Pneumonia

pneumonia

What is pneumonia?

Pneumonia is an infection that inflames the air sacs called as alveoli in one or both lungs. The air sacs may fill with liquid or discharge (purulent material), causing hack with mucus or discharge, fever, chills, and difficulty in breathing. An assortment of organic entities, including bacteria, viruses and parasites, can cause pneumonia.

Pneumonia can range in seriousness from gentle to perilous. It is most serious for babies and little youngsters, individuals older than age 65, and individuals with medical conditions or weakened immune system.

In the United States (U.S.), around 1 million people are treated in the hospital for pneumonia each year, and around 50,000 die from the disease. It is the leading cause of death due to infection in children younger than 5 years of age worldwide. Pneumonia and influenza together are ranked as the eighth leading cause of death in the U.S.

Causes

There are many organisms that can cause pneumonia. The most well-known are bacteria and viruses in the air we breathe. Your body usually prevents these germs from contaminating your lungs. However, sometimes these germs can overpower your immune system, even if your health is generally good. There are several types of microorganisms that can cause pneumonia.

Bacterial pneumonia
The most common causes of pneumonia are bacterial pneumonia also called as Streptococcus pneumoniae. Other causes include:
• Mycoplasma pneumoniae
• Haemophilus influenzae
• Legionella pneumophila

Viral pneumoniae
Viral pneumonia is also one of the causes of pneumonia. Some examples include:
• influenza (flu)
• respiratory syncytial virus (RSV)
• rhinoviruses (common cold)
• Viral pneumonia is usually milder and can improve in one to three weeks without treatment.

Fungal pneumonia
Fungi from soil or bird droppings can cause pneumonia. They most often cause pneumonia in people with weakened immune systems. Examples of fungi that can cause pneumonia include:
• Pneumocystis jirovecii
• Cryptococcus species
• Histoplasmosis species

According to the types of germs that cause it and from where you got it, there are different types of pneumonia:
• Community-acquired pneumonia
One of the types of pneumonia is community-acquired pneumonia which occurs outside of hospitals or other health care facilities. It may be caused by:
Bacteria: The most widely recognized reason for bacterial pneumonia in the U.S. is Streptococcus pneumoniae. This sort of pneumonia can happen on its own or after you've had a cold or seasonal influenza. It might influence one part (lobe) of the lung, a condition called lobar pneumonia.
Bacteria-like organisms: Mycoplasma pneumoniae likewise can cause pneumonia. It ordinarily produces milder manifestations than do different kinds of pneumonia. Walking pneumonia is a nickname given to this kind of pneumonia, which typically isn't severe enough to require bed rest.
Fungi: This type of pneumonia is most common in people with chronic health problems or weakened immune systems, and in people who have inhaled large doses of the organisms. The fungi that cause it can be found in soil or bird droppings and vary depending upon geographic location.
Viruses, including COVID-19: Some of the viruses that cause colds and the flu can cause pneumonia. Viruses are the most common cause of pneumonia in children younger than 5 years. Viral pneumonia is usually mild. But in some cases it can become very serious. Coronavirus 2019 (COVID-19) may cause pneumonia, which can become severe.

• Hospital-acquired pneumonia
Second type of pneumonia is hospital-acquired pneumonia. Some people catch pneumonia during a hospital stay for another illness. Hospital-acquired pneumonia can be serious because the bacteria causing it could be more impervious to anti-toxins and because the people who get it are already sick. People who are on breathing machines (ventilators), often used in intensive care units, are at higher danger of this kind of pneumonia.

• Health care-acquired pneumonia
Third type of pneumonia is health care-acquired pneumonia is a bacterial infection that occurs in people who live in long-term care facilities or who receive care in outpatient clinics, including kidney dialysis centers. Like hospital-acquired pneumonia, health care-acquired pneumonia can be caused by bacteria that are more resistant to antibiotics.

• Aspiration pneumonia
Aspiration pneumonia occurs when you inhale food, drink, vomit or saliva into your lungs. Aspiration is more likely if something disturbs your normal gag reflex, such as a brain injury or swallowing problem, or excessive use of alcohol or drugs.

Symptoms

The signs and side effects of pneumonia differ from gentle to serious, depending upon factors, for example, the kind of germ causing the contamination, and your age and in general wellbeing. Gentle signs and indications regularly are like those of a cold or influenza, but they last longer.

Signs and symptoms of pneumonia may include:

• One of the signs and symptoms of pneumonia is chest pain when you inhale or cough

• Another signs and symptoms of pneumonia is confusion or changes in mental awareness (in adults age 65 and older)

• Other signs and symptoms of pneumonia is cough, which may produce mucus

• The 4th signs and symptoms of pneumonia is fatigue

• Some other signs and symptoms of pneumonia are fever, perspiring and shaking chills

• The next signs and symptoms of pneumonia is lower than ordinary internal heat (in adults older than age 65 and people with weak immune systems)

• Other signs and symptoms of pneumonia is nausea, vomiting or diarrhea

• Another signs and symptoms of pneumonia is shortness of breath

• New borns and babies may not give any indication of the infection. Or they may vomit, have a fever and cough, seem fretful or tired and without energy, or experience issues in breathing and eating.

• Another signs and symptoms of pneumonia is loss of appetite

• One more symptom of pneumonia is headaches headaches

• Children under 5 years old may have fast breathing or wheezing.

pneumonia infection

Is pneumonia a virus?

A few distinct types of infectious agents can cause pneumonia. Viruses are just one of them. The others include bacteria and fungi.

A few instances of viral diseases that can cause pneumonia include:

• influenza (flu)

• RSV contamination

• rhinoviruses (common cold)

• human parainfluenza virus (HPIV) infection

• human metapneumovirus (HMPV) infection

• measles

• chickenpox (varicella-zoster virus)

• adenovirus infection

• coronavirus infection

Although the side effects of viral and bacterial pneumonia are practically the same, cases of viral pneumonia are often milder than those of bacterial pneumonia. According to the NIH, individuals with viral pneumonia are in danger of developing bacterial pneumonia.

One major distinction among viral and bacterial pneumonia is treatment. Viral infections don’t respond to antibiotics. Many cases of viral pneumonia may be treated with at-home care, although antivirals may sometimes be prescribed.

Stages of pneumonia

Pneumonia may be classified based off the area of the lungs it’s affecting:

• Bronchopneumonia: Bronchopneumonia is a type of pneumonia that can affect areas throughout both of your lungs. It’s often localized close to or around your bronchi. These are the tubes that lead from your windpipe to your lungs.

• Lobar pneumonia: Lobar pneumonia is a type of pneumonia that affects one or more lobes of your lungs. Each lung is composed of lobes, which are defined sections of the lung.

Lobar pneumonia can be further divided into four stages based off how it’s progressed. There are four stages of lobar pneumonia which include:

Stage 1: Congestion

The first stages of pneumonia is congestion. During the congestion phase, the lungs become extremely hefty and clogged because of infectious liquid that has accumulated in the sacs. During this stage, your older loved one may experience early pneumonia symptoms such as:

• Coughing

• A feeling of heaviness in the chest

• Loss of appetite

• Fatigue

• Rapid breathing

Stage 2: Red hepatization

2nd stages of pneumonia is red hepatization. Red blood cells and immune cells that enter the liquid filled lungs to combat the contamination give the lungs a red appearance. Although the body is starting to fight the disease during this stage, your loved one may encounter worsening symptoms such as:

• Increasingly productive cough

• Shortness of breath

• Muscle aches

• Headache

• Extreme fatigue

• Fever

• Chills

• Sweating

• Blue lips or fingernails due to low levels of oxygen in the blood

• Some older adults may experience confusion or delirium during this stage. If your senior loved one experiences severe symptoms such as difficulty breathing, high fever, or blue lips or fingernails, you should seek emergency treatment or dial 9-1-1.

Stage 3: Gray hepatization

The 3rd stages of pneumonia is gray hepatization. Red blood cells will disintegrate during this stage, giving the lungs a grayish color. However, immune cells remain, and symptoms will likely persist.

Stage 4: Resolution

The last stages of pneumonia is resolution. During the resolution phase, seniors may begin to feel better as immune cells rid their body of infection. However, they may develop a productive cough that helps to remove fluid from the lungs.

Pneumonia vs. bronchitis

Pneumonia and bronchitis are two distinct conditions. Pneumonia is an inflammation of the air sacs in your lungs. Bronchitis is the inflammation of your bronchial tubes. These are the tubes that lead from your windpipe into your lungs.

