Treatment for Menopause

Menopause

Overview

Menopause is described as the permanent cessation of menstrual cycles as a result of the natural reduction of ovarian oocytes caused by ageing. This period, often known as the change of life, marks the end of a woman's ability to have children. Menopause is the word used by many healthcare experts to describe the moment when a woman's hormone levels begin to alter. Menopause is a gradual process, not something that happens all at once. Each woman's experience of the so-called perimenopausal transition period is unique. After a woman has gone 12 months without menstruating, the diagnosis is usually established retrospectively. Menopause occurs when a woman's fertility is permanently lost. Menopause occurs at an average age of 51 years; however, it can occur as early as the 30s or as late as the 60s. There is no credible laboratory test that can determine when a woman will go through menopause. The age at which a woman begins to have menstrual cycles has nothing to do with the age at which she enters menopause.

Understanding Menopause

Understanding Menopause

Menopause is the absence of menstrual cycles for a period of 12 months. The menopausal transition begins with irregular menstrual cycles and ends with the last menstrual period. Perimenopause is a term that refers to the period preceding menopause. It's a term that's frequently used to describe the menopausal transition period. It is not a medical phrase, but it is sometimes used to explain in layman's terms various features of the menopause transition. The supply of mature eggs in a woman's ovaries decreases during this transition period before menopause, and ovulation becomes erratic. At the same time, oestrogen and progesterone production diminishes. Most of the symptoms of menopause are caused by a significant decline in oestrogen levels. The term "postmenopausal" is used as an adjective to describe the period following menopause. Doctors may, for example, refer to a disorder that affects "postmenopausal women." This is a term used to describe women who have entered menopause.

Because it signifies the end of a woman's reproductive life, the menopause is also known as "the change of life." Ovulation stops and the production of oestrogen and progesterone stops after menopause. The last or final menstrual period a woman has is referred to as "menopause." A lady is deemed "postmenopausal" if she hasn't had a period for 12 months in a row.

The majority of women reach menopause spontaneously between the ages of 45 and 55, with the average onset age being around 50. Premature menopause, also known as premature ovarian insufficiency, can occur before the age of 40 as a result of natural ovarian function halting, ovaries removal surgery, or cancer therapies. When menopause happens between the ages of 40 and 45, it is referred to as "early menopause."

Treatment for Menopause

Menopause is a natural phase of life, not a sickness that needs to be treated. Associated symptoms, on the other hand, if they become significant or severe, Treatment for Menopause becomes necessary.

Hormone Therapy
Estrogens or a mixture of estrogens and progesterone are used in hormone therapy (HT) or menopausal hormone therapy (MHT) (progestin). Previously, this was known as hormone replacement treatment (HRT). Hormone treatment (HT) is still the most effective Treatment for Menopause to address the symptoms of menopause that are caused by low oestrogen levels (such as hot flashes and vaginal dryness). Long-term studies of women receiving combined hormone therapy with both oestrogen and progesterone (the NIH-sponsored Women's Health Initiative, or WHI) were halted when it was discovered that these women had an increased risk of heart attack, stroke, and breast cancer when compared to women who did not receive combined hormone therapy. These dangers were greatest in women over 60 who were on hormone therapy. Later investigations of women who only received oestrogen medication found that oestrogen was linked to an increased risk of stroke, but not of heart attack or breast cancer. However, oestrogen therapy alone is linked to a higher risk of endometrial cancer (cancer of the uterine lining) among postmenopausal women who have not had their uterus surgically removed.

Hormone therapy can be taken orally (as a tablet) or transdermally (as a cream) (for example, patches and spray such as Vivelle, Climara, Estraderm, Esclim, Alora). Transdermal hormone products are already active, thus they don't need to go through "first pass" processing in the liver to become active. Transdermal hormone preparations have become the preferred method of administration for most women because they have no impact on the liver.

The use of so-called "bioidentical" hormone therapy for perimenopausal women has piqued interest in recent years. Hormones are made in the lab by modifying molecules taken from naturally occurring plant components. Compounding pharmacies create some of these so-called bioidentical hormone preparations on a case-by-case basis for each patient. Because compounded items are not standardised, the FDA does not regulate individual FDA compound preparations. Bioidentical hormone therapy creams and gels are the most common forms of bioidentical hormone therapy. There have been no studies conducted to determine the long-term safety and effectiveness of these medications, and expert panels currently do not support the use of custom-compounded hormone therapy.

In conclusion, the decision to use hormone therapy is a very personal one, requiring the patient and doctor to consider the treatment's inherent dangers and advantages, as well as each woman's specific medical history. Hormone therapy should be given at the smallest effective dose for the shortest duration possible, according to current recommendations. Hormone therapy is currently suggested for use if the risk-benefit ratio is good for the individual lady.

Related Topic:Reasons for Early Menopause


Oral Contraceptive Pills
Oral contraceptive pills are another type of hormone therapy used to manage irregular vaginal bleeding in perimenopausal women. When oestrogen medication is given to women in the menopausal transition, they often have significant breakthrough bleeding. As a result, oral contraceptives are frequently prescribed to women going through the menopause transition to help control menstrual cycles, reduce hot flashes, and offer contraception. Because the dose of oestrogen is larger than what is needed to regulate hot flashes and other symptoms, they are not indicated for women who have already achieved menopause. Oral contraceptives have the same contraindications for women going through the menopause transition as they do for premenopausal women.

Local (vaginal) hormone and non-hormone Treatment for Menopause
There are also local (meaning applied directly to the vagina) hormonal Treatment for Menopause symptoms of vaginal oestrogen deficiency. Local Treatment for Menopause include the vaginal oestrogen ring (Estring), vaginal oestrogen cream, or vaginal oestrogen tablets. Local and oral oestrogen Treatment for Menopause are sometimes combined for this purpose.

Vaginal moisturising agents such as creams or lotions (for example, K-Y gel)) as well as the use of lubricants during intercourse are non-hormonal options for managing the discomfort of vaginal dryness.

Medications such as antidepressants and others
Selective serotonin reuptake inhibitors (SSRIs) and related antidepressants have been demonstrated to be beneficial in managing the symptoms of hot flashes in up to 60% of women. Venlafaxine (Effexor), an SSRI-like medicine, as well as paroxetine (Paxil, Brisdelle), desvenlafaxine (Pristiq), citalopram (Celexa), and escitalopram (Lexapro), have all been proven to reduce the severity of hot flashes in certain women. Antidepressant medicines, on the other hand, may have negative effects such as diminished libido or sexual dysfunction.

Bodily Functional Changes in Menopause

Body changes in menopause

Menopause is the period in a woman's life when her ovaries stop functioning. As a result, she is no longer able to conceive. In women, the ovary (female gonad) is one of two reproductive glands. One on each side of the uterus, they are located in the pelvis. Each ovary is about the size of an almond and has a similar shape. The ovaries are responsible for the production of eggs (ova) and female hormones such as oestrogen. One egg is delivered from each ovary during each monthly menstrual cycle. The egg goes from the ovary to the uterus via the Fallopian tube.

Female hormones, which influence the development of female body traits such as breasts, body shape, and body hair, are produced mostly by the ovaries. Hormones are also involved in the regulation of the menstrual cycle and pregnancy. Estrogens also help to keep bones healthy. As a result, if a woman's ovaries do not generate enough oestrogen, she may develop osteoporosis (bone weakening) later in life.

At which age, women undergo menopause ?
Menopause can occur at any age, from the 30s to the mid-50s or beyond, despite the fact that the average age of menopause is 51. Smoking and being underweight lead to an earlier menopause, whereas being overweight leads to a later menopause. A woman's menopause usually occurs around the same time as her mother's.

What are the earlier causes of menopause?

Menopause can occur for a variety of reasons other than natural ones. These are some of them:

Premature menopause
It is a term that refers to the onset of menopause If you have ovarian failure before the age of 40, you may experience premature menopause. Smoking, radiation exposure, chemotherapy medicines, or surgery that reduces ovarian blood supply are all possible causes. Primary ovarian failure is another term for premature ovarian failure.

Surgical Removal of the ovaries
In premenopausal women, surgical menopause can occur after the removal of one or both ovaries, or radiation of the pelvis, including the ovaries. This causes an early menopause. These women frequently experience more severe menopausal symptoms than people who experience menopause naturally.

In an ovulating woman, surgical removal of the ovaries (oophorectomy) causes instantaneous menopause, often known as surgical menopause or induced menopause. There is no perimenopause in this scenario, and a woman will normally experience the signs and symptoms of menopause after surgery. Women commonly report that the abrupt beginning of menopausal symptoms leads in particularly severe symptoms in cases of surgical menopause, however this is not always the case.

