Lupus: Symptoms, Causes and Treatment

Lupus is a long-term, chronic inflammatory, autoimmune disease with a broad area of clinical presentations which result from its effect on multiple organs and systems. The immune system of the patient suffering from this disease becomes hyperactive and starts attacking the normal healthy body tissues. They experience a loss of self-tolerance and production of autoantibodies, which lead to the formation of immune complexes that may adversely affect the healthy tissues in the patient’s body.

Although the precise etiologic mechanism is unknown, genetic, hormonal, and environmental factors, as well as immune abnormalities, have been identified. Associations between lupus onset and age, sex, geography, and race have also been established. Management of this disease should be individualized and should include both pharmacological and nonpharmacological modalities for symptom relief and resolution as well as improved quality of life.

causes of lupus

Types of Lupus

The following are the four major types of Lupus present:

1. Systemic lupus erythematosus (SLE): this is the most common and familiar type of Lupus. It is a systemic condition and has an impact throughout the body. Its symptoms can range from mild to severe. It is more severe than other types of lupus, because it can affect any of the body’s organs or organ systems.

It can cause inflammation in the skin, joints, lungs, kidneys, blood, heart, or a combination of these. This condition typically goes through cycles. At times of remission, the person will have no symptoms. During a flare-up, the disease is active, and symptoms appear.

2. Discoid lupus erythematosus (DLE): it is manifested as a chronic scarring and atrophic photosensitive dermatosis, as in, this type of Lupus the main area affected is the skin. Rashes appears on the face, neck and scalp. The raised areas may become thick and scaly, and scarring may result. The rash may last from a number of days to several years, and it may recur.

DLE does not affect the internal organs, but around 10 percent of people with DLE will go on to develop SLE. Chemical and physical sunblock, topical corticosteroids, or antimalarial agents are commonly used to prevent disease flares and to manage the clinical manifestations associated with DLE.

3. Drug-induced lupus (DIL): occurs after exposure to a certain prescription medication, causing an autoimmune response. These include some of the drugs that people use to treat seizures and high blood pressure. They also include some thyroid medications, antibiotics, antifungals, and oral contraceptive pills.

Drugs that are commonly associated with this form of lupus are:

• Hydralazine, a hypertension medication
• Procainamide, a heart arrhythmia medication
• Isoniazid, an antibiotic used to treat tuberculosis (TB)

Drug-induced lupus typically goes away after the person stops taking the medication.

4. Neonatal and pediatric lupus erythematosus (NLE): As a rare form of lupus observed in newborns, it is thought to result from maternal autoantibodies passing through the placenta. However, of those pediatric patients who have positive maternal autoantibodies, only about 1% develop NLE.

Common clinical presentations involve the heart, liver, and skin. Significant morbidity and mortality, along with cardiac manifestations, have been noted; however, in most patients with other organ involvement (e.g., skin, liver, and blood), signs and symptoms sometimes resolve spontaneously within 4 to 6 months.

What causes Lupus?

The immune system protects the body and fights off antigens, such as viruses, bacteria, and germs. It does this by producing proteins called antibodies. White blood cells, or B lymphocytes, produce these antibodies.

When a person has an autoimmune condition, such as lupus, the immune system cannot differentiate between unwanted substances, or antigens, and healthy tissue. As a result, the immune system directs antibodies against both the healthy tissue and the antigens. This causes swelling, pain, and tissue damage.

The most common type of autoantibody that develops in people with lupus is an antinuclear antibody (ANA). The ANA reacts with parts of the cell’s nucleus, the command center of the cell. These autoantibodies circulate in the blood, but some of the body’s cells have walls permeable enough to let some autoantibodies through.

The autoantibodies can then attack the DNA in the nucleus of these cells. This is why lupus affects some organs and not others.

symptoms of lupus

Risk factors for development of Lupus

1. Hormones:

Hormones are chemical substances that the body produces. They control and regulate the activity of certain cells or organs. Hormonal activity could explain the following risk factors:

Sex: The U.S. National Institutes of Health note that females are nine times more likely to have lupus than males. In a review published in 2016, scientists observed that estrogen can affect immune activity and induce lupus antibodies in mice that are susceptible to lupus. This may explain why autoimmune diseases are more likely to affect women than men.

Age: Symptoms and diagnosis often occur between the ages of 15 and 45 years, during the childbearing years. However, 20 percent of cases appear after the age of 50 years, according to Genetics Home Reference. As 9 out of 10 occurrences of lupus affect females, researchers have looked at a possible link between estrogen and lupus. Both men and women produce estrogen, but women produce more.

In 2010, researchers who published a study on self-reported flares in the journal Rheumatology found that women with lupus report more severe pain and fatigue during menstruation. This suggests that flares may be more likely at this time. There is not enough evidence to confirm that estrogen causes lupus. If there is a link, estrogen-based treatment could regulate the severity of lupus. However, more research is necessary before doctors can offer it as a treatment.

2. Genetic factors:

Researchers have not proved that any specific genetic factor causes lupus, although it is more common in some families. Genetic factors may be the reason why the following are risk factors for lupus:

Race: People of any background can develop lupus, but it is two to three times more common in people of color, compared with the white population. It is also more common in Hispanic, Asian, and Native American women.

Family history: A person who has a first- or second-degree relative with lupus will have a higher risk of developing it. Scientists have identified certain genes that may contribute to the development of lupus, but there is not enough evidence to prove that they cause the disease.

In studies of identical twins, one twin may develop lupus while the other does not, even if they grow up together and have the same environmental exposures. If one member of a twin pair has lupus, the other has a 25-percent chance of developing the disease, according to a study published in Seminars in Arthritis and Rheumatism in 2017. Identical twins are more likely to both have the condition.

Lupus can happen in people with no family history of the disease, but there may be other autoimmune diseases in the family. Examples include thyroiditis, hemolytic anemia, and idiopathic thrombocytopenia purpura. Some have proposed that changes in the x-chromosomes might affect the risk.

3. Environment:

Environmental agents — such as chemicals or viruses — may contribute to triggering lupus in people who are already genetically susceptible. Possible environmental triggers include:

Smoking: A rise in the number of cases in recent decades may be due to higher tobacco exposure.

Exposure to sunlight: Some suggest that this may be a trigger.

Medication: Around 10 percent of cases may be drug-related, according to Genetics Home Reference

Viral infections: These may trigger symptoms in people who are prone to SLE. Lupus is not contagious, and a person cannot transmit it sexually.

