How Much Vitamin C is Required For General Well Being

Introduction

Vitamin C

We all know Vitamin C Required for General Well Being. They are organic compound that human need in small quantity. They perform hundreds of roles in our body, from healing our wounds to strengthening our immune system. Help in converting our food into energy and repairing any cellular damage. In this blog we will be discussing about one such vitamin, “Vitamin C”.

Vitamin C also known as Ascorbic acid, is a water-soluble vitamin which is necessary for normal growth and development. It is known to be found in fruits, vegetables, and organ meats (like liver and kidney). Being known for its antioxidant properties, vitamin “C” helps in maintaining the connective tissue protein collagen, protects against infection and helps in iron absorption.

Why Vitamin C Required for General Well Being?

Vitamin C Required to form collagen in bones, cartilage, muscle, and blood vessels and aids in the absorption of iron. Another important function is when it performs antioxidant activity it helps to prevent certain diseases such as cancer, cardiovascular diseases, common cold, age related macular degeneration and cataract. Severe deficiency of Vitamin C causes Scurvy. Though this disease is rare but if affected it can lead to severe consequences, even death.

Recommended Daily Allowance /Recommended Consumption Amount

RDA: For adults aged 19 and up, the recommended daily allowance is 90 mg for men and 75 mg for women. The daily dose rises to 85 mg and 120 mg, respectively, during pregnancy and lactation. Due to the fact that smoking depletes vitamin C levels in the body, smokers can take an extra 35 mg above the RDA.
The Tolerable Upper Intake Level (UL) is the daily maximum intake that is unlikely to cause health problems. Vitamin C has a daily intake limit of 2000 mg; exceeding this level may cause gastrointestinal discomfort and diarrhoea. Higher than the UL doses are only used under such circumstances, such as when under medical supervision or in supervised clinical trials.

Vitamin C Absorption and Mega dosing

Vitamin C absorption is reduced in the intestines. Vitamin C absorption drops to less than 50% when taken in doses greater than 1000 mg, according to studies. Megadose of vitamin C are not harmful in relatively healthy adults because once the body's tissues are filled with vitamin C, absorption reduces and any excess is excreted in urine. However, with daily doses greater than 3000 mg, side effects such as diarrhoea, increased development of kidney stones in those with kidney disease or a history of stones, and increased uric acid levels are likely (a risk factor for gout). and increased iron absorption and overload in people with hemochromatosis, a genetic disorder in which the blood contains too much iron.

Absorption is the same if the vitamin is obtained by diet or supplements. Vitamin C is sometimes administered as an intravenous injection into a vein so that higher doses can reach the bloodstream directly. This is normally only seen in medically supervised environments, such as in standardised clinical trials or to improve the quality of life in people with advanced cancer stages. While high-dose intravenous vitamin C has not been shown in clinical trials to cause harmful side effects, it should be used with caution and avoided in people with kidney disease and genetic conditions like hemochromatosis and glucose 6-phosphate dehydrogenase deficiency.

Vitamin C is involved in a variety of metabolic reactions in the body and getting the recommended daily allowance (RDA) or slightly more can protect you from certain diseases. Larger doses, on the other hand, have not been shown to have any health benefits in people who are healthy and well-nourished. Vitamin C has been shown in cell studies to switch roles and function as a tissue-damaging pro-oxidant rather than an antioxidant at very high concentrations. Its effects in humans at doses well exceeding the RDA are unknown, but it may raise the risk of kidney stones and digestive distress.

Symptoms of Vitamin C deficiency

Benefits of Taking Vitamin C

Antioxidant properties: When oxidation process takes place in human body it damages cell membranes and other cell structure like lipids, DNA, and cellular protein. When oxygen metabolises, it creates molecules called as free radicals. These free radicals are unstable in nature because of which they steal electrons from other molecules thus damaging DNA and other cells. To stabilise these free radical molecules, Vitamin C (Ascorbic Acid) reacts with them by undergoing single electron oxidation and produces ascorbyl radical, a relatively poor reactive intermediate.

Antioxidant Property

Wound Healing: Vitamin C helps in formation of collagen (a protein that binds cell together and is important to form connective tissue) which plays important role in wound healing. Hence, Vitamin C is also thought of promoting faster healing of wound and injuries.

Vitamin C for Cataract Prevention: Long-term studies on vitamin C supplementation and cataract development have found that supplementation reduces the risk of cataracts significantly, particularly in women. According to a 2002 report, adequate vitamin C intake reduced the incidence of cataracts in women under the age of 60 by 57 percent. So, it is better to start taking adequate Vitamin C for cataract prevention.

Age-related Macular Degeneration (AMD): It is a degenerative eye disease in which a part of the retina called macula gets damaged. This disease leads to degeneration/loss of central vision because of which a person loses the ability to see fine details (far or near). This disease is known to be common among people who are 50 years and above. Multiple factors like genetic predisposition, ageing and elevated oxidative stress are known to cause AMD. Numerous studies have found a link between dietary micronutrients and a reduction in the development of AMD and other eye diseases. These findings have sparked interest in antioxidant-rich micronutrients (like Vitamin C) as a way to avoid the oxidative damage that leads to the production of degenerative eye diseases. As a result, micronutrients such as antioxidants, vitamins, and minerals seem to be promising preventative strategies. Thus, taking Vitamin C supplement or a diet rich in Vitamin C can prove to be beneficial.

Macular Degeneration

Immune system booster: Vitamin C is an immune system booster since it boosts white blood cell development and keeps the immune system in check. In research, low vitamin C levels have been related to a higher risk of infection. Citing these reasons, it was suggested during the Corona Virus pandemic that taking Vitamin C supplements could help improve immunity.

Diabetes: Diabetes mellitus is a metabolic condition that can lead to both micro- and macro-vascular complications. Lipid disorders should be assessed in diabetes due to the additive effects of hyperglycaemia and hyperlipidaemia on cardiovascular disease. Since vitamin C has been shown to improve serum lipids and glycated haemoglobin (HbA1c), therefore a study was conducted to know how different doses of vitamin C affected blood glucose, serum lipids, and serum insulin in people with type 2 diabetes. And the results showed that, daily dose of 1000 mg of supplemental vitamin C may help patients with type 2 diabetes lower their blood glucose and lipid levels, lowering their risk of complications.