The ovaries are frequently removed at the same time as the uterus (hysterectomy). The remaining ovary or ovaries are still capable of regular hormone production if a hysterectomy is performed without removing both ovaries in a woman who has not yet entered menopause. While a woman's uterus cannot be removed after a hysterectomy, the ovaries can continue to generate hormones until menopause occurs spontaneously. A woman may also suffer other menopause symptoms such as hot flashes and mood changes at this time. These symptoms would no longer be linked to the end of menstruation. Another risk is that premature ovarian failure will develop before menopause, maybe as soon as one to two years after the hysterectomy. If this occurs, a woman may or may not suffer menopause symptoms.

Perimenopause

Perimenopause is the period leading up to menopause when a woman's menstrual cycle may begin to vary, such as irregular periods or variations in flow. The length of a cycle might be short or long. Hot flushes and night sweats, aches and pains, weariness or irritability, as well as premenstrual symptoms like aching breasts, are all possible signs. Variations in the ovary's hormone production could be to blame for these variations. Menopausal symptoms might appear 5-10 years before the last menstrual period for certain women1. It is impossible to foresee when a woman's menopausal symptoms will begin or how long they will endure.

Possibility of getting pregnant during perimenopause.
Women's fertility falls naturally in their 40s, and the chance of becoming pregnant after the age of 50 is thought to be less than 1%, though they can ovulate twice in a cycle and as late as three months before their last menstruation. If a woman is experiencing menopause before the age of 50, it is recommended that she utilise contraception for two years following her last period, and for one year after the last period if she is 50 or older2. By the age of 51, women who use combined oral contraception (the Pill or a vaginal ring that contains oestrogen and a progestogen) should stop and switch to a non-hormonal or progestogen-only approach. The dangers of using ethinyl oestradiol-containing techniques rise with age, particularly if the woman is a smoker over 35.

Symptoms of Menopause

Symptoms of menopause

Menopause is linked to lower levels of reproductive hormones, particularly oestrogen, because it is caused by the depletion of ovarian follicles/oocytes and substantially diminished ovarian activity. Vasomotor instability (such as hot flushes and night sweats), psychological changes (such as mood swings, depression, and difficulty concentrating), insomnia, genital tract atrophy (such as vaginal dryness, painful intercourse, and urinary incontinence), and skin changes can all be symptoms of low oestrogen (such as thinning and decreased elasticity). Lower levels of androgen (male hormones) might lead to a lack of sex drive.

Irregular bleeding
As a woman approaches menopause, she may experience irregular bleeding. Some women experience minor anomalous bleeding in the months leading up to menopause, while others experience unpredictable, heavy bleeding. Menstrual periods (menses) can come more frequently (shortening the cycle) or they can come farther and more between (lengthening the cycle) before finally ending. During the perimenopause, there is no such thing as a "normal" pattern of bleeding, and it varies from woman to woman. It is typical for perimenopausal women to have a period following a period-less period of several months. There is also no predetermined period of time for a woman to go through menopause. A woman's cycles might be irregular for years before she reaches menopause. It's critical to note that all women experiencing irregular menses should see their doctor to ensure that the irregularities are due to perimenopause and not another medical ailment.

Because ovulation has become irregular, the monthly abnormalities that begin in the perimenopause are also linked to a decline in fertility. Women who are perimenopausal, on the other hand, may become pregnant until they reach real menopause (a year without periods) and should continue to use contraception if they do not want to become pregnant.

Hot Flashes or Hot Flushes
The most frequent symptom of menopause is hot flashes or flushes. A hot flash is a sensation of intense warmth that radiates throughout the body, with the head and chest being the most prominent. A hot flash might be accompanied by flushing and can be followed by sweating. Hot flashes can last anywhere between 30 seconds and several minutes. Although the specific aetiology of hot flashes is unknown, they are thought to be caused by a mixture of hormonal and metabolic oscillations brought on by low oestrogen levels.

Around 75% of all women experience these rapid, short, and recurring rises in body temperature. Hot flashes usually begin before a woman's last period. Hot flashes last two years or less for 80 percent of women. Hot flashes affect a small percentage of women for more than two years. These hot flashes appear to be linked to a drop in oestrogen levels. Each woman's hot flashes are different in terms of frequency and intensity.

A hot flash can induce an increase in a woman's heart rate in addition to an increase in skin temperature. As the body tries to cool down, it produces a lot of perspiration. Heart palpitations and dizziness may also accompany this symptom.

Night sweats are hot flashes that occur during night. A woman can wake up sweaty and need to change her night attire and linens.

There is no way to forecast when hot flashes may start and how long they will stay right now. Hot flashes affect up to 40% of women in their forties who are consistently menstruation, thus they may appear before the monthly irregularities that accompany menopause. After five years, almost 80% of women will no longer have hot flashes. Hot flashes can linger as long as ten years in roughly ten percent of women. There's no way to know when hot flashes will stop, though they do tend to get less frequent over time. They can also fluctuate in terms of severity. Hot flashes usually last about five years for the average lady.

Night Sweats
Hot flashes are sometimes accompanied with night sweats (episodes of copious sweats at night). This may cause you to wake up and have difficulties falling asleep again, resulting in a restless night's sleep and fatigue during the day.

Changes in Vagina
As oestrogen levels fall, the tissues lining the vagina become thinner, drier, and less elastic, resulting in vaginal discomfort. It can also cause vaginitis, cystitis, and urinary tract infections. Vaginal dryness, itching, discomfort, and/or pain with sexual intercourse are all possible symptoms (dyspareunia). The alterations in the vaginal environment also raise the risk of vaginal infections. This condition is called Vaginal Atrophy.

Changes in Urinary Tract
Similar to the tissues of the vagina, the lining of the urethra (the transport tube leading from the bladder to discharge urine outside the body) changes with diminishing oestrogen levels, becoming drier, thinner, and less elastic. This can result in a higher risk of urinary tract infection, a greater need to urinate, or urine leakage (urinary incontinence). Incontinence can occur as a result of a strong, sudden urge to urinate, or it might occur as a result of straining while coughing, laughing, or carrying heavy objects. The relaxation of the pelvic muscle could also be the reason for urinary incontinence. Raising the likelihood of the uterus, bladder, urethra, or rectum intruding into the vaginal canal.

Cardiac Effects
Menopause symptoms include disorientation, odd sensations such as numbness, prickling, tingling, and/or heightened sensitivity, cardiac palpitations, and a rapid heart-beat.

Other Changes
Many women experience weight gain as a result of menopause. Body fat distribution may shift, with more body fat stored in the waist and stomach area than in the hips and thighs. In those suffering from adult acne, changes in skin texture, including wrinkles, may appear alongside the worsening of the condition. Some women may notice hair growth on the chin, upper lip, chest, or abdomen as their bodies continue to manufacture small amounts of the male hormone testosterone.

Psychological Impact
Women in perimenopause often experience a variety of cognitive (thinking) and emotional symptoms, such as fatigue, memory loss, irritability, and mood swings. It's difficult to say which behavioural symptoms are directly related to menopause's hormonal changes. For a variety of reasons, research in this field has proven tough. Emotional and cognitive symptoms are so widespread that determining whether they are caused by menopause can be challenging. Night sweats, which are common during perimenopause, can cause sensations of exhaustion and exhaustion, which can affect mood and cognitive functioning. Finally, many women may be going through other life transitions, such as stressful life events, throughout perimenopause or following menopause, which can produce emotional symptoms.

>Another reason for psychological changes can be hormone fluctuation. Hormonal fluctuations and lack of sleep can cause mood swings, irritability, forgetfulness, and difficulty concentrating or making decisions. Low oestrogen levels are linked to reduced serotonin levels, a neurotransmitter that affects mood, emotions, and sleep. Although depression is not more common at menopause than at other times in life, a woman's past history of sadness, particularly post-natal depression, and stress during the perimenopause may make her more vulnerable to mood issues.

Diagnosis of Menopause

Diagnosis of Menopause

Although the diagnosis of menopause can be determined based on the patient's history, laboratory tests may be used to confirm the diagnosis. Menopause is marked by elevated follicle stimulating hormone (FSH) and reduced oestrogen (estradiol). The FSH and estradiol tests will be invalidated if you are taking hormonal medication, such as birth control tablets. Your doctor may evaluate your thyroid function, prolactin level, and potentially other tests based on your history and physical examination because certain medical disorders might cause a lack of menses.

It is also said that hormone levels are not a good approach for diagnosing menopause because they might fluctuate substantially in an individual woman, even from day to day. There is currently no demonstrated function for blood testing to diagnose menopause because there is no one blood test that reliably predicts when a woman is going through the menopausal transition. The absence of monthly cycles for 12 months in a woman of the predicted age range is the only way to diagnose menopause.

