What Is Fertility And Infertility?


Fertility and infertility

what is fertility and infertility-01

Fertility is the natural ability of a human to produce offspring. Infertility is a condition when a human is not able to produce offspring due to some biological barriers. Thus, male infertility is a condition when a man is not able to impregnate a fertile female. Female fertility is a condition when a woman cannot conceive. Infertility is proved when a couple has been trying to conceive for 1 year or more and still not able to. Fertility and infertility basically depends on the ability of a human being to produce offspring. There are many causes and treatments for infertility.

Lifestyle and fertility

Fertility and infertility of a human is affected by their lifestyle. Below are some lifestyle tips to improve fertility:
• Quit smoking
• Limit alcohol consumption
• Caffeine intake below 200 mg a day.
• Stay active
• Stay away from illicit drugs
• Maintain healthy weight

What is Infertility?

what is fertility and infertility-04

Infertility is trying to conceive for twelve months without getting any success. The duration of time is shortened to six months if the woman is 35 years of age or above. Other cases where the duration may be shortened are anovulation, male factor, a history of abnormal fallopian tubes or uterus, or the need for donor sperm. Unlike sterility, infertility is not always the direct result of a medical condition or procedure. In some circumstances, infertility and sterility are linked but still they are not the same. Diagnosis of infertility can be done through various methods. There are many causes and treatments for infertility.
Primary Infertility:
Primary infertility is a condition where couples have not been able to become pregnant after at least 1 year of having sex without using birth control methods.
Secondary Infertility:
Secondary infertility is a condition where couples have not been able to get pregnant at least once, but are unable to get pregnant now.

What causes infertility?

There are many causes and treatments for infertility. Some of the medical conditions that can cause male infertility include:
• retrograde ejaculation
• varicocele (swelling of veins around the testicles)
• testicles which haven’t descended into the scrotum
• containing antibodies that attack the sperm and destroy them
• a hormonal imbalance (like low testosterone production)

A variety of medical conditions can affect the female fertility in women, including:
• ovulation disorders (caused by polycystic ovary syndrome or hormonal imbalances)
• pelvic inflammatory disease
• endometriosis
• uterine fibroids
• premature ovarian failure
• scarring from a previous surgery

Diagnosis of infertility can be done for identification of particular causes.

How common is infertility?

Every 1 in 10 women between the age group of 15 - 44 have trouble in conceiving.
Women have pregnancy problems may lose the baby:
• Before the 20th week of pregnancy - miscarriage
• After the 20th week of pregnancy - stillbirth

Diagnosis of infertility

The initial evaluation steps for diagnosis of infertility include acquiring medical history and fertility testing to get a clear picture. This will include gynecological history (like menstrual cycle duration), frequency of intercourse, surgical history, and any current medications. There are many causes and treatments for infertility. Some of the procedures for diagnosis of infertility include:

FEMALE FERTILITY TESTING

• Gynecologic history
The doctor will also want to ask about a woman's gynecologic history, including:
- Whether she been pregnant before
- outcome of prior pregnancies
- frequency of periods over 1 year
- spotting between periods
- changes in blood flow
- appearance of large blood clots
- methods of birth control used previously
- undergone any infertility treatment

• Blood Tests and Physical tests
Blood tests would be done to check levels of female hormones, thyroid hormones, prolactin, and male hormones, as well as for presence viruses of HIV and hepatitis.
Physical exam would include a pelvic examination to look for chlyamydia, gonorrhea, or other genital infections that would be responsible for fertility problem.

• Ultrasound
This can be done to count the number of small follicles (antral follicle count) present in the ovaries.

• Hysterosalpingogram (HSG)
This is an x-ray procedure carried out by injecting a contrast dye. Here the health of the fallopian tubes, uterus, and pelvis is checked.

• Other Tests and Procedures
- BBT charting
- Postcoital test
- Transvaginal (pelvic) ultrasound exam.
- Hysterosalpinogram
- Hysteroscopy
- Laparoscopy
- Endometrial biopsy

what is fertility and infertility-02

MALE FERTILITY TESTING

Male fertility causes can sometimes be difficult to diagnose. These problems are mostly related to sperm production or delivery. The procedure of diagnosis starts with a history and physical exam. This can further be continues with blood tests and semen tests.

• History and Physical Exam
The doctor will acquire information about any illnesses during childhood, any current health problems, or medications. Some diseases like mumps, diabetes and steroids may affect fertility. He will inquire about your use of alcohol, tobacco, marijuana and other recreational drugs. The doctor may ask about your exposure to radiation, heavy metals or pesticides.
Physical exam will be done to look for problems in the penis, epididymis, vas deferens, and testicles. The doctor will look for signs of varicoceles. They can be found very easily through a physical exam.

