Natural Supplements and Yoga Poses for Gallstones

While medication and surgery are often used to resolve gallstone complaints, many people turn to natural remedies instead.

Fast facts on getting rid of gallstones naturally:

• Gallstones are solid particles that form in the gallbladder.
• Gallstones appears whenever there is dysfunction in the physiology of the gall bladder. Those are solid particles are formed due to precipitation in gall bladder. It is important to consult a doctor before treating them on personal level.
• Gallstones vary from shape to shape and appear in various sizes, with some growing to the size of a golf ball.
Types of GallStones:
• Cholesterol gallstones: These are primarily made up of undissolved and excess cholesterol and are the most common type of gallstones.
• Pigment gallstones: These are made up of excess bilirubin. Bilirubin is a pigment that is formed during the breakdown of red blood cells.
Following are the symptoms that develop due to formation of gallstones, but it is not necessary that all gallstones produce symptoms:
• Sudden pain in shoulder(right) or between the shoulder blades or upper right abdomen
• Nausea and vomiting
• Gray stools
• Diarrhoea
• Yoga Poses for Gallstones has provided great results for their removal, naturally.

Why are women at greater risk?

Due to presence of hormones like estrogen or progesterone, females are more prone to have gallstones in comparison to males. Estrogen increases the cholesterol level in bile while progesterone slows the emptying of gallbladder. Before the age of forty, women are diagnosed with gallstones almost three times more than men because pregnancy might increase the risk. But after the age of sixty, the risk increases. Oestrogen therapy also increases the risk especially when taken as a pill or as a patch. Oral contraceptive pills also increase the risk of gallstones but only in the first decade of use. Bodies with more fat produces more oestrogen hence creating obesity as another risk factor. Surprisingly a rapid weight loss also increases the risk of gallstone because very low-calorie diet interferes with bile production and therefore cause precipitation of cholesterol. Gallstones are common after weight loss surgery therefore patients are usually advised to have their gallbladder removed at the same time. Gallstones are also more likely to occur in people with diabetes or any other conditions that decrease gallbladder contractions or mortality of in intestine. Some other factors leading to gallstone formation can be due to genetic reasons. If someone wants to lose weight and attain healthy life styles, Yoga Poses for Gallstones have been a great remedy, treating the problems all together.

supplements for gallstones

Factors leading to appearance of gallstones.
There are severalreasons why gallstone forms:

1. Your liver may secret more bile than it can dissolve
2. Your body may have excess pigment called bilirubin which cannot be dissolved
3. The gallbladder might not empty as frequently as it need to be


Gallstones cause problems when they block any of the ducts carrying bile from the liver or gallbladder (or digestive enzymes from the pancreas) to the small intestine.
Gallbladder cleanse:
So let us understand what is gallbladder cleanse or flush. This is an alternative remedy for getting rid and cure for gallstones from body however there is no reliable evidence that this technique is useful for preventing gallstones. Some people claim that gallbladder cleanse or flush can help break up the gallstones and empty the gallbladder. the body is able to clean and flush itself.
In several cases gallbladder or flush involves consumption of combination of olive oil, some fruit juices and herbs for two or more days. During that time the patient is not supposed to consume anything other than the oil mixture. The mixture can be dangerous for the people ll for those who experience low blood sugar.
Olive oil does not directly affect gallstones but has a major effect on bile consumption.
One must consult doctor before following this / technique because it may be not safe for all.

Apple juice:
It is believed that Apple juice may soften the gallstones and help in easy passage of stones. There is no scientific study that support that apple juice is used to treat gallstone but few years back a claim was made which detailed and anecdotal account for a woman who successfully passed her gallstones with the use of apple juice. Drinking lots of fruit juice may not be healthy if you have diabetes, hypoglycaemia, stomach ulcers and other conditions.

Apple cider vinegar:
Consumption of Apple Cider Vinegar may have some positive effects on blood sugar but there are no studies supporting the use of Apple Cider Vinegar for the treatment and cure for gallstones. However, it is a popular health supplement that is often included in cleanses.


