How B Complex Helps In PMS

how b complex helps in pms

B Complex help in PMS and causes

PMS or premenstrual syndrome explains the physical and emotional symptoms that a woman may experience one or two weeks before her menstrual cycle. It is a very common condition and is estimated that as many as 3 of every 4 menstruating woman have experienced these symptoms. A more severe form of PMS has a greater psychological symptom is the premenstrual dysphoric disorder (PMDD). PMDD affects 3-8 % of premenopausal women. Vitamin B complex in PMS helps in relieving symptoms like irritability, anxiety, moodiness, etc. The physical and emotional changes experienced in this condition may differ from just slightly noticeable all the way to intense. PMS occurs more in women in their late 20s and early 40s. These symptoms may vary from woman to woman and resolve around the start of bleeding and the most common symptom is mood swings during PMS.

It’s understood that the primary causes of PMS symptoms are thought to be a change in the level of reproductive hormones and neurotransmitters that are associated with the menstrual cycle. It’s thought that women that are most affected by PMS experience a drop in serotonin alongside a drop in estrogen. Mood swings during PMS is considered to be the most common symptom. For some women, PMS can be severe and have a significant impact, for other women, the symptoms are much more manageable. The degree of PMS symptoms that you suffer is a good indicator of how well your hormones are balanced, so now is a good time to check in with your body, and look at which symptoms you are experiencing.

how B complex helps in PMS

Causes

The exact cause of premenstrual symptom is unknown, but several factors may contribute to the condition.
• Changes in hormone during the menstrual cycle seem to be an important factor. Levels of estrogen and progesterone increase during certain times of the month. An increase in these hormones can cause mood swings during PMS, anxiety, and irritability.
• Serotonin levels affect mood. Serotonin is a brain chemical that is thought to play a crucial role in mood, emotions and thoughts. Fluctuations of serotonin can trigger PMS symptoms. Low level of serotonin often result in sadness, irritability and mood swings during PMS.
• Stress and emotional problems such as depression, do not cause the condition but may make the symptoms worse.
Vitamin B complex in PMS contributes to decrease these causes leading to elevation of PMS.

Factors that increase the chance of PMS are:

• A family history of PMS
• A family history of depression
• A past medical history of Postpartum depression or a mood disorder


Symptoms of PMS

As we have mentioned, PMS will be different for all women. There are a number of factors that can influence the symptoms of PMS which include age, diet and medical conditions which are all important considerations. The most common PMS symptoms are listed below:

A. Emotional symptoms

• Change in interest in sex
• Poor concentration
• Crying spells
• Mood swings and irritability or anger
• Appetite changes and food cravings
• Insomnia
• Depressed mood
• Tension or anxiety
• Social withdrawal

B. Physical symptoms

• Headache
• Fatigue
• Joint or muscle pain
• Breast tenderness or swelling
• Acne flare-ups
• Alcohol intolerance
• Lower backpain
• Constipation
• Bloating

The exact symptom and its severity vary from woman to woman. Most women with PMS only experience a few of the possible symptoms, in relatively predictable pattern. One should consult a doctor if the symptoms start to affect your daily life or if the symptoms persist longer than expected.

Diagnosis & Treatment

• No unique physical finding or lab test exist to physically diagnose PMS.
• One must keep a diary of the experience symptoms pr use a calendar to record symptoms for at least two menstrual cycles to help and understand the pattern.
• Vitamin B complex in PMS helps in relieving symptoms like irritability, anxiety, moodiness, etc.
• From keeping the record, one will be expected to note the day that you first notice the symptoms and the day they disappear. Also keep a track of your period starts and ends.
• The doctor may ask you about your family history or past medical history to relate the symptoms to PMS or other conditions.
• Certain condition may mimic PMS, including
a) Chronic fatigue syndrome
b) Thyroid disorders
c) Pregnancy

The doctor may order a thyroid hormone test, a pregnancy test or pelvic exam to check for any gynecological problems.

