Signs And Symptoms Of Liver Disease

The liver is an organ about the size of a football. It sits simply under your rib confine on the correct side of your midsection. The liver is fundamental for processing food and removing poisonous substances.
Your liver is a significant organ that performs many tasks related to digestion, energy storage, and detoxification of waste. It assists you with processing food, convert it to energy, and store the energy until you need it. It likewise helps sift harmful substances through of your circulatory system.
Liver infection is an overall term that refers to any condition influencing your liver. These conditions may produce for various reasons, yet they would all be able to harm your liver and effect its capacity.
Over the long run, conditions that harm the liver can prompt scarring (cirrhosis), which can prompt liver disappointment, a hazardous condition. In any case, early treatment may give the liver opportunity to mend.

SIGNS AND SYMPTOMS OF LIVER DISEASES

The liver is an imperative organ of the body as it upholds a few significant capacities like absorption and transformation of food to energy. It is likewise critical to store energy as a fuel to be utilized during starvation or over the top interest for energy. The liver likewise goes about as a huge channel eliminating harmful substances from the body. Liver infection or harm to the liver can impact every one of these capacities and can bring about genuine medical problems. Hence, it is imperative to distinguish the damage early with the goal that vital advances can be taken to treat the harm. The harm brought about by certain conditions like cirrhosis is irreversible in the event that it isn't recognized early yet the vast majority of the conditions can be dealt with early finding. There are many signs of liver disease which helps us to identify such diseases.
Symptoms and signs of liver disease are as follows:
• Yellowing of skin, also called as Jaundice
• Uneasiness
• Vomiting
• Urine develops a dark yellow colouration
• Stools look pale, bloody or black (tarlike)
• Swollen ankles, legs, or abdomen
• Less appetite
• Persistent fatigue
• Itchiness
• Unusual bruising

Signs and symptoms of Hepatitis

Here is the disadvantage that hepatitis virus stays dormant in the body so the symptoms may not be visible for years. The initial symptom is flue but later the signs of liver disease are:
• Jaundice
• Nausea
• Vomiting
• General weakness along with tiredness
• Aches in muscles and joints
• Abdominal pain
• Loss of appetite
• Dark urine
• Stools look pale
Hepatitis
Hepatitis is a viral contamination of your liver. It causes irritation and liver harm, making it hard for your liver to work as it ought to.
A wide range of hepatitis are infectious, however you can diminish your danger by getting inoculated for types A and B or making other preventive strides, including rehearsing safe sex and not sharing needles.
There are five types of hepatitis:
• Hepatitis A is typically spread through contact with contaminated food or water. Symptoms may clear up without treatment, but recovery can take a few weeks.
• Hepatitis B can be acute (short-term) or chronic (long-term). It’s spread through bodily fluids, such as blood and semen. While hepatitis B is treatable, there’s no cure for it. Early treatment is key to avoiding complications, so it’s best to get regular screenings if you’re at risk.
• Hepatitis C can also be acute or chronic. It’s often spread through contact with blood from someone with hepatitis C. While it often doesn’t cause symptoms in its early stages, it can lead to permanent liver damage in its later stages.
• Hepatitis D is a serious form of hepatitis that only develops in people with hepatitis B — it can’t be contracted on its own. It can also be either acute or chronic.
• Hepatitis E is usually caused by drinking contaminated water. Generally, it clears up on its own within a few weeks without any lasting complications.

Signs and symptoms of Fatty liver disease:

There are no signs of liver disease at an early stage but some can still complain of pain on the right side of the abdomen. However, at the later stage, the disease can cause fever, jaundice along with nausea and vomiting.

