What are Hemorrhoids?

Hemorrhoids

Hemorrhoids are swollen veins within the lowest part of the rectum and anus. Sometimes, the walls of these blood vessels stretch so thin that it leads the veins to bulge and get irritated, especially when you poop. Hemorrhoids are also referred to as piles.

Hemorrhoids are one of the most common reasons for rectal bleeding. There are many types of hemorrhoids. They often go away on their own. Treatments can also help.

what are hemorrhoids

Normal hemorrhoid tissue

Hemorrhoid tissues play an important role in helping the body get rid of waste. Food passes from the stomach through the intestines, the waste then travels through the colon to the rectum. It is then stored in the rectum until it’s ready to be passed from the anus. During bowel movements, hemorrhoids get swollen with blood and become slightly larger. This swelling helps to protect and cushion the anal canal as the stool passes from the body. Once the stool has passed, the tissues stop swelling and go becomes normal.

Types of Hemorrhoids

The types of hemorroids are as follows:

Internal Hemorrhoids
Painless rectal bleeding or prolapse of anal tissue is often associated with symptomatic internal hemorrhoids. Prolapse is hemorrhoidal tissue coming from the inner side that can often be felt on the outside of the anus when wiping or having a bowel movement. This tissue often goes back inside spontaneously or could be pushed back internally by the patient. The symptoms for this tend to grow slowly over a long period of time and are often intermittent.
Internal hemorrhoids are classified by their degree of prolapse, which helps determine management:
Grade 1: No prolapse
Grade 2: Prolapse that goes back in on its own
Grade 3: Prolapse that has got to be pushed back in by the patient
Grade 4: Prolapse that cannot be pushed back in and is often very painful
Bleeding recognized to internal hemorrhoids is usually bright red and can be quite vigorous. It may be found on the toilet paper, dripping into the toilet bowl, or streaked on the stool itself. Not all patients with symptomatic internal hemorrhoids will have significant bleeding. Instead, prolapse could be the main or only symptom. Prolapsing tissue may lead to significant irritation and itching around the anus. Patients may also suffer from mucus discharge, difficulty with cleaning themselves after a stool, or a sense that their stool is stuck at the anus with BMs. Patients without significant symptoms from internal hemorrhoids do not require treatment based on their presence alone.

Internal Hemorrhoids

External Hemorrhoids
Symptomatic external hemorrhoids often occur as a bluish-colored painful lump just outside the anus. They tend to occur spontaneously and may have been preceded by an unusual amount of straining. The skin overlying the outside of the anus is usually firmly attached to the underlying tissues. If a blood clot or thrombosis develops in this tightly held area, the pressure goes up rapidly in these tissues often causing pain. The pain is usually constant and can be severe. Occasionally the elevated pressure within the thrombosed external hemorrhoid leads to breakdown of the overlying skin and therefore the clotted blood begins to leak out. Patients may also complain of intermittent swelling, pressure and discomfort, related to external hemorrhoids which are not thrombosed.

External Hemorrhoids

Anal Skin Tags
Patients often complain of painless, soft tissue felt on the outer side of the anus. These can be the residual effect of an earlier problem with an external hemorrhoid. The blood clot stretches out the overlying skin and the skin remains stretched out after the blood clot is absorbed by the body, thereby leaving a skin tag. Other times, patients will have skin tags without an apparent preceding event. Skin tags will occasionally bother patients by interfering with their ability to clean the anus following a stool, while others just don’t like the way they appear. Usually, nothing is done to treat them beyond support. Nevertheless, surgical removal is occasionally considered.

Whom Do Hemorrhoids Affect?

Although most of the people think hemorrhoids are abnormal, almost everyone has them. Hemorrhoids help in the control of bowel movements. Types of hemorrhoids cause problems and may be considered abnormal or a disease only when the hemorrhoidal clumps of vessels enlarge.

Hemorrhoids occur in almost everyone, and an estimated 75% of people experiences enlarged hemorrhoids at some point. However, only about 4% go to a doctor due to hemorrhoid problems. Problem causing hemorrhoids are found equally in men and women, and their occurrence peaks between 45 - 65 years of age.

Stages of - Severe Hemorrhoids vs. Mild Hemorrhoids

Stages of hemorrhoids

A grading system is used to categorize hemorrhoids along four stages:

• First-degree hemorrhoids: Hemorrhoids that bleed, but do not prolapse. These are slightly enlarged hemorrhoids, but they do not protrude outside the anus.

• Second-degree hemorrhoids: Hemorrhoids that prolapse and retract on their own (with or without bleeding). These may come out of the anus during certain activities like passing stool, then return back inside the body.

• Third-degree hemorrhoids: Hemorrhoids that prolapse and must be pushed back in by a finger.

• Fourth-degree hemorrhoids: Hemorrhoids that prolapse and cannot be pushed back in the anal canal. They also include hemorrhoids that are thrombosed (containing blood clots) or that pull much of the lining of the rectum through the anus.

Symptoms of Hemorrhoids

Signs and symptoms depends on different types of haemorrhoids:

Internal hemorrhoids
Internal hemorrhoids are so far inside your rectum that they can't usually be seen or felt. They don't usually hurt because there are few pain - sensing nerves over there. Symptoms of internal hemorrhoids comprise:
• Blood on the poop, on toilet paper after you wipe, or in the toilet bowl
• Tissue that bulges outside your anal opening. This may hurt, often when you poop. You might be able to see prolapsed hemorrhoids as moist bumps that are pinker than the encompassing area. These usually go back inside on their own. Even if they don't, they can often be gently pushed back into place.

External hemorrhoids
External hemorrhoids occur under the skin around the anus, where there are several more pain - sensing nerves. Symptoms of external hemorrhoids comprise:
• Pain
• Bleeding
• Itching
• Swelling

Thrombosed hemorrhoids
A blood clot can turn an external hemorrhoid purple or blue. This is known as a thrombosis or a thrombosed hemorrhoid. Symptoms of thrombosed hemorrhoids comprise:
• Severe pain
• Itching
• Bleeding

When to see a doctor?

If there is bleeding during bowel movements or there are hemorrhoids that don't improve after a week of home care, talk to your doctor.

Don't assume rectal bleeding is because of hemorrhoids, especially if there are changes in bowel habits or if the stools change in colour or consistency. Rectal bleeding can also occur with or due to other diseases, including colorectal cancer and anal cancer.

Seek emergency care if there is a large amount of rectal bleeding, light headedness, dizziness or faintness.

Who is at risk for hemorrhoids?

Hemorrhoids are extremely common. Most of the people will have a hemorrhoid at some time in their life.

People more likely to get hemorrhoids may include those who are:

• Are pregnant
• Sit on the toilet for too long
• Are obese
• Do things that make them strain more, such as heavy lifting
• Have a family history of hemorrhoids
• Have long-term or chronic constipation or diarrhea
• Are between 45 and 65 years old

Causes and Risk Factors of Hemorrhoids

The exact cause of haemorrhoids is unclear, but they're associated with increased pressure in the blood vessels in and around your anus. This pressure can cause the blood vessels in your back passage to become swollen and inflamed. People are more likely to get hemorrhoids if other family members, like their parents, had them.

Many cases are thought to be caused by too much straining on the toilet, due to prolonged constipation – this is often due to a lack of fibre in a person's diet. Chronic (long-term) diarrhoea can also make you more vulnerable to getting haemorrhoids.

Other factors that might increase your risk of developing haemorrhoids include:
• being overweight or obese
• age – as you get older, your body's supporting tissues get weaker, increasing your risk of haemorrhoids
• being pregnant – which can place increased pressure on your pelvic blood vessels, causing them to enlarge
• having a family history of haemorrhoids
• regularly lifting heavy objects
• a persistent cough or repeated vomiting
• sitting down for long periods of time
• Pushing during bowel movements
• A diet low in fiber
• Anal sex

Hemorrhoids Diagnosis

The doctor will ask about patient’s medical history and symptoms. They’ll probably need to do one or both of these examinations:

• Physical exam - The doctor will look at the anus and rectum to check for lumps, swelling, irritation, or other problems.