• Lifestyle changes may be enough to relieve symptoms in certain women, but depending on the symptoms your doctor may prescribe one or more symptoms such as anti-depressants, NSAIDs, hormonal contraceptives.
• Lifestyle changes may include consuming a lot of fluids, eating a balanced diet to improve overall health, taking supplements such as folic acid, vitamin B6, calcium and magnesium.
• Sleeping at least 8 hours to remove fatigue.
• Regular exercise.

supplements for PMS

Role of Vitamins

THIAMIN (VITAMIN B1)
Vitamin B complex in PMS, in overall, helps in relieving symptoms like irritability, anxiety, moodiness, etc.
Vitamin B1 or thiamin, is a water-soluble vitamin. This vitamin plays an essential role in many biological functions such as replenishment of blood, metabolism of cabohydrates, have effective neural activity and muscle tone in different body activities. It is also effective in dysmenorrhea, that is result of uterine muscular contraction.
As mentioned, it supports carbohydrate metabolism. This is super important support your mood and energy. Complex carbs have this effect because they’re slowly digested and absorbed by the body.
Thiamin is involved in neuromuscular and central nervous system activities. This means it regulates uterine muscular contractions, better known as cramps.
It also plays an important role in mood regulation and reduce muscular cramps. An adult must consume 1.1 mg of thiamine every day.

PYRIDOXINE (VITAMIN B6)
Pyridoxine, commonly known as vitamin B6, exists in the body in two forms: pyridoxamine 5’ phosphate (PMP) and pyridoxal 5’ phosphate (PLP).
Vitamin B6 help in regulation of serotonin and norepinephrine levels in body and these two hormones are known to boost mood and relieve stress. In some clinical researches, vitamin B6 is known to alleviate the emotional symptoms of PMS such as anxiety and depression.
But vitamin B6 can’t do it alone. In combination with riboflavin, Vitamin B6 is able to perform its functions completely. That’s why it’s worth taking a B complex, rather than a single B vitamin supplement. An adult must consume 1.3 mg of vitamin B6 every day.

FOLATE (VITAMIN B9)
Folate, or vitamin B9, is known as an essential vitamin for healthy pregnancies, but in general every women should consume this vitamin to maintain healthy menstrual cycle. Folate is needed to produce energy and blood.Low level of serotonin often result in sadness, irritability and mood swings during PMS.
Folate helps your body produce energy, DNA, and neurotransmitters, such as dopamine and serotonin. This regulates your mood and emotions, particularly during menstrual cycle.
It also works in combination with vitamin B12 to produce red blood cells and support the function of iron. This combination helps your body to efficiently deliver oxygen to all the organs.
It is also been said that B6 increase the level of progesterone. Progesterone deficiency in body can make symptoms of PMS worse. An adult must consume 400mg of vitamin B6 every day.

COBALAMIN (VITAMIN B12)
All the vitamins usually work together. Therefore, supplements taken should always be taken in a combination to increase their potency.
Cobalamin, or vitamin B12, helps in keeping your blood and nerve cells healthy. It also prevents anemia and helps in formation of DNA. It is also involved in production of myelin that protects your nerve cells, which ultimately helps in sending quick impulses in body, maintaining proper cognitive functioning.
Vitamin B12, like other B complex vitamins, is needed to make red blood cells. This is critical for replenishing blood during your period, especially if you have heavier flow.
It is been said that combination of cobalamin with fish oil relieve period pain discomforts. An adult woman must consume 2.4 mg of vitamin B12 every day.

MAGNESIUM
Magnesium helps in maintaining balance of your 28-day menstrual cycle. Other functions include removal of bloating, encourages good sleep and decreases anxiety. It also helps in development of bones, blood pressure regulation, controls blood glucose level and heart rhythm. According to a clinical research, it is proven that magnesium relieves anxiety. When given in combination with vitamin B6, it may also decrease menstrual cramps.
Vitamin B complex in PMS helps in relieving symptoms easily when given in combination with magnesium.
PROBIOTICS
As we all know, probiotics are consumed to maintain a healthy gut and gut health is important for our overall wellbeing, including periods. When estrogen circulates in our body, this can trap or reactivate some healthy intestinal bacteria. Probiotics also show positive results in relieving stress, depression and anxiety, which are the symptoms of PMS.




