Things to know about Anxiety Attacks

Anxiety

Overview

When coping with everyday pressures and issues, anxiety is a natural emotion. Your body's normal reaction to stress is anxiety. It's a sense of dread or foreboding for what's to come. Most people are afraid and anxious on the first day of school, going to a job interview, or delivering a speech. Moving to a new place, beginning a new career, or taking a test can all cause anxiety. While this form of anxiety is stressful, it can inspire you to work harder and achieve better results. Ordinary anxiety is a fleeting emotion that does not interfere with your daily activities.

However, anxiety becomes a condition when these feelings are recurrent, excessive, and irrational, and they interfere with a person's ability to work. You might have an anxiety disorder if the anxiety is serious, lasts longer than six months, and interferes with your life. Anxiety disorders include phobias, panic and stress disorders, and obsessive-compulsive disorder, among others.

If you have an anxiety disorder, you can experience fear all of the time. It's intense and can be debilitating at times. This form of anxiety can cause you to abandon activities that you enjoy. It may prevent you from entering an elevator, crossing the street, or even leaving your home in extreme cases. If anxiety isn't handled, it can just get worse.

What causes anxiety?

Anxiety may be exacerbated by a mental illness, a physical ailment, medication side effects, or a combination of these factors. The first task for the doctor is to determine if your anxiety is a symptom of another medical problem.

These mental illnesses are common causes of anxiety:
1. Palpitations (feeling the heartbeat), dizziness, and shortness of breath are all common signs of panic disorder, in addition to anxiety. Coffee (caffeine), amphetamines ("speed" is street slang for amphetamines not prescribed by a doctor), an overactive thyroid, irregular heart rhythms, and other heart problems may all trigger similar symptoms (such as mitral valve prolapse).

2. Phobias

Anxiety can be triggered by the following external factors:
1. Workplace stress School-related stress
2. Stress in a personal relationship such as marriage
3. Financial pressures
4. Global events or political problems may cause stress.
5. Unpredictable or uncertain world events, such as a pandemic” cause stress.
6. An emotional trauma, such as the death of a loved one, may cause stress.
7. Stress as a result of a severe medical condition
8. Medication side effects
9. Use of a controlled substance, such as cocaine.
10. A symptom of a medical condition (such as heart attack, heat stroke, hypoglycaemia)
11. Lack of oxygen can occur in a variety of situations, including high altitude sickness, emphysema, and pulmonary embolism (a blood clot in the vessels of the lung)

Causes of anxiety

The Grey area between normal worry and anxiety

As anxiety progresses from normal to clinical, a grey area in the between, known as the "nearly anxious" region, may nevertheless have a detrimental impact on your life. You are "nearly anxious" when the amount of anxiety you are experiencing is no longer adaptive or beneficial to your performance and has become a barrier to your enjoyment of life, but does not yet exceed the diagnostic threshold for an anxiety disorder. You can have trouble focusing on work because you're distracted by negative thoughts, fear, or unpleasant body sensations. Someone who is "nearly anxious," for example, may sit at their desk all day, making little progress on a project owing to persistent anxieties and stomach tightness. While nervousness did not prevent me from going to work, the level of anxiety I was experiencing made it difficult to operate. Using the concept of "nearly anxious" can help you recognise anxiety before it gets out of hand and target it with evidence-based methods that help anxiety return to a more manageable level.

Different types of anxiety disorder

There 6 different types of anxiety disorder
1. Phobia: Intense Fears of particular animals, things, or circumstances are known as phobias. Fears of dogs, snakes, heights, blood draws, the dentist, or something else fall under this category. A individual with a phobia will either go to great lengths to escape the feared object or circumstance, or they will confront it, but with great distress. Before a fear is classified as a phobia, it must last at least six months. Fears that are age-appropriate are not the same as phobias; for example, a 3-year-old who is scared of the dark is not a phobia.

2. Panic disorder: It occurs when a person has panic attacks that interfere with their daily activities in some way. Panic attacks can involve a variety of symptoms such as pounding heart, fast breathing, chest pain, dizziness, nausea, or abdominal pain, blurred vision, sweating, trembling, feelings of impending disaster, feeling as though the world isn't real (as if you're in a dream or a movie), or feeling as if you're outside of yourself. The person may also be afraid of losing control, dying, or going insane. Panic attacks can be caused by a particular event or can strike almost out of nowhere. Within 15 minutes, they normally hit their peak strength. It's important to remember that panic attacks will occur without getting panic disorder. When a person has panic disorder, they either avoid things that they believe will cause a panic attack (such as going to the mall, going to the movies, or driving), or they worry about having another attack. Panic attacks should not be explained by a particular phobia or social anxiety in the case of panic disorder.

3. Social Anxiety Disorder: A recurrent fear of being judged or evaluated by others, followed by extreme distress when communicating with others, is known as social anxiety disorder (also known as social phobia). Someone may be terrified of doing the wrong thing, feeling dumb, or being humiliated. This anxiety can manifest itself in a single situation, such as making a presentation at school, or it can manifest itself in a variety of circumstances in which a child is uncomfortable communicating with peers and adults. As a result, the anxious individual can avoid communicating with others while remaining at ease with close friends and family. An anxious person can often ask for someone to talk for them, such as ordering food for them in a restaurant. Shyness and social anxiety disorder are not the same thing. Shyness is a mild discomfort with engaging with others in some contexts, while social anxiety disorder interferes with an individual's ability to cope at home, school, work, or in their social circle. Social anxiety disorder is not always indicated by sporadic, fleeting distress in social settings.

Social anxiety disorder


4. Separation Anxiety Disorder: When someone is constantly worried about being separated from or losing a caregiver or attachment figure it is called as separation anxiety disorder. Separation anxiety is a common part of a child's early growth, but it can interfere with their development if it becomes excessive. Separation anxiety disorder causes people to worry about what will happen to their caregiver if they are apart, such as if the caregiver will die or become sick. The child is also concerned about what will happen to them if they are separated from their caregiver, such as whether they will be injured or harmed. Because of their increased anxiety, the individual can appear "clingy" to their caregiver and have trouble leaving their side to go to school, be at home alone, or sleep alone. Separation anxiety disorder is often triggered by a stressful event or a loss. For instance, a young child who has lost a pet or a young adult who is moving out of their parents' home for the first time. It's crucial to note that anxiety is both normal and treatable. If your child's anxiety is interfering with their daily activities or obligations (such as school or chores), medical care, or interpersonal relationships, talk to their primary care physician or a mental health professional about treatment options.

5. Generalised Anxiety: When someone has generalised anxiety, they are concerned about a wide variety of issues, including school or work success, finances, global events, natural disasters, interpersonal relationships, and other concerns. These worries are difficult to manage and keep surfacing, making it difficult for people to concentrate on their tasks. Worries occur often and intensely enough to make it difficult to focus, as well as to cause or exacerbate headaches, stomach aches, muscle tension, and irritability.

6. Obsessive Compulsive Disorder (OCD) and Post-Traumatic Stress Disorder (PTSD) are two different types of anxiety disorders. They were formerly known as anxiety disorders, but they are now separated because they have distinct causes, brain mechanisms involved, and therapies that distinguish them from anxiety disorders.

Social Anxiety Disorder


When giving a speech or interviewing for a new job, many people become apprehensive or self-conscious. However, social anxiety disorder, also known as social phobia, is more than just shyness or nervousness. Social anxiety disorder is characterised by an overwhelming fear of social situations, particularly those that are novel or in which you believe you will be observed or assessed by others. These scenarios may be so terrifying that you become uncomfortable just thinking about them, or you may go to considerable efforts to avoid them, causing significant disruption in your life.

The dread of being inspected, judged, or embarrassed in public is at the root of social anxiety disorder. You may be concerned that others will judge you negatively or that you will fall short in comparison to others. Even while you undoubtedly understand that your anxieties of being evaluated are unfounded and exaggerated, you can't help but feel anxious. You can learn to be comfortable in social situations and reclaim your life, no matter how excruciatingly shy you are or how horrible the butterflies are.

Triggers of social anxiety disorder
Despite the fact that you may feel that you're the only one who suffers from social anxiety, it's actually extremely common. Many people are afraid of these things. However, the circumstances that set off the symptoms of social anxiety disorder can vary. In most social situations, some people suffer nervousness. Others associate anxiety with certain social circumstances, such as conversing with strangers, mixing with strangers at parties, or performing in front of an audience. The following are some of the most common social anxiety triggers:

• Meeting new people
• Making small talk
• Public speaking
• Performing on stage
• Being the center of attention
• Being watched while doing something
• Being teased or criticized
• Talking with “important” people or authority figures
• Being called on in class
• Going on a date
• Speaking up in a meeting
• Using public restrooms
• Taking exams
• Eating or drinking in public
• Making phone calls
• Attending parties or other social gatherings

Signs of Social Anxiety Disorder
You don't have social anxiety disorder or social phobia just because you become uneasy in social situations on occasion. Many people experience shyness or self-consciousness from time to time, but it does not interfere with their daily lives. On the other side, social anxiety disorder disrupts your daily routine and creates significant distress.

