Is Infertility In Male Common?

What is infertility?

Infertility refers to an inability of a sexually active, non-contracepting couple to conceive within a year. Further simplifying when a couple is unable to become pregnant after having unprotected sex for one year. There are multiple factors responsible which makes a couple infertile. Factors like low sperm production, abnormal sperm function or blockages preventing delivery of sperm, illnesses, injuries, chronic health problems, lifestyle choices could be responsible for infertility in male. In women it can be when a woman doesn’t ovulate, PCOS, thyroid disease, hormonal disorder, overweight, underweight, damaged or blocked fallopian tube. At times age and STD also play major role in making a person (male/female) infertile.


What is infertility in male?

Male infertility refers to any health problem that makes it more difficult for a man to impregnate his fertile female partner. More than a third of infertility cases is because of man. Most of the time, this is due to issues with his sperm development or delivery. Fertility of a man is largely determined by the quantity and consistency of your sperm. If the amount of sperm, you ejaculate is insufficient or the quality of sperm is poor then it will be difficult, if not impossible, to become pregnant. Quality of sperm is determined by the quantity, movement, and shape of the sperm. Some medical issues can often interfere with a man's ability to produce normal quantities of good quality of sperm. Men with diabetes, for instance, might have difficulty ejaculating. It is possible that men with cystic fibrosis have a blockage that prevents sperm from being ejected. Men who are overweight, who smoke, or who use recreational drugs like marijuana are more likely to have sperm problems. Infertility affects around one in every 20 men due to low sperm counts. Just about one in every 100 males, on the other hand, has no sperm at all.

Process in Fertile Male (Under Normal Condition)

Male Reproductive system

A man's body generate tiny cells called as Sperm. These sperm cells enter a woman's body when a man ejaculates inside a woman during sex. The male reproductive system comprises of testes, ducts of the testes, accessory glands and supporting structure. The whole process of producing, storing, and transporting sperm is done by the male reproductive system. There are some chemical messengers in our body named as hormones. These hormones are responsible for few reactions. One such male sex hormone is Testosterone which is responsible for sperm production. The role of testicles is to produce sperm and the male sex hormone (testosterone). The testicles are located in the scrotum, which is a skin sac under the penis. When the sperm exit the testicles, they go into epididymis. Epididymis is a tube behind each testicle.

The sperm leave the epididymis and just before ejaculation it enters in “Vas Deferens” also called as Ductus Deference. (Vas Deferens are another collection of tubes present in male reproductive system). Each vas deferens loops from the epididymis to the pelvis behind your bladder. Each vas deferens connects the seminal vesicle to the ejaculatory duct. Sperm blend with fluid from the prostate and seminal vesicles as you ejaculate. This results in the formation of semen. After that, the sperm passes through the urethra and exits the penis.

The sperm are injected into the female partner's vaginal canal. The sperm pass through her cervix, uterus, and fallopian tubes. On their way to her fallopian tubes if the genes, hormone level and environmental conditions are right, then fertilization happens. Thus, fertility in male is dependent on their body producing and distributing normal sperm.

In men, because of some external or internal factors if their reproductive system gets negatively affected it can lead them to infertility.

Common Causes of male infertility ?

Causes of male infertility

Many factors go into producing mature, healthy sperm that can Swim/travel. Multiple factors can prevent cells from developing into sperm. The sperm may be unable to penetrate the egg due to a variety of issues. The temperature of the scrotum can also affect viability or quality of sperm. The temperature of human scrotum is supposed to be 3.1 degree lower than our normal body temperature for the process of Spermatogenesis. Spermatogenesis is the process of origin and development of sperm that takes place in the scrotum.

Below mentioned are other most biological common causes of male infertility:
1. Sperm Disorder: Sperm problems can be caused by inherited characteristics/genetics. Sperm counts may also get lowered because of unhealthy lifestyle. Smoking, consuming alcohol, and taking some drugs may lower sperm numbers. Long-term illness (e.g., kidney failure), childhood diseases (e.g., mumps), and gene or hormone problems are all possible causes of low sperm counts (e.g., low testosterone).
Low or no sperm may result from damage to the reproductive system. Approximately four out of every ten men with complete sperm deficiency (azoospermia) have a blockage in the tubes through which the sperm move. A birth defect or an issue such as an infection may cause a blockage.

2. Varicoceles: Swollen veins in the scrotum are known as varicoceles. They block proper blood drainage thus hindering the sperm growth. It may be that varicoceles allow blood to flow back into your scrotum from your abdomen. The testicles become too warm to produce sperm. This can cause low sperm numbers. They are included in 16 of every 100 guys. Infertile men are more likely to have them (40 out of 100).

3. Retrograde Ejaculation: When sperm travels backwards in the body, it is known as retrograde ejaculation. It happens when the nerves and muscles in your bladder don't close during orgasm/climax. Thus, semen reaches the bladder during orgasm instead of coming out the tip of the penis.
Surgery, medications, and nervous system disorders may all induce retrograde ejaculation. Cloudy urine after ejaculation and a lack of fluid or "dry" ejaculation are signs of retrograde ejaculation.

4. Sexually Transmitted Disease (STD): Some infections may affect sperm production or health, or cause scarring that prevents sperm from passing through. Some sexually transmitted infections, such as gonorrhoea or HIV, cause inflammation of the epididymis (epididymitis) or testicles (orchitis).
Certainly, some infections can result in irreversible testicular damage, sperm can usually be recovered.

5. Obstruction: The tubes that sperm pass through can get blocked at times. Some possible reasons leading to obstruction of male reproductive tract can be caused by repeated infections, surgery (such as vasectomy), swelling, or developmental defects. If any part of the male reproductive system gets blocked, during ejaculation semen from the testicles cannot leave the body.