The above essentials are available with Beplex-LZ.

Beplex-LZ is hard gelatin capsule contains of Lactobacillus Sporogenes 200 million spores with complete therapeutic dose of B-Complex vitamin and various essential vitamins like Vitamin C, Vitamin E and elemental Zinc which helps in the treatment of Antibiotic Associated Diarrhea and recurrent vaginal infection.

पीएमएस में बी कॉम्प्लेक्स कैसे मदद करता है

पीएमएस में बी कॉम्प्लेक्स कैसे मदद करता है

पीएमएस और कारणों को समझना

पीएमएस या प्रीमेंस्ट्रुअल सिंड्रोम उन शारीरिक और भावनात्मक लक्षणों की व्याख्या करता है जो एक महिला अपने मासिक धर्म से एक या दो सप्ताह पहले अनुभव कर सकती हैं। यह एक बहुत ही सामान्य स्थिति है और यह अनुमान लगाया जाता है कि प्रत्येक 4-मासिक धर्म वाली महिला में से 3 ने इन लक्षणों का अनुभव किया है। पीएमएस का एक और अधिक गंभीर रूप एक बड़ा मनोवैज्ञानिक लक्षण है प्रीमेंस्ट्रुअल डिस्फोरिक डिसऑर्डर (पीएमडीडी)। पीएमडीडी प्रीमेनोपॉज़ल महिलाओं के 3-8% को प्रभावित करता है। पीएमएस में विटामिन बी कॉम्प्लेक्स चिड़चिड़ापन, चिंता, मनोदशा आदि जैसे लक्षणों से राहत दिलाने में मदद करता है।

इस स्थिति में अनुभव किए गए शारीरिक और भावनात्मक परिवर्तन, तीव्र से सभी तरह से थोड़े ध्यान देने योग्य हो सकते हैं। पीएमएस 20 के दशक के अंत और 40 के दशक की शुरुआत में महिलाओं में अधिक होता है। ये लक्षण महिला से महिला में भिन्न हो सकते हैं और रक्तस्राव की शुरुआत के आसपास हल हो सकते हैं।

पीएमएस में विटामिन बी कॉम्प्लेक्स

कारण

प्रीमेंस्ट्रुअल लक्षण का सटीक कारण अज्ञात है, लेकिन कई कारक स्थिति में योगदान कर सकते हैं।
• मासिक धर्म चक्र के दौरान हार्मोन में परिवर्तन एक महत्वपूर्ण कारक लगता है। एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन का स्तर महीने के कुछ निश्चित समय के दौरान बढ़ जाता है। इन हार्मोनों में वृद्धि से मिजाज, चिंता और चिड़चिड़ापन हो सकता है।
• सेरोटोनिन का स्तर मूड को प्रभावित करता है। सेरोटोनिन एक मस्तिष्क रसायन है जिसे मनोदशा, भावनाओं और विचारों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने के लिए माना जाता है। सेरोटोनिन के उतार-चढ़ाव पीएमएस के लक्षणों को ट्रिगर कर सकते हैं।
• तनाव और भावनात्मक समस्याएं जैसे अवसाद, स्थिति का कारण नहीं बनते हैं लेकिन लक्षणों को बदतर बना सकते हैं।
पीएमएस में विटामिन बी कॉम्प्लेक्स इन कारणों को कम करने में योगदान देता है जिससे पीएमएस की ऊंचाई बढ़ जाती है।


पीएमएस की संभावना बढ़ाने वाले कारक हैं:

• पीएमएस का एक पारिवारिक इतिहास
• अवसाद का एक पारिवारिक इतिहास
• प्रसवोत्तर अवसाद या मनोदशा विकार का एक पिछला चिकित्सा इतिहास

पीएमएस के लक्षण

जैसा कि हमने उल्लेख किया है, पीएमएस सभी महिलाओं के लिए अलग होगा ।ऐसे कई कारक हैं जो पीएमएस के लक्षणों को प्रभावित कर सकते हैं जिनमें आयु, आहार और चिकित्सा स्थितियां शामिल हैं जो सभी महत्वपूर्ण विचार हैं।सबसे आम पीएमएस लक्षण नीचे सूचीबद्ध हैं:

A. भावनात्मक लक्षण

• सेक्स में रूचि बदलें
• कमज़ोर एकाग्रता
• दु: ख की घडि़यां
• मूड स्विंग और चिड़चिड़ापन या गुस्सा
• भूख परिवर्तन और भोजन cravings
• अनिद्रा
• उदास मन
• तनाव या चिंता
• समाज से दूरी बनाना

B. शारीरिक लक्षण

• सरदर्द
• थकान
• जोड़ों या मांसपेशियों में दर्द
• स्तन की कोमलता या सूजन
• मुँहासे भड़क उठते हैं
• शराब असहिष्णुता
• निचली कमर का दर्द
• कब्ज़
• सूजन

सटीक लक्षण और इसकी गंभीरता महिला से अलग-अलग होती है। पीएमएस के साथ ज्यादातर महिलाएं अपेक्षाकृत अनुमानित पैटर्न में केवल कुछ संभावित लक्षणों का अनुभव करती हैं। एक डॉक्टर से परामर्श करना चाहिए, यदि लक्षण आपके दैनिक जीवन को प्रभावित करना शुरू करते हैं या यदि लक्षण अपेक्षा से अधिक समय तक बने रहते हैं।

निदान और उपचार

• पीएमएस के शारीरिक निदान के लिए कोई अनोखी शारीरिक खोज या लैब टेस्ट मौजूद नहीं है।
• पीएमएस में विटामिन बी कॉम्प्लेक्स चिड़चिड़ापन, चिंता, मनोदशा आदि जैसे लक्षणों से राहत दिलाने में मदद करता है।
• एक को अनुभव के लक्षणों की एक डायरी रखनी चाहिए और पैटर्न को समझने और समझने के लिए कम से कम दो मासिक धर्म चक्र के लक्षणों को रिकॉर्ड करने के लिए एक कैलेंडर का उपयोग करें।
• रिकॉर्ड रखने से, उस दिन से ध्यान देने की उम्मीद की जाएगी कि आप पहले लक्षणों को नोटिस करते हैं और जिस दिन वे गायब हो जाते हैं। साथ ही अपने पीरियड्स के शुरू होने और खत्म होने का ट्रैक रखें।
• डॉक्टर आपको पीएमएस या अन्य स्थितियों के लक्षणों से संबंधित करने के लिए आपके परिवार के इतिहास या पिछले चिकित्सा इतिहास के बारे में पूछ सकते हैं।
• कुछ शर्त PMS की नकल कर सकती हैं, जिनमें शामिल हैं
a) क्रोनिक फेटीग सिंड्रोम
b) थायराइड विकार
c) गर्भावस्था

डॉक्टर किसी भी स्त्री रोग संबंधी समस्याओं की जांच के लिए थायरॉयड हार्मोन परीक्षण, गर्भावस्था परीक्षण या श्रोणि परीक्षा का आदेश दे सकती हैं।

• कुछ महिलाओं में लक्षणों को राहत देने के लिए जीवनशैली में बदलाव पर्याप्त हो सकते हैं, लेकिन लक्षणों के आधार पर आपके डॉक्टर एक या अधिक लक्षण जैसे कि एंटी-डिप्रेसेंट, एनएसएआईडी, हार्मोनल गर्भनिरोधक लिख सकते हैं।
• जीवनशैली में बदलाव के लिए बहुत सारे तरल पदार्थों का सेवन करना, समग्र स्वास्थ्य में सुधार के लिए संतुलित आहार खाना, फोलिक एसिड, विटामिन बी 6, कैल्शियम और मैग्नीशियम जैसे पूरक आहार लेना शामिल हो सकते हैं।
• थकान को दूर करने के लिए कम से कम 8 घंटे की नींद
• व्यायाम