It's completely common to experience the jitters before giving a speech, for example. If you have social anxiety, though, you may fret for weeks ahead of time, call in ill to avoid giving the speech, or start shaking so badly that you can hardly talk.

Social anxiety disorder emotional indicators and symptoms include:
1. Excessive self-consciousness and anxiety in regular social interactions,
2. Anxiety that lasts for days, weeks, or even months before a social event
3. Extreme apprehension of being observed or judged by others, particularly strangers
4. Fear that you'll do anything that will shame or shame you
5. Fear that people will notice how nervous you are

Physical indications and symptoms include the following:
1. Having a flushed or red face is a common occurrence.
2. Breathing problems
3. Nausea, upset stomach (i.e. butterflies)
4. Shaking or trembling (including shaky voice)
5. Tightness in the chest or a racing heart
6. Sweating or hot flashes are two common symptoms of menopause.
7. Feeling light-headed or faint

Behavioural symptoms and signs:
1. Avoiding social encounters to the point that your activities are limited or your life is disrupted.
2. Staying quiet or disappearing into the background to avoid detection and embarrassment.
3. You must always bring a friend with you everywhere you go.
4. Having a drink before a social event to calm your anxieties.

Tips to overcome Social Anxiety Disorder

Tip 1: Challenge negative thoughts

Tip 2: Focus on others, not yourself
I. Concentrate on other people, not on what they are thinking about you! Instead, make an effort to engage with them and establish a genuine connection.
II. Keep in mind that nervousness isn't as evident as you might believe. And just because someone realises, you're nervous doesn't imply they'll judge you negatively. There's a good chance that others are as nervous as you are—or have been in the past.
III. Listen carefully to what is being stated rather than to your own negative thoughts.
IV. Instead of stressing about what you're going to say or berating yourself for a past blunder, concentrate on the present moment.
V. Let go of the need to be perfect. Instead, concentrate on being sincere and attentive qualities that others will appreciate.

Tip 3: Confront your anxieties.
I. Do not attempt to confront your worst fear right immediately. Moving too quickly, taking on too much, or forcing things is never a smart idea. This could backfire and make your anxiousness worse.
II. Patience is required. It takes time and practise to overcome social anxiety. It's a methodical, step-by-step approach.
III. Stay calm by applying the techniques you've learned, such as focusing on your breathing and rejecting negative preconceptions.

Tip 4: Make an attempt to interact with others.
I. Consider enrolling in a social skills or assertiveness training course. These classes are frequently provided at community colleges or adult education facilities in the area.
II. Volunteer doing something you enjoy, such as walking dogs in a shelter or stuffing envelopes for a political campaign—anything that will provide you with a focused activity while also allowing you to interact with a small group of like-minded individuals.
III. Improve your communication abilities. Clear, emotionally aware communication is essential for healthy partnerships. Learning the fundamental skills of emotional intelligence can help you connect with people if you're having problems connecting with people.

Symptoms of Anxiety Disorder

Symptoms of anxiety disorder

For Generalized Anxiety Disorder
People with generalised anxiety disorder (GAD) experience intense anxiety or concern about a variety of topics for at least 6 months, including personal wellbeing, jobs, social interactions, and daily life situations. Fear and anxiety can lead to major problems in social interactions, education, and work.

Symptoms of generalised anxiety disorder include:

Symptoms of generalised anxiety disorder


1. Feeling antsy, agitated, or tensed.
2. Being quickly exhausted
3. Having trouble concentrating; mind going blank.
4. Getting irritated
5. Tension in the muscles
6. Controlling worry feelings is difficult.
7. Having sleep issues, such as inability to fall or remain asleep, restlessness, or unsatisfactory sleep.

For Panic Disorder
Panic disorder is characterised by frequent, sudden panic attacks. Panic attacks are brief bursts of extreme fear that begin suddenly and peak within minutes. Attacks may happen out of nowhere or as a result of a stimulus, such as a feared object or circumstance.

People can experience the following symptoms during a panic attack:
1. Heart palpitations, a pounding pulse, or a fast heartbeat are all symptoms of an accelerated heart rate.
2. Sweating is a common occurrence.
3. Shaking or trembling
4. Shortness of breath, suffocation, or choking sensations.
5. Feelings of doom and gloom
6. Feelings of being uncontrollable.

For Phobic Disorder
A phobia is a strong dislike or fear of a certain object or circumstance. Although it is understandable to feel nervous in certain situations, the anxiety experienced by people with phobias is out of proportion to the actual danger posed by the situation or object.

1. People who suffer from phobias can experience unreasonable or excessive anxiety when confronted with the feared object or situation.
2. Stop the dreaded object or condition by taking active action to avoid it.
3. When confronted with the feared object or circumstance, experience extreme anxiety right away.
4. Experiencing extreme anxiety when confronted with inevitable objects and circumstances.

When to talk to a Doctor?

It is critical to speak with your doctor if you suspect your anxiety is an issue. Experts now urge that all women and girls aged 13 and older be examined for anxiety disorders during routine health exams, because women experience anxiety symptoms more frequently than males. Because anxiety can worsen over time if left untreated, early detection and intervention are critical.

A variety of physical and psychological disorders can contribute to excessive anxiety.

Anxiety disorders have also been linked to a number of medical ailments, including heart disease, stomach issues, and discomfort. The biggest reason to talk to your doctor is that anxiety is treatable, and its symptoms are manageable.

Treatment for Anxiety Disorder

Treatment for anxiety disorder

Once you have been diagnosed with anxiety, you can talk to your doctor about treatment choices. Medical therapy is not required for certain persons. Changes in one's lifestyle may be sufficient to alleviate symptoms.
Treatment, on the other hand, can help you overcome the symptoms and live a more bearable day-to-day existence in moderate or severe cases.

Anxiety treatment is divided into two types:
• Psychotherapy
• Medicines.

Meeting with a therapist or psychologist can assist you in developing tools and methods for dealing with anxiety when it arises.

Antidepressants and sedatives are common medications used to manage anxiety. They act to restore brain chemistry, prevent anxiety attacks, and alleviate the disorder's most severe symptoms. Anxiety can be treated in a variety of ways, and patients should consult with their doctor to determine which option is best for them.

Psychotherapy
People suffering from anxiety problems may benefit from psychotherapy, also known as "talk therapy." Psychotherapy must be addressed at the person's individual fears and suited to his or her requirements in order to be effective.

Cognitive Behavioural Therapy
One sort of psychotherapy that can help persons with anxiety disorders is cognitive behavioural therapy (CBT). It teaches people how to think about, behave with, and react to anxiety-inducing and frightened objects and circumstances in new ways. CBT can also aid in the development and practise of social skills, which is critical in the treatment of social anxiety disorder.

Cognitive therapy and exposure treatment are two CBT strategies that are frequently used to treat social anxiety disorder, either together or separately. The goal of cognitive therapy is to uncover, challenge, and ultimately neutralise unhelpful or distorted concepts that are at the root of anxiety disorders. Exposure therapy focuses on tackling the concerns that underpin anxiety disorders in order to let people engage in previously avoided activities. Sometimes, exposure treatment is combined with relaxation exercises and/or imagery.

CBT can be done alone or with a group of persons who are having similar problems. Participants are frequently given "homework" to complete between sessions.

Medication
Medication is not a solution for anxiety disorders, although it can help to alleviate symptoms. Doctors, such as psychiatrists or primary care providers, prescribe anxiety medication. In some areas, psychologists with specialised training can also prescribe mental drugs. Anti-anxiety drugs (such as benzodiazepines), antidepressants, and beta-blockers are the most frequent types of pharmaceuticals used to treat anxiety disorders.

Anti-Anxiety Medication
Anxiety, panic episodes, or severe dread and worry can all be treated with anti-anxiety drugs. Benzodiazepines are the most prevalent anti-anxiety drugs. Benzodiazepines, which are sometimes used as first-line therapies for generalised anxiety disorder, offer both advantages and disadvantages.

Benzodiazepines have the advantage of being more effective at reducing anxiety and acting faster than antidepressant drugs, which are commonly given for anxiety. People can develop a tolerance to benzodiazepines if they are taken for an extended length of time, and they may need higher and higher doses to achieve the same effect. Some people may become completely reliant on them.

Doctors typically administer benzodiazepines for short periods of time to prevent these issues, which is especially beneficial for older folks, persons with substance misuse issues, and people who easily become dependent on medicines.

People who stop using benzodiazepines abruptly may have withdrawal symptoms or experience a resurgence of anxiety. As a result, benzodiazepines should be gradually taken off. When you and your doctor decide it's time to stop taking the medicine, the doctor will help you reduce your dose gradually and securely.

Benzodiazepines are frequently used as a second-line treatment for anxiety (antidepressants being the first-line treatment) as well as a “as-needed” medication for any uncomfortable symptom flare-ups.

