Schizophrenia and its Treatment

Schizophrenia is one of the most serious and frightening of all mental illnesses. No other disorder arouses as much anxiety in the public, the media, and doctors. Effective treatments for schizophrenia are available, yet patients and their families often find it hard to access good care. Schizophrenia is a chronic psychiatric disorder with a heterogeneous genetic and neurobiological background that influences early brain development and is expressed as a combination of psychotic symptoms such as hallucinations, delusions and disorganization and motivational and cognitive dysfunctions.

Although Schizophrenia affects men and women with equal frequency. Schizophrenia is not as common as other mental diseases it can be very disabling, as approximately 7-8 individuals out of 1000 will have this disorder. Schizophrenia is a word used to describe a mental disorder that has a spectrum of symptoms including alterations in perception, thought and sense of a self-decrease in violation, psychomotor slowing and displays of antisocial behavior.

Schizophrenia

What is Schizophrenia?

Schizophrenia is a serious mental disorder that affects how a person thinks, feels, and behaves. People with schizophrenia may seem like they have lost touch with reality. They may hear voices other people do not hear. Schizophrenia symptoms contain three categories-Positive, Negative and Cognitive. There are different causes of Schizophrenia this may be due to Genes, Environment or Change in Brain Structures.

Due to Schizophrenia, the illness occurs in less than 1 percent of the general population, but this range becomes 10 percent who have first-degree relatives with the disorder, such as parents, Brother or sister. Most people with schizophrenia are not violent; however, the risk of violence is greatest when schizophrenia is untreated.

People with schizophrenia often have problems doing well in society, at work, at school, and in relationships. They might feel frightened and withdrawn, and could appear to have lost touch with reality. This lifelong disease cannot be cured but can be controlled with proper treatment for schizophrenia. Schizophrenia involves a psychosis, a type of mental illness in which a person cannot tell what is real from what is imagined. At times, people with psychotic disorders lose touch with reality. The world may seem like a jumble of confusing thoughts, images, and sounds. Their behavior may be very strange and even shocking. A sudden change in personality and behavior, which happens when people who have it lose touch with reality, is called a psychotic episode.

There are different molecular mechanisms of Schizophrenia i.e. Neurodevelopment Hypothesis, Dopamine hypothesis and Glutamate Hypothesis. It is important to help a person with schizophrenia symptoms get treatment as quickly as possible. Here are two main types of treatment for schizophrenia that can help with symptoms: antipsychotic medications and psychosocial treatments. Family and friends can help their loved ones with schizophrenia by helping them get treatment and encouraging them to stay in treatment for schizophrenia.

Symptoms of Schizophrenia

Schizophrenia usually takes hold after puberty. Most people are diagnosed in their late teens to early 30s.

Early Symptoms

Symptoms of this disorder commonly show up in the teenage years and early 20s. At these ages, the earliest signs may be overlooked because of typical adolescent behaviors.

Early symptoms include:

• Isolating oneself from friends and family
• Changing friends or social groups
• A change in focus and concentration
• Sleep problems
• Irritability and agitation
• Difficulties with schoolwork, or poor academic performance

Symptoms of Schizophrenia

Positive Symptoms

“Positive” symptoms of schizophrenia are behaviors that are not typical in otherwise healthy individuals. These behaviors include:

Delusions- These are false beliefs that are not based in reality. For example, you think that you're being harmed or harassed; certain gestures or comments are directed at you; you have exceptional ability or fame; another person is in love with you; or a major catastrophe is about to occur. Delusions occur in most people with schizophrenia.

Hallucinations- These usually involve seeing or hearing things that do not exist. Yet for the person with schizophrenia, they have the full force and impact of a normal experience. Hallucinations can be in any of the senses, but hearing voices is the most common hallucination.

Disorganized thinking (speech)- Disorganized thinking is inferred from disorganized speech. Effective communication can be impaired, and answers to questions may be partially or completely unrelated. Rarely, speech may include putting together meaningless words that cannot be understood, sometimes known as word salad.

Extremely disorganized or abnormal motor behavior- This may show in a number of ways, from childlike silliness to unpredictable agitation. Behavior is not focused on a goal, so it's hard to do tasks. Behavior can include resistance to instructions, inappropriate or bizarre posture, a complete lack of response, or useless and excessive movement.

Thought disorders- You might have trouble organizing your thoughts, and you might speak in a way that is hard for others to understand. Perhaps you stop talking in the middle of a thought because you feel like it has been taken out of your head. This is called thought withdrawal. Another type of disordered thinking, called thought blocking, happens when someone has a sudden stopping of their flow of thinking and as a consequence they may become silent until a new thought enters their mind.

Movement disorders- You might move your body repeatedly as if you are upset, or you might stop moving and responding. Doctors call this catatonia.


Negative symptoms

Negative symptoms of schizophrenia interrupt a person’s typical emotions, behaviors, and abilities.These symptoms include:

• Disorganized thinking or speech, where the person changes topics rapidly when speaking or uses made-up words or phrases
• Trouble controlling impulses
• Odd emotional responses to situations
• A lack of emotion or expressions
• Loss of interest or excitement for life
• Social isolation
• Trouble experiencing pleasure
• Difficulty beginning or following through with plans
• Difficulty completing normal everyday activities


Cognitive symptoms

Cognitive symptoms of schizophrenia are sometimes subtle and may be difficult to detect. However, the disorder can affect memory and thinking.

These symptoms include:

• Disorganized thinking, such as trouble focusing or paying attention
• Poor “executive functioning,” or understanding information and using it to make decisions
• Problems learning information and using it
• Lack of insight or being unaware of their symptoms

Symptoms of schizophrenia can be difficult to detect.


Other symptoms

The symptoms listed above can also affect a person’s:

Motivation: The person may neglect everyday activities, including self-care. They may experience also catatonia, during which they are barely able to talk or move.
Emotional expression: The person may respond inappropriately or not at all to sad or happy occasions.
Social life: The person may withdraw socially, possibly through fear that somebody is going to harm them.
Communication: The person’s unusual thought and speech patterns can make it difficult for them to communicate with others.


Symptoms in teenagers

Schizophrenia symptoms in teenagers are similar to those in adults, but the condition may be more difficult to recognize. This may be in part because some of the early symptoms of schizophrenia in teenagers are common for typical development during teen years, such as:

• Withdrawal from friends and family
• A drop in performance at school
• Trouble sleeping
• Irritability or depressed mood
• Lack of motivation

In addition, recreational substance use, such as marijuana, methamphetamines or LSD, can sometimes cause similar signs and symptoms.

Compared with schizophrenia symptoms in adults, teens may be:

• Less likely to have delusions
• More likely to have visual hallucinations

Causes of Schizophrenia

The exact causes of schizophrenia are unknown. Research suggests a combination of physical, genetic, psychological and environmental factors can make a person more likely to develop the condition.

Some people may be prone to schizophrenia, and a stressful or emotional life event might trigger a psychotic episode. However, it is not known why some people develop symptoms while others do not.

Causes of Schizophrenia

1. Genetics

Schizophrenia tends to run in families, but no single gene is thought to be responsible. It is more likely that different combinations of genes make people more vulnerable to the condition. However, having these genes does not necessarily mean you will develop schizophrenia.

If you have a parent, sibling, or other close relative with the condition, you may have a higher likelihood of developing it, too. Evidence that the disorder is partly inherited comes from studies of twins. Identical twins share the same genes.In identical twins, if a twin develops schizophrenia, the other twin has a 1 in 2 chance of developing it, too. This is true even if they're raised separately. In non-identical twins, who have different genetic make-ups, when a twin develops schizophrenia, the other only has a 1 in 8 chance of developing the condition.

2. Brain development

Studies of people with schizophrenia have shown there are subtle differences in the structure of their brains. These changes are not seen in everyone with schizophrenia and can occur in people who do not have a mental illness. However, they suggest schizophrenia may partly be a disorder of the brain.

3. Chemical changes in the brain

A series of complex interrelated chemicals in the brain, called neurotransmitters, are responsible for sending signals between brain cells. Low levels or imbalances of these chemicals are believed to play a role in the development of schizophrenia and other mental health conditions.

Research suggests schizophrenia may be caused by a change in the level of 2 neurotransmitters: dopamine and serotonin. Dopamine, in particular, seems to play a role in the development of schizophrenia. Researchers have found evidence that dopamine causes an overstimulation of the brain in people with schizophrenia. It may account for some of the symptoms of the condition.

Glutamate is another chemical that has been linked to schizophrenia. Evidence has pointed toward its involvement. However, there are a number of limitations to this research.

4. Pregnancy or birth complications

Complications before and during birth may increase the likelihood a person will develop mental health disorders, including schizophrenia.

These complications include:

• Low birth weight
• Infection during pregnancy
• Lack of oxygen during delivery (asphyxia)
• Premature labor
• Maternal obesity diagnosis in pregnancy

Because of the ethics involved in studying pregnant women, many of the studies that have looked at the connection between prenatal complications and schizophrenia have been on animals. Women with schizophrenia are at an increased risk for complications during pregnancy.

5. Stress

Stress is one of the triggers that can cause schizophrenia to develop in people who are at risk.

The main psychological triggers of schizophrenia are stressful life events, such as:

• Bereavement
• Losing your job or home
• Divorce
• The end of a relationship
• Physical, sexual or emotional abuse

These kinds of experiences, although stressful, do not cause schizophrenia. However, they can trigger its development in someone already vulnerable to it.