पीएमएस के लिए पूरक

विटामिन की भूमिका

थियामिन (विटामिन बी 1)
पीएमएस में विटामिन बी कॉम्प्लेक्स, कुल मिलाकर, चिड़चिड़ापन, चिंता, मनोदशा आदि जैसे लक्षणों से राहत दिलाने में मदद करता है।
विटामिन बी 1 या थियामिन, पानी में घुलनशील विटामिन है। यह विटामिन कई जैविक कार्यों में एक आवश्यक भूमिका निभाता है जैसे रक्त की पुनःपूर्ति, काबोहाइड्रेट्स का चयापचय, शरीर की विभिन्न गतिविधियों में प्रभावी तंत्रिका गतिविधि और मांसपेशियों की टोन है। यह डिसमेनोरिया में भी प्रभावी है जो गर्भाशय की मांसपेशियों के संकुचन का परिणाम है।
जैसा कि उल्लेख किया गया है, यह कार्बोहाइड्रेट चयापचय का समर्थन करता है। यह आपके मूड और ऊर्जा का सुपर महत्वपूर्ण समर्थन है। जटिल कार्ब्स का यह प्रभाव होता है क्योंकि वे धीरे-धीरे पचते हैं और शरीर द्वारा अवशोषित होते हैं।
थायमिन न्यूरोमस्कुलर और केंद्रीय तंत्रिका तंत्र गतिविधियों में शामिल है। इसका मतलब है कि यह गर्भाशय की मांसपेशियों के संकुचन को नियंत्रित करता है, जिसे ऐंठन के रूप में जाना जाता है।
यह मूड विनियमन में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है और मांसपेशियों में ऐंठन को कम करता है।
एक वयस्क को प्रतिदिन 1.1 मिलीग्राम थायमिन का सेवन करना चाहिए ।


पाइरिडोक्सिन (विटामिन बी 6)
पाइरिडोक्सिन, जिसे आमतौर पर विटामिन बी 6 के रूप में जाना जाता है, शरीर में दो रूपों में मौजूद है: पाइरिडोक्सामाइन 5 'फॉस्फेट (पीएमपी) और पाइरिडोक्सल 5' फॉस्फेट (पीएलपी)।
विटामिन बी 6 शरीर में सेरोटोनिन और नॉरपेनेफ्रिन के स्तर के नियमन में मदद करता है और ये दो हार्मोन मूड को बढ़ाने और तनाव को दूर करने के लिए जाने जाते हैं। कुछ नैदानिक शोधों में, विटामिन बी 6 पीएमएस के भावनात्मक लक्षणों जैसे चिंता और अवसाद को कम करने के लिए जाना जाता है।
लेकिन विटामिन बी 6 यह अकेले नहीं कर सकता। राइबोफ्लेविन के साथ संयोजन में, विटामिन बी 6 पूरी तरह से अपने कार्यों को करने में सक्षम है। यही कारण है कि यह एक एकल बी विटामिन पूरक के बजाय एक बी कॉम्प्लेक्स लेने लायक है।
एक वयस्क को हर दिन 1.3 मिलीग्राम विटामिन बी 6 का सेवन करना चाहिए।


फोलेट (विटामिन बी 9)
फोलेट, या विटामिन बी 9, स्वस्थ गर्भधारण के लिए एक आवश्यक विटामिन के रूप में जाना जाता है, लेकिन सामान्य तौर पर हर महिला को स्वस्थ मासिक धर्म को बनाए रखने के लिए इस विटामिन का सेवन करना चाहिए। ऊर्जा और रक्त का उत्पादन करने के लिए फोलेट की आवश्यकता होती है
फोलेट आपके शरीर को डोपामाइन और सेरोटोनिन जैसे ऊर्जा, डीएनए और न्यूरोट्रांसमीटर का उत्पादन करने में मदद करता है। यह आपके मूड और भावनाओं को नियंत्रित करता है, विशेष रूप से मासिक धर्म के दौरान।
यह लाल रक्त कोशिकाओं का उत्पादन करने और लोहे के कार्य का समर्थन करने के लिए बी 12 के साथ संयोजन में भी काम करता है। यह संयोजन आपके शरीर को सभी अंगों को कुशलतापूर्वक ऑक्सीजन पहुंचाने में मदद करता है।
यह भी कहा गया है कि बी 6 प्रोजेस्टेरोन के स्तर को बढ़ाता है। शरीर में प्रोजेस्टेरोन की कमी पीएमएस के लक्षणों को बदतर बना सकती है।
एक वयस्क को प्रतिदिन 400 मिलीग्राम विटामिन बी 6 का सेवन करना चाहिए।