6. Hormones: Infertility may be caused by problems with the testicles or by problems with other hormonal systems such as the hypothalamus, pituitary, thyroid, and adrenal glands. Low testosterone (male hypogonadism) and other hormonal issues may be caused by a variety of factors.

7. Medication: The development, function, and delivery of sperm may get affected by certain medications. The conditions for which these drugs are prescribed are: High blood pressure, arthritis, cancer, depression.

8. Klinefelter Syndrome: This syndrome is not genetically inherited, but rather developed after conception resulting into random genetic error. Males with Klinefelter's syndrome have lower testosterone levels, as well as less muscle mass, facial hair, and body hair. Most men suffering from this disorder produce very little to no sperm. Testosterone replacement and fertility therapy are two options for treatment.

Factors affecting fertility in male

When to contact a Doctor?

If you have not been able to conceive a child after a year of normal, unprotected intercourse. There could be chances that Quality of sperm is not good. If quality of sperm is the reason, then symptoms of infertility is not visible. Sexual intercourse, erections, and ejaculation would all be easy for you, and your sperm would appear natural to the naked eye. Hence, medical testing may be needed to determine the cause of your infertility.

However, in some cases, signs and symptoms are caused by an underlying issue such as a genetic disease, hormonal imbalance, dilated veins around the testicle, or a condition that prevents sperm from passing through. Therefore, if you notice one or more of the below mentioned signs and symptoms then contact a Doctor as soon as possible:
1. Sexual Function: Trouble ejaculating or ejaculating small amounts of fluid, decreased sexual desire, or erectile dysfunction (difficulty sustaining an erection).

2. Gynecomastia: Enlargement or swelling of breast tissues in male.

3. Hair loss on the face or body, as well as other symptoms of chromosomal or hormonal abnormalities

4. In the testicle region, there may be pain, swelling, or a lump.

5. Recurring respiratory infection

6. Inability or loss of smell

Diagnosis of Male Infertility

Diagnosis of male infertility

Male fertility issues can be difficult to diagnose. Sperm development or distribution are the most common issues with fertility. A complete medical history and physical examination are needed to make a diagnosis. Blood tests and sperm tests can also be recommended by your doctor.

Lifestyle and Health History: Your health and surgical histories will be examined. Your Doctor would prefer to be informed about anything that could affect your fertility. This may involve reproductive system deficiencies, low hormone levels, illness, or injuries. The Doctor will inquire about any childhood diseases, current health issues, or drugs that may impair sperm development. Mumps, diabetes, and steroid use can all affect fertility. The Doctor can also ask about your lifestyle including usage of alcohol, tobacco, marijuana, and other similar substance abuse. Will enquire about any exposure to radiation, heavy metals, or chemicals. Exposure to heavy metals like mercury, lead arsenic can not only lead to infertility, but they are also carcinogenic in nature.

Physical Examination: The Doctor will enquire how your body functions during sex. Questions about your and your partner's attempts to conceive. Example, they can ask whether you have had problems with erections. The physical exam will check your penis, epididymis, vas deferens, and testicles for problems. Varicoceles will be checked by your doctor. A physical examination will easily reveal them.

Semen Analysis: It is a routine lab examination used to determine the amount of sperm output and whether the sperm are working properly (like sperm motility). If sperm counts are irregular, the test is usually repeated at least twice. The collected sample is examined for factors that aid or hinder conception (fertilization).

They examine sperm volume, count, concentration, movement ("motility"), and structure using this method. Sperm’s capacity to fertilize the egg is determined by the results of the semen analysis tests. If the sperm test indicates low sperm count or no sperm, it doesn't necessarily mean you'll be infertile forever. It may simply indicate a problem with sperm growth or delivery. It's possible that further research is needed. Treatment is possible in some situations even if a semen examination reveals no sperm.

Testicular Biopsy: A testicular biopsy may be required if a sperm test reveals a very low count of sperm or no sperm. The procedure involves making a small cut in the scrotum after administering general or local anesthesia. It can also be performed in a clinic with the use of a needle inserted into the numbed scrotal muscle. A small piece of tissue from each testicle is extracted and examined under a microscope in either case. The biopsy is used for two purposes. It may assist in determining the cause of infertility and to collect sperm for assisted reproduction (IVF).

Transrectal Ultrasound: In the rectum, a probe is inserted. It sends sound waves to the ejaculatory ducts in the region. Ultrasound takes an impression of an organ by bouncing sound waves off of it. For example, a transrectal ultrasound can be ordered by your doctor, the ejaculatory duct and seminal vesicles may be examined to see whether they are poorly developed or blocked.

Treatment for Male infertility:

Depending on the cause, treatments for male infertility is divided into 3 main categories:
1) Medication/Non-Surgical Therapy
a. In cases of erectile dysfunction or premature ejaculation, medication or therapy may help improve fertility.
b. In situations where infertility is caused by high or low levels of certain hormones, or complications with how the body uses hormones, hormone replacement or drugs may be used.

2) Surgical Therapy:
a. Issues like Varicocele, obstructed Vas deference/Ductus deference, can be corrected or repaired surgically.
b. In cases where sperm does not get ejaculated sperm extraction methods may also be used to obtain sperm directly from the testicles or epididymis.

3) Treatment for unknown cause of Infertility/ Assisted Reproductive Technique (ART):
a. ART treatments can include receiving sperm by natural ejaculation, surgical extraction, or from donor individuals. The sperm are then either injected into the female genital tract or used in in-vitro fertilization or intracytoplasmic sperm injection procedures.

Can aging affect fertility in male?

At times, Yes. Healthy men in their 70s and beyond can still father children, but it takes longer for your wife to become pregnant if you're middle-aged or older. This may be due to a decrease in sexual activity, a decrease in semen volume, changes in sperm movement, a decrease in the amount of properly functioning sperm, or a decrease in sperm function and DNA efficiency. When you grow older, the likelihood of your child having a genetic or chromosomal problem increases.

