What is Endometriosis?

Introduction

endometriosis

Endometriosis is a disorder where tissue similar to the tissue that forms the lining of the uterus grows outside of the uterine cavity. The lining of the uterus is known as the endometrium.

Endometriosis occurs when endometrial tissue grows on the ovaries, bowel, and tissues lining the pelvis. It’s abnormal for endometrial tissue to spread beyond the pelvic region, but it is not impossible. Endometrial tissue growing outside of the uterus is referred to as an endometrial implant.

The hormonal changes of the menstrual cycle affect the misplaced endometrial tissue, causing the area to become inflamed and painful. This means the tissue will grow, thicken, and break down. Over time, the tissue that has broken down has nowhere to go and becomes trapped in the pelvis.

endometriosis disorder

This tissue trapped in the pelvis can cause:
• irritation
• scar formation
• adhesions, in which tissue binds your pelvic organs together
• severe pain during your periods
• fertility problems

Endometriosis is a frequent gynecological condition, affecting up 10 % of women.

Types of Endometriosis

Types of Endometriosis

There are three main types of endometriosis, on the basis of where it is:

• Superficial peritoneal lesion - This is the most common type of endometriosis. There are lesions on the peritoneum, a thin film that lines the pelvic cavity.

• Endometrioma (ovarian lesion) - These dark, fluid-filled cysts, also called chocolate cysts, they form deep in the ovaries. These cysts don’t react well to treatment and can damage healthy tissue.

• Deeply infiltrating endometriosis - This type grows under the peritoneum and can involve organs near the uterus, like the bowels or bladder. About 1% to 5% of women with endometriosis have it.

Symptoms of Endometriosis

The prime symptom of endometriosis is pelvic pain, frequently associated with menstrual periods. Even though many experience cramping during their menstrual periods, those with endometriosis typically describe menstrual pain that's far worse than usual. Pain also may increase over time.

Symptoms of Endometriosis

Common symptoms of endometriosis comprise:

• Painful periods (dysmenorrhea) - Pelvic pain and cramping may begin before and extend several days into a menstrual period. There may also be lower back and abdominal pain.

• Pain with intercourse - Pain during or after sex is a common symptom in endometriosis.

• Pain with bowel movements or urination – One is most likely to experience these symptoms during a menstrual period.

• Excessive bleeding - One may experience occasional heavy menstrual periods or bleeding between periods (intermenstrual bleeding).

• Infertility - Occasionally, endometriosis is first diagnosed in those looking for treatment for infertility.

• Other signs and symptoms - One may experience fatigue, diarrhea, constipation, bloating or nausea, especially during menstrual periods.

The severity of the pain is not necessarily a reliable indicator of the extent of the condition. One could have mild endometriosis with severe pain, or advanced endometriosis with little or no pain.

Endometriosis is occasionally mistaken for other conditions which may cause pelvic pain, like pelvic inflammatory disease or ovarian cysts. It may be confused with irritable bowel syndrome, a condition that causes bouts of diarrhea, constipation and abdominal cramping. Irritable bowel syndrome can come with endometriosis, which can cause difficulties in the diagnosis process.

Why is Endometriosis Associated with Pain?

When a woman with endometriosis has her period, she has bleeding from both the cells and tissue inside the uterus, and also from the cells and tissue outside the uterus. When blood touches these other organs inside the abdomen, it can cause inflammation and irritation, creating pain. Scar tissue can also develop from the endometriosis and contribute to the pain.

Where Can Endometriosis Occur?

The most common sites of endometriosis consist of:
• The ovaries
• The fallopian tubes
• Ligaments that support the uterus (uterosacral ligaments)
• The posterior cul-de-sac (the space between uterus and rectum)
• The anterior cul-de-sac (the space between uterus and bladder)
• The outer surface of the uterus
• The lining of the pelvic cavity

Sites of Endometriosis

Sometimes, endometrial tissue is also found in other places, like:
• The intestines
• The rectum
• The bladder
• The vagina
• The cervix
• The vulva
• Abdominal surgery scars

When to see a doctor

See a doctor if there are signs and symptoms that may indicate endometriosis.

Endometriosis can be a challenging condition to manage. An early diagnosis, a multidisciplinary medical team and an understanding of the diagnosis may result in better management of the symptoms.

Causes of Endometriosis

Although the exact cause of endometriosis is not definite, possible causes may include:

• Retrograde menstruation - In retrograde menstruation, menstrual blood containing endometrial cells flows back through the fallopian tubes and into the pelvic cavity rather than out of the body. These endometrial cells stick with the pelvic walls and surfaces of pelvic organs, where they grow and continue to thicken and bleed over the course of every menstrual cycle.

• Transformation of peritoneal cells - In the induction theory, the experts propose that hormones or immune factors promote transformation of peritoneal cells (cells that line the inner side of the abdomen) into endometrial-like cells.

• Embryonic cell transformation - Hormones like estrogen may transform embryonic cells (cells in the earliest stages of development) into endometrial-like cell implants during puberty.

• Surgical scar implantation - After a surgery, like a hysterectomy or C-section, endometrial cells may attach to a surgical incision.

• Endometrial cell transport - The blood vessels or tissue fluid (lymphatic) system may transport endometrial cells to other parts of the body.

• Immune system disorder - A problem with the immune system may make the body incapable to recognize and destroy endometrial-like tissue that's growing outside the uterus.

Other factors may also contribute to the growth or persistence of ectopic endometrial tissue. For example, endometriosis is known to be dependent on estrogen, which facilitates the inflammation, growth, and pain associated with the disease. However, the relationship between estrogen and endometriosis is complex since the absence of estrogen does not always preclude the presence of endometriosis. Several other factors are thought to promote the development, growth, and maintenance of endometriosis lesions. These include altered or impaired immunity, localized complex hormonal influences, genetics and potentially, environmental contaminants.

Diagnosis of Endometriosis

To diagnose endometriosis and other conditions that can cause pelvic pain, the doctor will ask for the symptoms, including the location of pain and when it occurs. Tests to check endometriosis include:

• Detailed history – The doctor will note the symptoms and personal or family history of endometriosis. A general health assessment may also be performed to determine if there are any other signs of a long-term disorder.

• Pelvic exam - During a pelvic exam, the doctor manually feels areas in the pelvis for abnormalities, like cysts on the reproductive organs or scars behind the uterus. Often it's not possible to feel small areas of endometriosis unless they've caused a cyst to form.

• Ultrasound - This test uses high-frequency sound waves to create images of the inside of the body. To capture the images, a device called a transducer is either pressed against your abdomen or inserted into the vagina (transvaginal ultrasound). Both types of ultrasound may be done to get the best view of the reproductive organs. A standard ultrasound imaging test won't definitively tell the doctor whether one have endometriosis, but it can identify cysts associated with endometriosis (endometriomas).

Ultrasound

• Magnetic resonance imaging (MRI) - An MRI is an exam that uses a magnetic field and radio waves to create detailed images of the organs and tissues within the body. For some, an MRI helps with surgical planning, giving the surgeon detailed information about the location and size of endometrial implants.

Magnetic resonance imaging

• Laparoscopy - In some cases, the doctor may refer you to a surgeon for a procedure that allows the surgeon to view inside the abdomen (laparoscopy). After putting under general anesthesia, the surgeon makes a tiny incision near the navel and inserts a slender viewing instrument (laparoscope), looking for signs of endometrial tissue outside the uterus.
A laparoscopy can provide information about the location, extent and size of the endometrial implants. The surgeon may take a tissue sample (biopsy) for further testing. Often, with proper surgical planning, the surgeon can fully treat endometriosis during the laparoscopy so that only one surgery is needed.

Ultrasound

Treatment for Endometriosis

Treatment for endometriosis usually involves medication or surgery. The approach chosen will depend on the severity of the symptoms and whether there is a hope to become pregnant. For treatment for endometriosis, doctors typically recommend trying conservative treatment approaches first, opting for surgery if initial treatment fails.

• Pain medication

The doctor may recommend taking an over-the-counter pain reliever, like the non-steroidal anti-inflammatory drugs (NSAIDs) ibuprofen or naproxen sodium to help ease painful menstrual cramps and for treatment for endometriosis.

The doctor may recommend hormone therapy in combination with pain relievers if the woman is not trying to get pregnant.


• Hormone therapy

Supplemental hormones are sometimes effective in reducing or eliminating the pain of endometriosis. The rise and fall of hormones during the menstrual cycle causes endometrial implants to thicken, break down and bleed. Hormone medication may slow endometrial tissue growth and prevent new implants of endometrial tissue. Hormone therapy isn't a permanent fix for endometriosis. There could be a return of symptoms after stopping treatment.

