Human Papilloma Virus (HPV) Infection

HPV infection

What is HPV?

Human papillomavirus (HPV) is causes by virus and is transmitted to individuals through skin contact. There are over 100 varieties of HPV, more than 40 of which are passed through sexual contact and can affect your genitals, mouth, or throat. It belongs to the large family of Paillomavirideae. It is divided into 16 genera. Among many 5 are only important such as alpha, beta, gamma, mupa and nupa papilloma virus. According to CDC, HPV is the most common sexually transmitted infection.

It is the viral infection of the reproductive tract. Most sexually active women and men will be infected at some point in their lives and some may be repeatedly infected. The peak time for acquiring disease for the both ladies and men is soon after becoming sexually active. HPV is sexually communicated, yet penetrative sex isn't needed for transmission. Skin-to-skin genital contact is an all-around perceived method of transmission.

There are numerous kinds of HPV, and many don't cause issues. HPV contaminations typically clear up with no intercession within a couple of months after obtaining, and about 90% clear within 2 years. A small proportion of infections with certain types of HPV can persist and progress to cervical cancer. Cervical malignancy is by a wide margin the most well-known HPV-related sickness. Virtually all instances of cervical malignant growth can be owing to HPV disease.

The disease with certain HPV types likewise causes an extent of malignancies of the butt, vulva, vagina, penis and oropharynx, which are preventable utilizing comparable essential avoidance methodologies as those for cervical disease. Non-malignant growth causing sorts of HPV (particularly types 6 and 11) can cause genital warts and respiratory papillomatosis (a sickness wherein tumors grow in the air passages driving from the nose and mouth into the lungs). Although these conditions infrequently bring about death, they may cause critical event of infection. Genital warts are exceptionally normal, highly infectious and affect sexual life.

Structure

• It is small, non-enveloped and icosahedral DNA virus that have a diameter of 52-55nm.
• It is a single double stranded DNA molecule with 8000 base pairs bound to cellular histones.
• Virus has a protein capsid of 72 pentameric capsomeres. This protein capsid contains 2 structural proteins- late 1 and late 2 which are both virally encoded.
• This virus is divided into high-risk HPV and low risk HPV. Low risk causes warts and high risk causes lesions or cancer.

Pathogenesis

HPV infects epithelial cells that undergo terminal differentiation and so encode multiple mechanisms to override the normal regulation of differentiation to produce progeny virions. Two viral proteins, E6 and E7, alter cell cycle control and are the main arbitrators of HPV-induced oncogenesis. Recent data suggest that E6 and E7 also play a major role in the inhibition of the host cell innate immune response to HPV. The E1 and E2 proteins, in combination with various cellular factors, mediate viral replication. In addition, E2 has been implicated in both viral and cellular transcriptional control. Despite decades of research, the function of other viral proteins still remains unclear. While prophylactic vaccines to block genital HPV infection will soon be available, the widespread nature of HPV infection requires greater understanding of both the HPV life cycle as well as the mechanisms underlying HPV-induced carcinogenesis.

human papilloma virus infection

Clinical features

Most HPV contaminations are asymptomatic and bring about no clinical sickness. Clinical indications of HPV contamination incorporate anogenital warts, recurrent respiratory papillomatosis, cervical malignancy precursors (cervical intraepithelial neoplasia), and tumors, including cervical, anal, vaginal, vulvar, penile, and oropharyngeal disease.

• Medical Management: No specific treatment is required or recommended for asymptomatic HPV infection. Medical management is recommended for treatment of specific clinical manifestations of HPV-related disease (e.g., anogenital warts, precancerous lesions, or cancers).

• Laboratory Testing: HPV is not cultured by regular strategies. Disease is identified by detection of HPV DNA from clinical specimens. Assays for HPV detection differ considerably in their sensitivity and type specificity, and detection is also affected by the anatomic region sampled, as well as the method of specimen collection.

A few HPV tests have been supported by the Food and Drug Administration (FDA) and recognize up to 14 high-hazard types (HPV 16, 18, 31, 33, 35, 39, 45, 51, 52, 56, 58, 59, 66, 68). Test results are reported as positive when the presence of any combination of these HPV types is detected; certain tests explicitly recognize HPV types 16 and additionally 18. These tests are approved for use in women as part of cervical cancer screening either as primary screen, co-test with cytology, or management of abnormal cervical cytology results on a Papanicolaou (Pap) test. HPV tests are neither clinically shown nor supported for use in men.

Epidemiologic and fundamental examination investigations of HPV by and large use nucleic acid amplification strategies that create type-explicit outcomes. The polymerase chain reaction (PCR) assays used most commonly in epidemiologic studies target genetically conserved regions in the L1 gene. The most frequently used HPV serologic assays are viruslike-particle-(VLP)-based enzyme immunoassays. However, laboratory reagents used for these assays are not standardized and there are no standards for setting a threshold for a positive result. Serology results are not used clinically.

Epidemiology

Occurence: HPV infection is extremely common throughout the world. Most sexually active adults will have an HPV infection at some point during their lives, although they may be unaware of their infection.

Reservoir: Humans are the only natural reservoir for HPV. Other viruses in the papillomavirus family affect other species.

Transmission: HPV is transmitted through intimate, skin-to-skin contact with an infected person. Transmission is most common during vaginal, penile, anal, or oral sex. Studies of newly acquired HPV infection demonstrate that infection typically occurs soon after first sexual activity. In a prospective study of college women, the cumulative incidence of infection was 40% by 24 months after first sexual intercourse, and 10% of infections were caused by HPV 16. Autoinoculation from one body site to another can occur. Very rarely, vertical transmission of HPV from an infected mother to her infant can result in a condition called juvenile-onset recurrent respiratory papillomatosis.

Causes

The infection that causes HPV contamination is transmitted through skin-to-skin contact. Many people get a genital HPV contamination through direct sexual contact, including vaginal, anal, and oral sex. Since HPV is a skin-to-skin disease, intercourse isn't needed for transmission to happen.

Numerous individuals have HPV and don't have any acquaintance with it, which implies you can in any case contract it regardless of whether your partner doesn't have any side effects. It's likewise conceivable to have various kinds of HPV. In uncommon cases, a mother who has HPV can send the infection to her child during delivery. At the point when this occurs, the kid may foster a condition called recurrent respiratory papillomatosis where they foster HPV-related warts inside their throat or airways.

Transmission

• It is transmitted through skin to skin contact.

• Having vaginal, anal or oral sex with someone who has the virus.

• It is very common that nearly all men and women get it at some point of time in their life.

• It can be passed even when the infected person has no signs and symptoms.

• People can develop symptoms years after being infected

• increased number of sexual partners

• unprotected vaginal, oral, or anal sex

• a weakened immune system

If you contract a high-risk type of HPV, some factors can make it more likely that the infection will continue and may develop into cancer:

• a weakened immune system

• having other STIs, such as gonorrhea, chlamydia, and herpes simplex

• chronic inflammation

• having many children (cervical cancer)

• using oral contraceptives over a long period of time (cervical cancer)

• using tobacco products (mouth or throat cancer)

• receiving anal sex (anal cancer)

Symptoms

Often, there are no noticeable symptoms of HPV or any health problems.

As per CDC, 90% of HPV diseases i.e., 9 out of 10 diseases disappear within two years of infection. But, as the virus is still inside the body of that person, he/she may unknowingly transmit HPV. Some of the symptoms of HPV when it doesn’t go away on its own include genital warts and warts in the throat (known as recurrent respiratory papillomatosis). Other symptoms of HPV are cervical cancer and other cancers of genitals, head, neck and throat.

Tumors brought about by HPV frequently don't show manifestations until the malignancy is in later phases of development. Normal screenings can help analyze HPV-related medical issues prior. This can improve outlook and increase chances of survival. Symptoms of HPV may appear years after the initial infection. Some types of the virus cause warts to form, while others can increase the risk of cancer. Specifically, HPV can cause:

One of the symptoms of HPV is genital warts:

A person may have one small skin bump, a cluster of bumps, or stem-like protrusions. These warts can range in size and appearance, and they may be:

• large or small

• flat or cauliflower-shaped

• white, pink, red, purplish-brown, or skin-colored

They can form on the:

• vulva

• cervix

• penis or scrotum

• anus

• groin area

These warts can cause itching, burning, and other discomfort.