6. Drug Abuse

Drugs do not directly cause schizophrenia, but studies have shown drug misuse increases the risk of developing schizophrenia or a similar illness. Certain drugs, particularly cannabis, cocaine, LSD or amphetamines, may trigger symptoms of schizophrenia in people who are susceptible.

Using amphetamines or cocaine can lead to psychosis, and can cause a relapse in people recovering from an earlier episode. Research has shown that teenagers and young adults who use cannabis regularly are more likely to develop schizophrenia in later adulthood.

7. Childhood Trauma

Childhood trauma is also thought to be a contributing factor in developing schizophrenia. Some people with schizophrenia experience hallucinations related to abuse or neglect they experienced as children.

People are also more likely to develop schizophrenia if as children they experienced the death or permanent separation of one or both parents. This kind of trauma is tied to a variety of other adverse early experiences, so it’s still unclear if this trauma is a cause of schizophrenia or just associated with the condition.

8. Environmental factors

Environmental factors that may increase the risk of schizophrenia include:

• Trauma during birth
• Malnutrition before birth
• Viral infections
• Psychosocial factors, such as trauma

Types of Schizophrenia

There are several types of Schizophrenia.

1. Paranoid schizophrenia

This is the most common type of schizophrenia. It may develop later in life than other forms. Paranoid schizophrenia is characterized by being preoccupied with one or more delusions or having frequent auditory hallucinations. It did not involve disorganized speech, catatonic behavior, or a lack of emotion.

Delusions and hallucinations are still elements of a schizophrenia diagnosis, but experts no longer consider it as a distinct subtype.

2. Hebephrenic schizophrenia

Also known as, ‘disorganized schizophrenia’, this type of schizophrenia typically develops when you are 15-25 years old. Disorganized schizophrenia is characterized by disorganized behavior and nonsensical speech. Another prominent feature was flat or inappropriate affect.

Disorganized speech and thought are still elements of a schizophrenia diagnosis, but experts no longer consider this as a distinct subtype. People living with disorganized schizophrenia often show little or no emotions in their facial expressions, voice tone, or mannerisms.

3. Catatonic schizophrenia

Catatonic schizophrenia is characterized by catatonia. This causes a person to experience either excessive movement, called catatonic excitement, or decreased movement, known as a catatonic stupor. For example, they may be unable to speak (mutism), may repeat another person’s words (echolalia), or may mimic actions (echopraxis).

Catatonia can occur with schizophrenia and a range of other conditions, including bipolar disorder. For this reason, mental health professionals now consider it to be a specifier for schizophrenia and other mood disorders, rather than a type of schizophrenia.

4. Undifferentiated schizophrenia

Your diagnosis may have some signs of paranoid, hebephrenic or catatonic schizophrenia, but it doesn’t obviously fit into one of these types alone.

5. Residual schizophrenia

In residual schizophrenia, a person would have had several symptoms of schizophrenia but would not exhibit prominent delusions, hallucinations, disorganization, or catatonic behavior. They might have had mild symptoms, such as odd beliefs or unusual perceptions.

People might be diagnosed with residual schizophrenia if they have a history of psychosis, but only experience the negative symptoms such as slow movement, poor memory, lack of concentration and poor hygiene.

6. Childhood schizophrenia

A diagnosis of schizophrenia is common in people in their teens and early 20s. Although less common, it can begin earlier. When symptoms occur before the age of 13, the condition is sometimes called early onset or childhood schizophrenia.

Diagnosing this condition is difficult. Behavior changes aren’t unusual as children and teens develop. Plus, some of the most common symptoms of this mental health disorder also show up in other conditions. These include:

• Depression
• Bipolar disorder
• Attention disorders

Symptoms of childhood schizophrenia include:

• Unusual fears or anxieties (paranoia)
• Sleep problems
• Emotional swings
• Hearing voices or seeing things (hallucinations)
• Decreased attention to self-care
• Sudden changes in behavior
• Deterioration in academic performance

It’s important to separate the behaviors that may occur in growing children and teenagers with symptoms of a serious mental health condition.

7. Simple schizophrenia

Simple schizophrenia is rarely diagnosed in the UK. Negative symptoms (such as slow movement, poor memory, lack of concentration and poor hygiene) are most prominent early and worsen, while positive symptoms (such as hallucinations, delusions, disorganized thinking) are rarely experienced.

8. Cenesthopathic schizophrenia

People with cenesthopathic schizophrenia experience unusual bodily sensations.

9. Unspecified schizophrenia

Symptoms meet the general conditions for a diagnosis but do not fit into any of the above categories.

Diagnosis and Tests for Schizophrenia

Diagnosis of schizophrenia involves ruling out other mental health disorders and determining that symptoms are not due to substance abuse, medication or a medical condition. Determining a diagnosis of schizophrenia may include:

Physical exam- This may be done to help rule out other problems that could be causing symptoms and to check for any related complications.

Tests and screenings- These may include tests that help rule out conditions with similar symptoms, and screening for alcohol and drugs. The doctor may also request imaging studies, such as an MRI or CT scan.

Psychiatric evaluation- A doctor or mental health professional checks mental status by observing appearance and demeanor and asking about thoughts, moods, delusions, hallucinations, substance use, and potential for violence or suicide. This also includes a discussion of family and personal history.

Diagnostic criteria for schizophrenia- A doctor or mental health professional may use the criteria in the Diagnostic and Statistical Manual of Mental Disorders (DSM-5), published by the American Psychiatric Association.

The tests for determining Schizophrenia include:

1. Positive and Negative Syndrome Scale (PANSS)

This test has a reputation as the "gold standard" for measuring how well your treatment for schizophrenia is working. Your doctor may use the PANSS test more than once over a period of time to check if a drug or therapy has made a real improvement in your symptoms. For the PANSS test, your doctor will interview you for about 30 to 40 minutes. They'll also ask your family members or caregivers about your behavior.

In the first section of the test, your doctor will ask about your medical history and symptoms. In the second part, you may get questions that try to find out how severe your symptoms are. For instance, your doctor may ask things like, "How do you compare to the average person?" and "Do you have special or unusual powers?" In the third section of the interview, focused questions like "How are a train and bus alike?" check to see how well you can reason. You may also get other questions about mood.

Based on your answers and your doctor's observation of your behavior, they'll give you a score on 30 items on the PANSS scale. Each item gets ranked from 1 (absent) to 7 (extreme), giving a score between 30 and 210.

2.SANS and SAPS Tests

These two tests analyze the effects of positive and negative symptoms.

SANS stands for Scale for the Assessment of Negative Symptoms. It measures 25 negative symptoms of schizophrenia, including:

• Lack of facial expressions
• Social inattentiveness
• Lack of interests and relationships

The full name of the SAPS test is Scale for the Assessment of Positive Symptoms. It checks 34 positive symptoms, including:

• Hallucinations (seeing or hearing things that aren't there)
• Delusions (strong belief in things that aren't true)

In both scales, each symptom is scored from 1 (none) to 5 (severe).

3.Brief Psychiatric Rating Scale (BPRS)

It's one of the most common tests that psychiatrists use when they want to check how severe someone's schizophrenia is.The test looks at 18 symptoms or behaviors, such as hostility, disorientation, and hallucination. It ranks each on a scale of 1 (not present) to 7 (extremely severe).

The scores are based on a 20- to 30-minute conversation that your doctor has with you, your family members, or other caregivers.

4.Clinical Global Impression-Schizophrenia (CGI-SCH)

Doctors have adapted this test for people with schizophrenia from the more general Clinical Global Impression score, which is used to diagnose other psychiatric illnesses. Like the PANSS test, doctors mostly use CGI-SCH when they want to see how well a treatment for schizophrenia is working, either for one person or a group of people who are in a clinical trial.

The CGI-SCH measures two things:

• How severe your schizophrenia is
• How much the symptoms have changed since your last checkup

Each result is measured on a scale of 1 to 7, with 7 being the more severe form of schizophrenia or the greatest increase in schizophrenia symptoms. While other tests involve a long interview with set questions, the CGI-SCH can be calculated by a psychiatrist in just a few minutes. The appointment includes questions about your symptoms over the previous 7 days.

5.Calgary Depression Scale for Schizophrenia

Doctors use this test to check you for symptoms of depression that could affect your daily life or might even lead you to have thoughts of suicide.

The scale relies on the answers to just nine questions, including "How would you describe your mood over the last 2 weeks?" and "Have you felt that life wasn't worth living?"

Treatment for Schizophrenia

Schizophrenia requires lifelong treatment, even when symptoms have subsided. Treatment for schizophrenia with medications and psychosocial therapy can help manage the condition. In some cases, hospitalization may be needed.

A psychiatrist experienced in treating schizophrenia usually guides treatment. The treatment team also may include a psychologist, social worker, psychiatric nurse and possibly a case manager to coordinate care. The full-team approach may be available in clinics with expertise in treatment for schizophrenia.

Treatment for Schizophrenia

The treatment for Schizophrenia include the following:

1. Medication

Medications are the cornerstone of treatment for schizophrenia, and antipsychotic medications are the most commonly prescribed drugs. They are thought to control symptoms by affecting the brain neurotransmitter dopamine.

The goal of treatment for schizophrenia with antipsychotic medications is to effectively manage signs and symptoms at the lowest possible dose. The psychiatrist may try different drugs, different doses or combinations over time to achieve the desired result. Other medications also may help, such as antidepressants or anti-anxiety drugs. It can take several weeks to notice an improvement in symptoms.