Buspirone is a different sort of anti-anxiety medicine. Buspirone is a non-benzodiazepine drug that is used to treat chronic anxiety. However, it does not work for everyone.

Antidepressant
Antidepressants are commonly prescribed to treat depression, but they can also aid with anxiety problems. They may aid in the betterment of your brain's utilisation of specific chemicals that regulate mood and stress. It's possible that you'll have to try a few different antidepressants before finding one that works for you and has manageable side effects. Medications that have previously assisted you or a close family member will frequently be examined.
Antidepressants take time to work, so it's crucial to give them a chance before drawing any conclusions about their efficacy. If you start taking antidepressants, don't discontinue without consulting your doctor. When you and your doctor decide it's time to stop taking the medicine, the doctor will help you reduce your dose gradually and securely. Withdrawal symptoms can occur if you stop taking them suddenly.
Anxiety is widely treated with antidepressants known as selective serotonin reuptake inhibitors (SSRIs) and serotonin-norepinephrine reuptake inhibitors (SNRIs). Older antidepressant classes, such as tricyclic antidepressants and monoamine oxidase inhibitors, are less often used yet effective therapies for anxiety disorders (MAOIs).

Natural remedies for Anxiety

Changes in your lifestyle can help you relieve some of the tension and anxiety you experience on a daily basis. The majority of natural "remedies" entail taking care of your body, engaging in healthy activities, and avoiding unhealthy ones.

1. Getting adequate sleep,
2. Meditating,
3. Staying active and exercising,
4. Eating a good diet,
5. Staying active and working out, and
6. Avoiding alcohol are just a few of them.
7. Caffeine abstention
8. Stopping cigarette smoking

In some circumstances, an anxiety disorder can be treated at home without the need for therapeutic supervision. However, for severe or long-term anxiety disorders, this may not be beneficial. There are a variety of exercises and actions that can help someone manage with milder, more concentrated, or shorter-term anxiety disorders, such as:

Stress reduction: Learning to cope with stress can assist to reduce the number of potential triggers. Organize any forthcoming deadlines and pressures, prepare lists to make big jobs more achievable, and schedule time off from school or work.

Techniques for relaxation: Simple activities can help alleviate anxiety's mental and bodily symptoms. Meditation, deep breathing exercises, long baths, resting in the dark, and yoga are some of these practises.

Exercises to help you replace negative ideas with good ones include the following: Make a note of the negative thoughts that are likely to cycle as a result of anxiety, and next to it, make a list of positive, plausible thoughts to replace them. If anxiety symptoms are related to a specific reason, such as a phobia, creating a mental image of successfully facing and conquering that fear might be beneficial.

Support system: Speak with someone you know who will be supportive, such as a family member or a friend. In addition to local and online support groups, there may be resources accessible in your region.

Workout: Physical activity can boost one's self-esteem and generate feel-good hormones in the brain.

Foods that can treat Anxiety

Anxiety is routinely treated with medication and talk therapy. Changes in your lifestyle, such as getting adequate sleep and exercising regularly, can also assist. Furthermore, some study suggests that the foods you eat may have a positive impact on your brain if you suffer from anxiety frequently. Some foods that can help anxiety are:

1. Salmon
2. Dark chocolate
3. Yogurt
4. Chamomile
5. Turmeric
6. Green tea

How to prevent Anxiety?

Anxiety disorders can be prevented in some cases. Remember that anxious feelings are a normal part of life, and that having them does not always mean you have a mental health problem.

To assist manage anxious feelings, use the following steps:
1. Caffeine, tea, cola, and chocolate should all be avoided.
2. Check with a doctor or pharmacist before using over the counter (OTC) or herbal medicines for any compounds that could exacerbate anxiety symptoms.
3. Maintain a nutritious diet.
4. Maintain a regular sleeping schedule.
5. Alcohol, cannabis, and other recreational drugs should be avoided.

Conclusion

Anxiety is not a medical problem, but rather a natural emotion that is necessary for survival when a person is in danger. When this reaction becomes extreme or out of proportion to the trigger that triggers it, an anxiety disorder develops. Panic disorder, phobias, and social anxiety are just a few examples of anxiety disorders. Treatment consists of a variety of therapies, medications, and counselling, as well as self-help methods. An athletic lifestyle combined with a well-balanced diet can help keep anxious feelings in check.

Related topics:

1.What is self-care & importance of self-care

Self-care means doing activities that makes us feel good and releases stress. Along with other day to day activites, self-care is also important for the body as well as the soul. To know more visit: What is self-care & importance of self-care

2. Yoga for self-care

Yoga is one of the most essential componet of self-care. It makes you feel good about yourself and has a positive impact on your physical as well as mental health. To know more visit: Yoga for self-care

3. Benefits of self-care

There are several benefits of self care such as improved productivity, improved immune system, enhanced self-knowledge and self- compassion.The main benefit is that it brings happiness to your life. To know more visit: Benefits of self-care

4. How to start a self-care routine

As many people face difficulty in starting a self-care routine, it is better to start including small self-care practices such as meditaion, yoga or excercise in your daily routine. To know more visit: How to start a self-care routine

5. How to manage stress

Self-care is an important tool that helps us to feel healthy and happy and reduces stress even in the most stressful conditions. Self-care relaxes out body and soul as it reduces the negative feelings and anxeity.To know more visit: How to manage stress




The above essentials are available with AFD SHIELD.
AFD Shield capsule is a combination of 12 natural ingredients among which are Algal DHA, Ashwagandha, Curcumin and Spirullina. AFD Shield reduces TG, increases HDL and improves age related cognitive decline. It also reduces stress and anxiety and performs anti-aging activity.Moreover, it also enhances the immunomodulatory activity, improves immunity and reduces inflammation and oxidative stress. Nutralogicx: AFD SHIELD

">

चिंता हमलों के बारे में जानने योग्य बातें

Anxiety

अवलोकन

जब रोजमर्रा के दबाव और मुद्दों के साथ मुकाबला, चिंता एक प्राकृतिक भावना है । तनाव के प्रति आपके शरीर की सामान्य प्रतिक्रिया चिंता है। यह क्या आने के लिए भय या पूर्वाभास की भावना है । ज्यादातर लोग स्कूल के पहले दिन, नौकरी के इंटरव्यू में जाने या भाषण देने से डरते और चिंतित होते हैं । एक नई जगह पर जाना, एक नए कैरियर की शुरुआत, या एक परीक्षण लेने के सभी चिंता पैदा कर सकते हैं । हालांकि चिंता का यह रूप तनावपूर्ण है, यह आपको अधिक मेहनत करने और बेहतर परिणाम प्राप्त करने के लिए प्रेरित कर सकता है। साधारण चिंता एक क्षणभंगुर भावना है जो आपके दैनिक गतिविधियों में हस्तक्षेप नहीं करती है।

हालांकि, चिंता एक शर्त बन जाता है जब इन भावनाओं को आवर्ती, अत्यधिक, और तर्कहीन हैं, और वे एक व्यक्ति के काम करने की क्षमता के साथ हस्तक्षेप । यदि चिंता गंभीर है, तो आपको चिंता विकार हो सकता है, छह महीने से अधिक समय तक रहता है, और आपके जीवन में हस्तक्षेप करता है। चिंता विकारों में भय, आतंक और तनाव विकार, और जुनूनी-बाध्यकारी विकार शामिल हैं।

यदि आपको चिंता विकार है, तो आप सभी समय डर का अनुभव कर सकते हैं। यह तीव्र है और कई बार दुर्बल हो सकता है । चिंता का यह रूप आपको उन गतिविधियों को छोड़ने का कारण बन सकता है, जिनका आप आनंद लेते हैं। यह आपको लिफ्ट में प्रवेश करने, सड़क पार करने या यहां तक कि चरम मामलों में अपने घर छोड़ने से रोक सकता है। यदि चिंता को संभाला नहीं है, यह सिर्फ बदतर हो सकता है ।

चिंता का कारण क्या है?

