What is Voice Disorders

Voice is the sound made by air passing from your lungs through your larynx, or voice box. In your larynx are your vocal cords, two bands of muscle that vibrate to make sound. For most of us, our voices play a big part in who we are, what we do, and how we communicate. Like fingerprints, each person's voice is unique. Many things we do can injure our vocal cords. Talking too much, screaming, constantly clearing your throat, or smoking can make you hoarse. They can also lead to problems such as nodules, polyps, and sores on the vocal cords. Other causes of voice disorders include infections, upward movement of stomach acids into the throat, growths due to a virus, cancer, and diseases that paralyze the vocal cords. Some voice disorders symptoms include rough or hash sound, strangled quality of voice, abnormal loudness, aphonia, asthenia, phonation breaks and pulsed voice.

Voice Disorders

What are Voice Disorders?

Voice disorder is characterized by the abnormal production and/or absences of vocal quality, pitch, loudness, resonance, and/or duration, which is inappropriate for an individual's age and/or sex. A voice disorder is present when an individual expresses concern about having an abnormal voice that does not meet daily needs—even if others do not perceive it as different or deviant. Common voice disorders symptoms that show are gurgly, tremulous and shrill voice, Also increased vocal effort while speaking and excessive throat tension are other voice disorders symptoms.

Your voice box (larynx) is made of cartilage, muscle and mucous membranes located at the top of your windpipe (trachea) and the base of your tongue. Your vocal cords are two flexible bands of muscle tissue that sit at the entrance of the windpipe. Sound is created when your vocal cords vibrate. This vibration comes from air moving through the larynx, bringing your vocal cords closer together. Your vocal cords also help close your voice box when you swallow, preventing you from inhaling food or liquid. If your vocal cords become inflamed, develop growths or become paralyzed, they cannot work properly, and you may develop a voice disorder.

Some common voice disorders include:

• Laryngitis
• Spasmodic dysphonia
• Vocal cord paralysis
• Reinke's edema
• Foreign accent syndrome
• Muscle tension dysphonia
• Vocal nodules
• Laryngeal papillomatosis
• Leukoplakia

Symptoms of Voice Disorders

The generic term dysphonia encompasses the auditory-perceptual voice disorders symptoms. Dysphonia is characterized by altered vocal quality, pitch, loudness, or vocal effort.

Symptoms of Voice Disorders include:

• Roughness (perception of aberrant vocal fold vibration);
• Breathiness (perception of audible air escape in the sound signal or bursts of breathiness);
• Strained quality (perception of increased effort; tense or harsh as if talking and lifting at the same time);
• Strangled quality (as if talking with breath held);
• Abnormal pitch (too high, too low, pitch breaks, decreased pitch range);
• Abnormal loudness/volume (too high, too low, decreased range, unsteady volume);
• Abnormal resonance (hypernasal, hyponasal, cul de sac resonance);
• Aphonia (loss of voice);
• Phonation breaks;
• Asthenia (weak voice);
• Gurgly/wet sounding voice;
• Hoarse voice (raspy, audible aperiodicity in sound);
• Pulsed voice (fry register, audible creaks or pulses in sound);
• Shrill voice (high, piercing sound, as if stifling a scream); and
• Tremulous voice (shaky voice; rhythmic pitch and loudness undulations).

Voice Disorders Symptoms

Other voice disorders symptoms and signs include:

• Increased vocal effort associated with speaking;
• Decreased vocal endurance or onset of fatigue with prolonged voice use;
• Variable vocal quality throughout the day or during speaking;
• Running out of breath quickly;
• Frequent coughing or throat clearing (may worsen with increased voice use); and
• Excessive throat or laryngeal tension/pain/tenderness.

Voice disorders symptoms and signs can occur in isolation or in combination. As treatment progresses, some may dissipate, and others may emerge as compensatory strategies are eliminated.

Auditory-perceptual quality of voice in individuals with voice disorders can vary depending on the type and severity of disorder, the size and site of lesion (if present), and the individual's compensatory responses. The severity of the voice disorder cannot always be determined by auditory-perceptual voice quality alone.

Causes of Voice Disorders

For normal speech, your vocal cords need to touch together smoothly inside your larynx. Anything that interferes with vocal cord movement or contact can cause voice disorders symptoms. Many voice disorders symptoms can be cured with treatment when diagnosed early.

Voice disorders can be caused by many factors. In some cases, the cause of voice disorders symptoms is not known. Possible causes can include:

• Growths: In some cases, extra tissue may form on the vocal cords. This stops the cords from working normally. The growths can include fluid-filled sacs called cysts, wart-like lumps called papilloma, or callus-like bumps called nodules. There may be patches of damaged tissue called lesions, or areas of scar tissue. In some people, a band of tissue called a web can grow between the vocal cords. Other growths include a small area of chronic inflammation called a granuloma, and small blisters called polyps. Growths can have many causes, including illness, injury, cancer, and vocal abuse.

• Inflammation and swelling: Many things can cause inflammation and swelling of the vocal cords. These include surgery, respiratory illness or allergies, GERD (acid reflux), some medicines, exposure to certain chemicals, smoking, alcohol abuse, and vocal abuse.

• Nerve problems: Certain medical conditions can affect the nerves that control the vocal cords. These can include multiple sclerosis, myasthenia gravis, Parkinson disease, Amyotrophic lateral sclerosis (ALS), and Huntington disease. Nerves can also be injured from surgery or chronic inflammation of the larynx (laryngitis).

• Hormones: Disorders affecting thyroid hormone, female and male hormones, and growth hormones can cause voice disorders.

• Misuse of the voice: The vocal cords can be stressed by using too much tension when speaking. This can cause problems in the muscles in the throat, and affect the voice. Vocal abuse can also cause a voice disorder. Vocal abuse is anything that strains or harms the vocal cords. Examples of vocal abuse include too much talking, shouting, or coughing. Smoking and constant clearing of the throat is also vocal abuse. Vocal abuse can cause the vocal cords to develop calluses or blisters called nodes and polyps. These change how the voice sounds. In some cases, a vocal cord can rupture from vocal abuse. This causes the cord to bleed (hemorrhage), and can cause loss of voice. Vocal cord hemorrhage needs to be treated right away.

Risk Factors for Voice Disorders Symptoms

Many risk factors can contribute to voice disorders symptoms, including:

• Aging
• Alcohol use
• Allergies
• Gastroesophageal reflux disease (GERD)
• Illnesses, such as colds or upper respiratory infections
• Improper throat clearing over a long time
• Neurological disorders
• Psychological stress
• Scarring from neck surgery or from trauma to the front of the neck
• Screaming
• Smoking
• Throat cancer
• Throat dehydration
• Thyroid problems
• Voice misuse or overuse

Classification of Voice Disorders

A number of different systems are used for classifying voice disorders. For the purposes of this document, voice disorders are categorized as follows:

1. Organic

Voice disorders that are physiological in nature and result from alterations in respiratory, laryngeal, or vocal tract mechanisms. It is classified into:

• Structural- Organic voice disorders that result from physical changes in the voice mechanism (e.g., alterations in vocal fold tissues such as edema or vocal nodules; structural changes in the larynx due to aging).

• Neurological- Neurological Voice Disorders are caused by some problem in the nervous system as it interacts with the larynx. See our About the Voice page for more information. Briefly, two nerves come from the brain to the larynx and control the movement of the larynx. The most important of the two nerves, the recurrent laryngeal nerve, comes down from the brain and wraps around the aorta before going back up to attach to the larynx on the left side. Because of this position in the neck, the recurrent laryngeal nerve is vulnerable to damage during cardiac, pulmonary, spinal and thyroid surgeries. When the nerve is damaged, it causes a paresis (weakness) or paralysis (complete lack of movement) in the vocal fold of the affected side. Other neurological voice disorders are related to other kinds of problems in the central nervous system.

2. Functional

Functional disorders are caused by poor muscle functioning. All functional disorders fall under the category of muscle tension dysphonia. The different disorders listed here refer to different patterns of muscle tension. Remember that there can be a disorder in which there is no change to the sound of the voice, but rather that voice use causes additional effort, discomfort, or fatigue.

3. Psychogenic

Psychogenic disorders exist because it is possible for the voice to be disturbed for psychological reasons. In this case, there is no structural reason for the voice disorder, and there may or may not be some pattern of muscle tension. While it is quite common for a psychological or emotional component to exist in a voice disorder, voice disorders that are caused by a psychological disorder are relatively rare. The two most common types of psychogenic disorders are listed on the right.

Diagnosis of Voice Disorders Symptoms

If you have a voice change that lasts for a few weeks, your healthcare provider may send you to see a throat specialist called an otolaryngologist (Ears, Nose and Throat specialist or ENT). An otolaryngologist will ask you about the voice disorders symptoms and how long you've had them. He or she may examine your vocal cords and your larynx using certain tests. These may include:

• Laryngoscopy- This lets the doctor view the throat. With indirect laryngoscopy, the healthcare provider holds a small mirror at the back of the throat and shines a light on it. With fiberoptic laryngoscopy, a thin, lighted scope called a laryngoscope is used. The scope is put through your nose down into your throat, or directly down into your throat.

• Laryngeal electromyography, or EMG- This test measures electrical activity in the muscles of the throat. A thin needle is put into some of the neck muscles while electrodes send signals from the muscles to a computer. This can show nerve problems in the throat.

• Stroboscopy- This test uses a strobe light and a video camera to see how the vocal cords are vibrating during speech.

• Imaging tests- X-rays and MRI can show growths or other tissue problems in the throat.

• Mirror- Your doctor inserts a long, rigid instrument with an angled mirror, similar to a dental mirror, into your mouth.

• Sound (acoustic) analysis- Using computer analysis, your doctor can measure irregularities in the sound produced by the vocal cords.

Treatment for Voice Disorders Symptoms

Treatment for a voice disorder depends on what's causing it. Treatment may include:

1. Lifestyle changes

Some lifestyle changes may help reduce or stop voice disorders symptoms. These can include not yelling or speaking loudly, and resting your voice regularly if you speak or sing a lot. Exercises to relax the vocal cords and muscles around them can help in some cases. Warm up the vocal cords before extensive periods of speaking. Stay hydrated.

2. Speech therapy

Working with a speech-language pathologist can help with certain voice disorders. Therapy may include exercises and changes in speaking behaviors. Some of these may include maneuvers that time deep breaths to power vocalizations with adequate breathing.

3. Medicines

Some voice disorders are caused by a problem that can be treated with medicine. For example, antacid medicine may be used for GERD, or hormone therapy for problems with thyroid or female hormones.

4. Removal of lesions

Noncancerous lesions (polyps, nodules and cysts) on the vocal cords may need to be surgically removed. Your doctor can remove noncancerous, precancerous and cancerous lesions — including recurrent respiratory papillomatosis and white patches (leukoplakia) — using microsurgery, carbon dioxide laser surgery and, when appropriate, the newest laser treatments, including potassium titanyl phosphate (KTP) laser treatment.

5. Botox injections

Injections of tiny amounts of onabotulinumtoxinA (Botox) into the skin on your neck may be done in some cases. These injections can decrease muscle spasms or abnormal movements if you have a neurological movement disorder that affects the vocal muscles of the larynx (spasmodic dysphonia).

6. Smoking cessation

If your voice problem is the result of smoking, quitting smoking can help improve your voice along with many other areas of your health, such as boosting your heart health and lowering your cancer risk.

7. Bulk injection

Body fat, collagen, hyaluronic gel or another approved filler substance is injected, either through your mouth or the skin on your neck, to add bulk to the paralyzed vocal cord or to treat vocal cord weakness. The material fills the space next to your vocal cord and pushes it closer to your other vocal cord, allowing them to vibrate more closely together.

