोज नहीं सकता है।
घर के अंदर आते ही स्नान करना सहायक होता है। टिक्स अक्सर खुद को जोड़ने से पहले त्वचा पर घंटों तक बने रहते हैं। स्नान करने और वॉशक्लॉथ का उपयोग करने से अनासक्त टिक निकल सकते हैं।

• यह न समझें कि आप प्रतिरक्षित हैं - एक व्यक्ति को लाइम रोग एक से अधिक बार हो सकता है।

• चिमटी से जितनी जल्दी हो सके टिक हटा दें - टिक को उसके सिर या मुंह के पास धीरे से पकड़ें। टिक को निचोड़ें या कुचलें नहीं, बल्कि सावधानी से और स्थिर रूप से खींचें। एक बार जब पूरी टिक हटा दी जाती है, तो इसे अल्कोहल में डालकर या शौचालय में फ्लश करके इसे हटा दें, और काटने वाले क्षेत्र में एंटीसेप्टिक लागू करें।

लाइम रोग संचरण

टिक्स जो जीवाणु बी से संक्रमित होते हैं। बर्गडोरफेरी शरीर के किसी भी हिस्से से जुड़ सकते हैं। वे आमतौर पर शरीर के उन क्षेत्रों में पाए जाते हैं जो देखने में कठिन होते हैं, जैसे खोपड़ी, बगल और कमर का क्षेत्र। जीवाणु को संचारित करने के लिए संक्रमित टिक को कम से कम 36 घंटे के लिए शरीर से जोड़ा जाना चाहिए।

लाइम रोग से ग्रसित अधिकांश लोगों को अपरिपक्व टिक्स ने काट लिया, जिन्हें अप्सरा कहा जाता है। इन छोटे-छोटे टिक्कों को देखना बहुत मुश्किल होता है। वे वसंत और गर्मियों में भोजन करते हैं। वयस्क टिक्स में भी बैक्टीरिया होते हैं, लेकिन उन्हें देखना आसान होता है और इसे प्रसारित करने से पहले हटाया जा सकता है।

इस बात का कोई प्रमाण नहीं है कि लाइम रोग हवा, भोजन या पानी के माध्यम से फैल सकता है। वहाँ भी कोई सबूत नहीं है कि यह दिल को छू लेने के माध्यम से लोगों के बीच प्रसारित किया जा सकता, चुंबन या सेक्स करते हुए है।

लाइम रोग संचरण

क्या लाइम रोग संक्रामक है?

इस बात का कोई प्रमाण नहीं है कि लाइम रोग लोगों के बीच संक्रामक है। गर्भवती महिलाएं अपने स्तन के दूध के माध्यम से इस बीमारी को अपने भ्रूण तक नहीं पहुंचा सकती हैं। लाइम रोग एक संक्रमण है जो काले पैर वाले हिरण के टिक्कों द्वारा संचरित बैक्टीरिया के कारण होता है। ये जीवाणु शरीर के तरल पदार्थ में पाए जाते हैं, लेकिन कोई सबूत नहीं है कि लाइम रोग, छींकने खाँसी, या चुंबन के माध्यम से एक और व्यक्ति में फैल सकता है नहीं है। इस बात का भी कोई प्रमाण नहीं है कि लाइम रोग यौन संचारित या रक्त आधान के माध्यम से प्रेषित किया जा सकता है।

लाइम रोग के साथ रहना

लाइम रोग के लिए एंटीबायोटिक दवाओं के साथ इलाज किए जाने के बाद, सभी लक्षणों को गायब होने में सप्ताह या महीने लग सकते हैं। निम्न चरण पुनर्प्राप्ति को बढ़ावा देने में सहायता कर सकते हैं:

• स्वस्थ भोजन खाएं और ऐसे खाद्य पदार्थों से बचें जिनमें बड़ी मात्रा में चीनी हो।
• भरपूर आराम करें।
• तनाव कम करने की कोशिश करें।
• दर्द और परेशानी को कम करने के लिए आवश्यक होने पर एक विरोधी भड़काऊ दवा लें।

डॉक्टर को कब दिखाना है

यदि आपको एक टिक ने काट लिया है और आपको इसके लक्षण हैं

टिक के काटने से ही लाइम रोग होता है। टिक जितना अधिक समय तक त्वचा से जुड़ा रहता है, बीमारी होने का खतरा उतना ही अधिक होता है। यदि टिक 36 से 48 घंटों से कम समय तक जुड़ा रहता है तो लाइम संक्रमण की संभावना नहीं है।