Hormonal therapies used for treatment for endometriosis comprise:

o Hormonal contraceptives - Birth control pills, patches and vaginal rings help control the hormones responsible for the buildup of endometrial tissue each month. Many have lighter and shorter menstrual flow when using a hormonal contraceptive. Using hormonal contraceptives, especially continuous-cycle regimens, may reduce or eliminate pain in some cases.

o Gonadotropin-releasing hormone (Gn-RH) agonists and antagonists - These drugs block the production of ovarian-stimulating hormones, lowering estrogen levels and preventing menstruation. This causes endometrial tissue to shrink. Because these drugs create an artificial menopause, taking a low dose of estrogen or progestin along with Gn-RH agonists and antagonists may decrease menopausal side effects, such as hot flashes, vaginal dryness and bone loss. Menstrual periods and the ability to get pregnant return when you stop taking the medication.

o Progestin therapy - A variety of progestin therapies, including an intrauterine device with levonorgestrel (Mirena, Skyla), contraceptive implant (Nexplanon), contraceptive injection (Depo-Provera) or progestin pill (Camila), can halt menstrual periods and the growth of endometrial implants, which may relieve endometriosis signs and symptoms.

o Aromatase inhibitors - Aromatase inhibitors are a class of medicines that reduce the amount of estrogen in your body. Your doctor may recommend an aromatase inhibitor along with a progestin or combination hormonal contraceptive to treat endometriosis.


• Conservative surgery

If you have endometriosis and are trying to become pregnant, surgery to remove the endometriosis implants while preserving your uterus and ovaries (conservative surgery) may increase your chances of success. If you have severe pain from endometriosis, you may also benefit from surgery — however, endometriosis and pain may return.

Doctor may do this procedure laparoscopically or, less commonly, through traditional abdominal surgery in more-extensive cases. Even in severe cases of endometriosis, most can be treated with laparoscopic surgery. In laparoscopic surgery, your surgeon inserts a slender viewing instrument (laparoscope) through a small incision near your navel and inserts instruments to remove endometrial tissue through another small incision. After surgery, your doctor may recommend taking hormone medication to help improve pain.


• Fertility treatment

Endometriosis can lead to trouble conceiving. If you're having difficulty getting pregnant, your doctor may recommend fertility treatment supervised by a fertility specialist. Fertility treatment ranges from stimulating your ovaries to make more eggs to in vitro fertilization. Which treatment is right for you depends on your personal situation.


• Hysterectomy with removal of the ovaries

Surgery to remove the uterus (hysterectomy) and ovaries (oophorectomy) was once considered the most effective treatment for endometriosis. But endometriosis experts are moving away from this approach, instead focusing on the careful and thorough removal of all endometriosis tissue.

Having your ovaries removed results in menopause. The lack of hormones produced by the ovaries may improve endometriosis pain for some, but for others, endometriosis that remains after surgery continues to cause symptoms. Early menopause also carries a risk of heart and blood vessel (cardiovascular) diseases, certain metabolic conditions and early death.

Removal of the uterus (hysterectomy) can sometimes be used to treat signs and symptoms associated with endometriosis, such as heavy menstrual bleeding and painful menses due to uterine cramping, in those who don't want to become pregnant. Even when the ovaries are left in place, a hysterectomy may still have a long-term effect on your health, especially if you have the surgery before age 35.


• Natural remedies

Some complementary and alternative treatments and lifestyle choices may help manage endometriosis symptoms. They includeTrusted Source:
o acupuncture
o herbal medicine
o avoiding caffeine
o hypnosis
o biofeedback
o counseling
o regular exercise, such as walking

Some people may find these methods help, but there is little scientific evidence to show that they are effective. They will not cure endometriosis or reverse any damage that has occurred.

• Relieve symptoms at home

To help relieve pain, whether it's from endometriosis or not, you can try:
• Heat - Put a heating pad or heat patch on your lower belly or take or a warm bath.
• Exercise - Exercising during your period may help ease menstrual cramps.
• Massage - Massaging your belly and lower back may decrease pain.
• Getting more sleep - Extra sleep in the week you're expecting your period helps with period mood changes.
• Eating a balanced diet - More fruits, vegetables, and lean protein help ease period bloating and pain.
• Drinking water - Drinking enough water can help lessen period bloating.
• Meditation and mindful movement, like yoga or tai chi, can help you relax.

Endometriosis stages

Ultrasound

Endometriosis has four stages or types. Different factors determine the stage of the disorder. These factors can include the location, number, size, and depth of endometrial implants.

Stage 1: Minimal
In minimal endometriosis, there are small lesions or wounds and shallow endometrial implants on your ovary. There may also be inflammation in or around your pelvic cavity.

Stage 2: Mild
Mild endometriosis involves light lesions and shallow implants on an ovary and the pelvic lining.

Stage 3: Moderate
Moderate endometriosis involves deep implants on your ovary and pelvic lining. There can also be more lesions.

Stage 4: Severe
The most severe stage of endometriosis involves deep implants on your pelvic lining and ovaries. There may also be lesions on your fallopian tubes and bowels.

Risk factors of Endometriosis

Several factors plays a role for greater risk of developing endometriosis, like:
• Never giving birth
• Starting your period at an early age
• Going through menopause at an older age
• Short menstrual cycles — for instance, less than 27 days
• Heavy menstrual periods that last longer than seven days
• Having higher levels of estrogen in your body or a greater lifetime exposure to estrogen your body produces
• Low body mass index
• One or more relatives (mother, aunt or sister) with endometriosis
• Any medical condition that prevents the normal passage of menstrual flow out of the body
• Reproductive tract abnormalities

Endometriosis typically develops several years after the commencement of menstruation. Symptoms of endometriosis may momentarily improve with pregnancy and may go away completely with menopause, unless estrogen is taken.

Complications of Endometriosis

• Infertility

The main complication of endometriosis is impaired fertility. Approximately one-third to one-half of women with endometriosis faces difficulty getting pregnant.

For pregnancy to occur, an egg must be released from an ovary, travel through the neighbouring fallopian tube, become fertilized by a sperm cell and attach itself to the uterine wall to begin development. Endometriosis may obstruct the tube and keep the egg and sperm from uniting. But the condition also seems to affect fertility in less-direct ways, such as by damaging the sperm or egg.

The condition could make it harder for an embryo to implant on the wall of the uterus too. Endometriosis might also cause a woman’s immune system to attack an embryo instead of trying to protect it.

There’s no way to know for sure whether endometriosis will make it harder for a woman to get pregnant. But it does seem to be the case that the more endometrial growths a woman has, the more likely she is to experience fertility issues. Even so, many with mild to moderate endometriosis can still conceive and carry a pregnancy to term. Doctors sometimes advise those with endometriosis not to delay having children because the condition may worsen with time.

Infertility

What are the possible risks of endometriosis to the mother and baby?

Endometriosis can affect conception and up your chances of needing a C-section. It doesn’t necessarily mean you’ll have a high-risk pregnancy, but having the condition could increase the risk of certain problems, including:

o Placenta previao -Research shows that women with endometriosis are anywhere from 1.6 to 15 times more likely to have placenta previa, where the placenta implants low in the uterus and covers all of part of the cervix. That could make you more likely to need a C-section.

o Miscarriage - It’s upsetting to think about, but endometriosis can increase the chances of pregnancy loss compared to women who don’t have the condition. But remember that for many women with endometriosis, it is possible to have a healthy pregnancy and baby.

o Preterm birth - Evidence also suggests that inflammation caused by endometriosis may be linked to a higher risk of giving birth prematurely. While there’s no way to prevent premature labor, your doctor can help you manage your risk factors and increase the chances of carrying your baby to term.

o Preeclampsia - Recent evidence shows that endometriosis can make you somewhat more prone to developing preeclampsia. The good news is that regular prenatal care can often catch the condition in its early stages, when you may be able to control it with lifestyle changes.

• Cancer

Ovarian cancer occurs at higher than expected rates in those with endometriosis. But the overall lifetime risk of ovarian cancer is low to begin with. Some studies suggest that endometriosis increases that risk, but it's still relatively low. Although rare, another type of cancer, endometriosis-associated adenocarcinoma, can develop later in life in those who have had endometriosis.

Some studies have postulated that women with endometriosis have an increased risk for development of certain types of ovarian cancer, known as epithelial ovarian cancer (EOC). This risk is highest in women with both endometriosis and primary infertility (those who have never conceived a pregnancy). The use of combination oral contraceptive pills (OCPs), which are sometimes used in the treatment of endometriosis, appears to significantly reduce this risk.