Signs and symptoms of and Non-alcoholic fatty liver disease:

At an early stage there are no signs of liver disease in patients with non-alcoholic fatty liver disease. However, as the disease progresses they may show the following symptoms:
• Yellowing of skin or jaundice
• Weakness and fatigue
• Sudden weight loss
• Less appetite
• Itchiness
• Swollen legs and abdomen

Signs and symptoms of liver diseases due to genetic conditions:

Fatigue is the early symptoms of this condition but as the disease progresses it may cause the following:
• Pain in right abdomen
• Jaundice or yellowing of skin
• Swelling in abdomen and leg
• Enlarged liver, spleen, or abdomen
• Sudden weight loss
In the final stages the signs of liver disease will be as follows:
• Jaundice
• Fatigue and decreased energy
• Pain in joints and abdomen
• Itchy skin
• Urine looking dark and pale stools
• Nausea
• Reduced appetite

Signs and symptoms of Autoimmune Hepatitis:

An autoimmune disease is a condition that involves your immune system attacking healthy tissue in your body. Some of the autoimmune liver conditions include:
• primary biliary cholangitis (PBC)
• primary sclerosing cholangitis (PSC)
• autoimmune hepatitis
PBC and PSC develop slowly however, autoimmune hepatitis has some early symptoms such as fatigue and itching in skin but as the disease gradually spread the signs of liver disease are:
• Abdominal pain
• Yellowing of skin
• Leg and abdominal swelling
• Bulged liver, spleen, or abdomen
• Sudden weight loss
In the later stages the signs of liver disease are:
• Persisting yellowing of skin
• Tiredness
• Pain in joints and abdomen
• Itchiness
• Urine looking dark and pale stools
• Uneasiness
• Less appetite

Signs and symptoms of Cirrhosis:

Cirrhosis happens when inflammation or swelling damages the liver. Some of the other liver diseases such as alcoholic fatty liver disease and hepatitis can cause cirrhosis but it develops gradually. Some of the signs of liver disease are:
• Yellowing of skin
• Weakness
• Less appetite
• Sudden weight loss
• Uneasiness

Cancer

There are chances of cancer within the liver which first appears in the liver itself. For example, hepatocellular carcinoma is the most common liver cancer, often called as HCC. In case, the malignancy begins somewhere else in the body yet spreads to the liver, it's called secondary liver cancer. Liver cancer develops slowly and early symptoms might not be visible, but it can also start as single tumor. Also, there might be cases when other liver diseases are not treated can lead to the formation of cancer. Some of the signs of liver disrease are:
• Sudden weight loss
• Yellowing of the skin
• Nausea
• Vomiting
• Abdominal pain and swelling
• Loss of appetite

Liver failure

Ongoing liver failure normally happens when a critical piece of your liver is harmed and can't work as expected. For the most part, liver disappointment identified with liver infection and cirrhosis happens gradually. You might not have any manifestations at first. But over time, you may begin to take note:
• jaundice
• diarrhea or loose bowels
• confusion
• fatigue and weakness
• nausea or uneasiness
It’s a serious condition that requires ongoing management.
On the other hand, due to overdose or poisoning, acute liver disease happens suddenly.

Am I at risk?

There are things due to which you are likely to develop certain liver diseases such as heavy drinking, which the Centers for Disease Control and Prevention defines as more than eight alcoholic drinks a week for women and more than 15 drinks a week for men.
Other risk factors include:
• Sharing of needles
• Using non-sterile needles for getting a tattoo or body piercing
• Having a job where you’re exposed to blood and other bodily fluids
• Having an unprotected sex against sexually transmitted infections
• Having diabetes or high cholesterol
• Family history of liver disease
• Obesity
• Exposure to toxins or pesticides
• Taking certain supplements or herbs, especially in large amounts
• Mixing certain medications with alcohol or taking more than the recommended dose of certain medications

Complications
Complications of liver disease vary, depending on the cause of your liver problems. Untreated liver disease may progress to liver failure, a life-threatening condition.

How are liver diseases diagnosed?

In case you're concerned you may have a liver sickness, it's ideal to make a meeting with your medical services supplier to limit what's causing your indications.
They'll begin by looking once again your clinical history and getting some information about any family background of liver issues. Then, they'll probably pose you a few inquiries about your indications, including when they began and whether certain things exacerbate them.
Depending upon your indications, you'll probably be asked some information about your drinking and dietary patterns. Try to likewise educate them concerning any solution or over-the-counter prescriptions you take, including nutrients and enhancements.
Once they’ve collected all this information, they may recommend:
• liver function tests
• a complete blood count test
• CT scans, MRIs, or ultrasounds to check for liver damage or tumors
• a liver biopsy, which involves removing a small sample of your liver and examining it for signs of damage or disease

