Everything about organ donation

What is organ donation?

To understand Organ Donation in India, it is first important to understand Organ Transplants in India. A transplant is a medical procedure where one person’s dysfunctional organ or tissue is replaced by that of a healthy person, thus restoring its function. In certain cases, despite major advances in medical science, transplant is the only alternative. Transplants drastically improve the quality of life of the patient and give them another chance to live.

To state the obvious, a transplant can only take place if there is an organ available from a donor. While most organs that are transplanted are from deceased donors, patients may also receive organs from living donors. Living persons can donate a kidney, portions of the liver, lung, pancreas, intestines, blood, and still continue to live a normal life. According to the law, however, the prerogative on the decision for deceased donors eventually rests with the next of kin of the deceased.

One organ donor can donate up to twenty five different organs and tissues for transplantation. This can save up to nine lives!

Organ Donation

Types of Organ Donation

1) Living Donation
Living donation offers another choice for some transplant candidates, reducing their time on the waiting list and leading to better long term outcomes for the recipient.
A living donor is an option for patients who otherwise may face a lengthy wait for an organ from a deceased donor. To spare an individual a long and uncertain wait, relatives, loved ones, friends, and even individuals who wish to remain anonymous may serve as living donors.
Kidney and liver transplant candidates who are able to receive a living donor transplant can receive the best quality organ much sooner, often in less than a year .

Organ donation in India consist of more than 100,000 people are on the national transplant waiting list.
More than 85% of patients waiting are in need of a kidney.
11% of patients waiting are in need of a liver.
In 2020, 5,700 more lives were saved through the help of living donors.

Facts about Living Donation
•Living donation is an opportunity to save a life while you are still alive.
•Living organ donation in India and transplantation was developed as a direct result of the critical shortage of deceased donors.
•Living donors don’t have to be related to their recipients. On average, 1 in 4 living donors are not biologically related to the recipient.
•Patients who receive a living donor transplant are removed from the national transplant waiting list, making the gift of a deceased donor kidney or liver available for someone else in need.
•If you are considering being a living donor, it’s important to note that living donation is not included in your deceased donor registration. In 2021, you will be able to register your interest in being a living donor in the National Donate Life Living Donor Registry (check back for updated information). A living donor transplant program will conduct a full evaluation to determine your eligibility to be a living donor.

Types of Living Donation
Directed Donation
In a directed donation, the living donor names the specific person to receive the transplant. This is the most common type of living donation. In a directed donation, the living donor may be:
a biological relative, such as a parent, brother, sister, or adult child
a biologically unrelated person who has a personal or social connection with the transplant candidate, such as a spouse or significant other, a friend or a coworker
a biologically unrelated person who has heard about the transplant candidate’s need
If tests reveal that the living donor would not be a good medical match, paired donation may be an option.
Non-Directed Donation
In non-directed donation, the living donor does not name the specific person to receive transplant in organ donation in India. The match is determined based on medical compatibility with a patient on the national transplant waiting list. The living donor and recipient may meet at some time, if they both agree, and depending on transplant hospital policy and guidance.
Kidney Paired Donation
According to UNOS, kidney paired donation (KPD), also called kidney exchange, occurs when a transplant candidate has someone who wants to donate a kidney to them, but tests reveal that the kidney would not be a good medical match. Kidney paired donation gives that transplant candidate another option: swapping living donor kidneys so each recipient receives a compatible transplant.
This type of exchange often involves multiple living kidney donor/transplant candidate pairs.
Who Can Donate?
Living donors should be in good overall physical and mental health and older than 18 years of age for organ donation in India . Some medical conditions could prevent an individual from being a living donor. Since some donor health conditions could harm a transplant recipient, it is important that living donor candidates share all information about their physical and mental health. It is important to be fully informed of the known risks involved with donating and complete a full medical and psychosocial evaluation. The decision to donate should be completely voluntary and free of pressure or guilt, and donors can delay or stop the process at any time.

Risks of Living Donation
Living donation is a major surgery, and all potential complications of major surgery apply. These complications may include:
•pain
•infection at the incision site
•incisional hernia
•pneumonia
•blood clots
•hemorrhaging
•potential need for blood transfusions
•side effects associated with allergic reactions to the anesthesia
•death
According to the National Kidney Foundation, living donors in studies report a boost in self-esteem, and 9 out of 10 say they would do it again. However, living donors may also experience negative psychological symptoms right after donation or later. The transplanted organ may not work right away. There is also the chance it will not work at all. Donors may feel sad, anxious, angry, or resentful after surgery. Donation may change the relationship between donor and recipient.
The best source of information about risks and expected donor outcomes is the transplant team. In addition, it is important to take an active role in learning more about these potential surgical risks and long-term complications.
Living donors must be made aware of the physical and psychological risks involved before they consent to donate an organ. Please discuss all feelings, questions and concerns with a transplant professional and/or social worker.

2)Deceased Donation
Deceased organ donation in India is the process of giving an organ or a part of an organ, at the time of the donor’s death, for the purpose of transplantation to another person.At the end of your life, you can give life to others.
In order for a person to become an organ donor, blood and oxygen must flow through the organs until the time of recovery to ensure viability. This requires that a person die under circumstances that have resulted in a fatal brain injury, usually from massive trauma resulting in bleeding, swelling or lack of oxygen to the brain.
Only after all efforts to save the patient’s life have been exhausted, tests have been performed to confirm the absence of brain or brainstem activity, and brain death has been declared, is donation a possibility.
The state and national Donate Life Registries are searched securely online to determine if the patient has personally authorized donation. If the potential donor is not found in the Registry, his or her next of kin or legally authorized representative (usually a spouse, relative or close friend) is offered the opportunity to authorize the donation. Once the donation decision is established, the family is asked to provide a medical and social history. Donation and transplantation professionals determine which organs can be transplanted and to which patients on the national transplant waiting list the organs are to be allocated.
Only 1–2% of people who die can be considered for organ donation.Most people can be considered for tissue donation.Organ and tissue donation are considered only after all lifesaving efforts have failed and it is certain a patient will not survive.There is no cost to your family or estate if you donate organs or tissues.Most of the time, there is no way to tell that the person was an organ or tissue donor and you can have an open casket funeral.The surgery to remove organs and tissues is done with the same care as any other surgery.

Andhra Pradesh
The Government of Andhra Pradesh has its own law to regulate organ donation in the state. The Andhra Pradesh Transplantation of Human Organs Act, 1995, was enacted by the government shortly after the central act. The deceased donor program functions under the banner of Jeevandan since January 2013 in the state. The deceased organ donation rate as of 2014 is 0.6 pmp.

Karnataka
The Zonal Coordination Committee of Karnataka is the government body that oversees the transplantation process in the state of Karnataka. Between 2007 and 2012, Karnataka has recorded 58 deceased organ donations. However, there was a huge gap between the number of organs donated and the number of recipients waiting for a transplant. In 2018, the state had registered 90 organ donations. Over 90% of the donations came from private hospitals.

Madhya Pradesh
The city of Indore in Madhya Pradesh had 34 green corridors as of 2018, all created within the previous three years. It became the first city to have a green corridor in the air after using an aircraft to transport organs in July 2017.

Maharashtra
The Zonal Transplant Coordination Center (ZTCC) in Mumbai and Nagpur oversees organ transplantation activities in Maharashtra. Between 2012 and 2014, the state recorded 116 organ transplants. In 2018, 135 donations were recorded.[36] In 2019, Maharashtra overtook Tamil Nadu and Telangana in organ donations with 447 organ transplantations.The ZTCC has also conducted programs together with more than 20 NGOs to improve public awareness.