• Semen Analysis
Semen analysis is a routine test performed in labs. It aids to analyze the level of sperm production and functionality of sperm (like, their movement, measured as sperm motility). The sperm volume, count, concentration, motility, and structure is checked. The result of this test shows the ability to conceive.

• Transrectal Ultrasound
This ultrasound procedure uses sound waves that when projected, bounces off an organ to give a picture of the organ. A probe is positioned in the rectum which beams sound waves to the nearby ejaculatory ducts. The doctor can see if structures are poorly formed and functioning or not.

• Testicular Biopsy
If the semen tests shows very low number of sperm or no sperm than a testicular biopsy is required. In this test, a small cut is made in the scrotum or it is performed using a needle through the numbed scrotal skin. Small pieces of tissue are taken from each testicle and studied under microscope. This test helps to find the cause of infertility and can collect sperm for use in assisted reproduction procedures.

• Hormonal Profile
The doctor may check the level of fertility related hormones. This is to identify the capacity of testicles to make sperm. It can also be used to rule out some major health conditions.

What is fertility preservation?

Fertility preservation is the process of saving or protecting eggs, sperm, or reproductive tissue so that it can be used whenever required in future for producing biological children.

Who can benefit from fertility preservation?

People who suffer with certain diseases or disorders or life events that affect fertility may benefit from this process of fertility preservation, this include people with following conditions:
• exposed to toxic chemicals in workplace or military duty
• endometriosis
• uterine fibroids
• to be treated for cancer
• to be treated for an autoimmune disease
• genetic disease that affects future fertility
• general delay having children

What fertility-preserving options are available?

There are many fertility-preserving options available
Fertility-preserving options for males include:
• Sperm cryopreservation - In this process, semen is frozen and stored
• Gonadal shielding - testicles can also be protected with a lead shield during radiation treatment

Fertility-preserving options for females include:
• Embryo cryopreservation- Eggs are removed from ovaries and then fertilized with sperm from her partner or a donor then the resulting embryos are frozen and stored for future use.
• Oocyte cryopreservation - unfertilized eggs are frozen and stored.
• Gonadal shielding - covering the pelvic area with a lead shield to protect the ovaries from radiation
• Ovarian transposition – ovaries and fallopian tubes moved to area that will not receive radiation through a surgical procedure.

What infertility treatments are available?

Treatments for infertility of both male and female can range from medications to surgery and ART. There are treatments that are specifically for men or for women and some that involve both partners. If fertility treatments are not successful in causing pregnancy, eggs or sperm donated by a third party can be used.

what-is-fertility-and-infertility-03

1. Fertility Treatments for Males

I. Treatment with Medication
Medication can treat some issues that affect male fertility, including hormone imbalances and erectile dysfunction.

II. Treatment with Surgery
• Surgery can be very effective for treating blockages in the tubes that are responsible for transport of sperms from testicles to penis.
• Surgery also can be used for treatment of swollen around the testicles, a condition called viensvaricocele/varicose veins.
• Surgery can also treat azoospermia
• Microsurgical vasovasostomy
• Vasoepididymostomy
• If surgery does work, Assisted Reproductive Technique (ART) can be effective

2. Fertility Treatments for Females

Once a woman is diagnosed with infertility, the overall likelihood for successful treatment is 50%.

I. Medication Treatments for Female Infertility
The most commonly used medications for treatment of infertility are aimed to stimulate ovulation. Examples include:
• Clomiphene / Clomiphene Citrate - causes the body to make more of the hormones that cause the eggs to mature in the ovaries
• Letrozole - decreases the amount of estrogen made by woman’s body , stimulating her ovaries to release eggs
• Gonadotropins / Human Chorionic Gonadotropin - directly stimulate eggs to grow in the ovaries, leading to ovulation
• Bromocriptine / Cabergoline - used to treat abnormally high levels of the hormone prolactin

II. Surgical Treatments for Female Infertility
Surgical treatments are generally used if disease of the fallopian tubes is the cause of infertility, here surgery is done to repair the tubes or remove blockages.