Anaemia: Anaemia is a disease in which the body's tissues do not receive enough oxygen due to a shortage of healthy red blood cells. One might feel exhausted and weak if they have anaemia. Anaemia comes in a variety of ways, each with its own set of symptoms and causes. Anemia can be mild or serious, and it can last for a short time or for a long time. Vitamin C can be helpful because it is needed for the absorption of iron, which is used to make haemoglobin, which in turn is used to make red blood cells. Vitamin C also aids in the formation of red blood cells and the maintenance of healthy red blood cells. Anemia may be caused by a Vitamin C deficiency. If you do not eat a balanced diet or don't take a vitamin C supplement, you can develop vitamin C deficiency anaemia. Tiredness, a racing pulse, a cold sensation, and a red and swollen tongue are all symptoms. Vitamin C and iron supplements, as well as a balanced diet, can help with vitamin C deficiency anaemia.

Cardiovascular Disease: Cardiovascular disease (CVD) refers to a group of illnesses affecting the heart and blood vessels. Coronary artery diseases (CAD), such as angina and myocardial infarction, are examples of CVD (commonly known as a heart attack). The heart does not obtain enough blood to sustain its activities when arteries in the body become clogged. The antioxidant properties of vitamin C are absorbed into the bloodstream and help to remove plaque build-up from the arteries. This reduces the risk of health problems and heart attacks.

The above disease proves the importance of Vitamin C in our body and by now one should start considering Vitamin C Required for General Well Being.

Other Benefits of Vitamin C

Protection from Pollution : Air pollution is made up of a variety of pollutants and chemicals that can damage people's health. Evidence suggests that antioxidants, such as vitamin C, can protect the body from cell-damaging molecules known as free radicals. When air pollution enters the lungs, free radicals form, and study indicates that they play a role in heart disease, cancer, and even respiratory problems.

Protection from Allergic Reaction: Allergies are caused by the immune system's overreaction to a foreign material called allergen. This immune response causes histamine to be released into our bloodstream, resulting in an outbreak of allergy symptoms. Sneezing, itchy eyes, asthma, nasal congestion, and a runny nose are all common signs of seasonal allergies. Antihistamine treatment does not suit everyone, and it can make one feel dry and exhausted. It also has side effects such as irritability and trouble urinating. Vitamin C is a much-appreciated substitute. In reality, since the body does not produce vitamin C on its own, it is critical that you consume foods high in it. Vitamin C is a powerful antioxidant that protects cells from damage, helps body fight infections, and reduces the severity of allergic reactions. Vitamin C, when taken during allergy season, may help to reduce your body's overreaction to environmental stimuli by lowering histamine output.

Prevention of Motion Sickness: Motion sickness is a feeling of being woozy. When travelling by car, boat, plane, or train, it is more likely to happen. The sensory organs in your body transmit mixed signals to your brain, resulting in dizziness, light-headedness, or nausea. Some people find out early in life that they are predisposed to the disease. In 2014 a study was conducted related to motion sickness. 70 participants were given 2 gm of vitamin C or a placebo before spending 20 minutes in a wave pool on a life raft. Seasickness was reduced among those who took the supplement. As s result it was found that Vitamin C is helpful in supressing the motion sickness.

Disease Related to Vitamin C Deficiency

In Adults: Scurvy is a serious disease caused by a lack of vitamin C in humans. The disorder manifests itself mainly in mesenchymal tissues. It causes oedema, haemorrhage (due to a lack of intercellular substance formation) in the skin, mucous membranes, internal organs, and muscles, as well as the weakening of collagenous structures in bone, cartilage, teeth, and connective tissues. Scurvy patients have swollen, bleeding gums as well as tooth loss. Lethargy, weakness, rheumatic pains in the legs, muscular atrophy and skin lesions, large sheet hematomas in the thighs, and ecchymoses and haemorrhages in a variety of organs, including the intestines, sub-periosteal tissues and eyes are also seen. Hysteria, hypochondria, and depression are also associated with the characteristics.

In Children: The syndrome is known as Moeller-Barlow disease, and it is characterised by widening of bone-cartilage borders, strained epiphyseal cartilage of the extremities, extreme joint pain, and, more commonly, anaemia and fever in non-breastfed babies. A limp or inability to walk, tenderness in the lower limbs, gum bleeding, and petechial haemorrhages are all symptoms of this disease in children.

Who are at risk of Vitamin C Deficiency?

Intakes of vitamin C that are below the RDA but above the level needed to prevent overt deficiency (approximately 10 mg/day) can lead to vitamin C deficiency. The following classes are more at risk of getting inadequate levels of vitamin C than others.

Smokers and Passive Smokers: Due to increased oxidative stress, studies consistently show that smokers have lower plasma and leukocyte vitamin C levels than non-smokers. As a result, the Institute of Medicine determined that smokers require 35 mg of vitamin C per day more than non-smokers. Vitamin C levels are also depleted when people are exposed to second-hand smoke. Although the Institute of Medicine was unable to determine a particular vitamin C criterion for non-smokers who are routinely exposed to second-hand smoke, these people should make sure they are getting enough vitamin C.

Infants fed with boiled milk: Breastmilk and/or baby formula, both of which contain sufficient quantities of vitamin C, are fed to the majority of babies in developing countries. It is not advised to feed evaporated or boiled cow's milk to infants for a variety of reasons. Since cow's milk naturally contains very little vitamin C and heat can kill vitamin C, this practise can result in vitamin C deficiency.

Individuals sticking to limited food options: While fruits and vegetables are the best sources of vitamin C, it can also be found in small amounts in a variety of other foods. Most people should be able to reach the vitamin C RDA or at least get enough to avoid scurvy by eating a diverse diet. People who eat a small range of foods, such as the elderly and indigent who cook their own meals; people who misuse alcohol or drugs; food faddists; people with mental illness; and, on rare occasions, infants, may not get enough vitamin C.

