Kidney transplantation

surgical-process

Overview

A kidney transplant is a surgical process to replace the unhealthy kidney with a healthy kidney from a living or deceased donor into a person.

The kidneys are two bean-shaped organs. They are located on each side of the spine below the rib cage. Each is about the size of a fist. The main function of kidney is to filter and remove waste, minerals and fluid from the blood by producing urine. They also help maintain your body’s fluid and electrolyte balance.

Once the kidneys lose this filtering ability, harmful levels of fluid and waste accumulate in your body, which can raise your blood pressure and result in kidney failure (end-stage kidney disease). End-stage renal disease occurs when the kidneys have lost about 90% of their ability to function normally.

Some of the common causes of end-stage kidney disease include:

• Diabetes

• Chronic, uncontrolled high blood pressure

• Chronic glomerulonephritis — an inflammation and eventual scarring of the tiny filters within your kidneys (glomeruli)

• Polycystic kidney disease

People with end-stage renal disease usually undergo a treatment called dialysis. This treatment mechanically filters waste that builds up in the bloodstream when the kidneys stop working.

Some people whose kidneys have failed can opt for a kidney transplant. In this procedure, one or both kidneys are replaced with donor kidneys from a live or deceased person.

There are advantages and disadvantages to both dialysis and kidney transplants.

Dialysis is time consuming and is labor-intensive and it often requires to visit a dialysis center to receive treatment where the blood is cleansed using a dialysis machine.

In case you want to have dialysis at home, then you will need to purchase all the dialysis supplies and learn to use them.

However, a kidney transplant is simple and you do not have to depend on a dialysis machine and the strict schedule that goes with it. This can allow you to live a more active life. However, kidney transplants aren’t suitable for everyone especially for people with active infections and those who are severely overweight.

During a kidney transplant, your surgeon will take a donated kidney and place it in your body. Even though you’re born with two kidneys, you can lead a healthy life with only one functioning kidney. After the transplant, you’ll have to take immune-suppressing medications to keep your immune system from attacking the new organ.

Who might need a kidney transplant?

A kidney transplant may be an option if your kidneys have stopped working entirely. This condition is called end-stage renal disease (ESRD) or end-stage kidney disease (ESKD). If you reach this point, your doctor is likely to recommend dialysis.
In addition to putting, you on dialysis, your doctor might even suggest you for kidney transplant if they think you’re a fit candidate.
You’ll need to be healthy enough to have major surgery and tolerate a strict, lifelong medication regimen after surgery to be a fit candidate for a transplant. You must also be willing and able to follow all instructions from your doctor and take your medications regularly.
If you have a serious underlying medical condition, a kidney transplant might be dangerous or unlikely to be successful. These serious conditions include:
• cancer, or a recent history of cancer
• serious infection, such as tuberculosis, bone infections, or hepatitis
• severe cardiovascular disease
• liver disease
Doctor might also recommend to not have a transplant if you:
• smoke
• drink alcohol in excess
• use illicit drugs
If your doctor thinks you’re a good candidate for a transplant and you’re interested in the procedure, you’ll need to be evaluated at a transplant center.
This evaluation as a rule includes a few visits to assess your physical, mental, and familial condition. The center's doctors will run tests on your blood and urine. They'll likewise give you a complete physical test to ensure you're healthy enough for medical procedure.
A psychologist and a social specialist will likewise meet with you to ensure you're ready to comprehend and follow a complicated treatment routine. The social worker will ensure you can manage the cost of the procedure and that you have sufficient help after you're released from the clinic.
If you’re approved for a transplant, either a family member can donate a kidney or you’ll be placed on a waiting list with the Organ Procurement and Transplantation Network (OPTN). The typical wait for a deceased donor organ is over five years.

Symptoms of Kidney Disease

There are rarely any signs of kidney disease in the early stages. It must be at a relatively advanced stage before any of the below symptoms appear. The earliest signs of kidney disease is an atypical level of creatinine or urea in your blood. This leads to a condition called uremia.

A basic metabolic panel (BMP) is a blood test often ordered as part of a routine physical exam. The test allows healthcare providers to detect any atypical levels of these two chemicals. Other than blood test results, there are a number of physical signs of kidney disease.

Concerns with urination

Kidney function is closely tied to urine production. Some of the concerning signs of kidney disease include urinating more or less frequently than normal, especially at night. People also experience:

• pain or burning while urinating

• a decrease in their amount of urine production

• cloudy, foamy, or discolored urine

Blood in your urine

Blood in your urine is also known as hematuria. This can be a signs of kidney disease and also of several conditions and should be investigated immediately by your healthcare provider.

Swelling

Other signs of kidney disease are swelling. Your kidneys remove excess fluid from your blood. When this doesn’t occur, that fluid builds up in your body. This causes swelling in your:

• ankles

• legs

• feet

• hands

• face

Swelling can also occur in your lungs. This can cause shortness of breath. Another sign is swelling or puffiness around your eyes.

Back pain

Another signs of kidney disease are back pain. You can feel kidney pain in your back or sides, usually in the middle of your back just below your rib cage.

Skin rash or itch

The buildup of waste products in your blood can cause a skin reaction, resulting in rashes or severe itching being one of the signs of kidney disease.

Fatigue

A secondary function of your kidneys is to help make red blood cells that carry oxygen all around your body.

A decrease in red blood cells is called anemia. It causes:

• tiredness

• decreased stamina

• sometimes dizziness or memory concerns

Another signs of kidney disease are fatigue and it can also be caused by a buildup of metabolic waste in your blood.

Loss of appetite

Another signs of kidney disease are loss of appetite and is common in people with advanced kidney disease. This may lead to undernutrition and weight loss.

People experiencing kidney disease should talk with a healthcare provider about finding foods that are appealing and provide nutrients.

Nausea or vomiting

Vomiting is the signs of kidney disease and it can occur when metabolic waste builds up in your blood, but people may feel nauseated at even the thought of eating.

Muscle cramps

Painful muscle cramps, specifically leg cramps, are also signs of kidney disease.

Who donates the kidney?

The donors of kidney might either be living or deceased.

Living donors

Since the body can work entirely well with only one healthy kidney, a relative with two healthy kidneys may decide to give one of them to you.

In the event that your relative's blood and tissues match your blood and tissues, you can schedule a planned donation.

Accepting a kidney from a relative is a decent alternative. It lessens the danger that your body will reject the kidney, and it empowers you to bypass the multiyear waiting list for a deceased donor.

Deceased donors

Deceased donors also called as cadaver donor, are the ones who are dead especially due to an accident rather than a disease. Either the donor or their family has chosen to donate their organs and tissues.

But if the kidney is from unrelated donor, then the body is likely to reject it. But still getting a kidney from deceased is better alternative in case the relatives or friends are not willing or able to donate a kidney.

living-donor

The matching process

Initially the patient’s assessment is done for a transfer, to determine the blood type (A, B, AB, or O) and your human leukocyte antigen (HLA). HLA is a group of antigens situated on the surface of your white blood cells. Antigens are responsible for your body’s immune response.

In the event that patient’s HLA type coordinates with the donor's HLA type, then it is more likely that the body won't reject the kidney. Every individual has six antigens, three from each biological parent. The more antigens patients have that match those of the donor, the greater the chance of a successful transplant.

When a potential donor is identified, patient will need another test to ensure that your antibodies will not attack the donor's organ. This is done by mixing a small quantity of your blood with the donor's blood.

However, the transplant isn’t possible if the patient’s blood forms antibodies against the donor’s blood.

If patient’s blood shows no antibody reaction, then there is a “negative crossmatch.” Which means that the transplant can proceed.

How do you prepare?

Choosing a transplant center

In case the doctor recommends a kidney transplant, you'll be sent to a transplant center. You're also allowed to select a transplant center of your choice or choose a center from your insurance company's list of preferred providers.

When you consider transplant centers, you may want to:

• Learn about the number and type of transplants the center performs each year

• Learn about the transplant center's kidney transplant survival rates

• Compare transplant center statistics through the database maintained by the Scientific Registry of Transplant Recipients

• Find out if the center offers different donation programs that might increase your chances of receiving a living-donor kidney

You may also consider:

• Costs that will be incurred before, during and after your transplant. Costs will include tests, organ procurement, surgery, hospital stays, and transportation to and from the center for the procedure and follow-up appointments.

• Other services provided by the transplant center, such as support groups, travel arrangements, local housing for your recovery period and referrals to other resources.

• The center's commitment to keeping up with the latest transplant technology and techniques, which indicates that the program is growing.

Evaluation

After you've chosen a transplant center, you'll be assessed to decide whether you meet the center's eligibility requirements for a kidney transplant.