Yoga Poses for Gallstones

There are some claims that yoga may help you naturally pass gallstones and can act as a natural cure for gallstones. Yoga was found in a Source to improve lipid profile in people with diabetes. In another Source, researchers looked at people with cholesterol gallstones and found that people with these types of gallstones were more likely to have abnormal lipid profiles. The researchers were unable to find a connection between these abnormal levels and the presence of gallstones, however.
While yoga may help relieve some of the symptoms associated with gallstones, there is no scientific evidence to support the use of yoga for the treatment of gallstones.
Some yoga poses are said as cure for gallstones, although no studies support this claim. The following poses are believed by some to be beneficial for people with gallstones:
• Bhujangasana (Cobra Pose)
• Dhanurasana (Bow Pose)
• Pachimotasana (Seated forward bend)
• Sarvangasana (Shoulderstand)
• Shalabhasana (Locust Pose)

Yoga Poses for Gallstones

Supplements for Gallstone



Chitraka for Gallstones:
Chitrak clad by the vernacular names agni, agnika or jyothi is a potent appetizing herb. The strong carminative nature of this herb is used in treating for Gallstones, intestinal troubles, inflammation, piles, bronchitis, dysentery, leucoderma, itching, diseases of the liver, and consumption. Chitraka for Gallstones is very effective.

Milk thistle:
Silybum marianum or milk thistle main help in treatment of liver and cure for gallstones disorders. It is thought to stimulate both organs but there are no specific benefits for the treatment of gallstones. it is available in pill form as a supplement. One must consult doctor before using them especially if the patient has diabetes. Milk crystal may lower blood sugar levels in people with type 2 diabetes.

Artichoke:
Artichoke has been found to be beneficial for gallbladder function. It helps stimulate bile and is also beneficial for the liver. No studies have looked at the effect of artichoke on the treatment of gallstones.
Artichoke can be steamed, pickled, or grilled. There is no harm in eating artichoke if you’re able to tolerate it. Artichoke in pill form or sold as a supplement should only be taken after you speak to your doctor.

Gold coin grass:
Gold coin grass, or Lysimachiae herba, is used in traditional Chinese medicine to treat gallstones. It’s been linked to reduced gallstone formation. Some people recommend taking gold coin grass before beginning a gallstone cleanse to help soften the stones.

Castor oil pack:
Castor oil packs are another folk remedy, and some people choose to use this method instead of a gallbladder cleanse. Warm cloths are soaked in castor oil, which you then place on your abdomen. The packs are supposed to relieve pain and help as a cure for gallstones. There are no scientific studies to support claims that this treatment is effective.

Acupuncture:
Instead of removal of gallstones, acupuncture help in relieving the pain caused by gallstones by reducing spasm, easing bile flow and restoring proper function. Acupuncture has been reported to treat gallstones but more research is needed in this field. Cholecystitis is inflammation of gall bladder. Acupuncture was found to relieve symptoms of the inflammation and reduce the volume of gallbladder. When choosing an acupuncturist look for a licensed acupuncturist and make sure that they are using new and single use needles. In some cases, insurance provider may cover part of the cost. Many cities also have community acupuncture centres and they are administered in a room with other people instead of a private setting. The cost of community acupuncture is often more affordable and they are relatively safe.10. Yoga


Some Yoga Poses are said cure for gallstones, although no studies support this claim. The following poses are believed by some to be beneficial for people and cure for gallstones:
• Bhujangasana (Cobra Pose)
• Dhanurasana (Bow Pose)
• Pachimotasana (Seated forward bend)
• Sarvangasana (Shoulderstand)
• Shalabhasana (Locust Pose)


Yavakshara role in Gallstone:
• Bile contains bile salt of Potassium & Sodium
• During pathogenesis of chronic cholecystities & cholelithiasis, there is alteration of Potassium & Sodium salt of bile acid
• Yavakshara is helpful for maintain homeostasis of bile & prevent the further progression of disease.
• It is an alkaline preparation which is used to remove obstruction in the passages and in colic pain

Medical treatments

If natural remedies do not treat gallstones effectively, then a person might want to consider medications or surgery.

Medication
Smaller gallstones may be treated with bile acids such as ursodeoxycholic acid and chenodeoxycholic acid.
Potential disadvantages of these medications include:
• the time they take to work (up to 2 years)
• the potential for gallstones to return once medication use is stopped

Surgery
Gallstones are often treated by removing the gallbladder. This ensures that the gallstones cannot re-form.
Gallbladder removal surgery or cholecystectomy is one of the most common operations performed on American adults. There are minimal side effects to gallbladder removal.