ASSISTED REPRODUCTIVE TECHNOLOGY (ART)

Assisted Reproductive Technology refers to treatments and procedures that helps to achieve pregnancy.
These procedures are options for people who have already gone through infertility treatments but still haven’t achieved pregnancy. Some of the ART options are as follows:

• Intrauterine Insemination (IUI) – This is the process where a man's sperm is placed into a woman's uterus with the use of a long, narrow tube similar to a thin straw.
IUI is most useful for treating infertility in:
o Women with scarring or defects of the cervix
o Men with low sperm counts
o Men with low sperm mobility
o Men who couldn’t get erections
o Men with retrograde ejaculation
o Couples having difficulty in intercourse

• In Vitro Fertilization (IVF) - In this procedure, eggs and sperm are incubated together in laboratory for fertilization to produce embryo. The embryo is then placed into the woman's uterus, where it gets implanted and result in a successful pregnancy.
The steps of IVF are:
o Superovulation
o Egg Retrieval
o Fertilization
o Embryo Transfer

• Third Party–Assisted ART - When pregnancy is not achieved from infertility treatments or ART, a third party–assisted ART method is used. Assistance of this can consist of:
o Sperm Donation
o Egg Donation
o Surrogates and Gestational Carriers
o Embryo Donation

TREATMENTS FOR POLYCYSTIC OVARY SYNDROME (PCOS)

Treatments for infertility in women with PCOS include:
• Weight loss
• Medication to promote ovulation – medicines like Clomiphene, letrozole
• Insulin-sensitizing medication – medicine like metformin
• A combination of clomiphene and metformin
• Hormone therapy - like Gonadotropins and hCG
• Fertility treatments - like ART (such as IVF)
• Surgery – surgical methods like Ovarian drilling, Electrocautery

Conclusion

Fertility is natural capability to produce offspring. When this capability is hindered due to some biological factors, it is called infertility. There are many causes and treatments for infertility. Because of emerging new technologies infertility can be treated in both male and female by mane treatment procedures. In adverse cases if this doesn’t work donor eggs or sperms can be used or surrogacy can be opted. In usually is a possible treatment for you.

Related topics:

1. Can Male Infertility Be Cured?

Male infertility is a condition in a man that reduces the chances of producing offspring. There are many modern treatments available to treat it. To know more visit: Can Male Infertility Be Cured?

2. Factors Responsible for Male Infertility

Infertility is characterized as a couple's inability to have a child after a year of daily unprotected intercourse, and it affects 10 to 15% of couples. According to the most recent WHO estimates, 50–80 million people around the world suffer from...To know more visit: Factors Responsible for Male Infertility

3. Is Too Much Weight Responsible for Male Infertility?

Obesity among men of reproductive age has nearly tripled in the last 30 years, coinciding with a rise in male infertility around the world. Male obesity has now been linked to a reduction in male reproductive ability, according to new research. To know more visit: Is Too Much Weight Responsible for Male Infertility

4. Is Infertility in Male Common?

Male infertility refers to a male's inability to impregnate a fertile woman. Its common causes are low sperm count, low quality sperm or some genetic disorder. To know more visit: Is Infertility in Male Common




The above essentials are available with LYBER

Lyber is a unique oral nutraceutical product containing a combination of Lycopene and Shilajit. It works great for management of male infertility. Lycopene is for better sperm health. It prevents oxidative damage to sperm cells, improves sperm count by 70% and motility by 53%, and improves sperm morphology by 38%. Shilajit is for improving performance. It improves sperm count by 60%, improves sperm activity by 12%, and increases testosterone and FSH levels.

Nutralogicx: Lyber



प्रजनन और बांझपन क्या है?


प्रजनन और बांझपन

प्रजनन क्षमता और बांझपन क्या है-01

प्रजनन क्षमता मानव की संतान पैदा करने की प्राकृतिक क्षमता है। बांझपन एक ऐसी स्थिति है जब एक मानव कुछ जैविक बाधाओं के कारण संतान पैदा करने में सक्षम नहीं है। इस प्रकार, पुरुष बांझपन एक ऐसी स्थिति है जब एक पुरुष एक उपजाऊ महिला को गर्भवती करने में सक्षम नहीं होता है। महिला प्रजनन एक ऐसी स्थिति है जब एक महिला गर्भ धारण नहीं कर सकती है। बांझपन साबित होता है जब एक जोड़े को 1 साल या उससे अधिक के लिए गर्भ धारण करने की कोशिश कर रहा है और अभी भी करने में सक्षम नहीं है । प्रजनन और बांझपन मूल रूप से एक इंसान की संतान पैदा करने की क्षमता पर निर्भर करता है। बांझपन के कई कारण और उपचार हैं।

जीवन शैली और प्रजनन क्षमता

मानव की प्रजनन क्षमता और बांझपन उनकी जीवनशैली से प्रभावित होता है। नीचे प्रजनन क्षमता में सुधार करने के लिए कुछ जीवन शैली सुझाव दिए गए हैं:
• धूम्रपान छोड़ें
• शराब की खपत को सीमित करें
• कैफीन का सेवन एक दिन में 200 मिलीग्राम से नीचे
• सक्रिय रहें
• अवैध दवाओं से दूर रहें
• स्वस्थ वजन बनाए रखें

बांझपन क्या है?