8. Thyroplasty

A small opening is created in the cartilage from the outside of your voice box. The doctor inserts an implant through the opening and pushes it against the paralyzed vocal cord, moving it closer to your other vocal cord.

9. Replacing the damaged nerve (reinnervation)

In this procedure, a healthy nerve is moved from a different area of your neck to replace the damaged vocal cord. Your voice may improve in six to nine months. Some doctors combine this procedure with a bulk injection.

Voice Disorders Treatment

Laryngitis

Laryngitis occurs when your voice box or vocal cords become inflamed from overuse, irritation, or infection. Laryngitis can be acute (short-term), lasting less than three weeks. Or it can be chronic (long-term), lasting more than three weeks. Many conditions can cause the inflammation that results in laryngitis. Viral infections, environmental factors, and bacterial infections can all cause laryngitis.

Laryngitis

Symptoms

The most common symptoms of laryngitis include:

• Weakened voice
• Loss of voice
• Hoarse, dry throat
• Constant tickling or minor throat irritation
• Dry cough

These symptoms are usually mild and can be treated by giving your voice a break. Drinking water or other non-caffeinated fluids can help lubricate your throat.

Causes

1. Acute laryngitis- Acute laryngitis is a temporary condition caused by overusing the vocal cords. It can also be caused by an infection. Treating the underlying condition causes the laryngitis to go away. Acute laryngitis can be caused by:

• Viral infections
• Straining your vocal cords by talking or yelling
• Bacterial infections
• Drinking too much alcohol

2. Chronic laryngitis- Chronic laryngitis results from long-term exposure to irritants. It’s usually more severe and has longer-lasting effects than acute laryngitis. Chronic laryngitis can be caused by:

• Frequent exposure to harmful chemicals or allergens
• Acid reflux
• Frequent sinus infections
• Smoking or being around smokers
• Overusing your voice
• Low-grade yeast infections caused by frequent use of an asthma inhaler

Cancer, paralysis of the vocal cords, or changes in vocal cord shape as you age can also cause persistent hoarseness and sore throats.

Diagnosis

Laryngitis affects your vocal cords and voice box. Your doctor often starts with a visual diagnosis, using a special mirror to view your vocal cords. They might also perform a laryngoscopy to magnify the voice box for easy viewing. During a laryngoscopy, your doctor sticks a thin, flexible tube with a microscopic camera through your mouth or nose. Your doctor then looks for the following signs of laryngitis:

• Irritation
• Redness
• Lesions on the voice box
• Widespread swelling, a sign of environmental causes of laryngitis
• Vocal cord swelling, which can be a sign that you’ve overused your vocal cords

If your doctor sees a lesion or other suspicious mass, they may order a biopsy to rule out throat cancer. During a biopsy, your doctor removes a small piece of tissue so it can be examined in a lab.

Treatment

Self-care measures, such as voice rest, drinking fluids and humidifying your air, also can help improve symptoms.

Medications used in some cases include:

• Antibiotics- In almost all cases of laryngitis, an antibiotic won't do any good because the cause is usually viral. But if you have a bacterial infection, your doctor may recommend an antibiotic.

• Corticosteroids- Sometimes, corticosteroids can help reduce vocal cord inflammation. However, this treatment is used only when there's an urgent need to treat laryngitis — such as in some cases when a toddler has laryngitis associated with croup.

Spasmodic Dysphonia (SD)

Spasmodic dysphonia is a neurological disorder affecting the voice muscles in the larynx, or voice box. Spasmodic dysphonia causes voice breaks and can give the voice a tight, strained quality. The disorder is more severe and spasms may occur on every other word, making a person's speech very difficult for others to understand.

Spasmodic Dysphonia

Symptoms

The main symptom of spasmodic dysphonia is an involuntary movement or spasm of the muscles inside the vocal cords. This can cause your speech to sound strained. Words may be dragged out or interrupted while you talk.

You may also sound:

• Hoarse
• Like you can’t produce enough air when you speak
• Like there’s too much air behind your words

Causes

Your nervous system may cause muscle tremors in your body. When these happen in your vocal folds, you can get SD. Dystonia, a brain disorder that makes your muscles tight, can lead to SD. In some cases, having a lot of stress in your life for a long time can cause SD. This is rare but happens in some people.

Diagnosis

After discussing your symptoms, your doctor will listen to you speak to hear how the spasms affect your voice. From there, they will check your vocal cords with fiberoptic nasolaryngoscopy. To do this, your doctor will guide a thin, flexible, lighted tube through one of your nostrils and down your throat. It allows your doctor to look at your vocal cords while you speak.

Treatment

There isn’t a cure for spasmodic dysphonia, but there are treatments available to help relieve your symptoms. Your treatment will depend on several factors, including your:

• Age
• Overall health
• Condition severity

In most cases, speech or voice therapy is preferred over surgery. Therapy can teach you how to improve your muscle control and correct your breathing, which can help you speak more clearly.

Vocal Cord Paralysis

Vocal cord paralysis is a health condition that affects the two folds of tissue in your voice box called the vocal cords. These folds are important for your ability to speak, breathe, and swallow.

Vocal Cord Paralysis

Symptoms

You may experience one or more of the following:

• Hoarseness or complete loss of speaking ability
• Difficulty swallowing
• Breathing difficulty
• Inability to raise your voice in volume
• Changes in the sound of your voice
• Frequent choking while eating or drinking
• Noisy breathing

Causes

Vocal cord paralysis is usually triggered by a medical event or another health condition. These include:

• Injury to chest or neck
• Stroke
• Tumors, either benign or malignant
• Inflammation or scarring of the vocal cord joints due to strain or infection
• Neurological conditions

Diagnosis

Initially, the patient will probably see a doctor who will ask about symptoms and check for some signs, such as listening to their voice and asking how long there have been problems.

The following diagnostic tests may also be ordered:

• Endoscopy- A long, thin, flexible tube (endoscope) with a small camera at the end is used to look at the vocal cords.

• Laryngeal electromyography (LEMG)- The test measures the strength of the neuromuscular signal from the brain to the muscles controlling the vocal folds (cords).

• Other tests- The doctor may order blood tests and imaging scans, such as X-rays, CT scans, MRI scans to help determine the cause of the paralysis.

Treatment

Treatment includes:

• Voice therapy
• The therapist asks the patient to do special exercise and some other activities to strengthen their vocal cords, improve their breath and control while speaking, prevent unusual tensions in other muscles near the affected vocal cord(s), and protect the airway from liquids and solids.
• Surgery

If voice therapy doesn’t help, your doctor may recommend surgery. If both of your vocal cords are experiencing the paralysis, your doctor may recommend surgery right away.

• Phonosurgery (vocal cord repositioning) : This operation repositions and/or reshapes the vocal fold (cord) to improve voice functions.

• Tracheotomy: If both vocal folds (cords) are affected and very close to each other, breathing will be more difficult because of decreased air flow.

• Bulk injection : The vocal cord muscle will most likely be weak due to paralysis of the nerve. The otolaryngologist (ear, nose, and throat specialist doctor) may inject fat, collagen or some filler into the vocal cord.

Reinke's Edema

Reinke’s edema describes a type of vocal fold polyp. “Reinke’s space” is a layer of the vocal folds that is important in sound production. Reinke’s edema describes excess tissue in this area, causing the appearance of vocal fold polyps. Voice changes, in which females are often mistaken for males, is a hallmark of this disease.

Reinke's Edema

Symptoms

• "Sac-like" appearance of the vocal folds
• Hoarseness and deepening of the voice
• Trouble speaking (Dysphonia)
• Reduced vocal range with diminished upper limits
• Stretching of the mucosa (Distension)
• Shortness of breath (Dyspnoea)

Causes

Smoking is the number one cause of Reinke's edema. Other factors include gastroesophageal reflux, hypothyroidism and chronic overuse of the voice. Smoking and reflux are the only risk factors that may lead to cancer. Additionally, the combination of several risk factors increase the likelihood of an individual developing Reinke's edema. For example, an individual who smokes and also has gastric reflux would have an increased susceptibility for developing Reinke's edema over time.

Diagnosis

Reinke's edema is often diagnosed by an Ear, Nose & Throat (ENT) specialist or an Otolaryngologist by examination of the vocal cords. First, the doctor will review the patient's medical history and symptoms, such as hoarseness, dysphonia, and reduced vocal range. There is no familial or hereditary link to Reinke's edema. Because Reinke's edema is linked heavily to smoking, the doctor will need to know if the patient is a habitual smoker. Once the patient's history is reviewed, the vocal cords will be visualized using laryngoscopy.

Treatment

First-Line Treatment: Elimination of Cause or Causes: To improve the voice-related symptoms associated with Reinke’s edema, therapy focuses on treating or controlling the condition’s three primary causes.

• Smoking
• Reflux or backflow of stomach fluids to the voice box (laryngopharyngeal reflux, or LPR)
• Voice overuse or abuse

Second-Line Treatment: Restoring Voice Function: Unfortunately, treating the underlying causes of Reinke’s edema will usually not completely restore a voice to its normal quality. Second-line treatment plays a role in improving voice function for patients to meet social and professional demands on voice. There are two approaches two second-line treatment.

• Surgical treatment to improve voice function (phonomicrosurgery)
• Voice therapy

Foreign Accent Syndrome

Foreign accent syndrome causes a person to speak in their usual language but with a foreign accent. The accent remains relatively consistent over time and is not something the person is “faking.” People with foreign accent syndrome may not perfectly replicate the accent their speech resembles.

Foreign Accent Syndrome

Symptoms

The primary symptom of foreign accent syndrome is speaking in an accent associated with a country where the person has never lived or a language they have never spoken. A person whose foreign accent changes slightly or who develops a new accent after living abroad does not have foreign accent syndrome.

Causes

Most people with foreign accent syndrome have a neurological condition or a history of head or facial injuries. Some factors that might cause foreign accent syndrome include:

• A blow to the head or face
• Surgery to the face or brain
• MS
• Brain tumors
• Migraine

Diagnosis

No specific test can assess for foreign accent syndrome. Instead, doctors work to diagnose the cause using a variety of tests, including:

• Blood tests, to test for infections and some illnesses
• Brain scans, such as MRI scans, to look for lesions or damage in the brain
• A lumbar puncture, to test for infections in the spinal fluid and to check for signs of certain central nervous system conditions
• A complete medical history, to determine when the symptoms appeared and what may have caused them
• Psychiatric screenings, such as assessments for depression and schizophrenia

Treatment

Treatment will therefore focus on addressing the cause of the foreign accent syndrome. A doctor might prescribe medication for conditions such as MS or surgery for certain brain growths. When there is a psychiatric cause, a doctor may recommend therapy, medication, or both. Many causes of foreign accent syndrome are not curable, though medication can help manage the symptoms. In most cases, a doctor will recommend speech therapy to help a person regain their normal habits.

Muscle Tension Dysphonia (MTD)

Muscle tension dysphonia is a change in the sound or feel of your voice due to excessive muscle tension in and around the voice box. This can include the vocal folds and the other accessory muscles of the larynx.

Muscle Tension Dysphonia

Symptoms

The most common symptoms of muscle tension dysphonia include:

• Voice that sounds rough, hoarse, gravelly or raspy.
• Voice that sounds weak, breathy, airy or is only a whisper.
• Voice that sounds strained, pressed, squeezed, tight or tense.
• Voice that suddenly cuts out, breaks off, changes pitch or fades away.
• Voice that “gives out” or becomes weaker the longer the voice is used.
• Pitch that is too high or too low.
• Difficulty singing notes that used to be easy.
• Pain or tension in the throat when speaking or singing.
• Feeling like the throat is tired when speaking or singing.

