Symptoms And Treatment For Depression

Everyone experiences sadness and unhappiness at some point in his or her lives. For majority of people, these symptoms are completely normal stimuli to unpleasant or stressful events that they experience such as romantic relationships failures or financial issues. Negative emotions such as sadness, pain, loneliness and jealousy are usually painful and overwhelming, but as time passes by, they become less intense and disappear. However, if these feelings persist, they may affect people’s life substantially and can lead to depression. Depression can alter an individual’s thinking or feelings and can influence his or her social behavior and sense of physical well-being. It affects people of any age group, including young children and teens. Women and elderly people are more commonly affected than men are. It was found that clinical depression is widespread in the suburbs inner cities, farms, refugee camps, boardrooms, and classrooms, and women are more likely to be depressed than man is.

Depression

What is Depression?

Depression is a mood disorder. It is also called feelings of sadness, loss, or anger that interfere with a person’s everyday activities. Depression usually involves a persistent feeling of sadness and loss of interest. It is different from the mood fluctuations that people regularly experience as a part of life.

People experience depression in different ways. It interferes with your daily work, which results in loss of time and productivity. It also influences relationships and some chronic health conditions.

Conditions that can get worse due to depression are as follows:
• Arthritis
• Asthma
• Cardiovascular diseases
• Cancer
• Diabetes
• Obesity

It is essential to realize that feeling down at times is a normal part of life. Sad and upsetting events happen to everyone. However, if you are feeling down, hopeless or sad on a regular basis, you could be suffering from depression.

Depression is one of the serious medical conditions that can get worse if proper treatment is not provided at the right time. Those who seek treatment often see improvements in symptoms of depression in just a few weeks. The early signs if stress that can further lead to depression can be reduced by using simple self care tips such as having a hot bath, spending time with your family and friends, doing a hobby that you love, etc. To know more visit: How to Manage Stress

According to some studies, depression affects one in 15 adults (6.7%) in any given year. Moreover, one in six people (16.6%) experiences depression at some time in their life. Depression can happen at any time, but on an average, it first appears during the late teens to mid-20s. Women are more likely than men to experience depression. Some studies show that one-third of women experience a major depressive episode in their lifetime. There is a high chance approximately 40% of having depression when the first-degree relatives such as parents, children and siblings are suffering from depression.

Emptiness

Symptoms of Depression

There can be many symptoms of depression, some affect your mood, and some affect body. Some common symptoms of depressions are as follows:

1. Persistent feelings of sadness, hopelessness, worthlessness, or emptiness. You generally feel down most of the time.

2. Loss of interest in activities—even in stuff you used to love. It is as if you just lose motivation and feel disinterested.

3. Trouble sleeping or oversleeping. You have a hard time falling asleep, staying asleep, or getting out of bed. We are not talking the occasional snooze hitting; this is as if your body is covered in a 50-pound weighted blanket and you cannot get out of bed.

4. Appetite or weight changes. You are overeating, lose your appetite, or experience significant weight gain or loss without dieting (about 20 percent of your weight). Sometimes people get a little rush from eating and so they seek that lift and it leads to over-eating; other times though you may just have no appetite at all.

5. Fatigue or decreased energy. You feel exhausted all the time, or you feel like you can spend days on the couch or in bed.

6. Difficulty thinking clearly or quickly, remembering details, concentrating, or making decisions. You feel distracted and focusing seems impossible.

7. Irritability, frustration, or pessimism. Your mood and headspace feel negative most of the time.

8. Physical aches and pains. You may have headaches, stomachaches, or neck tension.

9. Recurrent thoughts of death or suicide, with or without a plan to actually do it.

Symptoms of Depression

The symptoms of depression vary among men, women, and children.

1. In Females
Depression is nearly twice as among women as men, according to the Centers for Disease Control and Prevention (CDC).

Below are some symptoms of depression that tend to appear more often in females:
• Irritability
• Anxiety
• Mood swings
• Fatigue
• Ruminating (dwelling on negative thoughts)
• Postpartum depression
• Premenstrual dysphoric disorder


2. In Males

According to the American Psychological Association, approximately 9% of men in US suffer from depression and anxiety.

Males with depression drink alcohol in excess, display anger, and engage in risk-taking because of the disorder.

Other symptoms of depression in males are as follows:
• Avoiding families and social situations
• Working without a break
• Having difficulty keeping up with work and family responsibilities
• Displaying abusive or controlling behavior in relationships


3. In College Students

Time at college can be stressful and a person may be dealing with other lifestyles, cultures, and experiences for the first time.

Some students face difficulty coping with these changes, and as a result they may develop depression, anxiety, or both.

Symptoms of depression in college students are as follows:
• Difficulty concentrating on schoolwork
• Insomnia
• Sleeping too much
• A decrease or increase in appetite
• Avoiding social situations and activities that they used to enjoy


4. In Teens

Physical changes, peer pressure, and other factors can contribute to depression in teenagers.

They may experience some of the following symptoms of depression:
• Withdrawing from friends and family
• Difficulty concentrating on schoolwork
• Feeling guilty, helpless, or worthless
• Restlessness, such as an inability to sit still


5. In Children

The CDC estimates that, in the U.S., 3.2% of children and teens aged 3–17 suffer from depression.

In children, symptoms of depression can make schoolwork and social activities challenging. They may experience symptoms of depression such as:
• Crying
• Low energy
• Clinginess
• Defiant behavior
• Vocal outbursts

As younger children have difficulty expressing how they feel in words, this makes it harder for them to explain their feelings of sadness.

What Does Depression Looks Like?

Depression affects different ages and genders in different ways:

Women are more likely to worry, dwell on, or rehash negative feelings. This includes negative self-talk, sudden crying spells, feelings of guilt, or blaming oneself. Women are also more likely to have depression at the same time as an anxiety disorder, such as panic disorder, eating disorder, or obsessive-compulsive behavior.

Men with depression are more likely to show signs of irritability, anger, apathy, escapist behavior such as like spending more time at work, or reckless behavior such as misusing alcohol or other substances.

Youngsters can struggle with depression and MDD. Children and teens show oversensitivity, social withdrawal, poor school performance, frequent physical complaints, or feelings of incompetence and despair such as they cannot do anything right or that everything is their fault.

Older adults are often misdiagnosed or undertreated for depression because their symptoms can be mistaken for other disorders for instance, confusion or memory problems caused by depression can look like Alzheimer’s disease, or they may assume their feelings are just an inevitable part of aging. For many, sadness is not the biggest indicator of depression; instead, physical complaints such as aches and pains, worsening headaches are often the predominant symptom. Sleep trouble, low motivation, neglect of personal care or hygiene, and fixation on death are other signs of depression in older adults.

Causes of Depression

There is no one single cause for the onset of depression because a combination of genetic, biological, environmental, and psychological factors all play a role. These include:

1. The brain’s physical structure or chemistry : In some people with depression, brain scans indicate a smaller hippocampus, which plays a role in long-term memory. Research shows that ongoing exposure to stress can impair the growth of nerve cells in this part of the brain.

2. Serotonin levels are out of balance: Here is another thing that is going on in the brain that may be connected, the serotonin receptors act differently than in someone without depression. This is why some of the treatment drugs work with serotonin.

3. History of depression in the family: Someone with a parent or sibling with MDD has a two or three-times greater risk of developing depression than the average person (or a 20-30% chance vs. 10%).

4. Genetic code is different: When you are born, you get either a short or a long gene from each parent. These are called alleles. It turns out having one or more short ones is linked to having more of a proclivity towards being depressed when something bad happens.

5. History of other disorders or concurrent mental health conditions : Post-traumatic stress, substance use disorders, and learning disabilities are commonly associated with or can perpetuate depression. Anxiety is a big one: Up to 50% of people who have depression also have an anxiety disorder.

6. Stressful or major life events : Abuse, financial issues, the death of a loved one, the loss of a job—these situations can all trigger depression. However, even positive events like a big move, getting married, graduating, or retiring can make you feel depressed, too. For one these events alter your routine, but they can also trigger feelings that whatever the success or happy occasion is, is not deserved.

7. Hormone changes : Menstrual cycles, pregnancy, and giving birth can cause bouts of depression.

8. Certain physical conditions: Like chronic pain or headaches, show a correlation with—or may spur on—depression.

9. Certain medications: Like sleeping aids and blood pressure medication may cause symptoms of depression.

10. Gender: Women are about twice as likely as men to become depressed are. No one is sure why. The hormonal changes that women go through at different times of their lives may play a role

11. Other personal problems : Problems such as social isolation due to other mental illnesses or being cast out of a family or social group can contribute to the risk of developing clinical depression.