प्रजनन क्षमता और बांझपन क्या है-04

बांझपन बिना किसी सफलता के बारह महीने तक गर्भ धारण करने की कोशिश कर रहा है। यदि महिला की आयु 35 वर्ष या उससे अधिक है तो समय की अवधि को छह महीने तक छोटा कर दिया जाता है। अन्य मामलों में जहां अवधि को छोटा किया जा सकता है, एनोवुलेशन, पुरुष कारक, असामान्य फैलोपियन ट्यूब या गर्भाशय का इतिहास, या दाता शुक्राणु की आवश्यकता है। बंध्यता के विपरीत, बांझपन हमेशा एक चिकित्सा स्थिति या प्रक्रिया का प्रत्यक्ष परिणाम नहीं है। कुछ परिस्थितियों में बांझपन और बंध्यता से जुड़े होते हैं लेकिन फिर भी वे एक जैसे नहीं हैं । बांझपन के कई कारण और उपचार हैं।
प्राथमिक बांझपन:
प्राथमिक बांझपन एक ऐसी स्थिति है जहां जोड़े जन्म नियंत्रण विधियों का उपयोग किए बिना यौन संबंध रखने के कम से कम 1 वर्ष के बाद गर्भवती नहीं हो पाए हैं।
माध्यमिक बांझपन:
माध्यमिक बांझपन एक ऐसी स्थिति है जहां जोड़े कम से कम एक बार गर्भवती नहीं हो पाए हैं, लेकिन अब गर्भवती होने में असमर्थ हैं।

बांझपन का कारण क्या है?

बांझपन के कई कारण और उपचार हैं। कुछ चिकित्सा स्थितियों है कि पुरुष बांझपन पैदा कर सकता है शामिल हैं:
• प्रतिगामी स्खलन
• वैरिकोल (अंडकोष के आसपास नसों की सूजन)
• अंडकोष जो अंडकोष में उतरा नहीं है
• एंटीबॉडी युक्त है कि शुक्राणु पर हमला और उंहें नष्ट
• एक हार्मोनल असंतुलन (कम टेस्टोस्टेरोन उत्पादन की तरह)

विभिन्न प्रकार की चिकित्सा स्थितियां महिलाओं में महिला प्रजनन क्षमता को प्रभावित कर सकती हैं, जिनमें शामिल हैं:
• ओव्यूलेशन विकार (पॉलीसिस्टिक अंडाशय सिंड्रोम या हार्मोनल असंतुलन के कारण)
• पेल्विक भड़काऊ रोग
• एंडोमेट्रियोसिस
• गर्भाशय फाइब्रॉएड
• समय से पहले अंडाशय विफलता
• पिछली सर्जरी से डरना

बांझपन कितना आम है?

15-४४ आयु वर्ग के बीच 10 महिलाओं में हर 1 को गर्भ धारण करने में परेशानी होती है।
महिलाओं को गर्भावस्था की समस्याएं बच्चे को खो सकती हैं:
• गर्भावस्था के 20वें सप्ताह से पहले - गर्भपात
• गर्भावस्था के 20वें सप्ताह के बाद - स्टीलबर्थ

बांझपन के लिए परीक्षण

बांझपन के परीक्षण के लिए प्रारंभिक मूल्यांकन कदम चिकित्सा इतिहास और प्रजनन परीक्षण प्राप्त करने के लिए एक स्पष्ट तस्वीर प्राप्त शामिल हैं । इसमें स्त्री रोग संबंधी इतिहास (जैसे मासिक धर्म चक्र अवधि), संभोग की आवृत्ति, शल्य चिकित्सा इतिहास और कोई भी वर्तमान दवाएं शामिल होंगी। बांझपन के कई कारण और उपचार हैं। जिनमें से कुछ में शामिल हैं:

महिला प्रजनन परीक्षण

• स्त्रीरोग संबंधी इतिहास
डॉक्टर भी एक महिला के स्त्रीरोग इतिहास के बारे में पूछना चाहते हैं, जिनमें शामिल हैं:
- क्या वह पूर्व गर्भधारण के परिणाम से पहले गर्भवती हुई है
- 1 वर्ष से अधिक अवधियों की आवृत्ति
- पीरियड्स के बीच खोलना
- रक्त प्रवाह में परिवर्तन
- बड़े रक्त के थक्के की उपस्थिति
- जन्म नियंत्रण के तरीके पहले इस्तेमाल किए गए
- किसी भी बांझपन उपचार से गुजरना