Tamil Nadu
Main article: Organ transplantation in Tamil Nadu
The state of Tamil Nadu had the most deceased organ donations in the country until 2018. It ranks first in deceased organ donation rate at 1.8 pmp as of 2018,[38] a figure seven times higher than the national average. In 2008, the Government of Tamil Nadu made brain death certification mandatory in the state and established the Cadaver Transplant Programme.
A major stimulus for organ transplantation awareness in the state is said to be a motorcycle accident incident in 2008, after which the physician parents of the 15-year-old accident victim donated all of their son's organs. This incident generated widespread attention and support for deceased organ donation in the state and was dubbed the "Hithendran effect" after the name of the donor.
However, from 2018, organ donations in the state dropped due to a controversy over preference given to foreign patients.In 2019, Tamil Nadu recorded only 128 donors. By 2019, the state had transplanted 7,783 organs from deceased donors.

Organ Donation India

How long can donated organs last outside the body in deceased donations?

Healthy organs should be transplanted as soon as possible to the recipient. However, the organs that have been retrieved from a brain-dead person are stored in a chemical solution and have limited life spans, ranging from a few to many hours.
Typical storage times for
•Heart: 4-6 hours
•Liver: 12-24 hours
•Kidney: 48-72 hours
•Heart-Lung: 4-6 hours
•Lung: 4-6 hours
Storage times vary because of the relative speed at which deterioration begins in the organs' tissues.

Regulatory Bodies involved in organ donation in India

Advisory Committee
Organ Donation in India advisory committee constituted under the chairmanship of administrative expert, who is not below the rank of the Secretary to the State Government for a period of 2 years to aid.
Along with him/her, two medical experts possessing a medical postgraduate degree, with not less than 5 years of work experience in the field of organ or tissue transplantation.
Committee’s purpose is to aid and advise the appropriate authority (AA).

Authorization Committee (AC)
The function of this committee is to accept or reject the application of donors (other than relatives) to ensure that he/she is not being exploited for monetary consideration by making a donation.
The AC scrutinizes the joint application made by the donor and the recipient and conducts an interview to ensure there is a genuine intention among them both and make sure that the donor understands the potential risks of the surgery.
A hospital can have its own AC if they carry out more than 25 transplants per year.

Appropriate Authority (AA)
Appropriate Authority’s purpose is to regulate human organs:
Removal
Storage
Transplantation
The hospitals can only perform these functions after being licensed by the authorities.
2. However, the procedure of removal of the eyes of a dead donor is not required and is not governed by the authority and does not require licensing procedures.
3. The functions of the AA include:
Inspection and registration of hospitals for transplant surgery,
Enforcement of required standards for the hospital,
Conduct regular inspection of the hospital to examine the quality of transplantation and follow up medical care of donor and recipient, and
Conduct an investigation for any breach of the Act.
4. The AA issues a license to a hospital for a period of 5 years and after that it needs to be renewed. Each organ requires a separate license.

Competent Authority
It means the head or committee made by the institute carrying out the transplantation.
Any member from the transplant team can be its member.
It gives permission for the near-related transplants only.
Working Guidelines for the Authorization Committee
The new gazette clearly lays down the following guidelines:
1. Where the proposed transplant is between persons related genetically (close relative, i.e., mother, father, brother, sister, son, or daughter above the age of 18 years old), the following shall be evaluated:
Results of tissue typing and other basic tests
Documentary evidence of relationship e.g., relevant birth certificates and marriage certificate Documentary evidence of identity and residence of the proposed donor e.g., Ration Card or Voters Identity Card, Passport, Driving License, PAN Card, or Bank Account and family photograph depicting the proposed donor and the proposed recipient along with another near relative

If the relationship is not conclusively established after evaluating the above evidence, direct further medical tests may be given as described follows.
– Test for Human Leukocyte Antigen (HLA), human leukocyte antigen-B alleles to be performed by the serological and /or polymerase chain reaction (PCR) based Deoxyribonucleic Acid (DNA) methods
– Test for human leukocyte antigen-Dr beta genes to be performed using PCR-based DNA methods.
Tests shall be done from a laboratory accredited with National Accreditation Board for Laboratories (NABL). When the tests referred to above do not establish a genetic relationship between the donor and the recipient, the same tests should be performed on both or at least one parent, preferably both parents. If parents are not available, the same tests should be performed on relatives of donor and recipient that are available and are willing to be tested failing which, the genetic relationship between the donor and the recipient will be deemed to have not been established.

When the proposed transplantation is between a married couple, the Registered Medical Practitioner i.e., the person in charge of the transplant center must evaluate the fact and duration of marriage (marriage certificate, marriage and family photographs, birth certificate of children containing particulars of parents). When the proposed donor or recipient or both are not Indian Nationals/citizens whether close relatives or otherwise, the AC shall consider all such requests. A senior Embassy official of the country of origin has to certify the relationship between the donor and the recipient. When the proposed donor and the recipient are not close relatives, the Authorization Committee shall evaluate that there is no commercial transaction between the recipient and the donor and the following shall specifically be assessed:
An explanation of the link between them and the circumstances that led to the offer being made Reasons why the donor wishes to donate Documentary evidence of the link, e.g., proof that they have lived together
There is no middleman or tout involved The financial status of the donor and the recipient is probed by asking them to give appropriate evidence of their vocation and income for the previous three financial years. Any gross disparity between the status of the two must be evaluated with the objective of preventing commercial dealing.
The donor is not a drug addict or known person with criminal record
The next of kin of the proposed unrelated donor is interviewed regarding awareness about his or her intention to donate an organ, the authenticity of the link between the donor and the recipient and the reasons for donation.
The AC should state in writing its reason for rejecting or approving the application of the proposed donor and all approvals should be subject to the following conditions:
The approved proposed donor would be subjected to all medical tests as required at relevant stages to determine his biological capacity and compatibility to donate the organ in question.

Psychiatrist's clearance in such cases is deemed mandatory to certify the donor's mental condition, awareness, absence of any overt or latent psychiatric disease, and ability to give free consent.
All prescribed forms have been completed by all relevant persons involved in the process of the transplantation.
All interviews should be video recorded.The AC is required to take a final decision within 24 hours of the meeting for grant of permission or rejection for transplant. Every authorized transplantation center must have its own website. The decision of the AC should be displayed on the notice board of the hospital immediately and on the website of the hospital or institution within 24 hours of making the decision

Pros and Cons of Organ Donation in India?

When you're considering becoming a living organ donor, think very carefully about these pros and cons:
•Pros. Probably the greatest benefit of organ donation is knowing that you're saving a life. That life might be your partner, child, parent, brother or sister, a close friend, or even a stranger.
•Cons. Organ donation is major surgery. All surgery comes with risks such as bleeding, infection, blood clots, allergic reactions, or damage to nearby organs and tissues.
Although you will have anesthesia during the surgery as a living donor, you can have pain while you recover. Pain and discomfort will vary depending on the type of surgery. And you may have visible, lasting scars from surgery.
It will take some time for your body to recover from surgery. You might have to miss work until you're fully healed.

Before you decide whether organ donation is right for you, consider the answers to some of these common questions:

1. What are the benefits of organ donation?
When you donate your organs, you have the potential of transforming up to 10 lives. You’re giving recipients the gift of life or the chance for a better quality of life. Tissue donation – like bone, skin, corneas, heart valves and vessels – could impact the lives of up to 75 more people.

