What Is Immunity?

What is immunity-01

The immune system constitutes of special organs, cells and chemicals that infectious microbes in the body. The main parts of the immune system includes the white blood cells, the spleen, the thymus, the bone marrow antibodies, the complement system and the lymphatic system. These are the parts of the immune system that actively fight infection. The immune system response is how your body recognizes and defends itself against bacteria, viruses, and substances that appear foreign and harmful.

Humans have three types of immunity:

• Innate immunity: Every human is born with innate immunity or natural immunity, a kind of general protection. The example of innate immunity is when the skin acts as a barrier to prevent/block germs from entering the body and the immune system recognizes when certain invaders are foreign and could be hazardous.

• Adaptive immunity: Adaptive immunity also called active immunity develops throughout a human’s life. This immunity is developed when the body is exposed to diseases or when it gets immunized against them with vaccines..

• Passive immunity: Passive immunity is borrowed from another source and it lasts for a brief period of time. For instance, antibodies in a mother's breast milk provides a baby temporary immunity to diseases the mother has been exposed to..

The immune system takes some time to build up and needs help from vaccines. By getting all your child's suggested vaccines, you can help keep your child as healthy as possible.

03-What is immunity

What is immunity-02

The immune system and microbial infection

The immune system remembers each and every microbe it has ever defeated. This is stored in different types of white blood cells, B- and T-lymphocytes, which are referred to as memory cells. This indicates that it can identify and destroy the microbe quickly if it enters the body again, before it can proliferate and make the body feel sick. This is the immune system response.

Some infections, such as the flu and the common cold, have to be fought multiple times because numerous different viruses or strains of an equivalent sort of virus can cause these illnesses. Catching a cold or flu from one virus doesn’t provide immunity against the others.

Parts of the immune system

The main parts of the immune system are:

• white blood cells

• antibodies

• complement system

• lymphatic system

• spleen

• bone marrow

• thymus.

White blood cells

White blood cells are one of the most vital parts of the immune system. They are formed in the bone marrow and are component of the lymphatic system.

White blood cells travel through blood and tissue throughout the body, looking for foreign microbes like bacteria, viruses, parasites and fungi. Once the foreign microbes are found, WBCs initiate an immune attack.

White blood cells comprise lymphocytes like B-cells, T-cells and natural killer cells, and many other types of immune cells.

Antibodies

Antibodies aid the body to fight toxins or microbes present in the body. They accomplish this by recognizing substances called antigens which are present on the surface of the microbe, or within the chemicals they produce, which mark the microbe or toxin as being foreign. The antibodies then mark these antigens for demolition. This action of attack involves many proteins, cells, and chemicals.

Complement system

The complement system, also referred to as complement cascade, is a part of the immune system that enhances the capability of antibodies and phagocytic cells to destroy microbes and injured cells from the body, help to cause inflammation, and attack the cell membrane of the pathogen. It is formed of proteins whose actions complement the work done by antibodies.

Lymphatic system

The lymphatic system is an association/network of delicate tubes throughout the body. The important and major roles of the lymphatic system include:

• manage the fluid levels in the body

• react to bacteria

• deal with cancer cells

• deal with products of the cells that are harmful and if not treated would result in disease or disorders

• absorbs some of the fats in the consumed diet from the intestine.

The lymphatic system is formed of:

• lymph nodes trap microbes and are also known as lymph glands

• lymph vessels are tubes that carry lymph (the colorless fluid that bathes your body's tissues and consists of infection fighting white blood cells)

• white blood cells (lymphocytes)

Spleen

The spleen is an organ whose prime function is to filter blood, eliminate microbes and destroy old and damaged red blood cells. It also forms disease fighting components of the immune system which include antibodies and lymphocytes.

Bone marrow

The spongy tissue present in the bones is called bone marrow. It is the tissue that produces the red blood cells needed by the body to carry oxygen, the white blood cells that the body uses to fight infection, and the platelets needed by the body to help the blood clot.

Thymus

The function of thymus is to filter and monitor the blood content of body. It is the site for the production of the white blood cells called T-lymphocytes.

The body's other defences against microbes

Apart from the immune system, the body has some other ways to defend itself from microbes. These include:

Skin - a waterproof barrier that releases oil which has bacteria killing tendency

Lungs - mucous in the lungs traps foreign particles, and small hairs called cilia, signal the mucous upwards so it can be coughed out

Digestive tract - The mucous lining of this tract has antibodies, and the strong acid in the stomach has the capacity to kill most microbes

Other defences - body fluids such as skin oil, saliva and tears contain anti-bacterial enzymes that help reduce the threat of infection. The regular flushing of the urinary tract and the bowel also helps in the removal of harmful microbes.

How Does the Immune System Work?

When the body senses foreign substances or antigens, the immune system works to recognize the antigens and remove them.