Home Remedies for menopause

Treatment for Menopause

Soy (plant based estrogen)
Isoflavones are phytoestrogens, or estrogens originating from plants, that are present in soy and other plants. Many women believe that plant estrogens are "natural" and thus safer than hormone therapy, however medical studies have yet to confirm this. Phytoestrogens have not been demonstrated to help control hot flashes in most scientific trials. Furthermore, some phytoestrogens are suspected of acting like oestrogen in some human tissues. As a result, many doctors advise women with a history of breast cancer to avoid phytoestrogens.

Vitamin E is a powerful antioxidant.
Although some women claim that taking vitamin E supplements can help with minor hot flashes, scientific evidence supporting vitamin E's effectiveness in alleviating menopause symptoms is inadequate. Taking a dose of vitamin E higher than 400 international units (IU) may not be safe, as some studies have linked higher doses to an increased risk of cardiovascular disease.

For mood change
Relaxation and stress-reduction techniques, such as deep breathing exercises and massage, as well as a healthy lifestyle (excellent nutrition and regular exercise) and fun, self-nurturing activities, may all be beneficial. Some women utilise over-the-counter medications like vitamin B6 to manage their menopause symptoms.

For urinary incontinence
To maintain urine diluted (clear and pale yellow), drink plenty of water and avoid meals or beverages strong in acid or caffeine, which can irritate the bladder lining. Grapefruit, oranges, tomatoes, coffee, and caffeine-containing soft beverages are among them. To strengthen your pelvic floor muscles and reduce incontinence episodes, consider Kegel exercises.

Other medical issues that women can suffer because of menopause.

Osteoporosis is a disease that affects the bones
Osteoporosis is a condition in which the quantity and quality of bone deteriorates, increasing the risk of fracture. During the fourth decade of life, the density of the bones (bone mineral density) begins to decline in women. During the menopausal transition, however, the usual reduction in bone density is accelerated. As a result, osteoporosis is caused by a combination of age and hormonal changes brought on by the menopause transition. There are already accessible medications to treat osteoporosis that are less risky than hormone therapy. As a result, hormone therapy is not indicated for osteoporosis prevention or Treatment for Menopause.

Cardiovascular disease (CVD)
When compared to men, women have a lower risk of heart disease and stroke before menopause. However, a woman's risk of cardiovascular disease rises around the time of menopause. In the United States, heart disease is the top cause of death for both men and women.

Coronary heart disease rates are two to three times greater in postmenopausal women than in women of the same age who have not yet achieved menopause. Although dropping oestrogen levels may be linked to an increased risk of cardiovascular disease, medical practitioners do not advise postmenopausal women to undergo hormone therapy only as a preventive treatment to reduce their risk of heart disease.

Conclusion

Menopause, a key reproductive event and significant turning point in a woman's sexual life, occurs between the ages of 48 and 52 on average. Menopause is a physiological process that occurs as the ovaries age, resulting in the termination of ovulation and oestrogen production. Menopause is a natural process that takes several years to complete. Estrogen levels drop during perimenopause, and menstruation becomes erratic and eventually stops. At the age of 50.4 years, women reach postmenopause, which is defined as a period of 12 months without menstruation.
Vasomotor (e.g., hot flushes, night sweats), psychosomatic (e.g., headaches, dizziness), and psychological symptoms are the three types of menopausal symptoms (e.g., tiredness, irritability). Hot flushes and night sweats are the most prevalent symptoms described across most cultures, and they are definitely the result of changes in hormone levels.Infertility is a direct result of menopause, and it can have a significant impact on women's emotional well-being. Hormone changes might last for several years before and beyond menopause. Hormone imbalances and the loss of fecundity can cause physical, psychological, and emotional changes.
Hormone replacement therapy improves hot flushes and night sweats in middle-aged women but has little effect on their psychological well-being. The strongest indicators of psychological well-being during menopause include stress, life events, a history of depression, and expectancies. Women in their forties and fifties are frequently confronted with important life events.

Related topics:

1.What is self-care & importance of self-care

Self-care means doing activities that makes us feel good and releases stress. Along with other day to day activites, self-care is also important for the body as well as the soul. To know more visit: What is self-care & importance of self-care

2. Yoga for self-care

Yoga is one of the most essential componet of self-care. It makes you feel good about yourself and has a positive impact on your physical as well as mental health. To know more visit: Yoga for self-care

3. Benefits of self-care

There are several benefits of self care such as improved productivity, improved immune system, enhanced self-knowledge and self- compassion.The main benefit is that it brings happiness to your life. To know more visit: Benefits of self-care

4. How to start a self-care routine

As many people face difficulty in starting a self-care routine, it is better to start including small self-care practices such as meditaion, yoga or excercise in your daily routine. To know more visit: How to start a self-care routine

5. How to manage stress

Self-care is an important tool that helps us to feel healthy and happy and reduces stress even in the most stressful conditions. Self-care relaxes out body and soul as it reduces the negative feelings and anxeity.To know more visit: How to manage stress




The above essentials are available with Neugracia.
All women go through menopause in their lives, it’s time to speak, unite and create awareness, ensuring they know that they aren't in it alone. Share your menopause story and give other women courage that their life will also not pause ever. Nutralogicx: Neugracia

महिलाओं में रजोनिवृत्ति की समस्या

रजोनिवृत्ति

अवलोकन

रजोनिवृत्ति को वृद्धावस्था के कारण अंडाशय ओसाइट्स की प्राकृतिक कमी के परिणामस्वरूप मासिक धर्म चक्र की स्थायी समाप्ति के रूप में वर्णित किया गया है। यह अवधि, जिसे अक्सर जीवन के परिवर्तन के रूप में जाना जाता है, एक महिला की बच्चों की क्षमता के अंत को चिह्नित करता है। रजोनिवृत्ति कई स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा उस क्षण का वर्णन करने के लिए उपयोग किया जाने वाला शब्द है जब एक महिला के हार्मोन का स्तर बदलना शुरू हो जाता है। रजोनिवृत्ति एक क्रमिक प्रक्रिया है, कुछ ऐसा नहीं है जो एक बार में होता है। तथाकथित पेरिमेनोपॉज़ल संक्रमण काल का प्रत्येक महिला का अनुभव अद्वितीय है। एक महिला मासिक धर्म के बिना 12 महीने चले जाने के बाद, निदान आमतौर पर भूतलक्षी प्रभाव से स्थापित किया जाता है। रजोनिवृत्ति तब होती है जब एक महिला की प्रजनन क्षमता स्थायी रूप से खो जातीहै। रजोनिवृत्ति 51 साल की औसत उम्र में होती है; हालांकि, यह 30 के दशक के रूप में जल्दी या 60 के दशक के रूप में देर हो सकती है । कोई विश्वसनीय प्रयोगशाला परीक्षण नहीं है जो यह निर्धारित कर सकता है कि एक महिला रजोनिवृत्ति के माध्यम से कब जाएगी। जिस उम्र में एक महिला को मासिक धर्म चक्र शुरू होता है, उसका उस उम्र से कोई लेना-देना नहीं होता, जिस उम्र में वह रजोनिवृत्ति में प्रवेश करती है।

रजोनिवृत्ति को समझना

रजोनिवृत्ति को समझना

रजोनिवृत्ति 12 महीने की अवधि के लिए मासिक धर्म चक्र का अभाव है। रजोनिवृत्ति संक्रमण अनियमित मासिक धर्म चक्र के साथ शुरू होता है और अंतिम मासिक धर्म के साथ समाप्त होता है। पेरिमेनोपॉज एक शब्द है जो रजोनिवृत्ति से पहले की अवधि को संदर्भित करता है। यह एक शब्द है जिसका उपयोग अक्सर रजोनिवृत्ति संक्रमण अवधि का वर्णन करने के लिए किया जाता है। यह एक चिकित्सा वाक्यांश नहीं है, लेकिन कभी-कभी इसका उपयोग रजोनिवृत्ति संक्रमण की विभिन्न विशेषताओं को आम आदमी के संदर्भ में समझाने के लिए किया जाता है। रजोनिवृत्ति से पहले इस संक्रमण काल के दौरान एक महिला के अंडाशय में परिपक्व अंडों की आपूर्ति कम हो जाती है, और अंडाशय अनियमित हो जाता है। साथ ही एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन उत्पादन घटता है। रजोनिवृत्ति के अधिकांश लक्षण एस्ट्रोजन के स्तर में उल्लेखनीय गिरावट के कारण होते हैं। "पोस्टमेनोपॉज़ल" शब्द का उपयोग रजोनिवृत्ति के बाद की अवधि का वर्णन करने के लिए विशेषण के रूप में किया जाता है। उदाहरण के लिए, डॉक्टर एक विकार का उल्लेख कर सकते हैं जो "पोस्टमेनोपॉज़ल महिलाओं" को प्रभावित करता है। यह एक शब्द है जो रजोनिवृत्ति में प्रवेश करने वाली महिलाओं का वर्णन करने के लिए उपयोग किया जाता है।

