What is Thyroid

What is the thyroid?

The thyroid gland is a small organ that’s located in the front of the neck, wrapped around the windpipe (trachea). It’s shaped like a butterfly, smaller in the middle with two wide wings that extend around the side of your throat. The thyroid is a gland. You have glands throughout your body, where they create and release substances that help your body do a specific thing. Your thyroid makes hormones that help control many vital functions of your body.

When your thyroid doesn’t work properly, it can impact your entire body. If your body makes too much thyroid hormone, you can develop a condition called hyperthyroidism. If your body makes too little thyroid hormone, it’s called hypothyroidism. Both conditions are serious and need to be treated by your healthcare provider.

The thyroid gland secretes thyroid hormones, which control the speed at which the body’s chemical functions proceed (metabolic rate). Thyroid hormones influence the metabolic rate in two ways:

By stimulating almost every tissue in the body to produce proteins

By increasing the amount of oxygen that cells use

Thyroid hormones affect many vital body functions, such as the heart rate, the rate at which calories are burned, skin maintenance, growth, heat production, fertility, and digestion.

Spotlight on Aging: Thyroid Gland Changes in Older People

Aging itself has only minor effects on the thyroid gland and thyroid hormones. As people get older, the thyroid gland shrinks and shifts lower in the neck. The level of the thyroid hormone triiodothyronine (T3) may fall slightly, but the speed of vital functions changes very little. However, thyroid disorders become more common with aging.Disorders that affect thyroid function, particularly hyperthyroidism and hypothyroidism, can be thought of as great masqueraders in older people. These disorders often cause symptoms that are easily mistaken for symptoms of other conditions or even as signs of getting old.Increased or decreased thyroid function can dramatically worsen the way an older person feels and can greatly diminish the ability to carry out daily activities. For these reasons, the great masqueraders must be unmasked and recognized for what they are so that they can be effectively treated.Screening older people for hyperthyroidism and hypothyroidism is helpful. Some experts recommend measuring the level of thyroid-stimulating hormone in the blood in people over 65 every 5 years.

The two thyroid hormones are

T4: Thyroxine (also called tetraiodothyronine)

T3: Triiodothyronine

T4, the major hormone produced by the thyroid gland, has only a slight effect, if any, on speeding up the body’s metabolic rate. Instead, T4 is converted into T3, the more active hormone. The conversion of T4 to T3 occurs in the liver and other tissues. Many factors control the conversion of T4 to T3, including the body’s needs from moment to moment and the presence or absence of illnesses.Most of the T4 and T3 in the bloodstream is carried bound to a protein called thyroxine-binding globulin. Only a little of the T4 and T3 are circulating free in the blood. However, it is this free hormone that is active. When the free hormone is used by the body, some of the bound hormone is released from the binding protein.

To produce thyroid hormones, the thyroid gland needs iodine, an element contained in food and water. The thyroid gland traps iodine and processes it into thyroid hormones. As thyroid hormones are used, some of the iodine contained in the hormones is released, returns to the thyroid gland, and is recycled to produce more thyroid hormones. Oddly, the thyroid gland releases slightly less of the thyroid hormones if it is exposed to high levels of iodine transported to it in the blood.

The thyroid gland also produces the hormone calcitonin, which may contribute to bone strength by helping calcium to be incorporated into bone.

How the body adjusts thyroid hormones

The body has a complex mechanism for adjusting the level of thyroid hormones. First, the hypothalamus, located just above the pituitary gland in the brain, secretes thyrotropin-releasing hormone, which causes the pituitary gland to produce thyroid-stimulating hormone (TSH). Just as the name suggests, TSH stimulates the thyroid gland to produce thyroid hormones. The pituitary gland slows or speeds the release of TSH, depending on whether the levels of thyroid hormones circulating in the blood are getting too high or too low.

What does the thyroid do?

The thyroid controls your metabolism with a few specific hormones — T4 (thyroxine, contains four iodide atoms) and T3 (triiodothyronine, contains three iodide atoms). These two hormones are created by the thyroid and they tell the body’s cells how much energy to use. When your thyroid works properly, it will maintain the right amount of hormones to keep your metabolism working at the right rate. As the hormones are used, the thyroid creates replacements.

This is all supervised by something called the pituitary gland. Located in the center of the skull, below your brain, the pituitary gland monitors and controls the amount of thyroid hormones in your bloodstream. When the pituitary gland senses a lack of thyroid hormones or a high level of hormones in your body, it will adjust the amounts with its own hormone. This hormone is called thyroid stimulating hormone (TSH). The TSH will be sent to the thyroid and it will tell the thyroid what needs to be done to get the body back to normal.

What is thyroid disease?

Thyroid disease is a general term for a medical condition that keeps your thyroid from making the right amount of hormones. Your thyroid typically makes hormones that keep your body functioning normally. When the thyroid makes too much thyroid hormone, your body uses energy too quickly. This is called hyperthyroidism. Using energy too quickly will do more than make you tired — it can make your heart beat faster, cause you to lose weight without trying and even make you feel nervous. On the flip-side of this, your thyroid can make too little thyroid hormone. This is called hypothyroidism. When you have too little thyroid hormone in your body, it can make you feel tired, you might gain weight and you may even be unable to tolerate cold temperatures.

These two main disorders can be caused by a variety of conditions. They can also be passed down through families (inherited).

What are the types of thyroid disorders?

The most common thyroid disorders include:

• Thyroid nodules- The term "thyroid nodule" refers to any abnormal growth that forms a lump in the thyroid gland.The thyroid gland is located low in the front of the neck, below the Adam's apple. The gland is shaped like a butterfly and wraps around the windpipe or trachea. The two wings or lobes on either side of the windpipe are joined together by a bridge of tissue, called the isthmus, which crosses over the front of the windpipe.A thyroid nodule can occur in any part of the gland. Some nodules can be felt quite easily. Others can be hidden deep in the thyroid tissue or located very low in the gland, where they are difficult to feel.

• Hashimoto's thyroiditis- Also called Hashimoto's disease, Hashimoto's thyroiditis is an autoimmune disease, a disorder in which the immune system turns against the body's own tissues. In people with Hashimoto's, the immune system attacks the thyroid.

• Hyperparathyroidism- Hyperparathyroidism is a condition in which one or more of your parathyroid glands become overactive and release (secrete) too much parathyroid hormone (PTH). This causes the levels of calcium in your blood to rise, a condition known as hypercalcemia

• Thyroid cancer- Thyroid cancer occurs when cells in your thyroid undergo genetic changes (mutations). The mutations allow the cells to grow and multiply rapidly. The cells also lose the ability to die, as normal cells would. The accumulating abnormal thyroid cells form a tumor. The abnormal cells can invade nearby tissue and can spread (metastasize) to other parts of the body.

• Thyroiditis- Thyroiditis has three phases:-Thyrotoxic phase. The thyroid is swollen and releases too many hormones.Hypothyroid phase. After a few weeks or months, too much of the thyroid hormone is released and leads to hypothyroidism, when you don’t have enough left.Euthyroid phase. In this phase, thyroid levels are normal. It can happen between the first two phases or at the end, after the swelling has gone down.

• Hypothyroidism- Hypothyroidism (underactive thyroid) is a condition in which your thyroid gland doesn't produce enough of certain crucial hormones.Hypothyroidism may not cause noticeable symptoms in the early stages. Over time, untreated hypothyroidism can cause a number of health problems, such as obesity, joint pain, infertility and heart disease.

• Graves' disease- Graves' disease is an immune system disorder that results in the overproduction of thyroid hormones (hyperthyroidism). Although a number of disorders may result in hyperthyroidism, Graves' disease is a common cause. Thyroid hormones affect many body systems, so signs and symptoms of Graves' disease can be wide ranging.

Thyroid Test

Who is affected by thyroid disease?

Thyroid disease can affect anyone — men, women, infants, teenagers and the elderly. It can be present at birth (typically hypothyroidism) and it can develop as you age (often after menopause in women).
Thyroid disease is very common, with an estimated 20 million people in the Unites States having some type of thyroid disorder. A woman is about five to eight times more likely to be diagnosed with a thyroid condition than a man.
You may be at a higher risk of developing a thyroid disease if you:
•Have a family history of thyroid disease.
•Have a medical condition (these can include pernicious anemia, type 1 diabetes, primary adrenal insufficiency, lupus, rheumatoid arthritis, Sjögren’s syndrome and Turner syndrome).
•Take a medication that’s high in iodine (amiodarone).
•Are older than 60, especially in women.
•Have had treatment for a past thyroid condition or cancer (thyroidectomy or radiation).

