Heart Disease in Women

heart-disease

How heart disease affects women?

Coronary heart disease (CHD) is basically narrowing of the small blood vessels that supply blood and oxygen to the heart. CHD is also called coronary artery disease; arterioscelortic heart disease; CHD; CAD. It is the number one cause of death in women above the age of 25.

It is often though that heart diseases happen more in men than in women. However, in USA it is one of the common causes of death for both women and men. Usually there is a difference of symptoms of heart disease between men and women, so women often don’t know what to look for becoming a cause of death for women. In U.S. 1 out of 4 women suffers death due to heart disease.

Thus, by learning about the symptoms of heart disease, women can take proper precautions to reduce the risks.

Heart disease is a name for several abnormal conditions of the heart and blood vessels. These include:

• coronary artery disease (blockages in the blood vessels around the heart)

• peripheral artery disease (blockages in the blood vessels in the arms or legs)

• problems with your heart’s rhythm (arrhythmia)

• problems with your heart’s muscles or valves (valvular heart disease)

• congestive heart failure (problem with the pumping or relaxation functions of the heart muscle)

These issues may develop over time or may be a result of abnormal formation of the heart in utero (before birth, called congenital heart disease). Heart disease is also called cardiovascular disease.

It is found that approximately 6 percent of U.S. women over age 20 have coronary heart disease or coronary artery disease, which is the most common type. The risk of heart disease increases with age.

Despite increases in awareness over the past decades, only about half (56%) of women recognize that heart disease is their number 1 killer.

Some symptoms of heart disease

There are no initial symptoms of heart disease in many women until there is an emergency of heart attack. But, in case there are some early symptoms then this includes:
• chest pain or discomfort, which can be either sharp, or dull and heavy (called angina)
• painful neck, jaw, or throat
• pain in your upper abdomen
• back pain in upper part
• nausea
• fatigue
• shortness of breath
• weakness
• changes in skin color, such as grayish skin
• sweating
These symptoms may occur at any time in your life even when you’re at rest or during activities of daily life. These can also be the symptoms of a heart attack.

Other symptoms of heart disease

More indications may get apparent as coronary illness advances. Indications can differ depending upon what specific kind of coronary illness you have. The side effects of coronary illness in ladies are likewise not the same as in men, who are bound to have chest pain. Possible later indications of coronary illness in ladies include:
• swelling in your legs, feet, or ankles
• weight gain
• problems sleeping
• your heart feeling like it’s beating very fast (heart palpitations)
• coughing
• wheezing
• sweating
• light headedness
• indigestion
• heartburn
• anxiety
• fainting

Symptoms of heart attack in women

Many people expect a heart attack to come on suddenly. But research suggests that women experience symptoms for several weeks before a heart attack.

A study published in 2003 of 515 women who had experienced a heart attack, reports 80 percent of women had at least 1 symptom at least 4 weeks before their heart attack.

Symptoms may be constant or come and go, and they may also disrupt sleep.

It is vital for a woman who experiences any of these symptoms to seek help immediately, as heart attacks can be fatal, regardless of whether symptoms are mild or severe.

Eight of the symptoms of a possible heart attack are:

1. Chest pain

The most common symptom of heart attack in both males and females is chest pain or discomfort.

It may be described as:

• tightness

• pressure

• squeezing

• aching

However, women can experience a heart attack without having any chest discomfort.

Some 29.7 percent of the women surveyed in the 2003 study experienced chest discomfort in the weeks before the attack. Also, 57 percent had chest pain during the heart attack.

2. Extreme or unusual fatigue

Unusual fatigue is often reported in the weeks leading up to a heart attack. Fatigue is also experienced just before the event occurs.

Even simple activities that do not require much exertion can lead to feelings of being exhausted.

3. Weakness

Feeling weak or shaky is a common acute symptom of a heart attack in a female.

This weakness or shaking may be accompanied by:

• anxiety

• dizziness

• fainting

• feeling lightheaded

4. Shortness of breath

Shortness of breath or heavy breathing without exertion, especially when accompanied by fatigue or chest pain, may suggest heart problems.

Some women may feel short of breath when lying down, with the symptom easing when they are sitting upright.

5. Sweating

Excessive sweating without a normal cause is another common heart attack symptom in women.

Feeling cold and clammy can also be an indicator of heart problems.

6. Upper body pain

This is usually non-specific and cannot be attributed to a particular muscle or joint in the upper body.

Areas that can be affected include:

• neck

• jaw

• upper back or either arm

The pain can start in one area and gradually spread to others, or it may come on suddenly.

7. Sleep disturbances

Almost half of women in the 2003 study reported issues with sleep in the weeks before they had a heart attack.

These disturbances may involve:

• difficulty getting to sleep

• unusual waking throughout the night

• feeling tired despite getting enough sleep

8. Stomach problems

Some women may feel pain or pressure in the stomach before a heart attack.

Other digestive issues associated with a possible heart attack can include:

• indigestion

• nausea

• vomiting

Risk factors for women

Several traditional risk factors for coronary artery disease — such as high cholesterol, high blood pressure and obesity — affect both women and men. But other factors can play a bigger role in the development of heart disease in women.

Heart disease risk factors for women include:

• Diabetes: One of the major risk factors for women is diabetes. Ladies with diabetes are bound to develop coronary illness than are men with diabetes. Also, because diabetes can change the manner in which you feel pain, you're at more serious danger of having a silent heart attack — without side effects.

• Mental stress and depression: Another risk factors for women to develop heart disease is having mental stress. Women’s heart is more affected than men when she is undergoing through stress and depression. Depression makes it difficult to maintain a healthy lifestyle and follow recommended treatment.

• Smoking: Smoking is a greater risk factor for women to have heart disease than it is in men.

• Inactivity: It is found that inactivity is one of the risk factors for women to develop heart disease. Some research has found women to be less active than men.

• Menopause: Other risk factors for women is menopause to develop heart disease. Low levels of estrogen after menopause pose a significant risk of developing disease in smaller blood vessels.

• Pregnancy complications: Another risk factors for women is pregnancy complications which leads to the development of heart disease. High blood pressure or diabetes during pregnancy can increase the mother's long-term risk of high blood pressure and diabetes. The conditions also make women more likely to get heart disease.

• Family history of early heart disease: One of the risk factors for women is having heart disease in her family history. And thus, it appears to be a greater risk factor in women than in men.

• Inflammatory diseases: Some of the inflammatory diseases such as rheumatoid arthritis, lupus and others is one of the risk factors for women and men both related to heart disease.

risk-factors-for-women

Should only old women worry about heart disease?

No. Ladies of all ages, should treat coronary illness appropriately. Ladies under age 65 — particularly those with a family background of coronary illness — likewise need to give close consideration to coronary illness risk factors.

When to visit a doctor?

It's never too soon to see a specialist to examine your danger for coronary illness. In fact, the new primary prevention guidelines say that the earlier the danger factors for coronary illness are prevented or treated, the more uncertain you are to develop coronary illness later in life.

Thus, in case you're worried about your danger for coronary illness, plan to examine how you can prevent this exceptionally preventable condition. You can connect with a cardiologist in your space utilizing the Healthline.

In case you're having any manifestations whatsoever, it's vital to examine these with your primary care physician as coronary illness can disguise from various perspectives.

It's not difficult to excuse many notice indications of coronary illness like exhaustion, heartburn, and windedness as a typical piece of life or gentle ailment. But since a heart attack can happen out of nowhere, it's significant not to overlook any possible admonition signs.

In the event that you have any of the above manifestations of coronary illness, particularly in the event that you additionally have hazard factors, see a specialist.

Steps to reduce risk of heart disease?

Living a healthy lifestyle can help reduce the risk of heart disease. Try these heart-healthy strategies:

• Quit smoking: If you don't smoke, don't start. Try to avoid exposure to smoke, which also can damage blood vessels.

• Exercise regularly: In general, everybody should do moderate exercise, such as walking at a brisk pace, on most days of the week. The Department of Health and Human Services suggests at-least 150 minutes every seven days stretch of moderate aerobic activity, 75 minutes of vigorous aerobic activity seven days, or a combination of the two. That is around 30 minutes every day, five days per week. If that's more than you can do, start gradually and develop. Indeed, even five minutes per day of activity has medical advantages. For a greater wellbeing support, focus on around an hour of moderate to vigorous exercise a day, five days every week. Also do strength training exercises at least two days per week. It's ok to break up your exercises into a few 10-minute sessions during a day. You'll still get a similar heart-medical advantages.