Infections cause both pneumonia and acute bronchitis. Additionally, persistent or chronic bronchitis can develop from inhaling pollutants, like tobacco smoke.

A viral or bacterial infection can lead to a bout of acute bronchitis. If the condition remains untreated, it can develop into pneumonia. Sometimes it’s hard to tell if this has happened. The indications of bronchitis and pneumonia are basically the same. If you have bronchitis, it’s essential to get it treated to prevent developing pneumonia.

Risk factors

There are many risk factors of pneumonia. Pneumonia can affect anyone. But the two age groups at highest risk are:

• Children who are 2 years old or younger

• Individuals who are age 65 or older

Other risk factors include:

• Being hospitalized: One of the risk factors of acquiring pneumonia is if you're in a hospital intensive care unit, especially if you're on a machine that helps you breathe (a ventilator).

• Chronic disease: Other risk factors of acquiring pneumonia is in case if you have asthma, chronic obstructive pulmonary disease (COPD) or heart disease.

• Smoking: Smoking is one of the risk factors of acquiring pneumonia because it damages your body's natural defenses against the bacteria and viruses that cause pneumonia.

• Weakened or suppressed immune system: One of the risk factors of acquiring pneumonia is weak immune system. People who have HIV/AIDS, who've had an organ transplant, or who receive chemotherapy or long-term steroids are at risk.

• Another risk factors of acquiring pneumonia are among people who’ve recently had a respiratory infection, such as a cold or the flu

• Another risk factors of acquiring pneumonia are among people who’ve problems swallowing, or have a condition that causes immobility

• Another risk factors of acquiring pneumonia are among people who’ve been exposed to lung irritants, such as pollution, fumes, and certain chemicals

Pneumonia in kids

Pneumonia can be a somewhat basic youth condition. Researchers estimate there are 120 million cases of pediatric pneumonia worldwide every year.

The reasons of childhood pneumonia can differ by age. For instance, pneumonia due to respiratory viruses, Streptococcus pneumoniae, and Haemophilus influenzae is more normal in kids under 5 years of age.

Pneumonia due to Mycoplasma pneumoniae is frequently observed in kids between the ages of 5 and 13. Mycoplasma pneumoniae is one of the reasons of walking pneumonia. It’s a milder type of pneumonia.

See your pediatrician if you notice your child having the following symptoms:

• is having trouble breathing

• lacks energy

• has changes in appetite

Pneumonia can become perilous rapidly, especially in young children.

Is pneumonia contagious?

The germs that cause pneumonia are infectious. This implies they can spread from one individual to another.

Both viral and bacterial pneumonia can be transmitted to others through inhalation of airborne drops from a sneeze or cough. You can also get these sorts of pneumonia by coming into contact with surfaces or objects that are contaminated with pneumonia-causing bacteria or viruses.

You can contract fungal pneumonia from the environment. However, it doesn’t spread from one individual to another.

Walking pneumonia

Walking pneumonia is a milder instance of pneumonia. Individuals with walking pneumonia may not realize they have pneumonia, as their side effects may feel more like a mild respiratory infection than pneumonia.

The indications of walking pneumonia can include things like:

• mild fever

• dry cough lasting longer than a week

• chills

• shortness of breath

• chest pain

• reduced hunger

Also, viruses and bacteria, similar to Streptococcus pneumoniae or Haemophilus influenzae, frequently cause pneumonia. However, in walking pneumonia, bacteria like Mycoplasma pneumoniae, Chlamydophilia pneumoniae, and Legionella pneumoniae cause the condition. Despite being milder, walking pneumonia may require a longer recovery period than pneumonia.

Complications

People with pneumonia in high-risk groups may experience complications even with treatment including:

• Bacteria in the bloodstream (bacteremia): There are chances that bacteria can enter the bloodstream from your lungs and spread the infection to other organs, causing organ failure.

• Difficulty breathing: In case the person is suffering from severe pneumonia or you have chronic underlying lung diseases, there might be a trouble breathing in enough oxygen. You may need to be hospitalized and use a breathing machine (ventilator) while your lung heals.

• Fluid accumulation around the lungs (pleural effusion): There are chances that pneumonia may cause fluid to build up in the thin space between layers of tissue that line the lungs and chest cavity (pleura) and if this fluid becomes infected, you may need to have it drained through a chest tube or remove it with surgery.

• Lung abscess: An abscess occurs if pus forms in a cavity in the lung which is usually treated with antibiotics. Sometimes, surgery or drainage with a long needle or tube placed into the abscess is needed to remove the pus.

Pneumonia may cause complications, especially in people with weakened immune systems or chronic conditions, such as diabetes.

• Worsened chronic conditions: If you have certain preexisting health conditions, pneumonia could make them worse. These conditions include congestive heart failure and emphysema. For certain people, pneumonia increases their risk for having a heart attack.

• Bacteremia: Bacteria from the pneumonia infection may spread to your bloodstream. This can lead to dangerously low blood pressure, septic shock, and in some cases, organ failure.

• Lung abscesses: These are cavities in the lungs that contain pus. Antibiotics can treat them. Sometimes they may require drainage or surgery to remove the pus.

• Impaired breathing: You may have trouble getting enough oxygen when you breathe. You may need to use a ventilator.

• Acute respiratory distress syndrome: This is a severe form of respiratory failure. It’s a medical emergency.

• Pleural effusion: If your pneumonia isn’t treated, you may develop fluid around your lungs in your pleura, called pleural effusion. The pleura are thin membranes that line the outside of your lungs and the inside of your rib cage. The fluid may become infected and need to be drained.

• Death: In some cases, pneumonia can be fatal. According to the CDC, more than 49,000 people in the United States died from pneumonia in 2017.

lung infection

Is pneumonia curable?

A variety of infectious agents cause pneumonia. With appropriate recognition and treatment, numerous instances of pneumonia can be cleared without complications.

In case of bacterial infections, if the medication is stopped early then it can cause the infection to not clear completely. This implies your pneumonia could come back. Stopping antibiotics early can also contribute to antibiotic resistance and such antibiotic-resistant infections are more difficult to treat.

Viral pneumonia often resolves in one to three weeks with home remedies. In some cases, you may need antivirals. Antifungal medications treat fungal pneumonia and may require a longer period of treatment.

Pneumonia pregnancy

Pneumonia that happens during pregnancy is called maternal pneumonia. Pregnant ladies are more in danger of creating conditions like pneumonia. This is because of the natural suppression of the immune system that happens when you’re pregnant.

The indications of pneumonia don't vary by trimester. Nonetheless, you may see some of them all the more later on in your pregnancy because of different distresses you might be experiencing.

In case you're pregnant, contact your doctor when you begin encountering manifestations of pneumonia. Maternal pneumonia can lead to a variety of complications, for example, untimely birth and low birth weight.

When to see a doctor

It is suggested to visit the doctor in case there is difficulty in breathing, if there is chest pain or a persistent fever of 102 F (39C) or higher and in case of persistent cough, especially if you are coughing out mucus.

It's very necessary for few people who are in high-risk groups to see a doctor. Some of the people who come under high-risk groups are:

• Individuals who are older than age 65

• Children younger than age 2 with signs and symptoms

• Individuals with an underlying health condition or weakened immune system

• People receiving chemotherapy or taking medication that suppresses the immune system

• For some older adults and people with heart failure or chronic lung problems, pneumonia can immediately turn into a perilous condition.

Pneumonia diagnosis

Your doctor will start by taking your clinical history. They’ll ask you questions about when your side effects previously happened and your health in general.

Then they will give you a physical exam which includes listening to your lungs with a stethoscope for any abnormal sounds, such as crackling. Depending on the severity of your symptoms and your risk for complications, your doctor may also order one or more of these tests:

Chest X-ray: An X-ray helps your doctor look for indications of inflammation in your chest. If inflammation is present, the X-ray can also inform your doctor about its location and extent.

Blood culture: This test uses a blood sample to confirm an infection. Culturing can also help identify what may be causing your condition.

Sputum culture: During a sputum culture, a sample of mucus is collected after you’ve coughed deeply. It’s then sent to a lab to be analyzed to identify the cause of the infection.

Pulse oximetry: A pulse oximetry measures the amount of oxygen in your blood. A sensor placed on one of your fingers can indicate whether your lungs are moving enough oxygen through your bloodstream.

CT scan: CT scans provide a clearer and more detailed picture of your lungs.

Fluid sample: If your doctor suspects there’s fluid in the pleural space of your chest, they may take a fluid sample using a needle placed between your ribs. This test can help identify the cause of your infection.