चिंता एक मानसिक बीमारी, एक शारीरिक बीमारी, दवा साइड इफेक्ट, या इन कारकों का एक संयोजन से बढ़ा हो सकता है । डॉक्टर के लिए पहला काम यह निर्धारित करना है कि आपकी चिंता किसी अन्य चिकित्सा समस्या का लक्षण है या नहीं।

ये मानसिक बीमारियां चिंता के आम कारण हैं:
1. धड़कन (दिल की धड़कन महसूस करना), चक्कर आना, और सांस लेने में तकलीफ चिंता के अलावा पैनिक डिसऑर्डर के सभी सामान्य संकेत हैं। कॉफी (कैफीन), एम्फेटामाइंस ("गति" एक डॉक्टर द्वारा निर्धारित नहीं एम्फेटामाइंस के लिए सड़क खिचड़ी भाषा है), एक अति सक्रिय थायराइड, अनियमित दिल की लय, और अन्य दिल की समस्याओं सभी समान लक्षण (जैसे माइट्रल वाल्व प्रोलैप्स) को ट्रिगर कर सकते हैं।

2. फोबियास

चिंता निम्नलिखित बाहरी कारकों से शुरू की जा सकती है:
1. कार्यस्थल तनाव स्कूल से संबंधित तनाव
2. शादी जैसे व्यक्तिगत संबंधों में तनाव
3. वित्तीय दबाव
4. वैश्विक घटनाओं या राजनीतिक समस्याओं के कारण तनाव हो सकता है।
5. अप्रत्याशित या अनिश्चित दुनिया की घटनाओं, जैसे एक महामारी "तनाव का कारण ।
6. एक भावनात्मक आघात, जैसे किसी प्रियजन की मृत्यु, तनाव का कारण बन सकती है।
7. गंभीर चिकित्सा स्थिति के परिणामस्वरूप तनाव
8. दवा के दुष्प्रभाव
9. कोकीन जैसे नियंत्रित पदार्थ का उपयोग।
10. एक चिकित्सा स्थिति का लक्षण (जैसे दिल का दौरा, हीट स्ट्रोक, हाइपोग्लाइकएएमिया)
11. ऑक्सीजन की कमी विभिन्न स्थितियों में हो सकती है, जिसमें उच्च ऊंचाई वाली बीमारी, एम्फिसिमा और फेफड़े के एम्बोलिज्म (फेफड़ों की वाहिकाओं में रक्त का थक्का) शामिल हैं।

Causes of anxiety

सामान्य चिंता और चिंता के बीच ग्रे क्षेत्र

के रूप में चिंता सामांय से नैदानिक के लिए प्रगति, बीच में एक ग्रे क्षेत्र, "लगभग उत्सुक" क्षेत्र के रूप में जाना जाता है, फिर भी अपने जीवन पर एक हानिकारक प्रभाव हो सकता है । आप "लगभग चिंतित" हैं जब आप जिस चिंता का अनुभव कर रहे हैं वह अब आपके प्रदर्शन के लिए अनुकूली या फायदेमंद नहीं है और आपके जीवन के आनंद के लिए एक बाधा बन गई है, लेकिन अभी तक चिंता विकार के लिए नैदानिक सीमा से अधिक नहीं है। आपको काम पर ध्यान केंद्रित करने में परेशानी हो सकती है क्योंकि आप नकारात्मक विचारों, भय या अप्रिय शरीर संवेदनाओं से विचलित हैं। कोई है जो "लगभग चिंतित है," उदाहरण के लिए, पूरे दिन अपनी मेज पर बैठ सकते हैं, लगातार चिंताओं और पेट जकड़न के कारण एक परियोजना पर थोड़ी प्रगति कर रही है । हालांकि घबराहट ने मुझे काम पर जाने से नहीं रोका, लेकिन जिस स्तर की चिंता मैं अनुभव कर रहा था, उसने काम करना मुश्किल बना दिया । "लगभग चिंतित" की अवधारणा का उपयोग करने से आप चिंता को पहचानने में मदद कर सकते हैं इससे पहले कि यह हाथ से बाहर हो जाता है और यह सबूत आधारित तरीकों के साथ लक्ष्य है कि चिंता एक और अधिक प्रबंधनीय स्तर पर लौटने में मदद ।

विभिन्न प्रकार के चिंता विकार

चिंता विकार के 6 विभिन्न प्रकार
1. फोबिया: विशेष जानवरों, चीजों या परिस्थितियों की तीव्र आशंका को फोबिया के रूप में जाना जाता है। कुत्तों, सांपों, ऊंचाइयों, खून की खींचतान, दंत चिकित्सक या कुछ और की आशंका इस श्रेणी में आती है। एक भय के साथ एक व्यक्ति या तो डर वस्तु या परिस्थितियों से बचने के लिए महान लंबाई में जाना होगा, या वे इसका सामना करेंगे, लेकिन बहुत संकट के साथ । इससे पहले कि एक डर एक भय के रूप में वर्गीकृत किया जाता है, यह कम से छह महीने पिछले चाहिए । भय है कि उंर के लिए उपयुक्त है भय के रूप में ही नहीं कर रहे हैं; उदाहरण के लिए, एक 3 साल की उम्र जो अंधेरे से डरती है, उसे कोई फोबिया नहीं है ।

2. पैनिक डिसऑर्डर: ऐसा तब होता है जब किसी व्यक्ति को पैनिक अटैक होता है जो किसी तरह से उनकी दैनिक गतिविधियों में हस्तक्षेप करता है। आतंक हमलों जैसे तेज़ दिल, तेजी से सांस लेने, सीने में दर्द, चक्कर आना, मतली, या पेट दर्द, धुंधला दृष्टि, पसीना, कांप, आसन्न आपदा की भावनाओं के रूप में हालांकि दुनिया असली नहीं है (जैसे कि आप एक सपने या एक फिल्म में हो) के रूप में लक्षण की एक किस्म शामिल कर सकते हैं, या लग रहा है जैसे कि आप अपने आप से बाहर हैं । व्यक्ति को नियंत्रण खोने, मरने या पागल होने का डर भी हो सकता है। आतंक हमलों एक विशेष घटना के कारण हो सकता है या लगभग कहीं से बाहर हड़ताल कर सकते हैं । 15 मिनट के भीतर, वे आम तौर पर अपनी चोटी की ताकत मारा । यह याद रखना महत्वपूर्ण है कि पैनिक अटैक पैनिक डिसऑर्डर के बिना हो जाएगा। जब किसी व्यक्ति को पैनिक डिसऑर्डर होता है, तो वे या तो उन चीजों से बचते हैं जो उनका मानना है कि एक पैनिक अटैक (जैसे मॉल में जाना, फिल्मों में जाना, या ड्राइविंग करना), या वे दूसरे हमले की चिंता करते हैं । पैनिक अटैक को पैनिक डिसऑर्डर के मामले में किसी खास फोबिया या सोशल चिंता से नहीं समझाया जाना चाहिए।

3. सामाजिक चिंता विकार: दूसरों के साथ संवाद करते समय अत्यधिक संकट के बाद, दूसरों द्वारा न्याय या मूल्यांकन किए जाने का एक आवर्ती डर, सामाजिक चिंता विकार (जिसे सामाजिक भय के रूप में भी जाना जाता है) के रूप में जाना जाता है। किसी को गलत काम करने, गूंगा महसूस करने या अपमानित होने का डर हो सकता है। यह चिंता एक ही स्थिति में प्रकट हो सकती है, जैसे कि स्कूल में प्रस्तुति देना, या यह विभिन्न परिस्थितियों में प्रकट हो सकता है जिसमें एक बच्चा साथियों और वयस्कों के साथ संवाद करने में असहज है। नतीजतन, चिंतित व्यक्ति करीबी दोस्तों और परिवार के साथ आराम से शेष रहते हुए दूसरों के साथ संवाद करने से बच सकता है। एक उत्सुक व्यक्ति अक्सर किसी को उनके लिए बात करने के लिए कह सकता है, जैसे कि रेस्तरां में उनके लिए भोजन का आदेश देना। शर्म और सामाजिक चिंता विकार एक ही बात नहीं कर रहे हैं । शर्म कुछ संदर्भों में दूसरों के साथ उलझाने के साथ एक हल्की बेचैनी है, जबकि सामाजिक चिंता विकार एक व्यक्ति के घर, स्कूल, काम, या उनके सामाजिक सर्कल में सामना करने की क्षमता के साथ हस्तक्षेप करता है । सामाजिक चिंता विकार हमेशा सामाजिक सेटिंग्स में छिटपुट, क्षणभंगुर संकट से संकेत नहीं है ।

Social anxiety disorder


4. जुदाई चिंता विकार: जब कोई लगातार से अलग होने या एक केयरटेकर या लगाव आंकड़ा खोने के बारे में चिंतित है यह जुदाई चिंता विकार के रूप में कहा जाताहै। अलगाव की चिंता एक बच्चे के प्रारंभिक विकास का एक आम हिस्सा है, लेकिन यह उनके विकास के साथ हस्तक्षेप कर सकते है अगर यह अत्यधिक हो जाता है । जुदाई चिंता विकार लोगों को चिंता करने का कारण बनता है कि उनके केयरटेकर का क्या होगा अगर वे अलग हैं, जैसे कि केयरटेकर मर जाएगा या बीमार हो जाएगा । बच्चा इस बात को लेकर भी चिंतित है कि अगर वे अपने केयरटेकर से अलग हो जाते हैं तो उनका क्या होगा, जैसे कि क्या वे घायल होंगे या नुकसान पहुंचाएंगे । उनकी बढ़ी हुई चिंता के कारण, व्यक्ति अपने केयरटेकर के लिए "चिपचिपा" दिखाई दे सकता है और स्कूल जाने, अकेले घर पर होने या अकेले सोने के लिए अपना पक्ष छोड़ने में परेशानी हो सकती है। जुदाई चिंता विकार अक्सर एक तनावपूर्ण घटना या एक नुकसान से शुरू होता है। उदाहरण के लिए, एक छोटा बच्चा जिसने एक पालतू जानवर या युवा वयस्क को खो दिया है जो पहली बार अपने माता-पिता के घर से बाहर जा रहा है । यह ध्यान दें कि चिंता दोनों सामांय और इलाज है महत्वपूर्ण है । यदि आपके बच्चे की चिंता उनकी दैनिक गतिविधियों या दायित्वों (जैसे स्कूल या काम), चिकित्सा देखभाल, या पारस्परिक संबंधों के साथ हस्तक्षेप कर रही है, तो उपचार के विकल्पों के बारे में उनके प्राथमिक देखभाल चिकित्सक या मानसिक स्वास्थ्य पेशेवर से बात करें।