12. Substance misuse :Nearly 30% of people with substance misuse problems also have major or clinical depression. Even if drugs or alcohol temporarily makes you feel better, they ultimately will aggravate depression.

Causes of Depression

Types of Depression

Types of Depression

The major types of depression are as follows:

1. Major depression is the classic type of depression and what is diagnosed, or labeled, as MDD (it is also known as unipolar depression). A person suffering from major depression experiences a constant state of sadness. They lose interest in activities that they used to enjoy. People suffering from major depression show symptoms of depression most of the day.

2. Seasonal Affective Disorder (SAD) emerges during particular seasons of the year—commonly winter—brought on from diminished natural sunlight.

3. Atypical Depression’s biggest differentiator is mood reactivity People suffering from this type of depression can feel improvement in their moods when something positive happens around them.

4. Bipolar Disorder used to be called manic depression and involves alternating between episodes of depression and extremely elevated energy.

5. Psychotic Depression occurs when a person experiences depressive episodes so severe they start having false fixed beliefs (delusions), hearing, or seeing things that others cannot hear or see (hallucinations).

6. Postpartum Depression occurs after giving birth. Mothers may feel disconnected from their new baby or fear that they could hurt their child.

7. Premenstrual Dysphoric Disorder is a severe type of depression that shows up during the second half of the menstrual cycle.

8. Situational Depression, or adjustment disorder, refers to depression that is triggered by a significant life-changing event.

9. Persistent Depressive Disorder used to be called dysthymia. It is a chronic form of depression—usually with milder symptoms—in which an episode lingers for a long period, sometimes two years or more. It could be described as feeling as if you are living on autopilot.

Measures of Depression

Measures of depression as an emotional disorder include, but are not limited to: Beck Depression Inventory-11 and the 9-item depression scale in the Patient Health Questionnaire (PHQ-9). Both of these measures are psychological tests that ask personal questions of the participant, and have mostly been used to measure the severity of depression. The Beck Depression Inventory (BDI) is a self-report scale that helps a therapist identify the patterns of depression symptoms and monitor recovery. The responses on this scale can be discussed in therapy to devise interventions for the most distressing symptoms of depression. Several studies, however, have used these measures to also determine healthy individuals who are not suffering from depression as a mental disorder, but as an occasional mood disorder. This is substantiated by the fact that depression as an emotional disorder displays similar symptoms to minimal depression and low levels of mental disorders such as major depressive disorder; therefore, researchers were able to use the same measure interchangeably.

In terms of the scale, participants scoring between 0-13 and 0-4 respectively were considered healthy individuals. Another measure of depressed mood would be the IWP Multi-affect Indicator. It is a psychological test that indicates various emotions, such as enthusiasm and depression, and asks for the degree of the emotions that the participants have felt in the past week. There are studies that have used lesser items from the IWP Multi-affect Indicator which was then scaled down to daily levels to measure the daily levels of depression as an emotional disorder.

Diagnosis of Depression

Depression affects different ages and genders in different ways.

If a person feels that he/she has symptoms of depression, he/she should speak to a doctor or mental health specialist.

A qualified health professional rules out various causes, ensures an accurate diagnosis, and provides safe and effective treatment.

They will ask questions about symptoms, such as how long they have been present. A doctor also conducts an examination to check for physical causes and asks for a blood test to rule out other health conditions.

Mental health professionals often ask people to complete questionnaires to help assess the severity of their depression. The Hamilton Depression Rating Scale has 21 questions. The scores indicate the severity of depression among people who already have a diagnosis.The Beck Depression Inventory is another questionnaire that helps mental health professionals measure a person’s symptoms.

Depression is a serious mental health illness with the potential for complications. If left untreated, it can lead to complications such as:
• Weight gain or loss
• Physical pain
• Substance use problems
• Panic attacks
• Relationship problems
• Social isolation
• Thoughts of suicide
• Self-harm

How is Depression Treated?

Treatment for Depression

Depression is among the most treatable of mental disorders. Approximately, 80%- 90% percent of people suffering from depression have eventually responded well to treatment. Almost all patients gain some relief from their symptoms.

1. Medication

Brain chemistry may contribute to an individual’s depression and may factor into their treatment. For this reason, antidepressants are prescribed to help modify one’s brain chemistry. These medications include “uppers” or tranquilizers. They are not habit-forming. Antidepressants may produce some improvement within the first week or two of use still full benefits may not be seen for two to three months. If a patient feels little or no improvement after several weeks, dose of the medication is altered by his or her psychiatrist and new antidepressants are added or substituted. Psychiatrists usually advise that patients should continue to take medication for six or more months after the symptoms have improved.

2. Psychotherapy

Psychotherapy, or “talk therapy,” is sometimes used alone for treatment of mild depression; for moderate to severe depression, psychotherapy is often used along with antidepressant medications. Cognitive behavioral therapy (CBT) is very effective in treating depression. CBT is a form of therapy which focuses on the problem solving in the present. CBT helps a person to recognize distorted and negative thinking with the goal of changing thoughts and behaviors to respond to challenges in a more positive manner. Psychotherapy may involve only the individual, but it can include others. For example, family or couples therapy can help address issues within these close relationships. Group therapy brings people with similar illnesses together in a supportive environment, and can assist the participant to learn how others cope in similar situations. Depending on the severity of the depression, treatment can take a few weeks or much longer. In many cases, significant improvement can be made in 10 to 15 sessions.

3. Electroconvulsive Therapy (ECT)

It is a medical treatment which is reserved for patients with severe major depression who have not responded to other treatments. It involves a brief electrical stimulation of the brain while the patient is under anesthesia. A patient typically receives ECT two to three times a week for a total of six to 12 treatments. A team of trained medical professionals including a psychiatrist, an anesthesiologist and a nurse or physician assistant usually manages it. ECT has been used since the 1940s, and many years of research have led to major improvements and the recognition of its effectiveness as a mainstream rather than a "last resort" treatment.

4. Light therapy

Exposure to doses of white light can help regulate your mood and improve symptoms of depression. Light therapy is commonly used in seasonal affective disorder, which is now called major depressive disorder with seasonal pattern.

5. Exercise

Aim for 30 minutes of physical activity 3 to 5 days a week. Exercise can increase your body’s production of endorphins, which are hormones that improve your mood.who have depression also have an anxiety disorder.

6. Avoid alcohol and drugs

Drinking or misusing drugs may make you feel better for a little bit. However, in the long run, these substances can make depression and anxiety symptoms worse.

7. Learn how to say no

Feeling overwhelmed can worsen anxiety and depression symptoms. Setting boundaries in your professional and personal life can help you feel better.

8. Natural remedies

Natural remedies such as herbal medicines are used to treat mild-to-moderate depression.The following are some of the more popular herbs and plants that people use to treat depression:

Ginseng: Practitioners of traditional medicine may use this to improve mental clarity and reduce stress.

Chamomile: This contains flavonoids that may have an antidepressant effect.

Lavender: This may help reduce anxiety and insomnia.

9. Self-care techniques

Some self-care strategies such as having proper and healthy meals, showing gratitude, doing things you love, maintaining a journal, having a hot bath and a massage can also be used to treat symptoms of depression. To know more about the self-care strategies visit: How to start a self-care routine

10. Supplements

Supplements that help to treat the symptoms of depression are-

St. John’s wort: Studies are mixed, but this natural treatment is used in Europe as an antidepressant medication. In the United States, it has not received the same approval.

S-adenosyl-L-methionine(SAMe): This compound has shown in limited studies to possibly ease symptoms of depression. The effects were best seen in people taking selective serotonin reuptake inhibitors (SSRIs), a type of traditional antidepressant.

5-hydroxytryptophan (5-HTP): 5-HTP may raise serotonin levels in the brain, which could ease symptoms. Your body makes this chemical when you consume tryptophan, a protein building block.

Omega-3 fatty acids: These essential fats are important to neurological development and brain health. Adding omega-3 supplements to your diet may help reduce depression symptoms.

11. Vitamins

Vitamins are important to many bodily functions. Research suggests two vitamins are especially useful for easing symptoms of depression.

Vitamin B: B-12 and B-6 are vital to brain health. When your vitamin B levels are low, your risk for developing depression may be higher. Vitamin B along with magnesium helps to reduce the levels of stress by calming the nerves. To know more about how vitamin B reduces stress, visit: Magnesium with Vitamin-B

Vitamin D: Sometimes called the sunshine vitamin because exposure to the sun supplies it to your body, Vitamin D is important for brain, heart, and bone health. People who are suffering from depression are more likely to have low levels of this vitamin.