Bronchoscopy: A bronchoscopy looks into the airways in your lungs. It does this using a camera on the end of a flexible tube that’s gently guided down your throat and into your lungs. Your doctor may do this test if your initial symptoms are severe, or if you’re hospitalized and not responding well to antibiotics.

Prevention

There are many ways in which we can prevent pneumonia. To help prevent pneumonia:

• Get vaccinated: Vaccines are available to prevent some types of pneumonia and the flu. Talk with your doctor about getting these shots. The vaccination guidelines have changed over time so make sure to review your vaccination status with your doctor even if you recall previously receiving a pneumonia vaccine. There are several vaccines that can help prevent pneumonia.

Prevnar 13 and Pneumovax 23: These two pneumonia vaccines help protect against pneumonia and meningitis caused by pneumococcal bacteria. Your doctor can tell you which one might be better for you. Prevnar 13 is effective against 13 types of pneumococcal bacteria. The Centers for Disease Control and Prevention (CDC) recommends this vaccine for:

a) children under the age of 2

b) adults ages 65 years and older

c) people between ages 2 and 64 years with chronic conditions that increase their risk for pneumonia

Pneumovax 23 is effective against 23 types of pneumococcal bacteria. The CDC recommends it for:

a) adults ages 65 years and older

b) adults ages 19 to 64 years who smoke

c) people between ages 2 and 64 years with chronic conditions that increase their risk for pneumonia

Flu vaccine: Pneumonia can often be a complication of the flu, so be sure to also get an annual flu shot. The CDC recommends that everyone ages 6 months and older get vaccinated, particularly those who may be at risk for flu complications.

Hib vaccine: This vaccine protects against Haemophilus influenzae type b (Hib), a type of bacteria that can cause pneumonia and meningitis. The CDC recommends this vaccine for:

a) all children under 5 years old

b) unvaccinated older children or adults who have certain health conditions

c) individuals who’ve gotten a bone marrow transplant

According to the National Institutes of Health (NIH), pneumonia vaccines won’t prevent all cases of the condition. But if you’re vaccinated, you’re likely to have a milder and shorter illness as well as a lower risk for complications.

• Make sure children get vaccinated: Doctors recommend a different pneumonia vaccine for children younger than age 2 and for children ages 2 to 5 years who are at particular risk of pneumococcal disease. Children who attend a group child care center should also get the vaccine. Doctors also recommend flu shots for children older than 6 months.

• Practice good hygiene: To protect yourself against respiratory infections that sometimes lead to pneumonia, wash your hands regularly or use an alcohol-based hand sanitizer.

• Don't smoke: Smoking damages your lungs' natural defenses against respiratory infections.

• Keep your immune system strong: Get enough sleep, exercise regularly and eat a healthy diet.

• Pneumonia home remedies: Although home remedies don’t actually treat pneumonia, there are some things you can do to help ease symptoms.

a) Coughing is one of the most common symptoms of pneumonia. Natural ways to relieve a cough include gargling salt water or drinking peppermint tea.

b) Things like OTC pain medication and cool compresses can work to relieve a fever. Drinking warm water or having a nice warm bowl of soup can help with chills.

c) Although home remedies can help ease symptoms, it’s important to stick to your treatment plan. Take any prescribed medications as directed.

d) Your doctor may also recommend over-the-counter (OTC) medication to relieve your pain and fever, as needed. These may include:

i. aspirin

ii. ibuprofen (Advil, Motrin)

iii. acetaminophen (Tylenol)

• Prescription medications: Your doctor may prescribe a medication to help treat your pneumonia. Oral antibiotics can treat most cases of bacterial pneumonia. Always take your entire course of antibiotics, even if you begin to feel better. Not doing so can prevent the infection from clearing, and it may be harder to treat in the future. Antibiotic medications don’t work on viruses. In some cases, your doctor may prescribe an antiviral. However, many cases of viral pneumonia clear on their own with at-home care. Antifungal medications are used to fight fungal pneumonia. You may have to take this medication for several weeks to clear the infection.

• Hospitalization: If your symptoms are very severe or you have other health problems, you may need to be hospitalized. At the hospital, doctors can keep track of your heart rate, temperature, and breathing. Hospital treatment may include:

a) intravenous antibiotics injected into a vein

b) respiratory therapy, which involves delivering specific medications directly into the lungs or teaching you to perform breathing exercises to maximize your oxygenation

c) oxygen therapy to maintain oxygen levels in your bloodstream (received through a nasal tube, face mask, or ventilator, depending on severity)

Pneumonia recovery

Most individuals respond to treatment and recover from pneumonia. Like your treatment, your recuperation time will rely upon the kind of pneumonia you have, how extreme it is, and your overall wellbeing.

A youthful individual may feel back to normal in 7 days after treatment. Others may take more time to recuperate and may have lingering fatigue. If your symptoms are severe, your recovery may take several weeks.

Consider taking these steps to aid in your recovery and help prevent complications from occurring:

• Stick to the treatment plan your doctor has created and take all medications as instructed.

• Make sure to get a lot of rest to help your body battle the disease.

• Drink plenty of fluids.

• Ask your doctor when you should plan a follow-up appointment. They may want to perform another chest X-ray to ensure your contamination has cleared.




The above essentials are available with AFD SHIELD.
AFD Shield capsule is a combination of 12 natural ingredients among which are Algal DHA, Ashwagandha, Curcumin and Spirullina. AFD Shield reduces TG, increases HDL and improves age related cognitive decline. It also reduces stress and anxiety and performs anti-aging activity.Moreover, it also enhances the immunomodulatory activity, improves immunity and reduces inflammation and oxidative stress. Nutralogicx: AFD SHIELD

निमोनिया

pneumonia

निमोनिया क्या है?

निमोनिया एक संक्रमण है जो एक या दोनों फेफड़ों में एल्वियोली नामक वायुकोषों को फुलाता है। हवा की थैली तरल या डिस्चार्ज (प्यूरुलेंट सामग्री) से भर सकती है, जिससे बलगम या डिस्चार्ज, बुखार, ठंड लगना और सांस लेने में कठिनाई हो सकती है। बैक्टीरिया, वायरस और परजीवी सहित कार्बनिक संस्थाओं का वर्गीकरण निमोनिया का कारण बन सकता है।

निमोनिया की गंभीरता हल्के से लेकर खतरनाक तक हो सकती है। यह शिशुओं और छोटे युवाओं, 65 वर्ष से अधिक उम्र के व्यक्तियों और चिकित्सा स्थितियों या कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली वाले व्यक्तियों के लिए सबसे गंभीर है।

संयुक्त राज्य अमेरिका (यूएस) में, अस्पताल में हर साल लगभग १० लाख लोगों का इलाज निमोनिया के लिए किया जाता है, और लगभग ५०,००० लोग इस बीमारी से मर जाते हैं। यह दुनिया भर में 5 साल से कम उम्र के बच्चों में संक्रमण के कारण मौत का प्रमुख कारण है। निमोनिया और इन्फ्लुएंजा को मिलाकर अमेरिका में मौत के आठवें प्रमुख कारण के रूप में स्थान दिया गया है।

निमोनिया के कारण

ऐसे कई जीव हैं जो निमोनिया का कारण बन सकते हैं। हम जिस हवा में सांस लेते हैं उसमें सबसे प्रसिद्ध बैक्टीरिया और वायरस हैं। आपका शरीर आमतौर पर इन कीटाणुओं को आपके फेफड़ों को दूषित करने से रोकता है। हालांकि, कभी-कभी ये रोगाणु आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली पर हावी हो सकते हैं, भले ही आपका स्वास्थ्य सामान्य रूप से अच्छा हो। कई प्रकार के सूक्ष्मजीव हैं जो निमोनिया का कारण बन सकते हैं।

बैक्टीरियल निमोनिया निमोनिया
का सबसे आम कारण बैक्टीरियल निमोनिया है जिसे स्ट्रेप्टोकोकस न्यूमोनिया भी कहा जाता है। अन्य कारणों में शामिल हैं:
• माइकोप्लाज्मा न्यूमोनिया
• हीमोफिलस इन्फ्लुएंजा
• लीजियोनेला न्यूमोफिला

वायरल न्यूमोनिया
वायरल निमोनिया भी निमोनिया के कारणों में से एक है। कुछ उदाहरणों में शामिल हैं:
• इन्फ्लूएंजा (फ्लू)
• श्वसन संक्रांति वायरस (आरएसवी)
• राइनोवायरस (सामान्य सर्दी)
• वायरल निमोनिया आमतौर पर हल्का होता है और उपचार के बिना एक से तीन सप्ताह में सुधार हो सकता है।