2. Why do some people not want their organs donated after they die?
During a study by the National Institutes of Health, those opposed to organ donation cited reasons such as mistrust of the system and worrying that their organs would go to someone not deserving of them (e.g., a “bad” person or someone whose poor lifestyle choices caused their illness). Of course, many people have other reasons for not becoming organ donors as well.

3. Can I be an organ donor if I have underlying health conditions?
There are a few serious health conditions that could prevent a person from being a donor, including a cancer that’s actively spreading and HIV. But even if you’re not sure if you’re a suitable donor, you should register if it’s something you want to do. The transplant team will assess the viability of your organs before proceeding. You can also consider donating your body to research or to a local medical school.

4. Is there an age limit for being a donor?
When it comes to organ donation, age doesn’t matter. What matters is the health of the donor and the condition of the organs. The oldest known donor of an internal organ was 92 years old. Donors under the age of 18 need parental consent.

5. Can deceased organ donors still have an open-casket funeral?
Yes. The incisions are relatively small. Funeral directors are trained to fully prepare the body for open-casket funerals using special techniques, makeup and clothing.

6. Can my family make a different decision for me after I die?
If you haven’t signed up to be a donor, your family can still give consent to donate your organs after your death. If you’ve signed up for the national organ donor registry, your family can’t prevent your organs from being donated. If you don’t want your organs donated under any circumstances, the Uniform Anatomical Gift Act allows you to submit an official refusal. When deciding whether or not to become an organ donor, it is important to discuss your wishes with your family.

7. Does it cost money to donate organs?
Organ donation does not cost the donor or the donor’s family anything. All costs related to organ donation and transplant are paid by the recipient of the organ.

8. How do I decide if being a donor is right for me?
Read as much as you can about the organ donation process. Discuss the pros and cons with your family, your doctor and your faith leader, if you have one. Ultimately the decision is up to you but some people find it helpful to know how their family members would feel about their decision.

9. How do I register to be an organ donor?
You can sign up as an organ donor at www.organdonor.gov. You can also sign up to be an organ donor when you renew your driver’s license. You should also make your wishes known to your family and document your decision in your end-of-life documents. It’s not enough to just have an organ donor card, because you can’t be certain it will be on you at the time of your death.

Organ donation for everyone

Should You Become an Organ Donor?

As you decide whether to donate an organ as a living donor, Look out for the benefits and risks very seriously.
Get as much information as you can before making any decision. The transplant centre should fully explain the organ donation process to you. You should also be assigned an independent donor advocate who will make sure you know your medical rights.
Make sure you ask a lot of questions throughout this process. It's important for you to fully understand the surgery and how becoming an organ donor might affect your future health in organ donation in India.
Finally, remember that this is your decision . Don't let anyone take that decision from you. Even if a friend or loved one is very sick, you have to consider how donating an organ might affect your own life. Remember that even though the donation process has started, you have the right to stop it at any time if you change your mind.All the best .I hope this article helps with all your answers .
Over the years, the number of deceased donors has witnessed threefold increase. While in 2013, there were only 313 donors across India, 2014 saw 411 donors and 2017 had 905 cadaver organ donors leading to 2870 organ donation. But still given the demand and size of the population, india remains a country with one of the lowest organ donation rates in the world.
Currently, the state of Tamil Nadu is leading the cause of organ donation and is considered to be the best state in terms of organ donation. In 2017, the state had 176 cadaver donors who contributed 673 organs. From making declaration of brain death mandatory, setting up green corridors to implementing transplant guidelines to centralised waiting lists, Tamil Nadu took a number of steps that worked in its favour.
On the other end of the spectrum is, Uttar Pradesh, the most populous state in the country, which witnessed just seven deceased donors contributing to 19 organs in 2017, followed by Delhi which had 45 donors and 136 organs donated.
The Number Of Donors In India Vs Other Countries
Until last year, the rate of organ donation in India used to be 0.5 per million population, but today it has climbed up to 0.8, which is a positive thing. Despite this, we are still far away from other countries like Spain, USA, China, Germany, Australia and Brazil who are way ahead when it comes to organ donation. While Spain is leading the cause of organ donation with the highest rate of organ donation (per million population) at 46.9, USA has 31.96 rate, followed by Australia and Brazil at 20.70 and 16.60 respectively. China, the most populous nation in the world also has a better organ donation rate than India by O3.67
Keep saving lives !

Related topics:

1. What is bronchitis and how it's treatable ?

Bronchitis and its remedies

2. How harmfull is diverticulitis ?

Diverticulitis symptoms and treatment

3. Know more about boosting immunity

How to boost immunity




The above essentials are available with AFD SHIELD.
AFD Shield capsule is a combination of 12 natural ingredients among which are Algal DHA, Ashwagandha, Curcumin and Spirullina. AFD Shield reduces TG, increases HDL and improves age related cognitive decline. It also reduces stress and anxiety and performs anti-aging activity.Moreover, it also enhances the immunomodulatory activity, improves immunity and reduces inflammation and oxidative stress. Nutralogicx: AFD SHIELD

अंगदान के बारे में सब कुछ

अंगदान क्या है?

ऑर्गन डोनेशन इंडिया को समझने के लिए सबसे पहले भारत में ऑर्गन ट्रांसप्लांट को समझना जरूरी है। एक प्रत्यारोपण एक चिकित्सा प्रक्रिया है जहां एक व्यक्ति के निष्क्रिय अंग या ऊतक को एक स्वस्थ व्यक्ति के द्वारा बदल दिया जाता है, इस प्रकार इसके कार्य को बहाल किया जाता है। कुछ मामलों में, चिकित्सा विज्ञान में बड़ी प्रगति के बावजूद, प्रत्यारोपण ही एकमात्र विकल्प है। प्रत्यारोपण से रोगी के जीवन की गुणवत्ता में काफी सुधार होता है और उन्हें जीने का एक और मौका मिलता है।

स्पष्ट रूप से कहने के लिए, एक प्रत्यारोपण केवल तभी हो सकता है जब दाता से कोई अंग उपलब्ध हो। जबकि अधिकांश अंग जो प्रत्यारोपित किए जाते हैं वे मृत दाताओं के होते हैं, रोगियों को जीवित दाताओं से भी अंग प्राप्त हो सकते हैं। जीवित व्यक्ति एक गुर्दा, यकृत के हिस्से, फेफड़े, अग्न्याशय, आंत, रक्त दान कर सकते हैं और फिर भी एक सामान्य जीवन जीना जारी रख सकते हैं। कानून के अनुसार, हालांकि, मृतक दाताओं के निर्णय पर विशेषाधिकार अंततः मृतक के परिजनों के पास रहता है।

एक अंग दाता प्रत्यारोपण के लिए पच्चीस विभिन्न अंगों और ऊतकों को दान कर सकता है। यह नौ लोगों की जान बचा सकता है!