The team at the transplant center will evaluate whether you:

• Are healthy enough to have medical procedure and endure lifelong post-transplant medications

• Have any medical conditions that would interfere with transplant success

• Are willing and ready to accept medications as directed and follow the suggestions of the transplant team

The evaluation process may take several days and includes:

• A thorough physical exam

• Imaging studies, such as X-ray, MRI or CT scans

• Blood tests

• Psychological evaluation

• Any other necessary testing as determined by your doctor

After your assessment, your transplant team will examine the results with you and reveal to you whether you've been accepted as a kidney transplant candidate. Each transplant center has its own eligibility criteria. If you aren't accepted at one transplant center, you may apply to others.

Coping and Support

It's entirely expected to feel restless or overpowered while waiting for a transplant or to have fears about dismissal, getting back to work or different issues after a transplant. Looking for the help of loved ones can help you adapt during this upsetting time.

Your transplant team can also assist you with other useful resources and coping strategies throughout the transplant process, such as:

• Joining a support group for transplant recipients: Talking with others who have shared your experience can ease fears and anxiety.

• Sharing your experiences on social media: Engaging with others who have had a similar experience may help you adjust to your changing situation.

• Finding rehabilitation services: If you're returning to work, your social worker may be able to connect you with rehabilitation services provided by your home state's department of vocational rehabilitation.

• Setting realistic goals and expectations: Recognize that life after transplant may not be exactly the same as life before transplant. Having realistic expectations about results and recovery time can help reduce stress.

• Educating yourself: Learn as much as you can about your procedure, and ask questions about things you don't understand. Knowledge is empowering.

How is a kidney transplant performed?

Your doctor can schedule the transplant in advance if you’re receiving a kidney from a living donor.

However, if you’re waiting for a deceased donor who’s a close match for your tissue type, you’ll have to be available to rush to the hospital at a moment’s notice when a donor is identified. Many transplant hospitals give their people pagers or cell phones so that they can be reached quickly.

Once you arrive at the transplant center, you’ll need to give a sample of your blood for the antibody test. You’ll be cleared for surgery if the result is a negative crossmatch.

A kidney transplant is done under general anesthesia. This involves giving you a medication that puts you to sleep during the surgery. The anesthetic will be injected into your body through an intravenous (IV) line in your hand or arm.

Once you’re asleep, your doctor makes an incision in your abdomen and places the donor kidney inside. They then connect the arteries and veins from the kidney to your arteries and veins. This will cause blood to start flowing through the new kidney.

Your doctor will also attach the new kidney’s ureter to your bladder so that you’re able to urinate normally. The ureter is the tube that connects your kidney to your bladder.

Your doctor will leave your original kidneys in your body unless they’re causing problems, such as high blood pressure or infection.

kidney-transplant

Aftercare

You’ll wake up in a recovery room. Hospital staff will monitor your vital signs until they’re sure you’re awake and stable. Then, they’ll transfer you to a hospital room.

Even if you feel great after your transplant (many people do), you’ll likely need to stay in the hospital for up to a week after surgery.

Your new kidney may start to clear waste from the body immediately, or it may take up to a few weeks before it starts functioning. Kidneys donated by family members usually start working more quickly than those from unrelated or deceased donors.

You can expect a good deal of pain and soreness near the incision site while you’re first healing. While you’re in the hospital, your doctors will monitor you for complications. They’ll also put you on a strict schedule of immunosuppressant drugs to stop your body from rejecting the new kidney. You’ll need to take these drugs every day to prevent your body from rejecting the donor kidney.

Before you leave the hospital, your transplant team will give you specific instructions on how and when to take your medications. Make sure that you understand these instructions, and ask as many questions as needed. Your doctors will also create a checkup schedule for you to follow after surgery.

Once you’re discharged, you’ll need to keep regular appointments with your transplant team so that they can evaluate how well your new kidney is functioning.

You’ll need to take your immunosuppressant drugs as directed. Your doctor will also prescribe additional drugs to reduce the risk of infection. Finally, you’ll need to monitor yourself for warning signs that your body has rejected the kidney. These include pain, swelling, and flu-like symptoms.

You’ll need to follow up regularly with your doctor for the first one to two months after surgery. Your recovery may take about six months.

What are the risks of a kidney transplant?

A kidney transplant is a major surgery. Therefore, it carries the risk of:

• an allergic reaction to general anesthesia

• bleeding

• blood clots

• a leakage from the ureter

• a blockage of the ureter

• an infection

• rejection of the donated kidney

• failure of the donated kidney

• a heart attack

• a stroke

• In case you observe unusual soreness at the incision site or a change in the amount of your urine, inform your transplant team.

The immunosuppressant drugs you must take after surgery can lead to some unpleasant side effects as well. These may include:

• weight gain

• bone thinning

• increased hair growth

• acne

• a higher risk of developing certain skin cancers and non-Hodgkin’s lymphoma

Talk to your doctor about your risks of developing these side effects.

Overview of kidney function tests

You have two kidneys on either side of your spine that are each approximately the size of a human fist. They’re located posterior to your abdomen and below your rib cage.

Your kidneys play several vital roles in maintaining your health. One of their most important jobs is to filter waste materials from the blood and expel them from the body as urine. The kidneys also help control the levels of water and various essential minerals in the body. In addition, they’re critical to the production of:

• vitamin D

• red blood cells

• hormones that regulate blood pressure

If your doctor thinks your kidneys may not be working properly, you may need kidney function tests. These are simple blood and urine tests that can identify problems with your kidneys.

You may also need kidney function testing done if you have other conditions that can harm the kidneys, such as diabetes or high blood pressure. They can help doctors monitor these conditions.

Types of kidney function tests

To test your kidney function, your doctor will order a set of tests that can estimate your glomerular filtration rate (GFR). Your GFR tells your doctor how quickly your kidneys are clearing waste from your body.

Urinalysis

A urinalysis screens for the presence of protein and blood in the urine. There are many possible reasons for protein in your urine, not all of which are related to disease. Infection increases urine protein, but so does a heavy physical workout. Your doctor may want to repeat this test after a few weeks to see if the results are similar.

Your doctor may also ask you to provide a 24-hour urine collection sample. This can help doctors see how fast a waste product called creatinine is clearing from your body. Creatinine is a breakdown product of muscle tissue.

A 24-hour urine sample is a creatinine clearance test. It gives your doctor an idea of how much creatinine your body expels over a single day. On the day that you start the test, urinate into the toilet as you normally would when you wake up. For the rest of the day and night, urinate into a special container provided by your doctor. Keep the container capped and refrigerated during the collection process. Make sure to label the container clearly. On the morning of the second day, urinate into the container when you get up. This completes the 24-hour collection process. Follow your doctor’s instructions about where to drop the sample off. You may need to return it either to your doctor’s office or a laboratory.

Serum creatinine test

This blood test examines whether creatinine is building up in your blood. The kidneys usually completely filter creatinine from the blood. A high level of creatinine suggests a kidney problem.

According to the National Kidney Foundation (NKF), a creatinine level higher than 1.2 milligrams/deciliter (mg/dL) for women and 1.4 mg/dL for men is a sign of a kidney problem.

Blood urea nitrogen (BUN)

The blood urea nitrogen (BUN) test also checks for waste products in your blood. BUN tests measure the amount of nitrogen in the blood. Urea nitrogen is a breakdown product of protein.

However, not all elevated BUN tests are due to kidney damage. Common medications, including large doses of aspirin and some types of antibiotics, can also increase your BUN. It’s important to tell your doctor about any medications or supplements that you take regularly. You may need to stop certain drugs for a few days before the test.

A normal BUN level is between 7 and 20 mg/dL. A higher value could suggest several different health problems.

BUN and serum creatinine tests require blood samples taken in a lab or doctor’s office. The technician drawing the blood first ties an elastic band around your upper arm. This makes the veins stand out. The technician then cleans the area over the vein. They slip a hollow needle through your skin and into the vein. The blood will flow back into a test tube that will be sent for analysis. You may feel a sharp pinch or prick when the needle enters your arm. The technician will place gauze and a bandage over the puncture site after the test. The area around the puncture may develop a bruise over the next few days. However, you shouldn’t feel severe or long-term pain.

Estimated GFR

This test estimates how well your kidneys are filtering waste. The test determines the rate by looking at factors, such as:

• test results, specifically creatinine levels

• age

• gender

• race

• height

• weight

Any result lower than 60 milliliters/minute/1.73m2 may be a warning sign of kidney disease.

Treatment of kidney disease

Your doctor will focus on treating the underlying condition if the tests show early kidney disease. Your doctor will prescribe medications to control blood pressure if the tests indicate hypertension. They’ll also suggest lifestyle and dietary modifications.

If you have diabetes, your doctor may want you to see an endocrinologist. This type of doctor specializes in metabolic diseases and can help ensure that you have the best blood glucose control possible.