Causes

MTD is caused by increased muscle tension of the muscles surrounding the voice box: the laryngeal and paralaryngeal muscles.

Diagnosis

• Muscle tension dysphonia is primarily diagnosed through the evaluation of your voice and vocal folds (with a camera examination) by a voice specialist and/or a speech language pathologist.
• Muscle tension dysphonia is a diagnosis of exclusion and requires a full history, examination and exclusion of other causes by an experienced health care provider.

Treatment

Treatment for muscle tension dysphonia primarily includes voice therapy with a speech-language pathologist to reduce throat tension and maximize vocal efficiency. You may be asked to pursue treatments that aid in tension release, such as massage, acupuncture, psychotherapy or physical therapy, at the same time you are receiving voice therapy. Voice therapy is typically multiple sessions to help reduce the muscle tension pattern.

Your physician may offer other medical or surgical treatments to address any underlying causes for your muscle tension dysphonia.

Vocal Nodules

Vocal nodules are hard, rough, noncancerous growths on your vocal cords. They can be as small as a pinhead or as large as a pea. You get nodules from straining or overusing your voice, especially from singing, yelling, or talking loudly or for a long period of time.

Vocal Nodules

Symptoms

Vocal nodules change the sound of your voice, making it:

• Hoarse
• Raspy or scratchy
• Tired-sounding
• Breathy
• Crack or break
• Lower-pitched than usual

Pain is another common symptom of nodules. It may feel like:

• A shooting pain that goes from ear to ear
• Neck pain
• A lump stuck in your throat

Causes

A few other possible causes include:

• Smoking
• Regular alcohol use
• Sinusitis
• Allergies
• Tensing your muscles when you talk
• Side effects from medication
• Hypothyroidism

Diagnosis

To view your vocal cords more closely, the doctor may place a special lighted scope through your nose or mouth into your larynx. Looking through this scope can help them see your nodules, which will look like rough patches on your vocal cords.

You may be asked to talk at different pitches while the doctor watches your vocal folds vibrate. This may be recorded on video.

Treatment

Treatment starts with vocal rest. You’ll need to avoid singing, yelling, and whispering to bring down swelling and give nodules time to heal. Your doctor will tell you how long to rest.

Voice therapy is another part of treatment. A speech-language pathologist (SLP) can teach you how to use your voice safely, so you won’t overuse it in the future.

Get treated for any medical conditions that may have caused your vocal nodules, such as:

• Acid reflux
• Allergies
• Sinusitis
• Thyroid problems

If your vocal nodules don’t go away after a few weeks or they’re very large, you may need surgery to remove them.

Phono-microsurgery is used to treat vocal nodules. A surgeon uses tiny instruments and a microscope to remove nodules without damaging surrounding healthy tissue.

Laryngeal Papillomatosis

It is a rare medical condition in which benign tumors (papilloma) form along the aero digestive tract.

Laryngeal Papillomatosis

Symptoms

A common symptom of laryngeal papillomatosis is a change in voice quality. More specifically, hoarseness is observed. As a consequence of the narrowing of the laryngeal or tracheal parts of the airway, shortness of breath, chronic cough and stridor (i.e. noisy breathing which can sound like a whistle or a snore), can be present. As the disease progresses, occurrence of secondary symptoms such as dysphagia, pneumonia, acute respiratory distress syndrome, failure to thrive, and recurrent upper respiratory infections can be diagnosed.

Causes

Laryngeal papillomatosis is caused by human papillomavirus (HPV) infection, most frequently types 6 and 11. The presence of HPV in the respiratory tract does not necessarily result in the development of laryngeal papillomatosis. Other factors that could be involved include immunodeficiency or other similar infections. For example, laryngeal papillomatosis may become more aggressive due to the presence of certain viruses.

Diagnosis

Laryngeal papillomatosis can be diagnosed through visualization of the lesions using one of several indirect laryngoscopy procedures. In indirect laryngoscopy, the tongue is pulled forward and a laryngeal mirror or a rigid scope is passed through the mouth to examine the larynx. Another variation of indirect laryngoscopy involves passing a flexible scope, known as a fiberscope or endoscope, through the nose and into the throat to visualize the larynx from above. This procedure is also called flexible fiberoptic laryngoscopy.

Treatment

Treatment for laryngeal papillomas may include surgery to remove the tumors. Other treatment options may include:

• Antiviral therapy
• Antibiotics

Because the tumors tend to return, repeat surgery may be necessary. Always consult your physician for a diagnosis.

Leukoplakia

With leukoplakia thickened, white patches form on your gums, the insides of your cheeks, the bottom of your mouth and, sometimes, your tongue. These patches cannot be scraped off. Most leukoplakia patches are noncancerous (benign), though some show early signs of cancer.

Leukoplakia

Symptoms

Leukoplakia usually occurs on your gums, the insides of your cheeks, the bottom of your mouth — beneath the tongue — and, sometimes, your tongue. It isn't usually painful and may go unnoticed for a while.

Leukoplakia may appear:

• White or grayish in patches that can't be wiped away
• Irregular or flat-textured
• Thickened or hardened in areas
• Along with raised, red lesions (speckled leukoplakia or erythroplakia), which are more likely to show precancerous changes

Causes

Although the cause of leukoplakia is unknown, chronic irritation, such as from tobacco use, including smoking and chewing, appears to be responsible for most cases. Often, regular users of smokeless tobacco products eventually develop leukoplakia where they hold the tobacco against their cheeks.

Other causes may include chronic irritation from:

• Jagged, broken or sharp teeth rubbing on tongue surfaces
• Broken or ill-fitting dentures
• Long-term alcohol use

Diagnosis

Most often, your doctor diagnoses leukoplakia by:

• Examining the patches in your mouth
• Attempting to wipe off the white patches
• Discussing your medical history and risk factors
• Ruling out other possible causes

Testing for cancer:

If you have leukoplakia, your doctor will likely test for early signs of cancer by:

• Oral brush biopsy: This involves removing cells from the surface of the lesion with a small, spinning brush. This is a non-invasive procedure, but does not always result in a definitive diagnosis.

• Excisional biopsy: This involves surgically removing tissue from the leukoplakia patch or removing the entire patch if it's small. An excision biopsy is more comprehensive and usually results in a definitive diagnosis.

Treatment

Leukoplakia treatment is most successful when a lesion is found and treated early, when it's small. Regular checkups are important, as is routinely inspecting your mouth for areas that don't look normal.

For most people, removing the source of irritation ― such as stopping tobacco or alcohol ― clears the condition.

When this isn't effective or if the lesions show early signs of cancer, the treatment plan may involve:

• Removal of leukoplakia patches: Patches may be removed using a scalpel, a laser or an extremely cold probe that freezes and destroys cancer cells (cryoprobe).

• Follow-up visits to check the area: Once you've had leukoplakia, recurrences are common.




The above essentials are available with AFD SHIELD.
AFD Shield capsule is a combination of 12 natural ingredients among which are Algal DHA, Ashwagandha, Curcumin and Spirullina. AFD Shield reduces TG, increases HDL and improves age related cognitive decline. It also reduces stress and anxiety and performs anti-aging activity.Moreover, it also enhances the immunomodulatory activity, improves immunity and reduces inflammation and oxidative stress. Nutralogicx: AFD SHIELD

आवाज विकारों के लक्षण और उपचार

आवाज आपके फेफड़ों से आपके स्वरयंत्र, या आवाज बॉक्स के माध्यम से गुजरने वाली हवा द्वारा बनाई गई ध्वनि है। आपके स्वरयंत्र में आपके मुखर तार होते हैं, मांसपेशियों के दो बैंड जो ध्वनि बनाने के लिए कंपन करते हैं। हम में से अधिकांश के लिए, हमारी आवाज़ें हम कौन हैं, हम क्या करते हैं और हम कैसे संवाद करते हैं, इसमें एक बड़ी भूमिका निभाते हैं। उंगलियों के निशान की तरह, प्रत्येक व्यक्ति की आवाज अद्वितीय होती है। हम कई चीजें करते हैं जो हमारे वोकल कॉर्ड को चोट पहुंचा सकती हैं। बहुत ज्यादा बात करना, चीखना, लगातार अपना गला साफ करना या धूम्रपान करना आपको कर्कश बना सकता है। वे मुखर रस्सियों पर नोड्यूल, पॉलीप्स और घावों जैसी समस्याएं भी पैदा कर सकते हैं। आवाज विकारों के अन्य कारणों में संक्रमण, गले में पेट के एसिड का ऊपर की ओर बढ़ना, वायरस के कारण वृद्धि, कैंसर और वोकल कॉर्ड को पंगु बनाने वाले रोग शामिल हैं। कुछ आवाज विकारों के लक्षणों में खुरदरी या हैश की आवाज, आवाज की गला घोंटने की गुणवत्ता, असामान्य जोर, एफोनिया, अस्टेनिया, फोनेशन ब्रेक और स्पंदित आवाज शामिल हैं।

आवाज विकार

आवाज विकार क्या हैं?

आवाज विकार असामान्य उत्पादन और/या मुखर गुणवत्ता, पिच, जोर, अनुनाद, और/या अवधि की अनुपस्थिति की विशेषता है, जो किसी व्यक्ति की उम्र और/या लिंग के लिए अनुपयुक्त है। एक आवाज विकार तब मौजूद होता है जब कोई व्यक्ति असामान्य आवाज होने के बारे में चिंता व्यक्त करता है जो दैनिक जरूरतों को पूरा नहीं करता है-भले ही अन्य इसे अलग या विचलित न समझें। आम आवाज विकारों के लक्षण जो दिखाई देते हैं वे हैं गड़गड़ाहट, कांपती और तीखी आवाज, बोलने के दौरान मुखर प्रयास में वृद्धि और गले में अत्यधिक तनाव अन्य आवाज विकार लक्षण हैं।

आपका वॉयस बॉक्स (स्वरयंत्र) आपके विंडपाइप (श्वासनली) के शीर्ष पर और आपकी जीभ के आधार पर स्थित उपास्थि, मांसपेशियों और श्लेष्मा झिल्ली से बना होता है। आपके वोकल कॉर्ड मांसपेशियों के ऊतकों के दो लचीले बैंड होते हैं जो विंडपाइप के प्रवेश द्वार पर बैठते हैं। ध्वनि तब उत्पन्न होती है जब आपके मुखर तार कंपन करते हैं। यह कंपन स्वरयंत्र के माध्यम से चलने वाली हवा से आती है, जो आपके मुखर डोरियों को एक साथ लाती है। जब आप निगलते हैं तो आपके वोकल कॉर्ड आपके वॉयस बॉक्स को बंद करने में भी मदद करते हैं, जिससे आपको भोजन या तरल पदार्थ लेने से रोका जा सकता है। अगर आपकी वोकल कॉर्ड्स में सूजन हो जाती है, ग्रोथ विकसित हो जाती है या लकवा मार जाता है, तो वे ठीक से काम नहीं कर सकते हैं और आपको वॉयस डिसऑर्डर हो सकता है।

कुछ सामान्य आवाज विकारों में शामिल हैं:

• स्वरयंत्रशोथ
• ऐंठन-संबंधी डिस्फ़ोनिया
• वोकल कॉर्ड पक्षाघात
• रिंकी एडिमा
• विदेशी उच्चारण सिंड्रोम
• मांसपेशियों में तनाव डिस्फ़ोनिया
• वोकल नोड्यूल्स
• लेरिंजियल पैपिलोमाटोसिस
• ल्यूकोप्लाकिया