What are thyroid function tests?

Thyroid function tests or thyroid blood test are a series of blood tests used to measure how well your thyroid gland is working. Available tests include the T3, T3RU, T4, and TSH.The thyroid is a small gland located in the lower-front part of your neck. It’s responsible for helping to regulate many of the body’s processes, such as metabolism, energy generation, and mood.

The thyroid produces two major hormones: triiodothyronine (T3) and thyroxine (T4). If your thyroid gland doesn’t produce enough of these hormones, you may experience symptoms such as weight gain, lack of energy, and depression. This condition is called hypothyroidism.If your thyroid gland produces too many hormones, you may experience weight loss, high levels of anxiety, tremors, and a sense of being on a high. This is called hyperthyroidism

Typically, a doctor who is concerned about your thyroid hormone levels will order thyroid blood test with broad screening tests, such as the T4 or the thyroid-stimulating hormone (TSH) test. If those results come back abnormal, your doctor will order further tests to pinpoint the reason for the problem.

Drawing blood for thyroid function tests

Talk to your doctor about any medications you’re taking, and tell your doctor if you’re pregnant. Certain medications and being pregnant may influence your test results before thyroid blood test.

A blood draw, also known as venipuncture, is a procedure performed at a lab or a doctor’s office. When you arrive for the test, you’ll be asked to sit in a comfortable chair or lie down on a cot or gurney. If you’re wearing long sleeves, you’ll be asked to roll up one sleeve or to remove your arm from the sleeve.

A technician or nurse will tie a band of rubber tightly around your upper arm to make the veins swell with blood. Once the technician has found an appropriate vein, they’ll insert a needle under the skin and into the vein. You may feel a sharp prick when the needle punctures your skin. The technician will collect your blood in test tubes and send it to a laboratory for analysis.When the technician has gathered the amount of blood needed for the tests, they’ll withdraw the needle and place pressure on the puncture wound until the bleeding stops. The technician will then place a small bandage over the wound.You should be able to return to your normal daily activities immediately

What is a T4 test?

A Total T4 test measures the bound and free thyroxine (T4) hormone in the blood. A Free T4 measures what is not bound and able to freely enter and affect the body tissues.

Importantly, Total T4 levels are affected by medications and medical conditions that change thyroid hormone binding proteins. Estrogen, oral contraceptive pills, pregnancy, liver disease, and hepatitis C virus infection are common causes of increased thyroid hormone binding proteins and will result in a high Total T4. Testosterone or androgens and anabolic steroids are common causes of decreased thyroid hormone binding proteins and will result in a low Total T4.

In some circumstances, like pregnancy, a person may have normal thyroid function but Total T4 levels outside of the normal reference range. Tests measuring free T4 – either a free T4 (FT4) or free T4 index (FTI) – may more accurately reflect how the thyroid gland is functioning in these circumstances. An endocrinologist can determine when thyroid disease is present in the context of abnormal thyroid binding proteins.

What is a T3 test?

T3 tests measure triiodothyronine (T3) levels in the blood. A Total T3 test measures the bound and free fractions of triiodothyronine. Hyperthyroid patients typically have an elevated Total T3 level. T3 tests can be used to support a diagnosis of hyperthyroidism and can determine the severity hyperthyroidism.

In some thyroid diseases, the proportions of T3 and T4 in the blood change and can provide diagnostic information.In thyroid blood test a pattern of increased T3 vs T4 is characteristic of Graves’ disease. On the other hand, medications like steroids and amiodarone, and severe illness can decrease the amount of thyroid hormone the body converts from T4 to T3 (active form) resulting in a lower proportion of T3.T3 levels fall late in the course of hypothyroidism and therefore are not routinely used to evaluate patients with underactive or surgically absent thyroid glands.Measurement of Free T3 is possible, but is often not reliable and therefore may not be helpful.

Side effects of thyroid and aftercare

A blood draw is a routine in thyroid blood test, minimally invasive procedure. During the days immediately after the blood draw, you may notice slight bruising or soreness at the area where the needle was inserted. An ice pack or an over-the-counter pain reliever can help ease your discomfort.If you experience a great deal of pain, or if the area around the puncture becomes red and swollen, follow up with your doctor immediately. These could be signs of an infection.

Thyroid Blood Test

Understanding your test results

T4 and TSH results
The T4 test and the TSH test in thyroid blood test are the two most common thyroid function tests. They’re usually ordered together.
The T4 test is known as the thyroxine test. A high level of T4 indicates an overactive thyroid (hyperthyroidism). Symptoms include anxiety, unplanned weight loss, tremors, and diarrhea. Most of the T4 in your body is bound to protein. A small portion of T4 is not and this is called free T4. Free T4 is the form that is readily available for your body to use. Sometimes a free T4 level is also checked along with the T4 test.
The TSH test measures the level of thyroid-stimulating hormone in your thyroid blood test. The TSH has a normal test range between 0.4 and 4.0 milli-international units of hormone per liter of blood (mIU/L).
If you show signs of hypothyroidism and have a TSH reading above 2.0 mIU/L, you’re at risk for progressing to hypothyroidism. Symptoms include weight gain, fatigue, depression, and brittle hair and fingernails. Your doctor will likely want to perform thyroid function tests at least every other year going forward. Your doctor may also decide to begin treating you with medications, such as levothyroxine, to ease your symptoms.
Both the T4 and TSH tests are routinely performed on newborn babies to identify a low-functioning thyroid gland. If left untreated, this condition, called congenital hypothyroidism, can lead to developmental disabilities.

T3 results
The T3 test checks for levels of the hormone triiodothyronine. It’s usually ordered if T4 tests and TSH tests suggest hyperthyroidismcin thyroid blood test. The T3 test may also be ordered if you’re showing signs of an overactive thyroid gland and your T4 and TSH aren’t elevatedTrusted Source.
The normal range for the T3 is 100–200 nanograms of hormone per deciliter of blood (ng/dL). Abnormally high levels most commonly indicate a condition called Grave’s disease. This is an autoimmune disorder associated with hyperthyroidism.
A T3 resin uptake, also known as a T3RU, is a blood test that measures the binding capacity of a hormone called thyroxin-binding globulin (TBG). If your T3 level is elevated, your TBG binding capacity should be low.
Abnormally low levels of TBG often indicate a problem with the kidneys or with the body not getting enough protein. Abnormally high levels of TBG suggest high levels of estrogen in the body. High estrogen levels may be caused by pregnancy, eating estrogen-rich foods, obesity, or hormone replacement therapy.

Follow-up
If your blood work suggests that your thyroid gland is overactive or underactive, your doctor may order a thyroid uptake test or an ultrasound test. These tests will check for structural problems with the thyroid gland, thyroid gland activity, and any tumors that may be causing problems. Based on these findings, your doctor may want to sample tissue from the thyroid to check for cancer.
If the scan is normal, your doctor will likely prescribe medication to regulate your thyroid activity. They will follow up with additional thyroid function tests to make sure the medication is working

9 Thyroid Tests Your Doctor Likely Missed

1)Functional Nutrition
This third article discusses additional reasons your thyroid may not be functioning optimally. All these thyroid tests are just as important as the tests I discussed in my first two blogs. Unless you have a physician skilled in Functional Medicine, you will never receive these tests as part of your thyroid evaluation. You may wish to consider them, if you want to uncover every reason why you have a thyroid problem.

2)Selenium
A selenium deficiency can increase autoantibody levels in patients with Hashimoto’s Autoimmune Thyroiditis. Supplementation at 200ucg/day for several months reduced antibody levels in all studies. Selenium is needed by two enzyme systems important to thyroid function. One protects the body from oxidative damage. The normal production of thyroid hormone requires hydrogen peroxide. If there is a selenium deficiency, the enzyme, glutathione peroxidase, cannot perform its function, leading to thyroid tissue damage. A second enzyme, 5’-deiodinase, converts inactive T4 into active T3. It requires selenium to function properly.
The best test for determining selenium deficiency at the cellular level is a Trace Mineral Analysis, which uses head hair as the specimen.