People suffering from malabsorption and those suffering from some chronic diseases: Some medical conditions can decrease vitamin C absorption while also increasing the amount required by the body. Vitamin C deficiency may be more common in people with serious intestinal malabsorption or cachexia, as well as some cancer patients. Low vitamin C levels can also occur in chronic hemo-dialysis patients with end-stage renal disease.

Facts on Vitamin C

1. Vitamin C aids in the absorption of non-heme iron, which is present in leafy greens and other plant foods. Iron absorption can be aided by drinking a small glass of 100% fruit juice or eating a vitamin-C-rich food with meals.

2. Heat and light can also degrade vitamin C. Cooking Vitamin C rich food at high temperatures or for long periods of time will degrade the vitamin. Since the Vitamin C is water-soluble, it can seep into cooking liquids and be lost if the liquids are not consumed. The vitamin can be preserved by using fast heating methods or using as little water as possible while cooking, such as stir-frying or blanching. Raw foods at their height of ripeness produce the most vitamin C.

Conclusion

Vitamin C is an ssential nutrient which helps in body building process as well as disease prevention. It was also discussed how Vitamin C's performs antioxidant activity, development of protein, tendons, ligaments, and blood vessels, ability to heal wounds and shape scar tissue, ability to repair and retain cartilage, bone, and teeth, and ability to help in iron absorption. It was also discussed that 120mg is the recommended daily allowance, but a person can have tolerable upper intake level of 2000mg. It was also seen that if a person exceeds the tolerable upper intake level, then they suffer from gastrointestinal discomfort and diarrhoea. Moreover, higher than the UL doses are only used under specific circumstances, such as when under medical supervision or in supervised clinical trials. Reiterating, Vitamin C is contained in organic substances that synthesises the nutrient. As a dietary supplement, it can be synthesised as a tablet, pill, liquid, or crystalline form. Vitamin C is neither toxic nor depleting to the body. Vitamin C will still be naturally available as long as fruits, vegetables, and other natural substances are produced and cultivated. Synthetically produced forms of Vitamin C are not completely equivalent to naturally occurring Vitamin C, but they provide similar health benefits. Starches, sugars, and acids are used to make most synthetic Vitamin C supplements. From the above information, now one must be able to understand the importance of VitaminC and why one should consider Vitamin C Required for General Well Being.

Related Topics

1 Vitamin B12, one of eight B vitamins is a cofactor in DNA synthesis, and in both fatty acid and amino acid metabolism. Its deficiency can lead to Anaemia. Read more: How much Vitamin B12 is required daily?

2 Turmeric is a medicinal herb, which has many scientifically proven health benefits. Curcumin its most active ingredient, is used in certain medicine. Read more: Can we take Turmeric daily?

3 Yes indeed we can take Probiotics daily. Probiotics are beneficial bacteria that help keep the body healthy and functioning properly.
Read more: Can we take Probiotics daily?

Need more such information on health and well-being, Visit our Blog:nutralogicx.com/blogs/




The above essentials are available with Limezo and Limezo DZ

Nutralogicx: Limezo

Limezo is a chewable tablet which is used to over come vitamin C deficiency and as an immune booster. It helps in preventing and treating respiratory infections and also acts as an antioxidant to protect against oxidative challenges.
It also has an additional advantage of L-Arginine and L-Aspartame which helps in strengthning immune function.

Nutralogicx: Limezo DZ

"Limezo DZ helps in treatment and prevention of deficiencies like Vitamin C &D, zinc.
This product helps in building up immunity to prepare bosy fight against infections. It also act as anti-oxidant medication.
It maintains overall well-being of body. It is now flavored and available in orange flavor. It can be easily administered and is available in chewable forms.
Vitamin C is a powerful antioxidant that strengthens body defenses, and keeps one protected from infections like common cold and influenza.
Zinc is an important integral mineral required to build and maintain immunity. Zinc and vitamin C in combination is more effective as an immune booster.
In addition, vitamin D3 helps replenish the body’s stores of vitamin D that helps in optimizing health. Vitamin D3 modulates the innate immune system — the first-line of immune defense, by increasing the phagocytic ability of immune cells"

कितना विटामिन सी सामान्य अच्छी तरह से होने के लिए आवश्यक है

परिचय

विटामिन सी

हम सभी जानते हैं कि विटामिन हमारे सामान्य कल्याण के लिए आवश्यक पोषक तत्व हैं। वे कार्बनिक यौगिक है कि मानव कम मात्रा में की जरूरत है । वे हमारे शरीर में भूमिकाओं के सैकड़ों प्रदर्शन, हमारे घावों के उपचार से हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत बनाने के लिए । हमारे भोजन को ऊर्जा में बदलने और किसी भी सेलुलर क्षति की मरम्मत करने में मदद करें। इस ब्लॉग में हम एक ऐसे विटामिन के बारे में चर्चा करेंगे, "विटामिन सी" ।

विटामिन सी जिसे एस्कॉर्बिक एसिड के नाम से भी जाना जाता है, पानी में घुलनशील विटामिन है जो सामान्य विकास और विकास के लिए आवश्यक है। यह फल, सब्जियों, और अंग मांस (जिगर और गुर्दे की तरह) में पाया जा करने के लिए जाना जाता है। अपने एंटीऑक्सीडेंट गुणों के लिए जाना जाता है, विटामिन "सी" संयोजी ऊतक प्रोटीन कोलेजन को बनाए रखने में मदद करता है, संक्रमण से बचाता है और लोहे के अवशोषण में मदद करता है।

विटामिन सी एक आवश्यक पोषक तत्व क्यों है ?

