Red Meat: Good or Bad for health

Red Meat health benefits

Overview

Red meat has been linked to an increased risk of colon and rectum cancer, as well as data linking it to other malignancies like prostate and pancreatic cancer. Beef, pork, and lamb are examples of red meat.

Smoking, curing, salting, and/or the addition of chemical preservatives have all been used to preserve processed meats. Hot dogs, sausages, bacon, and luncheon meats are examples of processed meat. Processed meat has been linked to an increased risk of colorectal cancer, and there is evidence that it may also be linked to stomach cancer.

In the world of gastronomy, red meat is often crimson when raw and dark when cooked, as opposed to white meat, which is pale before and after cooking. Only meat from mammals or fowl (not fish) is classed as red or white in culinary terms. Red meat is described as any meat that contains more of the protein myoglobin than white meat, according to nutritional research. Non-dark meat from fish or poultry is referred to as white meat (excluding the leg or thigh).

Iron, creatine, minerals like zinc and phosphorus, and B-vitamins are abundant in red meat: (niacin, vitamin B12, thiamin and riboflavin). Lipoic acid is found in red meat. Vitamin D is found in modest amounts in red meat. Offal, such as the liver, contains far more than other sections of the animal.

Processed Meat

Processed meat was categorised as carcinogenic to humans (Group 1) by the World Health Organization's International Agency for Research on Cancer in 2015, based on "adequate evidence in people that the consumption of processed meat causes colorectal cancer."

Processed meat is meat that has been salted, cured, fermented, smoked, or otherwise processed to increase flavour or preserve it. Bacon, ham, salami, pepperoni, hot dogs, and certain sausages are all included. At least some red meat can be found in most processed meats.

Nitrates and nitrites contained in processed meat can be transformed by the human body into nitrosamines, which are carcinogenic and can cause mutation in colorectal cell lines, resulting in carcinogenesis and eventually cancer.

Red Meat

Red Meat

The International Agency for Research on Cancer (IARC) ruled in 2015 that red meat is probably carcinogenic to humans (Group 2A).

Unprocessed red meat consumption has not been linked to heart disease in studies that differentiate between processed and fresh red meat. Only processed meat had an unfavourable risk of coronary heart disease, according to a meta-analysis published in 2010 involving roughly one million adults who ate meat (CHD). "Differences in salt and preservatives, rather than lipids, might explain the greater risk of heart disease and diabetes reported with processed meats, but not with unprocessed red meats," the review said.

Several studies have established a link between unprocessed red meat and the risk of CHD and certain forms of stroke, even when other risk factors were considered. A 26-year study of 84,000 women found that individuals who eat the most unprocessed red meat have a 13 percent higher risk of coronary heart disease. The consumption of unprocessed red meat is linked to a higher risk of type 2 diabetes, but the association is weaker and less solid than the association between processed red meat and diabetes. Other research has suggested that the link between red meat and heart disease may be due to saturated fat, trans fat, and dietary cholesterol, rather than red meat itself.

Cancerous effect of Red Meat

Cancerous effects of red meat

Red meat was classed as "probably carcinogenic to people (Group 2A)" by the International Agency for Research on Cancer in 2015, based on "limited evidence that red meat-eating causes cancer in humans and significant mechanistic evidence suggesting a carcinogenic effect."

Another study published in 2011 found that each additional 100g (up to a maximum of around 140g) of red meat ingested per day increased the risk of colorectal cancer by 17%; there was also an increased risk of pancreatic cancer and prostate cancer, but the link was less obvious.

In the UK, 56 out of 1000 people who eat the least amount of red meat will acquire colorectal cancer (5.6%), while 66 out of 1000 people who eat the most quantity of red meat will develop colorectal cancer (6.6%) (1.17 x 5.6 = 6.6).

In 2012, a meta-analysis indicated that eating more red or processed meat increased the risk of stomach cancer. Specific components in red meat develop carcinogens such as N-nitroso compounds under certain conditions (NOCs).

According to a 2016 literature review published in the Journal of Internal Medicine, eating 100g or more of red meat per day raised the risk of stroke and breast cancer by 11%, cardiovascular mortality by 15%, colorectal cancer by 17%, and advanced prostate cancer by 19%. According to a 2017 literature analysis, N-nitroso compounds, polycyclic aromatic hydrocarbons (PAHs), and heterocyclic amines are all possible colorectal tissue carcinogens in red meat, particularly those found in processed red meat products (HCAs).

Because of the amount of powerful nitrosyl-heme molecules that produce N-nitroso compounds, processed meat is more carcinogenic than red meat.
According to a meta-analysis published in 2019, the absolute effects of red meat on cancer and all-cause mortality were very tiny, and the evidence's certainty was poor. A remark on the review, on the other hand, suggested that the evidence's certainty was of moderate to high grade.
Red meat is high in vitamins and minerals, which are necessary for a healthy, well-balanced diet. However, in recent years, its reputation has been severely tarnished, with research suggesting that eating red meat can increase the risk of cancer and other ailments. Is it, however, really so harmful for us? We look into it.
Nutritionists and health professionals have debated the benefits and risks of eating red meat for years, trying to figure out if it is healthy or not. The results have been mixed so far.

Red meat, according to researchers, includes key nutrients such as protein, vitamin B-12, and iron. However, there is evidence that consuming a lot of red meat can increase a person's risk of cancer, heart disease, and other health problems.

How it affects health?

Red meat is muscle meat from cattle, swine, lamb, goat, or other land mammals, according to experts.

Red meat, on the one hand, is high in certain nutrients, particularly vitamin B-12 and iron. These nutrients are required by the human body in order to manufacture new red blood cells.

Red meat is also high in protein, which is required for the growth of muscle, bone, and other tissues, as well as the production of enzymes.

However, several studies have connected red meat consumption to a variety of health difficulties, including heart disease, some malignancies, kidney disorders, digestive disorders, and mortality.

To make matters even more complicated, several studies claim that the sort of red meat a person consumes makes the biggest difference.

Unprocessed red meat cuts with less fat, such as sirloin steaks or pig tenderloin, may be healthier than others. This is due to the fact that they are unprocessed and contain no added salt, oil, or preservatives.

Processed red meats, such as bacon, hot dogs, sausage, bologna, salami, and other similar meats, appear to be the most dangerous to one's health.

Is red meat healthy?

Iron, vitamin B-12, and zinc are all elements found in red meat that are good for your health.

The main dietary sources of vitamin B-12 are animal-based foods like meat and dairy. As a result, those who eat a vegetarian or vegan diet may need to supplement with B-12 to avoid developing B-12 deficiency anaemia.

One 3.5-ounce (oz) or 100-gram (g) portion of uncooked ground beef comprises, according to the US Department of Agriculture,
calorie count: 247, 17.44 g of protein, 19.07 g of fat, Iron in the amount of 1.97 milligrammes (mg), Potassium: 274 mg, 4.23 milligrammes zinc, Vitamin B-12, 2.15 micrograms

The nutritional content of a particular cut of meat can be influenced by a number of factors. Cuts from different areas of the animal, for example, have variable calorie and fat levels. The nutritional value of the meat can also be affected by the farmer's methods of raising the animal, the animal's diet, and even the animal's age and sex.

Some varieties of red meat are listed as good sources of heme iron by the National Institutes of Health (NIH)Trusted Source. Only meat, poultry, and fish contain heme iron. Plants and iron-fortified foods, such as cereals and plant milks, contain nonheme iron.

According to the National Institutes of Health, heme iron is more bioavailable, which means that the body can utilise it more easily. Despite the fact that many people obtain enough iron through their meals, the National Institutes of Health warns that certain persons are at risk of iron deficiency, including newborns, young children, and pregnant women.

Red meat and Health Risks

Red meat is high in vitamins and minerals, which are necessary for a healthy, well-balanced diet. However, in recent years, its reputation has been severely tarnished, with research suggesting that eating red meat can increase the risk of cancer and other ailments. Is it, however, really so harmful for us? We look into it.

Heart Disease and Saturated fat
Several studies have linked regular consumption of red meat to an increased risk of heart disease. For years, researchers have concluded that the saturated fat found in red meat is to blame for the association between red meat consumption and heart disease.

According to the American Heart Association (AHA), red meat has more saturated fat than other protein sources like chicken, fish, or lentils.

