Chronic Kidney Disease

Kidney Function Test

Overview

On either side of your spine, you have two kidneys, each about the size of a human fist. They are underneath your rib cage and posterior to your abdomen.

Your kidneys play a number of important roles in your overall health. Filtering waste materials from the blood and excreting them as urine is one of their most critical duties. The kidneys also aid in the regulation of water and other vital elements in the body. They are also necessary for the creation of:
1. D-vitamin
2. Cells of the blood
3. Blood pressure-controlling hormones
Kidney function tests may be required if your doctor suspects that your kidneys aren't functioning properly. These are easy blood and urine tests that can help you figure out if you have a kidney disease.
If you have additional disorders that can impair your kidneys, such as diabetes or high blood pressure, you may need renal function tests. They can assist doctors in keeping track of these problems.
Kidney function tests are straightforward procedures that use blood or urine to determine kidney problems. A variety of renal function tests are available to look at various areas of kidney function. If the kidneys are filtering waste items too slowly, a kidney function test may be performed. Another test may be performed to see whether the kidneys are leaking proteins into the urine.
Kidney function tests examine different elements of kidney function in the blood or urine. To acquire a better picture of total kidney function, doctors frequently order many tests at the same time. The kidneys are critical to the body's overall health. Their primary function is to filter waste materials from the blood and excrete them through the urine. Kidney disease can make it difficult for the kidneys to filter waste effectively, allowing it to accumulate in the body and create hazardous symptoms. Regular testing may aid in the early detection of concerns such as renal disease, allowing the disease's progression to be slowed. Other procedures, such as imaging tests or a biopsy, may be ordered by doctors to learn more about the kidney.

Kidney disease symptoms

The following signs and symptoms may suggest a kidney problem:

1. Blood pressure that is too high
2. Urine with blood in it
3. Urge to urinate frequently.
4. It is difficult to start urinating.
5. Urinating that hurts.
6. Due to a build-up of fluids in the body, the hands and feet enlarge.
A single symptom may or may not indicate a serious condition. When these symptoms appear at the same time, it is a sign that your kidneys are not performing properly. Kidney function testing can assist figure out what is going on.

Different types of Kidney function tests

Your doctor will schedule a series of tests to determine your glomerular filtration rate in order to assess your kidney function (GFR). Your GFR indicates how rapidly your kidneys are removing waste from your body to your doctor. Urinalysis

Kidney Function Test

A urinalysis examines the urine for the presence of protein and blood. Protein in your urine can be caused by a variety of factors, not all of which are related to disease. Infection raises urine protein levels, but so does a strenuous workout. If the results are similar after a few weeks, your doctor may wish to repeat the test.

Urine tests may demand a little sample of urine or all of a person's urine produced in a 24-hour period. This can help doctors figure out how quickly a waste product called creatinine leaves your body. Creatinine is a by-product of muscle tissue degradation.

Urinalysis is a wide urine test that helps doctors diagnose underlying problems or decide which test to perform next. Urinalysis can assist discover a variety of unwanted particles in the urine, including:
1. Saline
2. Microorganisms
3. Pus
4. Sugar
5. Protein

If you test positive for one or more of these particles, it could mean you have an underlying problem, such as:
1. Infections of the kidneys or bladder
2. Renal failure
3. Diabetes Kidney Stones

A 24-hour urine sample is a creatinine clearance test. It gives your doctor an idea of how much creatinine your body expels over a single day. On the day that you start the test, urinate into the toilet as you normally would when you wake up.

For the rest of the day and night, urinate into a special container provided by your doctor. Keep the container capped and refrigerated during the collection process. Make sure to label the container clearly and to tell other family members why it’s in the refrigerator.

On the morning of the second day, urinate into the container when you get up. This completes the 24-hour collection process. A creatinine clearance test is performed on a 24-hour urine sample. It tells your doctor how much creatinine your body excretes in a single day. Follow your doctor's instructions for dropping off the sample. It is possible that you'll need to return it to your doctor's office or a laboratory.

GFR (Glomerular Filtration Rate) (mathematical formula utilising the MDRD or CKD-EPI equation): This test determines how successfully the kidneys filter wastes and extra fluid from the blood. It's computed by taking the blood creatinine level and multiplying it by your age and gender, plus an adjustment for those of African origin. The normal GFR varies with age (as you get older it can decrease). GFR should be 90 or more in order to be considered normal. A GFR of less than 60 indicates that the kidneys are not functioning properly. Once the GFR falls below 15, a person is at a high risk of needing dialysis or a kidney transplant to treat renal failure.

Kidney Function Test

Tests for microalbuminuria or the albumin-to-creatine ratio
A tiny urine sample is required for these two tests. They both aid in the detection of albumin levels in the urine. Albumin is a vital protein found in the blood. Albumin does not pass through a healthy kidney into the urine. Albumin is excreted in the urine by a damaged kidney. If the kidneys are leaking too much albumin into the urine, it could mean they aren't completing their job properly. The lower the albumin concentration in your urine, the better. Albuminuria is the presence of albumin in the urine.
A urine albumin concentration of 30 mg/g or less is considered normal. Any number higher than this could indicate renal disease. The microalbuminuria test is far more sensitive, detecting even minute levels of protein in the urine. Even if other urine protein tests come out negative, people at increased risk for renal disease may need to have a microalbuminuria test.

Dipstick test for albumin: Albumin can be detected with a dipstick test. A urine sample is used to check for albumin in your urine. In a doctor's office or a lab, you collect the urine sample in a container. A dipstick, a strip of chemically treated paper, is inserted into the urine for the test. If albumin is present in the urine, the dipstick changes colour.

Kidney Function Test

Urine albumin-to-creatinine ratio (UACR): This test compares the amount of albumin in your urine sample to the quantity of creatinine. Your UACR is used by doctors to estimate how much albumin will pass through your urine in 24 hours. The result of a urine albumin test is:
• 30 mg/g or less is considered normal.
• More than 30 mg/g could indicate renal disease.

If your urine contains albumin, your doctor may ask you to repeat the pee test one or two more times to confirm the results. Discuss what your exact numbers mean to you with your clinician.

If you have kidney disease, your provider can determine which treatment is best for you by measuring albumin in your urine. If your urine albumin level stays the same or decreases, it could indicate that your therapies are effective.

Test for creatine clearance
A creatine clearance test consists of both a blood and a urine sample. It entails collecting all of a person's urine over the course of 24 hours, as well as a little blood sample. Creatine is a waste product produced by the body as a result of daily muscular usage. The amount of creatine in the urine sample is compared to the quantity of creatine in the blood. This graph indicates how much waste the kidneys filter out, which could be a sign of their general health. This blood test determines whether you have a build-up of creatinine in your blood. Creatinine is normally entirely removed from the blood by the kidneys. A high creatinine level indicates a renal issue.

Blood Tests

A doctor or nurse will insert a needle into a person's arm to extract a small sample of blood for a blood test. It's possible that the person will need to fast or take the exam first thing in the morning.

Serum creatine test
Serum creatine levels that are excessively high could indicate that the kidneys aren't doing their job properly. As part of the creatine clearance test, doctors will also prescribe a serum creatine test.
Serum creatine levels exceeding 1.2 for women and 1.4 for men, according to the National Kidney Foundation, may be an early warning that the kidneys aren't working properly. As renal disease advances, these figures may grow even higher.
This test can also be used to calculate a person's glomerular filtration rate (GFR) to confirm a diagnosis or to order additional tests to double-check the results.
The GFR test adjusts the findings of a serum creatine test for a variety of parameters, including age, gender, and race. A GFR of 60 or higher is considered normal. A GFR of 60 or less is indicative of renal disease.

Blood Urea Nitrogen (BUN)
The blood urea nitrogen (BUN) test looks for urea nitrogen and other waste products in the blood. When proteins in food break down, urea nitrogen is produced, and high amounts may indicate that the kidneys are not filtering these waste products adequately.
BUN levels typically range from 7 to 20 milligrammes per deciliter. Higher levels could indicate a kidney-related underlying disease. However, numerous other factors, such as drugs or antibiotics, might impact BUN levels. A diet strong in protein may also have an impact on levels.
To acquire a better picture of how successfully the kidney filters this waste, doctors would often compare these results to the findings of a creatine test. The blood urea nitrogen (BUN) test also examines your blood for waste materials. The amount of nitrogen in the blood is measured by BUN testing. Protein breakdown produces urea nitrogen.
Not all elevated BUN readings, however, are caused by renal disease. Common drugs, such as high dosages of aspirin and certain antibiotics, can also raise your BUN. It's critical to inform your doctor about any medications or supplements you take on a daily basis. Certain medication may need to be avoided for a few days before to the test. BUN levels should be between 7 and 20 mg/dL. A higher score could indicate a variety of health issues.
Blood samples are required for BUN and serum creatinine testing, which must be taken in a lab or at a doctor's office.
Before extracting blood, the technician puts an elastic band around your upper arm. This draws attention to the veins. The technician then cleans the vein's surrounding area. They insert a hollow needle into your vein through your skin. The blood will return to a test tube, where it will be analysed.
When the needle enters your arm, you may feel a painful pinch or prick. After the test, the technician will cover the puncture site with gauze and a bandage. Over the next few days, the region around the puncture may bruise. However, you should not experience any significant or long-term discomfort.