फंगल निमोनिया
मिट्टी या पक्षी की बूंदों से कवक निमोनिया का कारण बन सकता है। वे अक्सर कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली वाले लोगों में निमोनिया का कारण बनते हैं। निमोनिया का कारण बनने वाले कवक के उदाहरणों में शामिल हैं:
• न्यूमोसिस्टिस जीरोवेसी
• क्रिप्टोकोकस प्रजातियां
• हिस्टोप्लाज्मोसिस प्रजातियां

इसका कारण बनने वाले कीटाणुओं के प्रकार के अनुसार और जहां से आपको यह हुआ है, वहां विभिन्न प्रकार के निमोनिया हैं::
• समुदाय-अधिग्रहित निमोनिया निमोनिया
के प्रकारों में से एक समुदाय-अधिग्रहित निमोनिया है जो अस्पतालों या अन्य स्वास्थ्य देखभाल सुविधाओं के बाहर होता है। इसके कारण हो सकते हैं:
बैक्टीरिया: अमेरिका में बैक्टीरियल निमोनिया का सबसे व्यापक रूप से पहचाना जाने वाला कारण स्ट्रेप्टोकोकस न्यूमोनिया है। इस प्रकार का निमोनिया अपने आप हो सकता है या आपको सर्दी या मौसमी इन्फ्लूएंजा होने के बाद हो सकता है। यह फेफड़े के एक हिस्से (लोब) को प्रभावित कर सकता है, जिसे लोबार निमोनिया कहा जाता है।
बैक्टीरिया जैसे जीव: माइकोप्लाज्मा न्यूमोनिया भी निमोनिया का कारण बन सकता है। यह आमतौर पर विभिन्न प्रकार के निमोनिया की तुलना में हल्के लक्षण पैदा करता है। वॉकिंग न्यूमोनिया इस प्रकार के निमोनिया को दिया जाने वाला एक उपनाम है, जो आमतौर पर इतना गंभीर नहीं होता कि बिस्तर पर आराम की आवश्यकता हो।
कवक: इस प्रकार का निमोनिया पुरानी स्वास्थ्य समस्याओं या कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली वाले लोगों में और जीवों की बड़ी खुराक लेने वाले लोगों में सबसे आम है। इसका कारण बनने वाले कवक मिट्टी या पक्षी की बूंदों में पाए जा सकते हैं और भौगोलिक स्थिति के आधार पर भिन्न हो सकते हैं।
COVID-19 सहित वायरस: कुछ वायरस जो सर्दी और फ्लू का कारण बनते हैं, निमोनिया का कारण बन सकते हैं। 5 साल से कम उम्र के बच्चों में निमोनिया का सबसे आम कारण वायरस हैं। वायरल निमोनिया आमतौर पर हल्का होता है। लेकिन कुछ मामलों में यह बहुत गंभीर भी हो सकता है। कोरोनावायरस 2019 (COVID-19) निमोनिया का कारण बन सकता है, जो गंभीर हो सकता है।

• अस्पताल से प्राप्त निमोनिया
दूसरे प्रकार का निमोनिया अस्पताल से प्राप्त निमोनिया है। कुछ लोगों को एक अन्य बीमारी के लिए अस्पताल में रहने के दौरान निमोनिया हो जाता है। अस्पताल से प्राप्त निमोनिया गंभीर हो सकता है क्योंकि इसे पैदा करने वाले बैक्टीरिया एंटी-टॉक्सिन्स के प्रति अधिक अभेद्य हो सकते हैं और क्योंकि जो लोग इसे प्राप्त करते हैं वे पहले से ही बीमार हैं। जो लोग सांस लेने की मशीन (वेंटिलेटर) पर हैं, जिन्हें अक्सर गहन देखभाल इकाइयों में इस्तेमाल किया जाता है, उन्हें इस तरह के निमोनिया का अधिक खतरा होता है।

• स्वास्थ्य देखभाल से प्राप्त निमोनिया
तीसरे प्रकार का निमोनिया है स्वास्थ्य देखभाल से प्राप्त निमोनिया एक जीवाणु संक्रमण है जो उन लोगों में होता है जो दीर्घकालिक देखभाल सुविधाओं में रहते हैं या जो किडनी डायलिसिस केंद्रों सहित आउट पेशेंट क्लीनिक में देखभाल प्राप्त करते हैं। अस्पताल से प्राप्त निमोनिया की तरह, स्वास्थ्य देखभाल से प्राप्त निमोनिया बैक्टीरिया के कारण हो सकता है जो एंटीबायोटिक दवाओं के प्रति अधिक प्रतिरोधी होते हैं।

• एस्पिरेशन न्यूमोनिया
एस्पिरेशन न्यूमोनिया तब होता है जब आप भोजन, पेय, उल्टी या लार को अपने फेफड़ों में लेते हैं। अगर कोई चीज आपके सामान्य गैग रिफ्लेक्स को परेशान करती है, जैसे कि मस्तिष्क की चोट या निगलने की समस्या, या शराब या ड्रग्स का अत्यधिक उपयोग।

लक्षण

निमोनिया के लक्षण और दुष्प्रभाव हल्के से लेकर गंभीर तक भिन्न होते हैं, यह कारकों पर निर्भर करता है, उदाहरण के लिए, संक्रमण पैदा करने वाले रोगाणु का प्रकार, और आपकी उम्र और सामान्य रूप से स्वास्थ्य। सामान्य संकेत और संकेत नियमित रूप से सर्दी या इन्फ्लूएंजा के समान होते हैं, लेकिन वे लंबे समय तक चलते हैं।

निमोनिया के लक्षण और लक्षण शामिल हो सकते हैं:

• साँस लेने या खांसने पर सीने में दर्द निमोनिया के लक्षणों और लक्षणों में से एक है

• निमोनिया के अन्य लक्षण और लक्षण हैं भ्रम या मानसिक जागरूकता में बदलाव (65 वर्ष और उससे अधिक उम्र के वयस्कों में)

• निमोनिया के अन्य लक्षण और लक्षण खांसी है, जो बलगम पैदा कर सकता है

• निमोनिया के चौथे लक्षण और लक्षण थकान है

• निमोनिया के कुछ अन्य लक्षण और लक्षण हैं बुखार, पसीना आना और ठंड लगना

• निमोनिया के अगले लक्षण और लक्षण सामान्य आंतरिक गर्मी से कम होते हैं (65 वर्ष से अधिक उम्र के वयस्कों और कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली वाले लोगों में)

• निमोनिया के अन्य लक्षण और लक्षण मतली, उल्टी या दस्त हैं

• निमोनिया के अन्य लक्षण और लक्षण सांस की तकलीफ है

• नवजात और शिशु शायद संक्रमण का कोई संकेत न दें। या उन्हें उल्टी हो सकती है, बुखार और खांसी हो सकती है, वे चिड़चिड़े या थके हुए और बिना ऊर्जा के लग सकते हैं, या सांस लेने और खाने में समस्या का अनुभव कर सकते हैं।

• निमोनिया के अन्य लक्षण और लक्षण भूख में कमी है

• निमोनिया का एक और लक्षण सिरदर्द है

• 5 साल से कम उम्र के बच्चों को तेज सांस या घरघराहट हो सकती है।

pneumonia infection

क्या निमोनिया एक वायरस है?

