Importance of supplements

What is a dietary supplement?

dietary supplement

Dietary supplements are substances you might use to add nutrients to your diet or to lower your risk of health problems such as osteoporosis or arthritis. Dietary supplements come in the form of pills, capsules, powders, gel capsules and tablets, extracts, or liquids. They might contain vitamins, minerals, fiber, amino acids, herbs or other plants, or enzymes. Sometimes, the ingredients in dietary supplements are added to foods and drinks. A doctor’s prescription is not needed to buy dietary supplements.

Dietary supplements may come in a variety of forms: tablets, capsules, and powders, as well as drinks and energy bars. Most people take dietary supplements under the impression that they will increase energy, maintain strength, enhance performance, maintain health and prevent nutritional deficiencies.

Types of supplements

There are basically three types of supplements:

• Natural supplements are extracted from plants, animal tissues or inorganic material, such as seawater and rocks.

• Semi-synthetic supplements are extracted from natural sources and then chemically changed.

• Synthetic supplements are completely artificially produced.

Types of supplements

List of Dietary Supplements

Practically every nutrient can appear as a dietary supplement. Some dietary supplements are described under the related nutrients:
• Minerals
• Vitamins
• Fiber
• Prebiotics
• Amino acids
• Proteins
• Phytonutrients (polyphenols and others)
• Omega-3 fatty acids
• Conjugated linoleic acid (CLA)

Multivitamin and multimineral supplements and supplements that include various combinations of nutrients, herbal extracts or drugs also exist.

Benefits of Supplements

There are many benefits of supplements depending on the type of the supplement taken. Some of the common benefits of supplements include:

Benefits of Supplements

1) Filling That Nutritional Gap
90% of people don't get the recommended amount of important nutrients from food alone. Most of us fail to meet dietary recommendations due to strict dieting, poor appetite, or changing nutritional needs. Supplementation is intended to bridge the nutritional gap, so that we maintain the proper balance of nutrients from food and supplementation. This will enhance the nutrient density of your diet and make sure you are obtaining the right amount of nutrients tailored to your dietary needs.

2) Nutrient Absorption Declines With Age
As people age, malabsorption becomes a problem because the body doesn’t have the same capability to break down and absorb nutrients as it used to. The production of digestive enzymes, which breaks down and absorbs nutrients from the food, naturally begins to decline the older you get. You may also be taking more medications than you did when you were younger. Most modern medications actually deplete essential nutrients. One of the benefits of supplements is that it can help restore this imbalance.

3) Avoid Harmful Chemicals
Pesticides and herbicides used to farm our food, chemicals found in our water supply, and external environmental issues like pollution drastically increase the need for extra vitamins and minerals. These harmful chemicals create free radicals that attack our digestive and immune system. Supplements like antioxidants help fight those free radicals.

4) Exercise Increases Nutrient Needs
Athletes require a lot of energy and nutrients to stay in shape. As you exercise, your body uses up the energy and nutrients that have been stored in your body. It is vital to replenish these essential nutrients, fuel your energy levels, and promote recovery after an intense workout. That’s why athlete’s diets include tons of carbs and protein. Taking protein powder is a quick and easy way to get the required calories instead of having to eat a big bowl of pasta and chicken.

5) Poor Eating Habits
Erratic eating habits, eating processed junk food, and stress contribute to poor digestion, making it difficult for our bodies to extract all the nutrients it needs from food. While supplementation cannot replace a poor diet, but one of the benefits of supplements is that it can help prevent the damage poor eating habits are causing.

6) Prevent Expensive Health Issues
Healthcare providers are encouraging people to look for disease prevention instead of disease treatment. Taking daily supplements, getting regular exercise, and making frequent trips to the doctors are important for preventing costly health issues from arising in the future.

7) Soil Depletion
Modern farming techniques use fertilizers that deplete the soil and rob the plants of essential nutrients. Fertile soil is a crucial agriculture element for absorbing the proper amounts of minerals. Without this, the plant cannot form essential vitamins.

Supplements come in many forms

Whether in pill, powder or liquid form, the goal of dietary supplements is often the same: to supplement your diet to get enough nutrients and enhance health. They contain at least one dietary ingredient, such as vitamins, minerals, herbs, botanicals, amino acids or enzymes. Some of the most popular supplements come in a multivitamin (which can help you avoid taking a dozen pills each day), but they can also be purchased as a standalone supplement.

They’re labelled as dietary supplements. Some common dietary supplements include:
• Calcium
• Fish oil
• Echinacea
• Ginseng
• Garlic
• Vitamin D
• St. John’s wort
• Green tea

Supplements

Some supplements are effective, while others are not

There’s a reason supplements are so popular, they work. In addition to a healthy diet, there is evidence that some supplements can benefit your overall well-being with little to no risk. Common supplements that may benefit your health include:

• Vitamin B12, which can help keep nerve and blood cells healthy, make DNA and prevent anemia
• Folic acid, which can reduce birth defects when taken by pregnant women
• Vitamin D, which can strengthen bones
• Calcium, which can promote bone health
• Vitamins C and E, which can prevent cell damage
• Fish oil, which can support heart health
• Vitamin A, which can slow down vision loss from age-related macular degeneration
• Zinc, which can promote skin health and slow down vision loss from age-related macular degeneration
• Melatonin, which can help counteract jet lag

However, despite the amount of research that’s been done on supplements, scientific evidence isn’t completely clear. Most studies suggest that multivitamins won’t make you live longer, slow cognitive decline or lower your chances of disease, such as heart disease, cancer or diabetes. In fact, it’s illegal for companies to make claims that supplements will treat, diagnose, prevent or cure diseases.

Supplements aren’t always safe

In most cases, multivitamins aren’t likely to pose any health risks. Still, it’s important to be cautious when you put anything in your body. Supplements may interact with other medications you’re taking or pose risks if you have certain medical conditions, like liver disease, or are going to have surgery. Some supplements also haven’t been tested in pregnant women, nursing mothers or children, and you may need to take extra precautions.

Also, federal regulations for dietary supplements are less strict than prescription drugs. Some supplements may contain ingredients not listed on the label, and these ingredients can be unsafe. Certain products are marketed as dietary supplements and actually contain prescription drugs within them — drugs that are not allowed in dietary supplements.

Some supplements that may pose risks include:
• Vitamin K, which can reduce the effectiveness of blood thinners
• Gingko, which can increase blood thinning
• St. John’s wort, which can make some drugs, such as antidepressants and birth control, less effective
• Herbal supplements comfrey and kava, which can damage your liver
• Beta-carotene and vitamin A, which can increase the risk of lung cancer in smokers

Power of a healthy diet

Power of a healthy diet

No matter what your goal is when taking supplements, one thing is certain: They aren’t a replacement for a nutrient-dense, healthy diet. Supplements are meant to be supplementary, meaning they enhance benefits already provided by eating a well-rounded diet. Supplements should never be used in place of real food. Don’t underestimate what a nutrient-packed salad can do for you compared to a pill made in a factory.

Vitamins and minerals are essential to helping your body develop and function as it should. While most people get all of what’s recommended by eating healthy, others need a little extra nutrient boost. That’s where supplements come in, providing you with the support your body needs to stay healthy.

Multivitamin or mineral dietary supplements

For a long time, Indians have been brainwashed into believing that vitamins and minerals are a panacea for a multitude of health issues and will insist on being prescribed ‘tonics'! Vitamins and minerals have developed the reputation of being ‘magic bullets' because they are very effective in treating deficiencies. However, this does not mean that in a well-nourished individual, these supplements will prevent diabetes, hypertension, heart disease, cancer, and other chronic diseases of the 21st Century that Indians are facing.

Multivitamin/mineral supplements contain a combination of vitamins and minerals, and sometimes other ingredients as well. They can be available as tablets, capsules or syrups. The vitamins and minerals in these formulations have unique roles in the body and are prescribed only in certain situations where the woman is unable to obtain these from her diet. The classic multivitamin/ mineral formulation is the B-complex and folic acid (vitamins) and iron (mineral), prescribed for pregnant women.

What kinds of multivitamin/ mineral supplements are available?

Among the most common multivitamin combinations are basic, once-daily products containing all or most vitamins and minerals. Most of the formulations will provide the recommended intake levels.

Manufacturers choose which vitamins, minerals, and other ingredients, as well as their amounts, to include in their products. This freedom they have allows them to add botanicals (like ginseng or garlic), trace minerals (like selenium and manganese) and this is where the problems arise. Adding an extra ingredient allows the manufacturer to price the medication at their whim. Most consumers aren't aware that the health claims on labels intended for marketing purposes may not be accurate. Since many of these formulations are sold as food and not as drugs, it is difficult to regulate their prices and consumers end up paying money which is out of proportion to the actual cost of the ingredients.

