What is Creatine?

What Is Creatine?

Creatine is a substance that is found naturally in muscle cells. It helps your muscles produce energy during heavy lifting or high-intensity exercise.Taking creatine as a supplement is very popular among athletes and bodybuilders in order to gain muscle, enhance strength and improve exercise performance .

Chemically speaking, it shares many similarities with amino acids. Your body can produce it from the amino acids glycine and arginine.Several factors affect your body’s creatine stores, including meat intake, exercise, amount of muscle mass and levels of hormones like testosterone and IGF-1 .About 95% of your body’s creatine is stored in muscles in the form of phosphocreatine. The other 5% is found in your brain, kidneys and liver .

When you supplement, you increase your stores of phosphocreatine. This is a form of stored energy in the cells, as it helps your body produce more of a high-energy molecule called ATP.ATP is often called the body’s energy currency. When you have more ATP, your body can perform better during exercise .

Creatine also alters several cellular processes that lead to increased muscle mass, strength and recovery .But creatine side effects can be there if taken in excess.

How Does It Work?

Creatine can improve health and athletic performance in several ways.In high-intensity exercise, its primary role is to increase the phosphocreatine stores in your muscles.
The additional stores can then be used to produce more ATP, which is the key energy source for heavy lifting and high-intensity exercise .
Creatine also helps you gain muscle in the following ways:
• Boosted workload: Enables more total work or volume in a single training session, which is a key factor in long-term muscle growth .
• Improved cell signaling: Can increase satellite cell signaling, which aids muscle repair and new muscle growth .
• Raised anabolic hormones: Studies note a rise in hormones, such as IGF-1, after taking creatine .
• Increased cell hydration: Lifts water content within your muscle cells, which causes a cell volumization effect that may play a role in muscle growth .
• Reduced protein breakdown: May increase total muscle mass by reducing muscle breakdown which is not creatine side effect.
• Lower myostatin levels: Elevated levels of the protein myostatin can slow or totally inhibit new muscle growth. Supplementing with creatine can reduce these levels, increasing growth potential .
Creatine supplements also increase phosphocreatine stores in your brain, which may improve brain health and prevent neurological disease .

Different Types of Creatine

As creatine has grown in popularity, supplement companies have developed new chemical formulations designed to optimize bioavailability, combat digestive issues, and improve functionality. Here’s a breakdown of various creatine supplements.

Creatine Monohydrate
The most common and cost-effective kind of supplemental creatine is creatine monohydrate, made by bonding creatine to a water molecule. It’s considered the default option, the O.G. It’s also the most widely and well-researched type of creatine, with the most recent review of the safety and efficacy of creatine in the Journal of the International Society of Sports Nutrition declaring creatine monohydrate as having more physiological impact on intramuscular levels of creatine than other forms. This form has some creatine side effect

Creatine Ethyl Ester
In this form, creatine is bound to ester salts, which are thought to make the creatine more bioavailable. A 2009 study compared creatine ethyl ester supplementation to creatine monohydrate supplementation and a placebo over a 47 day period. The results? Creatine ethyl ester did not produce any additional benefit to increased muscle strength or performance.

Creatine Hydrochloride
This variety is made by binding creatine to parts of hydrochloride molecules (technically, the creatine molecule is bound to a hydrochloride “moiety”). One notable effect is that it lowers the pH, making the creatine more acidic.
“HCl” is more soluble in water, but some believe that it also absorbs more efficiently in the body. That’s why most creatine HCl products have a serving size of under one gram, as opposed to the standard five grams for monohydrate. Some folks get stomach cramps from creatine monohydrate, and anecdotally, creatine hydrochloride doesn’t have that effect as often.In more quantity it has creatine side effect.

Buffered Creatinev
This is creatine with a higher pH than regular creatine monohydrate, making for a more alkaline or basic product. Usually, it refers to Kre-Alkalyn®, but a competitor called Crea-Trona® buffered with sodium carbonate and sodium bicarbonate, which may further increase the alkalinity.
Buffered creatine is sometimes promoted as more effective and results in less creatine breaking down into creatinine, a less useful byproduct. However, the only large study comparing it with monohydrate showed no difference in performance or muscle creatine content. The study found pretty similar increases in creatinine between the two. That said, buffered creatine, like creatine hydrochloride, may be easier on the stomach for athletes who experience cramps with monohydrate.

Liquid Creatine
As the name suggests, creatine is packaged in a liquid, ready-to-drink formula rather than a powder. It’s marketed as being more convenient and potentially more easily absorbed in the body. Still, the limited research comparing the two supplements available suggests it may actually be less effective than creatine monohydrate.

Creatine Magnesium Chelate
This is creatine that’s been bound with magnesium. It’s not hard to find people claiming that this absorbs more effectively than monohydrate, but like hydrochloride and everything else on this list, there have been very few studies performed on it. The studies available aren’t particularly promising

muscle growth and creatine

Uses of creatinin:-

1. Helps muscle cells produce more energy
Creatine supplements increase your muscles’ phosphocreatine stores .Phosphocreatine aids the formation of adenosine triphosphate (ATP), the key molecule your cells use for energy and all basic life functions .
During exercise, ATP is broken down to produce energy.The rate of ATP resynthesis limits your ability to continually perform at maximum intensity, as you use ATP faster than you reproduce it .
Creatine supplements increase your phosphocreatine stores, allowing you to produce more ATP energy to fuel your muscles during high-intensity exercise .This is the primary mechanism behind creatine’s performance-enhancing effects.

2. Supports many other functions in muscles
Creatine is a popular and effective supplement for adding muscle mass .It can alter numerous cellular pathways that lead to new muscle growth. For example, it boosts the formation of proteins that create new muscle fibers .
It can also raise levels of insulin-like growth factor 1 (IGF-1), a hormone that promotes increases in muscle mass .What’s more, creatine supplements can increase the water content of your muscles. This is known as cell volumization and can quickly increase muscle size .Excess can have creatine side effect.
Additionally, some research indicates that creatine decreases levels of myostatin, a molecule responsible for stunting muscle growth. Reducing myostatin can help you build muscle faster .

3. Improves high-intensity exercise performance
Creatine’s direct role in ATP production means it can drastically improve high-intensity exercise performance .Creatine improves numerous factors, including :
• strength
• ballistic power
• sprint ability
• muscle endurance
• resistance to fatigue
• muscle mass
• recovery
• brain performance
Unlike supplements that only affect advanced athletes, creatine benefits you regardless of your fitness level .One review found that it improves high-intensity exercise performance by up to 15%

4. Speeds muscle growth
Creatine is the world’s most effective supplement for adding muscle mass .Taking it for as few as 5–7 days has been shown to significantly increase lean body weight and muscle size.This initial rise is caused by increases in the water content of your muscles .
Over the long term, it also aids in muscle fiber growth by signaling key biological pathways and boosting gym performance In one study of a 6-week training regimen, participants who used creatine added 4.4 pounds (2 kg) more muscle mass, on average, than the control group .Similarly, a comprehensive review demonstrated a clear increase in muscle mass among those taking creatine, compared with those performing the same training regimen without creatine
This review also compared the world’s most popular sports supplements and concluded that creatine is the best one available. Its advantages include being less expensive and far safer than most other sports supplements

5. May help with Parkinson’s disease
Parkinson’s disease is characterized by reduced levels of dopamine, a key neurotransmitter in your brain .The large reduction in dopamine levels causes brain cell death and several serious symptoms, including tremors, loss of muscle function, and speech impairments .
Creatine has been linked to beneficial effects in mice with Parkinson’s, preventing 90% of the typical drop in dopamine levels. However, there is no evidence that it has the same effect in humans .In an attempt to treat the loss of muscle function and strength, those with Parkinson’s often weight train .
In one study in individuals with this disease, combining creatine with weight training improved strength and daily function to a greater extent than training alone .However, a recent analysis of five controlled studies in people with Parkinson’s noted that taking 4–10 grams of creatine per day didn’t significantly improve their ability to perform daily activities .

6. May fight other neurological diseases
A key factor in several neurological diseases is a reduction of phosphocreatine in your brain .Since creatine can increase these levels, it may help reduce or slow disease progression.In mice with Huntington’s disease, creatine restored the brain’s phosphocreatine stores to 72% of pre-disease levels, compared with only 26% for control mice .
This restoration of phosphocreatine helped maintain daily function and reduced cell death by around 25% .Research in animals suggests that taking creatine supplements may treat other diseases too, including
• Alzheimer’s disease
• ischemic stroke
• epilepsy
• brain or spinal cord injuries
Creatine has also shown benefits against amyotrophic lateral sclerosis (ALS), a disease that affects the motor neurons that are essential for movement. It improved motor function, reduced muscle loss, and extended survival rate by 17% .Although more studies are needed in humans, some researchers believe that creatine supplements can serve as a defense against neurological diseases when used alongside conventional medicines.