Depression and Obsessive-Compulsive Disorder

Obsessive-compulsive disorder (OCD) is a type of anxiety disorder. It causes unwanted and repeated thoughts, urges, and fears (obsessions).These fears cause you to act out repeated behaviors or rituals (compulsions) that you hope will ease the stress caused by the obsessions.

People diagnosed with OCD frequently find themselves in a loop of obsessions and compulsions. If you have these behaviors, you may feel isolated because of them. This can lead to withdrawal from friends and social situations, which can increase your risk for depression. It is common for someone with OCD to also have depression. Having one anxiety disorder can increase your odds for having another. Up to 80% of people with OCD also have major depression.

This dual diagnosis is a concern with children, too. Their compulsive behaviors, which may be first developing at a young age, can make them feel unusual. That can lead to withdrawing from friends and can increase the chance of child developing depression.

Depression with Psychosis

Some individuals who have been diagnosed with major depression may also have symptoms of another mental disorder called psychosis. When the two conditions occur together, it is known as depressive psychosis. Depressive psychosis causes people to see, hear, believe, or smell things that are not real. People with the condition may also experience feelings of sadness, hopelessness, and irritability.

The combination of the two conditions is particularly dangerous. That is because someone with depressive psychosis may experience delusions that cause him or her to have thoughts of suicide or to take unusual risks. It is unclear what causes these two conditions or why they can occur together, but treatment can successfully ease symptoms. Treatments include medications and electroconvulsive therapy (ECT).Understanding the risk factors and possible causes can help you be aware of early symptoms.

Depression in Pregnancy

Pregnancy is often an exciting time for people. However, it can still be common for a pregnant woman to experience depression.

Symptoms of depression during pregnancy include:
• Changes in appetite or eating habits
• Feeling hopeless
• Anxiety
• Losing interest in activities and things you previously enjoyed
• Persistent sadness
• Troubles concentrating or remembering
• Sleep problems, including insomnia or sleeping too much
• Thoughts of death or suicide

Treatment for depression during pregnancy may focus entirely on talk therapy and other natural treatments. While some women do take antidepressants during their pregnancy, it’s not clear which ones are the safest. Your healthcare provider may encourage you to try an alternative option until after the birth of your baby.

The risks for depression can continue after the baby arrives. Postpartum depression, which is also called major depressive disorder with post-partum onset, is a serious concern for new mothers. Recognizing the symptoms may help you spot a problem and seek help before it becomes overwhelming.

Depression and Alcohol

Research has established a link between alcohol use and depression. People who have depression are more likely to misuse alcohol. Out of the 20.2 million U.S. adults who experienced a substance use disorder, about 40 percent had a co-occurring mental illness.

According to a 2012 study, 63.8% of people who are alcohol dependent have depression. Drinking alcohol frequently can make symptoms of depression worse, and people who have depression are more likely to misuse alcohol or become dependent on it.

Management of Depression

Depressed mood may not require professional treatment, and may be a normal temporary reaction to life events, a symptom of some medical condition, or a side effect of some drugs or medical treatments. A prolonged depressed mood, especially in combination with other symptoms, may lead to a diagnosis of a psychiatric or medical condition which may benefit from treatment. The UK National Institute for Health and Care Excellence (NICE) 2009 guidelines indicate that antidepressants should not be routinely used for the initial treatment of mild depression, because the risk-benefit ratio is poor. Physical activity can have a protective effect against the emergence of depression.

Physical activity can also decrease depressive symptoms due to the release of neurotrophic proteins in the brain that can help to rebuild the hippocampus that may be reduced due to depression. Also yoga could be considered an ancillary treatment option for patients with depressive disorders and individuals with elevated levels of depression.

Reminiscence of old and fond memories is another alternative form of treatment, especially for the elderly who have lived longer and have more experiences in life. It is a method that causes a person to recollect memories of their own life, leading to a process of self-recognition and identifying familiar stimuli. By maintaining one's personal past and identity, it is a technique that stimulates people to view their lives in a more objective and balanced way, causing them to pay attention to positive information in their life stories, which would successfully reduce depressive mood levels.

Outlook for Depression

Depression can be temporary, or it can be a long-term challenge. Treatment does not always make your depression go away completely. However, treatment often makes symptoms more manageable. Managing symptoms of depression involves finding the right combination of medications and therapies.

If one treatment does not work, talk with your healthcare provider. They can help you create a different treatment plan that may work better in helping you manage your condition.



The above essentials are available with AFDSHIELD.
AFDShield capsule is a combination of 12 natural ingredients among which are Algal DHA, Ashwagandha, Curcumin and Spirullina. AFD Shield reduces TG, increases HDL and improves age related cognitive decline. It also reduces stress and anxiety and performs anti-aging activity.Moreover, it also enhances the immunomodulatory activity, improves immunity and reduces inflammation and oxidative stress. Nutralogicx: AFDShield

डिप्रेशन के लक्षण और इलाज

प्रत्येक व्यक्ति अपने जीवन में कभी न कभी दुःख और दुःख का अनुभव करता है। अधिकांश लोगों के लिए, ये लक्षण अप्रिय या तनावपूर्ण घटनाओं के लिए पूरी तरह से सामान्य उत्तेजना हैं जो वे अनुभव करते हैं जैसे कि रोमांटिक रिश्ते विफलता या वित्तीय मुद्दे। उदासी, दर्द, अकेलापन और ईर्ष्या जैसी नकारात्मक भावनाएं आमतौर पर दर्दनाक और भारी होती हैं, लेकिन जैसे-जैसे समय बीतता है, वे कम तीव्र होते जाते हैं और गायब हो जाते हैं। हालाँकि, यदि ये भावनाएँ बनी रहती हैं, तो वे लोगों के जीवन को काफी हद तक प्रभावित कर सकती हैं और अवसाद का कारण बन सकती हैं। अवसाद किसी व्यक्ति की सोच या भावनाओं को बदल सकता है और उसके सामाजिक व्यवहार और शारीरिक कल्याण की भावना को प्रभावित कर सकता है। यह छोटे बच्चों और किशोरों सहित किसी भी आयु वर्ग के लोगों को प्रभावित करता है। पुरुषों की तुलना में महिलाएं और बुजुर्ग अधिक प्रभावित होते हैं।

अवसाद

डिप्रेशन क्या है?

डिप्रेशन एक मूड डिसऑर्डर है। इसे उदासी, हानि या क्रोध की भावना भी कहा जाता है जो किसी व्यक्ति की दैनिक गतिविधियों में हस्तक्षेप करती है। अवसाद में आमतौर पर उदासी और रुचि की हानि की लगातार भावना शामिल होती है। यह मूड के उतार-चढ़ाव से अलग है जिसे लोग नियमित रूप से जीवन के एक हिस्से के रूप में अनुभव करते हैं।

लोग अलग-अलग तरीकों से अवसाद का अनुभव करते हैं। यह आपके दैनिक कार्य में हस्तक्षेप करता है, जिसके परिणामस्वरूप समय और उत्पादकता की हानि होती है। यह रिश्तों और कुछ पुरानी स्वास्थ्य स्थितियों को भी प्रभावित करता है।

अवसाद के कारण बदतर होने वाली स्थितियां इस प्रकार हैं:
• गठिया
• अस्थमा
• हृदय रोग
• कैंसर
• मधुमेह
• मोटापा

यह महसूस करना आवश्यक है कि कभी-कभी निराश होना जीवन का एक सामान्य हिस्सा है। दुखद और विचलित करने वाली घटनाएँ सभी के साथ घटित होती हैं। हालाँकि, यदि आप नियमित रूप से निराश, निराश या उदास महसूस कर रहे हैं, तो आप अवसाद से पीड़ित हो सकते हैं।

अवसाद गंभीर चिकित्सा स्थितियों में से एक है जो सही समय पर उचित उपचार प्रदान नहीं करने पर खराब हो सकती है। जो लोग इलाज चाहते हैं वे अक्सर कुछ ही हफ्तों में अवसाद के लक्षणों में सुधार देखते हैं। शुरुआती संकेत यदि तनाव जो आगे चलकर अवसाद का कारण बन सकता है, उसे सरल स्व-देखभाल युक्तियों का उपयोग करके कम किया जा सकता है जैसे कि गर्म स्नान करना, अपने परिवार और दोस्तों के साथ समय बिताना, कोई शौक करना जिससे आप प्यार करते हैं, आदि। अधिक जानने के लिए: तनाव को कैसे प्रबंधित करें