Multivitamin

Price of Poor Nutrition

Initially, the body hints of a nutrient shortfall with any of a hodgepodge of minor symptoms: fatigue, weakness, insomnia, irritability, nervousness, depression, poor concentration, memory loss, aches and pains, recurrent infections, allergies, circulatory problems, and just not feeling good. These are the vague symptoms that drive patients to doctors, and drive doctors up a diagnostic tree. Because most conventionally trained physicians have little education or experience in nutrition, they're unable to make the connection between a patient's complaints and a nutrient deficiency. Then when the test results come back normal (as they usually do in such cases), the symptoms tend to be dismissed as “all in your head” or, even worse, as "a natural part of aging."

If doctors do prescribe treatment, they usually bypass nutritional supplements in favour of drugs like anti-inflammatories, antidepressants, tranquilizers, and the like. These not only mask symptoms but also deplete nutrient stores even further. This accelerates the degenerative process, which is the forerunner of disease and aging.

Chronic nutrient deficiencies invariably lead to serious health problems. Data collected from large populations show that as the availability of nutrients declines, the frequency of illness increases. Unfortunately, when heart disease, cancer, diabetes, osteoporosis, arthritis, or some other serious deficiency-driven condition develops, neither doctor nor patient is likely to realize that the symptoms had begun years before.

Choosing and using supplements

If you decide to take a supplement, it's important to:

• Check the label - Product labels can tell you what the active ingredient or ingredients are, which nutrients are included, the serving size, and the amount of nutrients in each serving.

• Avoid mega doses - Taking more than the recommended daily values can increase your risk of side effects.

• Watch what you eat - Vitamins and minerals are being added to a growing number of foods, including breakfast cereals and beverages. If you're also taking supplements, you may be getting more than you realize. Taking more than you need is expensive and can increase the risk of side effects.

• Tell the doctor - Supplements can cause harmful effects if taken in certain combinations, with certain prescription drugs, or before surgery or other procedures.

• Watch for alerts and recalls - The U.S. Food and Drug Administration (FDA) doesn't regulate supplements to the same degree as it does prescription drugs. But the FDA does monitor their safety. It's a good idea to periodically check the FDA website for warnings and recalls.

• Report problems - If you think that a dietary supplement may have caused you to have a serious reaction or illness, stop taking it and talk with your doctor. Your doctor may suggest that you go online and submit a safety report to the FDA.

Recommended Daily Amount (RDA) of Nutrients

Nutrient Recommended Daily Amount (RDA)
Calcium 1,000 milligrams (mg) for men and women between 31-50 years
1,200 mg for women over 50 years old
1,000 mg for men between 51-70 years
1,200 mg for men older than 70 years
Fiber 25 grams (g) for women
38 g for men
Folic acid/Folate 400 micrograms (mcg)
Iron 8 mg for men
18 mg for women 19-50 years
8 mg for women older than 51 years
Magnesium 320 mg for women older than 50 years
420 mg for men older than 50 years
Potassium 4,700 mg for men and women older than 50 years
Vitamin A 2,310 international units (IU) for women
3,000 IU for men
Vitamin B12 2.4 mcg
Vitamin C 75 mg for women
90 mg for men
Vitamin D 600 IU
800 IU for men and women over 70 years
Vitamin E 15 mg

Supplements for Children

When to Supplement

Children who follow vegetarian or vegan diets may need to supplement with vitamin B12 since it's only found in animal-based foods. Children who have celiac disease are at a higher risk for nutritional deficiencies and may need supplements. Additionally, children who have a poor appetite, drink a lot of sugar-sweetened beverages, take certain medications or have chronic medical conditions that interfere with intake may need a supplement.

Important Considerations

Parents should strive for a well-rounded diet to ensure their child meets the daily recommended vitamin and mineral intakes. A balanced diet includes dairy or dairy alternatives, fruits and vegetables, whole grains and protein foods such as poultry, fish, eggs, nuts and legumes including beans and lentils. While all vitamins and minerals are important for growth and development, some are especially critical for children.

According to the American Academy of Pediatrics, most children do not get enough iron and calcium from their diets. Iron is found in beef, pork, turkey, beans and spinach. Iron helps build muscle and is needed to produce red blood cells. Signs of low iron levels include a lack of energy, nervousness and increased infections. Calcium is needed to grow healthy bones. It is found in milk, sardines and fortified plant-based beverages and juices, with smaller amounts in broccoli and spinach. A lack of calcium can lead to poor growth and osteoporosis later in life.

Other vitamins of concern are vitamin D, vitamin A and the B vitamins. Vitamin D controls the absorption of calcium and aids in the development of bones and teeth. Vitamin D is produced in the body after sunlight exposure and found in some foods, including fortified dairy and dairy alternatives, egg yolks and fish oils. Children who consume less than 32 ounces of vitamin D-fortified milk or dairy alternatives daily may need a supplement to meet recommended amounts. Excessive intake is not beneficial and drinking more than 32 ounces of milk can cause low iron in the body. B vitamins help with metabolism and energy and are found in animal products such as meat, eggs and dairy, as well as nuts, beans and soybeans. Vitamin A is important for normal growth and promotes healthy skin and eyes, immunity, and tissue and bone repair. Good sources include yellow and orange vegetables, milk, cheese and eggs.

Who needs supplements?

National food consumption data and dietary surveys show that the majority of Americans consume all of the nutrients needed, through a balanced and varied diet that includes healthy food choices. Some nutrients, like calcium and iron, may require careful food selection, but can be obtained from adequate consumption of a variety of foods. Certain individuals may have dietary restrictions (such as those with celiac disease or lactose intolerance), or belong to a particular life stage (pregnant, breastfeeding, or older adult) and may benefit from taking specific supplements.

Who needs supplements

Pregnant women or women who may become pregnant: This population is strongly advised to consume supplements for folic acid (folate), iron, or a prenatal vitamin that contains these nutrients. • Folic Acid helps to prevent birth defects of the brain and spine, and may be obtained through fortified foods (such as enriched breads and cereals), vitamin supplements, or a combination of both. • Iron helps to increase the amount of blood in the body and helps keep blood healthy. Too iron little may lead to anemia. • A prenatal vitamin may contain both folic acid and iron, as well as other important vitamins and minerals both mother and baby need for proper nutrition (for example, vitamin B12 is important if the mother is a vegetarian). Some nutrients, however, may be harmful to babies (such as vitamin A, where too much can cause birth defects), and a prenatal supplement ensures that both mother and child are receiving healthy doses of all nutrients.

Vegetarians and vegans: This population should ensure adequate intake of vitamin B12, vitamin D, calcium, iron, and zinc.
• Vitamin B12 (cobalamin) is only found naturally in foods of animal origin such as eggs and dairy products. Vegans and strict vegetarians that do not consume eggs or dairy products should consider taking a vitamin B12 supplement.
• Vitamin D is found in very few food items, although dairy products, milk alternatives (soy or almond milk), orange juice, breakfast cereals, and eggs, may be fortified with this nutrient. Those who do not consume these food items and do not receive exposure to regular sunlight should consider a vitamin D supplement.
• Calcium is mostly found in dairy products, therefore vegans and vegetarians who do not consume dairy may not receive enough calcium in their diet.
• Iron is found in two different forms—heme iron (from animal products) is more available for absorption, and non-heme iron (from plant foods) is less available for absorption. Vegetarians and vegans may receive enough iron from their diet, although if it is strictly from plant foods (non-heme sources), twice as much dietary iron each day may be needed.
• Zinc is primarily found in animal proteins, therefore vegetarians and vegans may require 50% more zinc in the diet than is generally recommended. Additionally, beans and grains have compounds that may keep zinc from being absorbed as readily. For more information regarding dietary recommendations for vegetarians and vegans, see fact sheet Vegetarian Diets.

Women with heavy menstrual bleeding: This population should consume extra iron, which acts to replace that which is lost due to blood loss.

Those with a restrictive diet (1,600 calories per day or less): For most adults, a diet that includes less than 1,600 calories per day will not supply all of the necessary vitamins and nutrients to meet the body’s needs—and these individuals should consume a multivitamin and/or multimineral supplement. Consult a medical professional regarding type and recommended amount of supplement.

Older adults (50+), menopausal, and postmenopausal women: These individuals should consume vitamin B12, calcium, and a vitamin D supplement. Vitamin B12, calcium, and vitamin D, work together to maintain healthy bones and reduce the risk for fractures.
• Vitamin B12 is absorbed less readily from foods as one ages. These individuals should receive vitamin B12 from fortified foods such as breakfast cereals, or through a dietary supplement.
• Calcium may not be absorbed as well in older adults and this population may experience bone loss. A combination of calcium intake from both food sources and supplemental form is important.
• Vitamin D is not produced as efficiently in older adults upon exposure to sunlight. Additionally, the ability of the kidney to convert vitamin D to a form that the body can use is also dampened with age.

Breastfed and partially breastfed infants: Since human milk is a poor source of vitamin D, infants who are solely breastfed or drink less than 1 quart per day of vitamin D-fortified formula or milk should receive a supplemental form of vitamin D.