Not all Risk Factors for gallstone formation can be modified, such as:
• being female
• increasing age (over 40)
• ethnicity
• family history

However, Other Risk Factors can be addressed, including:
• obesity
• rapid weight loss
• a high-fat diet
• sedentary lifestyle


Therefore, preventative techniques should involve focusing on the factors that can be modified. The following tips may reduce the risk of gallstones for some people.

Can diet prevent gallstones?

Women who eat more fruits and vegetables are less likely to have their gallbladders removed than women who eat very little fresh produce, according to a 2006 study. Also, other sources of fiber such as the psyllium husks mentioned earlier may be beneficial for the gallbladder and cure for gallstones.
Foods that may cause gallbladder problems include:
• high-fat foods
• eggs
• sugar

Weight management

As mentioned above obesity increases the risk of gallstones full stop those who are overweight should aim to achieve and maintain a healthy weight. Following a diet that is low in calorie (i.e., 500per day) can be risky for gallstone formation. However, those who ate between 1200 to 1500 calories a day for 12 weeks lost weight and they are much less likely chances of getting gallstones. Learning easy yoga postures for GallStone removal can also help in easy weight management.

When to see a doctor

Anyone considering trying natural treatment should always consult a doctor first.
Symptoms of a gallbladder problem include:
• pain in the abdomen that lasts for 5 hours or more
• fever
• chills
• yellowing of the skin or eyes
• tea-colored urine
• pale stools
• nausea
• vomiting
People who suspect they have had a gallbladder attack should contact a doctor without delay to reduce the risk of future complications.


Also read more about:

The role of proper nutrition in body
Can liver disease be prevented?
Can eating fast food harm your liver?




The above essentials are available with Livocumin.
Livocumin is the combination of natural ingredients like Curcumin, Ardraka (Ginger), Katuka, Yavakshara, Chitraka, March (Black pepper), Sarjikakshara, Amlakai (Amla), Chuna, Haritaki in the management of NAFLD (Non Alcoholic Fatty Liver Disease), Infective Hepatitis, GallStones, Jaundice & Indigestion. Nutralogicx: Livocumin

पित्त पत्थर के लिए प्राकृतिक की खुराक

जबकि दवा और सर्जरी अक्सर पित्ताशय की शिकायतों को हल करने के लिए उपयोग किया जाता है, कई लोगों के बजाय प्राकृतिक उपचार के लिए बारी है ।

स्वाभाविक रूप से पित्ताशय की पथरी से छुटकारा पाने पर तेजी से तथ्य:

• पित्ताशय के शरीर विज्ञान में जब भी शिथिलता आती है तो पित्ताशय दिखाई देता है। वे ठोस कण हैं जो पित्ताशय में वर्षा के कारण बनते हैं। व्यक्तिगत स्तर पर उनका इलाज करने से पहले डॉक्टर से सलाह लेना जरूरी है।
• गैलस्टोन आकार से आकार में भिन्न होते हैं और विभिन्न आकारों में दिखाई देते हैं,कुछ गोल्फ की गेंद के आकार में बढ़ते हैं।
पित्त पत्थरों के प्रकार:
• कोलेस्ट्रॉल पित्ताशय की पथरी: ये मुख्य रूप से अविधित और अतिरिक्त कोलेस्ट्रॉल से बने होते हैं और पित्ताशय की पथरी का सबसे आम प्रकार होते हैं।
• वर्णक पित्ताशय की पथरी: ये अतिरिक्त बिलीरुबिन से बने होते हैं। बिलीरुबिन एक वर्णक है जो लाल रक्त कोशिकाओं के टूटने के दौरान बनता है।
• पित्ताशय की पथरी के गठन के कारण विकसित होने वाले लक्षण निम्नलिखित हैं, लेकिन यह आवश्यक नहीं है कि सभी पित्ताशय की पथरी लक्षण पैदा करती है:
• कंधे में अचानक दर्द (दाएं) या कंधे के ब्लेड या ऊपरी दाहिने पेट के बीच
• मतली और उल्टी
• ग्रे मल
• अतिसार रोग
• पित्ताशय की पथरी के लिए योग आसनों ने स्वाभाविक रूप से उन्हें हटाने के लिए शानदार परिणाम प्रदान किए हैं।

महिलाओं को अधिक जोखिम में क्यों हैं?