कुछ अध्ययनों के अनुसार, किसी भी वर्ष में अवसाद 15 वयस्कों (6.7%) में से एक को प्रभावित करता है। इसके अलावा, छह में से एक व्यक्ति (16.6%) अपने जीवन में कभी न कभी अवसाद का अनुभव करता है। अवसाद किसी भी समय हो सकता है, लेकिन औसतन, यह पहली बार किशोरावस्था के अंत से 20 के दशक के मध्य तक प्रकट होता है। पुरुषों की तुलना में महिलाओं में अवसाद का अनुभव होने की संभावना अधिक होती है। कुछ अध्ययनों से पता चलता है कि एक तिहाई महिलाएं अपने जीवनकाल में एक प्रमुख अवसादग्रस्तता प्रकरण का अनुभव करती हैं। जब माता-पिता, बच्चे और भाई-बहन जैसे फर्स्ट-डिग्री रिश्तेदार अवसाद से पीड़ित होते हैं, तो लगभग 40% अवसाद होने की संभावना अधिक होती है।

शून्यता

डिप्रेशन के लक्षण

डिप्रेशन के कई लक्षण हो सकते हैं, कुछ आपके मूड को प्रभावित करते हैं और कुछ शरीर को प्रभावित करते हैं। अवसाद के कुछ सामान्य लक्षण इस प्रकार हैं:

1. उदासी, निराशा, बेकारता, या खालीपन की लगातार भावनाएं। आप आमतौर पर ज्यादातर समय नीचे महसूस करते हैं।

2. गतिविधियों में रुचि का नुकसान—यहां तक ​​कि उन चीजों में भी जिन्हें आप पसंद करते थे। यह ऐसा है जैसे आप सिर्फ प्रेरणा खो देते हैं और उदासीन महसूस करते हैं।

3. सोने या अधिक सोने में परेशानी। आपको सोने, सोते रहने या बिस्तर से उठने में मुश्किल होती है। हम सामयिक स्नूज़ हिटिंग की बात नहीं कर रहे हैं; यह ऐसा है जैसे आपका शरीर 50 पौंड भारित कंबल में ढका हुआ है और आप बिस्तर से बाहर नहीं निकल सकते हैं।

4. भूख या वजन में बदलाव। आप अधिक खा रहे हैं, अपनी भूख कम कर रहे हैं, या बिना डाइटिंग के महत्वपूर्ण वजन बढ़ने या हानि का अनुभव कर रहे हैं (आपके वजन का लगभग 20 प्रतिशत)। कभी-कभी लोगों को खाने से थोड़ी जल्दी हो जाती है और इसलिए वे उस लिफ्ट की तलाश करते हैं और इससे अधिक भोजन होता है; दूसरी बार हालांकि आपको बिल्कुल भी भूख नहीं लग सकती है।

5. थकान या ऊर्जा में कमी। आप हर समय थका हुआ महसूस करते हैं, या आपको ऐसा लगता है कि आप सोफे पर या बिस्तर पर दिन बिता सकते हैं।

6. स्पष्ट रूप से या जल्दी से सोचने, विवरण याद रखने, ध्यान केंद्रित करने या निर्णय लेने में कठिनाई। आप विचलित महसूस करते हैं और ध्यान केंद्रित करना असंभव लगता है।

7. चिड़चिड़ापन, निराशा या निराशावाद। आपका मूड और हेडस्पेस ज्यादातर समय नकारात्मक महसूस होता है।

8. शारीरिक दर्द और पीड़ा। आपको सिरदर्द, पेट दर्द या गर्दन में तनाव हो सकता है।

9. मृत्यु या आत्महत्या के बार-बार विचार, वास्तव में ऐसा करने की योजना के साथ या उसके बिना।.

डिप्रेशन के लक्षण

पुरुषों, महिलाओं और बच्चों में अवसाद के लक्षण अलग-अलग होते हैं।

1. महिलाओं में
रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र (सीडीसी) के अनुसार, महिलाओं में पुरुषों की तुलना में अवसाद लगभग दोगुना है।

नीचे अवसाद के कुछ लक्षण दिए गए हैं जो महिलाओं में अधिक बार प्रकट होते हैं:
• चिड़चिड़ापन
• चिंता
• मिजाज
• थकान
• जुगाली करना (नकारात्मक विचारों में रहना )
• प्रसवोत्तर अवसाद
• मासिक धर्म से पहले बेचैनी की समस्या


2. पुरुषों में

अमेरिकन साइकोलॉजिकल एसोसिएशन के अनुसार, अमेरिका में लगभग 9% पुरुष अवसाद और चिंता से ग्रस्त हैं।

अवसाद से ग्रस्त पुरुष अधिक मात्रा में शराब पीते हैं, क्रोध प्रदर्शित करते हैं और विकार के कारण जोखिम लेने में संलग्न होते हैं।

पुरुषों में अवसाद के अन्य लक्षण इस प्रकार हैं:
• परिवारों और सामाजिक स्थितियों से बचना
• बिना ब्रेक के काम करना
• काम और पारिवारिक जिम्मेदारियों को निभाने में कठिनाई होना
• रिश्तों में अपमानजनक या नियंत्रित व्यवहार दिखाना


3. कॉलेज के छात्रों में

समय तनावपूर्ण हो सकता है और एक व्यक्ति पहली बार अन्य जीवन शैली, संस्कृतियों और अनुभवों के साथ व्यवहार कर रहा होगा।

कुछ छात्रों को इन परिवर्तनों से निपटने में कठिनाई का सामना करना पड़ता है, और परिणामस्वरूप वे अवसाद, चिंता या दोनों विकसित कर सकते हैं।

कॉलेज के छात्रों में अवसाद के लक्षण इस प्रकार हैं:
• स्कूल के काम पर ध्यान केंद्रित करने में कठिनाई
• अनिद्रा
• बहुत अधिक सोना
• भूख में कमी या वृद्धि
• उन सामाजिक परिस्थितियों और गतिविधियों से बचना जिनका वे आनंद लेते थे


4. किशोरावस्था में

शारीरिक परिवर्तन, साथियों का दबाव, और अन्य कारक किशोरों में अवसाद में योगदान कर सकते हैं।

वे अवसाद के निम्नलिखित लक्षणों में से कुछ का अनुभव कर सकते हैं:
• मित्रों और परिवार से दूर हो जाना
• स्कूल के काम पर ध्यान केंद्रित करने में कठिनाई
• दोषी, असहाय, या बेकार महसूस करना
• बेचैनी, जैसे स्थिर बैठने में असमर्थताbr>

5. बच्चों में

सीडीसी का अनुमान है कि, अमेरिका में, 3-17 आयु वर्ग के 3.2% बच्चे और किशोर अवसाद से पीड़ित हैं।

बच्चों में, अवसाद के लक्षण स्कूली कार्य और सामाजिक गतिविधियों को चुनौतीपूर्ण बना सकते हैं। वे अवसाद के लक्षणों का अनुभव कर सकते हैं जैसे:
• रोना
• कम ऊर्जा
• अकड़ना
• उद्दंड व्यवहार
• मुखर विस्फोट

जैसा कि छोटे बच्चों को शब्दों में अपनी भावनाओं को व्यक्त करने में कठिनाई होती है, इससे उनके लिए अपनी उदासी की भावनाओं को समझाना कठिन हो जाता है।

अवसाद कैसा दिखता है?

अवसाद अलग-अलग उम्र और लिंग को अलग-अलग तरीकों से प्रभावित करता है:

महिलाओं में चिंता करने, उस पर ध्यान देने या नकारात्मक भावनाओं को फिर से व्यक्त करने की संभावना अधिक होती है। इसमें नकारात्मक आत्म-चर्चा, अचानक रोने के मंत्र, अपराधबोध की भावना या खुद को दोष देना शामिल है। चिंता विकार के साथ-साथ महिलाओं में भी अवसाद होने की संभावना अधिक होती है, जैसे पैनिक डिसऑर्डर, ईटिंग डिसऑर्डर या जुनूनी-बाध्यकारी व्यवहार।

• अवसाद से ग्रस्त पुरुषों में चिड़चिड़ापन, क्रोध, उदासीनता, पलायनवादी व्यवहार जैसे कि काम पर अधिक समय बिताना, या लापरवाह व्यवहार जैसे शराब या अन्य पदार्थों का दुरुपयोग करने के लक्षण दिखने की संभावना अधिक होती है।

युवा अवसाद और एमडीडी से जूझ सकते हैं। बच्चे और किशोर अतिसंवेदनशीलता, सामाजिक वापसी, खराब स्कूल प्रदर्शन, बार-बार शारीरिक शिकायतें, या अक्षमता और निराशा की भावना दिखाते हैं जैसे कि वे कुछ भी सही नहीं कर सकते हैं या सब कुछ उनकी गलती है।