• Digital rectal exam - The doctor will put on gloves, apply lubrication, and insert a finger into the rectum to check muscle tone and feel for tenderness, lumps, or other problems.

To diagnose internal hemorrhoids or rule out other conditions, there might be a need of a more thorough test, including:

• Anoscopy - The doctor uses a short plastic tube called an anoscope to look into the anal canal.

• Sigmoidoscopy - The doctor looks into the lower colon with a flexible lighted tube called a sigmoidoscope. They can also use the tube to take a bit of tissue for tests.

• Colonoscopy - The doctor looks at all of the large intestine with a long, flexible tube called a colonoscope. They can also take tissue samples or treat other problems they find.

Hemorrhoids Treatment

Hemorrhoid symptoms usually go away on their own. The doctor’s treatment plan will depend on how severe the symptoms are and the types of hemorrhoids.

• Home care

Simple lifestyle changes can often relieve mild hemorrhoid symptoms within 2 to 7 days. Add fiber to the diet with over-the counter supplements and foods like fruit, vegetables, and grains. Try not to strain during bowel movements; drinking more water can make it easier to go. Warm sitz baths for 20 minutes several times a day may also make you feel better. Ice packs can ease pain and swelling.
Try the following tips to soothe the pain and itching of haemorrhoids:

o Warm Bath or Sitz Bath - It’s a time-honored therapy: Sit in about 3 inches of warm (not hot) water for 15 minutes or so, several times a day. This helps reduce swelling in the area and relaxes your clenching sphincter muscle. It's especially good after pooping.

o Ointments - Put a little petroleum jelly just inside your anus to make pooping hurt less. Don't force it! Or use over-the-counter creams or ointments made for hemorrhoid symptoms. A 1% hydrocortisone cream on the skin outside the anus (not inside) can relieve itching, too. But don't use it for longer than a week unless your doctor says it's OK.

o Witch Hazel - Dab witch hazel on irritated hemorrhoids. It’s a natural anti-inflammatory that can work against swelling and itching.

o Soothing Wipes - After you poop, clean yourself gently with a baby wipe, a wet cloth, or a medicated pad.

o Cold Compress - Try putting a simple cold pack on the tender area for a few minutes to numb it and bring down the swelling.

o Loose Clothing - Weaning loose clothing in a breathable fabric like cotton may help with discomfort.

o High-Fiber Diet - It's the best thing for hemorrhoids: A diet rich in high-fiber foods and with few processed foods. Eat mostly vegetables, fruit, nuts, and whole grains to avoid constipation.

o Stool Softeners - If you can't get enough fiber from food, your doctor may want you to take a fiber supplement or stool softener. Don't take laxatives, because they can cause diarrhea that could irritate hemorrhoids.

o Keep Hydrated - Drink seven to eight glasses of water each day, at least a half-gallon total. If you're very active or you live in a hot climate, you may need even more.

Even if doctor prescribes medication or suggests surgery, you'll probably need to change your diet. Introduce new foods slowly to avoid gas.

• Nonsurgical treatments

Over-the-counter creams and other medications ease pain, swelling, and itching.

o Hemorrhoid Medications
Pain relievers, like acetaminophen, ibuprofen, and aspirin, may help with the hemorrhoid symptoms. There are also a variety of over-the-counter creams, ointments, suppositories, and medicated pads to choose from. They contain medicines like lidocaine to numb the area, or hydrocortisone or witch hazel, to reduce swelling and itching.

o Medical Procedures for Hemorrhoids If the symptoms are severe or aren't getting better after a couple of weeks, the doctor may suggest a procedure to shrink or remove the hemorrhoids. Many can be performed in their office.

- Injection: The doctor can inject an internal hemorrhoid with a solution to create a scar and close off the hemorrhoid. The shot pain is very modest.

Injection

- Rubber band ligation: This procedure is often done on prolapsed hemorrhoids, internal hemorrhoids that can be seen or felt outside. Using a special tool, the doctor puts a tiny rubber band around the hemorrhoid, which shuts off its blood supply almost instantly. Within a week, the hemorrhoid will dry up, shrink, and fall off.

Rubber band ligation

- Coagulation or cauterization: With an electric probe, a laser beam, or an infrared light, the doctor will make a tiny burn to remove tissue and painlessly seal the end of the hemorrhoid, causing it to close off and shrink. This procedure works best for prolapsed hemorrhoids.

Coagulation

• Surgical treatments

If there are large hemorrhoids, or if other treatments haven’t helped, there might be a need for surgery. Your doctor can use chemicals, lasers, infrared light, or tiny rubber bands to get rid of them. If they’re especially large or keep coming back, your doctor might need to remove them with a sharp tool called a scalpel.

o Hemorrhoidectomy

Hemorrhoidectomy

Surgery to remove hemorrhoids is called hemorrhoidectomy. The doctor makes small cuts around the anus to slice them away.
Local anesthesia (the area being operated on is numb, and you're awake though relaxed) or general anesthesia (you're put to sleep) may be given. Hemorrhoidectomy is often an outpatient procedure, and you can usually go home the same day.
Because it's highly sensitive near the cuts and stitches might be needed, the area can be tender and painful afterward.
Recovery most often takes about 2 weeks, but it can take as long as 3 to 6 weeks to feel like back to normal.

o Procedure for Prolapse and Hemorrhoids (PPH)
PPH is also called a stapled hemorrhoidectomy. The doctor will use a stapler-like device to reposition the hemorrhoids and cut off their blood supply. Without blood, they'll eventually shrivel and die.
It can treat hemorrhoids that have and have not prolapsed, or slipped down out of the anus.

stapled hemorrhoidectomy

This procedure involves following steps:

- A circular, hollow tube is inserted into the anal canal and a suture (a long thread) is placed through it and woven circumferentially within the anal canal above the internal hemorrhoids.

- The ends of the suture are brought out of the anus through the hollow tube.

- The stapler is placed through the hollow tube and the ends of the suture are pulled, expanding the hemorrhoidal supporting tissue into the jaws of the stapler.

- The hemorrhoidal cushions are pulled back up into their normal position within the anal canal.

- The stapler is then fired, cutting off the circumferential ring of expanded hemorrhoidal supporting tissue trapped within the stapler.

- At the same time staples bring together the upper and lower edges of the cut tissue.

This procedure moves the hemorrhoid to where there are fewer nerve endings, so it hurts less than a traditional hemorrhoidectomy. The recovery will be faster and there wil be less bleeding and itching. And there are generally fewer complications.

o Hemorrhoidal Artery Ligation and Recto Anal Repair (HAL-RAR)
Hemorrhoidal Artery Ligation and Recto Anal Repair (HAL-RAR) is a new procedure in which a miniature Doppler sensor is inserted in the anus to detect the arteries supplying blood to hemorrhoids.
The surgeon can pinpoint the arteries supplying the hemorrhoids and can tie them off to cut the blood supply. The hemorrhoids are reduced almost immediately and within weeks, are no longer noticeable. The procedure is effective and virtually painless.

• Other procedures

Laser destruction, cryotherapy, and various types of electrodestruction are of unproven efficacy.

Hemorrhoids Complications

Rarely, hemorrhoids could lead to complications including:

• Skin tags - When the clot in a thrombosed hemorrhoid dissolves, you may have a bit of skin left over, which could get irritated.

• Anemia - Too much blood might be lost if there is a hemorrhoid that lasts a long time and bleeds a lot.

• Infection - Some external hemorrhoids have sores that get infected.

• Strangulated haemorrhoid - Muscles can block the blood flow to a prolapsed hemorrhoid. This may be very painful and need surgery.

Hemorrhoids Prevention

To prevent hemorrhoids, below are a few steps:

• Eat fiber - It helps food pass through your system easier. A good way to get it is from plant foods: vegetables, fruits, whole grains, nuts, seeds, beans, and legumes. Aim for 20 to 35 grams of dietary fiber a day.