Limited milk intake and sunlight exposure: Dairy products and sunlight exposure are two primary means of obtaining vitamin D, therefore if either is limited, a supplemental form may be necessary.

Health conditions that may limit nutrient use and absorption: Those with health conditions that may affect digestion, appetite, and limit nutrient absorption, may not be receiving adequate nutrients from diet alone (examples include those with food allergies, physical trauma, and gluten intolerance).These populations should consider a multivitamin and/or multimineral supplement. Consult a medical professional regarding the type and recommended amount of supplement.

Potential Problems and Risks

Many supplements contain active ingredients that have strong biological effects in the body. This could make them unsafe in some situations and hurt or complicate your health. For example, the following actions could lead to harmful – even life-threatening – consequences.
• Combining supplements
• Using supplements with medicines (whether prescription or over-the-counter)
• Substituting supplements for prescription medicines
• Taking too much of some supplements, such as vitamin A, vitamin D, or iron

Some supplements can also have unwanted effects before, during, and after surgery. So, be sure to inform your healthcare provider, including your pharmacist about any supplements you are taking.
• Taken in high amounts, some supplements may produce undesirable effects such as fatigue, diarrhea and hair loss.
• Others may cause more severe side effects such as kidney stones, liver or nerve damage, birth defects, or even death. At high levels, single-nutrient supplements function as a drug in the body and not as a nutrient.
• Fat-soluble vitamins such as vitamins A and D are harmful in high doses. For non-smokers, supplements of vitamin A should contain the majority of the vitamin in the beta-carotene rather than the retinol form. Vitamin E may act as a blood thinner and should not be taken for at least one week prior to surgery.
• Water-soluble vitamins are commonly thought of as harmless, however, research shows that vitamin B-6 can cause nerve damage at the high doses prescribed for pre-menstrual syndrome (PMS). High intakes of folic acid can mask or worsen the symptoms associated with a vitamin B-12 deficiency. Large amounts of vitamin C can cause diarrhea and nausea.
• Many factors influence toxicity. Supplement potency, dose (number and frequency), body size, and how long the supplement is taken, all influence whether a supplement can be toxic.

While most dietary supplements are safe as long as you follow the product instructions, large doses of certain nutrients can have adverse effects. You can even overdose on certain supplements, risking serious harm and death.8 Among some the harmful interactions or dosing concerns:
• Vitamin K can reduce the effectiveness of blood thinners like Coumadin (warfarin).
• Vitamin E can increase the action of blood thinners, leading to easy bruising and nosebleeds.
• St. John’s wort can accelerate the breakdown of many drugs, including antidepressants and birth control pills, thereby reducing their effectiveness.
• Vitamin B6 (pyridoxine), when used for a year or more at high doses, can cause severe nerve damage. Vitamin B6 can also reduce the effectiveness of the anti-seizure drug Dilantin (phenytoin) and levodopa (used to treat Parkinson's disease).
• Vitamin A used with retinoid acne medications such as Accutane (isotretinoin) and Soriatane (acitretin) can causes vitamin A toxicity.
• Iron and calcium supplements can reduce the effectiveness of antibiotics, namely tetracyclines and fluoroquinolones, by as much as 40%.
• Vitamin C can cause diarrhea when taken in doses higher than the gut can absorb (but some patients can tolerate 5,000mg to 25,000mg per day).
• Selenium, boron, and iron supplements can be toxic if taken in large amounts.

Potential Problems and Risks

Conclusion

With the increased availability and wide variety of food accessible to consumers in the United States, most individuals can receive all of the vitamins and minerals needed from food alone—this unique balance cannot be duplicated by taking any combination of supplements. Certain individuals that have dietary restrictions, are pregnant or breastfeeding, older than 50, or with special dietary requirements, may need to supplement their diet with a multivitamin and/or multimineral, or individual nutrient supplements. Consult a medical professional for recommendations regarding the type and amount of supplement best for one’s individual needs.

Related topics:

1. What are Hemorrhoids?

Male infertility is a condition in a man that reduces the chances of producing offspring. There are many modern treatments available to treat this condition. To know more visit: What are Hemorrhoids?

2. What Is Fertility and Infertility?

Fertility and infertility are related to the ability of a person to produce offspring. The cause of infertility could be many. It can be tested and treated. To know more visit: What Is Fertility and Infertility

3. Importance Of Proper Nutrition

Proper nutrition provides your body all the necessary nutrients, this can be achieved by eating a well-balanced diet. Poor nutrition can cause health issues. To know more visit: Importance Of Proper Nutrition

4. What Is Immunity?

Immunity is the ability of the body to recognize what belongs to self and what is foreign. The immune system works to build resistance to harmful organisms. To know more visit: What Is Immunity




The above essentials are available with AFD SHIELD.

AFD Shield capsule is a combination of 12 natural ingredients among which are Algal DHA, Ashwagandha, Curcumin and Spirullina. AFD Shield reduces TG, increases HDL and improves age related cognitive decline. It also reduces stress and anxiety and performs anti-aging activity.Moreover, it also enhances the immunomodulatory activity, improves immunity and reduces inflammation and oxidative stress.
Nutralogicx: AFD SHIELD

पूरक का महत्व

आहार अनुपूरक क्या है?

आहार अनुपूरक

आहार की खुराक वे पदार्थ हैं जिनका उपयोग आप अपने आहार में पोषक तत्वों को जोड़ने या ऑस्टियोपोरोसिस या गठिया जैसी स्वास्थ्य समस्याओं के जोखिम को कम करने के लिए कर सकते हैं। आहार पूरक गोलियां, कैप्सूल, पाउडर, जेल कैप्सूल और टैबलेट, अर्क या तरल पदार्थ के रूप में आते हैं। उनमें विटामिन, खनिज, फाइबर, अमीनो एसिड, जड़ी-बूटियाँ या अन्य पौधे या एंजाइम हो सकते हैं। कभी-कभी, आहार की खुराक में सामग्री को खाद्य पदार्थों और पेय पदार्थों में जोड़ा जाता है। पूरक आहार खरीदने के लिए डॉक्टर के पर्चे की ज़रूरत नहीं है।

आहार के पूरक कई रूपों में आ सकते हैं: टैबलेट, कैप्सूल और पाउडर, साथ ही पेय और एनर्जी बार। अधिकांश लोग इस धारणा के तहत पूरक आहार लेते हैं कि वे ऊर्जा बढ़ाएंगे, ताकत बनाए रखेंगे, प्रदर्शन बढ़ाएंगे, स्वास्थ्य बनाए रखेंगे और पोषक तत्वों की कमी को रोकेंगे।

सप्लीमेंट के प्रकार

मूल रूप से तीन प्रकार के पूरक हैं:

• प्राकृतिक पूरक पौधों, जानवरों के ऊतकों या समुद्री जल और चट्टानों जैसे अकार्बनिक पदार्थों से निकाले जाते हैं।

• अर्ध-सिंथेटिक पूरक प्राकृतिक स्रोतों से निकाले जाते हैं और फिर रासायनिक रूप से बदल दिए जाते हैं।

• सिंथेटिक पूरक पूरी तरह से कृत्रिम रूप से निर्मित होते हैं।

सप्लीमेंट के प्रकार

आहार की खुराक की सूची

व्यावहारिक रूप से प्रत्येक पोषक तत्व आहार पूरक के रूप में प्रकट हो सकता है। कुछ आहार पूरक संबंधित पोषक तत्वों के अंतर्गत वर्णित हैं:
• खनिज
• विटामिन
• फाइबर
• प्रीबायोटिक्स
• अमीनो एसिड
• प्रोटीन
• फाइटोन्यूट्रिएंट्स (पॉलीफेनोल्स और अन्य)
• ओमेगा-3 फैटी एसिड
• संयुग्मित लिनोलिक एसिड (सीएलए)

मल्टीविटामिन और मल्टीमिनरल सप्लीमेंट्स और सप्लीमेंट्स जिनमें पोषक तत्वों, हर्बल अर्क या दवाओं के विभिन्न संयोजन शामिल हैं, भी मौजूद हैं।

पूरक आहार के लाभ

सप्लीमेंट के प्रकार के आधार पर सप्लीमेंट के कई लाभ हैं। पूरक आहार के कुछ सामान्य लाभों में शामिल हैं:

पूरक आहार के लाभ

1) पोषक तत्वों की कमी को भरना
90% लोगों को केवल भोजन से ही महत्वपूर्ण पोषक तत्वों की अनुशंसित मात्रा नहीं मिलती है। हम में से अधिकांश लोग सख्त डाइटिंग, खराब भूख या बदलती पोषण संबंधी जरूरतों के कारण आहार संबंधी सिफारिशों को पूरा करने में विफल रहते हैं। पूरकता का उद्देश्य पोषण संबंधी अंतर को पाटना है, ताकि हम भोजन और पूरकता से पोषक तत्वों का उचित संतुलन बनाए रखें। यह आपके आहार के पोषक तत्व घनत्व को बढ़ाएगा और सुनिश्चित करेगा कि आप अपनी आहार संबंधी आवश्यकताओं के अनुरूप सही मात्रा में पोषक तत्व प्राप्त कर रहे हैं।