B lymphocytes are triggered to form antibodies which are also known as immunoglobulins. The function of these proteins is that they lock onto specific antigens. After the formation, antibodies generally stay in the body in case there is a need to fight the same microbes again. That's why someone who gets a disease, such as chickenpox, usually would not get ill from it again.

This concept works behind prevention provided by vaccines/immunisations for some diseases. A vaccine acquaints the body to an antigen in a way that does not make it sick. But the stimulation is to an extent where it let the body make antibodies which will protect the person from future attack by the germ.

Although antibodies can recognize an antigen and lock onto it, but that is not enough to destroy it, some help is required for this destruction. That is the job of the T cells. They destroy antigens recognized by antibodies or cells that are infected or somehow changed. Some T cells are called "killer cells" because of this function. T cells also help to signal other cells, like phagocytes, to do their jobs.

When the body senses foreign substances or antigens, the immune system works to recognize the antigens and remove them.

Antibodies also can:

• Neutralize toxins produced by different organisms

• Activate protein group called complement helps kill bacteria, viruses, or infected cells. It is a part of the immune system.

Fever is an immune system response

A rise in body temperature, or fever, can happen as a result of some infections. This is actually an immune system response generated by the body’s immune system. This rise in temperature can actually kill some microbes. It also triggers the body's repair process.

Common disorders of immune system

There is a high possibility for people to have an overactive or underactive immune system. Over activity of the immune system can take many forms. Some of the common disorders of immune system include the following.

Overactivity of the immune system include:

Allergic diseases - This is a type of common disorders of immune system where the immune system induces an overly strong response to allergens. These types of allergic diseases are very common. They include allergies to foods, medications or stinging insects, sinus disease, asthma, hives (urticaria), dermatitis, anaphylaxis (life-threatening allergy), hay fever (allergic rhinitis), and eczema.

Autoimmune diseases - This is a type of common disorders of immune system where the immune system induces a response against normal components of the body. This diseases range from common to rare. They include multiple sclerosis, type 1 diabetes, systemic lupus erythematosus, rheumatoid arthritis, autoimmune thyroid disease, and systemic vasculitis.

Hypersensitivity - This is a type of common disorders of immune system where the immune system overreacts in a way that harms healthy tissue. This includes anaphylactic shock where the body responds to an allergen so strongly that it can be life-threatening.

Under activity of the immune system or immunodeficiency can:

be inherited - These include primary immunodeficiency diseases like common variable immunodeficiency, x-linked severe combined immunodeficiency and complement deficiencies

arise as a result of medical treatment - This can arise due to medications such as corticosteroids or chemotherapy

be caused by another disease - like HIV/AIDS or some types of cancer.

An underactive immune system doesn’t function adequately and makes people susceptible to infections. It can turn life threatening in severe cases.

People who have gone through an organ transplant need mandatory immunosuppressant treatment to prevent the body from attacking the transplanted organ.

Immunoglobulin therapy

Immunoglobulins, commonly referred to as antibodies, are used to treat people who are not able to make enough of the antibodies, or whose antibodies do not function properly. This treatment is called immunoglobulin therapy

Until recently, immunoglobulin therapy in Australia mostly involved delivery of immunoglobulins through a drip into the vein, referred to as intravenous immunoglobulin (IVIg) therapy. But now, subcutaneous immunoglobulin can be delivered into under the skin the fatty tissue, which may be beneficial for several patients. This is called subcutaneous infusion or SCIg therapy.

Subcutaneous immunoglobulin is similar to intravenous immunoglobulin. It is made from plasma (the liquid part of blood containing important proteins such as antibodies).

Many health services are now offering SCIg therapy to suitable patients with specific immune conditions.

What is immunity-03

Immunisation

Immunization is a process by which a person becomes protected against a disease by replicating the body's natural immune response. A vaccine is injected into the body to the response of which the body forms antibodies to it.

If a person who is vaccinated gets exposed to the actual virus, bacterium or toxin, they won't get sick because their body will recognize it and know how to attack it. Vaccinations are available against many diseases, which include measles and tetanus.

The immunizations required for a particular person are decided by his/her health, age, lifestyle and occupation. Together, these factors are referred to as HALO, These are:

Health - Some health conditions can make an individual more susceptible to vaccine preventable diseases. For example, diabetes, premature birth, Down syndrome, asthma, heart, lung, spleen or kidney conditions, and HIV will mean individual may benefit from additional or more frequent vaccinations.

Age – According to the age group an individual may need protection from different vaccine preventable diseases

Lifestyle - Lifestyle choices of an individual can have an impact on the requirement of immunization. For instance, travelling overseas to some places, planning a family, sexual activity, smoking, and playing contact sports that may expose body directly to someone else's blood, will mean that additional or more frequent immunizations may be beneficial.

Occupation – There will be requirement of extra immunizations, or more frequent immunizations, if occupation of an individual exposes to vaccine-preventable diseases or puts him/her into contact with people who are more susceptible to problems from vaccine-preventable diseases; like babies or young children, pregnant women, the elderly, and people with chronic or acute health conditions. Some employers also help with the cost of relevant vaccinations for their employees.