3)Vitamin D
Vitamin D targets over 2000 genes (about 10% of our genes). Current research indicates that vitamin D deficiency is a major factor in at least 17 varieties of cancer as well as heart disease, stroke, hypertension, autoimmune diseases, (including Hashimoto’s Autoimmune Thyroiditis), diabetes, depression, chronic pain, osteoarthritis, osteoporosis, muscle weakness, muscle wasting, birth defects, periodontal disease, and more.One recent inner-city study showed that 25% of the participants were overtly deficient and that a significant portion had well below optimal blood levels.

4)Mercury, Lead and Other Toxic Elements
Mercury is a known thyroid toxin. In today’s world avoiding toxic metals is impossible. Exposure comes from thousands of sources. An important fact to understand is that heavy metals have absolutely no function in the body. Their presence, in any quantity interferes with normal function. The only totally safe level is absence. Even low levels have been linked to cancer, heart disease and neurological conditions (including Alzheimer’s, autism and ADD). These toxins are absorbed through the skin, lungs and intestines
There are many ways to test for heavy metals in the body. Probably the best screening method is through head hair.

5)Estrogen
Female and male sex hormones all interact with thyroid hormone. Increased estrogen levels indirectly cause a corresponding increase in bound thyroid hormones and a decrease in free or active ones. Increased estrogen also increases reverse T3 (rT3) levels, which acts as a metabolic brake, slowing down metabolism, by binding to thyroid receptors on the cell surface and blocking them from binding with FT3. Birth control pills are one cause of increased estrogen levels. Weight gain is often seen in women taking oral contraceptives.

6)Progesterone
Increased progesterone causes an increase in body temperature by up to a degree by stimulating production of more thyroid hormone. Low levels of progesterone, especially when coupled with elevated estrogen, can cause hypothyroid and menstrual complaints.
Estrogen and progesterone levels are easily accessed through a salivary hormone panel. The advantage of using salivary hormone testing is that it only measures free or active hormones at the tissue level. Blood tests measure total hormone levels (bound + free in the blood, not at the tissue level) and do not distinguish between the two.

7)Bromide/Fluoride
Both are highly toxic elements to the thyroid gland widely used in many products, including drugs, pesticides, fire retardants, computers, furniture, automobiles, carpeting, toothpaste, brominated vegetable oil and baked goods. The Iodine Loading Test includes has an option to measure bromide and fluoride.

8)Gluten
Entire books have been written on the negative impact gluten has on many people. Anyone with a thyroid condition should be evaluated for gluten sensitivity. It is absolutely mandatory for patients with Hashimoto’s Autoimmune Thyroiditis. Gluten is a major contributing cause for many cases of autoimmunity. Antibodies directed against gluten cross-react with many tissues of the body, including thyroid, pancreas and nerve tissues.
The definitive lab test for gluten sensitivity is through Cyrex Labs. 24 different components of gluten are tested. It is an expensive test. An even better, totally free test is total gluten abstinence from the diet to see how one improves.

9)C-Reactive Protein (C-RP)
This is a simple, inexpensive blood test that is a measure of inflammation. Elevated levels are an indicator of generalized inflammation that can negatively impact thyroid function. Glucose, HbA1C and Insulin. A thorough evaluation of glucose metabolism is important for thyroid evaluation. Insulin surges, excess and resistance can inhibit the release of TSH, decreasing thyroid hormone release.

Are individuals with autoimmune thyroid disease at increased risk of Covid-19 infection?

Covid-19 is still a new virus however studies showing how it may affect individuals with thyroid disease are beginning to emerge (see question below).
Thyroid disease is not known to be associated with increased risk of viral infections in general, nor is there an association between thyroid disease and severity of the viral infection.
Many people are asking whether having autoimmune thyroid disease means you are immunocompromised. We can confirm it does not. The part of the immune system that’s responsible for autoimmune thyroid conditions is separate to the immune system that’s responsible for fighting off viral infections, such as Covid-19. Patients who are classified as having a weakened immune system (immunocompromised) are typically those with conditions such as leukaemias, HIV and AIDS, or who are on medicines such as high-dose steroids, immunomodulatory drugs for rheumatoid arthritis or multiple sclerosis, cancer chemotherapy or following organ transplantation.

Related topics:

1. What is bronchitis and how it's treatable ?

Bronchitis and its remedies

2. How harmfull is diverticulitis ?

Diverticulitis symptoms and treatment

3. Know more about boosting immunity

How to boost immunity




The above essentials are available with AFD SHIELD.
AFD Shield capsule is a combination of 12 natural ingredients among which are Algal DHA, Ashwagandha, Curcumin and Spirullina. AFD Shield reduces TG, increases HDL and improves age related cognitive decline. It also reduces stress and anxiety and performs anti-aging activity.Moreover, it also enhances the immunomodulatory activity, improves immunity and reduces inflammation and oxidative stress. Nutralogicx: AFD SHIELD

थायराइड टेस्ट

थायराइड क्या है?

थायरॉयड ग्रंथि एक छोटा अंग है जो गर्दन के सामने स्थित होता है, जो श्वासनली (श्वासनली) के चारों ओर लिपटा होता है। यह तितली के आकार की होती है, बीच में छोटी होती है, जिसके दो चौड़े पंख होते हैं जो आपके गले के चारों ओर फैले होते हैं। थायराइड एक ग्रंथि है। आपके पूरे शरीर में ग्रंथियां होती हैं, जहां वे ऐसे पदार्थ बनाती और छोड़ते हैं जो आपके शरीर को एक विशिष्ट कार्य करने में मदद करते हैं। आपका थायराइड हार्मोन बनाता है जो आपके शरीर के कई महत्वपूर्ण कार्यों को नियंत्रित करने में मदद करता है।

जब आपका थायरॉयड ठीक से काम नहीं करता है, तो यह आपके पूरे शरीर को प्रभावित कर सकता है। यदि आपका शरीर बहुत अधिक थायराइड हार्मोन बनाता है, तो आप हाइपरथायरायडिज्म नामक स्थिति विकसित कर सकते हैं। यदि आपका शरीर बहुत कम थायराइड हार्मोन बनाता है, तो इसे हाइपोथायरायडिज्म कहा जाता है। दोनों स्थितियां गंभीर हैं और आपके स्वास्थ्य सेवा प्रदाता द्वारा इलाज की आवश्यकता है।

थायरॉयड ग्रंथि थायराइड हार्मोन को गुप्त करती है, जो उस गति को नियंत्रित करती है जिस गति से शरीर के रासायनिक कार्य होते हैं (चयापचय दर)। थायराइड हार्मोन चयापचय दर को दो तरह से प्रभावित करते हैं:

प्रोटीन का उत्पादन करने के लिए शरीर के लगभग हर ऊतक को उत्तेजित करके

कोशिकाओं द्वारा उपयोग की जाने वाली ऑक्सीजन की मात्रा को बढ़ाकर

थायराइड हार्मोन शरीर के कई महत्वपूर्ण कार्यों को प्रभावित करते हैं, जैसे हृदय गति, कैलोरी जलने की दर, त्वचा का रखरखाव, विकास, गर्मी उत्पादन, प्रजनन क्षमता और पाचन।

उम्र बढ़ने पर स्पॉटलाइट: वृद्ध लोगों में थायराइड ग्रंथि में परिवर्तन

उम्र बढ़ने का थायरॉइड ग्रंथि और थायराइड हार्मोन पर केवल मामूली प्रभाव पड़ता है। जैसे-जैसे लोग बड़े होते हैं, थायरॉयड ग्रंथि सिकुड़ती है और गर्दन के निचले हिस्से में शिफ्ट होती है। थायराइड हार्मोन ट्राईआयोडोथायरोनिन (T3) का स्तर थोड़ा गिर सकता है, लेकिन महत्वपूर्ण कार्यों की गति बहुत कम बदलती है। हालांकि, उम्र बढ़ने के साथ थायरॉइड विकार अधिक आम हो जाते हैं। विकार जो थायराइड समारोह को प्रभावित करते हैं, विशेष रूप से हाइपरथायरायडिज्म और हाइपोथायरायडिज्म, वृद्ध लोगों में महान मुखौटा के रूप में सोचा जा सकता है। ये विकार अक्सर ऐसे लक्षणों का कारण बनते हैं जो आसानी से अन्य स्थितियों के लक्षणों के लिए या यहां तक ​​​​कि बूढ़े होने के संकेतों के रूप में गलत होते हैं। थायराइड समारोह में वृद्धि या कमी एक वृद्ध व्यक्ति के महसूस करने के तरीके को नाटकीय रूप से खराब कर सकती है और दैनिक गतिविधियों को करने की क्षमता को बहुत कम कर सकती है। इन कारणों के लिए, महान नकाबपोशों को बेनकाब और पहचाना जाना चाहिए कि वे क्या हैं ताकि उनका प्रभावी ढंग से इलाज किया जा सके। हाइपरथायरायडिज्म और हाइपोथायरायडिज्म के लिए वृद्ध लोगों की स्क्रीनिंग मददगार है। कुछ विशेषज्ञ हर 5 साल में 65 से अधिक उम्र के लोगों में रक्त में थायराइड-उत्तेजक हार्मोन के स्तर को मापने की सलाह देते हैं।