Prevention

To prevent liver disease:
• Drink alcohol in moderation: One drink a day for women and up to two drinks a day for men is more than enough to prevent liver disease. More than eight drinks a week for women and more than 15 drinks a week for men is considered as risk.
• Avoid risky behavior. Use a condom during sex. If you choose to have tattoos or body piercings, be picky about cleanliness and safety when selecting a shop. Seek help if you use illicit intravenous drugs, and don't share needles to inject drugs.
• Get vaccinated. If you're at increased risk of contracting hepatitis or if you've already been infected with any form of the hepatitis virus, talk to your doctor about getting the hepatitis A and hepatitis B vaccines.
• Use medications wisely. Take prescription and nonprescription drugs only when needed and only in recommended doses. Don't mix medications and alcohol. Talk to your doctor before mixing herbal supplements or prescription or nonprescription drugs.
• Avoid contact with other people's blood and body fluids. Hepatitis viruses can be spread by accidental needle sticks or improper cleanup of blood or body fluids.
• Keep your food safe. Wash your hands thoroughly before eating or preparing foods. If traveling in a developing country, use bottled water to drink, wash your hands and brush your teeth.
• Take care with aerosol sprays. Make sure to use these products in a well-ventilated area, and wear a mask when spraying insecticides, fungicides, paint and other toxic chemicals. Always follow the manufacturer's instructions.
• Protect your skin. When using insecticides and other toxic chemicals, wear gloves, long sleeves, a hat and a mask so that chemicals aren't absorbed through your skin.
• Maintain a healthy weight. Obesity can cause nonalcoholic fatty liver disease.

Related topics:

1. Can liver disease be cured

Liver disease is any disturbance of liver function that causes illness. There are many treatments available for this condition which may help to cure it. To know more visit: Can liver disease be cured

2. Is gall stone caused due to liver disorder

Gallstones develop when substances in the bile (such as cholesterol, bile salts, and calcium) or substances from the blood (like bilirubin) form hard particles that block the passageways to the gallbladder and bile ducts. Gallstones also tend to form when the gallbladder doesn’t empty completely or often enough.. To know more visit: Is gall stone caused due to liver disorder

3. How long do we need to take liver supplements

Supplements for the liver claim to aid in the maintenance of a healthy liver. Here's where you can learn more about whether liver supplements function and how to keep your liver in good shape.. To know more visit: How long do we need to take liver supplements

4. Do liver supplements have any side effects

In addition to storing and releasing energy from foods, Liver acts as your body’s natural filter.But Do liver supplements work? Liver supplement labels claim their products will “detoxify,” “regenerate,” and “rescue” your liver. To know more visit: Do liver supplements have any side effects





The above essentials are available with Livocumin

Livocumin is the combination of natural ingredients like Curcumin, Ardraka (Ginger), Katuka, Yavakshara, Chitraka, March (Black pepper), Sarjikakshara, Amlakai (Amla), Chuna, Haritaki in the management of NAFLD (Non Alcoholic Fatty Liver Disease), Infective Hepatitis, Gall Stones, Jaundice & Indigestion.

Nutralogicx: Livocumin



संकेत और जिगर की बीमारी के लक्षण

जिगर एक फुटबॉल के आकार के बारे में एक अंग है। यह बस आपके पसली के नीचे आपके मधुरता के दाईं ओर बैठता है। जिगर भोजन को संसाधित करने और जहरीले पदार्थों को हटाने के लिए मौलिक है।
आपका जिगर एक महत्वपूर्ण अंग है जो पाचन, ऊर्जा भंडारण और अपशिष्ट के detoxification से संबंधित कई कार्य करता है। यह आपको प्रसंस्करण भोजन के साथ सहायता करता है, इसे ऊर्जा में परिवर्तित करता है, और ऊर्जा को तब तक संग्रहीत करता है जब तक आपको इसकी आवश्यकता न हो। इसी तरह यह आपके संचार प्रणाली के माध्यम से हानिकारक पदार्थों को निचोड़ने में मदद करता है।
लीवर संक्रमण एक समग्र शब्द है जो आपके जिगर को प्रभावित करने वाली किसी भी स्थिति को संदर्भित करता है। ये स्थितियां विभिन्न कारणों से उत्पन्न हो सकती हैं, फिर भी वे सभी आपके जिगर को नुकसान पहुंचा सकते हैं और इसकी क्षमता को प्रभावित कर सकते हैं।
लंबे समय तक, लीवर को नुकसान पहुंचाने वाली स्थितियां स्कारिंग (सिरोसिस) को जन्म दे सकती हैं, जो यकृत की निराशा, खतरनाक स्थिति का संकेत दे सकती हैं। किसी भी मामले में, प्रारंभिक उपचार यकृत को संभोग करने का अवसर दे सकता है।