क्योंकि यह एक महिला के प्रजनन जीवन के अंत का प्रतीक है, रजोनिवृत्ति भी "जीवन के परिवर्तन के रूप में जाना जाता है." ओव्यूलेशन रुक जाता है और मेनोपॉज के बाद एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन का उत्पादन बंद हो जाता है। अंतिम या अंतिम मासिक धर्म एक महिला को "रजोनिवृत्ति" के रूप में जाना जाता है। एक औरत समझा जाता है "पोस्टमेनोपॉज़ल" अगर वह एक पंक्ति में 12 महीने के लिए एक अवधि नहीं था ।

अधिकांश महिलाएं 45 और 55 की उम्र के बीच अनायास रजोनिवृत्ति तक पहुंचती हैं, औसत शुरुआत उम्र 50 के आसपास है। समय से पहले रजोनिवृत्ति, जिसे समय से पहले अंडाशय अपर्याप्तता के रूप में भी जाना जाता है, प्राकृतिक अंडाशय समारोह विराम, अंडाशय हटाने की सर्जरी, या कैंसर उपचार के परिणामस्वरूप 40 की उम्र से पहले हो सकता है। जब रजोनिवृत्ति 40 और 45 की उम्र के बीच होती है, तो इसे "प्रारंभिक रजोनिवृत्ति" कहा जाता है।

रजोनिवृत्ति में शारीरिक कार्यात्मक परिवर्तन

रजोनिवृत्ति में शारीरिक कार्यात्मक परिवर्तन

रजोनिवृत्ति एक महिला के जीवन में वह अवधि होती है जब उसके अंडाशय काम करना बंद कर देते हैं। नतीजतन, वह अब गर्भ धारण करने में सक्षम नहीं है। महिलाओं में, अंडाशय (मादा गोनाड) दो प्रजनन ग्रंथियों में से एक है। गर्भाशय के प्रत्येक पक्ष पर एक, वे श्रोणि में स्थित हैं। प्रत्येक अंडाशय एक बादाम के आकार के बारे में है और एक समान आकार है। अंडाशय अंडे (ओवा) और एस्ट्रोजन जैसे महिला हार्मोन के उत्पादन के लिए जिम्मेदार हैं। प्रत्येक मासिक मासिक चक्र के दौरान प्रत्येक अंडाशय से एक अंडा दिया जाता है। अंडा अंडाशय से फैलोपियन ट्यूब के जरिए गर्भाशय तक जाता है।

महिला हार्मोन, जो महिला शरीर के लक्षण जैसे स्तनों, शरीर के आकार और शरीर के बालों के विकास को प्रभावित करते हैं, ज्यादातर अंडाशय द्वारा उत्पादित होते हैं। हार्मोन भी मासिक धर्म चक्र और गर्भावस्था के नियमन में शामिल हैं। एस्ट्रोजेन हड्डियों को स्वस्थ रखने में भी मदद करते हैं। नतीजतन, यदि किसी महिला के अंडाशय पर्याप्त एस्ट्रोजन उत्पन्न नहीं करते हैं, तो वह जीवन में बाद में ऑस्टियोपोरोसिस (हड्डी कमजोर) विकसित कर सकती है।

किस उम्र में महिलाएं रजोनिवृत्ति से गुजरती हैं?
रजोनिवृत्ति 30 के दशक से 50 के दशक या उससे आगे तक किसी भी उम्र में हो सकती है, इस तथ्य के बावजूद कि रजोनिवृत्ति की औसत आयु 51 है। धूम्रपान और कम वजन होने से पहले रजोनिवृत्ति होती है, जबकि अधिक वजन होने के कारण बाद में रजोनिवृत्ति होती है। एक महिला का रजोनिवृत्ति आमतौर पर उसकी मां के समान समय के आसपास होती है।

रजोनिवृत्ति के पहले के कारण क्या हैं?

रजोनिवृत्ति प्राकृतिक लोगों के अलावा अन्य कारणों से हो सकती है। ये उनमें से कुछ हैं:

समय से पहले रजोनिवृत्ति
यह एक ऐसा शब्द है जो रजोनिवृत्ति की शुरुआत को संदर्भित करता है यदि आपको 40 की उम्र से पहले अंडाशय विफलता है, तो आप समय से पहले रजोनिवृत्ति का अनुभव कर सकते हैं। धूम्रपान, विकिरण जोखिम, कीमोथेरेपी दवाओं, या सर्जरी है कि अंडाशय रक्त की आपूर्ति को कम कर देता है सभी संभव कारण हैं । प्राथमिक अंडाशय विफलता समय से पहले अंडाशय विफलता के लिए एक और शब्द है।

अंडाशय की सर्जिकल हटाने
प्रीमेनोपॉज़ल महिलाओं में, सर्जिकल रजोनिवृत्ति अंडाशय सहित एक या दोनों अंडाशय, या श्रोणि के विकिरण को हटाने के बाद हो सकती है। इससे जल्दी मेनोपॉज होता है। ये महिलाएं अक्सर रजोनिवृत्ति का अनुभव करने वाले लोगों की तुलना में अधिक गंभीर रजोनिवृत्ति के लक्षणों का अनुभव करती हैं।

एक अंडाशय महिला में, अंडाशय (ओफोरेक्टॉमी) को हटाने से तात्कालिक रजोनिवृत्ति होती है, जिसे अक्सर सर्जिकल रजोनिवृत्ति या प्रेरित रजोनिवृत्ति के रूप में जाना जाता है। इस परिदृश्य में कोई पेरिमेनोपॉज नहीं है, और एक महिला सामान्य रूप से सर्जरी के बाद रजोनिवृत्ति के लक्षणों और लक्षणों का अनुभव करेगी। महिलाएं आमतौर पर रिपोर्ट करती हैं कि रजोनिवृत्ति के लक्षणों की अचानक शुरुआत सर्जिकल रजोनिवृत्ति के मामलों में विशेष रूप से गंभीर लक्षणों में होती है, हालांकि यह हमेशा मामला नहीं होता है।

अंडाशय को अक्सर गर्भाशय (हिस्टेरेक्टॉमी) के रूप में एक ही समय में हटा दिया जाता है। शेष अंडाशय या अंडाशय अभी भी नियमित हार्मोन उत्पादन में सक्षम हैं यदि एक हिस्टेरेक्टॉमी एक महिला में दोनों अंडाशय को हटाने के बिना किया जाता है जिसने अभी तक रजोनिवृत्ति में प्रवेश नहीं किया है। जबकि हिस्टेरेक्टॉमी के बाद एक महिला के गर्भाशय को हटाया नहीं जा सकता है, अंडाशय हार्मोन उत्पन्न करना जारी रख सकता है जब तक कि रजोनिवृत्ति अनायास नहीं होती है। एक महिला को इस समय अन्य रजोनिवृत्ति के लक्षण जैसे गर्म चमक और मूड में परिवर्तन भी हो सकता है। इन लक्षणों को अब मासिक धर्म के अंत से नहीं जोड़ा जाएगा। एक और जोखिम यह है कि रजोनिवृत्ति से पहले समय से पहले अंडाशय की विफलता विकसित होगी, हो सकता है जैसे ही हिस्टेरेक्टॉमी के बाद एक से दो साल बाद। यदि ऐसा होता है, तो एक महिला रजोनिवृत्ति के लक्षणों को पीड़ित कर सकती है या नहीं हो सकती है।

पेरिमेनोपॉज

पेरिमेनोपॉज रजोनिवृत्ति तक की अवधि होती है जब एक महिला का मासिक धर्म चक्र भिन्न होना शुरू हो सकता है, जैसे अनियमित अवधि या प्रवाह में भिन्नता। एक चक्र की लंबाई छोटी या लंबी हो सकती है। गर्म फ्लश और रात में पसीना, दर्द और दर्द, थकावट या चिड़चिड़ापन, साथ ही स्तनों में दर्द जैसे मासिक धर्म के लक्षण, सभी संभव संकेत हैं। अंडाशय के हार्मोन उत्पादन में भिन्नता इन विविधताओं के लिए जिम्मेदार हो सकती है। रजोनिवृत्ति के लक्षण कुछ महिलाओं के लिए अंतिम मासिक धर्म से 5-10 साल पहले दिखाई दे सकते हैं 1। यह अनुमान लगाना असंभव है कि जब एक महिला के रजोनिवृत्ति के लक्षण शुरू हो जाएंगे या वे कितनी देर तक सहना होगा।