How to prevent Male infertility?

Few steps that can help you prevent infertility are:

1) Sex Frequency: Having sexual intercourse every day or at least five days before beginning of the ovulation, increases the chances of getting your wife pregnant.

2) Use of Lubricants: Some lubricants are known to impair or negatively impact sperm movement or function. Thus, one must consult Doctor regarding sperm safe lubricant.

3) Healthy Lifestyle: Eating food rich in Zinc, exercising regularly, getting good amount of sleep and maintaining a healthy weight can help in boosting fertility.

4) Avoiding unhealthy habits: Avoid/Reduce alcohol intake, prohibit smoking or usage of illicit drugs.

Factors leading to infertility in male

Nutrients that can boost fertility in male

1) Healthy diets high in omega-3 fatty acids

2) Antioxidants (vitamin E, vitamin C, -carotene, selenium, zinc, cryptoxanthin, and lycopene), other vitamins (vitamin D and folate).

3) In terms of dietary antioxidants, lycopene consumption was linked to improved sperm morphology.

4) Several sperm content parameters were positively correlated with fish, shellfish, and shrimp, meat, cereals, vegetables and fruits, low-fat dairy, and skimmed milk.

5) Minimize the intake of food with saturated and trans-fatty acids. According to the findings they are correlated with low quality of sperm or low semen quality parameters.

6) Reduce intake of food high in processed meat, soy foods, potatoes, full-fat dairy and total dairy products, cheese, coffee, alcohol, sugar-sweetened beverages, and candy. In some study these were found to be harmful for sperm production.

7) In terms of fertility, a high consumption of alcohol, caffeine, red meat, and processed meat by males has a detrimental impact on their partners' chances of pregnancy or fertilization rates.

Nutrients that boosts fertility in male

Conclusion

Now a days infertility amongst men is common. Few infertility conditions are curable if diagnosed early. There are multiple factors which affects fertility in men, from genetics to lifestyle. It can also occur because of some external factor like getting directly exposed to heavy metal (Mercury, arsenic, lead). Importantly a man can prevent suffering from infertility if he follows healthy lifestyle and consumes a healthy diet which is rich in Zinc, Vitamin C & E, Magnesium, Potassium.

Related Topics

1 Vitamin C (Ascorbic acid) is a water-soluble vitamin known for its antioxidant properties. It is necessary for normal growth, development and general well being. Read more: How much Vitamin C is required for general well being?

2 Occasionally enjoying an alcoholic beverage is unlikely to cause harm to your health, but drinking in huge amount even for few days can build up fat in the liver. This accumulation of alcoholic fat in liver can lead to ARLD (Alcohol Related Liver Disease).
Read More: Is drinking too much alcohol harmful for the liver?

3 Combination of fast food and lack of physical activity can cause substantial liver damage. Foods which are high in fat, salt/sodium and sugar content like fried/fats food are harmful for your health, especially liver health. Read more Is eating fast-food harmful for the liver?

Need more such information on health and well-being, Visit our Blog:nutralogicx.com/blogs/




The above essentials are available with Lyber

Nutralogicx: Lyber

Lyber is a unique oral nutraceutical product containing a combination of Lycopene and Shilajit. It works great for management of male infertility.
Lycopene is for better sperm health. It prevents oxidative damage to sperm cells, improves sperm count by 70% and motility by 53%, and improves sperm morphology by 38%.
Shilajit is for improving performance. It improves sperm count by 60%, improves sperm activity by 12%, and increases testosterone and FSH levels.

क्या पुरुष में बांझपन सामान्य है ?

बांझपन क्या है ?

बांझपन एक वर्ष के भीतर गर्भ धारण करने के लिए यौन रूप से सक्रिय, गैर-गर्भनिरोधक जोड़े की अक्षमता को संदर्भित करता है। एक वर्ष के लिए असुरक्षित यौन संबंध बनाने के बाद जब कोई दंपति गर्भवती नहीं हो पाता है तो और सरल हो जाता है। ऐसे कई कारक हैं जो एक जोड़े को बांझ बनाते हैं। कम शुक्राणु उत्पादन, असामान्य शुक्राणु समारोह या रुकावट जैसे शुक्राणुओं के वितरण, बीमारियों, चोटों, पुरानी स्वास्थ्य समस्याओं, जीवनशैली विकल्पों के कारण पुरुष में बांझपन के लिए जिम्मेदार हो सकता है। महिलाओं में यह तब हो सकता है जब एक महिला ओवुलेट, पीसीओएस, थायरॉयड रोग, हार्मोनल विकार, अधिक वजन, कम वजन, क्षतिग्रस्त या अवरुद्ध फैलोपियन ट्यूब नहीं करती है। कई बार उम्र और एसटीडी भी एक व्यक्ति (पुरुष / महिला) को बांझ बनाने में प्रमुख भूमिका निभाते हैं


पुरुष में बांझपन क्या है ?