वृद्ध वयस्कों को अक्सर अवसाद के लिए गलत निदान या इलाज किया जाता है क्योंकि उनके लक्षणों को अन्य विकारों के लिए गलत माना जा सकता है, उदाहरण के लिए, अवसाद के कारण भ्रम या स्मृति समस्याएं अल्जाइमर रोग की तरह लग सकती हैं, या वे मान सकते हैं कि उनकी भावनाएं उम्र बढ़ने का एक अनिवार्य हिस्सा हैं। कई लोगों के लिए, उदासी अवसाद का सबसे बड़ा संकेतक नहीं है; इसके बजाय, शारीरिक शिकायतें जैसे दर्द और दर्द, बिगड़ते सिरदर्द अक्सर प्रमुख लक्षण होते हैं। नींद की परेशानी, कम प्रेरणा, व्यक्तिगत देखभाल या स्वच्छता की उपेक्षा, और मृत्यु का निर्धारण वृद्ध वयस्कों में अवसाद के अन्य लक्षण हैं।

अवसाद के कारण

अवसाद की शुरुआत का कोई एक कारण नहीं है क्योंकि आनुवंशिक, जैविक, पर्यावरणीय और मनोवैज्ञानिक कारकों का संयोजन सभी एक भूमिका निभाते हैं। इनमें शामिल हैं:

1. मस्तिष्क की शारीरिक संरचना या रसायन विज्ञान : अवसाद से ग्रस्त कुछ लोगों में, मस्तिष्क स्कैन एक छोटे हिप्पोकैम्पस का संकेत देते हैं, जो दीर्घकालिक स्मृति में भूमिका निभाता है। शोध से पता चलता है कि तनाव के लगातार संपर्क में रहने से मस्तिष्क के इस हिस्से में तंत्रिका कोशिकाओं की वृद्धि बाधित हो सकती है।

2. सेरोटोनिन का स्तर संतुलन से बाहर है: यहां एक और चीज है जो मस्तिष्क में चल रही है जो जुड़ा हो सकता है, सेरोटोनिन रिसेप्टर्स बिना किसी अवसाद के किसी की तुलना में अलग तरह से कार्य करते हैं। यही कारण है कि कुछ उपचार दवाएं सेरोटोनिन के साथ काम करती हैं।

3. परिवार में अवसाद का इतिहास: एमडीडी वाले माता-पिता या भाई-बहन वाले किसी व्यक्ति में औसत व्यक्ति (या 20-30% बनाम 10%) की तुलना में अवसाद विकसित होने का जोखिम दो या तीन गुना अधिक होता है।

4. आनुवंशिक कोड अलग है: जब आप पैदा होते हैं, तो आपको प्रत्येक माता-पिता से एक छोटा या लंबा जीन मिलता है। इन्हें एलील कहा जाता है। यह पता चला है कि एक या एक से अधिक छोटे होने का संबंध कुछ बुरा होने पर उदास होने की ओर अधिक झुकाव से होता है।

5. अन्य विकारों या समवर्ती मानसिक स्वास्थ्य स्थितियों का इतिहास : अभिघातज के बाद का तनाव, मादक द्रव्यों के सेवन संबंधी विकार और सीखने की अक्षमता आमतौर पर अवसाद से जुड़ी होती है या बनी रह सकती है। चिंता एक बड़ी समस्या है: अवसाद से ग्रस्त 50% लोगों में चिंता विकार भी होता है।

6. तनावपूर्ण या प्रमुख जीवन की घटनाएं : दुर्व्यवहार, वित्तीय मुद्दे, किसी प्रियजन की मृत्यु, नौकरी छूटना - ये सभी स्थितियां अवसाद को ट्रिगर कर सकती हैं। हालाँकि, सकारात्मक घटनाएँ जैसे कोई बड़ा कदम, शादी करना, स्नातक होना या सेवानिवृत्त होना भी आपको उदास महसूस करा सकता है। एक के लिए ये घटनाएं आपकी दिनचर्या को बदल देती हैं, लेकिन वे भावनाओं को भी ट्रिगर कर सकती हैं कि सफलता या खुशी का अवसर जो भी हो, वह योग्य नहीं है।

7. हॉर्मोन में बदलाव : मासिक धर्म चक्र, गर्भावस्था और बच्चे को जन्म देने से अवसाद की समस्या हो सकती है।

8. कुछ शारीरिक स्थितियां: पुराने दर्द या सिरदर्द की तरह, अवसाद के साथ-या हो सकता है-अवसाद के साथ संबंध दिखाएं।

9. कुछ दवाएं: नींद की सहायता और रक्तचाप की दवा की तरह अवसाद के लक्षण हो सकते हैं।

10. लिंग: पुरुषों की तुलना में महिलाओं के उदास होने की संभावना लगभग दोगुनी होती है। किसी को यकीन नहीं है कि क्यों। महिलाएं अपने जीवन के अलग-अलग समय में जिन हार्मोनल परिवर्तनों से गुजरती हैं, वे एक भूमिका निभा सकते हैं।

11. अन्य व्यक्तिगत समस्याएं : अन्य मानसिक बीमारियों के कारण सामाजिक अलगाव या परिवार या सामाजिक समूह से निकाले जाने जैसी समस्याएं विकास के जोखिम में योगदान कर सकती हैं। नैदानिक ​​अवसाद।.

12. मादक द्रव्यों का सेवन : मादक द्रव्यों के सेवन की समस्या वाले लगभग 30% लोगों में प्रमुख या नैदानिक ​​अवसाद भी होता है। यहां तक ​​​​कि अगर ड्रग्स या अल्कोहल अस्थायी रूप से आपको बेहतर महसूस कराता है, तो वे अंततः अवसाद को बढ़ा देंगे।

अवसाद के कारण

डिप्रेशन के प्रकार

डिप्रेशन के प्रकार

अवसाद के प्रमुख प्रकार इस प्रकार हैं:

1. प्रमुख अवसाद क्लासिक प्रकार का अवसाद है और जिसे एमडीडी के रूप में निदान या लेबल किया जाता है (इसे एकध्रुवीय अवसाद के रूप में भी जाना जाता है)। मेजर डिप्रेशन से पीड़ित व्यक्ति लगातार उदासी की स्थिति का अनुभव करता है। वे उन गतिविधियों में रुचि खो देते हैं जिनका वे आनंद लेते थे। मेजर डिप्रेशन से पीड़ित लोगों में ज्यादातर दिन डिप्रेशन के लक्षण दिखाई देते हैं।

2. सीजनल अफेक्टिव डिसऑर्डर वर्ष के विशेष मौसमों के दौरान उभरता है - आमतौर पर सर्दी - कम प्राकृतिक धूप के कारण।

3. एटिपिकल डिप्रेशन का सबसे बड़ा अंतर मूड रिएक्टिविटी है इस प्रकार के डिप्रेशन से पीड़ित लोग अपने मूड में सुधार महसूस कर सकते हैं जब उनके आसपास कुछ सकारात्मक होता है।

4. द्विध्रुवी विकार को उन्मत्त अवसाद कहा जाता था और इसमें अवसाद के एपिसोड और अत्यधिक उच्च ऊर्जा के बीच बारी-बारी से शामिल होता है।

5. मानसिक अवसाद तब होता है जब कोई व्यक्ति अवसादग्रस्तता के प्रकरणों को इतनी गंभीर रूप से अनुभव करता है कि वे झूठे निश्चित विश्वास (भ्रम), सुनने, या ऐसी चीजें देखने लगते हैं जो अन्य लोग सुन या देख नहीं सकते (मतिभ्रम)।

6. प्रसवोत्तर अवसाद जन्म देने के बाद होता है। माताएं अपने नए बच्चे से अलग महसूस कर सकती हैं या डर सकती हैं कि वे अपने बच्चे को चोट पहुंचा सकती हैं।

7. प्रीमेंस्ट्रुअल डिस्फोरिक डिसऑर्डर एक गंभीर प्रकार का डिप्रेशन है जो मासिक धर्म चक्र के दूसरे भाग के दौरान दिखाई देता है।

8. स्थितिजन्य अवसाद, या समायोजन विकार, अवसाद को संदर्भित करता है जो एक महत्वपूर्ण जीवन-परिवर्तनकारी घटना से उत्पन्न होता है।