5. सामान्यीकृत चिंता: जब किसी ने चिंता को सामान्यीकृत किया है, तो वे स्कूल या काम की सफलता, वित्त, वैश्विक घटनाओं, प्राकृतिक आपदाओं, पारस्परिक संबंधों और अन्य चिंताओं सहित विभिन्न मुद्दों के बारे में चिंतित हैं। इन चिंताओं को प्रबंधित करना और सरफेसिंग रखना मुश्किल है, जिससे लोगों के लिए अपने कार्यों पर ध्यान केंद्रित करना मुश्किल हो जाता है । चिंता अक्सर और तीव्रता से पर्याप्त होते हैं ताकि ध्यान केंद्रित करना मुश्किल हो सके, साथ ही सिरदर्द, पेट में दर्द, मांसपेशियों में तनाव और चिड़चिड़ापन पैदा करना या बढ़ा दिया जा सके।
6. जुनूनी बाध्यकारी विकार (ओसीडी) और पोस्ट-ट्रॉमेटिक स्ट्रेस डिसऑर्डर (पीटीएसडी) दो अलग-अलग प्रकार के चिंता विकार हैं। वे पूर्व में चिंता विकारों के रूप में जाना जाता था, लेकिन वे अब अलग हो जाते हैं क्योंकि उनके पास अलग-अलग कारण होते हैं, मस्तिष्क तंत्र शामिल होते हैं, और उपचार जो उन्हें चिंता विकारों से अलग करते हैं।

सामाजिक चिंता विकार

नई नौकरी के लिए भाषण या इंटरव्यू देते समय कई लोग आशंकित या खुद को जागरूक करते हैं। हालांकि, सामाजिक चिंता विकार, जिसे सामाजिक भय के रूप में भी जाना जाता है, सिर्फ शर्म या घबराहट से अधिक है। सामाजिक चिंता विकार सामाजिक स्थितियों का एक भारी डर की विशेषता है, विशेष रूप से उन है कि उपंयास या जिसमें आपको लगता है कि आप मनाया या दूसरों के द्वारा मूल्यांकन किया जाएगा । ये परिदृश्य इतने भयानक हो सकते हैं कि आप उनके बारे में सोचने में असहज हो जाते हैं, या आप उनसे बचने के लिए काफी प्रयासों में जा सकते हैं, जिससे आपके जीवन में महत्वपूर्ण व्यवधान उत्पन्न हो सकता है।

निरीक्षण किया जा रहा है या सार्वजनिक रूप से शर्मिंदा होने का खौफ सामाजिक चिंता विकार की जड़ में है । आप इस बात को लेकर चिंतित हो सकते हैं कि दूसरे आपको नकारात्मक रूप से आंकेंगे या दूसरों की तुलना में आप कम पड़ जाएंगे । यहां तक कि जब आप निस्संदेह समझते है कि मूल्यांकन किया जा रहा है की अपनी चिंताओं निराधार और अतिशयोक्तिपूर्ण हैं, तो आप मदद नहीं कर सकता, लेकिन चिंतित महसूस करते हैं । आप सामाजिक स्थितियों में सहज होना सीख सकते हैं और अपने जीवन को पुनः प्राप्त कर सकते हैं, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप कितने कष्टदायी रूप से शर्मीले हैं या तितलियों कितने भयानक हैं।

सामाजिक चिंता विकार के ट्रिगर
इस तथ्य के बावजूद कि आप महसूस कर सकते हैं कि आप केवल एक ही हैं जो सामाजिक चिंता से ग्रस्त हैं, यह वास्तव में बेहद आम है। कई लोग इन बातों से डरते हैं। हालांकि, सामाजिक चिंता विकार के लक्षणों को सेट करने वाली परिस्थितियां भिन्न हो सकती हैं। ज्यादातर सामाजिक स्थितियों में कुछ लोगों को घबराहट झेलनी पड़ती है। दूसरों को कुछ सामाजिक परिस्थितियों के साथ चिंता सहयोगी, जैसे अजनबियों के साथ बातचीत, पार्टियों में अजनबियों के साथ मिश्रण, या एक दर्शकों के सामने प्रदर्शन । निम्नलिखित सबसे आम सामाजिक चिंता ट्रिगर में से कुछ हैं:
• नए लोगों से मिलना
• छोटी सी बात करना
• सार्वजनिक बोल
• मंच पर प्रदर्शन
• ध्यान का केंद्र होने के नाते
• कुछ करते समय देखा जा रहा है
• छेड़ा जा रहा है या आलोचना की जा रही है
• "महत्वपूर्ण" लोगों या प्राधिकरण के आंकड़ों के साथ बात करना
• क्लास में बुलाया जा रहा है
• एक तारीख पर जा रहे हैं
• एक बैठक में बोलते हुए
• सार्वजनिक टॉयलेट का उपयोग करना
• परीक्षा ले रहे हैं
• सार्वजनिक रूप से खाना या पीना
• फोन कॉल करना
• पार्टियों या अन्य सामाजिक समारोहों में भाग लेना

सामाजिक चिंता विकार के लक्षण
आप सामाजिक चिंता विकार या सामाजिक भय सिर्फ इसलिए कि आप अवसर पर सामाजिक स्थितियों में असहज हो नहीं है । बहुत से लोग समय-समय पर लज्जा या आत्मचेतना का अनुभव करते हैं, लेकिन यह उनके दैनिक जीवन में हस्तक्षेप नहीं करता है। दूसरी ओर, सामाजिक चिंता विकार आपकी दैनिक दिनचर्या को बाधित करता है और महत्वपूर्ण संकट पैदा करता है।

उदाहरण के लिए, भाषण देने से पहले नस का अनुभव करना पूरी तरह से आम है। यदि आप सामाजिक चिंता है, हालांकि, आप समय से पहले हफ्तों के लिए झल्लाहट हो सकता है, बीमार में फोन करने के लिए भाषण देने से बचने के लिए, या इतनी बुरी तरह से मिलाते हुए शुरू है कि आप शायद ही बात कर सकते हैं ।

सामाजिक चिंता विकार भावनात्मक संकेतक और लक्षणों में शामिल हैं:
1. नियमित सामाजिक बातचीत में अत्यधिक आत्म-चेतना और चिंता,
2. चिंता है कि दिनों, सप्ताह, या यहां तक कि एक सामाजिक घटना से पहले महीने के लिए रहता है
3. दूसरों, विशेष रूप से अजनबियों द्वारा देखे जाने या न्याय किए जाने की अत्यधिक आशंका
4. डर है कि आप कुछ भी है कि शर्म की बात है या आप शर्म की बात होगी करेंगे
5. डर है कि लोगों को नोटिस जाएगा कि तुम कैसे घबरा रहे है

शारीरिक संकेत और लक्षण निम्नलिखित शामिल हैं:
1. एक फ्लश या लाल चेहरा होना एक आम घटना है।
2. सांस लेने में समस्या
3. मतली, पेट खराब(यानी तितलियों)
4. मिलाते हुए या कांप (अस्थिर आवाज सहित)
5. छाती या एक रेसिंग दिल में जकड़न
6. पसीना आना या गर्म चमक रजोनिवृत्ति के दो सामान्य लक्षण हैं।
7. प्रकाश की अध्यक्षता या बेहोश लग रहा है

व्यवहार के लक्षण और संकेत:
1. सामाजिक मुठभेड़ों से इस बात से बचना कि आपकी गतिविधियां सीमित हैं या आपका जीवन अस्त-व्यस्त है।
2. पता लगाने और शर्मिंदगी से बचने के लिए चुप रहना या पृष्ठभूमि में गायब होना।
3. आपको हमेशा अपने साथ एक दोस्त को हर जगह लाना चाहिए।
4. अपनी चिंताओं को शांत करने के लिए एक सामाजिक घटना से पहले एक ड्रिंक करना।