Because medications for schizophrenia can cause serious side effects, people with schizophrenia may be reluctant to take them. Willingness to cooperate with treatment for schizophrenia may affect drug choice. For example, someone who is resistant to taking medication consistently may need to be given injections instead of taking a pill.

2. Second-generation antipsychotics

These newer, second-generation medications are generally preferred because they pose a lower risk of serious side effects than do first-generation antipsychotics. Second-generation antipsychotics include:

• Aripiprazole (Abilify)
• Asenapine (Saphris)
• Brexpiprazole (Rexulti)
• Cariprazine (Vraylar)
• Clozapine (Clozaril, Versacloz)
• Iloperidone (Fanapt)
• Lurasidone (Latuda)
• Olanzapine (Zyprexa)
• Paliperidone (Invega)
• Quetiapine (Seroquel)
• Risperidone (Risperdal)
• Ziprasidone (Geodon)

3. First-generation antipsychotics

These first-generation antipsychotics have frequent and potentially significant neurological side effects, including the possibility of developing a movement disorder (tardive dyskinesia) that may or may not be reversible. First-generation antipsychotics include:

• Chlorpromazine
• Fluphenazine
• Haloperidol
• Perphenazine

These antipsychotics are often cheaper than second-generation antipsychotics, especially the generic versions, which can be an important consideration when long-term treatment for schizophrenia is necessary.

4. Long-acting injectable antipsychotics

Some antipsychotics may be given as an intramuscular or subcutaneous injection. They are usually given every two to four weeks, depending on the medication. Ask your doctor about more information on injectable medications. This may be an option if someone has a preference for fewer pills and may help with adherence.

Common medications that are available as an injection include:

• Aripiprazole (Abilify Maintena, Aristada)
• Fluphenazine decanoate
• Haloperidol decanoate
• Paliperidone (Invega Sustenna, Invega Trinza)
• Risperidone (Risperdal Consta, Perseris)

5. Psychosocial interventions

Once psychosis recedes, in addition to continuing on medication, psychological and social (psychosocial) interventions are important. These may include:

Individual therapy- Psychotherapy may help to normalize thought patterns. Also, learning to cope with stress and identify early warning signs of relapse can help people with schizophrenia manage their illness.

Social skills training- This focuses on improving communication and social interactions and improving the ability to participate in daily activities.

Family therapy- This provides support and education to families dealing with schizophrenia.

Vocational rehabilitation and supported employment- This focuses on helping people with schizophrenia prepare for, find and keep jobs.

Most individuals with schizophrenia require some form of daily living support. Many communities have programs to help people with schizophrenia with jobs, housing, self-help groups and crisis situations. A case manager or someone on the treatment team can help find resources. With appropriate treatment for schizophrenia, most people with schizophrenia can manage their illness.

6. Hospitalization

During crisis periods or times of severe symptoms, hospitalization may be necessary to ensure safety, proper nutrition, adequate sleep and basic hygiene.

7. Electroconvulsive therapy

For adults with schizophrenia who do not respond to drug therapy, electroconvulsive therapy (ECT) may be considered. ECT may be helpful for someone who also has depression.

Conditions Related to Schizophrenia

Schizophrenia is the most well-known condition of its type, but there are a range of conditions that involve psychosis and other schizophrenia-like symptoms.

The DSM-5 lists schizophrenia alongside a number of other conditions, called schizophrenia spectrum and other psychotic disorders.

These include the following:

1. Schizotypal personality disorder: A person with schizotypal personality disorder has a difficult time developing close relationships with other people and may hold beliefs not shared by other people in his or her same culture. The person may also have unusual behaviors and learning difficulties.

2. Delusional disorder: People with delusional disorder believe things that could happen but are unlikely to happen. For example, a person with delusional disorder may believe he or she has cancer despite several negative test results. The person has no other psychotic symptoms, except those related to the delusion. However, he or she is able to function in daily life.

3. Brief psychotic disorder: This occurs when symptoms of psychosis last for longer than a day but less than a month.

4. Schizophreniform disorder: People with schizophreniform disorder have the same symptoms as people with schizophrenia. Nevertheless, their illness episodes do not last as long (from 1 to 6 months), and they may not have as many problems getting along with other people.

5. Schizoaffective disorder: People with schizoaffective disorder have the same symptoms as people with schizophrenia. Nevertheless, they also have episodes of depression and times when they feel extremely happy or have lots of energy (mania). For more information, see the topics Depression and Bipolar Disorder.

6. Substance- or medication-induced psychotic disorder: Psychotic symptoms can arise due to alcohol, cannabis, hallucinogen, or sedative use or from taking medications such as anesthetics, anticonvulsants, heart medications, chemotherapy drugs, or antidepressants.

7. Psychotic disorder due to another medical condition: This is most often due to untreated endocrine, metabolic, or autoimmune conditions or temporal lobe epilepsy.

8. Schizoid personality disorder: A person with schizoid personality disorder is aloof from other people and does not show many emotions.



The above essentials are available with AFD SHIELD.
AFD Shield capsule is a combination of 12 natural ingredients among which are Algal DHA, Ashwagandha, Curcumin and Spirullina. AFD Shield reduces TG, increases HDL and improves age related cognitive decline. It also reduces stress and anxiety and performs anti-aging activity.Moreover, it also enhances the immunomodulatory activity, improves immunity and reduces inflammation and oxidative stress. Nutralogicx: AFD SHIELD

सिज़ोफ्रेनिया और उसका उपचार

सिज़ोफ्रेनिया सभी मानसिक बीमारियों में सबसे गंभीर और भयावह है। कोई अन्य विकार जनता, मीडिया और डॉक्टरों में इतनी चिंता पैदा नहीं करता है। सिज़ोफ्रेनिया के लिए प्रभावी उपचार उपलब्ध हैं, फिर भी रोगियों और उनके परिवारों को अक्सर अच्छी देखभाल प्राप्त करने में कठिनाई होती है। सिज़ोफ्रेनिया एक विषम आनुवंशिक और न्यूरोबायोलॉजिकल पृष्ठभूमि वाला एक पुराना मनोरोग विकार है जो प्रारंभिक मस्तिष्क के विकास को प्रभावित करता है और इसे मतिभ्रम, भ्रम और अव्यवस्था और प्रेरक और संज्ञानात्मक शिथिलता जैसे मानसिक लक्षणों के संयोजन के रूप में व्यक्त किया जाता है।

हालांकि सिज़ोफ्रेनिया पुरुषों और महिलाओं को समान आवृत्ति के साथ प्रभावित करता है। सिज़ोफ्रेनिया अन्य मानसिक रोगों की तरह सामान्य नहीं है, यह बहुत अक्षम हो सकता है, क्योंकि 1000 में से लगभग 7-8 व्यक्तियों को यह विकार होगा। सिज़ोफ्रेनिया एक मानसिक विकार का वर्णन करने के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला शब्द है जिसमें लक्षणों का एक स्पेक्ट्रम होता है जिसमें धारणा में परिवर्तन, विचार और उल्लंघन में आत्म-कमी की भावना, साइकोमोटर धीमा और असामाजिक व्यवहार का प्रदर्शन शामिल है।

सिज़ोफ्रेनिया

सिज़ोफ्रेनिया क्या है?

सिज़ोफ्रेनिया एक गंभीर मानसिक विकार है जो किसी व्यक्ति के सोचने, महसूस करने और व्यवहार करने के तरीके को प्रभावित करता है। सिज़ोफ्रेनिया से पीड़ित लोगों को ऐसा लग सकता है कि उन्होंने वास्तविकता से संपर्क खो दिया है। वे आवाजें सुन सकते हैं अन्य लोग नहीं सुनते हैं। सिज़ोफ्रेनिया के लक्षणों में तीन श्रेणियां होती हैं- सकारात्मक, नकारात्मक और संज्ञानात्मक। सिज़ोफ्रेनिया के अलग-अलग कारण हैं, यह जीन, पर्यावरण या मस्तिष्क संरचनाओं में परिवर्तन के कारण हो सकता है।

सिज़ोफ्रेनिया के कारण, बीमारी सामान्य आबादी के 1 प्रतिशत से भी कम में होती है, लेकिन यह सीमा 10 प्रतिशत हो जाती है, जिनके माता-पिता, भाई या बहन जैसे विकार वाले प्रथम श्रेणी के रिश्तेदार होते हैं। सिज़ोफ्रेनिया वाले अधिकांश लोग हिंसक नहीं होते हैं; हालांकि, जब सिज़ोफ्रेनिया का इलाज नहीं किया जाता है तो हिंसा का खतरा सबसे अधिक होता है।

सिज़ोफ्रेनिया वाले लोगों को अक्सर समाज में, काम पर, स्कूल में और रिश्तों में अच्छा प्रदर्शन करने में समस्या होती है। वे भयभीत और पीछे हटने का अनुभव कर सकते हैं, और ऐसा प्रतीत हो सकता है कि उन्होंने वास्तविकता से संपर्क खो दिया है। इस आजीवन बीमारी को ठीक नहीं किया जा सकता है लेकिन सिज़ोफ्रेनिया के उचित उपचार से नियंत्रित किया जा सकता है। सिज़ोफ्रेनिया में एक मनोविकृति शामिल है, एक प्रकार की मानसिक बीमारी जिसमें एक व्यक्ति यह नहीं बता सकता कि जो कल्पना की गई है उससे वास्तविक क्या है। कई बार मानसिक विकारों से ग्रस्त लोग वास्तविकता से संपर्क खो देते हैं। दुनिया भ्रमित करने वाले विचारों, छवियों और ध्वनियों की गड़गड़ाहट की तरह लग सकती है। उनका व्यवहार बहुत ही अजीब और चौंकाने वाला भी हो सकता है। व्यक्तित्व और व्यवहार में अचानक परिवर्तन, जो तब होता है जब लोग वास्तविकता से संपर्क खो देते हैं, एक मानसिक प्रकरण कहलाता है।