9. परसिस्टेंट डिप्रेसिव डिसऑर्डर को पहले डिस्टीमिया कहा जाता था। यह अवसाद का एक पुराना रूप है - आमतौर पर हल्के लक्षणों के साथ - जिसमें एक प्रकरण लंबी अवधि के लिए, कभी-कभी दो साल या उससे अधिक समय तक रहता है। इसे महसूस करने के रूप में वर्णित किया जा सकता है जैसे कि आप ऑटोपायलट पर रह रहे हैं।

अवसाद के उपाय

भावनात्मक विकार के रूप में अवसाद के उपायों में शामिल हैं, लेकिन इन तक सीमित नहीं हैं: बेक डिप्रेशन इन्वेंटरी-11 और रोगी स्वास्थ्य प्रश्नावली (पीएचक्यू-9) में 9-आइटम डिप्रेशन स्केल। ये दोनों उपाय मनोवैज्ञानिक परीक्षण हैं जो प्रतिभागी के व्यक्तिगत प्रश्न पूछते हैं, और ज्यादातर अवसाद की गंभीरता को मापने के लिए उपयोग किए जाते हैं। बेक डिप्रेशन इन्वेंटरी (बीडीआई) एक स्व-रिपोर्ट पैमाना है जो एक चिकित्सक को अवसाद के लक्षणों के पैटर्न की पहचान करने और वसूली की निगरानी करने में मदद करता है। इस पैमाने पर प्रतिक्रियाओं पर चर्चा की जा सकती है चिकित्सा में अवसाद के सबसे परेशान लक्षणों के लिए हस्तक्षेप तैयार करने के लिए। हालांकि, कई अध्ययनों ने इन उपायों का उपयोग स्वस्थ व्यक्तियों को भी निर्धारित करने के लिए किया है जो मानसिक विकार के रूप में अवसाद से पीड़ित नहीं हैं, बल्कि एक सामयिक मनोदशा विकार के रूप में हैं। यह इस तथ्य से प्रमाणित होता है कि एक भावनात्मक विकार के रूप में अवसाद न्यूनतम अवसाद और मानसिक विकारों के निम्न स्तर जैसे प्रमुख अवसादग्रस्तता विकार के समान लक्षण प्रदर्शित करता है; इसलिए, शोधकर्ता एक ही उपाय का परस्पर उपयोग करने में सक्षम थे।

पैमाने के संदर्भ में, क्रमशः 0-13 और 0-4 के बीच स्कोर करने वाले प्रतिभागियों को स्वस्थ व्यक्ति माना जाता था। उदास मनोदशा का एक अन्य उपाय IWP मल्टी-इफेक्ट इंडिकेटर होगा। यह एक मनोवैज्ञानिक परीक्षण है जो विभिन्न भावनाओं, जैसे उत्साह और अवसाद को इंगित करता है, और पिछले सप्ताह में प्रतिभागियों द्वारा महसूस की गई भावनाओं की डिग्री के लिए पूछता है। ऐसे अध्ययन हैं जिन्होंने आईडब्ल्यूपी मल्टी-इफेक्ट इंडिकेटर से कम वस्तुओं का उपयोग किया है, जिसे बाद में भावनात्मक विकार के रूप में अवसाद के दैनिक स्तर को मापने के लिए दैनिक स्तर तक बढ़ाया गया था।

अवसाद का निदान

अवसाद अलग-अलग उम्र और लिंग को अलग-अलग तरीकों से प्रभावित करता है।

यदि किसी व्यक्ति को लगता है कि उसमें अवसाद के लक्षण हैं, तो उसे डॉक्टर या मानसिक स्वास्थ्य विशेषज्ञ से बात करनी चाहिए।

एक योग्य स्वास्थ्य पेशेवर विभिन्न कारणों को नियंत्रित करता है, एक सटीक निदान सुनिश्चित करता है, और सुरक्षित और प्रभावी उपचार प्रदान करता है।

वे लक्षणों के बारे में सवाल पूछेंगे, जैसे कि वे कितने समय से मौजूद हैं। एक डॉक्टर शारीरिक कारणों की जांच के लिए एक जांच भी करता है और अन्य स्वास्थ्य स्थितियों का पता लगाने के लिए रक्त परीक्षण के लिए कहता है।

मानसिक स्वास्थ्य पेशेवर अक्सर लोगों से उनके अवसाद की गंभीरता का आकलन करने में मदद करने के लिए प्रश्नावली को पूरा करने के लिए कहते हैं। हैमिल्टन डिप्रेशन रेटिंग स्केल में 21 प्रश्न हैं। स्कोर उन लोगों में अवसाद की गंभीरता का संकेत देते हैं जिनके पास पहले से ही निदान है। बेक डिप्रेशन इन्वेंटरी एक और प्रश्नावली है जो मानसिक स्वास्थ्य पेशेवरों को किसी व्यक्ति के लक्षणों को मापने में मदद करती है

अवसाद एक गंभीर मानसिक स्वास्थ्य बीमारी है जिसमें जटिलताओं की संभावना होती है। यदि अनुपचारित छोड़ दिया जाता है, तो यह जटिलताएं पैदा कर सकता है जैसे:
• वजन बढ़ना या कम होना
• शारीरिक दर्द
• मादक द्रव्यों के सेवन की समस्याएं
• घबराहट के दौरे
• रिश्ते की समस्याएं
• सामाजिक अलगाव
• आत्महत्या के विचार
• खुद को नुकसान पहुंचाना

डिप्रेशन का इलाज कैसे किया जाता है?

डिप्रेशन का इलाज

अवसाद मानसिक विकारों के सबसे अधिक उपचार योग्य में से एक है। लगभग 80% - 90% अवसाद से पीड़ित लोगों ने अंततः उपचार के लिए अच्छी प्रतिक्रिया दी है। लगभग सभी रोगियों को उनके लक्षणों से कुछ राहत मिलती है।

1. दवा

मस्तिष्क रसायन विज्ञान किसी व्यक्ति के अवसाद में योगदान दे सकता है और उनके उपचार में कारक हो सकता है। इस कारण से, किसी के मस्तिष्क रसायन को संशोधित करने में मदद करने के लिए एंटीडिपेंटेंट्स निर्धारित हैं। इन दवाओं में "अपर्स" या ट्रैंक्विलाइज़र शामिल हैं। वे आदत बनाने वाले नहीं हैं। एंटीडिप्रेसेंट पहले सप्ताह के भीतर कुछ सुधार कर सकते हैं या दो उपयोग के बाद भी पूर्ण लाभ दो से तीन महीने तक नहीं देखा जा सकता है। यदि कोई रोगी कई हफ्तों के बाद बहुत कम या कोई सुधार महसूस नहीं करता है, तो उसके मनोचिकित्सक द्वारा दवा की खुराक बदल दी जाती है और नए एंटीडिपेंटेंट्स जोड़े या प्रतिस्थापित किए जाते हैं। मनोचिकित्सक आमतौर पर सलाह देते हैं कि लक्षणों में सुधार होने के बाद रोगियों को छह या अधिक महीनों तक दवा लेना जारी रखना चाहिए।

2. मनोचिकित्सा

मनोचिकित्सा, या "टॉक थेरेपी", कभी-कभी हल्के अवसाद के इलाज के लिए अकेले प्रयोग किया जाता है; मध्यम से गंभीर अवसाद के लिए, मनोचिकित्सा का उपयोग अक्सर अवसादरोधी दवाओं के साथ किया जाता है। संज्ञानात्मक व्यवहार थेरेपी (सीबीटी) अवसाद के इलाज में बहुत प्रभावी है। सीबीटी चिकित्सा का एक रूप है जो वर्तमान में समस्या समाधान पर केंद्रित है। सीबीटी एक व्यक्ति को विकृत और नकारात्मक सोच को पहचानने में मदद करता है ताकि विचारों और व्यवहारों को बदलने के लक्ष्य के साथ चुनौतियों का अधिक सकारात्मक तरीके से जवाब दिया जा सके। मनोचिकित्सा में केवल व्यक्ति शामिल हो सकता है, लेकिन इसमें अन्य शामिल हो सकते हैं। उदाहरण के लिए, परिवार या युगल चिकित्सा इन करीबी रिश्तों के भीतर मुद्दों को हल करने में मदद कर सकती है। समूह चिकित्सा समान बीमारियों वाले लोगों को एक सहायक वातावरण में एक साथ लाती है, और प्रतिभागी को यह सीखने में सहायता कर सकती है कि अन्य समान परिस्थितियों में कैसे सामना करते हैं। अवसाद की गंभीरता के आधार पर, उपचार में कुछ सप्ताह या अधिक समय लग सकता है। कई मामलों में, 10 से 15 सत्रों में महत्वपूर्ण सुधार किया जा सकता है।