4. Gut microbiota:

Recently, scientists have been looking at gut microbiota as a possible factor in the development of lupus. Scientists who published research in Applied and Environmental Microbiology in 2018 noted that specific changes in gut microbiota feature in both people and mice with lupus. They call for more research into this area.

Are children at risk?

Lupus is rare in children under the age of 15 years unless their birth mother has it. In this case, a child may have lupus-related heart, liver, or skin problems. Infants with neonatal lupus may have a higher chance of developing another autoimmune disease later in life.

Symptoms

The symptoms of lupus occur in times of flare-ups. Between flare-ups, people usually experience times of remission, when there are few or no symptoms. Lupus has a wide range of symptoms, including:

• Fatigue
• A loss of appetite and weight loss
• Pain or swelling in joints and muscles
• Swelling in the legs or around the eyes
• Swollen glands, or lymph nodes
• Skin rashes, due to bleeding under the skin
• Mouth ulcers
• Sensitivity to the sun
• Fever
• Headaches
• Chest pain upon deep breathing
• Unusual hair loss
• Pale or purple fingers or toes from cold or stress (Raynaud’s phenomenon)
• Arthritis

treatment of lupus

Effect on other body systems

Lupus can also affect the following systems:

Kidneys: Inflammation of the kidneys (nephritis) can make it difficult for the body to remove waste products and other toxins effectively. Around 1 in 3 people with lupus will have kidney problems.

Lungs: Some people develop pleuritis, an inflammation of the lining of the chest cavity that causes chest pain, particularly with breathing. Pneumonia may develop.

Central nervous system: Lupus can sometimes affect the brain or central nervous system. Symptoms include headaches, dizziness, depression, memory disturbances, vision problems, seizures, stroke, or changes in behavior.

Blood vessels: Vasculitis, or inflammation of the blood vessels, can occur. This can affect circulation.

Blood: Lupus can cause anemia, leukopenia (a decreased number of white blood cells) or thrombocytopenia (a decrease in the number of platelets in the blood, which assist in clotting).

Heart: If inflammation affects the heart, it can result in myocarditis and endocarditis. It can also affect the membrane that surrounds the heart, causing pericarditis. Chest pain or other symptoms may result. Endocarditis can damage the heart valves, causing the valve surface to thicken and develop. This can result in growths that can lead to heart murmurs.

Other complications

Having lupus increases the risk of a number of health problems:

Infection: Infection becomes more likely because both lupus and its treatments weaken the immune system. Common infections include urinary tract infections, respiratory infections, yeast infections, salmonella, herpes, and shingles.

Bone tissue death: This occurs when there is low blood supply to a bone. Tiny breaks can develop in the bone. Eventually, the bone may collapse. It most commonly affects the hip joint.

Pregnancy complications: Women with lupus have a higher risk of pregnancy loss, preterm birth, and preeclampsia, a condition that includes high blood pressure. To reduce the risk of these complications, doctors often recommend delaying pregnancy until lupus has been under control for at least 6 months.

Classification of Lupus

The American College of Rheumatology use a standard classification scheme to confirm a diagnosis. If a person meets 4 out of 11 criteria, a doctor will consider that they may have lupus. The 11 criteria are as follows:

1. Malar rash: A butterfly-shaped rash appears across the cheeks and nose.
2. Discoid rash: Raised red patches develop.
3. Photosensitivity: A skin rash appears after exposure to sunlight.
4. Oral or nose ulcers: These are usually painless.
5. Non-erosive arthritis: This does not destroy the bones around the joints, but there is tenderness, swelling, or effusion in 2 or more peripheral joints.
6. Pericarditis or pleuritis: Inflammation affects the lining around the heart (pericarditis) or lungs (pleuritis).
7. Kidney disorder: Tests show high levels of protein or cellular casts in the urine if a person has a kidney problem.
8. Neurologic disorder: The person has seizures, psychosis, or problems with thinking and reasoning.
9. Hematologic (blood) disorder: Hemolytic anemia is present, with a low white blood-cell count or low platelet count.
10. Immunologic disorder: Tests show that there are antibodies to double-stranded DNA (dsDNA), antibodies to Sm, or antibodies to cardiolipin.
11. Positive ANA: The test for ANA is positive, and the person has not used any drugs that might induce it.

However, even this system sometimes misses early and mild cases. Underdiagnosis can occur because the signs and symptoms of lupus are not specific. On the other hand, some blood tests can lead to overdiagnosis, because people without lupus can have the same antibodies as those with the condition.

Diagnosis

Diagnosis can be difficult because of the varied symptoms that may resemble symptoms of other illnesses. The doctor will ask about symptoms, carry out a physical examination, and take a personal and family medical history. They will also consider the 11 criteria mentioned above. The doctor may request some blood tests and other laboratory investigations.

1. Biomarkers: Biomarkers are antibodies, proteins, genetic, and other factors that can show a doctor what is happening in the body or how the body is responding to treatment. They are useful because they can indicate if a person has a condition even when there are no symptoms.

Lupus affects individuals in different ways. This makes it difficult to find reliable biomarkers. However, a combination of blood tests and other investigations can help a doctor to confirm a diagnosis.

2. Blood tests: Blood tests can show whether certain biomarkers are present, and biomarkers can give information about which autoimmune disease, if any, a person has.

• Antinuclear antibody: Around 95 percent of people with lupus will have a positive result in the ANA test. However, some people test positive for ANA, but they do not have lupus. Other tests must confirm the diagnosis.

• Antiphospholipid antibodies: Antiphospholipid antibodies (APLs) are a type of antibody directed against phospholipids. APLs are present in up to 50 percent of people with lupus. People without lupus can also have APLs. A person with APLs may have a higher risk of blood clots, stroke, and pulmonary hypertension. There is also a higher risk of pregnancy complications, including a loss of pregnancy.

• Anti-DNA antibody test: Around 70 percent of people with lupus have an antibody known as the anti-DNA antibody. The result is more likely to be positive during a flare-up.

• Anti-dsDNA antibody: The anti-double-stranded DNA antibody (anti-dsDNA) is a specific type of ANA antibody that occurs about 30 percent of people with lupus. Fewer than 1 percent of people without lupus have this antibody. If the test is positive, it may mean that a person has a more serious form of lupus, such as lupus nephritis, or kidney lupus.

• Anti-Smith antibody: Around 20 percent of people with lupus have an antibody to Sm, a ribonucleoprotein that is present in the nucleus of a cell. It is present in fewer than 1 percent of people without lupus, and it is rare in those with other rheumatic diseases. For this reason, a person with anti-sm antibodies is likely to have lupus. It is not usually present with kidney lupus.