They claim that eating a lot of saturated fat and a little bit of trans fat raises cholesterol levels and increases the risk of heart disease. As a result, they advise people to reduce their intake of red meat and instead choose for lean cuts.

However, in the Western diet, red meat is not the predominant source of trans fats. The majority are found in packaged, processed, and fried foods.

Beans and legumes, according to the AHA, are heart-healthy protein alternatives. Pinto beans are an example. beans with kidneys, chickpeas or garbanzo beans, soya bean, lentils, split peas, and black-eyed peas are all legumes.

The journal Circulation published a meta-analysis that looked at 36 distinct research. It was discovered that substituting high-quality plant protein sources for red meat — but not low-quality carbs — resulted in “more favourable” fat concentrations in the blood.

There were no significant differences in total cholesterol, low density lipoprotein cholesterol, high density lipoprotein cholesterol, or blood pressure between the red meat and animal protein diet groups, according to the meta-analysis.

Other research have cast doubt on the relation between saturated fat and heart disease. Researchers have inflated the importance of saturated fat in the development of heart disease, according to the authors of a study of heart disease risk.

In addition, a group of cardiologists published an essay claiming that saturated fat consumption did not clog arteries or raise the risk of heart disease. According to another article, multiple studies and evaluations refute the idea that saturated fat consumption causes heart disease.

Saturated fats may play a role in heart disease, however there is evidence both for and against this. The investigation is still ongoing.

Trimethylamine N-oxide and heart disease
Aside from the saturated fats controversy, other research have revealed that red meat has other potential heart disease concerns.

People who eat red meat on a daily basis had greater amounts of a metabolite called trimethylamine N-oxide, according to a recent study (TMAO). TMAO is produced by bacteria in the gut during digestion. It's a toxin that's been connected to an elevated risk of heart disease mortality by studies.

According to this study, persons who ate red meat had three times the amount of TMAO as those who ate white meat or plant-based proteins. Their TMAO levels, on the other hand, recovered to normal four weeks after they stopped consuming red meat.

Mortality and cancer
According to new study, consuming red meat on a daily basis may increase the risk of cancer or death. Specific studies' findings, on the other hand, differ.

Red meat is "probably carcinogenic to people," according to a 2015 study, while processed meat is "carcinogenic to people." This corresponds to the classifications used by the World Health Organization (WHO).

According to the paper, persons who ate more red meat were more likely to acquire colon cancer, based on numerous major studies. Both red meat and processed meat had a higher risk, though processed meat looked to have a higher risk. Furthermore, the WHO determined that processed meats – defined as “meat that has been transformed through salting, curing, fermentation, smoking, or other processes to enhance flavour or improve preservation” – are “carcinogenic to humans,” implying that there is sufficient evidence that eating processed meat increases the risk of cancer.

Other studies have found a relationship between red meat and cancer. Consider the following scenario:
One study followed over 42,000 women for seven years and discovered a relationship between red meat diet and the risk of invasive breast cancer. Women who ate chicken instead of red meat, on the other hand, had a decreased risk.

Another study, which followed 53,000 women and 27,000 men for eight years, discovered that individuals who ate red meat, particularly processed meat, had higher mortality rates. When the trial began, none of the patients had heart disease or cancer. Increases of “at least half a serving” of red meat per day were associated with a 10% greater risk of death.

Only processed red meat, not unprocessed kinds, was found to be harmful in a big study that tracked over 120,000 men and women for ten years.

The WHO's International Agency for Research on Cancer (IARC) Working Group examined over 800 studies on the effects of red and processed meats on various forms of cancer to come to these results.
They discovered that every 50-gram amount of processed meat ingested daily – predominantly pig or beef – increased the risk of colorectal cancer by 18%.
In addition, the IARC found evidence of a relationship between red meat consumption and an elevated risk of colorectal, pancreatic, and prostate cancer.
It is suspected that high-temperature cooking of red meats – such as frying or grilling – correlates to an elevated cancer risk.
Cooking meats at high temperatures can produce heterocyclic amines (HCAs) and polycyclic aromatic hydrocarbons (PAHs), compounds that have been found to raise cancer risk in animal models, according to the National Cancer Institute, which is part of the National Institutes of Health (NIH).

The function of HCAs and PAHs in human cancer risk is not well known, according to the WHO report, and there is insufficient data to tell if the method meat is cooked increases cancer risk.

Failure of the kidneys
Kidney failure is a condition in which the kidneys can no longer filter waste materials and water from the blood.

Although diabetes and high blood pressure are the most common causes of renal failure, a study published in July 2016 revealed that red meat consumption could be a risk factor.

The study, which was published in the Journal of the American Society of Nephrology, found a dose-dependent connection between red meat consumption and kidney failure risk. Participants who consumed the most red meat, for example, had a 40 percent higher risk of renal failure than those who consumed the least.

Diverticulitis
Diverticulitis is a disorder in which one or more of the sacs that line the colon's wall, known as diverticula, become inflamed.

This inflammation can result in abscesses, colon perforation, and peritonitis, among other serious problems (infection and swelling in the lining of the abdomen).

While the exact causes of diverticulitis are unknown, a high-fiber diet has been linked to an increased risk of getting the ailment.

A study published in the journal Gut earlier this month revealed that consuming a lot of red meat could raise your chances of getting diverticulitis.

Men who reported eating the most red meat had a 58 percent higher risk of developing diverticulitis than men who reported eating the least.

The researchers discovered that a high diet of unprocessed red meat posed the greatest danger.

Methods of cooking and cancer

Certain compounds occur in meat when it is cooked at a high temperature, such as pan frying or grilling over an open flame. Heterocyclic amines and polycyclic aromatic hydrocarbons are two substances that may trigger DNA alterations that lead to cancer.
Exposure to these chemicals has been linked to cancer in animals, but specialists are unsure if it also occurs in humans.
According to the National Cancer Institute, persons can decrease their exposure to these substances by doing the following:
1. not cooking meat, even white meat, over an open flame or on a very hot metal surface
2. precooking meat in the microwave to cut down on the amount of time it takes to cook it over high heat
3. turning and flipping the meat on a frequent basis
4. meat that has been burned is not to be consumed.

Another strategy to help the body is to eat antioxidant-rich vegetables like dark leafy greens with cooked meats.

When it comes to red meat, how much is too much?

The amount of red meat that is considered healthy varies depending on the organisation.
According to the World Cancer Research Fund and the American Institute for Cancer Research (AICR), red meat consumption should be limited to three servings per week. This works out to roughly 12–18 ounces per week. They also advise eating processed meat in moderation, if at all.

They clarify that though meat can be a good source of nutrients, people do not need to eat red or other types of meat to be healthy. In fact, they claim that “a blend of pulses (legumes) and cereals (grains) can provide enough protein.”
The AHA's meat recommendations are less explicit. They recommend that consumers consume less meat and only eat it "once in a while," keeping to lean cuts and quantities of no more than 6 ounces.

However, not everyone thinks that red meat should be avoided or consumed in moderation.

According to one report, a “overzealous focus” on restricting red meat consumption might lead to consumers eating less nutritious meals like highly processed junk food. Furthermore, because highly processed meals have been related to a variety of health concerns, this may not be a favourable trade-off.

“Unprocessed red meats are one of the best sources of high quality protein and provide considerable contributions to nutritional intakes,” according to the article. They can also help to keep triglyceride levels in check when compared to high-carbohydrate diets.

What is the cause of cancer if red meat consumption increases the risk?

That is unclear, however researchers are looking at a number of areas, including:
1. Saturated fat has been related to colon and breast cancers, as well as heart disease and diabetes.
2. When meat is cooked, carcinogens form.
3. Heme iron, a kind of iron found in meat, has been linked to the production of chemicals that can harm cells and lead to cancer.

Is there any nutritional value in eating red meat?

Red meat is abundant in iron, which is deficient in many teenage girls and women in their reproductive years. Red meat contains heme iron, which is easily absorbed by the body. Red meat also contains vitamin B12, which aids in the formation of DNA and maintains the health of neuron and red blood cells, as well as zinc, which helps the immune system function properly.

Red meat is high in protein, which aids in the development of bones and muscles.

According to Shalene McNeil, PhD, executive director of nutrition studies for the National Cattlemen's Beef Association, “beef is one of the most nutrient-rich diets calorie for calorie.” “A 3-ounce plate of lean beef has only 180 calories in it.