• Maintain a healthy weight: Ask your doctor what weight is best for you. If you're overweight, losing even a few pounds can lower blood pressure and reduce the risk of diabetes. Definition of healthy weight defers from person to person but maintaining a normal body mass index (BMI) is helpful. BMI is basically a measurement of body fat calculated from height and weight. There is an increased risk of heart disease when the BMI is 25 or more than 25. Your waist measurement additionally is a helpful tool to tell whether you're overweight. Women are by and large thought to be overweight if their waist measurement is greater than 35 inches (89 centimeters).

• Eat a healthy diet: Opt for whole grains, a variety of fruits and vegetables, low-fat or fat-free dairy products, and lean meats. Avoid saturated or trans fats, added sugars, and high amounts of salt. To maintain healthy diet control your portion size, limit unhealthy fats, select whole grains, eat more vegetables and fruits, choose low-fat protein sources and reduce salt in your food.

• Manage your stress: Stress can cause your arteries to tighten, which can increase your risk of heart disease, particularly coronary microvascular disease.

• Limit alcohol: If you have more than one drink a day, cut back. One drink is approximately 12 ounces (360 milliliters) of beer, 5 ounces (150 milliliters) of wine or 1.5 ounces (45 milliliters) of distilled spirits, such as vodka or whiskey.

• Follow your treatment plan: Take your medications as prescribed, such as blood pressure medications, blood thinners and aspirin.

• Manage other health conditions: High blood pressure, high cholesterol and diabetes increase the risk of heart disease.

Heart disease and menopause

Menopause is an ordinary stage in a lady's life. It's the changes ladies feel either previously or after they stop having their period. It ordinarily occurs between the ages of 45 and 55.

The ovaries step by step make less estrogen, a female hormone. This causes changes in the period. It likewise brings other actual changes like:

• Hot flashes

• Night sweats

• Emotional changes

• Changes in the vagina (like dryness)

Ladies can likewise lose estrogen if the ovaries are taken out during a medical procedure, (for example, during a total hysterectomy), by taking certain drugs, or if a lady goes through early menopause.

The loss of natural estrogen as women get older may play a part in the higher risks of heart disease seen after menopause. Other things that may lead to risks of heart disease then include:

• Changes in the walls of the blood vessels, making it more probable for plaque and blood clots to form.

• Changes in the degree of fats in the blood. LDL, or "bad" cholesterol, goes up and HDL, or "good" cholesterol, goes down.

• Increase in fibrinogen levels. That is a substance in the blood that helps the blood coagulation. An increase makes it more probable for blood clots to form. A clot in the heart can cause a heart attack, and one in the brain can cause a stroke.

Are there any disparities between male and female related to heart disease?

Generally, the speed and nature of medical services for females with heart disease is lower than that of males in the U.S.

As per the National Heart, Lung, and Blood Institute (NHLBI), females are bound to encounter delays in getting an EKG when they visit the hospital for manifestations that could indicate heart disease in comparison with males.

Specialists are additionally less inclined to perform indicative tests for CAD in females, while youthful females are bound to get an incorrect finding following a cardiac event. This can result in misdiagnosis and individuals leaving the hospital without treatment.

Females additionally face obstructions when they do not receive a diagnosis. Compared with males, they are:

• 45% less likely to get statins

• 35% less likely to get beta blockers

• 28% more likely to visit the emergency center (ER) more than twice in a year

• less likely to get treatment from a heart specialist

• less likely to get a pacemaker or defibrillator

• less likely to receive procedures, like percutaneous coronary intervention or a coronary bypass

This impacts wellbeing outcomes for females, causing and increased risk of death.

Why are there disparities?

In a large 2018 study including 10,000 women with heart disease, researchers found that women were significantly more likely than men to report problems with their healthcare.

Women were 23% more likely to say that their doctor never or rarely listens to them, and 20% more likely to say their doctor never or only occasionally showed them respect. Overall, 1 in 4 felt dissatisfied with their care.

These disparities remained even after the researchers controlled for other factors, such as age, income level, insurance status, education level, and ethnicity. This suggests that gender bias has an impact on heart disease treatment in women.

The study has some limitations. In the study, 75% of women were white, 14% were African American, 10% were Hispanic, and 2% were Asian. The study did not look at how gendered racism also affects the prevalence or treatment of heart disease.

Men and women may also have different expectations of their doctors. Medication compliance could also account for these differences. However, as the study also found significant disparities in medication prescriptions and ER visits, this would not fully explain the results.

Is the treatment for heart disease different for women than in men?

Mostly, the treatment of heart disease in both men and women is same. Some of the treatments incorporate medications, angioplasty and stenting, or coronary bypass surgery.

Ladies are less likely to be prescribed statin treatment to prevent future respiratory failures than are men. However, studies show the advantages are same in both men and women. Angioplasty and stenting, usually utilized medicines for heart attacks, work for both groups. But it is found that there are more complications in women for coronary bypass surgery than men.

Cardiac rehabilitation can improve wellbeing and help recuperation from heart disease. But women are less likely to be referred for cardiac rehabilitation than men are.

Aspirin for women to prevent heart disease

If you've had a cardiovascular failure, your doctor may suggest that you take low-portion aspirin each day to help prevent another. But it is found that there is an increased risk of bleeding while consuming aspirin. Thus, every day aspirin treatment isn't suggested for ladies who've never had a heart attack.

Never begin taking aspirin for heart disease prevention on your own. Talk with your primary care physician about your risks and advantages of taking aspirin.

Diagnosis and some heart health tests

Some of the diagnostic steps taken by doctor are:

• Taking a clinical history: Doctors may ask when the side effects started, whether anything makes them worse or better, and about an individual's overall wellbeing and way of life.

• Perform blood tests: blood test is performed to find the total blood count, lipid, C-reactive protein test, sodium and potassium tests, and organ function tests.

• Perform noninvasive tests: This could incorporate an electrocardiogram (EKG), echocardiogram, arrhythmia monitor, cardiac MRI, or stress test.

• Perform invasive tests: If specialists need more data, they may perform more intrusive tests. This could include cardiac catheterization, where a specialist inserts a wire in an artery to measure blood flow in small blood vessels.

A specialist may perform out these tests if an individual has risk factors for heart disease, regardless of whether they have few or no symptoms.

Heart health tests:

Heart diseases are the number one killer in the U.S. They are also a major cause of disability. If you do have a heart disease, it is important to find it early, when it is easier to treat. Blood tests and heart health tests can help find heart diseases or identify problems that can lead to heart diseases. There are several different types of heart health tests. Your doctor will decide which test or tests you need, based on your symptoms (if any), risk factors, and medical history.

Cardiac Catheterization

Cardiac catheterization is a medical procedure used to diagnose and treat some heart conditions. For the procedure, your doctor puts a catheter (a long, thin, flexible tube) into a blood vessel in your arm, groin, or neck, and threads it to your heart.

Cardiac CT Scan

A cardiac CT (computed tomography) scan is a painless imaging test that uses x-rays to take detailed pictures of your heart and its blood vessels. Computers can combine these pictures to create a three-dimensional (3D) model of the whole heart.

Reasons for the test:

• Assess the structure of the heart

• Determine if blockages are present in the coronary arteries

Cardiac MRI

Cardiac MRI (magnetic resonance imaging) is a painless imaging test that uses radio waves, magnets, and a computer to create detailed pictures of your heart. It can help your doctor figure out whether you have heart disease, and if so, how severe it is. A cardiac MRI can also help your doctor decide the best way to treat heart problems

Reasons for the test:

• Assess heart structure

• Look for scar tissue within the heart muscle

• Assess the function of heart valves

Chest X-Ray

A chest x-ray creates pictures of the organs and structures inside your chest, such as your heart, lungs, and blood vessels. It can reveal signs of heart failure, as well as lung disorders and other causes of symptoms not related to heart disease.

Coronary Angiography

Coronary angiography (angiogram) is a procedure that uses contrast dye and x-ray pictures to look at the insides of your arteries. It can show whether plaque is blocking your arteries and how severe the blockage is. Doctors use this procedure to diagnose heart diseases after chest pain, sudden cardiac arrest, or abnormal results from other heart tests such as an EKG or a stress test.