2) उम्र के साथ पोषक तत्वों का अवशोषण कम होता जाता है
जैसे-जैसे लोगों की उम्र बढ़ती है, कुअवशोषण एक समस्या बन जाता है क्योंकि शरीर में पोषक तत्वों को तोड़ने और अवशोषित करने की क्षमता पहले की तरह नहीं होती है। पाचन एंजाइमों का उत्पादन, जो भोजन से पोषक तत्वों को तोड़ता है और अवशोषित करता है, स्वाभाविक रूप से आपकी उम्र बढ़ने लगती है। जब आप छोटे थे तब आप की तुलना में आप अधिक दवाएं भी ले रहे होंगे। अधिकांश आधुनिक दवाएं वास्तव में आवश्यक पोषक तत्वों को समाप्त कर देती हैं। सप्लीमेंट्स के लाभों में से एक यह है कि यह इस असंतुलन को बहाल करने में मदद कर सकता है।

3) हानिकारक रसायनों से बचें
हमारे भोजन की खेती के लिए उपयोग किए जाने वाले कीटनाशक और शाकनाशी, हमारे पानी की आपूर्ति में पाए जाने वाले रसायन और प्रदूषण जैसे बाहरी पर्यावरणीय मुद्दे अतिरिक्त विटामिन और खनिजों की आवश्यकता को काफी बढ़ा देते हैं। ये हानिकारक रसायन मुक्त कण बनाते हैं जो हमारे पाचन और प्रतिरक्षा प्रणाली पर हमला करते हैं। एंटीऑक्सिडेंट जैसे पूरक उन मुक्त कणों से लड़ने में मदद करते हैं।

4) व्यायाम से पोषक तत्वों की आवश्यकता बढ़ती है
एथलीटों को आकार में रहने के लिए बहुत अधिक ऊर्जा और पोषक तत्वों की आवश्यकता होती है। जैसे ही आप व्यायाम करते हैं, आपका शरीर आपके शरीर में जमा ऊर्जा और पोषक तत्वों का उपयोग करता है। इन आवश्यक पोषक तत्वों को फिर से भरना, अपनी ऊर्जा के स्तर को बढ़ावा देना और गहन कसरत के बाद वसूली को बढ़ावा देना महत्वपूर्ण है। इसलिए एथलीट की डाइट में टन कार्ब्स और प्रोटीन शामिल होते हैं। एक बड़ी कटोरी पास्ता और चिकन खाने के बजाय प्रोटीन पाउडर लेना आवश्यक कैलोरी प्राप्त करने का एक त्वरित और आसान तरीका है।

5) खाने की खराब आदतें
अनियमित खान-पान, प्रोसेस्ड जंक फूड खाना और तनाव खराब पाचन में योगदान करते हैं, जिससे हमारे शरीर के लिए भोजन से सभी पोषक तत्वों को निकालना मुश्किल हो जाता है। हालांकि पूरक आहार खराब आहार की जगह नहीं ले सकता है, लेकिन पूरक आहार के लाभों में से एक यह है कि यह खराब खाने की आदतों के कारण होने वाले नुकसान को रोकने में मदद कर सकता है।

6) महंगी स्वास्थ्य समस्याओं को रोकें
हेल्थकेयर प्रदाता लोगों को बीमारी के इलाज के बजाय बीमारी की रोकथाम की तलाश करने के लिए प्रोत्साहित कर रहे हैं। भविष्य में होने वाली महंगी स्वास्थ्य समस्याओं को रोकने के लिए दैनिक पूरक आहार लेना, नियमित व्यायाम करना और डॉक्टरों के पास बार-बार जाना महत्वपूर्ण है।

7) मृदा क्षरण
आधुनिक कृषि तकनीकों में उर्वरकों का उपयोग किया जाता है जो मिट्टी को ख़राब करते हैं और आवश्यक पोषक तत्वों के पौधों को लूटते हैं। उपजाऊ मिट्टी खनिजों की उचित मात्रा को अवशोषित करने के लिए एक महत्वपूर्ण कृषि तत्व है। इसके बिना पौधा आवश्यक विटामिन नहीं बना सकता।

पूरक कई रूपों में आते हैं

चाहे गोली, पाउडर या तरल रूप में, आहार पूरक का लक्ष्य अक्सर एक ही होता है: पर्याप्त पोषक तत्व प्राप्त करने और स्वास्थ्य को बढ़ाने के लिए अपने आहार को पूरक करना। इनमें कम से कम एक आहार घटक होता है, जैसे विटामिन, खनिज, जड़ी-बूटियाँ, वनस्पति, अमीनो एसिड या एंजाइम। कुछ सबसे लोकप्रिय पूरक एक मल्टीविटामिन में आते हैं (जो आपको हर दिन एक दर्जन गोलियां लेने से बचने में मदद कर सकते हैं), लेकिन उन्हें एक स्टैंडअलोन पूरक के रूप में भी खरीदा जा सकता है।

उन्हें आहार पूरक के रूप में लेबल किया गया है। कुछ सामान्य आहार पूरक में शामिल हैं:
• कैल्शियम
• मछली का तेल
• इचिनेशिया
• जिनसेंग
• लहसुन
• विटामिन डी
• सेंट जॉन पौधा
• हरी चाय

सप्लीमेंट

कुछ पूरक प्रभावी हैं, जबकि अन्य नहीं हैं

सप्लीमेंट इतने लोकप्रिय होने का एक कारण है, वे काम करते हैं। एक स्वस्थ आहार के अलावा, इस बात के प्रमाण हैं कि कुछ पूरक आपके समग्र कल्याण को कम या बिना किसी जोखिम के लाभ पहुंचा सकते हैं। सामान्य पूरक जो आपके स्वास्थ्य को लाभ पहुंचा सकते हैं उनमें शामिल हैं:

• विटामिन बी12, जो तंत्रिका और रक्त कोशिकाओं को स्वस्थ रखने, डीएनए बनाने और एनीमिया को रोकने में मदद कर सकता है
• फोलिक एसिड, जो गर्भवती महिलाओं द्वारा लिए जाने पर जन्म दोषों को कम कर सकता है
• विटामिन डी, जो हड्डियों को मजबूत कर सकता है
• कैल्शियम, जो हड्डियों के स्वास्थ्य को बढ़ावा दे सकता है
• विटामिन सी और ई, जो कोशिका क्षति को रोक सकते हैं
• मछली का तेल, जो हृदय स्वास्थ्य का समर्थन कर सकता है
• विटामिन ए, जो उम्र से संबंधित धब्बेदार अध: पतन से दृष्टि हानि को धीमा कर सकता है
• जिंक, जो त्वचा के स्वास्थ्य को बढ़ावा दे सकता है और उम्र से संबंधित धब्बेदार अध: पतन से दृष्टि हानि को धीमा कर सकता है
• मेलाटोनिन, जो जेट लैग का मुकाबला करने में मदद कर सकता है

हालाँकि, पूरक आहार पर किए गए शोध की मात्रा के बावजूद, वैज्ञानिक प्रमाण पूरी तरह से स्पष्ट नहीं हैं। अधिकांश अध्ययनों से पता चलता है कि मल्टीविटामिन आपको लंबे समय तक जीवित नहीं रखेंगे, धीमी गति से संज्ञानात्मक गिरावट या हृदय रोग, कैंसर या मधुमेह जैसी बीमारी की संभावना कम करेंगे। वास्तव में, कंपनियों के लिए यह दावा करना गैरकानूनी है कि सप्लीमेंट्स बीमारियों का इलाज, निदान, रोकथाम या इलाज करेंगे।

सप्लीमेंट्स हमेशा सुरक्षित नहीं होते हैं

ज्यादातर मामलों में, मल्टीविटामिन से कोई स्वास्थ्य जोखिम होने की संभावना नहीं होती है। फिर भी, जब आप अपने शरीर में कुछ भी डालते हैं तो सावधान रहना महत्वपूर्ण है। पूरक अन्य दवाओं के साथ परस्पर क्रिया कर सकते हैं जो आप ले रहे हैं या जोखिम उठा सकते हैं यदि आपके पास कुछ चिकित्सीय स्थितियां हैं, जैसे कि यकृत की बीमारी, या सर्जरी होने वाली है। कुछ सप्लीमेंट्स का परीक्षण गर्भवती महिलाओं, नर्सिंग माताओं या बच्चों में भी नहीं किया गया है, और आपको अतिरिक्त सावधानी बरतने की आवश्यकता हो सकती है।

साथ ही, आहार की खुराक के लिए संघीय नियम नुस्खे वाली दवाओं की तुलना में कम सख्त हैं। कुछ सप्लीमेंट्स में ऐसे तत्व हो सकते हैं जो लेबल पर सूचीबद्ध नहीं हैं, और ये सामग्री असुरक्षित हो सकती हैं। कुछ उत्पादों को आहार पूरक के रूप में विपणन किया जाता है और वास्तव में उनके भीतर चिकित्सकीय दवाएं होती हैं - ऐसी दवाएं जिन्हें आहार की खुराक में अनुमति नहीं है।

