Types of Covid-19 Vaccinations

A Covid 19 vaccine is a vaccine intended to provide acquired immunity against severe acute respiratory syndrome coronavirus 2 (SARS CoV 2), the virus causing coronavirus disease 2019 (Covid 19). There are different types of Covid vaccines introduced by different countries and pharmaceutical companies. Currently, anybody aged 18 years and above can get vaccinated in India. Vaccines for children are still under clinical trials and may start soon.

Covid -19 vaccines

General Vaccine Development Process

Vaccine development proceeds in a careful series of steps, to make sure the final product is both safe and effective. First comes the phase of basic research and preclinical studies in animals. After that, vaccines enter small Phase 1 studies, with a focus on safety, and then larger Phase 2 studies, with a focus on effectiveness. Then come much larger Phase 3 trials, which study tens of thousands of subjects for both effectiveness and safety. If things still look good at that point, a vaccine can be submitted to the Food and Drug Administration (FDA) for review and potential release.

In the case of Covid-19, the CDC first released qualifying vaccines under a specialized emergency use authorization (EUA) status. That meant they would be available to some members of the public even though they hadn’t received as extensive study as is required for a standard FDA approval. Even after the release of vaccines under emergency use authorization, the FDA and Centers for Disease Control and Prevention (CDC) continue to monitor for any unexpected safety concerns. For example, the agencies recommended a temporary pause for the Johnson & Johnson Covid-19 vaccine while investigating six reported cases of rare but serious blood clots. The agencies lifted the pause after conducting a safety review and added information about the rare condition to fact sheets for healthcare professionals and people receiving the vaccine.

How Covid -19 Vaccines Affect Immune System?

The Immune System

To understand how Covid -19 Vaccines work, it helps to first look at how our bodies fight illness. When germs, such as the virus that causes Covid-19, invade our bodies, they attack and multiply. This invasion, called an infection, is what causes illness. Our immune system uses several tools to fight infection. Blood contains red cells, which carry oxygen to tissues and organs, and white or immune cells, which fight infection. Different types of white blood cells fight infection in different ways:

• Macrophages are white blood cells that swallow up and digest germs and dead or dying cells. The macrophages leave behind parts of the invading germs, called “antigens”. The body identifies antigens as dangerous and stimulates antibodies to attack them.
• B-lymphocytes are defensive white blood cells. They produce antibodies that attack the pieces of the virus left behind by the macrophages.
• T-lymphocytes are another type of defensive white blood cell. They attack cells in the body that have already been infected.

The first time a person is infected with the virus that causes Covid-19, it can take several days or weeks for their body to make and use all the germ-fighting tools needed to get over the infection. After the infection, the person’s immune system remembers what it learned about how to protect the body against that disease. The body keeps a few T-lymphocytes, called memory cells, that go into action quickly if the body encounters the same virus again. When the familiar antigens are detected, B-lymphocytes produce antibodies to attack them. Experts are still learning how long these memory cells protect a person against the virus that causes Covid-19.

Immune System

How Vaccines Work

Different types of vaccines work in different ways to offer protection. But with all types of vaccines, the body is left with a supply of “memory” T-lymphocytes as well as B-lymphocytes that will remember how to fight that virus in the future. It typically takes a few weeks after vaccination for the body to produce T-lymphocytes and B-lymphocytes. Therefore, it is possible that a person could be infected with the virus that causes Covid-19 just before or just after vaccination and then get sick because the vaccine did not have enough time to provide protection. Sometimes after vaccination, the process of building immunity can cause symptoms, such as fever. These symptoms are normal and are signs that the body is building immunity.

Main Types Of Covid -19 Vaccines

There are four categories of vaccines in clinical trials: whole virus, protein subunit, viral vector and nucleic acid (rna and dna). Some of them try to smuggle the antigen into the body, others use the body’s own cells to make the viral antigen.

Types Of Covid -19 Vaccines

WHOLE VIRUS

Whole virus vaccines use a weakened (attenuated) or deactivated form of the pathogen that causes a disease to trigger protective immunity to it. There are two types of whole virus vaccines. Live attenuated vaccines use a weakened form of the virus, which can still grow and replicate, but does not cause illness. Inactivated vaccines contain viruses whose genetic material has been destroyed by heat, chemicals or radiation so they cannot infect cells and replicate, but can still trigger an immune response. Both are tried and tested vaccination strategies, which form the basis of many existing vaccines – including those for yellow fever and measles (live attenuated vaccines), or seasonal influenza and hepatitis A (inactivated vaccines). Bacterial attenuated vaccines also exist, such as the BCG vaccine for tuberculosis.

Inactivated vaccine The first way to make a vaccine is to take the disease-carrying virus or bacterium, or one very similar to it, and inactivate or kill it using chemicals, heat or radiation. This approach uses technology that’s been proven to work in people – this is the way the flu and polio vaccines are made – and vaccines can be manufactured on a reasonable scale. However, it requires special laboratory facilities to grow the virus or bacterium safely, can have a relatively long production time, and will likely require two or three doses to be administered.

Advantages and disadvantages of inactivated virus vaccines:
• Well-established technology
• Suitable for people with compromised immune systems
• No live components, so no risk of the vaccine triggering disease
• Relatively simple to manufacture
• Relatively stable
• Booster shots may be required

Live-attenuated vaccine A live-attenuated vaccine uses a living but weakened version of the virus or one that’s very similar. The measles, mumps and rubella (MMR) vaccine and the chickenpox and shingles vaccine are examples of this type of vaccine. This approach uses similar technology to the inactivated vaccine and can be manufactured at scale. However, vaccines like this may not be suitable for people with compromised immune systems.

Advantages and disadvantages of live attenuated vaccines:
• Well-established technology
• Strong immune response
• Immune response involves B cells and T cells
• Relatively simple to manufacture
• Unsuitable for people with compromised immune systems
• May trigger disease in very rare cases
• Relatively temperature sensitive, so careful storage necessary

Whole virus Covid -19 Vaccines include: Sinopharm, Sinovac

Number of doses required: 2 doses, intramuscular

HOW DO WHOLE VIRUS VACCINES TRIGGER IMMUNITY?

Both live attenuated and inactivated vaccines contain the whole or part of the disease-causing pathogen, but the type of immunity they trigger is slightly different. Live attenuated vaccines are derived from viruses that have been weakened under laboratory conditions, so that when injected they will infect cells and replicate but cause no or only very mild disease. They may be unsuitable for people with compromised immune systems (e.g. those with HIV) and pregnant women though, because even a weakened virus may trigger disease in these individuals. Also, in very rare cases, live attenuated vaccines can revert to a more pathogenic form, triggering disease in vaccinated individuals or their contacts. This has been seen for vaccine derived poliovirus associated with the oral polio vaccine.

Because these vaccines are simply weakened versions of natural pathogens, the immune system responds as it would to any other cellular invader, mobilising a range of defences against it, including killer T cells (which identify and destroy infected cells), helper T cells (which support antibody production) and antibody-producing B cells (which target pathogens lurking elsewhere in the body, e.g. the blood). This immune response continues until the virus is cleared from the body, meaning there is plenty of time for memory cells against the virus to develop. Because of this, live attenuated vaccines can trigger an immune response which is almost as good as being exposed to the wild virus, but without falling ill.

Inactivated virus vaccines also contain the disease-causing virus, or parts of it, but their genetic material has been destroyed. For this reason, they are considered safer and more stable than live attenuated vaccines, and they can be given to people with compromised immune systems. Even though their genetic material has been destroyed, inactivated viruses usually contain many proteins which the immune system can react to. But because they cannot infect cells, inactivated vaccines only stimulate antibody-mediated responses, and this response may be weaker and less long-lived. To overcome this problem, inactivated vaccines are often given alongside adjuvants (agents that stimulate the immune system) and booster doses may be required.

HOW EASY ARE THEY TO MANUFACTURE?

Different viruses require slightly different production processes, meaning separate equipment and facilities are needed for each one. For instance, the influenza virus is grown inside fertilised chicken eggs - which must themselves be sourced from specialised sterile laying facilities. Polio virus is grown in dishes of cells, which require different handling, while bacteria-based vaccines are grown in vast bioreactors. Growing live pathogens also means stringent precautions must be taken to avoid the virus escaping and making vaccine plant workers sick. Once large amounts of virus or bacteria have been grown, they must then be isolated, purified and attenuated or inactivated, depending on the vaccine. Each of these steps requires specific equipment, reagents, and stringent procedures to avoid, and check for, contamination, which can further increase costs.

Whole virus Covid -19 Vaccines

PROTEIN SUBUNIT

Rather than injecting a whole pathogen to trigger an immune response, subunit vaccines (sometimes called acellular vaccines) contain purified pieces of it, which have been specially selected for their ability to stimulate immune cells. Because these fragments are incapable of causing disease, subunit vaccines are considered very safe. There are several types: protein subunit vaccines contain specific isolated proteins from viral or bacterial pathogens; polysaccharide vaccines contain chains of sugar molecules (polysaccharides) found in the cell walls of some bacteria; conjugate subunit vaccines bind a polysaccharide chain to a carrier protein to try and boost the immune response. Only protein subunit vaccines are being developed against the virus that causes Covid-19.