• रक्त परीक्षण और शारीरिक परीक्षण
रक्त परीक्षण महिला हार्मोन, थायरॉयड हार्मोन, प्रोलैक्टिन और पुरुष हार्मोन के स्तर की जांच करने के लिए किया जाएगा, साथ ही एचआईवी और हेपेटाइटिस के वायरस की उपस्थिति के लिए भी।
शारीरिक परीक्षा में क्लैमाइडिया, गोनोरिया, या अन्य जननांग संक्रमण की तलाश के लिए एक पैल्विक परीक्षा शामिल होगी जो प्रजनन समस्या के लिए जिम्मेदार होगी।

• अल्ट्रासाउंड
यह अंडाशय में मौजूद छोटे रोम (एंट्रल कूप गिनती) की संख्या गिनने के लिए किया जा सकता है।

• हिस्टेरोसलपिंगोग्राम (एचएसजी)
यह एक एक्स-रे प्रक्रिया है जो कंट्रास्ट डाई का इंजेक्शन लगाकर की जाती है । यहां फैलोपियन ट्यूब, गर्भाशय और श्रोणि के स्वास्थ्य की जांच की जाती है।

• अन्य परीक्षण और प्रक्रियाएं
- बीबीटी चार्टिंग
- पोस्टकोइटल टेस्ट
- ट्रांसवेजिनल (पेल्विक) अल्ट्रासाउंड परीक्षा
- हिस्टेरोसेपिनोग्राम
- हिस्टेरोस्कोपी
- लेप्रोस्कोपी
- एंडोमेट्रियल बायोप्सी

प्रजनन क्षमता और बांझपन क्या है-02

पुरुष प्रजनन परीक्षण

पुरुष प्रजनन कारणों का निदान करने के लिए कभी-कभी मुश्किल हो सकता है। ये समस्याएं ज्यादातर शुक्राणु उत्पादन या प्रसव से संबंधित होती हैं। निदान की प्रक्रिया एक इतिहास और शारीरिक परीक्षा के साथ शुरू होता है। यह आगे रक्त परीक्षण और वीर्य परीक्षण के साथ जारी किया जा सकता है।

• इतिहास और शारीरिक परीक्षा
डॉक्टर बचपन के दौरान किसी भी बीमारी, किसी भी वर्तमान स्वास्थ्य समस्याओं, या दवाओं के बारे में जानकारी प्राप्त करेगा । गलसुआ, मधुमेह और स्टेरॉयड जैसी कुछ बीमारियां प्रजनन क्षमता को प्रभावित कर सकती हैं। वह शराब, तंबाकू, मारिजुआना और अन्य मनोरंजक दवाओं के अपने उपयोग के बारे में पूछताछ करेंगे। डॉक्टर विकिरण, भारी धातुओं या कीटनाशकों के लिए अपने जोखिम के बारे में पूछ सकते हैं।
शारीरिक परीक्षा लिंग, एपीडिडिमिस, वास डिफेरेंस, और अंडकोष में समस्याओं की तलाश के लिए किया जाएगा। डॉक्टर वैरिकेल्स के लक्षणों की तलाश करेंगे। वे एक शारीरिक परीक्षा के माध्यम से बहुत आसानी से पाया जा सकता है ।

• वीर्य विश्लेषण
वीर्य विश्लेषण प्रयोगशालाओं में किया जाने वाला एक नियमित परीक्षण है। यह शुक्राणु उत्पादन और शुक्राणु की कार्यक्षमता के स्तर का विश्लेषण करने के लिए एड्स (जैसे, उनके आंदोलन, शुक्राणु गतिशीलता के रूप में मापा) । शुक्राणु की मात्रा, गिनती, एकाग्रता, गतिशीलता, और संरचना की जांच की जाती है। इस परीक्षा का परिणाम गर्भ धारण करने की क्षमता को दर्शाता है।

• ट्रांसरेक्टल अल्ट्रासाउंड
यह अल्ट्रासाउंड प्रक्रिया ध्वनि तरंगों का उपयोग करती है जो अनुमानित होने पर अंग की तस्वीर देने के लिए एक अंग से उछलती है। मलाशय में एक जांच तैनात है जो पास के स्खलन नलिकाओं के लिए ध्वनि तरंगों मुस्कराते हुए । डॉक्टर देख सकते हैं कि संरचनाएं खराब होती हैं और कार्य कर रही हैं या नहीं।

• टेस्टिकुलर बायोप्सी
अगर वीर्य परीक्षणों से पता चलता है कि शुक्राणु की संख्या बहुत कम है या वृषण बायोप्सी की तुलना में कोई शुक्राणु नहीं है। इस परीक्षण में, अंडकोष में एक छोटा सा कट बनाया जाता है या इसे सुन्न स्क्रोटल त्वचा के माध्यम से सुई का उपयोग करके किया जाता है। ऊतक के छोटे टुकड़े प्रत्येक अंडकोष से लिए जाते हैं और माइक्रोस्कोप के तहत अध्ययन किए जाते हैं। यह परीक्षण बांझपन के कारण को खोजने में मदद करता है और सहायता प्राप्त प्रजनन प्रक्रियाओं में उपयोग के लिए शुक्राणु एकत्र कर सकता है।