• Anti-U1RNP antibody: Around 25 percent of people with lupus have anti-U1RNP antibodies, and fewer than 1 percent of people without lupus have them. This antibody may be present in people who have Raynaud’s phenomenon, and Jaccoud’s arthropathy, a deformity of the hand due to arthritis.

• Anti-Ro/SSA and anti-La/SSB antibodies: Between 30 and 40 percent of people with lupus have anti-Ro/SSA and anti-La/SSB antibodies. These also occur with primary Sjögren’s syndrome and in people with lupus who test negative for ANA. They are present in small amount in about 15 percent of people without lupus, and they can occur with other rheumatic conditions, such as rheumatoid arthritis. If a mother has anti-Ro and anti-La antibodies, there is a higher chance that a baby born to her will have neonatal lupus. A person with lupus who wishes to become pregnant have tests for these antibodies.

• Anti-histone antibodies: Antibodies to histones are proteins that play a role in the structure of DNA. People with drug-induced lupus usually have them, and people with SLE may have them. However, they do not necessarily confirm a diagnosis of lupus.

• Serum (blood) complement test: A serum complement test measures the levels of proteins that the body consumes when inflammation takes place. If a person has low complement levels, this suggests that inflammation is present in the body and that SLE is active.

• Urine tests: Urine tests can help to diagnose and monitor the effects of lupus on the kidneys. The presence of protein, red blood cells, white blood cells, and cellular casts can all help to show how well the kidneys are working. For some tests, only one sample is necessary. For others, the person may need to collect samples over 24 hours.

• Tissue biopsies: The doctor may also request biopsies, usually of the skin or kidneys, to check for any damage or inflammation.

• Imaging tests: X-rays and other imaging tests can help doctors see the organs affected by lupus.

• Monitoring tests: Ongoing tests can show how lupus continues to affect a person or how well their body is responding to treatment.

Treatment and home remedies

There is currently no cure for lupus, but people can manage their symptoms and flares with lifestyle changes and medication. Treatment aims to:

• prevent or manage flares
• reduce the risk of organ damage

Medication can help to:

• reduce pain and swelling
• regulate the activity of the immune system
• balance hormones
• reduce or prevent joint and organ damage
• manage blood pressure
• reduce the risk of infection
• control cholesterol

The exact treatment will depend on how lupus affects the individual. Without treatment, flares can occur that may have life-threatening consequences.

Alternative treatment and home remedies

Apart from medication, the following may help to relieve pain or reduce the risk of a flare:

• applying heat and cold
• participating in relaxation or meditation activities, including yoga and tai chi
• doing regular exercise when possible
• avoiding exposure to the sun
• avoid stress, as far as possible

Some people use the supplement thunder-god vine. However, the National Center for Complementary and Integrative Health (NCCIH)Trusted Source warn that this can be poisonous. It is important to speak to a doctor before using it.

In the past, people who had a diagnosis of lupus would not usually survive for more than 5 years. Now, however treatment can significantly increase a person’s lifespan, according to the National Institutes of Health. Effective therapy also makes it possible to manage lupus, so that a person can live an active, healthy life.

As scientists learn more about genetics, doctors hope that one day they will be able to identify lupus at an earlier stage. This will make it easier to prevent complications before they occur.




The above essentials are available with AFD SHIELD.
AFD Shield capsule is a combination of 12 natural ingredients among which are Algal DHA, Ashwagandha, Curcumin and Spirullina. AFD Shield reduces TG, increases HDL and improves age related cognitive decline. It also reduces stress and anxiety and performs anti-aging activity.Moreover, it also enhances the immunomodulatory activity, improves immunity and reduces inflammation and oxidative stress. Nutralogicx: AFD SHIELD

ल्यूपस: लक्षण, कारण और उपचार

ल्यूपस एक दीर्घकालिक, सीएचरोनिक भड़काऊ, ऑटोइम्यून रोग है जिसमें नैदानिक प्रस्तुतियों का एक व्यापक क्षेत्र है जो कई अंगों और प्रणालियों पर इसके प्रभाव से परिणाम देता है। इस बीमारी से पीड़ित मरीज का इम्यून सिस्टम हाइपरएक्टिव हो जाता है और शरीर के सामान्य स्वस्थ ऊतकों पर हमला करने लगता है। वे आत्म-सहनशीलता और ऑटोएंटीबॉडी के उत्पादन की हानि का अनुभव करते हैं, जिससे प्रतिरक्षा परिसरों का निर्माण होता है जो रोगी के शरीर में स्वस्थ ऊतकों को प्रतिकूल रूप से प्रभावित कर सकते हैं।

हालांकि सटीक इटियोलॉजिक तंत्र अज्ञात है, आनुवंशिक, हार्मोनल, और पर्यावरणीय कारकों, साथ ही प्रतिरक्षा असामान्यताओं की पहचान की गई है। ल्यूपस शुरुआत और उम्र, लिंग, भूगोल और दौड़ के बीच संबंध भी स्थापित किए गए हैं। इस रोग के प्रबंधन को व्यक्तिगत किया जाना चाहिए और लक्षण राहत और संकल्प के साथ-साथ जीवन की बेहतर गुणवत्ता के लिए औषधीय और गैर-मानव संबंधी तौर-तरीकों को शामिल करना चाहिए।

ल्यूपस के कारण

ल्यूपस के प्रकार

निम्नलिखित चार प्रमुख प्रकार के ल्यूपस मौजूद हैं:

1. प्रणालीगत ल्यूपस एरिथेमेटोसस (एसएलई): यह ल्यूपस का सबसे आम और परिचित प्रकार है। यह एक प्रणालीगत स्थिति है और पूरे शरीर में प्रभाव डालता है। इसके लक्षण हल्के से गंभीर तक हो सकते हैं। यह अन्य प्रकार के ल्यूपस की तुलना में अधिक गंभीर है, क्योंकि यह शरीर के किसी भी अंग या अंग प्रणालियों को प्रभावित कर सकता है।

यह त्वचा, जोड़ों, फेफड़ों, गुर्दे, रक्त, दिल, या इनमें से एक संयोजन में सूजन पैदा कर सकता है। यह स्थिति आम तौर पर चक्र के माध्यम से चला जाता है। छूट के समय, व्यक्ति में कोई लक्षण नहीं होंगे। भड़कने के दौरान, बीमारी सक्रिय होती है, और लक्षण दिखाई देते हैं।