Other subunit vaccines are already in widespread use. Examples include the hepatitis B and acellular pertussis vaccines (protein subunit), the pneumococcal polysaccharide vaccine (polysaccharide), and the MenACWY vaccine, which contains polysaccharides from the surface of four types of the bacteria which causes meningococcal disease joined to diphtheria or tetanus toxoid (conjugate subunit).

Advantages and disadvantages of protein subunit vaccines:
• Well-established technology
• Suitable for people with compromised immune systems
• No live components, so no risk of the vaccine triggering disease
• Relatively stable
• Relatively complex to manufacture
• Adjuvants and booster shots may be required
• Determining the best antigen combination takes time

Protein subunit Covid -19 Vaccines include: Novavax

Number of doses required: 2 doses, intramuscular

HOW DO SUBUNIT VACCINES TRIGGER IMMUNITY?

Subunit vaccines contain fragments of protein and/or polysaccharide from the pathogen, which have been carefully studied to identify which combinations of these molecules are likely to produce a strong and effective immune response. By restricting the immune system’s access to the pathogen in this way, the risk of side effects is minimised. Such vaccines are also relatively cheap and easy to produce, and more stable than those containing whole viruses or bacteria. A downside of this precision is that the antigens used to elicit an immune response may lack molecular structures called pathogen-associated molecular patterns which are common to a class of pathogen. These structures can be read by immune cells and recognised as danger signals, so their absence may result in a weaker immune response. Also, because the antigens do not infect cells, subunit vaccines mainly only trigger antibody-mediated immune responses. Again, this means the immune response may be weaker than with other types of vaccines. To overcome this problem, subunit vaccines are sometimes delivered alongside adjuvants (agents that stimulate the immune system) and booster doses may be required.

How Covid-19 mRNA Vaccines Work

Covid-19 mRNA vaccines give instructions for our cells to make a harmless piece of what is called the “spike protein.” The spike protein is found on the surface of the virus that causes Covid-19.
1. First, Covid-19 mRNA vaccines are given in the upper arm muscle. Once the instructions (mRNA) are inside the immune cells, the cells use them to make the protein piece. After the protein piece is made, the cell breaks down the instructions and gets rid of them.
2. Next, the cell displays the protein piece on its surface. Our immune systems recognize that the protein doesn’t belong there and begin building an immune response and making antibodies, like what happens in natural infection against Covid-19.

At the end of the process, our bodies have learned how to protect against future infection. The benefit of mRNA vaccines, like all vaccines, is those vaccinated gain this protection without ever having to risk the serious consequences of getting sick with Covid-19.

HOW EASY ARE THEY TO MANUFACTURE?

All subunit vaccines are made using living organisms, such as bacteria and yeast, which require substrates on which to grow them, and strict hygiene to avoid contamination with other organisms. This makes them more expensive to produce than chemically-synthesised vaccines, such as RNA vaccines. The precise manufacturing method depends on the type of subunit vaccine being produced. Protein subunit vaccines, such as the recombinant hepatitis B vaccine, are made by inserting the genetic code for the antigen into yeast cells, which are relatively easy to grow and capable of synthesising large amounts of protein. The yeast is grown in large fermentation tanks, and then split open, allowing the antigen to be harvested. This purified protein is then added to other vaccine components, such as preservatives to keep it stable, and adjuvants to boost the immune response – in this case alum. For polysaccharide or conjugate vaccines, the polysaccharide is produced by growing bacteria in industrial bioreactors, before splitting them open and harvesting the polysaccharide from their cell walls. In the case of conjugate vaccines, the protein that the polysaccharide is attached to must also be prepared by growing a different type of bacteria in separate bioreactors. Once its proteins are harvested, they are chemically attached to the polysaccharide, and then the remaining vaccine components added.

Protein subunit Covid -19 Vaccines

VIRAL VECTOR

Viral vector-based vaccines differ from most conventional vaccines in that they don’t actually contain antigens, but rather use the body’s own cells to produce them. They do this by using a modified virus (the vector) to deliver genetic code for antigen, in the case of Covid-19 spike proteins found on the surface of the virus, into human cells. By infecting cells and instructing them to make large amounts of antigen, which then trigger an immune response, the vaccine mimics what happens during natural infection with certain pathogens - especially viruses. This has the advantage of triggering a strong cellular immune response by T cells as well the production of antibodies by B cells. An example of a viral vector vaccine is the rVSV-ZEBOV vaccine against Ebola.

Advantages and disadvantages of viral vector-based vaccines:
• Well-established technology
• Strong immune response
• Immune response involves B cells and T cells
• Previous exposure to the vector could reduce effectiveness
• Relatively complex to manufacture

Viral Vector Covid -19 Vaccines include: Oxford-AstraZeneca, Sputnik V (Gamaleya Research Institute)

Number of doses required: 2 doses, intramuscular

HOW DO SUCH VACCINES TRIGGER IMMUNITY?

Viruses survive and replicate by invading their host’s cells and hijacking their protein-making machinery, so it reads the virus’ genetic code and makes new viruses. These virus particles contain antigens, molecules that can trigger an immune response. A similar principle underpins viral vector vaccines - only in this case, the host cells only receive code to make antigens. The viral vector acts as a delivery system, providing a means to invade the cell and insert the code for a different virus’ antigens (the pathogen you’re trying to vaccinate against). The virus itself is harmless, and by getting the cells only to produce antigens the body can mount an immune response safely, without developing disease. Various viruses have been developed as vectors, including adenovirus (a cause of the common cold), measles virus and vaccinia virus. These vectors are stripped of any disease-causing genes and sometimes also genes that can enable them to replicate, meaning they are now harmless. The genetic instructions for making the antigen from the target pathogen are stitched into the virus vector’s genome.

There are two main types of viral vector-based vaccines. Non-replicating vector vaccines are unable to make new viral particles; they only produce the vaccine antigen. Replicating vector vaccines also produce new viral particles in the cells they infect, which then go on to infect new cells that will also make the vaccine antigen. The Covid-19 viral vector vaccines under development use non-replicating viral vectors. Once injected into the body, these vaccine viruses begin infecting our cells and inserting their genetic material – including the antigen gene – into the cells’ nuclei. Human cells manufacture the antigen as if it were one of their own proteins and this is presented on their surface alongside many other proteins. When the immune cells detect the foreign antigen, they mount an immune response against it. This response includes antibody-producing B cells, as well as T cells, which seek out and destroy infected cells. T cells do this by examining the repertoire of proteins expressed on the surfaces of cells. They have been trained to recognise the body’s own proteins as ‘self’, so if they notice a foreign protein, such as an antigen from the pathogen, they will mount an immune response against the cell carrying it. One challenge of this approach is that people may previously have been exposed to the virus vector and raise an immune response against it, reducing the effectiveness of the vaccine. Such “anti-vector immunity” also makes delivering a second dose of the vaccine challenging, assuming this is needed, unless this second dose is delivered using a different virus vector.

HOW EASY ARE THEY TO MANUFACTURE?

A major bottleneck for viral vector vaccine production is scalability. Traditionally, viral vectors are grown in cells that are attached to a substrate, rather than in free-floating cells - but this is difficult to do on a large scale. Suspension cell lines are now being developed, which would enable viral vectors to be grown in large bioreactors. Assembling the vector vaccine is also a complex process, involving multiple steps and components, each of which increases the risk of contamination. Extensive testing is therefore required after every step, increasing costs.

NUCLEIC ACID (RNA AND DNA)

Nucleic acid vaccines use genetic material from a disease-causing virus or bacterium (a pathogen) to stimulate an immune response against it. Depending on the vaccine, the genetic material could be DNA or RNA; in both cases it provides the instructions for making a specific protein from the pathogen, which the immune system will recognise as foreign (an antigen). Once inserted into host cells, this genetic material is read by the cell’s own protein-making machinery and used to manufacture antigens, which then trigger an immune response. This is a relatively new technology, so although DNA and RNA vaccines are being developed against various diseases, including HIV, Zika virus and Covid-19, so far none of them have yet been approved for human use. Several DNA vaccines are licenced for animal use, including a horse vaccine against West Nile virus.

Advantages and disadvantages of nucleic acid vaccines:
• Immune response involves B cells and T cells
• No live components, so no risk of the vaccine triggering disease
• Relatively easy to manufacture
• Some RNA vaccines require ultra-cold storage
• Never been licensed in humans
• Booster shots may be required

Nucleic acid Covid -19 Vaccines include: Pfizer-BioNTech, Moderna

Number of doses required: 2 doses, intramuscular

HOW DO NUCLEIC ACID VACCINES TRIGGER IMMUNITY?

In the case of DNA vaccines, a piece of DNA encoding the antigen is first inserted into a bacterial plasmid. This is a circular piece of DNA used by a bacterium to store and share genes which may benefit its survival – a bit like a computer flash drive. Plasmids can replicate independently of the main chromosomal DNA and provide a simple tool for transferring genes between cells. Because of this, they are already widely used within the field of genetic engineering. DNA plasmids carrying the antigen are usually injected into the muscle, but a key challenge is getting them to cross into people’s cells. This is an essential step, because the machinery which enables the antigen to be translated into protein is located inside cells. Various technologies are being developed to aid this process - such as electroporation, where short pulses of electric current are used to create temporary pores in patients’ cell membranes; a ‘gene gun’ which uses helium to propel DNA into skin cells; and encapsulating the DNA in nanoparticles which are designed to fuse with the cell membrane.