• हार्मोनल प्रोफाइल
डॉक्टर फर्टिलिटी से संबंधित हार्मोन्स के स्तर की जांच कर सकता है। यह शुक्राणु बनाने के लिए अंडकोष की क्षमता की पहचान करने के लिए है। इसका उपयोग कुछ प्रमुख स्वास्थ्य स्थितियों से इंकार करने के लिए भी किया जा सकता है।

प्रजनन संरक्षण क्या है?

प्रजनन संरक्षण अंडे, शुक्राणु, या प्रजनन ऊतक को बचाने या उसकी रक्षा करने की प्रक्रिया है ताकि भविष्य में जैविक बच्चों के उत्पादन के लिए जब भी आवश्यक हो इसका उपयोग किया जा सके।

प्रजनन संरक्षण से किसे लाभ हो सकता है?

जो लोग कुछ बीमारियों या विकारों या जीवन की घटनाओं से पीड़ित हैं जो प्रजनन संरक्षण की इस प्रक्रिया से लाभान्वित हो सकते हैं, इसमें निम्नलिखित स्थितियों वाले लोग शामिल हैं:
• कार्यस्थल या सैन्य कर्तव्य में जहरीले रसायनों के संपर्क में
• एंडोमेट्रियोसिस
• गर्भाशय फाइब्रॉएड
• कैंसर के लिए इलाज किया जाना
• एक ऑटोइम्यून रोग के लिए इलाज किया जाना
• आनुवंशिक रोग जो भविष्य की प्रजनन क्षमता को प्रभावित करता है
• सामान्य देरी

क्या प्रजनन-संरक्षण विकल्प उपलब्ध हैं?

कई प्रजनन-संरक्षण विकल्प उपलब्ध हैं
पुरुषों के लिए प्रजनन-संरक्षण के विकल्पों में शामिल हैं:
• शुक्राणु क्रायोप्रिजर्वेशन - इस प्रक्रिया में, वीर्य जमे हुए और संग्रहीत किया जाता है
• गोनाडल परिरक्षण - अंडकोष को विकिरण उपचार के दौरान लीड शील्ड के साथ संरक्षित किया जा सकता है

महिलाओं के लिए प्रजनन-संरक्षण विकल्पों में शामिल हैं:
• भ्रूण क्रायोप्रिजर्वेशन - अंडाशय से अंडे हटा दिए जाते हैं और फिर उसके साथी या दाता से शुक्राणु के साथ निषेचित होते हैं तो परिणामस्वरूप भ्रूण जमे हुए होते हैं और भविष्य के उपयोग के लिए संग्रहीत होते हैं।
• ऊसाइट क्रायोप्रिजर्वेशन - अनिषेचित अंडे जमे हुए और संग्रहीत किए जाते हैं।
• गोनाडल परिरक्षण - अंडाशय को विकिरण से बचाने के लिए एक लीड शील्ड के साथ पेल्विक क्षेत्र को कवर करना
• अंडाशय पक्षांतरण – अंडाशय और फैलोपियन ट्यूब उस क्षेत्र में चले गए जो शल्य प्रक्रिया के माध्यम से विकिरण प्राप्त नहीं करेगा।

क्या बांझपन उपचार उपलब्ध हैं?

दोनों पुरुष और महिला की बांझपन के लिए उपचार दवाओं से सर्जरी और एआरटी के लिए सीमा कर सकते हैं । ऐसे उपचार हैं जो विशेष रूप से पुरुषों के लिए या महिलाओं के लिए हैं और कुछ जिसमें दोनों भागीदार शामिल हैं। यदि प्रजनन उपचार गर्भावस्था पैदा करने में सफल नहीं होते हैं, तो किसी तीसरे पक्ष द्वारा दान किए गए अंडे या शुक्राणु का उपयोग किया जा सकता है।

प्रजनन क्षमता और बांझपन क्या है-03

1. पुरुषों के लिए प्रजनन उपचार

I. दवा के साथ उपचार
कुछ मुद्दों का इलाज कर सकता है जो हार्मोन असंतुलन और स्तंभन दोष सहित पुरुष प्रजनन क्षमता को प्रभावित करते हैं।