यदि आपको लगता है कि आपको काट लिया गया है और आपको लाइम रोग के लक्षण हैं, खासकर यदि आप ऐसे क्षेत्र में रहते हैं जहां लाइम रोग आम है, तो अपने डॉक्टर से संपर्क करें। लाइम रोग का उपचार यदि जल्दी शुरू कर दिया जाए तो अधिक प्रभावी होता है।

लक्षण गायब होने पर भी डॉक्टर से मिलें

संकेत और लक्षण गायब होने पर भी अपने डॉक्टर से मिलें - लक्षणों की अनुपस्थिति का मतलब यह नहीं है कि बीमारी खत्म हो गई है। अनुपचारित, लाइम रोग संक्रमण के बाद कई महीनों से लेकर वर्षों तक आपके शरीर के अन्य भागों में फैल सकता है, जिससे गठिया और तंत्रिका तंत्र की समस्याएं हो सकती हैं। टिक्स अन्य बीमारियों को भी प्रसारित कर सकते हैं, जैसे कि बेबियोसिस और कोलोराडो टिक बुखार।

जोखिम कारक

जहां आप रहते हैं या छुट्टियां मनाते हैं, वहां लाइम रोग होने की संभावना प्रभावित हो सकती है। तो क्या आपका पेशा और बाहरी गतिविधियों का आप आनंद ले सकते हैं। लाइम रोग के सबसे आम जोखिम कारकों में शामिल हैं:

• जंगली या घास वाले क्षेत्रों में समय बिताना - संयुक्त राज्य अमेरिका में, हिरण टिक ज्यादातर पूर्वोत्तर और मध्यपश्चिम के भारी जंगली क्षेत्रों में पाए जाते हैं। जो बच्चे इन क्षेत्रों में बाहर बहुत समय बिताते हैं, वे विशेष रूप से जोखिम में हैं। बाहरी नौकरियों वाले वयस्कों में भी जोखिम बढ़ जाता है।

• उजागर त्वचा - टिक्स आसानी से नंगे मांस से जुड़ जाते हैं। यदि आप ऐसे क्षेत्र में हैं जहां टिक आम हैं, तो लंबी आस्तीन और लंबी पैंट पहनकर अपनी और अपने बच्चों की रक्षा करें। अपने पालतू जानवरों को ऊँचे-ऊँचे घासों और घासों में न भटकने दें।

• टिक्स को तुरंत या ठीक से नहीं हटाना - यदि टिक आपकी त्वचा से 36 से 48 घंटे या उससे अधिक समय तक जुड़ा रहता है तो टिक काटने से बैक्टीरिया आपके रक्तप्रवाह में प्रवेश कर सकता है। यदि आप दो दिनों के भीतर एक टिक हटा देते हैं, तो आपको लाइम रोग होने का खतरा कम होता है।

जटिलताएं

उपचार न किए गए लाइम रोग का कारण बन सकता है:

• जोड़ों की पुरानी सूजन (लाइम आर्थराइटिस), विशेष रूप से घुटने की

• तंत्रिका संबंधी लक्षण, जैसे चेहरे का पक्षाघात और न्यूरोपैथी

• संज्ञानात्मक दोष, जैसे बिगड़ा हुआ स्मृति

• हृदय की लय की अनियमितता

संबद्ध सह-रुग्णताएं

• बेबेसिया
बेबेसिया माइक्रोटी एक परजीवी है जो टिक काटने के समय बोरेलिया के साथ रक्तप्रवाह में प्रवेश करता है और मेजबान की लाल रक्त कोशिकाओं पर हमला करता है और नष्ट कर देता है। यह संभावित रूप से जीवन के लिए खतरा हो सकता है, विशेष रूप से उन व्यक्तियों में जो बुजुर्ग हैं, प्रतिरक्षा-समझौता नहीं है, तिल्ली नहीं है, या गुर्दे या यकृत से जुड़ी अन्य बीमारियां हैं। यदि इलाज नहीं किया जाता है, तो जटिलताओं में हेमोडायनामिक अस्थिरता, एनीमिया, थ्रोम्बोसाइटोपेनिया, अंग विफलता या मृत्यु शामिल हो सकती है।