एस्ट्रोजन या प्रोजेस्टेरोन जैसे हार्मोन की मौजूदगी के कारण महिलाओं में पुरुषों की तुलना में पित्ताशय की पथरी होने का खतरा अधिक होता है। एस्ट्रोजन पित्त में कोलेस्ट्रॉल का स्तर बढ़ाता है जबकि प्रोजेस्टेरोन पित्ताशय की थैली के खाली होने को धीमा कर देता है। चालीस की उम्र से पहले, महिलाओं को पुरुषों की तुलना में लगभग तीन गुना अधिक पित्ताशय की पथरी का निदान किया जाता है क्योंकि गर्भावस्था जोखिम को बढ़ा सकती है। लेकिन साठ की उम्र के बाद खतरा बढ़ जाता है।
एस्ट्रोजन थेरेपी भी जोखिम बढ़ जाती है, खासकर जब एक गोली के रूप में या एक पैच के रूप में लिया । मौखिक गर्भनिरोधक गोलियां भी पित्ताशय की पथरी का खतरा बढ़ाते हैं लेकिन केवल उपयोग के पहले दशक में।
अधिक वसा वाले शरीर अधिक एस्ट्रोजन पैदा करते हैं इसलिए मोटापा को एक और जोखिम कारक के रूप में पैदा करते हैं। आश्चर्यजनक रूप से एक तेजी से वजन घटाने से पित्ताशय की पथरी का खतरा भी बढ़ जाता है क्योंकि बहुतकमकैलोरी आहार पित्त उत्पादन में हस्तक्षेप करता है और इसलिए कोलेस्ट्रॉल की वर्षा का कारण बनता है। पित्ताशय की पथरी वजन घटाने की सर्जरी के बाद आम हैं इसलिए रोगियों को आमतौर पर एक ही समय में उनके पित्ताशय की थैली को हटाने की सलाह दी जाती है। पित्ताशय की पथरी भी मधुमेह या किसी अन्य स्थितियों के साथ लोगों में होने की संभावना है जो पित्ताशय की थैली संकुचन या आंत में मृत्यु दर को कम करते हैं। पित्ताशय की पथरी बनने के लिए अग्रणी कुछ अन्य कारक आनुवंशिक कारणों से हो सकते हैं। यदि कोई अपना वजन कम करना चाहता है और स्वस्थ जीवन शैली प्राप्त करना चाहता है, तो पित्ताशय के लिए योग आसन एक महान उपाय रहा है, समस्याओं का इलाज सभी एक साथ करते हैं ।

पित्त पत्थर के लिए प्राकृतिक की खुराक

पित्ताशय की पथरी की उपस्थिति के लिए अग्रणी कारक

पित्ताशय की पथरी क्यों बन सकती है, इसके कई कारण हैं:
1. आपका जिगर अधिक पित्त गुप्त से यह भंग कर सकते है हो सकता है
2. आपके शरीर में बिलीरुबिन नामक अतिरिक्त वर्णक हो सकता है जिसे भंग नहीं किया जा सकता है
3. पित्ताशय की थैली के रूप में अक्सर के रूप में यह होने की जरूरत खाली नहीं हो सकता है


पित्ताशय की पथरी समस्याएं पैदा करती है जब वे जिगर या पित्ताशय की थैली (या अग्न्याशय से पाचन एंजाइम) से पित्त ले जाने वाले किसी भी नलिका को छोटी आंत में ब्लॉक कर देते हैं।

पित्ताशय की थैली शुद्ध

तो आइए समझते हैं कि पित्ताशय की थैली क्या है शुद्ध या फ्लश। यह शरीर से पित्ताशय की पथरी से छुटकारा पाने के लिए एक वैकल्पिक उपाय है लेकिन कोई विश्वसनीय सबूत नहीं है कि यह तकनीक पित्ताशय की पथरी को रोकने के लिए उपयोगी है। कुछ लोगों का दावा है कि पित्ताशय की थैली को साफ या फ्लश पित्ताशय की पथरी को तोड़ने और पित्ताशय की थैली को खाली करने में मदद कर सकते हैं । शरीर खुद को साफ और फ्लश करने में सक्षम है।
कई मामलों में पित्ताशय की थैली या फ्लश दो या अधिक दिनों के लिए जैतून का तेल, कुछ फलों के रस और जड़ी बूटियों के संयोजन की खपत शामिल है । उस समय के दौरान रोगी को तेल मिश्रण के अलावा कुछ भी उपभोग करने के लिए नहीं माना जाता है। यह मिश्रण उन लोगों के लिए खतरनाक हो सकता है जो कम रक्त शर्करा का अनुभव करते हैं।
जैतून का तेल सीधे पित्ताशय की पथरी को प्रभावित नहीं करता है लेकिन पित्त की खपत पर इसका बड़ा असर पड़ता है।
इस/तकनीक का पालन करने से पहले किसी को डॉक्टर से परामर्श करना चाहिए क्योंकि यह सभी के लिए सुरक्षित नहीं हो सकता है ।