सामाजिक चिंता विकार को दूर करने के लिए टिप्स

टिप 1: नकारात्मक विचारों को चुनौती

टिप 2: दूसरों पर ध्यान केंद्रित करें, खुद पर नहीं
I. अन्य लोगों पर ध्यान केंद्रित करें, न कि वे आपके बारे में क्या सोच रहे हैं! इसके बजाय, उनके साथ जुड़ने और एक वास्तविक कनेक्शन स्थापित करने का प्रयास करें।
II. ध्यान रखें कि घबराहट उतनी स्पष्ट नहीं है जितनी आप विश्वास कर सकते हैं। और सिर्फ इसलिए कि किसी को एहसास होता है, तुम घबरा रहे है मतलब नहीं है कि वे तुंहें नकारात्मक ंयायाधीश हूं । वहां एक अच्छा मौका है कि दूसरों के रूप में आप कर रहे है के रूप में घबरा रहे है-या अतीत में किया गया है ।
III. अपने नकारात्मक विचारों के बजाय जो कहा जा रहा है, उसे ध्यान से सुनें।
IV. इसके बजाय क्या आप कहने के लिए या अपने आप को एक पिछली भूल के लिए berating जा रहे है के बारे में जोर देने की, वर्तमान क्षण पर ध्यान केंद्रित ।
V. चलो सही होने की जरूरत के चलते हैं । इसके बजाय, ईमानदार और चौकस गुण है कि दूसरों की सराहना करेंगे होने पर ध्यान केंद्रित ।

टिप 3: अपनी चिंताओं का सामना करें।
I. अपने सबसे बुरे डर का तुरंत सामना करने का प्रयास न करें। बहुत जल्दी चल रहा है, बहुत ज्यादा पर ले जा रही है, या चीजों को मजबूर एक स्मार्ट विचार कभी नहीं है । यह उलटा पड़ सकता है और आपकी उत्सुकता को बदतर बना सकता है ।
II. धैर्य की आवश्यकता है। सामाजिक चिंता को दूर करने के लिए समय लगता है और अभ्यास करता है । यह एक व्यवस्थित, कदम-दर-कदम दृष्टिकोण है।
III. आपके द्वारा सीखी गई तकनीकों को लागू करके शांत रहें, जैसे कि आपकी श्वास पर ध्यान केंद्रित करना और नकारात्मक पूर्वधारणाओं को अस्वीकार करना।

टिप 4: दूसरों के साथ बातचीत करने का प्रयास करें।
I. सामाजिक कौशल या मुखरता प्रशिक्षण पाठ्यक्रम में दाखिला लेने पर विचार करें। इन कक्षाओं को अक्सर क्षेत्र में सामुदायिक कॉलेजों या प्रौढ़ शिक्षा सुविधाओं में प्रदान किया जाता है ।
II. स्वयंसेवक कुछ ऐसा कर रहे हैं, जैसे कि एक आश्रय में कुत्तों को घूमना या राजनीतिक अभियान के लिए लिफाफे भराई करना- कुछ भी जो आपको एक केंद्रित गतिविधि प्रदान करेगा, जबकि आपको समान विचारधारा वाले व्यक्तियों के एक छोटे समूह के साथ बातचीत करने की अनुमति भी देगा।
III. अपनी संचार क्षमताओं में सुधार करें। स्वस्थ साझेदारियों के लिए स्पष्ट, भावनात्मक रूप से जागरूक संचार आवश्यक है । भावनात्मक बुद्धि के मौलिक कौशल सीखने में मदद कर सकते है आप लोगों के साथ कनेक्ट अगर आप समस्याओं के लोगों के साथ कनेक्ट कर रहे हैं ।

चिंता विकार के लक्षण

Symptoms of anxiety disorder

सामान्यीकृत चिंता विकार के लिए
सामान्यीकृत चिंता विकार (जीएडी) वाले लोग व्यक्तिगत भलाई, नौकरी, सामाजिक बातचीत और दैनिक जीवन स्थितियों सहित कम से कम 6 महीनों के लिए विभिन्न विषयों के बारे में गहन चिंता या चिंता का अनुभव करते हैं। भय और चिंता सामाजिक बातचीत, शिक्षा और काम में बड़ी समस्याओं का कारण बन सकती है।

सामान्यीकृत चिंता विकार के लक्षणों में शामिल हैं:

Symptoms of generalised anxiety disorder


1. चींटियों, उत्तेजित, या तनाव महसूस कर रहाहै ।
2. जल्दी से समाप्त होने के नाते
3. ध्यान केंद्रित करने में परेशानी हो रही है; मन खाली जा रहा है।
4. चिढ़ हो रही है
5. मांसपेशियों में तनाव
6. चिंता भावनाओं को नियंत्रित करना मुश्किल है।
7. नींद के मुद्दे होना, जैसे कि गिरने या सोने में असमर्थता, बेचैनी, या असंतोषजनक नींद।

पैनिक डिसऑर्डर के लिए
पैनिक डिसऑर्डर की विशेषता अक्सर, अचानक पैनिक अटैक से होती है । आतंक हमलों चरम डर है कि अचानक शुरू और मिनट के भीतर चोटी के संक्षिप्त फटने हैं । हमले कहीं से भी या उत्तेजना के परिणामस्वरूप हो सकते हैं, जैसे कि एक भय प्राप्त वस्तु या परिस्थिति।

लोग पैनिक अटैक के दौरान निम्नलिखित लक्षणों का अनुभव कर सकते हैं:
1. दिल की धड़कन, एक तेज़ नाड़ी, या एक तेजी से दिल की धड़कन एक त्वरित हृदय गति के सभी लक्षण हैं।
2. पसीना आना एक आम घटना है।
3. हिलना या कांपना
4. सांस की तकलीफ, घुटन, या घुट संवेदनाओं।
5. कयामत और निराशा की भावनाओं
6. बेकाबू होने की भावनाएं।

फोबिक डिसऑर्डर के लिए
एक फोबिया एक मजबूत नापसंद या एक निश्चित वस्तु या परिस्थिति का डर है। हालांकि यह कुछ स्थितियों में नर्वस महसूस करने के लिए समझ में आता है, भय के साथ लोगों द्वारा अनुभवी चिंता वास्तविक स्थिति या वस्तु से उत्पन्न खतरे के अनुपात से बाहर है ।

1. जो लोग भय से पीड़ित हैं, वे डरी हुई वस्तु या स्थिति का सामना करते समय अनुचित या अत्यधिक चिंता का अनुभव कर सकते हैं।
2. इससे बचने के लिए सक्रिय कार्रवाई करके खतरनाक वस्तु या स्थिति को रोकें।
3. जब डर वस्तु या परिस्थितियों के साथ सामना, चरम चिंता का अनुभव अभी ।
4. अपरिहार्य वस्तुओं और परिस्थितियों का सामना करते समय अत्यधिक चिंता का अनुभव करना।

डॉक्टर से कब सलाह लें

यदि आपको संदेह है कि आपकी चिंता एक मुद्दा है तो अपने डॉक्टर के साथ बात करना महत्वपूर्ण है। विशेषज्ञों का अब आग्रह करता हूं कि सभी महिलाओं और 13 साल की आयु वर्ग की लड़कियों और पुराने नियमित स्वास्थ्य परीक्षा के दौरान चिंता विकारों के लिए जांच की है, क्योंकि महिलाओं को चिंता के लक्षण पुरुषों की तुलना में अधिक बार अनुभव । क्योंकि चिंता समय के साथ खराब हो सकती है अगर अनुपचारित छोड़ दिया, जल्दी पता लगाने और हस्तक्षेप महत्वपूर्ण हैं ।

शारीरिक और मनोवैज्ञानिक विकारों की एक किस्म अत्यधिक चिंता करने के लिए योगदान कर सकते हैं।

चिंता विकारों को हृदय रोग, पेट के मुद्दों और असुविधा सहित कई चिकित्सा बीमारियों से भी जोड़ा गया है। अपने डॉक्टर से बात करने का सबसे बड़ा कारण यह है कि चिंता का इलाज किया जा सकता है, और इसके लक्षण प्रबंधनीय हैं।

चिंता के लिए उपचार

Treatment for anxiety disorder

एक बार जब आपको चिंता का निदान हो जाता है, तो आप उपचार विकल्पों के बारे में अपने डॉक्टर से बात कर सकते हैं। मेडिकल थेरेपी कुछ व्यक्तियों के लिए आवश्यक एनओटी है। किसी की जीवनशैली में परिवर्तन लक्षणों को कम करने के लिए पर्याप्त हो सकते हैं।
दूसरी ओर, उपचार आपको लक्षणों पर काबू पाने और मध्यम या गंभीर मामलों में अधिक सहने योग्य दिन-प्रतिदिन के अस्तित्व को जीने में मदद कर सकता है।
चिंता उपचार दो प्रकार में विभाजित है:
• मनोचिकित्सा
• दवाओं।

एक चिकित्सक या मनोवैज्ञानिक के साथ बैठक आप चिंता से निपटने के लिए उपकरण और तरीकों के विकास में सहायता कर सकते है जब यह उठता है ।