RNA vaccines encode the antigen of interest in messenger RNA (mRNA) or self-amplifying RNA (saRNA) – molecular templates used by cellular factories to produce proteins. Because of its transitory nature, there is zero risk of it integrating with our own genetic material. The RNA can be injected by itself, encapsulated within nanoparticles (as Pfizer’s mRNA-based Covid vaccine is), or driven into cells using some of the same techniques being developed for DNA vaccines. Once the DNA or RNA is inside the cell and it starts producing antigens, these are then displayed on its surface, where they can be detected by the immune system, triggering a response. This response includes killer T cells, which seek out and destroy infected cells, as well as antibody-producing B cells and helper T cells which support antibody production.

HOW EASY ARE THEY TO MANUFACTURE?

Once a pathogen’s genome has been sequenced, it is relatively quick and easy to design a vaccine against any of its proteins. For instance, Moderna’s RNA vaccine against Covid-19 entered clinical trials within two months of the SARS-CoV-2 genome being sequenced. This speed could be particularly important in the face of new emerging epidemic, pandemic pathogens or pathogens which are rapidly mutating. Both DNA and RNA vaccines are relatively easy to produce, but the manufacturing process differs slightly between them. Once DNA encoding the antigen has been chemically synthesised, it is inserted into a bacterial plasmid with the help of specific enzymes - a relatively straightforward procedure. Multiple copies of the plasmid are then produced within giant vats of rapidly dividing bacteria, before being isolated and purified. RNA vaccines are easier to synthesise because this can be done chemically, from a template in the lab, without the need for any bacteria or cells. In both cases, vaccines for different antigens could be manufactured within the same facilities, further reducing costs. This is not possible for most conventional vaccines.

Nucleic acid Covid -19 Vaccines

Some Covid -19 Vaccines Require More Than One Shot

To be fully vaccinated, you will need two shots of some Covid -19 Vaccines.
• Two shots: If you get a Covid-19 vaccine that requires two shots, you are considered fully vaccinated two weeks after your second shot. Pfizer-BioNTech and Moderna Covid -19 Vaccines require two shots.
• One Shot: If you get a Covid-19 vaccine that requires one shot, you are considered fully vaccinated two weeks after your shot. Johnson & Johnson’s Janssen Covid-19 vaccine only requires one shot.

Covid -19 Vaccine Shot

Do We Need Different Covid -19 Vaccines?

Ultimately, it’s helpful to have multiple safe, effective vaccines available. Part of the reason for this is that it is impossible for any single manufacturer to quickly release enough vaccine to serve the population of the whole world. It will be much easier to perform widespread vaccination if several different safe and effective vaccines are produced. Also, not all these vaccines will have exactly the same properties. Hopefully, multiple successful vaccines will be produced that might help meet different needs. Some require certain storage conditions, like freezing. Some need to be produced in very high-tech facilities that aren’t available in all parts of the world, but others use older techniques that can be more easily reproduced. And some will be more expensive than others.

Different Covid -19 Vaccines

Some vaccines may turn out to provide longer-lasting immunity compared to some others, but that isn’t clear at this time. Some might turn out to be better for certain populations, like the elderly or people with certain medical conditions. For example, live virus vaccines will probably not be advised for anyone who has problems with their immune system. As more research is conducted and more data collected, comparisons of the vaccines may become clearer with time. As availability improves, it will be key for as many people as possible to get vaccinated. Only through such efforts will we really be able to end the pandemic.

Related topics:

1. What are Hemorrhoids?

Male infertility is a condition in a man that reduces the chances of producing offspring. There are many modern treatments available to treat this condition. To know more visit: What are Hemorrhoids?

2. What Is Fertility and Infertility?

Fertility and infertility are related to the ability of a person to produce offspring. The cause of infertility could be many. It can be tested and treated. To know more visit: What Is Fertility and Infertility

3. Importance Of Proper Nutrition

Proper nutrition provides your body all the necessary nutrients, this can be achieved by eating a well-balanced diet. Poor nutrition can cause health issues. To know more visit: Importance Of Proper Nutrition

4. What Is Immunity?

Immunity is the ability of the body to recognize what belongs to self and what is foreign. The immune system works to build resistance to harmful organisms. To know more visit: What Is Immunity




The above essentials are available with AFD SHIELD.

AFD Shield capsule is a combination of 12 natural ingredients among which are Algal DHA, Ashwagandha, Curcumin and Spirullina. AFD Shield reduces TG, increases HDL and improves age related cognitive decline. It also reduces stress and anxiety and performs anti-aging activity.Moreover, it also enhances the immunomodulatory activity, improves immunity and reduces inflammation and oxidative stress.
Nutralogicx: AFD SHIELD

कोविड-19 के टीके के प्रकार

एक कोविड 19 वैक्सीन एक वैक्सीन है जिसका उद्देश्य गंभीर तीव्र श्वसन सिंड्रोम कोरोनावायरस 2 (सार्स सीओवी 2), कोरोनावायरस रोग 2019 पैदा करने वाले वायरस के खिलाफ अधिग्रहित प्रतिरक्षा प्रदान करना है। विभिन्न देशों और दवा कंपनियों द्वारा विभिन्न प्रकार के कोविड टीके पेश किए गए हैं। वर्तमान में, भारत में 18 वर्ष और उससे अधिक आयु का कोई भी व्यक्ति टीका लगवा सकता है। बच्चों के लिए टीके अभी भी नैदानिक ​​परीक्षणों के अधीन हैं और जल्द ही शुरू हो सकते हैं।

कोविड -19 टीके

सामान्य वैक्सीन विकास प्रक्रिया

टीका विकास चरणों की एक सावधानीपूर्वक श्रृंखला में आगे बढ़ता है, यह सुनिश्चित करने के लिए कि अंतिम उत्पाद सुरक्षित और प्रभावी दोनों है। सबसे पहले जानवरों में बुनियादी अनुसंधान और प्रीक्लिनिकल अध्ययन का चरण आता है। उसके बाद, टीके सुरक्षा पर ध्यान देने के साथ छोटे चरण 1 अध्ययनों में प्रवेश करते हैं, और फिर प्रभावशीलता पर ध्यान देने के साथ बड़े चरण 2 अध्ययनों में प्रवेश करते हैं। फिर बहुत बड़े चरण 3 परीक्षण आते हैं, जो प्रभावशीलता और सुरक्षा दोनों के लिए हजारों विषयों का अध्ययन करते हैं। अगर उस समय भी चीजें अच्छी लगती हैं, तो समीक्षा और संभावित रिलीज के लिए एक टीका खाद्य एवं औषधि प्रशासन को प्रस्तुत किया जा सकता है।

कोविड -19 के मामले में, सीडीसी ने सबसे पहले एक विशेष आपातकालीन उपयोग प्राधिकरण स्थिति के तहत योग्य टीके जारी किए। इसका मतलब है कि वे जनता के कुछ सदस्यों के लिए उपलब्ध होंगे, भले ही उन्हें मानक एफडीए अनुमोदन के लिए आवश्यक व्यापक अध्ययन नहीं मिला हो। आपातकालीन उपयोग प्राधिकरण के तहत टीके जारी होने के बाद भी, एफडीए और रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र (सीडीसी) किसी भी अप्रत्याशित सुरक्षा चिंताओं के लिए निगरानी करना जारी रखते हैं। उदाहरण के लिए, एजेंसियों ने दुर्लभ लेकिन गंभीर रक्त के थक्कों के छह रिपोर्ट किए गए मामलों की जांच करते हुए जॉनसन एंड जॉनसन कोविड -19 वैक्सीन के लिए एक अस्थायी विराम की सिफारिश की। एजेंसियों ने सुरक्षा समीक्षा करने के बाद विराम हटा लिया और स्वास्थ्य पेशेवरों और टीका प्राप्त करने वाले लोगों के लिए तथ्य पत्रक में दुर्लभ स्थिति के बारे में जानकारी जोड़ दी।

कोविड -19 टीके प्रतिरक्षा प्रणाली को कैसे प्रभावित करते हैं?