Other types of warts:

• Other symptoms of HPV are common warts, plantar warts, and flat warts.

• Common warts are rough, raised bumps that tend to form on the hands, fingers, and elbows.

• Plantar warts are hard, grainy growths that often form on the feet, usually on the heels or balls of the feet.

• Flat warts, meanwhile, are flat-topped, slightly raised lesions that are darker than the surrounding skin and often appear on the face or neck.

In most cases, your body's immune system defeats an HPV infection before it creates warts. When warts do appear, they vary in appearance depending on which kind of HPV is involved:

Genital warts: These appear as flat lesions, small cauliflower-like bumps or tiny stemlike protrusions. In women, genital warts appear mostly on the vulva but can also occur near the anus, on the cervix or in the vagina. In men, genital warts appear on the penis and scrotum or around the anus. Genital warts rarely cause discomfort or pain, though they may itch or feel tender.

Common warts: Common warts appear as rough, raised bumps and usually occur on the hands and fingers. In most cases, common warts are simply unsightly, but they can also be painful or susceptible to injury or bleeding.

Plantar warts: Plantar warts are hard, grainy growths that usually appear on the heels or balls of your feet. These warts might cause discomfort.

Flat warts: Flat warts are flat-topped, slightly raised lesions. They can appear anywhere, but children usually get them on the face and men tend to get them in the beard area. Women tend to get them on the legs.

viral infection

HPV in men and women

• HPV in men:

Numerous men who contract an HPV contamination have no manifestations, although some may foster genital warts. See your doctor in case you notice any strange knocks or injuries on your penis, scrotum, or rear-end.

A few strains of HPV can cause penile, anal, and throat disease in men. A few men might be more in danger of developing HPV-related malignant growths, including men who get anal sex and men with a weak immune system. The strains of HPV that cause genital warts aren't equivalent to those that cause malignant growth.

• HPV in women:

It’s estimated that 80% of women will contract at least one type of HPV during their lifetime. Like with men, many women that get HPV don’t have any symptoms and the infection goes away without causing any health problems.

Some women may notice that they have genital warts, which can appear inside the vagina, in or around the anus, and on the cervix or vulva. Make an appointment with your doctor if you notice any unexplained bumps or growths in or around your genital area.

Some strains of HPV can cause cervical cancer or cancers of the vagina, anus, or throat. Regular screening can help detect the changes associated with cervical cancer in women. Additionally, DNA tests on cervical cells can detect strains of HPV associated with genital cancers.

How HPV infection leads to cervical cancer?

Although most HPV infections clear up on their own and most pre-cancerous lesions resolve spontaneously, there is a risk for all women that HPV infection may become chronic and pre-cancerous lesions progress to invasive cervical cancer.

It takes 15 to 20 years for cervical cancer to develop in women with normal immune systems. It can take only 5 to 10 years in women with weakened immune systems, such as those with untreated HIV infection.

Nearly all cervical cancers are caused by HPV infections, but cervical cancer may take 20 years or longer to develop after an HPV infection. The HPV infection and early cervical cancer typically don't cause noticeable symptoms. Getting vaccinated against HPV infection is your best protection from cervical cancer.

Because early cervical cancer doesn't cause symptoms, it's vital that women have regular screening tests to detect any precancerous changes in the cervix that might lead to cancer. Current guidelines recommend that women ages 21 to 29 have a Pap tests for HPV infection recognition every three years.

Women ages 30 to 65 are advised to continue having a Pap test every three years, or every five years if they also get the HPV DNA test at the same time. Women over 65 can stop testing if they've had three normal Pap tests in a row, or two HPV DNA and Pap tests with no abnormal results.

HPV tests and diagnosis

Tests

There are different tests for HPV for men and women.

Women

Updated guidelines from the US Preventive Services Task Force (USPSTF) recommend that women have their first Pap test, or Pap smear, at age 21, regardless of onset of sexual activity. Regular Pap tests help to identify abnormal cells in women. These can signal cervical cancer or other HPV-related problems.

Women ages 21 to 29 should have just a Pap test every three years. From ages 30 to 65, women should do one of the following:

• One of the tests for HPV is receive a Pap test every three years

• Another tests for HPV is receive an HPV test every five years; it will screen for high-risk types of HPV (hrHPV)

• Other tests for HPV include receiving both tests together every five years; this is known as co-testing

• One of the tests for HPV is standalone tests which is preferred over co-testing, according to the USPSTF.

If you’re younger than age 30, your doctor or gynecologist may also request an HPV test if your Pap results are abnormal. There are at least 14 strains of HPV that can lead to cancer. If you have one of these strains, your doctor may want to monitor you for cervical changes.

You may need to get a Pap test more frequently. Your doctor may also request a follow-up procedure, such as a colposcopy. Cervical changes that lead to cancer often take many years to develop, and HPV infections often go away on their own without causing cancer.

Men

It’s important to note that the HPV DNA test is only available for diagnosing HPV in women. There’s currently no FDA-approved tests for HPV detection in men. According to the CDC, routine screening for anal, throat, or penile cancer in men isn’t currently recommended.

One of the tests for HPV detection in men can be an anal Pap test that have an increased risk for developing anal cancer. This includes men who receive anal sex and men with HIV.


Diagnosis

The traditional methods of viral diagnosis such as electron microscopy, cell structure, and certain immunological methods are not suitable for HPV detection. Also HPV cannot be cultured in cell cultures. The important methods to diagnose HPV infection are:

• Colposcopy and acetic acid test

• Biopsy

• DNA test

• Pap smear

Colposcopy: a procedure that allows illuminated stereoscopic and magnified viewing of the cervix.

PCR- based methods: HPV DNA can be amplified selectively by a series of reactions that lead to an exponential and reproducible increase in viral sequences present in the biological specimen.

Serological assays: ELISA or western blot analysis

Biopsy: if the biopsy results show pre-cancer (dysplasia) or cancer, then treatment is recommended. The dysplasia may be mild, moderate or severe.

Pap smear or pap test: It is a screening test. Apart from premalignant and malignant changes, viral infections like HPV infection and herpes can also be detected. It is usually a part of pelvic exam and accompanied by a breast exam. A sample of mucus and cells will be obtained from the cervix and endocervix using a wooden scrapper or a small cervical brush or broom. The sample is rinsed into the vial and sent to a lab for slide preparation and examination.

Acetic acid test: a vinegar solution applied to HPV infected genital areas turns them white. This may help in identifying difficult-to-see flat lesions.

HPV treatments

Most instances of HPV disappear all alone, so there's no treatment for the actual disease. All things considered, your doctor will probably need to have you come in for repeat testing in a year to check whether the HPV disease perseveres and if any cell changes have fostered that need further development. Genital warts can be treated with doctor prescribed medications, burning with an electrical flow, or freezing with fluid nitrogen. But, getting rid of the physical warts doesn’t treat the virus itself, and the warts may return.

Precancerous cells might be eliminated through a short procedure that is performed at your primary care physician's office. Malignant growths that create from HPV might be treated by techniques like chemotherapy, radiation treatment, or medical procedure. In some cases, different strategies might be utilized. There at present aren't any therapeutically upheld normal medicines accessible for HPV disease. Routine evaluating for HPV and cervical disease is significant for recognizing, observing, and treating medical conditions that may result from HPV contamination.

HPV vaccination: There are as of now 3 vaccines that have been prequalified, all securing against both HPV 16 and 18, which are known to cause in any event 70% of cervical malignancies. The third vaccine secures against five additional oncogenic HPV types, which cause a further 20% of cervical malignancies. Given that the vaccines which are just securing against HPV 16 and 18 additionally have some cross-protection against these other more uncommon HPV types which cause cervical malignancy, WHO considers the three vaccines equally protective against cervical disease. Two of the antibodies likewise secure against HPV types 6 and 11, which cause anogenital warts. Clinical trials and post-marketing surveillance have shown that HPV vaccines are protected and successful in preventing diseases with HPV contaminations, high grade precancerous injuries and obtrusive malignant growth.