Related topics:

1. How to Boost Immunity

Healthy ways to strengthen your immune system ,get adequate sleep ,exercise regularly , minimize stress etc. Food which works as immune booster are the once rich with vitamin C, antioxidants. One can boost immune system with the help of supplements. To know more visit: How to Boost Immunity

2. Does Immunity Booster Supplements Have Any Side Effects

Immunity boosters are products which claim to be able to support your immune system so you aren’t as likely to get sick. Like every chemical formulation, these also have certain side effects. To know more visit: Does Immunity Booster Supplements Have Any Side Effects

3. Natural Supplements for Weakness

Food that would act as immunity booster to avoid weakness can be added to the diet such as vitamin-rich food, citrus fruit, plenty of water, garlic, broccoli, red bell peppers. To know more visit: Natural Supplements for Weakness

4. Importance Of Proper Nutrition

Proper nutrition provides your body all the necessary nutrients, this can be achieved by eating a well-balanced diet. Poor nutrition can cause health issues. To know more visit: Importance Of Proper Nutrition




The above essentials are available with LIMEZO and LIMEZO DZ

Limezo is a chewable tablet which is used to over come vitamin C deficiency and as an immune booster. It helps in preventing and treating respiratory infections and also acts as an antioxidant to protect against oxidative challenges. it also has an additional advantage of L-Arginine and L-Aspartame which helps in strengthning immune function.
Nutralogicx: Limezo

Limezo DZ helps in treatment and prevention of deficiencies like Vitamin C &D, zinc. This product helps in building up immunity to prepare bosy fight against infections. It also act as anti-oxidant medication. It maintains overall well-being of body. It is now flavored and available in orange flavor. It can be easily administered and is available in chewable forms. Vitamin C is a powerful antioxidant that strengthens body defenses, and keeps one protected from infections like common cold and influenza. Zinc is an important integral mineral required to build and maintain immunity. Zinc and vitamin C in combination is more effective as an immune booster. In addition, vitamin D3 helps replenish the body’s stores of vitamin D that helps in optimizing health. Vitamin D3 modulates the innate immune system — the first-line of immune defense, by increasing the phagocytic ability of immune cells.
Nutralogicx: Limezo DZ




प्रतिरक्षा क्या है?

प्रतिरक्षा क्या है-01

प्रतिरक्षा प्रणाली विशेष अंगों, कोशिकाओं और रसायनों का गठन करती है जो शरीर में संक्रामक रोगाणुओं का गठन करती है। प्रतिरक्षा प्रणाली के मुख्य भागों में सफेद रक्त कोशिकाएं, तिल्ली, थाइमस, बोन मैरो एंटीबॉडी, पूरक प्रणाली और लिम्फेटिक सिस्टम शामिल हैं। ये प्रतिरक्षा प्रणाली के हिस्से हैं जो सक्रिय रूप से संक्रमण से लड़ते हैं। प्रतिरक्षा प्रणाली की प्रतिक्रिया यह है कि आपका शरीर विदेशी और हानिकारक दिखाई देने वाले बैक्टीरिया, वायरस और पदार्थों के खिलाफ खुद को कैसे पहचानता है और उसका बचाव करता है।

मनुष्यों में तीन प्रकार की प्रतिरक्षा होती है:

• जन्मजात प्रतिरक्षा: हर इंसान जन्मजात प्रतिरक्षा या प्राकृतिक प्रतिरक्षा के साथ पैदा होता है, एक प्रकार की सामान्य सुरक्षा। जन्मजात प्रतिरक्षा का उदाहरण तब होता है जब त्वचा कीटाणुओं को शरीर में प्रवेश करने से रोकने/ब्लॉक करने में बाधा के रूप में कार्य करती है और प्रतिरक्षा प्रणाली पहचानती है जब कुछ आक्रमणकारियों विदेशी होते हैं और खतरनाक हो सकते हैं।

• अनुकूली प्रतिरक्षा: अनुकूली प्रतिरक्षा जिसे सक्रिय प्रतिरक्षा भी कहा जाता है, पूरे मानव के जीवन में विकसित होता है। यह प्रतिरक्षा तब विकसित होती है जब शरीर बीमारियों के संपर्क में आता है या जब यह टीकों के साथ उनके खिलाफ प्रतिरक्षित हो जाता है।

• निष्क्रिय प्रतिरक्षा: निष्क्रिय प्रतिरक्षा किसी अन्य स्रोत से उधार ली जाती है और यह थोडे समय तक रहता है। उदाहरण के लिए, एक मां के स्तन के दूध में एंटीबॉडी रोगों के लिए एक बच्चे को अस्थाई प्रतिरक्षा प्रदान करता है मां को उजागर किया गया है।