7. May lower blood sugar levels and fight diabetes
Research suggests that creatine supplements may lower blood sugar levels by increasing the function of glucose transporter type 4 (GLUT-4), a molecule that brings blood sugar into your muscles .A 12-week study examined how creatine affects blood sugar levels after a high carb meal. People who combined creatine and exercise exhibited better blood sugar control than those who only exercised .
Short-term blood sugar response to a meal is an important marker of diabetes risk. The faster your body clears sugar from the blood, the better .While these benefits are promising, more human research is needed on creatine’s long-term effects on blood sugar control and diabetes.

8. Can improve brain function
Creatine plays an important role in brain health and function .Research demonstrates that your brain requires a significant amount of ATP when performing difficult tasks .Supplements can increase phosphocreatine stores in your brain to help it produce more ATP. Creatine may also aid brain function by increasing dopamine levels and mitochondrial function .
As meat is the best dietary source of creatine, vegetarians often have low levels. One study on creatine supplements in vegetarians found a 20–50% improvement in some memory and intelligence test scores .For older individuals, supplementing with creatine for 2 weeks significantly improved memory and recall ability .
In older adults, creatine may boost brain function, protect against neurological diseases, and reduce age-related loss of muscle and strength .Despite such positive findings, more research is needed in young, healthy individuals who eat meat or fish regularly.

9. May reduce fatigue and tiredness
Creatine supplements may also reduce fatigue and tiredness .In a 6-month study in people with traumatic brain injury, those who supplemented with creatine experienced a 50% reduction in dizziness, compared with those who did not supplement .
Furthermore, only 10% of patients in the supplement group experienced fatigue, compared with 80% in the control group .Another study determined that creatine led to reduced fatigue and increased energy levels during sleep deprivation .Creatine also reduced fatigue in athletes taking a cycling test and has been used to decrease fatigue when exercising in high heat .

10. Safe and easy to use
Along with creatine’s diverse benefits, it’s one of the cheapest and safest supplements available. You can find a wide selection online.It has been researched for more than 200 years, and numerous studies support its safety for long-term use. Clinical trials lasting up to 5 years report no adverse effects in healthy individuals .
What’s more, supplementing is very easy — simply take 3–5 grams of creatine monohydrate powder per day .

creatine structure

Symptoms that can accompany high creatinine

The symptoms of high creatinine can depend on the condition that’s causing it.It leads to creatine side effect .

Drug toxicity (drug-induced nephrotoxicity)
Some medications can cause damage to the kidneys and impair their ability to function. Examples of such drugs are:
• antibiotics, such as aminoglycosides, rifampin, and vancomycin
• cardiovascular drugs, such as ACE inhibitors and statins
• chemotherapy drugs
• diuretics
• lithium
• proton pump inhibitors

Symptoms that go along with high creatinine and can develop rapidly may include:
• fluid retention, particularly in your lower body
• passing low amounts of urine
• feeling weak or fatigued
• confusion
• nausea
• shortness of breath
• irregular heart rate
• chest pain

Kidney infection (pyelonephritis)
A kidney infection is a type of urinary tract infection (UTI). It can happen when bacteria or viruses infect other parts of your urinary tract before moving up into the kidneys.
If left untreated, kidney infections can cause damage to your kidneys and even kidney failure. Some kidney infection symptoms to look out for include:
• fever
• pain localized to your back, side, or groin
• urination that’s frequent or painful
• urine that appears dark, cloudy, or bloody
• bad-smelling urine
• chills
• nausea or vomiting

Glomerulonephritis
Glomerulonephritis occurs when the parts of your kidneys that filter your blood become inflamed. So it’s a creatine side effect well some potential causes include infections or autoimmune diseases like lupus and Goodpasture syndrome.
Glomerulonephritis can lead to kidney scarring and damage as well as kidney failure. Symptoms of the condition include:
• high blood pressure
• blood in the urine, which may make it appear pink or brown
• urine that appears foamy due to high levels of protein
• fluid retention in the face, hands, and feet

Diabetes
Diabetes is a condition in which your blood sugar is too high. Elevated blood sugar levels can lead to a variety of health problems, one of which is kidney disease.
There are two types of diabetes — type 1 and type 2. Symptoms of type 1 diabetes can develop quickly while symptoms of type 2 often develop gradually. General symptoms of diabetes include:
• feeling very thirsty
• frequent urination
• feeling fatigued
• sensations of numbness or tingling in the hands and feet

High blood pressure
High blood pressure happens when the force of the blood pushing on the walls of your arteries is too high. This can damage or weaken the blood vessels around the kidneys, impacting kidney function and causing high creatinine.Which is a creatine side effect too .
Since high blood pressure often has no symptoms, many people don’t know they have it. It’s often detected during a routine health screening.

Heart disease
Conditions affecting the heart and blood vessels, such as atherosclerosis and congestive heart failure, can also impact kidney function. These conditions can affect blood flow through the kidneys, leading to damage or loss of function.
Symptoms of atherosclerosis don’t usually occur until an artery is severely narrowed or completely blocked. They can also depend on the type of artery affected. Some general symptoms include:
• chest pain (angina)
• shortness of breath
• abnormal heart beat (arrhythmia)
• feeling tired or weak
• Symptoms of congestive heart failure can include:
• feeling tired or fatigued
• swelling in the abdomen, legs, or feet

Urinary tract blockage
Your urinary tract can become blocked due to a variety of things, such as kidney stones, an enlarged prostate, or tumors. When this happens, urine may accumulate in the kidneys, leading to a condition called hydronephrosis.
Symptoms of a urinary tract blockage can develop quickly or slowly over time depending on the cause. Some signs to look out for in addition to a high creatinine level include:
• pain in your back or side
• frequent or painful urination
• blood in your urine
• feeling tired or fatigued

Kidney failure
Kidney failure refers to a decrease in kidney function and one of the most common causes of high creatinine. It can be either acute or chronic. The symptoms of acute kidney failure can come on quickly while those of chronic kidney failure develop over time.
Some symptoms of kidney failure to watch for include:
• fluid retention, particularly in your lower body
• feeling weak or fatigued
• headache
• confusion
• trouble sleeping
• muscle cramping
• feeling itchy
• shortness of breath
• chest pain

When to see a doctor
You should always call your doctor if you’re experiencing new, unexplained, or recurring symptoms, particularly if they’re consistent with conditions such as kidney disease, diabetes, or heart disease.
Your doctor will work with you to evaluate your symptoms and determine the treatment that’s right for you.
It’s important to remember that chest pain and acute kidney failure should always be taken seriously as it’s a creatine side effect . You should be sure to seek immediate medical attention if you’re experiencing either one.

What’s the outlook of high creatinine?
There are many potential causes of high creatinine levels. Additionally, the symptoms of high creatinine can vary depending on the cause which is due to creatine side effect.
In many cases, medications can help resolve high creatinine levels by treating the condition that’s causing the increase. Some examples include antibiotics for a kidney infection or medications that help control high blood pressure.
In cases of kidney failure, dialysis may be required in addition to medications to help filter toxins and waste products from your blood. In severe cases or end-stage cases, a kidney transplant may be required.

creatine and kidney

Symptoms and causes of low creatinine

The symptoms that go with low creatinine levels depend on the underlying condition. Low creatinine levels can be caused by:
A muscle disease, such as muscular dystrophy. Symptoms of a muscle disease include muscle weakness, muscle stiffness and pain, and decreased mobility.
A liver disease. Poor liver function interferes with creatine production, which can cause low creatinine. Symptoms include jaundice, abdominal pain and swelling, and pale, bloody, or tar-colored stools.
Excess water loss. Pregnancy, excess water intake, and certain medications can cause this.
Since the breakdown of muscle tissue produces creatinine, low levels of this chemical waste often occur in people with low muscle mass. However, this doesn’t always mean there’s a serious medical problem.
A reduction in muscle mass is common in older individuals, as most people lose muscle mass as they age. Low muscle mass can also result from malnutrition, or from eating a low-meat or low-protein diet.

Low vs. high creatinine levels
The causes of low creatinine differ from the causes of high creatinine. Creatinine levels also play a role in assessing kidney function. When creatinine begins to accumulate in the body, doctors have to run tests to check for kidney problems.
Possible causes of a higher creatinine level include:
• kidney damage or kidney failure
• kidney infection
• reduced blood flow to the kidneys
• dehydration

If you have high creatinine levels, symptoms may include:
• nausea
• vomiting
• fatigue
• changes in urination
• high blood pressure
• chest pains
• muscle cramps

how to use creatine

Creatinine test

A creatinine test is a measure of how well your kidneys are performing their job of filtering waste from your blood.Creatinine is a chemical compound left over from energy-producing processes in your muscles. Healthy kidneys filter creatinine out of the blood. Creatinine exits your body as a waste product in urine.A measurement of creatinine in your blood or urine provides clues to help your doctor determine how well the kidneys are working.