The reasons for the association between endometriosis and ovarian epithelial cancer are not clearly understood. One theory is that the endometriosis implants themselves undergo malignant transformation to cancer. Another possibility is that the presence of endometriosis may be related to other genetic or environmental factors that serve to increase a women's risk of developing ovarian cancer.

Does diet affect endometriosis?

There is no data that is well-established that show that dietary modifications can either prevent or reduce the symptoms of endometriosis. One study showed that a high consumption of green vegetables and fruit was associated with a lower risk of developing endometriosis, while a higher intake of red meats was associated with a higher risk. No association was seen with alcohol, milk, or coffee consumption. Further studies are needed to determine whether diet plays a role in the development of endometriosis.

Dietary factors that may be beneficial for the condition include:
• removing gluten and dairy products from the diet
• increasing the consumption of fruits and vegetables
• avoiding junk food
• preparing meals using fresh ingredients
• avoiding caffeine and alcohol
• following a low-FODMAP diet
• consuming a type of seaweed known as bladderwrack

Who gets endometriosis?

Endometriosis affects women during their reproductive years. The exact prevalence of endometriosis is not known, since many women who are later identified as having the condition are asymptomatic. Endometriosis is estimated to affect over one million women (estimates range from 3% to 18% of women) in the United States. It is one of the leading causes of pelvic pain and it is responsible for many of the laparoscopic procedures and hysterectomies performed by gynecologists. Estimates suggest that 20% to 50% of women being treated for infertility have endometriosis, and up to 80% of women with chronic pelvic pain may be affected.

While most cases of endometriosis are diagnosed in women aged 25 to 35 years, endometriosis has been reported in girls as young as 11 years of age. Endometriosis is rare in postmenopausal women. Studies further suggest that endometriosis is most common in taller, thin women with a low body mass index (BMI). Delaying pregnancy until an older age, never giving birth, early onset of menses, and late menopause all have been shown to be risk factors for endometriosis. It also is likely that there are genetic factors which predispose a woman to developing endometriosis, since having a first-degree relative with the condition increases the chance that a woman will develop the condition.

Endometriosis or Menstrual Cramps

Most women report having mild pain with menstruation, and over-the-counter medications may provide relief. If your menstrual pain is persistent, severe enough to interfere with normal activity, or lasts longer than two days, consult your doctor.

Menstrual Cramps

Endometriosis in Teens

Endometriosis can begin in teens as early as the first menstrual period. It's important to consult a physician if a teenager has menstrual pain that is severe enough to interfere with normal activity. Over-the-counter pain medications and careful recording of the symptoms may be the first step in management. Treatment options for teens and adults are the same.

Coping With Endometriosis

While endometriosis can't be prevented, some lifestyle measures can help manage the condition and improve endometriosis symptoms. Exercise may help relieve pain through the production of endorphins. Some women find that techniques like yoga, massage, acupuncture, and meditation are helpful in managing symptoms.

Conclusion

Endometriosis is a common cause of pain and/or infertility in women, although many women have no symptoms from this condition. Medical or surgical treatment for endometriosis may be effective for endometriosis-related pain. Evaluation and treatment of other coexisting causes of pelvic pain is important, especially when treatment for endometriosis does not relieve the pain. Women with moderate to severe endometriosis who desire pregnancy can be treated with surgery, which can usually be done laparoscopically. Many women will achieve pregnancy after treatment for endometriosis. Hormonal treatments for endometriosis generally prevent pregnancy. In some cases, advanced infertility treatment methods such as IVF will be required.

Related topics:

1. What are Hemorrhoids?

Male infertility is a condition in a man that reduces the chances of producing offspring. There are many modern treatments available to treat this condition. To know more visit: What are Hemorrhoids?

2. What Is Fertility and Infertility?

Fertility and infertility are related to the ability of a person to produce offspring. The cause of infertility could be many. It can be tested and treated. To know more visit: What Is Fertility and Infertility

3. Importance Of Proper Nutrition

Proper nutrition provides your body all the necessary nutrients, this can be achieved by eating a well-balanced diet. Poor nutrition can cause health issues. To know more visit: Importance Of Proper Nutrition

4. What Is Immunity?

Immunity is the ability of the body to recognize what belongs to self and what is foreign. The immune system works to build resistance to harmful organisms. To know more visit: What Is Immunity




The above essentials are available with AFD SHIELD.

AFD Shield capsule is a combination of 12 natural ingredients among which are Algal DHA, Ashwagandha, Curcumin and Spirullina. AFD Shield reduces TG, increases HDL and improves age related cognitive decline. It also reduces stress and anxiety and performs anti-aging activity.Moreover, it also enhances the immunomodulatory activity, improves immunity and reduces inflammation and oxidative stress.
Nutralogicx: AFD SHIELD

एंडोमेट्रियोसिस क्या है?

परिचय

एंडोमेट्रियोसिस

एंडोमेट्रियोसिस एक विकार है जहां ऊतक के समान ऊतक जो गर्भाशय की परत बनाता है, गर्भाशय गुहा के बाहर बढ़ता है। गर्भाशय के अस्तर को एंडोमेट्रियम के रूप में जाना जाता है।

एंडोमेट्रियोसिस तब होता है जब एंडोमेट्रियल ऊतक अंडाशय, आंत्र, और श्रोणि को अस्तर करने वाले ऊतकों पर बढ़ता है। एंडोमेट्रियल ऊतक का पैल्विक क्षेत्र से परे फैल जाना असामान्य है, लेकिन यह असंभव नहीं है। गर्भाशय के बाहर बढ़ने वाले एंडोमेट्रियल ऊतक को एंडोमेट्रियल इम्प्लांट कहा जाता है।

मासिक धर्म चक्र के हार्मोनल परिवर्तन गलत एंडोमेट्रियल ऊतक को प्रभावित करते हैं, जिससे क्षेत्र सूजन और दर्दनाक हो जाता है। इसका मतलब है कि ऊतक बढ़ेगा, मोटा होगा और टूट जाएगा। समय के साथ, ऊतक जो टूट गया है उसे कहीं नहीं जाना है और श्रोणि में फंस जाता है।

एंडोमेट्रियोसिस विकार

श्रोणि में फंसा यह ऊतक पैदा कर सकता है:
• जलन
• निशान बनना
• आसंजन, जिसमें ऊतक आपके श्रोणि अंगों को एक साथ बांधते हैं
• माहवारी के दौरान तेज दर्द
• प्रजनन संबंधी समस्याएं

एंडोमेट्रियोसिस एक बार-बार होने वाली स्त्रीरोग संबंधी स्थिति है, जो 10% महिलाओं को प्रभावित करती है।

एंडोमेट्रियोसिस के प्रकार

एंडोमेट्रियोसिस के प्रकार

एंडोमेट्रियोसिस के तीन मुख्य प्रकार हैं, यह कहां है इसके आधार पर:

• सतही पेरिटोनियल घाव - यह एंडोमेट्रियोसिस का सबसे आम प्रकार है। पेरिटोनियम पर घाव हैं, एक पतली फिल्म जो श्रोणि गुहा को रेखाबद्ध करती है।

• एंडोमेट्रियोमा (डिम्बग्रंथि का घाव) - ये गहरे रंग के, द्रव से भरे हुए सिस्ट, जिन्हें चॉकलेट सिस्ट भी कहा जाता है, अंडाशय में गहराई से बनते हैं। ये सिस्ट इलाज के लिए अच्छी तरह से प्रतिक्रिया नहीं करते हैं और स्वस्थ ऊतकों को नुकसान पहुंचा सकते हैं।

• गहराई से घुसपैठ करने वाला एंडोमेट्रियोसिस - यह प्रकार पेरिटोनियम के नीचे बढ़ता है और इसमें गर्भाशय के पास के अंग शामिल हो सकते हैं, जैसे आंत या मूत्राशय। एंडोमेट्रियोसिस वाली लगभग 1% से 5% महिलाओं में यह होता है।

एंडोमेट्रियोसिस के लक्षण

एंडोमेट्रियोसिस का मुख्य लक्षण पैल्विक दर्द है, जो अक्सर मासिक धर्म से जुड़ा होता है। भले ही कई लोग अपने मासिक धर्म के दौरान ऐंठन का अनुभव करते हैं, एंडोमेट्रियोसिस वाले लोग आमतौर पर मासिक धर्म के दर्द का वर्णन करते हैं जो सामान्य से कहीं अधिक खराब होता है। दर्द भी समय के साथ बढ़ सकता है।