HPV vaccines work best if administered prior to exposure to HPV. Thusly, WHO prescribes to inoculate young ladies, matured somewhere in the range of 9 and 14 years, when most have not begun sexual movement. The vaccines can't treat HPV contamination or HPV-related sickness, like malignancy. A few nations have begun to inoculate young men as the vaccine prevents genital tumors in guys just as females, and two accessible antibodies additionally prevent genital warts in males and females. WHO suggests immunization for young ladies matured somewhere in the range of 9 and 14 years, as this is the most savvy general wellbeing measure against cervical malignancy. HPV immunization doesn't replace cervical malignancy screening. In nations where HPV immunization is presented, screening programmes may still need to be developed or strengthened.

Screening and treatment of pre-cancer lesions

Cervical disease screening includes testing for pre-malignant growth and malignancy, increasing the tests for HPV infection. Testing is done among ladies who have no indications and may feel totally amazing. When screening recognizes a HPV disease or pre-carcinogenic injuries, these can without much of a stretch be dealt with, and malignant growth can be kept away from. Screening can likewise identify malignant growth at a beginning phase and treatment has a high potential for cure.

Since pre-malignant lesions require numerous years to create, screening is suggested for each lady from aged 30 and regularly afterwards (recurrence depends upon the screening test utilized). For ladies living with HIV who are explicitly sexually active, screening ought to be done before, when they know their HIV status.

Screening has to be linked to treatment and management of positive screening tests. Screening without proper management in place is not ethical.

There are 3 different types of screening tests that are as of now suggested by WHO:

• HPV DNA testing for high-risk HPV types

• Visual inspection with Acetic Acid (VIA)

• conventional (Pap) test and liquid based cytology (LBC)

For therapy of pre-disease lesions, WHO suggests the utilization of cryotherapy or thermal ablation and Loop Electrosurgical Excision Procedure (LEEP) when accessible. For advanced lesions, women should be referred for further investigations and adequate management.

HPV prevention

• The easiest ways to prevent HPV are to use condoms and to practice safe sex.

• In addition, the Gardasil 9 vaccine is available for the prevention of genital warts and cancers caused by HPV. The vaccine can protect against nine types of HPV known to be associated with either cancer or genital warts.

• The CDC recommends the HPV vaccine for boys and girls ages 11 or 12. Two doses of the vaccine are given at least six months apart. Women and men ages 15 to 26 can also get vaccinated on a three-dose schedule.

• Additionally, people between the ages of 27 and 45 who haven’t been previously vaccinated for HPV are now eligible for vaccination with Gardasil 9.

• To prevent health problems associated with HPV, be sure to get regular health checkups, screenings, and Pap smears.

HPV and pregnancy

Contracting HPV doesn't diminish your chances of getting pregnant. In case you're pregnant and have HPV, you may wish to postpone treatment until after delivery. In any case, sometimes, HPV disease can cause complications. Hormonal changes that happen during pregnancy may make genital warts develop and sometimes, these warts may bleed. If genital warts are widespread, they may make a vaginal delivery difficult. At the point when genital warts block the birth canal, a C-section might be required. In uncommon cases, a lady with HPV can give it to her child. At the point when this occurs, an uncommon yet genuine condition called recurrent respiratory papillomatosis may happen. In this condition, youngsters foster HPV-related developments in their airways. Cervical changes can in any case happen during pregnancy, so you should plan to proceed with routine evaluating for cervical disease and HPV while you're pregnant.

HPV facts and statistics

Here are some additional facts and statistics about HPV infection:

• According to CDC 79 million Americans have HPV. Most of these people are in their late teens or early 20s.

• It’s estimated that about 14 million people will newly contract HPV each year.

• In the United States, HPV causes over 33,000 cancers each year in men and women.

• It’s estimated that 95 percent of anal cancers are caused by HPV infection. Most of these cases are caused by one type of HPV: HPV 16.

• Two strains of HPV — HPV 16 and 18 — account for at least 70 percent of cervical cancer cases. Vaccination can protect against contracting these strains.

• In 2006 the first HPV vaccination was recommended. Since then, a 64 percent reduction in vaccine-covered HPV strains has been observed in teenage girls in the United States.




The above essentials are available with AFD SHIELD.
AFD Shield capsule is a combination of 12 natural ingredients among which are Algal DHA, Ashwagandha, Curcumin and Spirullina. AFD Shield reduces TG, increases HDL and improves age related cognitive decline. It also reduces stress and anxiety and performs anti-aging activity.Moreover, it also enhances the immunomodulatory activity, improves immunity and reduces inflammation and oxidative stress. Nutralogicx: AFD SHIELD

मानव पैपिलोमा वायरस (एचपीवी) संक्रमण

HPV infection

एचपीवी क्या है?

मानव पेपिलोमावायरस (एचपीवी) वायरस के कारण होता है और त्वचा के संपर्क के माध्यम से व्यक्तियों में फैलता है। एचपीवी की 100 से अधिक किस्में हैं, जिनमें से 40 से अधिक यौन संपर्क से गुजरती हैं और आपके जननांगों, मुंह या गले को प्रभावित कर सकती हैं। यह Pailomavirideae के बड़े परिवार से संबंधित है। इसे 16 पीढ़ी में बांटा गया है। कई 5 में केवल अल्फा, बीटा, गामा, मुपा और नुपा पेपिलोमा वायरस जैसे महत्वपूर्ण हैं। सीडीसी के अनुसार, एचपीवी सबसे आम यौन संचारित संक्रमण है।

यह प्रजनन पथ का वायरल संक्रमण है। अधिकांश यौन सक्रिय महिलाएं और पुरुष अपने जीवन में कभी न कभी संक्रमित होंगे और कुछ बार-बार संक्रमित हो सकते हैं। महिलाओं और पुरुषों दोनों के लिए रोग प्राप्त करने का चरम समय यौन सक्रिय होने के तुरंत बाद होता है। एचपीवी यौन संचार किया जाता है, फिर भी संचरण के लिए भेदक सेक्स की आवश्यकता नहीं होती है। त्वचा से त्वचा का जननांग संपर्क संचरण का एक व्यापक रूप से माना जाने वाला तरीका है।

कई प्रकार के एचपीवी हैं, और कई समस्याएं पैदा नहीं करते हैं। एचपीवी संदूषण आमतौर पर प्राप्त करने के कुछ महीनों के भीतर बिना किसी हस्तक्षेप के साफ हो जाता है, और लगभग 90% 2 वर्षों के भीतर साफ हो जाता है। कुछ प्रकार के एचपीवी वाले संक्रमणों का एक छोटा सा हिस्सा सर्वाइकल कैंसर तक बना रह सकता है और आगे बढ़ सकता है। सरवाइकल दुर्दमता व्यापक अंतर से सबसे प्रसिद्ध एचपीवी-संबंधी बीमारी है। गर्भाशय ग्रीवा के घातक विकास के लगभग सभी उदाहरण एचपीवी रोग के कारण हो सकते हैं।

कुछ प्रकार के एचपीवी वाले रोग भी बट, योनी, योनि, लिंग और ऑरोफरीनक्स की एक हद तक विकृतियों का कारण बनते हैं, जो सर्वाइकल रोग के लिए तुलनीय आवश्यक बचाव पद्धतियों का उपयोग करके रोके जा सकते हैं। गैर-घातक वृद्धि के कारण एचपीवी (विशेष रूप से 6 और 11 प्रकार) के कारण जननांग मौसा और श्वसन पेपिलोमाटोसिस (एक बीमारी जिसमें नाक और मुंह से फेफड़ों में जाने वाले वायु मार्ग में ट्यूमर बढ़ता है) हो सकता है। हालांकि ये स्थितियां अक्सर मौत का कारण बनती हैं, लेकिन ये संक्रमण की गंभीर घटना का कारण बन सकती हैं। जननांग मौसा असाधारण रूप से सामान्य, अत्यधिक संक्रामक होते हैं और यौन जीवन को प्रभावित करते हैं।