दो थायराइड हार्मोन हैं

T4: थायरोक्सिन (जिसे टेट्राआयोडोथायरोनिन भी कहा जाता है)

T3: ट्राईआयोडोथायरोनिन

T4, थायरॉइड ग्रंथि द्वारा निर्मित प्रमुख हार्मोन, शरीर की चयापचय दर को तेज करने पर, यदि कोई हो, केवल थोड़ा सा प्रभाव डालता है। इसके बजाय, T4 अधिक सक्रिय हार्मोन T3 में परिवर्तित हो जाता है। T4 से T3 का रूपांतरण यकृत और अन्य ऊतकों में होता है। कई कारक T4 से T3 के रूपांतरण को नियंत्रित करते हैं, जिसमें शरीर की पल-पल की जरूरतें और बीमारियों की उपस्थिति या अनुपस्थिति शामिल हैं। रक्तप्रवाह में अधिकांश T4 और T3 थायरोक्सिन-बाइंडिंग ग्लोब्युलिन नामक प्रोटीन से बंधे होते हैं। रक्त में केवल T4 और T3 का थोड़ा सा ही मुक्त परिसंचारी होता है। हालांकि, यह मुक्त हार्मोन सक्रिय है। जब शरीर द्वारा मुक्त हार्मोन का उपयोग किया जाता है, तो बाध्यकारी प्रोटीन से कुछ बाध्य हार्मोन निकलता है।

थायराइड हार्मोन का उत्पादन करने के लिए, थायरॉयड ग्रंथि को आयोडीन की आवश्यकता होती है, जो भोजन और पानी में निहित तत्व है। थायरॉयड ग्रंथि आयोडीन को फँसाती है और इसे थायराइड हार्मोन में संसाधित करती है। जैसे ही थायराइड हार्मोन का उपयोग किया जाता है, हार्मोन में निहित कुछ आयोडीन जारी किया जाता है, थायरॉयड ग्रंथि में वापस आ जाता है, और अधिक थायराइड हार्मोन का उत्पादन करने के लिए पुनर्नवीनीकरण किया जाता है। अजीब तरह से, थायरॉइड ग्रंथि थायराइड हार्मोन से थोड़ा कम रिलीज करती है अगर यह रक्त में आयोडीन के उच्च स्तर के संपर्क में आती है।

थायरॉयड ग्रंथि भी हार्मोन कैल्सीटोनिन का उत्पादन करती है, जो कैल्शियम को हड्डी में शामिल करने में मदद करके हड्डियों की मजबूती में योगदान कर सकती है।

शरीर थायराइड हार्मोन को कैसे समायोजित करता है

थायराइड हार्मोन के स्तर को समायोजित करने के लिए शरीर में एक जटिल तंत्र है। सबसे पहले, मस्तिष्क में पिट्यूटरी ग्रंथि के ठीक ऊपर स्थित हाइपोथैलेमस, थायरोट्रोपिन-विमोचन हार्मोन को स्रावित करता है, जो पिट्यूटरी ग्रंथि को थायरॉयड-उत्तेजक हार्मोन (TSH) का उत्पादन करने का कारण बनता है। जैसा कि नाम से पता चलता है, टीएसएच थायराइड ग्रंथि को थायराइड हार्मोन का उत्पादन करने के लिए उत्तेजित करता है। पिट्यूटरी ग्रंथि टीएसएच की रिहाई को धीमा या गति देती है, यह इस बात पर निर्भर करता है कि रक्त में घूमने वाले थायराइड हार्मोन का स्तर बहुत अधिक या बहुत कम हो रहा है या नहीं।

थायराइड क्या करता है?

थायराइड कुछ विशिष्ट हार्मोनों के साथ आपके चयापचय को नियंत्रित करता है - T4 (थायरोक्सिन, चार आयोडाइड परमाणु होते हैं) और T3 (ट्राईआयोडोथायरोनिन, तीन आयोडाइड परमाणु होते हैं)। ये दो हार्मोन थायराइड द्वारा निर्मित होते हैं और ये शरीर की कोशिकाओं को बताते हैं कि कितनी ऊर्जा का उपयोग करना है। जब आपका थायरॉयड ठीक से काम करता है, तो यह आपके चयापचय को सही दर पर काम करने के लिए सही मात्रा में हार्मोन बनाए रखेगा। जैसे ही हार्मोन का उपयोग किया जाता है, थायराइड प्रतिस्थापन बनाता है।

यह सब पिट्यूटरी ग्रंथि नामक किसी चीज द्वारा पर्यवेक्षित होता है। खोपड़ी के केंद्र में स्थित, आपके मस्तिष्क के नीचे, पिट्यूटरी ग्रंथि आपके रक्तप्रवाह में थायराइड हार्मोन की मात्रा की निगरानी और नियंत्रण करती है। जब पिट्यूटरी ग्रंथि को आपके शरीर में थायराइड हार्मोन की कमी या उच्च स्तर के हार्मोन का पता चलता है, तो यह मात्रा को अपने हार्मोन के साथ समायोजित कर लेगा। इस हार्मोन को थायराइड उत्तेजक हार्मोन (TSH) कहा जाता है। TSH को थायराइड में भेजा जाएगा और यह थायराइड को बताएगा कि शरीर को सामान्य स्थिति में लाने के लिए क्या करने की जरूरत है।

थायराइड रोग क्या है?

थायराइड रोग एक चिकित्सा स्थिति के लिए एक सामान्य शब्द है जो आपके थायरॉयड को सही मात्रा में हार्मोन बनाने से रोकता है। आपका थायराइड आमतौर पर ऐसे हार्मोन बनाता है जो आपके शरीर को सामान्य रूप से काम करते रहते हैं। जब थायराइड बहुत अधिक थायराइड हार्मोन बनाता है, तो आपका शरीर बहुत जल्दी ऊर्जा का उपयोग करता है। इसे हाइपरथायरायडिज्म कहा जाता है। ऊर्जा का बहुत तेज़ी से उपयोग करना आपको थका देने के अलावा और भी बहुत कुछ करेगा - यह आपके दिल की धड़कन को तेज़ कर सकता है, जिससे आप बिना कोशिश किए वजन कम कर सकते हैं और यहाँ तक कि आपको घबराहट भी महसूस हो सकती है। दूसरी तरफ, आपका थायराइड बहुत कम थायराइड हार्मोन बना सकता है। इसे हाइपोथायरायडिज्म कहा जाता है। जब आपके शरीर में बहुत कम थायराइड हार्मोन होता है, तो यह आपको थका हुआ महसूस करा सकता है, आपका वजन बढ़ सकता है और आप ठंडे तापमान को सहन करने में भी असमर्थ हो सकते हैं।

ये दो मुख्य विकार विभिन्न स्थितियों के कारण हो सकते हैं। उन्हें परिवारों (विरासत में मिली) के माध्यम से भी पारित किया जा सकता है।

थायराइड विकार कितने प्रकार के होते हैं?