कुछ पूरक जो जोखिम पैदा कर सकते हैं उनमें शामिल हैं:
• विटामिन के, जो रक्त को पतला करने वाली दवाओं की प्रभावशीलता को कम कर सकता है
• गिंग्को, जो रक्त को पतला कर सकता है
• सेंट जॉन पौधा, जो कुछ दवाएं बना सकता है, जैसे कि एंटीडिपेंटेंट्स और जन्म नियंत्रण, कम प्रभावी
• हर्बल सप्लीमेंट कॉम्फ्रे और कावा, जो आपके लीवर को नुकसान पहुंचा सकते हैं
• बीटा-कैरोटीन और विटामिन ए, जो धूम्रपान करने वालों में फेफड़ों के कैंसर के खतरे को बढ़ा सकते हैं

एक स्वस्थ आहार की शक्ति

एक स्वस्थ आहार की शक्ति

कोई फर्क नहीं पड़ता कि पूरक आहार लेते समय आपका लक्ष्य क्या है, एक बात निश्चित है: वे पोषक तत्वों से भरपूर, स्वस्थ आहार का विकल्प नहीं हैं। पूरक पूरक होने के लिए होते हैं, जिसका अर्थ है कि वे एक अच्छी तरह गोल आहार खाने से पहले से उपलब्ध लाभों को बढ़ाते हैं। वास्तविक भोजन के स्थान पर पूरक का उपयोग कभी नहीं करना चाहिए। फ़ैक्टरी में बनी गोली की तुलना में पोषक तत्वों से भरपूर सलाद आपके लिए क्या कर सकता है, इसे कम मत समझिए।

विटामिन और खनिज आपके शरीर को विकसित और कार्य करने में मदद करने के लिए आवश्यक हैं जैसे इसे करना चाहिए। जबकि अधिकांश लोगों को वह सब मिलता है जो स्वस्थ खाने से सुझाया जाता है, दूसरों को थोड़ा अतिरिक्त पोषक तत्व बढ़ाने की आवश्यकता होती है। यहीं से सप्लीमेंट्स आते हैं, जिससे आपको वह सहायता मिलती है जो आपके शरीर को स्वस्थ रहने के लिए चाहिए।

मल्टीविटामिन या खनिज आहार पूरक

लंबे समय से, भारतीयों का यह विश्वास करने के लिए ब्रेनवॉश किया गया है कि विटामिन और खनिज कई स्वास्थ्य समस्याओं के लिए रामबाण हैं और 'टॉनिक' निर्धारित करने पर जोर देंगे! विटामिन और खनिजों ने 'मैजिक बुलेट' होने की प्रतिष्ठा विकसित की है क्योंकि वे कमियों के इलाज में बहुत प्रभावी हैं। हालांकि, इसका मतलब यह नहीं है कि एक अच्छी तरह से पोषित व्यक्ति में, ये पूरक मधुमेह, उच्च रक्तचाप, हृदय रोग, कैंसर और 21वीं सदी की अन्य पुरानी बीमारियों को रोकेंगे जिनका सामना भारतीय कर रहे हैं।

मल्टीविटामिन/खनिज की खुराक में विटामिन और खनिजों का संयोजन होता है, और कभी-कभी अन्य सामग्री भी होती है। वे टैबलेट, कैप्सूल या सिरप के रूप में उपलब्ध हो सकते हैं। इन योगों में विटामिन और खनिज शरीर में अद्वितीय भूमिका निभाते हैं और केवल कुछ स्थितियों में निर्धारित होते हैं जहां महिला अपने आहार से इन्हें प्राप्त करने में असमर्थ होती है। क्लासिक मल्टीविटामिन / खनिज सूत्रीकरण बी-कॉम्प्लेक्स और फोलिक एसिड (विटामिन) और आयरन (खनिज) है, जो गर्भवती महिलाओं के लिए निर्धारित है।

किस प्रकार के मल्टीविटामिन/खनिज पूरक उपलब्ध हैं?

सबसे आम मल्टीविटामिन संयोजनों में बुनियादी, एक बार दैनिक उत्पाद हैं जिनमें सभी या अधिकांश विटामिन और खनिज होते हैं। अधिकांश फॉर्मूलेशन अनुशंसित सेवन स्तर प्रदान करेंगे।

निर्माता अपने उत्पादों में शामिल करने के लिए विटामिन, खनिज, और अन्य अवयवों के साथ-साथ उनकी मात्रा का चयन करते हैं। यह स्वतंत्रता उन्हें वनस्पति (जिनसेंग या लहसुन की तरह), खनिजों का पता लगाने (जैसे सेलेनियम और मैंगनीज) जोड़ने की अनुमति देती है और यहीं से समस्याएं पैदा होती हैं। एक अतिरिक्त घटक जोड़ने से निर्माता को दवा की कीमत अपने हिसाब से लगाने की अनुमति मिलती है। अधिकांश उपभोक्ताओं को इस बात की जानकारी नहीं है कि विपणन उद्देश्यों के लिए लेबल पर स्वास्थ्य संबंधी दावे सटीक नहीं हो सकते हैं। चूंकि इनमें से कई फॉर्मूलेशन दवाओं के रूप में नहीं बल्कि भोजन के रूप में बेचे जाते हैं, इसलिए उनकी कीमतों को विनियमित करना मुश्किल होता है और उपभोक्ताओं को पैसे का भुगतान करना पड़ता है जो कि सामग्री की वास्तविक लागत के अनुपात से बाहर है।

मल्टीविटामिन

खराब पोषण की कीमत

शुरुआत में, शरीर पोषक तत्वों की कमी का संकेत देता है, जिसमें मामूली लक्षण होते हैं: थकान, कमजोरी, अनिद्रा, चिड़चिड़ापन, घबराहट, अवसाद, खराब एकाग्रता, स्मृति हानि, दर्द और दर्द आवर्तक संक्रमण, एलर्जी, संचार संबंधी समस्याएं, और बस अच्छा महसूस नहीं करना। ये अस्पष्ट लक्षण हैं जो मरीजों को डॉक्टरों के पास ले जाते हैं, और डॉक्टरों को एक नैदानिक ​​​​वृक्ष तक ले जाते हैं। चूंकि अधिकांश पारंपरिक रूप से प्रशिक्षित चिकित्सकों के पास पोषण में बहुत कम शिक्षा या अनुभव है, वे रोगी की शिकायतों और पोषक तत्वों की कमी के बीच संबंध बनाने में असमर्थ हैं। फिर जब परीक्षण के परिणाम सामान्य आते हैं (जैसा कि वे आमतौर पर ऐसे मामलों में करते हैं), लक्षणों को "आपके दिमाग में सब कुछ" या इससे भी बदतर, "उम्र बढ़ने का एक स्वाभाविक हिस्सा" के रूप में खारिज कर दिया जाता है।

यदि डॉक्टर उपचार लिखते हैं, तो वे आमतौर पर एंटी-इंफ्लेमेटरी, एंटीडिपेंटेंट्स, ट्रैंक्विलाइज़र, और इसी तरह की दवाओं के पक्ष में पोषक तत्वों की खुराक को छोड़ देते हैं। ये न केवल लक्षणों को छुपाते हैं बल्कि पोषक तत्वों के भंडार को और भी कम कर देते हैं। यह अपक्षयी प्रक्रिया को तेज करता है, जो बीमारी और उम्र बढ़ने का अग्रदूत है।

पुरानी पोषक तत्वों की कमी हमेशा गंभीर स्वास्थ्य समस्याओं का कारण बनती है। बड़ी आबादी से एकत्र किए गए आंकड़े बताते हैं कि जैसे-जैसे पोषक तत्वों की उपलब्धता घटती जाती है, बीमारी की आवृत्ति बढ़ती जाती है। दुर्भाग्य से, जब हृदय रोग, कैंसर, मधुमेह, ऑस्टियोपोरोसिस, गठिया, या कुछ अन्य गंभीर कमी से प्रेरित स्थिति विकसित होती है, तो न तो डॉक्टर और न ही रोगी को यह एहसास होने की संभावना है कि लक्षण वर्षों पहले शुरू हो गए थे।

सप्लीमेंट्स चुनना और उनका उपयोग करना

यदि आप पूरक लेने का निर्णय लेते हैं, तो यह महत्वपूर्ण है:

• लेबल की जांच करें - उत्पाद लेबल आपको बता सकते हैं कि सक्रिय संघटक या अवयव क्या हैं, कौन से पोषक तत्व शामिल हैं, सेवारत आकार, और इसमें पोषक तत्वों की मात्रा प्रत्येक सेवारत।

• मेगा खुराक से बचें - अनुशंसित दैनिक मूल्यों से अधिक लेने से आपके दुष्प्रभावों का खतरा बढ़ सकता है।