Why it's done
Your doctor or other health care provider may order a creatinine test for the following reasons:
• To make a diagnosis if you have signs or symptoms of kidney disease
• To screen for kidney disease if you have diabetes, high blood pressure or other conditions that increase the risk of kidney disease
• To monitor kidney disease treatment or progression
• To monitor the function of a transplanted kidney
• More Information
• Anaphylaxis
• Diabetic coma
• Multiple myeloma

How you prepare
A standard blood test is used to measure creatinine levels in your blood (serum creatinine). Your doctor may ask you not to eat (fast) overnight before the test.For a creatinine urine test, you may need to collect urine over 24 hours in containers provided by the clinic.For either test, you may need to avoid eating meat for a certain period before the test. If you take a creatine supplement, you'll likely need to stop use.
What you can expect
For a serum creatinine test, a member of your health care team takes a blood sample by inserting a needle into a vein in your arm.For a urine test, you’ll need to provide a single sample in the clinic or collect samples at home over 24 hours and return them to the clinic.

Results
Results from creatinine in blood or urine are measured and interpreted in many ways, including the following:

1 Serum creatinine level
Creatinine usually enters your bloodstream and is filtered from the bloodstream at a generally constant rate. The amount of creatinine in your blood should be relatively stable. An increased level of creatinine may be a sign of poor kidney function.Serum creatinine is reported as milligrams of creatinine to a deciliter of blood (mg/dL) or micromoles of creatinine to a liter of blood (micromoles/L). The typical range for serum creatinine is:
For adult men, 0.74 to 1.35 mg/dL (65.4 to 119.3 micromoles/L)
For adult women, 0.59 to 1.04 mg/dL (52.2 to 91.9 micromoles/L)

2 Glomerular filtration rate (GFR)
The measure of serum creatinine may also be used to estimate how quickly the kidneys filter blood (glomerular filtration rate). Because of variability in serum creatinine from one person to another, the GFR may provide a more accurate reading on kidney function.The formula for calculating GFR takes into account the serum creatinine count and other factors, such as age and sex. A GFR score below 60 suggests kidney disease. The range of scores below 60 may be used to monitor treatment and disease progression.

3 Creatinine clearance
Creatinine clearance is a measure of how well the kidneys filter creatinine out of the bloodstream for excretion in urine.Creatinine clearance is usually determined from a measurement of creatinine in a 24-hour urine sample and from a serum sample taken during the same time period. However, shorter time periods for urine samples may be used. Accurate timing and collection of the urine sample is important.Creatinine clearance is reported as milliliters of creatinine per minute per body surface area (mL/min/BSA). The typical range for men, 19 to 75 years old, is 77 to 160 mL/min/BSA.
The typical range, by age, for creatinine clearance in women is as follows:
• 18 to 29 years: 78 to 161 mL/min/BSA
• 30 to 39 years: 72 to 154 mL/min/BSA
• 50 to 59 years: 62 to 139 mL/min/BSA
• 60 to 72 years: 56- to 131 mL/min/BSA
Standard measures have not been determined for older adults.
Results lower than the typical range for your age group may be a sign of poor kidney function or conditions that affect blood flow to your kidneys.

4 Albumin/creatinine ratio
Another interpretation of urine creatinine count is called the albumin/creatinine ratio. Albumin is a protein in blood. Healthy kidneys generally don't filter it out of the blood, so there should be little to no albumin found in the urine.Albumin/creatinine ratio describes how much albumin is in a urine sample relative to how much creatinine there is. The results are reported as the number of milligrams (mg) of albumin for every gram (g) of creatinine. Results indicating a healthy kidney are:
For adult men, less than 17 mg/g
For adult women, less than 25 mg/g
A higher than typical result may be a sign of kidney disease. In particular, the result may indicate a complication of diabetes called diabetic nephropathy, or diabetic kidney disease.Your doctor or other health care provider will discuss the results of a creatinine test with you and help you understand what the information means for a diagnosis or treatment plan.

Related topics:

1. What is bronchitis and how it's treatable ?

Bronchitis and its remedies

2. How harmfull is diverticulitis ?

Diverticulitis symptoms and treatment

3. Know more about boosting immunity

How to boost immunity




The above essentials are available with AFD SHIELD.
AFD Shield capsule is a combination of 12 natural ingredients among which are Algal DHA, Ashwagandha, Curcumin and Spirullina. AFD Shield reduces TG, increases HDL and improves age related cognitive decline. It also reduces stress and anxiety and performs anti-aging activity.Moreover, it also enhances the immunomodulatory activity, improves immunity and reduces inflammation and oxidative stress. Nutralogicx: AFD SHIELD

क्रिएटिन का उपयोग कैसे करें

क्रिएटिन क्या है?

क्रिएटिन एक ऐसा पदार्थ है जो स्वाभाविक रूप से मांसपेशियों की कोशिकाओं में पाया जाता है। यह भारी भारोत्तोलन या उच्च-तीव्रता वाले व्यायाम के दौरान आपकी मांसपेशियों को ऊर्जा उत्पन्न करने में मदद करता है। मांसपेशियों को हासिल करने, ताकत बढ़ाने और व्यायाम प्रदर्शन में सुधार करने के लिए क्रिएटिन को पूरक के रूप में लेना एथलीटों और बॉडी बिल्डरों के बीच बहुत लोकप्रिय है।

रासायनिक रूप से बोलते हुए, यह अमीनो एसिड के साथ कई समानताएं साझा करता है। आपका शरीर इसे अमीनो एसिड ग्लाइसिन और आर्जिनिन से उत्पन्न कर सकता है। कई कारक आपके शरीर के क्रिएटिन स्टोर को प्रभावित करते हैं, जिसमें मांस का सेवन, व्यायाम, मांसपेशियों की मात्रा और टेस्टोस्टेरोन और IGF-1 जैसे हार्मोन के स्तर शामिल हैं। आपके शरीर के क्रिएटिन का लगभग 95% है मांसपेशियों में फॉस्फोस्रीटाइन के रूप में जमा होता है। शेष 5% आपके मस्तिष्क, गुर्दे और यकृत में पाया जाता है।

जब आप पूरक करते हैं, तो आप फॉस्फोस्रीटाइन के अपने भंडार को बढ़ाते हैं। यह कोशिकाओं में संग्रहीत ऊर्जा का एक रूप है, क्योंकि यह आपके शरीर को एटीपी नामक एक उच्च-ऊर्जा अणु का अधिक उत्पादन करने में मदद करता है। एटीपी को अक्सर शरीर की ऊर्जा मुद्रा कहा जाता है। जब आपके पास अधिक एटीपी होता है, तो आपका शरीर व्यायाम के दौरान बेहतर प्रदर्शन कर सकता है।

क्रिएटिन कई सेलुलर प्रक्रियाओं को भी बदल देता है जिससे मांसपेशियों में वृद्धि, ताकत और रिकवरी होती है। लेकिन अधिक मात्रा में लेने पर क्रिएटिन के दुष्प्रभाव हो सकते हैं।

यह कैसे काम करता है?

क्रिएटिन कई तरह से स्वास्थ्य और एथलेटिक प्रदर्शन में सुधार कर सकता है। उच्च-तीव्रता वाले व्यायाम में, इसकी प्राथमिक भूमिका आपकी मांसपेशियों में फॉस्फोस्रीटाइन स्टोर को बढ़ाना है।
फिर अतिरिक्त स्टोर का उपयोग अधिक एटीपी का उत्पादन करने के लिए किया जा सकता है, जो भारी भारोत्तोलन और उच्च-तीव्रता वाले व्यायाम के लिए प्रमुख ऊर्जा स्रोत है।
क्रिएटिन आपको निम्नलिखित तरीकों से मांसपेशियों को हासिल करने में भी मदद करता है:
• बढ़ा हुआ कार्यभार: एक ही प्रशिक्षण सत्र में अधिक कुल काम या मात्रा को सक्षम करता है, जो लंबी अवधि की मांसपेशियों की वृद्धि में एक महत्वपूर्ण कारक है।
• बेहतर सेल सिग्नलिंग: सैटेलाइट सेल सिग्नलिंग को बढ़ा सकता है, जो मांसपेशियों की मरम्मत और नई मांसपेशियों के विकास में सहायता करता है।
• बढ़ा हुआ एनाबॉलिक हार्मोन: अध्ययनों से पता चलता है कि क्रिएटिन लेने के बाद आईजीएफ-1 जैसे हार्मोन में वृद्धि होती है।
• बढ़ी हुई सेल हाइड्रेशन: आपकी मांसपेशियों की कोशिकाओं के भीतर पानी की मात्रा को बढ़ाता है, जो एक सेल वॉल्यूमाइज़ेशन प्रभाव का कारण बनता है जो मांसपेशियों की वृद्धि में भूमिका निभा सकता है।
• कम प्रोटीन टूटना: मांसपेशियों के टूटने को कम करके कुल मांसपेशियों को बढ़ा सकता है जो कि क्रिएटिन साइड इफेक्ट नहीं है।
• कम मायोस्टैटिन स्तर: प्रोटीन मायोस्टैटिन का ऊंचा स्तर नई मांसपेशियों की वृद्धि को धीमा या पूरी तरह से बाधित कर सकता है। क्रिएटिन के साथ पूरक इन स्तरों को कम कर सकता है, जिससे विकास क्षमता बढ़ जाती है।
क्रिएटिन की खुराक आपके मस्तिष्क में फॉस्फोस्रीटाइन स्टोर को भी बढ़ाती है, जो मस्तिष्क के स्वास्थ्य में सुधार कर सकती है और तंत्रिका संबंधी रोग को रोक सकती है।