पुरुष बांझपन किसी भी स्वास्थ्य समस्या को संदर्भित करता है जो एक पुरुष के लिए अपनी उपजाऊ महिला साथी को गर्भवती करना अधिक कठिन बना देता है। एक तिहाई से अधिक बांझपन के मामले मनुष्य के कारण होते हैं। ज्यादातर समय, यह उसके शुक्राणु विकास या प्रसव के मुद्दों के कारण होता है। एक आदमी की उर्वरता काफी हद तक आपके शुक्राणु की मात्रा और स्थिरता से निर्धारित होती है। यदि शुक्राणु की मात्रा, आप स्खलन अपर्याप्त है या खराब गुणवत्ता का है तो यह मुश्किल होगा, यदि असंभव नहीं है, तो गर्भवती होने के लिए शुक्राणु की गुणवत्ता शुक्राणु की मात्रा, गति और आकार से निर्धारित होती है। कुछ चिकित्सा मुद्दे अक्सर गुणवत्ता शुक्राणु की सामान्य मात्रा का उत्पादन करने की एक आदमी की क्षमता में हस्तक्षेप कर सकते हैं। उदाहरण के लिए, मधुमेह वाले पुरुषों को स्खलन करने में कठिनाई हो सकती है। यह संभव है कि सिस्टिक फाइब्रोसिस वाले पुरुषों में एक रुकावट होती है जो शुक्राणु को बाहर निकालने से रोकती है। अधिक वजन वाले पुरुष, जो धूम्रपान करते हैं, या जो मारिजुआना जैसी मनोरंजक दवाओं का उपयोग करते हैं, उनमें शुक्राणु की समस्या होने की संभावना अधिक होती है। कम शुक्राणुओं की संख्या के कारण प्रत्येक 20 पुरुषों में बांझपन लगभग एक को प्रभावित करता है। हर 100 में से एक पुरुष, दूसरी ओर, शुक्राणु बिल्कुल भी नहीं होते हैं।

उपजाऊ पुरुष में प्रक्रिया (सामान्य स्थिति के तहत)

पुरुष प्रजनन तंत्र

एक आदमी के शरीर में शुक्राणु के रूप में बुलायाछोटे कोशिकाओं उत्पन्न करते हैं । ये शुक्राणु कोशिकाएं एक महिला के शरीर में प्रवेश करती हैं जब एक पुरुष सेक्स के दौरान एक महिला के अंदर स्खलन करता है। टीवह पुरुष प्रजनन प्रणाली टेस्ट, टेस्ट के नलिकाओं, गौण ग्रंथियों और शामिल हैं

सपोर्टिंग स्ट्रक्चर. स् वाधि के उत्पादन, भंडारणऔर परिवहन कीपूरी प्रक्रिया पुरुष प्रजनन प्रणाली द्वारा कीजाती है । हमारे शरीर में कुछ केमिकल मैसेंजर होते हैं, जिनका नाम हार्मोन्स रखा जाता है। ये हार्मोन कुछ प्रतिक्रियाओं के लिए जिम्मेदार होते हैं। ऐसा ही एक पुरुष सेक्स हार्मोन टेस्टोस्टेरोन है जो शुक्राणु उत्पादन के लिए जिम्मेदार है . अंडकोष की भूमिका शुक्राणु और पुरुष सेक्स हार्मोन (टेस्टोस्टेरोन) का उत्पादन करने के लिए है। अंडकोष अंडकोष में स्थित होते हैं, जो लिंग के नीचे एक त्वचा थैली है। जब शुक्राणु अंडकोष से बाहर निकलते हैं, तो वे एपिडिडिमिस में चले जाते हैं। एपिडिडिमिस प्रत्येक अंडकोष के पीछे एक ट्यूब है।

शुक्राणु एपिडिडिमिस छोड़ देते हैं और स्खलन से ठीक पहले यह"वास डेफेरेंस" में एस में प्रवेश करता है जिसे डक्टस आदर के रूप में भी कहा जाताहै। (वास डेफेरेंस पुरुष प्रजनन प्रणाली में मौजूद ट्यूबों का एक और संग्रह है) । प्रत्येक वास अपने मूत्राशय के पीछे श्रोणि के लिए एपीडिडिमिस से छोरों deferens । प्रत्येक वास डिफेरेंस मौलिक वेसिकल को स्खलन वाहिनी से जोड़ता है। शुक्राणु प्रोस्टेट और मौलिक वेसिकल्स से तरल पदार्थ के साथ मिश्रण के रूप में आप बोल पड़ना । इसके परिणामस्वरूप वीर्य का निर्माण होता है। इसके बाद शुक्राणु मूत्रमार्ग से होकर गुजरता है और लिंग से बाहर निकलता है।

शुक्राणु को महिला साथी की योनि नहर में इंजेक्ट किया जाता है। शुक्राणु उसके गर्भाशय ग्रीवा, गर्भाशय, और फैलोपियन ट्यूबों के माध्यम से गुजरती हैं। ओएन उसके फैलोपियन ट्यूबों के लिए अपने तरीके से अगर जीन, हार्मोन का स्तर और पर्यावरण की स्थिति सही हैं, तो निषेचन होता है । इस प्रकार, पुरुष में एफertility सामान्य शुक्राणु का उत्पादन और वितरण करने वाली थीईआर शरीर पर निर्भर करता है। पुरुषों में, कुछ बाहरी या आंतरिक कारकों के कारण यदि उनकी प्रजनन प्रणाली नकारात्मक रूप से प्रभावित हो जाती है तो यह उन्हें बांझपन की ओर ले जा सकती है।

पुरुष में बांझपन का कारण

पुरुष में बांझपन का कारण

कई कारक परिपक्व, स्वस्थ शुक्राणु के उत्पादन में जाते हैं जो तैर सकते हैं/ कई कारक कोशिकाओं को शुक्राणु में विकसित होने से रोक सकते हैं। शुक्राणु कई तरह के मुद्दों के कारण अंडे में प्रवेश करने में असमर्थ हो सकते हैं। टीवह अंडकोश का तापमान शुक्राणु की व्यवहार्यता या गुणवत्ता को भी प्रभावित कर सकता है । शुक्राणुओं की प्रक्रिया के लिए मानव अंडकोश का तापमान हमारे सामान्य शरीर के तापमान से 3.1 डिग्री कम माना जाता है। शुक्राणुओं की उत्पत्ति और शुक्राणु के विकास की प्रक्रिया है जो अंडकोश में होती है।