प्रतिरक्षा प्रणाली

कोविड -19 टीके कैसे काम करते हैं, यह समझने के लिए, यह सबसे पहले यह देखने में मदद करता है कि हमारा शरीर बीमारी से कैसे लड़ता है। जब रोगाणु, जैसे कि वायरस जो कोविड -19 का कारण बनते हैं, हमारे शरीर पर आक्रमण करते हैं, तो वे हमला करते हैं और गुणा करते हैं। यह आक्रमण, जिसे संक्रमण कहा जाता है, वही बीमारी का कारण बनता है। हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली संक्रमण से लड़ने के लिए कई उपकरणों का उपयोग करती है। रक्त में लाल कोशिकाएं होती हैं, जो ऊतकों और अंगों तक ऑक्सीजन ले जाती हैं, और सफेद या प्रतिरक्षा कोशिकाएं, जो संक्रमण से लड़ती हैं। विभिन्न प्रकार की श्वेत रक्त कोशिकाएं विभिन्न तरीकों से संक्रमण से लड़ती हैं:

• मैक्रोफेज श्वेत रक्त कोशिकाएं हैं जो कीटाणुओं और मृत या मरने वाली कोशिकाओं को निगलती हैं और पचाती हैं। मैक्रोफेज हमलावर कीटाणुओं के कुछ हिस्सों को पीछे छोड़ देते हैं, जिन्हें "एंटीजन" कहा जाता है। शरीर एंटीजन को खतरनाक के रूप में पहचानता है और उन पर हमला करने के लिए एंटीबॉडी को उत्तेजित करता है।
• B-लिम्फोसाइट्स रक्षात्मक श्वेत रक्त कोशिकाएं हैं। वे एंटीबॉडी का उत्पादन करते हैं जो मैक्रोफेज द्वारा छोड़े गए वायरस के टुकड़ों पर हमला करते हैं।
• टी-लिम्फोसाइट्स एक अन्य प्रकार की रक्षात्मक श्वेत रक्त कोशिका हैं। वे शरीर में उन कोशिकाओं पर हमला करते हैं जो पहले ही संक्रमित हो चुकी हैं।

पहली बार जब कोई व्यक्ति उस वायरस से संक्रमित होता है जो कोविड -19 का कारण बनता है, तो उसके शरीर को रोगाणु से लड़ने के लिए आवश्यक सभी उपकरण बनाने और उपयोग करने में कई दिन या सप्ताह लग सकते हैं। संक्रमण। संक्रमण के बाद, व्यक्ति की प्रतिरक्षा प्रणाली को यह याद रहता है कि उसने शरीर को उस बीमारी से कैसे बचाया जाए, इसके बारे में क्या सीखा। शरीर कुछ टी-लिम्फोसाइट्स रखता है, जिन्हें मेमोरी सेल कहा जाता है, जो शरीर में फिर से उसी वायरस का सामना करने पर जल्दी से सक्रिय हो जाते हैं। जब परिचित एंटीजन का पता लगाया जाता है, तो बी-लिम्फोसाइट्स उन पर हमला करने के लिए एंटीबॉडी का उत्पादन करते हैं। विशेषज्ञ अभी भी सीख रहे हैं कि ये मेमोरी सेल कितने समय तक किसी व्यक्ति को उस वायरस से बचाते हैं जो कोविड -19 का कारण बनता है।

प्रतिरक्षा तंत्र

टीके कैसे काम करते हैं

विभिन्न प्रकार के टीके सुरक्षा प्रदान करने के लिए अलग-अलग तरीकों से काम करते हैं। लेकिन सभी प्रकार के टीकों के साथ, शरीर को "मेमोरी" टी-लिम्फोसाइट्स के साथ-साथ बी-लिम्फोसाइट्स की आपूर्ति के साथ छोड़ दिया जाता है जो याद रखेगा कि भविष्य में उस वायरस से कैसे लड़ना है। टी-लिम्फोसाइट्स और बी-लिम्फोसाइट्स का उत्पादन करने के लिए शरीर को टीकाकरण के बाद आमतौर पर कुछ सप्ताह लगते हैं। इसलिए, यह संभव है कि कोई व्यक्ति उस वायरस से संक्रमित हो सकता है जो टीकाकरण के ठीक पहले या बाद में कोविड -19 का कारण बनता है और फिर बीमार हो जाता है क्योंकि वैक्सीन के पास सुरक्षा प्रदान करने के लिए पर्याप्त समय नहीं था। कभी-कभी टीकाकरण के बाद, प्रतिरक्षा के निर्माण की प्रक्रिया बुखार जैसे लक्षण पैदा कर सकती है। ये लक्षण सामान्य हैं और संकेत हैं कि शरीर प्रतिरक्षा का निर्माण कर रहा है।

कोविड-19 के टीके के मुख्य प्रकार

नैदानिक ​​​​परीक्षणों में टीकों की चार श्रेणियां हैं: संपूर्ण वायरस, प्रोटीन सबयूनिट, वायरल वेक्टर और न्यूक्लिक एसिड (आरएनए और डीएनए)। उनमें से कुछ शरीर में एंटीजन की तस्करी करने की कोशिश करते हैं, अन्य वायरल एंटीजन बनाने के लिए शरीर की अपनी कोशिकाओं का उपयोग करते हैं।

कोविड -19 टीके के प्रकार

संपूर्ण वायरस

संपूर्ण वायरस के टीके रोगज़नक़ के एक कमजोर (क्षीण) या निष्क्रिय रूप का उपयोग करते हैं जो एक बीमारी को सुरक्षात्मक प्रतिरक्षा को ट्रिगर करने का कारण बनता है। पूरे वायरस के टीके दो प्रकार के होते हैं। जीवित क्षीण टीके वायरस के कमजोर रूप का उपयोग करते हैं, जो अभी भी बढ़ सकता है और दोहरा सकता है, लेकिन बीमारी का कारण नहीं बनता है। निष्क्रिय टीकों में वायरस होते हैं जिनकी आनुवंशिक सामग्री गर्मी, रसायनों या विकिरण से नष्ट हो गई है, इसलिए वे कोशिकाओं को संक्रमित नहीं कर सकते हैं और दोहरा सकते हैं, लेकिन फिर भी एक प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को ट्रिगर कर सकते हैं। दोनों टीकाकरण रणनीतियों की कोशिश की और परीक्षण किया गया है, जो कई मौजूदा टीकों का आधार बनाते हैं - जिनमें पीले बुखार और खसरा (जीवित क्षीण टीके), या मौसमी इन्फ्लूएंजा और हेपेटाइटिस ए (निष्क्रिय टीके) शामिल हैं। बैक्टीरियल क्षीण टीके भी मौजूद हैं, जैसे तपेदिक के लिए बीसीजी टीका।

निष्क्रिय टीका वैक्सीन बनाने का पहला तरीका यह है कि बीमारी फैलाने वाले वायरस या बैक्टीरिया, या इससे मिलते-जुलते किसी एक को ले लिया जाए और रसायनों, गर्मी या विकिरण का उपयोग करके इसे निष्क्रिय या मार दिया जाए। यह दृष्टिकोण उस तकनीक का उपयोग करता है जो लोगों में काम करने के लिए सिद्ध हुई है - इस तरह से फ्लू और पोलियो के टीके बनाए जाते हैं - और टीकों का निर्माण उचित पैमाने पर किया जा सकता है। हालांकि, इसे वायरस या जीवाणु को सुरक्षित रूप से विकसित करने के लिए विशेष प्रयोगशाला सुविधाओं की आवश्यकता होती है, अपेक्षाकृत लंबा उत्पादन समय हो सकता है, और संभवतः दो या तीन खुराक की आवश्यकता होगी।

निष्क्रिय वायरस टीकों के लाभ और नुकसान:
• अच्छी तरह से स्थापित तकनीक
• कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली वाले लोगों के लिए उपयुक्त
• कोई जीवित घटक नहीं, इसलिए टीके से बीमारी का कोई खतरा नहीं
• निर्माण में अपेक्षाकृत आसान
• अपेक्षाकृत स्थिर
• बूस्टर शॉट्स की आवश्यकता हो सकती है

लाइव एटेन्यूएटेड वैक्सीन एक जीवित-क्षीण टीका वायरस के एक जीवित लेकिन कमजोर संस्करण का उपयोग करता है या जो बहुत समान है। खसरा, कण्ठमाला और रूबेला वैक्सीन और चिकनपॉक्स और दाद के टीके इस प्रकार के टीके के उदाहरण हैं। यह दृष्टिकोण निष्क्रिय टीके के समान तकनीक का उपयोग करता है और इसे बड़े पैमाने पर निर्मित किया जा सकता है। हालांकि, इस तरह के टीके कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली वाले लोगों के लिए उपयुक्त नहीं हो सकते हैं।

जीवित क्षीण टीकों के लाभ और नुकसान:
• अच्छी तरह से स्थापित तकनीक
• मजबूत प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया
• प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया में बी कोशिकाएं और टी कोशिकाएं शामिल होती हैं
br • निर्माण में अपेक्षाकृत आसान
• कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली वाले लोगों के लिए अनुपयुक्त
• अत्यंत दुर्लभ मामलों में रोग उत्पन्न कर सकता है
• अपेक्षाकृत तापमान संवेदनशील, इसलिए सावधानीपूर्वक भंडारण आवश्यक है

संपूर्ण वायरस कोविड -19 टीकों में शामिल हैं: सिनोफार्म, सिनोवैक

आवश्यक खुराक की संख्या: 2 खुराक, इंट्रामस्क्युलर

संपूर्ण विषाणु टीके प्रतिरक्षा को कैसे ट्रिगर करते हैं?