सबसे आम थायराइड विकारों में शामिल हैं:

• थायरॉइड नोड्यूल्स- "थायरॉइड नोड्यूल" शब्द किसी भी असामान्य वृद्धि को संदर्भित करता है जो थायरॉयड ग्रंथि में एक गांठ बनाता है। थायरॉइड ग्रंथि एडम के सेब के नीचे, गर्दन के सामने कम स्थित होती है। ग्रंथि तितली के आकार की होती है और श्वासनली या श्वासनली के चारों ओर लपेटती है। विंडपाइप के दोनों ओर के दो पंख या लोब ऊतक के एक पुल द्वारा आपस में जुड़े हुए हैं, जिसे इस्थमस कहा जाता है, जो विंडपाइप के सामने को पार करता है। ग्रंथि के किसी भी हिस्से में एक थायरॉयड नोड्यूल हो सकता है। कुछ नोड्यूल्स को काफी आसानी से महसूस किया जा सकता है। दूसरों को थायरॉइड ऊतक में गहराई से छुपाया जा सकता है या ग्रंथि में बहुत कम स्थित हो सकता है, जहां उन्हें महसूस करना मुश्किल होता है।

• हाशिमोटो का थायरॉयडिटिस- हाशिमोटो की बीमारी भी कहा जाता है, हाशिमोटो का थायरॉयडिटिस एक ऑटोइम्यून बीमारी है, एक विकार जिसमें प्रतिरक्षा प्रणाली शरीर के अपने ऊतकों के खिलाफ हो जाती है। हाशिमोटो वाले लोगों में, प्रतिरक्षा प्रणाली थायरॉयड पर हमला करती है।

• हाइपरपैराथायरायडिज्म- हाइपरपैराथायरायडिज्म एक ऐसी स्थिति है जिसमें आपकी एक या अधिक पैराथाइरॉइड ग्रंथियां अति सक्रिय हो जाती हैं और बहुत अधिक पैराथाइरॉइड हार्मोन (पीटीएच) छोड़ती हैं। इससे आपके रक्त में कैल्शियम का स्तर बढ़ जाता है, एक ऐसी स्थिति जिसे हाइपरलकसीमिया कहा जाता है

• थायरॉइड कैंसर- थायराइड कैंसर तब होता है जब आपके थायरॉयड की कोशिकाएं आनुवंशिक परिवर्तन (म्यूटेशन) से गुजरती हैं। उत्परिवर्तन कोशिकाओं को बढ़ने और तेजी से गुणा करने की अनुमति देते हैं। कोशिकाएं भी सामान्य कोशिकाओं की तरह मरने की क्षमता खो देती हैं। जमा होने वाली असामान्य थायरॉयड कोशिकाएं एक ट्यूमर बनाती हैं। असामान्य कोशिकाएं आस-पास के ऊतकों पर आक्रमण कर सकती हैं और शरीर के अन्य भागों में फैल सकती हैं (मेटास्टेसिस)।

• थायरॉइडाइटिस- थायरॉइडाइटिस के तीन चरण होते हैं: -थायरोटॉक्सिक चरण। थायराइड सूज जाता है और बहुत सारे हार्मोन छोड़ता है। हाइपोथायरायड चरण। कुछ हफ्तों या महीनों के बाद, थायरॉइड हार्मोन का बहुत अधिक स्राव होता है और हाइपोथायरायडिज्म की ओर जाता है, जब आपके पास पर्याप्त बचा नहीं होता है। यूथायरॉयड चरण। इस चरण में, थायराइड का स्तर सामान्य होता है। यह सूजन कम होने के बाद पहले दो चरणों के बीच या अंत में हो सकता है।

• हाइपोथायरायडिज्म- हाइपोथायरायडिज्म (अंडरएक्टिव थायरॉयड) एक ऐसी स्थिति है जिसमें आपकी थायरॉयड ग्रंथि कुछ महत्वपूर्ण हार्मोन का पर्याप्त उत्पादन नहीं करती है। हाइपोथायरायडिज्म प्रारंभिक अवस्था में ध्यान देने योग्य लक्षण पैदा नहीं कर सकता है। समय के साथ, अनुपचारित हाइपोथायरायडिज्म कई स्वास्थ्य समस्याओं का कारण बन सकता है, जैसे मोटापा, जोड़ों का दर्द, बांझपन और हृदय रोग।

• ग्रेव्स रोग- ग्रेव्स रोग एक प्रतिरक्षा प्रणाली विकार है जिसके परिणामस्वरूप थायराइड हार्मोन (हाइपरथायरायडिज्म) का अधिक उत्पादन होता है। हालांकि कई विकारों के परिणामस्वरूप हाइपरथायरायडिज्म हो सकता है, ग्रेव्स रोग एक सामान्य कारण है। थायराइड हार्मोन कई शरीर प्रणालियों को प्रभावित करते हैं, इसलिए ग्रेव्स रोग के लक्षण और लक्षण व्यापक हो सकते हैं।

Thyroid Test

थायराइड रोग से कौन प्रभावित होता है?

थायराइड रोग किसी को भी प्रभावित कर सकता है - पुरुष, महिला, शिशु, किशोर और बुजुर्ग। यह जन्म के समय उपस्थित हो सकता है (आमतौर पर हाइपोथायरायडिज्म) और यह आपकी उम्र के रूप में विकसित हो सकता है (अक्सर महिलाओं में रजोनिवृत्ति के बाद)।
थायराइड रोग बहुत आम है, संयुक्त राज्य अमेरिका में अनुमानित 20 मिलियन लोगों को किसी न किसी प्रकार का थायराइड विकार है। एक पुरुष की तुलना में एक महिला में थायराइड की स्थिति का निदान होने की संभावना लगभग पांच से आठ गुना अधिक होती है।
आपको थायराइड रोग होने का अधिक खतरा हो सकता है यदि आप:
• थायराइड रोग का पारिवारिक इतिहास है।
• एक चिकित्सीय स्थिति है (इनमें घातक रक्ताल्पता, टाइप 1 मधुमेह, प्राथमिक अधिवृक्क अपर्याप्तता, ल्यूपस, रुमेटीइड गठिया, सोजोग्रेन सिंड्रोम और टर्नर सिंड्रोम शामिल हो सकते हैं)।
• ऐसी दवा लें जिसमें आयोडीन (एमीओडारोन) अधिक हो।
• 60 से अधिक उम्र के हैं, खासकर महिलाओं में।
• पिछले थायराइड की स्थिति या कैंसर (थायरॉयडेक्टॉमी या विकिरण) का इलाज करवा चुके हैं।

थायराइड फंक्शन टेस्ट क्या हैं?

थायराइड फंक्शन टेस्ट या थायरॉइड ब्लड टेस्ट रक्त परीक्षणों की एक श्रृंखला है जिसका उपयोग यह मापने के लिए किया जाता है कि आपकी थायरॉयड ग्रंथि कितनी अच्छी तरह काम कर रही है। उपलब्ध परीक्षणों में T3, T3RU, T4 और TSH शामिल हैं। थायरॉयड आपकी गर्दन के निचले हिस्से में स्थित एक छोटी ग्रंथि है। यह शरीर की कई प्रक्रियाओं, जैसे चयापचय, ऊर्जा उत्पादन और मनोदशा को विनियमित करने में मदद करने के लिए जिम्मेदार है।

थायराइड दो प्रमुख हार्मोन पैदा करता है: ट्राईआयोडोथायरोनिन (T3) और थायरोक्सिन (T4)। यदि आपकी थायरॉयड ग्रंथि इन हार्मोनों का पर्याप्त उत्पादन नहीं करती है, तो आपको वजन बढ़ना, ऊर्जा की कमी और अवसाद जैसे लक्षणों का अनुभव हो सकता है। इस स्थिति को हाइपोथायरायडिज्म कहा जाता है। यदि आपकी थायरॉयड ग्रंथि बहुत अधिक हार्मोन का उत्पादन करती है, तो आप वजन घटाने, उच्च स्तर की चिंता, कंपकंपी और उच्च होने की भावना का अनुभव कर सकते हैं। इसे कहते हैं हाइपरथायरायडिज्म

आमतौर पर, एक डॉक्टर जो आपके थायरॉइड हार्मोन के स्तर के बारे में चिंतित है, वह व्यापक स्क्रीनिंग परीक्षणों जैसे कि टी 4 या थायराइड-उत्तेजक हार्मोन (टीएसएच) परीक्षण के साथ थायराइड रक्त परीक्षण का आदेश देगा। यदि वे परिणाम असामान्य रूप से वापस आते हैं, तो आपका डॉक्टर समस्या के कारण का पता लगाने के लिए आगे के परीक्षणों का आदेश देगा।