विभिन्न प्रकार के क्रिएटिन

जैसे-जैसे क्रिएटिन लोकप्रियता में बढ़ा है, पूरक कंपनियों ने जैवउपलब्धता को अनुकूलित करने, पाचन संबंधी समस्याओं से निपटने और कार्यक्षमता में सुधार के लिए डिज़ाइन किए गए नए रासायनिक सूत्र विकसित किए हैं। यहां विभिन्न क्रिएटिन सप्लीमेंट्स का ब्रेकडाउन है।

Creatine Monohydrate
पूरक creatine द सबसे आम और लागत प्रभावी तरह creatine monohydrate, एक पानी के अणु के बंध के creatine द्वारा बनाई गई है। इसे डिफ़ॉल्ट विकल्प माना जाता है, ओजी यह क्रिएटिन का सबसे व्यापक और अच्छी तरह से शोध किया गया प्रकार भी है, जर्नल ऑफ द इंटरनेशनल सोसाइटी ऑफ स्पोर्ट्स न्यूट्रिशन में क्रिएटिन की सुरक्षा और प्रभावकारिता की हालिया समीक्षा के साथ क्रिएटिन मोनोहाइड्रेट को अधिक शारीरिक होने के रूप में घोषित किया गया है। अन्य रूपों की तुलना में क्रिएटिन के इंट्रामस्क्युलर स्तर पर प्रभाव। इस फॉर्म का कुछ क्रिएटिन साइड इफेक्ट है
क्रिएटिन एथिल एस्टर इस रूप में, क्रिएटिन एस्टर लवण से बंधा होता है, जिसे क्रिएटिन को अधिक जैवउपलब्ध बनाने के लिए माना जाता है। 2009 के एक अध्ययन ने क्रिएटिन एथिल एस्टर सप्लीमेंट की तुलना क्रिएटिन मोनोहाइड्रेट सप्लीमेंट और 47 दिनों की अवधि में एक प्लेसबो से की। परिणाम? क्रिएटिन एथिल एस्टर ने मांसपेशियों की ताकत या प्रदर्शन में वृद्धि के लिए कोई अतिरिक्त लाभ नहीं दिया। क्रिएटिन

हाइड्रोक्लोराइड
यह किस्म क्रिएटिन को हाइड्रोक्लोराइड अणुओं के कुछ हिस्सों से बांधकर बनाई जाती है (तकनीकी रूप से, क्रिएटिन अणु एक हाइड्रोक्लोराइड "आंशिकता" से बंधा होता है)। एक उल्लेखनीय प्रभाव यह है कि यह पीएच को कम करता है, जिससे क्रिएटिन अधिक अम्लीय हो जाता है।
"एचसीएल" पानी में अधिक घुलनशील है, लेकिन कुछ का मानना ​​है कि यह शरीर में अधिक कुशलता से अवशोषित भी करता है। यही कारण है कि मोनोहाइड्रेट के लिए मानक पांच ग्राम के विपरीत, अधिकांश क्रिएटिन एचसीएल उत्पादों में एक ग्राम से कम का सेवारत आकार होता है। कुछ लोगों को क्रिएटिन मोनोहाइड्रेट से पेट में ऐंठन हो जाती है, और वास्तविक रूप से, क्रिएटिन हाइड्रोक्लोराइड का वह प्रभाव अक्सर नहीं होता है। अधिक मात्रा में इसका क्रिएटिन दुष्प्रभाव होता है।

बफर्ड
क्रिएटिनव यह नियमित क्रिएटिन मोनोहाइड्रेट की तुलना में उच्च पीएच वाला क्रिएटिन है, जो अधिक क्षारीय या मूल उत्पाद बनाता है। आमतौर पर, यह Kre-Alkalyn® को संदर्भित करता है, लेकिन Crea-Trona® नामक एक प्रतियोगी सोडियम कार्बोनेट और सोडियम बाइकार्बोनेट के साथ बफर होता है, जो क्षारीयता को और बढ़ा सकता है।
बफ़र्ड क्रिएटिन को कभी-कभी अधिक प्रभावी के रूप में प्रचारित किया जाता है और इसके परिणामस्वरूप कम क्रिएटिन क्रिएटिनिन में टूट जाता है, एक कम उपयोगी उपोत्पाद। हालांकि, मोनोहाइड्रेट के साथ इसकी तुलना करने वाले एकमात्र बड़े अध्ययन ने प्रदर्शन या मांसपेशी क्रिएटिन सामग्री में कोई अंतर नहीं दिखाया। अध्ययन में दोनों के बीच क्रिएटिनिन में काफी समान वृद्धि पाई गई। उस ने कहा, क्रिएटिन हाइड्रोक्लोराइड की तरह बफर क्रिएटिन, मोनोहाइड्रेट के साथ ऐंठन का अनुभव करने वाले एथलीटों के लिए पेट पर आसान हो सकता है।

तरल क्रिएटिन
जैसा कि नाम से पता चलता है, क्रिएटिन पाउडर के बजाय एक तरल, रेडी-टू-ड्रिंक फॉर्मूला में पैक किया जाता है। इसे अधिक सुविधाजनक और संभावित रूप से शरीर में अधिक आसानी से अवशोषित होने के रूप में विपणन किया जाता है। फिर भी, उपलब्ध दो सप्लीमेंट्स की तुलना करने वाले सीमित शोध से पता चलता है कि यह वास्तव में क्रिएटिन मोनोहाइड्रेट से कम प्रभावी हो सकता है। क्रिएटिन

मैग्नीशियम चेलेट
यह क्रिएटिन है जो मैग्नीशियम से बंधा हुआ है। लोगों को यह दावा करना मुश्किल नहीं है कि यह मोनोहाइड्रेट की तुलना में अधिक प्रभावी ढंग से अवशोषित करता है, लेकिन हाइड्रोक्लोराइड और इस सूची में बाकी सभी चीजों की तरह, इस पर बहुत कम अध्ययन किए गए हैं। उपलब्ध अध्ययन विशेष रूप से आशाजनक नहीं हैं

muscle growth and creatine

क्रिएटिनिन के उपयोग:-

1. मांसपेशियों की कोशिकाओं को अधिक ऊर्जा उत्पन्न करने में मदद करता है
क्रिएटिन की खुराक आपकी मांसपेशियों के फॉस्फोस्रीटाइन स्टोर को बढ़ाती है। फॉस्फोक्रिएटिन एडेनोसाइन ट्राइफॉस्फेट (एटीपी) के निर्माण में सहायता करता है, जो आपके कोशिकाओं द्वारा ऊर्जा और सभी बुनियादी जीवन कार्यों के लिए उपयोग किया जाने वाला प्रमुख अणु है।
व्यायाम के दौरान, ऊर्जा उत्पन्न करने के लिए एटीपी टूट जाता है। एटीपी पुनर्संश्लेषण की दर अधिकतम तीव्रता पर लगातार प्रदर्शन करने की आपकी क्षमता को सीमित करती है, क्योंकि आप एटीपी को पुन: उत्पन्न करने की तुलना में तेजी से उपयोग करते हैं।
क्रिएटिन की खुराक आपके फॉस्फोस्रीटाइन स्टोर को बढ़ाती है, जिससे आप उच्च-तीव्रता वाले व्यायाम के दौरान अपनी मांसपेशियों को ईंधन देने के लिए अधिक एटीपी ऊर्जा का उत्पादन कर सकते हैं। क्रिएटिन के प्रदर्शन-बढ़ाने वाले प्रभावों के पीछे यह प्राथमिक तंत्र है।