प्रतिरक्षा प्रणाली को बनाने में कुछ समय लगता है और टीकों से मदद की जरूरत है। अपने बच्चे के सभी सुझाए गए टीके प्राप्त करके, आप अपने बच्चे को यथासंभव स्वस्थ रखने में मदद कर सकते हैं।

03-प्रतिरक्षा क्या है

प्रतिरक्षा क्या है-02

प्रतिरक्षा प्रणाली और माइक्रोबियल संक्रमण

प्रतिरक्षा प्रणाली प्रत्येक और हर सूक्ष्म जीव यह कभी हराया है याद है । यह विभिन्न प्रकार की सफेद रक्त कोशिकाओं, बी-और टी-लिम्फोसाइट्स में संग्रहीत किया जाता है, जिन्हें स्मृति कोशिकाओं के रूप में जाना जाता है। यह इंगित करता है कि यह माइक्रोब को जल्दी से पहचान और नष्ट कर सकता है यदि यह फिर से शरीर में प्रवेश करता है, इससे पहले कि यह शरीर को पैदा कर सके और शरीर को बीमार महसूस कर सके। यह इम्यून सिस्टम रिस्पॉन्स है।

फ्लू और आम सर्दी जैसे कुछ संक्रमणों को कई बार लड़ा जाना पड़ता है क्योंकि कई अलग-अलग वायरस या समकक्ष प्रकार के वायरस के उपभेद इन बीमारियों का कारण बन सकते हैं। एक वायरस से सर्दी या फ्लू को पकड़ने से दूसरों के खिलाफ प्रतिरक्षा प्रदान नहीं होती है।

प्रतिरक्षा प्रणाली के कुछ हिस्सों

प्रतिरक्षा प्रणाली के मुख्य भाग हैं:

• सफेद रक्त कोशिकाएं

• एंटीबॉडी

• पूरक प्रणाली

• लिम्फेटिक सिस्टम

• तिल्ली

• अस्थि मज्जा

• थाइमस

सफेद रक्त कोशिकाएं

सफेद रक्त कोशिकाएं प्रतिरक्षा प्रणाली के सबसे महत्वपूर्ण हिस्सों में से एक हैं। वे अस्थि मज्जा में बनते हैं और लिम्फेटिक सिस्टम के घटक हैं।

सफेद रक्त कोशिकाएं पूरे शरीर में रक्त और ऊतकों के माध्यम से यात्रा करती हैं, बैक्टीरिया, वायरस, परजीवी और कवक जैसे विदेशी रोगाणुओं की तलाश में। एक बार विदेशी रोगाणुओं के पाए जाने के बाद, डब्ल्यूबीसी प्रतिरक्षा हमले की शुरुआत करते हैं।

सफेद रक्त कोशिकाओं में बी-कोशिकाओं, टी-कोशिकाओं और प्राकृतिक हत्यारा कोशिकाओं, और कई अन्य प्रकार की प्रतिरक्षा कोशिकाओं जैसे लिम्फोसाइट्स शामिल हैं।

एंटीबॉडी

एंटीबॉडी शरीर में मौजूद विषाक्त पदार्थों या रोगाणुओं से लड़ने के लिए शरीर की सहायता करते हैं। वे एंटीजन नामक पदार्थों को पहचानकर इसे पूरा करते हैं जो सूक्ष्म जीव की सतह पर मौजूद होते हैं, या उनके द्वारा उत्पादित रसायनों के भीतर, जो सूक्ष्म जीव या विष को विदेशी होने के रूप में चिह्नित करते हैं । एंटीबॉडी तो विध्वंस के लिए इन एंटीजन निशान । हमले की इस कार्रवाई में कई प्रोटीन, कोशिकाएं और रसायन शामिल हैं।

पूरक प्रणाली

पूरक प्रणाली, जिसे पूरक झरना भी कहा जाता है, प्रतिरक्षा प्रणाली का एक हिस्सा है जो शरीर से रोगाणुओं और घायल कोशिकाओं को नष्ट करने के लिए एंटीबॉडी और फैगोसाइटिक कोशिकाओं की क्षमता को बढ़ाता है, सूजन पैदा करने में मदद करता है, और रोगजनक की कोशिका झिल्ली पर हमला करता है। यह प्रोटीन का गठन होता है जिसके कार्य एंटीबॉडी द्वारा किए गए काम के पूरक हैं।

लिम्फेटिक सिस्टम

लिम्फेटिक सिस्टम पूरे शरीर में नाजुक ट्यूबों का एक संघ/नेटवर्क है । लिम्फेटिक प्रणाली की महत्वपूर्ण और प्रमुख भूमिकाओं में शामिल हैं:

• शरीर में तरल पदार्थ के स्तर का प्रबंधन

• बैक्टीरिया पर प्रतिक्रिया

• कैंसर कोशिकाओं से निपटें

• उन कोशिकाओं के उत्पादों से निपटें जो हानिकारक हैं और यदि इलाज नहीं किया जाता है तो रोग या विकार होंगे