If there are other causes of your abnormal kidney function tests, such as kidney stones and excessive use of painkillers, your doctor will take appropriate measures to manage those disorders.

Abnormal test results mean you’ll probably need regular kidney function tests in the months ahead. These will help your doctor keep an eye on your condition.

Results

After a successful kidney transplant, your new kidney will filter your blood, and you will no longer need dialysis.

To prevent your body from rejecting your donor kidney, you'll need medications to suppress your immune system. Because these anti-rejection medications make your body more vulnerable to infection, your doctor may also prescribe antibacterial, antiviral and antifungal medications.

It is important to take all your medicines as your doctor prescribes. Your body may reject your new kidney if you skip your medications even for a short period of time. Contact your transplant team immediately if you are having side effects that prevent you from taking your medications.

After your transplant, skin self-checks and checkups with a dermatologist to screen for skin cancer and keeping your other cancer screening up-to-date is strongly advised.

Diet and nutrition

After your kidney transplant, you may need to adjust your diet to keep your new kidney healthy and functioning well. You'll have fewer dietary restrictions than if you were receiving dialysis therapy before your transplant, but you still may need to make some diet changes.

Your transplant team includes a nutrition specialist (dietitian) who can discuss your nutrition and diet needs and answer any questions you have after your transplant.

Some of your medications may increase your appetite and make it easier to gain weight. But reaching and maintaining a healthy weight through diet and exercise is just as important for transplant recipients as it is for everyone else to reduce the risk of heart disease, high blood pressure and diabetes.

You may need to keep track of how many calories you consume or limit foods high in sugar and fat.

Your dietitian will also provide you with several healthy food options and ideas to use in your nutrition plan. Your dietitian's recommendations after kidney transplant may include:

• Eating at least five servings of fruits and vegetables each day

• Avoiding grapefruit and grapefruit juice due to its effect on a group of immunosuppression medications (calcineurin inhibitors)

• Having enough fiber in your daily diet

• Drinking low-fat milk or eating other low-fat dairy products, which is important to maintain optimal calcium and phosphorous levels

• Eating lean meats, poultry and fish

Your dietitian may also recommend:

• Maintaining a low-salt and low-fat diet

• Following food safety guidelines

• Staying hydrated by drinking adequate water and other fluids each day

Exercise

When you recover from your transplant surgery, exercise and physical activity ought to be a standard piece of your life to keep improving your overall physical and mental health.

After a transplant, regular exercise helps support energy levels and increase strength. It additionally helps you with keeping a healthy weight, decrease pressure, and prevent common post-transplant complications such as hypertension and cholesterol levels.

Your transplant team will suggest an active work program based on your individual requirements and objectives.

Soon your transplant, you should walk as much you can. Steadily, begin consolidating more actual work into your everyday life, including taking part in at least 30 minutes of moderate exercise five days per week.

Walking, bicycling, swimming, low-impact strength training and other physical activities you enjoy can all be a part of a healthy, active lifestyle after transplant. But be sure to check in with your transplant team before starting or changing your post-transplant exercise routine.

exercise

Tips for healthy kidneys

If you’ve been diagnosed with diabetes, there are some steps in which you can take care of your kidneys reduce your risk for diabetic nephropathy.

• Maintain you blood sugar levels within their target range.

• Manage your blood pressure and get treatment for high blood pressure.

• If you smoke, quit. Work with your doctor if you need help finding and sticking to a smoking cessation plan.

• Lose weight if you’re overweight or obese.

• Maintain a healthy diet that’s low in sodium. Focus on eating fresh or frozen produce, lean meats, whole grains, and healthy fats and limit the intake of processed foods which is make of salt and empty calories.

• Exercise regularly. Start slowly and be sure to work with your doctor to determine the best exercise program for you. Exercise can help you maintain a healthy weight and reduce your blood pressure.




The above essentials are available with AFD SHIELD.
AFD Shield capsule is a combination of 12 natural ingredients among which are Algal DHA, Ashwagandha, Curcumin and Spirullina. AFD Shield reduces TG, increases HDL and improves age related cognitive decline. It also reduces stress and anxiety and performs anti-aging activity.Moreover, it also enhances the immunomodulatory activity, improves immunity and reduces inflammation and oxidative stress. Nutralogicx: AFD SHIELD

गुर्दा प्रत्यारोपण

surgical-process

अवलोकन

गुर्दा प्रत्यारोपण एक शल्य प्रक्रिया है जिसमें अस्वस्थ किडनी को जीवित या मृत दाता से स्वस्थ किडनी से किसी व्यक्ति में बदल दिया जाता है।

गुर्दे बीन के आकार के दो अंग हैं। वे रीढ़ की हड्डी के प्रत्येक तरफ रिब पिंजरे के नीचे स्थित होते हैं। प्रत्येक एक मुट्ठी के आकार के बारे में है। गुर्दे का मुख्य कार्य मूत्र का उत्पादन करके रक्त से अपशिष्ट, खनिज और तरल पदार्थ को छानना और निकालना है। वे आपके शरीर के द्रव और इलेक्ट्रोलाइट संतुलन को बनाए रखने में भी मदद करते हैं।

एक बार जब गुर्दे इस फ़िल्टरिंग क्षमता को खो देते हैं, तो आपके शरीर में तरल पदार्थ और अपशिष्ट के हानिकारक स्तर जमा हो जाते हैं, जो आपके रक्तचाप को बढ़ा सकते हैं और परिणामस्वरूप गुर्दे की विफलता (अंत-चरण की किडनी रोग) हो सकती है। अंतिम चरण में गुर्दे की बीमारी तब होती है जब गुर्दे सामान्य रूप से कार्य करने की अपनी क्षमता का लगभग 90% खो देते हैं।

अंतिम चरण के गुर्दे की बीमारी के कुछ सामान्य कारणों में शामिल हैं:

• मधुमेह

• पुराना, अनियंत्रित उच्च रक्तचाप

• क्रोनिक ग्लोमेरुलोनेफ्राइटिस - आपके गुर्दे (ग्लोमेरुली) के भीतर छोटे फिल्टर की सूजन और अंततः निशान

• पॉलीसिस्टिक किडनी रोग

अंतिम चरण के गुर्दे की बीमारी वाले लोग आमतौर पर डायलिसिस नामक उपचार से गुजरते हैं। यह उपचार यंत्रवत् रूप से अपशिष्ट को फिल्टर करता है जो कि किडनी के काम करना बंद कर देने पर रक्तप्रवाह में जमा हो जाता है।

कुछ लोग जिनकी किडनी फेल हो गई है, वे किडनी ट्रांसप्लांट का विकल्प चुन सकते हैं। इस प्रक्रिया में, एक या दोनों किडनी को जीवित या मृत व्यक्ति के डोनर किडनी से बदल दिया जाता है।

डायलिसिस और किडनी ट्रांसप्लांट दोनों के फायदे और नुकसान हैं।

डायलिसिस में समय लगता है और यह श्रमसाध्य है और उपचार प्राप्त करने के लिए अक्सर डायलिसिस केंद्र का दौरा करना पड़ता है जहां डायलिसिस मशीन का उपयोग करके रक्त को साफ किया जाता है।

यदि आप घर पर डायलिसिस करवाना चाहते हैं, तो आपको डायलिसिस की सभी आपूर्तियाँ खरीदनी होंगी और उनका उपयोग करना सीखना होगा।

हालांकि, एक गुर्दा प्रत्यारोपण सरल है और आपको डायलिसिस मशीन और इसके साथ जाने वाले सख्त शेड्यूल पर निर्भर होने की आवश्यकता नहीं है। यह आपको अधिक सक्रिय जीवन जीने की अनुमति दे सकता है। हालांकि, गुर्दा प्रत्यारोपण विशेष रूप से सक्रिय संक्रमण वाले लोगों और गंभीर रूप से अधिक वजन वाले लोगों के लिए उपयुक्त नहीं है।

गुर्दा प्रत्यारोपण के दौरान, आपका सर्जन एक दान की गई गुर्दा लेगा और इसे आपके शरीर में रखेगा। भले ही आप दो किडनी के साथ पैदा हुए हों, आप केवल एक कार्यशील किडनी के साथ स्वस्थ जीवन जी सकते हैं। प्रत्यारोपण के बाद, आपको अपनी प्रतिरक्षा प्रणाली को नए अंग पर हमला करने से रोकने के लिए प्रतिरक्षा-दमनकारी दवाएं लेनी होंगी।

किडनी प्रत्यारोपण की आवश्यकता किसे हो सकती है?