पेरिमेनोपॉज के दौरान गर्भवती होने की संभावना।
महिलाओं की प्रजनन क्षमता उनके 40 के दशक में स्वाभाविक रूप से गिर जाता है, और ५० की उम्र के बाद गर्भवती बनने का मौका 1% से कम माना जाता है, हालांकि वे एक चक्र में दो बार और अपने पिछले मासिक धर्म से पहले तीन महीने के रूप में देर से अंडाशय कर सकते हैं । यदि कोई महिला 50 की उम्र से पहले रजोनिवृत्ति का अनुभव कर रही है, तो यह सिफारिश की जाती है कि वह अपनी अंतिम अवधि के बाद दो साल के लिए गर्भनिरोधक का उपयोग करती है, और अंतिम अवधि के बाद एक वर्ष के लिए यदि वह 50 या पुराना है। 51 की उम्र तक, जो महिलाएं संयुक्त मौखिक गर्भनिरोधक (गोली या योनि की अंगूठी जिसमें एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टोजेन होता है) का उपयोग करते हैं, उन्हें गैर-हार्मोनल या प्रोजेस्टोजेन-केवल दृष्टिकोण पर रोक लगानी चाहिए और स्विच करना चाहिए। एथिनिल ऑस्ट्रडायोल युक्त तकनीकों का उपयोग करने के खतरे उम्र के साथ बढ़ते हैं, खासकर यदि महिला 35 से अधिक धूम्रपान करने वाली है।

रजोनिवृत्ति के लक्षण

रजोनिवृत्ति के लक्षण

रजोनिवृत्ति प्रजनन हार्मोन, विशेष रूप से एस्ट्रोजन के निचले स्तर से जुड़ा हुआ है, क्योंकि यह अंडाशय के रोम/ओसाइट्स की कमी और काफी कम अंडाशय गतिविधि के कारण होता है । वासोमोटर अस्थिरता (जैसे गर्म फ्लश और रात के पसीने), मनोवैज्ञानिक परिवर्तन (जैसे मूड स्विंग, अवसाद, और ध्यान केंद्रित करने में कठिनाई), अनिद्रा, जननांग पथ शोष (जैसे योनि सूखापन, दर्दनाक संभोग, और मूत्र असंयम), और त्वचा परिवर्तन सभी कम एस्ट्रोजन (जैसे पतले और कम लोच) के लक्षण हो सकते हैं। एंड्रोजन (पुरुष हार्मोन) के निचले स्तर सेक्स ड्राइव की कमी के लिए नेतृत्व कर सकते हैं ।

अनियमित रक्तस्राव
जैसा कि एक महिला रजोनिवृत्ति के पास जाती है, उसे अनियमित रक्तस्राव का अनुभव हो सकता है। कुछ महिलाओं को रजोनिवृत्ति तक जाने वाले महीनों में मामूली असंगत रक्तस्राव का अनुभव होता है, जबकि अन्य अप्रत्याशित, भारी रक्तस्राव का अनुभव करते हैं। मासिक धर्म (menses) अधिक बार आ सकते हैं (चक्र छोटा) या वे आगे और अधिक के बीच आ सकते है (चक्र लंबा) अंत में समाप्त होने से पहले । पेरिमेनोपॉज के दौरान, रक्तस्राव के "सामान्य" पैटर्न जैसी कोई चीज नहीं है, और यह महिला से महिला में भिन्न होती है। पेरिमेनोपॉज़ल महिलाओं के लिए कई महीनों की कम अवधि-अवधि के बाद एक अवधि के लिए विशिष्टहै। रजोनिवृत्ति के माध्यम से जाने के लिए एक महिला के लिए समय की कोई पूर्व निर्धारित अवधि भी नहीं है। रजोनिवृत्ति तक पहुंचने से पहले एक महिला के चक्र वर्षों तक अनियमित हो सकते हैं। यह ध्यान दें कि सभी अनियमित menses का सामना महिलाओं को अपने डॉक्टर को देखने के लिए सुनिश्चित करें कि अनियमितताओं perimenopause और नहीं एक और चिकित्सा बीमारी के कारण हो महत्वपूर्ण है ।
क्योंकि ओव्यूलेशन अनियमित हो गया है, इसलिए पेरिमेनोपॉज में शुरू होने वाली मासिक असामान्यताएं भी प्रजनन क्षमता में गिरावट से जुड़ी हुई हैं। दूसरी ओर, जो महिलाएं पेरिमेनोपॉज़ल हैं, वे तब तक गर्भवती हो सकती हैं जब तक कि वे वास्तविक रजोनिवृत्ति (बिना पीरियड्स के एक साल) तक नहीं पहुंच जाती हैं और यदि वे गर्भवती नहीं बनना चाहती हैं तो गर्भनिरोधक का उपयोग जारी रखना चाहिए।

हॉट फ्लैश या हॉट फ्लश
रजोनिवृत्ति का सबसे लगातार लक्षण गर्म चमक या फ्लश है। एक गर्म फ्लैश तीव्र गर्मी की सनसनी है जो पूरे शरीर में विकीर्ण होती है, जिसमें सिर और छाती सबसे प्रमुख होती है। एक गर्म फ्लैश फ्लशिंग के साथ हो सकता है और पसीना आने के बाद किया जा सकता है। गर्म चमक 30 सेकंड और कई मिनट के बीच कहीं भी पिछले कर सकते हैं । हालांकि गर्म चमक के विशिष्ट एटियोलॉजी अज्ञात है, वे हार्मोनल और मेटाबोलिक दोलनों के मिश्रण के कारण माना जाता है कम एस्ट्रोजन के स्तर से पर लाया ।

सभी महिलाओं के लगभग 75% शरीर के तापमान में इन तेजी से, छोटे और आवर्ती वृद्धि का अनुभव करते हैं। गर्म चमक आमतौर पर एक महिला की अंतिम अवधि से पहले शुरू करते हैं। गर्म चमक पिछले दो साल या उससे कम महिलाओं के ८० प्रतिशत के लिए । गर्म चमक दो साल से अधिक के लिए महिलाओं के एक छोटे प्रतिशत को प्रभावित करते हैं । ये गर्म चमक एस्ट्रोजन के स्तर में एक बूंद से जुड़ा हुआ दिखाई देते हैं । आवृत्ति और तीव्रता के मामले में प्रत्येक महिला की गर्म चमक अलग होती है।

एक गर्म फ्लैश त्वचा के तापमान में वृद्धि के अलावा एक महिला की हृदय गति में वृद्धि को प्रेरित कर सकता है। जैसे ही शरीर ठंडा होने की कोशिश करता है, यह बहुत पसीना पैदा करता है। दिल की धड़कन और चक्कर आना भी इस लक्षण के साथ हो सकता है।

रात के पसीने गर्म चमक रहे हैं कि रात के दौरान होते हैं। एक औरत पसीने से तर जाग सकते है और उसकी रात पोशाक और लिनन बदलने की जरूरत है ।

वहां कोई रास्ता नहीं पूर्वानुमान जब गर्म चमक शुरू हो सकता है और कितनी देर तक वे अभी रहना होगा । गर्म चमक अपने चालीसवें दशक में 40% तक प्रभावित होती है जो लगातार मासिक धर्म है, इस प्रकार वे रजोनिवृत्ति के साथ मासिक अनियमितताओं से पहले प्रकट हो सकती हैं। पांच साल के बाद, लगभग ८०% महिलाओं को अब गर्म चमक नहीं होगी । गर्म चमक महिलाओं के लगभग दस प्रतिशत में दस साल के रूप में लंबे समय के रूप में ताजा कर सकते हैं । वहां कोई रास्ता नहीं पता है जब गर्म चमक बंद हो जाएगा, हालांकि वे समय के साथ कम अक्सर मिलता है । गंभीरता के मामले में भी उनमें उतार-चढ़ाव आ सकते हैं। गर्म चमक आमतौर पर औसत महिला के लिए के बारे में पांच साल पिछले ।

रात पसीना
गर्म चमक कभी कभी रात पसीने (रात में प्रचुर पसीने के एपिसोड) के साथ कर रहे हैं। इससे आप जाग सकते हैं और फिर से सो जाने में दिक्कतें आ सकती हैं, जिसके परिणामस्वरूप दिन में बेचैनी भरी रात की नींद और थकान हो सकती है।

योनि में परिवर्तन
एस्ट्रोजन का स्तर गिरने के साथ ही योनि की परत वाले ऊतक पतले, शुष्कक और कम लोचदार हो जाते हैं, जिसके परिणामस्वरूप योनि में असुविधा होती है। यह वैजिनाइटिस, सिस्टिटिस और मूत्र पथ संक्रमण का कारण भी बन सकता है। संभोग के साथ योनि सूखापन, खुजली, असुविधा और/या दर्द सभी संभावित लक्षण (डिस्परयूनिया) हैं। योनि वातावरण में परिवर्तन भी योनि संक्रमण का खतरा बढ़ा। इस स्थिति को योनि अट्रोफाइ कहा जाता है।