• आंत से उपभोग किए गए आहार में कुछ वसा को अवशोषित कर लेता है

लिम्फेटिक सिस्टम का गठन किया गया है:

• लिम्फ नोड्स ट्रैप रोगाणुओं और भी लिम्फ ग्रंथियों के रूप में जाना जाता है

• लिम्फ वाहिकाएं ऐसी ट्यूब हैं जो लिम्फ ले जाती हैं (बेरंग तरल पदार्थ जो आपके शरीर के ऊतकों को स्नान करता है और इसमें सफेद रक्त कोशिकाओं से लड़ने वाले संक्रमण होते हैं)

• सफेद रक्त कोशिकाएं (लिम्फोसाइट्स)

तिल्ली

तिल्ली एक अंग है जिसका प्रमुख कार्य रक्त को फ़िल्टर करना, रोगाणुओं को खत्म करना और पुराने और क्षतिग्रस्त लाल रक्त कोशिकाओं को नष्ट करना है। यह प्रतिरक्षा प्रणाली के रोग से लड़ने वाले घटक भी बनाता है जिसमें एंटीबॉडी और लिम्फोसाइट्स शामिल हैं।

अस्थि मज्जा

हड्डियों में मौजूद स्पंजी टिश्यू को बोन मैरो कहा जाता है। यह ऊतक है कि शरीर के लिए आवश्यक लाल रक्त कोशिकाओं को ऑक्सीजन ले जाने के लिए, सफेद रक्त कोशिकाओं है कि शरीर के संक्रमण से लड़ने के लिए उपयोग करता है, और शरीर के लिए आवश्यक प्लेटलेट्स रक्त के थक्के में मदद करने के लिए पैदा करता है।

थाइमस

थाइमस का कार्य शरीर की रक्त सामग्री को फ़िल्टर और मॉनिटर करना है। यह टी-लिम्फोसाइट्स नामक सफेद रक्त कोशिकाओं के उत्पादन के लिए साइट है।

रोगाणुओं के खिलाफ शरीर की अन्य सुरक्षा

प्रतिरक्षा प्रणाली के अलावा, शरीर में रोगाणुओं से खुद को बचाने के लिए कुछ अन्य तरीके हैं। इनमें शामिल हैं:

त्वचा - एक वाटरप्रूफ बाधा जो तेल जारी करती है जिसमें बैक्टीरिया की हत्या की प्रवृत्ति होती है

फेफड़ों - फेफड़ों में श्लेष्म विदेशी कणों को फंसाता है, और सिलिया नामक छोटे बाल, श्लेष्म को ऊपर की ओर संकेत देते हैं ताकि इसे बाहर निकाला जा सके

पाचन तंत्र - इस पथ के म्यूकस अस्तर में एंटीबॉडी होती है, और पेट में मजबूत एसिड में अधिकांश रोगाणुओं को मारने की क्षमता होती है

अन्य सुरक्षा - शरीर के तरल पदार्थ जैसे त्वचा के तेल, लार और आँसू में एंटी बैक्टीरियल एंजाइम होते हंल जो संक्रमण के खतरे को कम करने में मदद करते हैं। मूत्र पथ और आंत्र का नियमित फ्लशिंग हानिकारक रोगाणुओं को हटाने में भी मदद करता है।

प्रतिरक्षा प्रणाली कैसे काम करती है?

जब शरीर को विदेशी पदार्थ या एंटीजन होश आते हैं तो इम्यून सिस्टम एंटीजन को पहचानकर उन्हें दूर करने का काम करता है।

बी लिम्फोसाइट्स एंटीबॉडी बनाने के लिए ट्रिगर किए जाते हैं जिन्हें इम्यूनोग्लोबुलिन के रूप में भी जाना जाता है। इन प्रोटीनों का कार्य यह है कि वे विशिष्ट एंटीजन पर ताला लगाते हैं। गठन के बाद, एंटीबॉडी आम तौर पर शरीर में रहते हैं यदि फिर से एक ही रोगाणुओं से लड़ने की आवश्यकता होती है। यही कारण है कि कोई है जो इस तरह के चेचक के रूप में एक बीमारी हो जाता है, आमतौर पर इसे से फिर से बीमार नहीं होगा।

यह अवधारणा कुछ रोगों के लिए टीकों/प्रतिरक्षण द्वारा प्रदान की गई रोकथाम के पीछे काम करती है । एक टीका शरीर को एक एंटीजन से इस तरह से परिचित करता है कि वह बीमार नहीं होता है। लेकिन उत्तेजना एक हद तक है जहां यह शरीर एंटीबॉडी बनाने देता है जो व्यक्ति को रोगाणु द्वारा भविष्य के हमले से बचाएगा।