Studies on red meat causing cancer

More over 79,000 American males were diagnosed with colorectal cancer in 2007, according to estimates, whereas prostate cancer was diagnosed in nearly three times as many males. Some studies have identified a moderate to significant correlation between red meat diet and prostate cancer risk, while others have shown no relation. Perspective is provided by two studies. One study found that eating a lot of red meat, especially cooked, processed meat, doubled the risk of prostate cancer in African American males, but not in white men.

Another study discovered that very well done meat appeared to raise risk by 40%, but meat cooked at lower degrees did not. As a result, cutting back on red meat, especially processed, grilled, and barbecued meats, may be beneficial to both the prostate and the colon.

Red meat has also been related to stomach cancer, bladder cancer, and breast cancer in other research. Low-meat diets, on the other hand, have been linked to longer life spans. It's enough to make you reconsider throwing some hot dogs and burgers on the barbecue next summer.

What are some of the most lean red meat cuts?

Look for cuts of red meat that have the word "loin" in the name: Lamb loin chops, sirloin tip steak, top sirloin, pork tenderloin.

Round steaks and roasts, such as eye round and bottom round; chuck shoulder steaks; fillet mignon; flank steak; and arm roasts are also available in beef. Look for ground beef that is at least 95% lean. Check the nutrition facts label on frozen burger patties because they may contain up to 50% fat. Hot dogs, rib eyes, flat iron steaks, and some portions of the brisket are among the high-fat grilling favourites (the flat half is considered lean).

Pork loin roasts, loin chops, and bone-in rib chops are all lean cuts.

Is grass-fed beef a healthier alternative than grain-fed beef?

Because grass-fed beef is leaner than grain-fed beef, it has less total and saturated fat. Grass-fed beef also has a higher concentration of omega-3 fatty acids. However, according to Shalene McNeil of the National Cattlemen's Beef Association, the total amount of omega-3s in both forms of beef is quite minimal. Omega-3s are found in fish, vegetable oil, nuts, and seeds.

What makes the red meat, red in colour?

Myoglobin, a protein that becomes red when it binds to oxygen, is the simple answer. Myoglobin, on the other hand, loses its oxygen after a few days in the refrigerator, and the meat turns brown. Carbon monoxide, which attaches to myoglobin like glue and keeps it red for weeks, may be injected into meat to keep it looking rosy. Tuna is preserved with carbon monoxide, and a variety of chemicals are employed to improve the appearance of other foods. The moral of the storey is to never judge a dish by its colour.

Benefits of having Red Meat

Benefits of having Red Meat

Zinc Level: Another benefit of including red meat in your diet is that it contains a significant amount of zinc. This mineral is essential for increasing muscular mass, boosting immunity, and maintaining a healthy brain. A serving or two of red meat in your diet will ensure that you do not have a zinc shortage.
Fertility Enhancement: Selenium can be found in abundance in red meat. This, in combination with B6, provides a critical nutritional balance for both men and women's fertility. Red meat, on the other hand, can help males achieve optimal fertility.
B-complex vitamins: Particularly B12, are abundant in red meat. This nutrient is essential for maintaining a healthy body and a robust immune system, and a lack of it can lead to a range of health issues, including cardiovascular disease and cancer. Other vital B vitamins found in red meat include Vitamin B6, thiamine, folate, riboflavin, niacin, and pantothenic acid.
Iron: Iron can be found in abundance in lean meat. One or two servings of red meat each week can help you get the iron your body requires for your red blood cells to transfer oxygen through the body to regions like the heart and brain. People who don't get enough iron are more likely to have learning difficulties, low energy, and behavioural disorders.

Conclusion

It's difficult to make a direct relationship between a particular diet or dietary group and health issues. This is due to the fact that a variety of other factors, such as genetics, environment, health history, stress levels, sleep quality, lifestyle, and other dietary factors, may influence whether or not a person develops a specific ailment or disease.
Despite this, the volume of research suggesting that consuming a lot of red meat, particularly processed meat, can cause health concerns is expanding.
To help fight disease, major health groups such as the AICR and the AHA recommend eating more plants and less meat. As a result, consumers may choose to reduce their consumption of red and processed meat in favour of meals rich in antioxidants and nutrients, such as fruits and vegetables, which can help prevent health concerns.
It's crucial to note that replacing processed, low-quality carbs for red meat can negatively impact insulin sensitivity, lipid levels, and general health.

Related topics:

1.What is self-care & importance of self-care

Self-care means doing activities that makes us feel good and releases stress. Along with other day to day activites, self-care is also important for the body as well as the soul. To know more visit: What is self-care & importance of self-care

2. Yoga for self-care

Yoga is one of the most essential componet of self-care. It makes you feel good about yourself and has a positive impact on your physical as well as mental health. To know more visit: Yoga for self-care

3. Benefits of self-care

There are several benefits of self care such as improved productivity, improved immune system, enhanced self-knowledge and self- compassion.The main benefit is that it brings happiness to your life. To know more visit: Benefits of self-care

4. How to start a self-care routine

As many people face difficulty in starting a self-care routine, it is better to start including small self-care practices such as meditaion, yoga or excercise in your daily routine. To know more visit: How to start a self-care routine

5. How to manage stress

Self-care is an important tool that helps us to feel healthy and happy and reduces stress even in the most stressful conditions. Self-care relaxes out body and soul as it reduces the negative feelings and anxeity.To know more visit: How to manage stress




The above essentials are available with AFD SHIELD.
AFD Shield capsule is a combination of 12 natural ingredients among which are Algal DHA, Ashwagandha, Curcumin and Spirullina. AFD Shield reduces TG, increases HDL and improves age related cognitive decline. It also reduces stress and anxiety and performs anti-aging activity.Moreover, it also enhances the immunomodulatory activity, improves immunity and reduces inflammation and oxidative stress. Nutralogicx: AFD SHIELD

लाल मांस: सेहत के लिए अच्छा या बुरा

Red Meat health benefits

अवलोकन

लाल मांस को पेट और मलाशय के कैंसर के बढ़ते जोखिम से जोड़ा गया है, साथ ही इसे प्रोस्टेट और अग्नाशय के कैंसर जैसी अन्य घातकताओं से जोड़ने वाले डेटा भी हैं । बीफ, पोर्क, और भेड़ का बच्चा लाल मांस के उदाहरण हैं।

धूम्रपान, इलाज, नमकीन, और/या रासायनिक संरक्षक के अलावा सभी प्रसंस्कृत मांस की रक्षा के लिए इस्तेमाल किया गया है । गर्म कुत्ते, सॉसेज, बेकन, और लंच मीट प्रसंस्कृत मांस के उदाहरण हैं। प्रसंस्कृत मांस को कोलोरेक्टल कैंसर के बढ़ते जोखिम से जोड़ा गया है, और इस बात के सबूत हैं कि इसे पेट के कैंसर से भी जोड़ा जा सकता है।

गैस्ट्रोनोमी की दुनिया में, लाल मांस अक्सर जब कच्चे और अंधेरे जब पकाया जाता है, के रूप में सफेद मांस है, जो पहले और खाना पकाने के बाद पीला है के खिलाफ क्रिमसन है । केवल स्तनधारियों या मुर्गी (मछली नहीं) से मांस को पाक शब्दों में लाल या सफेद के रूप में वर्गेड किया जाता है। पोषण अनुसंधान के अनुसार, लाल मांस को किसी भी मांस के रूप में वर्णित किया गया है जिसमें सफेद मांस की तुलना में प्रोटीन मायोग्लोबिन अधिक होता है । मछली या मुर्गी से गैर-काले मांस को सफेद मांस (पैर या जांघ को छोड़कर) के रूप में जाना जाता है।

आयरन, क्रिएटिन, जिंक और फास्फोरस जैसे खनिज, और बी-विटामिन लाल मांस में प्रचुर मात्रा में होते हैं: (नियासिन, विटामिन बी 12, थियामिन और राइबोफ्लेविन)। रेड मीट में लिपोइक एसिड पाया जाता है। विटामिन डी लाल मांस में मामूली मात्रा में पाया जाता है। ओफल, जैसे कि यकृत, में जानवर के अन्य वर्गों की तुलना में कहीं अधिक होता है।