संरचना

• यह छोटा, बिना ढका हुआ और इकोसाहेड्रल डीएनए वायरस है जिसका व्यास 52-55nm है।
• यह एक एकल डबल स्ट्रैंडेड डीएनए अणु है जिसमें ८००० बेस जोड़े सेलुलर हिस्टोन से बंधे होते हैं।
• वायरस में 72 पेंटामेरिक कैप्सोमेरेस का प्रोटीन कैप्सिड होता है। इस प्रोटीन कैप्सिड में 2 संरचनात्मक प्रोटीन होते हैं- देर से 1 और देर से 2 जो दोनों वायरल रूप से एन्कोडेड हैं।
• इस वायरस को उच्च जोखिम वाले एचपीवी और कम जोखिम वाले एचपीवी में बांटा गया है। कम जोखिम मस्सों का कारण बनता है और उच्च जोखिम घावों या कैंसर का कारण बनता है।

रोगजनन

एचपीवी एपिथेलियल कोशिकाओं को संक्रमित करता है जो टर्मिनल भेदभाव से गुजरते हैं और इसलिए कई तंत्रों को सांकेतिक शब्दों में बदलना करते हैं ताकि संतति विषाणु पैदा करने के लिए भेदभाव के सामान्य विनियमन को ओवरराइड किया जा सके। दो वायरल प्रोटीन, E6 और E7, कोशिका चक्र नियंत्रण को बदलते हैं और HPV-प्रेरित ऑन्कोजेनेसिस के मुख्य मध्यस्थ हैं। हाल के आंकड़े बताते हैं कि E6 और E7 भी एचपीवी के लिए मेजबान सेल की जन्मजात प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया के निषेध में एक प्रमुख भूमिका निभाते हैं। E1 और E2 प्रोटीन, विभिन्न सेलुलर कारकों के संयोजन में, वायरल प्रतिकृति में मध्यस्थता करते हैं। इसके अलावा, E2 को वायरल और सेलुलर ट्रांसक्रिप्शनल कंट्रोल दोनों में फंसाया गया है। दशकों के शोध के बावजूद, अन्य वायरल प्रोटीन का कार्य अभी भी स्पष्ट नहीं है। जबकि जननांग एचपीवी संक्रमण को रोकने के लिए रोगनिरोधी टीके जल्द ही उपलब्ध होंगे, एचपीवी संक्रमण की व्यापक प्रकृति के लिए एचपीवी जीवन चक्र के साथ-साथ एचपीवी-प्रेरित कार्सिनोजेनेसिस के अंतर्निहित तंत्र की अधिक समझ की आवश्यकता होती है।

human papilloma virus infection

नैदानिक ​​सुविधाओं

अधिकांश एचपीवी संदूषण स्पर्शोन्मुख हैं और कोई नैदानिक ​​बीमारी नहीं लाते हैं। एचपीवी संदूषण के नैदानिक ​​​​संकेतों में एनोजेनिटल वार्ट्स, आवर्तक श्वसन पैपिलोमाटोसिस, सर्वाइकल मैलिग्नेंसी अग्रदूत (सरवाइकल इंट्रापीथेलियल नियोप्लासिया), और ट्यूमर शामिल हैं, जिनमें सर्वाइकल, गुदा, योनि, वुल्वर, पेनाइल और ऑरोफरीन्जियल रोग शामिल हैं।

• चिकित्सा प्रबंधन: स्पर्शोन्मुख एचपीवी संक्रमण के लिए किसी विशिष्ट उपचार की आवश्यकता या सिफारिश नहीं की जाती है। एचपीवी से संबंधित रोग के विशिष्ट नैदानिक ​​अभिव्यक्तियों के उपचार के लिए चिकित्सा प्रबंधन की सिफारिश की जाती है (उदाहरण के लिए, एनोजिनिटल वार्ट्स, पूर्व कैंसर घाव, या कैंसर)।

• प्रयोगशाला परीक्षण: एचपीवी को नियमित रणनीतियों द्वारा सुसंस्कृत नहीं किया जाता है। नैदानिक ​​नमूनों से एचपीवी डीएनए का पता लगाकर रोग की पहचान की जाती है। एचपीवी का पता लगाने के लिए परख उनकी संवेदनशीलता और प्रकार की विशिष्टता में काफी भिन्न होते हैं, और पता लगाना भी शारीरिक क्षेत्र के नमूने के साथ-साथ नमूना संग्रह की विधि से भी प्रभावित होता है।

कुछ एचपीवी परीक्षणों को खाद्य एवं औषधि प्रशासन (एफडीए) द्वारा समर्थित किया गया है और 14 उच्च-खतरे वाले प्रकारों (एचपीवी 16, 18, 31, 33, 35, 39, 45, 51, 52, 56, 58, 59) को पहचानते हैं। , 66, 68)। इन एचपीवी प्रकारों के किसी भी संयोजन की उपस्थिति का पता चलने पर परीक्षण के परिणाम सकारात्मक बताए जाते हैं; कुछ परीक्षण स्पष्ट रूप से एचपीवी प्रकार 16 और इसके अतिरिक्त 18 को पहचानते हैं। इन परीक्षणों को महिलाओं में सर्वाइकल कैंसर स्क्रीनिंग के हिस्से के रूप में प्राथमिक स्क्रीन, साइटोलॉजी के साथ सह-परीक्षण, या पैपनिकोलाउ (पैप) परीक्षण पर असामान्य ग्रीवा साइटोलॉजी परिणामों के प्रबंधन के रूप में उपयोग के लिए अनुमोदित किया जाता है। . एचपीवी परीक्षण न तो चिकित्सकीय रूप से दिखाए गए हैं और न ही पुरुषों में उपयोग के लिए समर्थित हैं।

एचपीवी की महामारी विज्ञान और मौलिक परीक्षा जांच और बड़े पैमाने पर न्यूक्लिक एसिड प्रवर्धन रणनीतियों का उपयोग करते हैं जो टाइप-स्पष्ट परिणाम बनाते हैं। पोलीमरेज़ चेन रिएक्शन (पीसीआर) एसेज़ का इस्तेमाल आमतौर पर महामारी विज्ञान के अध्ययन में एल 1 जीन में आनुवंशिक रूप से संरक्षित क्षेत्रों को लक्षित करता है। सबसे अधिक इस्तेमाल किया जाने वाला एचपीवी सीरोलॉजिकल एसेज़ वायरस-लाइक-पार्टिकल- (वीएलपी)-आधारित एंजाइम इम्युनोसे हैं। हालांकि, इन परखों के लिए उपयोग किए जाने वाले प्रयोगशाला अभिकर्मकों को मानकीकृत नहीं किया गया है और सकारात्मक परिणाम के लिए सीमा निर्धारित करने के लिए कोई मानक नहीं हैं। सीरोलॉजी के परिणाम चिकित्सकीय रूप से उपयोग नहीं किए जाते हैं।

महामारी विज्ञान

घटना: एचपीवी संक्रमण पूरी दुनिया में बेहद आम है। अधिकांश यौन सक्रिय वयस्कों को अपने जीवन के दौरान किसी समय एचपीवी संक्रमण होगा, हालांकि वे अपने संक्रमण से अनजान हो सकते हैं।

जलाशय: एचपीवी के लिए मनुष्य ही एकमात्र प्राकृतिक जलाशय है। पेपिलोमावायरस परिवार के अन्य वायरस अन्य प्रजातियों को प्रभावित करते हैं।

संचरण: एचपीवी संक्रमित व्यक्ति के साथ अंतरंग, त्वचा से त्वचा के संपर्क के माध्यम से संचरित होता है। योनि, लिंग, गुदा या मुख मैथुन के दौरान संचरण सबसे आम है। नए अधिग्रहित एचपीवी संक्रमण के अध्ययन से पता चलता है कि संक्रमण आमतौर पर पहली यौन गतिविधि के तुरंत बाद होता है। कॉलेज की महिलाओं के एक संभावित अध्ययन में, पहले संभोग के 24 महीने बाद संक्रमण की संचयी घटना 40% थी, और 10% संक्रमण एचपीवी 16 के कारण हुए थे। एक शरीर की साइट से दूसरे में ऑटोइनोक्यूलेशन हो सकता है। बहुत कम ही, संक्रमित मां से उसके शिशु में एचपीवी के लंबवत संचरण के परिणामस्वरूप किशोर-शुरुआत आवर्तक श्वसन पेपिलोमाटोसिस नामक स्थिति हो सकती है।