पित्ताशय की पथरी के लिए प्राकृतिक उपचार

सेब का रस
माना जाता है कि सेब का रस पित्ताशय की पथरी को नरम कर सकता है और पत्थरों के आसानी से गुजरने में मदद कर सकता है। कोई वैज्ञानिक अध्ययन है कि समर्थन है कि सेब का रस पित्ताशय की पथरी के इलाज के लिए प्रयोग किया जाता है, लेकिन कुछ साल पहले एक दावा किया गया था जो एक औरत जो सफलतापूर्वक सेब के रस के उपयोग के साथ उसे पित्ताशय की पथरी पारित के लिए विस्तृत और वास्तविक खाते । फलों का रस पीने से स्वस्थ नहीं हो सकता है यदि आपको मधुमेह, हाइपोग्लाइकेमिया, पेट के अल्सर और अन्य स्थितियों है।

एप्पल साइडर सिरका
एप्पल साइडर सिरका की खपत रक्त शर्करा पर कुछ सकारात्मक प्रभाव हो सकता है, लेकिन पित्ताशय की पथरी के उपचार के लिए एप्पल साइडर सिरका के उपयोग का समर्थन कोई अध्ययन कर रहे हैं, लेकिन यह एक लोकप्रिय स्वास्थ्य पूरक है कि अक्सर शुद्ध में शामिल है ।

पित्ताशय की पथरी के लिए योग आसन
पित्ताशय के उपचार के लिए कुछ योग आसन ऐसे होते हैं जो उनके प्राकृतिक मार्ग में मदद करते हैं। शोधकर्ताओं ने पाया है कि कोलेस्ट्रॉल पित्ताशय की पथरी वाले लोगों में असामान्य लिपिड प्रोफाइल होने की संभावना अधिक होती थी और यह देखा गया है कि योग मधुमेह से वस् त लोगों में लिक्विड प्रोफाइल को बेहतर बनाने में मदद करता है। हालांकि,शोधकर्ताओं ने इन असामान्य स्तर और पित्ताशय की उपस्थिति के बीच एक संबंध खोजने में असमर्थ थे, लेकिन योग निश्चित रूप से पित्ताशय की पथरी से जुड़े कुछ लक्षणों से राहत देने में मदद करेगा । निम्नलिखित हैं पित्ताशय की पथरीके लिए योग पीओएसट्यूर्स लोगों के लिए फायदेमंद माना जाता है:
1. भुजंगासना - कोबरा मुद्रा
2. धनुरास्ना - धनुष मुद्रा
3. पचीमोतास्ना - आगे मोड़ बैठे
4. सरवनगस्ना - कंधे खड़े
5. शलभसाना - टिड्डी मुद्रा

Yoga Poses for Gallstones



दूध थीस्ल
सिलीबम मैरिनम या दूध थीस्ल मुख्य जिगर और पित्ताशय की थैली विकारों के उपचार में मदद करते हैं। यह दोनों अंगों को उत्तेजित करने के लिए सोचा है, लेकिन पित्ताशय की पथरी के उपचार के लिए कोई विशेष लाभ कर रहे हैं । यह एक पूरक के रूप में गोली के रूप में उपलब्ध है। किसी को उनका उपयोग करने से पहले डॉक्टर से परामर्श करना चाहिए, खासकर यदि रोगी को मधुमेह है। दूध क्रिस्टल प्रकार के साथ लोगों में रक्त शर्करा का स्तर कम हो सकता है 2 मधुमेह।

आर्टिचोक
आटिचोक पित्ताशय की थैली समारोह के लिए फायदेमंद पाया गया है और यह पित्त के अनुकरण में मदद की और यह भी जिगर के लिए फायदेमंद है पूर्ण बंद आरती चौक उबले हुए मसालेदार या ग्रील्ड पूर्ण बंद किया जा सकता है यदि आप इसे बर्दाश्त करने में सक्षम हैं आटिचोक खाने में कोई बुराई नहीं है । यह गोली के रूप में उपलब्ध है और इसे पूरक के रूप में बेचा जाता है जिसे केवल आपके डॉक्टर से बात करने के बाद लिया जाना चाहिए।