• देखें कि आप क्या खाते हैं - नाश्ता अनाज और पेय पदार्थों सहित खाद्य पदार्थों की बढ़ती संख्या में विटामिन और खनिज जोड़े जा रहे हैं। यदि आप सप्लीमेंट्स भी ले रहे हैं, तो हो सकता है कि आप जितना महसूस कर रहे हैं, उससे अधिक हो रहा है। जरूरत से ज्यादा लेना महंगा है और इससे साइड इफेक्ट का खतरा बढ़ सकता है।

• डॉक्टर को बताएं - कुछ संयोजनों में, कुछ नुस्खे वाली दवाओं के साथ, या सर्जरी या अन्य प्रक्रियाओं से पहले पूरक हानिकारक प्रभाव पैदा कर सकते हैं।

• अलर्ट और रिकॉल के लिए देखें - यू.एस. फ़ूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (FDA) सप्लीमेंट्स को उसी हद तक नियंत्रित नहीं करता है जिस तरह से वह डॉक्टर के पर्चे की दवाओं को करता है। लेकिन एफडीए उनकी सुरक्षा की निगरानी करता है। यह एक अच्छा विचार है कि समय-समय पर चेतावनियों और यादों के लिए FDA की वेबसाइट देखें।

• समस्याओं की रिपोर्ट करें - अगर आपको लगता है कि आहार सप्लिमेंट के कारण आपको कोई गंभीर प्रतिक्रिया या बीमारी हो सकती है, तो इसे लेना बंद कर दें और अपने डॉक्टर से बात करें। आपका डॉक्टर सुझाव दे सकता है कि आप ऑनलाइन जाएं और एफडीए को सुरक्षा रिपोर्ट जमा करें।

पोषक तत्वों की अनुशंसित दैनिक मात्रा (आरडीए)

<तालिका शैली = "चौड़ाई: १००%" > पोषक तत्व अनुशंसित दैनिक राशि (RDA) कैल्शियम 31-50 साल के बीच के पुरुषों और महिलाओं के लिए 1,000 मिलीग्राम (मिलीग्राम) ५० वर्ष से अधिक उम्र की महिलाओं के लिए १,२०० मिलीग्राम 51-70 साल के बीच के पुरुषों के लिए 1,000 मिलीग्राम 70 वर्ष से अधिक उम्र के पुरुषों के लिए 1,200 मिलीग्राम फाइबर महिलाओं के लिए 25 ग्राम (g) पुरुषों के लिए 38 ग्राम फोलिक एसिड/फोलेट 400 माइक्रोग्राम (एमसीजी) लोहा पुरुषों के लिए 8 मिलीग्राम 19-50 वर्ष की महिलाओं के लिए 18 मिलीग्राम 51 वर्ष से अधिक उम्र की महिलाओं के लिए 8 मिलीग्राम मैग्नीशियम 50 वर्ष से अधिक उम्र की महिलाओं के लिए 320 मिलीग्राम ५० वर्ष से अधिक उम्र के पुरुषों के लिए ४२० मिलीग्राम पोटेशियम ५० वर्ष से अधिक उम्र के पुरुषों और महिलाओं के लिए ४,७०० मिलीग्राम विटामिन ए महिलाओं के लिए २,३१० अंतरराष्ट्रीय इकाइयां (आईयू) पुरुषों के लिए 3,000 IU विटामिन B12 2.4 एमसीजी विटामिन सी महिलाओं के लिए 75 मिलीग्राम पुरुषों के लिए 90 मिलीग्राम विटामिन डी 600 आईयू 70 साल से अधिक उम्र के पुरुषों और महिलाओं के लिए 800 IU विटामिन ई 15 मिलीग्राम

बच्चों के लिए पूरक

कब पूरक करें

शाकाहारी या शाकाहारी भोजन करने वाले बच्चों को विटामिन बी12 के पूरक की आवश्यकता हो सकती है क्योंकि यह केवल पशु-आधारित खाद्य पदार्थों में पाया जाता है। जिन बच्चों को सीलिएक रोग है, उनमें पोषक तत्वों की कमी होने का खतरा अधिक होता है और उन्हें पूरक आहार की आवश्यकता हो सकती है। इसके अतिरिक्त, जिन बच्चों की भूख कम होती है, वे बहुत अधिक चीनी-मीठे पेय पदार्थ पीते हैं, कुछ दवाएं लेते हैं या पुरानी चिकित्सा स्थितियां हैं जो सेवन में बाधा डालती हैं, उन्हें पूरक की आवश्यकता हो सकती है।

महत्वपूर्ण बातें

माता-पिता को एक संपूर्ण आहार के लिए प्रयास करना चाहिए ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि उनका बच्चा दैनिक अनुशंसित विटामिन और खनिज सेवन को पूरा करता है। एक संतुलित आहार में डेयरी या डेयरी विकल्प, फल और सब्जियां, साबुत अनाज और प्रोटीन खाद्य पदार्थ जैसे मुर्गी, मछली, अंडे, नट और फलियां और दाल शामिल हैं। जबकि सभी विटामिन और खनिज विकास और विकास के लिए महत्वपूर्ण हैं, कुछ बच्चों के लिए विशेष रूप से महत्वपूर्ण हैं।

अमेरिकन एकेडमी ऑफ पीडियाट्रिक्स के अनुसार, अधिकांश बच्चों को उनके आहार से पर्याप्त आयरन और कैल्शियम नहीं मिलता है। बीफ, पोर्क, टर्की, बीन्स और पालक में आयरन पाया जाता है। आयरन मांसपेशियों के निर्माण में मदद करता है और लाल रक्त कोशिकाओं के उत्पादन के लिए इसकी आवश्यकता होती है। लोहे के निम्न स्तर के संकेतों में ऊर्जा की कमी, घबराहट और बढ़े हुए संक्रमण शामिल हैं। स्वस्थ हड्डियों के विकास के लिए कैल्शियम की आवश्यकता होती है। यह दूध, सार्डिन और गढ़वाले पौधे-आधारित पेय और जूस में पाया जाता है, ब्रोकली और पालक में कम मात्रा में होता है। कैल्शियम की कमी जीवन में बाद में खराब विकास और ऑस्टियोपोरोसिस का कारण बन सकती है।

चिंता के अन्य विटामिन विटामिन डी, विटामिन ए और बी विटामिन हैं। विटामिन डी कैल्शियम के अवशोषण को नियंत्रित करता है और हड्डियों और दांतों के विकास में सहायक होता है। सूर्य के प्रकाश के संपर्क में आने के बाद शरीर में विटामिन डी का उत्पादन होता है और कुछ खाद्य पदार्थों में पाया जाता है, जिसमें गढ़वाले डेयरी और डेयरी विकल्प, अंडे की जर्दी और मछली के तेल शामिल हैं। जो बच्चे प्रतिदिन 32 औंस से कम विटामिन डी-फोर्टिफाइड दूध या डेयरी विकल्प का सेवन करते हैं, उन्हें अनुशंसित मात्रा को पूरा करने के लिए पूरक की आवश्यकता हो सकती है। ज्यादा सेवन फायदेमंद नहीं होता और 32 औंस से ज्यादा दूध पीने से शरीर में आयरन की कमी हो सकती है। बी विटामिन चयापचय और ऊर्जा में मदद करते हैं और मांस, अंडे और डेयरी जैसे पशु उत्पादों, साथ ही नट, सेम और सोयाबीन में पाए जाते हैं। विटामिन ए सामान्य वृद्धि के लिए महत्वपूर्ण है और स्वस्थ त्वचा और आंखों, प्रतिरक्षा, और ऊतक और हड्डी की मरम्मत को बढ़ावा देता है। अच्छे स्रोतों में पीली और नारंगी सब्जियां, दूध, पनीर और अंडे शामिल हैं।

पूरक आहार की आवश्यकता किसे है?