लिवर के आकार के संकेत

यकृत शरीर का एक अनिवार्य अंग है क्योंकि यह भोजन में ऊर्जा के अवशोषण और परिवर्तन जैसी कुछ महत्वपूर्ण क्षमताओं को बढ़ाता है। इसी तरह ऊर्जा को भुखमरी के दौरान या ऊर्जा के लिए शीर्ष ब्याज पर उपयोग किए जाने वाले ईंधन के रूप में संग्रहीत करना महत्वपूर्ण है। इसी तरह यकृत शरीर के हानिकारक पदार्थों को खत्म करने वाले विशाल चैनल के रूप में जाता है। जिगर में संक्रमण या लिवर को नुकसान इन क्षमताओं में से हर एक को प्रभावित कर सकता है और वास्तविक चिकित्सा समस्याओं को ला सकता है। इसलिए, क्षति को लक्ष्य के साथ जल्दी भेद करना अत्यावश्यक है कि नुकसान का इलाज करने के लिए महत्वपूर्ण प्रगति की जा सकती है। सिरोसिस जैसी कुछ स्थितियों द्वारा लाया गया नुकसान घटना में अपरिवर्तनीय है कि इसे जल्दी मान्यता नहीं मिली है, फिर भी अधिकांश परिस्थितियों को शुरुआती खोज से निपटा जा सकता है। यकृत रोग के कई संकेत हैं जो हमें इस तरह के रोगों की पहचान करने में मदद करते हैं।
यकृत रोग के लक्षण और संकेत इस प्रकार हैं:
• त्वचा का पीला पड़ना, जिसे पीलिया भी कहा जाता है
• बेचैनी
• उल्टी
• मूत्र में गहरे पीले रंग का रंग विकसित होता है
• मल पीला, खूनी या काला (तारकोल)
दिखता है • सूजन वाली टखने, पैर या पेट
• कम भूख लगना
• लगातार थकान
• खुजली
• असामान्य चोट

हेपेटाइटिस के लक्षण

यहाँ नुकसान यह है कि हेपेटाइटिस वायरस शरीर में सुप्त रहता है इसलिए लक्षण वर्षों तक दिखाई नहीं दे सकते हैं। प्रारंभिक लक्षण है, लेकिन बाद में यकृत रोग के लक्षण हैं:
• पीलिया
• मतली
• उल्टी
• थकान के साथ सामान्य कमजोरी
• मांसपेशियों और जोड़ों में दर्द
• पेट दर्द
• भूख कम लगना
• डार्क यूरिन
• मल पीला दिखता है
हेपेटाइटिस
हेपेटाइटिस आपके जिगर का एक वायरल संदूषण है। यह जलन और जिगर की हानि का कारण बनता है, जिससे आपके जिगर को काम करना मुश्किल हो जाता है क्योंकि इसे करना चाहिए।
हेपेटाइटिस की एक विस्तृत श्रृंखला संक्रामक होती है, हालांकि आप ए और बी प्रकार के लिए टीका लगाकर या सुरक्षित यौन संबंध का पुन: अभ्यास करने और सुइयों को साझा नहीं करने सहित अन्य निवारक कदमों से अपने खतरे को कम कर सकते हैं।
हेपेटाइटिस के पांच प्रकार हैं:
• हेपेटाइटिस ए आमतौर पर दूषित भोजन या पानी के संपर्क से फैलता है। उपचार के बिना लक्षण स्पष्ट हो सकते हैं, लेकिन वसूली में कुछ सप्ताह लग सकते हैं।
• हेपेटाइटिस बी तीव्र (अल्पकालिक) या दीर्घकालिक (दीर्घकालिक) हो सकता है। यह रक्त और वीर्य जैसे शारीरिक द्रव्यों से फैलता है। जबकि हेपेटाइटिस बी उपचार योग्य है, इसका कोई इलाज नहीं है। शुरुआती उपचार जटिलताओं से बचने के लिए महत्वपूर्ण है, इसलिए यदि आप जोखिम में हैं तो नियमित रूप से जांच करवाएं।
• हेपेटाइटिस सी तीव्र या पुराना भी हो सकता है। यह अक्सर हेपेटाइटिस सी के किसी व्यक्ति के साथ रक्त के संपर्क में फैलता है। हालांकि यह अक्सर इसके शुरुआती चरणों में लक्षण पैदा नहीं करता है, इसके बाद के चरणों में स्थायी यकृत क्षति हो सकती है।
• हेपेटाइटिस डी हेपेटाइटिस का एक गंभीर रूप है जो केवल हेपेटाइटिस बी वाले लोगों में विकसित होता है - यह अपने आप ही अनुबंधित नहीं हो सकता है। यह या तो तीव्र या पुराना हो सकता है।
• हेपेटाइटिस ई आमतौर पर दूषित पानी पीने के कारण होता है। आमतौर पर, यह बिना किसी स्थायी जटिलताओं के कुछ ही हफ्तों में अपने आप साफ हो जाता है।