• क्रोनिक थकान सिंड्रोम
क्रोनिक थकान सिंड्रोम के निदान के अनुरूप महत्वपूर्ण थकान और अस्वस्थता के लक्षणों वाले व्यक्ति अक्सर बोरेलिया एंटीबॉडी के लिए सकारात्मक परीक्षण करते हैं, जो लाइम रोग के पिछले नैदानिक ​​​​निदान वाले व्यक्तियों में भी पूर्व संक्रमण का सुझाव देते हैं। 1999 में जर्मनी में किए गए एक डबल-ब्लाइंड अध्ययन में, शोधकर्ताओं ने पाया कि जिन व्यक्तियों ने बोरेलिया एंटीबॉडी के लिए सकारात्मक परीक्षण किया और टिक काटने का इतिहास था, उन व्यक्तियों की तुलना में थकान और अस्वस्थता के लक्षणों की रिपोर्ट करने की अधिक संभावना थी, जिनके पास टिक काटने का इतिहास था लेकिन बोरेलिया एंटीबॉडी के लिए नकारात्मक परीक्षण किया गया।

• फाइब्रोमायल्जिया सिंड्रोम
इसी तरह के अध्ययनों में बोरेलिया संक्रमण और नैदानिक ​​​​रूप से निदान फाइब्रोमायल्गिया के विकास के बीच अस्थायी संबंध पाए गए हैं, जिसका एटियलजि आम तौर पर बहुक्रियात्मक है और पर्यावरणीय कारकों, आघात, तनाव, संक्रमण और संभवतः टीकाकरण द्वारा ट्रिगर किया जा सकता है।

• हृदय रोग
लाइम रोग के परिणामस्वरूप उत्पन्न होने वाली हृदय संबंधी समस्याएं 4 से 10% प्रभावित व्यक्तियों में हो सकती हैं। संभावित समस्याओं में मायोकार्डिटिस, हृदय चालन ब्लॉक और अतालता शामिल हैं। हृदय की भागीदारी के लक्षणों में ब्रैडीकार्डिया, टैचीकार्डिया, अनियमित दिल की धड़कन, चक्कर आना, बेहोशी और हवा की कमी शामिल हैं।

• तंत्रिका संबंधी विकार
लाइम रोग के लगभग 5% रोगियों में न्यूरोलॉजिकल और मानसिक स्वास्थ्य सह-रुग्णता विकसित होती है, खासकर अगर इस बीमारी का शुरू में सफलतापूर्वक इलाज नहीं किया जाता है। न्यूरोलॉजिकल सीक्वेल में रेडिकुलोपैथी और छोरों में पेरेस्टेसिया शामिल हैं। संबद्ध मानसिक स्वास्थ्य परिवर्तनों में हल्के संज्ञानात्मक हानि, मनोदशा संबंधी विकार, अवसाद और चिंता शामिल हैं।

• आत्मकेंद्रित
यद्यपि ऑटिज़्म वास्तव में लाइम रोग की सह-रुग्णता है या नहीं, इस पर विवाद मौजूद है, हाल के शोध दोनों के बीच एक संबंध दिखाते हैं। बोरेलिया जीव सहित पुरानी संक्रामक बीमारियां जो लाइम का कारण बनती हैं, अन्य सह-संक्रमणों से जुड़ी हुई हैं जो भ्रूण या शिशु प्रतिरक्षा प्रणाली को कमजोर कर सकती हैं, प्रभावित व्यक्तियों को ऑटिज़्म स्पेक्ट्रम विकारों के विकास के जोखिम में वृद्धि कर सकती हैं।

लाइम रोग का प्रबंधन

जब तक आप बेहतर महसूस न करें, उचित आराम करें और अपनी गतिविधियों को गति दें। फिर धीरे-धीरे सामान्य गतिविधि में लौट आएं। उपचार समाप्त करने के बाद, अपने चिकित्सक से संपर्क करें। जिन लोगों में उपचार के बाद भी लक्षण बने रहते हैं, उनके लिए एक स्वस्थ जीवन शैली और भी महत्वपूर्ण हो जाती है। इसमें व्यायाम, अच्छा पोषण और पर्याप्त आराम शामिल है। फिर से, आपके ठीक होने में मदद के लिए अपने डॉक्टर से संपर्क करना महत्वपूर्ण है।

• लाइम रोग का उपचार अक्सर सफल होता है।

• संक्रमण के पहले हफ्तों में रक्त परीक्षण नकारात्मक (सामान्य) हो सकता है। इस प्रकार, प्रारंभिक चरण के लाइम रोग का निदान और उपचार किसी व्यक्ति के जोखिम जोखिम और विशिष्ट लक्षणों के आधार पर किया जाना चाहिए।

• जब उपचार के बाद भी लक्षण बने रहते हैं, तो उचित स्व-देखभाल और चिकित्सक की अनुवर्ती कार्रवाई से ठीक होने में मदद मिलेगी।

• साल के कुछ निश्चित समय पर टिक निवासों से बचकर लाइम रोग के जोखिम को कम करें, अपने शरीर में टिकों की जांच करें और जो भी टिक आपको मिले उसे तुरंत हटा दें।