मूत्र पथ में परिवर्तन
योनि के ऊतकों के समान, मूत्रमार्ग की परत (मूत्राशय से शरीर के बाहर मूत्र का निर्वहन करने के लिए अग्रणी परिवहन ट्यूब) एस्ट्रोजन के स्तर को कम करने, शुष्कक, पतले और कम लोचदार बनने के साथ बदलता है। इसके परिणामस्वरूप मूत्र पथ संक्रमण का खतरा अधिक हो सकता है, पेशाब करने की अधिक आवश्यकता होती है, या मूत्र रिसाव (मूत्र असंयम)। असंयम पेशाब करने के लिए एक मजबूत, अचानक आग्रह करता हूं, या यह खांसी, हंसते समय, या भारी वस्तुओं को ले जाने के परिणामस्वरूप हो सकता है। पेल्विक पेशी में ढील भी मूत्र असंयम का कारण हो सकता है। आर गर्भाशय, मूत्राशय, मूत्रमार्ग, या मलाशय योनि नहर में घुसपैठ की संभावना को दूर करने के लिए।

कार्डियक इफेक्ट
रजोनिवृत्ति के लक्षणों में भटकाव, सुन्न होना, चुभन, झुनझुनी, और/या बढ़ रही संवेदनशीलता, हृदय की धड़कन, और एक तेजी से दिलकीधड़कन जैसी अजीब संवेदनाएं शामिल हैं।

अन्य परिवर्तन
कई महिलाओं को रजोनिवृत्ति के परिणामस्वरूप वजन बढ़ने का अनुभव होता है। शरीर में वसा वितरण बदलाव हो सकता है, कूल्हों और जांघों की तुलना में कमर और पेट के क्षेत्र में संग्रहीत अधिक शरीर की वसा के साथ। वयस्क मुँहासे से पीड़ित लोगों में, झुर्रियों सहित त्वचा की बनावट में परिवर्तन, स्थिति के बिगड़ने के साथ दिखाई दे सकते हैं। कुछ महिलाओं को ठोड़ी, ऊपरी होंठ, छाती, या पेट पर बालों के विकास की सूचना के रूप में उनके शरीर को पुरुष हार्मोन टेस्टोस्टेरोन की छोटी मात्रा का निर्माण जारी रख सकते हैं ।

मनोवैज्ञानिक प्रभाव
पेरिमेनोपॉज में महिलाएं अक्सर विभिन्न प्रकार के संज्ञानात्मक (सोच) और भावनात्मक लक्षणों का अनुभव करती हैं, जैसे थकान, याददाश्त में कमी, चिड़चिड़ापन और मूड स्विंग। यह कहना मुश्किल है कि कौन से व्यवहार लक्षण सीधे रजोनिवृत्ति के हार्मोनल परिवर्तनों से संबंधित हैं। कारणों की एक किस्म के लिए, इस क्षेत्र में अनुसंधान कठिन साबित हो गया है । भावनात्मक और संज्ञानात्मक लक्षण इतने व्यापक हैं कि यह निर्धारित करना कि क्या वे रजोनिवृत्ति के कारण होते हैं, चुनौतीपूर्ण हो सकते हैं। रात के पसीने, जो पेरिमेनोपॉज के दौरान आम हैं, थकावट और थकावट की उत्तेजना पैदा कर सकते हैं, जो मूड और संज्ञानात्मक कामकाज को प्रभावित कर सकते हैं। अंत में, कई महिलाएं अन्य जीवन संक्रमणों के माध्यम से जा रही हैं, जैसे तनावपूर्ण जीवन की घटनाएं, पूरे पेरिमेनोपॉज में या रजोनिवृत्ति के बाद, जो भावनात्मक लक्षण पैदा कर सकती हैं।

मनोवैज्ञानिक बदलावों का एक और कारण हार्मोन में उतार-चढ़ाव हो सकता है। हार्मोनल उतार-चढ़ाव और नींद की कमी के कारण मूड स्विंग, चिड़चिड़ापन, भुलक्कड़पन और ध्यान केंद्रित करने या निर्णय लेने में कठिनाई हो सकती है। कम एस्ट्रोजन का स्तर कम सेरोटोनिन के स्तर से जुड़ा हुआ है, एक न्यूरोट्रांसमीटर जो मूड, भावनाओं और नींद को प्रभावित करता है। हालांकि अवसाद जीवन में अन्य समय की तुलना में रजोनिवृत्ति में अधिक आम नहीं है, एक औरत उदासी के पिछले इतिहास, विशेष रूप से प्रसव के बाद अवसाद, और perimenopause के दौरान तनाव उसे और अधिक मूड मुद्दों के लिए असुरक्षित बना सकते हैं ।

रजोनिवृत्ति का निदान

रजोनिवृत्ति का निदान

हालांकि रजोनिवृत्ति का निदान रोगी के इतिहास के आधार पर निर्धारित किया जा सकता है, प्रयोगशाला परीक्षणों का उपयोग निदान की पुष्टि करने के लिए किया जा सकता है। रजोनिवृत्ति को ऊंचा कूप उत्तेजक हार्मोन (एफएसएच) और कम एस्ट्रोजन (एस्ट्रोडियोल) द्वारा चिह्नित किया जाता है। अगर आप हार्मोनल दवा ले रहे हैं, जैसे बर्थ कंट्रोल टैबलेट एफएसएच और एस्ट्राडिओल टेस्ट अमान्य हो जाएंगे । आपका डॉक्टर आपके थायराइड फ़ंक्शन, प्रोलैक्टिन स्तर और संभावित रूप से अन्य परीक्षणों का मूल्यांकन आपके इतिहास और शारीरिक परीक्षा के आधार पर कर सकता है क्योंकि कुछ चिकित्सा विकारों के कारण मेन्स की कमी हो सकती है।

यह भी कहा जाता है कि हार्मोन का स्तर रजोनिवृत्ति के निदान के लिए एक अच्छा दृष्टिकोण नहीं है क्योंकि वे एक व्यक्ति महिला में काफी उतार चढ़ाव हो सकता है, यहां तक कि दिन से दिन के लिए । वर्तमान में रजोनिवृत्ति का निदान करने के लिए रक्त परीक्षण के लिए कोई प्रदर्शन समारोह नहीं है क्योंकि कोई भी रक्त परीक्षण नहीं है जो मज़बूती से भविष्यवाणी करता है जब एक महिला रजोनिवृत्ति संक्रमण से गुजर रही है। भविष्यवाणी की आयु सीमा की एक महिला में 12 महीने के लिए मासिक चक्र की अनुपस्थिति रजोनिवृत्ति का निदान करने के लिए एक ही तरीका है।

रजोनिवृत्ति के लिए उपचार

मेनोपॉज जीवन का एक प्राकृतिक चरण है, बीमारी नहीं है जिसका इलाज करने की जरूरत है। दूसरी ओर, संबद्ध लक्षणों का इलाज किया जा सकता है यदि वे महत्वपूर्ण या गंभीर हो जाते हैं।

हार्मोन थेरेपी
एस्ट्रोजेन या एस्ट्रोजेन और प्रोजेस्टेरोन के मिश्रण का उपयोग हार्मोन थेरेपी (एचटी) या रजोनिवृत्ति हार्मोन थेरेपी (एमएचटी) (प्रोजेस्टिन) में किया जाता है। पहले, यह हार्मोन रिप्लेसमेंट उपचार (एचआरटी) के रूप में जाना जाता था । हार्मोन उपचार (एचटी) अभी भी रजोनिवृत्ति के लक्षणों को संबोधित करने के लिए सबसे प्रभावी उपचार है जो कम एस्ट्रोजन के स्तर (जैसे गर्म चमक और योनि सूखापन) के कारण होते हैं। दोनों एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन (NIH प्रायोजित महिला स्वास्थ्य पहल, या WHI) के साथ संयुक्त हार्मोन थेरेपी प्राप्त महिलाओं के दीर्घकालिक अध्ययन रोक दिया गया था जब यह पता चला कि इन महिलाओं को दिल का दौरा पड़ने का खतरा बढ़ गया था, स्ट्रोक, और स्तन कैंसर जब महिलाओं को जो संयुक्त हार्मोन थेरेपी प्राप्त नहीं की तुलना में । ये खतरे ६० से अधिक महिलाओं में सबसे बड़े थे जो हार्मोन थेरेपी पर थे । बाद में उन महिलाओं की जांच में पाया गया कि एस्ट्रोजन स्ट्रोक के बढ़ते जोखिम से जुड़ा हुआ था, लेकिन दिल का दौरा पड़ने या स्तन कैंसर का नहीं । हालांकि, अकेले एस्ट्रोजन थेरेपी पोस्टमेनोपॉज़ल महिलाओं के बीच एंडोमेट्रियल कैंसर (गर्भाशय अस्तर के कैंसर) के उच्च जोखिम से जुड़ी हुई है, जिन्होंने अपने गर्भाशय को शल्य चिकित्सा से नहीं हटाया है।