थायराइड फंक्शन टेस्ट के लिए रक्त खींचना blood

आप जो भी दवाएं ले रही हैं, उसके बारे में अपने डॉक्टर से बात करें और अगर आप गर्भवती हैं तो अपने डॉक्टर को बताएं। कुछ दवाएं और गर्भवती होना थायराइड रक्त परीक्षण से पहले आपके परीक्षण के परिणामों को प्रभावित कर सकता है।

एक रक्त ड्रा, जिसे वेनिपंक्चर के रूप में भी जाना जाता है, एक प्रयोगशाला या डॉक्टर के कार्यालय में की जाने वाली प्रक्रिया है। जब आप परीक्षण के लिए पहुंचते हैं, तो आपको एक आरामदायक कुर्सी पर बैठने या खाट या गर्नी पर लेटने के लिए कहा जाएगा। यदि आप लंबी आस्तीन पहन रहे हैं, तो आपको एक आस्तीन ऊपर रोल करने या आस्तीन से अपना हाथ हटाने के लिए कहा जाएगा।

एक तकनीशियन या नर्स आपकी ऊपरी बांह के चारों ओर रबर की एक पट्टी कसकर बांध देगी ताकि नसें खून से फूल जाएँ। एक बार तकनीशियन को एक उपयुक्त नस मिल जाने के बाद, वे त्वचा के नीचे और नस में एक सुई डालेंगे। जब सुई आपकी त्वचा को छेदती है तो आपको तेज चुभन महसूस हो सकती है। तकनीशियन आपके रक्त को टेस्ट ट्यूब में एकत्र करेगा और विश्लेषण के लिए एक प्रयोगशाला में भेज देगा। जब तकनीशियन ने परीक्षणों के लिए आवश्यक रक्त की मात्रा एकत्र कर ली है, तो वे सुई निकाल लेंगे और रक्तस्राव बंद होने तक पंचर घाव पर दबाव डालेंगे। तब तकनीशियन घाव पर एक छोटी सी पट्टी लगाएगा। आपको तुरंत अपनी सामान्य दैनिक गतिविधियों में वापस आने में सक्षम होना चाहिए

T4 टेस्ट क्या है?

टोटल T4 टेस्ट रक्त में बाउंड और फ्री थायरोक्सिन (T4) हार्मोन को मापता है। एक नि: शुल्क टी 4 मापता है जो बाध्य नहीं है और शरीर के ऊतकों में स्वतंत्र रूप से प्रवेश करने और प्रभावित करने में सक्षम है।

महत्वपूर्ण रूप से, कुल T4 स्तर दवाओं और चिकित्सीय स्थितियों से प्रभावित होते हैं जो थायराइड हार्मोन बाध्यकारी प्रोटीन को बदलते हैं। एस्ट्रोजेन, मौखिक गर्भनिरोधक गोलियां, गर्भावस्था, यकृत रोग, और हेपेटाइटिस सी वायरस संक्रमण, थायराइड हार्मोन बाध्यकारी प्रोटीन में वृद्धि के सामान्य कारण हैं और इसके परिणामस्वरूप उच्च कुल टी 4 होगा। टेस्टोस्टेरोन या एण्ड्रोजन और एनाबॉलिक स्टेरॉयड कम थायराइड हार्मोन बाध्यकारी प्रोटीन के सामान्य कारण हैं और इसके परिणामस्वरूप कुल टी 4 कम होगा।

कुछ परिस्थितियों में, गर्भावस्था की तरह, एक व्यक्ति का सामान्य थायराइड कार्य हो सकता है लेकिन सामान्य संदर्भ सीमा के बाहर कुल T4 स्तर हो सकता है। मुक्त T4 को मापने वाले परीक्षण - या तो एक मुक्त T4 (FT4) या मुक्त T4 सूचकांक (FTI) - इन परिस्थितियों में थायरॉयड ग्रंथि कैसे कार्य कर रहा है, यह अधिक सटीक रूप से दर्शा सकता है। एक एंडोक्रिनोलॉजिस्ट यह निर्धारित कर सकता है कि असामान्य थायराइड बाध्यकारी प्रोटीन के संदर्भ में थायराइड रोग कब मौजूद है।

T3 टेस्ट क्या है?

T3 परीक्षण रक्त में ट्राईआयोडोथायरोनिन (T3) के स्तर को मापते हैं। टोटल टी3 टेस्ट ट्राईआयोडोथायरोनिन के बाउंड और फ्री फ्रैक्शंस को मापता है। हाइपरथायरायड के रोगियों में आमतौर पर एक ऊंचा कुल T3 स्तर होता है। T3 परीक्षणों का उपयोग हाइपरथायरायडिज्म के निदान का समर्थन करने के लिए किया जा सकता है और अतिगलग्रंथिता की गंभीरता को निर्धारित कर सकता है।

कुछ थायराइड रोगों में, रक्त में T3 और T4 का अनुपात बदल जाता है और नैदानिक ​​जानकारी प्रदान कर सकता है। थायरॉइड रक्त परीक्षण में T3 बनाम T4 की वृद्धि का एक पैटर्न ग्रेव्स रोग की विशेषता है। दूसरी ओर, स्टेरॉयड और अमियोडेरोन जैसी दवाएं, और गंभीर बीमारी शरीर द्वारा T4 से T3 (सक्रिय रूप) में परिवर्तित होने वाले थायराइड हार्मोन की मात्रा को कम कर सकती है, जिसके परिणामस्वरूप T3 का कम अनुपात होता है। इसलिए नियमित रूप से निष्क्रिय या शल्य चिकित्सा से अनुपस्थित थायरॉइड ग्रंथियों वाले रोगियों का मूल्यांकन करने के लिए उपयोग नहीं किया जाता है। नि: शुल्क टी 3 का मापन संभव है, लेकिन अक्सर विश्वसनीय नहीं होता है और इसलिए सहायक नहीं हो सकता है।

साइड इफेक्ट और बाद की देखभाल

थायराइड रक्त परीक्षण में रक्त निकालना एक नियमित प्रक्रिया है, जो न्यूनतम आक्रमणकारी प्रक्रिया है। रक्त निकालने के तुरंत बाद के दिनों में, आप उस क्षेत्र में हल्की चोट या दर्द देख सकते हैं जहां सुई डाली गई थी। एक आइस पैक या एक ओवर-द-काउंटर दर्द निवारक आपकी परेशानी को कम करने में मदद कर सकता है। यदि आप बहुत अधिक दर्द का अनुभव करते हैं, या यदि पंचर के आसपास का क्षेत्र लाल और सूज जाता है, तो तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करें। ये संक्रमण के लक्षण हो सकते हैं।

Thyroid Blood Test

अपने परीक्षा परिणामों को समझना

T4 और TSH परिणाम
थायराइड रक्त परीक्षण में T4 परीक्षण और TSH परीक्षण दो सबसे आम थायरॉयड फ़ंक्शन परीक्षण हैं। उन्हें आमतौर पर एक साथ ऑर्डर किया जाता है।
T4 परीक्षण को थायरोक्सिन परीक्षण के रूप में जाना जाता है। T4 का उच्च स्तर एक अतिसक्रिय थायरॉयड (हाइपरथायरायडिज्म) को इंगित करता है। लक्षणों में चिंता, अनियोजित वजन घटाने, कंपकंपी और दस्त शामिल हैं। आपके शरीर में अधिकांश T4 प्रोटीन से बंधा होता है। T4 का एक छोटा सा हिस्सा नहीं होता है और इसे फ्री T4 कहा जाता है। Free T4 वह रूप है जो आपके शरीर के उपयोग के लिए आसानी से उपलब्ध है। कभी-कभी T4 परीक्षण के साथ एक निःशुल्क T4 स्तर की भी जाँच की जाती है।
टीएसएच परीक्षण आपके थायराइड रक्त परीक्षण में थायराइड-उत्तेजक हार्मोन के स्तर को मापता है। TSH की सामान्य परीक्षण सीमा 0.4 और 4.0 मिली-अंतर्राष्ट्रीय हार्मोन प्रति लीटर रक्त (mIU/L) के बीच होती है।
यदि आप हाइपोथायरायडिज्म के लक्षण दिखाते हैं और 2.0 mIU/L से ऊपर TSH रीडिंग है, तो आपको हाइपोथायरायडिज्म के बढ़ने का खतरा है। लक्षणों में वजन बढ़ना, थकान, अवसाद और भंगुर बाल और नाखून शामिल हैं। आपका डॉक्टर संभवतः आगे चलकर कम से कम हर दूसरे वर्ष थायरॉइड फंक्शन टेस्ट करना चाहेगा। आपका डॉक्टर आपके लक्षणों को कम करने के लिए लेवोथायरोक्सिन जैसी दवाओं के साथ आपका इलाज शुरू करने का निर्णय ले सकता है।
कम कामकरने वाली थायरॉयड ग्रंथि की पहचान करने के लिए नवजात शिशुओं पर T4 और TSH दोनों परीक्षण नियमित रूप से किए जाते हैं। यदि अनुपचारित छोड़ दिया जाता है, तो यह स्थिति, जिसे जन्मजात हाइपोथायरायडिज्म कहा जाता है, विकासात्मक अक्षमताओं को जन्म दे सकती है।