शारीरिक उपचार प्रबंधन

शारीरिक उपचार प्रबंधन

प्रारंभिक चरण के लाइम रोग का इलाज केवल एंटीबायोटिक दवाओं और अन्य सहायक दवाओं जैसे एनाल्जेसिक के साथ किया जा सकता है। कुछ डॉक्टर पुराने लाइम रोग के लक्षणों वाले रोगियों को संदर्भित करेंगे जो भौतिक चिकित्सा के लिए दवा का जवाब नहीं देते हैं। लाइम रोग के उपचार में भौतिक चिकित्सा की भूमिका मुख्य रूप से है:
• दर्द से राहत,
• रोगमुक्त रोगियों को घर-आधारित व्यायाम कार्यक्रम शुरू करने के लिए तैयार करें
• लाइम से संबंधित लक्षणों को बढ़ाए बिना स्वास्थ्य लाभ प्राप्त करने के लिए उचित व्यायाम तकनीक और आवृत्ति, अवधि और प्रतिरोध के बारे में रोगियों को शिक्षित करें।

शारीरिक उपचार में शामिल हैं:
• मालिश,
• गति की सीमा,
• मायोफेशियल रिलीज
• अल्ट्रासाउंड, नम गर्मी और पैराफिन सहित तौर-तरीके।
• आम तौर पर, आइस पैक और विद्युत उत्तेजना को contraindicated है, हालांकि इसका समर्थन करने के लिए कोई शोध नहीं है।
• व्यायाम के नुस्खे का उद्देश्य शक्ति में सुधार करना और रोगी के कंडीशनिंग स्तर को धीरे-धीरे बढ़ाना है जो क्रोनिक लाइम संक्रमण के परिणामस्वरूप गंभीर रूप से प्रभावित हो सकता है। पूरे शरीर के व्यायाम में आम तौर पर कम भार और उच्च दोहराव के साथ व्यापक स्ट्रेचिंग, हल्की कॉलिस्थेनिक्स, और प्रकाश प्रतिरोध प्रशिक्षण की सुविधा होती है।

इसके अलावा, विशिष्ट न्यूरोलॉजिकल जटिलताओं वाले कई रोगियों जैसे कि फेशियल पाल्सी को भी भौतिक चिकित्सा के लिए रेफर किया जा सकता है। लाइम से संबंधित न्यूरोलॉजिकल अपमान के बाद लकवाग्रस्त या कमजोर चेहरे की मांसपेशियों की विद्युत उत्तेजना को काफी सामान्य अभ्यास माना जाता है, हालांकि शोध इसके उपयोग का पूरी तरह से समर्थन नहीं करता है। इसकी प्रभावशीलता की जांच करने वाले कुछ यादृच्छिक नियंत्रित परीक्षण हैं और जो मौजूद हैं वे संकेत देते हैं कि यह न तो हानिकारक हो सकता है और न ही फायदेमंद हो सकता है क्योंकि कई चिकित्सक रूढ़िवादी दृष्टिकोण अपनाते हैं और लक्षणों की शुरुआत और प्राकृतिक न्यूरोलॉजिकल रिकवरी की अनुमति देने के लिए ई-उत्तेजना कार्यक्रम की शुरुआत के बीच कई महीनों तक प्रतीक्षा करते हैं। होने के लिये। ईएमजी बायोफीडबैक के रूप में, चेहरे के पक्षाघात में लाभकारी होने के लिए न्यूरोमस्कुलर रिट्रेनिंग का प्रदर्शन किया गया है।

शारीरिक चिकित्सक को लाइम आर्थराइटिस के लक्षणों के बारे में पता होना चाहिए जो आमतौर पर एरिथेमा माइग्रेन के लगभग चार महीने बाद प्रकट होता है। यह घुटने में सबसे आम है लेकिन कई जोड़ों में पाया जा सकता है।

लाइम रोग और गर्भावस्था

कुछ छोटे अध्ययनों ने गर्भावस्था के दौरान लाइम रोग को विकासात्मक अंतर या भ्रूण की मृत्यु से जोड़ा है। इसकी पुष्टि के लिए और शोध की आवश्यकता होगी। स्तनपान के माध्यम से संचरण की कोई रिपोर्ट नहीं मिली है। हालांकि, डॉक्टर उपचार प्राप्त करते समय स्तनपान रोकने की सलाह दे सकते हैं। गर्भावस्था के दौरान, लोगों को लाइम रोग के इलाज के लिए एक अलग प्रकार के एंटीबायोटिक की आवश्यकता होती है।