विटामिन सी हड्डियों, उपास्थि, मांसपेशियों, और रक्त वाहिकाओं और लोहे के अवशोषण में एड्स में कोलेजन बनाने के लिए आवश्यक है। एक अन्य महत्वपूर्ण कार्य यह है कि जब यह एंटीऑक्सीडेंट गतिविधि करता है तो यह कैंसर, हृदय रोगों, आम सर्दी, उम्र से संबंधित मांसपेशियों के पतन और मोतियाबिंद जैसे कुछ रोगों को रोकने में मदद करता है। विटामिन सी की गंभीर कमी स्कर्वी का कारण बनती है। हालांकि यह बीमारी दुर्लभ है लेकिन अगर प्रभावित होता है तो यह गंभीर परिणाम, यहां तक कि मौत का कारण बन सकता है।

अनुशंसित खुराक

19 और ऊपर आयु वर्ग के वयस्कों के लिए, अनुशंसित दैनिक भत्ता पुरुषों के लिए ९० मिलीग्राम और महिलाओं के लिए ७५ मिलीग्राम है । गर्भावस्था और स्तनपान के दौरान दैनिक खुराक क्रमशः 85 मिलीग्राम और 120 मिलीग्राम तक बढ़ जाती है। इस तथ्य के कारण कि धूम्रपान शरीर में विटामिन सी के स्तर को कम करता है, धूम्रपान करने वाले आरडीए से ऊपर अतिरिक्त 35 मिलीग्राम ले सकते हैं।
सहनीय ऊपरी सेवन स्तर (उल) दैनिक अधिकतम सेवन है कि स्वास्थ्य समस्याओं का कारण होने की संभावना नहीं है । विटामिन सी में 2000 मिलीग्राम की दैनिक सेवन सीमा होती है; इस स्तर से अधिक गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल असुविधा और डायरिया का कारण बन सकता है। उल खुराक से अधिक केवल ऐसी परिस्थितियों में उपयोग किया जाता है, जैसे कि जब चिकित्सा पर्यवेक्षण के तहत या पर्यवेक्षित नैदानिक परीक्षणों में।

विटामिन सी अवशोषण और मेगा खुराक

आंतों में विटामिन सी अवशोषण कम हो जाता है। अध्ययनों के अनुसार, 1000 मिलीग्राम से अधिक खुराक में लिए जाने पर विटामिन सी अवशोषण 50% से कम हो जाता है। विटामिन सी का मेगाडोज अपेक्षाकृत स्वस्थ वयस्कों में हानिकारक नहीं होता है क्योंकि एक बार शरीर के ऊतकों में विटामिन सी भर जाता है, अवशोषण कम हो जाता है और मूत्र में कोई अतिरिक्त उत्सर्जित होता है। हालांकि, 3000 मिलीग्राम से अधिक दैनिक खुराक के साथ, डायरिया जैसे दुष्प्रभाव, गुर्दे की बीमारी या पत्थरों के इतिहास वाले लोगों में गुर्दे की पथरी का विकास बढ़ जाता है, और यूरिक एसिड के स्तर में वृद्धि की संभावना होती है (गाउट के लिए एक जोखिम कारक)। और हीमोक्रोमेटोसिस वाले लोगों में आयरन अवशोषण और अधिभार में वृद्धि हुई, एक आनुवंशिक विकार जिसमें रक्त में बहुत अधिक लोहा होता है।

अवशोषण एक ही है अगर विटामिन आहार या की खुराक द्वारा प्राप्त किया जाता है। विटामिन सी को कभी-कभी नस में नसों में इंजेक्शन के रूप में प्रशासित किया जाता है ताकि उच्च खुराक सीधे खून तक पहुंच सके। यह आम तौर पर केवल चिकित्सकीय पर्यवेक्षित वातावरण में देखा जाता है, जैसे मानकीकृत नैदानिक परीक्षणों में या उन्नत कैंसर चरणों वाले लोगों में जीवन की गुणवत्ता में सुधार करना। जबकि उच्च खुराक नसों में विटामिन सी नैदानिक परीक्षणों में हानिकारक दुष्प्रभाव पैदा करने के लिए नहीं दिखाया गया है, यह सावधानी के साथ इस्तेमाल किया जाना चाहिए और गुर्दे की बीमारी और हीमोक्रोमेटोसिस और ग्लूकोज 6-फॉस्फेट dehydrogenase कमी की तरह आनुवंशिक स्थितियों के साथ लोगों में बचा ।

विटामिन सी शरीर में कई तरह की मेटाबॉलिक प्रतिक्रियाओं में शामिल होता है और अनुशंसित दैनिक भत्ता (आरडीए) या थोड़ा अधिक प्राप्त करना आपको कुछ बीमारियों से बचा सकता है। दूसरी ओर, बड़ी खुराक उन लोगों में कोई स्वास्थ्य लाभ नहीं दिखाया गया है जो स्वस्थ और अच्छी तरह से पोषित हैं। विटामिन सी कोशिका अध्ययन में दिखाया गया है भूमिकाओं स्विच और एक ऊतक के रूप में कार्य-हानिकारक समर्थक ऑक्सीडेंट के बजाय बहुत उच्च सांद्रता पर एक एंटीऑक्सीडेंट । खुराक पर मनुष्यों में इसके प्रभाव अच्छी तरह से आरडीए से अधिक अज्ञात हैं, लेकिन यह गुर्दे की पथरी और पाचन संकट का खतरा बढ़ा सकते हैं ।

विटामिन सी की कमी के लक्षण

विटामिन सी लेने के फायदे

एंटीऑक्सीडेंट गुण: जब मानव शरीर में ऑक्सीकरण प्रक्रिया होती है तो यह कोशिका झिल्ली और लिपिड, डीएनए और सेलुलर प्रोटीन जैसी अन्य कोशिका संरचना को नुकसान पहुंचाता है। जब ऑक्सीजन मेटाबोलिज़ करता है, तो यह मुक्त कणों के रूप में नामक अणुओं को बनाता है। ये मुक्त कण प्रकृति में अस्थिर होते हैं जिसके कारण वे अन्य अणुओं से इलेक्ट्रॉन चुराते हैं जिससे डीएनए और अन्य कोशिकाओं को नुकसान पहुंचता है । इन मुक्त कट्टरपंथी अणुओं को स्थिर करने के लिए, विटामिन सी (एस्कॉर्बिक एसिड) एकल इलेक्ट्रॉन ऑक्सीकरण से गुजर कर उनके साथ प्रतिक्रिया करता है और एस्कॉर्बल कट्टरपंथी, अपेक्षाकृत खराब प्रतिक्रियाशील मध्यवर्ती का उत्पादन करता है।