एचपीवी के कारण

संक्रमण जो एचपीवी संदूषण का कारण बनता है वह त्वचा से त्वचा के संपर्क के माध्यम से फैलता है। योनि, गुदा और मुख मैथुन सहित कई लोगों को सीधे यौन संपर्क के माध्यम से जननांग एचपीवी संदूषण मिलता है। चूंकि एचपीवी एक त्वचा से त्वचा की बीमारी है, इसलिए संचरण के लिए संभोग की आवश्यकता नहीं होती है।

बहुत से लोगों के पास एचपीवी है और वे इसके बारे में कोई जानकारी नहीं रखते हैं, जिसका अर्थ है कि आप किसी भी मामले में इसे अनुबंधित कर सकते हैं, भले ही आपके साथी को कोई दुष्प्रभाव न हो। इसी तरह विभिन्न प्रकार के एचपीवी होना भी संभव है। असामान्य मामलों में, एक मां जिसे एचपीवी है, वह प्रसव के दौरान अपने बच्चे को संक्रमण भेज सकती है। जब ऐसा होता है, तो बच्चा आवर्तक श्वसन पैपिलोमाटोसिस नामक स्थिति को बढ़ावा दे सकता है जहां वे अपने गले या वायुमार्ग के अंदर एचपीवी से संबंधित मौसा को बढ़ावा देते हैं।

हस्तांतरण

• यह त्वचा से त्वचा के संपर्क से फैलता है।

• वायरस वाले किसी व्यक्ति के साथ योनि, गुदा या मुख मैथुन करना।

• यह बहुत आम बात है कि लगभग सभी पुरुषों और महिलाओं को अपने जीवन में कभी न कभी यह होता है।

• यह तब भी फैल सकता है जब संक्रमित व्यक्ति में कोई लक्षण और लक्षण न हों।

• लोग संक्रमित होने के वर्षों बाद भी लक्षण विकसित कर सकते हैं

• यौन साझेदारों की संख्या में वृद्धि

• असुरक्षित योनि, मुख या गुदा मैथुन

• कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली

यदि आप एक उच्च जोखिम वाले प्रकार के एचपीवी को अनुबंधित करते हैं, तो कुछ कारक इस बात की अधिक संभावना बना सकते हैं कि संक्रमण जारी रहेगा और कैंसर में विकसित हो सकता है:

• कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली

• अन्य एसटीआई, जैसे सूजाक, क्लैमाइडिया, और दाद सिंप्लेक्स होना

• जीर्ण सूजन

• कई बच्चे होना (सर्वाइकल कैंसर)

• लंबे समय तक मौखिक गर्भ निरोधकों का उपयोग करना (सरवाइकल कैंसर)

• तंबाकू उत्पादों का उपयोग करना (मुंह या गले का कैंसर)

• गुदा मैथुन (गुदा कैंसर) प्राप्त करना

लक्षण

अक्सर, एचपीवी या किसी भी स्वास्थ्य समस्या के कोई ध्यान देने योग्य लक्षण नहीं होते हैं।

सीडीसी के अनुसार, एचपीवी के 90% रोग यानी 10 में से 9 रोग संक्रमण के दो साल के भीतर गायब हो जाते हैं। लेकिन, चूंकि वायरस अभी भी उस व्यक्ति के शरीर के अंदर है, वह अनजाने में एचपीवी संचारित कर सकता है। एचपीवी के कुछ लक्षण जब अपने आप दूर नहीं होते हैं, उनमें जननांग मौसा और गले में मस्से शामिल हैं (जिसे आवर्तक श्वसन पैपिलोमाटोसिस कहा जाता है)। एचपीवी के अन्य लक्षण सर्वाइकल कैंसर और जननांगों, सिर, गर्दन और गले के अन्य कैंसर हैं।

एचपीवी द्वारा लाए गए ट्यूमर अक्सर तब तक प्रकट नहीं होते जब तक कि घातकता विकास के बाद के चरणों में नहीं होती है। सामान्य जांच से पहले एचपीवी से संबंधित चिकित्सा मुद्दों का विश्लेषण करने में मदद मिल सकती है। यह दृष्टिकोण में सुधार कर सकता है और जीवित रहने की संभावना बढ़ा सकता है। प्रारंभिक संक्रमण के वर्षों बाद एचपीवी के लक्षण प्रकट हो सकते हैं। कुछ प्रकार के वायरस मस्सों का कारण बनते हैं, जबकि अन्य कैंसर के खतरे को बढ़ा सकते हैं। विशेष रूप से, एचपीवी पैदा कर सकता है:

एचपीवी के लक्षणों में से एक जननांग मौसा है:

एक व्यक्ति की त्वचा पर एक छोटा सा उभार, धक्कों का एक समूह या तने जैसे उभार हो सकते हैं। ये मौसा आकार और रूप में भिन्न हो सकते हैं, और ये हो सकते हैं:

• बड़ा या छोटा

• चपटा या फूलगोभी के आकार का

• सफेद, गुलाबी, लाल, बैंगनी-भूरा, या त्वचा के रंग का

वे इस पर बना सकते हैं:

• वल्वा

• गर्भाशय ग्रीवा

• लिंग या अंडकोश

• गुदा

• जननांग

ये मस्से खुजली, जलन और अन्य परेशानी पैदा कर सकते हैं।


अन्य प्रकार के मौसा:

• एचपीवी के अन्य लक्षण सामान्य मस्से, तल का मस्से और चपटे मस्से हैं।

• आम मस्से खुरदुरे, उभरे हुए उभार होते हैं जो हाथों, उंगलियों और कोहनी पर बनते हैं।

• तल का मस्से कठोर, दानेदार वृद्धि होते हैं जो अक्सर पैरों पर बनते हैं, आमतौर पर एड़ी या पैरों की गेंदों पर।

• इस बीच, चपटे मस्से चपटे-शीर्ष, थोड़े उभरे हुए घाव होते हैं जो आसपास की त्वचा से गहरे रंग के होते हैं और अक्सर चेहरे या गर्दन पर दिखाई देते हैं।

ज्यादातर मामलों में, आपके शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली एक एचपीवी संक्रमण को मात देती है इससे पहले कि वह मौसा पैदा करे। जब मौसा दिखाई देते हैं, तो वे किस प्रकार के एचपीवी के आधार पर दिखने में भिन्न होते हैं:

जननांग मौसा: ये सपाट घाव, फूलगोभी जैसे छोटे धक्कों या छोटे तने जैसे उभार के रूप में दिखाई देते हैं। महिलाओं में, जननांग मौसा ज्यादातर योनी पर दिखाई देते हैं, लेकिन गुदा के पास, गर्भाशय ग्रीवा पर या योनि में भी हो सकते हैं। पुरुषों में, जननांग मौसा लिंग और अंडकोश पर या गुदा के आसपास दिखाई देते हैं। जननांग मौसा शायद ही कभी असुविधा या दर्द का कारण बनते हैं, हालांकि वे खुजली या कोमल महसूस कर सकते हैं।

सामान्य मस्से: आम मस्से खुरदुरे, उभरे हुए उभार के रूप में दिखाई देते हैं और आमतौर पर हाथों और उंगलियों पर होते हैं। ज्यादातर मामलों में, आम मौसा बस भद्दे होते हैं, लेकिन वे दर्दनाक या चोट या रक्तस्राव के लिए अतिसंवेदनशील भी हो सकते हैं।

प्लांटार वार्ट्स: प्लांटार वार्ट्स कठोर, दानेदार विकास होते हैं जो आमतौर पर आपके पैरों की एड़ी या गेंदों पर दिखाई देते हैं। ये मौसा असुविधा का कारण बन सकते हैं।

चपटे मस्से: चपटे मस्से चपटे-टॉप वाले, थोड़े उभरे हुए घाव होते हैं। वे कहीं भी दिखाई दे सकते हैं, लेकिन बच्चे आमतौर पर उन्हें चेहरे पर लगाते हैं और पुरुष उन्हें दाढ़ी वाले क्षेत्र में ले जाते हैं। महिलाएं उन्हें पैरों पर खड़ा करती हैं।

viral infection

पुरुषों और महिलाओं में एचपीवी

• पुरुषों में एचपीवी:

एचपीवी संदूषण का अनुबंध करने वाले कई पुरुषों में कोई अभिव्यक्ति नहीं होती है, हालांकि कुछ जननांग मौसा को बढ़ावा दे सकते हैं। यदि आपको अपने लिंग, अंडकोश या पीछे के छोर पर कोई अजीब सी चोट या चोट लगती है, तो अपने डॉक्टर से मिलें।