जीवित क्षीण और निष्क्रिय दोनों टीकों में रोग पैदा करने वाले रोगज़नक़ का पूरा या कुछ हिस्सा होता है, लेकिन वे जिस प्रकार की प्रतिरक्षा को ट्रिगर करते हैं वह थोड़ा अलग होता है। जीवित क्षीणित टीके उन विषाणुओं से प्राप्त होते हैं जो प्रयोगशाला परिस्थितियों में कमजोर हो गए हैं, ताकि जब इंजेक्शन लगाया जाए तो वे कोशिकाओं को संक्रमित कर देंगे और दोहरा सकते हैं लेकिन कोई या केवल बहुत हल्की बीमारी नहीं होती है। वे कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली वाले लोगों (जैसे एचआईवी वाले) और गर्भवती महिलाओं के लिए अनुपयुक्त हो सकते हैं, क्योंकि एक कमजोर वायरस भी इन व्यक्तियों में बीमारी को ट्रिगर कर सकता है। इसके अलावा, बहुत ही दुर्लभ मामलों में, जीवित क्षीण टीके अधिक रोगजनक रूप में वापस आ सकते हैं, जो टीकाकरण वाले व्यक्तियों या उनके संपर्कों में बीमारी को ट्रिगर कर सकते हैं। यह ओरल पोलियो वैक्सीन से जुड़े टीके से व्युत्पन्न पोलियोवायरस के लिए देखा गया है।

चूंकि ये टीके प्राकृतिक रोगजनकों के केवल कमजोर संस्करण हैं, इसलिए प्रतिरक्षा प्रणाली किसी भी अन्य सेलुलर आक्रमणकारी के लिए प्रतिक्रिया करती है, इसके खिलाफ कई तरह की सुरक्षा जुटाती है, जिसमें किलर टी कोशिकाएं (जो पहचानती हैं और संक्रमित कोशिकाओं को नष्ट करना), सहायक टी कोशिकाएं (जो एंटीबॉडी उत्पादन का समर्थन करती हैं) और एंटीबॉडी-उत्पादक बी कोशिकाएं (जो शरीर में कहीं और छिपे हुए रोगजनकों को लक्षित करती हैं, जैसे रक्त)। यह प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया तब तक जारी रहती है जब तक शरीर से वायरस साफ नहीं हो जाता है, जिसका अर्थ है कि वायरस के खिलाफ स्मृति कोशिकाओं के विकसित होने में काफी समय है। इस वजह से, जीवित क्षीण टीके एक प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को ट्रिगर कर सकते हैं जो लगभग उतना ही अच्छा है जितना कि जंगली वायरस के संपर्क में आना, लेकिन बीमार हुए बिना।

निष्क्रिय वायरस टीकों में रोग पैदा करने वाले वायरस या इसके कुछ हिस्से भी होते हैं, लेकिन उनकी आनुवंशिक सामग्री नष्ट हो गई है। इस कारण से, उन्हें जीवित क्षीणित टीकों की तुलना में सुरक्षित और अधिक स्थिर माना जाता है, और उन्हें समझौता प्रतिरक्षा प्रणाली वाले लोगों को दिया जा सकता है। भले ही उनकी आनुवंशिक सामग्री नष्ट हो गई हो, निष्क्रिय वायरस में आमतौर पर कई प्रोटीन होते हैं जिन पर प्रतिरक्षा प्रणाली प्रतिक्रिया कर सकती है। लेकिन क्योंकि वे कोशिकाओं को संक्रमित नहीं कर सकते हैं, निष्क्रिय टीके केवल एंटीबॉडी-मध्यस्थता प्रतिक्रियाओं को उत्तेजित करते हैं, और यह प्रतिक्रिया कमजोर और कम लंबे समय तक रहने वाली हो सकती है। इस समस्या को दूर करने के लिए, निष्क्रिय टीके अक्सर सहायक (प्रतिरक्षा प्रणाली को उत्तेजित करने वाले एजेंट) के साथ दिए जाते हैं और बूस्टर खुराक की आवश्यकता हो सकती है।

इन्हें बनाना कितना आसान है?

विभिन्न वायरस के लिए कुछ अलग उत्पादन प्रक्रियाओं की आवश्यकता होती है, जिसका अर्थ है कि प्रत्येक के लिए अलग उपकरण और सुविधाओं की आवश्यकता होती है। उदाहरण के लिए, इन्फ्लूएंजा वायरस निषेचित चिकन अंडे के अंदर उगाया जाता है - जिसे स्वयं विशेष बाँझ बिछाने की सुविधा से प्राप्त किया जाना चाहिए। पोलियो वायरस कोशिकाओं के व्यंजनों में उगाया जाता है, जिन्हें अलग-अलग हैंडलिंग की आवश्यकता होती है, जबकि बैक्टीरिया आधारित टीके विशाल बायोरिएक्टर में उगाए जाते हैं। जीवित रोगजनकों के बढ़ने का मतलब यह भी है कि वायरस से बचने और टीका संयंत्र के श्रमिकों को बीमार बनाने से बचने के लिए कड़ी सावधानी बरतनी चाहिए। एक बार बड़ी मात्रा में वायरस या बैक्टीरिया विकसित हो जाने के बाद, उन्हें टीके के आधार पर अलग, शुद्ध और क्षीण या निष्क्रिय किया जाना चाहिए। इन चरणों में से प्रत्येक के लिए विशिष्ट उपकरण, अभिकर्मकों और सख्त प्रक्रियाओं की आवश्यकता होती है, ताकि संदूषण से बचा जा सके और जांच की जा सके, जिससे लागत में और वृद्धि हो सकती है।

संपूर्ण वायरस कोविड -19 टीके

प्रोटीन सबयूनिट

प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को ट्रिगर करने के लिए पूरे रोगज़नक़ को इंजेक्ट करने के बजाय, सबयूनिट टीकों (कभी-कभी अकोशिकीय टीके कहा जाता है) में इसके शुद्ध टुकड़े होते हैं, जिन्हें विशेष रूप से प्रतिरक्षा कोशिकाओं को उत्तेजित करने की उनकी क्षमता के लिए चुना गया है। चूंकि ये टुकड़े बीमारी पैदा करने में असमर्थ हैं, इसलिए सबयूनिट टीके बहुत सुरक्षित माने जाते हैं। कई प्रकार हैं: प्रोटीन सबयूनिट टीकों में वायरल या जीवाणु रोगजनकों से विशिष्ट पृथक प्रोटीन होते हैं; पॉलीसेकेराइड टीकों में कुछ जीवाणुओं की कोशिका भित्ति में पाए जाने वाले चीनी अणुओं (पॉलीसेकेराइड्स) की श्रृंखलाएँ होती हैं; संयुग्मित सबयूनिट टीके एक पॉलीसेकेराइड श्रृंखला को एक वाहक प्रोटीन से बांधते हैं ताकि प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को बढ़ावा दिया जा सके। कोविड -19 का कारण बनने वाले वायरस के खिलाफ केवल प्रोटीन सबयूनिट टीके विकसित किए जा रहे हैं।

अन्य सबयूनिट टीके पहले से ही व्यापक उपयोग में हैं। उदाहरणों में हेपेटाइटिस बी और अकोशिकीय पर्टुसिस टीके (प्रोटीन सबयूनिट), न्यूमोकोकल पॉलीसेकेराइड वैक्सीन (पॉलीसेकेराइड), और मेनएसीडब्ल्यूवाई वैक्सीन शामिल हैं, जिसमें चार प्रकार के बैक्टीरिया की सतह से पॉलीसेकेराइड होते हैं जो मेनिंगोकोकल रोग को डिप्थीरिया या टेटनस टॉक्सोइड में शामिल करते हैं। संयुग्म उपइकाई)।

प्रोटीन सबयूनिट टीके के फायदे और नुकसान:
• अच्छी तरह से स्थापित तकनीक
• कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली वाले लोगों के लिए उपयुक्त
• कोई जीवित घटक नहीं, इसलिए टीके से बीमारी का कोई खतरा नहीं
• अपेक्षाकृत स्थिर
• निर्माण के लिए अपेक्षाकृत जटिल
• सहायक और बूस्टर शॉट्स की आवश्यकता हो सकती है
• सबसे अच्छा एंटीजन संयोजन निर्धारित करने में समय लगता है

प्रोटीन सबयूनिट कोविड-19 टीकों में शामिल हैं: Novavax

आवश्यक खुराक की संख्या: 2 खुराक, इंट्रामस्क्युलर

सबयूनिट टीके प्रतिरक्षा को कैसे बढ़ाते हैं?