एंटीऑक्सीडेंट गुण

घाव भरने के गुण : विटामिन सी कोलेजन (एक प्रोटीन जो कोशिका को एक साथ बांधता है और कनेक्टिव ऊतक बनाने के लिए महत्वपूर्ण है) के गठन में मदद करता है जो घाव भरने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इसलिए, विटामिन सी भी घाव और चोटों के तेजी से उपचार को बढ़ावा देने के बारे में सोचा है ।

मोतियाबिंद की रोकथाम : विटामिन सी पूरकता और मोतियाबिंद के विकास पर दीर्घकालिक अध्ययन में पाया गया है कि पूरकता मोतियाबिंद के जोखिम को काफी कम कर देती है, विशेष रूप से महिलाओं में। २००२ की एक रिपोर्ट के अनुसार, विटामिन सी के पर्याप्त सेवन से ६० से कम आयु की महिलाओं में मोतियाबिंद की घटनाओं में ५७ प्रतिशत की कमी आई ।

आयु से संबंधित धब्बेदार अध: पतन (AMD): यह एक अपक्षयी नेत्र रोग है जिसमें मैकुला नामक रेटिना का एक हिस्सा क्षतिग्रस्त हो जाता है। इस बीमारी के कारण केंद्रीय दृष्टि का पतन/हानि हो जाती है जिसके कारण एक व्यक्ति ठीक विवरण (दूर या निकट) देखने की क्षमता खो देता है । यह बीमारी उन लोगों के बीच आम मानी जाती है जो 50 साल और उससे ऊपर के होते हैं। आनुवंशिक गड़बड़ी, वृद्धावस्था और ऊंचा ऑक्सीडेटिव तनाव जैसे कई कारक एएमडी का कारण माने जाते हैं । कई अध्ययनों से आहार सूक्ष्म पोषक तत्वों और एएमडी और अन्य नेत्र रोगों के विकास में कमी के बीच एक लिंक पाया गया है। इन निष्कर्षों से एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर सूक्ष्म पोषक तत्वों (विटामिन सी की तरह) में ऑक्सीडेटिव क्षति से बचने के तरीके के रूप में रुचि छिड़ गई है जो अपक्षयी नेत्र रोगों के उत्पादन की ओर ले जाती है । नतीजतन, एंटीऑक्सीडेंट, विटामिन और खनिज जैसे सूक्ष्म पोषक तत्व निवारक रणनीतियों का वादा करने लगते हैं। इस प्रकार विटामिन सी सप्लीमेंट या विटामिन सी से भरपूर आहार लेना फायदेमंद साबित हो सकता है।

आयु से संबंधित धब्बेदार अध: पतन

प्रतिरक्षा प्रणाली बूस्टर : विटामिन सी एक प्रतिरक्षा प्रणाली बूस्टर है क्योंकि यह सफेद रक्त कोशिका विकास को बढ़ा देता है और प्रतिरक्षा प्रणाली की जांच में रहता है । शोध में विटामिन सी का स्तर कम होने से संक्रमण का खतरा अधिक होने का संबंध रहा है। इन कारणों का हवाला देते हुए, यह कोरोना वायरस महामारी के दौरान सुझाव दिया गया था कि विटामिन सी की खुराक लेने से प्रतिरक्षा में सुधार करने में मदद मिल सकती है ।

मधुमेह : मधुमेह एक मेटाबोलिक स्थिति है जो सूक्ष्म और मैक्रो-वैस्कुलर दोनों जटिलताओं का कारण बन सकती है। हृदय रोग पर हाइपरग्लाइकेमिया और हाइपरलिपिडीमिया के योजक प्रभावों के कारण मधुमेह में लिपिड विकारों का आकलन किया जाना चाहिए। चूंकि विटामिन सी को सीरम लिपिड और ग्लाइेटेड हीमोग्लोबिन (एचबीए1सी) में सुधार करने के लिए दिखाया गया है, इसलिए विटामिन सी की विभिन्न खुराकों ने टाइप 2 मधुमेह वाले लोगों में रक्त ग्लूकोज, सीरम लिपिड और सीरम इंसुलिन को कैसे प्रभावित किया। और परिणामों से पता चला है कि, पूरक विटामिन सी के १००० मिलीग्राम की दैनिक खुराक प्रकार के साथ रोगियों की मदद कर सकते है 2 मधुमेह उनके रक्त ग्लूकोज और लिपिड के स्तर को कम, जटिलताओं के अपने जोखिम को कम ।

अनीमिया : अनीमिया एक ऐसी बीमारी है जिसमें स्वस्थ लाल रक्त कोशिकाओं की कमी के कारण शरीर के ऊतकों को पर्याप्त ऑक्सीजन नहीं मिलती है। यदि उन्हें खून की कमी है तो कोई भी थका हुआ और कमजोर महसूस कर सकता है। अनीमिया विभिन्न तरीकों से आता है, प्रत्येक लक्षणों और कारणों के अपने सेट के साथ। एनीमिया हल्का या गंभीर हो सकता है, और यह थोड़े समय के लिए या लंबे समय तक रह सकता है। विटामिन सी मददगार हो सकता है क्योंकि यह लोहे के अवशोषण के लिए आवश्यक है, जिसका उपयोग हीमोग्लोबिन बनाने के लिए किया जाता है, जिसका उपयोग लाल रक्त कोशिकाओं को बनाने के लिए किया जाता है। विटामिन सी लाल रक्त कोशिकाओं के गठन और स्वस्थ लाल रक्त कोशिकाओं के रखरखाव में भी सहायता करता है। एकएमिया विटामिन सी की कमी के कारण हो सकता है। अगर आप संतुलित आहार नहीं खाते हैं या विटामिन सी सप्लीमेंट नहीं लेते हैं तो आप विटामिन सी की कमी से खून की कमी विकसित कर सकते हैं। थकान, एक रेसिंग पल्स, एक ठंडी सनसनी, और एक लाल और सूजन जीभ सभी लक्षण हैं। विटामिन सी और आयरन सप्लीमेंट के साथ-साथ संतुलित आहार से विटामिन सी की कमी खून की कमी से मदद मिल सकती है।