कोबालामिन (विटामिन बी 12)
सभी विटामिन आमतौर पर एक साथ काम करते हैं। इसलिए, ली गई खुराक को हमेशा अपनी शक्ति बढ़ाने के लिए एक संयोजन में लिया जाना चाहिए।
कोबालमिन, या विटामिन बी 12, आपके रक्त और तंत्रिका कोशिकाओं को स्वस्थ रखने में मदद करता है। यह एनीमिया को भी रोकता है और डीएनए के निर्माण में मदद करता है। यह माइलिन के उत्पादन में भी शामिल है जो आपकी तंत्रिका कोशिकाओं की रक्षा करता है, जो अंततः शरीर में त्वरित आवेगों को भेजने में मदद करता है, उचित संज्ञानात्मक कार्य को बनाए रखता है।
बी 12, अन्य बी विटामिन की तरह, लाल रक्त कोशिकाओं को बनाने के लिए आवश्यक है। यह आपकी अवधि के दौरान रक्त को फिर से भरने के लिए महत्वपूर्ण है, खासकर यदि आपके पास भारी प्रवाह है।
यह कहा गया है कि मछली के तेल के साथ कोबालिन का संयोजन अवधि दर्द की असुविधा से राहत देता है।
एक वयस्क महिला को हर दिन 2.4 मिलीग्राम विटामिन बी 12 का सेवन करना चाहिए।


मैग्नीशियम
मैग्नीशियम आपके 28-दिवसीय मासिक धर्म चक्र के संतुलन को बनाए रखने में मदद करता है। अन्य कार्यों में सूजन को दूर करना, अच्छी नींद को प्रोत्साहित करना और चिंता कम हो जाती है।
यह हड्डियों के विकास, रक्तचाप के नियमन में मदद करता है, रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करता है और दिलताल। एक नैदानिक शोध के अनुसार, यह साबित होता है कि मैग्नीशियम चिंता से राहत देता है।
जब विटामिन बी 6 के साथ संयोजन में दिया जाता है, तो यह मासिक धर्म की ऐंठन को भी कम कर सकता है।
पीएमएस में विटामिन बी कॉम्प्लेक्स मैग्नीशियम के साथ संयोजन में दिए जाने पर लक्षणों को आसानी से राहत देने में मदद करता है।


प्रोबायोटिक्स
जैसा कि हम सभी जानते हैं, प्रोबायोटिक्स का सेवन एक स्वस्थ आंत को बनाए रखने के लिए किया जाता है और पेट की स्वास्थ्य अवधि के लिए हमारे समग्र स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण है। जब एस्ट्रोजेन हमारे शरीर में फैलता है, तो यह कुछ स्वस्थ आंतों के बैक्टीरिया को फँसा या फिर से सक्रिय कर सकता है।
प्रोबायोटिक्स भी तनाव, अवसाद और चिंता से राहत देने में सकारात्मक परिणाम दिखाते हैं, जो पीएमएस के लक्षण हैं।




उपर ब्लॉग में बताई गई उपलब्धियाक Beplex-LZ के साथ उपलब्ध हैं।

बीप्लेक्स-एलजेड हार्ड जिलेटिन कैप्सूल है जिसमें लैक्टोबैसिलस स्पोरोजेन्स 200 मिलियन बीजाणु होते हैं, जिसमें बी-कॉम्प्लेक्स विटामिन की पूरी चिकित्सीय खुराक और विटामिन सी, विटामिन ई और एलिमेंटल जिंक जैसे विभिन्न आवश्यक विटामिन होते हैं जो एंटीबायोटिक एसोसिएटेड डायरिया और आवर्तक योनि संक्रमण के उपचार में मदद करते हैं।



AFDIL Ltd.
+91 9920121021

order@afdil.com

Read Also:


Disclaimer
Home