आवाज विकार लक्षण

सामान्य शब्द डिस्फ़ोनिया में श्रवण-अवधारणात्मक आवाज विकार के लक्षण शामिल हैं। डिस्फ़ोनिया की विशेषता मुखर गुणवत्ता, पिच, ज़ोर, या मुखर प्रयास में परिवर्तन है।

आवाज विकारों के लक्षणों और संकेतों में शामिल हैं:

• खुरदरापन (असाधारण मुखर गुना कंपन की धारणा);
• सांस फूलना (ध्वनि संकेत या सांस के फटने में श्रव्य हवा के पलायन की धारणा);
• तनावपूर्ण गुणवत्ता (बढ़े हुए प्रयास की धारणा; तनावपूर्ण या कठोर मानो एक ही समय में बात करना और उठाना);
• गला घोंटने की गुणवत्ता (जैसे कि सांस रोककर बात करना);
• असामान्य पिच (बहुत अधिक, बहुत कम, पिच टूटना, पिच रेंज में कमी);
• असामान्य लाउडनेस/वॉल्यूम (बहुत अधिक, बहुत कम, घटी हुई रेंज, अस्थिर वॉल्यूम);
• असामान्य प्रतिध्वनि (हाइपरनेसल, हाइपोनेसल, कल डे सैक प्रतिध्वनि);
• अफोनिया (आवाज की हानि);
• फोनेशन टूट जाता है;
• अस्थेनिया (कमजोर आवाज);
• गुरली/गीली आवाज;
• कर्कश आवाज (ध्वनि में कर्कश, श्रव्य अवधि);
• स्पंदित आवाज (तलना रजिस्टर, श्रव्य क्रीक या ध्वनि में दाल);
• कर्कश आवाज (उच्च, भेदी आवाज, मानो किसी चीख को दबा रही हो); और
• कर्कश आवाज (कांपती आवाज, लयबद्ध पिच और जोर से उतार-चढ़ाव)।

आवाज विकार लक्षण

अन्य आवाज विकारों के लक्षणों और संकेतों में शामिल हैं:

• बोलने से जुड़े मुखर प्रयास में वृद्धि;
• लंबे समय तक आवाज के उपयोग के साथ मुखर सहनशक्ति में कमी या थकान की शुरुआत;
• पूरे दिन या बोलने के दौरान परिवर्तनशील स्वर गुणवत्ता;
• सांस जल्दी खत्म हो जाना;
• बार-बार खाँसी या गला साफ होना (आवाज के अधिक उपयोग से खराब हो सकता है); और
• अत्यधिक गला या स्वरयंत्र तनाव/दर्द/कोमलता।

आवाज विकारों के लक्षण और संकेत अलगाव या संयोजन में हो सकते हैं। जैसे-जैसे उपचार आगे बढ़ता है, कुछ नष्ट हो सकते हैं, और अन्य उभर सकते हैं क्योंकि प्रतिपूरक रणनीतियों को समाप्त कर दिया जाता है।

आवाज विकार वाले व्यक्तियों में आवाज की श्रवण-अवधारणात्मक गुणवत्ता विकार के प्रकार और गंभीरता, घाव के आकार और साइट (यदि मौजूद हो), और व्यक्ति की प्रतिपूरक प्रतिक्रियाओं के आधार पर भिन्न हो सकती है। आवाज विकार की गंभीरता हमेशा केवल श्रवण-अवधारणात्मक आवाज की गुणवत्ता से निर्धारित नहीं की जा सकती है।

आवाज विकार के कारण

सामान्य भाषण के लिए, आपके मुखर रस्सियों को आपके स्वरयंत्र के अंदर आसानी से एक साथ स्पर्श करने की आवश्यकता होती है। कोई भी चीज जो वोकल कॉर्ड मूवमेंट या संपर्क में बाधा डालती है, वो वॉयस डिसऑर्डर के लक्षण पैदा कर सकती है। कई आवाज विकारों के लक्षणों का जल्द निदान होने पर उपचार से ठीक किया जा सकता है।

आवाज विकार कई कारकों के कारण हो सकते हैं। कुछ मामलों में, आवाज विकारों के लक्षणों का कारण ज्ञात नहीं होता है। संभावित कारणों में शामिल हो सकते हैं:

• वृद्धि: कुछ मामलों में, मुखर रस्सियों पर अतिरिक्त ऊतक बन सकते हैं। यह डोरियों को सामान्य रूप से काम करने से रोकता है। वृद्धि में द्रव से भरी थैली शामिल हो सकती है जिसे सिस्ट कहा जाता है, मस्से जैसी गांठ जिसे पैपिलोमा कहा जाता है, या कॉलस जैसे धक्कों को नोड्यूल कहा जाता है। क्षतिग्रस्त ऊतक के पैच हो सकते हैं जिन्हें घाव कहा जाता है, या निशान ऊतक के क्षेत्र। कुछ लोगों में, ऊतक का एक बैंड जिसे वेब कहा जाता है, वोकल कॉर्ड के बीच विकसित हो सकता है। अन्य वृद्धि में पुरानी सूजन का एक छोटा क्षेत्र शामिल होता है जिसे ग्रैनुलोमा कहा जाता है, और छोटे फफोले जिन्हें पॉलीप्स कहा जाता है। वृद्धि के कई कारण हो सकते हैं, जिनमें बीमारी, चोट, कैंसर और मुखर दुर्व्यवहार शामिल हैं।

• सूजन: कई चीजें वोकल कॉर्ड में सूजन और सूजन पैदा कर सकती हैं। इनमें सर्जरी, सांस की बीमारी या एलर्जी, जीईआरडी (एसिड रिफ्लक्स), कुछ दवाएं, कुछ रसायनों के संपर्क में आना, धूम्रपान, शराब का सेवन और मुखर दुरुपयोग शामिल हैं।

• तंत्रिका संबंधी समस्याएं : कुछ चिकित्सीय स्थितियां वोकल कॉर्ड को नियंत्रित करने वाली नसों को प्रभावित कर सकती हैं। इनमें मल्टीपल स्केलेरोसिस, मायस्थेनिया ग्रेविस, पार्किंसन रोग, एमियोट्रोफिक लेटरल स्क्लेरोसिस (एएलएस), और हंटिंगटन रोग शामिल हो सकते हैं। सर्जरी या स्वरयंत्र (लैरींगाइटिस) की पुरानी सूजन से भी नसें घायल हो सकती हैं।

• हार्मोन: थायराइड हार्मोन, महिला और पुरुष हार्मोन और वृद्धि हार्मोन को प्रभावित करने वाले विकार आवाज विकार पैदा कर सकते हैं।

• आवाज का दुरुपयोग: बोलते समय बहुत अधिक तनाव का उपयोग करके मुखर रस्सियों पर जोर दिया जा सकता है। इससे गले की मांसपेशियों में समस्या हो सकती है और आवाज प्रभावित हो सकती है। मुखर दुर्व्यवहार भी आवाज विकार का कारण बन सकता है। मुखर दुर्व्यवहार कुछ भी है जो मुखर रस्सियों को तनाव या हानि पहुँचाता है। मुखर दुर्व्यवहार के उदाहरणों में बहुत अधिक बात करना, चिल्लाना या खांसना शामिल है। धूम्रपान और लगातार गला साफ करना भी मुखर दुर्व्यवहार है। वोकल के दुरुपयोग से वोकल कॉर्ड्स में कॉलस या फफोले विकसित हो सकते हैं जिन्हें नोड्स और पॉलीप्स कहा जाता है। ये बदलते हैं कि आवाज कैसे लगती है। कुछ मामलों में, मुखर रज्जु मुखर दुर्व्यवहार से टूट सकती है। इससे गर्भनाल से खून बहता है (रक्तस्राव), और आवाज की हानि हो सकती है। वोकल कॉर्ड हेमरेज का तुरंत इलाज किया जाना चाहिए।

आवाज विकार लक्षणों के लिए जोखिम कारक

कई जोखिम कारक आवाज विकारों के लक्षणों में योगदान कर सकते हैं, जिनमें शामिल हैं:

• बुढ़ापा
• शराब का उपयोग
• एलर्जी
• गैस्ट्रोओसोफेगल रिफ्लक्स रोग (जीईआरडी)
• बीमारियां, जैसे सर्दी या ऊपरी श्वसन संक्रमण
• लंबे समय से गलत तरीके से गला साफ करना
• तंत्रिका संबंधी विकार
• मनोवैज्ञानिक तनाव
• गर्दन की सर्जरी से या गर्दन के सामने आघात से निशान
• चीखना
• धूम्रपान
• गले का कैंसर
• गले में पानी की कमी
• थायराइड की समस्या
• आवाज का दुरुपयोग या अति प्रयोग

आवाज विकारों का वर्गीकरण

आवाज विकारों को वर्गीकृत करने के लिए कई विभिन्न प्रणालियों का उपयोग किया जाता है। इस दस्तावेज़ के प्रयोजनों के लिए, आवाज विकारों को निम्नानुसार वर्गीकृत किया गया है:

1. कार्बनिक

आवाज विकार जो प्रकृति में शारीरिक हैं और श्वसन, स्वरयंत्र, या मुखर पथ तंत्र में परिवर्तन के परिणामस्वरूप होते हैं। इसे इसमें वर्गीकृत किया गया है:

• संरचनात्मक- कार्बनिक आवाज विकार जो आवाज तंत्र में शारीरिक परिवर्तन के परिणामस्वरूप होते हैं (उदाहरण के लिए, एडिमा या मुखर नोड्यूल जैसे मुखर गुना ऊतकों में परिवर्तन; उम्र बढ़ने के कारण स्वरयंत्र में संरचनात्मक परिवर्तन)।

• स्नायविक- तंत्रिका तंत्र में कुछ समस्या के कारण तंत्रिका संबंधी आवाज विकार होते हैं क्योंकि यह स्वरयंत्र के साथ संपर्क करता है। अधिक जानकारी के लिए हमारा वॉयस पेज के बारे में देखें। संक्षेप में, दो तंत्रिकाएं मस्तिष्क से स्वरयंत्र में आती हैं और स्वरयंत्र की गति को नियंत्रित करती हैं। दो तंत्रिकाओं में सबसे महत्वपूर्ण, आवर्तक स्वरयंत्र तंत्रिका, मस्तिष्क से नीचे आती है और बाईं ओर स्वरयंत्र से जुड़ने के लिए वापस ऊपर जाने से पहले महाधमनी के चारों ओर लपेटती है। गर्दन में इस स्थिति के कारण, हृदय, फुफ्फुसीय, रीढ़ की हड्डी और थायरॉयड सर्जरी के दौरान आवर्तक स्वरयंत्र तंत्रिका क्षति की चपेट में है। जब तंत्रिका क्षतिग्रस्त हो जाती है, तो यह प्रभावित पक्ष की मुखर तह में एक पैरेसिस (कमजोरी) या पक्षाघात (आंदोलन की पूर्ण कमी) का कारण बनता है। अन्य तंत्रिका संबंधी आवाज विकार केंद्रीय तंत्रिका तंत्र में अन्य प्रकार की समस्याओं से संबंधित हैं।

2. कार्यात्मक

कार्यात्मक विकार मांसपेशियों के खराब कामकाज के कारण होते हैं। सभी कार्यात्मक विकार मांसपेशी तनाव डिस्फ़ोनिया की श्रेणी में आते हैं। यहां सूचीबद्ध विभिन्न विकार मांसपेशियों में तनाव के विभिन्न पैटर्न को संदर्भित करते हैं। याद रखें कि एक विकार हो सकता है जिसमें आवाज की आवाज में कोई बदलाव नहीं होता है, बल्कि आवाज का उपयोग अतिरिक्त प्रयास, परेशानी या थकान का कारण बनता है।