हृदय रोग : हृदय रोग (सीवीडी) हृदय और रक्त वाहिकाओं को प्रभावित करने वाली बीमारियों के एक समूह को संदर्भित करता है। कोरोनरी धमनी रोग (सीएडी), जैसे एंजाइना और मायोकार्डियल इंफार्क्शन, सीवीडी (आमतौर पर दिल का दौरा पड़ने के रूप में जाना जाता है) के उदाहरण हैं। जब शरीर में धमनियां भरी हो जाती हैं तो दिल अपनी गतिविधियों को बनाए रखने के लिए पर्याप्त रक्त प्राप्त नहीं करता है। विटामिन सी के एंटीऑक्सीडेंट गुण खून में अवशोषित होते हैं और धमनियों से पट्टिका निर्माण को हटाने में मदद करते हैं। इससे स्वास्थ्य समस्याओं और दिल के दौरे का खतरा कम हो जाता है।।

उपरोक्त बीमारी हमारे शरीर में विटामिन सी के महत्व को साबित करती है और अब तक विटामिन सी एक आवश्यक पोषक तत्व है।

विटामिन सी लेने के अन्य लाभ

प्रदूषण से बचाव : वायु प्रदूषण कई प्रकार के प्रदूषकों और रसायनों से बना होता है जो लोगों के स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचा सकते हैं। सबूत से पता चलता है कि एंटीऑक्सीडेंट, जैसे विटामिन सी, कोशिका को नुकसान पहुंचाने वाले अणुओं से शरीर की रक्षा कर सकते हैं जिसे मुक्त कण के रूप में जाना जाता है । जब वायु प्रदूषण फेफड़ों में प्रवेश करता है, मुक्त कण फार्म, और अध्ययन इंगित करता है कि वे हृदय रोग, कैंसर, और यहां तक कि श्वसन समस्याओं में एक भूमिका निभाते हैं ।

एलर्जी प्रतिक्रिया से सुरक्षा : एलर्जी नामक विदेशी सामग्री के लिए प्रतिरक्षा प्रणाली की अतिप्रतिक्रिया के कारण होती है। यह प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया हिस्टामाइन को हमारे खून में जारी करने का कारण बनती है, जिसके परिणामस्वरूप एलर्जी के लक्षणों का प्रकोप होता है। छींक, खुजली आंखें, अस्थमा, नाक की भीड़, और एक बहती नाक मौसमी एलर्जी के सभी आम लक्षण हैं । एंटीहिस्टामाइन उपचार हर किसी को सूट नहीं करता है, और यह एक सूखा और थका हुआ महसूस कर सकता है। इसके साइड इफेक्ट्स भी होते हैं जैसे चिड़चिड़ापन और पेशाब करने में परेशानी। विटामिन सी एक बहुत सराहना की विकल्प है। वास्तव में, चूंकि शरीर अपने आप विटामिन सी का उत्पादन नहीं करता है, इसलिए यह महत्वपूर्ण है कि आप इसमें उच्च खाद्य पदार्थों का उपभोग करें। विटामिन सी एक शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट है जो कोशिकाओं को नुकसान से बचाता है, शरीर को संक्रमण से लड़ने में मदद करता है, और एलर्जी प्रतिक्रियाओं की गंभीरता को कम करता है। विटामिन सी, जब एलर्जी के मौसम के दौरान लिया जाता है, हिस्टामाइन उत्पादन को कम करके पर्यावरण उत्तेजनाओं के लिए आपके शरीर की अतिप्रतिक्रिया को कम करने में मदद कर सकता है।

मोशन सिकनेस की रोकथाम: मोशन सिकनेस वूज़ी होने की भावना है। कार, नाव, विमान या ट्रेन से यात्रा करते समय ऐसा होने की संभावना अधिक होती है। आपके शरीर में संवेदी अंग आपके मस्तिष्क में मिश्रित संकेत प्रसारित करते हैं, जिसके परिणामस्वरूप चक्कर आना, प्रकाश-हेडनेस या मतली होती है। कुछ लोगों को जीवन में जल्दी पता चलता है कि वे बीमारी के लिए संवेदनशील हैं। 2014 में मोशन सिकनेस से संबंधित एक अध्ययन किया गया था। 70 प्रतिभागियों को लाइफ बेड़ा पर वेव पूल में 20 मिनट बिताने से पहले 2 ग्राम विटामिन सी या प्लेसबो दिया गया। सप्लीमेंट लेने वालों में सीसिकनेस कम हो गई थी। एस परिणाम के रूप में यह पाया गया कि विटामिन सी गति बीमारी दबाना में सहायक है ।

विटामिन सी की कमी से संबंधित रोग

वयस्कों में : स्कर्वी मनुष्यों में विटामिन सी की कमी के कारण एक गंभीर बीमारी है। विकार मुख्य रूप से मेसेंचिमल ऊतकों में प्रकट होता है। यह त्वचा, म्यूकस झिल्ली, आंतरिक अंगों और मांसपेशियों में ओडेमा, नकसीर (अंतरकोशिकीय पदार्थ गठन की कमी के कारण) के साथ-साथ हड्डी, उपास्थि, दांतों और संयोजी ऊतकों में कोलेजनस संरचनाओं के कमजोर होने का कारण बनता है। स्कर्वी रोगियों में सूजन, मसूड़ों से खून बहने के साथ-साथ दांतों का नुकसान होता है। सुस्ती, कमजोरी, पैरों में आमवाती दर्द, मस्कुलर शोष और त्वचा के घाव, जांघों में बड़ी चादर हेमेटामा, और आंतों सहित कई अंगों में एक्किमॉस और नकसीर भी देखे जाते हैं। हिस्टीरिया, हाइपोकॉन्ड्रिया और अवसाद भी विशेषताओं से जुड़े हुए हैं।

बच्चों में: सिंड्रोम को मोएलर-बार्लो रोग के रूप में जाना जाताहै, और यह हड्डी-उपास्थि सीमाओं को चौड़ा करने, हाथ-पैरों की तनावपूर्ण एपिफिसियल उपास्थि, अत्यधिक जोड़ों के दर्द और अधिक सामान्यतः, अनीमिया और गैर-स्तनपान शिशुओं में बुखार की विशेषता है। एक लंगड़ा या चलने में असमर्थता, निचले अंगों में कोमलता, मसूड़ों से खून बह रहा है, और पेटेचियाल नकसीर बच्चों में इस बीमारी के सभी लक्षण हैं।

विटामिन सी की कमी का खतरा किसे है ?