फैटी लिवर रोग के लक्षण:

प्रारंभिक अवस्था में जिगर की बीमारी के कोई संकेत नहीं हैं, लेकिन कुछ अभी भी पेट के दाईं ओर दर्द की शिकायत कर सकते हैं। हालांकि, बाद की अवस्था में, बीमारी में मतली और उल्टी के साथ बुखार, पीलिया हो सकता है।

गैर-मादक वसायुक्त यकृत रोग के लक्षण:

प्रारंभिक चरण में गैर-अल्कोहल फैटी यकृत रोग वाले रोगियों में यकृत रोग के कोई संकेत नहीं हैं। हालांकि, जैसे-जैसे बीमारी बढ़ती है, वे निम्नलिखित लक्षण दिखा सकते हैं:
• त्वचा या पीलिया का पीलापन
• कमजोरी और थकान
• अचानक वजन कम होना
• कम भूख लगना
• खुजली
• पैरों और पेट में सूजन

आनुवंशिक स्थितियों के कारण जिगर की बीमारियों के लक्षण:

थकान इस स्थिति के शुरुआती लक्षण हैं, लेकिन जैसे-जैसे बीमारी बढ़ती है, यह निम्न कारण हो सकता है:
• पेट के निचले हिस्से में दर्द
• पीलिया या त्वचा का पीला पड़ना
• पेट और पैर में सूजन
• बढ़े हुए यकृत, प्लीहा, या उदरशूल
• अचानक वजन कम होना

अंतिम चरणों में यकृत रोग के लक्षण निम्नानुसार होंगे:
• पीलिया
• थकान और कम ऊर्जा
• जोड़ों और पेट में दर्द
• खुजली वाली त्वचा
• मूत्र देखने में काला और पीला मल दिखाई देता है • मतली
• भूख कम लगना

ऑटोइम्यून हेपेटाइटिस के लक्षण:

एक ऑटोइम्यून बीमारी एक ऐसी स्थिति है जिसमें आपके शरीर में स्वस्थ ऊतक पर हमला करने वाला आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली शामिल होती है।
ऑटोइम्यून यकृत की कुछ स्थितियों में शामिल हैं:
• प्राथमिक पित्तवाहिनीशोथ
• प्राथमिक स्क्लेरोज़िंग कोलेजनिटिस
• ऑटोइम्यून हेपेटाइटिस

पीबीसी और पीएससी धीरे-धीरे विकसित होते हैं, लेकिन ऑटोइम्यून हेपेटाइटिस के कुछ शुरुआती लक्षण हैं जैसे कि त्वचा में थकान और खुजली लेकिन धीरे-धीरे यह बीमारी फैलने से लिवर की बीमारी के लक्षण दिखाई देते हैं:
• पेट दर्द
• त्वचा का पीला पड़ना
• पैर और पेट की सूजन
• उभरे हुए यकृत, प्लीहा, या उदर
• अचानक वजन कम होना