एंडोमेट्रियोसिस के लक्षण

एंडोमेट्रियोसिस के सामान्य लक्षणों में शामिल हैं:

• दर्दनाक माहवारी (कष्टार्तव) - पैल्विक दर्द और ऐंठन मासिक धर्म से पहले शुरू हो सकते हैं और कई दिनों तक बढ़ सकते हैं। पीठ के निचले हिस्से और पेट में दर्द भी हो सकता है।

• संभोग के दौरान दर्द - सेक्स के दौरान या बाद में दर्द एंडोमेट्रियोसिस में एक सामान्य लक्षण है।

• मल त्याग या पेशाब के साथ दर्द - मासिक धर्म के दौरान इन लक्षणों का अनुभव होने की सबसे अधिक संभावना है।

• अत्यधिक रक्तस्राव - कभी-कभी भारी मासिक धर्म या मासिक धर्म के बीच रक्तस्राव (अंतरमासिक रक्तस्राव) का अनुभव हो सकता है।

• बांझपन - कभी-कभी, बांझपन के इलाज की तलाश में एंडोमेट्रियोसिस का सबसे पहले निदान किया जाता है।

• अन्य लक्षण और लक्षण - विशेष रूप से मासिक धर्म के दौरान थकान, दस्त, कब्ज, सूजन या मतली का अनुभव हो सकता है।

दर्द की गंभीरता आवश्यक रूप से स्थिति की सीमा का एक विश्वसनीय संकेतक नहीं है। किसी को गंभीर दर्द के साथ हल्का एंडोमेट्रियोसिस हो सकता है, या कम या बिना दर्द के उन्नत एंडोमेट्रियोसिस हो सकता है।

एंडोमेट्रियोसिस को कभी-कभी अन्य स्थितियों के लिए गलत माना जाता है जो पैल्विक दर्द का कारण बन सकती हैं, जैसे कि पेल्विक सूजन की बीमारी या डिम्बग्रंथि के सिस्ट। यह चिड़चिड़ा आंत्र सिंड्रोम के साथ भ्रमित हो सकता है, एक ऐसी स्थिति जो दस्त, कब्ज और पेट में ऐंठन का कारण बनती है। इर्रिटेबल बोवेल सिंड्रोम एंडोमेट्रियोसिस के साथ आ सकता है, जिससे निदान प्रक्रिया में मुश्किलें आ सकती हैं।

एंडोमेट्रियोसिस दर्द से क्यों जुड़ा है?

जब एंडोमेट्रियोसिस वाली महिला को मासिक धर्म होता है, तो उसे गर्भाशय के अंदर की कोशिकाओं और ऊतक, और गर्भाशय के बाहर की कोशिकाओं और ऊतक दोनों से रक्तस्राव होता है। जब रक्त पेट के अंदर इन अन्य अंगों को छूता है, तो यह सूजन और जलन पैदा कर सकता है, जिससे दर्द हो सकता है। एंडोमेट्रियोसिस से निशान ऊतक भी विकसित हो सकते हैं और दर्द में योगदान कर सकते हैं।

एंडोमेट्रियोसिस कहां हो सकता है?

एंडोमेट्रियोसिस की सबसे आम साइटों में निम्न शामिल हैं:
• अंडाशय
• फैलोपियन ट्यूब
• गर्भाशय को सहारा देने वाले स्नायुबंधन (यूटरोसैक्रल लिगामेंट्स)
• पश्च पुल-डी-सैक (गर्भाशय और मलाशय के बीच का स्थान)
• पूर्वकाल पुल-डी-सैक (गर्भाशय और मूत्राशय के बीच का स्थान)
• गर्भाशय की बाहरी सतह
• श्रोणि गुहा की परत

एंडोमेट्रियोसिस की साइटें

कभी-कभी, एंडोमेट्रियल ऊतक अन्य स्थानों पर भी पाए जाते हैं, जैसे:
• आंत
• मलाशय
• मूत्राशय
• योनि
• गर्भाशय ग्रीवा
• योनी
• पेट की सर्जरी के निशान

डॉक्टर को कब दिखाना है

यदि एंडोमेट्रियोसिस का संकेत देने वाले संकेत और लक्षण हैं तो डॉक्टर से मिलें।

एंडोमेट्रियोसिस को प्रबंधित करना एक चुनौतीपूर्ण स्थिति हो सकती है। एक प्रारंभिक निदान, एक बहु-विषयक चिकित्सा टीम और निदान की समझ के परिणामस्वरूप लक्षणों का बेहतर प्रबंधन हो सकता है।

एंडोमेट्रियोसिस के कारण

हालांकि एंडोमेट्रियोसिस का सटीक कारण निश्चित नहीं है, संभावित कारणों में निम्न शामिल हो सकते हैं:

• प्रतिगामी माहवारी - प्रतिगामी माहवारी में, एंडोमेट्रियल कोशिकाओं से युक्त मासिक धर्म रक्त शरीर के बाहर की बजाय फैलोपियन ट्यूब और श्रोणि गुहा में वापस प्रवाहित होता है। ये एंडोमेट्रियल कोशिकाएं श्रोणि की दीवारों और श्रोणि अंगों की सतहों से चिपकी रहती हैं, जहां वे बढ़ती हैं और हर मासिक धर्म के दौरान गाढ़ा और खून बहना जारी रखती हैं।

• पेरिटोनियल कोशिकाओं का परिवर्तन - प्रेरण सिद्धांत में, विशेषज्ञों का प्रस्ताव है कि हार्मोन या प्रतिरक्षा कारक पेरिटोनियल कोशिकाओं के परिवर्तन को बढ़ावा देते हैं (कोशिकाएं जो आंतरिक भाग को पंक्तिबद्ध करती हैं) पेट) एंडोमेट्रियल जैसी कोशिकाओं में।

• भ्रूणीय कोशिका परिवर्तन - एस्ट्रोजन जैसे हार्मोन यौवन के दौरान भ्रूण कोशिकाओं (विकास के शुरुआती चरणों में कोशिकाओं) को एंडोमेट्रियल जैसे सेल प्रत्यारोपण में बदल सकते हैं।

• सर्जिकल निशान इम्प्लांटेशन - सर्जरी के बाद, हिस्टरेक्टॉमी या सी-सेक्शन की तरह, एंडोमेट्रियल कोशिकाएं सर्जिकल चीरा से जुड़ सकती हैं।

• एंडोमेट्रियल सेल ट्रांसपोर्ट - रक्त वाहिकाओं या ऊतक द्रव (लसीका) प्रणाली एंडोमेट्रियल कोशिकाओं को शरीर के अन्य भागों में ले जा सकती है।

• प्रतिरक्षा प्रणाली विकार - प्रतिरक्षा प्रणाली के साथ एक समस्या शरीर को गर्भाशय के बाहर बढ़ने वाले एंडोमेट्रियल जैसे ऊतक को पहचानने और नष्ट करने में असमर्थ बना सकती है।

अन्य कारक भी एक्टोपिक एंडोमेट्रियल ऊतक के विकास या दृढ़ता में योगदान दे सकते हैं। उदाहरण के लिए, एंडोमेट्रियोसिस को एस्ट्रोजन पर निर्भर होने के लिए जाना जाता है, जो रोग से जुड़ी सूजन, वृद्धि और दर्द को सुविधाजनक बनाता है। हालांकि, एस्ट्रोजन और एंडोमेट्रियोसिस के बीच संबंध जटिल है क्योंकि एस्ट्रोजन की अनुपस्थिति हमेशा एंडोमेट्रियोसिस की उपस्थिति को रोकती नहीं है। एंडोमेट्रियोसिस घावों के विकास, विकास और रखरखाव को बढ़ावा देने के लिए कई अन्य कारकों के बारे में सोचा गया है। इनमें परिवर्तित या बिगड़ा हुआ प्रतिरक्षा, स्थानीयकृत जटिल हार्मोनल प्रभाव, आनुवंशिकी और संभावित, पर्यावरणीय संदूषक शामिल हैं।

एंडोमेट्रियोसिस का निदान

एंडोमेट्रियोसिस और अन्य स्थितियों का निदान करने के लिए जो पैल्विक दर्द का कारण बन सकती हैं, डॉक्टर लक्षणों के बारे में पूछेंगे, जिसमें दर्द का स्थान और यह कब होता है। एंडोमेट्रियोसिस की जांच के लिए टेस्ट में शामिल हैं:

• विस्तृत इतिहास - डॉक्टर एंडोमेट्रियोसिस के लक्षणों और व्यक्तिगत या पारिवारिक इतिहास को नोट करेंगे। यह निर्धारित करने के लिए एक सामान्य स्वास्थ्य मूल्यांकन भी किया जा सकता है कि क्या दीर्घकालिक विकार के कोई अन्य लक्षण हैं।