Echocardiography

Echocardiography, or echo, is a painless test that uses sound waves to create moving pictures of your heart. The pictures show the size and shape of your heart. They also show how well your heart's chambers and valves are working. Doctors use an echo to diagnose many different heart problems, and to check how severe they are.

Electrocardiogram (EKG), (ECG)

An electrocardiogram, also called an ECG or EKG, is a painless test that detects and records your heart's electrical activity. It shows how fast your heart is beating and whether its rhythm is steady or irregular.

An EKG may be part of a routine exam to screen for heart disease. Or you may get it to detect and study heart problems such as heart attacks, arrhythmia, and heart failure.

Transesophageal echocardiography (TEE):

Uses high-frequency sound waves (ultrasound) to make detailed pictures of your heart and the arteries that lead to and from it. The echo transducer that produces the sound waves for TEE is attached to a thin tube that passes through your mouth, down your throat and into your esophagus, which is very close to the upper chambers of the heart.

Reasons for the test:

• Assess the function of heart valves

• Follow heart valve disease

• Look for blood clots inside the heart

Medical devices for heart

1. Automated external defibrillators (AEDs)

“Portable and automatic, these devices are often found in public places and can save lives. They can help restore normal heart rhythm in patients whose hearts suddenly and unexpectedly stop pumping blood, an event called cardiac arrest. AEDs analyze heart rhythm and can help rescuers determine whether a shock is needed to restore a normal heartbeat. These devices are not difficult to use, but training in the use of AEDs is highly recommended.

2. Cardiac ablation catheters

“Long, thin flexible tubes that are threaded into or onto the heart, cardiac ablation catheters treat abnormally rapid heartbeats. They work by modifying small areas of heart tissue that are causing abnormal heart rhythms.”

3. Cardiovascular angioplasty devices

“These are long, thin, flexible tubes that are threaded into a heart or other blood vessel to open narrowed or blocked areas. They are intended to improve blood flow to the heart, reduce chest pain, and treat heart attacks.”

4. Cardiac pacemakers

“Small and battery-powered, pacemakers are implanted into the body. Used when the heart beats too slowly, they monitor the organ’s electrical impulses and, when needed, deliver electrical stimulation to make it beat at a more appropriate rate.”

5. Implantable cardioverter defibrillators (ICDs)

“These devices monitor heart rhythms and deliver shocks if dangerously fast rhythms are detected. Many record the heart’s electrical patterns when certain abnormal rhythms occur, allowing doctors to review the patterns.”

6. Prosthetic (artificial) heart valves

“Used for replacing diseased or dysfunctional heart valves, which direct blood flow through the heart, these are available in two forms. Mechanical valves are made of man-made materials. The second type, called ‘bioprosthetic’ valves, are made from tissue taken from animals or human cadavers.”

7. Stents

“Small, lattice-shaped, metal tubes that are inserted permanently into an artery, stents are intended to help improve blood flow. Some contain drugs that may reduce the chance that arteries will become blocked again.”

8. Ventricular assist devices (VADs)

“Mechanical pumps that are intended to help weak hearts pump blood effectively, VADs were originally approved for short-term use until donor hearts became available. Some are now approved for long-term therapy in patients with severe heart failure who are not candidates for heart transplants.”

Treatment

The treatment for heart disease depends on a number of factors, such as the type of disease, how advanced it is, and any other conditions a person may have. It may involve a combination of:

• dietary and lifestyle changes

• medications to lower cholesterol, manage blood pressure, or prevent blood clots

• medical procedures or surgery

For some, diet and lifestyle changes are enough to reduce the risk of heart disease through management of weight, cholesterol, and blood pressure. However, people with heart disease may need medication which include:

• beta-blockers

• calcium channel blockers

• ACE inhibitors

• anticoagulants

• nitrates

• statins

• aspirin

People with more severe heart disease may need surgery. This could include:

• percutaneous coronary intervention to place stents or open blocked arteries

• coronary artery bypass surgery to repair blocked arteries

• valve replacement or repair

• pacemaker or balloon catheter implantation

• maze surgery to redirect the electrical signals in the heart and correct atrial fibrillation

health-tests

Takeaway

Though people might not realize, but heart disease is much common in women and is one of the major causes of death among women.

Usually, women might have a heart disease but doesn’t have any symptoms. Thus, it is advised to see doctor as soon as possible to determine the risk for heart disease and learn measures to reduce the risk.

And in case you have symptoms, visit your doctor so that they can test for heart disease and give treatment before any damage happens.




The above essentials are available with AFD SHIELD.
AFD Shield capsule is a combination of 12 natural ingredients among which are Algal DHA, Ashwagandha, Curcumin and Spirullina. AFD Shield reduces TG, increases HDL and improves age related cognitive decline. It also reduces stress and anxiety and performs anti-aging activity.Moreover, it also enhances the immunomodulatory activity, improves immunity and reduces inflammation and oxidative stress. Nutralogicx: AFD SHIELD

महिलाओं में हृदय रोग

heart-disease

हृदय रोग महिलाओं को कैसे प्रभावित करता है?

कोरोनरी हृदय रोग (सीएचडी) मूल रूप से हृदय को रक्त और ऑक्सीजन की आपूर्ति करने वाली छोटी रक्त वाहिकाओं का संकुचित होना है। सीएचडी को कोरोनरी धमनी रोग भी कहा जाता है; धमनीकाठिन्य हृदय रोग; सीएचडी; सीएडी। यह 25 वर्ष से अधिक उम्र की महिलाओं में मृत्यु का नंबर एक कारण है।

हालांकि अक्सर ऐसा होता है कि महिलाओं की तुलना में पुरुषों में हृदय रोग अधिक होते हैं। हालांकि, संयुक्त राज्य अमेरिका में यह महिलाओं और पुरुषों दोनों के लिए मृत्यु के सामान्य कारणों में से एक है। आमतौर पर पुरुषों और महिलाओं में हृदय रोग के लक्षणों में अंतर होता है, इसलिए महिलाओं को अक्सर यह नहीं पता होता है कि महिलाओं के लिए मौत का कारण बनने के लिए क्या देखना चाहिए। अमेरिका में 4 में से 1 महिला की मौत हृदय रोग के कारण होती है।

इस प्रकार, हृदय रोग के लक्षणों के बारे में जानकर महिलाएं जोखिम कम करने के लिए उचित सावधानी बरत सकती हैं।

हृदय रोग हृदय और रक्त वाहिकाओं की कई असामान्य स्थितियों का नाम है। इसमे शामिल है:

• कोरोनरी धमनी रोग (हृदय के चारों ओर रक्त वाहिकाओं में रुकावट)

• परिधीय धमनी रोग (हाथों या पैरों में रक्त वाहिकाओं में रुकावट)

• आपके दिल की लय के साथ समस्याएं (अतालता)

• आपके हृदय की मांसपेशियों या वाल्वों में समस्याएं (वाल्वुलर हृदय रोग)

• कंजेस्टिव दिल की विफलता (हृदय की मांसपेशियों के पंपिंग या विश्राम कार्यों में समस्या)

ये मुद्दे समय के साथ विकसित हो सकते हैं या गर्भाशय में हृदय के असामान्य गठन का परिणाम हो सकते हैं (जन्म से पहले, जिसे जन्मजात हृदय रोग कहा जाता है)। हृदय रोग को हृदय रोग भी कहा जाता है।

यह पाया गया है कि 20 वर्ष से अधिक आयु की लगभग 6 प्रतिशत अमेरिकी महिलाओं को कोरोनरी हृदय रोग या कोरोनरी धमनी की बीमारी है, जो कि सबसे आम प्रकार है। उम्र के साथ हृदय रोग का खतरा बढ़ जाता है।

पिछले दशकों में जागरूकता में वृद्धि के बावजूद, केवल आधी (56%) महिलाएं ही मानती हैं कि हृदय रोग उनका नंबर 1 हत्यारा है।

हृदय रोग के कुछ लक्षण

दिल का दौरा पड़ने की आपात स्थिति होने तक कई महिलाओं में हृदय रोग के कोई प्रारंभिक लक्षण नहीं होते हैं। लेकिन, अगर कुछ शुरुआती लक्षण हैं तो इसमें शामिल हैं:
• सीने में दर्द या बेचैनी, जो या तो तेज, या सुस्त और भारी हो सकती है (जिसे एनजाइना कहा जाता है)
• दर्दनाक गर्दन, जबड़े या गले
• आपके पेट के ऊपरी हिस्से में दर्द
• पीठ दर्द ऊपरी हिस्से में
• मतली
• थकान
• सांस की तकलीफ
• कमजोरी
• त्वचा के रंग में परिवर्तन, जैसे कि भूरी त्वचा
• पसीना आना
ये लक्षण आपके जीवन में किसी भी समय हो सकते हैं, तब भी जब आप आराम कर रहे हों या दैनिक जीवन की गतिविधियों के दौरान। ये भी हार्ट अटैक के लक्षण हो सकते हैं।