2. डिस्कोइड ल्यूपस एरिथेमाटोसस (डीईई): यह एक पुरानी जख्म और एट्रोफिक फोटोसेंसिटिव डर्मेटोसिस के रूप में प्रकट होता है, क्योंकि इस प्रकार के ल्यूपस मुख्य क्षेत्र प्रभावित त्वचा है। चेहरे, गर्दन और खोपड़ी पर चकत्ते दिखाई देते हैं। उठाए गए क्षेत्र मोटी और दरिद्र हो सकते हैं, और जख्म का परिणाम हो सकता है। दाने कई दिनों से कई वर्षों तक हो सकते हैं, और इसकी पुनरावृत्ति हो सकती है।

DLE आंतरिक अंगों को प्रभावित नहीं करता है, लेकिन DLE के साथ लोगों के लगभग 10 प्रतिशत SLE विकसित करने पर जाना होगा । रासायनिक और भौतिक सनब्लॉक, सामयिक कोर्टिकोस्टेरॉयड, या एंटीमलेरिया एजेंटों का उपयोग आमतौर पर रोग भड़कने को रोकने और DLE से जुड़े नैदानिक अभिव्यक्तियों का प्रबंधन करने के लिए किया जाता है।

3. दवा-प्रेरित ल्यूपस (एलई एलई) : एक निश्चित पर्चे दवा के संपर्क में आने के बाद होता है, जिससे ऑटोइम्यून प्रतिक्रिया होती है। इनमें कुछ दवाएं शामिल हैं जिनका इस्तेमाल लोग दौरे और हाई ब्लड प्रेशर के इलाज के लिए करते हैं । इनमें थायराइड की कुछ दवाएं, एंटीबायोटिक्स, एंटीफंगल और ओरल गर्भनिरोधक गोलियां भी शामिल हैं| आमतौर पर ल्यूपस के इस रूप से जुड़ी दवाएं हैं:

• हाइड्रालाज़ीन, एक उच्च रक्तचाप दवा
• प्रोकैनमाइड, एक दिल अतालता दवा
• आइसोनियाज़िड, तपेदिक (टीबी) के इलाज के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला एक एंटीबायोटिक

4. नवजात शिशुओं और बाल चिकित्सा ल्यूपस एरिथेमेटोसस (NLE): नवजात शिशुओं में मनाए जाने वाले ल्यूपस के एक दुर्लभ रूप के रूप में, यह अपरा से गुजरने वाले मातृ ऑटोएंटीबॉडी से परिणाम के लिए सोचा जाता है। हालांकि, उन बाल रोगियों में से जिनके पास सकारात्मक मातृ ऑटोन्त है, केवल लगभग 1% NLE विकसित करते हैं।

आम नैदानिक प्रस्तुतियों में हृदय, यकृत और त्वचा शामिल है। हृदय अभिव्यक्तियों के साथ-साथ महत्वपूर्ण रुग्णता और मृत्यु दर को नोट किया गया है; हालांकि, अन्य अंग भागीदारी (जैसे, त्वचा, जिगर और रक्त) वाले अधिकांश रोगियों में, संकेत और लक्षण कभी-कभी 4 से 6 महीने के भीतर अनायास हल होते हैं।

क्या लुपस का कारण बनता है?

प्रतिरक्षा प्रणाली शरीर की रक्षा करती है और वायरस, बैक्टीरिया और कीटाणुओं जैसे एंटीजन से लड़ती है। यह एंटीबॉडी नामक प्रोटीन का उत्पादन करके ऐसा करता है। सफेद रक्त कोशिकाएं, या बी लिम्फोसाइट्स, इन एंटीबॉडी का उत्पादन करते हैं।

जब किसी व्यक्ति की ऑटोइम्यून स्थिति होती है, जैसे ल्यूपस, प्रतिरक्षा प्रणाली अवांछित पदार्थों, या एंटीजन, और स्वस्थ ऊतकों के बीच अंतर नहीं कर सकती है। नतीजतन, प्रतिरक्षा प्रणाली स्वस्थ ऊतक और एंटीजन दोनों के खिलाफ एंटीबॉडी का निर्देश देती है। इससे सूजन, दर्द और टिश्यू डैमेज होता है।

ल्यूपस वाले लोगों में विकसित होने वाले ऑटोएंटीबॉडी का सबसे आम प्रकार एक एंटीन्यूक्लियर एंटीबॉडी (एना) है। एना सेल के नाभिक, कोशिका के कमांड सेंटर के कुछ हिस्सों के साथ प्रतिक्रिया करता है। ये ऑटोएंटीबॉडी रक्त में प्रसारित होते हैं, लेकिन शरीर की कुछ कोशिकाओं में दीवारें काफी पार होती हैं ताकि कुछ ऑटोएंटीबॉडी के माध्यम से जाने के लिए पर्याप्त हो सके।

ऑटोएंटीबॉडी फिर इन कोशिकाओं के नाभिक में डीएनए पर हमला कर सकते हैं। यही कारण है कि ल्यूपस कुछ अंगों को प्रभावित करता है और दूसरों को नहीं।

ल्यूपस के लक्षण

ल्यूपस के विकास के लिए जोखिम कारक

1. हार्मोन:

हार्मोन रासायनिक पदार्थ हैं जो शरीर का उत्पादन करते हैं। वे कुछ कोशिकाओं या अंगों की गतिविधि को नियंत्रित और विनियमित करते हैं। हार्मोनल गतिविधि निम्नलिखित जोखिम कारकों की व्याख्या कर सकती है:

सेक्स: अमेरिका के स्वास्थ्य के राष्ट्रीय संस्थानों ध्यान दें कि महिलाओं को नौ गुना अधिक पुरुषों की तुलना में ल्यूपस होने की संभावना है । २०१६ में प्रकाशित एक समीक्षा में वैज्ञानिकों ने देखा कि एस्ट्रोजन प्रतिरक्षा गतिविधि को प्रभावित कर सकता है और चूहों में ल्यूपस एंटीबॉडी को प्रेरित कर सकता है जो ल्यूपस के लिए अतिसंवेदनशील होते हैं । इससे समझा जा सकता है कि पुरुषों की तुलना में महिलाओं को ऑटोइम्यून बीमारियां अधिक प्रभावित करने की संभावना क्यों होती हैं।