यदि आपके गुर्दे ने पूरी तरह से काम करना बंद कर दिया है तो गुर्दा प्रत्यारोपण एक विकल्प हो सकता है। इस स्थिति को एंड-स्टेज रीनल डिजीज (ESRD) या एंड-स्टेज किडनी डिजीज (ESKD) कहा जाता है। यदि आप इस बिंदु तक पहुंचते हैं, तो आपका डॉक्टर डायलिसिस की सिफारिश कर सकता है।
आपको डायलिसिस पर रखने के अलावा, आपका डॉक्टर आपको किडनी प्रत्यारोपण के लिए भी सुझाव दे सकता है यदि उन्हें लगता है कि आप एक उपयुक्त उम्मीदवार हैं।
प्रत्यारोपण के लिए उपयुक्त उम्मीदवार बनने के लिए आपको बड़ी सर्जरी करने के लिए पर्याप्त स्वस्थ होने और सर्जरी के बाद एक सख्त, आजीवन दवा आहार को सहन करने की आवश्यकता होगी। आपको अपने डॉक्टर के सभी निर्देशों का पालन करने के लिए तैयार और सक्षम होना चाहिए और अपनी दवाएं नियमित रूप से लेनी चाहिए।
यदि आपके पास एक गंभीर अंतर्निहित चिकित्सा स्थिति है, तो गुर्दा प्रत्यारोपण खतरनाक हो सकता है या सफल होने की संभावना नहीं है। इन गंभीर स्थितियों में शामिल हैं:
• कैंसर, या कैंसर का हालिया इतिहास
• गंभीर संक्रमण, जैसे कि तपेदिक, हड्डी में संक्रमण, या हेपेटाइटिस
• गंभीर हृदय रोग
• जिगर की बीमारी
डॉक्टर आपको प्रत्यारोपण नहीं करने की सलाह दे सकते हैं यदि आप:
• धूम्रपान
• पीते हैं अधिक मात्रा में शराब
• अवैध दवाओं का उपयोग करें
यदि आपका डॉक्टर सोचता है कि आप प्रत्यारोपण के लिए एक अच्छे उम्मीदवार हैं और आप प्रक्रिया में रुचि रखते हैं, तो आपको प्रत्यारोपण केंद्र में मूल्यांकन करने की आवश्यकता होगी।
एक नियम के रूप में इस मूल्यांकन में आपकी शारीरिक, मानसिक और पारिवारिक स्थिति का आकलन करने के लिए कुछ दौरे शामिल हैं। केंद्र के डॉक्टर आपके खून और पेशाब की जांच कराएंगे। यह सुनिश्चित करने के लिए कि आप चिकित्सा प्रक्रिया के लिए पर्याप्त रूप से स्वस्थ हैं, वे आपको एक पूर्ण शारीरिक परीक्षण भी देंगे।
एक मनोवैज्ञानिक और एक सामाजिक विशेषज्ञ भी आपसे यह सुनिश्चित करने के लिए मिलेंगे कि आप एक जटिल उपचार दिनचर्या को समझने और उसका पालन करने के लिए तैयार हैं। सामाजिक कार्यकर्ता यह सुनिश्चित करेगा कि आप प्रक्रिया की लागत का प्रबंधन कर सकते हैं और क्लिनिक से रिहा होने के बाद आपके पास पर्याप्त सहायता है।
यदि आप प्रत्यारोपण के लिए स्वीकृत हैं, तो या तो परिवार का कोई सदस्य गुर्दा दान कर सकता है या आपको अंग खरीद और प्रत्यारोपण नेटवर्क (ओपीटीएन) के साथ प्रतीक्षा सूची में रखा जाएगा। मृत दाता अंग के लिए सामान्य प्रतीक्षा पांच वर्ष से अधिक है।

गुर्दे की बीमारी के लक्षण

प्रारंभिक अवस्था में गुर्दे की बीमारी के शायद ही कोई लक्षण दिखाई देते हैं। नीचे दिए गए किसी भी लक्षण के प्रकट होने से पहले यह अपेक्षाकृत उन्नत अवस्था में होना चाहिए। गुर्दे की बीमारी के शुरुआती लक्षण आपके रक्त में क्रिएटिनिन या यूरिया का असामान्य स्तर है। यह यूरीमिया नामक स्थिति की ओर जाता है।

एक बुनियादी चयापचय पैनल (बीएमपी) एक रक्त परीक्षण है जिसे अक्सर नियमित शारीरिक परीक्षा के भाग के रूप में आदेश दिया जाता है। परीक्षण स्वास्थ्य सेवा प्रदाताओं को इन दो रसायनों के किसी भी असामान्य स्तर का पता लगाने की अनुमति देता है। रक्त परीक्षण के परिणामों के अलावा, गुर्दे की बीमारी के कई शारीरिक लक्षण हैं।

पेशाब के साथ चिंता

गुर्दा का कार्य मूत्र उत्पादन से निकटता से जुड़ा हुआ है। गुर्दे की बीमारी के कुछ संबंधित लक्षणों में सामान्य से अधिक या कम बार पेशाब करना शामिल है, खासकर रात में। लोग भी अनुभव करते हैं:

• पेशाब करते समय दर्द या जलन

• उनके मूत्र उत्पादन की मात्रा में कमी

• बादल छाए रहेंगे, झागदार या फीका पड़ा हुआ मूत्र

आपके मूत्र में रक्त

आपके मूत्र में रक्त को हेमट्यूरिया के रूप में भी जाना जाता है। यह गुर्दे की बीमारी और कई स्थितियों का संकेत हो सकता है और इसकी तुरंत आपके स्वास्थ्य सेवा प्रदाता द्वारा जांच की जानी चाहिए।

सूजन

गुर्दे की बीमारी के अन्य लक्षण सूजन हैं। आपके गुर्दे आपके रक्त से अतिरिक्त तरल पदार्थ निकालते हैं। जब ऐसा नहीं होता है, तो वह द्रव आपके शरीर में जमा हो जाता है। यह आपके में सूजन का कारण बनता है:

• टखने

• पैर

• पैर का पंजा

• हाथ

• चेहरा

आपके फेफड़ों में सूजन भी आ सकती है। इससे सांस की तकलीफ हो सकती है। एक और संकेत आपकी आंखों के आसपास सूजन या सूजन है।

पीठ दर्द

गुर्दे की बीमारी का एक और लक्षण पीठ दर्द है। आप अपनी पीठ या बाजू में गुर्दे का दर्द महसूस कर सकते हैं, आमतौर पर आपकी पीठ के बीच में आपकी पसली के पिंजरे के ठीक नीचे।

त्वचा लाल चकत्ते या खुजली

आपके रक्त में अपशिष्ट उत्पादों का निर्माण त्वचा की प्रतिक्रिया का कारण बन सकता है, जिसके परिणामस्वरूप चकत्ते या गंभीर खुजली गुर्दे की बीमारी के लक्षणों में से एक है।

थकान

आपके गुर्दे का एक माध्यमिक कार्य लाल रक्त कोशिकाओं को बनाने में मदद करना है जो आपके शरीर के चारों ओर ऑक्सीजन ले जाते हैं।

लाल रक्त कोशिकाओं में कमी को एनीमिया कहा जाता है। यह कारण बनता है:

• थकान

• सहनशक्ति में कमी

• कभी-कभी चक्कर आना या याददाश्त संबंधी चिंताएं

गुर्दे की बीमारी के अन्य लक्षण थकान हैं और यह आपके रक्त में चयापचय अपशिष्ट के निर्माण के कारण भी हो सकता है।

भूख में कमी

गुर्दे की बीमारी का एक अन्य लक्षण भूख में कमी है और उन्नत गुर्दे की बीमारी वाले लोगों में आम है। इससे कुपोषण और वजन कम हो सकता है।

गुर्दे की बीमारी का सामना करने वाले लोगों को स्वास्थ्य देखभाल प्रदाता से बात करनी चाहिए जो आकर्षक खाद्य पदार्थ ढूंढते हैं और पोषक तत्व प्रदान करते हैं।

मतली या उलटी

उल्टी गुर्दे की बीमारी का लक्षण है और यह तब हो सकता है जब आपके रक्त में चयापचय अपशिष्ट का निर्माण होता है, लेकिन लोग खाने के बारे में सोचकर भी मिचली महसूस कर सकते हैं।

मांसपेशियों में ऐंठन

दर्दनाक मांसपेशियों में ऐंठन, विशेष रूप से पैर में ऐंठन, भी गुर्दे की बीमारी के लक्षण हैं।

किडनी दान कौन करता है?