सबयूनिट टीकों में रोगज़नक़ से प्रोटीन और/या पॉलीसेकेराइड के टुकड़े होते हैं, जिनका सावधानीपूर्वक अध्ययन किया गया है ताकि यह पता लगाया जा सके कि इन अणुओं के कौन से संयोजन एक मजबूत और प्रभावी प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया उत्पन्न करने की संभावना रखते हैं। इस तरह से रोगज़नक़ तक प्रतिरक्षा प्रणाली की पहुंच को प्रतिबंधित करके, साइड इफेक्ट के जोखिम को कम किया जाता है। इस तरह के टीके अपेक्षाकृत सस्ते और उत्पादन में आसान होते हैं, और पूरे वायरस या बैक्टीरिया वाले टीकों की तुलना में अधिक स्थिर होते हैं। इस सटीकता का एक पहलू यह है कि प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया प्राप्त करने के लिए उपयोग किए जाने वाले प्रतिजनों में रोगज़नक़ से जुड़े आणविक पैटर्न नामक आणविक संरचनाओं की कमी हो सकती है जो रोगज़नक़ों के एक वर्ग के लिए सामान्य हैं। इन संरचनाओं को प्रतिरक्षा कोशिकाओं द्वारा पढ़ा जा सकता है और खतरे के संकेतों के रूप में पहचाना जा सकता है, इसलिए उनकी अनुपस्थिति के परिणामस्वरूप कमजोर प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया हो सकती है। इसके अलावा, क्योंकि एंटीजन कोशिकाओं को संक्रमित नहीं करते हैं, सबयूनिट टीके मुख्य रूप से केवल एंटीबॉडी-मध्यस्थता प्रतिरक्षा प्रतिक्रियाओं को ट्रिगर करते हैं। फिर, इसका मतलब है कि अन्य प्रकार के टीकों की तुलना में प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया कमजोर हो सकती है। इस समस्या को दूर करने के लिए, कभी-कभी सहायक (प्रतिरक्षा प्रणाली को उत्तेजित करने वाले एजेंट) के साथ सबयूनिट टीके दिए जाते हैं और बूस्टर खुराक की आवश्यकता हो सकती है।

कोविड -19 एमआरएनए के टीके कैसे काम करते हैं

कोविड-19 एमआरएनए के टीके हमारी कोशिकाओं को "स्पाइक प्रोटीन" का एक हानिरहित टुकड़ा बनाने के निर्देश देते हैं। स्पाइक प्रोटीन वायरस की सतह पर पाया जाता है जो कोविड -19 का कारण बनता है।
1. सबसे पहले, कोविड -19 एमआरएनए के टीके ऊपरी बांह की मांसपेशी में दिए जाते हैं। एक बार जब निर्देश (एमआरएनए) प्रतिरक्षा कोशिकाओं के अंदर होते हैं, तो कोशिकाएं प्रोटीन का टुकड़ा बनाने के लिए उनका उपयोग करती हैं। प्रोटीन का टुकड़ा बनने के बाद, कोशिका निर्देशों को तोड़ती है और उनसे छुटकारा पाती है।
2. इसके बाद, कोशिका प्रोटीन के टुकड़े को अपनी सतह पर प्रदर्शित करती है। हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली यह मानती है कि प्रोटीन वहां नहीं है और एक प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया का निर्माण और एंटीबॉडी बनाना शुरू कर देता है, जैसा कि कोविड -19 के खिलाफ प्राकृतिक संक्रमण में होता है।

प्रक्रिया के अंत में, हमारे शरीर ने सीख लिया है कि भविष्य में होने वाले संक्रमण से कैसे बचाव किया जाए। सभी टीकों की तरह एमआरएनए टीकों का लाभ यह है कि जिन टीकों को यह सुरक्षा मिलती है, उन्हें कभी भी कोविड -19 से बीमार होने के गंभीर परिणामों का जोखिम नहीं उठाना पड़ता है।

इन्हें बनाना कितना आसान है?

सभी सबयूनिट टीके जीवित जीवों, जैसे बैक्टीरिया और खमीर का उपयोग करके बनाए जाते हैं, जिन पर उन्हें विकसित करने के लिए सब्सट्रेट की आवश्यकता होती है, और अन्य जीवों के साथ संदूषण से बचने के लिए सख्त स्वच्छता की आवश्यकता होती है। यह उन्हें रासायनिक रूप से संश्लेषित टीकों, जैसे आरएनए टीकों की तुलना में उत्पादन करने के लिए अधिक महंगा बनाता है। सटीक निर्माण विधि उत्पादित किए जा रहे सबयूनिट वैक्सीन के प्रकार पर निर्भर करती है। प्रोटीन सबयूनिट टीके, जैसे कि पुनः संयोजक हेपेटाइटिस बी वैक्सीन, एंटीजन के लिए आनुवंशिक कोड को खमीर कोशिकाओं में सम्मिलित करके बनाए जाते हैं, जो कि बढ़ने में अपेक्षाकृत आसान होते हैं और बड़ी मात्रा में प्रोटीन को संश्लेषित करने में सक्षम होते हैं। खमीर बड़े किण्वन टैंकों में उगाया जाता है, और फिर खुले में विभाजित हो जाता है, जिससे एंटीजन को काटा जा सकता है। इस शुद्ध प्रोटीन को फिर अन्य वैक्सीन घटकों में जोड़ा जाता है, जैसे कि इसे स्थिर रखने के लिए संरक्षक, और प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को बढ़ावा देने के लिए सहायक - इस मामले में फिटकरी। पॉलीसेकेराइड या संयुग्म टीकों के लिए, पॉलीसेकेराइड का उत्पादन औद्योगिक बायोरिएक्टरों में बैक्टीरिया के बढ़ने से होता है, उन्हें विभाजित करने से पहले और उनकी कोशिका की दीवारों से पॉलीसेकेराइड की कटाई। संयुग्म टीकों के मामले में, पॉलीसेकेराइड से जुड़ा प्रोटीन भी अलग-अलग बायोरिएक्टरों में एक अलग प्रकार के बैक्टीरिया को बढ़ाकर तैयार किया जाना चाहिए। एक बार जब इसके प्रोटीन काटा जाता है, तो वे रासायनिक रूप से पॉलीसेकेराइड से जुड़ जाते हैं, और फिर शेष वैक्सीन घटकों को जोड़ा जाता है।

प्रोटीन सबयूनिट कोविड -19 टीके

वायरल वेक्टर

वायरल वेक्टर-आधारित टीके अधिकांश पारंपरिक टीकों से इस मायने में भिन्न होते हैं कि उनमें वास्तव में एंटीजन नहीं होते हैं, बल्कि उन्हें उत्पन्न करने के लिए शरीर की अपनी कोशिकाओं का उपयोग करते हैं। वे मानव कोशिकाओं में वायरस की सतह पर पाए जाने वाले कोविड -19 स्पाइक प्रोटीन के मामले में एंटीजन के लिए आनुवंशिक कोड देने के लिए एक संशोधित वायरस (वेक्टर) का उपयोग करके ऐसा करते हैं। कोशिकाओं को संक्रमित करने और उन्हें बड़ी मात्रा में एंटीजन बनाने का निर्देश देकर, जो तब एक प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को ट्रिगर करता है, वैक्सीन कुछ रोगजनकों के साथ प्राकृतिक संक्रमण के दौरान क्या होता है - विशेष रूप से वायरस की नकल करता है। इसका टी कोशिकाओं द्वारा एक मजबूत सेलुलर प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया के साथ-साथ बी कोशिकाओं द्वारा एंटीबॉडी के उत्पादन को ट्रिगर करने का लाभ है। वायरल वेक्टर वैक्सीन का एक उदाहरण इबोला के खिलाफ आरवीएसवी-जेबोव वैक्सीन है।

वायरल वेक्टर-आधारित टीकों के लाभ और नुकसान:
• अच्छी तरह से स्थापित तकनीक
• मजबूत प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया
• प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया में बी कोशिकाएं और टी कोशिकाएं शामिल होती हैं
• वेक्टर के लिए पिछला एक्सपोजर प्रभावशीलता को कम कर सकता है
• निर्माण के लिए अपेक्षाकृत जटिल

वायरल वेक्टर कोविड -19 टीकों में शामिल हैं: ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका, स्पुतनिक वी (गामालिया रिसर्च इंस्टीट्यूट)

आवश्यक खुराक की संख्या: 2 खुराक, इंट्रामस्क्युलर

इस तरह के टीके प्रतिरक्षा को कैसे ट्रिगर करते हैं?

वायरस अपने मेजबान की कोशिकाओं पर आक्रमण करके और उनकी प्रोटीन बनाने वाली मशीनरी को हाईजैक करके जीवित रहते हैं और दोहराते हैं, इसलिए यह वायरस के आनुवंशिक कोड को पढ़ता है और नए वायरस बनाता है। इन वायरस कणों में एंटीजन, अणु होते हैं जो प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को गति प्रदान कर सकते हैं। एक समान सिद्धांत वायरल वेक्टर टीकों को रेखांकित करता है - केवल इस मामले में, मेजबान कोशिकाओं को केवल एंटीजन बनाने के लिए कोड प्राप्त होता है। वायरल वेक्टर एक डिलीवरी सिस्टम के रूप में कार्य करता है, सेल पर आक्रमण करने और एक अलग वायरस एंटीजन (जिस रोगज़नक़ के खिलाफ आप टीकाकरण करने की कोशिश कर रहे हैं) के लिए कोड डालने का साधन प्रदान करता है। वायरस स्वयं हानिरहित है, और केवल एंटीजन का उत्पादन करने के लिए कोशिकाओं को प्राप्त करके शरीर रोग विकसित किए बिना, सुरक्षित रूप से एक प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को माउंट कर सकता है। विभिन्न वायरस वैक्टर के रूप में विकसित किए गए हैं, जिनमें एडेनोवायरस (सामान्य सर्दी का एक कारण), खसरा वायरस और वैक्सीनिया वायरस शामिल हैं। ये वैक्टर किसी भी बीमारी पैदा करने वाले जीन और कभी-कभी ऐसे जीन भी छीन लेते हैं जो उन्हें दोहराने में सक्षम बनाते हैं, जिसका अर्थ है कि वे अब हानिरहित हैं। लक्ष्य रोगज़नक़ से प्रतिजन बनाने के आनुवंशिक निर्देशों को वायरस वेक्टर के जीनोम में सिला जाता है।