Imaging Tests

Kidney Function Test

Imaging scans may aid in the detection of any physical abnormalities to the kidneys, such as injuries or kidney stones.

Ultrasounds are a type of imaging that uses sound waves.
To take photos, ultrasound exams use innocuous sound waves. An ultrasound may be ordered by a doctor to check for changes in the shape or position of the kidneys. An ultrasound may also be requested to screen for tumours or obstructions, such as kidney stones.

CT scans
A CT scan is a procedure that employs a sequence of X-ray images to build a 3D image of the kidneys. It could aid in the detection of any structural alterations or deformations in the kidney. A dye injection is sometimes required for the scan, which might be problematic for patients who have kidney problems.

Chronic Kidney Disease Causes

Chronic renal disease is most commonly caused by diabetes and high blood pressure (CKD). To figure out why you have kidney disease, your doctor will look at your medical history and maybe run tests. The sort of treatment you receive may be influenced by the aetiology of your kidney illness.

Diabetes
The filters in your kidneys are damaged by too much glucose, often known as sugar, in your blood. Your kidneys can become so damaged over time that they can no longer filter wastes and excess fluid from your blood.
Protein in the urine is frequently the first indicator of diabetes-related kidney damage. When the filters are destroyed, albumin, a protein that is essential for your health, leaks out of your bloodstream and into your urine. Albumin from the blood is not allowed to flow into the urine by a healthy kidney.
The medical name for kidney disease caused by diabetes is diabetic renal disease.

High Blood pressure
High blood pressure can damage the blood arteries in the kidneys, causing them to malfunction. Your kidneys may not perform as efficiently to remove toxins and excess fluid from your body if the blood vessels in your kidneys are damaged. Extra fluid in the blood vessels can cause blood pressure to rise even higher, creating a deadly cycle.
Other causes of kidney illness include
1. Polycystic kidney disease, a hereditary illness that causes numerous cysts to form in the kidneys (PKD).
2. A kidney-damaging infection a kidney-damaging medicine
3. An illness that affects the entire body, such as diabetes or lupus, according to the National Institutes of Health. The medical term for lupus-related kidney disease is lupus nephritis.
4. Anti-GBM (Goodpasture's) disease, for example, is an IgA glomerulonephritis disorder in which the body's immune system assaults its own cells and organs.
5. Toxicity from heavy metals, such as lead poisoning NIH external link.
6. Alport syndrome (NIH external link) is an uncommon genetic disorder.
7. Children with hemolytic uremic syndrome.
8. IgA vasculitis is a type of vasculitis that affects the blood.
9. stenosis of the renal artery

Treatment for kidney disease in its early stages

If the tests reveal early kidney disease, your doctor will focus on treating the underlying illness. If the tests reveal hypertension, your doctor will prescribe blood pressure drugs. They will also recommend dietary and lifestyle changes.

Your doctor may recommend that you consult an endocrinologist if you have diabetes. This type of doctor specialises in metabolic illnesses and can assist you in achieving the greatest possible blood glucose management. Your doctor will take appropriate measures to control any underlying conditions that may be causing your abnormal kidney function tests, such as kidney stones or excessive use of painkillers.
If your test results are abnormal, you will need to have frequent kidney function testing in the coming months. These will assist your doctor in monitoring your condition.
Taking Care of Your Kidneys If You Have Chronic Kidney Disease
You can prevent your kidneys from further damage if you have chronic kidney disease (CKD).
It's best to find out if you have renal illness as soon as possible. Protecting your kidneys from damage may also help you avoid heart disease and enhance your overall health. Making these changes when you don't have any symptoms can be difficult, but it's well worth it.

Keep your blood pressure in check.
Controlling your blood pressure is the most critical step in treating renal disease. Your kidneys might be harmed by high blood pressure. Keep your blood pressure at or below the target established by your health care professional to preserve your kidneys. The blood pressure goal for most people is less than 140/90 mm Hg.
Develop a strategy with your health care provider to accomplish your blood pressure objectives. Eating heart-healthy, low-sodium meals, stopping smoking, staying active, getting enough sleep, and taking your medications as directed are all steps you may take to achieve your blood pressure objectives.

If you have diabetes, stick to your blood glucose target.
Check your blood glucose level on a frequent basis to achieve your blood glucose goal. Use the findings to help you make decisions about food, exercise, and medications. Inquire with your doctor about how often you should check your blood glucose level.
Your A1C will also be tested by your doctor. The A1C test measures your average blood glucose level over the previous three months. This test is not like the blood glucose checks you undertake on a daily basis. The higher your A1C, the higher your blood glucose levels were in the previous three months. To help you accomplish your A1C goal, keep track of your daily blood glucose levels.
Many patients with diabetes have an A1C goal of less than 7%. Inquire with your doctor about what your objectives should be. Reaching your target numbers will aid in kidney protection.

Make physical activity a regular part of your day.
On most days, be active for 30 minutes or more. Physical activity can aid in stress reduction, weight management, and blood pressure and blood glucose control. Ask your health care practitioner about the sorts and amounts of physical activity that are appropriate for you if you are not currently active.

Make an effort to maintain a healthy weight.
Obesity makes your kidneys work harder and can lead to renal disease. The National Institutes of Health's Body Weight Planner is an online tool that can help you adjust your calorie and physical activity programmes to help you reach and maintain a healthy weight.

Get enough rest.
Each night, aim for 7 to 8 hours of sleep. Getting adequate sleep is beneficial to your physical and mental health, and it can also assist you in meeting your blood pressure and blood glucose objectives.

Quit smoking.
Cigarette smoking can exacerbate renal disease. Quitting smoking can help you achieve your blood pressure goals, which is beneficial to your kidneys and can reduce your risk of a heart attack or stroke.

Find healthy coping mechanisms for stress and depression.
Long-term stress can elevate blood pressure and blood glucose levels, as well as cause depression. Some of the measures you're doing to treat your renal illness are also effective stress relievers. Physical activity and sleep, for example, can help to relieve stress. You can also benefit from listening to music, focusing on something calm or serene, or meditating.
People who have a chronic or long-term disease are more likely to be depressed NIH external link. Depression might make managing your renal illness more difficult. If you're feeling sad, seek assistance. Seek out the assistance of a mental health specialist. It may be beneficial to speak with a support group, church member, friend, or family member who will listen to your feelings.

When it comes to chronic kidney disease, it is important to eat well.

To manage your chronic kidney disease, you may need to alter your diet (CKD). Develop a meal plan with the help of a certified dietitian that incorporates foods you enjoy while maintaining your kidney health.
The strategies outlined here will assist you in eating well while managing your renal condition. All persons with renal illness should follow the first three stages (1-3). As your kidney function declines, the last two steps (4-5) may become more crucial.

Choose and prepare foods that are low in sodium and salt.
To aid in the management of your blood pressure. Each day, your sodium intake should be less than 2,300 milligrammes. Fresh food should be purchased frequently. Many prepared or packaged foods sold in supermarkets and restaurants contain sodium (a salt component). Cook from scratch rather than eating high-sodium prepared foods, "fast" foods, freezer dinners, and canned meals. You have complete control over what goes into your meals when you cook it yourself.
Salt can be replaced with spices, herbs, and sodium-free seasonings. On the Nutrition Facts label of food packaging, look for sodium. A food with a Daily Value of 20% or higher is high in salt.
Low-sodium frozen dinners and other convenience items are a good option. Before eating canned vegetables, beans, meats, and fish, rinse them with water. Look for phrases like sodium free or salt free on food labels, as well as low, reduced, or no salt or sodium, and unsalted or lightly salted.

Consume the proper amount and types of protein
What is the reason for this? To assist in the protection of your kidneys. When your body breaks down protein, waste is produced. This waste is removed by your kidneys. If you consume more protein than you require, your kidneys may have to work harder.
Protein foods should be consumed in small amounts.
Protein can be found in both plant and animal sources. The majority of people consume both forms of protein. Consult your nutritionist for advice on how to select the proper protein foods for you.
Chicken, fish, meat, eggs, and dairy products are all high in animal protein.
A 2 to 3 ounce cooked serving of chicken, fish, or beef is about the size of a deck of cards. 12 cup of milk or yoghurt, or one slice of cheese, constitutes a serving of dairy foods.

Plant-based protein sources include:
1. Beans are a legume.
2. Pistachios
3. Cereals
A portion of cooked beans is approximately 12 cup, whereas a serving of nuts is approximately 14 cup. A single slice of bread is a portion, and 12 cup of cooked rice or cooked noodles is a portion.