3. साइकोजेनिक

मनोवैज्ञानिक विकार मौजूद हैं क्योंकि मनोवैज्ञानिक कारणों से आवाज में गड़बड़ी संभव है। इस मामले में, आवाज विकार का कोई संरचनात्मक कारण नहीं है, और मांसपेशियों में तनाव का कोई पैटर्न हो भी सकता है और नहीं भी। हालांकि एक मनोवैज्ञानिक या भावनात्मक घटक के लिए आवाज विकार में मौजूद होना काफी आम है, मनोवैज्ञानिक विकार के कारण होने वाले आवाज विकार अपेक्षाकृत दुर्लभ हैं। दो सबसे आम प्रकार के मनोवैज्ञानिक विकार दाईं ओर सूचीबद्ध हैं।

आवाज विकार लक्षणों का निदान

यदि आपकी आवाज में बदलाव कुछ हफ्तों तक रहता है, तो आपका स्वास्थ्य सेवा प्रदाता आपको ओटोलरीन्गोलॉजिस्ट (कान, नाक और गले विशेषज्ञ या ईएनटी) नामक गले के विशेषज्ञ को देखने के लिए भेज सकता है। एक ओटोलरींगोलॉजिस्ट आपसे आवाज विकारों के लक्षणों के बारे में पूछेगा और आपने उन्हें कितने समय से झेला है। वह कुछ परीक्षणों का उपयोग करके आपके मुखर रस्सियों और आपके स्वरयंत्र की जांच कर सकता है। इनमें शामिल हो सकते हैं:

• लैरींगोस्कोपी- इससे डॉक्टर गले को देख सकते हैं। अप्रत्यक्ष लैरींगोस्कोपी के साथ, स्वास्थ्य सेवा प्रदाता गले के पीछे एक छोटा दर्पण रखता है और उस पर प्रकाश डालता है। फाइबरऑप्टिक लैरींगोस्कोपी के साथ, लैरींगोस्कोप नामक एक पतले, हल्के दायरे का उपयोग किया जाता है। दायरा आपकी नाक के माध्यम से आपके गले में, या सीधे आपके गले में डाला जाता है।

• स्वरयंत्र इलेक्ट्रोमोग्राफी, या ईएमजी- यह परीक्षण गले की मांसपेशियों में विद्युत गतिविधि को मापता है। गर्दन की कुछ मांसपेशियों में एक पतली सुई लगाई जाती है जबकि इलेक्ट्रोड मांसपेशियों से कंप्यूटर को संकेत भेजते हैं। यह गले में तंत्रिका समस्याओं को दिखा सकता है।

• स्ट्रोबोस्कोपी - यह परीक्षण यह देखने के लिए एक स्ट्रोब लाइट और एक वीडियो कैमरा का उपयोग करता है कि भाषण के दौरान मुखर तार कैसे कंपन कर रहे हैं।

• इमेजिंग परीक्षण- एक्स-रे और एमआरआई गले में वृद्धि या अन्य ऊतक समस्याओं को दिखा सकते हैं।

• मिरर- आपका डॉक्टर आपके मुंह में दांत के दर्पण के समान एक कोण वाले दर्पण के साथ एक लंबा, कठोर उपकरण डालता है।

• ध्वनि (ध्वनिक) विश्लेषण - कंप्यूटर विश्लेषण का उपयोग करके, आपका डॉक्टर वोकल कॉर्ड द्वारा उत्पन्न ध्वनि में अनियमितताओं को माप सकता है।

आवाज विकार के लक्षणों के लिए उपचार

एक आवाज विकार के लिए उपचार इसके कारण पर निर्भर करता है। उपचार में शामिल हो सकते हैं:

1. जीवनशैली में बदलाव

जीवनशैली में कुछ बदलाव आवाज विकारों के लक्षणों को कम करने या रोकने में मदद कर सकते हैं। इनमें चिल्लाना या जोर से बोलना नहीं है, और यदि आप बहुत बोलते या गाते हैं तो नियमित रूप से अपनी आवाज को आराम देना शामिल हो सकता है। मुखर रस्सियों और उनके आसपास की मांसपेशियों को आराम देने के लिए व्यायाम कुछ मामलों में मदद कर सकते हैं। लंबे समय तक बोलने से पहले वोकल कॉर्ड्स को वार्म अप करें। हाइड्रेटेड रहना।

2. स्पीच थेरेपी

स्पीच-लैंग्वेज पैथोलॉजिस्ट के साथ काम करने से कुछ आवाज विकारों में मदद मिल सकती है। थेरेपी में व्यायाम और बोलने के व्यवहार में बदलाव शामिल हो सकते हैं। इनमें से कुछ में ऐसे युद्धाभ्यास शामिल हो सकते हैं जो पर्याप्त श्वास के साथ गहरी सांसों से लेकर शक्ति स्वरों तक का समय हो।

3. दवाएं

कुछ आवाज विकार एक समस्या के कारण होते हैं जिनका इलाज दवा से किया जा सकता है। उदाहरण के लिए, जीईआरडी के लिए एंटासिड दवा का उपयोग किया जा सकता है, या थायराइड या महिला हार्मोन की समस्याओं के लिए हार्मोन थेरेपी का उपयोग किया जा सकता है।

4. घावों को हटाना

मुखर रस्सियों पर गैर-कैंसर वाले घावों (पॉलीप्स, नोड्यूल और सिस्ट) को शल्य चिकित्सा द्वारा हटाने की आवश्यकता हो सकती है। आपका डॉक्टर गैर-कैंसरयुक्त, कैंसरयुक्त और कैंसरयुक्त घावों को हटा सकता है - जिसमें आवर्तक श्वसन पैपिलोमाटोसिस और सफेद पैच (ल्यूकोप्लाकिया) शामिल हैं - माइक्रोसर्जरी, कार्बन डाइऑक्साइड लेजर सर्जरी का उपयोग करके और, जब उपयुक्त हो, पोटेशियम टाइटेनाइल फॉस्फेट (केटीपी) लेजर उपचार सहित नवीनतम लेजर उपचार।

5. बोटॉक्स इंजेक्शन

कुछ मामलों में आपकी गर्दन की त्वचा में ओनाबोटुलिनमोटॉक्सिनए (बोटॉक्स) की थोड़ी मात्रा का इंजेक्शन लगाया जा सकता है। ये इंजेक्शन मांसपेशियों में ऐंठन या असामान्य गतिविधियों को कम कर सकते हैं यदि आपके पास एक न्यूरोलॉजिकल आंदोलन विकार है जो स्वरयंत्र की मुखर मांसपेशियों (स्पस्मोडिक डिस्फ़ोनिया) को प्रभावित करता है।

6. धूम्रपान बंद करना

यदि आपकी आवाज की समस्या धूम्रपान का परिणाम है, तो धूम्रपान छोड़ने से आपके स्वास्थ्य के कई अन्य क्षेत्रों के साथ-साथ आपकी आवाज को बेहतर बनाने में मदद मिल सकती है, जैसे कि आपके हृदय स्वास्थ्य को बढ़ावा देना और आपके कैंसर के जोखिम को कम करना।

7. थोक इंजेक्शन

शरीर में वसा, कोलेजन, हाइलूरोनिक जेल या किसी अन्य स्वीकृत भराव पदार्थ को आपके मुंह या आपकी गर्दन की त्वचा के माध्यम से, लकवाग्रस्त मुखर कॉर्ड में बल्क जोड़ने के लिए या मुखर कॉर्ड की कमजोरी का इलाज करने के लिए इंजेक्ट किया जाता है। सामग्री आपके वोकल कॉर्ड के बगल के स्थान को भरती है और इसे आपके अन्य वोकल कॉर्ड के करीब धकेलती है, जिससे वे एक साथ अधिक बारीकी से कंपन कर सकते हैं।

8. थायरोप्लास्टी

आपके वॉयस बॉक्स के बाहर से कार्टिलेज में एक छोटा सा उद्घाटन होता है। डॉक्टर उद्घाटन के माध्यम से एक इम्प्लांट डालता है और इसे लकवाग्रस्त मुखर कॉर्ड के खिलाफ धक्का देता है, इसे आपके अन्य मुखर कॉर्ड के करीब ले जाता है।

9. क्षतिग्रस्त तंत्रिका को बदलना (पुनर्निर्माण)

इस प्रक्रिया में, क्षतिग्रस्त वोकल कॉर्ड को बदलने के लिए आपकी गर्दन के एक अलग क्षेत्र से एक स्वस्थ तंत्रिका को स्थानांतरित किया जाता है। छह से नौ महीने में आपकी आवाज में सुधार हो सकता है। कुछ डॉक्टर इस प्रक्रिया को बल्क इंजेक्शन के साथ जोड़ते हैं।

आवाज विकार उपचार

लैरींगाइटिस

लैरींगाइटिस तब होता है जब आपका वॉयस बॉक्स या वोकल कॉर्ड अति प्रयोग, जलन या संक्रमण से सूजन हो जाता है। लैरींगाइटिस तीव्र (अल्पकालिक) हो सकता है, जो तीन सप्ताह से कम समय तक रहता है। या यह तीन सप्ताह से अधिक समय तक चलने वाला पुराना (दीर्घकालिक) हो सकता है। कई स्थितियां सूजन का कारण बन सकती हैं जिसके परिणामस्वरूप लैरींगाइटिस होता है। वायरल संक्रमण, पर्यावरणीय कारक और जीवाणु संक्रमण सभी लैरींगाइटिस का कारण बन सकते हैं।

लैरींगाइटिस

लक्षण

स्वरयंत्रशोथ के सबसे आम लक्षणों में शामिल हैं:

• कमजोर आवाज
• आवाज की कमी
• कर्कश, सूखा गला
• लगातार गुदगुदी या गले में मामूली जलन
• सूखी खांसी

ये लक्षण आमतौर पर हल्के होते हैं और आपकी आवाज को विराम देकर इसका इलाज किया जा सकता है। पीने का पानी या अन्य गैर-कैफीनयुक्त तरल पदार्थ आपके गले को चिकनाई देने में मदद कर सकते हैं।

कारण

1. तीव्र स्वरयंत्रशोथ- तीव्र स्वरयंत्रशोथ एक अस्थायी स्थिति है जो मुखर डोरियों के अति प्रयोग के कारण होती है। यह संक्रमण के कारण भी हो सकता है। अंतर्निहित स्थिति का इलाज करने से लैरींगाइटिस दूर हो जाता है। तीव्र स्वरयंत्रशोथ निम्न कारणों से हो सकता है:

• वायरल संक्रमण
• बात करने या चिल्लाने से आपकी वोकल कॉर्ड्स पर दबाव पड़ता है
• जीवाणु संक्रमण
• बहुत अधिक शराब पीने से

2. क्रोनिक लैरींगाइटिस- चिरकालिक स्वरयंत्रशोथ लंबे समय तक जलन पैदा करने वाले पदार्थों के संपर्क में आने से होता है। यह आमतौर पर अधिक गंभीर होता है और तीव्र स्वरयंत्रशोथ की तुलना में लंबे समय तक चलने वाला प्रभाव होता है। जीर्ण स्वरयंत्रशोथ निम्न कारणों से हो सकता है:

• हानिकारक रसायनों या एलर्जी के लगातार संपर्क में आना
• एसिड भाटा
• बार-बार साइनस संक्रमण
• धूम्रपान या धूम्रपान करने वालों के आसपास रहना
• अपनी आवाज का अत्यधिक उपयोग करना
• अस्थमा इनहेलर के लगातार उपयोग के कारण निम्न-श्रेणी के खमीर संक्रमण