वायरल वेक्टर-आधारित टीके मुख्य रूप से दो प्रकार के होते हैं। गैर-प्रतिकृति वेक्टर टीके नए वायरल कण बनाने में असमर्थ हैं; वे केवल वैक्सीन एंटीजन का उत्पादन करते हैं। वेक्टर टीकों की प्रतिकृति बनाने से वे संक्रमित कोशिकाओं में नए वायरल कण भी पैदा करते हैं, जो फिर नई कोशिकाओं को संक्रमित करते हैं जो वैक्सीन एंटीजन भी बनाएंगे। विकास के तहत कोविड -19 वायरल वेक्टर टीके गैर-प्रतिकृति वायरल वैक्टर का उपयोग करते हैं। एक बार शरीर में इंजेक्ट होने के बाद, ये वैक्सीन वायरस हमारी कोशिकाओं को संक्रमित करना शुरू कर देते हैं और अपनी आनुवंशिक सामग्री - एंटीजन जीन सहित - को कोशिकाओं के नाभिक में सम्मिलित करते हैं। मानव कोशिकाएं एंटीजन का निर्माण करती हैं जैसे कि यह उनके स्वयं के प्रोटीन में से एक हो और यह कई अन्य प्रोटीनों के साथ उनकी सतह पर प्रस्तुत किया जाता है। जब प्रतिरक्षा कोशिकाएं विदेशी प्रतिजन का पता लगाती हैं, तो वे इसके खिलाफ प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को माउंट करती हैं। इस प्रतिक्रिया में एंटीबॉडी-उत्पादक बी कोशिकाएं, साथ ही टी कोशिकाएं शामिल हैं, जो संक्रमित कोशिकाओं की तलाश करती हैं और उन्हें नष्ट कर देती हैं। टी कोशिकाएं कोशिकाओं की सतहों पर व्यक्त प्रोटीन के प्रदर्शनों की सूची की जांच करके ऐसा करती हैं। उन्हें शरीर के स्वयं के प्रोटीन को 'स्व' के रूप में पहचानने के लिए प्रशिक्षित किया गया है, इसलिए यदि वे एक विदेशी प्रोटीन को देखते हैं, जैसे कि रोगज़नक़ से एक एंटीजन, तो वे इसे ले जाने वाली कोशिका के खिलाफ एक प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को माउंट करेंगे। इस दृष्टिकोण की एक चुनौती यह है कि लोग पहले वायरस वेक्टर के संपर्क में आ सकते हैं और इसके खिलाफ प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया बढ़ा सकते हैं, जिससे टीके की प्रभावशीलता कम हो सकती है। इस तरह की "एंटी-वेक्टर इम्युनिटी" भी वैक्सीन की दूसरी खुराक को चुनौतीपूर्ण बना देती है, यह मानते हुए कि इसकी आवश्यकता है, जब तक कि यह दूसरी खुराक एक अलग वायरस वेक्टर का उपयोग करके वितरित नहीं की जाती है।

इन्हें बनाना कितना आसान है?

वायरल वेक्टर वैक्सीन उत्पादन के लिए एक प्रमुख बाधा मापनीयता है। परंपरागत रूप से, वायरल वैक्टर उन कोशिकाओं में उगाए जाते हैं जो एक सब्सट्रेट से जुड़ी होती हैं, न कि फ्री-फ्लोटिंग कोशिकाओं में - लेकिन बड़े पैमाने पर ऐसा करना मुश्किल है। अब सस्पेंशन सेल लाइन्स विकसित की जा रही हैं, जो वायरल वैक्टर को बड़े बायोरिएक्टर में उगाने में सक्षम बनाएगी। वेक्टर वैक्सीन को असेंबल करना भी एक जटिल प्रक्रिया है, जिसमें कई चरण और घटक शामिल होते हैं, जिनमें से प्रत्येक के दूषित होने का खतरा बढ़ जाता है। इसलिए हर कदम, बढ़ती लागत के बाद व्यापक परीक्षण की आवश्यकता होती है।

न्यूक्लिक एसिड (आरएनए और डीएनए)

न्यूक्लिक एसिड के टीके रोग पैदा करने वाले वायरस या जीवाणु (एक रोगज़नक़) से आनुवंशिक सामग्री का उपयोग इसके खिलाफ प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को प्रोत्साहित करने के लिए करते हैं। टीके के आधार पर, आनुवंशिक सामग्री डीएनए या आरएनए हो सकती है; दोनों ही मामलों में यह रोगज़नक़ से एक विशिष्ट प्रोटीन बनाने के लिए निर्देश प्रदान करता है, जिसे प्रतिरक्षा प्रणाली विदेशी (एक एंटीजन) के रूप में पहचान लेगी। एक बार मेजबान कोशिकाओं में डालने के बाद, यह अनुवांशिक सामग्री कोशिका की अपनी प्रोटीन बनाने वाली मशीनरी द्वारा पढ़ी जाती है और एंटीजन बनाने के लिए उपयोग की जाती है, जो तब प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को ट्रिगर करती है। यह एक अपेक्षाकृत नई तकनीक है, इसलिए हालांकि एचआईवी, जीका वायरस और कोविड -19 सहित विभिन्न बीमारियों के खिलाफ डीएनए और आरएनए टीके विकसित किए जा रहे हैं, लेकिन अभी तक उनमें से किसी को भी मानव उपयोग के लिए अनुमोदित नहीं किया गया है। कई डीएनए टीकों को जानवरों के उपयोग के लिए लाइसेंस दिया गया है, जिसमें वेस्ट नाइल वायरस के खिलाफ घोड़े का टीका भी शामिल है।

न्यूक्लिक एसिड के टीके के लाभ और नुकसान:
• प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया में बी कोशिकाएं और टी कोशिकाएं शामिल होती हैं
• कोई जीवित घटक नहीं, इसलिए टीके से बीमारी का कोई खतरा नहीं
• निर्माण में अपेक्षाकृत आसान
• कुछ आरएनए टीकों के लिए अल्ट्रा-कोल्ड स्टोरेज की आवश्यकता होती है
• मनुष्यों में कभी भी लाइसेंस प्राप्त नहीं किया गया
• बूस्टर शॉट्स की आवश्यकता हो सकती है

न्यूक्लिक एसिड कोविड -19 टीकों में शामिल हैं: फाइजर-बायोएनटेक, मॉडर्न

आवश्यक खुराक की संख्या: 2 खुराक, इंट्रामस्क्युलर

न्यूक्लिक एसिड के टीके इम्यूनिटी को कैसे ट्रिगर करते हैं?

डीएनए वैक्सीन के मामले में, एंटीजन को एन्कोडिंग करने वाले डीएनए के एक टुकड़े को पहले एक जीवाणु प्लास्मिड में डाला जाता है। यह डीएनए का एक गोलाकार टुकड़ा है जिसका उपयोग जीवाणु द्वारा जीन को संग्रहीत और साझा करने के लिए किया जाता है जो इसके अस्तित्व को लाभ पहुंचा सकता है - कंप्यूटर फ्लैश ड्राइव की तरह। प्लास्मिड मुख्य गुणसूत्र डीएनए से स्वतंत्र रूप से दोहरा सकते हैं और कोशिकाओं के बीच जीन को स्थानांतरित करने के लिए एक सरल उपकरण प्रदान करते हैं। इस वजह से, वे पहले से ही जेनेटिक इंजीनियरिंग के क्षेत्र में व्यापक रूप से उपयोग किए जा रहे हैं। एंटीजन ले जाने वाले डीएनए प्लास्मिड को आमतौर पर मांसपेशियों में इंजेक्ट किया जाता है, लेकिन एक महत्वपूर्ण चुनौती उन्हें लोगों की कोशिकाओं में पार करना है। यह एक आवश्यक कदम है, क्योंकि तंत्र जो एंटीजन को प्रोटीन में अनुवाद करने में सक्षम बनाता है वह कोशिकाओं के अंदर स्थित होता है। इस प्रक्रिया में सहायता के लिए विभिन्न तकनीकों का विकास किया जा रहा है - जैसे इलेक्ट्रोपोरेशन, जहां विद्युत प्रवाह की छोटी दालों का उपयोग रोगियों की कोशिका झिल्ली में अस्थायी छिद्र बनाने के लिए किया जाता है; एक 'जीन गन' जो त्वचा कोशिकाओं में डीएनए को आगे बढ़ाने के लिए हीलियम का उपयोग करती है; और डीएनए को नैनोकणों में समाहित करना जो कोशिका झिल्ली के साथ फ्यूज करने के लिए डिज़ाइन किए गए हैं।

आरएनए टीके मैसेंजर आरएनए (एमआरएनए) या सेल्फ-एम्पलीफाइंग आरएनए (एसएआरएनए) में रुचि के प्रतिजन को एन्कोड करते हैं - प्रोटीन का उत्पादन करने के लिए सेलुलर कारखानों द्वारा उपयोग किए जाने वाले आणविक टेम्पलेट। इसकी क्षणभंगुर प्रकृति के कारण, हमारे अपने आनुवंशिक पदार्थ के साथ इसके एकीकरण का शून्य जोखिम है। आरएनए को खुद से इंजेक्ट किया जा सकता है, नैनोकणों के भीतर समझाया जा सकता है (जैसा कि फाइजर के एमआरएनए-आधारित कोविड वैक्सीन है), या डीएनए टीकों के लिए विकसित की जा रही कुछ समान तकनीकों का उपयोग करके कोशिकाओं में संचालित किया जा सकता है। एक बार जब डीएनए या आरएनए कोशिका के अंदर होता है और यह एंटीजन का उत्पादन शुरू कर देता है, तो इन्हें इसकी सतह पर प्रदर्शित किया जाता है, जहां उन्हें प्रतिरक्षा प्रणाली द्वारा पता लगाया जा सकता है, जिससे प्रतिक्रिया शुरू हो जाती है। इस प्रतिक्रिया में हत्यारा टी कोशिकाएं शामिल हैं, जो संक्रमित कोशिकाओं की तलाश करती हैं और नष्ट करती हैं, साथ ही एंटीबॉडी-उत्पादक बी कोशिकाएं और सहायक टी कोशिकाएं जो एंटीबॉडी उत्पादन का समर्थन करती हैं।

इन्हें बनाना कितना आसान है?