• Use fiber supplements - Over-the-counter supplements can help soften stool if you don’t get enough fiber from food. Start with a small amount, and slowly use more.

• Drink water - It will help you avoid hard stools and constipation, so you strain less during bowel movements. Fruits and vegetables, which have fiber, also have water in them.

• Exercise - Physical activity, like walking a half-hour every day, keeps your blood and your bowels moving.

• Don't wait to go - Use the toilet as soon as you feel the urge.

• Don’t strain during a bowel movement or sit on the toilet for long periods. This puts more pressure on your veins.

• Keep a healthy weight.

Hemorrhoids Prevention

How Long Do Hemorrhoids Take to Heal?

For most of the people, hemorrhoids last long. Ongoing pain is particularly common for people over age 50. For a lot of people, hemorrhoidal pain returns years after treatment, and for several others the condition comes and goes, becoming more common over time.

Do Hemorrhoids Ever Go Away on Their Own?

Sometimes they do go away on their own. Smaller hemorrhoids are apt to go away in just a couple of days. It's a good idea during this time to avoid further irritating the rectal area by keeping the area as clean as possible.

Dietary/Lifestyle Changes

The cornerstone of therapy, in spite of whether surgery is required or not, is dietary and lifestyle change. The main changes comprise of increasing dietary fiber, taking a fiber supplement, getting plenty of fluids by mouth, and exercising. This is all designed to regulate, not necessarily soften, the bowel movements. The goal is to avoid both very hard stools and diarrhea, while achieving a soft, bulky, easily cleaned type of stool. This kind of stool seems to be the best type to prevent anal problems of almost all types.

It is usually suggested to attain 20-35 grams of fiber per day in the diet, including ample of fruits and vegetables. Most people can benefit from taking a fiber supplement one to two times daily. These supplements are available in powder, chewable, and capsule/tablet forms. Also important is adequate fluid (preferably water) consumption, often considered 8-10 glasses daily. Caffeinated drinks and alcohol tend to be dehydrating and therefore do not count toward this total.

Lifestyle Changes

Beneficial foods

Beans, lentils, and nuts are fiber-rich foods that can add a boost of flavor to salads, chilis, and rice. Depending on the type you choose, a half cup of beans can contain 7-10 grams of fiber, both soluble and insoluble. It takes just 20 almonds to add 3 grams of fiber to your salad. A half cup of edamame adds the same fiber grams as the almonds but about half the calories.

Other high-fiber foods to choose include:
• Whole-grain bread
• Wheat germ or oat bran
• Instant or regular oatmeal
• Salads that include dark leafy green vegetables, such as kale or spinach
• Green peas
• Zucchini
• Summer squash

Most fruits and a few foods, like potatoes, hold some of their fiber and a lot of other nutrients in the skin. Choose thin-skinned fruits like apples, pears, and plums to help make sure you get the fiber and flavor you desire.

Foods to avoid

Low-fiber foods that can cause or worsen constipation and lead to hemorrhoids include:
• Milk, cheese, ice cream, and other dairy foods
• Meat
• White bread and bagels
• Processed foods like sandwich meat, pizza, frozen meals, and other fast foods

Watch the quantity of salt you eat. It can cause your body hanging on to water, which puts more pressure on the blood vessels. That includes the veins in your bottom that cause hemorrhoids.

Iron supplements can cause constipation and other digestive problems, so consult your doctor before you take them.

Hemorrhoids and Pregnancy

Hemorrhoids are frequent during pregnancy, particularly in the third trimester, when the enlarged uterus puts pressure on the pelvis and the veins near the anus and rectum. The increased level of the hormone progesterone during pregnancy can also add to the development of hemorrhoids: Progesterone relaxes the walls of the veins, making them more likely to swell.

Some women get hemorrhoids for the first time when they’re pregnant. But if you’ve had hemorrhoids before, you’re more likely to get them again when you’re pregnant.

Fortunately, hemorrhoids usually aren't harmful to your health or the health of your baby, and they typically go away on their own once you give birth. You can often ease the symptoms with home care, but check with your doctor first to make sure any treatments are safe to take during your pregnancy.

Do Hemorrhoids Lead To Colorectal Cancer?

Hemorrhoids don’t increase the risk of colorectal cancer nor cause it. However, more serious conditions can cause similar symptoms. Even when a hemorrhoid has healed completely, the colon and rectal surgeon may request other tests. A colonoscopy may be done to rule out other causes of rectal bleeding. Every person aged 45 and older should undergo a colonoscopy to screen for colorectal cancer.

Conclusion

Therapeutic treatment of hemorrhoids range from dietary and lifestyle modification to major surgery, depending on degree and severity of the symptoms. Although surgery is an efficient treatment of hemorrhoids, it is reserved for complex disease and it can be associated with appreciable complications. Meanwhile, non-operative treatments are not fully efficient, in particular those of topical or pharmacological approach. Hence, improvements in our understanding of the pathophysiology of hemorrhoids are needed to prompt the development of novel and innovative methods for the treatment of hemorrhoids.

Related topics:

1. Can Male Infertility Be Cured

Male infertility is a condition in a man that reduces the chances of producing offspring. There are many modern treatments available to treat this condition. To know more visit: Can Male Infertility Be Cured

2. What Is Fertility and Infertility?

Fertility and infertility are related to the ability of a person to produce offspring. The cause of infertility could be many. It can be tested and treated. To know more visit: What Is Fertility and Infertility

3. Importance Of Proper Nutrition

Proper nutrition provides your body all the necessary nutrients, this can be achieved by eating a well-balanced diet. Poor nutrition can cause health issues. To know more visit: Importance Of Proper Nutrition

4. What Is Immunity?

Immunity is the ability of the body to recognize what belongs to self and what is foreign. The immune system works to build resistance to harmful organisms. To know more visit: What Is Immunity




The above essentials are available with AFDSHIELD.

AFDShield capsule is a combination of 12 natural ingredients among which are Algal DHA, Ashwagandha, Curcumin and Spirullina. AFD Shield reduces TG, increases HDL and improves age related cognitive decline. It also reduces stress and anxiety and performs anti-aging activity.Moreover, it also enhances the immunomodulatory activity, improves immunity and reduces inflammation and oxidative stress.
Nutralogicx: AFDShield

बवासीर क्या हैं?

बवासीर

बवासीर मलाशय और गुदा के सबसे निचले हिस्से में सूजी हुई नसें होती हैं। कभी-कभी, इन रक्त वाहिकाओं की दीवारें इतनी पतली हो जाती हैं कि इससे नसें उभारने लगती हैं और जलन होती है, खासकर जब आप शौच करते हैं। बवासीर को बवासीर भी कहा जाता है।

बवासीर मलाशय से रक्तस्राव के सबसे सामान्य कारणों में से एक है। बवासीर कई प्रकार की होती है। वे अक्सर अपने आप चले जाते हैं। उपचार भी मदद कर सकते हैं।

बवासीर क्या हैं

सामान्य बवासीर ऊतक

बवासीर के ऊतक शरीर को अपशिष्ट से छुटकारा पाने में मदद करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। भोजन पेट से आंतों से होकर गुजरता है, अपशिष्ट फिर बृहदान्त्र से होते हुए मलाशय में जाता है। इसे तब तक मलाशय में रखा जाता है जब तक कि यह गुदा से निकलने के लिए तैयार न हो जाए। मल त्याग के दौरान बवासीर खून से सूज जाती है और थोड़ी बड़ी हो जाती है। यह सूजन गुदा नहर को बचाने और कुशन करने में मदद करती है क्योंकि मल शरीर से बाहर निकलता है। एक बार मल निकल जाने के बाद, ऊतक सूजन बंद कर देते हैं और जाना सामान्य हो जाता है।

बवासीर के प्रकार

बवासीर के प्रकार इस प्रकार हैं:

आंतरिक बवासीर
दर्द रहित मलाशय से रक्तस्राव या गुदा ऊतक का आगे बढ़ना अक्सर रोगसूचक आंतरिक बवासीर से जुड़ा होता है। प्रोलैप्स हेमोराहाइडल ऊतक है जो अंदरूनी तरफ से आता है जिसे अक्सर मल त्याग या मल त्याग करते समय गुदा के बाहर महसूस किया जा सकता है। यह ऊतक अक्सर अनायास वापस अंदर चला जाता है या रोगी द्वारा आंतरिक रूप से पीछे धकेला जा सकता है। इसके लक्षण लंबे समय तक धीरे-धीरे बढ़ते हैं और अक्सर रुक-रुक कर होते हैं।
आंतरिक बवासीर को उनके आगे बढ़ने की डिग्री के आधार पर वर्गीकृत किया जाता है, जो प्रबंधन को निर्धारित करने में मदद करता है:
ग्रेड 1: कोई आगे को बढ़ाव नहीं
ग्रेड 2: प्रोलैप्स जो अपने आप वापस आ जाता है
ग्रेड 3: प्रोलैप्स जिसे रोगी को पीछे धकेलना पड़ता है
ग्रेड 4: प्रोलैप्स जिसे पीछे धकेला नहीं जा सकता है और अक्सर बहुत दर्दनाक होता है
आंतरिक बवासीर के लिए पहचाना जाने वाला रक्तस्राव आमतौर पर चमकदार लाल होता है और यह काफी जोरदार हो सकता है। यह टॉयलेट पेपर पर पाया जा सकता है, टॉयलेट कटोरे में टपकता है, या स्टूल पर ही स्ट्रीक होता है। लक्षणात्मक आंतरिक बवासीर वाले सभी रोगियों में महत्वपूर्ण रक्तस्राव नहीं होगा। इसके बजाय, प्रोलैप्स मुख्य या एकमात्र लक्षण हो सकता है। ऊतक के आगे बढ़ने से गुदा के आसपास महत्वपूर्ण जलन और खुजली हो सकती है। मरीजों को बलगम के निर्वहन, मल के बाद खुद को साफ करने में कठिनाई या बीएम के साथ गुदा में मल के फंसने का अहसास भी हो सकता है। आंतरिक बवासीर के महत्वपूर्ण लक्षणों वाले रोगियों को अकेले उनकी उपस्थिति के आधार पर उपचार की आवश्यकता नहीं होती है।

आंतरिक बवासीर

बाहरी बवासीर
लक्षणात्मक बाहरी बवासीर अक्सर गुदा के बाहर एक नीले रंग की दर्दनाक गांठ के रूप में होती है। वे अनायास होते हैं और हो सकता है कि असामान्य मात्रा में तनाव से पहले हो। गुदा के बाहर की त्वचा आमतौर पर अंतर्निहित ऊतकों से मजबूती से जुड़ी होती है। यदि इस कसकर पकड़े हुए क्षेत्र में रक्त का थक्का या घनास्त्रता विकसित हो जाती है, तो इन ऊतकों में दबाव तेजी से बढ़ जाता है, जिससे अक्सर दर्द होता है। दर्द आमतौर पर स्थिर होता है और गंभीर हो सकता है। कभी-कभी थ्रोम्बोस्ड बाहरी बवासीर के भीतर ऊंचा दबाव ऊपर की त्वचा के टूटने की ओर जाता है और इसलिए थके हुए रक्त का रिसाव शुरू हो जाता है। मरीजों को बाहरी बवासीर से संबंधित आंतरायिक सूजन, दबाव और परेशानी की भी शिकायत हो सकती है जो थ्रोम्बोस्ड नहीं होते हैं।

बाहरी बवासीर

गुदा त्वचा टैग
मरीजों को अक्सर दर्द रहित, गुदा के बाहरी हिस्से में नरम ऊतक महसूस होने की शिकायत होती है। ये बाहरी बवासीर के साथ पहले की समस्या का अवशिष्ट प्रभाव हो सकता है। रक्त का थक्का ऊपर की त्वचा को फैला देता है और रक्त के थक्के को शरीर द्वारा अवशोषित कर लेने के बाद त्वचा खिंची हुई रहती है, जिससे त्वचा का टैग निकल जाता है। दूसरी बार, रोगियों के पास एक स्पष्ट पूर्ववर्ती घटना के बिना त्वचा टैग होंगे। त्वचा के टैग कभी-कभी मल के बाद गुदा को साफ करने की उनकी क्षमता में हस्तक्षेप करके रोगियों को परेशान करते हैं, जबकि अन्य लोग जिस तरह से दिखाई देते हैं उसे पसंद नहीं करते हैं। आमतौर पर, समर्थन से परे उनका इलाज करने के लिए कुछ भी नहीं किया जाता है। फिर भी, कभी-कभी सर्जिकल हटाने पर विचार किया जाता है।

बवासीर किसे प्रभावित करता है?

हालांकि अधिकांश लोगों को लगता है कि बवासीर असामान्य है, लगभग सभी को यह होता है। बवासीर मल त्याग को नियंत्रित करने में मदद करता है। बवासीर के प्रकार समस्याएं पैदा करते हैं और इसे असामान्य या बीमारी तभी माना जा सकता है जब बवासीर के जहाजों के गुच्छे बड़े हो जाते हैं।

बवासीर लगभग सभी में होता है, और अनुमानित 75% लोग किसी न किसी बिंदु पर बढ़े हुए बवासीर का अनुभव करते हैं। हालांकि, बवासीर की समस्या के कारण केवल 4% ही डॉक्टर के पास जाते हैं। बवासीर की समस्या पुरुषों और महिलाओं में समान रूप से पाई जाती है और 45 से 65 वर्ष की उम्र के बीच इसकी घटना चरम पर पहुंच जाती है।

गंभीर बवासीर बनाम हल्के बवासीर - के चरण

बवासीर के चरण

बवासीर को चार चरणों में वर्गीकृत करने के लिए एक ग्रेडिंग प्रणाली का उपयोग किया जाता है:

• फर्स्ट-डिग्री बवासीर: बवासीर जिसमें खून बहता है, लेकिन आगे नहीं बढ़ता। ये थोड़े बढ़े हुए बवासीर होते हैं, लेकिन ये गुदा के बाहर नहीं निकलते हैं।

• सेकेंड-डिग्री बवासीर: बवासीर जो अपने आप (रक्तस्राव के साथ या बिना) आगे बढ़ जाती है और पीछे हट जाती है। ये मल त्याग करने जैसी कुछ गतिविधियों के दौरान गुदा से बाहर आ सकते हैं, फिर शरीर के अंदर वापस आ सकते हैं।

• थर्ड-डिग्री बवासीर: बवासीर जो आगे बढ़ जाती है और एक उंगली से पीछे धकेल दी जानी चाहिए।

• फोर्थ-डिग्री बवासीर: बवासीर जो आगे बढ़ जाती है और गुदा नहर में वापस नहीं धकेली जा सकती है। इनमें बवासीर भी शामिल है जो थ्रोम्बोस्ड (रक्त के थक्कों से युक्त) होते हैं या जो गुदा के माध्यम से मलाशय के अधिकांश भाग को खींचते हैं।

बवासीर के लक्षण

लक्षण विभिन्न प्रकार के बवासीर पर निर्भर करते हैं:

आंतरिक बवासीर
आंतरिक बवासीर आपके मलाशय के अंदर इतनी दूर होती है कि उन्हें आमतौर पर देखा या महसूस नहीं किया जा सकता है। वे आमतौर पर चोट नहीं पहुँचाते क्योंकि वहाँ कुछ दर्द-संवेदी नसें होती हैं। आंतरिक बवासीर के लक्षणों में शामिल हैं:
• मल पर खून, पोंछने के बाद टॉयलेट पेपर पर, या शौचालय के कटोरे में
• ऊतक जो आपके गुदा द्वार के बाहर उभारता है। यह चोट लग सकता है, अक्सर जब आप शौच करते हैं। आप प्रोलैप्सड बवासीर को नम धक्कों के रूप में देख सकते हैं जो आसपास के क्षेत्र की तुलना में गुलाबी होते हैं। ये आमतौर पर अपने आप वापस अंदर चले जाते हैं। यहां तक ​​कि अगर वे नहीं करते हैं, तो उन्हें अक्सर धीरे से वापस जगह में धकेला जा सकता है।

बाहरी बवासीर
बाहरी बवासीर गुदा के आसपास की त्वचा के नीचे होती है, जहां कई और दर्द-संवेदी नसें होती हैं। बाहरी बवासीर के लक्षणों में शामिल हैं:
• दर्द
• रक्तस्राव
• खुजली
• सूजन

घनास्त्रता बवासीर
रक्त का थक्का बाहरी बवासीर को बैंगनी या नीला कर सकता है। इसे घनास्त्रता या थ्रोम्बोस्ड बवासीर के रूप में जाना जाता है। घनास्त्रता बवासीर के लक्षणों में शामिल हैं:
• गंभीर दर्द
• खुजली
• खून बह रहा है

डॉक्टर को कब देखना है?