आयु: लक्षण और निदान अक्सर प्रसव के वर्षों के दौरान 15 और 45 साल की उम्र के बीच होते हैं। हालांकि, जेनेटिक्स होम रेफरेंस के मुताबिक ५० साल की उम्र के बाद 20 प्रतिशत मामले दिखाई देते हैं । ल्यूपस की 10 घटनाओं में से 9 महिलाओं को प्रभावित करते हैं, शोधकर्ताओं ने एस्ट्रोजन और ल्यूपस के बीच एक संभावित कड़ी को देखा है । पुरुष और महिला दोनों एस्ट्रोजन पैदा करते हैं, लेकिन महिलाएं ज्यादा उत्पादन करते हैं ।

२०१० में, शोधकर्ताओं ने जोurnal गठिया विज्ञान में स्वयं की रिपोर्ट flares पर एक अध्ययन प्रकाशित पाया कि ल्यूपस के साथ महिलाओं को मासिक धर्म के दौरान अधिक गंभीर दर्द और थकान की रिपोर्ट । इससे पता चलता है कि इस समय flares की संभावना अधिक हो सकती है। इस बात की पुष्टि करने के लिए पर्याप्त सबूत नहीं है कि एस्ट्रोजन ल्यूपस का कारण बनता है। यदि कोई लिंक है, तो एस्ट्रोजन आधारित उपचार ल्यूपस की गंभीरता को विनियमित कर सकता है। हालांकि, डॉक्टरों को इलाज के रूप में पेश करने से पहले अधिक शोध जरूरी है।

2. आनुवंशिक कारक:

शोधकर्ताओं ने साबित नहीं किया है कि किसी भी विशिष्ट आनुवंशिक कारक ल्यूपस का कारण बनता है, हालांकि यह कुछ परिवारों में अधिक आम है । आनुवंशिक कारक कारण हो सकते हैं कि ल्यूपस के लिए निम्नलिखित जोखिम कारक हैं:

रेस: किसी भी पृष्ठभूमि के लोग ल्यूपस विकसित कर सकते हैं, लेकिन सफेद आबादी की तुलना में रंग के लोगों में यह दो से तीन गुना अधिक आम है। यह हिस्पैनिक, एशियाई और मूल निवासी अमेरिकी महिलाओं में भी अधिक आम है।

पारिवारिकइतिहास: : एक व्यक्ति जिसके पास ल्यूपस के साथ पहली या दूसरी डिग्री का रिश्तेदार है, उसे विकसित करने का जोखिम अधिक होगा। वैज्ञानिकों ने कुछ ऐसे जीनों की पहचान की है जो ल्यूपस के विकास में योगदान दे सकते हैं, लेकिन यह साबित करने के लिए पर्याप्त सबूत नहीं हैं कि वे बीमारी का कारण बनते हैं ।

समान जुड़वां बच्चों के अध्ययन में, एक जुड़वां ल्यूपस विकसित कर सकते हैं, जबकि दूसरा नहीं करता है, भले ही वे एक साथ बड़े होते हैं और एक ही पर्यावरणीय एक्सपोजर होते हैं। २०१७ में गठिया और गठिया में सेमिनारों में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार, अगर एक जुड़वां जोड़ी के एक सदस्य के पास ल्यूपस है, तो दूसरे में इस बीमारी के विकास की 25 प्रतिशत संभावना है । समान जुड़वां और अधिक दोनों की स्थिति है की संभावना है ।

ल्यूपस रोग के कोई परिवार के इतिहास के साथ लोगों में हो सकता है, लेकिन परिवार में अन्य ऑटोइम्यून रोग हो सकते हैं। उदाहरणों में थायराइडाइटिस, हीमोलिटिक एनीमिया, और इडियोपैथिक थ्रोम्बोसाइटोपेनिया पुरपुरा शामिल हैं। कुछ ने प्रस्ताव किया है कि एक्स-क्रोमोसोम में परिवर्तन जोखिम को प्रभावित कर सकते हैं ।

3. पर्यावरण:

पर्यावरण एजेंटों-जैसे रसायनों या वायरस के रूप में-लोग हैं, जो पहले से ही आनुवंशिक रूप से अतिसंवेदनशील है में ल्यूपस ट्रिगर करने के लिए योगदान कर सकते हैं । संभावित पर्यावरण ट्रिगर्स में शामिल हैं:

धूम्रपान: हाल के दशकों में मामलों की संख्या में वृद्धि अधिक तंबाकू जोखिम के कारण हो सकती है ।

सूरज की रोशनी के संपर्कमें: कुछ सुझाव है कि यह एक ट्रिगर हो सकता है ।

दवा: मामलों केलगभग 10 प्रतिशत दवा से संबंधित हो सकता है, आनुवंशिकी गृह संदर्भ के अनुसार

वायरलसंक्रमण: ये ऐसे लोगों में लक्षणों को ट्रिगर कर सकते हैं जो SLE से ग्रस्त हैं। ल्यूपस संक्रामक नहीं है, और एक व्यक्ति इसे यौन संचारित नहीं कर सकता है।

4. आंत माइक्रोबायोटा:

हाल ही में, वैज्ञानिकों ने ल्यूपस के विकास में एक संभावित कारक के रूप में आंत माइक्रोबायोटा को देख रहा है । २०१८ में एप्लाइड एंड एनवायरमेंटल माइक्रोबायोलॉजी में शोध प्रकाशित करने वाले वैज्ञानिकों ने कहा कि ल्यूपस के साथ लोगों और चूहों दोनों में आंत माइक्रोबायोटा सुविधा में विशिष्ट परिवर्तन । वे इस क्षेत्र में और अधिक अनुसंधान के लिए कहते हैं ।

क्या बच्चों को खतरा है?

ल्यूपस 15 साल से कम उम्र के बच्चों में दुर्लभ है जब तक कि उनके जन्म की मां के पास यह नहीं है। ऐसा होने पर बच्चे को ल्यूपस से संबंधित हार्ट, लिवर या स्किन की समस्या हो सकती है। नवजात ल्यूपस वाले शिशुओं को जीवन में बाद में एक और ऑटोइम्यून बीमारी विकसित करने की अधिक संभावना हो सकती है।

लक्षण

ल्यूपस के लक्षण भड़कने के समय में होते हैं। भड़क-अप के बीच, लोग आमतौर पर छूट के समय का अनुभव करते हैं, जब कुछ या कोई लक्षण नहीं होते हैं। ल्यूपस में लक्षणों की एक विस्तृत श्रृंखला है, जिसमें शामिल हैं:

• थकावट
• भूख और वजन कम होना
• जोड़ों और मांसपेशियों में दर्द या सूजन
• पैरों में या आंखों के आसपास सूजन
• सूजन ग्रंथियों, या लिम्फ नोड्स
• त्वचा के नीचे रक्तस्राव के कारण त्वचा पर चकत्ते
• मुंह के छाले
• सूर्य के प्रति संवेदनशीलता
• बुखार
• सिर दर्द
• गहरी सांस लेने पर सीने में दर्द
• असामान्य बालों का झड़ने
• ठंड या तनाव से पीली या बैंगनी उंगलियां या उंगलियां(रेनॉड कीघटना)
• गठिया

ल्यूपस का इलाज

शरीर के अन्य सिस्टम पर प्रभाव

ल्यूपस निम्नलिखित प्रणालियों को भी प्रभावित कर सकता है:

गुर्दे: गुर्दे की सूजन (नेफ्राइटिस) शरीर के लिए अपशिष्ट उत्पादों और अन्य विषाक्त पदार्थों को प्रभावी ढंग से हटाना मुश्किल बना सकती है। ल्यूपस वाले 3 लोगों में करीब 1 लोगों को किडनी की समस्या होगी।

फेफड़े: कुछ लोग प्लूराइटिस विकसित करते हैं, छाती गुहा की परत की सूजन जो सीने में दर्द का कारण बनती है, विशेष रूप से सांस लेने के साथ। निमोनिया विकसित हो सकता है।

केंद्रीय तंत्रिकातंत्र: ल्यूपस कभी - कभी मस्तिष्क या केंद्रीय तंत्रिका तंत्र को प्रभावित कर सकताहै। लक्षणों में सिर दर्द, चक्कर आना, अवसाद,याददाश्त में गड़बड़ी, दृष्टि संबंधी समस्याएं, दौरे, स्ट्रोकया व्यवहार में परिवर्तन शामिलहैं।

रक्तवाहिकाएं: वास्कुलाइटिस, या रक्त वाहिकाओं की सूजन हो सकती है। इससे सर्कुलेशन प्रभावित हो सकता है।

रक्त: ल्यूपस एनीमिया, ल्यूकोपेनिया (सफेद रक्त कोशिकाओं की कम संख्या) या थ्रोम्बोसाइटोपेनिया (रक्त में प्लेटलेट्स की संख्या में कमी, जो थक्के में सहायता करता है) का कारण बन सकता है।

दिल: यदि सूजन दिल को प्रभावित करती है, तो इसके परिणामस्वरूप मायोकार्डाइटिस और एंडोकार्डाइटिस हो सकताहै। यह दिल को घेरने वाली झिल्ली को भी प्रभावित कर सकता है, जिससे पेरिकार्डाइटिस हो सकता है। सीने में दर्द या अन्य लक्षण ों का परिणाम हो सकता है। एंडोकार्डाइटिस दिल के वाल्व को नुकसान पहुंचा सकता है, जिससे वाल्व की सतह मोटी हो सकती है और विकसित हो सकती है। इसके परिणामस्वरूप विकास हो सकता है जो दिल के बड़बड़ाने का कारण बन सकता है।

अन्य जटिलताएं

ल्यूपस होने से कई स्वास्थ्य समस्याओं का खतरा बढ़ जाता है:

संक्रमण: संक्रमण की संभावना अधिक हो जाती है क्योंकि ल्यूपस और इसके उपचार दोनों प्रतिरक्षा प्रणाली को कमजोर करते हैं। सामान्य संक्रमणों में मूत्र पथ संक्रमण,श्वसन संक्रमण, खमीर संक्रमण, साल्मोनेला, दादऔर दादशामिलहैं।

हड्डी के ऊतकों कीमृत्यु: यह तब होता है जब हड्डी को कम रक्त की आपूर्ति होती है। छोटे ब्रेक हड्डी में विकसित कर सकते हैं। आखिरकार हड्डी गिर सकती है। यह सबसे अधिक कूल्हे के जोड़ को प्रभावित करता है।

गर्भावस्थाजटिलताएं: ल्यूपस वाली महिलाओं में गर्भावस्था की हानि, अपरिपक्व जन्म और प्रीक्लेम्पसियाका खतरा अधिक होताहै, एक ऐसी स्थिति जिसमें उच्च रक्तचाप शामिल होता है। इन जटिलताओं के जोखिम को कम करने के लिए, डॉक्टर अक्सर गर्भावस्था में देरी की सलाह देते हैं जब तक कि ल्यूपस कम से कम 6 महीने तक नियंत्रण में न रहे।

ल्यूपस का वर्गीकरण

अमेरिकन कॉलेज ऑफ रूमेटोलॉजी निदान की पुष्टि करने के लिए एक मानक वर्गीकरण योजना का उपयोग करता है। यदि कोई व्यक्ति 11 मानदंडों में से 4 को पूरा करता है, तो एक डॉक्टर इस बात पर विचार करेगा कि उनके पास ल्यूपस हो सकता है। 11 मानदंड इस प्रकारहैं-

1. मलार दाने: गालों और नाक के पार तितली के आकार के दाने दिखाई देते हैं।
2. डिस्कोइड दाने: उठाए गए लाल धब्बे विकसित होते हैं।
3. फोटोसेंसिटिविटी: सूरज की रोशनी के संपर्क में आने के बाद त्वचा पर दाने दिखाई देते हैं।
4. मौखिक या नाक अल्सर: ये आमतौर पर दर्द रहित होते हैं।
5. गैर-इरोसिव गठिया: यह जोड़ों के आसपास की हड्डियों को नष्ट नहीं करता है, लेकिन 2 या अधिक परिधीय जोड़ों में कोमलता, सूजन या असंयत है।
6. पेरिकार्डाइटिस या प्लूराइटिस: सूजन दिल (पेरिकार्डाइटिस) या फेफड़ों (प्लूराइटिस) के आसपास की परत को प्रभावित करती है।
7. गुर्दे विकार: परीक्षण मूत्र में प्रोटीन या सेलुलर डाले के उच्च स्तर को दिखाते हैं यदि किसी व्यक्ति को गुर्दे की समस्या है।
8. न्यूरोलॉजिक विकार: व्यक्ति को दौरे, मनोविकृतिया सोच और तर्क के साथ समस्याएं होती हैं।
9. हेमेटोलोजिक (रक्त) विकार: हेमोलिटिक एनीमिया मौजूद है, जिसमें कम सफेद रक्त-कोशिका गिनती या कम प्लेटलेट काउंट होता है।
10. इम्यूनोलॉजिक डिसऑर्डर: टेस्ट से पता चलता है कि डबल-फंसे डीएनए (डीएसडीएनए), एंटीबॉडी टू एसएम, या एंटीबॉडी से कार्डियोलिपिन के लिए एंटीबॉडी हैं ।
11. सकारात्मक एना: एना के लिए परीक्षण सकारात्मक है, और व्यक्ति ने ऐसी किसी भी दवा का उपयोग नहीं किया है जो इसे प्रेरित कर सकती है।