T3 परिणाम
T3 परीक्षण हार्मोन ट्राईआयोडोथायरोनिन के स्तर की जाँच करता है। यह आमतौर पर आदेश दिया जाता है यदि टी ४ परीक्षण और टीएसएच परीक्षण हाइपरथायरायडिज्मसिन थायरॉयड रक्त परीक्षण का सुझाव देते हैं। यदि आप एक अतिसक्रिय थायरॉयड ग्रंथि के लक्षण दिखा रहे हैं और आपका T4 और TSH ऊंचा नहीं है, तो T3 परीक्षण का भी आदेश दिया जा सकता है।
T3 के लिए सामान्य सीमा १००-२०० नैनोग्राम हार्मोन प्रति डेसीलीटर रक्त (एनजी/डीएल) है। असामान्य रूप से उच्च स्तर आमतौर पर ग्रेव्स रोग नामक स्थिति का संकेत देते हैं। यह हाइपरथायरायडिज्म से जुड़ा एक ऑटोइम्यून डिसऑर्डर है।
एक T3 राल अपटेक, जिसे T3RU के रूप में भी जाना जाता है, एक रक्त परीक्षण है जो थायरोक्सिन-बाइंडिंग ग्लोब्युलिन (TBG) नामक हार्मोन की बाध्यकारी क्षमता को मापता है। यदि आपका T3 स्तर ऊंचा है, तो आपकी TBG बाध्यकारी क्षमता कम होनी चाहिए।
टीबीजी का असामान्य रूप से निम्न स्तर अक्सर किडनी या शरीर को पर्याप्त प्रोटीन नहीं मिलने की समस्या का संकेत देता है। टीबीजी का असामान्य रूप से उच्च स्तर शरीर में एस्ट्रोजन के उच्च स्तर का सुझाव देता है। उच्च एस्ट्रोजन का स्तर गर्भावस्था, एस्ट्रोजन युक्त खाद्य पदार्थ खाने, मोटापा, या हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी के कारण हो सकता है।

अनुवर्ती
यदि आपके रक्त परीक्षण से पता चलता है कि आपकी थायरॉयड ग्रंथि अति सक्रिय या कम सक्रिय है, तो आपका डॉक्टर थायराइड अपटेक परीक्षण या अल्ट्रासाउंड परीक्षण का आदेश दे सकता है। ये परीक्षण थायरॉयड ग्रंथि, थायरॉयड ग्रंथि गतिविधि, और किसी भी ट्यूमर के साथ संरचनात्मक समस्याओं की जांच करेंगे जो समस्याएं पैदा कर सकते हैं। इन निष्कर्षों के आधार पर, आपका डॉक्टर कैंसर की जांच के लिए थायराइड से ऊतक का नमूना लेना चाह सकता है।
यदि स्कैन सामान्य है, तो आपका डॉक्टर आपकी थायरॉयड गतिविधि को नियंत्रित करने के लिए दवा लिखेगा। यह सुनिश्चित करने के लिए कि दवा काम कर रही है, वे अतिरिक्त थायरॉइड फ़ंक्शन परीक्षणों का पालन करेंगे

9 थायरॉइड टेस्ट आपके डॉक्टर शायद चूक गए

1) कार्यात्मक पोषण
यह तीसरा लेख अतिरिक्त कारणों पर चर्चा करता है कि आपका थायरॉयड बेहतर तरीके से काम नहीं कर रहा है। ये सभी थायराइड परीक्षण उतने ही महत्वपूर्ण हैं जितने कि मैंने अपने पहले दो ब्लॉगों में चर्चा की थी। जब तक आपके पास कार्यात्मक चिकित्सा में कुशल चिकित्सक नहीं है, तब तक आप अपने थायरॉयड मूल्यांकन के भाग के रूप में ये परीक्षण कभी नहीं प्राप्त करेंगे। आप उन पर विचार करना चाह सकते हैं, यदि आप हर कारण को उजागर करना चाहते हैं कि आपको थायराइड की समस्या क्यों है।

2) सेलेनियम
सेलेनियम की कमी हाशिमोटो के ऑटोइम्यून थायरॉइडाइटिस के रोगियों में स्वप्रतिपिंड के स्तर को बढ़ा सकती है। कई महीनों के लिए 200ug / दिन पर पूरक सभी अध्ययनों में एंटीबॉडी के स्तर को कम कर देता है। सेलेनियम को थायराइड समारोह के लिए महत्वपूर्ण दो एंजाइम प्रणालियों की आवश्यकता होती है। एक शरीर को ऑक्सीडेटिव क्षति से बचाता है। थायराइड हार्मोन के सामान्य उत्पादन के लिए हाइड्रोजन पेरोक्साइड की आवश्यकता होती है। यदि सेलेनियम की कमी है, तो एंजाइम, ग्लूटाथियोन पेरोक्सीडेज, अपना कार्य नहीं कर सकता है, जिससे थायरॉयड ऊतक क्षति हो सकती है। एक दूसरा एंजाइम, 5'-डियोडिनेज, निष्क्रिय T4 को सक्रिय T3 में परिवर्तित करता है। इसे ठीक से काम करने के लिए सेलेनियम की आवश्यकता होती है।
सेलुलर स्तर पर सेलेनियम की कमी का निर्धारण करने के लिए सबसे अच्छा परीक्षण एक ट्रेस खनिज विश्लेषण है, जो नमूने के रूप में सिर के बालों का उपयोग करता है।

3)विटामिन डी
विटामिन डी 2000 से अधिक जीन (हमारे जीन का लगभग 10%) को लक्षित करता है। वर्तमान शोध इंगित करता है कि विटामिन डी की कमी कम से कम 17 प्रकार के कैंसर के साथ-साथ हृदय रोग, स्ट्रोक, उच्च रक्तचाप, ऑटोइम्यून बीमारियों (हाशिमोटो के ऑटोइम्यून थायरॉइडाइटिस सहित), मधुमेह, अवसाद, पुराने दर्द, पुराने ऑस्टियोआर्थराइटिस, ऑस्टियोपोरोसिस, मांसपेशियों में एक प्रमुख कारक है। कमजोरी, मांसपेशियों की बर्बादी, जन्म दोष, पीरियोडोंटल बीमारी, और बहुत कुछ। हाल ही के एक आंतरिक शहर के अध्ययन से पता चला है कि 25% प्रतिभागियों में अत्यधिक कमी थी और एक महत्वपूर्ण हिस्से में इष्टतम रक्त स्तर से काफी नीचे था।

4)पारा, सीसा और अन्य जहरीले तत्व
पारा एक ज्ञात थायराइड विष है। आज की दुनिया में जहरीली धातुओं से बचना असंभव है। एक्सपोजर हजारों स्रोतों से आता है। समझने के लिए एक महत्वपूर्ण तथ्य यह है कि भारी धातुओं का शरीर में कोई कार्य नहीं होता है। उनकी उपस्थिति, किसी भी मात्रा में, सामान्य कार्य में हस्तक्षेप करती है। एकमात्र पूरी तरह से सुरक्षित स्तर अनुपस्थिति है। यहां तक ​​कि निम्न स्तरों को भी कैंसर, हृदय रोग और तंत्रिका संबंधी स्थितियों (अल्जाइमर, ऑटिज्म और एडीडी सहित) से जोड़ा गया है। ये विषाक्त पदार्थ त्वचा, फेफड़े और आंतों के माध्यम से अवशोषित
होते हैं शरीर में भारी धातुओं के परीक्षण के कई तरीके हैं। संभवतः सबसे अच्छी स्क्रीनिंग विधि सिर के बालों के माध्यम से होती है।