Organ Donation

अंगदान के प्रकार

१) जीवित दान
जीवित दान कुछ प्रत्यारोपण उम्मीदवारों के लिए एक और विकल्प प्रदान करता है, प्रतीक्षा सूची में उनके समय को कम करता है और प्राप्तकर्ता के लिए बेहतर दीर्घकालिक परिणाम देता है।
एक जीवित दाता उन रोगियों के लिए एक विकल्प है, जिन्हें अन्यथा मृत दाता से अंग के लिए लंबी प्रतीक्षा का सामना करना पड़ सकता है। किसी व्यक्ति को एक लंबी और अनिश्चित प्रतीक्षा से मुक्त करने के लिए, रिश्तेदार, प्रियजन, मित्र और यहां तक ​​कि गुमनाम रहने की इच्छा रखने वाले व्यक्ति भी जीवित दाताओं के रूप में सेवा कर सकते हैं।
गुर्दा और यकृत प्रत्यारोपण के उम्मीदवार जो जीवित दाता प्रत्यारोपण प्राप्त करने में सक्षम हैं, उन्हें सबसे अच्छी गुणवत्ता वाला अंग बहुत जल्द प्राप्त हो सकता है, अक्सर एक वर्ष से भी कम समय में।

अंग दान भारत में 100,000 से अधिक लोग शामिल हैं जो राष्ट्रीय प्रत्यारोपण प्रतीक्षा सूची में हैं।
प्रतीक्षारत ८५% से अधिक रोगियों को गुर्दे की आवश्यकता होती है।
इंतजार कर रहे 11 फीसदी मरीजों को लीवर की जरूरत होती है।
2020 में, जीवित दाताओं की मदद से 5,700 और लोगों की जान बचाई गई।

जीवित दान के बारे में तथ्य
• जीवित दान आपके जीवित रहते हुए एक जीवन बचाने का एक अवसर है।
• जीवित अंग दान भारत और प्रत्यारोपण को मृत दाताओं की गंभीर कमी के प्रत्यक्ष परिणाम के रूप में विकसित किया गया था।
• जीवित दाताओं को अपने प्राप्तकर्ताओं से संबंधित होने की आवश्यकता नहीं है। औसतन 4 में से 1 जीवित दाता प्राप्तकर्ता से जैविक रूप से संबंधित नहीं है।
• जीवित दाता प्रत्यारोपण प्राप्त करने वाले रोगियों को राष्ट्रीय प्रत्यारोपण प्रतीक्षा सूची से हटा दिया जाता है, जिससे मृतक दाता के गुर्दा या यकृत का उपहार किसी और जरूरतमंद के लिए उपलब्ध हो जाता है।
•यदि आप एक जीवित दाता होने पर विचार कर रहे हैं, तो यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि जीवित दान आपके मृतक दाता पंजीकरण में शामिल नहीं है। 2021 में, आप नेशनल डोनेशन लाइफ़ लिविंग डोनर रजिस्ट्री (अद्यतन जानकारी के लिए वापस देखें) में एक जीवित दाता होने के लिए अपनी रुचि दर्ज करने में सक्षम होंगे। एक जीवित दाता प्रत्यारोपण कार्यक्रम एक जीवित दाता होने के लिए आपकी योग्यता निर्धारित करने के लिए एक पूर्ण मूल्यांकन करेगा।

जीवित दान के प्रकार
निर्देशित दान
एक निर्देशित दान में, जीवित दाता प्रत्यारोपण प्राप्त करने के लिए विशिष्ट व्यक्ति का नाम लेता है। यह जीवित दान का सबसे आम प्रकार है। एक निर्देशित दान में, जीवित दाता हो सकता है:
एक जैविक रिश्तेदार, जैसे माता-पिता, भाई, बहन, या वयस्क बच्चा
एक जैविक रूप से असंबंधित व्यक्ति जिसका प्रत्यारोपण उम्मीदवार के साथ व्यक्तिगत या सामाजिक संबंध है, जैसे पति या पत्नी या महत्वपूर्ण अन्य , एक मित्र या सहकर्मी
जैविक रूप से असंबंधित व्यक्ति जिसने प्रत्यारोपण उम्मीदवार की आवश्यकता के बारे में सुना है
यदि परीक्षणों से पता चलता है कि जीवित दाता एक अच्छा चिकित्सा मिलान नहीं होगा, तो युग्मित दान एक विकल्प हो सकता है।
गैर-निर्देशित दान
गैर-निर्देशित दान में, जीवित दाता भारत में अंग दान में प्रत्यारोपण प्राप्त करने के लिए विशिष्ट व्यक्ति का नाम नहीं लेता है। मैच का निर्धारण राष्ट्रीय प्रत्यारोपण प्रतीक्षा सूची में रोगी के साथ चिकित्सा अनुकूलता के आधार पर किया जाता है। जीवित दाता और प्राप्तकर्ता किसी समय मिल सकते हैं, यदि वे दोनों सहमत हों, और प्रत्यारोपण अस्पताल नीति और मार्गदर्शन के आधार पर।
गुर्दा युग्मित दान
यूएनओएस के अनुसार, गुर्दा युग्मित दान (केपीडी), जिसे गुर्दा विनिमय भी कहा जाता है, तब होता है जब एक प्रत्यारोपण उम्मीदवार के पास कोई ऐसा व्यक्ति होता है जो उन्हें गुर्दा दान करना चाहता है, लेकिन परीक्षणों से पता चलता है कि गुर्दा एक अच्छा मेडिकल मैच नहीं होगा। गुर्दा युग्मित दान उस प्रत्यारोपण उम्मीदवार को एक और विकल्प देता है: जीवित दाता गुर्दे की अदला-बदली करना ताकि प्रत्येक प्राप्तकर्ता को एक संगत प्रत्यारोपण प्राप्त हो।
इस प्रकार के विनिमय में अक्सर कई जीवित गुर्दा दाता/प्रत्यारोपण उम्मीदवार जोड़े शामिल होते हैं।
कौन दान कर सकता है?
भारत में अंगदान के लिए जीवित दाताओं का समग्र शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य अच्छा होना चाहिए और उनकी आयु 18 वर्ष से अधिक होनी चाहिए। कुछ चिकित्सीय स्थितियां किसी व्यक्ति को जीवित दाता बनने से रोक सकती हैं। चूंकि कुछ दाता स्वास्थ्य स्थितियां प्रत्यारोपण प्राप्तकर्ता को नुकसान पहुंचा सकती हैं, इसलिए यह महत्वपूर्ण है कि जीवित दाता उम्मीदवार अपने शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य के बारे में सभी जानकारी साझा करें। दान करने से जुड़े ज्ञात जोखिमों के बारे में पूरी तरह से सूचित होना और एक पूर्ण चिकित्सा और मनोसामाजिक मूल्यांकन पूरा करना महत्वपूर्ण है। दान करने का निर्णय पूरी तरह से स्वैच्छिक और दबाव या अपराधबोध से मुक्त होना चाहिए, और दाता किसी भी समय प्रक्रिया में देरी या रोक सकते हैं।

जीवित दान के जोखिम
जीवित दान एक प्रमुख सर्जरी है, और प्रमुख सर्जरी की सभी संभावित जटिलताएं लागू होती हैं। इन जटिलताओं में शामिल हो सकते हैं:
• दर्द
• चीरा स्थल पर संक्रमण
• चीरा हर्निया
• निमोनिया
• रक्त के थक्के
• रक्तस्राव
• रक्त आधान की संभावित आवश्यकता
• संवेदनाहीनता के लिए एलर्जी प्रतिक्रियाओं से जुड़े दुष्प्रभाव
• मृत्यु
नेशनल किडनी फाउंडेशन के अनुसार, अध्ययन में जीवित दाताओं ने आत्म-सम्मान में वृद्धि की सूचना दी, और 10 में से 9 का कहना है कि वे इसे फिर से करेंगे। हालांकि, जीवित दाताओं को भी दान के ठीक बाद या बाद में नकारात्मक मनोवैज्ञानिक लक्षणों का अनुभव हो सकता है। प्रत्यारोपित अंग तुरंत काम नहीं कर सकता है। एक मौका यह भी है कि यह बिल्कुल भी काम नहीं करेगा। सर्जरी के बाद दाता उदास, चिंतित, क्रोधित या नाराज़ महसूस कर सकते हैं। दान दाता और प्राप्तकर्ता के बीच के संबंध को बदल सकता है।
जोखिम और अपेक्षित दाता परिणामों के बारे में जानकारी का सबसे अच्छा स्रोत प्रत्यारोपण टीम है। इसके अलावा, इन संभावित सर्जिकल जोखिमों और दीर्घकालिक जटिलताओं के बारे में अधिक जानने में सक्रिय भूमिका निभाना महत्वपूर्ण है
जीवित दाताओं को अंग दान करने के लिए सहमति देने से पहले इसमें शामिल शारीरिक और मनोवैज्ञानिक जोखिमों से अवगत कराया जाना चाहिए। कृपया एक प्रत्यारोपण पेशेवर और/या सामाजिक कार्यकर्ता के साथ सभी भावनाओं, प्रश्नों और चिंताओं पर चर्चा करें।