यदि मल त्याग के दौरान रक्तस्राव होता है या बवासीर है जो एक सप्ताह की घरेलू देखभाल के बाद भी ठीक नहीं होती है, तो अपने डॉक्टर से बात करें।

यह न मानें कि बवासीर के कारण मलाशय से खून बह रहा है, खासकर अगर आंत्र की आदतों में बदलाव हो या यदि मल रंग या स्थिरता में बदल जाए। कोलोरेक्टल कैंसर और गुदा कैंसर सहित अन्य बीमारियों के साथ या उनके कारण भी मलाशय से रक्तस्राव हो सकता है।

यदि मलाशय से बड़ी मात्रा में रक्तस्राव, हल्का सिर दर्द, चक्कर आना या बेहोशी हो तो आपातकालीन देखभाल लें।

बवासीर के लिए जोखिम में कौन है?

बवासीर बेहद आम है। अधिकांश लोगों को अपने जीवन में कभी न कभी बवासीर होगा।

बवासीर होने की अधिक संभावना वाले लोगों में वे लोग शामिल हो सकते हैं जो हैं:

• गर्भवती हैं
• शौचालय पर बहुत देर तक बैठें
• मोटे हैं
• ऐसे काम करें जिनसे उन्हें अधिक तनाव हो, जैसे भारी सामान उठाना
• बवासीर का पारिवारिक इतिहास रहा हो
• लंबे समय से या पुरानी कब्ज या दस्त है
• 45 से 65 वर्ष के बीच के हैं

बवासीर के कारण और जोखिम कारक

बवासीर का सटीक कारण स्पष्ट नहीं है, लेकिन वे आपके गुदा के अंदर और आसपास रक्त वाहिकाओं में बढ़ते दबाव से जुड़े हैं। यह दबाव आपके पीछे के मार्ग में रक्त वाहिकाओं को सूज और सूजन का कारण बन सकता है। लोगों को बवासीर होने की अधिक संभावना होती है यदि परिवार के अन्य सदस्यों, जैसे कि उनके माता-पिता, को उन्हें हो।

कई मामलों को लंबे समय तक कब्ज के कारण शौचालय पर बहुत अधिक तनाव के कारण माना जाता है - यह अक्सर किसी व्यक्ति के आहार में फाइबर की कमी के कारण होता है। जीर्ण (दीर्घकालिक) दस्त भी आपको बवासीर होने के प्रति अधिक संवेदनशील बना सकते हैं।

बवासीर के विकास के जोखिम को बढ़ाने वाले अन्य कारकों में शामिल हैं:
• अधिक वजन या मोटा होना
• उम्र - जैसे-जैसे आप बड़े होते जाते हैं, आपके शरीर के सहायक ऊतक कमजोर होते जाते हैं, जिससे आपको बवासीर होने का खतरा बढ़ जाता है
• गर्भवती होना - जो आपके पैल्विक रक्त वाहिकाओं पर बढ़ा हुआ दबाव डाल सकता है, जिससे वे बड़े हो सकते हैं
• बवासीर का पारिवारिक इतिहास होना
• नियमित रूप से भारी वस्तुओं को उठाना
• लगातार खांसी या बार-बार उल्टी होना
• लंबे समय तक बैठे रहना
• मल त्याग के दौरान धक्का देना
• कम फाइबर वाला आहार
• गुदा मैथुन

बवासीर निदान

डॉक्टर रोगी के चिकित्सा इतिहास और लक्षणों के बारे में पूछेगा। उन्हें शायद इनमें से एक या दोनों परीक्षाएँ देनी होंगी:

• शारीरिक जांच - गांठ, सूजन, जलन या अन्य समस्याओं की जांच के लिए डॉक्टर गुदा और मलाशय की जांच करेंगे।

• डिजिटल रेक्टल परीक्षा - डॉक्टर दस्ताने पहनेंगे, चिकनाई लगाएंगे, और मांसपेशियों की टोन की जांच करने और कोमलता, गांठ महसूस करने के लिए मलाशय में एक उंगली डालेंगे। या अन्य समस्याएं।

आंतरिक बवासीर का निदान करने या अन्य स्थितियों से इंकार करने के लिए, अधिक गहन परीक्षण की आवश्यकता हो सकती है, जिसमें शामिल हैं:

• एनोस्कोपी - डॉक्टर गुदा नहर को देखने के लिए एनोस्कोप नामक एक छोटी प्लास्टिक ट्यूब का उपयोग करते हैं।

• सिग्मोइडोस्कोपी - डॉक्टर सिग्मोइडोस्कोप नामक एक लचीली रोशनी वाली ट्यूब के साथ निचले बृहदान्त्र में देखते हैं। वे परीक्षण के लिए कुछ ऊतक लेने के लिए ट्यूब का उपयोग भी कर सकते हैं।

• कॉलोनोस्कोपी - डॉक्टर एक लंबी, लचीली ट्यूब से पूरी बड़ी आंत को देखता है जिसे कोलोनोस्कोप कहा जाता है। वे ऊतक के नमूने भी ले सकते हैं या उन्हें मिलने वाली अन्य समस्याओं का इलाज कर सकते हैं।

बवासीर का इलाज

बवासीर के लक्षण आमतौर पर अपने आप दूर हो जाते हैं। डॉक्टर की उपचार योजना इस बात पर निर्भर करेगी कि लक्षण कितने गंभीर हैं और बवासीर के प्रकार क्या हैं।

• घरेलू देखभाल

साधारण जीवनशैली में बदलाव अक्सर 2 से 7 दिनों के भीतर हल्के बवासीर के लक्षणों को दूर कर सकते हैं। ओवर-द-काउंटर पूरक और फल, सब्जियां और अनाज जैसे खाद्य पदार्थों के साथ आहार में फाइबर जोड़ें। मल त्याग के दौरान तनाव न करने का प्रयास करें; अधिक पानी पीने से जाना आसान हो सकता है। दिन में कई बार 20 मिनट के लिए गर्म सिट्ज़ बाथ भी आपको बेहतर महसूस करा सकता है। आइस पैक दर्द और सूजन को कम कर सकते हैं।
बवासीर के दर्द और खुजली को शांत करने के लिए निम्नलिखित युक्तियों का प्रयास करें:

o वार्म बाथ या सिट्ज़ बाथ - यह एक समय-सम्मानित थेरेपी है: लगभग 3 इंच गर्म (गर्म नहीं) पानी में 15 मिनट या उससे अधिक, दिन में कई बार बैठें। यह क्षेत्र में सूजन को कम करने में मदद करता है और आपके क्लिंचिंग स्फिंक्टर की मांसपेशियों को आराम देता है। शौच के बाद यह विशेष रूप से अच्छा होता है।