बाद के चरणों में जिगर की बीमारी के संकेत हैं:
• त्वचा का लगातार पीलापन
• थकान
• जोड़ों और पेट में दर्द
• खुजली
• मूत्र देखने में काला और पीला मल दिखाई देता है
• बेचैनी
• कम भूख लगना

सिरोसिस के लक्षण:

सिरोसिस तब होता है जब सूजन या सूजन जिगर को नुकसान पहुंचाती है। कुछ अन्य यकृत रोगों जैसे शराबी फैटी लीवर रोग और हेपेटाइटिस के कारण सिरोसिस हो सकता है लेकिन यह धीरे-धीरे विकसित होता है। जिगर की बीमारी के कुछ लक्षण हैं:
• त्वचा का पीला पड़ना
• कमजोरी
• कम भूख लगना
• अचानक वजन कम होना
• बेचैनी

कैंसर

यकृत के भीतर कैंसर होने की संभावना होती है जो सबसे पहले यकृत में ही प्रकट होती है। उदाहरण के लिए, हेपैटोसेलुलर कार्सिनोमा सबसे आम यकृत कैंसर है, जिसे अक्सर एचसीसी कहा जाता है। मामले में, शरीर में दुर्दमता कहीं और शुरू होती है जो अभी तक यकृत में फैलती है, इसे द्वितीयक यकृत कैंसर कहा जाता है। लिवर कैंसर धीरे-धीरे विकसित होता है और शुरुआती लक्षण दिखाई नहीं दे सकते हैं, लेकिन यह एकल ट्यूमर के रूप में भी शुरू हो सकता है। इसके अलावा, ऐसे मामले भी हो सकते हैं जब अन्य यकृत रोगों का इलाज नहीं किया जाता है जिससे कैंसर का गठन हो सकता है। लिवर डिस के कुछ लक्षण इस प्रकार हैं:
• अचानक वजन कम होना
• त्वचा का पीला पड़ना
• मतली
• उल्टी
• पेट दर्द और सूजन
• भूख में कमी

यकृत का काम करना बंद कर देना

सामान्य रूप से तब होता है जब आपके यकृत का एक महत्वपूर्ण टुकड़ा क्षतिग्रस्त हो जाता है और उम्मीद के मुताबिक काम नहीं कर पाता है। अधिकांश भाग के लिए, यकृत संक्रमण और सिरोसिस से पहचाने जाने वाले जिगर की निराशा धीरे-धीरे होती है। आप पहली बार में कोई अभिव्यक्ति नहीं हो सकता है। लेकिन समय के साथ, आप नोट करना शुरू कर सकते हैं:
• पीलिया
• दस्त या ढीले आंत्र
• भ्रम
• थकान और कमजोरी
• मतली या बेचैनी
यह एक गंभीर स्थिति है जिसके लिए निरंतर प्रबंधन की आवश्यकता होती है।
दूसरी ओर, अतिदेय या विषाक्तता के कारण, तीव्र यकृत रोग अचानक होता है।

क्या मैं जोखिम में हूं?

ऐसी चीजें हैं जिनके कारण आपको यकृत के कुछ रोगों जैसे कि भारी पीने से विकसित होने की संभावना है, जो रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र परिभाषित करता है क्योंकि महिलाओं के लिए एक सप्ताह में आठ से अधिक मादक पेय और पुरुषों के लिए एक सप्ताह में 15 से अधिक पेय होते हैं।
अन्य जोखिम कारकों में शामिल हैं:
• सुइयों की साझेदारी
• टैटू या शरीर भेदी के लिए गैर-बाँझ सुई का उपयोग करना
• ऐसी नौकरी करना जहाँ आप रक्त और अन्य शारीरिक द्रव्यों के संपर्क में हैं।
• यौन संचारित संक्रमणों के खिलाफ असुरक्षित यौन संबंध रखना
• मधुमेह या उच्च कोलेस्ट्रॉल होना
• जिगर की बीमारी का पारिवारिक इतिहास
• मोटापा
• विषाक्त पदार्थों या कीटनाशकों के लिए एक्सपोजर
• कुछ सप्लीमेंट्स या हर्ब्स लेना, खासकर बड़ी मात्रा में
• शराब के साथ कुछ दवाओं का मिश्रण या कुछ दवाओं की अनुशंसित खुराक से अधिक लेना

जटिलताओं
आपके जिगर की समस्याओं के कारण के आधार पर, यकृत रोग की जटिलताओं में भिन्नता है। अनुपचारित यकृत रोग जिगर की विफलता के लिए प्रगति कर सकता है, एक जीवन-धमकी की स्थिति।

जिगर की बीमारियों का निदान कैसे किया जाता है?