कुछ विशिष्ट प्रकार के संक्रामक एजेंट निमोनिया का कारण बन सकते हैं। वायरस उनमें से सिर्फ एक हैं। अन्य में बैक्टीरिया और कवक शामिल हैं।

वायरल रोगों के कुछ उदाहरण जो निमोनिया का कारण बन सकते हैं उनमें शामिल हैं:

• इन्फ्लुएंजा (फ्लू)

• आरएसवी संदूषण

• राइनोवायरस (सामान्य सर्दी)

• मानव पैरैनफ्लुएंजा वायरस (एचपीआईवी) संक्रमण

• मानव मेटान्यूमोवायरस (एचएमपीवी) संक्रमण

• खसरा

• चेचक (वेरिसेला-जोस्टर वायरस)

• एडेनोवायरस संक्रमण

• कोरोनावाइरस संक्रमण

यद्यपि वायरल और बैक्टीरियल निमोनिया के दुष्प्रभाव व्यावहारिक रूप से समान हैं, वायरल निमोनिया के मामले अक्सर बैक्टीरियल निमोनिया की तुलना में हल्के होते हैं। एनआईएच के अनुसार, वायरल निमोनिया वाले व्यक्तियों को बैक्टीरियल निमोनिया होने का खतरा होता है।

वायरल और बैक्टीरियल निमोनिया में एक प्रमुख अंतर उपचार है। वायरल संक्रमण एंटीबायोटिक दवाओं का जवाब नहीं देते हैं। वायरल निमोनिया के कई मामलों का इलाज घर पर ही किया जा सकता है, हालांकि कभी-कभी एंटीवायरल दवाएं निर्धारित की जा सकती हैं।

निमोनिया के चरण

निमोनिया को प्रभावित करने वाले फेफड़ों के क्षेत्र के आधार पर वर्गीकृत किया जा सकता है:

• ब्रोन्कोपमोनिया: बब्रोन्कोपमोनिया एक प्रकार का निमोनिया है जो आपके दोनों फेफड़ों के क्षेत्रों को प्रभावित कर सकता है। यह अक्सर आपकी ब्रांकाई के पास या उसके आसपास स्थानीयकृत होता है। ये नलिकाएं हैं जो आपके श्वासनली से आपके फेफड़ों तक जाती हैं।

• लोबार निमोनिया: लोबार निमोनिया एक प्रकार का निमोनिया है जो आपके फेफड़ों के एक या अधिक लोब को प्रभावित करता है। प्रत्येक फेफड़ा लोब से बना होता है, जो फेफड़े के परिभाषित खंड होते हैं।

लोबार निमोनिया को आगे चार चरणों में विभाजित किया जा सकता है, जिसके आधार पर यह आगे बढ़ता है। लोबार निमोनिया के चार चरण होते हैं जिनमें शामिल हैं:

चरण 1: भीड़भाड़

निमोनिया का पहला चरण कंजेशन है। भीड़भाड़ के चरण के दौरान, थैली में जमा हुए संक्रामक तरल के कारण फेफड़े बेहद भारी और बंद हो जाते हैं। इस चरण के दौरान, आपके बड़े प्रियजन को निमोनिया के शुरुआती लक्षणों का अनुभव हो सकता है जैसे:

• खाँसना

• सीने में भारीपन का अहसास

• भूख में कमी

• थकान

• तेजी से साँस लेने

चरण 2: लाल हेपेटाइजेशन

निमोनिया का दूसरा चरण लाल हेपेटाईजेशन है। लाल रक्त कोशिकाएं और प्रतिरक्षा कोशिकाएं जो संदूषण से निपटने के लिए तरल से भरे फेफड़ों में प्रवेश करती हैं, फेफड़ों को लाल रंग का रूप देती हैं। यद्यपि इस चरण के दौरान शरीर बीमारी से लड़ना शुरू कर रहा है, आपके प्रियजन को बिगड़ते लक्षणों का सामना करना पड़ सकता है जैसे:

• अधिक उत्पादक खांसी

• सांस लेने में कठिनाई

• मांसपेशी में दर्द

• सरदर्द

• अत्यधिक थकान

• बुखार

• ठंड लगना

• पसीना आना

• रक्त में ऑक्सीजन के निम्न स्तर के कारण नीले होंठ या नाखून

• कुछ बड़े वयस्कों को इस अवस्था के दौरान भ्रम या प्रलाप का अनुभव हो सकता है। यदि आपके वरिष्ठ प्रियजन को सांस लेने में कठिनाई, तेज बुखार, या नीले होंठ या नाखूनों जैसे गंभीर लक्षण दिखाई देते हैं, तो आपको आपातकालीन उपचार की तलाश करनी चाहिए या 9-1-1 डायल करना चाहिए।

चरण 3: ग्रे हेपेटाइजेशन

निमोनिया का तीसरा चरण ग्रे हेपेटाइजेशन है। इस चरण के दौरान लाल रक्त कोशिकाएं विघटित हो जाएंगी, जिससे फेफड़ों का रंग भूरा हो जाएगा। हालांकि, प्रतिरक्षा कोशिकाएं बनी रहती हैं, और लक्षण बने रहने की संभावना है।

चरण 4: संकल्प

निमोनिया का अंतिम चरण संकल्प है। संकल्प चरण के दौरान, वरिष्ठ लोग बेहतर महसूस करना शुरू कर सकते हैं क्योंकि प्रतिरक्षा कोशिकाएं उनके शरीर को संक्रमण से मुक्त करती हैं। हालांकि, वे एक उत्पादक खांसी विकसित कर सकते हैं जो फेफड़ों से तरल पदार्थ को निकालने में मदद करती है।

निमोनिया बनाम ब्रोंकाइटिस

निमोनिया और ब्रोंकाइटिस दो अलग-अलग स्थितियां हैं। निमोनिया आपके फेफड़ों में हवा की थैली की सूजन है। ब्रोंकाइटिस आपके ब्रोन्कियल ट्यूबों की सूजन है। ये वे नलिकाएं हैं जो आपके श्वासनली से आपके फेफड़ों तक जाती हैं।

संक्रमण निमोनिया और तीव्र ब्रोंकाइटिस दोनों का कारण बनता है। इसके अतिरिक्त, तंबाकू के धुएं जैसे प्रदूषकों को सांस लेने से लगातार या पुरानी ब्रोंकाइटिस विकसित हो सकती है।

वायरल या बैक्टीरियल संक्रमण से तीव्र ब्रोंकाइटिस हो सकता है। यदि स्थिति का इलाज नहीं किया जाता है, तो यह निमोनिया में विकसित हो सकता है। कभी-कभी यह बताना मुश्किल होता है कि क्या ऐसा हुआ है। ब्रोंकाइटिस और निमोनिया के लक्षण मूल रूप से एक जैसे ही होते हैं। यदि आपको ब्रोंकाइटिस है, तो निमोनिया के विकास को रोकने के लिए इसका इलाज करवाना आवश्यक है।

जोखिम

निमोनिया के कई जोखिम कारक हैं। निमोनिया किसी को भी प्रभावित कर सकता है। लेकिन उच्चतम जोखिम वाले दो आयु वर्ग हैं:

• 2 साल या उससे कम उम्र के बच्चे

• 65 वर्ष या उससे अधिक उम्र के व्यक्ति

अन्य जोखिम कारकों में शामिल हैं:

• अस्पताल में भर्ती होना: निमोनिया होने के जोखिम कारकों में से एक यह है कि यदि आप अस्पताल की गहन देखभाल इकाई में हैं, खासकर यदि आप ऐसी मशीन पर हैं जो आपको सांस लेने में मदद करती है (वेंटिलेटर)।

• पुरानी बीमारी: यदि आपको अस्थमा, क्रॉनिक ऑब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिजीज (सीओपीडी) या हृदय रोग है, तो निमोनिया होने के अन्य जोखिम कारक हैं।

• धूम्रपान: धूम्रपान निमोनिया प्राप्त करने के जोखिम कारकों में से एक है क्योंकि यह बैक्टीरिया और वायरस के खिलाफ आपके शरीर की प्राकृतिक सुरक्षा को नुकसान पहुंचाता है जो निमोनिया का कारण बनते हैं।

• कमजोर या दबी हुई प्रतिरक्षा प्रणाली: निमोनिया होने के जोखिम कारकों में से एक कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली है। जिन लोगों को एचआईवी / एड्स है, जिनका अंग प्रत्यारोपण हुआ है, या जो कीमोथेरेपी या दीर्घकालिक स्टेरॉयड प्राप्त करते हैं, वे जोखिम में हैं।

• निमोनिया होने के अन्य जोखिम कारक उन लोगों में शामिल हैं जिन्हें हाल ही में सर्दी या फ्लू जैसे श्वसन संक्रमण हुआ है

• निमोनिया होने के अन्य जोखिम कारक उन लोगों में शामिल हैं जिन्हें निगलने में समस्या है, या ऐसी स्थिति है जो गतिहीनता का कारण बनती है

• निमोनिया होने का एक अन्य जोखिम कारक उन लोगों में से हैं, जो फेफड़ों में जलन पैदा करने वाले तत्वों जैसे प्रदूषण, धुएं और कुछ रसायनों के संपर्क में आए हैं।

बच्चों में निमोनिया

निमोनिया कुछ हद तक बुनियादी युवा स्थिति हो सकती है। शोधकर्ताओं का अनुमान है कि दुनिया भर में हर साल पीडियाट्रिक निमोनिया के 120 मिलियन मामले सामने आते हैं।

बचपन के निमोनिया के कारण उम्र के हिसाब से अलग-अलग हो सकते हैं। उदाहरण के लिए, श्वसन वायरस के कारण निमोनिया, स्ट्रेप्टोकोकस न्यूमोनिया और हीमोफिलस इन्फ्लुएंजा 5 वर्ष से कम उम्र के बच्चों में अधिक सामान्य है।

माइकोप्लाज्मा न्यूमोनिया के कारण होने वाला निमोनिया अक्सर 5 से 13 वर्ष की आयु के बच्चों में देखा जाता है। माइकोप्लाज्मा न्यूमोनिया चलने वाले निमोनिया के कारणों में से एक है। यह हल्का प्रकार का निमोनिया है।

अपने बाल रोग विशेषज्ञ को देखें यदि आप देखते हैं कि आपके बच्चे में निम्नलिखित लक्षण हैं:

• सांस लेने में परेशानी हो रही है

• ऊर्जा की कमी है

• भूख में परिवर्तन होता है

निमोनिया तेजी से खतरनाक हो सकता है, खासकर छोटे बच्चों में।

निमोनिया संक्रामक है?