विटामिन सी का सेवन जो आरडीए से नीचे है लेकिन खुलकर कमी (लगभग 10 मिलीग्राम/दिन) को रोकने के लिए आवश्यक स्तर से ऊपर विटामिन सी की कमी का कारण बन सकता है । निम्नलिखित कक्षाओं में दूसरों की तुलना में विटामिन सी के अपर्याप्त स्तर प्राप्त होने का खतरा अधिक है।

धूम्रपान करने वालों और निष्क्रिय धूम्रपान करनेवालों : ऑक्सीडेटिव तनाव में वृद्धि के कारण, अध्ययनों से लगातार पता चलता है कि धूम्रपान करने वालों में धूम्रपान करने वालों की तुलना में प्लाज्मा और ल्यूकोसाइट विटामिन सी का स्तर कमहोता है। नतीजतन, चिकित्सा संस्थान ने निर्धारित किया कि धूम्रपान करने वालों को धूम्रपान करने वालोंकी तुलना में प्रति दिन 35 मीटरग्राम विटामिन सी कीआवश्यकताहोती है। विटामिन सी का स्तर भी समाप्त हो रहे है जब लोगों को दूसरेहाथ के धुएं के संपर्क में हैं । हालांकि चिकित्सा संस्थान गैरधूम्रपान करने वालों के लिए एक विशेष विटामिन सी मापदंड निर्धारित करने में असमर्थ था जो नियमित रूप से दूसरे हाथ के धुएं के संपर्कमें हैं,इन लोगों को यकीन है कि वे पर्याप्त विटामिन सी हो रहीहै बनाना चाहिए ।

शिशुओं उबला हुआ दूध के साथ खिलाया : स्तनपान और/या बच्चे फार्मूला, जिनमें से दोनों विटामिन सी की पर्याप्त मात्रा में होते हैं, विकासशील देशों में बच्चों के बहुमत के लिए खिलाया जाता है । कई कारणों से शिशुओं को सुखाया या उबला हुआ गाय का दूध पिलाने की सलाह नहीं दी जाती है। चूंकि गाय के दूध में स्वाभाविक रूप से बहुत कम विटामिन सी होता है और गर्मी विटामिन सी को मार सकती है, इसलिए इस अभ्यास के परिणामस्वरूप विटामिन सी की कमी हो सकती है।

सीमित भोजन विकल्पों से चिपके हुए व्यक्ति : जबकि फल और सब्जियां विटामिन सी के सबसे अच्छे स्रोत हैं, यह विभिन्न प्रकार के अन्य खाद्य पदार्थों में छोटी मात्रा में भी पाया जा सकता है। ज्यादातर लोगों को विटामिन सी आरडीए तक पहुंचने में सक्षम होना चाहिए या कम से कम एक विविध आहार खाने से स्कर्वी से बचने के लिए पर्याप्त हो जाना चाहिए। जो लोग खाद्य पदार्थों की एक छोटी सी श्रृंखला खाते हैं, जैसे कि बुजुर्ग और दरिद्र जो अपना भोजन पकाते हैं; जो लोग शराब या ड्रग्स का दुरुपयोग करते हैं; भोजन फीका; मानसिक बीमारी वाले लोग; और, दुर्लभ अवसरों पर, शिशुओं को पर्याप्त विटामिन सी नहीं मिल सकता है।

मैलासोर्शन से पीड़ित लोग और कुछ पुरानी बीमारियों से पीड़ित लोग : कुछ चिकित्सा स्थितियां विटामिन सी अवशोषण को कम कर सकती हैं, जबकि शरीर के लिए आवश्यक मात्रा में भी वृद्धि कर सकती हैं। विटामिन सी की कमी गंभीर आंतों के मैलाबसोरशन या कैशक्सिया वाले लोगों के साथ-साथ कुछ कैंसर रोगियों में अधिक आम हो सकती है। कम विटामिन सी का स्तर क्रोनिक हेमो में भी हो सकता है-अंतचरण गुर्दे की बीमारी के साथ डायलिसिस रोगियों।

विटामिन सी पर तथ्य

1. विटामिन सी गैर-हीम आयरन के अवशोषण में सहायता करता है, जो पत्तेदार साग और अन्य पौधे के खाद्य पदार्थों में मौजूद होता है। लोहे के अवशोषण को 100% फलों के रस का एक छोटा गिलास पीने या भोजन के साथ विटामिन-सी-समृद्ध भोजन खाने से सहायता प्राप्त की जा सकती है।

2. 2. गर्मी और प्रकाश भी विटामिन सी को नीचा कर सकते हैं उच्च तापमान पर या लंबे समय तक विटामिन सी युक्त भोजन पकाने से विटामिन नीचा होगा। चूंकि विटामिन सी पानी में घुलनशील है, इसलिए यह तरल पदार्थ पकाने में रिसना कर सकता है और तरल पदार्थों का सेवन नहीं करने पर खो सकता है। विटामिन को तेजी से हीटिंग विधियों का उपयोग करके या खाना पकाने के दौरान जितना संभव हो उतना कम पानी का उपयोग करके संरक्षित किया जा सकता है, जैसे कि हलचल-फ्राइंग या ब्लैंचिंग। परिपक्वता की उनकी ऊंचाई पर कच्चे खाद्य पदार्थ सबसे विटामिन सी का उत्पादन करते हैं।