कैंसर, वोकल कॉर्ड्स का लकवा या उम्र के साथ वोकल कॉर्ड के आकार में बदलाव भी लगातार स्वर बैठना और गले में खराश पैदा कर सकता है।

निदान

लैरींगाइटिस आपके वोकल कॉर्ड और वॉयस बॉक्स को प्रभावित करता है। आपका डॉक्टर अक्सर आपके मुखर रस्सियों को देखने के लिए एक विशेष दर्पण का उपयोग करके एक दृश्य निदान के साथ शुरू होता है। वे आसानी से देखने के लिए वॉयस बॉक्स को बड़ा करने के लिए लैरींगोस्कोपी भी कर सकते हैं। लैरींगोस्कोपी के दौरान, आपका डॉक्टर आपके मुंह या नाक के माध्यम से एक सूक्ष्म कैमरे के साथ एक पतली, लचीली ट्यूब चिपका देता है। आपका डॉक्टर तब स्वरयंत्रशोथ के निम्नलिखित लक्षणों की तलाश करता है:

• जलन
• लाली
• आवाज बॉक्स पर घाव
• व्यापक सूजन, स्वरयंत्रशोथ के पर्यावरणीय कारणों का संकेत
• वोकल कॉर्ड की सूजन, जो इस बात का संकेत हो सकता है कि आपने अपने वोकल कॉर्ड का अत्यधिक उपयोग किया है

यदि आपके डॉक्टर को कोई घाव या अन्य संदिग्ध द्रव्यमान दिखाई देता है, तो वे गले के कैंसर से बचने के लिए बायोप्सी का आदेश दे सकते हैं। बायोप्सी के दौरान, आपका डॉक्टर ऊतक का एक छोटा सा टुकड़ा निकालता है ताकि एक प्रयोगशाला में इसकी जांच की जा सके।

उपचार

स्व-देखभाल के उपाय, जैसे आवाज में आराम, तरल पदार्थ पीना और अपनी हवा को नमी देना, लक्षणों को सुधारने में भी मदद कर सकते हैं।

कुछ मामलों में उपयोग की जाने वाली दवाओं में शामिल हैं:

• एंटीबायोटिक्स- लैरींगाइटिस के लगभग सभी मामलों में, एक एंटीबायोटिक से कोई फायदा नहीं होगा क्योंकि आमतौर पर इसका कारण वायरल होता है। लेकिन अगर आपको जीवाणु संक्रमण है, तो आपका डॉक्टर एंटीबायोटिक की सिफारिश कर सकता है।

• कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स- कभी-कभी, कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स वोकल कॉर्ड की सूजन को कम करने में मदद कर सकते हैं। हालांकि, इस उपचार का उपयोग केवल तभी किया जाता है जब लैरींगाइटिस के इलाज की तत्काल आवश्यकता होती है - जैसे कि कुछ मामलों में जब एक बच्चे को क्रुप से जुड़ा लैरींगाइटिस होता है।

स्पस्मोडिक डिस्फ़ोनिया (एसडी)

स्पस्मोडिक डिस्फ़ोनिया एक स्नायविक विकार है जो स्वरयंत्र, या वॉयस बॉक्स में आवाज की मांसपेशियों को प्रभावित करता है। स्पस्मोडिक डिस्फ़ोनिया आवाज के टूटने का कारण बनता है और आवाज को एक तंग, तनावपूर्ण गुणवत्ता दे सकता है। विकार अधिक गंभीर है और हर दूसरे शब्द पर ऐंठन हो सकती है, जिससे व्यक्ति के भाषण को दूसरों के लिए समझना बहुत मुश्किल हो जाता है।

स्पस्मोडिक डिस्फ़ोनिया

लक्षण

स्पस्मोडिक डिस्फ़ोनिया का मुख्य लक्षण एक अनैच्छिक आंदोलन या मुखर रस्सियों के अंदर मांसपेशियों की ऐंठन है। इससे आपकी वाणी में तनाव आ सकता है। बात करते समय शब्दों को खींचा या बाधित किया जा सकता है।

आप आवाज भी कर सकते हैं:

•कर्कश
• जैसे आप बोलते समय पर्याप्त हवा का उत्पादन नहीं कर सकते
• जैसे आपके शब्दों के पीछे बहुत अधिक हवा है

कारण

आपका तंत्रिका तंत्र आपके शरीर में मांसपेशियों कांपने का कारण बन सकता है। जब ये आपके वोकल फोल्ड में होते हैं, तो आप एसडी प्राप्त कर सकते हैं। डायस्टोनिया, एक मस्तिष्क विकार जो आपकी मांसपेशियों को तंग करता है, एसडी को जन्म दे सकता है। कुछ मामलों में, लंबे समय तक आपके जीवन में बहुत अधिक तनाव होने से एसडी हो सकता है। यह दुर्लभ है लेकिन कुछ लोगों में होता है।

निदान

आपके लक्षणों पर चर्चा करने के बाद, आपका डॉक्टर यह सुनने के लिए आपकी बात सुनेगा कि ऐंठन आपकी आवाज़ को कैसे प्रभावित करती है। वहां से, वे आपके वोकल कॉर्ड्स की जांच फाइबरऑप्टिक नासोलरींगोस्कोपी से करेंगे। ऐसा करने के लिए, आपका डॉक्टर आपके एक नथुने के माध्यम से और आपके गले के नीचे एक पतली, लचीली, रोशनी वाली ट्यूब का मार्गदर्शन करेगा। यह आपके डॉक्टर को बोलते समय आपके वोकल कॉर्ड को देखने की अनुमति देता है।

उपचार

स्पस्मोडिक डिस्फ़ोनिया का कोई इलाज नहीं है, लेकिन आपके लक्षणों को दूर करने में सहायता के लिए उपचार उपलब्ध हैं। आपका उपचार आपके सहित कई कारकों पर निर्भर करेगा:

• आयु
• समग्र स्वास्थ्य
• स्थिति की गंभीरता

ज्यादातर मामलों में, सर्जरी के बजाय स्पीच या वॉयस थेरेपी को प्राथमिकता दी जाती है। थेरेपी आपको सिखा सकती है कि आप अपने मांसपेशियों पर नियंत्रण कैसे सुधारें और अपनी श्वास को सही करें, जिससे आपको अधिक स्पष्ट रूप से बोलने में मदद मिल सकती है।

वोकल कॉर्ड पैरालिसिस

वोकल कॉर्ड पैरालिसिस एक स्वास्थ्य स्थिति है जो आपके वॉयस बॉक्स में टिश्यू के दो सिलवटों को प्रभावित करती है जिसे वोकल कॉर्ड कहा जाता है। ये सिलवटें आपके बोलने, सांस लेने और निगलने की क्षमता के लिए महत्वपूर्ण हैं।

वोकल कॉर्ड पैरालिसिस

लक्षण

आप निम्न में से एक या अधिक अनुभव कर सकते हैं:

• स्वर बैठना या बोलने की क्षमता का पूर्ण नुकसान
• निगलने में कठिनाई
• सांस लेने में कठिनाई
• अपनी आवाज को बढ़ाने में असमर्थता
• आपकी आवाज की आवाज में परिवर्तन
• खाने या पीने के दौरान बार-बार घुटन
• शोर साँस लेने का

कारण

वोकल कॉर्ड पैरालिसिस आमतौर पर एक चिकित्सा घटना या किसी अन्य स्वास्थ्य स्थिति से शुरू होता है। इनमें शामिल हैं:

• छाती या गर्दन में चोट
• स्ट्रोक
• ट्यूमर, या तो सौम्य या घातक
• तनाव या संक्रमण के कारण वोकल कॉर्ड के जोड़ों में सूजन या घाव हो जाना
• न्यूरोलॉजिकल स्थितियां

निदान

प्रारंभ में, रोगी शायद एक डॉक्टर को देखेगा जो लक्षणों के बारे में पूछेगा और कुछ संकेतों की जांच करेगा, जैसे कि उनकी आवाज सुनना और पूछना कि यह कितने समय से है समस्याएं रही हैं।

निम्नलिखित नैदानिक ​​परीक्षणों का भी आदेश दिया जा सकता है:

• एंडोस्कोपी- एक लंबी, पतली, लचीली ट्यूब (एंडोस्कोप) जिसके अंत में एक छोटा कैमरा होता है, वोकल कॉर्ड को देखने के लिए उपयोग किया जाता है।

• लारेंजियल इलेक्ट्रोमोग्राफी (एलईएमजी)- परीक्षण मस्तिष्क से वोकल फोल्ड्स (कॉर्ड्स) को नियंत्रित करने वाली मांसपेशियों तक न्यूरोमस्कुलर सिग्नल की ताकत को मापता है।

• अन्य परीक्षण- लकवा का कारण निर्धारित करने में मदद करने के लिए डॉक्टर रक्त परीक्षण और इमेजिंग स्कैन, जैसे एक्स-रे, सीटी स्कैन, एमआरआई स्कैन का आदेश दे सकते हैं।

उपचार

उपचार में शामिल हैं:

• आवाज चिकित्सा
• चिकित्सक रोगी को विशेष व्यायाम और कुछ अन्य गतिविधियों को करने के लिए कहता है ताकि उनकी मुखर डोरियों को मजबूत किया जा सके, उनकी सांस और बोलते समय नियंत्रण में सुधार किया जा सके, प्रभावित मुखर कॉर्ड के पास अन्य मांसपेशियों में असामान्य तनाव को रोका जा सके। और वायुमार्ग को तरल और ठोस पदार्थों से बचाते हैं।
• सर्जरी

अगर वॉयस थेरेपी मदद नहीं करती है, तो आपका डॉक्टर सर्जरी की सिफारिश कर सकता है। यदि आपके दोनों वोकल कॉर्ड लकवा का अनुभव कर रहे हैं, तो आपका डॉक्टर तुरंत सर्जरी की सिफारिश कर सकता है।

• फोनोसर्जरी (वोकल कॉर्ड रिपोजिशनिंग) : यह ऑपरेशन वॉयस फंक्शन को बेहतर बनाने के लिए वोकल फोल्ड (कॉर्ड) को रिपोजिशन और/या रीशेप करता है।

• ट्रेकियोटॉमी : यदि दोनों मुखर सिलवटें (कॉर्ड) प्रभावित हों और एक दूसरे के बहुत करीब हों, तो हवा के प्रवाह में कमी के कारण सांस लेना अधिक कठिन होगा।

• बल्क इंजेक्शन : तंत्रिका के पक्षाघात के कारण वोकल कॉर्ड की मांसपेशी सबसे अधिक कमजोर होगी। ओटोलरींगोलॉजिस्ट (कान, नाक और गले के विशेषज्ञ डॉक्टर) वोकल कॉर्ड में वसा, कोलेजन या कुछ फिलर इंजेक्ट कर सकते हैं।

रिंकी की एडिमा

रिंकी की एडिमा एक प्रकार के वोकल फोल्ड पॉलीप का वर्णन करती है। "रिंकी का स्थान" मुखर परतों की एक परत है जो ध्वनि उत्पादन में महत्वपूर्ण है। रिंकी की एडिमा इस क्षेत्र में अतिरिक्त ऊतक का वर्णन करती है, जिससे वोकल फोल्ड पॉलीप्स की उपस्थिति होती है। आवाज में बदलाव, जिसमें महिलाओं को अक्सर पुरुषों के लिए गलत समझा जाता है, इस बीमारी की पहचान है।