2. मांसपेशियों में कई अन्य कार्यों का समर्थन करता है
मांसपेशियों को जोड़ने के लिए क्रिएटिन एक लोकप्रिय और प्रभावी पूरक है। यह कई सेलुलर मार्गों को बदल सकता है जिससे नई मांसपेशियों की वृद्धि हो सकती है। उदाहरण के लिए, यह प्रोटीन के निर्माण को बढ़ावा देता है जो नए मांसपेशी फाइबर बनाते हैं।
यह इंसुलिन जैसे विकास कारक 1 (IGF-1) के स्तर को भी बढ़ा सकता है, एक हार्मोन जो मांसपेशियों में वृद्धि को बढ़ावा देता है। और भी, क्रिएटिन की खुराक आपकी मांसपेशियों की जल सामग्री को बढ़ा सकती है। इसे सेल वॉल्यूमाइज़ेशन के रूप में जाना जाता है और यह मांसपेशियों के आकार को तेज़ी से बढ़ा सकता है। अतिरिक्त क्रिएटिन साइड इफेक्ट हो सकता है।
इसके अतिरिक्त, कुछ शोध इंगित करते हैं कि क्रिएटिन मायोस्टैटिन के स्तर को कम करता है, एक अणु जो मांसपेशियों की वृद्धि को अवरुद्ध करने के लिए जिम्मेदार है। मायोस्टैटिन को कम करने से आपको तेजी से मांसपेशियों का निर्माण करने में मदद मिल सकती है।

3. उच्च-तीव्रता वाले व्यायाम प्रदर्शन में सुधार करता है
एटीपी उत्पादन में क्रिएटिन की प्रत्यक्ष भूमिका का अर्थ है कि यह उच्च-तीव्रता वाले व्यायाम प्रदर्शन में काफी सुधार कर सकता है। क्रिएटिन कई कारकों में सुधार करता है, जिनमें शामिल हैं:
• शक्ति
• बैलिस्टिक शक्ति
• स्प्रिंट क्षमता
• मांसपेशियों की सहनशक्ति
• थकान का प्रतिरोध
• मांसपेशी द्रव्यमान
• वसूली
• मस्तिष्क प्रदर्शन
पूरक के विपरीत जो कि केवल उन्नत एथलीटों, क्रिएटिन लाभ आप अपने फिटनेस स्तर .ONE समीक्षा की परवाह किए बिना चला कि यह अप करने के लिए 15% की उच्च तीव्रता व्यायाम प्रदर्शन में सुधार को प्रभावित

4. गति मांसपेशियों की वृद्धि
मांसपेशियों को जोड़ने के लिए क्रिएटिन दुनिया का सबसे प्रभावी पूरक है। इसे कम से कम 5-7 दिनों तक लेने से दुबले शरीर के वजन और मांसपेशियों के आकार में उल्लेखनीय वृद्धि हुई है। यह प्रारंभिक वृद्धि आपकी मांसपेशियों में पानी की मात्रा में वृद्धि के कारण होती है।
लंबी अवधि में, यह प्रमुख जैविक मार्गों को संकेत देकर और जिम के प्रदर्शन को बढ़ाकर मांसपेशियों के फाइबर के विकास में भी सहायता करता है 6-सप्ताह के प्रशिक्षण आहार के एक अध्ययन में, क्रिएटिन का उपयोग करने वाले प्रतिभागियों ने औसतन 4.4 पाउंड (2 किग्रा) अधिक मांसपेशियों को जोड़ा, नियंत्रण समूह की तुलना में। इसी तरह, एक व्यापक समीक्षा ने क्रिएटिन लेने वालों के बीच मांसपेशियों में स्पष्ट वृद्धि का प्रदर्शन किया, क्रिएटिन के बिना एक ही प्रशिक्षण आहार करने वालों की तुलना में
इस समीक्षा ने दुनिया के सबसे लोकप्रिय स्पोर्ट्स सप्लीमेंट्स की तुलना की और निष्कर्ष निकाला कि क्रिएटिन सबसे अच्छा उपलब्ध है। इसके लाभों में अन्य खेल पूरकों की तुलना में कम खर्चीला और अधिक सुरक्षित होना शामिल है

5. पार्किंसंस रोग में मदद कर सकता है पार्किंसंस रोग
आपके मस्तिष्क में एक प्रमुख न्यूरोट्रांसमीटर, डोपामाइन के कम स्तर की विशेषता है। डोपामाइन के स्तर में बड़ी कमी मस्तिष्क कोशिका मृत्यु का कारण बनती है और कई गंभीर लक्षण, जिसमें कंपकंपी, मांसपेशियों के कार्य में कमी और भाषण हानि शामिल हैं।
क्रिएटिन को पार्किंसंस के साथ चूहों में लाभकारी प्रभावों से जोड़ा गया है, जिससे डोपामाइन के स्तर में 90% की गिरावट को रोका जा सकता है। हालांकि, इस बात का कोई सबूत नहीं है कि इसका मनुष्यों में समान प्रभाव है। मांसपेशियों के कार्य और ताकत के नुकसान का इलाज करने के प्रयास में, पार्किंसंस के अक्सर वजन वाले लोग।
इस बीमारी वाले व्यक्तियों में एक अध्ययन में, वजन प्रशिक्षण के साथ क्रिएटिन के संयोजन से अकेले प्रशिक्षण की तुलना में काफी हद तक ताकत और दैनिक कार्य में सुधार हुआ। हालांकि, पार्किंसंस वाले लोगों में पांच नियंत्रित अध्ययनों के हालिया विश्लेषण में उल्लेख किया गया है कि प्रति दिन 4-10 ग्राम क्रिएटिन लेना day ने दैनिक गतिविधियों को करने की उनकी क्षमता में उल्लेखनीय सुधार नहीं किया।

6. अन्य स्नायविक रोगों से लड़ सकता है
कई न्यूरोलॉजिकल रोगों में एक प्रमुख कारक आपके मस्तिष्क में फॉस्फोस्रीटाइन की कमी है। चूंकि क्रिएटिन इन स्तरों को बढ़ा सकता है, यह रोग की प्रगति को कम करने या धीमा करने में मदद कर सकता है। हंटिंगटन की बीमारी वाले चूहों में, क्रिएटिन ने मस्तिष्क के फॉस्फोस्रीटाइन स्टोर को पूर्व-पूर्व के 72% तक बहाल कर दिया था। नियंत्रण चूहों के लिए केवल 26% की तुलना में रोग का स्तर।
फॉस्फोक्रिएटिन की इस बहाली ने दैनिक कार्य को बनाए रखने और कोशिका मृत्यु को लगभग 25% कम करने में मदद की। जानवरों में शोध से पता चलता है कि क्रिएटिन की खुराक लेने से अन्य बीमारियों का भी इलाज हो सकता है, जिसमें शामिल हैं
• अल्जाइमर रोग
• इस्केमिक स्ट्रोक
• मिर्गी
• मस्तिष्क या रीढ़ की हड्डी की चोट
क्रिएटिन ने एमियोट्रोफिक लेटरल स्क्लेरोसिस (एएलएस) के खिलाफ भी लाभ दिखाया है, एक ऐसी बीमारी जो गति के लिए आवश्यक मोटर न्यूरॉन्स को प्रभावित करती है। इसने मोटर कार्य में सुधार किया, मांसपेशियों की हानि को कम किया, और जीवित रहने की दर को 17% तक बढ़ाया। हालांकि मनुष्यों में अधिक अध्ययन की आवश्यकता है, कुछ शोधकर्ताओं का मानना ​​​​है कि पारंपरिक दवाओं के साथ उपयोग किए जाने पर क्रिएटिन की खुराक न्यूरोलॉजिकल रोगों से बचाव का काम कर सकती है।

7. रक्त शर्करा के स्तर को कम कर सकता है और मधुमेह से लड़ सकता है
शोध से पता चलता है कि क्रिएटिन की खुराक ग्लूकोज ट्रांसपोर्टर टाइप 4 (GLUT-4) के कार्य को बढ़ाकर रक्त शर्करा के स्तर को कम कर सकती है, एक अणु जो आपकी मांसपेशियों में रक्त शर्करा लाता है। एक 12-सप्ताह के अध्ययन ने जांच की कि क्रिएटिन एक उच्च के बाद रक्त शर्करा के स्तर को कैसे प्रभावित करता है। कार्ब भोजन। जो लोग क्रिएटिन और व्यायाम को मिलाते हैं, उन्होंने केवल व्यायाम करने वालों की तुलना में बेहतर रक्त शर्करा नियंत्रण का प्रदर्शन किया।
भोजन के लिए अल्पकालिक रक्त शर्करा प्रतिक्रिया मधुमेह के जोखिम का एक महत्वपूर्ण मार्कर है। आपका शरीर जितनी तेजी से रक्त से चीनी को साफ करता है, उतना ही बेहतर। हालांकि ये लाभ आशाजनक हैं, रक्त शर्करा नियंत्रण और मधुमेह पर क्रिएटिन के दीर्घकालिक प्रभावों पर अधिक मानव शोध की आवश्यकता है।