निमोनिया पैदा करने वाले कीटाणु संक्रामक होते हैं। इसका मतलब है कि वे एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैल सकते हैं।

वायरल और बैक्टीरियल निमोनिया दोनों छींक या खांसी से हवा में उड़ने वाली बूंदों के साँस लेने के माध्यम से दूसरों को प्रेषित किया जा सकता है। आप निमोनिया पैदा करने वाले बैक्टीरिया या वायरस से दूषित सतहों या वस्तुओं के संपर्क में आने से भी इस प्रकार का निमोनिया प्राप्त कर सकते हैं।

आप पर्यावरण से फंगल निमोनिया को अनुबंधित कर सकते हैं। हालांकि, यह एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में नहीं फैलता है।

घूमना निमोनिया

निमोनिया चलना निमोनिया का एक मामूली उदाहरण है। चलने वाले निमोनिया वाले व्यक्तियों को यह एहसास नहीं हो सकता है कि उन्हें निमोनिया है, क्योंकि उनके दुष्प्रभाव निमोनिया की तुलना में हल्के श्वसन संक्रमण की तरह महसूस कर सकते हैं।

निमोनिया चलने के संकेतों में निम्न चीज़ें शामिल हो सकती हैं:

• हल्का बुखार

• एक सप्ताह से अधिक समय तक चलने वाली सूखी खांसी

• ठंड लगना

• सांस लेने में कठिनाई

• छाती में दर्द

• भूख में कमी

इसके अलावा, स्ट्रेप्टोकोकस न्यूमोनिया या हीमोफिलस इन्फ्लुएंजा के समान वायरस और बैक्टीरिया अक्सर निमोनिया का कारण बनते हैं। हालांकि, चलने वाले निमोनिया में माइकोप्लाज्मा न्यूमोनिया, क्लैमाइडोफिलिया न्यूमोनिया और लेजिओनेला न्यूमोनिया जैसे बैक्टीरिया इस स्थिति का कारण बनते हैं। हल्का होने के बावजूद, चलने वाले निमोनिया में निमोनिया की तुलना में अधिक लंबी वसूली अवधि की आवश्यकता हो सकती है।

जटिलताओं

उच्च जोखिम वाले समूहों में निमोनिया वाले लोग उपचार के साथ भी जटिलताओं का अनुभव कर सकते हैं जिनमें निम्न शामिल हैं:

• रक्तप्रवाह में बैक्टीरिया (बैक्टीरिया): ऐसी संभावना है कि बैक्टीरिया आपके फेफड़ों से रक्तप्रवाह में प्रवेश कर सकते हैं और संक्रमण को अन्य अंगों में फैला सकते हैं, जिससे अंग विफल हो सकते हैं।

• सांस लेने में कठिनाई: यदि व्यक्ति गंभीर निमोनिया से पीड़ित है या आपको फेफड़ों की पुरानी बीमारियां हैं, तो पर्याप्त ऑक्सीजन में सांस लेने में परेशानी हो सकती है। जब आपका फेफड़ा ठीक हो जाए तो आपको अस्पताल में भर्ती होने और सांस लेने की मशीन (वेंटिलेटर) का उपयोग करने की आवश्यकता हो सकती है।

• फेफड़ों के आसपास द्रव जमा होना (फुफ्फुस बहाव): इस बात की संभावना है कि निमोनिया के कारण फेफड़ों और छाती गुहा (फुस्फुस) की रेखा वाली ऊतक की परतों के बीच पतली जगह में तरल पदार्थ का निर्माण हो सकता है और यदि यह द्रव संक्रमित हो जाता है, तो आपको इसकी आवश्यकता हो सकती है इसे छाती की नली के माध्यम से निकालने के लिए या सर्जरी से इसे हटा दें।

• फेफड़े का फोड़ा: फेफड़े में एक गुहा में मवाद बनने पर एक फोड़ा होता है जिसका आमतौर पर एंटीबायोटिक दवाओं के साथ इलाज किया जाता है। कभी-कभी, मवाद को हटाने के लिए फोड़े में रखी लंबी सुई या ट्यूब के साथ सर्जरी या जल निकासी की आवश्यकता होती है।

निमोनिया जटिलताओं का कारण बन सकता है, विशेष रूप से कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली या मधुमेह जैसी पुरानी स्थितियों वाले लोगों में।

• बिगड़ती पुरानी स्थितियां: यदि आपके पास पहले से मौजूद कुछ स्वास्थ्य स्थितियां हैं, तो निमोनिया उन्हें और खराब कर सकता है। इन स्थितियों में हृदय की विफलता और वातस्फीति शामिल हैं। कुछ लोगों के लिए, निमोनिया से दिल का दौरा पड़ने का खतरा बढ़ जाता है।

• बैक्टेरिमिया: निमोनिया के संक्रमण से बैक्टीरिया आपके रक्तप्रवाह में फैल सकता है। इससे खतरनाक रूप से निम्न रक्तचाप, सेप्टिक शॉक और कुछ मामलों में अंग विफलता हो सकती है।

• फेफड़े के फोड़े: ये फेफड़ों की गुहाएं होती हैं जिनमें मवाद होता है। एंटीबायोटिक्स उनका इलाज कर सकते हैं। कभी-कभी उन्हें मवाद निकालने के लिए जल निकासी या सर्जरी की आवश्यकता हो सकती है।

• बिगड़ा हुआ श्वास: जब आप सांस लेते हैं तो आपको पर्याप्त ऑक्सीजन प्राप्त करने में परेशानी हो सकती है। आपको वेंटिलेटर का उपयोग करने की आवश्यकता हो सकती है।

• तीव्र श्वसन संकट सिंड्रोम: यह श्वसन विफलता का एक गंभीर रूप है। यह एक मेडिकल इमरजेंसी है।

• फुफ्फुस बहाव: यदि आपके निमोनिया का इलाज नहीं किया जाता है, तो आप अपने फुफ्फुस में अपने फेफड़ों के आसपास तरल पदार्थ विकसित कर सकते हैं, जिसे फुफ्फुस बहाव कहा जाता है। फुफ्फुस पतली झिल्ली होती है जो आपके फेफड़ों के बाहर और आपके पसली पिंजरे के अंदर की रेखा होती है। द्रव संक्रमित हो सकता है और इसे निकालने की आवश्यकता होती है।

• मृत्यु: कुछ मामलों में, निमोनिया घातक हो सकता है। सीडीसी के अनुसार, संयुक्त राज्य अमेरिका में 2017 में 49,000 से अधिक लोगों की निमोनिया से मृत्यु हो गई।

lung infection

क्या निमोनिया का इलाज संभव है?