सिज़ोफ्रेनिया के विभिन्न आणविक तंत्र हैं अर्थात न्यूरोडेवलपमेंट हाइपोथीसिस, डोपामाइन परिकल्पना और ग्लूटामेट परिकल्पना। सिज़ोफ्रेनिया के लक्षणों वाले व्यक्ति को जल्द से जल्द इलाज कराने में मदद करना महत्वपूर्ण है। यहां सिज़ोफ्रेनिया के लिए दो मुख्य प्रकार के उपचार दिए गए हैं जो लक्षणों में मदद कर सकते हैं: एंटीसाइकोटिक दवाएं और मनोसामाजिक उपचार। परिवार और दोस्त अपने प्रियजनों को सिज़ोफ्रेनिया के इलाज में मदद करके और उन्हें सिज़ोफ्रेनिया के इलाज में रहने के लिए प्रोत्साहित करके उनकी मदद कर सकते हैं।

सिज़ोफ्रेनिया के लक्षण

सिज़ोफ्रेनिया आमतौर पर यौवन के बाद पकड़ लेता है। अधिकांश लोगों का निदान उनके देर से किशोरावस्था में 30 के दशक की शुरुआत में किया जाता है।

प्रारंभिक लक्षण

इस विकार के लक्षण आमतौर पर किशोरावस्था और 20 के दशक की शुरुआत में दिखाई देते हैं। इन उम्र में, शुरुआती लक्षणों को विशिष्ट किशोर व्यवहारों के कारण अनदेखा किया जा सकता है।

शुरुआती लक्षणों में शामिल हैं:

• दोस्तों और परिवार से खुद को अलग करना
• दोस्तों या सामाजिक समूहों को बदलना
• ध्यान और एकाग्रता में बदलाव
• नींद की समस्याएं
• चिड़चिड़ापन और आंदोलन
• स्कूल के काम में कठिनाइयाँ, या खराब शैक्षणिक प्रदर्शन

सिज़ोफ्रेनिया के लक्षण

सकारात्मक लक्षण

सिज़ोफ्रेनिया के "सकारात्मक" लक्षण ऐसे व्यवहार हैं जो अन्यथा स्वस्थ व्यक्तियों में विशिष्ट नहीं हैं। इन व्यवहारों में शामिल हैं:

भ्रम- ये झूठे विश्वास हैं जो वास्तविकता पर आधारित नहीं हैं। उदाहरण के लिए, आपको लगता है कि आपको नुकसान पहुंचाया जा रहा है या परेशान किया जा रहा है; कुछ इशारों या टिप्पणियों को आप पर निर्देशित किया जाता है; आपके पास असाधारण क्षमता या प्रसिद्धि है; दूसरा व्यक्ति आपसे प्यार करता है; या कोई बड़ी आपदा आने वाली है। सिज़ोफ्रेनिया वाले ज्यादातर लोगों में भ्रम होता है।

मतिभ्रम- इनमें आमतौर पर उन चीजों को देखना या सुनना शामिल होता है जो मौजूद नहीं हैं। फिर भी सिज़ोफ्रेनिया वाले व्यक्ति के लिए, उनके पास सामान्य अनुभव की पूरी ताकत और प्रभाव होता है। मतिभ्रम किसी भी इंद्रिय में हो सकता है, लेकिन आवाज सुनना सबसे आम मतिभ्रम है।

अव्यवस्थित सोच (भाषण)- अव्यवस्थित सोच का अनुमान अव्यवस्थित भाषण से लगाया जाता है। प्रभावी संचार बाधित हो सकता है, और प्रश्नों के उत्तर आंशिक रूप से या पूरी तरह से असंबंधित हो सकते हैं। शायद ही कभी, भाषण में अर्थहीन शब्दों को एक साथ रखना शामिल हो सकता है जिन्हें समझा नहीं जा सकता, कभी-कभी शब्द सलाद के रूप में जाना जाता है।

अत्यधिक अव्यवस्थित या असामान्य मोटर व्यवहार- यह कई तरह से दिखा सकता है, बच्चों की तरह की मूर्खता से लेकर अप्रत्याशित आंदोलन तक। व्यवहार एक लक्ष्य पर केंद्रित नहीं है, इसलिए कार्य करना कठिन है। व्यवहार में निर्देशों का प्रतिरोध, अनुचित या विचित्र मुद्रा, प्रतिक्रिया की पूर्ण कमी, या बेकार और अत्यधिक गति शामिल हो सकती है।

विचार विकार- आपको अपने विचारों को व्यवस्थित करने में परेशानी हो सकती है, और आप ऐसे तरीके से बोल सकते हैं जिसे समझना दूसरों के लिए कठिन हो। शायद आप किसी विचार के बीच में बात करना बंद कर दें क्योंकि आपको ऐसा लगता है कि यह आपके दिमाग से निकाल दिया गया है। इसे विचार वापसी कहा जाता है। एक अन्य प्रकार की अव्यवस्थित सोच, जिसे थॉट ब्लॉकिंग कहा जाता है, तब होती है जब किसी के सोचने का प्रवाह अचानक रुक जाता है और परिणामस्वरूप वे तब तक चुप हो सकते हैं जब तक कि कोई नया विचार उनके दिमाग में न आ जाए।

संचलन संबंधी विकार- आप अपने शरीर को बार-बार हिला सकते हैं जैसे कि आप परेशान हैं, या आप हिलना और प्रतिक्रिया करना बंद कर सकते हैं। डॉक्टर इसे कैटेटोनिया कहते हैं।


नकारात्मक लक्षण

सिज़ोफ्रेनिया के नकारात्मक लक्षण एक व्यक्ति की विशिष्ट भावनाओं, व्यवहारों और क्षमताओं को बाधित करते हैं। इन लक्षणों में शामिल हैं:

• अव्यवस्थित सोच या भाषण, जहां व्यक्ति बोलते समय या बनावटी शब्दों या वाक्यांशों का उपयोग करते समय विषयों को तेजी से बदलता है
• आवेगों को नियंत्रित करने में परेशानी
• अजीब भावनात्मक स्थितियों के प्रति प्रतिक्रियाएँ
• भावनाओं या भावों की कमी
• जीवन के लिए रुचि या उत्साह की कमी
• सामाजिक अलगाव
• मुसीबत का सामना कर खुशी
• योजनाओं को शुरू करने या पूरा करने में कठिनाई
• सामान्य दैनिक गतिविधियों को पूरा करने में कठिनाई


संज्ञानात्मक लक्षण

एक प्रकार का पागलपन के संज्ञानात्मक लक्षण कभी कभी सूक्ष्म हैं और पता लगाने के लिए मुश्किल हो सकता है। हालांकि, विकार स्मृति और सोच को प्रभावित कर सकता है।

इन लक्षणों में शामिल हैं:

• अव्यवस्थित सोच, जैसे ध्यान केंद्रित करने या ध्यान देने में परेशानी
• खराब "कार्यकारी कामकाज," या जानकारी को समझना और निर्णय लेने के लिए इसका उपयोग करना
• जानकारी सीखने और उसका उपयोग करने में समस्या
• अंतर्दृष्टि की कमी या उनके लक्षणों से अनजान होना

सिज़ोफ्रेनिया के लक्षणों का पता लगाना मुश्किल हो सकता है।


अन्य लक्षण

ऊपर सूचीबद्ध लक्षण किसी व्यक्ति को भी प्रभावित कर सकते हैं:

प्रेरणा: व्यक्ति स्वयं की देखभाल सहित दैनिक गतिविधियों की उपेक्षा कर सकता है। वे कैटेटोनिया का भी अनुभव कर सकते हैं, जिसके दौरान वे मुश्किल से बात करने या हिलने-डुलने में सक्षम होते हैं।
भावनात्मक अभिव्यक्ति: व्यक्ति दुखी या खुशी के मौकों पर अनुपयुक्त या बिल्कुल भी प्रतिक्रिया नहीं दे सकता है।
सामाजिक जीवन: व्यक्ति सामाजिक रूप से पीछे हट सकता है, संभवतः इस डर से कि कोई उन्हें नुकसान पहुँचाने वाला है।
संचार: व्यक्ति के असामान्य विचार और भाषण पैटर्न उनके लिए दूसरों के साथ संवाद करना मुश्किल बना सकते हैं।


किशोरों में लक्षण

सिज़ोफ्रेनिया के लक्षण वयस्कों के समान होते हैं, लेकिन स्थिति को पहचानना अधिक कठिन हो सकता है। यह आंशिक रूप से हो सकता है क्योंकि किशोरों में सिज़ोफ्रेनिया के कुछ शुरुआती लक्षण किशोरावस्था के दौरान सामान्य विकास के लिए आम हैं, जैसे:

• दोस्तों और परिवार से वापसी
• स्कूल में प्रदर्शन में गिरावट
• नींद न आना
• चिड़चिड़ापन या उदास मनोदशा
• प्रेरणा की कमी

इसके अलावा, मनोरंजक पदार्थ का उपयोग, जैसे कि मारिजुआना, मेथामफेटामाइन या एलएसडी, कभी-कभी समान लक्षण और लक्षण पैदा कर सकता है।