हार्मोन थेरेपी मौखिक रूप से लिया जा सकता है (एक गोली के रूप में) या ट्रांसडरमली (एक क्रीम के रूप में) (उदाहरण के लिए, पैच और स्प्रे जैसे विवेल, क्लाइमा, एस्ट्रेडरम, एस्क्लिम, अलोरा)। ट्रांसडरमल हार्मोन उत्पाद पहले से ही सक्रिय हैं, इस प्रकार उन्हें सक्रिय होने के लिए यकृत में "पहले पास" प्रसंस्करण के माध्यम से जाने की आवश्यकता नहीं है। ट्रांसडरमल हार्मोन की तैयारी ज्यादातर महिलाओं के लिए प्रशासन का पसंदीदा तरीका बन गया है क्योंकि उनका लिवर पर कोई असर नहीं पड़ता है।

पेरिमेनोपॉज़ल महिलाओं के लिए तथाकथित "बायोसमान" हार्मोन थेरेपी का उपयोग हाल के वर्षों में रुचि खफा है । हार्मोन स्वाभाविक रूप से होने वाले संयंत्र घटकों से लिया अणुओं को संशोधित करके प्रयोगशाला में किए जाते हैं। कंपाउंडिंग फार्मेसियां प्रत्येक रोगी के लिए केस-बाय-केस आधार पर इनमें से कुछ तथाकथित बायोसिडेंटिकल हार्मोन की तैयारी बनाती हैं। क्योंकि जटिल वस्तुओं मानकीकृत नहीं कर रहे हैं, एफडीए व्यक्तिगत एफडीए यौगिक तैयारी को विनियमित नहीं करता है । बायोसिडेंटिकल हार्मोन थेरेपी क्रीम और जैल बायोसिडेंटिकल हार्मोन थेरेपी के सबसे आम रूप हैं। इन दवाओं की दीर्घकालिक सुरक्षा और प्रभावशीलता निर्धारित करने के लिए कोई अध्ययन नहीं किया गया है, और विशेषज्ञ पैनल वर्तमान में कस्टम-जटिल हार्मोन थेरेपी के उपयोग का समर्थन नहीं करते हैं।

अंत में, हार्मोन थेरेपी का उपयोग करने का निर्णय एक बहुत ही व्यक्तिगत है, जिसमें रोगी और डॉक्टर को उपचार के अंतर्निहित खतरों और फायदों के साथ-साथ प्रत्येक महिला के विशिष्ट चिकित्सा इतिहास पर विचार करने की आवश्यकता होती है। हार्मोन थेरेपी वर्तमान सिफारिशों के अनुसार, सबसे कम संभव अवधि के लिए सबसे छोटी प्रभावी खुराक पर दिया जाना चाहिए । हार्मोन थेरेपी वर्तमान में उपयोग के लिए सुझाव दिया है अगर जोखिम लाभ अनुपात व्यक्तिगत महिला के लिए अच्छा है ।

मौखिक गर्भनिरोधक गोलियां
मौखिक गर्भनिरोधक गोलियां एक अन्य प्रकार की हार्मोन थेरेपी हैं जिनका उपयोग पेरिमेनोपॉज़ल महिलाओं में अनियमित योनि रक्तस्राव का प्रबंधन करने के लिए किया जाता है। जब रजोनिवृत्ति संक्रमण में महिलाओं को एस्ट्रोजन दवा दी जाती है, तो उन्हें अक्सर महत्वपूर्ण सफलता रक्तस्राव होती है। नतीजतन, मासिक धर्म चक्र को नियंत्रित करने, गर्म चमक को कम करने और गर्भनिरोधक प्रदान करने में मदद करने के लिए रजोनिवृत्ति संक्रमण से गुजरने वाली महिलाओं को मौखिक गर्भनिरोधक अक्सर निर्धारित किए जाते हैं। क्योंकि एस्ट्रोजन की खुराक गर्म चमक और अन्य लक्षणों को विनियमित करने के लिए आवश्यक से बड़ी है, वे उन महिलाओं के लिए संकेत नहीं दी जाती हैं जो पहले से ही रजोनिवृत्ति हासिल कर चुकी हैं। मौखिक गर्भ निरोधकों में रजोनिवृत्ति संक्रमण के माध्यम से जाने वाली महिलाओं के लिए समान मतभेद होते हैं जैसा कि वे प्रीमेनोपॉज़ल महिलाओं के लिए करते हैं।

स्थानीय (योनि) हार्मोन और गैर हार्मोन उपचार
योनि एस्ट्रोजन की कमी के लक्षणों के लिए स्थानीय (जिसका अर्थ सीधे योनि पर लागू होता है) हार्मोनल उपचार भी होते हैं। स्थानीय उपचारों में योनि एस्ट्रोजन रिंग(एस्टरिंग),योनि एस्ट्रोजन क्रीम, या योनि एस्ट्रोजन गोलियां शामिल हैं। इस उद्देश्य के लिए स्थानीय और मौखिक एस्ट्रोजन उपचार कभी-कभी संयुक्त होते हैं।

योनि मॉइस्चराइसिंग एजेंट जैसे क्रीम या लोशन (उदाहरण के लिए, के-वाई जेल)के साथ-साथ संभोग के दौरान स्नेहक का उपयोग योनि सूखापन की असुविधा के प्रबंधन के लिए गैर-हार्मोनल विकल्प हैं।

अवसादरोधी दवाओं और अन्य जैसी दवाएं
चुनिंदा सेरोटोनिन रीटेक अवरोधक (एसएसआरआई) और संबंधित अवसादरोधी दवाओं को 60% तक महिलाओं में गर्म चमक के लक्षणों के प्रबंधन में फायदेमंद होने के लिए प्रदर्शित किया गया है। वेंलाफैक्सिन (एफेक्सर), एक एसएसआरआई जैसी दवा, साथ ही पैराऑक्सेटिन (पैक्सिल, ब्रिसडेल),डेवेन्लाफैक्सिन (प्रिस्टिक), सिटालोपरम (सेलेक्सा), और एस्किटालोपराम (लेक्साप्रो), सभी कुछ महिलाओं में गर्म चमक की गंभीरता को कम करने के लिए साबित हुए हैं। दूसरी ओर, अवसादरोधी दवाओं का नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है जैसे कम कामेच्छा या यौन रोग।

रजोनिवृत्ति के लिए घरेलू उपचार

रजोनिवृत्ति के लिए उपचार

सोया (संयंत्र आधारित एस्ट्रोजन)
आइसोफ्लावोन फाइटोएस्ट्रोजेन हैं, या पौधों से निकलने वाले एस्ट्रोजेन हैं, जो सोया और अन्य पौधों में मौजूद हैं। कई महिलाओं का मानना है कि संयंत्र एस्ट्रोजेन "प्राकृतिक" और इस तरह हार्मोन थेरेपी की तुलना में सुरक्षित हैं, लेकिन चिकित्सा अध्ययन अभी तक इस बात की पुष्टि करने के लिए है । अधिकांश वैज्ञानिक परीक्षणों में गर्म चमक को नियंत्रित करने में मदद करने के लिए फाइटोएस्ट्रोजेन का प्रदर्शन नहीं किया गया है। इसके अलावा, कुछ फाइटोएस्ट्रोजेन कुछ मानव ऊतकों में एस्ट्रोजन की तरह अभिनय का संदेह है। नतीजतन, कई डॉक्टर स्तन कैंसर के इतिहास वाली महिलाओं को फाइटोएस्ट्रोजेन से बचने की सलाह देते हैं।

विटामिन ई एक शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट है।
हालांकि कुछ महिलाओं का दावा है कि विटामिन ई की खुराक लेने से मामूली गर्म चमक के साथ मदद मिल सकती है, रजोनिवृत्ति के लक्षणों को समाप्त करने में विटामिन ई की प्रभावशीलता का समर्थन करने वाले वैज्ञानिक सबूत अपर्याप्त हैं। विटामिन ई की खुराक लेने से अधिक ४०० अंतरराष्ट्रीय इकाइयों (आईयू) सुरक्षित नहीं हो सकता है, के रूप में कुछ अध्ययनों हृदय रोग का खतरा बढ़ करने के लिए उच्च खुराक से जुड़े हुए हैं ।

मूड बदलने के लिए
विश्राम और तनाव में कमी तकनीक, जैसे गहरी सांस लेने के व्यायाम और मालिश, साथ ही एक स्वस्थ जीवन शैली (उत्कृष्ट पोषण और नियमित व्यायाम) और मज़ा, आत्म पोषण गतिविधियों, सभी फायदेमंद हो सकता है । कुछ महिलाएं अपने रजोनिवृत्ति के लक्षणों का प्रबंधन करने के लिए विटामिन बी 6 जैसी ओवर-द-काउंटर दवाओं का उपयोग करती हैं।