२)मृतक दान
मृत अंग दान भारत किसी अन्य व्यक्ति को प्रतिरोपण के उद्देश्य से, दाता की मृत्यु के समय, अंग या अंग का एक हिस्सा देने की प्रक्रिया है। अपने जीवन के अंत में, आप जीवन दे सकते हैं दूसरों के लिए।
एक व्यक्ति को अंग दाता बनने के लिए, जीवन शक्ति सुनिश्चित करने के लिए रक्त और ऑक्सीजन को ठीक होने तक अंगों के माध्यम से प्रवाहित होना चाहिए। इसके लिए यह आवश्यक है कि एक व्यक्ति की मृत्यु ऐसी परिस्थितियों में हो, जिसके परिणामस्वरूप घातक मस्तिष्क की चोट हुई हो, आमतौर पर बड़े आघात से मस्तिष्क में रक्तस्राव, सूजन या ऑक्सीजन की कमी होती है।
रोगी के जीवन को बचाने के सभी प्रयासों के समाप्त होने के बाद ही, मस्तिष्क या मस्तिष्क तंत्र की गतिविधि की अनुपस्थिति की पुष्टि करने के लिए परीक्षण किए गए हैं, और मस्तिष्क की मृत्यु की घोषणा की गई है, क्या दान एक संभावना है।
राज्य और राष्ट्रीय दान जीवन रजिस्ट्रियों को सुरक्षित रूप से ऑनलाइन खोजा जाता है ताकि यह निर्धारित किया जा सके कि रोगी ने व्यक्तिगत रूप से दान को अधिकृत किया है या नहीं। यदि रजिस्ट्री में संभावित दाता नहीं पाया जाता है, तो उसके परिजन या कानूनी रूप से अधिकृत प्रतिनिधि (आमतौर पर एक पति या पत्नी, रिश्तेदार या करीबी दोस्त) को दान को अधिकृत करने का अवसर दिया जाता है। एक बार दान का निर्णय स्थापित हो जाने के बाद, परिवार को एक चिकित्सा और सामाजिक इतिहास प्रदान करने के लिए कहा जाता है। दान और प्रत्यारोपण पेशेवर यह निर्धारित करते हैं कि किन अंगों का प्रत्यारोपण किया जा सकता है और राष्ट्रीय प्रत्यारोपण प्रतीक्षा सूची के किन रोगियों को अंग आवंटित किए जाने हैं।
मरने वाले लोगों में से केवल १-२% ही अंग दान के लिए विचार किए जा सकते हैं। अधिकांश लोगों को ऊतक दान के लिए माना जा सकता है। अंग और ऊतक दान पर तभी विचार किया जाता है जब सभी जीवन रक्षक प्रयास विफल हो जाते हैं और यह निश्चित है कि एक रोगी जीवित नहीं रहेगा। वहाँ है यदि आप अंग या ऊतक दान करते हैं तो आपके परिवार या संपत्ति की कोई कीमत नहीं है। अधिकांश समय, यह बताने का कोई तरीका नहीं है कि व्यक्ति एक अंग या ऊतक दाता था और आप एक खुले ताबूत का अंतिम संस्कार कर सकते हैं। अंगों और ऊतकों को हटाने के लिए सर्जरी किसी भी अन्य सर्जरी की तरह ही देखभाल के साथ किया जाता है।

आंध्र प्रदेश
आंध्र प्रदेश सरकार के पास राज्य में अंग दान को विनियमित करने के लिए अपना कानून है। आंध्र प्रदेश मानव अंग प्रत्यारोपण अधिनियम, 1995, केंद्रीय अधिनियम के तुरंत बाद सरकार द्वारा अधिनियमित किया गया था। मृतक दाता कार्यक्रम राज्य में जनवरी 2013 से जीवनदान के बैनर तले संचालित हो रहा है। 2014 तक मृत अंगदान दर 0.6 pmp है।

कर्नाटक
कर्नाटक की क्षेत्रीय समन्वय समिति वह सरकारी निकाय है जो कर्नाटक राज्य में प्रत्यारोपण प्रक्रिया की देखरेख करती है। 2007 और 2012 के बीच, कर्नाटक ने 58 मृत अंग दान दर्ज किए हैं। हालांकि, दान किए गए अंगों की संख्या और प्रत्यारोपण के लिए प्रतीक्षा कर रहे प्राप्तकर्ताओं की संख्या के बीच एक बड़ा अंतर था। 2018 में, राज्य ने 90 अंग दान दर्ज किए थे। 90% से अधिक दान निजी अस्पतालों से आया।

मध्य प्रदेश मध्य प्रदेश
के इंदौर शहर में 2018 तक 34 ग्रीन कॉरिडोर थे, जो पिछले तीन वर्षों में बनाए गए थे। यह जुलाई 2017 में अंगों के परिवहन के लिए एक विमान का उपयोग करने के बाद हवा में ग्रीन कॉरिडोर बनाने वाला पहला शहर बन गया।

महाराष्ट्र
मुंबई और नागपुर में जोनल ट्रांसप्लांट कोऑर्डिनेशन सेंटर (ZTCC) महाराष्ट्र में अंग प्रत्यारोपण गतिविधियों की देखरेख करता है। 2012 और 2014 के बीच, राज्य ने 116 अंग प्रत्यारोपण दर्ज किए। 2018 में, 135 दान दर्ज किए गए। [36] 2019 में, महाराष्ट्र ने 447 अंग प्रत्यारोपण के साथ अंगदान में तमिलनाडु और तेलंगाना को पीछे छोड़ दिया। ZTCC ने जन जागरूकता में सुधार के लिए 20 से अधिक गैर सरकारी संगठनों के साथ मिलकर कार्यक्रम भी आयोजित किए हैं।

तमिलनाड
मुख्य लेख: तमिलनाडु में अंग प्रत्यारोपण
तमिलनाडु राज्य में 2018 तक देश में सबसे अधिक मृत अंग दान थे। यह 2018 तक मृत अंग दान दर में 1.8 पीएमपी पर पहले स्थान पर है, [38] यह आंकड़ा राष्ट्रीय औसत से सात गुना अधिक है। 2008 में, तमिलनाडु सरकार ने राज्य में ब्रेन डेथ सर्टिफिकेशन को अनिवार्य कर दिया और कैडेवर ट्रांसप्लांट प्रोग्राम की स्थापना की।
राज्य में अंग प्रत्यारोपण जागरूकता के लिए एक प्रमुख प्रोत्साहन 2008 में एक मोटरसाइकिल दुर्घटना की घटना है, जिसके बाद 15 वर्षीय दुर्घटना के शिकार चिकित्सक के माता-पिता ने अपने बेटे के सभी अंगों को दान कर दिया। इस घटना ने राज्य में मृतक अंग दान के लिए व्यापक ध्यान और समर्थन उत्पन्न किया और दाता के नाम पर "हितेंद्रन प्रभाव" करार दिया गया
हालांकि, 2018 से, राज्य में अंग दान विदेशी रोगियों को दी जाने वाली वरीयता पर विवाद के कारण गिरा। 2019 में, तमिलनाडु ने केवल 128 दाताओं को दर्ज किया। 2019 तक, राज्य ने मृत दाताओं से 7,783 अंगों का प्रत्यारोपण किया था।

Organ Donation India

मृतक दान में दान किए गए अंग शरीर के बाहर कितने समय तक रह सकते हैं?