हृदय रोग के अन्य लक्षण

जैसे-जैसे कोरोनरी बीमारी आगे बढ़ती है, और अधिक संकेत स्पष्ट हो सकते हैं। आपको किस प्रकार की कोरोनरी बीमारी है, इसके आधार पर संकेत भिन्न हो सकते हैं। महिलाओं में कोरोनरी बीमारी के दुष्प्रभाव वैसे ही नहीं होते जैसे पुरुषों में होते हैं, जिन्हें सीने में दर्द होना तय है। महिलाओं में कोरोनरी बीमारी के संभावित बाद के लक्षणों में शामिल हैं:
• आपके पैरों, पैरों या टखनों में सूजन
• भार बढ़ना
• सोने में समस्या
• आपका दिल ऐसा महसूस कर रहा है कि यह बहुत तेज़ धड़क रहा है (दिल की धड़कन)
• खाँसना
• घरघराहट
• पसीना आना
• हल्का सिरदर्द
• खट्टी डकार
• पेट में जलन
• चिंता
• बेहोशी

महिलाओं में हार्ट अटैक के लक्षण

बहुत से लोग उम्मीद करते हैं कि दिल का दौरा अचानक आ जाए। लेकिन शोध बताते हैं कि महिलाओं को दिल का दौरा पड़ने से पहले कई हफ्तों तक लक्षणों का अनुभव होता है।

दिल का दौरा पड़ने वाली 515 महिलाओं में से 2003 में प्रकाशित एक अध्ययन में बताया गया है कि 80 प्रतिशत महिलाओं में दिल का दौरा पड़ने से कम से कम 4 सप्ताह पहले कम से कम 1 लक्षण था।

लक्षण स्थिर हो सकते हैं या आ सकते हैं और जा सकते हैं, और वे नींद को भी बाधित कर सकते हैं।

इन लक्षणों में से किसी एक का अनुभव करने वाली महिला के लिए तुरंत मदद लेना महत्वपूर्ण है, क्योंकि दिल का दौरा घातक हो सकता है, भले ही लक्षण हल्के हों या गंभीर।

संभावित दिल के दौरे के लक्षणों में से आठ हैं:

1. सीने में दर्द

पुरुषों और महिलाओं दोनों में दिल के दौरे का सबसे आम लक्षण सीने में दर्द या बेचैनी है।

इसे इस प्रकार वर्णित किया जा सकता है:

• जकड़न

• दबाव

• निचोड़ना

• दर्द

हालांकि, महिलाओं को सीने में तकलीफ के बिना दिल का दौरा पड़ सकता है।

2003 के अध्ययन में सर्वेक्षण में शामिल 29.7 प्रतिशत महिलाओं ने हमले से पहले के हफ्तों में सीने में परेशानी का अनुभव किया। साथ ही 57 फीसदी को हार्ट अटैक के दौरान सीने में दर्द हुआ।

2. अत्यधिक या असामान्य थकान

दिल का दौरा पड़ने वाले हफ्तों में अक्सर असामान्य थकान की सूचना दी जाती है। घटना होने से ठीक पहले थकान भी अनुभव होती है।

यहां तक ​​​​कि साधारण गतिविधियां जिनमें अधिक परिश्रम की आवश्यकता नहीं होती है, वे थकावट की भावना पैदा कर सकती हैं।

3. कमजोरी

कमजोर या कांपना एक महिला में दिल के दौरे का एक सामान्य तीव्र लक्षण है।

यह कमजोरी या झटकों के साथ हो सकता है:

• चिंता

• चक्कर आना

• बेहोशी

• हल्का महसूस कर रहा है

4. सांस की तकलीफ

सांस की तकलीफ या बिना परिश्रम के भारी सांस लेना, खासकर जब थकान या सीने में दर्द के साथ, हृदय की समस्याओं का सुझाव दे सकता है।

कुछ महिलाओं को लेटते समय सांस की तकलीफ महसूस हो सकती है, जब वे सीधे बैठी होती हैं तो लक्षण कम हो जाते हैं।

5. पसीना आना

सामान्य कारण के बिना अत्यधिक पसीना आना महिलाओं में दिल का दौरा पड़ने का एक और आम लक्षण है।

ठंड लगना और चिपचिपा महसूस होना भी दिल की समस्याओं का संकेत हो सकता है।

6. ऊपरी शरीर में दर्द

यह आमतौर पर गैर-विशिष्ट होता है और इसे ऊपरी शरीर में किसी विशेष मांसपेशी या जोड़ के लिए जिम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता है।

प्रभावित होने वाले क्षेत्रों में शामिल हैं:

•गर्दन

• जबड़ा

• पीठ के ऊपरी हिस्से या दोनों हाथ

दर्द एक क्षेत्र में शुरू हो सकता है और धीरे-धीरे दूसरों में फैल सकता है, या यह अचानक आ सकता है।

7. नींद की गड़बड़ी

2003 के अध्ययन में लगभग आधी महिलाओं ने दिल का दौरा पड़ने से पहले के हफ्तों में नींद के साथ मुद्दों की सूचना दी।

इन गड़बड़ी में शामिल हो सकते हैं:

• सोने में कठिनाई

• रात भर असामान्य जागरण

• पर्याप्त नींद लेने के बावजूद थकान महसूस करना

8. पेट की समस्या

कुछ महिलाओं को दिल का दौरा पड़ने से पहले पेट में दर्द या दबाव महसूस हो सकता है।

संभावित दिल के दौरे से जुड़े अन्य पाचन मुद्दों में शामिल हो सकते हैं:

• खट्टी डकार

• जी मिचलाना

• उल्टी

महिलाओं के लिए जोखिम कारक

कोरोनरी धमनी की बीमारी के लिए कई पारंपरिक जोखिम कारक - जैसे उच्च कोलेस्ट्रॉल, उच्च रक्तचाप और मोटापा - महिलाओं और पुरुषों दोनों को प्रभावित करते हैं। लेकिन अन्य कारक महिलाओं में हृदय रोग के विकास में बड़ी भूमिका निभा सकते हैं।

महिलाओं के लिए हृदय रोग जोखिम कारकों में शामिल हैं:

• मधुमेह: महिलाओं के लिए प्रमुख जोखिम कारकों में से एक मधुमेह है। मधुमेह से पीड़ित पुरुषों की तुलना में मधुमेह वाली महिलाओं में कोरोनरी रोग होने की संभावना अधिक होती है। इसके अलावा, क्योंकि मधुमेह आपके दर्द महसूस करने के तरीके को बदल सकता है, आपको बिना किसी दुष्प्रभाव के साइलेंट हार्ट अटैक होने का अधिक गंभीर खतरा है।

• मानसिक तनाव और अवसाद: महिलाओं में हृदय रोग विकसित होने का एक अन्य जोखिम कारक मानसिक तनाव है। तनाव और डिप्रेशन के दौर से गुजरने पर महिलाओं का दिल पुरुषों की तुलना में ज्यादा प्रभावित होता है। अवसाद एक स्वस्थ जीवन शैली को बनाए रखना और अनुशंसित उपचार का पालन करना मुश्किल बना देता है।

• धूम्रपान: धूम्रपान पुरुषों की तुलना में महिलाओं को हृदय रोग होने का एक बड़ा जोखिम कारक है।

• निष्क्रियता: यह पाया गया है कि निष्क्रियता महिलाओं में हृदय रोग विकसित करने के जोखिम कारकों में से एक है। कुछ शोधों में महिलाओं को पुरुषों की तुलना में कम सक्रिय पाया गया है।

• रजोनिवृत्ति: महिलाओं के लिए अन्य जोखिम कारक हैं रजोनिवृत्ति हृदय रोग विकसित करने के लिए। रजोनिवृत्ति के बाद एस्ट्रोजन का निम्न स्तर छोटी रक्त वाहिकाओं में बीमारी के विकास का एक महत्वपूर्ण जोखिम पैदा करता है।