The next steps to a healthy diet is eating right

You may need to eat foods that are lower in phosphorus and potassium as your kidney function declines. Lab tests will be used to assess the levels of phosphorus and potassium in your blood, and you can work with a dietitian to adapt your dietary plan. Nutrition for Advanced Chronic Kidney Disease, an NIDDK health topic, has more information.

Reduce your phosphorus intake by eating and drinking less phosphorus-rich foods and beverages.
To assist in the protection of your bones and blood vessels. Phosphorus might build up in your blood when you have CKD. When your blood has too much phosphorus, it draws calcium from your bones, making them thin, weak, and more likely to shatter. Itchy skin, as well as bone and joint discomfort, can be caused by high phosphorus levels in the blood.
Phosphorus has been added to a lot of packaged goods. On ingredient labels, look for phosphorus—or terms that start with the letter “PHOS.” Phosphorus may be added to deli meats and some fresh meats and fowl. Request that the butcher assist you in selecting fresh, phosphorus-free meats.
To reduce the quantity of phosphorus in your blood, your doctor may recommend that you take a phosphate binder with meals. A phosphate binder is a medication that acts like a sponge in the stomach, soaking up or binding phosphorus. The phosphorous does not enter your bloodstream because it is bound. Instead, phosphorus is removed from your body through your stool.

Choose food with right amount of potassium.
To aid in the proper functioning of your nerves and muscles. When blood potassium levels are too high or too low, problems can arise. Potassium builds up in your blood when your kidneys are damaged, which can cause major heart problems. If you need to lower your potassium level, your food and drink choices can help.
Potassium levels in salt substitutes can be extremely high. Look at the ingredient list. If you want to use salt replacements, talk to your doctor. Before consuming canned fruits and vegetables, drain them. Potassium levels can also be raised by some medications. Your medicines may need to be adjusted by your doctor.

Conclusion

You have two kidneys in your body. They are fist-sized organs located above your waist on either side of your backbone. Your kidneys filter and cleanse your blood, excreting waste and producing urine. Kidney tests are used to determine how well your kidneys are functioning. Blood, urine, and imaging tests are among them.
Early kidney disease usually has no symptoms or indicators. The only way to tell how your kidneys are doing is to have them tested. If you have diabetes, high blood pressure, heart disease, or a family history of renal failure, it's critical that you get examined for kidney disease.

Kidney tests include the following.
1. One of the most popular blood tests for chronic kidney disease is the glomerular filtration rate (GFR). It indicates how well your kidneys filter.
2. Creatinine blood and urine tests examine the amount of creatinine, a waste product excreted by your kidneys.
3. Albumin pee test - determines whether albumin, a protein that can flow into the urine if the kidneys are damaged, is present.
4. Ultrasound imaging examinations, for example, produce images of the kidneys. The images allow the doctor to assess the kidneys' size and structure, as well as look for anything unexpected.
5. Kidney biopsy is a technique in which a small bit of kidney tissue is removed and examined under a microscope. It determines the origin of renal illness as well as the extent of damage to your kidneys.

Related topics:

1.What is self-care & importance of self-care

Self-care means doing activities that makes us feel good and releases stress. Along with other day to day activites, self-care is also important for the body as well as the soul. To know more visit: What is self-care & importance of self-care

2. Yoga for self-care

Yoga is one of the most essential componet of self-care. It makes you feel good about yourself and has a positive impact on your physical as well as mental health. To know more visit: Yoga for self-care

3. Benefits of self-care

There are several benefits of self care such as improved productivity, improved immune system, enhanced self-knowledge and self- compassion.The main benefit is that it brings happiness to your life. To know more visit: Benefits of self-care

4. How to start a self-care routine

As many people face difficulty in starting a self-care routine, it is better to start including small self-care practices such as meditaion, yoga or excercise in your daily routine. To know more visit: How to start a self-care routine

5. How to manage stress

Self-care is an important tool that helps us to feel healthy and happy and reduces stress even in the most stressful conditions. Self-care relaxes out body and soul as it reduces the negative feelings and anxeity.To know more visit: How to manage stress




The above essentials are available with AFD SHIELD.
AFD Shield capsule is a combination of 12 natural ingredients among which are Algal DHA, Ashwagandha, Curcumin and Spirullina. AFD Shield reduces TG, increases HDL and improves age related cognitive decline. It also reduces stress and anxiety and performs anti-aging activity.Moreover, it also enhances the immunomodulatory activity, improves immunity and reduces inflammation and oxidative stress. Nutralogicx: AFD SHIELD

किडनी टेस्ट

Kidney Function Test

अवलोकन

अपनी रीढ़ की हड्डी के दोनों ओर, आप दो गुर्दे, एक मानव मुट्ठी के आकार के बारे में प्रत्येक है । वे अपने रिब पिंजरे के नीचे और अपने पेट के पीछे हैं।
आपके गुर्दे आपके समग्र स्वास्थ्य में कई महत्वपूर्ण भूमिकाएं निभाते हैं। रक्त से अपशिष्ट सामग्री को छानना और उन्हें मूत्र के रूप में उत्सर्जित करना उनके सबसे महत्वपूर्ण कर्तव्यों में से एक है। गुर्दे शरीर में पानी और अन्य महत्वपूर्ण तत्वों के नियमन में भी सहायता करते हैं। वे के निर्माण के लिए भी आवश्यक हैं:
1. डी-विटामिन
2. रक्त की कोशिकाएं
3. रक्तचाप को नियंत्रित करने वाले हार्मोन

यदि आपके डॉक्टर को संदेह है कि आपके गुर्दे ठीक से काम नहीं कर रहे हैं तो गुर्दे के कार्य परीक्षणों की आवश्यकता हो सकती है। ये आसान रक्त और मूत्र परीक्षण है कि आप अगर आप एक गुर्दे की बीमारी है यह पता लगाने में मदद कर सकते हैं ।

यदि आपके पास अतिरिक्त विकार हैं जो आपके गुर्दे को ख़राब कर सकते हैं, जैसे मधुमेह या उच्च रक्तचाप, तो आपको गुर्दे के कार्य परीक्षणों की आवश्यकता हो सकती है। वे इन समस्याओं का ट्रैक रखने में डॉक्टरों की सहायता कर सकते हैं ।
गुर्दे समारोह परीक्षण सरल प्रक्रियाएं हैं जो गुर्दे की समस्याओं को निर्धारित करने के लिए रक्त या मूत्र का उपयोग करती हैं। गुर्दे के कार्य के विभिन्न क्षेत्रों को देखने के लिए विभिन्न प्रकार के गुर्दे के कार्य परीक्षण उपलब्ध हैं। यदि गुर्दे अपशिष्ट वस्तुओं को धीरे-धीरे फ़िल्टर कर रहे हैं, तो गुर्दे का फ़ंक्शन परीक्षण किया जा सकता है। यह देखने के लिए एक और परीक्षण किया जा सकता है कि गुर्दे मूत्र में प्रोटीन लीक कर रहे हैं या नहीं।
गुर्दे के कार्य परीक्षण रक्त या मूत्र में गुर्दे के कार्य के विभिन्न तत्वों की जांच करते हैं। कुल गुर्दे समारोह की एक बेहतर तस्वीर प्राप्त करने के लिए, डॉक्टरों अक्सर एक ही समय में कई परीक्षणों का आदेश । गुर्दे शरीर के समग्र स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण हैं। उनका प्राथमिक कार्य रक्त से अपशिष्ट सामग्री को फ़िल्टर करना और मूत्र के माध्यम से उन्हें उगलना है। गुर्दे की बीमारी गुर्दे के लिए कचरे को प्रभावी ढंग से फ़िल्टर करना मुश्किल बना सकती है, जिससे यह शरीर में जमा हो सकती है और खतरनाक लक्षण पैदा कर सकती है। नियमित परीक्षण गुर्दे की बीमारी जैसी चिंताओं का जल्दी पता लगाने में सहायता कर सकता है, जिससे रोग की प्रगति धीमी हो सकती है। इमेजिंग टेस्ट या बायोप्सी जैसी अन्य प्रक्रियाओं को डॉक्टरों द्वारा किडनी के बारे में अधिक जानने का आदेश दिया जा सकता है ।

गुर्दे की बीमारी के लक्षण

निम्नलिखित संकेत और लक्षण गुर्दे की समस्या का सुझाव दे सकते हैं:
1. बीलूड दबाव जो बहुत अधिक है
2. इसमें खून के साथ यू रीन
3. बार-बार पेशाब करने का आग्रह करता हूं।
4. मैंटी मैंपेशाब शुरू करने के लिए मुश्किल है।
5. यूरिनेटिंग कि दर्द होता है।
6. शरीर में तरल पदार्थों केनिर्माणके कारण, हाथ और पैर बड़े होते हैं।

एक भी लक्षण गंभीर स्थिति का संकेत हो सकता है या नहीं भी हो सकता है। जब ये लक्षण एक ही समय में दिखाई देते हैं, तोयह एक संकेत हैकि आपके गुर्दे ठीक से प्रदर्शन नहीं कर रहे हैं। गुर्दे समारोह परीक्षण यह पता लगाने की क्या चल रहा है सहायता कर सकते हैं ।