अवसादरोधी दवाएं और शामक आम दवाएं हैं जिनका उपयोग चिंता का प्रबंधन करने के लिए किया जाता है। वे मस्तिष्क रसायन विज्ञान को बहाल करने, चिंता के हमलों को रोकने और विकार के सबसे गंभीर लक्षणों को कम करने के लिए कार्य करते हैं । चिंता का इलाज विभिन्न तरीकों से किया जा सकता है, और रोगियों को अपने डॉक्टर से परामर्श करना चाहिए ताकि यह निर्धारित किया जा सके कि उनके लिए कौन सा विकल्प सबसे अच्छा है।

मनोचिकित्सा
चिंता की समस्याओं से पीड़ित लोगों को मनोचिकित्सा से लाभ हो सकता है, जिसे "टॉक थेरेपी" के रूप में भी जाना जाता है । मनोचिकित्सा व्यक्ति के व्यक्तिगत भय पर संबोधित किया जाना चाहिए और प्रभावी होने के लिए उसकी आवश्यकताओं के अनुकूल है।

संज्ञानात्मक व्यवहार थेरेपी
एक प्रकार का मनोचिकित्सा जो चिंता विकारों वाले व्यक्तियों की मदद कर सकता है वह है संज्ञानात्मक व्यवहार चिकित्सा (सीबीटी)। यह लोगों को सिखाता है कि कैसे के बारे में सोचना है, के साथ व्यवहार करते हैं, और चिंता उत्प्रेरण और भयभीत वस्तुओं और परिस्थितियों के लिए नए तरीकों से प्रतिक्रिया । सीबीटी सामाजिक कौशल के विकास और अभ्यास में भी सहायता कर सकता है, जो सामाजिक चिंता विकार के उपचार में महत्वपूर्ण है ।

संज्ञानात्मक चिकित्सा और एक्सपोजर उपचार दो सीबीटी रणनीतियां हैं जिनका उपयोग अक्सर सामाजिक चिंता विकार के इलाज के लिए किया जाता है, या तो एक साथ या अलग से। संज्ञानात्मक चिकित्सा का लक्ष्य चिंता विकारों की जड़ में असहायक या विकृत अवधारणाओं को उजागर करना, चुनौती देना और अंततः बेअसर करना है। एक्सपोजर थेरेपी चिंताओं से निपटने पर केंद्रित है कि चिंता विकारों को रेखांकित करने के लिए लोगों को पहले से परहेज गतिविधियों में संलग्न हैं । कभी-कभी, एक्सपोजर उपचार को विश्राम अभ्यास और/

सीबीटी अकेले या व्यक्तियों के एक समूह के साथ किया जा सकता है जो इसी तरह की समस्याएं हैं । प्रतिभागियों को अक्सर सत्रों के बीच पूरा करने के लिए "होमवर्क" दिया जाता है।

दवा
दवा चिंता विकारों के लिए एक समाधान नहीं है, हालांकि यह लक्षणों को कम करने में मदद कर सकता है। मनोचिकित्सकों या प्राथमिक देखभाल प्रदाताओं जैसे डॉक्टर चिंता की दवा लिखते हैं। कुछ क्षेत्रों में, विशेष प्रशिक्षण वाले मनोवैज्ञानिक मानसिक दवाएं भी लिख सकते हैं। एंटी-चिंता दवाएं (जैसे बेंजोडाइज़ेपिन्स), अवसादरोधी दवाएं और बीटा-ब्लॉकर्स चिंता विकारों के इलाज के लिए उपयोग किए जाने वाले सबसे अधिक प्रकार के फार्मास्यूटिकल्स हैं।

विरोधी चिंता दवा
चिंता, आतंक एपिसोड, या गंभीर भय और चिंता सभी विरोधी चिंता दवाओं के साथ इलाज किया जा सकता है । बेंजोडाइज़ेपिन्स सबसे प्रचलित एंटी-चिंता दवाएं हैं। बेंजोडाइज़ेपिन्स, जिनका उपयोग कभी-कभी सामान्यीकृत चिंता विकार के लिए पहली पंक्ति के उपचार के रूप में किया जाता है, फायदे और नुकसान दोनों प्रदान करते हैं।

बेंजोडाइज़ेपिन्स को चिंता को कम करने और अवसादरोधी दवाओं की तुलना में तेजी से काम करने में अधिक प्रभावी होने का लाभ होता है, जो आमतौर पर चिंता के लिए दिए जाते हैं। लोग बेंजोडाइज़ेपिन्स के लिए सहिष्णुता विकसित कर सकते हैं यदि उन्हें विस्तारित लंबाई के लिए लिया जाता है, और उन्हें समान प्रभाव प्राप्त करने के लिए उच्च और उच्च खुराक की आवश्यकता हो सकती है। कुछ लोग उन पर पूरी तरह निर्भर हो सकते हैं।

डॉक्टरों को आम तौर पर समय की छोटी अवधि के लिए बेंजोडाइज़ेपिन्स प्रशासन इन मुद्दों को रोकने के लिए, जो पुराने लोगों के लिए विशेष रूप से फायदेमंद है, मादक द्रव्यों के दुरुपयोग के मुद्दों के साथ व्यक्तियों, और जो लोग आसानी से दवाओं पर निर्भर हो जाते हैं ।

जो लोग अचानक बेंजोडाइज़ेपिन्स का उपयोग करना बंद कर देते हैं, उनमें वापसी के लक्षण हो सकते हैं या चिंता के पुनरुत्थान का अनुभव हो सकता है। नतीजतन, बेंजोडाइज़ेपिन्स को धीरे-धीरे बंद किया जाना चाहिए। जब आप और आपका डॉक्टर यह तय करते हैं कि दवा लेना बंद करने का समय है, तो डॉक्टर आपको धीरे-धीरे और सुरक्षित रूप से अपनी खुराक को कम करने में मदद करेगा।

बेंजोडाइज़ेपिन्स का उपयोग अक्सर चिंता के लिए दूसरी पंक्ति के उपचार के रूप में किया जाता है (अवसादरोधी दवाएं पहली पंक्ति उपचार होने के साथ-साथ किसी भी असहज लक्षण भड़कने के लिए "आवश्यकता" दवा भी होती हैं।

Buspirone विरोधी चिंता दवा का एक अलग प्रकार है । Buspirone एक गैर बेंजोडाइज़ेपाइन दवा है जिसका उपयोग पुरानी चिंता के इलाज के लिए किया जाता है। हालांकि यह हर किसी के लिए काम नहीं करता।

एंटी डिप्रेसेंट
अवसादरोधी दवाओं को आमतौर पर अवसाद का इलाज करने के लिए निर्धारित किया जाता है, लेकिन वे चिंता की समस्याओं के साथ भी सहायता कर सकते हैं। वे मूड और तनाव को विनियमित करने वाले विशिष्ट रसायनों के आपके मस्तिष्क के उपयोग की बेहतरी में सहायता कर सकते हैं। यह संभव है कि आपको एक खोजने से पहले कुछ अलग अवसादरोधी दवाओं की कोशिश करनी होगी जो आपके लिए काम करता है और प्रबंधनीय दुष्प्रभाव हैं। जिन दवाओं ने पहले आपकी या परिवार के किसी करीबी सदस्य की सहायता की है, उनकी अक्सर जांच की जाएगी ।

अवसादरोधी दवाओं को काम करने में समय मिलता है, इसलिए उनकी प्रभावकारिता के बारे में कोई निष्कर्ष निकालने से पहले उन्हें मौका देना महत्वपूर्ण है। यदि आप अवसादरोधी दवाएं लेना शुरू करते हैं, तो अपने डॉक्टर से परामर्श के बिना बंद न करें। जब आप और आपका डॉक्टर यह तय करते हैं कि दवा लेना बंद करने का समय है, तो डॉक्टर आपको धीरे-धीरे और सुरक्षित रूप से अपनी खुराक को कम करने में मदद करेगा। यदि आप उन्हें अचानक लेना बंद कर देते हैं तो वापसी के लक्षण हो सकते हैं।

चिंता को व्यापक रूप से अवसादरोधी दवाओं के साथ इलाज किया जाता है जिसे चयनात्मक सेरोटोनिन रीटेक इनहिलेटर्स (एसएसआरआई) और सेरोटोनिन-नोरेपाइनफ्रीन रीटेक अवरोधक (SNRIs) के रूप में जाना जाता है। ट्राइसाइक्लिक एंटीडिप्रेसेंट और मोनोमाइन ऑक्सीडेस अवरोधक जैसे पुराने अवसादरोधी वर्गों का उपयोग अक्सर चिंता विकारों (MAOIs) के लिए अभी तक प्रभावी उपचार किया जाता है।

चिंता के लिए प्राकृतिक उपचार

आपकी जीवनशैली में बदलाव से आपको दैनिक आधार पर अनुभव होने वाले कुछ तनाव और चिंता से राहत मिल सकती है। प्राकृतिक "उपचार" के बहुमत अपने शरीर की देखभाल करना, स्वस्थ गतिविधियों में उलझाने, और अस्वस्थ लोगों से परहेज करना आवश्यक है ।