प्रसंस्कृत मांस

प्रसंस्कृत मांस को २०१५ में विश्व स्वास्थ्य संगठन की इंटरनेशनल एजेंसी फॉर रिसर्च ऑन कैंसर द्वारा मनुष्यों (समूह 1) के लिए कैंसरजनक के रूप में वर्गीकृत किया गया था, जो "लोगों में पर्याप्त सबूत है कि प्रसंस्कृत मांस की खपत कोलोरेक्टल कैंसर का कारण बनती है।

प्रसंस्कृत मांस मांस है जिसे नमकीन, ठीक किया गया है, किण्वित किया गया है, धूम्रपान किया गया है, या अन्यथा स्वाद बढ़ाने या इसे संरक्षित करने के लिए संसाधित किया गया है। बेकन, हैम, सलामी, पेपरोनी, गर्म कुत्ते, और कुछ सॉसेज सभी शामिल हैं। कम से कम कुछ लाल मांस सबसे प्रसंस्कृत मांस में पाया जा सकता है।

प्रसंस्कृत मांस में निहित नाइट्रेट और नाइट्राइट्स को मानव शरीर द्वारा नाइट्रोसामाइंस में बदल दिया जा सकता है, जो कैंसरजनक हैं और कोलोरेक्टल सेल लाइनों में उत्परिवर्तन का कारण बन सकते हैं, जिसके परिणामस्वरूप कार्सिनोजेनेसिस और अंततः कैंसर हो सकता है।

लाल मांस

Red Meat

इंटरनेशनल एजेंसी फॉर रिसर्च ऑन कैंसर (आईएआरसी) ने २०१५ में फैसला सुनाया कि रेड मीट शायद मनुष्यों (ग्रुप 2ए) के लिए कैंसरजनक है ।

असंसाधित लाल मांस की खपत को अध्ययनों में हृदय रोग से नहीं जोड़ा गया है जो प्रसंस्कृत और ताजा लाल मांस के बीच अंतर करता है । केवल प्रसंस्कृत मांस कोरोनरी हृदय रोग का एक प्रतिकूल जोखिम था, एक मेटा के अनुसार २०१० में प्रकाशित विश्लेषण लगभग १,०००,० वयस्कों जो मांस (CHD) खाया शामिल । "नमक और संरक्षक में मतभेद, बजाय लिपिड, हृदय रोग और मधुमेह के अधिक से अधिक जोखिम की व्याख्या हो सकती है प्रसंस्कृत मांस के साथ रिपोर्ट, लेकिन असंसाधित लाल मांस के साथ नहीं," समीक्षा ने कहा ।

कई अध्ययनों ने असंसाधित लाल मांस और सीएचडी के जोखिम और स्ट्रोक के कुछ रूपों के बीच एक लिंक स्थापित किया है, यहां तक कि जब अन्य जोखिम कारकों पर विचार कियागयाथा। ८४,००० महिलाओं के 26 साल के अध्ययन में पाया गया कि जो व्यक्ति सबसे असंसाधित लाल मांस खाते हैं, उनमें कोरोनरी हृदय रोग का खतरा 13 प्रतिशत अधिक होता है । असंसाधित लाल मांस की खपत प्रकार के एक उच्च जोखिम से जुड़ा हुआ है 2 मधुमेह, लेकिन संघ कमजोर और प्रसंस्कृत लाल मांस और मधुमेह के बीच सहयोग की तुलना में कम ठोस है । अन्य शोध में सुझाव दिया गया है कि रेड मीट और हृदय रोग के बीच की कड़ी रेड मीट के बजाय सैचुरेटेड फैट, ट्रांस फैट और डाइटरी कोलेस्ट्रॉल के कारण हो सकती है ।

लाल मांस का कैंसर प्रभाव

Cancerous effects of red meat

लाल मांस के रूप में वर्गीकृत किया गया था "शायद लोगों को कैंसरजनक (समूह 2A)" २०१५ में कैंसर पर अनुसंधान के लिए अंतरराष्ट्रीय एजेंसी द्वारा, "सीमित सबूत है कि लाल मांस खाने मनुष्यों में कैंसर का कारण बनता है और महत्वपूर्ण यंत्रवादी सबूत एक कैंसरजनक प्रभाव का सुझाव के आधार पर."

2011 में प्रकाशित एक अन्य अध्ययन में पाया गया कि प्रति दिन लाल मांस के प्रत्येक अतिरिक्त 100ग्राम (अधिकतम 140ग्राम तक) ने कोलोरेक्टल कैंसर के जोखिम को 17% तक बढ़ा दिया; वहां भी अग्नाशय के कैंसर और प्रोस्टेट कैंसर का खतरा बढ़ गया था, लेकिन लिंक कम स्पष्ट था ।

ब्रिटेन में, 1000 लोगों में से 56 जो लाल मांस की कम मात्रा खाते हैं, कोलोरेक्टल कैंसर (5.6%) प्राप्त करेंगे, जबकि लाल मांस की सबसे अधिक मात्रा खाने वाले 1000 लोगों में से 66 कोलोरेक्टल कैंसर (6.6%) (1.17 x 5.6 = 6.6)।

२०१२ में मेटा-एनालिसिस में बताया गया कि ज्यादा लाल या प्रोसेस्ड मीट खाने से पेट के कैंसर का खतरा बढ़ जाता है । लाल मांस में विशिष्ट घटक कुछ शर्तों (एनओसी) के तहत एन-नाइट्रोसो यौगिकों जैसे कैंसरजनकों का विकास करते हैं।

एक २०१६ साहित्य आंतरिक चिकित्सा के जर्नल में प्रकाशित की समीक्षा के अनुसार, प्रति दिन लाल मांस के 100g या अधिक खाने से स्ट्रोक और स्तन कैंसर का खतरा 11%, हृदय मृत्यु दर 15% से, कोलोरेक्टल कैंसर 17% से, और उन्नत प्रोस्टेट कैंसर 19% से उठाया । 2017 साहित्य विश्लेषण के अनुसार, एन-नाइट्रोसो यौगिक, पॉलीसाइक्लिक एरोमेटिक हाइड्रोकार्बन (पीएएच), और हेट्रोसाइक्लाइक अमीन लाल मांस में सभी संभव कोलोरेक्टल ऊतक कैंसरजनक हैं, विशेष रूप से प्रसंस्कृत लाल मांस उत्पादों (एचपीसीए) में पाए जाने वाले।

एन-नाइट्रोसो यौगिकों का उत्पादन करने वाले शक्तिशाली नाइट्रोसाइल-हेम अणुओं की मात्रा के कारण, प्रसंस्कृत मांस लाल मांस की तुलना में अधिक कैंसरजनक होता है।

२०१९ में प्रकाशित मेटा-विश्लेषण के अनुसार, कैंसर और सभी कारण मृत्यु दर पर लाल मांस का पूर्ण प्रभाव बहुत छोटा था, और सबूत की निश्चितता खराब थी । दूसरी ओर समीक्षा पर एक टिप्पणी ने सुझाव दिया कि सबूतों की निश्चितता मध्यम से उच्च ग्रेड की थी ।

रेड मीट में विटामिन और मिनरल्स ज्यादा होते हैं, जो हेल्दी, अच्छी तरह से बैलेंस्ड डाइट के लिए जरूरी होते हैं। हालांकि, हाल के वर्षों में, इसकी प्रतिष्ठा गंभीर रूप से धूमिल हो गई है, अनुसंधान के साथ सुझाव है कि लाल मांस खाने से कैंसर और अन्य बीमारियों का खतरा बढ़ सकता है । लेकिन क्या यह वास्तव में हमारे लिए इतना हानिकारक है? हम इसकी जांच करते हैं।

पोषण विशेषज्ञ और स्वास्थ्य पेशेवरों के लाभों और वर्षों के लिए लाल मांस खाने के जोखिम पर बहस की है, यह पता लगाने की कोशिश कर रहा है कि यह स्वस्थ है या नहीं । अब तक इसके परिणाम मिले-जुले रहे हैं।

शोधकर्ताओं के अनुसार रेड मीट में प्रोटीन, विटामिन बी-12 और आयरन जैसे प्रमुख पोषक तत्व शामिल हैं । हालांकि, इस बात के सबूत हैं कि बहुत सारे लाल मांस का सेवन करने से व्यक्ति को कैंसर, हृदय रोग और अन्य स्वास्थ्य समस्याओं का खतरा बढ़ सकता है।

यह स्वास्थ्य को कैसे प्रभावित करता है?