निष्कर्ष

विटामिन सी शरीर निर्माण प्रक्रिया के साथ-साथ रोग की रोकथाम के लिए महत्वपूर्ण है। यह भी चर्चा की गई कि विटामिन सी एंटीऑक्सीडेंट गतिविधि, प्रोटीन, टेंडन, स्नायुबंधन और रक्त वाहिकाओं के विकास, घावों को ठीक करने और निशान ऊतक को आकार देने की क्षमता, उपास्थि, हड्डी और दांतों की मरम्मत और बनाए रखने की क्षमता और लोहे के अवशोषण में मदद करने की क्षमता कैसे करता है। यह भी चर्चा की गई थी कि 120mg अनुशंसित दैनिक भत्ता है, लेकिन एक व्यक्ति को 2000mg के सहनीय ऊपरी सेवन स्तर हो सकता है । यह भी देखा गया कि यदि कोई व्यक्ति सहनीय ऊपरी सेवन स्तर से अधिक है, तो वे गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल असुविधा और डायरिया से पीड़ित हैं। इसके अलावा, उल खुराक से अधिक केवल विशिष्ट परिस्थितियों में उपयोग किया जाता है, जैसे कि जब चिकित्सा पर्यवेक्षण के तहत या पर्यवेक्षित नैदानिक परीक्षणों में। दोहराते हुए, विटामिन सी कार्बनिक पदार्थों में निहित है जो पोषक तत्वोंको संश्लेषित करतेहैं। आहार पूरक के रूप में, इसे टैबलेट, गोली, तरल या क्रिस्टलीय रूप के रूप में संश्लेषित किया जा सकता है। विटामिन सी न तो विषाक्त होता है और न ही शरीर में घटता है। जब तक फल, सब्जियां और अन्य प्राकृतिक पदार्थ उत्पादित और खेती करते हैं तब तक विटामिन सी अभी भी स्वाभाविक रूप से उपलब्ध होगा। विटामिन सी के सिंथेटिक रूप से उत्पादित रूपों को स्वाभाविक रूप से होने वाली विटामिन सी के बराबर नहीं हैं, लेकिन वे इसी तरह के स्वास्थ्य लाभ प्रदान करते हैं। स्टार्च, शर्करा, और एसिड सबसे सिंथेटिक विटामिन सी की खुराक बनाने के लिए उपयोग किया जाता है। उपरोक्त जानकारी से, अब किसी को विटामिन सी के महत्व को समझने में सक्षम होना चाहिए और क्यों विटामिन सी पर विचार करना चाहिए यह एक आवश्यक पोषक तत्व है।

संबंधित विषय :

1 विटामिन बी 12, आठ बी विटामिनों में से एक डीएनए संश्लेषण में एक कॉफ़ेक्टर है, और फैटी एसिड और एमिनो एसिड चयापचय दोनों में। इसकी कमी से एनीमिया हो सकता है। अधिक पढ़ें: प्रतिदिन विटामिन बी 12 की कितनी आवश्यकता होती है?

3 हल्दी एक औषधीय जड़ी बूटी है, जिसके कई वैज्ञानिक रूप से सिद्ध स्वास्थ्य लाभ हैं। करक्यूमिन इसका सबसे सक्रिय घटक है, जिसका उपयोग कुछ दवाओं में किया जाता है। अधिक पढ़ें: क्या हम प्रतिदिन हल्दी ले सकते हैं?

2 हाँ वास्तव में हम प्रोबायोटिक्स दैनिक ले सकते हैं। प्रोबायोटिक्स फायदेमंद बैक्टीरिया होते हैं जो शरीर को स्वस्थ और ठीक से काम करने में मदद करते हैं ।
अधिक पढ़ें: क्या हम प्रतिदिन प्रोबायोटिक्स ले सकते हैं?

स्वास्थ्य और कल्याण के बारे में अधिक जानकारी के लिए, हमारे ब्लॉग पर जाएँ: न्यूट्रालॉजिक्स.कॉम/ब्लॉग/




उपर ब्लॉग में बताई गई उपलब्धियाक वस्तुएं लाइमोज़ो और लाइमज़ो डीजेड के साथ उपलब्ध हैं

Nutralogicx: Limezo

लाइमजो एक चबाने योग्य गोली है जिसका उपयोग विटामिन सी की कमी को पूरा करने और प्रतिरक्षा बढ़ाने के लिए किया जाता है। यह श्वसन संक्रमण को रोकने और इलाज करने में मदद करता है और ऑक्सीडेटिव चुनौतियों से बचाने के लिए एंटीऑक्सिडेंट के रूप में भी कार्य करता है।
इसमें एल-आर्जिनिन और एल-एस्पार्टेम का अतिरिक्त लाभ भी है जो प्रतिरक्षा समारोह को मजबूत करने में मदद करता है।

Nutralogicx: Limezo DZ

Limezo DZ विटामिन C & D, जिंक जैसी कमियों के उपचार और रोकथाम में मदद करता है।
यह उत्पाद संक्रमणों के खिलाफ बोसी लड़ाई को तैयार करने के लिए प्रतिरक्षा बनाने में मदद करता है। यह एंटी-ऑक्सीडेंट दवा के रूप में भी काम करता है।
यह शरीर के समग्र कल्याण को बनाए रखता है। यह अब स्वाद और नारंगी स्वाद में उपलब्ध है। इसे आसानी से प्रशासित किया जा सकता है और यह उपलब्ध रूपों में उपलब्ध है।
विटामिन सी एक शक्तिशाली एंटीऑक्सिडेंट है जो शरीर की सुरक्षा को मजबूत करता है, और आम सर्दी और इन्फ्लूएंजा जैसे संक्रमणों से बचाता है।
जस्ता एक महत्वपूर्ण अभिन्न खनिज है जो प्रतिरक्षा को बनाने और बनाए रखने के लिए आवश्यक है। जिंक और विटामिन सी का संयोजन इम्यून बूस्टर के रूप में अधिक प्रभावी है।
इसके अलावा, विटामिन डी 3 विटामिन डी के शरीर के भंडार को फिर से भरने में मदद करता है जो स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में मदद करता है। विटामिन डी 3 जन्मजात प्रतिरक्षा प्रणाली को नियंत्रित करता है - प्रतिरक्षा कोशिकाओं की फागोसाइटिक क्षमता को बढ़ाकर, प्रतिरक्षा रक्षा की पहली पंक्ति "



AFDIL Ltd.
Ajit: +91 9920121021

order@afdil.com

Read Also:


Disclaimer
Home