1. पर्याप्त नींद
2. ध्यान
3. सक्रिय रहना और व्यायाम करना,
4. एक अच्छा आहार खाने,
5. सक्रिय रहना और बाहर काम करना, और
6. शराब से परहेज करना उनमें से कुछ ही हैं ।
7. कैफीन परहेज
8. सिगरेट पीने पर रोक

कुछ परिस्थितियों में, चिकित्सकीय पर्यवेक्षण की आवश्यकता के बिना घर पर एक चिंता विकार का इलाज किया जा सकता है। हालांकि, गंभीर या दीर्घकालिक चिंता विकारों के लिए, यह फायदेमंद नहीं हो सकता है। विभिन्न प्रकार के अभ्यास और क्रियाएं हैं जो किसी को मामूली, अधिक केंद्रित, या कम अवधि की चिंता विकारों के साथ प्रबंधित करने में मदद कर सकती हैं:

तनाव में कमी: तनाव से निपटने के लिए सीखना संभावित ट्रिगर की संख्या को कम करने में सहायता कर सकता है। किसी भी आगामी समय सीमा और दबाव को व्यवस्थित करें, बड़ी नौकरियों को और अधिक प्राप्त करने के लिए सूचियां तैयार करें, और स्कूल या काम से समय निर्धारित करें।

विश्राम के लिए तकनीक: सरल गतिविधियों चिंता के मानसिक और शारीरिक लक्षणों को कम करने में मदद कर सकते हैं । ध्यान, गहरी श्वास अभ्यास, लंबे स्नान, अंधेरे में आराम, और योग इन प्रथाओं में से कुछ हैं ।

अच्छे विचारों के साथ नकारात्मक विचारों को बदलने में आपकी मदद करने के लिए अभ्यास में निम्नलिखित शामिल हैं: चिंता के परिणामस्वरूप चक्र की संभावना वाले नकारात्मक विचारों का एक नोट बनाएं, और इसके बगल में, उन्हें बदलने के लिए सकारात्मक, प्रशंसनीय विचारों की एक सूची बनाएं। यदि चिंता के लक्षण किसी विशिष्ट कारण से संबंधित हैं, जैसे कि फोबिया, सफलतापूर्वक सामना करने और उस डर को जीतने की मानसिक छवि बनाना फायदेमंद हो सकता है।

समर्थन प्रणाली: किसी ऐसे व्यक्ति के साथ बोलें जिसे आप जानते हैं कि कौन सहायक होगा, जैसे कि परिवार का सदस्य या मित्र। स्थानीय और ऑनलाइन सहायता समूहों के अलावा, आपके क्षेत्र में संसाधन सुलभ हो सकते हैं।

कसरत: शारीरिक गतिविधि किसी के आत्मसम्मान को बढ़ावा दे सकती है और मस्तिष्क में फील गुड हार्मोन उत्पन्न कर सकती है।

खाद्य पदार्थ जो चिंता का इलाज कर सकते हैं।

चिंता नियमित रूप से दवा और बात चिकित्सा के साथ इलाज किया जाता है । आपकी जीवनशैली में बदलाव, जैसे पर्याप्त नींद लेना और नियमित रूप से व्यायाम करना भी सहायता कर सकता है। इसके अलावा, कुछ अध्ययन से पता चलता है कि आपके द्वारा खाए जाने वाले खाद्य पदार्थों का आपके मस्तिष्क पर सकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है यदि आप अक्सर चिंता से पीड़ित होते हैं। कुछ खाद्य पदार्थ जो चिंता में मदद कर सकते हैं:

1. सामन मछली
2. डार्क चॉकलेट
3. दही
4. कैमोमाइल
5. हल्दी
6. ग्रीन टी

चिंता को रोकने के लिए उठाए जा सकते हैं कुछ कदम:

कुछ मामलों में चिंता विकारों को रोका जा सकता है। याद रखें कि उत्सुक भावनाएं जीवन का एक सामान्य हिस्सा हैं, और उन्हें होने का हमेशा मतलब यह नहीं है कि आपको मानसिक स्वास्थ्य समस्या है।

उत्सुक भावनाओं का प्रबंधन करने में सहायता करने के लिए, निम्नलिखित चरणों का उपयोग करें:
1. कैफीन, चाय, कोला और चॉकलेट सभी से बचना चाहिए।
2. किसी भी यौगिकों के लिए काउंटर (ओटीसी) या हर्बल दवाओं का उपयोग करने से पहले डॉक्टर या फार्मासिस्ट से जांच करें जो चिंता के लक्षणों को बढ़ा सकता है।
3. पौष्टिक आहार बनाए रखें।
4. नियमित रूप से सोने का शेड्यूल बनाए रखें।
5. शराब, भांग, और अन्य मनोरंजक दवाओं से बचना चाहिए।

समाप्ति

चिंता एक चिकित्सा समस्या नहीं है, बल्कि एक प्राकृतिक भावना है कि अस्तित्व के लिए आवश्यक है जब एक व्यक्ति खतरे में है । जब यह प्रतिक्रिया चरम या ट्रिगर के अनुपात से बाहर हो जाती है जो इसे ट्रिगर करती है, तो एक चिंता विकार विकसित होता है। पैनिक डिसऑर्डर, फोबिया और सामाजिक चिंता चिंता विकारों के कुछ उदाहरण हैं। उपचार में विभिन्न प्रकार के उपचार, दवाएं और परामर्श, साथ ही स्वयं सहायता विधियां शामिल हैं। एक एथलेटिक जीवन शैली एक अच्छी तरह से संतुलित आहार के साथ संयुक्त जांच में उत्सुक भावनाओं को रखने में मदद कर सकते हैं ।

संबंधित विषय:

1. स्व-देखभाल और स्व-देखभाल का महत्व क्या है

सेल्फ-केयर का मतलब है ऐसी गतिविधियाँ करना जो हमें अच्छा महसूस कराती हैं और तनाव मुक्त करती हैं। अन्य दिन-प्रतिदिन के क्रियाकलापों के साथ-साथ आत्म-देखभाल शरीर के साथ-साथ आत्मा के लिए भी महत्वपूर्ण है। अधिक यात्रा जानने के लिए: आत्म-देखभाल का आत्म-देखभाल और महत्व क्या है।

2. स्वयं की देखभाल के लिए योग

योग आत्म-देखभाल के सबसे आवश्यक डेटासेट में से एक है। यह आपको अपने बारे में अच्छा महसूस कराता है और आपके शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य पर सकारात्मक प्रभाव डालता है। अधिक यात्रा जानने के लिए: स्वयं की देखभाल के लिए योग

3. स्व-देखभाल के लाभ

आत्म देखभाल के कई लाभ हैं जैसे कि बेहतर उत्पादकता, बेहतर प्रतिरक्षा प्रणाली, बढ़ा हुआ आत्म-ज्ञान और आत्म-करुणा। मुख्य लाभ यह है कि यह आपके जीवन में खुशी लाता है। अधिक यात्रा जानने के लिए: स्व-देखभाल के लाभ

4. सेल्फ-केयर रूटीन कैसे शुरू करें

चूंकि कई लोगों को एक स्व-देखभाल दिनचर्या शुरू करने में कठिनाई का सामना करना पड़ता है, इसलिए बेहतर होगा कि आप अपनी दिनचर्या में ध्यान, योग या एक्सर्साइज़ जैसी छोटी आत्म-देखभाल प्रथाओं को शामिल करें। अधिक यात्रा जानने के लिए: Hसेल्फ-केयर रूटीन कैसे शुरू करें

5. तनाव को कैसे प्रबंधित करें

स्व-देखभाल एक महत्वपूर्ण उपकरण है जो हमें स्वस्थ और खुश महसूस करने में मदद करता है और सबसे तनावपूर्ण परिस्थितियों में भी तनाव को कम करता है। स्व-देखभाल से शरीर और आत्मा को आराम मिलता है क्योंकि यह नकारात्मक भावनाओं और चिंता को कम करता है। अधिक जानकारी के लिए देखें: तनाव को कैसे प्रबंधित करें




उपर ब्लॉग में बताई गई उपलब्धिया AFD-SHIELD के साथ उपलब्ध हैं
एएफडी शील्ड कैप्सूल 12 प्राकृतिक अवयवों का एक संयोजन है जिनमें से अलगल डीएचए, अश्वगंधा, करक्यूमिन और स्पिरुलिना हैं। एएफडी शील्ड टीजी को कम करता है, एचडीएल बढ़ाता है और उम्र से संबंधित संज्ञानात्मक गिरावट में सुधार करता है। यह तनाव और चिंता को भी कम करता है और एंटी-एजिंग गतिविधि करता है। इसके अलावा, यह इम्युनोमॉड्यूलेटरी गतिविधि को बढ़ाता है, प्रतिरक्षा में सुधार करता है और सूजन और ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करता है। न्यूट्रोग्लिग्क्स: एएफडी-शील्ड

AFDIL Ltd.
+91 9920121021

order@afdil.com

Read Also:


Disclaimer
Home