• गर्भावस्था की जटिलताएं: महिलाओं के लिए एक अन्य जोखिम कारक गर्भावस्था की जटिलताएं हैं जो हृदय रोग के विकास की ओर ले जाती हैं। गर्भावस्था के दौरान उच्च रक्तचाप या मधुमेह माँ के लिए उच्च रक्तचाप और मधुमेह के दीर्घकालिक जोखिम को बढ़ा सकता है। स्थितियां भी महिलाओं को हृदय रोग होने की अधिक संभावना बनाती हैं।

• प्रारंभिक हृदय रोग का पारिवारिक इतिहास: महिलाओं के लिए जोखिम कारकों में से एक उनके पारिवारिक इतिहास में हृदय रोग होना है। और इस प्रकार, यह पुरुषों की तुलना में महिलाओं में अधिक जोखिम कारक प्रतीत होता है।

• सूजन संबंधी बीमारियां: कुछ सूजन संबंधी बीमारियां जैसे रुमेटीइड गठिया, ल्यूपस और अन्य महिलाओं और पुरुषों दोनों के लिए हृदय रोग से संबंधित जोखिम कारकों में से एक है।

risk-factors-for-women

क्या केवल बूढ़ी महिलाओं को हृदय रोग की चिंता करनी चाहिए?

नहीं, सभी उम्र की महिलाओं को कोरोनरी बीमारी का उचित इलाज करना चाहिए। 65 वर्ष से कम उम्र की महिलाओं - विशेष रूप से कोरोनरी बीमारी की पारिवारिक पृष्ठभूमि वाली - को भी कोरोनरी बीमारी के जोखिम कारकों पर ध्यान देने की आवश्यकता है।

डॉक्टर के पास कब जाएं?

कोरोनरी बीमारी के लिए अपने खतरे की जांच करने के लिए किसी विशेषज्ञ को देखना जल्दबाज़ी नहीं है। वास्तव में, नए प्राथमिक रोकथाम दिशानिर्देश कहते हैं कि जितनी जल्दी कोरोनरी बीमारी के खतरे वाले कारकों को रोका या इलाज किया जाता है, उतना ही अनिश्चित होता है कि आप जीवन में बाद में कोरोनरी बीमारी विकसित करेंगे।

इस प्रकार, यदि आप कोरोनरी बीमारी के अपने खतरे के बारे में चिंतित हैं, तो यह जांचने की योजना बनाएं कि आप इस असाधारण रोकथाम योग्य स्थिति को कैसे रोक सकते हैं। आप हेल्थलाइन का उपयोग करके अपने क्षेत्र के हृदय रोग विशेषज्ञ से जुड़ सकते हैं।

यदि आपको कोई लक्षण दिखाई दे रहे हैं, तो अपने प्राथमिक देखभाल चिकित्सक से इनकी जांच करना महत्वपूर्ण है क्योंकि हृदय रोग विभिन्न दृष्टिकोणों से छिपा हो सकता है।

जीवन के एक सामान्य भाग या हल्की बीमारी के रूप में थकावट, नाराज़गी, और वाइंडनेस जैसे कोरोनरी बीमारी के कई नोटिस संकेतों को बहाना मुश्किल नहीं है। लेकिन चूंकि दिल का दौरा कहीं से भी हो सकता है, इसलिए यह महत्वपूर्ण है कि किसी भी संभावित चेतावनी संकेतों को नजरअंदाज न करें।

यदि आपको उपरोक्त में से कोई भी हृदय रोग के लक्षण हैं, खासकर यदि आपके पास भी जोखिम कारक हैं, तो एक विशेषज्ञ को देखें

हृदय रोग के जोखिम को कम करने के उपाय?

एक स्वस्थ जीवन शैली जीने से हृदय रोग के जोखिम को कम करने में मदद मिल सकती है। इन हृदय-स्वस्थ रणनीतियों का प्रयास करें:

• धूम्रपान छोड़ें: यदि आप धूम्रपान नहीं करते हैं, तो शुरू न करें। धुएं के संपर्क में आने से बचने की कोशिश करें, जो रक्त वाहिकाओं को भी नुकसान पहुंचा सकता है।

• नियमित रूप से व्यायाम करें: सामान्य तौर पर, सभी को मध्यम व्यायाम करना चाहिए, जैसे कि तेज गति से चलना, सप्ताह के अधिकांश दिनों में। स्वास्थ्य और मानव सेवा विभाग हर सात दिनों में कम से कम 150 मिनट की मध्यम एरोबिक गतिविधि, 75 मिनट की जोरदार एरोबिक गतिविधि सात दिन, या दोनों के संयोजन का सुझाव देता है। यानी हर दिन लगभग 30 मिनट, सप्ताह में पांच दिन। यदि आप जितना कर सकते हैं उससे अधिक है, तो धीरे-धीरे शुरू करें और विकसित करें। दरअसल, प्रतिदिन पांच मिनट की गतिविधि के भी चिकित्सीय लाभ हैं। अधिक भलाई के समर्थन के लिए, एक दिन में लगभग एक घंटे के मध्यम से जोरदार व्यायाम पर ध्यान दें, हर हफ्ते पांच दिन। सप्ताह में कम से कम दो दिन स्ट्रेंथ ट्रेनिंग एक्सरसाइज भी करें। एक दिन के दौरान अपने व्यायाम को कुछ 10 मिनट के सत्रों में तोड़ना ठीक है। आपको अभी भी इसी तरह के हृदय-चिकित्सीय लाभ मिलेंगे।

• स्वस्थ वजन बनाए रखें: अपने डॉक्टर से पूछें कि आपके लिए कौन सा वजन सबसे अच्छा है। यदि आप अधिक वजन वाले हैं, तो कुछ पाउंड खोने से भी रक्तचाप कम हो सकता है और मधुमेह का खतरा कम हो सकता है। स्वस्थ वजन की परिभाषा एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में भिन्न होती है लेकिन सामान्य बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) बनाए रखना सहायक होता है। बीएमआई मूल रूप से ऊंचाई और वजन से गणना की गई शरीर में वसा का माप है। बीएमआई 25 या 25 से अधिक होने पर हृदय रोग का खतरा बढ़ जाता है। आपकी कमर की माप अतिरिक्त रूप से यह बताने के लिए एक सहायक उपकरण है कि क्या आप अधिक वजन वाले हैं। महिलाओं को मोटे तौर पर अधिक वजन माना जाता है यदि उनकी कमर का माप 35 इंच (89 सेंटीमीटर) से अधिक है।

• स्वस्थ आहार लें: साबुत अनाज, विभिन्न प्रकार के फल और सब्जियां, कम वसा वाले या वसा रहित डेयरी उत्पाद और लीन मीट चुनें। संतृप्त या ट्रांस वसा, अतिरिक्त शर्करा और उच्च मात्रा में नमक से बचें। स्वस्थ आहार बनाए रखने के लिए अपने हिस्से के आकार को नियंत्रित करें, अस्वास्थ्यकर वसा को सीमित करें, साबुत अनाज का चयन करें, अधिक सब्जियां और फल खाएं, कम वसा वाले प्रोटीन स्रोत चुनें और अपने भोजन में नमक कम करें।

• अपने तनाव को प्रबंधित करें: तनाव के कारण आपकी धमनियां सख्त हो सकती हैं, जिससे आपके हृदय रोग, विशेष रूप से कोरोनरी माइक्रोवास्कुलर रोग का खतरा बढ़ सकता है।

• शराब सीमित करें: यदि आप एक दिन में एक से अधिक पेय पीते हैं, तो कम कर दें। एक पेय लगभग 12 औंस (360 मिलीलीटर) बीयर, 5 औंस (150 मिलीलीटर) शराब या 1.5 औंस (45 मिलीलीटर) आसुत आत्माओं, जैसे वोदका या व्हिस्की है।

• अपनी उपचार योजना का पालन करें: अपनी दवाएं निर्धारित अनुसार लें, जैसे रक्तचाप की दवाएं, रक्त को पतला करने वाली दवाएं और एस्पिरिन।

• अन्य स्वास्थ्य स्थितियों का प्रबंधन करें: उच्च रक्तचाप, उच्च कोलेस्ट्रॉल और मधुमेह हृदय रोग के जोखिम को बढ़ाते हैं।