गुर्दे के दाता जीवित या मृत हो सकते हैं।

जीवित दाता

चूंकि शरीर केवल एक स्वस्थ किडनी के साथ पूरी तरह से काम कर सकता है, इसलिए दो स्वस्थ किडनी वाला कोई रिश्तेदार आपको उनमें से एक देने का फैसला कर सकता है।

इस घटना में कि आपके रिश्तेदार का रक्त और ऊतक आपके रक्त और ऊतकों से मेल खाते हैं, आप एक नियोजित दान निर्धारित कर सकते हैं।

किसी रिश्तेदार से किडनी लेना एक अच्छा विकल्प है। यह खतरे को कम करता है कि आपका शरीर गुर्दे को अस्वीकार कर देगा, और यह आपको मृत दाता के लिए बहुवर्षीय प्रतीक्षा सूची को बायपास करने का अधिकार देता है।

मृतक दाता

मृत दाताओं को कैडेवर डोनर भी कहा जाता है, जो विशेष रूप से किसी बीमारी के बजाय दुर्घटना के कारण मर जाते हैं। या तो दाता या उनके परिवार ने अपने अंगों और ऊतकों को दान करने के लिए चुना है।

लेकिन अगर गुर्दा असंबंधित दाता से है, तो शरीर इसे अस्वीकार कर सकता है। लेकिन फिर भी मृतक से गुर्दा प्राप्त करना बेहतर विकल्प है यदि रिश्तेदार या मित्र गुर्दा दान करने के इच्छुक या सक्षम नहीं हैं।

living-donor

मिलान प्रक्रिया

रक्त प्रकार (ए, बी, एबी, या ओ) और आपके मानव ल्यूकोसाइट एंटीजन (एचएलए) को निर्धारित करने के लिए प्रारंभ में रोगी का मूल्यांकन स्थानांतरण के लिए किया जाता है। एचएलए आपके श्वेत रक्त कोशिकाओं की सतह पर स्थित एंटीजन का एक समूह है। एंटीजन आपके शरीर की प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया के लिए जिम्मेदार होते हैं।

यदि रोगी का एचएलए प्रकार दाता के एचएलए प्रकार के साथ समन्वय करता है, तो यह अधिक संभावना है कि शरीर गुर्दे को अस्वीकार नहीं करेगा। प्रत्येक व्यक्ति में छह प्रतिजन होते हैं, प्रत्येक जैविक माता-पिता से तीन। जितने अधिक एंटीजन रोगियों में दाता से मेल खाते हैं, एक सफल प्रत्यारोपण की संभावना उतनी ही अधिक होती है।

जब एक संभावित दाता की पहचान की जाती है, तो रोगी को यह सुनिश्चित करने के लिए एक और परीक्षण की आवश्यकता होगी कि आपके एंटीबॉडी दाता के अंग पर हमला नहीं करेंगे। यह आपके रक्त की थोड़ी मात्रा को दाता के रक्त में मिलाकर किया जाता है।

हालांकि, प्रत्यारोपण संभव नहीं है यदि रोगी का रक्त दाता के रक्त के प्रति एंटीबॉडी बनाता है।

यदि रोगी का रक्त कोई एंटीबॉडी प्रतिक्रिया नहीं दिखाता है, तो "नकारात्मक क्रॉसमैच" होता है। जिसका मतलब है कि प्रत्यारोपण आगे बढ़ सकता है।

आप कैसे तैयारी करते हैं?

प्रत्यारोपण केंद्र चुनना

अगर डॉक्टर किडनी ट्रांसप्लांट की सलाह देते हैं, तो आपको ट्रांसप्लांट सेंटर भेजा जाएगा। आपको अपनी पसंद के प्रत्यारोपण केंद्र का चयन करने या अपनी बीमा कंपनी की पसंदीदा प्रदाताओं की सूची में से एक केंद्र चुनने की भी अनुमति है।

जब आप प्रत्यारोपण केंद्रों पर विचार करते हैं, तो आप निम्न कार्य कर सकते हैं:

• केंद्र द्वारा प्रत्येक वर्ष किए जाने वाले प्रत्यारोपणों की संख्या और प्रकार के बारे में जानें

• प्रत्यारोपण केंद्र के गुर्दा प्रत्यारोपण के जीवित रहने की दर के बारे में जानें

• प्रत्यारोपण प्राप्तकर्ताओं की वैज्ञानिक रजिस्ट्री द्वारा अनुरक्षित डेटाबेस के माध्यम से प्रत्यारोपण केंद्र के आंकड़ों की तुलना करें

• पता करें कि क्या केंद्र विभिन्न दान कार्यक्रम प्रदान करता है जो आपके जीवित-दाता गुर्दा प्राप्त करने की संभावनाओं को बढ़ा सकते हैं

आप भी विचार कर सकते हैं:

• आपके प्रत्यारोपण से पहले, उसके दौरान और बाद में होने वाली लागतें। लागत में परीक्षण, अंग खरीद, सर्जरी, अस्पताल में रहने और प्रक्रिया और अनुवर्ती नियुक्तियों के लिए केंद्र से परिवहन और परिवहन शामिल होगा।

• प्रत्यारोपण केंद्र द्वारा प्रदान की जाने वाली अन्य सेवाएं, जैसे सहायता समूह, यात्रा व्यवस्था, आपकी वसूली अवधि के लिए स्थानीय आवास और अन्य संसाधनों के लिए रेफरल।

• नवीनतम प्रत्यारोपण प्रौद्योगिकी और तकनीकों को बनाए रखने के लिए केंद्र की प्रतिबद्धता, जो इंगित करती है कि कार्यक्रम बढ़ रहा है।

मूल्यांकन

एक प्रत्यारोपण केंद्र चुनने के बाद, आपको यह तय करने के लिए मूल्यांकन किया जाएगा कि आप गुर्दा प्रत्यारोपण के लिए केंद्र की पात्रता आवश्यकताओं को पूरा करते हैं या नहीं।

प्रत्यारोपण केंद्र की टीम मूल्यांकन करेगी कि क्या आप:

• चिकित्सा प्रक्रिया के लिए पर्याप्त रूप से स्वस्थ हैं और प्रत्यारोपण के बाद की दवाओं को आजीवन सहन कर सकते हैं

• ऐसी कोई चिकित्सीय स्थिति है जो प्रत्यारोपण की सफलता में बाधा उत्पन्न करती है

• निर्देशानुसार दवाएं लेने के लिए तैयार हैं और प्रत्यारोपण टीम के सुझावों का पालन करने के लिए तैयार हैं

मूल्यांकन प्रक्रिया में कई दिन लग सकते हैं और इसमें शामिल हैं:

• पूरी तरह से शारीरिक परीक्षा

• इमेजिंग अध्ययन, जैसे एक्स-रे, एमआरआई या सीटी स्कै

• रक्त परीक्षण

• मनोवैज्ञानिक मूल्यांकन

• आपके डॉक्टर द्वारा निर्धारित कोई अन्य आवश्यक परीक्षण

आपके मूल्यांकन के बाद, आपकी प्रत्यारोपण टीम आपके साथ परिणामों की जांच करेगी और आपको बताएगी कि क्या आपको गुर्दा प्रत्यारोपण उम्मीदवार के रूप में स्वीकार किया गया है। प्रत्येक प्रत्यारोपण केंद्र का अपना पात्रता मानदंड होता है। यदि आपको एक प्रत्यारोपण केंद्र में स्वीकार नहीं किया जाता है, तो आप दूसरों के लिए आवेदन कर सकते हैं।

मुकाबला और समर्थन

प्रत्यारोपण की प्रतीक्षा करते समय या बर्खास्तगी, काम पर वापस आने या प्रत्यारोपण के बाद अन्य मुद्दों के बारे में डरने के लिए यह पूरी तरह से बेचैन या प्रबल महसूस करने की उम्मीद है। प्रियजनों की मदद की तलाश आपको इस परेशान समय के दौरान अनुकूलित करने में मदद कर सकती है।

आपकी प्रत्यारोपण टीम अन्य उपयोगी संसाधनों और प्रत्यारोपण प्रक्रिया के दौरान रणनीतियों का मुकाबला करने में भी आपकी सहायता कर सकती है, जैसे:

• प्रत्यारोपण प्राप्तकर्ताओं के लिए एक सहायता समूह में शामिल होना: जिन लोगों ने आपका अनुभव साझा किया है, उनके साथ बात करने से भय और चिंता कम हो सकती है।

• सोशल मीडिया पर अपने अनुभव साझा करना: ऐसे अन्य लोगों के साथ जुड़ना जिनके पास समान अनुभव है, आपको अपनी बदलती स्थिति में समायोजित करने में मदद कर सकते हैं।

• पुनर्वास सेवाएं ढूंढना: यदि आप काम पर लौट रहे हैं, तो आपका सामाजिक कार्यकर्ता आपको आपके गृह राज्य के व्यावसायिक पुनर्वास विभाग द्वारा प्रदान की जाने वाली पुनर्वास सेवाओं से जोड़ सकता है।

• यथार्थवादी लक्ष्य और अपेक्षाएं निर्धारित करना: पहचानें कि प्रत्यारोपण के बाद का जीवन बिल्कुल वैसा नहीं हो सकता जैसा प्रत्यारोपण से पहले का जीवन होता है। परिणामों और पुनर्प्राप्ति समय के बारे में यथार्थवादी अपेक्षाएं रखने से तनाव कम करने में मदद मिल सकती है।

• स्वयं को शिक्षित करना: अपनी प्रक्रिया के बारे में जितना हो सके सीखें, और उन चीजों के बारे में प्रश्न पूछें जिन्हें आप नहीं समझते हैं। ज्ञान शक्ति प्रदान करता है।

किडनी प्रत्यारोपण कैसे किया जाता है?