विभिन्न प्रकार के गुर्दे समारोह परीक्षण

आपका डॉक्टर आपके गुर्दे के कार्य (जीएफआर) का आकलन करने के लिए आपकी चमकदार निस्पंदन दर निर्धारित करने के लिए परीक्षणों की एक श्रृंखला निर्धारित करेगा। आपका जीएफआर इंगित करता है कि आपके गुर्दे आपके शरीर से आपके डॉक्टर को कितनी तेजी से अपशिष्ट निकाल रहे हैं।

रिनलिसिस में
एक मूत्रालिसिस प्रोटीन और रक्त की उपस्थिति के लिए मूत्र की जांच करता है। आपके मूत्र में प्रोटीन कई प्रकार के कारकों के कारण हो सकता है, जो सभी रोग से संबंधित नहीं हैं। संक्रमण मूत्र प्रोटीन के स्तर को बढ़ाता है, लेकिन इतना ज़ोरदार कसरत करता है । यदि परिणाम कुछ हफ्तों के बाद समान हैं, तो आपका डॉक्टर परीक्षण दोहराना चाह सकता है।
मूत्र परीक्षण मूत्र के एक छोटे से नमूने या एक व्यक्ति के मूत्र के सभी एक 24 घंटे की अवधि में उत्पादित की मांग कर सकते हैं । इससे डॉक्टरों को यह पता लगाने में मदद मिल सकती है कि क्रिएटिनिन नामक अपशिष्ट उत्पाद आपके शरीर को कितनी जल्दी छोड़ देता है। क्रिएटिनिन मांसपेशियों के ऊतकों के क्षरण का एकउप-उत्पादहै।
मूत्र संबंधी एक व्यापक मूत्र परीक्षण है जो डॉक्टरों को अंतर्निहित समस्याओं का निदान करने या आगे प्रदर्शन करने के लिए कौन सा परीक्षण तय करने में मदद करता है। मूत्र रोग मूत्र में विभिन्न प्रकार के अवांछित कणों की खोज करने में सहायता कर सकते हैं, जिनमें शामिल हैं:
1. एसaline
2. एमइक्रोनऑर्गन
3. पीहमें
4. परती
5. पीरोटेल

यदि आप इन कणों में से एक या अधिक के लिए सकारात्मक परीक्षण करते हैं, तो इसका मतलब यह हो सकता है कि आपके पास एक अंतर्निहित समस्या है, जैसे:
1. मैंगुर्दे या मूत्राशय के nfections
2. आरएनल विफलता
3. डीiabetes कश्मीरidney एसटन

24 घंटे यूरिन सैंपल क्रिएटिनिन क्लीयरेंस टेस्ट होता है। यह आपके डॉक्टर को एक विचार देता है कि आपका शरीर एक ही दिन में कितना क्रिएटिनिन निष्कासित करता है। जिस दिन आप परीक्षण शुरू करते हैं, शौचालय में पेशाब करें जैसा कि आप सामान्य रूप से उठते हैं।
दिन और रात के आराम के लिए, अपने डॉक्टर द्वारा प्रदान की एक विशेष कंटेनर में पेशाब। संग्रह प्रक्रिया के दौरान कंटेनर को छाया और फ्रिज में रखें। कंटेनर को स्पष्ट रूप से लेबल करना सुनिश्चित करें और परिवार के अन्य सदस्यों को यह बताना सुनिश्चित करें कि यह रेफ्रिजरेटर में क्यों है।
दूसरे दिन की सुबह उठने पर कंटेनर में पेशाब करें। यह 24 घंटे संग्रह प्रक्रिया को पूरा करता है। एक क्रिएटिनिन क्लीयरेंस टेस्ट 24 घंटे के मूत्र के नमूने पर किया जाता है। यह आपके डॉक्टर को बताता है कि एक ही दिन में आपके शरीर में कितना क्रिएटिनिन होता है। नमूना छोड़ने के लिए अपने डॉक्टर के निर्देशों का पालन करें। यह संभवहै कि आप इसे अपने डॉक्टर के कार्यालय या एक प्रयोगशाला में वापस करने की आवश्यकता होगी ।

Kidney Function Test

जीएफआर (ग्लोमेरुलर फिल्ट्रेशन रेट) (एमडीआरडी या सीकेडी-ईपीआई समीकरण का उपयोग करने वाला गणितीयसूत्र): यह परीक्षण यह निर्धारित करता है कि गुर्दे रक्त से अपशिष्ट और अतिरिक्त तरल पदार्थ को कितनी सफलतापूर्वक फ़िल्टर करते हैं। यह रक्त क्रिएटिनिन स्तर लेने और इसे अपनी उम्र और लिंग से गुणा करके गणना की जाती है, साथ ही अफ्रीकी मूल के लोगों के लिए एक समायोजन भी है। सामान्य जीएफआर उम्र के साथ भिन्न होता है (जैसा कि आप बड़े होते हैं यह कम हो सकता है)। सामान्य माने जाने के लिए जीएफआर 90 या उससे अधिक होना चाहिए। 60 से कम का जीएफआर इंगित करता है कि गुर्दे ठीक से काम नहीं कर रहे हैं। एक बार GFR 15 से नीचे गिर जाता है, एक व्यक्ति को गुर्दे की विफलता के इलाज के लिए डायलिसिस या एक गुर्दा प्रत्यारोपण की जरूरत का एक उच्च जोखिम में है ।

Kidney Function Test

माइक्रोल्बुमिनुरिया या एल्बुमिन-टू-क्रिएटिन अनुपात के लिए परीक्षण
इन दो परीक्षणों के लिए एक छोटे से मूत्र के नमूने की आवश्यकता होती है। वे दोनों मूत्र में एल्बुमिन स्तर का पता लगाने में सहायता करते हैं। एल्बुमिन रक्त में पाया जाने वाला एक महत्वपूर्ण प्रोटीन है। एल्बुमिन मूत्र में एक स्वस्थ गुर्दे के माध्यम से पारित नहीं करता है। एल्बुमिन एक क्षतिग्रस्त गुर्दे द्वारा मूत्र में उत्सर्जित होता है। यदि गुर्दे मूत्र में बहुत अधिक एल्बुमिन लीक कर रहे हैं, इसका मतलब यह हो सकता है कि वे अपने काम को ठीक से पूरा नहीं कर रहे हैं । आपके मूत्र में एल्बुमिन एकाग्रता कम, बेहतर है। एल्बुमिनुरिया मूत्र में एल्बुमिन की उपस्थिति है।
30 मिलीग्राम/ग्राम या उससे कम की मूत्र एल्बुमिन एकाग्रता सामान्य मानी जाती है। इससे अधिक किसी भी संख्या गुर्दे की बीमारी का संकेत हो सकता है । माइक्रोल्बुमिनुरिया परीक्षण कहीं अधिक संवेदनशील है, मूत्र में प्रोटीन के मिनट के स्तर का भी पता लगाता है। यहां तक कि अगर अन्य मूत्र प्रोटीन परीक्षण नकारात्मक बाहर आते हैं, गुर्दे की बीमारी के लिए बढ़ जोखिम पर लोगों को एक माइक्रोल्बुमिनुरिया परीक्षण की आवश्यकता हो सकती है ।
एल्बुमिन के लिए डिपस्टिक टेस्ट: एल्बुमिन का पता डिपस्टिक टेस्ट से लगाया जा सकता है। मूत्र के नमूने का उपयोग आपके मूत्र में एल्बुमिन की जांच के लिए किया जाता है। डॉक्टर के ऑफिस या लैब में आप किसी कंटेनर में यूरिन सैंपल कलेक्ट करते हैं। एक डिपस्टिक, रासायनिक रूप से इलाज किए गए कागज की एक पट्टी, परीक्षण के लिए मूत्र में डाली जाती है। अगर यूरिन में एल्बुमिन मौजूद है तो डिपस्टिक रंग बदलता है।
मूत्र एल्बुमिन-टू-क्रिएटिनिन अनुपात (यूएसीआर):यह परीक्षण आपके मूत्र नमूने में एल्बुमिन की मात्रा की तुलना क्रिएटिनिन की मात्रा से करता है। आपके यूएसीआर का इस्तेमाल डॉक्टरों द्वारा यह अनुमान लगाने के लिए किया जाता है कि 24 घंटे में आपके मूत्र से कितना एल्बुमिन गुजरेगा। एक मूत्र एल्बुमिन परीक्षण का परिणामहै:
• 30 मिलीग्राम/ग्राम या उससे कम सामान्य माना जाता है।
• 30 मिलीग्राम/ग्राम से अधिक गुर्दे की बीमारी का संकेत हो सकता है ।