विभिन्न प्रकार के संक्रामक एजेंट निमोनिया का कारण बनते हैं। उचित पहचान और उपचार के साथ, निमोनिया के कई उदाहरणों को जटिलताओं के बिना साफ किया जा सकता है।

जीवाणु संक्रमण के मामले में, यदि दवा जल्दी बंद कर दी जाती है तो यह संक्रमण पूरी तरह से साफ नहीं होने का कारण बन सकता है। इसका मतलब है कि आपका निमोनिया वापस आ सकता है। एंटीबायोटिक दवाओं को जल्दी रोकना भी एंटीबायोटिक प्रतिरोध में योगदान कर सकता है और ऐसे एंटीबायोटिक-प्रतिरोधी संक्रमणों का इलाज करना अधिक कठिन होता है।

वायरल निमोनिया अक्सर घरेलू उपचार से एक से तीन सप्ताह में ठीक हो जाता है। कुछ मामलों में, आपको एंटीवायरल की आवश्यकता हो सकती है। एंटिफंगल दवाएं फंगल निमोनिया का इलाज करती हैं और उपचार की लंबी अवधि की आवश्यकता हो सकती है।

निमोनिया गर्भावस्था

गर्भावस्था के दौरान होने वाले निमोनिया को मातृ निमोनिया कहा जाता है। गर्भवती महिलाओं को निमोनिया जैसी स्थिति पैदा होने का खतरा अधिक होता है। यह प्रतिरक्षा प्रणाली के प्राकृतिक दमन के कारण होता है जो तब होता है जब आप गर्भवती होती हैं।

निमोनिया के संकेत तिमाही के अनुसार अलग-अलग नहीं होते हैं। फिर भी, आप उनमें से कुछ को अपनी गर्भावस्था में बाद में और भी अधिक बार देख सकती हैं क्योंकि आप विभिन्न प्रकार की परेशानियों का अनुभव कर रही होंगी।

यदि आप गर्भवती हैं, तो निमोनिया के लक्षण दिखने पर अपने डॉक्टर से संपर्क करें। मातृ निमोनिया कई तरह की जटिलताएं पैदा कर सकता है, उदाहरण के लिए, असमय जन्म और जन्म के समय कम वजन।

डॉक्टर को कब दिखाना है

सांस लेने में कठिनाई होने पर, सीने में दर्द या 102 F (39C) या इससे अधिक का लगातार बुखार होने और लगातार खांसी होने की स्थिति में डॉक्टर से मिलने का सुझाव दिया जाता है, खासकर यदि आपको बलगम वाली खांसी हो रही हो।

उच्च जोखिम वाले समूहों में कुछ लोगों के लिए डॉक्टर को देखना बहुत जरूरी है। उच्च जोखिम वाले समूहों में आने वाले कुछ लोग हैं:

• 65 वर्ष से अधिक उम्र के व्यक्ति

• 2 साल से कम उम्र के बच्चे जिनमें लक्षण और लक्षण दिखाई देते हैं

• अंतर्निहित स्वास्थ्य स्थिति या कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली वाले व्यक्ति

• कीमोथेरेपी प्राप्त करने वाले या प्रतिरक्षा प्रणाली को दबाने वाली दवा लेने वाले लोग

• कुछ बड़े वयस्कों और दिल की विफलता या फेफड़ों की पुरानी समस्याओं वाले लोगों के लिए, निमोनिया तुरंत एक खतरनाक स्थिति में बदल सकता है।

निमोनिया निदान

आपका डॉक्टर आपका नैदानिक ​​इतिहास लेकर शुरू करेगा। वे आपसे इस बारे में प्रश्न पूछेंगे कि आपके दुष्प्रभाव पहले कब हुए थे और सामान्य रूप से आपका स्वास्थ्य।

फिर वे आपको एक शारीरिक परीक्षा देंगे जिसमें किसी भी असामान्य आवाज़, जैसे कि कर्कश के लिए स्टेथोस्कोप के साथ आपके फेफड़ों को सुनना शामिल है। आपके लक्षणों की गंभीरता और जटिलताओं के आपके जोखिम के आधार पर, आपका डॉक्टर इनमें से एक या अधिक परीक्षणों का आदेश भी दे सकता है:

छाती का एक्स-रे: एक एक्स-रे आपके डॉक्टर को आपकी छाती में सूजन के संकेत देखने में मदद करता है। यदि सूजन मौजूद है, तो एक्स-रे आपके डॉक्टर को इसके स्थान और सीमा के बारे में भी सूचित कर सकता है।

रक्त संस्कृति: यह परीक्षण संक्रमण की पुष्टि के लिए रक्त के नमूने का उपयोग करता है। संवर्धन यह पहचानने में भी मदद कर सकता है कि आपकी स्थिति क्या हो सकती है।

स्पुतम कल्चर: थूक कल्चर के दौरान, आपके द्वारा गहरी खांसने के बाद बलगम का एक नमूना एकत्र किया जाता है। फिर इसे संक्रमण के कारण की पहचान करने के लिए विश्लेषण के लिए एक प्रयोगशाला में भेजा जाता है।

पल्स ऑक्सीमेट्री: एक पल्स ऑक्सीमेट्री आपके रक्त में ऑक्सीजन की मात्रा को मापती है। आपकी उंगलियों में से एक पर लगाया गया सेंसर यह संकेत दे सकता है कि आपके फेफड़े आपके रक्त प्रवाह के माध्यम से पर्याप्त ऑक्सीजन ले जा रहे हैं या नहीं।

सीटी स्कैन: सीटी स्कैन आपके फेफड़ों की एक स्पष्ट और अधिक विस्तृत तस्वीर प्रदान करता है।

द्रव का नमूना: यदि आपके डॉक्टर को संदेह है कि आपकी छाती के फुफ्फुस स्थान में द्रव है, तो वे आपकी पसलियों के बीच रखी सुई का उपयोग करके द्रव का नमूना ले सकते हैं। यह परीक्षण आपके संक्रमण के कारण की पहचान करने में मदद कर सकता है।

ब्रोंकोस्कोपी: ब्रोंकोस्कोपी आपके फेफड़ों में वायुमार्ग की जांच करती है। यह एक लचीली ट्यूब के अंत में एक कैमरे का उपयोग करके ऐसा करता है जो धीरे-धीरे आपके गले और आपके फेफड़ों में निर्देशित होता है। आपका डॉक्टर यह परीक्षण कर सकता है यदि आपके प्रारंभिक लक्षण गंभीर हैं, या यदि आप अस्पताल में भर्ती हैं और एंटीबायोटिक दवाओं के लिए अच्छी प्रतिक्रिया नहीं दे रहे हैं।

निवारण

ऐसे कई तरीके हैं जिनसे हम निमोनिया से बचाव कर सकते हैं। निमोनिया को रोकने में मदद करने के लिए:

• टीका लगवाएं: कुछ प्रकार के निमोनिया और फ्लू से बचाव के लिए टीके उपलब्ध हैं। इन शॉट्स को लेने के बारे में अपने डॉक्टर से बात करें। टीकाकरण के दिशा-निर्देश समय के साथ बदल गए हैं, इसलिए अपने डॉक्टर के साथ अपनी टीकाकरण स्थिति की समीक्षा करना सुनिश्चित करें, भले ही आपको याद हो कि आपने पहले निमोनिया का टीका प्राप्त किया था। कई टीके हैं जो निमोनिया को रोकने में मदद कर सकते हैं।

Prevnar 13 और Pneumovax 23: ये दो निमोनिया टीके न्यूमोकोकल बैक्टीरिया के कारण होने वाले निमोनिया और मेनिन्जाइटिस से बचाने में मदद करते हैं। आपका डॉक्टर आपको बता सकता है कि आपके लिए कौन सा बेहतर हो सकता है। Prevnar 13 13 प्रकार के न्यूमोकोकल बैक्टीरिया के खिलाफ प्रभावी है। रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र (सीडीसी) इस टीके की सिफारिश करता है:

a) 2 साल से कम उम्र के बच्चे

b) 65 वर्ष और उससे अधिक उम्र के वयस्क

c) 2 से 64 वर्ष की आयु के लोग पुरानी स्थितियों से पीड़ित हैं जो निमोनिया के लिए उनके जोखिम को बढ़ाते हैं

न्यूमोवैक्स 23 23 प्रकार के न्यूमोकोकल बैक्टीरिया के खिलाफ प्रभावी है। सीडीसी इसके लिए सिफारिश करता है:

a) 65 वर्ष और उससे अधिक उम्र के वयस्क

b) धूम्रपान करने वाले 19 से 64 वर्ष की आयु के वयस्क

c) 2 से 64 वर्ष की आयु के लोग पुरानी स्थितियों से पीड़ित हैं जो निमोनिया के लिए उनके जोखिम को बढ़ाते हैं

फ्लू का टीका: निमोनिया अक्सर फ्लू की जटिलता हो सकती है, इसलिए वार्षिक फ्लू शॉट भी अवश्य लें। सीडीसी अनुशंसा करता है कि 6 महीने और उससे अधिक उम्र के सभी लोगों को टीका लगाया जाए, खासकर उन लोगों को जिन्हें फ्लू की जटिलताओं का खतरा हो सकता है।