• पेल्विक परीक्षा - एक पैल्विक परीक्षा के दौरान, डॉक्टर मैन्युअल रूप से श्रोणि में असामान्यताओं के लिए क्षेत्रों को महसूस करता है, जैसे कि प्रजनन अंगों पर सिस्ट या गर्भाशय के पीछे के निशान। अक्सर एंडोमेट्रियोसिस के छोटे क्षेत्रों को महसूस करना संभव नहीं होता है जब तक कि वे एक पुटी का निर्माण न करें।

• अल्ट्रासाउंड - यह परीक्षण शरीर के अंदर की छवियों को बनाने के लिए उच्च आवृत्ति वाली ध्वनि तरंगों का उपयोग करता है। छवियों को कैप्चर करने के लिए, ट्रांसड्यूसर नामक एक उपकरण को या तो आपके पेट के खिलाफ दबाया जाता है या योनि में डाला जाता है (ट्रांसवेजिनल अल्ट्रासाउंड)। प्रजनन अंगों का सर्वोत्तम दृश्य प्राप्त करने के लिए दोनों प्रकार के अल्ट्रासाउंड किए जा सकते हैं। एक मानक अल्ट्रासाउंड इमेजिंग परीक्षण निश्चित रूप से डॉक्टर को यह नहीं बताएगा कि क्या किसी को एंडोमेट्रियोसिस है, लेकिन यह एंडोमेट्रियोसिस (एंडोमेट्रियोमास) से जुड़े अल्सर की पहचान कर सकता है।

अल्ट्रासाउंड

• चुंबकीय अनुनाद इमेजिंग - एक MRI एक परीक्षा है जो शरीर के भीतर अंगों और ऊतकों की विस्तृत छवियों को बनाने के लिए चुंबकीय क्षेत्र और रेडियो तरंगों का उपयोग करती है। कुछ के लिए, एक एमआरआई शल्य चिकित्सा योजना में मदद करता है, सर्जन को एंडोमेट्रियल प्रत्यारोपण के स्थान और आकार के बारे में विस्तृत जानकारी देता है।

चुंबकीय अनुनाद इमेजिंग

• लैप्रोस्कोपी - कुछ मामलों में, डॉक्टर आपको एक ऐसी प्रक्रिया के लिए सर्जन के पास भेज सकते हैं जो सर्जन को पेट के अंदर (लैप्रोस्कोपी) देखने की अनुमति देती है। सामान्य संज्ञाहरण के तहत डालने के बाद, सर्जन नाभि के पास एक छोटा चीरा लगाता है और गर्भाशय के बाहर एंडोमेट्रियल ऊतक के संकेतों की तलाश में एक पतला देखने वाला उपकरण (लैप्रोस्कोप) डालता है।
लैप्रोस्कोपी एंडोमेट्रियल प्रत्यारोपण के स्थान, सीमा और आकार के बारे में जानकारी प्रदान कर सकता है। सर्जन आगे के परीक्षण के लिए ऊतक का नमूना (बायोप्सी) ले सकता है। अक्सर, उचित सर्जिकल योजना के साथ, सर्जन लैप्रोस्कोपी के दौरान एंडोमेट्रियोसिस का पूरी तरह से इलाज कर सकता है ताकि केवल एक सर्जरी की आवश्यकता हो।

लैप्रोस्कोपी

एंडोमेट्रियोसिस का इलाज

एंडोमेट्रियोसिस के उपचार में आमतौर पर दवा या सर्जरी शामिल होती है। चुना गया दृष्टिकोण लक्षणों की गंभीरता और गर्भवती होने की उम्मीद पर निर्भर करेगा। एंडोमेट्रियोसिस के इलाज के लिए, डॉक्टर आमतौर पर पहले रूढ़िवादी उपचार के तरीकों की कोशिश करने की सलाह देते हैं, अगर प्रारंभिक उपचार विफल हो जाता है तो सर्जरी का विकल्प चुना जाता है।

• दर्द की दवा

डॉक्टर एक ओवर-द-काउंटर दर्द निवारक लेने की सलाह दे सकता है, जैसे गैर-स्टेरायडल विरोधी भड़काऊ दवाएं (एनएसएआईडी) इबुप्रोफेन या नेप्रोक्सन सोडियम दर्दनाक मासिक धर्म ऐंठन को कम करने में मदद करने के लिए और उपचार के लिए एंडोमेट्रियोसिस।

यदि महिला गर्भवती होने की कोशिश नहीं कर रही है तो डॉक्टर दर्द निवारक के साथ हार्मोन थेरेपी की सिफारिश कर सकते हैं।


• हार्मोन थेरेपी

पूरक हार्मोन कभी-कभी एंडोमेट्रियोसिस के दर्द को कम करने या समाप्त करने में प्रभावी होते हैं। मासिक धर्म चक्र के दौरान हार्मोन के बढ़ने और गिरने से एंडोमेट्रियल इम्प्लांट गाढ़ा, टूट जाता है और खून बहने लगता है। हार्मोन दवा एंडोमेट्रियल ऊतक विकास को धीमा कर सकती है और एंडोमेट्रियल ऊतक के नए प्रत्यारोपण को रोक सकती है। एंडोमेट्रियोसिस के लिए हार्मोन थेरेपी एक स्थायी समाधान नहीं है। उपचार रोकने के बाद लक्षणों की वापसी हो सकती है।

एंडोमेट्रियोसिस के इलाज के लिए इस्तेमाल की जाने वाली हार्मोनल थेरेपी में शामिल हैं:

o हार्मोनल गर्भनिरोधक - गर्भनिरोधक गोलियां, पैच और योनि के छल्ले हर महीने एंडोमेट्रियल ऊतक के निर्माण के लिए जिम्मेदार हार्मोन को नियंत्रित करने में मदद करते हैं। हार्मोनल गर्भनिरोधक का उपयोग करते समय कई लोगों का मासिक धर्म हल्का और कम होता है। हार्मोनल गर्भ निरोधकों का उपयोग, विशेष रूप से निरंतर-चक्र के नियम, कुछ मामलों में दर्द को कम या समाप्त कर सकते हैं।

o गोनैडोट्रोपिन-रिलीज़िंग हार्मोन (Gn-RH) एगोनिस्ट और प्रतिपक्षी - ये दवाएं डिम्बग्रंथि-उत्तेजक हार्मोन के उत्पादन को रोकती हैं, एस्ट्रोजन के स्तर को कम करती हैं और मासिक धर्म को रोकती हैं। इससे एंडोमेट्रियल ऊतक सिकुड़ जाते हैं। क्योंकि ये दवाएं एक कृत्रिम रजोनिवृत्ति पैदा करती हैं, Gn-RH एगोनिस्ट और प्रतिपक्षी के साथ एस्ट्रोजन या प्रोजेस्टिन की कम खुराक लेने से रजोनिवृत्ति के दुष्प्रभाव कम हो सकते हैं, जैसे गर्म चमक, योनि का सूखापन और हड्डियों का नुकसान। जब आप दवा लेना बंद कर देते हैं तो मासिक धर्म और गर्भवती होने की क्षमता वापस आ जाती है।

o प्रोजेस्टिन थेरेपी - लेवोनोर्जेस्ट्रेल (मिरेना, स्काईला), गर्भनिरोधक इम्प्लांट (नेक्सप्लानन), गर्भनिरोधक इंजेक्शन (डेपो- प्रोवेरा) या प्रोजेस्टिन गोली (कैमिला), मासिक धर्म की अवधि और एंडोमेट्रियल प्रत्यारोपण के विकास को रोक सकती है, जो एंडोमेट्रियोसिस के संकेतों और लक्षणों को दूर कर सकती है।

o अरोमाटेस इनहिबिटर - एरोमैटस इनहिबिटर दवाओं का एक वर्ग है जो आपके शरीर में एस्ट्रोजन की मात्रा को कम करता है। एंडोमेट्रियोसिस के इलाज के लिए आपका डॉक्टर प्रोजेस्टिन या संयोजन हार्मोनल गर्भनिरोधक के साथ एरोमाटेज इनहिबिटर की सिफारिश कर सकता है।