विशेषज्ञों के अनुसार लाल मांस पशु, सूअर, भेड़ का बच्चा, बकरी या अन्य भूमि स्तनधारियों से मांसपेशी मांस है ।

लाल मांस, एक तरफ, कुछ पोषक तत्वों, विशेष रूप से विटामिन बी-12 और लोहे में उच्च है। नई लाल रक्त कोशिकाओं के निर्माण के लिए मानव शरीर के लिए इन पोषक तत्वों की आवश्यकता होती है।

लाल मांस में प्रोटीन भी अधिक होता है, जो मांसपेशियों, हड्डी और अन्य ऊतकों के विकास के साथ-साथ एंजाइमों के उत्पादन के लिए आवश्यक होता है।

हालांकि, कई अध्ययनों ने लाल मांस की खपत को हृदय रोग, कुछ घातक, गुर्दे के विकारों, पाचन विकारों और मृत्यु दर सहित विभिन्न स्वास्थ्य कठिनाइयों से जोड़ा है।

मामलों को और भी जटिल बनाने के लिए, कई अध्ययनों का दावा है कि लाल मांस की तरह एक व्यक्ति का उपभोग सबसे बड़ा फर्क पड़ता है । कम वसा के साथ असंसाधित लाल मांस में कटौती, जैसे सिरलोइन स्टेक या सुअर टेंडरलॉइन, दूसरों की तुलना में स्वस्थ हो सकता है। यह इस तथ्य के कारण है कि वे असंसाधित हैं और इसमें कोई अतिरिक्त नमक, तेल या संरक्षक नहीं होते हैं। बेकन, गर्म कुत्तों, सॉसेज, बोलोग्ना, सलामी और इसी तरह के अन्य मीट जैसे प्रसंस्कृत लाल मांस, किसी के स्वास्थ्य के लिए सबसे खतरनाक प्रतीत होते हैं।

क्या लाल मांस स्वस्थ है?

आयरन, विटामिन बी-12 और जिंक रेड मीट में पाए जाने वाले सभी तत्व आपकी सेहत के लिए अच्छे होते हैं।

विटामिन बी-12 के मुख्य आहार स्रोत मांस और डेयरी जैसे पशु आधारित खाद्य पदार्थ हैं। नतीजतन, जो लोग शाकाहारी या शाकाहारी आहार खाते हैं, उन्हें बी-12 की कमी एनीमिया विकसित करने से बचने के लिए बी-12 के साथ पूरक करने की आवश्यकता हो सकती है।

एक ३.५ औंस (आस्ट्रेलिया) या १००-ग्राम (ग्राम) कच्चा जमीन बीफ के भाग में शामिल हैं, अमेरिकी कृषि विभाग के अनुसार,

कैलोरी गिनती: 247
17.44 ग्राम प्रोटीन 19.07 ग्राम वसा
1.97 मिलीग्राम (मिलीग्राम) की मात्रा में लोहा
पोटेशियम: 274 मिलीग्राम
4.23 मिलीग्राम जिंक
विटामिन बी-12, 2.15 माइक्रोग्राम
मांस के एक विशेष कट की पोषण सामग्री कई कारकों से प्रभावित हो सकती है। उदाहरण के लिए, जानवर के विभिन्न क्षेत्रों से कटौती में चर कैलोरी और वसा का स्तर होता है। जानवर की परवरिश के किसान के तरीकों, जानवर के आहार और यहां तक कि जानवर की उम्र और सेक्स से भी मांस का पोषण मूल्य प्रभावित हो सकता है।

लाल मांस की कुछ किस्मों स्वास्थ्य के राष्ट्रीय संस्थानों (NIH) विश्वसनीय स्रोत द्वारा हीम लोहे के अच्छे स्रोतों के रूप में सूचीबद्ध हैं । केवल मांस, मुर्गी और मछली में हीम आयरन होता है। पौधों और लोहे के फोर्टिफाइड खाद्य पदार्थों, जैसे अनाज और पौधे के दूध में नहेम आयरन होता है।

नेशनल इंस्टीट्यूट्स ऑफ हेल्थ के मुताबिक, हेम आयरन ज्यादा बायोसियॉन उपलब्ध है, जिसका मतलब है कि शरीर इसका ज्यादा आसानी से इस्तेमाल कर सकता है। इस तथ्य के बावजूद कि कई लोग अपने भोजन के माध्यम से पर्याप्त लोहा प्राप्त करते हैं, राष्ट्रीय स्वास्थ्य संस्थान चेतावनी देते हैं कि कुछ व्यक्तियों को नवजात शिशुओं,छोटे बच्चों और गर्भवती महिलाओं सहित लोहे की कमी का खतरा है ।

लाल मांस और स्वास्थ्य जोखिम

रेड मीट में विटामिन और मिनरल्स ज्यादा होते हैं, जो हेल्दी, अच्छी तरह से बैलेंस्ड डाइट के लिए जरूरी होते हैं। हालांकि, हाल के वर्षों में, इसकी प्रतिष्ठा गंभीर रूप से धूमिल हो गई है, अनुसंधान के साथ सुझाव है कि लाल मांस खाने से कैंसर और अन्य बीमारियों का खतरा बढ़ सकता है । लेकिन क्या यह वास्तव में हमारे लिए इतना हानिकारक है? हम इसकी जांच करते हैं।

मृत्यु दर और कैंसर
नए अध्ययन के अनुसार, दैनिक आधार पर लाल मांस का सेवन करने से कैंसर या मौत का खतरा बढ़ सकता है। दूसरी ओर, विशिष्ट अध्ययनों के निष्कर्ष भिन्न हैं ।

लाल मांस "शायद लोगों के लिए कैंसरजनक है," एक २०१५ अध्ययन के अनुसार, जबकि प्रसंस्कृत मांस "लोगों के लिए कैंसरजनक है." यह विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) द्वारा उपयोग किए जाने वाले वर्गीकरण से मेल खाती है।

कागज के अनुसार, व्यक्तियों, जो अधिक लाल मांस खाया और अधिक पेट के कैंसर प्राप्त करने की संभावना थी, कई प्रमुख अध्ययनों के आधार पर । दोनों लाल मांस और प्रसंस्कृत मांस एक उच्च जोखिम था, हालांकि प्रसंस्कृत मांस के लिए एक उच्च जोखिम है देखा । इसके अलावा, डब्ल्यूएचओ ने निर्धारित किया है कि प्रसंस्कृत मांस-"मांस है कि नमकीन, इलाज, किण्वन, धूंरपान, या अंय प्रक्रियाओं के माध्यम से बदल दिया गया है स्वाद बढ़ाने या संरक्षण में सुधार"-"मनुष्यों के लिए कैंसरजनक हैं," जिसका अर्थ है कि वहां पर्याप्त सबूत है कि प्रसंस्कृत मांस खाने के कैंसर का खतरा बढ़ जाता है ।

एक अध्ययन सात साल के लिए ४२,००० से अधिक महिलाओं के बाद और लाल मांस आहार और आक्रामक स्तन कैंसर के जोखिम के बीच एक रिश्ते की खोज की । जिन महिलाओं ने रेड मीट की जगह चिकन खाया, वहीं दूसरी ओर खतरा कम हो गया ।

एक अन्य अध्ययन, जिसने आठ वर्षों तक ५३,००० महिलाओं और २७,००० पुरुषों के बाद यह पता लगाया कि जिन व्यक्तियों ने लाल मांस खाया, विशेष रूप से प्रसंस्कृत मांस, मृत्यु दर अधिक थी । जब परीक्षण शुरू हुआ तो किसी भी मरीज को दिल की बीमारी या कैंसर नहीं था । प्रति दिन लाल मांस के "कम से आधे सेवारत" की वृद्धि मौत के 10% अधिक जोखिम के साथ जुड़े थे ।

केवल प्रसंस्कृत लाल मांस, असंसाधित प्रकार नहीं, एक बड़े अध्ययन में हानिकारक पाया गया था कि दस साल के लिए १२०,००० से अधिक पुरुषों और महिलाओं को ट्रैक ।

डब्ल्यूएचओ की इंटरनेशनल एजेंसी फॉर रिसर्च ऑन कैंसर (आईएआरसी) वर्किंग ग्रुप ने इन परिणामों में आने के लिए कैंसर के विभिन्न रूपों पर लाल और प्रसंस्कृत मीट के प्रभावों पर ८०० से अधिक अध्ययनों की जांच की ।