यदि आप किसी जीवित दाता से गुर्दा प्राप्त कर रहे हैं तो आपका डॉक्टर प्रत्यारोपण को पहले से निर्धारित कर सकता है।

हालांकि, यदि आप एक मृत दाता की प्रतीक्षा कर रहे हैं जो आपके ऊतक प्रकार के लिए एक करीबी मैच है, तो आपको दाता की पहचान होने पर एक पल की सूचना पर अस्पताल जाने के लिए उपलब्ध होना होगा। कई प्रत्यारोपण अस्पताल अपने लोगों को पेजर या सेल फोन देते हैं ताकि उन तक जल्दी पहुंचा जा सके।

एक बार जब आप प्रत्यारोपण केंद्र में पहुंच जाते हैं, तो आपको एंटीबॉडी परीक्षण के लिए अपने रक्त का एक नमूना देना होगा। यदि परिणाम एक नकारात्मक क्रॉसमैच है, तो आपको सर्जरी के लिए मंजूरी दे दी जाएगी।

सामान्य संज्ञाहरण के तहत एक गुर्दा प्रत्यारोपण किया जाता है। इसमें आपको एक दवा देना शामिल है जो आपको सर्जरी के दौरान सुलाती है। संवेदनाहारी को आपके हाथ या बांह में एक अंतःशिरा (IV) लाइन के माध्यम से आपके शरीर में इंजेक्ट किया जाएगा।

एक बार जब आप सो जाते हैं, तो आपका डॉक्टर आपके पेट में एक चीरा लगाता है और दाता की किडनी को अंदर रखता है। फिर वे गुर्दे से धमनियों और नसों को आपकी धमनियों और नसों से जोड़ते हैं। इससे नई किडनी से खून बहने लगेगा।

आपका डॉक्टर नए गुर्दे के मूत्रवाहिनी को आपके मूत्राशय से भी जोड़ देगा ताकि आप सामान्य रूप से पेशाब कर सकें। मूत्रवाहिनी वह ट्यूब है जो आपके गुर्दे को आपके मूत्राशय से जोड़ती है।

आपका डॉक्टर आपके मूल गुर्दे को आपके शरीर में तब तक छोड़ देगा जब तक कि वे उच्च रक्तचाप या संक्रमण जैसी समस्याएं पैदा नहीं कर रहे हों।

kidney-transplant

सर्जरी के बाद देखभाल

आप एक रिकवरी रूम में जागेंगे। अस्पताल के कर्मचारी आपके महत्वपूर्ण संकेतों की निगरानी तब तक करेंगे जब तक वे सुनिश्चित नहीं हो जाते कि आप जाग रहे हैं और स्थिर हैं। फिर, वे आपको अस्पताल के एक कमरे में स्थानांतरित कर देंगे।

यहां तक ​​​​कि अगर आप अपने प्रत्यारोपण के बाद बहुत अच्छा महसूस करते हैं (कई लोग करते हैं), तो आपको सर्जरी के बाद एक सप्ताह तक अस्पताल में रहने की आवश्यकता होगी।

आपकी नई किडनी शरीर से अपशिष्ट को तुरंत साफ करना शुरू कर सकती है, या इसे काम करना शुरू करने में कुछ सप्ताह तक का समय लग सकता है। परिवार के सदस्यों द्वारा दान की गई किडनी आमतौर पर असंबंधित या मृत दाताओं की किडनी की तुलना में अधिक तेजी से काम करना शुरू कर देती है।

जब आप पहली बार उपचार कर रहे हों तो आप चीरा स्थल के पास दर्द और दर्द के अच्छे सौदे की उम्मीद कर सकते हैं। जब आप अस्पताल में हों, तो आपके डॉक्टर जटिलताओं के लिए आपकी निगरानी करेंगे। वे आपके शरीर को नई किडनी को अस्वीकार करने से रोकने के लिए आपको इम्यूनोसप्रेसेन्ट दवाओं के सख्त शेड्यूल पर भी डालेंगे। आपके शरीर को दाता की किडनी को अस्वीकार करने से रोकने के लिए आपको हर दिन इन दवाओं को लेने की आवश्यकता होगी।

अस्पताल छोड़ने से पहले, आपकी प्रत्यारोपण टीम आपको विशिष्ट निर्देश देगी कि आपकी दवाएं कैसे और कब लेनी हैं। सुनिश्चित करें कि आप इन निर्देशों को समझते हैं, और जितने आवश्यक हो उतने प्रश्न पूछें। सर्जरी के बाद आपके डॉक्टर आपके लिए एक चेकअप शेड्यूल भी बनाएंगे।

छुट्टी मिलने के बाद, आपको अपनी प्रत्यारोपण टीम के साथ नियमित मुलाकातें करनी होंगी ताकि वे मूल्यांकन कर सकें कि आपकी नई किडनी कितनी अच्छी तरह काम कर रही है।

आपको निर्देशानुसार अपनी प्रतिरक्षादमनकारी दवाएं लेने की आवश्यकता होगी। आपका डॉक्टर संक्रमण के जोखिम को कम करने के लिए अतिरिक्त दवाएं भी लिखेगा। अंत में, आपको चेतावनी के संकेतों के लिए खुद की निगरानी करने की आवश्यकता होगी कि आपके शरीर ने गुर्दे को खारिज कर दिया है। इनमें दर्द, सूजन और फ्लू जैसे लक्षण शामिल हैं।

सर्जरी के बाद पहले एक से दो महीने तक आपको नियमित रूप से अपने डॉक्टर से संपर्क करना होगा। आपके ठीक होने में लगभग छह महीने लग सकते हैं।

गुर्दा प्रत्यारोपण के जोखिम क्या हैं?

किडनी ट्रांसप्लांट एक बड़ी सर्जरी है। इसलिए, यह जोखिम उठाता है:

• सामान्य संज्ञाहरण से एलर्जी की प्रतिक्रिया

• खून बह रहा है

• खून के थक्के

• मूत्रवाहिनी से रिसाव

• मूत्रवाहिनी की रुकावट

• एक संक्रमण

• दान की गई किडनी की अस्वीकृति

• दान की गई गुर्दा की विफलता

• दिल का दौरा

• एक ही झटके

• यदि आप चीरा स्थल पर असामान्य दर्द या अपने मूत्र की मात्रा में परिवर्तन देखते हैं, तो अपनी प्रत्यारोपण टीम को सूचित करें।

सर्जरी के बाद आपको जिन इम्यूनोसप्रेसेन्ट दवाओं का सेवन करना चाहिए, उनके कुछ अप्रिय दुष्प्रभाव भी हो सकते हैं। इनमें शामिल हो सकते हैं:

• भार बढ़ना

• हड्डी का पतला होना

• बालों की वृद्धि में वृद्धि

• मुँहासे

• कुछ विशेष प्रकार के त्वचा कैंसर और गैर-हॉजकिन लिंफोमा विकसित होने का उच्च जोखिम

इन दुष्प्रभावों को विकसित करने के अपने जोखिमों के बारे में अपने डॉक्टर से बात करें।

गुर्दा समारोह परीक्षण का अवलोकन

आपकी रीढ़ की हड्डी के दोनों ओर दो गुर्दे हैं जो लगभग एक मानव मुट्ठी के आकार के हैं। वे आपके पेट के पीछे और आपके पसली पिंजरे के नीचे स्थित हैं।

आपके गुर्दे आपके स्वास्थ्य को बनाए रखने में कई महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। उनके सबसे महत्वपूर्ण कार्यों में से एक रक्त से अपशिष्ट पदार्थों को छानना और उन्हें मूत्र के रूप में शरीर से बाहर निकालना है। गुर्दे शरीर में पानी और विभिन्न आवश्यक खनिजों के स्तर को नियंत्रित करने में भी मदद करते हैं। इसके अलावा, वे के उत्पादन के लिए महत्वपूर्ण हैं:

• विटामिन डी

• लाल रक्त कोशिकाओं

• रक्तचाप को नियंत्रित करने वाले हार्मोन

यदि आपके डॉक्टर को लगता है कि आपकी किडनी ठीक से काम नहीं कर रही है, तो आपको किडनी फंक्शन टेस्ट की आवश्यकता हो सकती है। ये साधारण रक्त और मूत्र परीक्षण हैं जो आपके गुर्दे की समस्याओं की पहचान कर सकते हैं।