o मलहम - मल त्याग को कम करने के लिए थोड़ी सी पेट्रोलियम जेली अपनी गुदा के अंदर डालें। जबरदस्ती मत करो! या बवासीर के लक्षणों के लिए बनी ओवर-द-काउंटर क्रीम या मलहम का उपयोग करें। गुदा के बाहर (अंदर नहीं) त्वचा पर 1% हाइड्रोकार्टिसोन क्रीम खुजली से भी राहत दिला सकती है। लेकिन एक सप्ताह से अधिक समय तक इसका उपयोग न करें जब तक कि आपका डॉक्टर यह न कहे कि यह ठीक है।

o Witch Hazel - चिड़चिड़ी बवासीर पर डब विच हेज़ल लगाएं। यह एक प्राकृतिक विरोधी भड़काऊ है जो सूजन और खुजली के खिलाफ काम कर सकता है।

o सूथिंग वाइप्स - शौच के बाद, अपने आप को बेबी वाइप, गीले कपड़े या मेडिकेटेड पैड से धीरे से साफ करें।

o कोल्ड कंप्रेस - एक साधारण कोल्ड पैक को निविदा वाली जगह पर कुछ मिनट के लिए लगाकर देखें ताकि वह सुन्न हो जाए और सूजन कम हो जाए।

o ढीले कपड़े - सूती जैसे सांस लेने वाले कपड़े में ढीले कपड़ों को छुड़ाने से असुविधा में मदद मिल सकती है।

o उच्च-फाइबर आहार - यह बवासीर के लिए सबसे अच्छी चीज है: उच्च फाइबर खाद्य पदार्थों और कुछ प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थों से भरपूर आहार। कब्ज से बचने के लिए ज्यादातर सब्जियां, फल, मेवे और साबुत अनाज खाएं।

o स्टूल सॉफ्टनर - अगर आपको भोजन से पर्याप्त फाइबर नहीं मिल रहा है, तो आपका डॉक्टर आपको फाइबर सप्लीमेंट या स्टूल सॉफ्टनर लेने के लिए कह सकता है। जुलाब न लें, क्योंकि वे दस्त का कारण बन सकते हैं जो बवासीर को परेशान कर सकते हैं।

o हाइड्रेटेड रखें - प्रतिदिन सात से आठ गिलास पानी पिएं, कम से कम आधा गैलन पानी। यदि आप बहुत सक्रिय हैं या आप गर्म जलवायु में रहते हैं, तो आपको और भी अधिक की आवश्यकता हो सकती है।

भले ही डॉक्टर दवा लिख ​​दे या सर्जरी का सुझाव दे, आपको शायद अपना आहार बदलना होगा। गैस से बचने के लिए धीरे-धीरे नए खाद्य पदार्थों का परिचय दें।

• गैर शल्य चिकित्सा उपचार

काउंटर पर मिलने वाली क्रीम और अन्य दवाएं दर्द, सूजन और खुजली को कम करती हैं।

बवासीर की दवाएं
दर्द निवारक, जैसे एसिटामिनोफेन, इबुप्रोफेन और एस्पिरिन, बवासीर के लक्षणों में मदद कर सकते हैं। चुनने के लिए विभिन्न प्रकार की ओवर-द-काउंटर क्रीम, मलहम, सपोसिटरी और औषधीय पैड भी हैं। उनमें सूजन और खुजली को कम करने के लिए क्षेत्र को सुन्न करने के लिए लिडोकेन, या हाइड्रोकार्टिसोन या विच हेज़ल जैसी दवाएं होती हैं।

o बवासीर के लिए चिकित्सा प्रक्रिया यदि लक्षण गंभीर हैं या कुछ हफ़्ते के बाद ठीक नहीं हो रहे हैं, तो डॉक्टर बवासीर को सिकोड़ने या हटाने की प्रक्रिया सुझा सकते हैं। उनके कार्यालय में कई प्रदर्शन किए जा सकते हैं।

- इंजेक्शन: डॉक्टर एक आंतरिक बवासीर को एक समाधान के साथ इंजेक्ट कर सकते हैं जिससे एक निशान बन जाए और बवासीर को बंद कर दें। शॉट दर्द बहुत मामूली है।

इंजेक्शन

- रबर बैंड लिगेशन: यह प्रक्रिया अक्सर प्रोलैप्स्ड बवासीर, आंतरिक बवासीर पर की जाती है जिसे बाहर देखा या महसूस किया जा सकता है। एक विशेष उपकरण का उपयोग करते हुए, डॉक्टर बवासीर के चारों ओर एक छोटा रबर बैंड लगाता है, जिससे रक्त की आपूर्ति लगभग तुरंत बंद हो जाती है। एक सप्ताह के भीतर, बवासीर सूख जाएगा, सिकुड़ जाएगा और गिर जाएगा।

रबर बैंड लिगेशन

- जमावट या दाग़ना: एक विद्युत जांच, एक लेजर बीम, या एक अवरक्त प्रकाश के साथ, डॉक्टर ऊतक को हटाने के लिए एक छोटा सा जला देगा और दर्द रहित रूप से बवासीर के अंत को सील कर देगा, जिससे यह बंद हो जाएगा और सिकुड़ जाएगा। यह प्रक्रिया प्रोलैप्सड बवासीर के लिए सबसे अच्छा काम करती है।

जमावट

• सर्जिकल उपचार

यदि बड़ी बवासीर है, या यदि अन्य उपचारों ने मदद नहीं की है, तो सर्जरी की आवश्यकता हो सकती है। आपका डॉक्टर इनसे छुटकारा पाने के लिए रसायनों, लेजर, इंफ्रारेड लाइट या छोटे रबर बैंड का उपयोग कर सकता है। यदि वे विशेष रूप से बड़े हैं या वापस आते रहते हैं, तो आपके डॉक्टर को उन्हें एक धारदार उपकरण से निकालने की आवश्यकता हो सकती है जिसे स्केलपेल कहा जाता है।

o हेमोराहाइडेक्टोमी

हेमोराहाइडेक्टोमी

बवासीर को दूर करने के लिए सर्जरी को हेमोराहाइडेक्टोमी कहा जाता है। डॉक्टर गुदा को काटने के लिए उसके चारों ओर छोटे-छोटे कट लगाते हैं।
लोकल एनेस्थीसिया (ऑपरेट किया जा रहा क्षेत्र सुन्न है, और आप आराम से जाग रहे हैं) या सामान्य एनेस्थीसिया (आपको सोने के लिए रखा गया है) दिया जा सकता है। हेमोराहाइडेक्टोमी अक्सर एक आउट पेशेंट प्रक्रिया है, और आप आमतौर पर उसी दिन घर जा सकते हैं।
चूंकि यह कट के पास अत्यधिक संवेदनशील होता है और टांके लगाने की आवश्यकता हो सकती है, यह क्षेत्र बाद में कोमल और दर्दनाक हो सकता है।
पुनर्प्राप्ति में अक्सर लगभग 2 सप्ताह लगते हैं, लेकिन वापस सामान्य होने में 3 से 6 सप्ताह तक का समय लग सकता है।

o आगे को बढ़ाव और बवासीर के लिए प्रक्रिया
पीपीएच को स्टेपल हेमोराहाइडेक्टोमी भी कहा जाता है। बवासीर को ठीक करने के लिए डॉक्टर स्टेपलर जैसे उपकरण का उपयोग करेगा और उनकी रक्त आपूर्ति को बंद कर देगा। रक्त के बिना, वे अंततः सिकुड़ कर मर जाएंगे।
यह उन बवासीर का उपचार कर सकता है जो आगे नहीं बढ़े हैं, या गुदा से बाहर निकल गए हैं।

स्टेपल हेमोराहाइडेक्टोमी

इस प्रक्रिया में निम्नलिखित चरण शामिल हैं:

- गुदा नहर में एक गोलाकार, खोखली नली डाली जाती है और इसके माध्यम से एक सिवनी (एक लंबा धागा) रखा जाता है और आंतरिक बवासीर के ऊपर गुदा नहर के भीतर परिधि में बुना जाता है।