8. मस्तिष्क समारोह में सुधार कर सकते हैं
मस्तिष्क के स्वास्थ्य और कार्य में क्रिएटिन एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। अनुसंधान दर्शाता है कि कठिन कार्यों को करते समय आपके मस्तिष्क को एटीपी की एक महत्वपूर्ण मात्रा की आवश्यकता होती है। पूरक आपके मस्तिष्क में फॉस्फोस्रीटाइन स्टोर को बढ़ा सकते हैं ताकि यह अधिक एटीपी का उत्पादन कर सके। क्रिएटिन डोपामाइन के स्तर और माइटोकॉन्ड्रियल फ़ंक्शन को बढ़ाकर मस्तिष्क के कार्य में भी सहायता कर सकता है।
चूंकि मांस क्रिएटिन का सबसे अच्छा आहार स्रोत है, इसलिए शाकाहारियों में अक्सर निम्न स्तर होते हैं। शाकाहारियों में क्रिएटिन की खुराक पर एक अध्ययन में कुछ स्मृति और बुद्धि परीक्षण स्कोर में 20-50% सुधार पाया गया। वृद्ध व्यक्तियों के लिए, 2 सप्ताह के लिए क्रिएटिन के साथ पूरक स्मृति और याद करने की क्षमता में काफी सुधार हुआ।
वृद्ध वयस्कों में, क्रिएटिन मस्तिष्क के कार्य को बढ़ावा दे सकता है, तंत्रिका संबंधी रोगों से रक्षा कर सकता है, और उम्र से संबंधित मांसपेशियों और ताकत के नुकसान को कम कर सकता है। ऐसे सकारात्मक निष्कर्षों के बावजूद, युवा, स्वस्थ व्यक्तियों में अधिक शोध की आवश्यकता है जो नियमित रूप से मांस या मछली खाते हैं।

9. थकान और थकान को
कम कर सकता है क्रिएटिन की खुराक भी थकान और थकान को कम कर सकती है। दर्दनाक मस्तिष्क की चोट वाले लोगों में 6 महीने के एक अध्ययन में, क्रिएटिन के साथ पूरक लोगों ने चक्कर आना में 50% की कमी का अनुभव किया, जो पूरक नहीं थे।
इसके अलावा, पूरक समूह में केवल 10% रोगियों ने थकान का अनुभव किया, जबकि नियंत्रण समूह में 80% की तुलना में। एक अन्य अध्ययन ने निर्धारित किया कि नींद की कमी के दौरान क्रिएटिन ने थकान को कम किया और ऊर्जा के स्तर में वृद्धि की। क्रिएटिन ने साइकिल चलाने वाले एथलीटों में थकान को भी कम किया। और उच्च गर्मी में व्यायाम करते समय थकान को कम करने के लिए इस्तेमाल किया गया है।

10. सुरक्षित और उपयोग में आसा
क्रिएटिन के विविध लाभों के साथ, यह उपलब्ध सबसे सस्ते और सुरक्षित सप्लीमेंट्स में से एक है। आप ऑनलाइन एक विस्तृत चयन पा सकते हैं। इस पर 200 से अधिक वर्षों से शोध किया गया है, और कई अध्ययन दीर्घकालिक उपयोग के लिए इसकी सुरक्षा का समर्थन करते हैं। 5 साल तक चलने वाले क्लिनिकल परीक्षण स्वस्थ व्यक्तियों में कोई प्रतिकूल प्रभाव नहीं दिखाते हैं।
इसके अलावा, पूरक करना बहुत आसान है - प्रति दिन केवल 3-5 ग्राम क्रिएटिन मोनोहाइड्रेट पाउडर लें।

creatine structure

लक्षण जो उच्च क्रिएटिनिन के साथ हो सकते हैं

उच्च क्रिएटिनिन के लक्षण उस स्थिति पर निर्भर कर सकते हैं जो इसे पैदा कर रहा है। इससे क्रिएटिन साइड इफेक्ट होता है।

दवा विषाक्तता (दवा से प्रेरित नेफ्रोटॉक्सिसिटी)
कुछ दवाएं गुर्दे को नुकसान पहुंचा सकती हैं और उनकी कार्य करने की क्षमता को कम कर सकती हैं। ऐसी दवाओं के उदाहरण हैं:
• एंटीबायोटिक्स, जैसे अमीनोग्लाइकोसाइड्स, रिफैम्पिन, और वैनकोमाइसिन
• हृदय संबंधी दवाएं, जैसे एसीई इनहिबिटर और स्टैटिन
• मूत्रवर्धक
• लिथियम
• प्रोटॉन पंप अवरोधक

लक्षण जो उच्च क्रिएटिनिन के साथ जाते हैं और तेजी से विकसित हो सकते हैं शामिल हैं:
• द्रव प्रतिधारण, विशेष रूप से आपके निचले शरीर में
• मूत्र की कम मात्रा में गुजरना
• भ्रम
• सांस की तकलीफ
• सीने में दर्द

गुर्दे का संक्रमण (पायलोनेफ्राइटिस)
गुर्दे का संक्रमण एक प्रकार का मूत्र पथ का संक्रमण (UTI) है। यह तब हो सकता है जब बैक्टीरिया या वायरस गुर्दे में जाने से पहले आपके मूत्र पथ के अन्य हिस्सों को संक्रमित कर देते हैं।
यदि अनुपचारित छोड़ दिया जाता है, तो गुर्दा संक्रमण आपके गुर्दे और यहां तक ​​कि गुर्दे की विफलता को भी नुकसान पहुंचा सकता है। कुछ गुर्दा संक्रमण के लक्षणों में शामिल हैं:
• आपकी पीठ, बाजू या कमर में स्थानीय दर्द
• पेशाब जो बार-बार या दर्द होता है
• मूत्र जो काला, बादल या खूनी दिखाई देता है
• बदबूदार पेशाब
• ठंड लगना
• मतली या उल्टी

ग्लोमेरुलोनेफ्राइटिस
ग्लोमेरुलोनेफ्राइटिस तब होता है जब आपके गुर्दे के हिस्से जो आपके रक्त को फिल्टर करते हैं सूजन हो जाते हैं। तो यह एक क्रिएटिन साइड इफेक्ट है, कुछ संभावित कारणों में संक्रमण या ऑटोइम्यून रोग जैसे ल्यूपस और गुडपैचर सिंड्रोम शामिल हैं।
ग्लोमेरुलोनेफ्राइटिस से गुर्दा खराब हो सकता है और क्षति के साथ-साथ गुर्दे की विफलता भी हो सकती है। इस स्थिति के लक्षणों में शामिल हैं:
• उच्च रक्तचाप
• मूत्र में रक्त, जिससे यह गुलाबी या भूरा दिखाई दे सकता है
• मूत्र जो प्रोटीन के उच्च स्तर के कारण झागदार दिखाई देता है
• चेहरे, हाथों और पैरों में द्रव प्रतिधारण

मधुमेह
मधुमेह एक ऐसी स्थिति है जिसमें आपका रक्त शर्करा बहुत अधिक होता है। उच्च रक्त शर्करा के स्तर से कई प्रकार की स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं, जिनमें से एक है किडनी की बीमारी।
मधुमेह दो प्रकार के होते हैं - टाइप 1 और टाइप 2। टाइप 1 मधुमेह के लक्षण जल्दी विकसित हो सकते हैं जबकि टाइप 2 के लक्षण अक्सर धीरे-धीरे विकसित होते हैं। मधुमेह के सामान्य लक्षणों में शामिल हैं:
• बहुत प्यास लगना
• बार-बार पेशाब आना
• थकान महसूस करना
• हाथ और पैरों में सुन्नता या झुनझुनी महसूस होना

उच्च रक्तचाप
उच्च रक्तचाप तब होता है जब आपकी धमनियों की दीवारों पर रक्त का दबाव बहुत अधिक होता है। यह गुर्दे के चारों ओर रक्त वाहिकाओं को नुकसान पहुंचा सकता है या कमजोर कर सकता है, गुर्दे के कार्य को प्रभावित कर सकता है और उच्च क्रिएटिनिन पैदा कर सकता है। जो एक क्रिएटिन साइड इफेक्ट भी है।
चूंकि उच्च रक्तचाप के अक्सर कोई लक्षण नहीं होते हैं, बहुत से लोग नहीं जानते कि उन्हें यह है। यह अक्सर एक नियमित स्वास्थ्य जांच के दौरान पता चला है।

हृदय रोग
हृदय और रक्त वाहिकाओं को प्रभावित करने वाली स्थितियां, जैसे एथेरोस्क्लेरोसिस और कंजेस्टिव दिल की विफलता, गुर्दे के कार्य को भी प्रभावित कर सकती हैं। ये स्थितियां गुर्दे के माध्यम से रक्त के प्रवाह को प्रभावित कर सकती हैं, जिससे क्षति या कार्य का नुकसान हो सकता है।
एथेरोस्क्लेरोसिस के लक्षण आमतौर पर तब तक नहीं होते जब तक कि धमनी गंभीर रूप से संकुचित या पूरी तरह से अवरुद्ध न हो जाए। वे प्रभावित धमनी के प्रकार पर भी निर्भर कर सकते हैं। कुछ सामान्य लक्षणों में शामिल हैं:
• सीने में दर्द (एनजाइना)
• सांस की तकलीफ
• असामान्य दिल की धड़कन (अतालता)
• कंजेस्टिव दिल की विफलता के लक्षणों में शामिल हो सकते हैं:
• थकान या थकान महसूस करना
• पेट, पैरों में सूजन, या पैर