हृदय रोग और रजोनिवृत्ति

रजोनिवृत्ति एक महिला के जीवन में एक सामान्य अवस्था है। ये वो बदलाव हैं जो महिलाएं या तो पहले महसूस करती हैं या उनके पीरियड्स बंद होने के बाद। यह आमतौर पर 45 और 55 की उम्र के बीच होता है।

अंडाशय धीरे-धीरे कम एस्ट्रोजन, एक महिला हार्मोन बनाते हैं। यह अवधि में परिवर्तन का कारण बनता है। यह इसी तरह अन्य वास्तविक परिवर्तन लाता है जैसे:

• अचानक बुखार वाली गर्मी महसूस करना

• रात को पसीना

• भावनात्मक परिवर्तन

• योनि में परिवर्तन (जैसे सूखापन)

यदि किसी चिकित्सीय प्रक्रिया के दौरान (उदाहरण के लिए, कुल हिस्टरेक्टॉमी के दौरान), कुछ दवाएं लेने से, या यदि कोई महिला जल्दी रजोनिवृत्ति से गुज़रती है, तो महिलाओं में एस्ट्रोजन की कमी हो सकती है।

महिलाओं की उम्र बढ़ने के साथ प्राकृतिक एस्ट्रोजन का नुकसान रजोनिवृत्ति के बाद देखे जाने वाले हृदय रोग के उच्च जोखिम में एक भूमिका निभा सकता है। अन्य चीजें जो हृदय रोग के जोखिम को जन्म दे सकती हैं उनमें शामिल हैं:

• रक्त वाहिकाओं की दीवारों में परिवर्तन, जिससे प्लाक और रक्त के थक्कों के बनने की संभावना बढ़ जाती है।

• रक्त में वसा की मात्रा में परिवर्तन। एलडीएल, या "खराब" कोलेस्ट्रॉल बढ़ जाता है और एचडीएल, या "अच्छा" कोलेस्ट्रॉल नीचे चला जाता है।

• फाइब्रिनोजेन के स्तर में वृद्धि। यह रक्त में एक पदार्थ है जो रक्त जमावट में मदद करता है। इसके बढ़ने से रक्त के थक्कों के बनने की संभावना बढ़ जाती है। दिल में एक थक्का दिल का दौरा पड़ सकता है, और मस्तिष्क में एक स्ट्रोक का कारण बन सकता है।

क्या पुरुष और महिला के बीच हृदय रोग से संबंधित कोई असमानता है?

आम तौर पर, हृदय रोग से पीड़ित महिलाओं के लिए चिकित्सा सेवाओं की गति और प्रकृति अमेरिका में पुरुषों की तुलना में कम है

नेशनल हार्ट, लंग एंड ब्लड इंस्टीट्यूट (NHLBI) के अनुसार, महिलाओं को ईकेजी प्राप्त करने में देरी का सामना करना पड़ता है, जब वे उन अभिव्यक्तियों के लिए अस्पताल जाती हैं जो पुरुषों की तुलना में हृदय रोग का संकेत दे सकती हैं।

विशेषज्ञ अतिरिक्त रूप से महिलाओं में सीएडी के लिए सांकेतिक परीक्षण करने के लिए इच्छुक नहीं हैं, जबकि युवा महिलाओं को हृदय संबंधी घटना के बाद गलत खोज मिल सकती है। इसके परिणामस्वरूप गलत निदान हो सकता है और व्यक्ति बिना उपचार के अस्पताल छोड़ सकते हैं।

निदान नहीं मिलने पर महिलाओं को अतिरिक्त रूप से रुकावटों का सामना करना पड़ता है। पुरुषों की तुलना में, वे हैं:

• स्टैटिन मिलने की संभावना ४५% कम है

• बीटा ब्लॉकर्स होने की संभावना 35% कम

• वर्ष में दो बार से अधिक २८% अधिक आपातकालीन केंद्र (ईआर) का दौरा करने की संभावना है

• हृदय रोग विशेषज्ञ से उपचार मिलने की संभावना कम

• पेसमेकर या डिफाइब्रिलेटर मिलने की संभावना कम

• पर्क्यूटेनियस कोरोनरी इंटरवेंशन या कोरोनरी बाईपास जैसी प्रक्रियाओं को प्राप्त करने की संभावना कम होती है

यह महिलाओं के लिए भलाई के परिणामों को प्रभावित करता है, जिससे मृत्यु का खतरा बढ़ जाता है।

असमानताएं क्यों हैं?

हृदय रोग से पीड़ित 10,000 महिलाओं सहित 2018 के एक बड़े अध्ययन में, शोधकर्ताओं ने पाया कि पुरुषों की तुलना में महिलाओं में उनकी स्वास्थ्य देखभाल के साथ समस्याओं की रिपोर्ट करने की संभावना काफी अधिक थी।

महिलाओं के यह कहने की संभावना २३% अधिक थी कि उनके डॉक्टर कभी भी या शायद ही कभी उनकी बात सुनते हैं, और २०% अधिक यह कहने की संभावना है कि उनके डॉक्टर ने कभी या केवल कभी-कभी उनका सम्मान किया। कुल मिलाकर, 4 में से 1 ने अपनी देखभाल से असंतुष्ट महसूस किया।

उम्र, आय स्तर, बीमा स्थिति, शिक्षा स्तर और जातीयता जैसे अन्य कारकों के लिए शोधकर्ताओं द्वारा नियंत्रित किए जाने के बाद भी ये असमानताएं बनी रहीं। इससे पता चलता है कि लिंग पूर्वाग्रह का महिलाओं में हृदय रोग के उपचार पर प्रभाव पड़ता है।

अध्ययन की कुछ सीमाएँ हैं। अध्ययन में, 75% महिलाएं श्वेत थीं, 14% अफ्रीकी अमेरिकी थीं, 10% हिस्पैनिक थीं, और 2% एशियाई थीं। अध्ययन में यह नहीं देखा गया कि कैसे लिंग जातिवाद हृदय रोग के प्रसार या उपचार को भी प्रभावित करता है।

पुरुषों और महिलाओं को भी अपने डॉक्टरों से अलग-अलग उम्मीदें हो सकती हैं। इन मतभेदों के लिए दवा अनुपालन भी जिम्मेदार हो सकता है। हालाँकि, जैसा कि अध्ययन में दवा के नुस्खे और ईआर यात्राओं में महत्वपूर्ण असमानताएँ पाई गईं, यह पूरी तरह से परिणामों की व्याख्या नहीं करेगा।

क्या पुरुषों की तुलना में महिलाओं के लिए हृदय रोग का इलाज अलग है?

अधिकतर पुरुषों और महिलाओं दोनों में हृदय रोग का इलाज एक ही होता है। कुछ उपचारों में दवाएं, एंजियोप्लास्टी और स्टेंटिंग, या कोरोनरी बाईपास सर्जरी शामिल हैं।

पुरुषों की तुलना में महिलाओं को भविष्य में श्वसन विफलताओं को रोकने के लिए निर्धारित स्टेटिन उपचार की संभावना कम होती है। हालांकि, अध्ययनों से पता चलता है कि लाभ पुरुषों और महिलाओं दोनों में समान हैं। एंजियोप्लास्टी और स्टेंटिंग, आमतौर पर दिल के दौरे के लिए उपयोग की जाने वाली दवाएं, दोनों समूहों के लिए काम करती हैं। लेकिन यह पाया गया है कि पुरुषों की तुलना में महिलाओं में कोरोनरी बाईपास सर्जरी के लिए अधिक जटिलताएं हैं।

कार्डिएक पुनर्वास भलाई में सुधार कर सकता है और हृदय रोग से उबरने में मदद कर सकता है। लेकिन पुरुषों की तुलना में महिलाओं को कार्डियक रिहैबिलिटेशन के लिए रेफर किए जाने की संभावना कम होती है।

महिलाओं के लिए एस्पिरिन हृदय रोग को रोकने के लिए

यदि आपको कार्डियोवैस्कुलर विफलता हुई है, तो आपका डॉक्टर सुझाव दे सकता है कि आप दूसरे को रोकने में मदद के लिए प्रत्येक दिन कम भाग एस्पिरिन लें। लेकिन यह पाया गया है कि एस्पिरिन के सेवन से रक्तस्राव का खतरा बढ़ जाता है। इस प्रकार, उन महिलाओं के लिए हर दिन एस्पिरिन उपचार का सुझाव नहीं दिया जाता है जिन्हें कभी दिल का दौरा नहीं पड़ा है।