यदि आप चिंतित हैं कि आपको यकृत की बीमारी हो सकती है, तो यह आपके चिकित्सीय सेवा आपूर्तिकर्ता के साथ एक बैठक करने के लिए आदर्श है कि आपके संकेतों के कारण क्या है। वे एक बार फिर से आपके नैदानिक ​​इतिहास को देखने और जिगर के मुद्दों के किसी भी पारिवारिक पृष्ठभूमि के बारे में कुछ जानकारी प्राप्त करने से शुरू करेंगे। फिर, वे संभवतः आपको अपने संकेतों के बारे में कुछ पूछताछ करेंगे, जब वे शुरू हुए थे और क्या कुछ चीजें उन्हें समाप्त करती हैं।
आपके संकेतों के आधार पर, आपसे संभवतः आपके पीने और आहार पैटर्न के बारे में कुछ जानकारी मांगी जाएगी। इसी तरह उन्हें किसी भी समाधान या आपके द्वारा लिए गए नुस्खे, पोषक तत्वों और वृद्धि सहित, के बारे में शिक्षित करने का प्रयास करें।
जब वे यह सारी जानकारी एकत्र कर लेते हैं, तो वे अनुशंसा कर सकते हैं:
• जिगर समारोह परीक्षण
• एक पूर्ण रक्त गणना परीक्षण
• लीवर की क्षति या ट्यूमर की जाँच के लिए सीटी स्कैन, एमआरआई या अल्ट्रासाउंड
• एक यकृत बायोप्सी, जिसमें आपके यकृत का एक छोटा सा नमूना निकालना और क्षति या बीमारी के संकेतों की जांच करना शामिल है

निवारण

जिगर की बीमारी को रोकने के लिए:
• अल्कोहल का सेवन कम मात्रा में करें: महिलाओं के लिए दिन में एक ड्रिंक और पुरुषों के लिए दिन में दो ड्रिंक पीना लिवर की बीमारी को रोकने के लिए पर्याप्त है। महिलाओं के लिए सप्ताह में आठ से अधिक पेय और पुरुषों के लिए एक सप्ताह में 15 से अधिक पेय को जोखिम के रूप में माना जाता है।
• जोखिम भरे व्यवहार से बचें। सेक्स के दौरान कंडोम का इस्तेमाल करें। यदि आप टैटू या बॉडी पियर्सिंग का चयन करते हैं, तो दुकान का चयन करते समय स्वच्छता और सुरक्षा के बारे में जानकारी प्राप्त करें। यदि आप अवैध अंतःशिरा दवाओं का उपयोग करते हैं, तो मदद लें और दवाओं को इंजेक्ट करने के लिए सुइयों को साझा न करें।
• टीका लगवाएं। यदि आपको हेपेटाइटिस के अनुबंध का खतरा बढ़ गया है या यदि आप पहले से ही हेपेटाइटिस वायरस से संक्रमित हैं, तो अपने डॉक्टर से हेपेटाइटिस ए और हेपेटाइटिस बी के टीके लगवाने के बारे में बात करें।
• दवाओं का प्रयोग समझदारी से करें। केवल आवश्यक होने पर और केवल अनुशंसित खुराकों में पर्चे और गैर-पर्चे वाली दवाएं लें। दवाओं और शराब का मिश्रण न करें। हर्बल सप्लीमेंट या प्रिस्क्रिप्शन या नॉनस्प्रेस्क्रिप्शन ड्रग्स को मिक्स करने से पहले अपने डॉक्टर से बात करें।
• अन्य लोगों के रक्त और शरीर के तरल पदार्थों के संपर्क से बचें। हेपेटाइटिस वायरस आकस्मिक सुई की छड़ें या रक्त या शरीर के तरल पदार्थ के अनुचित सफाई से फैल सकता है।
• अपने भोजन को सुरक्षित रखें। खाना खाने या तैयार करने से पहले अपने हाथों को अच्छी तरह से धोएं। यदि एक विकासशील देश में यात्रा करते हैं, तो पीने के लिए बोतलबंद पानी का उपयोग करें, अपने हाथ धोएं और अपने दाँत ब्रश करें।
• एरोसोल स्प्रे के साथ देखभाल करें। इन उत्पादों का उपयोग एक अच्छी तरह हवादार क्षेत्र में करना सुनिश्चित करें, और कीटनाशक, कवकनाशी, पेंट और अन्य विषाक्त रसायनों का छिड़काव करते समय मास्क पहनें। हमेशा निर्माता के निर्देशों का पालन करें।
• अपने त्वचा की रक्षा करें। कीटनाशक और अन्य जहरीले रसायनों का उपयोग करते समय, दस्ताने, लंबी आस्तीन, एक टोपी और एक मुखौटा पहनें ताकि रसायन आपकी त्वचा के माध्यम से अवशोषित न हों।
• स्वस्थ वजन बनाए रखें। मोटापा गैर-फैटी लिवर रोग का कारण बन सकता है।