यूरिनरी ट्रैक्ट ब्लॉकेज
आपका यूरिनरी ट्रैक्ट कई तरह की चीजों के कारण ब्लॉक हो सकता है, जैसे किडनी स्टोन, बढ़ा हुआ प्रोस्टेट या ट्यूमर। जब ऐसा होता है, तो मूत्र गुर्दे में जमा हो सकता है, जिससे हाइड्रोनफ्रोसिस नामक स्थिति हो सकती है।
यूरिनरी ट्रैक्ट ब्लॉकेज के लक्षण कारण के आधार पर समय के साथ जल्दी या धीरे-धीरे विकसित हो सकते हैं। उच्च क्रिएटिनिन स्तर के अतिरिक्त ध्यान देने योग्य कुछ संकेतों में शामिल हैं:
• आपकी पीठ या बाजू में दर्द
• बार-बार या दर्दनाक पेशाब
• थका हुआ या थका हुआ महसूस करना

गुर्दे की विफलता
गुर्दे की विफलता गुर्दे के कार्य में कमी को संदर्भित करती है और एक उच्च क्रिएटिनिन के सबसे सामान्य कारणों में से। यह या तो तीव्र या पुराना हो सकता है। तीव्र गुर्दे की विफलता के लक्षण जल्दी से आ सकते हैं जबकि पुरानी गुर्दे की विफलता के लक्षण समय के साथ विकसित होते हैं।
गुर्दे की विफलता के कुछ लक्षणों में शामिल हैं:
• द्रव प्रतिधारण, विशेष रूप से आपके निचले शरीर में
• कमजोर या थका हुआ महसूस करना
• सिरदर्द
• सोने में परेशानी
• मांसपेशियों में ऐंठन
• खुजली महसूस करना
• सांस लेने में तकलीफ

डॉक्टर को कब दिखाना है
अगर आपको नए, अस्पष्ट, या बार-बार होने वाले लक्षण दिखाई दे रहे हैं, खासकर अगर वे लगातार हो रहे हैं तो आपको हमेशा अपने डॉक्टर को फोन करना चाहिए गुर्दे की बीमारी, मधुमेह, या हृदय रोग जैसी स्थितियों के साथ।
आपका डॉक्टर आपके लक्षणों का मूल्यांकन करने और आपके लिए सही उपचार निर्धारित करने के लिए आपके साथ काम करेगा।
यह याद रखना महत्वपूर्ण है कि सीने में दर्द और तीव्र गुर्दे की विफलता को हमेशा गंभीरता से लिया जाना चाहिए क्योंकि यह एक क्रिएटिन साइड इफेक्ट है। यदि आप किसी एक का अनुभव कर रहे हैं तो आपको तत्काल चिकित्सा सहायता लेनी चाहिए।

उच्च क्रिएटिनिन का दृष्टिकोण क्या है?
उच्च क्रिएटिनिन के स्तर के कई संभावित कारण हैं। इसके अतिरिक्त, उच्च क्रिएटिनिन के लक्षण उस कारण के आधार पर भिन्न हो सकते हैं जो क्रिएटिन साइड इफेक्ट के कारण होता है।
कई मामलों में, दवाएं उस स्थिति का इलाज करके उच्च क्रिएटिनिन के स्तर को हल करने में मदद कर सकती हैं जो वृद्धि का कारण बन रही है। कुछ उदाहरणों में गुर्दे के संक्रमण के लिए एंटीबायोटिक्स या उच्च रक्तचाप को नियंत्रित करने में मदद करने वाली दवाएं शामिल हैं।
गुर्दे की विफलता के मामलों में, आपके रक्त से विषाक्त पदार्थों और अपशिष्ट उत्पादों को फ़िल्टर करने में मदद करने के लिए दवाओं के अलावा डायलिसिस की आवश्यकता हो सकती है। गंभीर मामलों या अंतिम चरण के मामलों में, गुर्दा प्रत्यारोपण की आवश्यकता हो सकती है।

creatine and kidney

कम क्रिएटिनिन के लक्षण और कारण

कम क्रिएटिनिन के स्तर के साथ जाने वाले लक्षण अंतर्निहित स्थिति पर निर्भर करते हैं। निम्न क्रिएटिनिन का स्तर निम्न के कारण हो सकता है:
मांसपेशियों की बीमारी, जैसे मस्कुलर डिस्ट्रॉफी। मांसपेशियों की बीमारी के लक्षणों में मांसपेशियों में कमजोरी, मांसपेशियों में अकड़न और दर्द और गतिशीलता में कमी शामिल हैं।
एक जिगर की बीमारी। खराब लीवर क्रिएटिन उत्पादन में हस्तक्षेप करता है, जिससे क्रिएटिनिन कम हो सकता है। लक्षणों में पीलिया, पेट में दर्द और सूजन, और पीला, खूनी, या टार रंग का मल शामिल है।
पानी की अधिक हानि। गर्भावस्था, अधिक पानी का सेवन और कुछ दवाएं इसका कारण बन सकती हैं।
चूंशियों के ऊतकों के टूटने से क्रिएटिनिन पैदा होता है, इस रासायनिक कचरे का निम्न स्तर अक्सर कम मांसपेशियों वाले लोगों में होता है। हालांकि, इसका हमेशा यह मतलब नहीं होता है कि कोई गंभीर चिकित्सा समस्या है।
वृद्ध व्यक्तियों में मांसपेशियों में कमी आम है, क्योंकि ज्यादातर लोग उम्र के साथ मांसपेशियों को खो देते हैं। कम मांसपेशी द्रव्यमान कुपोषण, या कम मांस या कम प्रोटीन आहार खाने से भी हो सकता है।

निम्न बनाम उच्च क्रिएटिनिन स्तर
निम्न क्रिएटिनिन के कारण उच्च क्रिएटिनिन के कारणों से भिन्न होते हैं। गुर्दे के कार्य का आकलन करने में क्रिएटिनिन का स्तर भी भूमिका निभाता है। जब शरीर में क्रिएटिनिन जमा होने लगता है, तो किडनी की समस्याओं की जांच के लिए डॉक्टरों को परीक्षण करने पड़ते हैं।
उच्च क्रिएटिनिन स्तर के संभावित कारणों में शामिल हैं:
• गुर्दे की क्षति या गुर्दे की विफलता
• गुर्दा संक्रमण
• गुर्दे में रक्त के प्रवाह में कमी
• निर्जलीकरण

यदि आपके पास उच्च क्रिएटिनिन का स्तर है, तो लक्षणों में शामिल हो सकते हैं:
• मतली
• उल्टी
• थकान
• पेशाब में परिवर्तन
• सीने में दर्द
• मांसपेशियों में ऐंठन

how to use creatine

क्रिएटिनिन टेस्ट

एक क्रिएटिनिन परीक्षण एक उपाय है कि आपके गुर्दे आपके रक्त से अपशिष्ट को छानने का अपना काम कितनी अच्छी तरह कर रहे हैं। क्रिएटिनिन आपकी मांसपेशियों में ऊर्जा-उत्पादक प्रक्रियाओं से बचा हुआ एक रासायनिक यौगिक है। स्वस्थ गुर्दे रक्त से क्रिएटिनिन को फ़िल्टर करते हैं। क्रिएटिनिन मूत्र में अपशिष्ट उत्पाद के रूप में आपके शरीर से बाहर निकलता है। आपके रक्त या मूत्र में क्रिएटिनिन का मापन आपके डॉक्टर को यह निर्धारित करने में मदद करने के लिए सुराग प्रदान करता है कि गुर्दे कितनी अच्छी तरह काम कर रहे हैं।

ऐसा क्यों किया गया है
आपका डॉक्टर या अन्य स्वास्थ्य देखभाल प्रदाता निम्नलिखित कारणों से एक क्रिएटिनिन परीक्षण का आदेश दे सकता है:
• यदि आपके पास गुर्दे की बीमारी के लक्षण या लक्षण हैं तो निदान करने के लिए
• यदि आपको मधुमेह, उच्च रक्तचाप या अन्य गुर्दे की बीमारी है तो जांच करने के लिए ऐसी स्थितियां जो गुर्दे की बीमारी के जोखिम को बढ़ाती हैं
• गुर्दे की बीमारी के उपचार या प्रगति की
निगरानी के लिए
• प्रत्यारोपित गुर्दे के कार्य की निगरानी के लिए
• अधिक जानकारी
• मधुमेह कोमा