3. इलेक्ट्रोकोनवल्सिव थेरेपी (ईसीटी)

यह एक चिकित्सा उपचार है जो गंभीर प्रमुख अवसाद वाले रोगियों के लिए आरक्षित है जिन्होंने अन्य उपचारों का जवाब नहीं दिया है। इसमें मस्तिष्क की एक संक्षिप्त विद्युत उत्तेजना शामिल होती है, जबकि रोगी एनेस्थीसिया के अधीन होता है। एक मरीज को आम तौर पर कुल छह से 12 उपचारों के लिए सप्ताह में दो से तीन बार ईसीटी प्राप्त होता है। एक मनोचिकित्सक, एक एनेस्थिसियोलॉजिस्ट और एक नर्स या चिकित्सक सहायक सहित प्रशिक्षित चिकित्सा पेशेवरों की एक टीम आमतौर पर इसका प्रबंधन करती है। ईसीटी का उपयोग 1940 के दशक से किया जा रहा है, और कई वर्षों के शोध से बड़े सुधार हुए हैं और "अंतिम उपाय" उपचार के बजाय मुख्यधारा के रूप में इसकी प्रभावशीलता को मान्यता मिली है।

4. प्रकाश चिकित्सा

सफेद रोशनी की खुराक के संपर्क में आने से आपके मूड को नियंत्रित करने और अवसाद के लक्षणों में सुधार करने में मदद मिल सकती है। लाइट थेरेपी आमतौर पर मौसमी उत्तेजित विकार में प्रयोग की जाती है, जिसे अब मौसमी पैटर्न के साथ प्रमुख अवसादग्रस्तता विकार कहा जाता है।

5. व्यायाम

सप्ताह में 3 से 5 दिन 30 मिनट की शारीरिक गतिविधि का लक्ष्य रखें। व्यायाम आपके शरीर के एंडोर्फिन के उत्पादन को बढ़ा सकता है, जो हार्मोन हैं जो आपके मूड को बेहतर बनाते हैं। जिन्हें अवसाद है उन्हें भी एक चिंता विकार है।

6. शराब और नशीले पदार्थों से बचें मादक द्रव्यों का सेवन

मादक द्रव्यों का सेवन या दुरुपयोग आपको कुछ देर के लिए बेहतर महसूस करा सकता है। हालांकि, लंबे समय में, ये पदार्थ अवसाद और चिंता के लक्षणों को बदतर बना सकते हैं।

7. ना कहना सीखें

अभिभूत महसूस करना चिंता और अवसाद के लक्षणों को खराब कर सकता है। अपने पेशेवर और व्यक्तिगत जीवन में सीमाएं निर्धारित करने से आपको बेहतर महसूस करने में मदद मिल सकती है।

8. प्राकृतिक उपचार

प्राकृतिक उपचार जैसे हर्बल दवाओं का उपयोग हल्के से मध्यम अवसाद के इलाज के लिए किया जाता है। निम्नलिखित कुछ अधिक लोकप्रिय जड़ी-बूटियाँ और पौधे हैं जिनका उपयोग लोग अवसाद के इलाज के लिए करते हैं:

जिनसेंग: पारंपरिक चिकित्सा के चिकित्सक इसका उपयोग कर सकते हैं मानसिक स्पष्टता में सुधार और तनाव कम करें।

कैमोमाइल: इसमें फ्लेवोनोइड्स होते हैं जिनका एक अवसादरोधी प्रभाव हो सकता है।

लैवेंडर: यह चिंता और अनिद्रा को कम करने में मदद कर सकता है।

9. स्व-देखभाल तकनीक

कुछ स्व-देखभाल रणनीतियों जैसे कि उचित और स्वस्थ भोजन करना, कृतज्ञता दिखाना, अपनी पसंद की चीजें करना, जर्नल बनाए रखना, गर्म स्नान करना और मालिश करना भी अवसाद के लक्षणों का इलाज करने के लिए उपयोग किया जा सकता है। स्व-देखभाल रणनीतियों के बारे में अधिक जानने के लिए देखें: कैसे शुरू करें सेल्फ केयर रूटीन

10. पूरक

पूरक जो अवसाद के लक्षणों का इलाज करने में मदद करते हैं-

सेंट जॉन पौधा : अध्ययन मिश्रित होते हैं, लेकिन इस प्राकृतिक उपचार का उपयोग किया जाता है यूरोप एक अवसादरोधी दवा के रूप में। संयुक्त राज्य अमेरिका में, इसे समान स्वीकृति नहीं मिली है।

एस-एडेनोसिल-एल-मेथियोनीन (एसएएमई): इस यौगिक ने सीमित अध्ययनों में संभवतः अवसाद के लक्षणों को कम करने के लिए दिखाया है। चयनात्मक सेरोटोनिन रीपटेक इनहिबिटर (एसएसआरआई), एक प्रकार का पारंपरिक एंटीडिप्रेसेंट लेने वाले लोगों में प्रभाव सबसे अच्छा देखा गया।.

5-हाइड्रॉक्सिट्रिप्टोफैन : 5-हाइड्रॉक्सिट्रिप्टोफैन मस्तिष्क में सेरोटोनिन के स्तर को बढ़ा सकता है, जो लक्षणों को कम कर सकता है। जब आप प्रोटीन बिल्डिंग ब्लॉक ट्रिप्टोफैन का सेवन करते हैं तो आपका शरीर इस रसायन को बनाता है।

ओमेगा -3 फैटी एसिड: ये आवश्यक वसा तंत्रिका संबंधी विकास और मस्तिष्क स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण हैं। अपने आहार में ओमेगा -3 की खुराक शामिल करने से अवसाद के लक्षणों को कम करने में मदद मिल सकती है।

11. विटामिन

कई शारीरिक कार्यों के लिए विटामिन महत्वपूर्ण हैं। शोध बताते हैं कि अवसाद के लक्षणों को कम करने के लिए दो विटामिन विशेष रूप से उपयोगी होते हैं।

विटामिन बी: बी-12 और बी-6 मस्तिष्क स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण हैं। जब आपके विटामिन बी का स्तर कम होता है, तो आपके अवसाद के विकास का जोखिम अधिक हो सकता है। मैग्नीशियम के साथ विटामिन बी नसों को शांत करके तनाव के स्तर को कम करने में मदद करता है। विटामिन बी तनाव को कैसे कम करता है, इस बारे में अधिक जानने के लिए देखें: विटामिन-बी के साथ मैग्नीशियम

विटामिन डी: कभी-कभी सनशाइन विटामिन कहा जाता है क्योंकि सूर्य के संपर्क में आने से यह आपके शरीर को आपूर्ति करता है, विटामिन डी मस्तिष्क, हृदय और हड्डियों के स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण है। जो लोग अवसाद से पीड़ित हैं उनमें इस विटामिन के निम्न स्तर होने की संभावना अधिक होती है।

अवसाद और जुनूनी-बाध्यकारी विकार

जुनूनी-बाध्यकारी विकार (ओसीडी) एक प्रकार का चिंता विकार है। यह अवांछित और बार-बार आने वाले विचारों, आग्रहों और भय (जुनून) का कारण बनता है। ये डर आपको बार-बार व्यवहार या अनुष्ठान (मजबूरियां) करने के लिए प्रेरित करते हैं, जो आपको उम्मीद है कि जुनून के कारण तनाव कम हो जाएगा।

ओसीडी से पीड़ित लोग अक्सर खुद को जुनून और मजबूरियों के घेरे में पाते हैं। यदि आपके पास ये व्यवहार हैं, तो आप उनके कारण अलग-थलग महसूस कर सकते हैं। इससे दोस्तों और सामाजिक स्थितियों से वापसी हो सकती है, जिससे आपके अवसाद का खतरा बढ़ सकता है। ओसीडी वाले किसी व्यक्ति के लिए भी अवसाद होना आम बात है। एक चिंता विकार होने से दूसरे होने की संभावना बढ़ सकती है। ओसीडी वाले 80% लोगों में भी प्रमुख अवसाद होता है।

यह दोहरा निदान बच्चों के लिए भी चिंता का विषय है। उनके बाध्यकारी व्यवहार, जो पहली बार कम उम्र में विकसित हो सकते हैं, उन्हें असामान्य महसूस करा सकते हैं। इससे दोस्तों से दूर हो सकते हैं और बच्चे में अवसाद विकसित होने की संभावना बढ़ सकती है।