एचपीवी के कुछ उपभेद पुरुषों में लिंग, गुदा और गले की बीमारी का कारण बन सकते हैं। कुछ पुरुषों को एचपीवी से संबंधित घातक वृद्धि विकसित होने का खतरा अधिक हो सकता है, जिनमें गुदा मैथुन करने वाले पुरुष और कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली वाले पुरुष शामिल हैं। एचपीवी के उपभेद जो जननांग मौसा का कारण बनते हैं, वे उन लोगों के बराबर नहीं होते हैं जो घातक वृद्धि का कारण बनते हैं।

• महिलाओं में एचपीवी:

यह अनुमान लगाया गया है कि 80% महिलाएं अपने जीवनकाल में कम से कम एक प्रकार के एचपीवी का अनुबंध करेंगी। पुरुषों की तरह, एचपीवी प्राप्त करने वाली कई महिलाओं में कोई लक्षण नहीं होते हैं और संक्रमण बिना किसी स्वास्थ्य समस्या के दूर हो जाता है।

कुछ महिलाएं देख सकती हैं कि उनके पास जननांग मौसा है, जो योनि के अंदर, गुदा में या उसके आसपास और गर्भाशय ग्रीवा या योनी पर दिखाई दे सकता है। यदि आप अपने जननांग क्षेत्र में या उसके आसपास कोई अस्पष्टीकृत धक्कों या वृद्धि को नोटिस करते हैं, तो अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

एचपीवी के कुछ उपभेद गर्भाशय ग्रीवा के कैंसर या योनि, गुदा या गले के कैंसर का कारण बन सकते हैं। नियमित जांच से महिलाओं में सर्वाइकल कैंसर से जुड़े बदलावों का पता लगाने में मदद मिल सकती है। इसके अतिरिक्त, गर्भाशय ग्रीवा की कोशिकाओं पर डीएनए परीक्षण जननांग कैंसर से जुड़े एचपीवी के उपभेदों का पता लगा सकते हैं।

एचपीवी संक्रमण से सर्वाइकल कैंसर कैसे होता है?

हालांकि अधिकांश एचपीवी संक्रमण अपने आप ठीक हो जाते हैं और अधिकांश पूर्व-कैंसर वाले घाव अपने आप ठीक हो जाते हैं, सभी महिलाओं के लिए एक जोखिम है कि एचपीवी संक्रमण पुराना हो सकता है और कैंसर से पहले के घाव आक्रामक गर्भाशय ग्रीवा के कैंसर में प्रगति कर सकते हैं।

सामान्य प्रतिरक्षा प्रणाली वाली महिलाओं में सर्वाइकल कैंसर विकसित होने में 15 से 20 साल लगते हैं। कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली वाली महिलाओं में केवल 5 से 10 साल लग सकते हैं, जैसे कि अनुपचारित एचआईवी संक्रमण वाली महिलाएं।

लगभग सभी गर्भाशय ग्रीवा के कैंसर एचपीवी संक्रमण के कारण होते हैं, लेकिन एचपीवी संक्रमण के बाद गर्भाशय ग्रीवा के कैंसर को विकसित होने में 20 साल या उससे अधिक समय लग सकता है। एचपीवी संक्रमण और प्रारंभिक गर्भाशय ग्रीवा के कैंसर में आमतौर पर ध्यान देने योग्य लक्षण नहीं होते हैं। एचपीवी संक्रमण के खिलाफ टीका लगवाना सर्वाइकल कैंसर से आपकी सबसे अच्छी सुरक्षा है।

चूंकि प्रारंभिक गर्भाशय ग्रीवा के कैंसर के लक्षण नहीं होते हैं, इसलिए यह महत्वपूर्ण है कि महिलाओं के गर्भाशय ग्रीवा में किसी भी पूर्व कैंसर परिवर्तन का पता लगाने के लिए नियमित जांच परीक्षण हो जिससे कैंसर हो सकता है। वर्तमान दिशानिर्देश अनुशंसा करते हैं कि 21 से 29 वर्ष की आयु की महिलाओं को हर तीन साल में एचपीवी संक्रमण की पहचान के लिए पैप परीक्षण कराना चाहिए।

30 से 65 वर्ष की आयु की महिलाओं को सलाह दी जाती है कि यदि वे उसी समय एचपीवी डीएनए परीक्षण करवाती हैं, तो वे हर तीन साल या हर पांच साल में पैप परीक्षण करवाती रहें। 65 वर्ष से अधिक उम्र की महिलाएं परीक्षण करना बंद कर सकती हैं यदि उनके पास लगातार तीन सामान्य पैप परीक्षण हों, या दो एचपीवी डीएनए और पैप परीक्षण बिना किसी असामान्य परिणाम के हों।

एचपीवी परीक्षण और निदान

परीक्षण

पुरुषों और महिलाओं के लिए एचपीवी के लिए अलग-अलग परीक्षण हैं।

महिलाओं

यूएस प्रिवेंटिव सर्विसेज टास्क फोर्स (USPSTF) के अपडेट किए गए दिशानिर्देश अनुशंसा करते हैं कि यौन गतिविधि की शुरुआत की परवाह किए बिना, महिलाओं को 21 साल की उम्र में अपना पहला पैप परीक्षण या पैप स्मीयर करवाना चाहिए। नियमित पैप परीक्षण महिलाओं में असामान्य कोशिकाओं की पहचान करने में मदद करते हैं। ये सर्वाइकल कैंसर या एचपीवी से संबंधित अन्य समस्याओं का संकेत दे सकते हैं।

21 से 29 साल की महिलाओं को हर तीन साल में सिर्फ पैप टेस्ट करवाना चाहिए। 30 से 65 वर्ष की आयु में महिलाओं को निम्न में से कोई एक करना चाहिए:

• एचपीवी के लिए एक परीक्षण हर तीन साल में एक पैप परीक्षण प्राप्त करना है

• एचपीवी के लिए एक और परीक्षण हर पांच साल में एक एचपीवी परीक्षण प्राप्त करना है; यह उच्च जोखिम वाले प्रकार के एचपीवी (एचआरएचपीवी) के लिए स्क्रीन करेगा

• एचपीवी के लिए अन्य परीक्षणों में हर पांच साल में दोनों परीक्षण एक साथ प्राप्त करना शामिल है; इसे सह-परीक्षण के रूप में जाना जाता है

• एचपीवी के लिए परीक्षणों में से एक स्टैंडअलोन परीक्षण है जिसे यूएसपीएसटीएफ के अनुसार, सह-परीक्षणों पर प्राथमिकता दी जाती है।

यदि आपकी उम्र 30 वर्ष से कम है, तो आपका डॉक्टर या स्त्री रोग विशेषज्ञ भी आपके पैप परिणाम असामान्य होने पर एचपीवी परीक्षण का अनुरोध कर सकते हैं। एचपीवी के कम से कम 14 उपभेद हैं जो कैंसर का कारण बन सकते हैं। यदि आपके पास इनमें से एक उपभेद है, तो आपका डॉक्टर गर्भाशय ग्रीवा के परिवर्तनों के लिए आपकी निगरानी करना चाह सकता है।

आपको बार-बार पैप परीक्षण करवाना पड़ सकता है। आपका डॉक्टर एक अनुवर्ती प्रक्रिया का भी अनुरोध कर सकता है, जैसे कि कोल्पोस्कोपी। गर्भाशय ग्रीवा के परिवर्तन जो कैंसर का कारण बनते हैं, अक्सर विकसित होने में कई साल लग जाते हैं, और एचपीवी संक्रमण अक्सर कैंसर पैदा किए बिना अपने आप दूर हो जाते हैं।

पुरुषों

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि एचपीवी डीएनए परीक्षण केवल महिलाओं में एचपीवी के निदान के लिए उपलब्ध है। पुरुषों में एचपीवी का पता लगाने के लिए वर्तमान में कोई एफडीए-अनुमोदित परीक्षण नहीं है। सीडीसी के अनुसार, पुरुषों में गुदा, गले या लिंग के कैंसर के लिए नियमित जांच वर्तमान में अनुशंसित नहीं है।