Kidney Function Test

यदि आपके मूत्र में एल्बुमिन होता है, तो आपका डॉक्टर परिणामों की पुष्टि करने के लिए आपको पेशाब परीक्षण को एक या दो बार दोहराने के लिए कह सकता है। चर्चा करें कि आपकी सटीक संख्या आपके चिकित्सक के साथ आपके लिए क्या मायने रखती है।
यदि आपको गुर्दे की बीमारी है, तो आपका प्रदाता यह निर्धारित कर सकता है कि आपके मूत्र में एल्बुमिन को मापकर कौन सा उपचार आपके लिए सबसे अच्छा है। यदि आपका मूत्र एल्बुमिन स्तर समान रहता है या घटता है, तो यह इंगित कर सकता है कि आपके उपचार प्रभावी हैं।

क्रिएटिन क्लीयरेंस के लिए टेस्ट
एक क्रिएटिन क्लीयरेंस टेस्ट में रक्त और मूत्र दोनों का नमूना होता है। यह 24 घंटे के पाठ्यक्रम पर एक व्यक्ति के मूत्र के सभी इकट्ठा करने पर जोर देता है, साथ ही एक छोटे से रक्त के नमूने । क्रिएटिन एक अपशिष्ट उत्पाद है जो दैनिक मांसपेशियों के उपयोग के परिणामस्वरूप शरीर द्वारा उत्पादित होता है। यूरिन सैंपल में क्रिएटिन की मात्रा की तुलना रक्त में क्रिएटिन की मात्रा से की जाती है। यह ग्राफ इंगित करता है कि गुर्दे कितना अपशिष्ट बाहर फिल्टर, जो उनके सामान्य स्वास्थ्य का संकेत हो सकता है। यह रक्त परीक्षण यह निर्धारित करता है कि आपके रक्त में क्रिएटिनिन का निर्माण है या नहीं। क्रिएटिनिन आम तौर पर गुर्दे द्वारा रक्त से पूरी तरह से हटा दिया जाता है। एक उच्च क्रिएटिनिन स्तर एक गुर्दे की समस्या को इंगित करता है।

रक्त परीक्षण

एक डॉक्टर या नर्स एक व्यक्ति की बांह में एक सुई डालने के लिए एक रक्त परीक्षण के लिए रक्त का एक छोटा सा नमूना निकालने होगा । यह संभव है कि व्यक्ति को सुबह में परीक्षा की पहली चीज को तेज करने या लेने की आवश्यकता होगी।
सीरम क्रिएटिन टेस्ट
सीरम क्रिएटिन का स्तर जो जरूरत से ज्यादा अधिक है, यह इंगित कर सकता है कि गुर्दे अपना काम ठीक से नहीं कर रहे हैं। क्रिएटिन क्लीयरेंस टेस्ट के हिस्से के तौर पर डॉक्टर सीरम क्रिएटिन टेस्ट भी लिखेंगे ।
सीरम क्रिएटिन का स्तर महिलाओं के लिए १.२ से अधिक और पुरुषों के लिए १.४, नेशनल किडनी फाउंडेशन के अनुसार, एक पूर्व चेतावनी हो सकती है कि गुर्दे ठीक से काम नहीं कर रहे हैं । गुर्दे की बीमारी बढ़ने के रूप में, इन आंकड़ों को और भी अधिक बढ़ सकता है ।
इस परीक्षण का उपयोग किसी व्यक्ति की चमकदार निस्पंदन दर (जीएफआर) की गणना करने के लिए भी किया जा सकता है ताकि निदान की पुष्टि की जा सके या परिणामों की दोहरी जांच करने के लिए अतिरिक्त परीक्षणों का आदेश दिया जा सके।
जीएफआर परीक्षण उम्र, लिंग और दौड़ सहित विभिन्न मापदंडों के लिए सीरम क्रिएटिन परीक्षण के निष्कर्षों को समायोजित करता है। 60 या उससे अधिक का जीएफआर सामान्य माना जाता है। 60 या उससे कम का जीएफआर गुर्दे की बीमारी का संकेत है।

रक्त यूरिया नाइट्रोजन (रोटी)
ब्लड यूरिया नाइट्रोजन (रोटी) टेस्ट में यूरिया नाइट्रोजन और अन्य अपशिष्ट उत्पादों की जांच रक्त में लगती है। जब भोजन में प्रोटीन टूट जाता है, तो यूरिया नाइट्रोजन का उत्पादन होता है, और उच्च मात्रा से संकेत मिल सकता है कि गुर्दे इन अपशिष्ट उत्पादों को पर्याप्त रूप से फ़िल्टर नहीं कर रहे हैं।
जूलरी का स्तर आमतौर पर 7 से 20 मिलीग्राम प्रति डेसीलिटरसे होता है। उच्च स्तर गुर्दे से संबंधित अंतर्निहित बीमारी का संकेत दे सकता है। हालांकि, कई अन्य कारक, जैसे दवाएं या एंटीबायोटिक्स, रोटी के स्तर को प्रभावित कर सकते हैं। प्रोटीन में मजबूत आहार का स्तर पर भी प्रभाव पड़ सकता है।
कैसे सफलतापूर्वक गुर्दे इस कचरे फिल्टर की एक बेहतर तस्वीर प्राप्त करने के लिए, डॉक्टरों अक्सर एक क्रिएटिन परीक्षण के निष्कर्षों के लिए इन परिणामों की तुलना करेंगे । ब्लड यूरिया नाइट्रोजन (जूलरी) टेस्ट में भी बेकार सामग्री के लिए आपके खून की जांच की गई है। रक्त में नाइट्रोजन की मात्रा रोटी जांच से मापी जाती है। प्रोटीन टूटने से यूरिया नाइट्रोजन पैदा होता है।
नहीं सभी ऊंचा रोटी रीडिंग, हालांकि, गुर्दे की बीमारी के कारण होते हैं । आम दवाएं, जैसे एस्पिरिन की उच्च खुराक और कुछ एंटीबायोटिक्स, आपकी रोटी को भी बढ़ा सकती हैं। यह किसी भी दवा या आप एक दैनिक आधार पर लेने की खुराक के बारे में अपने डॉक्टर को सूचित करने के लिए महत्वपूर्ण है । परीक्षण से पहले कुछ दिनों के लिए कुछ दवा से बचने की आवश्यकता हो सकती है। जूलरी का स्तर 7 से 20 मिलीग्राम/डीएल के बीच होना चाहिए। एक उच्च स्कोर स्वास्थ्य मुद्दों की एक किस्म का संकेत हो सकता है ।
जूलरी और सीरम क्रिएटिनिन जांच के लिए ब्लड सैंपल जरूरी होते हैं, जिन्हें लैब में या डॉक्टर के ऑफिस में लिया जाना जरूरी है ।
रक्त निकालने से पहले, तकनीशियन अपने ऊपरी हाथ के चारों ओर एक लोचदार बैंड डालता है । यह नसों की ओर ध्यान खींचता है। इसके बाद तकनीशियन नस के आसपास के क्षेत्र को साफ करता है । वे आपकी त्वचा के माध्यम से आपकी नस में एक खोखली सुई डालते हैं। खून एक टेस्ट ट्यूब में वापस आ जाएगा, जहां इसका विश्लेषण किया जाएगा ।
जब सुई आपके हाथ में प्रवेश करती है, तो आपको दर्दनाक चुटकी या चुभन महसूस हो सकती है। टेस्ट के बाद टेक्नीशियन पंचर स्थल को गाज और पट्टी से कवर करेगा। अगले कुछ दिनों में, पंचर के आसपास के क्षेत्र में खरोंच हो सकती है। हालांकि, आपको किसी भी महत्वपूर्ण या दीर्घकालिक असुविधा का अनुभव नहीं करना चाहिए।

इमेजिंग टेस्ट

Kidney Function Test

इमेजिंग स्कैन गुर्दे के लिए किसी भी शारीरिक असामान्यताओं का पता लगाने में सहायता कर सकते हैं, जैसे चोटों या गुर्दे की पथरी।
अल्ट्रासाउंड एक प्रकार की इमेजिंग होती है जो ध्वनि तरंगों का उपयोग करतीहै।
तस्वीरें लेने के लिए, अल्ट्रासाउंड परीक्षा अहानिकर ध्वनि तरंगों का उपयोग करें । एक अल्ट्रासाउंड डॉक्टर द्वारा गुर्दे के आकार या स्थिति में परिवर्तन की जांच करने का आदेश दिया जा सकता है। एक अल्ट्रासाउंड भी ट्यूमर या रुकावटों, जैसे गुर्दे की पथरी के लिए स्क्रीन करने के लिए अनुरोध किया जा सकता है ।

सीटी स्कैन
सीटी स्कैन एक प्रक्रिया है जो गुर्दे की 3डी छवि बनाने के लिए एक्स-रे छवियों के अनुक्रम को नियोजित करती है। यह गुर्दे में किसी भी संरचनात्मक परिवर्तन या विकृतियों का पता लगाने में सहायता कर सकता है। स्कैन के लिए कभी-कभी डाई इंजेक्शन की आवश्यकता होती है, जो उन रोगियों के लिए समस्याग्रस्त हो सकती है जिन्हें गुर्दे की समस्या है।