वयस्कों में सिज़ोफ्रेनिया के लक्षणों की तुलना में, किशोर हो सकते हैं:

• भ्रम होने की संभावना कम है
• दृश्य मतिभ्रम होने की अधिक संभावना है

सिज़ोफ्रेनिया के कारण

सिज़ोफ्रेनिया के सटीक कारण अज्ञात हैं। शोध से पता चलता है कि शारीरिक, आनुवंशिक, मनोवैज्ञानिक और पर्यावरणीय कारकों के संयोजन से व्यक्ति को इस स्थिति के विकसित होने की अधिक संभावना हो सकती है।

कुछ लोगों को सिज़ोफ्रेनिया होने का खतरा हो सकता है, और एक तनावपूर्ण या भावनात्मक जीवन की घटना एक मानसिक प्रकरण को ट्रिगर कर सकती है। हालांकि, यह ज्ञात नहीं है कि कुछ लोगों में लक्षण क्यों विकसित होते हैं जबकि अन्य नहीं करते हैं।

सिज़ोफ्रेनिया के कारण

1. जेनेटिक्स

सिज़ोफ्रेनिया परिवारों में चलता है, लेकिन किसी एक जीन को जिम्मेदार नहीं माना जाता है। यह अधिक संभावना है कि जीन के विभिन्न संयोजन लोगों को इस स्थिति के प्रति अधिक संवेदनशील बनाते हैं। हालांकि, इन जीनों के होने का मतलब यह नहीं है कि आपको सिज़ोफ्रेनिया हो जाएगा।

यदि आपके माता-पिता, भाई-बहन, या अन्य करीबी रिश्तेदार इस स्थिति के साथ हैं, तो आपको भी इसके विकसित होने की अधिक संभावना हो सकती है। सबूत है कि विकार आंशिक रूप से विरासत में मिला है जुड़वा बच्चों के अध्ययन से आता है। समान जुड़वाँ समान जीन साझा करते हैं। समान जुड़वाँ में, यदि एक जुड़वाँ सिज़ोफ्रेनिया विकसित करता है, तो दूसरे जुड़वाँ के पास भी इसे विकसित करने का 1 से 2 मौका होता है। यह सच है भले ही उन्हें अलग से उठाया गया हो। गैर-समान जुड़वा बच्चों में, जिनके आनुवंशिक मेकअप अलग-अलग होते हैं, जब एक जुड़वां सिज़ोफ्रेनिया विकसित करता है, तो दूसरे के पास स्थिति विकसित होने का केवल 1 से 8 मौका होता है।

2. मस्तिष्क विकास

सिज़ोफ्रेनिया वाले लोगों के अध्ययन से पता चला है कि उनके मस्तिष्क की संरचना में सूक्ष्म अंतर हैं। ये परिवर्तन सिज़ोफ्रेनिया वाले सभी लोगों में नहीं देखे जाते हैं और उन लोगों में हो सकते हैं जिन्हें कोई मानसिक बीमारी नहीं है। हालांकि, उनका सुझाव है कि सिज़ोफ्रेनिया आंशिक रूप से मस्तिष्क का विकार हो सकता है।

3. मस्तिष्क में रासायनिक परिवर्तन मस्तिष्क

में जटिल परस्पर संबंधित रसायनों की एक श्रृंखला, जिसे न्यूरोट्रांसमीटर कहा जाता है, मस्तिष्क की कोशिकाओं के बीच संकेत भेजने के लिए जिम्मेदार हैं। माना जाता है कि इन रसायनों के निम्न स्तर या असंतुलन सिज़ोफ्रेनिया और अन्य मानसिक स्वास्थ्य स्थितियों के विकास में भूमिका निभाते हैं।

शोध से पता चलता है कि सिज़ोफ्रेनिया 2 न्यूरोट्रांसमीटर के स्तर में बदलाव के कारण हो सकता है: डोपामाइन और सेरोटोनिन। डोपामाइन, विशेष रूप से, सिज़ोफ्रेनिया के विकास में एक भूमिका निभाता प्रतीत होता है। शोधकर्ताओं ने सबूत पाया है कि सिज़ोफ्रेनिया वाले लोगों में डोपामाइन मस्तिष्क की अधिक उत्तेजना का कारण बनता है। यह स्थिति के कुछ लक्षणों के लिए जिम्मेदार हो सकता है।

ग्लूटामेट एक अन्य रसायन है जिसे सिज़ोफ्रेनिया से जोड़ा गया है। साक्ष्य इसके शामिल होने की ओर इशारा कर रहे हैं। हालाँकि, इस शोध की कई सीमाएँ हैं।

4. गर्भावस्था या जन्म संबंधी

जटिलताएं जन्म से पहले और दौरान जटिलताएं किसी व्यक्ति में सिज़ोफ्रेनिया सहित मानसिक स्वास्थ्य विकार विकसित करने की संभावना को बढ़ा सकती हैं।

इन जटिलताओं में शामिल हैं:

• जन्म के समय कम वजन
• गर्भावस्था के दौरान संक्रमण
• प्रसव के दौरान ऑक्सीजन की कमी (एस्फिक्सिया)
• समय से पहले प्रसव
• गर्भावस्था में मातृ मोटापे का निदान

गर्भवती महिलाओं के अध्ययन में शामिल नैतिकता के कारण, कई अध्ययन जिन्होंने कनेक्शन को देखा है प्रसवपूर्व जटिलताओं और सिज़ोफ्रेनिया के बीच जानवरों पर रहा है। सिज़ोफ्रेनिया से पीड़ित महिलाओं में गर्भावस्था के दौरान जटिलताओं का खतरा बढ़ जाता है।

5. तनाव

तनाव उन ट्रिगर्स में से एक है जो जोखिम वाले लोगों में सिज़ोफ्रेनिया विकसित कर सकता है।

सिज़ोफ्रेनिया के मुख्य मनोवैज्ञानिक ट्रिगर तनावपूर्ण जीवन की घटनाएं हैं, जैसे:

• शोक
• अपनी नौकरी या घर खोना
• तलाक
• रिश्ते का अंत
• शारीरिक, यौन या भावनात्मक शोषण

इस प्रकार के अनुभव, हालांकि तनावपूर्ण, सिज़ोफ्रेनिया का कारण नहीं बनते हैं। हालांकि, वे पहले से ही इसके प्रति संवेदनशील किसी व्यक्ति में इसके विकास को गति प्रदान कर सकते हैं।

6. नशीली दवाओं के सेवन से

सीधे तौर पर सिज़ोफ्रेनिया नहीं होता है, लेकिन अध्ययनों से पता चला है कि नशीली दवाओं के दुरुपयोग से सिज़ोफ्रेनिया या इसी तरह की बीमारी होने का खतरा बढ़ जाता है। कुछ दवाएं, विशेष रूप से भांग, कोकीन, एलएसडी या एम्फ़ैटेमिन, अतिसंवेदनशील लोगों में सिज़ोफ्रेनिया के लक्षणों को ट्रिगर कर सकती हैं।

एम्फ़ैटेमिन या कोकीन का उपयोग करने से मनोविकृति हो सकती है, और पहले के एपिसोड से ठीक होने वाले लोगों में एक विश्राम का कारण बन सकता है। शोध से पता चला है कि जो किशोर और युवा वयस्क नियमित रूप से भांग का सेवन करते हैं, उनमें बाद में वयस्कता में सिज़ोफ्रेनिया विकसित होने की संभावना अधिक होती है।

7. बचपन का आघात

बचपन के आघात को भी सिज़ोफ्रेनिया विकसित करने में एक योगदान कारक माना जाता है। सिज़ोफ्रेनिया वाले कुछ लोग दुर्व्यवहार या उपेक्षा से संबंधित मतिभ्रम का अनुभव करते हैं जिसे उन्होंने बच्चों के रूप में अनुभव किया था।

लोगों में सिज़ोफ्रेनिया विकसित होने की संभावना अधिक होती है यदि बच्चों के रूप में उन्हें एक या दोनों माता-पिता की मृत्यु या स्थायी अलगाव का अनुभव होता है। इस तरह का आघात कई अन्य प्रतिकूल शुरुआती अनुभवों से जुड़ा हुआ है, इसलिए यह अभी भी स्पष्ट नहीं है कि यह आघात सिज़ोफ्रेनिया का कारण है या सिर्फ स्थिति से जुड़ा है।

8. पर्यावरणीय कारक

सिज़ोफ्रेनिया के जोखिम को बढ़ाने वाले पर्यावरणीय कारकों में शामिल हैं:

• जन्म के दौरान आघात
• जन्म से पहले कुपोषण
• वायरल संक्रमण
• मनोसामाजिक कारक, जैसे आघात

सिज़ोफ्रेनिया के प्रकार

सिज़ोफ्रेनिया कई प्रकार के होते हैं।

1. पैरानॉयड सिज़ोफ्रेनिया

यह सिज़ोफ्रेनिया का सबसे आम प्रकार है। यह अन्य रूपों की तुलना में जीवन में बाद में विकसित हो सकता है। पैरानॉयड सिज़ोफ्रेनिया को एक या एक से अधिक भ्रम या बार-बार श्रवण मतिभ्रम होने की विशेषता है। इसमें अव्यवस्थित भाषण, कैटाटोनिक व्यवहार, या भावना की कमी शामिल नहीं थी।

भ्रम और मतिभ्रम अभी भी एक सिज़ोफ्रेनिया निदान के तत्व हैं, लेकिन विशेषज्ञ अब इसे एक अलग उपप्रकार के रूप में नहीं मानते हैं।