हालांकि, यहां तक कि यह प्रणाली कभी-कभी शुरुआती और हल्के मामलों को याद करती है। अंडरडायग्नोसिस हो सकता है क्योंकि ल्यूपस के लक्षण और लक्षण विशिष्ट नहीं हैं। दूसरी ओर, कुछ रक्त परीक्षण ों से अधिक निदान हो सकता है, क्योंकि ल्यूपस के बिना लोगों में हालत वाले लोगों के समान एंटीबॉडी हो सकती हैं।

निदान

निदान विभिन्न लक्षणों के कारण मुश्किल हो सकता है जो अन्य बीमारियों के लक्षणों के समान हो सकते हैं। डॉक्टर लक्षणों के बारे में पूछेंगे, शारीरिक परीक्षा करेंगे, और एक व्यक्तिगत और पारिवारिक चिकित्सा इतिहास लेंगे। वे ऊपर बताए गए 11 मानदंडों पर भी विचार करेंगे। डॉक्टर कुछ रक्त परीक्षण और अन्य प्रयोगशाला जांच का अनुरोध कर सकते हैं।

1. बायोमार्कर: बायोमार्कर एंटीबॉडी, प्रोटीन, जेनेटिक और अन्य कारक हैं जो डॉक्टर को दिखा सकते हैं कि शरीर में क्या हो रहा है या शरीर उपचार का जवाब कैसे दे रहा है। वे उपयोगी हैं क्योंकि वे इंगित कर सकते हैं कि किसी व्यक्ति की स्थिति है, भले ही कोई लक्षण न हो।

ल्यूपस अलग-अलग तरीकों से व्यक्तियों को प्रभावित करता है। इससे विश्वसनीय बायोमार्कर ढूंढना मुश्किल हो जाता है। हालांकि, रक्त परीक्षण और अन्य जांचों का एक संयोजन एक निदान की पुष्टि करने के लिए एक डॉक्टर की मदद कर सकता है।

2. रक्त परीक्षण: रक्त परीक्षण से पता चल सकता है कि क्या कुछ बायोमार्कर मौजूद हैं, और बायोमार्कर इस बारे में जानकारी दे सकते हैं कि कौन सी ऑटोइम्यून बीमारी, यदि कोई हो, तो किसी व्यक्ति के पास है।

• एंटीन्यूक्लियर एंटीबॉडी: ल्यूपस के साथ लगभग ९५ प्रतिशत लोगों का एना परीक्षण में सकारात्मक परिणाम होगा । हालांकि, कुछ लोग एना के लिए पॉजिटिव टेस्ट करते हैं, लेकिन उनमें ल्यूपस नहीं होता। अन्य परीक्षणों के निदान की पुष्टि करनी चाहिए।

• एंटीफोस्फोलिपिड एंटीबॉडी: एंटीफॉस्फोक्लिपिड एंटीबॉडी (एपीएलएस) फॉस्फोलिपिड्स के खिलाफ निर्देशित एंटीबॉडी का एक प्रकार है। एपीएलएस ल्यूपस वाले 50 प्रतिशत लोगों में मौजूद हैं। ल्यूपस के बिना लोगों के पास एपीएल भी हो सकते हैं। एपीएलएस वाले व्यक्ति में रक्त के थक्के, स्ट्रोक और फेफड़े के उच्च रक्तचाप का खतरा अधिक हो सकता है। गर्भावस्था की जटिलताओं का भी अधिक खतरा होता है, जिसमें गर्भावस्था का नुकसान भी शामिल है।

• एंटी-डीएनए एंटीबॉडी टेस्ट: ल्यूपस वाले करीब ७० प्रतिशत लोगों में एंटीबॉडी है जिसे एंटी-डीएनए एंटीबॉडी के नाम से जाना जाता है । भड़ास के दौरान परिणाम सकारात्मक होने की संभावना अधिक होती है।

• एंटी-डीएसडीएनए एंटीबॉडी: एंटी-डबल-फंसे डीएनए एंटीबॉडी (एंटी-डीएसडीएनए) एक विशिष्ट प्रकार का एना एंटीबॉडी है जो ल्यूपस के साथ लगभग 30 प्रतिशत लोगों को होता है। ल्यूपस के बिना 1 प्रतिशत से कम लोगों के पास यह एंटीबॉडी है। यदि परीक्षण सकारात्मक है, तो इसका मतलब यह हो सकता है कि किसी व्यक्ति में ल्यूपस का अधिक गंभीर रूप होता है, जैसे ल्यूपस नेफ्राइटिस, या किडनी ल्यूपस।

• एंटी-स्मिथ एंटीबॉडी: ल्यूपस के साथ लगभग 20 प्रतिशत लोगों के पास एसएम के लिए एक एंटीबॉडी है, एक राइबो न्यूक्लियोप्रोटीन जो एक कोशिका के नाभिक में मौजूद है। यह ल्यूपस के बिना 1 प्रतिशत से भी कम लोगों में मौजूद है, और यह अन्य आमवाती रोगों वाले लोगों में दुर्लभ है। इस वजह से एंटी स्म एंटीबॉडी एंटीबॉडी वाले व्यक्ति में ल्यूपस होने की संभावना होती है। यह आमतौर पर गुर्दे के ल्यूपस के साथ मौजूद नहीं है।

• एंटी-U1RNP एंटीबॉडी: ल्यूपस के साथ लगभग 25 प्रतिशत लोगों के पास एंटी-यू1आरएनपी एंटीबॉडी है, और ल्यूपस के बिना 1 प्रतिशत से कम लोग हैं। यह एंटीबॉडी उन लोगों में मौजूद हो सकती है जिनके पास रेनॉड की घटना है, और जैकॉड की आर्थ्रोपैथी, गठिया के कारण हाथ की विकृति है।