संबंधित विषय:

1. क्या लीवर की बीमारी ठीक हो सकती है

लिवर की बीमारी लिवर फंक्शन की कोई गड़बड़ी है जो बीमारी का कारण बनती है। इस स्थिति के लिए कई उपचार उपलब्ध हैं जो इसे ठीक करने में मदद कर सकते हैं। अधिक यात्रा जानने के लिए: क्या लीवर की बीमारी ठीक हो सकती है

2. क्या पित्त की पथरी यकृत विकार के कारण होती है

पित्त पथरी तब विकसित होती है जब पित्त में पदार्थ (जैसे कोलेस्ट्रॉल, पित्त लवण, और कैल्शियम) या रक्त से पदार्थ (जैसे बिलीरुबिन) कठोर कणों का निर्माण करते हैं जो पित्ताशय और पित्त नलिकाओं के मार्ग को अवरुद्ध करते हैं। पित्ताशय की थैली तब भी बनती है जब पित्ताशय पूरी तरह से या अक्सर पर्याप्त खाली नहीं होता है। अधिक यात्रा जानने के लिए: क्या पित्त की पथरी यकृत विकार के कारण होती है

3. हमें कब तक लिवर सप्लीमेंट लेने की जरूरत है

जिगर के लिए पूरक एक स्वस्थ जिगर के रखरखाव में सहायता करने का दावा करते हैं। यहां आप यकृत के कार्य को पूरा करने और अपने जिगर को अच्छे आकार में रखने के तरीके के बारे में अधिक जान सकते हैं। अधिक जानकारी के लिए देखें: हमें कब तक लिवर सप्लीमेंट लेने की जरूरत है

4. क्या लीवर की खुराक का कोई दुष्प्रभाव है

खाद्य पदार्थों से ऊर्जा का भंडारण और विमोचन करने के अलावा, लिवर आपके शरीर के प्राकृतिक फिल्टर के रूप में कार्य करता है। लेकिन क्या लीवर की खुराक काम करती है? लीवर सप्लीमेंट लेबल का दावा है कि उनके उत्पाद आपके लिवर को “डिटॉक्सिफाई”, “पुनर्जीवित” और “रेस्क्यू” करेंगे। अधिक यात्रा जानने के लिए: क्या लीवर की खुराक का कोई दुष्प्रभाव है





उपर ब्लॉग में बताई गई उपलब्धियाएं लिवोकेमिन के साथ उपलब्ध हैं

नेवफ्लड (नॉन अल्कोहलिक फैटी लिवर डिजीज) के प्रबंधन में लिवोकेमिन प्राकृतिक तत्व जैसे कॉर्किमिन, अर्द्राका (अदरक), कतुका, यवक्षरा, चित्रका, मार्च (काली मिर्च), सरजिक्क्षरा, अमलाकाई (आंवला), चूना, हरीताकी का संयोजन है। संक्रामक हेपेटाइटिस, पित्त पथरी, पीलिया और अपच।

न्यूट्रोग्लिग्क्स: लिवोकेमिन



AFDIL Ltd.
+91 9920121021

order@afdil.com

Read Also:


Disclaimer
Home