क्रोनिक किडनी रोग का कारण बनता है

क्रोनिक गुर्दे की बीमारी सबसे अधिक मधुमेह और उच्च रक्तचाप (CKD) के कारण होती है। यह पता लगाने के लिए कि आपको गुर्दे की बीमारी क्यों है, आपका डॉक्टर आपके चिकित्सा इतिहास को देखेगा और शायद परीक्षण चलाएगा। आपको जिस तरह का इलाज मिलता है, वह आपकी किडनी की बीमारी के एटियोलॉजी से प्रभावित हो सकता है ।
डायबिटीज़
आपके गुर्दे में फिल्टर बहुत अधिक ग्लूकोज, अक्सर चीनी के रूप में जाना जाता है, अपने रक्त में क्षतिग्रस्त हो रहे हैं । आपके गुर्दे समय के साथ इतने क्षतिग्रस्त हो सकते हैं कि वे अब आपके रक्त से अपशिष्ट और अतिरिक्त तरल पदार्थ को फ़िल्टर नहीं कर सकते हैं।
यूरिन में प्रोटीन अक्सर डायबिटीज से संबंधित किडनी डैमेज होने का पहला संकेतक होता है। जब फिल्टर नष्ट हो जाते हैं, तो एल्बुमिन, एक प्रोटीन जो आपके स्वास्थ्य के लिए आवश्यक है, आपके खून से बाहर और आपके मूत्र में लीक हो जाता है। रक्त से एल्बुमिन को स्वस्थ गुर्दे द्वारा मूत्र में प्रवाहित करने की अनुमति नहीं है।
मधुमेह के कारण होने वाली गुर्दे की बीमारी का चिकित्सा नाम मधुमेह गुर्दे की बीमारी है।

उच्च रक्तचाप
हाई ब्लड प्रेशर किडनी में खून की धमनियों को नुकसान पहुंचा सकता है, जिससे उन्हें खराबी आ सकती है। यदि आपके गुर्दे में रक्त वाहिकाएं क्षतिग्रस्त हो जाती हैं तो आपके गुर्दे आपके शरीर से विषाक्त पदार्थों और अतिरिक्त तरल पदार्थ को हटाने के लिए कुशलतापूर्वक प्रदर्शन नहीं कर सकते हैं। रक्त वाहिकाओं में अतिरिक्त तरल पदार्थ रक्तचाप को और भी अधिक बढ़ा सकता है, जिससे एक घातक चक्र बन सकता है।
गुर्दे की बीमारी के अन्य कारणों में शामिल हैं
1. पॉलीसिस्टिक किडनी रोग, एक वंशानुगत बीमारी जो गुर्दे (पीकेडी) में कई अल्सर का कारण बनती है।
2. गुर्दे को नुकसान पहुंचाने वाली दवा एक गुर्दे को नुकसान पहुंचाने वाली दवा
3. एक बीमारी है कि इस तरह के मधुमेह या ल्यूपस के रूप में पूरे शरीर को प्रभावित करता है, स्वास्थ्य के राष्ट्रीय संस्थानों के अनुसार । ल्यूपस से संबंधित गुर्दे की बीमारी के लिए चिकित्सा शब्द ल्यूपस नेफ्राइटिस है।
4. उदाहरण के लिए, एंटी-जीबीएम (गुडपेचर) रोग एक आईजीए ग्लोमेरुलोनेफ्राइटिस विकार है जिसमें शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली अपनी कोशिकाओं और अंगों पर हमला करती है।
5. भारी धातुओं से विषाक्तता, जैसे सीसा विषाक्तता NIH बाहरी लिंक।
6. एल्पोर्ट सिंड्रोम (एनआईएच बाहरी लिंक) एक असामान्य आनुवंशिक विकार है।
7. हीमोलिटिक यूरेमिक सिंड्रोम वाले बच्चे।
8. आईजीए वैक्यूलाइटिस एक प्रकार का वैक्यूलिटिस है जो रक्त को प्रभावित करता है।
9. गुर्दे की धमनी का स्टेनोसिस

अपने शुरुआती दौर में गुर्दे की बीमारी के लिए उपचार

यदि परीक्षण जल्दी गुर्दे की बीमारी का पता चलता है, अपने डॉक्टर अंतर्निहित बीमारी के इलाज पर ध्यान दिया जाएगा । यदि परीक्षणों से उच्च रक्तचाप का पता चलता है, तो आपका डॉक्टर रक्तचाप की दवाएं लिख देगा। वे आहार और जीवनशैली में बदलाव की भी सिफारिश करेंगे।
आपके डॉक्टर की सिफारिश कर सकते हैं कि यदि आपको मधुमेह है तो आप एक एंडोक्राइनोलॉजिस्ट से परामर्श करें। डॉक्टर के इस प्रकार मेटाबोलिक बीमारियों में माहिर हैं और आप सबसे बड़ी संभव रक्त ग्लूकोज प्रबंधन को प्राप्त करने में सहायता कर सकते हैं। आपका डॉक्टर किसी भी अंतर्निहित स्थितियों को नियंत्रित करने के लिए उचित उपाय करेगा जो आपके असामान्य गुर्दे के कार्य परीक्षणों का कारण बन सकता है, जैसे गुर्दे की पथरी या दर्दनिवारक दवाओं का अत्यधिक उपयोग।
यदि आपके परीक्षण के परिणाम असामान्य हैं, तो आपको आने वाले महीनों में लगातार गुर्दे की कार्य परीक्षा की आवश्यकता होगी। ये आपकी स्थिति की निगरानी में आपके डॉक्टर की सहायता करेंगे।

यदि आपको क्रोनिक किडनी रोग है तो अपने गुर्दे की देखभाल करना
यदि आपको क्रोनिक किडनी डिजीज (सीकेडी) है तो आप अपने गुर्दे को और नुकसान से रोक सकते हैं।
यह पता लगाने के लिए सबसे अच्छा है कि क्या आपको जितनी जल्दी हो सके गुर्दे की बीमारी है। अपने गुर्दे को नुकसान से बचाने से आपको हृदय रोग से बचने और अपने समग्र स्वास्थ्य को बढ़ाने में भी मदद मिल सकती है। इन परिवर्तनों को बनाना जब आपके पास कोई लक्षण नहीं होता है तो मुश्किल हो सकती है, लेकिन यह अच्छी तरह से इसके लायक है।

अपने ब्लड प्रेशर को जांच में रखें।
गुर्दे की बीमारी के इलाज में अपने रक्तचाप को नियंत्रित करना सबसे महत्वपूर्ण कदम है। आपके गुर्दे को उच्च रक्तचाप से नुकसान हो सकता है। अपने गुर्दे को संरक्षित करने के लिए अपने स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर द्वारा स्थापित लक्ष्य पर या नीचे अपना रक्तचाप रखें। ज्यादातर लोगों के लिए ब्लड प्रेशर का लक्ष्य 140/90 एमएम एचजी से कम होता है।
अपने रक्तचाप के उद्देश्यों को पूरा करने के लिए अपने स्वास्थ्य देखभाल प्रदाता के साथ एक रणनीति विकसित करें। दिल स्वस्थ, कम सोडियम भोजन खाने, धूम्रपान रोकने, सक्रिय रहने, पर्याप्त नींद हो रही है, और निर्देश के रूप में अपनी दवाओं लेने के सभी कदम आप अपने रक्तचाप के उद्देश्यों को प्राप्त करने के लिए ले जा सकते हैं ।

यदि आपको मधुमेह है, तो अपने रक्त ग्लूकोज लक्ष्य से चिपके रहें।
अपने रक्त शर्करा लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए लगातार आधार पर अपने रक्त शर्करा के स्तर की जांच करें। भोजन, व्यायाम और दवाओं के बारे में निर्णय लेने में आपकी मदद करने के लिए निष्कर्षों का उपयोग करें। अपने डॉक्टर से पूछताछ करें कि आपको अपने रक्त शर्करा के स्तर की कितनी बार जांच करनी चाहिए।
आपके A1C का परीक्षण आपके डॉक्टर द्वारा भी किया जाएगा। A1C परीक्षण पिछले तीन महीनों में आपके औसत रक्त शर्करा के स्तर को मापता है। यह परीक्षण आपके द्वारा दैनिक आधार पर किए जाने वाले रक्त ग्लूकोज जांच की तरह नहीं है। उच्च अपने A1C, उच्च अपने रक्त शर्करा का स्तर पिछले तीन महीनों में थे । आप अपने A1C लक्ष्य को पूरा करने में मदद करने के लिए, अपने दैनिक रक्त शर्करा के स्तर का ट्रैक रखें ।
मधुमेह के साथ कई रोगियों को कम से कम 7% का एक A1C लक्ष्य है। अपने डॉक्टर से पूछताछ करें कि आपके उद्देश्य क्या होने चाहिए। अपने लक्ष्य संख्या तक पहुंचने गुर्दे की सुरक्षा में सहायता मिलेगी।