• एंटी-आरओ/एसएसए और एंटी-ला/एसएसबी एंटीबॉडी: ल्यूपस वाले 30 से ४० प्रतिशत लोगों के बीच एंटी-रो/एसएसए और एंटी-ला/एसएसबी एंटीबॉडी है । ये प्राथमिक Sjögren सिंड्रोम के साथ और ल्यूपस वाले लोगों में भी होते हैं जो एना के लिए नकारात्मक परीक्षण करते हैं। वे ल्यूपस के बिना लगभग 15 प्रतिशत लोगों में छोटी राशि में मौजूद होते हैं, और वे अन्य आमवाती स्थितियों के साथ हो सकते हैं, जैसे रूमेटॉयड गठिया। यदि एक मां विरोधी आरओ और विरोधी ला एंटीबॉडी है, वहां एक उच्च संभावना है कि एक बच्चे को उसके लिए पैदा हुआ नवजात ल्यूपस होगा । ल्यूपस वाला व्यक्ति जो गर्भवती बनने की इच्छा रखता है, इन एंटीबॉडी के लिए परीक्षण करता है।

• एंटी-हिस्टोन एंटीबॉडी: हिस्टोन के लिए एंटीबॉडी प्रोटीन हैं जो डीएनए की संरचना में भूमिका निभाते हैं। दवा प्रेरित ल्यूपस वाले लोगों के पास आमतौर पर उनके पास होता है, और एसईल वाले लोग उन्हें हो सकते हैं। हालांकि, वे जरूरी नहीं कि ल्यूपस के निदान की पुष्टि करें।

• सीरम (रक्त) पूरक परीक्षण: एक सीरम पूरक परीक्षण प्रोटीन के स्तर को मापता है जो सूजन होने पर शरीर उपभोग करता है। यदि किसी व्यक्ति में पूरक स्तर कम होते हैं, तो इससे पता चलता है कि सूजन शरीर में मौजूद है और एसएलई सक्रिय है।

• मूत्र परीक्षण: मूत्र परीक्षण गुर्दे पर ल्यूपस के प्रभावों का निदान और निगरानी करने में मदद कर सकते हैं। प्रोटीन, लाल रक्त कोशिकाओं, सफेद रक्त कोशिकाओं, और सेलुलर डाले की उपस्थिति सभी को दिखाने के लिए कितनी अच्छी तरह गुर्दे काम कर रहे है मदद कर सकते हैं । कुछ परीक्षणों के लिए, केवल एक नमूना आवश्यक है। दूसरों के लिए, व्यक्ति को 24 घंटे से अधिक नमूने एकत्र करने की आवश्यकता हो सकती है।

• ऊतक बायोप्सी: डॉक्टरकिसी भी क्षति या सूजन की जांच करने के लिए आमतौर पर त्वचा या गुर्दे की बायोप्सीका अनुरोध भी कर सकता है।

• इमेजिंग परीक्षण: एक्स-रे और अन्य इमेजिंग परीक्षण डॉक्टरों को ल्यूपस से प्रभावित अंगों को देखने में मदद कर सकते हैं।

• निगरानी परीक्षण: चल रहे परीक्षणों से पता चल सकता है कि ल्यूपस किसी व्यक्ति को कैसे प्रभावित करता रहता है या उनका शरीर उपचार का जवाब दे रहा है।

उपचार और घरेलू उपचार

वर्तमान में ल्यूपस का कोई इलाज नहीं है, लेकिन लोग जीवनशैली में बदलाव और दवा के साथ अपने लक्षणों और flares का प्रबंधन कर सकते हैं। उपचार के लिए करना है:

• flares को रोकना या प्रबंधित करना
• अंग क्षति के जोखिम को कम करना

दवा के लिए मदद कर सकते हैं:

• दर्द और सूजन को कम करना
• प्रतिरक्षा प्रणाली की गतिविधि को विनियमित करें
• संतुलन हार्मोन
• जोड़ और अंग क्षति को कम करना या रोकना
• रक्तचाप का प्रबंधन
• संक्रमण के खतरे को कम करना
• कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करें

सही उपचार इस बात पर निर्भर करेगा कि ल्यूपस व्यक्ति को कैसे प्रभावित करता है। उपचार के बिना, flares हो सकता है कि जीवन के लिए खतरा परिणाम हो सकता है ।

वैकल्पिक उपचार और घरेलू उपचार

दवा के अलावा, निम्नलिखित दर्द को दूर करने या भड़कने के जोखिम को कम करने में मदद कर सकते हैं:

• गर्मी और ठंड लागू करना
• योग और ताई ची सहित विश्राम या ध्यान गतिविधियों में भाग लेना
• संभव होने पर नियमित व्यायाम करना
• सूर्य के संपर्क में आने से बचना
• जहां तक संभव हो तनावसे बचें

कुछ लोग पूरक गड़गड़ाहट-भगवान बेल का उपयोग करें। हालांकि, नेशनल सेंटर फॉर पूरक और इंटीग्रेटिव हेल्थ (NCCIH) विश्वसनीय स्रोत चेतावनी देता है कि यह जहरीला हो सकता है। इसका इस्तेमाल करने से पहले डॉक्टर से बात करना जरूरी है।

अतीत में, जिन लोगों के पास ल्यूपस का निदान था, वे आमतौर पर 5 साल से अधिक समय तक जीवित नहीं रहेंगे। अब, हालांकि उपचार काफी एक व्यक्ति की उम्र में वृद्धि कर सकते हैं, स्वास्थ्य के राष्ट्रीय संस्थानों केअनुसार। प्रभावी चिकित्सा भी ल्यूपस का प्रबंधन करने के लिए संभव बनाता है, ताकि एक व्यक्ति एक सक्रिय, स्वस्थ जीवन जी सकता है।

जैसा कि वैज्ञानिक आनुवंशिकी के बारे में अधिक सीखते हैं, डॉक्टरों को उम्मीद है कि एक दिन वे पहले के चरण में ल्यूपस की पहचान करने में सक्षम होंगे । इससे जटिलताओं को होने से पहले रोकना आसान हो जाएगा।




उपर ब्लॉग में बताई गई उपलब्धिया AFD-SHIELD के साथ उपलब्ध हैं
एएफडी शील्ड कैप्सूल 12 प्राकृतिक अवयवों का एक संयोजन है जिनमें से अलगल डीएचए, अश्वगंधा, करक्यूमिन और स्पिरुलिना हैं। एएफडी शील्ड टीजी को कम करता है, एचडीएल बढ़ाता है और उम्र से संबंधित संज्ञानात्मक गिरावट में सुधार करता है। यह तनाव और चिंता को भी कम करता है और एंटी-एजिंग गतिविधि करता है। इसके अलावा, यह इम्युनोमॉड्यूलेटरी गतिविधि को बढ़ाता है, प्रतिरक्षा में सुधार करता है और सूजन और ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करता है। न्यूट्रोग्लिग्क्स: एएफडी-शील्ड

AFDIL Ltd.
+91 9920121021

order@afdil.com

Read Also:


Disclaimer
Home