II. सर्जरी के साथ उपचार
• सर्जरी उन ट्यूबों में रुकावटों के इलाज के लिए बहुत प्रभावी हो सकती है जो अंडकोष से लिंग तक शुक्राणुओं के परिवहन के लिए जिम्मेदार हैं।
• सर्जरी का उपयोग अंडकोष के चारों ओर सूजन के उपचार के लिए भी किया जा सकता है, एक शर्त जिसे विटवेरिकोसेल/वैरिकाज़ नसों कहा जाता है।
• सर्जरी भी अज़ोस्पेर्मिया का इलाज कर सकती है
• माइक्रोसर्जिकल वासोसोस्टोटॉमी
• वासोएपिडिडीमोसोमी
• अगर सर्जरी काम करती है, तो असिस्टेड रिप्रोडक्टिव टेक्निक (एआरटी) प्रभावी हो सकती है

2. महिलाओं के लिए प्रजनन उपचार

एक बार एक महिला बांझपन के साथ का निदान किया है, सफल उपचार के लिए समग्र संभावना ५०% है।

I. महिला बांझपन के लिए दवा उपचार
बांझपन के उपचार के लिए सबसे अधिक उपयोग की जाने वाली दवाओं का उद्देश्य ओव्यूलेशन को प्रोत्साहित करना है। उदाहरणों में शामिल हैं:
• क्लोमिफेन/क्लोमिफेन सिट्रेट - शरीर को अंडाशय में अंडे पैदा करने वाले हार्मोन का अधिक कारण बनता है
• लेट्रोजोल – महिला के शरीर द्वारा किए गए एस्ट्रोजन की मात्रा को कम करता है, अंडे छोड़ने के लिए उसके अंडाशय को उत्तेजित करता है
• गोनाडोट्रोपिन / ओव्यूलेशन के लिए अग्रणी
• ब्रोमोक्रिप्टिन/कैबरगोलिन - हार्मोन प्रोलैक्टिन के असामान्य रूप से उच्च स्तर के इलाज के लिए उपयोग किया जाता है

II. महिला बांझपन के लिए सर्जिकल उपचार
सर्जिकल उपचार आमतौर पर उपयोग किया जाता है यदि फैलोपियन ट्यूब की बीमारी बांझपन का कारण है, तो यहां ट्यूबों की मरम्मत या रुकावटों को दूर करने के लिए सर्जरी की जाती है।

असिस्टेड प्रजनन प्रौद्योगिकी (एआरटी)

असिस्टेड प्रजनन प्रौद्योगिकी उपचार और प्रक्रियाओं को संदर्भित करती है जो गर्भावस्था को प्राप्त करने में मदद करती है।
इन प्रक्रियाओं के लोग हैं, जो पहले से ही बांझपन उपचार के माध्यम से चला गया है, लेकिन अभी भी गर्भावस्था हासिल नहीं किया है के लिए विकल्प हैं । कला विकल्पों में से कुछ इस प्रकार हैं:

• इंट्रायूटेरिन गर्भाधान (आईयूआई) – यह वह प्रक्रिया है जहां एक पुरुष के शुक्राणु को एक पतली भूसे के समान एक लंबी, संकीर्ण ट्यूब के उपयोग के साथ एक महिला के गर्भाशय में रखा जाता है।
आईयूआई बांझपन के इलाज के लिए सबसे उपयोगी है:
o गर्भाशय ग्रीवा
o पुरुषों के निशान या दोषों के साथ कम शुक्राणु के साथ
o पुरुषों कम शुक्राणु गतिशीलता के साथ
o पुरुषों जो इरेक्शन नहीं मिल सकता है
o प्रतिगामी स्खलन
o जोड़ों संभोग में कठिनाई होने के साथ पुरुषों

• इन विट्रो निषेचन (आईवीएफ) - इस प्रक्रिया में, अंडे और शुक्राणु भ्रूण का उत्पादन करने के लिए निषेचन के लिए प्रयोगशाला में एक साथ इनक्यूबेटेड हैं। इसके बाद भ्रूण को महिला के गर्भाशय में रखा जाता है, जहां इसे प्रत्यारोपित किया जाता है और परिणामस्वरूप सफल गर्भावस्था होती है।
आईवीएफ के कदम हैं:
o सुपरोव्यूलेशन
o अंडा पुनः प्राप्ति
o निषेचन
o भ्रूण हस्तांतरण

• थर्ड पार्टी-असिस्टेड एआरटी - जब गर्भावस्था बांझपन उपचार या एआरटी से प्राप्त नहीं होती है, तो तीसरे पक्ष की सहायता से एआरटी विधि का उपयोग किया जाता है। इस की सहायता से शामिल हो सकते हैं:
o शुक्राणु दान
o अंडा दान
o किराए की कोख और गर्भावधि वाहक
o भ्रूण दान