हालांकि एंटीबॉडी एक एंटीजन को पहचान सकते हैं और उस पर ताला लगा सकते हैं, लेकिन यह इसे नष्ट करने के लिए पर्याप्त नहीं है, इस विनाश के लिए कुछ मदद की आवश्यकता है। यही टी सेल का काम है। वे एंटीबॉडी या कोशिकाओं द्वारा मान्यता प्राप्त एंटीजन को नष्ट कर देते हैं जो संक्रमित होते हैं या किसी भी तरह बदल जाते हैं। कुछ टी कोशिकाओं को इस कार्य के कारण "हत्यारा कोशिकाएं" कहा जाता है। टी कोशिकाएं भी अपने काम करने के लिए फ़ैगोसाइट की तरह अन्य कोशिकाओं को संकेत करने में मदद करती हैं।

जब शरीर को विदेशी पदार्थ या एंटीजन होश आते हैं तो इम्यून सिस्टम एंटीजन को पहचानकर उन्हें दूर करने का काम करता है।

एंटीबॉडी भी कर सकते हैं:

• विभिन्न जीवों द्वारा उत्पादित विषाक्त पदार्थों को बेअसर करें

• पूरक नामक प्रोटीन समूह को सक्रिय करने से बैक्टीरिया, वायरस या संक्रमित कोशिकाओं को मारने में मदद मिलती है। यह इम्यून सिस्टम का हिस्सा है।

बुखार एक प्रतिरक्षा प्रणाली प्रतिक्रिया है

शरीर के तापमान में वृद्धि, या बुखार, कुछ संक्रमणों के परिणामस्वरूप हो सकता है। यह वास्तव में शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली द्वारा उत्पन्न एक प्रतिरक्षा प्रणाली प्रतिक्रिया है। तापमान में यह वृद्धि वास्तव में कुछ रोगाणुओं को मार सकती है। यह शरीर की मरम्मत प्रक्रिया को भी ट्रिगर करता है।

प्रतिरक्षा प्रणाली के सामान्य विकार

लोगों के लिए अति सक्रिय या अंडरएक्टिव प्रतिरक्षा प्रणाली होने की संभावना अधिक होती है। प्रतिरक्षा प्रणाली की गतिविधि पर कई रूपों, जो शामिल ले जा सकते हैं:

एलर्जी रोग - यहां प्रतिरक्षा प्रणाली एलर्जी के लिए एक पीढ़ी मजबूत प्रतिक्रिया लाती है। इस प्रकार की एलर्जी की बीमारियां बहुत आम हैं। इनमें खाद्य पदार्थों, दवाओं या चुभने वाली कीड़े, साइनस रोग, अस्थमा, पित्ती (मूत्राशय), त्वचा रोग, एनाफिलैक्सिस (जीवन-धमकी वाली एलर्जी), घास का बुखार (एलर्जी राइनाइटिस), और एक्जिमा शामिल हैं।

ऑटोइम्यून रोग - यहां प्रतिरक्षा प्रणाली शरीर के सामान्य घटकों के खिलाफ प्रतिक्रिया लाती है। यह बीमारियां आम से लेकर दुर्लभ तक हैं। इनमें मल्टीपल स्क्लेरोसिस, टाइप 1 डायबिटीज, सिस्टमिक ल्यूपस एरिथेमेटोसस, रूमेटॉयड आर्थराइटिस, ऑटोइम्यून थायराइड डिजीज और सिस्टमिक वैक्यूलाइटिस शामिल हैं।

अतिसंवेदनशीलता - अतिसंवेदनशीलता में, प्रतिरक्षा प्रणाली एक तरह से अधिक प्रतिक्रिया देती है जो स्वस्थ ऊतकों को नुकसान पहुंचाती है। इसमें एनाफिलेक्टिक शॉक शामिल है जहां शरीर एलर्जी का इतनी दृढ़ता से जवाब देता है कि यह जीवन-धमकी हो सकता है।

प्रतिरक्षा प्रणाली या इम्यूनोडेफिशिएंसी की गतिविधि के तहत कर सकते हैं:

विरासत में मिले - इनमें सामान्य चर इम्यूनोडेफिशिएंसी, एक्स-लिंक्ड गंभीर संयुक्त इम्यूनोडेफिशिएंसी और पूरक कमियों जैसे प्राथमिक इम्यूनोडेफिशिएंसी रोग शामिल हैं

चिकित्सा उपचार के परिणामस्वरूप उत्पन्न होता है - यह कोर्टिकोस्टेरॉयड या कीमोथेरेपी जैसी दवाओं के कारण उत्पन्न हो सकता है

किसी अन्य बीमारी के कारण होता है - जैसे एचआईवी/एड्स या कुछ प्रकार के कैंसर।

एक अंडरएक्टिव प्रतिरक्षा प्रणाली पर्याप्त रूप से काम नहीं करती है और लोगों को संक्रमण के लिए अतिसंवेदनशील बनाती है। यह गंभीर मामलों में जीवन की धमकी बदल सकता है।