पुरुषों में एचपीवी का पता लगाने के लिए परीक्षणों में से एक गुदा पैप परीक्षण हो सकता है जिसमें गुदा कैंसर विकसित होने का खतरा बढ़ जाता है। इसमें गुदा मैथुन प्राप्त करने वाले पुरुष और एचआईवी वाले पुरुष शामिल हैं।


निदान

वायरल निदान के पारंपरिक तरीके जैसे इलेक्ट्रॉन माइक्रोस्कोपी, कोशिका संरचना और कुछ प्रतिरक्षाविज्ञानी तरीके एचपीवी का पता लगाने के लिए उपयुक्त नहीं हैं। इसके अलावा एचपीवी सेल संस्कृतियों में सुसंस्कृत नहीं किया जा सकता है। एचपीवी संक्रमण के निदान के लिए महत्वपूर्ण तरीके हैं:

• कोल्पोस्कोपी और एसिटिक एसिड परीक्षण

• बायोप्सी

• डीएनए परीक्षण

• पैप स्मीयर

कोल्पोस्कोपी: एक प्रक्रिया जो गर्भाशय ग्रीवा के प्रबुद्ध त्रिविम और आवर्धित देखने की अनुमति देती है।

पीसीआर-आधारित विधियां: एचपीवी डीएनए को प्रतिक्रियाओं की एक श्रृंखला द्वारा चुनिंदा रूप से प्रवर्धित किया जा सकता है जो जैविक नमूने में मौजूद वायरल अनुक्रमों में एक घातीय और प्रतिलिपि प्रस्तुत करने योग्य वृद्धि की ओर ले जाता है।

सीरोलॉजिकल परख: एलिसा या पश्चिमी धब्बा विश्लेषण

बायोप्सी: यदि बायोप्सी के परिणाम पूर्व-कैंसर (डिसप्लासिया) या कैंसर दिखाते हैं, तो उपचार की सिफारिश की जाती है। डिसप्लेसिया हल्का, मध्यम या गंभीर हो सकता है।

प स्मीयर या पैप टेस्ट: यह एक स्क्रीनिंग टेस्ट है। प्रीमैलिग्नेंट और घातक परिवर्तनों के अलावा, एचपीवी संक्रमण और दाद जैसे वायरल संक्रमणों का भी पता लगाया जा सकता है। यह आमतौर पर पैल्विक परीक्षा का एक हिस्सा होता है और इसके साथ स्तन परीक्षा भी होती है। एक लकड़ी के खुरचनी या एक छोटे ग्रीवा ब्रश या झाड़ू का उपयोग करके गर्भाशय ग्रीवा और एंडोकर्विक्स से बलगम और कोशिकाओं का एक नमूना प्राप्त किया जाएगा। नमूना को शीशी में धोया जाता है और स्लाइड तैयार करने और जांच के लिए एक प्रयोगशाला में भेजा जाता है।

एसिटिक एसिड परीक्षण: एचपीवी संक्रमित जननांग क्षेत्रों पर लागू सिरका समाधान उन्हें सफेद कर देता है। यह मुश्किल से दिखने वाले फ्लैट घावों की पहचान करने में मदद कर सकता है।

एचपीवी उपचार

एचपीवी के अधिकांश मामले अकेले ही गायब हो जाते हैं, इसलिए वास्तविक बीमारी का कोई इलाज नहीं है। सभी बातों पर विचार किया गया है, आपके डॉक्टर को शायद आपको एक वर्ष में दोबारा परीक्षण के लिए आने की आवश्यकता होगी ताकि यह जांचा जा सके कि एचपीवी रोग बना रहता है या नहीं और यदि किसी कोशिका परिवर्तन ने बढ़ावा दिया है जिसे और विकास की आवश्यकता है। जननांग मौसा का इलाज डॉक्टर द्वारा निर्धारित दवाओं के साथ किया जा सकता है, विद्युत प्रवाह से जल रहा है, या द्रव नाइट्रोजन के साथ जम रहा है। लेकिन, शारीरिक मौसा से छुटकारा पाने से वायरस का इलाज नहीं होता है, और मस्से वापस आ सकते हैं।

आपके प्राथमिक देखभाल चिकित्सक के कार्यालय में की जाने वाली एक छोटी प्रक्रिया के माध्यम से प्रीकैंसरस कोशिकाओं को समाप्त किया जा सकता है। एचपीवी से उत्पन्न होने वाली घातक वृद्धि का उपचार कीमोथेरेपी, विकिरण उपचार या चिकित्सा प्रक्रिया जैसी तकनीकों द्वारा किया जा सकता है। कुछ मामलों में, विभिन्न रणनीतियों का उपयोग किया जा सकता है। वर्तमान में एचपीवी रोग के लिए उपलब्ध कोई भी चिकित्सीय रूप से मान्य सामान्य दवाएं उपलब्ध नहीं हैं। एचपीवी और गर्भाशय ग्रीवा की बीमारी के लिए नियमित मूल्यांकन एचपीवी संदूषण के परिणामस्वरूप होने वाली चिकित्सा स्थितियों को पहचानने, देखने और उनका इलाज करने के लिए महत्वपूर्ण है।

एचपीवी टीकाकरण: अब तक 3 टीके हैं जिन्हें प्रीक्वालिफाइड किया गया है, सभी एचपीवी 16 और 18 दोनों के खिलाफ सुरक्षित हैं, जो किसी भी घटना में 70% सर्वाइकल विकृतियों का कारण माने जाते हैं। तीसरा टीका पांच अतिरिक्त ऑन्कोजेनिक एचपीवी प्रकारों के खिलाफ सुरक्षित करता है, जो गर्भाशय ग्रीवा के आगे 20% विकृतियों का कारण बनता है। यह देखते हुए कि जो टीके सिर्फ एचपीवी 16 और 18 के खिलाफ सुरक्षित हैं, उनमें इन अन्य असामान्य एचपीवी प्रकारों के खिलाफ कुछ क्रॉस-प्रोटेक्शन भी हैं, जो गर्भाशय ग्रीवा की खराबी का कारण बनते हैं, डब्ल्यूएचओ तीनों टीकों को सर्वाइकल रोग के खिलाफ समान रूप से सुरक्षात्मक मानता है। इसी तरह दो एंटीबॉडी एचपीवी टाइप 6 और 11 के खिलाफ सुरक्षित हैं, जो एनोजिनिटल मस्से का कारण बनते हैं। नैदानिक ​​परीक्षणों और पोस्ट-मार्केटिंग निगरानी से पता चला है कि एचपीवी टीके सुरक्षित हैं और एचपीवी संदूषण, उच्च ग्रेड पूर्व कैंसर चोटों और घातक घातक वृद्धि के साथ रोगों को रोकने में सफल हैं।

एचपीवी के टीके एचपीवी के संपर्क में आने से पहले प्रशासित होने पर सबसे अच्छा काम करते हैं। इस प्रकार, डब्ल्यूएचओ युवा महिलाओं को टीका लगाने के लिए निर्धारित करता है, जो 9 और 14 वर्ष की सीमा में कहीं परिपक्व होती हैं, जब अधिकांश ने यौन आंदोलन शुरू नहीं किया है। टीके एचपीवी संदूषण या एचपीवी से संबंधित बीमारी, जैसे दुर्दमता का इलाज नहीं कर सकते। कुछ देशों ने युवाओं को टीका लगाना शुरू कर दिया है क्योंकि टीका महिलाओं की तरह पुरुषों में जननांग ट्यूमर को रोकता है, और दो सुलभ एंटीबॉडी भी पुरुषों और महिलाओं में जननांग मौसा को रोकते हैं। डब्ल्यूएचओ 9 और 14 वर्ष की सीमा में कहीं परिपक्व होने वाली युवा महिलाओं के लिए टीकाकरण का सुझाव देता है, क्योंकि यह सर्वाइकल मैलिग्नेंसी के खिलाफ सबसे सामान्य सामान्य स्वास्थ्य उपाय है। एचपीवी टीकाकरण सर्वाइकल मैलिग्नेंसी स्क्रीनिंग की जगह नहीं लेता। उन देशों में जहां एचपीवी टीकाकरण प्रस्तुत किया जाता है, स्क्रीनिंग कार्यक्रमों को अभी भी विकसित या मजबूत करने की आवश्यकता हो सकती है।