सोने का सिक्का घास
लइसीमाचिया हर्बा या सोने का सिक्का घास पारंपरिक चीनी चिकित्सा में पित्ताशय की पथरी के इलाज के लिए प्रयोग किया जाता है । यह पित्ताशय की पथरी गठन को कम करने के लिए जोड़ा गया है इसलिए कुछ लोगों को एक पित्ताशय की पथरी का दावा शुरू करने से पहले सोने का सिक्का घास लेने की सलाह देने के लिए मदद उंहें पत्थर नरम ।

अरंडी का तेल
यह एक और तरीका है कि लोगों को पित्ताशय की थैली शुद्ध के बजाय पालन करें । गर्म कपड़े अरंडी के तेल में भिगोए जाते हैं जो तब पेट पर रखा जाता है पूर्ण स्टॉप पीठ दर्द को दूर करने और अपने पित्ताशय की पथरी के इलाज में मदद करने के लिए माना जाता है। इस दावे का समर्थन करने के लिए कोई वैज्ञानिक अध्ययन नहीं हैं कि यह उपचार प्रभावी है।

एक्‍युपंक्‍चर
पित्त की पथरी को हटाने के बजाय, एक्यूपंक्चर ऐंठन को कम करने, पित्त प्रवाह को आसान बनाने और उचित कार्य बहाल करके पित्त की पथरी के कारण होने वाले दर्द से राहत दिलाने में मदद करते हैं। पित्ताशय की पथरी के इलाज के लिए एक्यूपंक्चर की सूचना मिली है लेकिन इस क्षेत्र में और अधिक शोध की जरूरत है । कोलेसिस्टिटिस पित्ताशय की सूजन है। एक्यूपंक्चर सूजन के लक्षणों को दूर करने और पित्ताशय की थैली की मात्रा को कम करने के लिए पाया गया था। लाइसेंस प्राप्त एक्यूपंक्चरिस्ट के लिए एक एक्यूपंक्चरिस्ट को चुनते समय और सुनिश्चित करें कि वे नए और एकल उपयोग सुइयों का उपयोग कर रहे हैं। कुछ मामलों में, बीमा प्रदाता लागत का हिस्सा कवर कर सकता है। कई शहरों में सामुदायिक एक्यूपंक्चर केंद्र भी हैं और उन्हें निजी सेटिंग के बजाय अन्य लोगों के साथ एक कमरे में प्रशासित किया जाता है। समुदाय एक्यूपंक्चर की लागत अक्सर अधिक किफायती होती है और वे अपेक्षाकृत सुरक्षित होते हैं।

आहार
जो लोग अधिक फल और सब्जियों का सेवन करते हैं, उनमें बहुत कम ताजा उपज खाने वालों की तुलना में पित्ताशय की थैली निकाले जाने की संभावना कम होती है । इसके अलावा फाइबर के अन्य स्रोत जैसे पहले बताए गए साइलियम भूसी पित्ताशय की थैली के लिए फायदेमंद हो सकते हैं। जिस भोजन से समस्या हो सकती है, उसमें उच्च वसा वाला भोजन, अंडे और चीनी शामिल हैं।

चिकित्सा उपचार

यदि प्राकृतिक उपचार पित्ताशय की पथरी का प्रभावी ढंग से इलाज नहीं करते हैं तो एक व्यक्ति चिकित्सा विकल्पों पर विचार करना चाह सकता है।

दवा
गैलस्टोन जो आकार में छोटा होता है, उसे आसानी से पित्त एसिड जैसे उर्सोडेऑक्सीकोलिक एसिड और चेनोडेऑक्सीकोलिक एसिड के साथ इलाज किया जा सकता है। इन दवाओं के संभावित नुकसान में शामिल हैं।
पित्त पत्थरों को हटाने में शामिल धीमी और लंबी अवधि शामिल हैं।