नीचे वर्णित पुरुष बांझपन के अन्य सबसे आम जैविक कारण हैं :
1. शुक्राणु विकार: शुक्राणुओं की समस्याएं विरासत में मिली विशेषताओं/जेनेटिक्स केकारण हो सकती हैं. अस्वस्थ जीवनशैली के कारण शुक्राणुओं की संख्या भी कम हो सकती है। धूम्रपान, शराब का सेवन, और कुछ दवाओं लेने से शुक्राणुओं की संख्या कम हो सकती है। लंबे समय तक बीमारी(जैसे, गुर्दे की विफलता), बचपन की बीमारियां (जैसे, गलसुआ), और जीन या हार्मोन की समस्याएं कम शुक्राणुओं की संख्या(जैसे, कम टेस्टोस्टेरोन) के सभी संभावित कारण हैं।
कम या कोई शुक्राणु प्रजनन प्रणाली को नुकसान से परिणाम हो सकता है। पूर्ण शुक्राणु की कमी (azoospermia) के साथ हर दस पुरुषों में से लगभग चार ट्यूबों में एक रुकावट है जिसके माध्यम से शुक्राणु कदम है । जन्म दोष या संक्रमण जैसी समस्या रुकावट पैदा कर सकती है।

2. वैरिकोसेल्स : अंडकोष में सूजन नसों को वैरिकोसेल के रूप में जाना जाता है। वे उचित रक्त जल निकासी को अवरुद्ध करते हैं जिससे शुक्राणु के विकास में बाधा आती है। यह हो सकता है कि वैरिकोसेल रक्त को आपके पेट से आपके अंडकोश में वापस बहने दें। अंडकोष शुक्राणु पैदा करने के लिए बहुत गर्म हो जाते हैं। इससे स्पर्म नंबर कम हो सकते हैं। वे एकफिर सेहर १०० लोगों में से 16 में शामिल हैं । पुरुषों में उन्हें (100 में से 40) होने की संभावना अधिक होती है।

3. प्रतिगामी स्खलन: जब शुक्राणु शरीर में पीछे की ओर यात्रा करते हैं, तो इसे प्रतिगामी स्खलन के रूप में जाना जाता है। ऐसा तब होता है जब आपके मूत्राशय में तंत्रिकाएं और मांसपेशियां संभोग के दौरान बंद नहीं होती हैं/ इस प्रकार, वीर्य लिंग की नोक बाहर आने के बजाय संभोग के दौरान मूत्राशय तक पहुंचताहै।
सर्जरी, दवाएं और तंत्रिका तंत्र विकार सभी प्रतिगामी स्खलन को प्रेरित कर सकते हैं। स्खलन के बाद सी जोर से मूत्र और तरल पदार्थ या "शुष्क" स्खलन की कमी प्रतिगामी स्खलन के लक्षण हैं।

4. यौन संचारित रोग (एसटीडी) : कुछ संक्रमण शुक्राणु उत्पादन या स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकते हैं, या जख्म का कारण बन सकते हैं जो शुक्राणु को गुजरने से रोकता है। कुछ यौन संचारित संक्रमण, जैसे गोनोरिया या एचआईवी, एपिडिडिमिस (एपिडिडिमिटिस) या अंडकोष (ऑर्चिटिस) की सूजन का कारण बनते हैं।
निश्चित रूप से, कुछ संक्रमणों के परिणामस्वरूप अपरिवर्तनीय वृषण क्षति हो सकती है, शुक्राणु को आमतौर पर पुनर्प्राप्त किया जा सकता है।

5. बाधा : शुक्राणु जिन ट्यूबों से गुजरते हैं, वे कई बार अवरुद्ध हो सकते हैं। पुरुष प्रजनन पथ में बाधा डालने के कुछ संभावित कारण बार-बार संक्रमण, सर्जरी (जैसे पुरुष नसबंदी), सूजन या विकासात्मक दोषों के कारण हो सकते हैं। यदि पुरुष प्रजनन प्रणाली का कोई हिस्सा अवरुद्ध हो जाताहै, तो अंडकोष से स्खलन वीर्य के दौरान शरीर को नहीं छोड़ सकते हैं।

6. हार्मोन : बांझपन अंडकोष के साथ समस्याओं या हाइपोथैलेमस, पीयूष, थायराइड और अधिवृक्क ग्रंथियों जैसे अन्य हार्मोनल प्रणालियों के साथ समस्याओं के कारण हो सकता है। कम टेस्टोस्टेरोन (पुरुष हाइपोगोनिज्म) और अन्य हार्मोनल मुद्दे विभिन्न कारकों के कारण हो सकते हैं।

7. दवा : शुक्राणु का विकास, कार्य और वितरण कुछ दवाओं से प्रभावित हो सकता है। जिन स्थितियों के लिए ये दवाएं निर्धारित की जाती हैं, वे हैं- उच्च रक्तचाप, गठिया, कैंसर, अवसाद।

8. क्लाइनफेल्टरसिंड्रोम : यह सिंड्रोम आनुवंशिक रूप से विरासत में नहीं मिला है, बल्कि गर्भाधान के बाद विकसितहोता है जिसके परिणामस्वरूपयादृच्छिक आनुवंशिक त्रुटि होती है। क्लाइनफेल्टर सिंड्रोम वाले पुरुषों में टेस्टोस्टेरोन का स्तर कम होता है, साथ ही मांसपेशियों में कम द्रव्यमान, चेहरे के बाल और शरीर के बाल होते हैं। इस विकार से पीड़ित अधिकांश पुरुषों को कोई शुक्राणु के लिए बहुत कम उत्पादन । टेस्टोस्टेरोन रिप्लेसमेंट और फर्टिलिटी थेरेपी इलाज के दो विकल्प हैं।

पुरुष में प्रजनन क्षमता को प्रभावित करने वाले कारक

डॉक्टर से कब संपर्क करें ?