यदि आपके पास अन्य स्थितियां हैं जो गुर्दे को नुकसान पहुंचा सकती हैं, जैसे मधुमेह या उच्च रक्तचाप, तो आपको गुर्दा समारोह परीक्षण की भी आवश्यकता हो सकती है। वे डॉक्टरों को इन स्थितियों की निगरानी करने में मदद कर सकते हैं।

किडनी फंक्शन टेस्ट के प्रकार

आपके गुर्दा समारोह का परीक्षण करने के लिए, आपका डॉक्टर परीक्षणों के एक सेट का आदेश देगा जो आपके ग्लोमेरुलर निस्पंदन दर (जीएफआर) का अनुमान लगा सकता है। आपका जीएफआर आपके डॉक्टर को बताता है कि आपके गुर्दे कितनी जल्दी आपके शरीर से कचरा साफ कर रहे हैं।

मूत्र-विश्लेषण

मूत्र में प्रोटीन और रक्त की उपस्थिति के लिए एक यूरिनलिसिस स्क्रीन। आपके मूत्र में प्रोटीन के कई संभावित कारण हैं, जिनमें से सभी रोग से संबंधित नहीं हैं। संक्रमण मूत्र प्रोटीन को बढ़ाता है, लेकिन ऐसा भारी शारीरिक कसरत भी करता है। परिणाम समान हैं या नहीं यह देखने के लिए आपका डॉक्टर कुछ हफ्तों के बाद इस परीक्षण को दोहराना चाह सकता है।

आपका डॉक्टर आपको 24 घंटे का मूत्र संग्रह नमूना प्रदान करने के लिए भी कह सकता है। इससे डॉक्टरों को यह देखने में मदद मिल सकती है कि आपके शरीर से क्रिएटिनिन नामक अपशिष्ट उत्पाद कितनी तेजी से निकल रहा है। क्रिएटिनिन मांसपेशियों के ऊतकों का टूटने वाला उत्पाद है।

24 घंटे का मूत्र नमूना एक क्रिएटिनिन निकासी परीक्षण है। यह आपके डॉक्टर को एक विचार देता है कि आपका शरीर एक दिन में कितना क्रिएटिनिन निकालता है। जिस दिन आप परीक्षण शुरू करते हैं, उस दिन शौचालय में पेशाब करें जैसा कि आप सामान्य रूप से उठते समय करते हैं। शेष दिन और रात के लिए, अपने चिकित्सक द्वारा प्रदान किए गए एक विशेष कंटेनर में पेशाब करें। संग्रह प्रक्रिया के दौरान कंटेनर को ढक कर रखें और प्रशीतित करें। कंटेनर को स्पष्ट रूप से लेबल करना सुनिश्चित करें। दूसरे दिन की सुबह उठते ही बर्तन में पेशाब कर दें। यह 24 घंटे की संग्रह प्रक्रिया को पूरा करता है। नमूना कहां छोड़ना है, इस बारे में अपने डॉक्टर के निर्देशों का पालन करें। आपको इसे अपने डॉक्टर के कार्यालय या प्रयोगशाला में वापस करने की आवश्यकता हो सकती है।

सीरम क्रिएटिनिन टेस्ट

यह रक्त परीक्षण यह जांचता है कि आपके रक्त में क्रिएटिनिन का निर्माण हो रहा है या नहीं। गुर्दे आमतौर पर रक्त से क्रिएटिनिन को पूरी तरह से फ़िल्टर करते हैं। क्रिएटिनिन का उच्च स्तर गुर्दे की समस्या का सुझाव देता है।

नेशनल किडनी फाउंडेशन (एनकेएफ) के अनुसार, महिलाओं के लिए 1.2 मिलीग्राम / डेसीलीटर (मिलीग्राम / डीएल) से अधिक क्रिएटिनिन स्तर और पुरुषों के लिए 1.4 मिलीग्राम / डीएल गुर्दे की समस्या का संकेत है।

रक्त यूरिया नाइट्रोजन (बीयूएन)

रक्त यूरिया नाइट्रोजन (बीयूएन) परीक्षण आपके रक्त में अपशिष्ट उत्पादों की भी जांच करता है। BUN परीक्षण रक्त में नाइट्रोजन की मात्रा को मापते हैं। यूरिया नाइट्रोजन प्रोटीन का टूटने वाला उत्पाद है।

हालांकि, सभी उन्नत बीयूएन परीक्षण गुर्दे की क्षति के कारण नहीं होते हैं। एस्पिरिन की बड़ी खुराक और कुछ प्रकार के एंटीबायोटिक्स सहित सामान्य दवाएं भी आपके BUN को बढ़ा सकती हैं। अपने चिकित्सक को किसी भी दवा या पूरक के बारे में बताना महत्वपूर्ण है जो आप नियमित रूप से लेते हैं। आपको परीक्षण से पहले कुछ दिनों के लिए कुछ दवाओं को बंद करने की आवश्यकता हो सकती है।

एक सामान्य BUN स्तर 7 और 20 mg/dL के बीच होता है। एक उच्च मूल्य कई अलग-अलग स्वास्थ्य समस्याओं का सुझाव दे सकता है।

बीयूएन और सीरम क्रिएटिनिन परीक्षणों के लिए प्रयोगशाला या डॉक्टर के कार्यालय में लिए गए रक्त के नमूनों की आवश्यकता होती है। रक्त खींचने वाला तकनीशियन पहले आपकी ऊपरी बांह के चारों ओर एक इलास्टिक बैंड बांधता है। यह नसों को बाहर खड़ा करता है। तकनीशियन तब नस के ऊपर के क्षेत्र को साफ करता है। वे आपकी त्वचा के माध्यम से और नस में एक खोखली सुई को खिसकाते हैं। रक्त एक टेस्ट ट्यूब में वापस प्रवाहित होगा जिसे विश्लेषण के लिए भेजा जाएगा। जब सुई आपकी बांह में प्रवेश करती है तो आपको तेज चुटकी या चुभन महसूस हो सकती है। तकनीशियन परीक्षण के बाद पंचर साइट पर धुंध और एक पट्टी लगाएगा। अगले कुछ दिनों में पंचर के आसपास के क्षेत्र में चोट लग सकती है। हालांकि, आपको गंभीर या दीर्घकालिक दर्द महसूस नहीं करना चाहिए।

अनुमानित जीएफआर

यह परीक्षण अनुमान लगाता है कि आपके गुर्दे कचरे को कितनी अच्छी तरह छान रहे हैं। परीक्षण कारकों को देखकर दर निर्धारित करता है, जैसे:

• परीक्षण के परिणाम, विशेष रूप से क्रिएटिनिन का स्तर

• उम्र

• लिंग

• दौड़

• ऊंचाई

• वजन

60 मिलीलीटर/मिनट/1.73m2 से कम का कोई भी परिणाम गुर्दे की बीमारी का चेतावनी संकेत हो सकता है।

प्रारंभिक किडनी रोग का उपचार

यदि परीक्षण प्रारंभिक किडनी रोग दिखाते हैं तो आपका डॉक्टर अंतर्निहित स्थिति के इलाज पर ध्यान केंद्रित करेगा। यदि परीक्षण उच्च रक्तचाप का संकेत देते हैं तो आपका डॉक्टर रक्तचाप को नियंत्रित करने के लिए दवाएं लिखेंगे। वे जीवन शैली और आहार संशोधनों का भी सुझाव देंगे।

यदि आपको मधुमेह है, तो आपका डॉक्टर आपको एंडोक्रिनोलॉजिस्ट को दिखाना चाह सकता है। इस प्रकार का डॉक्टर चयापचय रोगों में माहिर होता है और यह सुनिश्चित करने में मदद कर सकता है कि आपके पास रक्त शर्करा का सर्वोत्तम नियंत्रण संभव है।

यदि आपके असामान्य गुर्दा कार्य परीक्षण के अन्य कारण हैं, जैसे कि गुर्दे की पथरी और दर्द निवारक दवाओं का अत्यधिक उपयोग, तो आपका डॉक्टर उन विकारों के प्रबंधन के लिए उचित उपाय करेगा।

असामान्य परीक्षण के परिणाम का मतलब है कि आपको आने वाले महीनों में नियमित रूप से गुर्दे के कार्य परीक्षण की आवश्यकता होगी। ये आपके डॉक्टर को आपकी स्थिति पर नजर रखने में मदद करेंगे।

परिणाम

एक सफल गुर्दा प्रत्यारोपण के बाद, आपका नया गुर्दा आपके रक्त को फ़िल्टर करेगा, और आपको अब डायलिसिस की आवश्यकता नहीं होगी।