जो लोग अंग प्रत्यारोपण के माध्यम से चले गए हैं, उन्हें प्रत्यारोपित अंग पर हमला करने से शरीर को रोकने के लिए अनिवार्य इम्यूनोसप्रेसेंट उपचार की आवश्यकता होती है।

इम्यूनोग्लोबुलिन थेरेपी

इम्यूनोग्लोबुलिन, जिसे आमतौर पर एंटीबॉडी के रूप में जाना जाता है, का उपयोग उन लोगों के इलाज के लिए किया जाता है जो एंटीबॉडी के लिए पर्याप्त नहीं हैं, या जिनके एंटीबॉडी ठीक से काम नहीं करते हैं। इस उपचार को इम्यूनोग्लोबुलिन थेरेपी कहा जाता है।

हाल ही में जब तक, ऑस्ट्रेलिया में इम्यूनोग्लोबुलिन थेरेपी ज्यादातर नस में एक ड्रिप के माध्यम से इम्यूनोग्लोबुलिन की डिलीवरी शामिल है, जिसे नसों में इम्यूनोग्लोबुलिन (आईवीआई) थेरेपी के रूप में जाना जाता है। लेकिन अब, चमड़े के नीचे इम्यूनोग्लोबुलिन त्वचा फैटी ऊतक के नीचे में दिया जा सकता है, जो कई रोगियों के लिए फायदेमंद हो सकता है । इसे चमड़े के नीचे जलसेक या एससीजी थेरेपी कहा जाता है।

चमड़े के नीचे इम्यूनोग्लोबुलिन नसों में इम्यूनोग्लोबुलिन के समान है। यह प्लाज्मा (रक्त का तरल हिस्सा जैसे एंटीबॉडी जैसे महत्वपूर्ण प्रोटीन युक्त) से बनाया जाता है।

कई स्वास्थ्य सेवाएं अब विशिष्ट प्रतिरक्षा स्थितियों के साथ उपयुक्त रोगियों को एससीजी थेरेपी की पेशकश कर रही हैं।

प्रतिरक्षा क्या है-03

प्रतिरक्षण

प्रतिरक्षण एक ऐसी प्रक्रिया है जिसके द्वारा एक व्यक्ति शरीर की प्राकृतिक प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को दोहराकर किसी बीमारी से सुरक्षित हो जाता है। शरीर में एक टीका लगाया जाता है जिसकी प्रतिक्रिया के लिए शरीर एंटीबॉडी बनाता है।

यदि टीका लगाया गया व्यक्ति वास्तविक वायरस, जीवाणु या विष के संपर्क में आ जाता है, तो वे बीमार नहीं होंगे क्योंकि उनका शरीर इसे पहचान लेगा और इसे हमला करना जानता है। टीकाकरण कई बीमारियों के खिलाफ उपलब्ध हैं, जिनमें खसरा और टिटनेस शामिल हैं।

किसी व्यक्ति विशेष के लिए आवश्यक प्रतिरक्षण उसके स्वास्थ्य, आयु, जीवनशैली और व्यवसाय से तय होता है। एक साथ, इन कारकों को हेलो के रूप में जाना जाता है, ये हैं:

स्वास्थ्य - कुछ स्वास्थ्य स्थितियां किसी व्यक्ति को वैक्सीन रोके जाने वाली बीमारियों के लिए अधिक संवेदनशील बना सकती हैं। उदाहरण के लिए, मधुमेह, समय से पहले जन्म, डाउन सिंड्रोम, अस्थमा, दिल, फेफड़े, तिल्ली या गुर्दे की स्थिति, और एचआईवी का मतलब होगा व्यक्ति अतिरिक्त या अधिक लगातार टीकाकरण से लाभ हो सकता है ।

आयु – आयु वर्ग के अनुसार एक व्यक्ति को विभिन्न वैक्सीन रोके जाने योग्य रोगों से सुरक्षा की आवश्यकता हो सकती है

जीवन शैली - एक व्यक्ति की जीवन शैली विकल्प प्रतिरक्षण की आवश्यकता पर प्रभाव डाल सकते हैं। उदाहरण के लिए, कुछ स्थानों पर विदेशों में यात्रा करना, परिवार की योजना बनाना, यौन गतिविधि, धूम्रपान करना, और संपर्क खेल खेलना जो सीधे किसी और के रक्त के लिए शरीर का पर्दाफाश कर सकता है, इसका मतलब यह होगा कि अतिरिक्त या अधिक लगातार प्रतिरक्षण फायदेमंद हो सकता है।

व्यवसाय – यदि किसी व्यक्ति का व्यवसाय टीका-रोके जा सकने वाली बीमारियों को उजागर करता है या उसे उन लोगों के संपर्क में रखता है जो टीका-रोके रोगों से समस्याओं के प्रति अधिक संवेदनशील हैं, तो अतिरिक्त प्रतिरक्षण, या अधिक बार प्रतिरक्षण की आवश्यकता होगी; जैसे शिशुओं या छोटे बच्चों, गर्भवती महिलाओं, बुजुर्गों और पुरानी या तीव्र स्वास्थ्य स्थितियों वाले लोग। कुछ नियोक्ता अपने कर्मचारियों के लिए प्रासंगिक टीकाकरण की लागत के साथ भी मदद करते हैं।