हिब वैक्सीन: यह टीका हीमोफिलस इन्फ्लुएंजा टाइप बी (एचआईबी) से बचाता है, एक प्रकार का बैक्टीरिया जो निमोनिया और मेनिन्जाइटिस का कारण बन सकता है। सीडीसी इस टीके की सिफारिश करता है:

a) 5 साल से कम उम्र के सभी बच्चे

b) बिना टीकाकरण वाले बड़े बच्चे या वयस्क जिनके पास कुछ स्वास्थ्य स्थितियां हैं

c) वे व्यक्ति जिन्होंने अस्थि मज्जा प्रत्यारोपण प्राप्त किया है

नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ (एनआईएच) के मुताबिक, निमोनिया के टीके इस स्थिति के सभी मामलों को नहीं रोकेंगे। लेकिन अगर आपको टीका लगाया गया है, तो आपको मामूली और छोटी बीमारी होने के साथ-साथ जटिलताओं के लिए कम जोखिम होने की संभावना है।

• सुनिश्चित करें कि बच्चों का टीकाकरण हो: डॉक्टर 2 साल से कम उम्र के बच्चों और 2 से 5 साल की उम्र के बच्चों के लिए एक अलग निमोनिया वैक्सीन की सलाह देते हैं, जिन्हें न्यूमोकोकल रोग का विशेष खतरा होता है। समूह बाल देखभाल केंद्र में भाग लेने वाले बच्चों को भी टीका लगवाना चाहिए। डॉक्टर 6 महीने से अधिक उम्र के बच्चों के लिए फ्लू शॉट्स की भी सलाह देते हैं।

• अच्छी स्वच्छता का अभ्यास करें: अपने आप को श्वसन संक्रमणों से बचाने के लिए जो कभी-कभी निमोनिया का कारण बनते हैं, अपने हाथों को नियमित रूप से धोएं या अल्कोहल-आधारित हैंड सैनिटाइज़र का उपयोग करें।

• धूम्रपान न करें: धूम्रपान आपके फेफड़ों की श्वसन संक्रमण के खिलाफ प्राकृतिक सुरक्षा को नुकसान पहुंचाता है।

• अपनी प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत रखें: पर्याप्त नींद लें, नियमित व्यायाम करें और स्वस्थ आहार लें।

• निमोनिया के घरेलू उपचार: हालांकि घरेलू उपचार वास्तव में निमोनिया का इलाज नहीं करते हैं, लेकिन कुछ चीजें हैं जो आप लक्षणों को कम करने में मदद के लिए कर सकते हैं।

a) खांसी निमोनिया के सबसे आम लक्षणों में से एक है। खांसी से राहत पाने के प्राकृतिक तरीकों में नमक के पानी से गरारे करना या पुदीने की चाय पीना शामिल है।

b) ओटीसी दर्द की दवा और कूल कंप्रेस जैसी चीजें बुखार से राहत दिलाने का काम कर सकती हैं। गर्म पानी पीने या सूप का एक अच्छा गर्म कटोरा पीने से ठंड लगने में मदद मिल सकती है।

c) हालांकि घरेलू उपचार लक्षणों को कम करने में मदद कर सकते हैं, यह महत्वपूर्ण है कि आप अपनी उपचार योजना का पालन करें। निर्देशानुसार कोई भी निर्धारित दवा लें।

d) आपका डॉक्टर जरूरत पड़ने पर आपके दर्द और बुखार को दूर करने के लिए ओवर-द-काउंटर (OTC) दवा की भी सिफारिश कर सकता है। इनमें शामिल हो सकते हैं:

i. एस्पिरिन

ii. इबुप्रोफेन (एडविल, मोट्रिन)

iii. एसिटामिनोफेन (टाइलेनॉल)

• प्रिस्क्रिप्शन दवाएं: आपका डॉक्टर आपके निमोनिया के इलाज में मदद करने के लिए एक दवा लिख ​​​​सकता है। मौखिक एंटीबायोटिक्स जीवाणु निमोनिया के अधिकांश मामलों का इलाज कर सकते हैं। हमेशा एंटीबायोटिक्स का अपना पूरा कोर्स लें, भले ही आप बेहतर महसूस करने लगें। ऐसा नहीं करने से संक्रमण को दूर होने से रोका जा सकता है, और भविष्य में इसका इलाज करना कठिन हो सकता है। एंटीबायोटिक दवाएं वायरस पर काम नहीं करती हैं। कुछ मामलों में, आपका डॉक्टर एक एंटीवायरल लिख सकता है। हालांकि, वायरल निमोनिया के कई मामले घर पर देखभाल से अपने आप ठीक हो जाते हैं। फंगल निमोनिया से लड़ने के लिए एंटिफंगल दवाओं का उपयोग किया जाता है। संक्रमण को दूर करने के लिए आपको कई हफ्तों तक यह दवा लेनी पड़ सकती है।

• अस्पताल में भर्ती: यदि आपके लक्षण बहुत गंभीर हैं या आपको अन्य स्वास्थ्य समस्याएं हैं, तो आपको अस्पताल में भर्ती होने की आवश्यकता हो सकती है। अस्पताल में, डॉक्टर आपकी हृदय गति, तापमान और श्वास पर नज़र रख सकते हैं। अस्पताल उपचार में शामिल हो सकते हैं:

a) अंतःशिरा एंटीबायोटिक्स एक नस में इंजेक्ट किया जाता है

b) श्वसन चिकित्सा, जिसमें विशिष्ट दवाएं सीधे फेफड़ों में पहुंचाना या आपको अपने ऑक्सीजनकरण को अधिकतम करने के लिए श्वास व्यायाम करना सिखाना शामिल है

c) आपके रक्त प्रवाह में ऑक्सीजन के स्तर को बनाए रखने के लिए ऑक्सीजन थेरेपी (गंभीरता के आधार पर नाक ट्यूब, फेस मास्क या वेंटिलेटर के माध्यम से प्राप्त)

निमोनिया रिकवरी

अधिकांश व्यक्ति उपचार के प्रति प्रतिक्रिया करते हैं और निमोनिया से ठीक हो जाते हैं। आपके उपचार की तरह, आपका स्वस्थ होने का समय इस बात पर निर्भर करेगा कि आपको किस प्रकार का निमोनिया है, यह कितना गंभीर है, और आपका संपूर्ण स्वास्थ्य कैसा है।

एक युवा व्यक्ति उपचार के बाद 7 दिनों में वापस सामान्य महसूस कर सकता है। दूसरों को स्वस्थ होने में अधिक समय लग सकता है और उन्हें थकान हो सकती है। यदि आपके लक्षण गंभीर हैं, तो आपके ठीक होने में कई सप्ताह लग सकते हैं।

अपने ठीक होने में सहायता के लिए इन कदमों को उठाने पर विचार करें और जटिलताओं को होने से रोकने में मदद करें:

• अपने चिकित्सक द्वारा बनाई गई उपचार योजना पर टिके रहें और निर्देशानुसार सभी दवाएं लें।

• अपने शरीर को बीमारी से लड़ने में मदद करने के लिए भरपूर आराम करना सुनिश्चित करें।

• तरल पदार्थ का खूब सेवन करें।

• अपने डॉक्टर से पूछें कि आपको अनुवर्ती मुलाकात की योजना कब बनानी चाहिए। यह सुनिश्चित करने के लिए कि आपका संदूषण साफ हो गया है, वे एक और छाती का एक्स-रे करना चाहेंगे।




उपर ब्लॉग में बताई गई उपलब्धिया AFD-SHIELD के साथ उपलब्ध हैं
एएफडी शील्ड कैप्सूल 12 प्राकृतिक अवयवों का एक संयोजन है जिनमें से अलगल डीएचए, अश्वगंधा, करक्यूमिन और स्पिरुलिना हैं। एएफडी शील्ड टीजी को कम करता है, एचडीएल बढ़ाता है और उम्र से संबंधित संज्ञानात्मक गिरावट में सुधार करता है। यह तनाव और चिंता को भी कम करता है और एंटी-एजिंग गतिविधि करता है। इसके अलावा, यह इम्युनोमॉड्यूलेटरी गतिविधि को बढ़ाता है, प्रतिरक्षा में सुधार करता है और सूजन और ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करता है। न्यूट्रोग्लिग्क्स: एएफडी-शील्ड

AFDIL Ltd.
+91 9920121021

order@afdil.com

Read Also:


Disclaimer
Home