• कंजर्वेटिव सर्जरी

यदि आपको एंडोमेट्रियोसिस है और आप गर्भवती होने की कोशिश कर रही हैं, तो आपके गर्भाशय और अंडाशय (कंज़र्वेटिव सर्जरी) को संरक्षित करते हुए एंडोमेट्रियोसिस प्रत्यारोपण को हटाने के लिए सर्जरी से आपकी सफलता की संभावना बढ़ सकती है। यदि आपको एंडोमेट्रियोसिस से गंभीर दर्द होता है, तो आपको सर्जरी से भी लाभ हो सकता है - हालांकि, एंडोमेट्रियोसिस और दर्द वापस आ सकता है।

डॉक्टर अधिक व्यापक मामलों में पारंपरिक पेट की सर्जरी के माध्यम से इस प्रक्रिया को लैप्रोस्कोपिक या कम सामान्यतः कर सकते हैं। एंडोमेट्रियोसिस के गंभीर मामलों में भी, अधिकांश का इलाज लैप्रोस्कोपिक सर्जरी से किया जा सकता है। लैप्रोस्कोपिक सर्जरी में, आपका सर्जन आपकी नाभि के पास एक छोटे चीरे के माध्यम से एक पतला देखने वाला उपकरण (लैप्रोस्कोप) डालता है और एक अन्य छोटे चीरे के माध्यम से एंडोमेट्रियल ऊतक को हटाने के लिए उपकरण सम्मिलित करता है। सर्जरी के बाद, आपका डॉक्टर दर्द को कम करने में मदद करने के लिए हार्मोन दवा लेने की सलाह दे सकता है।


• प्रजनन उपचार

एंडोमेट्रियोसिस गर्भधारण करने में परेशानी का कारण बन सकता है। यदि आपको गर्भवती होने में कठिनाई हो रही है, तो आपका डॉक्टर प्रजनन विशेषज्ञ की देखरेख में प्रजनन उपचार की सिफारिश कर सकता है। प्रजनन उपचार आपके अंडाशय को अधिक अंडे बनाने के लिए उत्तेजित करने से लेकर इन विट्रो निषेचन तक होता है। आपके लिए कौन सा उपचार सही है यह आपकी व्यक्तिगत स्थिति पर निर्भर करता है।


• अंडाशय को हटाने के साथ हिस्टरेक्टॉमी

गर्भाशय (हिस्टेरेक्टॉमी) और अंडाशय (oophorectomy) को हटाने के लिए सर्जरी को कभी एंडोमेट्रियोसिस के लिए सबसे प्रभावी उपचार माना जाता था। लेकिन एंडोमेट्रियोसिस विशेषज्ञ इस दृष्टिकोण से दूर जा रहे हैं, इसके बजाय सभी एंडोमेट्रियोसिस ऊतक को सावधानीपूर्वक और पूरी तरह से हटाने पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं।

आपके अंडाशय को हटाने से रजोनिवृत्ति हो जाती है। अंडाशय द्वारा उत्पादित हार्मोन की कमी से कुछ के लिए एंडोमेट्रियोसिस दर्द में सुधार हो सकता है, लेकिन दूसरों के लिए, एंडोमेट्रियोसिस जो सर्जरी के बाद बनी रहती है, लक्षण पैदा करती रहती है। प्रारंभिक रजोनिवृत्ति में हृदय और रक्त वाहिका (हृदय) रोगों, कुछ चयापचय स्थितियों और प्रारंभिक मृत्यु का जोखिम भी होता है।

गर्भाशय को हटाने (हिस्टेरेक्टॉमी) का उपयोग कभी-कभी एंडोमेट्रियोसिस से जुड़े संकेतों और लक्षणों के इलाज के लिए किया जा सकता है, जैसे कि भारी मासिक धर्म रक्तस्राव और गर्भाशय में ऐंठन के कारण दर्दनाक मासिक धर्म, जो नहीं चाहते हैं उनमें गर्भ धारण करना। यहां तक ​​​​कि जब अंडाशय को जगह में छोड़ दिया जाता है, तब भी एक हिस्टेरेक्टॉमी का आपके स्वास्थ्य पर दीर्घकालिक प्रभाव हो सकता है, खासकर यदि आपकी सर्जरी 35 वर्ष की आयु से पहले हो।


• प्राकृतिक उपचार

कुछ पूरक और वैकल्पिक उपचार और जीवनशैली विकल्प एंडोमेट्रियोसिस के लक्षणों को प्रबंधित करने में मदद कर सकते हैं। उनमें शामिल हैं:
o एक्यूपंक्चर
o हर्बल दवा
o कैफीन से परहेज
o सम्मोहन
o बायोफीडबैक
o परामर्श
o नियमित व्यायाम, जैसे चलना

कुछ लोगों को इन तरीकों से मदद मिल सकती है, लेकिन यह दिखाने के लिए बहुत कम वैज्ञानिक प्रमाण हैं कि वे प्रभावी हैं। वे एंडोमेट्रियोसिस का इलाज नहीं करेंगे या जो भी नुकसान हुआ है उसे उलट देंगे।

• लक्षणों को घर पर ही दूर करें

दर्द को दूर करने में मदद करने के लिए, चाहे वह एंडोमेट्रियोसिस से हो या नहीं, आप कोशिश कर सकते हैं:
• गर्मी - अपने निचले पेट पर हीटिंग पैड या हीट पैच लगाएं या गर्म पानी से नहाएं।
• व्यायाम - माहवारी के दौरान व्यायाम करने से मासिक धर्म में ऐंठन को कम करने में मदद मिल सकती है।
• मालिश - अपने पेट और पीठ के निचले हिस्से की मालिश करने से दर्द कम हो सकता है।
• अधिक नींद लेना - जिस सप्ताह आप अपने मासिक धर्म की अपेक्षा कर रहे हैं उस सप्ताह में अतिरिक्त नींद लेने से मासिक धर्म के मूड में बदलाव में मदद मिलती है।
• संतुलित आहार खाना - अधिक फल, सब्जियां और लीन प्रोटीन पीरियड्स की सूजन और दर्द को कम करने में मदद करते हैं।
• पीने का पानी - पर्याप्त पानी पीने से मासिक धर्म की सूजन कम हो सकती है।
• योग या ताई ची जैसे ध्यान और सचेतन गतिविधि आपको आराम करने में मदद कर सकती है।

एंडोमेट्रियोसिस चरण

एंडोमेट्रियोसिस चरण

एंडोमेट्रियोसिस के चार चरण या प्रकार होते हैं। विभिन्न कारक विकार के चरण को निर्धारित करते हैं। इन कारकों में एंडोमेट्रियल प्रत्यारोपण का स्थान, संख्या, आकार और गहराई शामिल हो सकती है।

चरण 1: न्यूनतम
न्यूनतम एंडोमेट्रियोसिस में, आपके अंडाशय पर छोटे घाव या घाव और उथले एंडोमेट्रियल प्रत्यारोपण होते हैं। आपकी श्रोणि गुहा में या उसके आसपास सूजन भी हो सकती है।

चरण 2: हल्का
हल्के एंडोमेट्रियोसिस में अंडाशय और पेल्विक लाइनिंग पर हल्के घाव और उथले प्रत्यारोपण शामिल हैं।

चरण 3: मध्यम
मध्यम एंडोमेट्रियोसिस में आपके अंडाशय और पेल्विक लाइनिंग पर गहरे प्रत्यारोपण शामिल हैं। और भी घाव हो सकते हैं।

चरण 4: गंभीर
एंडोमेट्रियोसिस के सबसे गंभीर चरण में आपके पेल्विक लाइनिंग और अंडाशय पर गहरे प्रत्यारोपण शामिल हैं। आपके फैलोपियन ट्यूब और आंतों पर घाव भी हो सकते हैं।

एंडोमेट्रियोसिस के जोखिम कारक

एंडोमेट्रियोसिस के विकास के अधिक जोखिम के लिए कई कारक भूमिका निभाते हैं, जैसे:
• कभी जन्म नहीं देना
• कम उम्र में अपनी अवधि शुरू करना
• अधिक उम्र में रजोनिवृत्ति से गुजरना
• छोटे मासिक धर्म चक्र — उदाहरण के लिए, 27 दिनों से कम
• भारी मासिक धर्म जो सात दिनों से अधिक समय तक रहता है
• आपके शरीर में एस्ट्रोजन का उच्च स्तर या आपके शरीर में एस्ट्रोजन का अधिक जीवनकाल होने से आपके शरीर का उत्पादन होता है
• लो बॉडी मास इंडेक्स
• एंडोमेट्रियोसिस के साथ एक या अधिक रिश्तेदार (मां, चाची या बहन)
• कोई भी चिकित्सीय स्थिति जो शरीर से मासिक धर्म के सामान्य प्रवाह को रोकती है
• प्रजनन पथ की असामान्यताएं