रिंकी की एडिमा

लक्षण

• वोकल सिलवटों का "सैक जैसा" दिखना
• स्वर बैठना और आवाज का गहरा होना
• बोलने में परेशानी (डिसफ़ोनिया)
• कम ऊपरी सीमा के साथ मुखर रेंज कम होना
• म्यूकोसा का खिंचाव (विस्तार)
• सांस की तकलीफ (डिस्पनिया)

कारण

धूम्रपान रिंकी की एडिमा का नंबर एक कारण है। अन्य कारकों में गैस्ट्रोओसोफेगल रिफ्लक्स, हाइपोथायरायडिज्म और आवाज का पुराना अति प्रयोग शामिल हैं। धूम्रपान और भाटा ही एकमात्र जोखिम कारक हैं जो कैंसर का कारण बन सकते हैं। इसके अतिरिक्त, कई जोखिम कारकों के संयोजन से व्यक्ति में रिंकी की एडिमा विकसित होने की संभावना बढ़ जाती है। उदाहरण के लिए, एक व्यक्ति जो धूम्रपान करता है और गैस्ट्रिक रिफ्लक्स भी होता है, समय के साथ रिंकी की एडिमा विकसित करने की संवेदनशीलता बढ़ जाती है।

निदान

रिंकी के एडिमा का अक्सर कान, नाक और गले (ईएनटी) विशेषज्ञ या ओटोलरींगोलॉजिस्ट द्वारा मुखर डोरियों की जांच के द्वारा निदान किया जाता है। सबसे पहले, डॉक्टर रोगी के चिकित्सा इतिहास और लक्षणों की समीक्षा करेगा, जैसे कि स्वर बैठना, डिस्फ़ोनिया और कम स्वर की सीमा। रिंकी एडिमा का कोई पारिवारिक या वंशानुगत संबंध नहीं है। चूंकि रिंकी की एडिमा धूम्रपान से काफी हद तक जुड़ी हुई है, इसलिए डॉक्टर को यह जानना होगा कि क्या रोगी आदतन धूम्रपान करने वाला है। एक बार जब रोगी के इतिहास की समीक्षा की जाती है, तो स्वरयंत्र को लैरींगोस्कोपी का उपयोग करके देखा जाएगा।

उपचार

प्रथम-पंक्ति उपचार: कारण या कारण का उन्मूलन: रिंकी के एडिमा से जुड़े आवाज से संबंधित लक्षणों में सुधार करने के लिए, चिकित्सा स्थिति के तीन प्राथमिक कारणों के उपचार या नियंत्रण पर केंद्रित है।

• धूम्रपान
• आवाज बॉक्स में पेट के तरल पदार्थ का रिफ्लक्स या बैकफ्लो (लैरींगोफैरेनजीज रिफ्लक्स, या एलपीआर)
• आवाज का अति प्रयोग या दुरुपयोग

द्वितीय-पंक्ति उपचार: वॉयस फंक्शन को बहाल करना: दुर्भाग्य से, रिंकी के एडिमा के अंतर्निहित कारणों का इलाज आमतौर पर एक आवाज को पूरी तरह से बहाल नहीं करेगा। सामान्य गुणवत्ता। आवाज पर सामाजिक और व्यावसायिक मांगों को पूरा करने के लिए रोगियों के लिए आवाज समारोह में सुधार करने में दूसरी पंक्ति का उपचार एक भूमिका निभाता है। दो दृष्टिकोण दो दूसरी पंक्ति के उपचार हैं।

• आवाज के कार्य में सुधार के लिए शल्य चिकित्सा उपचार (फोनोमिक्रोसर्जरी)
• आवाज चिकित्सा

विदेशी एक्सेंट सिंड्रोम

विदेशी उच्चारण सिंड्रोम एक व्यक्ति को अपनी सामान्य भाषा में बोलने का कारण बनता है लेकिन एक विदेशी उच्चारण के साथ। उच्चारण समय के साथ अपेक्षाकृत सुसंगत रहता है और ऐसा कुछ नहीं है जो व्यक्ति "नकली" है। विदेशी उच्चारण सिंड्रोम वाले लोग अपने भाषण के समान उच्चारण को पूरी तरह से दोहरा नहीं सकते हैं।

विदेशी एक्सेंट सिंड्रोम

लक्षण

विदेशी उच्चारण सिंड्रोम का प्राथमिक लक्षण उस देश से जुड़े उच्चारण में बोलना है जहां व्यक्ति कभी नहीं रहा है या वह भाषा जो उन्होंने कभी नहीं बोली है। एक व्यक्ति जिसका विदेशी उच्चारण थोड़ा बदल जाता है या जो विदेश में रहने के बाद एक नया उच्चारण विकसित करता है, उसे विदेशी उच्चारण सिंड्रोम नहीं होता है।

कारण

विदेशी उच्चारण सिंड्रोम वाले अधिकांश लोगों में न्यूरोलॉजिकल स्थिति या सिर या चेहरे की चोटों का इतिहास होता है। विदेशी उच्चारण सिंड्रोम का कारण बनने वाले कुछ कारकों में शामिल हैं:

• सिर या चेहरे पर झटका
• चेहरे या मस्तिष्क की सर्जरी
• एमएस
• ब्रेन ट्यूमर
• माइग्रेन

निदान

विदेशी उच्चारण सिंड्रोम के लिए कोई विशिष्ट परीक्षण आकलन नहीं कर सकता है। इसके बजाय, डॉक्टर विभिन्न प्रकार के परीक्षणों का उपयोग करके कारण का निदान करने के लिए काम करते हैं, जिनमें शामिल हैं:

• रक्त परीक्षण, संक्रमण और कुछ बीमारियों के परीक्षण के लिए
• मस्तिष्क में घावों या क्षति को देखने के लिए मस्तिष्क स्कैन, जैसे एमआरआई स्कैन
• एक काठ का पंचर, रीढ़ की हड्डी के तरल पदार्थ में संक्रमण के परीक्षण के लिए और कुछ केंद्रीय तंत्रिका तंत्र की स्थितियों के लक्षणों की जांच करने के लिए
• एक संपूर्ण चिकित्सा इतिहास, यह निर्धारित करने के लिए कि लक्षण कब प्रकट हुए और उनके कारण क्या हो सकते हैं
• मनोरोग जांच, जैसे कि अवसाद और सिज़ोफ्रेनिया के लिए आकलन

उपचार

इसलिए उपचार विदेशी उच्चारण सिंड्रोम के कारण को संबोधित करने पर केंद्रित होगा। एक डॉक्टर कुछ मस्तिष्क वृद्धि के लिए एमएस या सर्जरी जैसी स्थितियों के लिए दवा लिख ​​​​सकता है। जब कोई मानसिक कारण होता है, तो डॉक्टर चिकित्सा, दवा या दोनों की सिफारिश कर सकता है। विदेशी उच्चारण सिंड्रोम के कई कारण इलाज योग्य नहीं हैं, हालांकि दवा लक्षणों को प्रबंधित करने में मदद कर सकती है। ज्यादातर मामलों में, डॉक्टर स्पीच थैरेपी की सलाह देते हैं ताकि किसी व्यक्ति को उनकी सामान्य आदतों को फिर से हासिल करने में मदद मिल सके।

स्नायु तनाव डिस्फ़ोनिया (एमटीडी)

मांसपेशियों में तनाव डिस्फ़ोनिया आवाज़ बॉक्स में और उसके आस-पास अत्यधिक मांसपेशियों के तनाव के कारण आपकी आवाज़ की आवाज़ या अनुभव में बदलाव है। इसमें मुखर सिलवटों और स्वरयंत्र की अन्य सहायक मांसपेशियां शामिल हो सकती हैं।

स्नायु तनाव डिस्फ़ोनिया

लक्षण

मांसपेशियों में तनाव डिस्फ़ोनिया के सबसे आम लक्षणों में शामिल हैं:

• आवाज जो खुरदरी, कर्कश, बजरी या कर्कश लगती है।
• आवाज जो कमजोर, सांस, हवादार या केवल फुसफुसाती है।
• आवाज जो तनावपूर्ण, दबाई, निचोड़ी हुई, तंग या तनावपूर्ण लगती है।
• आवाज जो अचानक कट जाती है, टूट जाती है, पिच बदल जाती है या फीकी पड़ जाती है।
• आवाज जो "बाहर दे देती है" या कमजोर हो जाती है, आवाज जितनी देर तक उपयोग की जाती है।
• पिच जो बहुत अधिक या बहुत नीची हो।
• नोट गाने में कठिनाई जो पहले आसान हुआ करती थी।
• बोलते या गाते समय गले में दर्द या तनाव।
• ऐसा महसूस करना कि बोलते या गाते समय गला थक गया है।

कारण

एमटीडी वॉयस बॉक्स के आसपास की मांसपेशियों के बढ़े हुए मांसपेशियों के तनाव के कारण होता है: स्वरयंत्र और पैरेलरींजियल मांसपेशियां।

निदान

• मांसपेशियों में तनाव डिस्फ़ोनिया का निदान मुख्य रूप से एक आवाज विशेषज्ञ और/या एक भाषण भाषा रोगविज्ञानी द्वारा आपकी आवाज और मुखर सिलवटों (कैमरा परीक्षा के साथ) के मूल्यांकन के माध्यम से किया जाता है।
• मांसपेशियों में तनाव डिस्फ़ोनिया बहिष्करण का निदान है और इसके लिए एक अनुभवी स्वास्थ्य देखभाल प्रदाता द्वारा एक पूर्ण इतिहास, परीक्षा और अन्य कारणों का बहिष्कार करने की आवश्यकता होती है।

इलाज

मांसपेशियों में तनाव डिस्फ़ोनिया के उपचार में मुख्य रूप से गले के तनाव को कम करने और मुखर दक्षता को अधिकतम करने के लिए भाषण-भाषा रोगविज्ञानी के साथ आवाज चिकित्सा शामिल है। आपको ऐसे उपचार करने के लिए कहा जा सकता है जो तनाव मुक्त करने में सहायता करते हैं, जैसे कि मालिश, एक्यूपंक्चर, मनोचिकित्सा या भौतिक चिकित्सा, उसी समय जब आप ध्वनि चिकित्सा प्राप्त कर रहे हों। वॉयस थेरेपी आमतौर पर मांसपेशियों के तनाव के पैटर्न को कम करने में मदद करने के लिए कई सत्र होते हैं।

आपका चिकित्सक आपकी मांसपेशियों में तनाव डिस्फ़ोनिया के किसी भी अंतर्निहित कारणों को दूर करने के लिए अन्य चिकित्सा या शल्य चिकित्सा उपचार प्रदान कर सकता है।

वोकल नोड्यूल्स

वोकल नोड्यूल आपके वोकल कॉर्ड पर कठोर, खुरदरे, गैर-कैंसर वाले विकास होते हैं। वे पिनहेड जितना छोटा या मटर जितना बड़ा हो सकता है। आपको अपनी आवाज पर जोर देने या अत्यधिक उपयोग करने से, विशेष रूप से गाने, चिल्लाने, या जोर से या लंबे समय तक बात करने से नोड्यूल मिलते हैं।

वोकल नोड्यूल्स

लक्षण

मुखर पिंड को अपनी आवाज़ को बदलने, जिससे यह:

• कर्कश
• रसभरी या खरोंच
• थके-मांदे
• सांस लेने वाला
• क्रैक या तोड़ने
• सामान्य से कम पिच

दर्द पिंड का एक और आम लक्षण है। यह की तरह महसूस हो सकता है:

• एक शूटिंग दर्द है कि कान से कान के लिए चला जाता है
• गले में दर्द
• एक गांठ अपने गले में अटक

कारण

कुछ अन्य संभावित कारणों में शामिल हैं:

• धूम्रपान
• नियमित रूप से शराब का उपयोग
• साइनसाइटिस
• एलर्जी
• जब आप बात करते हैं तो अपनी मांसपेशियों को तनाव देना
• दवा से दुष्प्रभाव
• हाइपोथायरायडिज्म

निदान

आपके मुखर रस्सियों को अधिक बारीकी से देखने के लिए, डॉक्टर आपकी नाक या मुंह के माध्यम से आपके स्वरयंत्र में एक विशेष रोशनी की गुंजाइश रख सकते हैं। इस दायरे को देखने से उन्हें आपके नोड्यूल देखने में मदद मिल सकती है, जो आपके वोकल कॉर्ड पर खुरदुरे पैच की तरह दिखेंगे।

आपको अलग-अलग पिचों पर बात करने के लिए कहा जा सकता है, जबकि डॉक्टर आपके वोकल फोल्ड्स को कंपन करते हुए देखता है। इसे वीडियो में रिकॉर्ड किया जा सकता है।

उपचार

मुखर आराम के साथ उपचार शुरू होता है। सूजन को कम करने और नोड्यूल्स को ठीक होने का समय देने के लिए आपको गाने, चिल्लाने और फुसफुसाहट से बचना होगा। आपका डॉक्टर आपको बताएगा कि कब तक आराम करना है।

वॉयस थेरेपी उपचार का एक और हिस्सा है। एक स्पीच-लैंग्वेज पैथोलॉजिस्ट (एसएलपी) आपको सिखा सकता है कि अपनी आवाज को सुरक्षित तरीके से कैसे इस्तेमाल किया जाए, ताकि आप भविष्य में इसका ज्यादा इस्तेमाल न करें।

किसी भी चिकित्सा स्थिति के लिए इलाज करवाएं जो आपके मुखर नोड्यूल्स का कारण हो सकता है, जैसे:

• एसिड रिफ्लक्स
• एलर्जी
• साइनसाइटिस
• थायराइड की समस्याएं

यदि आपके मुखर नोड्यूल कुछ हफ्तों के बाद दूर नहीं होते हैं या वे बहुत बड़े हैं, तो आपको इसकी आवश्यकता हो सकती है उन्हें हटाने के लिए सर्जरी।

फोनो-माइक्रोसर्जरी का इस्तेमाल वोकल नोड्यूल्स के इलाज के लिए किया जाता है। एक सर्जन आसपास के स्वस्थ ऊतकों को नुकसान पहुंचाए बिना नोड्यूल को हटाने के लिए छोटे उपकरणों और माइक्रोस्कोप का उपयोग करता है।

लारेंजियल पैपिलोमाटोसिस

यह एक दुर्लभ चिकित्सा स्थिति है जिसमें वायु पाचन तंत्र के साथ सौम्य ट्यूमर (पैपिलोमा) बनते हैं।

लारेंजियल पैपिलोमाटोसिस

लक्षण

स्वरयंत्र पैपिलोमाटोसिस का एक सामान्य लक्षण आवाज की गुणवत्ता में बदलाव है। अधिक विशेष रूप से, स्वर बैठना मनाया जाता है। वायुमार्ग के स्वरयंत्र या श्वासनली के हिस्सों के संकुचन के परिणामस्वरूप, सांस की तकलीफ, पुरानी खांसी और स्ट्राइडर (यानी शोर से सांस लेना जो सीटी या खर्राटे की तरह लग सकता है) मौजूद हो सकता है। जैसे-जैसे बीमारी बढ़ती है, डिस्पैगिया, निमोनिया, एक्यूट रेस्पिरेटरी डिस्ट्रेस सिंड्रोम, पनपने में विफलता और बार-बार होने वाले ऊपरी श्वसन संक्रमण जैसे माध्यमिक लक्षणों की घटना का निदान किया जा सकता है।

कारण

लारेंजियल पेपिलोमाटोसिस मानव पेपिलोमावायरस (एचपीवी) संक्रमण के कारण होता है, जो अक्सर 6 और 11 प्रकार के होते हैं। श्वसन पथ में एचपीवी की उपस्थिति जरूरी नहीं कि लारेंजियल पेपिलोमाटोसिस का विकास हो। अन्य कारक जो शामिल हो सकते हैं उनमें इम्युनोडेफिशिएंसी या अन्य समान संक्रमण शामिल हैं। उदाहरण के लिए, कुछ विषाणुओं की उपस्थिति के कारण स्वरयंत्र पैपिलोमाटोसिस अधिक आक्रामक हो सकता है।

निदान

कई अप्रत्यक्ष लैरींगोस्कोपी प्रक्रियाओं में से एक का उपयोग करके घावों के दृश्य के माध्यम से लारेंजियल पेपिलोमाटोसिस का निदान किया जा सकता है। अप्रत्यक्ष लैरींगोस्कोपी में, जीभ को आगे की ओर खींचा जाता है और स्वरयंत्र की जांच के लिए मुंह के माध्यम से एक स्वरयंत्र दर्पण या एक कठोर दायरा पारित किया जाता है। अप्रत्यक्ष लैरींगोस्कोपी की एक और भिन्नता में ऊपर से स्वरयंत्र की कल्पना करने के लिए नाक के माध्यम से और गले में एक लचीला दायरा, जिसे फाइबरस्कोप या एंडोस्कोप के रूप में जाना जाता है, पास करना शामिल है। इस प्रक्रिया को फ्लेक्सिबल फाइबरऑप्टिक लैरींगोस्कोपी भी कहा जाता है।

उपचार

लारेंजियल पेपिलोमा के लिए उपचार में ट्यूमर को हटाने के लिए सर्जरी शामिल हो सकती है। अन्य उपचार विकल्पों में शामिल हो सकते हैं:

• एंटीवायरल थेरेपी
• एंटीबायोटिक्स

चूंकि ट्यूमर वापस लौटते हैं, इसलिए दोबारा सर्जरी की आवश्यकता हो सकती है। हमेशा एक निदान के लिए अपने चिकित्सक से परामर्श करें।

श्वेतशल्कता

ल्यूकोप्लाकिया के गाढ़ा होने पर, आपके मसूड़ों, आपके गालों के अंदर, आपके मुंह के नीचे और कभी-कभी आपकी जीभ पर सफेद धब्बे बन जाते हैं। इन पैच को स्क्रैप नहीं किया जा सकता है। अधिकांश ल्यूकोप्लाकिया पैच कैंसर रहित (सौम्य) होते हैं, हालांकि कुछ में कैंसर के शुरुआती लक्षण दिखाई देते हैं।

श्वेतशल्कता

लक्षण

ल्यूकोप्लाकिया आमतौर पर आपके मसूड़ों, आपके गालों के अंदर, आपके मुंह के नीचे - जीभ के नीचे - और कभी-कभी आपकी जीभ पर होता है। यह आमतौर पर दर्दनाक नहीं होता है और कुछ समय के लिए किसी का ध्यान नहीं जाता है।

ल्यूकोप्लाकिया प्रकट हो सकता है:

• सफेद या भूरे रंग के धब्बे जिन्हें मिटाया नहीं जा सकता
• अनियमित या सपाट बनावट
• क्षेत्रों में गाढ़ा या कठोर हो
• उभरे हुए, लाल घावों (धब्बेदार ल्यूकोप्लाकिया या एरिथ्रोप्लाकिया) के साथ, जो पूर्व कैंसर दिखाने की अधिक संभावना रखते हैं परिवर्तन

कारण

हालांकि ल्यूकोप्लाकिया का कारण अज्ञात है, धूम्रपान और चबाने सहित तंबाकू के उपयोग से पुरानी जलन, ज्यादातर मामलों के लिए जिम्मेदार प्रतीत होती है। अक्सर, धूम्रपान रहित तंबाकू उत्पादों के नियमित उपयोगकर्ता अंततः ल्यूकोप्लाकिया विकसित करते हैं जहां वे अपने गालों के खिलाफ तंबाकू रखते हैं।

अन्य कारणों में निम्न से पुरानी जलन शामिल हो सकती है:

• दांतेदार, टूटे या नुकीले दांतों को जीभ की सतहों पर रगड़ना
• टूटा हुआ या खराब फिटिंग वाला डेन्चर
• लंबे समय तक शराब का सेवन

निदान

अक्सर, आपका डॉक्टर ल्यूकोप्लाकिया का निदान निम्न द्वारा करता है:

• आपके मुंह में पैच की जांच करना
• सफेद धब्बे मिटाने का प्रयास
• अपने चिकित्सा इतिहास और जोखिम कारकों पर चर्चा
• अन्य संभावित कारणों का पता लगाना

कैंसर के लिए परीक्षण:

यदि आपको ल्यूकोप्लाकिया है, तो आपका डॉक्टर कैंसर के शुरुआती लक्षणों के लिए परीक्षण करेगा

• ओरल ब्रश बायोप्सी: इसमें एक छोटे, कताई ब्रश के साथ घाव की सतह से कोशिकाओं को निकालना शामिल है। यह एक गैर-आक्रामक प्रक्रिया है, लेकिन हमेशा एक निश्चित निदान नहीं होता है।

• एक्सिसनल बायोप्सी: इसमें ल्यूकोप्लाकिया पैच से ऊतक को शल्य चिकित्सा द्वारा हटाना या छोटा होने पर पूरे पैच को हटाना शामिल है। एक छांटना बायोप्सी अधिक व्यापक है और आमतौर पर एक निश्चित निदान में परिणाम होता है।

इलाज

ल्यूकोप्लाकिया उपचार सबसे सफल होता है जब एक घाव का पता लगाया जाता है और जल्दी इलाज किया जाता है, जब यह छोटा होता है। नियमित जांच महत्वपूर्ण हैं, जैसा कि नियमित रूप से उन क्षेत्रों के लिए आपके मुंह का निरीक्षण करना है जो सामान्य नहीं दिखते हैं।

ज्यादातर लोगों के लिए, जलन के स्रोत को दूर करना - जैसे कि तंबाकू या शराब को रोकना - स्थिति को साफ करता है।

जब यह प्रभावी नहीं होता है या यदि घाव कैंसर के शुरुआती लक्षण दिखाते हैं, तो उपचार योजना में शामिल हो सकते हैं:

• ल्यूकोप्लाकिया पैच को हटाना : पैच को स्केलपेल, लेजर या अत्यधिक ठंडे जांच का उपयोग करके हटाया जा सकता है जो कैंसर कोशिकाओं को जमा देता है और नष्ट कर देता है ( क्रायोप्रोब)।

• क्षेत्र की जांच के लिए अनुवर्ती दौरे : एक बार जब आपको ल्यूकोप्लाकिया हो गया हो, तो पुनरावृत्ति होना आम बात है।




उपर ब्लॉग में बताई गई उपलब्धिया AFD-SHIELD के साथ उपलब्ध हैं
एएफडी शील्ड कैप्सूल 12 प्राकृतिक अवयवों का एक संयोजन है जिनमें से अलगल डीएचए, अश्वगंधा, करक्यूमिन और स्पिरुलिना हैं। एएफडी शील्ड टीजी को कम करता है, एचडीएल बढ़ाता है और उम्र से संबंधित संज्ञानात्मक गिरावट में सुधार करता है। यह तनाव और चिंता को भी कम करता है और एंटी-एजिंग गतिविधि करता है। इसके अलावा, यह इम्युनोमॉड्यूलेटरी गतिविधि को बढ़ाता है, प्रतिरक्षा में सुधार करता है और सूजन और ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करता है। न्यूट्रोग्लिग्क्स: एएफडी-शील्ड

AFDIL Ltd.
+91 9920121021

order@afdil.com

Read Also:


Disclaimer
Home