2. हेबेफ्रेनिक सिज़ोफ्रेनिया

जिसे 'असंगठित सिज़ोफ्रेनिया' के रूप में भी जाना जाता है, इस प्रकार का सिज़ोफ्रेनिया आमतौर पर तब विकसित होता है जब आप 15-25 वर्ष के होते हैं। अव्यवस्थित सिज़ोफ्रेनिया की विशेषता अव्यवस्थित व्यवहार और निरर्थक भाषण है। एक अन्य प्रमुख विशेषता सपाट या अनुचित प्रभाव थी।

अव्यवस्थित भाषण और विचार अभी भी एक सिज़ोफ्रेनिया निदान के तत्व हैं, लेकिन विशेषज्ञ अब इसे एक अलग उपप्रकार के रूप में नहीं मानते हैं। असंगठित सिज़ोफ्रेनिया से पीड़ित लोग अक्सर अपने चेहरे के भाव, आवाज के स्वर या तौर-तरीकों में बहुत कम या कोई भावना नहीं दिखाते हैं।

3. कैटेटोनिक स्किज़ोफ्रेनिया

कैटेटोनिक स्किज़ोफ्रेनिया कैटेटोनिया द्वारा विशेषता है। यह एक व्यक्ति को अत्यधिक गति का अनुभव करने का कारण बनता है, जिसे कैटेटोनिक उत्तेजना कहा जाता है, या कम गति, जिसे कैटेटोनिक स्तूप के रूप में जाना जाता है। उदाहरण के लिए, वे बोलने में असमर्थ हो सकते हैं (म्यूटिज़्म), किसी अन्य व्यक्ति के शब्दों (इकोलिया) को दोहरा सकते हैं, या क्रियाओं की नकल कर सकते हैं (इकोप्रैक्सिस)।

कैटेटोनिया सिज़ोफ्रेनिया और द्विध्रुवी विकार सहित कई अन्य स्थितियों के साथ हो सकता है। इस कारण से, मानसिक स्वास्थ्य पेशेवर अब इसे एक प्रकार के सिज़ोफ्रेनिया के बजाय सिज़ोफ्रेनिया और अन्य मनोदशा संबंधी विकारों के लिए एक विनिर्देशक मानते हैं।

4. अविभाजित सिज़ोफ्रेनिया

आपके निदान में पैरानॉयड, हेबेफ्रेनिक या कैटेटोनिक सिज़ोफ्रेनिया के कुछ लक्षण हो सकते हैं, लेकिन यह स्पष्ट रूप से अकेले इन प्रकारों में से एक में फिट नहीं होता है।

5. अवशिष्ट सिज़ोफ्रेनिया

अवशिष्ट सिज़ोफ्रेनिया में, एक व्यक्ति में सिज़ोफ्रेनिया के कई लक्षण होते, लेकिन वह प्रमुख भ्रम, मतिभ्रम, अव्यवस्था या कैटेटोनिक व्यवहार प्रदर्शित नहीं करता। उनके पास हल्के लक्षण हो सकते हैं, जैसे कि अजीब विश्वास या असामान्य धारणाएं।

लोगों को अवशिष्ट सिज़ोफ्रेनिया का निदान किया जा सकता है यदि उनके पास मनोविकृति का इतिहास है, लेकिन केवल धीमी गति, खराब स्मृति, एकाग्रता की कमी और खराब स्वच्छता जैसे नकारात्मक लक्षणों का अनुभव करते हैं।

6. बचपन का सिज़ोफ्रेनिया

किशोरों और 20 के दशक की शुरुआत में लोगों में सिज़ोफ्रेनिया का निदान आम है। हालांकि कम आम है, यह पहले शुरू हो सकता है। जब लक्षण 13 वर्ष की आयु से पहले होते हैं, तो इस स्थिति को कभी-कभी प्रारंभिक शुरुआत या बचपन का सिज़ोफ्रेनिया कहा जाता है।

इस स्थिति का निदान करना मुश्किल है। व्यवहार परिवर्तन असामान्य नहीं हैं क्योंकि बच्चे और किशोर विकसित होते हैं। साथ ही, इस मानसिक स्वास्थ्य विकार के कुछ सबसे सामान्य लक्षण अन्य स्थितियों में भी दिखाई देते हैं। इनमें शामिल हैं:

• अवसाद
• द्विध्रुवी विकार
• ध्यान विकार

बचपन के सिज़ोफ्रेनिया के लक्षणों में शामिल हैं:

• असामान्य भय या चिंताएं (व्यामोह)
• नींद की समस्याएं
• भावनात्मक उतार-चढ़ाव
• आवाज सुनना या चीजों को देखना (मतिभ्रम)
• आत्म-देखभाल पर ध्यान कम होना
• व्यवहार में अचानक बदलाव
• शैक्षणिक प्रदर्शन में गिरावट

गंभीर मानसिक स्वास्थ्य के लक्षणों के साथ बढ़ते बच्चों और किशोरों में होने वाले व्यवहारों को अलग करना महत्वपूर्ण है स्थिति।

7. सरल सिज़ोफ्रेनिया

सरल सिज़ोफ्रेनिया का ब्रिटेन में शायद ही कभी निदान किया जाता है। नकारात्मक लक्षण (जैसे धीमी गति, खराब स्मृति, एकाग्रता की कमी और खराब स्वच्छता) सबसे प्रमुख प्रारंभिक और खराब होते हैं, जबकि सकारात्मक लक्षण (जैसे मतिभ्रम, भ्रम, अव्यवस्थित सोच) शायद ही कभी अनुभव किए जाते हैं।

8. सेनेस्थोपैथिक सिज़ोफ्रेनिया

लोग असामान्य शारीरिक संवेदनाओं का अनुभव करते हैं।

9. अनिर्दिष्ट सिज़ोफ्रेनिया

लक्षण निदान के लिए सामान्य शर्तों को पूरा करते हैं लेकिन उपरोक्त में से किसी भी श्रेणी में फिट नहीं होते हैं।

सिज़ोफ्रेनिया के लिए निदान और परीक्षण

सिज़ोफ्रेनिया के निदान में अन्य मानसिक स्वास्थ्य विकारों को खारिज करना और यह निर्धारित करना शामिल है कि लक्षण मादक द्रव्यों के सेवन, दवा या चिकित्सा स्थिति के कारण नहीं हैं। सिज़ोफ्रेनिया के निदान के निर्धारण में शामिल हो सकते हैं:

शारीरिक परीक्षा- यह अन्य समस्याओं को दूर करने में मदद करने के लिए किया जा सकता है जो लक्षण पैदा कर सकते हैं और किसी भी संबंधित जटिलताओं की जांच कर सकते हैं।

परीक्षण और जांच- इनमें ऐसे परीक्षण शामिल हो सकते हैं जो समान लक्षणों वाली स्थितियों का पता लगाने में मदद करते हैं, और शराब और नशीली दवाओं के लिए स्क्रीनिंग। डॉक्टर एमआरआई या सीटी स्कैन जैसे इमेजिंग अध्ययन का भी अनुरोध कर सकते हैं।

मनश्चिकित्सीय मूल्यांकन- एक डॉक्टर या मानसिक स्वास्थ्य पेशेवर उपस्थिति और व्यवहार को देखकर और विचारों, मनोदशाओं, भ्रम, मतिभ्रम, मादक द्रव्यों के सेवन और हिंसा या आत्महत्या की संभावना के बारे में पूछकर मानसिक स्थिति की जाँच करता है। इसमें पारिवारिक और व्यक्तिगत इतिहास की चर्चा भी शामिल है।

सिज़ोफ्रेनिया के लिए नैदानिक ​​मानदंड-एक डॉक्टर या मानसिक स्वास्थ्य पेशेवर अमेरिकन साइकियाट्रिक एसोसिएशन द्वारा प्रकाशित मानसिक विकारों के नैदानिक ​​और सांख्यिकीय मैनुअल (डीएसएम-5) में मानदंड का उपयोग कर सकते हैं।

सिज़ोफ्रेनिया का निर्धारण करने के लिए परीक्षणों में शामिल हैं:

1. सकारात्मक और नकारात्मक सिंड्रोम स्केल

इस परीक्षण को यह मापने के लिए "स्वर्ण मानक" के रूप में प्रतिष्ठा है कि सिज़ोफ्रेनिया के लिए आपका उपचार कितनी अच्छी तरह काम कर रहा है। आपका डॉक्टर समय-समय पर पैनएसएस परीक्षण का उपयोग यह जांचने के लिए कर सकता है कि किसी दवा या चिकित्सा ने आपके लक्षणों में वास्तविक सुधार किया है या नहीं। इस टेस्ट के लिए आपका डॉक्टर लगभग 30 से 40 मिनट तक आपका इंटरव्यू लेगा। वे आपके परिवार के सदस्यों या देखभाल करने वालों से आपके व्यवहार के बारे में भी पूछेंगे।

परीक्षण के पहले खंड में, आपका डॉक्टर आपके चिकित्सा इतिहास और लक्षणों के बारे में पूछेगा। दूसरे भाग में, आपको ऐसे प्रश्न मिल सकते हैं जो यह पता लगाने की कोशिश करते हैं कि आपके लक्षण कितने गंभीर हैं। उदाहरण के लिए, आपका डॉक्टर ऐसी बातें पूछ सकता है, "आप औसत व्यक्ति की तुलना कैसे करते हैं?" और "क्या आपके पास विशेष या असामान्य शक्तियां हैं?" साक्षात्कार के तीसरे खंड में, "एक ट्रेन और बस एक जैसे कैसे हैं?" जैसे प्रश्नों पर ध्यान केंद्रित किया। यह देखने के लिए जांचें कि आप कितनी अच्छी तरह तर्क कर सकते हैं। आपको मूड के बारे में अन्य प्रश्न भी मिल सकते हैं।