यदि आप एक साल के सामान्य, असुरक्षित संभोग के बाद एक बच्चे को गर्भ धारण करने में सक्षम नहीं हैं। ऐसे मौके हो सकते हैं कि आपका स्पर्म क्वालिटी ठीक नहीं है। यदि शुक्राणु की गुणवत्ता का कारण है, तो बांझपन के लक्षण दिखाई नहीं देते हैं। संभोग, इरेक्शन, और स्खलन यह सब आपके लिए आसान होगा, और आपके शुक्राणु नग्न आंखों के लिए प्राकृतिक दिखाई देंगे। इसलिए, आपके बांझपन के कारण को निर्धारित करने के लिए चिकित्सा परीक्षण की आवश्यकता हो सकती है।

हालांकि, कुछ मामलों में, संकेत और लक्षण एक अंतर्निहित मुद्दे जैसे कि एक आनुवांशिक बीमारी, हार्मोनल असंतुलन, अंडकोष के आस-पास की पतली नसों या एक ऐसी स्थिति के कारण होते हैं जो शुक्राणु को गुजरने से रोकता है। इसलिए, यदि आप नीचे दिए गए संकेतों और लक्षणों में से एक या अधिक नोटिस करते हैं, तो जल्द से जल्द एक डॉक्टर से संपर्क करें:
1. यौन कार्य : तरल पदार्थ की थोड़ी मात्रा में स्खलन या स्खलन करने में परेशानी, यौन इच्छा में कमी, या स्तंभन दोष (निर्माण को बनाए रखने में कठिनाई)।

2. गायनीकोमास्टिया : पुरुष में स्तन ऊतकों में वृद्धि या सूजन।

3. चेहरे या शरीर पर बालों का झड़ना, साथ ही गुणसूत्र या हार्मोनल असामान्यता के अन्य लक्षण

4. अंडकोष क्षेत्र में दर्द, सूजन या एक गांठ हो सकता है।

5. आवर्ती श्वसन संक्रमण

6. गंध की अक्षमता या हानि

पुरुष बांझपन का निदान

पुरुष बांझपन का निदान

पुरुष प्रजनन समस्याओं का निदान करने के लिए मुश्किल हो सकता है। एसस् म स् म विकास या वितरण प्रजनन क्षमता के साथ सबसे आम मुद्देहैं। निदान करने के लिए एक पूर्ण चिकित्सा इतिहास और शारीरिक परीक्षा की आवश्यकता होती है। रक्त परीक्षण और शुक्राणु परीक्षण भी अपने डॉक्टर द्वारा सिफारिश की जा सकती है।

जीवन शैली और स्वास्थ्य इतिहास : आपके स्वास्थ्य और शल्य इतिहास की जांच की जाएगी. आपका डॉक्टर एकऐसी न्यथिंग के बारे में सूचित करना पसंद करेगाजो आपकी प्रजनन क्षमताको प्रभावित कर सकता है। इसमें प्रजनन प्रणाली की कमी, हार्मोन का स्तर कम, बीमारी या चोट शामिल हो सकतीहै। डीऑक्टोर किसी भी बचपन के रोगों, वर्तमान स्वास्थ्य मुद्दों, या दवाओं है कि शुक्राणु के विकास ख़राब हो सकता है के बारे में पूछताछ करेंगे । गलसुआ, मधुमेह, और स्टेरॉयड का उपयोग सभी प्रजनन क्षमता को प्रभावित कर सकते हैं. डॉक्टर शराब, तंबाकू, मारिजुआना, और इसी तरह के अन्य मादक द्रव्यों के सेवन के उपयोग सहित आपकी जीवन शैली के बारे में भी पूछ सकते हैं। विकिरण, भारी धातुओं, या रसायनों के लिए किसी भी जोखिम के बारे में पूछताछ करेंगे। पारा, सीसा आर्सेनिक जैसी भारी धातुओं के संपर्क में आने से न केवल बांझपन हो सकता है, बल्कि वे प्रकृति में कैंसरजनक भी होते हैं।

शारीरिकपरीक्षा : डॉक्टर पूछेंगे कि आपका शरीर सेक्स के दौरान कैसे काम करता है। आपके और आपके साथी के गर्भधारण के प्रयासों के बारे में प्रश्न। उदाहरण के लिए, वे पूछ सकते हैं कि क्या आपको इरेक्शन की समस्या है। शारीरिक परीक्षा आपके लिंग, एपिडीडिमिस, वास डिफेरेंस और अंडकोष की समस्याओं की जाँच करेगी। वैरिकोसेले की जाँच आपके डॉक्टर द्वारा की जाएगी। एक शारीरिक परीक्षा आसानी से उन्हें प्रकट करेगी।

वीर्य विश्लेषण: यह एक नियमित प्रयोगशाला परीक्षा है जिसका उपयोग शुक्राणु उत्पादन की मात्रा निर्धारित करने के लिए किया जाता है और क्या शुक्राणु ठीक से काम कर रहे हैं (जैसे शुक्राणु गतिशीलता)। यदि शुक्राणु की संख्या अनियमित है, तो परीक्षण आमतौर पर कम से कम दो बार दोहराया जाता है। एकत्र किए गए नमूने की सहायता या बाधा गर्भाधान (निषेचन) कारकों के लिए जांच की जाती है।

वे इस पद्धति का उपयोग करके शुक्राणु की मात्रा, गिनती, एकाग्रता, आंदोलन ("गतिशीलता"), और संरचना की जांच करते हैं। अंडे को निषेचित करने के लिए शुक्राणु की क्षमता वीर्य विश्लेषण परीक्षणों के परिणामों से निर्धारित होती है। यदि शुक्राणु परीक्षण कम शुक्राणु संख्या या कोई शुक्राणु इंगित करता है, यह जरूरी नहीं कि आप हमेशा के लिए बांझ हो जाएगा। यह केवल शुक्राणु वृद्धि या प्रसव के साथ एक समस्या का संकेत हो सकता है। यह संभव है कि आगे के शोध की आवश्यकता है। कुछ स्थितियों में उपचार संभव है, भले ही वीर्य परीक्षा में कोई शुक्राणु न हो।