- सीवन के सिरे खोखले ट्यूब के माध्यम से गुदा से बाहर लाए जाते हैं।

- स्टेपलर को खोखले ट्यूब के माध्यम से रखा जाता है और सिवनी के सिरों को खींचा जाता है, हेमोराहाइडल सपोर्टिंग टिश्यू को स्टेपलर के जबड़े में फैलाते हुए।

- हेमोराहाइडल कुशन को गुदा नहर के भीतर अपनी सामान्य स्थिति में वापस खींच लिया जाता है।

- फिर स्टेपलर को निकाल दिया जाता है, स्टेपलर के भीतर फंसे विस्तारित हेमोराहाइडल सपोर्टिंग टिश्यू के परिधीय रिंग को काट दिया जाता है।

- साथ ही स्टेपल कटे हुए ऊतक के ऊपरी और निचले किनारों को एक साथ लाते हैं।

यह प्रक्रिया बवासीर को उस स्थान पर ले जाती है जहां कम तंत्रिका अंत होते हैं, इसलिए यह एक पारंपरिक हेमोराहाइडेक्टोमी से कम दर्द होता है। रिकवरी तेजी से होगी और रक्तस्राव और खुजली कम होगी। और आम तौर पर कम जटिलताएं होती हैं।

o हेमोराहाइडल आर्टरी लिगेशन और रेक्टो एनल रिपेयर
बवासीर धमनी बंधन और रेक्टो गुदा मरम्मत (एचएएल-आरएआर) एक नई प्रक्रिया है जिसमें बवासीर को रक्त की आपूर्ति करने वाली धमनियों का पता लगाने के लिए गुदा में एक लघु डॉपलर सेंसर डाला जाता है।
सर्जन बवासीर की आपूर्ति करने वाली धमनियों को इंगित कर सकता है और रक्त की आपूर्ति में कटौती करने के लिए उन्हें बांध सकता है। बवासीर लगभग तुरंत कम हो जाती है और हफ्तों के भीतर, ध्यान देने योग्य नहीं रह जाती है। प्रक्रिया प्रभावी और वस्तुतः दर्द रहित है।

• अन्य प्रक्रियाएं

लेजर विनाश, क्रायोथेरेपी, और विभिन्न प्रकार के इलेक्ट्रोडेस्ट्रक्शन अप्रमाणित प्रभावकारिता के हैं।

बवासीर की जटिलताएं

शायद ही कभी, बवासीर निम्नलिखित सहित जटिलताएं पैदा कर सकता है:

• त्वचा के टैग - जब थ्रोम्बस्ड बवासीर में थक्का घुल जाता है, तो आपके पास थोड़ी सी त्वचा बची रह सकती है, जिससे जलन हो सकती है।

• रक्ताल्पता - यदि बवासीर लंबे समय तक रहती है और बहुत अधिक खून बहता है तो बहुत अधिक रक्त नष्ट हो सकता है।

• संक्रमण - कुछ बाहरी बवासीर में घाव होते हैं जो संक्रमित हो जाते हैं।

• स्ट्रेंजुलेटेड हेमोराइड - मांसपेशियां प्रोलैप्स्ड बवासीर में रक्त के प्रवाह को रोक सकती हैं। यह बहुत दर्दनाक हो सकता है और सर्जरी की जरूरत है।

बवासीर की रोकथाम

बवासीर से बचाव के लिए नीचे कुछ उपाय दिए गए हैं:

• फाइबर खाएं - यह भोजन को आपके सिस्टम से आसानी से गुजरने में मदद करता है। इसे प्राप्त करने का एक अच्छा तरीका पौधों के खाद्य पदार्थों से है: सब्जियां, फल, साबुत अनाज, नट, बीज, सेम और फलियां। प्रतिदिन २० से ३५ ग्राम आहार फाइबर का लक्ष्य रखें।

• फाइबर सप्लीमेंट का उपयोग करें - यदि आपको भोजन से पर्याप्त फाइबर नहीं मिलता है तो ओवर-द-काउंटर सप्लीमेंट मल को नरम करने में मदद कर सकते हैं। छोटी राशि से शुरू करें, और धीरे-धीरे अधिक उपयोग करें।

• पानी पिएं - यह आपको कठोर मल और कब्ज से बचने में मदद करेगा, इसलिए आप मल त्याग के दौरान कम तनाव लेते हैं। जिन फलों और सब्जियों में फाइबर होता है, उनमें भी पानी होता है।

• व्यायाम - शारीरिक गतिविधि, जैसे प्रतिदिन आधा घंटा चलना, आपके रक्त और आपकी आंतों को गतिमान रखता है।

• जाने के लिए प्रतीक्षा न करें - जैसे ही आपका मन करे शौचालय का उपयोग करें।

• मल त्याग के दौरान तनाव न लें या लंबे समय तक शौचालय पर न बैठें। इससे आपकी नसों पर अधिक दबाव पड़ता है।

• स्वस्थ वजन रखें।

बवासीर की रोकथाम

बवासीर को ठीक होने में कितना समय लगता है?

ज्यादातर लोगों को बवासीर लंबे समय तक रहती है। 50 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों के लिए चल रहा दर्द विशेष रूप से आम है। बहुत से लोगों के लिए, बवासीर का दर्द उपचार के वर्षों बाद लौटता है, और कई अन्य लोगों के लिए यह स्थिति आती है और चली जाती है, जो समय के साथ और अधिक सामान्य हो जाती है।

क्या बवासीर अपने आप दूर हो जाती है?

कभी-कभी वे अपने आप चले जाते हैं। छोटी बवासीर कुछ ही दिनों में ठीक हो जाती है। इस समय के दौरान क्षेत्र को यथासंभव स्वच्छ रखकर गुदा क्षेत्र को और अधिक परेशान करने से बचना एक अच्छा विचार है।

आहार/जीवनशैली में बदलाव

चिकित्सा की आधारशिला, चाहे शल्य चिकित्सा की आवश्यकता हो या न हो, आहार और जीवन शैली में परिवर्तन है। मुख्य परिवर्तनों में आहार फाइबर बढ़ाना, फाइबर पूरक लेना, मुंह से बहुत सारे तरल पदार्थ प्राप्त करना और व्यायाम करना शामिल है। यह सब मल त्याग को नियंत्रित करने के लिए डिज़ाइन किया गया है, जरूरी नहीं कि नरम हो। लक्ष्य बहुत कठिन मल और दस्त दोनों से बचना है, जबकि एक नरम, भारी, आसानी से साफ किए गए मल को प्राप्त करना है। लगभग सभी प्रकार की गुदा समस्याओं को रोकने के लिए इस प्रकार का मल सबसे अच्छा प्रकार लगता है।

आम तौर पर आहार में प्रतिदिन 20-35 ग्राम फाइबर प्राप्त करने का सुझाव दिया जाता है, जिसमें पर्याप्त मात्रा में फल और सब्जियां शामिल हैं। फाइबर सप्लीमेंट रोजाना एक से दो बार लेने से ज्यादातर लोगों को फायदा हो सकता है। ये पूरक पाउडर, चबाने योग्य, और कैप्सूल/टैबलेट रूपों में उपलब्ध हैं। पर्याप्त तरल पदार्थ (अधिमानतः पानी) की खपत भी महत्वपूर्ण है, जिसे अक्सर रोजाना 8-10 गिलास माना जाता है। कैफीनयुक्त पेय और अल्कोहल निर्जलीकरण की ओर प्रवृत्त होते हैं और इसलिए इस कुल की गणना नहीं की जाती है।

जीवनशैली में बदलाव

फायदेमंद खाद्य पदार्थ

बीन्स, दाल और मेवे फाइबर से भरपूर खाद्य पदार्थ हैं जो सलाद, मिर्च और चावल के स्वाद को बढ़ा सकते हैं। आपके द्वारा चुने गए प्रकार के आधार पर, आधा कप बीन्स में घुलनशील और अघुलनशील दोनों तरह से 7-10 ग्राम फाइबर हो सकता है। आपके सलाद में 3 ग्राम फाइबर मिलाने में सिर्फ 20 बादाम लगते हैं। आधा कप edamame बादाम के समान फाइबर ग्राम जोड़ता है लेकिन लगभग आधा कैलोरी।