आप कैसे तैयार करते हैं
आपके रक्त में क्रिएटिनिन के स्तर को मापने के लिए एक मानक रक्त परीक्षण का उपयोग किया जाता है (सीरम क्रिएटिनिन)। आपका डॉक्टर आपको परीक्षण से पहले रात भर (तेज) नहीं खाने के लिए कह सकता है। क्रिएटिनिन मूत्र परीक्षण के लिए, आपको क्लिनिक द्वारा प्रदान किए गए कंटेनरों में 24 घंटे से अधिक समय तक मूत्र एकत्र करने की आवश्यकता हो सकती है। किसी भी परीक्षण के लिए, आपको मांस खाने से बचने की आवश्यकता हो सकती है परीक्षण से पहले एक निश्चित अवधि। यदि आप एक क्रिएटिन पूरक लेते हैं, तो आपको संभवतः उपयोग बंद करने की आवश्यकता होगी।
आप क्या उम्मीद कर सकते हैं
सीरम क्रिएटिनिन परीक्षण के लिए, आपकी स्वास्थ्य देखभाल टीम का एक सदस्य आपकी बांह में एक नस में सुई डालकर रक्त का नमूना लेता है। मूत्र परीक्षण के लिए, आपको क्लिनिक में एक नमूना प्रदान करना होगा या घर पर नमूने एकत्र करने होंगे। 24 घंटे से अधिक और उन्हें क्लिनिक में वापस कर दें।

परिणाम
रक्त या मूत्र में क्रिएटिनिन के परिणामों को निम्नलिखित सहित कई तरीकों से मापा और व्याख्या किया जाता है:

1 सीरम क्रिएटिनिन स्तर
क्रिएटिनिन आमतौर पर आपके रक्तप्रवाह में प्रवेश करता है और सामान्य रूप से स्थिर दर पर रक्तप्रवाह से फ़िल्टर किया जाता है। आपके रक्त में क्रिएटिनिन की मात्रा अपेक्षाकृत स्थिर होनी चाहिए। क्रिएटिनिन का बढ़ा हुआ स्तर खराब किडनी फंक्शन का संकेत हो सकता है। सीरम क्रिएटिनिन को क्रिएटिनिन के मिलीग्राम के रूप में रक्त के एक डेसीलीटर (मिलीग्राम / डीएल) या क्रिएटिनिन के माइक्रोमोल्स को एक लीटर रक्त (माइक्रोमोल्स / एल) के रूप में सूचित किया जाता है। सीरम क्रिएटिनिन के लिए विशिष्ट श्रेणी है:
वयस्क पुरुषों के लिए, 0.74 से 1.35 मिलीग्राम / डीएल (65.4 से 119.3 माइक्रोमोल / एल)
वयस्क महिलाओं के लिए, 0.59 से 1.04 मिलीग्राम / डीएल (52.2 से 91.9 माइक्रोमोल / एल)

2 ग्लोमेरुलर निस्पंदन दर (जीएफआर) )
सीरम क्रिएटिनिन के माप का उपयोग यह अनुमान लगाने के लिए भी किया जा सकता है कि गुर्दे कितनी जल्दी रक्त को फ़िल्टर करते हैं (ग्लोमेरुलर निस्पंदन दर)। सीरम क्रिएटिनिन में एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में परिवर्तनशीलता के कारण, GFR गुर्दे के कार्य पर अधिक सटीक रीडिंग प्रदान कर सकता है। GFR की गणना के लिए सूत्र सीरम क्रिएटिनिन की संख्या और अन्य कारकों, जैसे कि उम्र और लिंग को ध्यान में रखता है। 60 से नीचे का GFR स्कोर किडनी की बीमारी का संकेत देता है। उपचार और रोग की प्रगति की निगरानी के लिए 60 से नीचे के स्कोर का उपयोग किया जा सकता है।

3 क्रिएटिनिन क्लीयरेंस
क्रिएटिनिन क्लीयरेंस इस बात का माप है कि किडनी मूत्र में उत्सर्जन के लिए रक्तप्रवाह से क्रिएटिनिन को कितनी अच्छी तरह से फ़िल्टर करती है। क्रिएटिनिन क्लीयरेंस आमतौर पर 24 घंटे के मूत्र के नमूने में क्रिएटिनिन के माप से और उसी समय अवधि के दौरान लिए गए सीरम नमूने से निर्धारित किया जाता है। हालांकि, मूत्र के नमूनों के लिए कम समयावधि का उपयोग किया जा सकता है। मूत्र के नमूने का सटीक समय और संग्रह महत्वपूर्ण है। क्रिएटिनिन निकासी को प्रति मिनट क्रिएटिनिन प्रति मिनट शरीर की सतह क्षेत्र (एमएल / मिनट / बीएसए) के रूप में सूचित किया जाता है। 19 से 75 वर्ष के पुरुषों के लिए सामान्य सीमा 77 से 160 एमएल/मिनट/बीएसए है।
महिलाओं में क्रिएटिनिन क्लीयरेंस के लिए उम्र के हिसाब से सामान्य सीमा इस प्रकार है:
• 18 से 29 साल: 78 से 161 एमएल/मिनट/बीएसए
• 30 से 39 साल: 72 से 154 एमएल/मिनट/बीएसए
• ५० से ५९ वर्ष: ६२ से १३९ एमएल/मिनट/बीएसए
• ६० से ७२ वर्ष: ५६- से १३१ एमएल/मिनट/बीएसए
वृद्ध वयस्कों के लिए मानक उपाय निर्धारित नहीं किए गए हैं।
आपके आयु वर्ग के लिए सामान्य सीमा से कम परिणाम गुर्दे की खराब कार्यप्रणाली या आपके गुर्दे में रक्त के प्रवाह को प्रभावित करने वाली स्थितियों का संकेत हो सकते हैं।

4 एल्बुमिन/क्रिएटिनिन अनुपात
मूत्र क्रिएटिनिन गिनती की एक और व्याख्या को एल्ब्यूमिन/क्रिएटिनिन अनुपात कहा जाता है। एल्ब्यूमिन रक्त में पाया जाने वाला एक प्रोटीन है। स्वस्थ गुर्दे आमतौर पर इसे रक्त से फ़िल्टर नहीं करते हैं, इसलिए मूत्र में एल्ब्यूमिन की मात्रा कम या न के बराबर होनी चाहिए। एल्ब्यूमिन/क्रिएटिनिन अनुपात बताता है कि मूत्र के नमूने में एल्ब्यूमिन कितना क्रिएटिनिन है। परिणाम क्रिएटिनिन के प्रत्येक ग्राम (जी) के लिए एल्ब्यूमिन के मिलीग्राम (मिलीग्राम) की संख्या के रूप में रिपोर्ट किए जाते हैं। स्वस्थ किडनी का संकेत देने वाले परिणाम हैं:
वयस्क पुरुषों के लिए, 17 mg/g
से कम वयस्क महिलाओं के लिए, 25 mg/g . से कम
सामान्य से अधिक परिणाम गुर्दे की बीमारी का संकेत हो सकता है। विशेष रूप से, परिणाम मधुमेह अपवृक्कता, या मधुमेह गुर्दे की बीमारी नामक मधुमेह की जटिलता का संकेत दे सकता है। आपका डॉक्टर या अन्य स्वास्थ्य देखभाल प्रदाता आपके साथ एक क्रिएटिनिन परीक्षण के परिणामों पर चर्चा करेगा और आपको यह समझने में मदद करेगा कि निदान या उपचार के लिए जानकारी का क्या अर्थ है। योजना।

संबंधित विषय:

1. ब्रोंकाइटिस क्या है और इसका इलाज कैसे किया जाता है?

ब्रोंकाइटिस और उसके उपाय

2. डायवर्टीकुलिटिस कितना हानिकारक है?

डायवर्टीकुलिटिस के लक्षण और उपचार

3. प्रतिरक्षा बढ़ाने के बारे में और जानें

इम्युनिटी कैसे बढ़ाएं




उपर ब्लॉग में बताई गई उपलब्धिया AFD-SHIELD के साथ उपलब्ध हैं
एएफडी शील्ड कैप्सूल 12 प्राकृतिक अवयवों का एक संयोजन है जिनमें से अलगल डीएचए, अश्वगंधा, करक्यूमिन और स्पिरुलिना हैं। एएफडी शील्ड टीजी को कम करता है, एचडीएल बढ़ाता है और उम्र से संबंधित संज्ञानात्मक गिरावट में सुधार करता है। यह तनाव और चिंता को भी कम करता है और एंटी-एजिंग गतिविधि करता है। इसके अलावा, यह इम्युनोमॉड्यूलेटरी गतिविधि को बढ़ाता है, प्रतिरक्षा में सुधार करता है और सूजन और ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करता है। न्यूट्रोग्लिग्क्स: एएफडी-शील्ड

AFDIL Ltd.
+91 9920121021

order@afdil.com

Read Also:


Disclaimer
Home