5)एस्ट्रोजन
महिला और पुरुष सेक्स हार्मोन सभी थायराइड हार्मोन के साथ परस्पर क्रिया करते हैं। एस्ट्रोजन का बढ़ा हुआ स्तर अप्रत्यक्ष रूप से बाध्य थायराइड हार्मोन में एक समान वृद्धि और मुक्त या सक्रिय लोगों में कमी का कारण बनता है। एस्ट्रोजन के बढ़ने से रिवर्स T3 (rT3) का स्तर भी बढ़ जाता है, जो मेटाबॉलिक ब्रेक के रूप में काम करता है, मेटाबॉलिज्म को धीमा करता है, कोशिका की सतह पर थायराइड रिसेप्टर्स से जुड़कर और उन्हें FT3 के साथ बंधने से रोकता है। जन्म नियंत्रण की गोलियाँ एस्ट्रोजन के स्तर में वृद्धि का एक कारण हैं। मौखिक गर्भनिरोधक लेने वाली महिलाओं में अक्सर वजन बढ़ता देखा जाता है।

6) प्रोजेस्टेरोन
बढ़ा हुआ प्रोजेस्टेरोन अधिक थायराइड हार्मोन के उत्पादन को उत्तेजित करके शरीर के तापमान में एक डिग्री तक की वृद्धि का कारण बनता है। प्रोजेस्टेरोन का निम्न स्तर, खासकर जब ऊंचा एस्ट्रोजन के साथ मिलकर, हाइपोथायरायड और मासिक धर्म की शिकायत पैदा कर सकता है।
लार हार्मोन पैनल के माध्यम से एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन के स्तर तक आसानी से पहुंचा जा सकता है। लार हार्मोन परीक्षण का उपयोग करने का लाभ यह है कि यह केवल ऊतक स्तर पर मुक्त या सक्रिय हार्मोन को मापता है। रक्त परीक्षण कुल हार्मोन स्तर (रक्त में बाध्य + मुक्त, ऊतक स्तर पर नहीं) को मापते हैं और दोनों के बीच अंतर नहीं करते हैं।

7) ब्रोमाइड/फ्लोराइड
दोनों ही थायरॉयड ग्रंथि के लिए अत्यधिक विषैले तत्व हैं, जिनका व्यापक रूप से कई उत्पादों में उपयोग किया जाता है, जिनमें ड्रग्स, कीटनाशक, अग्निरोधी, कंप्यूटर, फर्नीचर, ऑटोमोबाइल, कालीन बनाना, टूथपेस्ट, ब्रोमिनेटेड वनस्पति तेल और पके हुए सामान शामिल हैं। आयोडीन लोडिंग टेस्ट में ब्रोमाइड और फ्लोराइड को मापने का विकल्प शामिल है।

8)ग्लूटेन
कई लोगों पर ग्लूटेन के नकारात्मक प्रभाव पर पूरी किताबें लिखी गई हैं। थायराइड की स्थिति वाले किसी भी व्यक्ति का ग्लूटेन संवेदनशीलता के लिए मूल्यांकन किया जाना चाहिए। हाशिमोटो के ऑटोइम्यून थायराइडाइटिस के रोगियों के लिए यह बिल्कुल अनिवार्य है। ऑटोइम्यूनिटी के कई मामलों में ग्लूटेन एक प्रमुख योगदान कारण है। ग्लूटेन के खिलाफ निर्देशित एंटीबॉडी शरीर के कई ऊतकों के साथ क्रॉस-रिएक्शन करते हैं, जिसमें थायरॉयड, अग्न्याशय और तंत्रिका ऊतक शामिल हैं।
ग्लूटेन संवेदनशीलता के लिए निश्चित प्रयोगशाला परीक्षण साइरेक्स लैब्स के माध्यम से होता है। ग्लूटेन के 24 विभिन्न घटकों का परीक्षण किया जाता है। यह एक महंगी परीक्षा है। एक बेहतर, पूरी तरह से नि: शुल्क परीक्षण आहार से कुल ग्लूटेन परहेज है यह देखने के लिए कि कोई कैसे सुधार करता है।

9)सी-रिएक्टिव प्रोटीन (सी-आरपी)
यह एक सरल, सस्ता रक्त परीक्षण है जो सूजन का एक उपाय है। ऊंचा स्तर सामान्यीकृत सूजन का एक संकेतक है जो थायराइड समारोह को नकारात्मक रूप से प्रभावित कर सकता है। ग्लूकोज, HbA1C और इंसुलिन। थायराइड मूल्यांकन के लिए ग्लूकोज चयापचय का गहन मूल्यांकन महत्वपूर्ण है। इंसुलिन की वृद्धि, अधिकता और प्रतिरोध टीएसएच की रिहाई को रोक सकते हैं, थायराइड हार्मोन की रिहाई को कम कर सकते हैं।

क्या ऑटोइम्यून थायराइड रोग वाले व्यक्तियों में कोविड-19 संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है?

कोविड -19 अभी भी एक नया वायरस है, हालांकि अध्ययनों से पता चलता है कि यह थायराइड रोग वाले व्यक्तियों को कैसे प्रभावित कर सकता है (नीचे प्रश्न देखें)।
थायराइड रोग सामान्य रूप से वायरल संक्रमण के बढ़ते जोखिम से जुड़ा हुआ नहीं माना जाता है, न ही थायराइड रोग और वायरल संक्रमण की गंभीरता के बीच कोई संबंध है।
बहुत से लोग पूछ रहे हैं कि क्या ऑटोइम्यून थायरॉयड रोग होने का मतलब है कि आप प्रतिरक्षित हैं। हम पुष्टि कर सकते हैं कि यह नहीं है। प्रतिरक्षा प्रणाली का वह हिस्सा जो ऑटोइम्यून थायरॉयड स्थितियों के लिए जिम्मेदार है, प्रतिरक्षा प्रणाली से अलग है जो कि कोविड -19 जैसे वायरल संक्रमण से लड़ने के लिए जिम्मेदार है। जिन रोगियों को कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली (इम्युनोकॉम्प्रोमाइज्ड) के रूप में वर्गीकृत किया जाता है, वे आमतौर पर ल्यूकेमिया, एचआईवी और एड्स जैसी स्थितियों वाले होते हैं, या जो उच्च खुराक वाले स्टेरॉयड, रुमेटीइड गठिया या मल्टीपल स्केलेरोसिस के लिए इम्यूनोमॉड्यूलेटरी दवाओं, कैंसर कीमोथेरेपी या दवाओं पर होते हैं अंग प्रत्यारोपण के बाद।

संबंधित विषय:

1. ब्रोंकाइटिस क्या है और इसका इलाज कैसे किया जाता है?

ब्रोंकाइटिस और उसके उपाय

2. डायवर्टीकुलिटिस कितना हानिकारक है?

डायवर्टीकुलिटिस के लक्षण और उपचार

3. प्रतिरक्षा बढ़ाने के बारे में और जानें

इम्युनिटी कैसे बढ़ाएं




T उपर ब्लॉग में बताई गई उपलब्धिया AFD-SHIELD के साथ उपलब्ध हैं
एएफडी शील्ड कैप्सूल 12 प्राकृतिक अवयवों का एक संयोजन है जिनमें से अलगल डीएचए, अश्वगंधा, करक्यूमिन और स्पिरुलिना हैं। एएफडी शील्ड टीजी को कम करता है, एचडीएल बढ़ाता है और उम्र से संबंधित संज्ञानात्मक गिरावट में सुधार करता है। यह तनाव और चिंता को भी कम करता है और एंटी-एजिंग गतिविधि करता है। इसके अलावा, यह इम्युनोमॉड्यूलेटरी गतिविधि को बढ़ाता है, प्रतिरक्षा में सुधार करता है और सूजन और ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करता है। न्यूट्रोग्लिग्क्स: एएफडी-शील्ड

AFDIL Ltd.
+91 9920121021

order@afdil.com

Read Also:


Disclaimer
Home