आपके उत्तरों और आपके व्यवहार के बारे में आपके डॉक्टर के अवलोकन के आधार पर, वे आपको सकारात्मक और नकारात्मक सिंड्रोम स्केल पर 30 वस्तुओं पर एक अंक देंगे। प्रत्येक आइटम को 30 और 210 के बीच स्कोर देते हुए 1 (अनुपस्थित) से 7 (चरम) तक रैंक किया जाता है।

2. सैन्स और एसएपीएस टेस्ट

ये दो परीक्षण सकारात्मक और नकारात्मक लक्षणों के प्रभावों का विश्लेषण करते हैं।

सैन्स,नकारात्मक लक्षणों के आकलन के लिए पैमाने के लिए खड़ा है। यह सिज़ोफ्रेनिया के 25 नकारात्मक लक्षणों को मापता है, जिनमें शामिल हैं:

• चेहरे के भावों की कमी
• सामाजिक असावधानी
• रुचियों और रिश्तों

एसएपीएस टेस्ट का पूरा नाम सकारात्मक लक्षणों के आकलन के लिए स्केल है। यह 34 सकारात्मक लक्षणों की जाँच करता है, जिनमें शामिल हैं:

• मतिभ्रम (ऐसी चीजें देखना या सुनना जो वहां नहीं हैं))
• भ्रम (उन चीजों में दृढ़ विश्वास जो सच नहीं हैं)

दोनों पैमानों में, प्रत्येक लक्षण 1 (कोई नहीं) से 5 तक ( गंभीर)।

3. संक्षिप्त मनोरोग रेटिंग स्केल (बीपीआरएस)

यह सबसे आम परीक्षणों में से एक है जिसका उपयोग मनोचिकित्सक तब करते हैं जब वे यह जांचना चाहते हैं कि किसी का सिज़ोफ्रेनिया कितना गंभीर है। परीक्षण 18 लक्षणों या व्यवहारों को देखता है, जैसे कि शत्रुता, भटकाव और मतिभ्रम। यह प्रत्येक को 1 (मौजूद नहीं) से 7 (अत्यंत गंभीर) के पैमाने पर रैंक करता है।

स्कोर 20 से 30 मिनट की बातचीत पर आधारित होते हैं जो आपके डॉक्टर की आपके, आपके परिवार के सदस्यों या अन्य देखभाल करने वालों के साथ होती है।

4.क्लिनिकल ग्लोबल इम्प्रेशन-सिज़ोफ्रेनिया (सीजीआई-एससीएच)

डॉक्टरों ने इस परीक्षण को स्किज़ोफ्रेनिया वाले लोगों के लिए अधिक सामान्य क्लिनिकल ग्लोबल इंप्रेशन स्कोर से अनुकूलित किया है, जिसका उपयोग अन्य मनोवैज्ञानिक बीमारियों के निदान के लिए किया जाता है। सकारात्मक और नकारात्मक सिंड्रोम स्केल परीक्षण की तरह, डॉक्टर ज्यादातर सीजीआई-एससीएच का उपयोग तब करते हैं जब वे यह देखना चाहते हैं कि सिज़ोफ्रेनिया का उपचार कितनी अच्छी तरह काम कर रहा है, या तो एक व्यक्ति या नैदानिक ​​परीक्षण में लोगों के समूह के लिए।

सीजीआई-एससीएच दो चीजों को मापता है:

• आपका सिज़ोफ्रेनिया कितना गंभीर है
• आपके पिछले चेकअप के बाद से लक्षण कितने बदल गए हैं

प्रत्येक परिणाम को 1 से 7 के पैमाने पर मापा जाता है, जिसमें 7 सिज़ोफ्रेनिया का अधिक गंभीर रूप है या सिज़ोफ्रेनिया के लक्षणों में सबसे बड़ी वृद्धि है। जबकि अन्य परीक्षणों में निर्धारित प्रश्नों के साथ एक लंबा साक्षात्कार शामिल होता है, सीजीआई-एससीएच की गणना मनोचिकित्सक द्वारा कुछ ही मिनटों में की जा सकती है। अपॉइंटमेंट में पिछले 7 दिनों में आपके लक्षणों के बारे में प्रश्न शामिल हैं।

5. सिज़ोफ्रेनिया के लिए कैलगरी डिप्रेशन स्केल

डॉक्टर इस परीक्षण का उपयोग आपको अवसाद के लक्षणों की जाँच करने के लिए करते हैं जो आपके दैनिक जीवन को प्रभावित कर सकते हैं या आपको आत्महत्या के विचार भी दे सकते हैं।

पैमाना सिर्फ नौ सवालों के जवाबों पर निर्भर करता है, जिसमें "पिछले 2 हफ्तों में आप अपने मूड का वर्णन कैसे करेंगे?" और "क्या आपने महसूस किया है कि जीवन जीने लायक नहीं था?"

सिज़ोफ्रेनिया के लिए उपचार

सिज़ोफ्रेनिया के लिए आजीवन उपचार की आवश्यकता होती है, भले ही लक्षण कम हो गए हों। दवाओं और मनोसामाजिक चिकित्सा के साथ सिज़ोफ्रेनिया का उपचार इस स्थिति को प्रबंधित करने में मदद कर सकता है। कुछ मामलों में, अस्पताल में भर्ती की आवश्यकता हो सकती है।

सिज़ोफ्रेनिया के इलाज में अनुभवी एक मनोचिकित्सक आमतौर पर उपचार का मार्गदर्शन करता है। उपचार टीम में एक मनोवैज्ञानिक, सामाजिक कार्यकर्ता, मनोरोग नर्स और संभवतः देखभाल के समन्वय के लिए एक केस मैनेजर भी शामिल हो सकता है। सिज़ोफ्रेनिया के उपचार में विशेषज्ञता वाले क्लीनिकों में पूर्ण-टीम दृष्टिकोण उपलब्ध हो सकता है।

सिज़ोफ्रेनिया के लिए उपचार

सिज़ोफ्रेनिया के उपचार में निम्नलिखित शामिल हैं:

1. दवाएँ

सिज़ोफ्रेनिया के उपचार की आधारशिला हैं, और एंटीसाइकोटिक दवाएं सबसे अधिक निर्धारित दवाएं हैं। उन्हें मस्तिष्क न्यूरोट्रांसमीटर डोपामाइन को प्रभावित करके लक्षणों को नियंत्रित करने के लिए माना जाता है।

एंटीसाइकोटिक दवाओं के साथ सिज़ोफ्रेनिया के उपचार का लक्ष्य न्यूनतम संभव खुराक पर संकेतों और लक्षणों का प्रभावी ढंग से प्रबंधन करना है। मनोचिकित्सक वांछित परिणाम प्राप्त करने के लिए समय के साथ विभिन्न दवाओं, विभिन्न खुराक या संयोजन का प्रयास कर सकता है। अन्य दवाएं भी मदद कर सकती हैं, जैसे कि एंटीडिपेंटेंट्स या एंटी-चिंता दवाएं। लक्षणों में सुधार देखने में कई सप्ताह लग सकते हैं।

क्योंकि सिज़ोफ्रेनिया के लिए दवाएं गंभीर दुष्प्रभाव पैदा कर सकती हैं, सिज़ोफ्रेनिया वाले लोग उन्हें लेने से हिचक सकते हैं। सिज़ोफ्रेनिया के उपचार में सहयोग करने की इच्छा दवा के चुनाव को प्रभावित कर सकती है। उदाहरण के लिए, कोई व्यक्ति जो लगातार दवा लेने के लिए प्रतिरोधी है, उसे गोली लेने के बजाय इंजेक्शन देने की आवश्यकता हो सकती है।

2. दूसरी पीढ़ी के एंटीसाइकोटिक्स

ये नई, दूसरी पीढ़ी की दवाएं आम तौर पर पसंद की जाती हैं क्योंकि वे पहली पीढ़ी के एंटीसाइकोटिक्स की तुलना में गंभीर दुष्प्रभावों का कम जोखिम पैदा करती हैं। दूसरी पीढ़ी के एंटीसाइकोटिक्स में शामिल हैं:

• एरीपिप्राज़ोल (एबिलिफ़ाई)
• एसेनपाइन (सैफ़्रिस)
• ब्रेक्सपिप्राज़ोल (रेक्सुल्टी)
• कैरिप्राज़िन (वेरेलर)
• क्लोज़ापाइन (क्लोज़ारिल, वर्साक्लोज़)
• इलोपेरिडोन (फैनाप्ट)
• लुरासिडोन (लटुडा)
• ओलानज़ापाइन (ज़िप्रेक्सा)
• पैलीपरिडोन (इनवेगा)
• क्वेटियापाइन (सेरोक्वेल)
• रिसपेरीडोन (रिस्परडल)
• जिप्रासिडोन (जिओडॉन)

3. पहली पीढ़ी मनोविकार नाशक

ये पहली जनरेशन एंटीसाइकोटिक्स के लगातार और संभावित रूप से महत्वपूर्ण न्यूरोलॉजिकल साइड इफेक्ट होते हैं, जिसमें एक आंदोलन विकार (टारडिव डिस्केनेसिया) विकसित होने की संभावना शामिल है जो उलटा हो सकता है या नहीं। पहली पीढ़ी के मनोविकार नाशक में शामिल हैं:

• क्लोरप्रोमेज़िन
• फ्लूफेनज़ीन
• हैलोपेरीडोल
• पेरफ़ेनाज़िन

ये एंटीसाइकोटिक्स अक्सर दूसरी पीढ़ी के एंटीसाइकोटिक्स, विशेष रूप से सामान्य संस्करणों की तुलना में सस्ते होते हैं, जो एक महत्वपूर्ण विचार हो सकता है जब सिज़ोफ्रेनिया के लिए दीर्घकालिक उपचार आवश्यक हो।

4. लंबे समय तक काम करने वाले इंजेक्शन एंटीसाइकोटिक्स

कुछ एंटीसाइकोटिक्स इंट्रामस्क्युलर या चमड़े के नीचे इंजेक्शन के रूप में दिए जा सकते हैं। उन्हें आमतौर पर दवा के आधार पर हर दो से चार सप्ताह में दिया जाता है। इंजेक्टेबल दवाओं के बारे में अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से पूछें। यह एक विकल्प हो सकता है यदि किसी को कम गोलियां पसंद हैं और पालन करने में मदद मिल सकती है।

इंजेक्शन के रूप में उपलब्ध सामान्य दवाओं में शामिल हैं:

• एरीपिप्राजोल (एबिलिफाई मेनटेना, एरिस्टाडा))
• फ्लुफेनाज़िन डिकनोनेट
• हेलोपरिडोल डिकनोनेट
• पैलीपरिडोन(इनवेगा सस्टेना, इनवेगा ट्रिन्ज़ा)
• रिसपेरीडोन (रिस्परडल कॉन्स्टा, पर्सेरिस)

5. मनोसामाजिक हस्तक्षेप

एक बार मनोविकृति दूर हो जाने पर, दवा जारी रखने के अलावा, मनोवैज्ञानिक और सामाजिक (मनोसामाजिक) हस्तक्षेप महत्वपूर्ण हैं। इनमें शामिल हो सकते हैं:

व्यक्तिगत चिकित्सा- मनोचिकित्सा विचार पैटर्न को सामान्य बनाने में मदद कर सकती है। इसके अलावा, तनाव का सामना करना सीखना और विश्राम के शुरुआती चेतावनी संकेतों की पहचान करना सिज़ोफ्रेनिया वाले लोगों को अपनी बीमारी का प्रबंधन करने में मदद कर सकता है।

सामाजिक कौशल प्रशिक्षण- यह संचार और सामाजिक अंतःक्रियाओं में सुधार लाने और दैनिक गतिविधियों में भाग लेने की क्षमता में सुधार पर केंद्रित है।

पारिवारिक चिकित्सा- यह सिज़ोफ्रेनिया से पीड़ित परिवारों को सहायता और शिक्षा प्रदान करती है।

व्यावसायिक पुनर्वास और समर्थित रोजगार - यह सिज़ोफ्रेनिया से पीड़ित लोगों को नौकरी के लिए तैयार करने, खोजने और रखने में मदद करने पर केंद्रित है।

सिज़ोफ्रेनिया वाले अधिकांश व्यक्तियों को किसी न किसी रूप में दैनिक जीवन समर्थन की आवश्यकता होती है। कई समुदायों के पास सिज़ोफ्रेनिया से पीड़ित लोगों को नौकरी, आवास, स्वयं सहायता समूहों और संकट की स्थितियों में मदद करने के लिए कार्यक्रम हैं। एक केस मैनेजर या उपचार दल का कोई व्यक्ति संसाधन खोजने में मदद कर सकता है। सिज़ोफ्रेनिया के लिए उचित उपचार के साथ, सिज़ोफ्रेनिया वाले अधिकांश लोग अपनी बीमारी का प्रबंधन कर सकते हैं।

6. अस्पताल में भर्ती

संकट की अवधि या गंभीर लक्षणों के समय के दौरान, सुरक्षा, उचित पोषण, पर्याप्त नींद और बुनियादी स्वच्छता सुनिश्चित करने के लिए अस्पताल में भर्ती होना आवश्यक हो सकता है।

7. इलेक्ट्रोकोनवल्सिव थेरेपी

सिज़ोफ्रेनिया वाले वयस्कों के लिए जो ड्रग थेरेपी का जवाब नहीं देते हैं, इलेक्ट्रोकोनवल्सी थेरेपी (ईसीटी) पर विचार किया जा सकता है। ईसीटी किसी ऐसे व्यक्ति के लिए मददगार हो सकता है जिसे डिप्रेशन भी है।

सिज़ोफ्रेनिया से संबंधित रोग

सिज़ोफ्रेनिया अपने प्रकार की सबसे प्रसिद्ध स्थिति है, लेकिन ऐसी कई स्थितियां हैं जिनमें मनोविकृति और अन्य सिज़ोफ्रेनिया जैसे लक्षण शामिल हैं।

डीएसएम-5 कई अन्य स्थितियों के साथ सिज़ोफ्रेनिया को सूचीबद्ध करता है, जिसे सिज़ोफ्रेनिया स्पेक्ट्रम और अन्य मानसिक विकार कहा जाता है।

इनमें निम्नलिखित शामिल हैं:

1. स्किज़ोटाइपल व्यक्तित्व विकार: स्किज़ोटाइपल व्यक्तित्व विकार वाले व्यक्ति को अन्य लोगों के साथ घनिष्ठ संबंध विकसित करने में मुश्किल होती है और वह अपनी संस्कृति में अन्य लोगों द्वारा साझा नहीं किए गए विश्वासों को धारण कर सकता है। व्यक्ति को असामान्य व्यवहार और सीखने में कठिनाई भी हो सकती है।

2. भ्रांतिपूर्ण विकार: भ्रम संबंधी विकार वाले लोग ऐसी चीजों पर विश्वास करते हैं जो हो सकती हैं लेकिन होने की संभावना नहीं है। उदाहरण के लिए, एक भ्रम विकार वाला व्यक्ति यह मान सकता है कि कई नकारात्मक परीक्षण परिणामों के बावजूद उसे कैंसर है। भ्रम से संबंधित लक्षणों को छोड़कर व्यक्ति में कोई अन्य मानसिक लक्षण नहीं होते हैं। हालांकि, वह दैनिक जीवन में कार्य करने में सक्षम है।

3. संक्षिप्त मानसिक विकार: यह तब होता है जब मनोविकृति के लक्षण एक दिन से अधिक लेकिन एक महीने से कम समय तक रहते हैं।

4. स्किज़ोफ्रेनिफॉर्म डिसऑर्डर: सिज़ोफ्रेनिफॉर्म डिसऑर्डर वाले लोगों में सिज़ोफ्रेनिया वाले लोगों के समान लक्षण होते हैं। फिर भी, उनकी बीमारी के एपिसोड लंबे समय तक (1 से 6 महीने तक) नहीं रहते हैं, और उन्हें अन्य लोगों के साथ होने में उतनी समस्या नहीं हो सकती है।

5. स्किज़ोफेक्टिव डिसऑर्डर: स्किज़ोफेक्टिव डिसऑर्डर वाले लोगों में सिज़ोफ्रेनिया वाले लोगों के समान लक्षण होते हैं। फिर भी, उनके पास अवसाद और समय के एपिसोड भी होते हैं जब वे बेहद खुश महसूस करते हैं या बहुत सारी ऊर्जा (उन्माद) रखते हैं। अधिक जानकारी के लिए, अवसाद और द्विध्रुवी विकार विषय देखें।

6. पदार्थ- या दवा-प्रेरित मानसिक विकार: शराब, भांग, मतिभ्रम, या शामक उपयोग या एनेस्थेटिक्स, एंटीकॉन्वेलेंट्स, हृदय दवाओं, कीमोथेरेपी दवाओं या एंटीडिपेंटेंट्स जैसी दवाएं लेने से मानसिक लक्षण उत्पन्न हो सकते हैं।

7. एक अन्य चिकित्सा स्थिति के कारण मानसिक विकार: यह अक्सर अनुपचारित अंतःस्रावी, चयापचय, या ऑटोइम्यून स्थितियों या टेम्पोरल लोब मिर्गी के कारण होता है।

8. स्किज़ोइड व्यक्तित्व विकार: स्किज़ोइड व्यक्तित्व विकार वाला व्यक्ति अन्य लोगों से अलग होता है और कई भावनाओं को नहीं दिखाता है।




उपर ब्लॉग में बताई गई उपलब्धिया AFD-SHIELD के साथ उपलब्ध हैं
एएफडी शील्ड कैप्सूल 12 प्राकृतिक अवयवों का एक संयोजन है जिनमें से अलगल डीएचए, अश्वगंधा, करक्यूमिन और स्पिरुलिना हैं। एएफडी शील्ड टीजी को कम करता है, एचडीएल बढ़ाता है और उम्र से संबंधित संज्ञानात्मक गिरावट में सुधार करता है। यह तनाव और चिंता को भी कम करता है और एंटी-एजिंग गतिविधि करता है। इसके अलावा, यह इम्युनोमॉड्यूलेटरी गतिविधि को बढ़ाता है, प्रतिरक्षा में सुधार करता है और सूजन और ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करता है। न्यूट्रोग्लिग्क्स: एएफडी-शील्ड

AFDIL Ltd.
+91 9920121021

order@afdil.com

Read Also:


Disclaimer
Home