मूत्र असंयम के लिए
मूत्र पतला (स्पष्ट और पीला) बनाए रखने के लिए, खूब पानी पीएं और एसिड या कैफीन में मजबूत भोजन या पेय पदार्थों से बचें, जो मूत्राशय की परत को परेशान कर सकते हैं। अंगूर, संतरे, टमाटर, कॉफी, और कैफीन युक्त शीतल पेय पदार्थ उनमें से हैं । अपने पेल्विक फर्श की मांसपेशियों को मजबूत करने और असंयम एपिसोड को कम करने के लिए, केगेल अभ्यास पर विचार करें।

अन्य चिकित्सा मुद्दे जो महिलाओं को रजोनिवृत्ति के कारण पीड़ित हो सकते हैं।

ऑस्टियोपोरोसिस एक ऐसी बीमारी है जो हड्डियों को प्रभावित करती है।
ऑस्टियोपोरोसिस एक ऐसी स्थिति है जिसमें हड्डी की मात्रा और गुणवत्ता खराब हो जाती है, जिससे फ्रैक्चर का खतरा बढ़ जाता है। जीवन के चौथे दशक के दौरान, हड्डियों का घनत्व (अस्थि खनिज घनत्व) महिलाओं में गिरावट शुरू हो जाती है। रजोनिवृत्ति संक्रमण के दौरान, हालांकि, अस्थि घनत्व में सामान्य कमी त्वरित होती है। नतीजतन, ऑस्टियोपोरोसिस रजोनिवृत्ति संक्रमण द्वारा लाए गए उम्र और हार्मोनल परिवर्तनों के संयोजन के कारण होता है। हार्मोन थेरेपी की तुलना में कम जोखिम भरा है कि ऑस्टियोपोरोसिस के इलाज के लिए पहले से ही सुलभ दवाएं हैं। नतीजतन, हार्मोन थेरेपी ऑस्टियोपोरोसिस रोकथाम या उपचार के लिए संकेत नहीं है।

हृदय रोग (सीवीडी) एक ऐसी स्थिति है जो प्रभावित होती है।
पुरुषों की तुलना में रजोनिवृत्ति से पहले महिलाओं को हृदय रोग और स्ट्रोक का खतरा कम होता है। हालांकि, रजोनिवृत्ति के समय एक महिला को हृदय रोग का खतरा बढ़ जाता है। अमेरिका में, हृदय रोग पुरुषों और महिलाओं दोनों के लिए मौत का शीर्ष कारण है।

कोरोनरी हृदय रोग की दर एक ही उम्र की महिलाओं की तुलना में रजोनिवृत्ति के बाद महिलाओं में दो से तीन गुना अधिक है जिन्होंने अभी तक रजोनिवृत्ति हासिल नहीं की है । हालांकि एस्ट्रोजन के स्तर को छोड़ने हृदय रोग के एक बढ़े हुए जोखिम से जोड़ा जा सकता है, चिकित्सा चिकित्सकों पोस्टमेनोपॉज़ल महिलाओं को केवल एक निवारक उपचार के रूप में हार्मोन थेरेपी से गुजरना करने के लिए हृदय रोग के अपने जोखिम को कम करने की सलाह नहीं है ।

समाप्ति

रजोनिवृत्ति, एक प्रमुख प्रजनन घटना और एक महिला के यौन जीवन में महत्वपूर्ण मोड़, औसतन 48 और 52 की उम्र के बीच होताहै। रजोनिवृत्ति एक शारीरिक प्रक्रिया है जो अंडाशय की उम्र के रूप में होती है, जिसके परिणामस्वरूप ओव्यूलेशन और एस्ट्रोजन उत्पादन की समाप्ति होती है। रजोनिवृत्ति एक प्राकृतिक प्रक्रिया है जिसे पूरा होने में कई साल लगते हैं। परिमेनोपॉज के दौरान एस्ट्रोजन का स्तर गिर जाता है, और मासिक धर्म अनियमित हो जाता है और अंततः बंद हो जाता है। 50.4 साल की उम्र में, महिलाएं पोस्टमेनोपॉज़तक पहुंचतीहैं, जिसे मासिक धर्म के बिना 12 महीने की अवधि के रूप में परिभाषित किया जाता है।

वासोमोटर (जैसे, गर्म फ्लश, रात के पसीने), मनोदैहिक (जैसे, सिर दर्द, चक्कर आना), और मनोवैज्ञानिक लक्षण रजोनिवृत्ति के लक्षण (जैसे, थकान, चिड़चिड़ापन) हैं। गर्म फ्लश और रात पसीना सबसे प्रचलित लक्षण सबसे संस्कृतियों में वर्णित हैं, और वे निश्चित रूप से हार्मोन के स्तर में परिवर्तन का परिणाम हैं । बांझपन रजोनिवृत्ति का प्रत्यक्ष परिणाम है, और यह महिलाओं के भावनात्मक कल्याण पर एक महत्वपूर्ण प्रभाव डाल सकता है। हार्मोन परिवर्तन रजोनिवृत्ति से पहले और परे कई वर्षों तक हो सकता है। हार्मोन असंतुलन और fecundity के नुकसान शारीरिक, मनोवैज्ञानिक, और भावनात्मक परिवर्तन पैदा कर सकता है।

हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी मध्यम आयु वर्ग की महिलाओं में गर्म निस्तब्धता और रात पसीना में सुधार लेकिन उनके मनोवैज्ञानिक भलाई पर थोड़ा प्रभाव पड़ता है । रजोनिवृत्ति के दौरान मनोवैज्ञानिक कल्याण के सबसे मजबूत संकेतकों में तनाव, जीवन की घटनाएं, अवसाद का इतिहास और प्रत्याशा शामिल हैं। उनके चालीसवें और अर्द्धशतक में महिलाओं को अक्सर महत्वपूर्ण जीवन की घटनाओं के साथ सामना कर रहे हैं ।

संबंधित विषय:

1. स्व-देखभाल और स्व-देखभाल का महत्व क्या है

सेल्फ-केयर का मतलब है ऐसी गतिविधियाँ करना जो हमें अच्छा महसूस कराती हैं और तनाव मुक्त करती हैं। अन्य दिन-प्रतिदिन के क्रियाकलापों के साथ-साथ आत्म-देखभाल शरीर के साथ-साथ आत्मा के लिए भी महत्वपूर्ण है। अधिक यात्रा जानने के लिए: आत्म-देखभाल का आत्म-देखभाल और महत्व क्या है।

2. स्वयं की देखभाल के लिए योग

योग आत्म-देखभाल के सबसे आवश्यक डेटासेट में से एक है। यह आपको अपने बारे में अच्छा महसूस कराता है और आपके शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य पर सकारात्मक प्रभाव डालता है। अधिक यात्रा जानने के लिए: स्वयं की देखभाल के लिए योग

3. स्व-देखभाल के लाभ

आत्म देखभाल के कई लाभ हैं जैसे कि बेहतर उत्पादकता, बेहतर प्रतिरक्षा प्रणाली, बढ़ा हुआ आत्म-ज्ञान और आत्म-करुणा। मुख्य लाभ यह है कि यह आपके जीवन में खुशी लाता है। अधिक यात्रा जानने के लिए: स्व-देखभाल के लाभ

4. सेल्फ-केयर रूटीन कैसे शुरू करें

चूंकि कई लोगों को एक स्व-देखभाल दिनचर्या शुरू करने में कठिनाई का सामना करना पड़ता है, इसलिए बेहतर होगा कि आप अपनी दिनचर्या में ध्यान, योग या एक्सर्साइज़ जैसी छोटी आत्म-देखभाल प्रथाओं को शामिल करें। अधिक यात्रा जानने के लिए: Hसेल्फ-केयर रूटीन कैसे शुरू करें

5. तनाव को कैसे प्रबंधित करें

स्व-देखभाल एक महत्वपूर्ण उपकरण है जो हमें स्वस्थ और खुश महसूस करने में मदद करता है और सबसे तनावपूर्ण परिस्थितियों में भी तनाव को कम करता है। स्व-देखभाल से शरीर और आत्मा को आराम मिलता है क्योंकि यह नकारात्मक भावनाओं और चिंता को कम करता है। अधिक जानकारी के लिए देखें: तनाव को कैसे प्रबंधित करें




उपर ब्लॉग में बताई गई उपलब्धिया Neugracia के साथ उपलब्ध हैं
सभी महिलाएं अपने जीवन में रजोनिवृत्ति से गुजरती हैं, यह बोलने, एकजुट होने और जागरूकता पैदा करने का समय है, यह सुनिश्चित करते हुए कि वे जानते हैं कि वे इसमें अकेले नहीं हैं। अपनी रजोनिवृत्ति की कहानी साझा करें और अन्य महिलाओं को साहस दें कि उनका जीवन भी कभी नहीं रुकेगा। Nutralogicx: Neugracia

AFDIL Ltd.
+91 9920121021

order@afdil.com

Read Also:


Disclaimer
Home