पॉलीसिस्टिक अंडाशय सिंड्रोम (पीसीओएस) के लिए उपचार

पीसीओएस के साथ महिलाओं में बांझपन के लिए उपचार में शामिल हैं:
• वजन घटाने
• अंडाशय को बढ़ावा देने के लिए दवा - क्लोमिफेन, लेट्रोजोल जैसी दवाएं
• इंसुलिन-संवेदीकरण दवा – मेटफार्मिन जैसी दवाएं
• क्लोमिफेन और मेटफॉर्मिन का संयोजन
• हार्मोन थेरेपी - जैसे गोंडोट्रोपिन और एचसीजी
• फर्टिलिटी उपचार - एआरटी (जैसे आईवीएफ)
• सर्जरी - ओवियन ड्रिलिंग, इलेक्ट्रो

समाप्ति

प्रजनन क्षमता संतान पैदा करने की प्राकृतिक क्षमता है। जब कुछ जैविक कारकों के कारण इस क्षमता में रुकावट आती है तो इसे बांझपन कहते हैं। बांझपन के कई कारण और उपचार हैं। उभरती नई प्रौद्योगिकियों के कारण बांझपन दोनों पुरुष और महिला में माने उपचार प्रक्रियाओं द्वारा इलाज किया जा सकता है । प्रतिकूल मामलों में यदि यह दाता अंडे या शुक्राणुओं का इस्तेमाल किया जा सकता है या सरोगेट मां का विकल्प चुना जा सकता है काम नहीं करता है । आमतौर पर आपके लिए एक संभव उपचार है।

संबंधित विषय:

1. क्या पुरुष बांझपन को ठीक किया जा सकता है?

पुरुष बांझपन एक आदमी में एक ऐसी स्थिति है जो संतान पैदा करने की संभावना को कम करती है। इसके इलाज के लिए कई आधुनिक उपचार उपलब्ध हैं। अधिक यात्रा जानने के लिए: क्या पुरुष बांझपन को ठीक किया जा सकता है?

2. पुरुष बांझपन के लिए जिम्मेदार कारक

बांझपन दैनिक असुरक्षित संभोग के एक साल के बाद एक बच्चे के लिए एक जोड़े की असमर्थता के रूप में विशेषता है, और यह जोड़ों के 10 से 15% को प्रभावित करता है। सबसे हाल ही में डब्ल्यूएचओ के अनुमानों के अनुसार, दुनिया भर में 50-80 मिलियन लोग पीड़ित हैं ... अधिक यात्रा जानने के लिए:पुरुष बांझपन के लिए जिम्मेदार कारक

3. क्या पुरुष बांझपन के लिए बहुत अधिक वजन जिम्मेदार है?

प्रजनन आयु के पुरुषों के बीच मोटापा लगभग पिछले 30 वर्षों में तीन गुना है, दुनिया भर में पुरुष बांझपन में वृद्धि के साथ मेल खाता है। नए शोध के अनुसार पुरुष मोटापे को अब पुरुष प्रजनन क्षमता में कमी से जोड़ा गया है। अधिक यात्रा जानने के लिए:पुरुष बांझपन के लिए बहुत अधिक वजन जिम्मेदार है

4. पुरुष आम में बांझपन है?

पुरुष बांझपन एक उपजाऊ महिला को गर्भवती करने में पुरुष की असमर्थता को संदर्भित करता है। इसके सामान्य कारण कम शुक्राणुओं की संख्या, निम्न गुणवत्ता वाले शुक्राणु या कुछ आनुवंशिक विकार हैं। अधिक यात्रा जानने के लिए: पुरुष आम में बांझपन है




उपर ब्लॉग में बताई गई उपलब्धियाक लिबर के साथ उपलब्ध हैं

लिबर एक अद्वितीय मौखिक न्यूट्रास्यूटिकल उत्पाद है जिसमें लाइकोपीन और शिलाजीत का संयोजन होता है। यह पुरुष बांझपन के प्रबंधन के लिए बहुत अच्छा काम करता है। लाइकोपीन बेहतर शुक्राणु स्वास्थ्य के लिए है। यह शुक्राणु कोशिकाओं को ऑक्सीडेटिव क्षति से बचाता है, शुक्राणुओं की संख्या में 70% और गतिशीलता में 53% तक सुधार करता है, और शुक्राणु आकृति विज्ञान में 38% तक सुधार करता है। शिलाजीत प्रदर्शन में सुधार के लिए है। यह शुक्राणुओं की संख्या में 60% तक सुधार करता है, शुक्राणु गतिविधि में 12% तक सुधार करता है, और टेस्टोस्टेरोन और एफएसएच के स्तर को बढ़ाता है।

न्यूट्रालॉजिक्स: लिबर


AFDIL Ltd.
+91 9920121021

order@afdil.com

Read Also:


Disclaimer
Home