वृषण बायोप्सी : शुक्राणु परीक्षण से शुक्राणु या शुक्राणु की बहुत कम गिनती का पता चलता है, तो एक वृषण बायोप्सी की आवश्यकता हो सकती है। टीएचई प्रक्रिया में सामान्य या स्थानीय संज्ञाहरणका प्रशासन करने के बाद अंडकोश में एक छोटी सी कटौती करना शामिल है। यह सुन्न स्क्रोटल मांसपेशियों में डाली गई सुई के उपयोग के साथ एक क्लिनिक में भी किया जा सकता है। प्रत्येक अंडकोष से ऊतक का एक छोटा सा टुकड़ा निकाला जाता है और किसी भी मामले में माइक्रोस्कोप के नीचे जांच की जाती है। बायोप्सी का उपयोग दो उद्देश्यों के लिए किया जाता है। यह बांझपन के कारण का निर्धारण करने और सहायता प्राप्त प्रजनन (आईवीएफ)के लिए शुक्राणु एकत्र करने में सहायता कर सकता है।

ट्रांसरेक्टलअल्ट्रासाउंड : मलाशय में, एक जांच डाली जाती है। यह क्षेत्र में ध्वनि तरंगों को स्खलन नलिकाओं को भेजता है। अल्ट्रासाउंड अंग की ध्वनि तरंगों को उछाल कर एक अंग की छाप लेता है। उदाहरण के लिए, एक सही अल्ट्रासाउंड आपके डॉक्टर द्वारा आदेश दिया जा सकता है, स्खलन वाहिनी और वीर्य पुटिकाओं की जांच की जा सकती है कि क्या वे खराब विकसित या अवरुद्ध हैं।

पुरुष बांझपन के लिए उपचार :

कारण के आधार पर, पुरुष बांझपन के लिए उपचार 3 मुख्य श्रेणियों में विभाजित है:
1) दवा/गैर सर्जिकल थेरेपी:
a. स्तंभन दोष या समय से पहले स्खलन के मामलों में, दवा या चिकित्सा प्रजनन क्षमता में सुधार करने में मदद कर सकती है।
b. स्थितियों में जहां बांझपन कुछ हार्मोन के उच्च या निम्न स्तर के कारण होता है, या जटिलताओं के साथ कैसे शरीर हार्मोन का उपयोग करता है, हार्मोन प्रतिस्थापन या दवाओं का उपयोग किया जा सकता है ।

2) सर्जिकलथेरेपी :
a. वैरिकोसेल, बाधित वास संमान/डक्टस आदर जैसे मुद्दों को शल्य चिकित्सा से ठीक या मरम्मत की जा सकती है ।
b. ऐसे मामलों में जहां शुक्राणु स्खलन शुक्राणु निष्कर्षण विधियों को नहीं मिलता है, उनका उपयोग अंडकोष या एपिडिडिमिस से सीधे शुक्राणु प्राप्त करने के लिए भी किया जा सकता है।

3) बांझपन के अज्ञात कारण के लिएउपचार:
a. एआरटी उपचार में प्राकृतिक स्खलन, शल्य चिकित्सा निष्कर्षण, या दाता व्यक्तियों से शुक्राणु प्राप्त करना शामिल हो सकता है। शुक्राणु तो या तो महिला जननांग पथ में इंजेक्शन या में इस्तेमाल कियाजाता है-विट्रोनिषेचन या इंट्रासाइटोप्लाज्मिक शुक्राणु इंजेक्शन प्रक्रियाओं ।

उम्र बढ़ने पुरुष में प्रजनन क्षमता को प्रभावित कर सकते हैं?

कई बार, हां । अपने 70 के दशक में स्वस्थ पुरुषों और परे अभी भी पिता बच्चों कर सकते हैं, लेकिन यह अपनी पत्नी के लिए गर्भवती बनने के लिए अब लगता है अगर आप मध्यम आयु वर्ग या पुराने हैं । यह यौन गतिविधि में कमी, वीर्य की मात्रा में कमी, शुक्राणु आंदोलन में परिवर्तन, ठीक से काम करने वाले शुक्राणु की मात्रा में कमी, या शुक्राणु समारोह और डीएनए दक्षता में कमी के कारण हो सकता है। जब आप बड़े हो जाते हैं तो आपके बच्चे को जेनेटिक या क्रोमोसोमल की समस्या होने की संभावना बढ़ जाती है।

पुरुष बांझपन को कैसे रोकें?

कुछ कदम जो आपको बांझपन को रोकने में मदद कर सकते हैं:

1) सेक्स फ्रीक्वेंसी: ओव्यूलेशन की शुरुआत से हर दिन या कम से कम पांच दिन पहले संभोग करने से आपकी पत्नी के गर्भवती होने की संभावना बढ़ जाती है।

2) स्नेहक का उपयोग: कुछ स्नेहक शुक्राणु आंदोलन या कार्य को प्रभावित या नकारात्मक प्रभाव के लिए जाने जाते हैं। इस प्रकार, किसी को शुक्राणु सुरक्षित स्नेहक के बारे में डॉक्टर से परामर्श करना चाहिए।

3) स्वस्थ जीवन शैली: जिंक से भरपूर भोजन खाने, नियमित रूप से व्यायाम करने, अच्छी मात्रा में नींद लेने और स्वस्थ वजन बनाए रखने से प्रजनन क्षमता को बढ़ाने में मदद मिल सकती है।

4) अस्वस्थ आदतों से बचना: शराब के सेवन से बचें / कम करें, धूम्रपान या अवैध दवाओं के उपयोग पर प्रतिबंध लगाएं।