स्वस्थ अंगों को जल्द से जल्द प्राप्तकर्ता को प्रत्यारोपित किया जाना चाहिए। हालांकि, मस्तिष्क-मृत व्यक्ति से प्राप्त अंगों को एक रासायनिक समाधान में संग्रहीत किया जाता है और कुछ से लेकर कई घंटों तक सीमित जीवन काल होता है।
के लिए विशिष्ट भंडारण बार
• हार्ट: 4-6 घंटे
• लिवर: 12-24 घंटे
• गुर्दा: 48-72 घंटे
• हार्ट-लंग: 4-6 घंटे
• फेफड़े: 4-6 घंटे
भंडारण समय सापेक्ष गति की वजह से अलग-अलग जो अंगों के ऊतकों में गिरावट शुरू हो जाती है।

अंगदान में शामिल नियामक निकाय India

सलाहकार समिति
अंगदान भारत सलाहकार समिति का गठन प्रशासनिक विशेषज्ञ की अध्यक्षता में किया जाता है, जो 2 साल की अवधि के लिए राज्य सरकार के सचिव के पद से कम नहीं है।
उसके साथ, दो चिकित्सा विशेषज्ञ, जिनके पास मेडिकल पोस्टग्रेजुएट डिग्री है, अंग या ऊतक प्रत्यारोपण के क्षेत्र में कम से कम 5 वर्ष का कार्य अनुभव है।
समिति का उद्देश्य उपयुक्त प्राधिकारी (एए) को सहायता और सलाह देना है।

प्राधिकरण समिति (एसी)
इस समिति का कार्य दाताओं (रिश्तेदारों के अलावा) के आवेदन को स्वीकार या अस्वीकार करना है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि दान करने के द्वारा मौद्रिक विचार के लिए उसका शोषण नहीं किया जा रहा है।
एसी दाता और प्राप्तकर्ता द्वारा किए गए संयुक्त आवेदन की जांच करता है और यह सुनिश्चित करने के लिए एक साक्षात्कार आयोजित करता है कि उन दोनों के बीच एक वास्तविक इरादा है और यह सुनिश्चित करता है कि दाता सर्जरी के संभावित जोखिमों को समझता है।
एक अस्पताल का अपना एसी हो सकता है यदि वे प्रति वर्ष 25 से अधिक प्रत्यारोपण करते हैं।

उपयुक्त प्राधिकारी (एए)
उपयुक्त प्राधिकरण का उद्देश्य मानव अंगों को विनियमित करना है:
हटाना
भंडारण
प्रत्यारोपण
अस्पताल अधिकारियों द्वारा लाइसेंस प्राप्त होने के बाद ही इन कार्यों को कर सकते हैं।
2. हालांकि, मृत दाता की आंखों को हटाने की प्रक्रिया की आवश्यकता नहीं है और प्राधिकरण द्वारा शासित नहीं है और लाइसेंस प्रक्रियाओं की आवश्यकता नहीं है।
3. एए के कार्यों में शामिल हैं:
प्रत्यारोपण सर्जरी के लिए अस्पतालों का निरीक्षण और पंजीकरण, अस्पताल के लिए
आवश्यक मानकों
को लागू करना, प्रत्यारोपण की गुणवत्ता की जांच के लिए अस्पताल का नियमित निरीक्षण करना और दाता और प्राप्तकर्ता की चिकित्सा देखभाल का
संचालन करना और आचरण करना। अधिनियम के किसी भी उल्लंघन के लिए एक जांच।
4. एए अस्पताल को 5 साल की अवधि के लिए लाइसेंस जारी करता है और उसके बाद इसे नवीनीकृत करने की आवश्यकता होती है। प्रत्येक अंग को एक अलग लाइसेंस की आवश्यकता होती है।

सक्षम प्राधिकारी का
अर्थ है प्रत्यारोपण करने वाले संस्थान द्वारा बनाई गई प्रमुख या समिति।
प्रत्यारोपण दल का कोई भी सदस्य इसका सदस्य हो सकता है।
यह केवल निकट संबंधी प्रत्यारोपण के लिए अनुमति देता है।
प्राधिकरण समिति के लिए कार्य दिशानिर्देश
नया राजपत्र स्पष्ट रूप से निम्नलिखित दिशानिर्देश देता है:
1. जहां प्रस्तावित प्रत्यारोपण आनुवंशिक रूप से संबंधित व्यक्तियों (निकट रिश्तेदार, यानी, माता, पिता, भाई, बहन, पुत्र या 18 वर्ष से ऊपर की बेटी के बीच है) वर्ष पुराना), निम्नलिखित का मूल्यांकन किया जाएगा:
ऊतक टाइपिंग और अन्य बुनियादी परीक्षणों के परिणाम
संबंध के दस्तावेजी साक्ष्य जैसे, प्रासंगिक जन्म प्रमाण पत्र और विवाह प्रमाण पत्र प्रस्तावित दाता की पहचान और निवास के दस्तावेजी साक्ष्य जैसे, राशन कार्ड या मतदाता पहचान पत्र, पासपोर्ट, ड्राइविंग लाइसेंस, पैन कार्ड, या बैंक खाता और परिवार की तस्वीर प्रस्तावित दाता को दर्शाती है और किसी अन्य निकट संबंधी के साथ प्रस्तावित प्राप्तकर्ता

यदि उपरोक्त साक्ष्य का मूल्यांकन करने के बाद भी संबंध निर्णायक रूप से स्थापित नहीं होता है, तो निम्नानुसार सीधे आगे चिकित्सा परीक्षण दिए जा सकते हैं।
- मानव ल्यूकोसाइट एंटीजन (HLA) के लिए परीक्षण, मानव ल्यूकोसाइट एंटीजन-बी एलील्स को सीरोलॉजिकल और / या पोलीमरेज़ चेन रिएक्शन (पीसीआर) आधारित डीऑक्सीराइबोन्यूक्लिक एसिड (डीएनए) विधियों द्वारा किया जाना है।
- पीसीआर-आधारित डीएनए विधियों का उपयोग करके किए जाने वाले मानव ल्यूकोसाइट एंटीजन-डॉ बीटा जीन के लिए परीक्षण।
परीक्षण प्रयोगशालाओं के लिए राष्ट्रीय प्रत्यायन बोर्ड (एनएबीएल) से मान्यता प्राप्त प्रयोगशाला से किए जाएंगे। जब ऊपर उल्लिखित परीक्षण दाता और प्राप्तकर्ता के बीच आनुवंशिक संबंध स्थापित नहीं करते हैं, तो दोनों या कम से कम एक माता-पिता, अधिमानतः माता-पिता दोनों पर समान परीक्षण किए जाने चाहिए। यदि माता-पिता उपलब्ध नहीं हैं, तो वही परीक्षण दाता और प्राप्तकर्ता के रिश्तेदारों पर किया जाना चाहिए जो उपलब्ध हैं और परीक्षण के लिए तैयार हैं, असफल होने पर, दाता और प्राप्तकर्ता के बीच आनुवंशिक संबंध स्थापित नहीं माना जाएगा।