मनोविकृति के साथ अवसाद

कुछ व्यक्ति जिन्हें प्रमुख अवसाद का निदान किया गया है, उनमें मनोविकृति नामक एक अन्य मानसिक विकार के लक्षण भी हो सकते हैं। जब दोनों स्थितियां एक साथ होती हैं, तो इसे अवसादग्रस्तता मनोविकृति के रूप में जाना जाता है। अवसादग्रस्तता मनोविकृति लोगों को उन चीजों को देखने, सुनने, विश्वास करने या सूंघने का कारण बनती है जो वास्तविक नहीं हैं। इस स्थिति वाले लोग उदासी, निराशा और चिड़चिड़ापन की भावनाओं का भी अनुभव कर सकते हैं।

दो स्थितियों का संयोजन विशेष रूप से खतरनाक है। ऐसा इसलिए है क्योंकि अवसादग्रस्त मनोविकृति वाले व्यक्ति को ऐसे भ्रम का अनुभव हो सकता है जिसके कारण उसके मन में आत्महत्या करने या असामान्य जोखिम उठाने का विचार आता है। यह स्पष्ट नहीं है कि इन दो स्थितियों का क्या कारण है या वे एक साथ क्यों हो सकते हैं, लेकिन उपचार लक्षणों को सफलतापूर्वक कम कर सकता है। उपचार में दवाएं और इलेक्ट्रोकोनवल्सिव थेरेपी (ईसीटी) शामिल हैं। जोखिम कारकों और संभावित कारणों को समझने से आपको शुरुआती लक्षणों से अवगत होने में मदद मिल सकती है।

गर्भावस्था में अवसाद

गर्भावस्था अक्सर लोगों के लिए एक रोमांचक समय होता है। हालांकि, गर्भवती महिला के लिए अवसाद का अनुभव करना अभी भी सामान्य हो सकता है।

गर्भावस्था के दौरान अवसाद के लक्षणों में शामिल हैं:
• भूख या खाने की आदतों में परिवर्तन
• निराशाजनक महसूस करना
• चिंता
• गतिविधियों और उन चीजों में रुचि खोना जो आपने पहले आनंद लिया था
• लगातार उदासी
• ध्यान केंद्रित करने या याद रखने में परेशानी
• नींद की समस्या, अनिद्रा या बहुत अधिक नींद सहित
• के विचार मौत या आत्महत्या

गर्भावस्था के दौरान अवसाद का उपचार पूरी तरह से टॉक थेरेपी और अन्य प्राकृतिक उपचारों पर केंद्रित हो सकता है। जबकि कुछ महिलाएं अपनी गर्भावस्था के दौरान एंटीडिप्रेसेंट लेती हैं, यह स्पष्ट नहीं है कि कौन सी दवाएं सबसे सुरक्षित हैं। आपका स्वास्थ्य सेवा प्रदाता आपको अपने बच्चे के जन्म के बाद तक वैकल्पिक विकल्प का प्रयास करने के लिए प्रोत्साहित कर सकता है।

बच्चे के आने के बाद भी अवसाद का खतरा बना रह सकता है। प्रसवोत्तर अवसाद, जिसे प्रसवोत्तर शुरुआत के साथ प्रमुख अवसादग्रस्तता विकार भी कहा जाता है, नई माताओं के लिए एक गंभीर चिंता का विषय है। लक्षणों को पहचानने से आपको समस्या का पता लगाने में मदद मिल सकती है और इससे पहले कि यह भारी हो जाए, मदद लें।

अवसाद और शराब

अनुसंधान ने शराब के उपयोग और अवसाद के बीच एक कड़ी स्थापित की है। जिन लोगों को डिप्रेशन होता है उनमें शराब का दुरुपयोग करने की संभावना अधिक होती है। पदार्थ उपयोग विकार का अनुभव करने वाले 20.2 मिलियन अमेरिकी वयस्कों में से लगभग 40 प्रतिशत को सह-होने वाली मानसिक बीमारी थी।

2012 के एक अध्ययन के अनुसार, शराब पर निर्भर 63.8% लोग अवसाद से ग्रस्त हैं। बार-बार शराब पीने से अवसाद के लक्षण बदतर हो सकते हैं, और जिन लोगों को अवसाद है, उनके शराब का दुरुपयोग करने या उस पर निर्भर होने की अधिक संभावना है।

अवसाद का प्रबंधन

उदास मनोदशा को पेशेवर उपचार की आवश्यकता नहीं हो सकती है, और यह जीवन की घटनाओं के लिए एक सामान्य अस्थायी प्रतिक्रिया हो सकती है, कुछ चिकित्सा स्थिति का लक्षण या कुछ दवाओं या चिकित्सा उपचारों का दुष्प्रभाव हो सकता है। लंबे समय तक उदास मनोदशा, विशेष रूप से अन्य लक्षणों के संयोजन में, एक मनोरोग या चिकित्सा स्थिति का निदान हो सकता है जो उपचार से लाभान्वित हो सकता है। यूके नेशनल इंस्टीट्यूट फॉर हेल्थ एंड केयर एक्सीलेंस (एनआईसीई) 2009 के दिशानिर्देशों से संकेत मिलता है कि हल्के अवसाद के प्रारंभिक उपचार के लिए एंटीडिपेंटेंट्स का नियमित रूप से उपयोग नहीं किया जाना चाहिए, क्योंकि जोखिम-लाभ अनुपात खराब है। अवसाद के उद्भव के खिलाफ शारीरिक गतिविधि का सुरक्षात्मक प्रभाव हो सकता है।

मस्तिष्क में न्यूरोट्रॉफिक प्रोटीन की रिहाई के कारण शारीरिक गतिविधि भी अवसादग्रस्तता के लक्षणों को कम कर सकती है जो हिप्पोकैम्पस के पुनर्निर्माण में मदद कर सकता है जो अवसाद के कारण कम हो सकता है। साथ ही योग को अवसादग्रस्तता विकारों वाले रोगियों और अवसाद के ऊंचे स्तर वाले व्यक्तियों के लिए एक सहायक उपचार विकल्प माना जा सकता है।

पुरानी और प्यारी यादों का स्मरण उपचार का एक और वैकल्पिक रूप है, खासकर उन बुजुर्गों के लिए जो लंबे समय तक जीवित रहे हैं और जीवन में अधिक अनुभव रखते हैं। यह एक ऐसी विधि है जो व्यक्ति को अपने स्वयं के जीवन की यादों को याद करने का कारण बनती है, जिससे आत्म-पहचान की प्रक्रिया होती है और परिचित उत्तेजनाओं की पहचान होती है। अपने व्यक्तिगत अतीत और पहचान को बनाए रखते हुए, यह एक ऐसी तकनीक है जो लोगों को अपने जीवन को अधिक उद्देश्यपूर्ण और संतुलित तरीके से देखने के लिए प्रेरित करती है, जिससे वे अपने जीवन की कहानियों में सकारात्मक जानकारी पर ध्यान देते हैं, जो अवसादग्रस्त मनोदशा के स्तर को सफलतापूर्वक कम कर देगा।

अवसाद के लिए आउटलुक

अवसाद अस्थायी हो सकता है, या यह एक दीर्घकालिक चुनौती हो सकती है। उपचार हमेशा आपके अवसाद को पूरी तरह से दूर नहीं करता है। हालांकि, उपचार अक्सर लक्षणों को अधिक प्रबंधनीय बनाता है। अवसाद के लक्षणों के प्रबंधन में दवाओं और उपचारों का सही संयोजन खोजना शामिल है।

यदि एक उपचार काम नहीं करता है, तो अपने स्वास्थ्य सेवा प्रदाता से बात करें। वे एक अलग उपचार योजना बनाने में आपकी मदद कर सकते हैं जो आपकी स्थिति को प्रबंधित करने में आपकी मदद करने में बेहतर काम कर सकती है।




उपर ब्लॉग में बताई गई उपलब्धिया AFDSHIELD के साथ उपलब्ध हैं
एएफडीशील्ड कैप्सूल 12 प्राकृतिक अवयवों का एक संयोजन है जिनमें से अलगल डीएचए, अश्वगंधा, करक्यूमिन और स्पिरुलिना हैं। एएफडी शील्ड टीजी को कम करता है, एचडीएल बढ़ाता है और उम्र से संबंधित संज्ञानात्मक गिरावट में सुधार करता है। यह तनाव और चिंता को भी कम करता है और एंटी-एजिंग गतिविधि करता है। इसके अलावा, यह इम्युनोमॉड्यूलेटरी गतिविधि को बढ़ाता है, प्रतिरक्षा में सुधार करता है और सूजन और ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करता है। न्यूट्रोग्लिग्क्स: एएफडीशील्ड

AFDIL Ltd.
+91 9920121021

order@afdil.com

Read Also:


Disclaimer
Home