उन्होंने पाया कि हर ५० ग्राम मात्रा में प्रसंस्कृत मांस दैनिक-मुख्य रूप से सुअर या बीफ-कोलोरेक्टल कैंसर के खतरे में 18% की वृद्धि हुई ।

इसके अलावा, आईएआरसी को लाल मांस की खपत और कोलोरेक्टल, अग्नाशय और प्रोस्टेट कैंसर के एक ऊंचा जोखिम के बीच संबंध के सबूत मिले।

यह संदेह है कि लाल मांस के उच्च तापमान खाना पकाने-जैसे फ्राइंग या grilling-एक ऊंचा कैंसर के जोखिम से संबंधित है ।

गुर्दे की विफलता
गुर्दे की विफलता एक ऐसी स्थिति है जिसमें गुर्दे अब रक्त से अपशिष्ट सामग्री और पानी को फ़िल्टर नहीं कर सकते हैं।

हालांकि मधुमेह और उच्च रक्तचाप गुर्दे की विफलता का सबसे आम कारण हैं, जुलाई २०१६ में प्रकाशित एक अध्ययन से पता चला है कि लाल मांस की खपत एक जोखिम कारक हो सकता है ।

अमेरिकन सोसायटी ऑफ नेफ्रोलॉजी के जर्नल में प्रकाशित इस अध्ययन में रेड मीट की खपत और किडनी फेलियर रिस्क के बीच डोज पर निर्भर कनेक्शन पाया गया । प्रतिभागियों को जो सबसे लाल मांस का सेवन किया, उदाहरण के लिए, जो कम से कम भस्म की तुलना में गुर्दे की विफलता का एक ४० प्रतिशत अधिक जोखिम था ।

डायवर्टिकुलिटिस
डायवर्टिकुलाइटिस एक विकार है जिसमें एक या अधिक थैली जो कोलन की दीवार को लाइन करती है, जिसे डायवर्टिकला के नाम से जाना जाता है, सूजन हो जाती है।

इस सूजन के परिणामस्वरूप अन्य गंभीर समस्याओं (पेट की परत में संक्रमण और सूजन) के बीच फोड़े, कोलन वेध और पेरिटोनाइटिस हो सकते हैं।

जबकि डायवर्टिकुलाइटिस के सटीक कारण अज्ञात हैं, एक उच्चफाइबर आहार को बीमारी होने के बढ़ते जोखिम से जोड़ा गया है।

इस महीने की शुरुआत में जर्नल गट में प्रकाशित एक अध्ययन से पता चला है कि बहुत सारे लाल मांस का सेवन करने से डायवर्टिकुलाइटिस होने की संभावना बढ़ सकती है ।

पुरुषों को जो सबसे लाल मांस खाने की सूचना पुरुषों की तुलना में diverticulitis विकसित करने का एक ५८ प्रतिशत अधिक जोखिम था जो कम खाने की सूचना दी ।

शोधकर्ताओं ने पता लगाया कि असंसाधित लाल मांस के एक उच्च आहार ने सबसे बड़ा खतरा पैदा कर दिया ।

हृदय रोग और संतृप्त वसा
कई अध्ययनों से लाल मांस की नियमित खपत हृदय रोग के बढ़ते जोखिम से जुड़ी है । साल के लिए, शोधकर्ताओं ने निष्कर्ष निकाला है कि लाल मांस में पाया संतृप्त वसा लाल मांस की खपत और हृदय रोग के बीच सहयोग के लिए जिंमेदार है ।

अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन (अहा) के मुताबिक, रेड मीट में चिकन, मछली या मसूर जैसे अन्य प्रोटीन स्रोतों की तुलना में अधिक संतृप्त वसा होता है ।

उनका दावा है कि ढेर सारे सैचुरेटेड फैट और थोड़ी बहुत ट्रांस फैट खाने से कोलेस्ट्रॉल का स्तर बढ़ जाता है और दिल की बीमारी का खतरा बढ़ जाता है। नतीजतन, वे लोगों को लाल मांस के अपने सेवन को कम करने और इसके बजाय दुबला कटौती के लिए चुनते है सलाह देते हैं ।

हालांकि, पश्चिमी आहार में, लाल मांस ट्रांस वसा का प्रमुख स्रोत नहीं है। अधिकांश पैक, संसाधित और तले हुए खाद्य पदार्थों में पाए जाते हैं।

एएचए के अनुसार बीन्स और फलियां दिल से स्वस्थ प्रोटीन विकल्प हैं । पिंटो बीन्स एक उदाहरण हैं। गुर्दे, छोला या garbanzo सेम,सोया बीन,मसूर, विभाजन मटर, और काली आंखों मटर के साथ सेम सभी फलियां हैं ।

जर्नल सर्कुलेशन ने एक मेटा-एनालिसिस प्रकाशित किया जो ३६ अलग शोध को देखता था । यह पता चला कि लाल मांस के लिए उच्च गुणवत्ता वाले संयंत्र प्रोटीन स्रोतों का प्रतिस्थापन-लेकिन कम गुणवत्ता वाले कार्ब्स नहीं-रक्त में "अधिक अनुकूल" वसा सांद्रता के परिणामस्वरूप ।

मेटा-विश्लेषण के अनुसार कुल कोलेस्ट्रॉल, कम घनत्व लिपोप्रोटीन कोलेस्ट्रॉल, उच्च घनत्व लिपोप्रोटीन कोलेस्ट्रॉल, या लाल मांस और पशु प्रोटीन आहार समूहों के बीच रक्तचाप में कोई महत्वपूर्ण अंतर नहीं था ।

अन्य शोध में संतृप्त वसा और हृदय रोग के बीच संबंध पर संदेह पैदा किया गया है । हृदय रोग के जोखिम के एक अध्ययन के लेखकों के अनुसार, शोधकर्ताओं ने हृदय रोग के विकास में संतृप्त वसा के महत्व को फुलाया है ।

इसके अलावा, हृदय रोग विशेषज्ञों के एक समूह ने एक निबंध प्रकाशित किया जिसमें दावा किया गया था कि संतृप्त वसा की खपत से धमनियों को रोकना नहीं था या हृदय रोग का खतरा नहीं है । एक अन्य लेख के अनुसार, कई अध्ययन और मूल्यांकन इस विचार का खंडन करते हैं कि संतृप्त वसा की खपत हृदय रोग का कारण बनती है।

संतृप्त वसा हृदय रोग में एक भूमिका निभा सकता है, लेकिन इस के लिए और इसके खिलाफ दोनों के लिए सबूत है। जांच अभी चल रही है ।

खाना पकाने और कैंसर के तरीके

कुछ यौगिक मांस में तब होते हैं जब इसे उच्च तापमान पर पकाया जाता है, जैसे कि खुली लौ पर पैन फ्राइंग या ग्रिलिंग। हेट्रोसाइक्लाइक अमीन और पॉलीसाइक्लिक एरोमेटिक हाइड्रोकार्बन दो ऐसे पदार्थ हैं जो डीएनए परिवर्तन को ट्रिगर कर सकते हैं जो कैंसर का कारण बनते हैं।

इन रसायनों के संपर्क में जानवरों में कैंसर से जोड़ा गया है, लेकिन विशेषज्ञों अनिश्चित अगर यह भी मनुष्यों में होता है ।
राष्ट्रीय कैंसर संस्थान के अनुसार, व्यक्ति निम्नलिखित करके इन पदार्थों के संपर्क में कमी कर सकते हैं:
1. मांस खाना पकाने नहीं, यहां तक कि सफेद मांस, एक खुली लौ पर या एक बहुत ही गर्म धातु की सतह पर
2. माइक्रोवेव में मांस खाना पकाने से पहले समय की मात्रा में कटौती करने के लिए यह उच्च गर्मी पर खाना बनाना लेता है
3. लगातार आधार पर मांस को मोड़ना और फ्लिप करना
4. जो मांस जलाया गया है, उसका सेवन नहीं करना है।

शरीर की मदद करने के लिए एक और रणनीति पकाया मांस के साथ गहरे पत्तेदार साग की तरह एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर सब्जियां खाने के लिए है ।

जब रेड मीट की बात आती है तो कितना ज्यादा होता है?