पुरुष में बांझपन के लिए अग्रणी कारक

पोषक तत्व जो पुरुष में प्रजनन क्षमता को बढ़ा सकते हैं

1) ओमेगा-3 फैटी एसिड में उच्च स्वस्थ आहार,

2) एकनितियोक्सिडेंट्स (विटामिन ई, विटामिन सी, कैरोटीन, सेलेनियम, जिंक, क्रिप्टोक्सेंथिन, और लाइकोपीन), अन्य विटामिन (विटामिन डी और फोलेट)।

3) आहार एंटीऑक्सीडेंट के संदर्भ में, लाइकोपीन खपत बेहतर शुक्राणु आकृति विज्ञान से जुड़ा हुआ था।

4) कई शुक्राणु सामग्री मापदंडों सकारात्मक मछली, शंख, और चिंराट, मांस, अनाज, सब्जियों और फल, कम वसा डेयरी, और स्किम्ड दूध के साथ सहसंबद्ध थे ।

5) सैचुरेटेड और ट्रांस फैटी एसिड के साथ भोजन का सेवन कम से कम करें। निष्कर्षों के अनुसार वे कम वीर्य गुणवत्ता मापदंडों के साथ सहसंबद्ध हैं।

6) प्रसंस्कृत मांस, सोया खाद्य पदार्थ, आलू, पूर्ण वसा डेयरी और कुल डेयरी उत्पादों, पनीर, कॉफी, शराब, चीनी मीठा पेय पदार्थ, और कैंडी में उच्च भोजन का सेवन कम करें। कुछ अध्ययन में ये शुक्राणु उत्पादन के लिए हानिकारक पाए गए।

7) प्रजनन क्षमता के संदर्भ में, पुरुषों द्वारा शराब, कैफीन, रेड मीट और प्रोसेस्ड मीट का अधिक सेवन उनके पार्टनर के गर्भधारण या निषेचन दर पर हानिकारक प्रभाव डालता है।

पोषक तत्व जो पुरुष में प्रजनन क्षमता को बढ़ाते हैं

निष्कर्ष

पुरुषों में बांझपन आम है। यदि शीघ्र निदान किया जाता है तो कुछ बांझपन की स्थिति ठीक होती है। कई कारक हैं जो पुरुषों में प्रजनन क्षमता को प्रभावित करते हैं, आनुवांशिकी से लेकर जीवन शैली तक। यह किसी बाहरी कारक की वजह से भी हो सकता है जैसे कि भारी धातु (बुध, आर्सेनिक, सीसा) के सीधे संपर्क में आने से। महत्वपूर्ण रूप से एक आदमी बांझपन से पीड़ित होने से रोक सकता है यदि वह स्वस्थ जीवन शैली का पालन करता है और एक स्वस्थ आहार का सेवन करता है जो जस्ता, विटामिन सी और ई, मैग्नीशियम, पोटेशियम से समृद्ध है।

संबंधित विषय :

2 विटामिन सी (एस्कॉर्बिक एसिड) एक पानी में घुलनशील विटामिन है जो अपने एंटीऑक्सीडेंट गुणों के लिए जाना जाता है। यह सामान्य विकास, विकास और सामान्य भलाई के लिए आवश्यक है। अधिक पढ़ें : सामान्य भलाई के लिए विटामिन सी की कितनी आवश्यकता होती है?

3 कभी-कभी एक मादक पेय का आनंद लेने से आपके स्वास्थ्य को नुकसान होने की संभावना नहीं है, लेकिन कुछ दिनों के लिए भारी मात्रा में पीने से यकृत में वसा का निर्माण हो सकता है। यकृत में अल्कोहल वसा के इस संचय से ARLD (अल्कोहल संबंधित लिवर रोग) हो सकता है।
अधिक पढ़ें : क्या ज्यादा शराब पीना लिवर के लिए हानिकारक है?

1 फास्ट फूड के संयोजन और शारीरिक गतिविधि की कमी से यकृत को काफी नुकसान हो सकता है। जो खाद्य पदार्थ वसा, नमक / सोडियम और चीनी सामग्री जैसे तले हुए / वसा वाले भोजन में उच्च होते हैं, वे आपके स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होते हैं, विशेषकर यकृत स्वास्थ्य के लिए । अधिक पढ़ें : क्या फास्ट फूड खाना लिवर के लिए हानिकारक है ?

स्वास्थ्य और कल्याण के बारे में अधिक जानकारी के लिए, हमारे ब्लॉग पर जाएँ: न्यूट्रालॉजिक्स.कॉम/ब्लॉग/




उपर ब्लॉग में बताई गई उपलब्धियाक वस्तुएं लइबर के साथ उपलब्ध हैं

Nutralogicx: Lyber

लाइबर एक अनोखा मौखिक न्यूट्रास्यूटिकल उत्पाद है जिसमें लाइकोपीन और शिलाजीत का संयोजन होता है। यह पुरुष बांझपन के प्रबंधन के लिए बहुत अच्छा काम करता है।
लाइकोपीन बेहतर शुक्राणु स्वास्थ्य के लिए है। यह शुक्राणु कोशिकाओं को ऑक्सीडेटिव क्षति को रोकता है, शुक्राणुओं की संख्या में 70% और गतिशीलता में 53% तक सुधार करता है, और 38% तक शुक्राणु आकृति विज्ञान में सुधार करता है।
शिलाजीत प्रदर्शन में सुधार के लिए है। यह शुक्राणुओं की संख्या को 60% तक बढ़ाता है, शुक्राणुओं की गतिविधि को 12% तक बढ़ाता है, और टेस्टोस्टेरोन और FSH के स्तर को बढ़ाता है।



AFDIL Ltd.
Ajit: +91 9920121021

order@afdil.com

Read Also:


Disclaimer
Home