शारीरिक गतिविधि को अपने दिन का नियमित हिस्सा बनाएं।
ज्यादातर दिनों में, 30 मिनट या उससे अधिक के लिए सक्रिय रहें। शारीरिक गतिविधि तनाव में कमी, वजन प्रबंधन, और रक्तचाप और रक्त शर्करा नियंत्रण में सहायता कर सकते हैं। यदि आप वर्तमान में सक्रिय नहीं हैं तो शारीरिक गतिविधि की तरह और मात्रा के बारे में अपने स्वास्थ्य देखभाल व्यवसायी से पूछें।

एक स्वस्थ वजन बनाए रखने के लिए एक प्रयास करें।
मोटापा आपके गुर्दे को अधिक मेहनत करता है और गुर्दे की बीमारी का कारण बन सकता है। नेशनल इंस्टीट्यूट्स ऑफ हेल्थ के बॉडी वेट प्लानर एक ऑनलाइन टूल है जो आपको स्वस्थ वजन तक पहुंचने और बनाए रखने में मदद करने के लिए अपने कैलोरी और शारीरिक गतिविधि कार्यक्रमों को समायोजित करने में मदद कर सकता है।

पर्याप्त आराम मिलता है।
हर रात, 7 से 8 घंटे की नींद का लक्ष्य रखें। पर्याप्त नींद लेना आपके शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद है, और यह आपके रक्तचाप और रक्त शर्करा के उद्देश्यों को पूरा करने में भी आपकी सहायता कर सकता है।

धूम्रपान छोड़ो।
सिगरेट पीने से गुर्दे की बीमारी बढ़ा सकती है। धूम्रपान छोड़ने से आप अपने रक्तचाप के लक्ष्यों को प्राप्त कर सकते हैं, जो आपके गुर्दे के लिए फायदेमंद है और दिल का दौरा पड़ने या स्ट्रोक के अपने जोखिम को कम कर सकता है।

तनाव और अवसाद के लिए स्वस्थ मुकाबला तंत्र का पता लगाएं।
लंबे समय तक तनाव रक्तचाप और रक्त शर्करा के स्तर को बढ़ा सकता है, साथ ही अवसाद का कारण बन सकता है। अपने गुर्दे की बीमारी के इलाज के लिए आप जो उपाय कर रहे हैं उनमें से कुछ प्रभावी तनाव रिलीवर भी हैं। शारीरिक गतिविधि और नींद, उदाहरण के लिए, तनाव को दूर करने में मदद कर सकते हैं। संगीत सुनने, किसी शांत या शांत या ध्यान पर ध्यान केंद्रित करने से भी आपको लाभ हो सकता है।
जिन लोगों को पुरानी या लंबी अवधि की बीमारी होती है, उनमें NIH बाहरी लिंक उदास होने की संभावना अधिक होती है। अवसाद आपकी गुर्दे की बीमारी के प्रबंधन को और अधिक कठिन बना सकता है। यदि आप उदास महसूस कर रहे हैं, सहायता लेने । एक मानसिक स्वास्थ्य विशेषज्ञ की सहायता लें। किसी सहायता समूह, चर्च के सदस्य, मित्र या परिवार के सदस्य के साथ बात करना फायदेमंद हो सकता है जो आपकी भावनाओं को सुनेगा।

जब क्रोनिक किडनी डिजीज की बात आती है, तो इसे अच्छी तरह से खाना महत्वपूर्ण है।

अपनी क्रोनिक किडनी डिजीज को मैनेज करने के लिए आपको अपने डाइट (सीकेडी) में बदलाव करने की जरूरत पड़ सकती है । एक प्रमाणित आहार विशेषज्ञ की मदद से एक भोजन योजना विकसित करें जो आपके गुर्दे के स्वास्थ्य को बनाए रखते हुए आपके द्वारा आनंद लेने वाले खाद्य पदार्थों को शामिल करता है।
यहां उल्लिखित रणनीतियां आपकी गुर्दे की स्थिति का प्रबंधन करते हुए अच्छी तरह से खाने में आपकी सहायता करेंगी। गुर्दे की बीमारी वाले सभी व्यक्तियों को पहले तीन चरणों (1-3) का पालन करना चाहिए। जैसे-जैसे आपकी किडनी फंक्शन में गिरावट आती है, आखिरी दो स्टेप्स (4-5) ज्यादा महत्वपूर्ण हो सकते हैं।

ऐसे खाद्य पदार्थों को चुनें और तैयार करें जो सोडियम और नमक में कम हों।
अपने रक्तचाप के प्रबंधन में सहायता करने के लिए। प्रत्येक दिन, आपका सोडियम का सेवन 2,300 मिलीग्रामसे कम होनाचाहिए। ताजा खाना बार-बार खरीदना चाहिए। सुपरमार्केट और रेस्तरां में बेचे जाने वाले कई तैयार या पैक किए गए खाद्य पदार्थों में सोडियम (नमक घटक) होता है। उच्च सोडियम तैयार खाद्य पदार्थ खाने के बजाय खरोंच से पकाएं, "फास्ट" खाद्य पदार्थ, फ्रीजर रात्रिभोज, और डिब्बाबंद भोजन। जब आप इसे स्वयं पकाते हैं तो आपके भोजन में क्या होता है, इस पर आपका पूरा नियंत्रण होता है।
नमक को मसाले, जड़ी बूटियों और सोडियम-मुक्त मसाला के साथ प्रतिस्थापित किया जा सकता है। खाद्य पैकेजिंग के पोषण तथ्य लेबल पर, सोडियम के लिए देखो। 20% या उससे अधिक के दैनिक मूल्य वाला भोजन नमक में अधिक होता है।
लो-सोडियम फ्रोजन डिनर और अन्य सुविधा आइटम एक अच्छा विकल्प हैं। डिब्बाबंद सब्जियां, बीन्स, मीट और मछली खाने से पहले उन्हें पानी से कुल्ला करें। खाद्य लेबल पर सोडियम मुक्त या नमक मुक्त जैसे वाक्यांशों की तलाश करें, साथ ही कम, कम, या कोई नमक या सोडियम, और अनसाल्टेड या हल्के नमकीन।

उचित मात्रा और प्रोटीन के प्रकार का उपभोग करें।
इसका क्या कारण है? अपने गुर्दे की सुरक्षा में सहायता करने के लिए। जब आपका शरीर प्रोटीन को तोड़ता है, तो अपशिष्ट का उत्पादन होता है। इस कचरे को आपकी किडनी निकाल देती है। अगर आप जरूरत से ज्यादा प्रोटीन का सेवन करते हैं तो आपके किडनी को ज्यादा मेहनत करनी पड़ सकती है।
प्रोटीन युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन कम मात्रा में करना चाहिए।
प्रोटीन पौधे और पशु स्रोतों दोनों में पाया जा सकता है। अधिकांश लोग प्रोटीन के दोनों रूपों का उपभोग करते हैं। कैसे आप के लिए उचित प्रोटीन खाद्य पदार्थों का चयन करने के लिए पर सलाह के लिए अपने पोषण विशेषज्ञ से परामर्श करें ।
चिकन, मछली, मांस, अंडे, और डेयरी उत्पादों सभी पशु प्रोटीन में उच्च रहे हैं ।
चिकन, मछली या बीफ की सेवा करने वाला 2 से 3 औंस ताश के पत्तों की एक डेक के आकार के बारे में होता है। 12 कप दूध या दही, या पनीर का एक टुकड़ा, डेयरी खाद्य पदार्थों की सेवा का गठन करता है।

पौधे आधारित प्रोटीन स्रोतों में शामिल हैं:
1. बीन्स एक फली हैं।
2. पिस्ता
3. अनाज
पके हुए सेम का एक हिस्सा लगभग 12 कपहै, जबकि नट्स की सेवा लगभग 14 कप है। रोटी का एक टुकड़ा एक हिस्सा है, और 12 कप पके हुए चावल या पके हुए नूडल्स एक हिस्सा है ।

एक स्वस्थ आहार के लिए अगले कदम सही खा रहा है

आपको ऐसे खाद्य पदार्थ खाने की आवश्यकता हो सकती है जो फास्फोरस और पोटेशियम में कम होते हैं क्योंकि आपके गुर्दे के कार्य में गिरावट आती है। लैब टेस्ट का इस्तेमाल आपके खून में फास्फोरस और पोटेशियम के स्तर का आकलन करने के लिए किया जाएगा और आप अपनी आहार योजना को अनुकूलित करने के लिए आहार विशेषज्ञ के साथ काम कर सकते हैं । उन्नत क्रोनिक किडनी रोग, एक एनआईडीडीके स्वास्थ्य विषय के लिए पोषण में अधिक जानकारी है।
फास्फोरस युक्त खाद्य पदार्थ और पेय पदार्थ कम खाने और पीने से अपने फास्फोरस का सेवन कम करें।
अपनी हड्डियों और रक्त वाहिकाओं की सुरक्षा में सहायता करने के लिए। जब आपके पास सीकेडी होता है तो फास्फोरस आपके रक्त में निर्माण कर सकता है। जब आपके खून में बहुत ज्यादा फास्फोरस होता है तो यह आपकी हड्डियों से कैल्शियम खींचता है, जिससे वे पतले, कमजोर हो जाते हैं और चकनाचूर होने की संभावना ज्यादा होती है। खुजली त्वचा, साथ ही हड्डी और संयुक्त असुविधा, रक्त में उच्च फास्फोरस के स्तर के कारण हो सकता है।