हृदय रोग की रोकथाम के लिए कभी भी एस्पिरिन लेना शुरू न करें। एस्पिरिन लेने के अपने जोखिमों और लाभों के बारे में अपने प्राथमिक देखभाल चिकित्सक से बात करें।

निदान और कुछ हृदय स्वास्थ्य परीक्षण

डॉक्टर द्वारा उठाए गए कुछ नैदानिक ​​कदम हैं:

• एक नैदानिक ​​इतिहास लेना: डॉक्टर पूछ सकते हैं कि दुष्प्रभाव कब शुरू हुए, क्या कुछ भी उन्हें बदतर या बेहतर बनाता है, और किसी व्यक्ति की समग्र भलाई और जीवन के तरीके के बारे में पूछ सकता है।

• रक्त परीक्षण करें: कुल रक्त गणना, लिपिड, सी-रिएक्टिव प्रोटीन परीक्षण, सोडियम और पोटेशियम परीक्षण, और अंग कार्य परीक्षण का पता लगाने के लिए रक्त परीक्षण किया जाता है।

• गैर-इनवेसिव परीक्षण करें: इसमें इलेक्ट्रोकार्डियोग्राम (ईकेजी), इकोकार्डियोग्राम, अतालता मॉनिटर, कार्डियक एमआरआई या तनाव परीक्षण शामिल हो सकता है।

• आक्रामक परीक्षण करें: यदि विशेषज्ञों को अधिक डेटा की आवश्यकता है, तो वे अधिक दखल देने वाले परीक्षण कर सकते हैं। इसमें कार्डियक कैथीटेराइजेशन शामिल हो सकता है, जहां एक विशेषज्ञ छोटी रक्त वाहिकाओं में रक्त के प्रवाह को मापने के लिए धमनी में एक तार डालता है।

एक विशेषज्ञ इन परीक्षणों को कर सकता है यदि किसी व्यक्ति में हृदय रोग के जोखिम कारक हैं, भले ही उनमें कुछ लक्षण हों या नहीं।

हृदय स्वास्थ्य परीक्षण:

हृदय रोग अमेरिका में नंबर एक हत्यारा हैं वे विकलांगता का एक प्रमुख कारण भी हैं। यदि आपको हृदय रोग है, तो इसका जल्द पता लगाना महत्वपूर्ण है, जब इसका इलाज करना आसान हो। रक्त परीक्षण और हृदय स्वास्थ्य परीक्षण हृदय रोगों का पता लगाने या उन समस्याओं की पहचान करने में मदद कर सकते हैं जिनसे हृदय रोग हो सकते हैं। हृदय स्वास्थ्य परीक्षण के कई अलग-अलग प्रकार हैं। आपके लक्षणों (यदि कोई हो), जोखिम कारकों और चिकित्सा इतिहास के आधार पर आपका डॉक्टर तय करेगा कि आपको कौन से परीक्षण या परीक्षण की आवश्यकता है।

कार्डियक कैथीटेराइजेशन

कार्डिएक कैथीटेराइजेशन एक चिकित्सा प्रक्रिया है जिसका उपयोग कुछ हृदय स्थितियों के निदान और उपचार के लिए किया जाता है। प्रक्रिया के लिए, आपका डॉक्टर आपकी बांह, कमर या गर्दन की रक्त वाहिका में एक कैथेटर (एक लंबी, पतली, लचीली ट्यूब) डालता है, और इसे आपके दिल में पिरोता है।

कार्डिएक सीटी स्कैन

कार्डियक सीटी (कंप्यूटेड टोमोग्राफी) स्कैन एक दर्द रहित इमेजिंग टेस्ट है जो आपके दिल और उसकी रक्त वाहिकाओं की विस्तृत तस्वीरें लेने के लिए एक्स-रे का उपयोग करता है। कंप्यूटर इन चित्रों को मिलाकर पूरे हृदय का त्रि-आयामी (3D) मॉडल बना सकता है।

परीक्षण के कारण:

• हृदय की संरचना का आकलन करें

• निर्धारित करें कि क्या कोरोनरी धमनियों में रुकावटें मौजूद हैं

कार्डिएक एमआरआई

कार्डिएक एमआरआई (चुंबकीय अनुनाद इमेजिंग) एक दर्द रहित इमेजिंग परीक्षण है जो आपके दिल की विस्तृत तस्वीरें बनाने के लिए रेडियो तरंगों, मैग्नेट और कंप्यूटर का उपयोग करता है। यह आपके डॉक्टर को यह पता लगाने में मदद कर सकता है कि क्या आपको हृदय रोग है और यदि हां, तो यह कितना गंभीर है। कार्डियक एमआरआई आपके डॉक्टर को दिल की समस्याओं के इलाज का सबसे अच्छा तरीका तय करने में भी मदद कर सकता है

परीक्षण के कारण:

• हृदय संरचना का आकलन करें

• हृदय की मांसपेशी के भीतर निशान ऊतक की तलाश करें

• हृदय वाल्व के कार्य का आकलन करें

छाती का एक्स - रे

छाती का एक्स-रे आपकी छाती के अंदर के अंगों और संरचनाओं की तस्वीरें बनाता है, जैसे कि आपका हृदय, फेफड़े और रक्त वाहिकाएं। यह दिल की विफलता के लक्षणों के साथ-साथ फेफड़ों के विकारों और हृदय रोग से संबंधित लक्षणों के अन्य कारणों को प्रकट कर सकता है।

कोरोनरी एंजियोग्राफी

कोरोनरी एंजियोग्राफी (एंजियोग्राम) एक ऐसी प्रक्रिया है जो आपकी धमनियों के अंदरूनी हिस्से को देखने के लिए कंट्रास्ट डाई और एक्स-रे चित्रों का उपयोग करती है। यह दिखा सकता है कि क्या पट्टिका आपकी धमनियों को अवरुद्ध कर रही है और कितनी गंभीर रुकावट है। डॉक्टर इस प्रक्रिया का उपयोग सीने में दर्द, अचानक कार्डियक अरेस्ट या ईकेजी या स्ट्रेस टेस्ट जैसे अन्य हृदय परीक्षणों के असामान्य परिणामों के बाद हृदय रोगों के निदान के लिए करते हैं।

इकोकार्डियोग्राफी

इकोकार्डियोग्राफी, या इको, एक दर्द रहित परीक्षण है जो आपके दिल की चलती तस्वीरें बनाने के लिए ध्वनि तरंगों का उपयोग करता है। तस्वीरें आपके दिल के आकार और आकार को दर्शाती हैं। वे यह भी दिखाते हैं कि आपके दिल के कक्ष और वाल्व कितनी अच्छी तरह काम कर रहे हैं। डॉक्टर कई अलग-अलग हृदय समस्याओं का निदान करने के लिए और यह जांचने के लिए कि वे कितने गंभीर हैं, एक प्रतिध्वनि का उपयोग करते हैं।

इलेक्ट्रोकार्डियोग्राम (ईकेजी), (ईसीजी)

एक इलेक्ट्रोकार्डियोग्राम, जिसे ईसीजी या ईकेजी भी कहा जाता है, एक दर्द रहित परीक्षण है जो आपके दिल की विद्युत गतिविधि का पता लगाता है और रिकॉर्ड करता है। यह दर्शाता है कि आपका दिल कितनी तेजी से धड़क रहा है और उसकी लय स्थिर है या अनियमित।

हृदय रोग की जांच के लिए एक ईकेजी नियमित परीक्षा का हिस्सा हो सकता है। या आप इसे दिल की समस्याओं जैसे दिल के दौरे, अतालता और दिल की विफलता का पता लगाने और उनका अध्ययन करने के लिए प्राप्त कर सकते हैं।

ट्रांससोफेजियल इकोकार्डियोग्राफी (टीईई):

उच्च आवृत्ति वाली ध्वनि तरंगों (अल्ट्रासाउंड) का उपयोग आपके दिल और धमनियों की विस्तृत तस्वीरें बनाने के लिए करता है जो इसे ले जाती हैं। टीईई के लिए ध्वनि तरंगों का उत्पादन करने वाला इको ट्रांसड्यूसर एक पतली ट्यूब से जुड़ा होता है जो आपके मुंह से, आपके गले से नीचे और आपके अन्नप्रणाली में गुजरती है, जो हृदय के ऊपरी कक्षों के बहुत करीब है।

परीक्षण के कारण:

• हृदय वाल्व के कार्य का आकलन करें

• हृदय वाल्व रोग का पालन करें

• हृदय के अंदर रक्त के थक्कों की तलाश करें

दिल के लिए चिकित्सा उपकरण

1. स्वचालित बाहरी डिफिब्रिलेटर (एईडी)

“पोर्टेबल और स्वचालित, ये उपकरण अक्सर सार्वजनिक स्थानों पर पाए जाते हैं और जान बचा सकते हैं। वे उन रोगियों में सामान्य हृदय ताल बहाल करने में मदद कर सकते हैं जिनके दिल अचानक और अप्रत्याशित रूप से रक्त पंप करना बंद कर देते हैं, एक घटना जिसे कार्डियक अरेस्ट कहा जाता है। एईडी दिल की लय का विश्लेषण करते हैं और बचाव दल को यह निर्धारित करने में मदद कर सकते हैं कि सामान्य दिल की धड़कन को बहाल करने के लिए झटके की जरूरत है या नहीं। इन उपकरणों का उपयोग करना मुश्किल नहीं है, लेकिन एईडी के उपयोग में प्रशिक्षण की अत्यधिक अनुशंसा की जाती है।

2. कार्डिएक एब्लेशन कैथेटर्स

"लंबी, पतली लचीली ट्यूब जो हृदय में या उस पर पिरोई जाती हैं, कार्डियक एब्लेशन कैथेटर असामान्य रूप से तेज़ दिल की धड़कन का इलाज करते हैं। वे हृदय के ऊतकों के छोटे क्षेत्रों को संशोधित करके काम करते हैं जो असामान्य हृदय ताल पैदा कर रहे हैं।"

3. कार्डियोवैस्कुलर एंजियोप्लास्टी डिवाइस

“ये लंबी, पतली, लचीली ट्यूब होती हैं जिन्हें संकुचित या अवरुद्ध क्षेत्रों को खोलने के लिए हृदय या अन्य रक्त वाहिका में पिरोया जाता है। उनका उद्देश्य हृदय में रक्त के प्रवाह में सुधार करना, सीने में दर्द को कम करना और दिल के दौरे का इलाज करना है।"

4. कार्डिएक पेसमेकर

“छोटे और बैटरी से चलने वाले, पेसमेकर को शरीर में प्रत्यारोपित किया जाता है। जब दिल बहुत धीमी गति से धड़कता है, तो वे अंग के विद्युत आवेगों की निगरानी करते हैं और जब आवश्यक हो, विद्युत उत्तेजना प्रदान करते हैं ताकि इसे अधिक उचित दर से हराया जा सके।

5. इम्प्लांटेबल कार्डियोवर्टर डिफाइब्रिलेटर्स (ICDs)

"ये उपकरण दिल की लय की निगरानी करते हैं और खतरनाक रूप से तेज़ लय का पता चलने पर झटके देते हैं। कुछ असामान्य लय होने पर कई लोग हृदय के विद्युत पैटर्न को रिकॉर्ड करते हैं, जिससे डॉक्टर पैटर्न की समीक्षा कर सकते हैं।"

6. कृत्रिम (कृत्रिम) हृदय वाल्व

"रोगग्रस्त या निष्क्रिय हृदय वाल्वों को बदलने के लिए उपयोग किया जाता है, जो हृदय के माध्यम से रक्त प्रवाह को निर्देशित करते हैं, ये दो रूपों में उपलब्ध हैं। यांत्रिक वाल्व मानव निर्मित सामग्री से बने होते हैं। दूसरा प्रकार, जिसे 'बायोप्रोस्थेटिक' वाल्व कहा जाता है, जानवरों या मानव शवों से लिए गए ऊतक से बने होते हैं।"

7. स्टेंट

"छोटी, जाली के आकार की, धातु की नलियां जो स्थायी रूप से धमनी में डाली जाती हैं, स्टेंट का उद्देश्य रक्त प्रवाह को बेहतर बनाने में मदद करना है। कुछ में ऐसी दवाएं होती हैं जो इस संभावना को कम कर सकती हैं कि धमनियां फिर से अवरुद्ध हो जाएंगी।"

8. वेंट्रिकुलर असिस्ट डिवाइस (VADs)

"मैकेनिकल पंप जिनका उद्देश्य कमजोर दिलों को रक्त को प्रभावी ढंग से पंप करने में मदद करना है, वीएडी को मूल रूप से अल्पकालिक उपयोग के लिए अनुमोदित किया गया था जब तक कि दाता दिल उपलब्ध नहीं हो जाता। कुछ अब गंभीर हृदय विफलता वाले रोगियों में दीर्घकालिक चिकित्सा के लिए स्वीकृत हैं जो हृदय प्रत्यारोपण के लिए उम्मीदवार नहीं हैं। ”

इलाज

हृदय रोग का उपचार कई कारकों पर निर्भर करता है, जैसे कि रोग का प्रकार, यह कितना उन्नत है, और किसी व्यक्ति की कोई अन्य स्थिति हो सकती है। इसमें निम्न का संयोजन शामिल हो सकता है:

• आहार और जीवन शैली में परिवर्तन

• कोलेस्ट्रॉल कम करने, रक्तचाप को प्रबंधित करने या रक्त के थक्कों को रोकने के लिए दवाएं

• चिकित्सा प्रक्रिया या सर्जरी

कुछ के लिए, वजन, कोलेस्ट्रॉल और रक्तचाप के प्रबंधन के माध्यम से हृदय रोग के जोखिम को कम करने के लिए आहार और जीवनशैली में बदलाव पर्याप्त हैं। हालांकि, हृदय रोग वाले लोगों को दवा की आवश्यकता हो सकती है जिसमें शामिल हैं:

• बीटा अवरोधक

• कैल्शियम चैनल अवरोधक

• एसीई अवरोधक

• थक्कारोधी

• नाइट्रेट्स

• स्टेटिन्स

• एस्पिरिन

अधिक गंभीर हृदय रोग वाले लोगों को सर्जरी की आवश्यकता हो सकती है। इसमें शामिल हो सकते हैं:

• स्टेंट लगाने या अवरुद्ध धमनियों को खोलने के लिए परक्यूटेनियस कोरोनरी इंटरवेंशन

• अवरुद्ध धमनियों की मरम्मत के लिए कोरोनरी धमनी बाईपास सर्जरी

• वाल्व बदलना या मरम्मत करना

• पेसमेकर या बैलून कैथेटर इम्प्लांटेशन

• हृदय में विद्युत संकेतों को पुनर्निर्देशित करने और आलिंद फिब्रिलेशन को ठीक करने के लिए भूलभुलैया सर्जरी

health-tests

निष्कर्ष

हालांकि लोगों को इस बात का अंदाजा नहीं होगा, लेकिन महिलाओं में हृदय रोग बहुत आम है और महिलाओं में मौत के प्रमुख कारणों में से एक है।.

आमतौर पर, महिलाओं को हृदय रोग हो सकता है लेकिन उनमें कोई लक्षण नहीं होते हैं। इस प्रकार, हृदय रोग के जोखिम को निर्धारित करने और जोखिम को कम करने के उपायों को जानने के लिए जल्द से जल्द डॉक्टर को देखने की सलाह दी जाती है।

और यदि आपके लक्षण हैं, तो अपने चिकित्सक से मिलें ताकि वे हृदय रोग की जांच कर सकें और कोई नुकसान होने से पहले उपचार दे सकें।




उपर ब्लॉग में बताई गई उपलब्धिया AFD-SHIELD के साथ उपलब्ध हैं
एएफडी शील्ड कैप्सूल 12 प्राकृतिक अवयवों का एक संयोजन है जिनमें से अलगल डीएचए, अश्वगंधा, करक्यूमिन और स्पिरुलिना हैं। एएफडी शील्ड टीजी को कम करता है, एचडीएल बढ़ाता है और उम्र से संबंधित संज्ञानात्मक गिरावट में सुधार करता है। यह तनाव और चिंता को भी कम करता है और एंटी-एजिंग गतिविधि करता है। इसके अलावा, यह इम्युनोमॉड्यूलेटरी गतिविधि को बढ़ाता है, प्रतिरक्षा में सुधार करता है और सूजन और ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करता है। न्यूट्रोग्लिग्क्स: एएफडी-शील्ड

AFDIL Ltd.
+91 9920121021

order@afdil.com

Read Also:


Disclaimer
Home