स्वस्थ माने जाने वाले लाल मांस की मात्रा संगठन के आधार पर अलग-अलग होती है।

वर्ल्ड कैंसर रिसर्च फंड और अमेरिकन इंस्टीट्यूट फॉर कैंसर रिसर्च (एआईसीआर) के मुताबिक, रेड मीट की खपत प्रति सप्ताह तीन सर्विंग्स तक सीमित होनी चाहिए । यह प्रति सप्ताह लगभग 12-18 औंस के लिए बाहर काम करता है । वे संयम में प्रसंस्कृत मांस खाने की सलाह भी देते हैं, अगर बिल्कुल भी।

वे स्पष्ट करते हैं कि हालांकि मांस पोषक तत्वों का एक अच्छा स्रोत हो सकता है, लेकिन लोगों को स्वस्थ होने के लिए लाल या अन्य प्रकार के मांस खाने की आवश्यकता नहीं है। वास्तव में, वे दावा करते हैं कि "दालों (फलियां) और अनाज (अनाज) का मिश्रण पर्याप्त प्रोटीन प्रदान कर सकता है।

अहा के मांस की सिफारिशें कम स्पष्ट हैं । वे अनुशंसा करते है कि उपभोक्ताओं को कम मांस का उपभोग और केवल इसे खाने "एक समय में एक बार," दुबला कटौती और कोई अधिक से अधिक 6 औंस की मात्रा रखते हुए ।

हालांकि, हर कोई नहीं सोचता है कि लाल मांस से बचना चाहिए या संयम में भस्म हो जाना चाहिए । एक रिपोर्ट के अनुसार, लाल मांस की खपत को प्रतिबंधित करने पर एक "अति उत्साही ध्यान" उपभोक्ताओं को अत्यधिक प्रसंस्कृत जंक फूड की तरह कम पौष्टिक भोजन खाने के लिए नेतृत्व कर सकते हैं । इसके अलावा, क्योंकि अत्यधिक प्रसंस्कृत भोजन स्वास्थ्य चिंताओं की एक किस्म से संबंधित किया गया है, यह एक अनुकूल व्यापार बंद नहीं हो सकता है ।

"असंसाधित लाल मांस उच्च गुणवत्ता वाले प्रोटीन का सबसे अच्छा स्रोतों में से एक है और पोषण के सेवन के लिए काफी योगदान प्रदान करते हैं," लेख के अनुसार । वे उच्च कार्बोहाइड्रेट वाले आहार की तुलना में ट्राइग्लिसराइड के स्तर को जांच में रखने में भी मदद कर सकते हैं।

अगर रेड मीट के सेवन से खतरा बढ़ जाता है तो कैंसर का कारण क्या है?

यह स्पष्ट नहीं है, लेकिन शोधकर्ताओं सहित क्षेत्रों की एक संख्या को देख रहे हैं:
संतृप्त वसा पेट और स्तन कैंसर, साथ ही हृदय रोग और मधुमेह से संबंधित किया गया है ।

जब मांस पकाया जाता है, कार्सिनोजन फार्म।

हेम आयरन, मांस में पाया जाने वाला एक तरह का लोहा, रसायनों के उत्पादन से जुड़ा हुआ है जो कोशिकाओं को नुकसान पहुंचा सकता है और कैंसर का कारण बन सकता है।

क्या लाल मांस खाने में कोई पोषण मूल्य है?

लाल मांस में आयरन प्रचुर मात्रा में होता है, जिसमें कई किशोर लड़कियों और महिलाओं में उनके प्रजनन वर्षों में कमी होती है। रेड मीट में हीम आयरन होता है, जो शरीर द्वारा आसानी से अवशोषित हो जाता है। रेड मीट में विटामिन बी12 भी होता है, जो डीएनए के बनने में सहायक होता है और न्यूरॉन और लाल रक्त कोशिकाओं के स्वास्थ्य को बनाए रखता है, साथ ही जिंक भी होता है, जो प्रतिरक्षा प्रणाली को ठीक से काम करने में मदद करता है।

लाल मांस में प्रोटीन अधिक होता है, जो हड्डियों और मांसपेशियों के विकास में सहायक होता है।

नेशनल मवेशी बीफ एसोसिएशन के लिए पोषण अध्ययन के कार्यकारी निदेशक शालीन मैकनील के अनुसार, "बीफ कैलोरी के लिए सबसे पोषक तत्वों से भरपूर आहार कैलोरी में से एक है । "दुबला बीफ की एक 3 औंस थाली में केवल १८० कैलोरी है, लेकिन, आप दस महत्वपूर्ण पोषक तत्वों को प्राप्त होगा ।

रेड मीट के कारण कैंसर पर अध्ययन

अधिक से अधिक ७९,००० अमेरिकी पुरुषों २००७ में कोलोरेक्टल कैंसर के साथ का निदान किया गया, अनुमान के अनुसार, जबकि प्रोस्टेट कैंसर के रूप में लगभग तीन बार में कई पुरुषों का निदान किया गया । कुछ अध्ययनों से लाल मांस आहार और प्रोस्टेट कैंसर के जोखिम के बीच एक उदारवादी से महत्वपूर्ण संबंध की पहचान की है, जबकि दूसरों को कोई संबंध नहीं दिखाया है । परिप्रेक्ष्य दो अध्ययनों द्वारा प्रदान किया जाता है। एक अध्ययन में पाया गया कि लाल मांस का एक बहुत खाने, विशेष रूप से पकाया जाता है, प्रसंस्कृत मांस, अफ्रीकी अमेरिकी पुरुषों में प्रोस्टेट कैंसर का खतरा दोगुनी हो गई है, लेकिन सफेद पुरुषों में नहीं ।
एक और अध्ययन की खोज की है कि बहुत अच्छी तरह से किया मांस ४०% से जोखिम बढ़ाने के लिए दिखाई दिया, लेकिन कम डिग्री पर पकाया मांस नहीं था । नतीजतन, लाल मांस, विशेष रूप से संसाधित, ग्रील्ड और बारबेक्यूड मीट पर वापस काटना, प्रोस्टेट और पेट दोनों के लिए फायदेमंद हो सकता है।

रेड मीट का संबंध अन्य शोध में पेट के कैंसर, मूत्राशय के कैंसर और स्तन कैंसर से भी रहा है। दूसरी ओर, कम मांस आहार, लंबे जीवन काल से जोड़ा गया है । यह आप अगली गर्मियों में बारबेक्यू पर कुछ गर्म कुत्तों और बर्गर फेंकने पर पुनर्विचार करने के लिए पर्याप्त है ।

सबसे दुबला लाल मांस में कटौती के कुछ क्या कर रहे हैं?

लाल मांस के कटौती के लिए देखो कि नाम में शब्द "कमर" है: भेड़ का बच्चा चॉप, सिरलोइन टिप स्टेक, शीर्ष sirloin, पोर्क टेंडरलॉइन।

गोल स्टेक और रोस्ट्स, जैसे आंखों के दौर और नीचे दौर; चक कंधे स्टेक; पट्टिका मिग्नॉन; पार्श्व स्टेक; और हाथ रोस्ट्स बीफ में भी उपलब्ध हैं। जमीन बीफ के लिए देखो कि कम से ९५% दुबला है । जमे हुए बर्गर patties पर पोषण तथ्यों लेबल की जांच करें क्योंकि वे ५०% वसा तक शामिल हो सकते हैं । गर्म कुत्ते, रिब आंखें, फ्लैट लोहे के स्टेक, और गोमांस के कुछ हिस्से उच्च वसा वाले ग्रिलिंग पसंदीदा में से हैं (फ्लैट आधा दुबला माना जाता है)।

पोर्क लोइन रोस्ट्स, लोइन चॉप, और हड्डी में रिब चॉप सभी दुबला कटौती कर रहे हैं ।

घास खिलाया बीफ अनाज से एक स्वस्थ विकल्प खिलाया बीफ है?

क्योंकि घास खिलाया बीफ अनाज से दुबला है बीफ खिलाया, यह कम कुल और संतृप्त वसा है । ग्रास फेड बीफ में ओमेगा-3 फैटी एसिड की एकाग्रता भी अधिक होती है। हालांकि, नेशनल मवेशी बीफ एसोसिएशन की शालीन मैकनील के मुताबिक, बीफ के दोनों रूपों में ओमेगा-3एस की कुल राशि काफी कम है । ओमेगा-3एस मछली, वनस्पति तेल, नट और बीजों में पाए जाते हैं।

लाल मांस, लाल रंग का क्या बनाता है?