शल्यचिकित्सा
पित्ताशय की पथरी को हटाकर अक्सर पित्ताशय की पथरी का इलाज किया जाता है जो यह सुनिश्चित करता है कि पित्ताशय की पथरी फिर से नहीं बन सकती ।
कोलेसिस्टेक्टॉमी या पित्ताशय की थैली हटाने की सर्जरी वयस्कों पर किए गए सबसे आम ऑपरेशन में से एक है। पित्ताशय की थैली हटाने के लिए न्यूनतम दुष्प्रभाव हैं।
पित्ताशय की पथरी बनने के लिए सभी जोखिम कारकों को इस तरह के रूप में संशोधित किया जा सकता है।
• महिला होने के नाते
• बढ़ती उम्र
• जातीयता
• परिवार का इतिहास
हालांकि, अन्य जोखिम कारकों को संबोधित किया जा सकता है, जिनमें शामिल हैं,
• मोटापा
• तेजी से वजन घटाने
• एक उच्च वसा वाले आहार
• गतिहीन जीवन शैली
इसलिए, निवारक तकनीकों में उन कारकों पर ध्यान केंद्रित करना शामिल होना चाहिए जिन्हें संशोधित किया जा सकता है।


आहार पित्ताशय की पथरी को रोका जा सकता है?

२००६ के एक अध्ययन के अनुसार, जो महिलाएं अधिक फल और सब्जियां खाती हैं, उनके पित्ताशय की थैली को उन महिलाओं की तुलना में हटाने की संभावना कम होती है जो बहुत कम ताजा उपज खाती हैं ।इसके अलावा, फाइबर के अन्य स्रोत जैसे कि पहले उल्लिखित साइलियम भूसी पित्ताशय की थैली के लिए फायदेमंद हो सकते हैं।
फूड्स जो पित्ताशय की समस्या पैदा कर सकते हैं, में शामिल हैं:
• उच्च वसा वाले खाद्य पदार्थ
• अंडे
• चीनी

वजन प्रबंधन

जैसा कि ऊपर वर्णित मोटापे से पित्ताशय की पथरी का खतरा बढ़ जाता है पूर्ण रोक जो अधिक वजन वाले हैं, उन्हें स्वस्थ वजन प्राप्त करने और बनाए रखने का लक्ष्य रखना चाहिए।एक आहार है कि कैलोरी में कम है के बाद (यानी, 500प्रतिशत दिन) पित्ताशय की पथरी गठन के लिए जोखिम भरा हो सकता है ।हालांकि, जो लोग 12 सप्ताह के लिए एक दिन में १२०० से १५०० कैलोरी के बीच खाया वजन खो दिया है और वे बहुत कम पित्ताशय की पथरी होने की संभावना है ।गॉल स्टोन हटाने के लिए आसान योगासन सीखना भी आसान वजन प्रबंधन में मदद कर सकता है।

डॉक्टर से सलाह लें

प्राकृतिक उपचार की कोशिश कर विचार किसी को भी हमेशा पित्ताशय की थैली की समस्या के एक डॉक्टर पहले लक्षण से परामर्श करना चाहिए शामिल हैं:
• बुखार
• ठंड लग रही
• मतली और उल्टी
• पेट में अचानक दर्द जो 5 घंटे से अधिक समय तक रहता है
• पीली त्वचा या आंख
• चाय के रंग का मूत्र
• पीला मल
• मतली
• उल्टी
जिन लोगों को संदेह है कि उन्हें पित्ताशय की थैली का दौरा पड़ा है, उन्हें भविष्य की जटिलताओं के जोखिम को कम करने के लिए बिना किसी देरी के डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।


इसके बारे में और भी पढ़ें:

शरीर में उचित पोषण की भूमिका
क्या लिवर की बीमारी को रोका जा सकता है?
क्या फास्ट फूड खाने से आपके लिवर को नुकसान हो सकता है?




उपर ब्लॉग में बताई गई उपलब्धियाक लिवोक्यूमिन के साथ उपलब्ध हैं।
लिवोक्यूमिन करक्यूमिन, आर्द्राका (अदरक), कटुका, यावक्षरा, चित्रका, मार्च (काली मिर्च), सरजिकक्षा, अमलाकाई (आंवला), चुना, हरितकी जैसे प्राकृतिक अवयवों का संयोजन है जो एनएएफएलडी (नॉन अल्कोहलिक फैटी लिवर डिजीज), इंफेक्टिविस, हेपेटाइटिस स्टोन्स, पीलिया और इंडिसेशन के प्रबंधन में है । न्यूट्रालॉजिक्स: लिवोक्यूमिन



AFDIL Ltd.
+91 9920121021

order@afdil.com

Read Also:


Disclaimer
Home