पूर्व-कैंसर घावों की जांच और उपचार

सर्वाइकल डिजीज स्क्रीनिंग में प्री-मैलिग्नेंट ग्रोथ और मैलिग्नेंसी के लिए टेस्टिंग, एचपीवी संक्रमण के लिए टेस्ट बढ़ाना शामिल है। परीक्षण उन महिलाओं के बीच किया जाता है जिनके कोई संकेत नहीं हैं और पूरी तरह से आश्चर्यजनक महसूस कर सकते हैं। जब स्क्रीनिंग एक एचपीवी रोग या पूर्व-कार्सिनोजेनिक चोटों को पहचानती है, तो इनका बहुत अधिक खिंचाव के बिना निपटा जा सकता है, और घातक वृद्धि को दूर रखा जा सकता है। स्क्रीनिंग भी प्रारंभिक चरण में घातक वृद्धि की पहचान कर सकती है और उपचार में इलाज की उच्च क्षमता होती है।

चूंकि पूर्व-घातक घावों को बनाने के लिए कई वर्षों की आवश्यकता होती है, 30 वर्ष की आयु से प्रत्येक महिला के लिए स्क्रीनिंग का सुझाव दिया जाता है और नियमित रूप से बाद में (पुनरावृत्ति उपयोग किए गए स्क्रीनिंग परीक्षण पर निर्भर करती है)। एचआईवी के साथ रहने वाली महिलाओं के लिए जो स्पष्ट रूप से यौन रूप से सक्रिय हैं, उनकी एचआईवी स्थिति जानने से पहले स्क्रीनिंग की जानी चाहिए।

स्क्रीनिंग को सकारात्मक स्क्रीनिंग परीक्षणों के उपचार और प्रबंधन से जोड़ा जाना चाहिए। उचित प्रबंधन के बिना स्क्रीनिंग नैतिक नहीं है।

WHO द्वारा अब तक सुझाए गए 3 अलग-अलग प्रकार के स्क्रीनिंग टेस्ट हैं:

• उच्च जोखिम वाले एचपीवी प्रकारों के लिए एचपीवी डीएनए परीक्षण

• एसिटिक एसिड (VIA) के साथ दृश्य निरीक्षण

• पारंपरिक (पैप) परीक्षण और तरल आधारित कोशिका विज्ञान (एलबीसी)

रोग से पहले के घावों के उपचार के लिए, WHO उपलब्ध होने पर क्रायोथेरेपी या थर्मल एब्लेशन और लूप इलेक्ट्रोसर्जिकल एक्सिशन प्रोसीजर (LEEP) के उपयोग का सुझाव देता है। उन्नत घावों के लिए, महिलाओं को आगे की जांच और पर्याप्त प्रबंधन के लिए भेजा जाना चाहिए।

एचपीवी रोकथाम

• एचपीवी से बचाव का सबसे आसान तरीका है कंडोम का इस्तेमाल करना और सुरक्षित यौन संबंध बनाना।

• इसके अलावा, Gardasil 9 वैक्सीन जननांग मौसा और HPV के कारण होने वाले कैंसर की रोकथाम के लिए उपलब्ध है। टीका नौ प्रकार के एचपीवी से रक्षा कर सकता है जिन्हें कैंसर या जननांग मौसा से जुड़ा माना जाता है।

• सीडीसी 11 या 12 साल की उम्र के लड़कों और लड़कियों के लिए एचपीवी वैक्सीन की सिफारिश करता है। टीके की दो खुराक कम से कम छह महीने अलग दी जाती हैं। 15 से 26 वर्ष की आयु के महिलाएं और पुरुष भी तीन-खुराक के समय पर टीका लगवा सकते हैं।

• इसके अतिरिक्त, 27 से 45 वर्ष के बीच के लोग जिन्हें पहले HPV का टीका नहीं लगाया गया था, अब Gardasil 9 के साथ टीकाकरण के लिए पात्र हैं।

• एचपीवी से जुड़ी स्वास्थ्य समस्याओं को रोकने के लिए नियमित स्वास्थ्य जांच, जांच और पैप स्मीयर कराना सुनिश्चित करें।

एचपीवी और गर्भावस्था

एचपीवी अनुबंधित करने से आपके गर्भवती होने की संभावना कम नहीं होती है। यदि आप गर्भवती हैं और आपको एचपीवी है, तो आप प्रसव के बाद तक उपचार स्थगित करना चाह सकती हैं। किसी भी मामले में, कभी-कभी, एचपीवी रोग जटिलताएं पैदा कर सकता है। गर्भावस्था के दौरान होने वाले हार्मोनल परिवर्तन जननांग मौसा विकसित कर सकते हैं और कभी-कभी, इन मौसा से खून बह सकता है। यदि जननांग मौसा व्यापक हैं, तो वे योनि प्रसव को मुश्किल बना सकते हैं। उस बिंदु पर जब जननांग मौसा जन्म नहर को अवरुद्ध करते हैं, सी-सेक्शन की आवश्यकता हो सकती है। असामान्य मामलों में, एचपीवी वाली महिला इसे अपने बच्चे को दे सकती है। जब ऐसा होता है, तो आवर्तक श्वसन पैपिलोमाटोसिस नामक एक असामान्य लेकिन वास्तविक स्थिति हो सकती है। इस स्थिति में, युवा अपने वायुमार्ग में एचपीवी से संबंधित विकास को बढ़ावा देते हैं। गर्भावस्था के दौरान किसी भी मामले में सरवाइकल परिवर्तन हो सकते हैं, इसलिए आपको गर्भवती होने पर गर्भाशय ग्रीवा की बीमारी और एचपीवी के लिए नियमित मूल्यांकन के साथ आगे बढ़ने की योजना बनानी चाहिए।

एचपीवी तथ्य और आंकड़े

एचपीवी संक्रमण के बारे में कुछ अतिरिक्त तथ्य और आंकड़े यहां दिए गए हैं:

• सीडीसी के अनुसार 79 मिलियन अमेरिकियों के पास एचपीवी है। इनमें से ज्यादातर लोग अपनी किशोरावस्था के अंत या 20 के दशक की शुरुआत में हैं।

• यह अनुमान लगाया गया है कि लगभग 14 मिलियन लोग हर साल एचपीवी का नया अनुबंध करेंगे।

• संयुक्त राज्य अमेरिका में, एचपीवी पुरुषों और महिलाओं में हर साल 33,000 से अधिक कैंसर का कारण बनता है।

• यह अनुमान लगाया गया है कि 95 प्रतिशत गुदा कैंसर HPV संक्रमण के कारण होते हैं। इनमें से अधिकांश मामले एक प्रकार के एचपीवी: एचपीवी 16 के कारण होते हैं।

• एचपीवी के दो प्रकार - एचपीवी 16 और 18 - सर्वाइकल कैंसर के कम से कम 70 प्रतिशत मामलों के लिए जिम्मेदार हैं। टीकाकरण इन उपभेदों को अनुबंधित करने से बचा सकता है।

• २००६ में पहले एचपीवी टीकाकरण की सिफारिश की गई थी। तब से, संयुक्त राज्य अमेरिका में किशोर लड़कियों में टीके से ढके एचपीवी उपभेदों में 64 प्रतिशत की कमी देखी गई है।




उपर ब्लॉग में बताई गई उपलब्धिया AFD-SHIELD के साथ उपलब्ध हैं
एएफडी शील्ड कैप्सूल 12 प्राकृतिक अवयवों का एक संयोजन है जिनमें से अलगल डीएचए, अश्वगंधा, करक्यूमिन और स्पिरुलिना हैं। एएफडी शील्ड टीजी को कम करता है, एचडीएल बढ़ाता है और उम्र से संबंधित संज्ञानात्मक गिरावट में सुधार करता है। यह तनाव और चिंता को भी कम करता है और एंटी-एजिंग गतिविधि करता है। इसके अलावा, यह इम्युनोमॉड्यूलेटरी गतिविधि को बढ़ाता है, प्रतिरक्षा में सुधार करता है और सूजन और ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करता है। न्यूट्रोग्लिग्क्स: एएफडी-शील्ड