मायोग्लोबिन, एक प्रोटीन जो ऑक्सीजन से बांधने पर लाल हो जाता है, इसका सरल जवाब है। दूसरी ओर, मायोग्लोबिन, फ्रिज में कुछ दिनों के बाद अपनी ऑक्सीजन खो देता है, और मांस भूरा हो जाता है। कार्बन मोनोऑक्साइड, जो गोंद की तरह मायोग्लोबिन को देता है और इसे हफ्तों तक लाल रखता है, इसे गुलाबी दिखने के लिए मांस में इंजेक्ट किया जा सकता है। टूना कार्बन मोनोऑक्साइड के साथ संरक्षित है, और अन्य खाद्य पदार्थों की उपस्थिति में सुधार करने के लिए रसायनों की एक किस्म नियोजित कर रहे हैं। मंजिला का नैतिक है कि अपने रंग से कभी किसी डिश को जज न करें ।

रेड मीट खाने के फायदे

Benefits of having Red Meat

जिंक स्तर: आपके आहार में लाल मांस को शामिल करने का एक और लाभ यह है कि इसमें जिंक की एक महत्वपूर्ण मात्रा होती है। यह खनिज मांसपेशियों को बढ़ाने, प्रतिरक्षा बढ़ाने और एक स्वस्थ मस्तिष्क को बनाए रखने के लिए आवश्यक है। आपके आहार में रेड मीट की सर्विंग या दो से यह सुनिश्चित होगा कि आपको जिंक की कमी न हो।

प्रजनन वृद्धि: सेलेनियम लाल मांस में बहुतायत में पाया जा सकता है। यह, B6 के संयोजन में, पुरुषों और महिलाओं की प्रजनन क्षमता दोनों के लिए एक महत्वपूर्ण पोषण संतुलन प्रदान करता है। दूसरी ओर, लाल मांस, पुरुषों को इष्टतम प्रजनन क्षमता प्राप्त करने में मदद कर सकता है।

बी-कॉम्प्लेक्स विटामिन: विशेष रूप से बी 12, लाल मांस में प्रचुर मात्रा में होते हैं। यह पोषक तत्व एक स्वस्थ शरीर और एक मजबूत प्रतिरक्षा प्रणाली को बनाए रखने के लिए आवश्यक है, और इसकी कमी हृदय रोग और कैंसर सहित स्वास्थ्य मुद्दों की एक श्रृंखला के लिए नेतृत्व कर सकते हैं । लाल मांस में पाए जाने वाले अन्य महत्वपूर्ण बी विटामिन में विटामिन बी 6, थियामिन, फोलेट, राइबोफ्लेविन, नियासिन और पेंटोथेनिक एसिड शामिल हैं।

लोहा: दुबला मांस में आयरन बहुतायत में पाया जा सकता है। लाल मांस के एक या दो सर्विंग्स प्रत्येक सप्ताह मदद कर सकते है आप अपने शरीर को अपने लाल रक्त कोशिकाओं के लिए शरीर के माध्यम से ऑक्सीजन हस्तांतरण के लिए दिल और मस्तिष्क जैसे क्षेत्रों के लिए आवश्यक लोहा मिलता है । जिन लोगों को पर्याप्त आयरन नहीं मिलता है, उन्हें सीखने में कठिनाइयां, कम ऊर्जा और व्यवहार संबंधी विकार होने की संभावना अधिक होती है ।

समाप्ति

यह एक विशेष आहार या आहार समूह और स्वास्थ्य के मुद्दों के बीच एक सीधा संबंध बनाने के लिए मुश्किल है । यह इस तथ्य के कारण है कि विभिन्न प्रकार के अन्य कारक, जैसे आनुवंशिकी, पर्यावरण, स्वास्थ्य इतिहास, तनाव का स्तर, नींद की गुणवत्ता, जीवनशैली और अन्य आहार कारक, प्रभावित कर सकते हैं कि कोई व्यक्ति किसी विशिष्ट बीमारी या बीमारी को विकसित करता है या नहीं।

इस के बावजूद, अनुसंधान की मात्रा का सुझाव है कि लाल मांस का एक बहुत खपत, विशेष रूप से प्रसंस्कृत मांस, स्वास्थ्य चिंताओं का कारण बन सकता है विस्तार हो रहा है ।

रोग से लड़ने में मदद करने के लिए, एआईसीआर और अहा जैसे प्रमुख स्वास्थ्य समूह अधिक पौधों और कम मांस खाने की सलाह देते हैं । नतीजतन, उपभोक्ताओं को एंटीऑक्सीडेंट और पोषक तत्वों, जैसे फल और सब्जियों, जो स्वास्थ्य चिंताओं को रोकने में मदद कर सकते है से अमीर भोजन के पक्ष में लाल और प्रसंस्कृत मांस की अपनी खपत को कम करने के लिए चुन सकते हैं ।

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि लाल मांस के लिए संसाधित, कम गुणवत्ता वाले कार्ब्स की जगह इंसुलिन संवेदनशीलता, लिपिड के स्तर और सामान्य स्वास्थ्य को नकारात्मक रूप से प्रभावित कर सकती है।

संबंधित विषय:

1. स्व-देखभाल और स्व-देखभाल का महत्व क्या है

सेल्फ-केयर का मतलब है ऐसी गतिविधियाँ करना जो हमें अच्छा महसूस कराती हैं और तनाव मुक्त करती हैं। अन्य दिन-प्रतिदिन के क्रियाकलापों के साथ-साथ आत्म-देखभाल शरीर के साथ-साथ आत्मा के लिए भी महत्वपूर्ण है। अधिक यात्रा जानने के लिए: आत्म-देखभाल का आत्म-देखभाल और महत्व क्या है।

2. स्वयं की देखभाल के लिए योग

योग आत्म-देखभाल के सबसे आवश्यक डेटासेट में से एक है। यह आपको अपने बारे में अच्छा महसूस कराता है और आपके शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य पर सकारात्मक प्रभाव डालता है। अधिक यात्रा जानने के लिए: स्वयं की देखभाल के लिए योग

3. स्व-देखभाल के लाभ

आत्म देखभाल के कई लाभ हैं जैसे कि बेहतर उत्पादकता, बेहतर प्रतिरक्षा प्रणाली, बढ़ा हुआ आत्म-ज्ञान और आत्म-करुणा। मुख्य लाभ यह है कि यह आपके जीवन में खुशी लाता है। अधिक यात्रा जानने के लिए: स्व-देखभाल के लाभ

4. सेल्फ-केयर रूटीन कैसे शुरू करें

चूंकि कई लोगों को एक स्व-देखभाल दिनचर्या शुरू करने में कठिनाई का सामना करना पड़ता है, इसलिए बेहतर होगा कि आप अपनी दिनचर्या में ध्यान, योग या एक्सर्साइज़ जैसी छोटी आत्म-देखभाल प्रथाओं को शामिल करें। अधिक यात्रा जानने के लिए: Hसेल्फ-केयर रूटीन कैसे शुरू करें

5. तनाव को कैसे प्रबंधित करें

स्व-देखभाल एक महत्वपूर्ण उपकरण है जो हमें स्वस्थ और खुश महसूस करने में मदद करता है और सबसे तनावपूर्ण परिस्थितियों में भी तनाव को कम करता है। स्व-देखभाल से शरीर और आत्मा को आराम मिलता है क्योंकि यह नकारात्मक भावनाओं और चिंता को कम करता है। अधिक जानकारी के लिए देखें: तनाव को कैसे प्रबंधित करें




उपर ब्लॉग में बताई गई उपलब्धिया AFD-SHIELD के साथ उपलब्ध हैं
एएफडी शील्ड कैप्सूल 12 प्राकृतिक अवयवों का एक संयोजन है जिनमें से अलगल डीएचए, अश्वगंधा, करक्यूमिन और स्पिरुलिना हैं। एएफडी शील्ड टीजी को कम करता है, एचडीएल बढ़ाता है और उम्र से संबंधित संज्ञानात्मक गिरावट में सुधार करता है। यह तनाव और चिंता को भी कम करता है और एंटी-एजिंग गतिविधि करता है। इसके अलावा, यह इम्युनोमॉड्यूलेटरी गतिविधि को बढ़ाता है, प्रतिरक्षा में सुधार करता है और सूजन और ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करता है। न्यूट्रोग्लिग्क्स: एएफडी-शील्ड