जब प्रस्तावित प्रत्यारोपण एक विवाहित जोड़े के बीच होता है, तो पंजीकृत मेडिकल प्रैक्टिशनर यानी प्रत्यारोपण केंद्र के प्रभारी व्यक्ति को विवाह के तथ्य और अवधि (विवाह प्रमाण पत्र, विवाह और पारिवारिक फोटो, माता-पिता के विवरण वाले बच्चों का जन्म प्रमाण पत्र) का मूल्यांकन करना चाहिए। . जब प्रस्तावित दाता या प्राप्तकर्ता या दोनों भारतीय नागरिक/नागरिक नहीं हैं, चाहे करीबी रिश्तेदार हों या अन्यथा, एसी ऐसे सभी अनुरोधों पर विचार करेगा। मूल देश के एक वरिष्ठ दूतावास अधिकारी को दाता और प्राप्तकर्ता के बीच संबंध को प्रमाणित करना होता है। जब प्रस्तावित दाता और प्राप्तकर्ता करीबी रिश्तेदार नहीं हैं, तो प्राधिकरण समिति मूल्यांकन करेगी कि प्राप्तकर्ता और दाता के बीच कोई वाणिज्यिक लेनदेन नहीं है और निम्नलिखित का विशेष रूप से मूल्यांकन किया जाएगा:
उनके बीच की कड़ी और उन परिस्थितियों की व्याख्या जिसके कारण प्रस्ताव दिया गया था कारण दाता लिंक के दस्तावेजी साक्ष्य दान करना चाहता है, उदाहरण के लिए, सबूत है कि वे एक साथ रहते हैं
इसमें कोई बिचौलिया या दलाल शामिल नहीं है। की वित्तीय स्थिति दाता और प्राप्तकर्ता को पिछले तीन वित्तीय वर्षों के लिए उनके व्यवसाय और आय का उचित सबूत देने के लिए कहकर जांच की जाती है। वाणिज्यिक व्यवहार को रोकने के उद्देश्य से दोनों की स्थिति के बीच किसी भी सकल असमानता का मूल्यांकन किया जाना चाहिए।
दाता एक ड्रग एडिक्ट या आपराधिक रिकॉर्ड वाला ज्ञात व्यक्ति नहीं है
प्रस्तावित असंबंधित दाता के परिजनों का साक्षात्कार उसके अंग दान करने के इरादे, दाता और प्राप्तकर्ता के बीच के लिंक की प्रामाणिकता और दान के कारणों के बारे में जागरूकता के बारे में किया जाता है।
एसी को प्रस्तावित दाता के आवेदन को अस्वीकार करने या स्वीकृत करने का कारण लिखित रूप में बताना चाहिए और सभी अनुमोदन निम्नलिखित शर्तों के अधीन होने चाहिए:
अनुमोदित प्रस्तावित दाता को उसकी जैविक क्षमता निर्धारित करने के लिए प्रासंगिक चरणों में आवश्यक सभी चिकित्सा परीक्षणों के अधीन किया जाएगा। और विचाराधीन अंग दान करने के लिए अनुकूलता।

ऐसे मामलों में मनोचिकित्सक की मंजूरी को दाता की मानसिक स्थिति, जागरूकता, किसी भी स्पष्ट या गुप्त मानसिक रोग की अनुपस्थिति और स्वतंत्र सहमति देने की क्षमता को प्रमाणित करने के लिए अनिवार्य माना जाता है।
प्रत्यारोपण की प्रक्रिया में शामिल सभी संबंधित व्यक्तियों द्वारा सभी निर्धारित प्रपत्र पूरे कर लिए गए हैं।
सभी साक्षात्कार वीडियो रिकॉर्ड किए जाने चाहिए। एसी को अनुमति देने या प्रत्यारोपण के लिए अस्वीकृति के लिए बैठक के 24 घंटे के भीतर अंतिम निर्णय लेना आवश्यक है। प्रत्येक अधिकृत प्रत्यारोपण केंद्र की अपनी वेबसाइट होनी चाहिए। एसी के निर्णय को निर्णय लेने के 24 घंटे के भीतर अस्पताल के नोटिस बोर्ड और अस्पताल या संस्थान की वेबसाइट पर तुरंत प्रदर्शित किया जाना चाहिए।

अंगदान के पेशेवरों और विपक्ष भारत?

जब आप एक जीवित अंग दाता बनने पर विचार कर रहे हों, तो इन पेशेवरों और विपक्षों के बारे में बहुत सावधानी से सोचें:
•पेशेवर। संभवतः अंगदान का सबसे बड़ा लाभ यह जानना है कि आप एक जीवन बचा रहे हैं। वह जीवन आपका साथी, बच्चा, माता-पिता, भाई या बहन, कोई करीबी दोस्त या कोई अजनबी भी हो सकता है।
•विपक्ष। अंगदान एक बड़ी सर्जरी है। सभी सर्जरी में रक्तस्राव, संक्रमण, रक्त के थक्के, एलर्जी, या आस-पास के अंगों और ऊतकों को नुकसान जैसे जोखिम होते हैं।
हालांकि जीवित दाता के रूप में आपको सर्जरी के दौरान एनेस्थीसिया दिया जाएगा, लेकिन ठीक होने के दौरान आपको दर्द हो सकता है। सर्जरी के प्रकार के आधार पर दर्द और परेशानी अलग-अलग होगी। और आपके पास सर्जरी से दिखाई देने वाले, स्थायी निशान हो सकते हैं।
आपके शरीर को सर्जरी से ठीक होने में कुछ समय लगेगा। जब तक आप पूरी तरह से ठीक नहीं हो जाते, तब तक आपको काम छोड़ना पड़ सकता है।

इससे पहले कि आप तय करें कि अंगदान आपके लिए सही है या नहीं, इनमें से कुछ सामान्य सवालों के जवाबों पर विचार करें:

1. अंग दान के क्या लाभ हैं?
जब आप अपने अंग दान करते हैं, तो आपके पास 10 जीवन तक बदलने की क्षमता होती है। आप प्राप्तकर्ताओं को जीवन का उपहार या जीवन की बेहतर गुणवत्ता का मौका दे रहे हैं। ऊतक दान - जैसे हड्डी, त्वचा, कॉर्निया, हृदय के वाल्व और वाहिकाएँ - 75 और लोगों के जीवन को प्रभावित कर सकते हैं।

2. कुछ लोग मरने के बाद अपने अंगों का दान क्यों नहीं चाहते?
नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ के एक अध्ययन के दौरान, अंग दान का विरोध करने वालों ने सिस्टम के प्रति अविश्वास जैसे कारणों का हवाला दिया और चिंता की कि उनके अंग किसी ऐसे व्यक्ति के पास जाएंगे जो उनके योग्य नहीं है (उदाहरण के लिए, एक "बुरा" व्यक्ति या कोई व्यक्ति जिसकी खराब जीवनशैली पसंद है उनकी बीमारी का कारण बना)। बेशक, कई लोगों के पास अंग दाता न बनने के अन्य कारण भी होते हैं।