संबंधित विषय:

1. प्रतिरक्षा को बढ़ावा देने के लिए कैसे

अपनी प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने के स्वस्थ तरीके, पर्याप्त नींद प्राप्त करें, नियमित रूप से व्यायाम करें, तनाव को कम करें आदि। प्रतिरक्षा बूस्टर के रूप में काम करने वाले भोजन एक बार विटामिन सी, एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होते हैं। एक की खुराक की मदद से प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा कर सकते हैं। अधिक यात्रा जानने के लिए: प्रतिरक्षा को बढ़ावा देने के लिए कैसे

2. क्या प्रतिरक्षा बूस्टर की खुराक किसी भी साइड इफेक्ट है

प्रतिरक्षा बूस्टर ऐसे उत्पाद हैं जो आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली का समर्थन करने में सक्षम होने का दावा करते हैं ताकि आप बीमार होने की संभावना न रखें। हर केमिकल फॉर्मूलेशन की तरह इसके भी कुछ साइड इफेक्ट्स होते हैं। अधिक यात्रा जानने के लिए: क्या प्रतिरक्षा बूस्टर की खुराक किसी भी साइड इफेक्ट है

3. कमजोरी के लिए प्राकृतिक की खुराक

कमजोरी से बचने के लिए इम्युनिटी बूस्टर के रूप में काम करने वाले भोजन को विटामिन युक्त भोजन, खट्टे फल, खूब पानी, लहसुन, ब्रोकोली, लाल शिमला मिर्च जैसे आहार में जोड़ा जा सकता है। अधिक यात्रा जानने के लिए: कमजोरी के लिए प्राकृतिक की खुराक

4. उचित पोषण का महत्व

उचित पोषण आपके शरीर को सभी आवश्यक पोषक तत्व प्रदान करता है, इसे अच्छी तरह से संतुलित आहार खाकर प्राप्त किया जा सकता है। खराब पोषण स्वास्थ्य के मुद्दों का कारण बन सकता है। अधिक यात्रा जानने के लिए: उचित पोषण का महत्व




उपरोक्त अनिवार्य लाइमज़ो और लाइमज़ो डीजेड के साथ उपलब्ध हैं

लाइमज़ो एक चबाने योग्य टैबलेट है जिसका उपयोग विटामिन सी की कमी से अधिक और प्रतिरक्षा बूस्टर के रूप में किया जाता है। यह श्वसन संक्रमण को रोकने और इलाज करने में मदद करता है और ऑक्सीडेटिव चुनौतियों से बचाने के लिए एंटीऑक्सीडेंट के रूप में भी कार्य करता है। इसमें एल-आर्जिनिन और एल-एस्पार्टेम का अतिरिक्त लाभ भी है जो प्रतिरक्षा कार्य को मजबूत करने में मदद करता है।
न्यूट्रालॉजिक्स: लाइमज़ो

लाइमज़ो डीजेड विटामिन सी और डी, जिंक जैसी कमियों के उपचार और रोकथाम में मदद करता है। यह उत्पाद संक्रमण के खिलाफ बोसी लड़ाई तैयार करने के लिए प्रतिरक्षा के निर्माण में मदद करता है। यह एंटी ऑक्सीडेंट दवा के रूप में भी कार्य करता है। यह शरीर की समग्र भलाई को बनाए रखता है। अब यह स्वाद और नारंगी स्वाद में उपलब्ध है। इसे आसानी से प्रशासित किया जा सकता है और चबाने योग्य रूपों में उपलब्ध है। विटामिन सी एक शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट है जो शरीर की सुरक्षा को मजबूत करता है, और आम सर्दी और इन्फ्लूएंजा जैसे संक्रमणों से सुरक्षित रहता है। जिंक एक महत्वपूर्ण अभिन्न खनिज है जो प्रतिरक्षा के निर्माण और रखरखाव के लिए आवश्यक है। जिंक और विटामिन सी संयोजन में एक प्रतिरक्षा बूस्टर के रूप में अधिक प्रभावी है। इसके अलावा, विटामिन डी 3 विटामिन डी के शरीर के स्टोर को भरने में मदद करता है जो स्वास्थ्य को अनुकूलित करने में मदद करता है। विटामिन डी 3 प्रतिरक्षा कोशिकाओं की फैगोसाइटिक क्षमता को बढ़ाकर जन्मजात प्रतिरक्षा प्रणाली - प्रतिरक्षा रक्षा की पहली पंक्ति को संशोधित करता है।
न्यूट्रालॉजिक्स: लाइमज़ो डीजेड



AFDIL Ltd.
+91 9920121021

order@afdil.com

Read Also:


Disclaimer
Home