चुने जाने वाले अन्य उच्च फाइबर वाले खाद्य पदार्थों में शामिल हैं:
• साबुत अनाज वाली ब्रेड
• गेहूं रोगाणु या जई का चोकर
• झटपट या नियमित दलिया
• सलाद जिसमें गहरे रंग की पत्तेदार हरी सब्जियां शामिल हैं, जैसे केल या पालक
• हरी मटर
• तोरी
• समर स्क्वैश

अधिकांश फल और कुछ खाद्य पदार्थ, जैसे आलू, अपने कुछ फाइबर और कई अन्य पोषक तत्वों को त्वचा में रखते हैं। सेब, नाशपाती, और आलूबुखारा जैसे पतले-पतले फल चुनें ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि आपको मनचाहा रेशे और स्वाद मिले।

खाद्य पदार्थों से बचना चाहिए

कम फाइबर वाले खाद्य पदार्थ जो कब्ज पैदा कर सकते हैं या खराब कर सकते हैं और बवासीर का कारण बन सकते हैं, उनमें शामिल हैं:
• दूध, पनीर, आइसक्रीम, और अन्य डेयरी खाद्य पदार्थ
• मांस
• सफेद ब्रेड और बैगेल
• प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थ जैसे सैंडविच मांस, पिज्जा, जमे हुए भोजन, और अन्य फास्ट फूड

देखें कि आप कितना नमक खाते हैं। यह आपके शरीर को पानी पर लटकने का कारण बन सकता है, जो रक्त वाहिकाओं पर अधिक दबाव डालता है। इसमें आपके तल में वे नसें शामिल हैं जो बवासीर का कारण बनती हैं।

आयरन की खुराक कब्ज और अन्य पाचन समस्याओं का कारण बन सकती है, इसलिए इन्हें लेने से पहले अपने चिकित्सक से परामर्श करें।

बवासीर और गर्भावस्था

बवासीर गर्भावस्था के दौरान अक्सर होता है, विशेष रूप से तीसरी तिमाही में, जब बढ़े हुए गर्भाशय श्रोणि और गुदा और मलाशय के पास की नसों पर दबाव डालता है। गर्भावस्था के दौरान हार्मोन प्रोजेस्टेरोन का बढ़ा हुआ स्तर बवासीर के विकास में भी जोड़ सकता है: प्रोजेस्टेरोन नसों की दीवारों को आराम देता है, जिससे उनके सूजने की संभावना बढ़ जाती है।

कुछ महिलाओं को पहली बार गर्भवती होने पर बवासीर होता है। लेकिन अगर आपको पहले बवासीर हो चुका है, तो गर्भवती होने पर आपको दोबारा बवासीर होने की संभावना अधिक होती है।

सौभाग्य से, बवासीर आमतौर पर आपके स्वास्थ्य या आपके बच्चे के स्वास्थ्य के लिए हानिकारक नहीं होते हैं, और आमतौर पर जन्म देने के बाद वे अपने आप दूर हो जाते हैं। आप अक्सर घरेलू देखभाल से लक्षणों को कम कर सकती हैं, लेकिन यह सुनिश्चित करने के लिए पहले अपने चिकित्सक से संपर्क करें कि गर्भावस्था के दौरान कोई भी उपचार सुरक्षित है।

क्या बवासीर से कोलोरेक्टल कैंसर होता है?

बवासीर न तो कोलोरेक्टल कैंसर के खतरे को बढ़ाता है और न ही इसका कारण बनता है। हालांकि, अधिक गंभीर स्थितियां समान लक्षण पैदा कर सकती हैं। यहां तक ​​​​कि जब एक बवासीर पूरी तरह से ठीक हो जाता है, तब भी कोलन और रेक्टल सर्जन अन्य परीक्षणों का अनुरोध कर सकते हैं। मलाशय से रक्तस्राव के अन्य कारणों का पता लगाने के लिए एक कोलोनोस्कोपी की जा सकती है। कोलोरेक्टल कैंसर की जांच के लिए 45 वर्ष और उससे अधिक उम्र के प्रत्येक व्यक्ति को कोलोनोस्कोपी करवानी चाहिए।

निष्कर्ष

बवासीर का चिकित्सीय उपचार आहार और जीवनशैली में बदलाव से लेकर प्रमुख सर्जरी तक, लक्षणों की डिग्री और गंभीरता पर निर्भर करता है। यद्यपि शल्य चिकित्सा बवासीर का एक कुशल उपचार है, यह जटिल बीमारी के लिए आरक्षित है और इसे प्रशंसनीय जटिलताओं से जोड़ा जा सकता है। इस बीच, गैर-ऑपरेटिव उपचार पूरी तरह से कुशल नहीं हैं, विशेष रूप से सामयिक या औषधीय दृष्टिकोण के। इसलिए, बवासीर के रोग-विज्ञान के बारे में हमारी समझ में सुधार की आवश्यकता है ताकि बवासीर के उपचार के लिए नवीन और नवीन विधियों के विकास को प्रोत्साहित किया जा सके।

संबंधित विषय:

1. क्या पुरुष बांझपन को ठीक किया जा सकता है?

पुरुष बांझपन एक ऐसी स्थिति है जो एक आदमी में संतान पैदा करने की संभावना को कम कर देती है। इस स्थिति के इलाज के लिए कई आधुनिक उपचार उपलब्ध हैं। अधिक जानने के लिए विजिट करें: क्या पुरुष बांझपन को ठीक किया जा सकता है

2. फर्टिलिटी और इनफर्टिलिटी क्या है?

प्रजनन क्षमता और बांझपन एक व्यक्ति की संतान पैदा करने की क्षमता से संबंधित हैं। बांझपन के कारण कई हो सकते हैं। इसका परीक्षण और इलाज किया जा सकता है। अधिक जानने के लिए विजिट करें: फर्टिलिटी और इनफर्टिलिटी क्या है?

3. उचित पोषण का महत्व

उचित पोषण आपके शरीर को सभी आवश्यक पोषक तत्व प्रदान करता है, यह एक अच्छी तरह से संतुलित आहार खाने से प्राप्त किया जा सकता है। खराब पोषण स्वास्थ्य समस्याओं का कारण बन सकता है। अधिक जानने के लिए विजिट करें: उचित पोषण का महत्व

4. प्रतिरक्षा क्या है?

प्रतिरक्षा शरीर की यह पहचानने की क्षमता है कि स्वयं का क्या है और विदेशी क्या है। प्रतिरक्षा प्रणाली हानिकारक जीवों के प्रतिरोध का निर्माण करने का काम करती है। अधिक जानने के लिए विजिट करें: प्रतिरक्षा क्या है




उपरोक्त आवश्यक वस्तुएं एएफडीशील्ड के पास उपलब्ध हैं।

एएफडीशील्ड कैप्सूल 12 प्राकृतिक अवयवों का एक संयोजन है, जिनमें अल्गल डीएचए, अश्वगंधा, करक्यूमिन और स्पिरुलिना शामिल हैं। एएफडी शील्ड टीजी को कम करता है, एचडीएल को बढ़ाता है और उम्र से संबंधित संज्ञानात्मक गिरावट में सुधार करता है। यह तनाव और चिंता को भी कम करता है और एंटी-एजिंग गतिविधि करता है। इसके अलावा, यह इम्यूनोमॉड्यूलेटरी गतिविधि को भी बढ़ाता है, प्रतिरक्षा में सुधार करता है और सूजन और ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करता है।
न्यूट्रालॉजिकक्स: एएफडीशील्ड

AFDIL Ltd.
+91 9920121021

order@afdil.com

Read Also:


Disclaimer
Home