राष्ट्रीय खाद्य खपत डेटा और आहार सर्वेक्षण से पता चलता है कि अधिकांश अमेरिकी संतुलित और विविध आहार के माध्यम से सभी आवश्यक पोषक तत्वों का उपभोग करते हैं जिसमें स्वस्थ भोजन विकल्प शामिल हैं। कैल्शियम और आयरन जैसे कुछ पोषक तत्वों को सावधानीपूर्वक भोजन चयन की आवश्यकता हो सकती है, लेकिन विभिन्न प्रकार के खाद्य पदार्थों के पर्याप्त सेवन से प्राप्त किया जा सकता है। कुछ व्यक्तियों में आहार संबंधी प्रतिबंध हो सकते हैं (जैसे कि सीलिएक रोग या लैक्टोज असहिष्णुता वाले), या किसी विशेष जीवन स्तर (गर्भवती, स्तनपान, या बड़े वयस्क) से संबंधित हैं और विशिष्ट पूरक लेने से लाभ उठा सकते हैं।

पूरक आहार की आवश्यकता किसे है

गर्भवती महिलाएं या महिलाएं जो गर्भवती हो सकती हैं: इस आबादी को फोलिक एसिड (फोलेट), आयरन, या इन पोषक तत्वों से युक्त प्रसव पूर्व विटामिन के पूरक आहार लेने की दृढ़ता से सलाह दी जाती है। • फोलिक एसिड मस्तिष्क और रीढ़ की हड्डी में जन्म दोषों को रोकने में मदद करता है, और मजबूत खाद्य पदार्थों (जैसे समृद्ध ब्रेड और अनाज), विटामिन की खुराक, या दोनों के संयोजन के माध्यम से प्राप्त किया जा सकता है। • आयरन शरीर में रक्त की मात्रा को बढ़ाने में मदद करता है और रक्त को स्वस्थ रखने में मदद करता है। बहुत कम आयरन से एनीमिया हो सकता है। • प्रसवपूर्व विटामिन में फोलिक एसिड और आयरन दोनों के साथ-साथ अन्य महत्वपूर्ण विटामिन और खनिज शामिल हो सकते हैं, जिन्हें मां और बच्चे दोनों को उचित पोषण की आवश्यकता होती है (उदाहरण के लिए, यदि मां शाकाहारी है तो विटामिन बी12 महत्वपूर्ण है)। हालाँकि, कुछ पोषक तत्व शिशुओं के लिए हानिकारक हो सकते हैं (जैसे कि विटामिन ए, जहाँ बहुत अधिक जन्म दोष पैदा कर सकता है), और एक प्रसवपूर्व पूरक यह सुनिश्चित करता है कि माँ और बच्चे दोनों को सभी पोषक तत्वों की स्वस्थ खुराक मिल रही है।

शाकाहारी और शाकाहारी: इस आबादी को विटामिन बी12, विटामिन डी, कैल्शियम, आयरन और जिंक का पर्याप्त सेवन सुनिश्चित करना चाहिए।
• विटामिन बी12 (कोबालिन) केवल प्राकृतिक रूप से पशु मूल के खाद्य पदार्थों जैसे अंडे और डेयरी उत्पादों में पाया जाता है। शाकाहारी और सख्त शाकाहारी जो अंडे या डेयरी उत्पादों का सेवन नहीं करते हैं उन्हें विटामिन बी12 सप्लीमेंट लेने पर विचार करना चाहिए।
• विटामिन डी बहुत कम खाद्य पदार्थों में पाया जाता है, हालांकि डेयरी उत्पाद, दूध के विकल्प (सोया या बादाम का दूध), संतरे का रस, नाश्ता अनाज, और अंडे, इस पोषक तत्व के साथ मजबूत हो सकते हैं। जो लोग इन खाद्य पदार्थों का सेवन नहीं करते हैं और नियमित सूर्य के प्रकाश के संपर्क में नहीं आते हैं, उन्हें विटामिन डी के पूरक पर विचार करना चाहिए।
• कैल्शियम ज्यादातर डेयरी उत्पादों में पाया जाता है, इसलिए शाकाहारी और शाकाहारी जो डेयरी का सेवन नहीं करते हैं उन्हें अपने आहार में पर्याप्त कैल्शियम नहीं मिल सकता है।
• आयरन दो अलग-अलग रूपों में पाया जाता है- हीम आयरन (पशु उत्पादों से) अवशोषण के लिए अधिक उपलब्ध है, और गैर-हीम आयरन (पौधों के खाद्य पदार्थों से) अवशोषण के लिए कम उपलब्ध है। शाकाहारियों और शाकाहारी लोगों को अपने आहार से पर्याप्त आयरन प्राप्त हो सकता है, हालांकि अगर यह सख्ती से पौधों के खाद्य पदार्थों (गैर-हीम स्रोतों) से होता है, तो प्रत्येक दिन दो बार अधिक आहार आयरन की आवश्यकता हो सकती है।
• जिंक मुख्य रूप से पशु प्रोटीन में पाया जाता है, इसलिए शाकाहारियों और शाकाहारी लोगों को आमतौर पर अनुशंसित की तुलना में 50% अधिक जस्ता की आवश्यकता हो सकती है। इसके अतिरिक्त, बीन्स और अनाज में ऐसे यौगिक होते हैं जो जिंक को आसानी से अवशोषित होने से रोक सकते हैं। शाकाहारियों और शाकाहारी लोगों के लिए आहार संबंधी सिफारिशों के बारे में अधिक जानकारी के लिए, तथ्य पत्रक शाकाहारी आहार देखें।

भारी मासिक धर्म वाली महिलाएं: इस आबादी को अतिरिक्त आयरन का सेवन करना चाहिए, जो खून की कमी के कारण खो जाने वाले लोहे को बदलने का काम करता है।

प्रतिबंधात्मक आहार (प्रति दिन या उससे कम 1,600 कैलोरी) वाले लोग: अधिकांश वयस्कों के लिए, एक आहार जिसमें प्रति दिन 1,600 कैलोरी से कम शामिल है, सभी की आपूर्ति नहीं करेगा शरीर की जरूरतों को पूरा करने के लिए आवश्यक विटामिन और पोषक तत्व- और इन व्यक्तियों को मल्टीविटामिन और/या मल्टीमिनरल सप्लीमेंट का सेवन करना चाहिए। पूरक के प्रकार और अनुशंसित मात्रा के बारे में एक चिकित्सकीय पेशेवर से परामर्श लें।

वृद्ध वयस्क (50+), रजोनिवृत्त और पोस्टमेनोपॉज़ल महिलाएं: इन व्यक्तियों को विटामिन बी12, कैल्शियम और विटामिन डी सप्लीमेंट का सेवन करना चाहिए। विटामिन बी12, कैल्शियम और विटामिन डी, स्वस्थ हड्डियों को बनाए रखने और फ्रैक्चर के जोखिम को कम करने के लिए मिलकर काम करते हैं।
• विटामिन बी12 एक उम्र के रूप में खाद्य पदार्थों से कम आसानी से अवशोषित हो जाता है। इन व्यक्तियों को विटामिन बी12 फोर्टिफाइड खाद्य पदार्थों से प्राप्त करना चाहिए जैसे कि नाश्ता अनाज, या आहार पूरक के माध्यम से।
• कैल्शियम बड़े वयस्कों में भी अवशोषित नहीं हो पाता है और यह आबादी हड्डियों के नुकसान का अनुभव कर सकती है। खाद्य स्रोतों और पूरक रूप दोनों से कैल्शियम का सेवन महत्वपूर्ण है।
• सूर्य के प्रकाश के संपर्क में आने पर वृद्ध वयस्कों में विटामिन डी का उत्पादन उतनी कुशलता से नहीं होता है। इसके अतिरिक्त, गुर्दे की विटामिन डी को एक ऐसे रूप में परिवर्तित करने की क्षमता जिसे शरीर उपयोग कर सकता है, उम्र के साथ भी कम हो जाती है।

स्तनपान करने वाले और आंशिक रूप से स्तनपान करने वाले शिशु: चूंकि मानव दूध विटामिन डी का एक खराब स्रोत है, जो शिशु पूरी तरह से स्तनपान करते हैं या विटामिन डी-फोर्टिफाइड फॉर्मूला या दूध के प्रति दिन 1 चौथाई से कम पीते हैं, उन्हें विटामिन डी का पूरक रूप प्राप्त करना चाहिए। ।

दूध का सीमित सेवन और सूर्य के प्रकाश का जोखिम: डेयरी उत्पाद और सूर्य के प्रकाश का संपर्क विटामिन डी प्राप्त करने के दो प्राथमिक साधन हैं, इसलिए यदि दोनों में से कोई एक सीमित है, तो एक पूरक रूप आवश्यक हो सकता है ।

स्वास्थ्य की स्थितियां जो पोषक तत्वों के उपयोग और अवशोषण को सीमित कर सकती हैं: स्वास्थ्य की स्थिति वाले लोग जो पाचन, भूख और पोषक तत्वों के अवशोषण को सीमित कर सकते हैं, उन्हें पर्याप्त पोषक तत्व प्राप्त नहीं हो सकते हैं अकेले आहार (उदाहरणों में खाद्य एलर्जी, शारीरिक आघात और लस असहिष्णुता वाले लोग शामिल हैं)। इन आबादी को एक मल्टीविटामिन और/या बहुखनिज पूरक पर विचार करना चाहिए। पूरक के प्रकार और अनुशंसित मात्रा के बारे में एक चिकित्सकीय पेशेवर से परामर्श लें।

संभावित समस्याएं और जोखिम

कई सप्लीमेंट्स में सक्रिय तत्व होते हैं जिनका शरीर में मजबूत जैविक प्रभाव होता है। यह उन्हें कुछ स्थितियों में असुरक्षित बना सकता है और आपके स्वास्थ्य को चोट पहुँचा सकता है या जटिल बना सकता है। उदाहरण के लिए, निम्न कार्रवाइयों से हानिकारक - यहां तक ​​कि जीवन के लिए खतरा - परिणाम हो सकते हैं।
• पूरक का संयोजन
• दवाओं के साथ पूरक का उपयोग करना (चाहे नुस्खे या बिना पर्ची के मिले)
• डॉक्टर के पर्चे की दवाओं के लिए पूरक आहार लेना
• विटामिन ए, विटामिन डी, या आयरन जैसे कुछ पूरक का बहुत अधिक सेवन करना