एक बार रोगज़नक़ के जीनोम को अनुक्रमित कर लेने के बाद, इसके किसी भी प्रोटीन के खिलाफ एक टीका डिजाइन करना अपेक्षाकृत तेज़ और आसान होता है। उदाहरण के लिए, कोविड -19 के खिलाफ मॉडर्न के आरएनए वैक्सीन ने सार्स-सीओवी-2 जीनोम के अनुक्रम के दो महीने के भीतर नैदानिक ​​​​परीक्षणों में प्रवेश किया। नई उभरती महामारी, महामारी रोगजनकों या रोगजनकों के सामने यह गति विशेष रूप से महत्वपूर्ण हो सकती है जो तेजी से उत्परिवर्तन कर रहे हैं। डीएनए और आरएनए टीके दोनों का उत्पादन करना अपेक्षाकृत आसान है, लेकिन निर्माण प्रक्रिया उनके बीच थोड़ी भिन्न होती है। एक बार डीएनए एन्कोडिंग एंटीजन को रासायनिक रूप से संश्लेषित कर दिया गया है, इसे विशिष्ट एंजाइमों की मदद से एक जीवाणु प्लास्मिड में डाला जाता है - एक अपेक्षाकृत सरल प्रक्रिया। प्लास्मिड की कई प्रतियां तब अलग-थलग और शुद्ध होने से पहले तेजी से विभाजित होने वाले बैक्टीरिया के विशाल वत्स के भीतर उत्पन्न होती हैं। आरएनए टीकों को संश्लेषित करना आसान होता है क्योंकि यह किसी बैक्टीरिया या कोशिकाओं की आवश्यकता के बिना प्रयोगशाला में एक टेम्पलेट से रासायनिक रूप से किया जा सकता है। दोनों ही मामलों में, अलग-अलग एंटीजन के लिए टीकों का निर्माण एक ही सुविधाओं के भीतर किया जा सकता है, जिससे लागत में और कमी आएगी। अधिकांश पारंपरिक टीकों के लिए यह संभव नहीं है।

न्यूक्लिक एसिड कोविड -19 टीके

कुछ कोविड -19 टीकों के लिए एक से अधिक शॉट की आवश्यकता होती है

पूरी तरह से टीका लगवाने के लिए, आपको कुछ कोविड -19 टीकों के दो शॉट्स की आवश्यकता होगी।
• दो शॉट: यदि आपको एक कोविड-19 वैक्सीन मिलता है जिसके लिए दो शॉट्स की आवश्यकता होती है, तो आपको अपने दूसरे शॉट के दो सप्ताह बाद पूर्ण टीकाकरण माना जाता है। फाइजर-बायोएनटेक और मॉडर्न कोविड -19 टीकों के लिए दो शॉट्स की आवश्यकता होती है।
• एक शॉट: यदि आपको एक कोविड-19 टीका मिलता है जिसके लिए एक शॉट की आवश्यकता होती है, तो आपके शॉट के दो सप्ताह बाद आपको पूरी तरह से टीका लगाया गया माना जाता है। जॉनसन एंड जॉनसन की जानसेन कोविड -19 वैक्सीन के लिए केवल एक शॉट की आवश्यकता होती है।

कोविड -19 वैक्सीन शॉट

क्या हमें अलग-अलग कोविड-19 टीके चाहिए?

आखिरकार, कई सुरक्षित, प्रभावी टीके उपलब्ध होना मददगार है। इसका एक कारण यह भी है कि किसी एक निर्माता के लिए पूरी दुनिया की आबादी की सेवा करने के लिए पर्याप्त वैक्सीन जल्दी से जारी करना असंभव है। यदि कई अलग-अलग सुरक्षित और प्रभावी टीकों का उत्पादन किया जाता है, तो व्यापक टीकाकरण करना बहुत आसान होगा। साथ ही, इन सभी टीकों में बिल्कुल समान गुण नहीं होंगे। उम्मीद है, कई सफल टीके तैयार किए जाएंगे जो विभिन्न जरूरतों को पूरा करने में मदद कर सकते हैं। कुछ को कुछ भंडारण स्थितियों की आवश्यकता होती है, जैसे ठंड लगना। कुछ को बहुत ही उच्च-तकनीकी सुविधाओं में उत्पादित करने की आवश्यकता होती है जो दुनिया के सभी हिस्सों में उपलब्ध नहीं हैं, लेकिन अन्य पुरानी तकनीकों का उपयोग करते हैं जिन्हें अधिक आसानी से पुन: पेश किया जा सकता है। और कुछ दूसरों की तुलना में अधिक महंगे होंगे।

विभिन्न कोविड -19 टीके

कुछ टीके कुछ अन्य की तुलना में लंबे समय तक चलने वाली प्रतिरक्षा प्रदान कर सकते हैं, लेकिन यह इस समय स्पष्ट नहीं है। कुछ निश्चित आबादी के लिए बेहतर साबित हो सकते हैं, जैसे बुजुर्ग या कुछ चिकित्सीय स्थितियों वाले लोग। उदाहरण के लिए, जीवित वायरस के टीके शायद किसी ऐसे व्यक्ति के लिए अनुशंसित नहीं होंगे, जिन्हें अपनी प्रतिरक्षा प्रणाली की समस्या है। जैसे-जैसे अधिक शोध किया जाता है और अधिक डेटा एकत्र किया जाता है, टीकों की तुलना समय के साथ स्पष्ट हो सकती है। जैसे-जैसे उपलब्धता में सुधार होगा, अधिक से अधिक लोगों के लिए टीका लगवाना महत्वपूर्ण होगा। ऐसे प्रयासों से ही हम वास्तव में इस महामारी को समाप्त कर पाएंगे।

संबंधित विषय:

1. बवासीर क्या हैं?

पुरुष बांझपन एक ऐसी स्थिति है जो किसी पुरुष में संतान पैदा करने की संभावना को कम कर देती है। इस स्थिति के इलाज के लिए कई आधुनिक उपचार उपलब्ध हैं। अधिक जानने के लिए यहां जाएं: बवासीर क्या हैं?

2. प्रजनन क्षमता और बांझपन क्या है?

फर्टिलिटी और इनफर्टिलिटी का संबंध किसी व्यक्ति की संतान पैदा करने की क्षमता से है। बांझपन के कारण कई हो सकते हैं। इसका परीक्षण और इलाज किया जा सकता है। अधिक जानने के लिए यहां जाएं: फर्टिलिटी और इनफर्टिलिटी क्या है

3. उचित पोषण का महत्व

उचित पोषण आपके शरीर को सभी आवश्यक पोषक तत्व प्रदान करता है, यह एक संतुलित आहार खाने से प्राप्त किया जा सकता है। खराब पोषण स्वास्थ्य समस्याओं का कारण बन सकता है। अधिक जानने के लिए यहां जाएं: उचित पोषण का महत्व

4. प्रतिरक्षा क्या है?

प्रतिरक्षा शरीर की यह पहचानने की क्षमता है कि क्या स्वयं का है और क्या विदेशी है। प्रतिरक्षा प्रणाली हानिकारक जीवों के प्रतिरोध का निर्माण करने का काम करती है। अधिक जानने के लिए यहां जाएं: इम्यूनिटी क्या है




उपरोक्त आवश्यक वस्तुएं एएफडी शील्ड के पास उपलब्ध हैं।

एएफडी शील्ड कैप्सूल 12 प्राकृतिक अवयवों का एक संयोजन है, जिनमें अल्गल डीएचए, अश्वगंधा, करक्यूमिन और स्पिरुलिना शामिल हैं। एएफडी शील्ड टीजी को कम करता है, एचडीएल बढ़ाता है और उम्र से संबंधित संज्ञानात्मक गिरावट में सुधार करता है। यह तनाव और चिंता को भी कम करता है और एंटी-एजिंग गतिविधि करता है। इसके अलावा, यह इम्यूनोमॉड्यूलेटरी गतिविधि को भी बढ़ाता है, प्रतिरक्षा में सुधार करता है और सूजन और ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करता है।
न्यूट्रालॉजिकक्स: एएफडी शील्ड

AFDIL Ltd.
+91 9920121021

order@afdil.com

Read Also:


Disclaimer
Home