गर्भवती होने पर लाइम रोग का उपचार

लाइम रोग के अधिकांश मामलों का 2 से 4 सप्ताह के एंटीबायोटिक दवाओं के साथ प्रभावी ढंग से इलाज किया जा सकता है। लक्षणों के आधार पर और जब आप का निदान किया गया था, तो आपको एंटीबायोटिक दवाओं के साथ एक लंबे पाठ्यक्रम या दोहराए जाने वाले उपचार की आवश्यकता हो सकती है।

कुछ लोग ऐसे लक्षणों का अनुभव करते हैं जो उपचार के बाद 6 महीने से अधिक समय तक जारी रहते हैं। इन लगातार लक्षणों और संभावित उपचार विधियों के कारणों पर शोध जारी है।

लाइम रोग वाली गर्भवती महिलाओं का उपचार अन्य व्यक्तियों के समान ही होता है। हालांकि, कुछ एंटीबायोटिक्स, जैसे कि डॉक्सीसाइक्लिन का उपयोग नहीं किया जाना चाहिए क्योंकि यह भ्रूण को प्रभावित कर सकता है।

भ्रूण पर कोई जानलेवा प्रभाव नहीं पाया गया है, जहां मां को अपने लाइम रोग के लिए उचित एंटीबायोटिक उपचार प्राप्त होता है।

निष्कर्ष

लाइम रोग विकसित हो सकता है यदि एक काली टांगों वाली टिक बी. बर्गडोरफेरी बैक्टीरिया के काटने से गुजरती है। प्रारंभ में, एक व्यक्ति को अंगूठी या बैल की आंख के आकार के साथ एक दाने का विकास हो सकता है। एंटीबायोटिक दवाओं के साथ उपचार आमतौर पर प्रभावी होता है। जोड़ों के दर्द जैसी जटिलताएं बाद में उत्पन्न हो सकती हैं और इसके लिए एक अलग दृष्टिकोण की आवश्यकता हो सकती है।

संबंधित विषय:

1. बवासीर क्या हैं?

पुरुष बांझपन एक ऐसी स्थिति है जो एक आदमी में संतान पैदा करने की संभावना को कम कर देती है। इस स्थिति के इलाज के लिए कई आधुनिक उपचार उपलब्ध हैं। अधिक जानने के लिए यहां जाएं: बवासीर क्या हैं?

2. प्रजनन क्षमता और बांझपन क्या है?

फर्टिलिटी और इनफर्टिलिटी का संबंध किसी व्यक्ति की संतान पैदा करने की क्षमता से है। बांझपन के कारण कई हो सकते हैं। इसका परीक्षण और इलाज किया जा सकता है। अधिक जानने के लिए यहां जाएं: फर्टिलिटी और इनफर्टिलिटी क्या है

3. उचित पोषण का महत्व

उचित पोषण आपके शरीर को सभी आवश्यक पोषक तत्व प्रदान करता है, यह एक अच्छी तरह से संतुलित आहार खाने से प्राप्त किया जा सकता है। खराब पोषण स्वास्थ्य समस्याओं का कारण बन सकता है। अधिक जानने के लिए यहां जाएं: उचित पोषण का महत्व

4. प्रतिरक्षा क्या है?

प्रतिरक्षा शरीर की यह पहचानने की क्षमता है कि क्या स्वयं का है और क्या विदेशी है। प्रतिरक्षा प्रणाली हानिकारक जीवों के प्रतिरोध का निर्माण करने का काम करती है। अधिक जानने के लिए यहां जाएं: इम्युनिटी क्या है?




उपरोक्त आवश्यक वस्तुएं एएफडी-शील्ड के पास उपलब्ध हैं।

एएफडी शील्ड कैप्सूल 12 प्राकृतिक अवयवों का एक संयोजन है, जिनमें अल्गल डीएचए, अश्वगंधा, करक्यूमिन और स्पिरुलिना शामिल हैं। एएफडी शील्ड टीजी को कम करता है, एचडीएल बढ़ाता है और उम्र से संबंधित संज्ञानात्मक गिरावट में सुधार करता है। यह तनाव और चिंता को भी कम करता है और एंटी-एजिंग गतिविधि करता है। इसके अलावा, यह इम्यूनोमॉड्यूलेटरी गतिविधि को भी बढ़ाता है, प्रतिरक्षा में सुधार करता है और सूजन और ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करता है।
न्यूट्रालॉजिकक्स: एएफडी-शील्ड

AFDIL Ltd.
+91 9920121021

order@afdil.com

Read Also:


Disclaimer
Home