एंडोमेट्रियोसिस आमतौर पर मासिक धर्म शुरू होने के कई साल बाद विकसित होता है। एंडोमेट्रियोसिस के लक्षण गर्भावस्था के साथ क्षणिक रूप से सुधर सकते हैं और रजोनिवृत्ति के साथ पूरी तरह से दूर हो सकते हैं, जब तक कि एस्ट्रोजन नहीं लिया जाता है।

एंडोमेट्रियोसिस की जटिलताएं

• बांझपन

एंडोमेट्रियोसिस की मुख्य जटिलता खराब प्रजनन क्षमता है। एंडोमेट्रियोसिस वाली लगभग एक तिहाई से आधी महिलाओं को गर्भवती होने में कठिनाई का सामना करना पड़ता है।

गर्भावस्था होने के लिए, एक अंडाशय से एक अंडे को मुक्त किया जाना चाहिए, पड़ोसी फैलोपियन ट्यूब के माध्यम से यात्रा करना चाहिए, एक शुक्राणु कोशिका द्वारा निषेचित होना चाहिए और विकास शुरू करने के लिए खुद को गर्भाशय की दीवार से जोड़ना चाहिए। एंडोमेट्रियोसिस ट्यूब को बाधित कर सकता है और अंडे और शुक्राणु को एकजुट होने से रोक सकता है। लेकिन यह स्थिति कम-सीधे तरीके से प्रजनन क्षमता को भी प्रभावित करती है, जैसे कि शुक्राणु या अंडे को नुकसान पहुंचाना।

यह स्थिति भ्रूण के लिए गर्भाशय की दीवार पर भी प्रत्यारोपित करना कठिन बना सकती है। एंडोमेट्रियोसिस भी एक महिला की प्रतिरक्षा प्रणाली को बचाने की कोशिश करने के बजाय एक भ्रूण पर हमला करने का कारण हो सकता है।

यह सुनिश्चित करने का कोई तरीका नहीं है कि एंडोमेट्रियोसिस एक महिला के लिए गर्भवती होना कठिन बना देगा या नहीं। लेकिन ऐसा प्रतीत होता है कि एक महिला में जितनी अधिक एंडोमेट्रियल वृद्धि होती है, उतनी ही अधिक संभावना है कि उसे प्रजनन संबंधी समस्याओं का अनुभव होगा। फिर भी, हल्के से मध्यम एंडोमेट्रियोसिस वाले कई लोग अभी भी गर्भधारण कर सकते हैं और गर्भावस्था को समाप्त कर सकते हैं। डॉक्टर कभी-कभी एंडोमेट्रियोसिस वाले लोगों को सलाह देते हैं कि वे बच्चे पैदा करने में देरी न करें क्योंकि समय के साथ स्थिति खराब हो सकती है।

बांझपन

माँ और बच्चे को एंडोमेट्रियोसिस के संभावित जोखिम क्या हैं?

एंडोमेट्रियोसिस गर्भाधान को प्रभावित कर सकता है और सी-सेक्शन की आवश्यकता की संभावना को बढ़ा सकता है। इसका मतलब यह नहीं है कि आपको उच्च जोखिम वाली गर्भावस्था होगी, लेकिन स्थिति होने से कुछ समस्याओं का खतरा बढ़ सकता है, जिनमें शामिल हैं:

o प्लेसेंटा प्रीवियाओ -शोध से पता चलता है कि एंडोमेट्रियोसिस वाली महिलाओं में प्लेसेंटा प्रीविया होने की संभावना 1.6 से 15 गुना अधिक होती है, जहां प्लेसेंटा गर्भाशय में कम प्रत्यारोपित होता है और गर्भाशय ग्रीवा के सभी हिस्से को कवर करता है। इससे आपको सी-सेक्शन की आवश्यकता होने की अधिक संभावना हो सकती है।

o गर्भपात - इसके बारे में सोचकर दुख होता है, लेकिन एंडोमेट्रियोसिस उन महिलाओं की तुलना में गर्भावस्था के नुकसान की संभावना को बढ़ा सकता है जिन्हें यह स्थिति नहीं है। लेकिन याद रखें कि एंडोमेट्रियोसिस वाली कई महिलाओं के लिए स्वस्थ गर्भावस्था और बच्चे का होना संभव है।

o समय से पहले जन्म - साक्ष्य यह भी बताते हैं कि एंडोमेट्रियोसिस के कारण होने वाली सूजन को समय से पहले जन्म देने के उच्च जोखिम से जोड़ा जा सकता है। जबकि समय से पहले प्रसव को रोकने का कोई तरीका नहीं है, आपका डॉक्टर आपके जोखिम कारकों को प्रबंधित करने और आपके बच्चे को प्रसव तक ले जाने की संभावनाओं को बढ़ाने में आपकी मदद कर सकता है।

o प्रीक्लेम्पसिया - हाल के साक्ष्यों से पता चलता है कि एंडोमेट्रियोसिस आपको प्रीक्लेम्पसिया विकसित करने के लिए कुछ अधिक प्रवण बना सकता है। अच्छी खबर यह है कि नियमित प्रसव पूर्व देखभाल अक्सर प्रारंभिक अवस्था में स्थिति को पकड़ सकती है, जब आप जीवनशैली में बदलाव के साथ इसे नियंत्रित करने में सक्षम हो सकते हैं।

• कैंसर

डिम्बग्रंथि का कैंसर एंडोमेट्रियोसिस वाले लोगों में अपेक्षा से अधिक दर पर होता है। लेकिन शुरुआत में डिम्बग्रंथि के कैंसर का समग्र जीवनकाल जोखिम कम होता है। कुछ अध्ययनों से पता चलता है कि एंडोमेट्रियोसिस उस जोखिम को बढ़ाता है, लेकिन यह अभी भी अपेक्षाकृत कम है। हालांकि दुर्लभ, एक अन्य प्रकार का कैंसर, एंडोमेट्रियोसिस से जुड़े एडेनोकार्सिनोमा, जीवन में बाद में उन लोगों में विकसित हो सकता है जिन्हें एंडोमेट्रियोसिस हुआ है।

कुछ अध्ययनों ने माना है कि एंडोमेट्रियोसिस वाली महिलाओं में कुछ प्रकार के डिम्बग्रंथि के कैंसर के विकास के लिए एक बढ़ा जोखिम होता है, जिसे एपिथेलियल डिम्बग्रंथि के कैंसर (ईओसी) के रूप में जाना जाता है। एंडोमेट्रियोसिस और प्राथमिक बांझपन (जिन्होंने कभी गर्भधारण नहीं किया है) दोनों के साथ महिलाओं में यह जोखिम सबसे अधिक है। संयोजन मौखिक गर्भनिरोधक गोलियों (ओसीपी) का उपयोग, जो कभी-कभी एंडोमेट्रियोसिस के उपचार में उपयोग किया जाता है, इस जोखिम को काफी कम करता प्रतीत होता है।

एंडोमेट्रियोसिस और ओवेरियन एपिथेलियल कैंसर के बीच संबंध के कारणों को स्पष्ट रूप से समझा नहीं गया है। एक सिद्धांत यह है कि एंडोमेट्रियोसिस प्रत्यारोपण स्वयं कैंसर में घातक परिवर्तन से गुजरता है। एक और संभावना यह है कि एंडोमेट्रियोसिस की उपस्थिति अन्य आनुवंशिक या पर्यावरणीय कारकों से संबंधित हो सकती है जो महिलाओं में डिम्बग्रंथि के कैंसर के विकास के जोखिम को बढ़ाने का काम करते हैं।

क्या आहार एंडोमेट्रियोसिस को प्रभावित करता है?

ऐसा कोई डेटा नहीं है जो अच्छी तरह से स्थापित हो जो यह दर्शाता हो कि आहार में संशोधन एंडोमेट्रियोसिस के लक्षणों को रोक सकता है या कम कर सकता है। एक अध्ययन से पता चला है कि हरी सब्जियों और फलों का अधिक सेवन एंडोमेट्रियोसिस के विकास के कम जोखिम से जुड़ा था, जबकि रेड मीट का अधिक सेवन उच्च जोखिम से जुड़ा था। शराब, दूध या कॉफी के सेवन से कोई संबंध नहीं देखा गया। यह निर्धारित करने के लिए आगे के अध्ययन की आवश्यकता है कि क्या आहार एंडोमेट्रियोसिस के विकास में भूमिका निभाता है।

आहार संबंधी कारक जो इस स्थिति के लिए फायदेमंद हो सकते हैं उनमें शामिल हैं:
• आहार से ग्लूटेन और डेयरी उत्पादों को हटाना
• फलों और सब्जियों की खपत बढ़ाना
• जंक फूड से परहेज
• ताजी सामग्री का उपयोग करके भोजन तैयार करना
• कैफीन और शराब से परहेज करें
• कम फोडमैप आहार का पालन करना
• एक प्रकार के समुद्री शैवाल का सेवन करना जिसे ब्लैडरब्रेक के नाम से जाना जाता है

एंडोमेट्रियोसिस किसे होता है?