फास्फोरस को काफी पैकेज्ड गुड्स में मिलाया गया है। घटक लेबल पर, फास्फोरस की तलाश करें- या ऐसे शब्द जो "फॉस" अक्षर से शुरू होते हैं। फास्फोरस को डेली मीट और कुछ फ्रेश मीट और मुर्गी में जोड़ा जा सकता है। अनुरोध करें कि कसाई ताजा, फास्फोरस मुक्त मांस का चयन करने में आपकी सहायता करता है।
आपके रक्त में फास्फोरस की मात्रा को कम करने के लिए, आपके डॉक्टर सलाह दे सकते हैं कि आप भोजन के साथ फॉस्फेट बाइंडर लें। फास्फेट बाइंडर एक ऐसी दवा है जो पेट में स्पंज की तरह काम करती है, भिगोने या फास्फोरस को बांधने की तरह काम करती है। फॉस्फोरस आपके खून में प्रवेश नहीं करता है क्योंकि यह बाध्य है। इसकी जगह आपके मल के जरिए आपके शरीर से फास्फोरस निकल जाता है।

पोटेशियम की सही मात्रा के साथ भोजन का चयन करें।
अपनी नसों और मांसपेशियों के उचित कामकाज में सहायता करने के लिए। जब रक्त पोटेशियम का स्तर बहुत अधिक या बहुत कम होता है, तो समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं। पोटेशियम आपके रक्त में बनाता है जब आपके गुर्दे क्षतिग्रस्त हो जाते हैं, जो दिल की प्रमुख समस्याओं का कारण बन सकते हैं। यदि आपको अपने पोटेशियम स्तर को कम करने की आवश्यकता है, तो आपके खाने-पीने के विकल्प मदद कर सकते हैं।
नमक के विकल्प में पोटेशियम का स्तर बहुत अधिक हो सकता है। घटक सूची को देखें। यदि आप नमक प्रतिस्थापन का उपयोग करना चाहते हैं, तो अपने डॉक्टर से बात करें। डिब्बाबंद फल और सब्जियों का सेवन करने से पहले, उन्हें छान लें। पोटेशियम का स्तर कुछ दवाओं द्वारा भी उठाया जा सकता है। आपकी दवाओं को आपके डॉक्टर द्वारा समायोजित करने की आवश्यकता हो सकती है।

समाप्ति

आपके शरीर में दो किडनी हैं। वे अपनी रीढ़ की हड्डी के दोनों ओर अपनी कमर के ऊपर स्थित मुट्ठी आकार के अंग हैं । आपके गुर्दे आपके रक्त को फ़िल्टर और शुद्ध करते हैं, अपशिष्ट उत्सर्जित करते हैं और मूत्र का उत्पादन करते हैं। किडनी टेस्ट का इस्तेमाल यह तय करने के लिए किया जाता है कि आपकी किडनी कितनी अच्छी तरह काम कर रही है। रक्त, मूत्र और इमेजिंग परीक्षण उनमें से हैं।
प्रारंभिक गुर्दे की बीमारी में आमतौर पर कोई लक्षण या संकेतक नहीं होते हैं। एक ही तरीका है कि आपके गुर्दे कैसे कर रहे है बताने के लिए उंहें परीक्षण किया है । यदि आपको मधुमेह, उच्च रक्तचाप, हृदय रोग या गुर्दे की विफलता का पारिवारिक इतिहास है, तो यह महत्वपूर्ण है कि आप गुर्दे की बीमारी के लिए जांच करवाएं।

गुर्दे की जांच में निम्नलिखित शामिल हैं।
1. क्रोनिक किडनी रोग के लिए सबसे लोकप्रिय रक्त परीक्षणों में से एक ग्लोमरुलर निस्पंदन दर (जीएफआर) है। यह इंगित करता है कि आपके गुर्दे कितनी अच्छी तरह फ़िल्टर करते हैं।
2. क्रिएटिनिन रक्त और मूत्र परीक्षण क्रिएटिनिन की मात्रा की जांच करते हैं, जो आपके गुर्दे द्वारा उत्सर्जित अपशिष्ट उत्पाद है।
3. एल्बुमिन पेशाब परीक्षण - यह निर्धारित करता है कि क्या एल्बुमिन, एक प्रोटीन जो मूत्र में प्रवाहित हो सकता है यदि गुर्दे क्षतिग्रस्त हो जाते हैं, मौजूद है।
4. अल्ट्रासाउंड इमेजिंग परीक्षाएं, उदाहरण के लिए, गुर्दे की छवियों का उत्पादन करती हैं। छवियों डॉक्टर गुर्दे के आकार और संरचना का आकलन करने के लिए अनुमति देते हैं, साथ ही कुछ भी अप्रत्याशित के लिए देखो ।
5. किडनी बायोप्सी एक ऐसी तकनीक है जिसमें एक छोटे से बिट किडनी टिश्यू को माइक्रोस्कोप के नीचे निकालकर जांच की जाती है। यह गुर्दे की बीमारी की उत्पत्ति के साथ-साथ आपके गुर्दे को नुकसान की सीमा निर्धारित करता है।

संबंधित विषय:

1. स्व-देखभाल और स्व-देखभाल का महत्व क्या है

सेल्फ-केयर का मतलब है ऐसी गतिविधियाँ करना जो हमें अच्छा महसूस कराती हैं और तनाव मुक्त करती हैं। अन्य दिन-प्रतिदिन के क्रियाकलापों के साथ-साथ आत्म-देखभाल शरीर के साथ-साथ आत्मा के लिए भी महत्वपूर्ण है। अधिक यात्रा जानने के लिए: आत्म-देखभाल का आत्म-देखभाल और महत्व क्या है।

2. स्वयं की देखभाल के लिए योग

योग आत्म-देखभाल के सबसे आवश्यक डेटासेट में से एक है। यह आपको अपने बारे में अच्छा महसूस कराता है और आपके शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य पर सकारात्मक प्रभाव डालता है। अधिक यात्रा जानने के लिए: स्वयं की देखभाल के लिए योग

3. स्व-देखभाल के लाभ

आत्म देखभाल के कई लाभ हैं जैसे कि बेहतर उत्पादकता, बेहतर प्रतिरक्षा प्रणाली, बढ़ा हुआ आत्म-ज्ञान और आत्म-करुणा। मुख्य लाभ यह है कि यह आपके जीवन में खुशी लाता है। अधिक यात्रा जानने के लिए: स्व-देखभाल के लाभ

4. सेल्फ-केयर रूटीन कैसे शुरू करें

चूंकि कई लोगों को एक स्व-देखभाल दिनचर्या शुरू करने में कठिनाई का सामना करना पड़ता है, इसलिए बेहतर होगा कि आप अपनी दिनचर्या में ध्यान, योग या एक्सर्साइज़ जैसी छोटी आत्म-देखभाल प्रथाओं को शामिल करें। अधिक यात्रा जानने के लिए: Hसेल्फ-केयर रूटीन कैसे शुरू करें

5. तनाव को कैसे प्रबंधित करें

स्व-देखभाल एक महत्वपूर्ण उपकरण है जो हमें स्वस्थ और खुश महसूस करने में मदद करता है और सबसे तनावपूर्ण परिस्थितियों में भी तनाव को कम करता है। स्व-देखभाल से शरीर और आत्मा को आराम मिलता है क्योंकि यह नकारात्मक भावनाओं और चिंता को कम करता है। अधिक जानकारी के लिए देखें: तनाव को कैसे प्रबंधित करें




उपर ब्लॉग में बताई गई उपलब्धिया AFD-SHIELD के साथ उपलब्ध हैं
एएफडी शील्ड कैप्सूल 12 प्राकृतिक अवयवों का एक संयोजन है जिनमें से अलगल डीएचए, अश्वगंधा, करक्यूमिन और स्पिरुलिना हैं। एएफडी शील्ड टीजी को कम करता है, एचडीएल बढ़ाता है और उम्र से संबंधित संज्ञानात्मक गिरावट में सुधार करता है। यह तनाव और चिंता को भी कम करता है और एंटी-एजिंग गतिविधि करता है। इसके अलावा, यह इम्युनोमॉड्यूलेटरी गतिविधि को बढ़ाता है, प्रतिरक्षा में सुधार करता है और सूजन और ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करता है। न्यूट्रोग्लिग्क्स: एएफडी-शील्ड

AFDIL Ltd.
+91 9920121021

order@afdil.com

Read Also:


Disclaimer
Home