3. क्या मैं एक अंग दाता बन सकता हूं यदि मेरी अंतर्निहित स्वास्थ्य स्थितियां हैं?
कुछ गंभीर स्वास्थ्य स्थितियां हैं जो किसी व्यक्ति को दाता बनने से रोक सकती हैं, जिसमें एक कैंसर जो सक्रिय रूप से फैल रहा है और एचआईवी भी शामिल है। लेकिन भले ही आप सुनिश्चित न हों कि आप एक उपयुक्त दाता हैं, यदि आप ऐसा कुछ करना चाहते हैं तो आपको पंजीकरण करना चाहिए। आगे बढ़ने से पहले प्रत्यारोपण टीम आपके अंगों की व्यवहार्यता का आकलन करेगी। आप अपने शरीर को शोध या स्थानीय मेडिकल स्कूल को दान करने पर भी विचार कर सकते हैं।

4. क्या डोनर होने की कोई उम्र सीमा है?
जब अंगदान की बात आती है तो उम्र कोई मायने नहीं रखती। क्या मायने रखता है दाता का स्वास्थ्य और अंगों की स्थिति। आंतरिक अंग का सबसे पुराना ज्ञात दाता 92 वर्ष का था। 18 वर्ष से कम आयु के दाताओं को माता-पिता की सहमति की आवश्यकता होती है।

5. क्या मृत अंग दाताओं का अब भी खुले ताबूत में अंतिम संस्कार हो सकता है?
हाँ। चीरे अपेक्षाकृत छोटे होते हैं। अंत्येष्टि निदेशकों को विशेष तकनीकों, श्रृंगार और कपड़ों का उपयोग करके खुले ताबूत के अंत्येष्टि के लिए शरीर को पूरी तरह से तैयार करने के लिए प्रशिक्षित किया जाता है।

6. क्या मेरे मरने के बाद मेरा परिवार मेरे लिए कोई अलग निर्णय ले सकता है?
अगर आपने डोनर बनने के लिए साइन अप नहीं किया है, तो भी आपका परिवार आपकी मृत्यु के बाद भी आपके अंगों को दान करने के लिए सहमति दे सकता है। यदि आपने राष्ट्रीय अंग दाता रजिस्ट्री के लिए साइन अप किया है, तो आपका परिवार आपके अंगों को दान करने से नहीं रोक सकता। यदि आप किसी भी परिस्थिति में अपने अंगों का दान नहीं चाहते हैं, तो यूनिफ़ॉर्म एनाटोमिकल गिफ्ट एक्ट आपको आधिकारिक इनकार प्रस्तुत करने की अनुमति देता है। अंग दाता बनना है या नहीं, यह तय करते समय, अपने परिवार के साथ अपनी इच्छाओं पर चर्चा करना महत्वपूर्ण है।

7. क्या अंगदान करने में पैसे लगते हैं?
अंगदान करने से डोनर या डोनर के परिवार का कुछ भी खर्च नहीं होता है। अंग दान और प्रत्यारोपण से संबंधित सभी लागतों का भुगतान अंग प्राप्तकर्ता द्वारा किया जाता है।

8. मैं कैसे तय करूं कि दाता बनना मेरे लिए सही है?
अंगदान प्रक्रिया के बारे में जितना हो सके उतना पढ़ें। अपने परिवार, अपने डॉक्टर और अपने विश्वास नेता के साथ पेशेवरों और विपक्षों पर चर्चा करें, यदि आपके पास एक है। अंतत: निर्णय आप पर निर्भर करता है लेकिन कुछ लोगों को यह जानने में मदद मिलती है कि उनके परिवार के सदस्य उनके निर्णय के बारे में कैसा महसूस करेंगे।

9. मैं अंग दाता बनने के लिए पंजीकरण कैसे करूं?
आप www.organdonor.gov पर अंग दाता के रूप में साइन अप कर सकते हैं। जब आप अपने ड्राइवर के लाइसेंस का नवीनीकरण करते हैं तो आप अंग दाता बनने के लिए साइन अप भी कर सकते हैं। आपको अपनी इच्छाओं को अपने परिवार को भी बताना चाहिए और अपने जीवन के अंत के दस्तावेजों में अपने निर्णय का दस्तावेजीकरण करना चाहिए। केवल अंग दाता कार्ड होना ही काफी नहीं है, क्योंकि आप निश्चित नहीं हो सकते कि यह आपकी मृत्यु के समय आप पर होगा।

Organ donation for everyone

क्या आपको अंग दाता बनना चाहिए?

जैसा कि आप तय करते हैं कि एक जीवित दाता के रूप में अंग दान करना है या नहीं, लाभों और जोखिमों को बहुत गंभीरता से देखें।
कोई भी निर्णय लेने से पहले अधिक से अधिक जानकारी प्राप्त करें। प्रतिरोपण केंद्र को आपको अंगदान प्रक्रिया के बारे में पूरी तरह से समझाना चाहिए। आपको एक स्वतंत्र दाता अधिवक्ता भी सौंपा जाना चाहिए जो यह सुनिश्चित करेगा कि आप अपने चिकित्सा अधिकारों को जानते हैं।
सुनिश्चित करें कि आप इस प्रक्रिया के दौरान बहुत सारे प्रश्न पूछते हैं। आपके लिए सर्जरी को पूरी तरह से समझना और अंग दान भारत में अंग दाता बनना आपके भविष्य के स्वास्थ्य को कैसे प्रभावित कर सकता है, यह आपके लिए महत्वपूर्ण है।
अंत में, याद रखें कि यह आपका निर्णय है। किसी को भी आप से यह निर्णय न लेने दें। यहां तक ​​​​कि अगर कोई दोस्त या प्रियजन बहुत बीमार है, तो आपको यह विचार करना होगा कि अंग दान करना आपके जीवन को कैसे प्रभावित कर सकता है। याद रखें कि भले ही दान की प्रक्रिया शुरू हो गई हो, लेकिन अगर आप अपना विचार बदलते हैं तो आपको इसे किसी भी समय रोकने का अधिकार है। शुभकामनाएँ। मुझे आशा है कि यह लेख आपके सभी उत्तरों में मदद करेगा।
जीवन बचाते रहो!

संबंधित विषय:

1. ब्रोंकाइटिस क्या है और इसका इलाज कैसे किया जाता है?

ब्रोंकाइटिस और उसके उपाय

2. डायवर्टीकुलिटिस कितना हानिकारक है?

डायवर्टीकुलिटिस के लक्षण और उपचार

3. प्रतिरक्षा बढ़ाने के बारे में और जानें

इम्युनिटी कैसे बढ़ाएं




उपर ब्लॉग में बताई गई उपलब्धिया AFD-SHIELD के साथ उपलब्ध हैं
एएफडी शील्ड कैप्सूल 12 प्राकृतिक अवयवों का एक संयोजन है जिनमें से अलगल डीएचए, अश्वगंधा, करक्यूमिन और स्पिरुलिना हैं। एएफडी शील्ड टीजी को कम करता है, एचडीएल बढ़ाता है और उम्र से संबंधित संज्ञानात्मक गिरावट में सुधार करता है। यह तनाव और चिंता को भी कम करता है और एंटी-एजिंग गतिविधि करता है। इसके अलावा, यह इम्युनोमॉड्यूलेटरी गतिविधि को बढ़ाता है, प्रतिरक्षा में सुधार करता है और सूजन और ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करता है। न्यूट्रोग्लिग्क्स: एएफडी-शील्ड

AFDIL Ltd.
+91 9920121021

order@afdil.com

Read Also:


Disclaimer
Home