एंडोमेट्रियोसिस महिलाओं को उनके प्रजनन वर्षों के दौरान प्रभावित करता है। एंडोमेट्रियोसिस का सटीक प्रसार ज्ञात नहीं है, क्योंकि कई महिलाएं जिन्हें बाद में इस स्थिति के रूप में पहचाना जाता है, वे स्पर्शोन्मुख हैं। एंडोमेट्रियोसिस संयुक्त राज्य अमेरिका में एक मिलियन से अधिक महिलाओं (अनुमान 3% से 18% महिलाओं तक) को प्रभावित करने का अनुमान है। यह पैल्विक दर्द के प्रमुख कारणों में से एक है और यह स्त्री रोग विशेषज्ञों द्वारा की जाने वाली कई लेप्रोस्कोपिक प्रक्रियाओं और हिस्टेरेक्टॉमी के लिए जिम्मेदार है। अनुमान बताते हैं कि बांझपन के लिए इलाज करा रही 20% से 50% महिलाओं में एंडोमेट्रियोसिस है, और पुरानी पेल्विक दर्द वाली 80% महिलाएं प्रभावित हो सकती हैं।

जबकि एंडोमेट्रियोसिस के अधिकांश मामलों का निदान 25 से 35 वर्ष की आयु की महिलाओं में किया जाता है, एंडोमेट्रियोसिस 11 वर्ष की आयु की लड़कियों में रिपोर्ट किया गया है। पोस्टमेनोपॉज़ल महिलाओं में एंडोमेट्रियोसिस दुर्लभ है। अध्ययनों से आगे पता चलता है कि कम बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) वाली लंबी, पतली महिलाओं में एंडोमेट्रियोसिस सबसे आम है। बड़ी उम्र तक गर्भावस्था में देरी, कभी जन्म नहीं देना, मासिक धर्म की शुरुआत और देर से रजोनिवृत्ति सभी को एंडोमेट्रियोसिस के जोखिम कारक दिखाया गया है। यह भी संभावना है कि आनुवंशिक कारक हैं जो एक महिला को एंडोमेट्रियोसिस विकसित करने के लिए प्रेरित करते हैं, क्योंकि इस स्थिति के साथ एक प्रथम-डिग्री रिश्तेदार होने से एक महिला की स्थिति विकसित होने की संभावना बढ़ जाती है।

एंडोमेट्रियोसिस या मासिक धर्म ऐंठन

ज्यादातर महिलाएं मासिक धर्म के साथ हल्का दर्द होने की रिपोर्ट करती हैं, और बिना पर्ची के मिलने वाली दवाएं राहत प्रदान कर सकती हैं। यदि आपका मासिक धर्म दर्द लगातार बना रहता है, सामान्य गतिविधि में हस्तक्षेप करने के लिए पर्याप्त गंभीर है, या दो दिनों से अधिक समय तक रहता है, तो अपने चिकित्सक से परामर्श करें।

मासिक धर्म ऐंठन

किशोरावस्था में एंडोमेट्रियोसिस

किशोरावस्था में एंडोमेट्रियोसिस पहले मासिक धर्म की शुरुआत से ही शुरू हो सकता है। यदि किसी किशोर को मासिक धर्म का दर्द है जो सामान्य गतिविधि में हस्तक्षेप करने के लिए पर्याप्त गंभीर है, तो चिकित्सक से परामर्श करना महत्वपूर्ण है। ओवर-द-काउंटर दर्द दवाएं और लक्षणों की सावधानीपूर्वक रिकॉर्डिंग प्रबंधन में पहला कदम हो सकता है। किशोरों और वयस्कों के लिए उपचार के विकल्प समान हैं।

एंडोमेट्रियोसिस से मुकाबला करना

जबकि एंडोमेट्रियोसिस को रोका नहीं जा सकता है, कुछ जीवनशैली उपायों से स्थिति को प्रबंधित करने और एंडोमेट्रियोसिस के लक्षणों में सुधार करने में मदद मिल सकती है। व्यायाम एंडोर्फिन के उत्पादन के माध्यम से दर्द को दूर करने में मदद कर सकता है। कुछ महिलाओं को लगता है कि योग, मालिश, एक्यूपंक्चर और ध्यान जैसी तकनीकें लक्षणों को प्रबंधित करने में सहायक होती हैं।

निष्कर्ष

एंडोमेट्रियोसिस महिलाओं में दर्द और/या बांझपन का एक सामान्य कारण है, हालांकि कई महिलाओं में इस स्थिति के कोई लक्षण नहीं होते हैं। एंडोमेट्रियोसिस के लिए चिकित्सा या शल्य चिकित्सा उपचार एंडोमेट्रियोसिस से संबंधित दर्द के लिए प्रभावी हो सकता है। पैल्विक दर्द के अन्य सह-मौजूदा कारणों का मूल्यांकन और उपचार महत्वपूर्ण है, खासकर जब एंडोमेट्रियोसिस के उपचार से दर्द से राहत नहीं मिलती है। मध्यम से गंभीर एंडोमेट्रियोसिस वाली महिलाएं जो गर्भावस्था की इच्छा रखती हैं, उनका इलाज सर्जरी से किया जा सकता है, जो आमतौर पर लैप्रोस्कोपिक रूप से किया जा सकता है। एंडोमेट्रियोसिस के इलाज के बाद कई महिलाएं गर्भावस्था को प्राप्त करेंगी। एंडोमेट्रियोसिस के लिए हार्मोनल उपचार आमतौर पर गर्भावस्था को रोकते हैं। कुछ मामलों में, उन्नत बांझपन उपचार विधियों जैसे आईवीएफ की आवश्यकता होगी।

संबंधित विषय:

1. बवासीर क्या हैं?

पुरुष बांझपन एक ऐसी स्थिति है जो किसी पुरुष में संतान पैदा करने की संभावना को कम कर देती है। इस स्थिति के इलाज के लिए कई आधुनिक उपचार उपलब्ध हैं। अधिक जानने के लिए यहां जाएं: बवासीर क्या हैं?

2. प्रजनन क्षमता और बांझपन क्या है?

फर्टिलिटी और इनफर्टिलिटी का संबंध किसी व्यक्ति की संतान पैदा करने की क्षमता से है। बांझपन के कारण कई हो सकते हैं। इसका परीक्षण और इलाज किया जा सकता है। अधिक जानने के लिए यहां जाएं: फर्टिलिटी और इनफर्टिलिटी क्या है

3. उचित पोषण का महत्व

उचित पोषण आपके शरीर को सभी आवश्यक पोषक तत्व प्रदान करता है, यह एक संतुलित आहार खाने से प्राप्त किया जा सकता है। खराब पोषण स्वास्थ्य समस्याओं का कारण बन सकता है। अधिक जानने के लिए यहां जाएं: उचित पोषण का महत्व

4. प्रतिरक्षा क्या है?

प्रतिरक्षा शरीर की यह पहचानने की क्षमता है कि क्या स्वयं का है और क्या विदेशी है। प्रतिरक्षा प्रणाली हानिकारक जीवों के प्रतिरोध का निर्माण करने का काम करती है। अधिक जानने के लिए यहां जाएं: इम्यूनिटी क्या है




उपरोक्त आवश्यक वस्तुएं एएफडी शील्ड के पास उपलब्ध हैं।

एएफडी शील्ड कैप्सूल 12 प्राकृतिक अवयवों का एक संयोजन है, जिनमें अल्गल डीएचए, अश्वगंधा, करक्यूमिन और स्पिरुलिना शामिल हैं। एएफडी शील्ड टीजी को कम करता है, एचडीएल बढ़ाता है और उम्र से संबंधित संज्ञानात्मक गिरावट में सुधार करता है। यह तनाव और चिंता को भी कम करता है और एंटी-एजिंग गतिविधि करता है। इसके अलावा, यह इम्यूनोमॉड्यूलेटरी गतिविधि को भी बढ़ाता है, प्रतिरक्षा में सुधार करता है और सूजन और ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करता है।
न्यूट्रालॉजिकक्स: एएफडी शील्ड

AFDIL Ltd.
+91 9920121021

order@afdil.com

Read Also:


Disclaimer
Home