आपके शरीर को आपके डोनर किडनी को अस्वीकार करने से रोकने के लिए, आपको अपनी प्रतिरक्षा प्रणाली को दबाने के लिए दवाओं की आवश्यकता होगी। चूंकि ये एंटी-रिजेक्शन दवाएं आपके शरीर को संक्रमण के प्रति अधिक संवेदनशील बनाती हैं, इसलिए आपका डॉक्टर एंटीबैक्टीरियल, एंटीवायरल और एंटीफंगल दवाएं भी लिख सकता है।

अपनी सभी दवाएं लेना महत्वपूर्ण है जैसा कि आपका डॉक्टर निर्धारित करता है। यदि आप अपनी दवाओं को थोड़े समय के लिए भी छोड़ देते हैं तो आपका शरीर आपकी नई किडनी को अस्वीकार कर सकता है। अपनी दवा लेने से रोकने वाले साइड इफेक्ट होने पर तुरंत अपनी प्रत्यारोपण टीम से संपर्क करें।

आपके प्रत्यारोपण के बाद, त्वचा कैंसर की जांच के लिए त्वचा की स्वयं जांच और त्वचा विशेषज्ञ के साथ जांच और अपने अन्य कैंसर की जांच को अप-टू-डेट रखने की जोरदार सलाह दी जाती है।

आहार और पोषण

आपके गुर्दा प्रत्यारोपण के बाद, आपको अपनी नई गुर्दा को स्वस्थ और अच्छी तरह से काम करने के लिए अपने आहार को समायोजित करने की आवश्यकता हो सकती है। यदि आप अपने प्रत्यारोपण से पहले डायलिसिस चिकित्सा प्राप्त कर रहे थे, तो आपके पास कम आहार प्रतिबंध होंगे, लेकिन आपको अभी भी कुछ आहार परिवर्तन करने की आवश्यकता हो सकती है।

आपकी प्रत्यारोपण टीम में एक पोषण विशेषज्ञ (आहार विशेषज्ञ) शामिल है जो आपके पोषण और आहार की जरूरतों पर चर्चा कर सकता है और आपके प्रत्यारोपण के बाद आपके किसी भी प्रश्न का उत्तर दे सकता है।

आपकी कुछ दवाएं आपकी भूख बढ़ा सकती हैं और वजन बढ़ाना आसान बना सकती हैं। लेकिन आहार और व्यायाम के माध्यम से स्वस्थ वजन तक पहुंचना और उसे बनाए रखना प्रत्यारोपण प्राप्तकर्ताओं के लिए उतना ही महत्वपूर्ण है जितना कि अन्य सभी के लिए हृदय रोग, उच्च रक्तचाप और मधुमेह के जोखिम को कम करना है।

आपको इस बात पर नज़र रखने की आवश्यकता हो सकती है कि आप कितनी कैलोरी का सेवन करते हैं या चीनी और वसा वाले खाद्य पदार्थों को सीमित करते हैं।

आपका आहार विशेषज्ञ आपको अपनी पोषण योजना में उपयोग करने के लिए कई स्वस्थ भोजन विकल्प और विचार भी प्रदान करेगा। गुर्दा प्रत्यारोपण के बाद आपके आहार विशेषज्ञ की सिफारिशों में शामिल हो सकते हैं:

• प्रतिदिन कम से कम पांच बार फल और सब्जियां खाना

• इम्यूनोसप्रेशन दवाओं (कैल्सीनुरिन इनहिबिटर) के एक समूह पर इसके प्रभाव के कारण अंगूर और अंगूर के रस से बचना

• अपने दैनिक आहार में पर्याप्त फाइबर होना

• कम वसा वाला दूध पीना या अन्य कम वसा वाले डेयरी उत्पाद खाना, जो इष्टतम कैल्शियम और फास्फोरस के स्तर को बनाए रखने के लिए महत्वपूर्ण है

• लीन मीट, पोल्ट्री और मछली खाना

आपका आहार विशेषज्ञ भी सिफारिश कर सकता है:

• कम नमक और कम वसा वाला आहार बनाए रखना

• खाद्य सुरक्षा दिशानिर्देशों का पालन करना

• हर दिन पर्याप्त पानी और अन्य तरल पदार्थ पीकर हाइड्रेटेड रहना

व्यायाम

जब आप अपनी प्रत्यारोपण सर्जरी से ठीक हो जाते हैं, तो व्यायाम और शारीरिक गतिविधि आपके समग्र शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य में सुधार लाने के लिए आपके जीवन का एक मानक हिस्सा होना चाहिए।

एक प्रत्यारोपण के बाद, नियमित व्यायाम ऊर्जा के स्तर का समर्थन करने और ताकत बढ़ाने में मदद करता है। यह आपको स्वस्थ वजन बनाए रखने, दबाव कम करने और उच्च रक्तचाप और कोलेस्ट्रॉल के स्तर जैसी सामान्य पोस्ट-ट्रांसप्लांट जटिलताओं को रोकने में भी मदद करता है।

आपकी प्रत्यारोपण टीम आपकी व्यक्तिगत आवश्यकताओं और उद्देश्यों के आधार पर एक सक्रिय कार्य कार्यक्रम का सुझाव देगी।

जल्द ही आपका प्रत्यारोपण, आपको जितना हो सके उतना चलना चाहिए। स्थिर रूप से, अपने दैनिक जीवन में अधिक वास्तविक कार्य को समेकित करना शुरू करें, जिसमें प्रति सप्ताह पांच दिन कम से कम 30 मिनट के मध्यम व्यायाम में भाग लेना शामिल है।

चलना, साइकिल चलाना, तैरना, कम प्रभाव वाली शक्ति प्रशिक्षण और अन्य शारीरिक गतिविधियाँ जिनका आप आनंद लेते हैं, ये सभी प्रत्यारोपण के बाद एक स्वस्थ, सक्रिय जीवन शैली का हिस्सा हो सकते हैं। लेकिन अपने पोस्ट-ट्रांसप्लांट व्यायाम दिनचर्या को शुरू करने या बदलने से पहले अपनी प्रत्यारोपण टीम के साथ जांच करना सुनिश्चित करें।

exercise

स्वस्थ किडनी के लिए टिप्स

यदि आपको मधुमेह का निदान किया गया है, तो कुछ ऐसे कदम हैं जिनसे आप अपने गुर्दे की देखभाल कर सकते हैं जिससे मधुमेह अपवृक्कता के जोखिम को कम किया जा सकता है।

• अपने रक्त शर्करा के स्तर को उनकी लक्षित सीमा के भीतर बनाए रखें।

• अपने रक्तचाप को प्रबंधित करें और उच्च रक्तचाप का इलाज कराएं।

• यदि आप धूम्रपान करते हैं, तो इसे छोड़ दें। अपने चिकित्सक के साथ काम करें यदि आपको धूम्रपान बंद करने की योजना को खोजने और उससे चिपके रहने में सहायता की आवश्यकता है।

• यदि आप अधिक वजन वाले या मोटे हैं तो वजन कम करें।

• ऐसा स्वस्थ आहार बनाए रखें जिसमें सोडियम की मात्रा कम हो। ताजा या जमी हुई उपज, लीन मीट, साबुत अनाज और स्वस्थ वसा खाने पर ध्यान दें और प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थों का सेवन सीमित करें जो नमक और खाली कैलोरी से बना हो।

• नियमित रूप से व्यायाम करें। धीरे-धीरे शुरू करें और अपने लिए सबसे अच्छा व्यायाम कार्यक्रम निर्धारित करने के लिए अपने डॉक्टर के साथ काम करना सुनिश्चित करें। व्यायाम आपको स्वस्थ वजन बनाए रखने और आपके रक्तचाप को कम करने में मदद कर सकता है।




उपर ब्लॉग में बताई गई उपलब्धिया AFD-SHIELD के साथ उपलब्ध हैं
एएफडी शील्ड कैप्सूल 12 प्राकृतिक अवयवों का एक संयोजन है जिनमें से अलगल डीएचए, अश्वगंधा, करक्यूमिन और स्पिरुलिना हैं। एएफडी शील्ड टीजी को कम करता है, एचडीएल बढ़ाता है और उम्र से संबंधित संज्ञानात्मक गिरावट में सुधार करता है। यह तनाव और चिंता को भी कम करता है और एंटी-एजिंग गतिविधि करता है। इसके अलावा, यह इम्युनोमॉड्यूलेटरी गतिविधि को बढ़ाता है, प्रतिरक्षा में सुधार करता है और सूजन और ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करता है। न्यूट्रोग्लिग्क्स: एएफडी-शील्ड

AFDIL Ltd.
+91 9920121021

order@afdil.com

Read Also:


Disclaimer
Home