सर्जरी से पहले, दौरान और बाद में कुछ सप्लीमेंट्स के अवांछित प्रभाव भी हो सकते हैं। इसलिए, आप जो भी सप्लीमेंट ले रहे हैं उसके बारे में अपने फार्मासिस्ट सहित अपने स्वास्थ्य सेवा प्रदाता को सूचित करना सुनिश्चित करें।
• अधिक मात्रा में लिए गए, कुछ पूरक अवांछित प्रभाव पैदा कर सकते हैं जैसे थकान, दस्त और बालों का झड़ना।
• अन्य अधिक गंभीर दुष्प्रभाव पैदा कर सकते हैं जैसे कि गुर्दे की पथरी, यकृत या तंत्रिका क्षति, जन्म दोष, या यहां तक ​​कि मृत्यु भी। उच्च स्तर पर, एकल-पोषक पूरक शरीर में एक दवा के रूप में कार्य करते हैं न कि पोषक तत्व के रूप में।
• वसा में घुलनशील विटामिन जैसे विटामिन ए और डी अधिक मात्रा में हानिकारक होते हैं। धूम्रपान न करने वालों के लिए, विटामिन ए की खुराक में रेटिनॉल रूप के बजाय बीटा-कैरोटीन में अधिकांश विटामिन होना चाहिए। विटामिन ई रक्त को पतला करने का काम कर सकता है और इसे सर्जरी से कम से कम एक सप्ताह पहले तक नहीं लेना चाहिए।
• पानी में घुलनशील विटामिनों को आमतौर पर हानिरहित माना जाता है, हालांकि, शोध से पता चलता है कि विटामिन बी-6 प्री-मेंस्ट्रुअल सिंड्रोम (पीएमएस) के लिए निर्धारित उच्च खुराक पर तंत्रिका क्षति का कारण बन सकता है। फोलिक एसिड का उच्च सेवन विटामिन बी -12 की कमी से जुड़े लक्षणों को मुखौटा या खराब कर सकता है। बड़ी मात्रा में विटामिन सी दस्त और मतली का कारण बन सकता है।
• कई कारक विषाक्तता को प्रभावित करते हैं। पूरक शक्ति, खुराक (संख्या और आवृत्ति), शरीर का आकार, और कितनी देर तक पूरक लिया जाता है, ये सभी प्रभावित करते हैं कि कोई पूरक विषाक्त हो सकता है या नहीं।

जब तक आप उत्पाद निर्देशों का पालन करते हैं, तब तक अधिकांश आहार पूरक सुरक्षित होते हैं, कुछ पोषक तत्वों की बड़ी खुराक के प्रतिकूल प्रभाव हो सकते हैं। आप कुछ सप्लीमेंट्स का ओवरडोज़ भी ले सकते हैं, जिससे गंभीर नुकसान और मौत का खतरा हो सकता है। 8 कुछ हानिकारक बातचीत या खुराक संबंधी चिंताओं में:
• विटामिन K, कौमामिन (वारफारिन) जैसे रक्त को पतला करने वाली दवाओं की प्रभावशीलता को कम कर सकता है।
• विटामिन ई रक्त को पतला करने की क्रिया को बढ़ा सकता है, जिससे आसानी से चोट लग सकती है और नाक से खून बह सकता है।
• सेंट जॉन पौधा कई दवाओं के टूटने को तेज कर सकता है, जिसमें एंटीडिप्रेसेंट और गर्भनिरोधक गोलियां शामिल हैं, जिससे उनकी प्रभावशीलता कम हो जाती है।
• विटामिन बी6 (पाइरिडोक्सिन), जब उच्च खुराक पर एक वर्ष या उससे अधिक समय तक उपयोग किया जाता है, तो यह तंत्रिका को गंभीर क्षति पहुंचा सकता है। विटामिन बी6 जब्ती रोधी दवा दिलान्टिन (फेनीटोइन) और लेवोडोपा (पार्किंसंस रोग के इलाज के लिए प्रयुक्त) की प्रभावशीलता को भी कम कर सकता है।
• एक्यूटेन (आइसोट्रेटिनॉइन) और सोरियाटेन (एसिट्रेटिन) जैसी रेटिनोइड मुँहासे दवाओं के साथ प्रयोग किया जाने वाला विटामिन ए विटामिन ए विषाक्तता पैदा कर सकता है।
• आयरन और कैल्शियम की खुराक एंटीबायोटिक दवाओं, जैसे टेट्रासाइक्लिन और फ्लोरोक्विनोलोन की प्रभावशीलता को 40% तक कम कर सकती है।
• विटामिन सी दस्त का कारण बन सकता है जब आंत से अधिक मात्रा में ली जाए (लेकिन कुछ रोगी प्रति दिन 5,000mg से 25,000mg सहन कर सकते हैं)।
• सेलेनियम, बोरॉन और आयरन की खुराक बड़ी मात्रा में लेने पर विषाक्त हो सकती है।

संभावित समस्याएं और जोखिम

निष्कर्ष

यूनाइटेड स्टेट्स में उपभोक्ताओं के लिए बढ़ी हुई उपलब्धता और भोजन की विस्तृत विविधता के साथ, अधिकांश व्यक्ति अकेले भोजन से आवश्यक सभी विटामिन और खनिज प्राप्त कर सकते हैं—इस अद्वितीय संतुलन को लेने के द्वारा डुप्लिकेट नहीं किया जा सकता है पूरक का कोई भी संयोजन। कुछ व्यक्ति जिनके आहार संबंधी प्रतिबंध हैं, वे गर्भवती हैं या स्तनपान कर रहे हैं, 50 वर्ष से अधिक उम्र के हैं, या विशेष आहार आवश्यकताओं के साथ, अपने आहार को एक मल्टीविटामिन और/या बहुखनिज, या व्यक्तिगत पोषक पूरक के साथ पूरक करने की आवश्यकता हो सकती है। किसी व्यक्ति की व्यक्तिगत आवश्यकताओं के लिए पूरक के प्रकार और मात्रा के बारे में सिफारिशों के लिए एक चिकित्सकीय पेशेवर से परामर्श लें।

संबंधित विषय:

1. बवासीर क्या हैं?

पुरुष बांझपन एक ऐसी स्थिति है जो एक आदमी में संतान पैदा करने की संभावना को कम कर देती है। इस स्थिति के इलाज के लिए कई आधुनिक उपचार उपलब्ध हैं। अधिक जानने के लिए यहां जाएं: बवासीर क्या हैं?

2. प्रजनन क्षमता और बांझपन क्या है?

फर्टिलिटी और इनफर्टिलिटी का संबंध किसी व्यक्ति की संतान पैदा करने की क्षमता से है। बांझपन के कारण कई हो सकते हैं। इसका परीक्षण और इलाज किया जा सकता है। अधिक जानने के लिए यहां जाएं: फर्टिलिटी और इनफर्टिलिटी क्या है

3. उचित पोषण का महत्व

उचित पोषण आपके शरीर को सभी आवश्यक पोषक तत्व प्रदान करता है, यह एक अच्छी तरह से संतुलित आहार खाने से प्राप्त किया जा सकता है। खराब पोषण स्वास्थ्य समस्याओं का कारण बन सकता है। अधिक जानने के लिए यहां जाएं: उचित पोषण का महत्व

4. प्रतिरक्षा क्या है?

प्रतिरक्षा शरीर की यह पहचानने की क्षमता है कि क्या स्वयं का है और क्या विदेशी है। प्रतिरक्षा प्रणाली हानिकारक जीवों के प्रतिरोध का निर्माण करने का काम करती है। अधिक जानने के लिए यहां जाएं: इम्यूनिटी क्या है




उपरोक्त आवश्यक वस्तुएं एएफडी शील्ड के पास उपलब्ध हैं।

एएफडी शील्ड कैप्सूल 12 प्राकृतिक अवयवों का एक संयोजन है, जिनमें अल्गल डीएचए, अश्वगंधा, करक्यूमिन और स्पिरुलिना शामिल हैं। एएफडी शील्ड टीजी को कम करता है, एचडीएल बढ़ाता है और उम्र से संबंधित संज्ञानात्मक गिरावट में सुधार करता है। यह तनाव और चिंता को भी कम करता है और एंटी-एजिंग गतिविधि करता है। इसके अलावा, यह इम्यूनोमॉड्यूलेटरी गतिविधि को भी बढ़ाता है, प्रतिरक्षा में सुधार करता है और सूजन और ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करता है।
न्यूट्रालॉजिकक्स: एएफडी शील्ड

AFDIL Ltd.
+91 9920121021

order@afdil.com

Read Also:


Disclaimer
Home