What are Antibiotics?

What Are Antibiotics?

antibiotics

Antibiotics are a group of medicines that are used to treat infections caused by some germs (bacteria and certain parasites). They do not work against infections that are caused by viruses - for example, the common cold or flu. Occasionally, a viral infection or minor bacterial infection develops into a more serious secondary bacterial infection. In this case, antibiotics would be needed. Antibiotics are normally only prescribed for more serious bacterial infections, as many infections get better on their own. Correct use of antibiotics is absolutely essential to help reduce antibiotic resistance. Germs become resistant to antibiotics over time, which then makes them less effective.

Antibiotics are powerful medicines that fight certain infections and can save lives when used properly. They either stop bacteria from reproducing or destroy them. Before bacteria can multiply and cause symptoms, the immune system can typically kill them. White blood cells (WBCs) attack harmful bacteria and, even if symptoms do occur, the immune system can usually cope and fight off the infection. Sometimes, however, the number of harmful bacteria is excessive, and the immune system cannot fight them all. Antibiotics are useful in this scenario. There are many uses of antibiotics.

The first antibiotic was penicillin. Penicillin-based antibiotics, such as ampicillin, amoxicillin, and penicillin G, are still available to treat a variety of infections and have been around for a long time. Several types of modern antibiotics are available, and they are usually only available with a prescription in most countries. Topical antibiotics are available in over-the-counter (OTC) creams and ointments. There are various antibiotics available and they come in various different brand names. Antibiotics are usually grouped together based on how they work. Each type of antibiotic only works against certain types of bacteria or parasites. This is why different antibiotics are used to treat different types of infection.

Types of Antibiotics

Most antibiotics fall into their individual antibiotic classes. An antibiotic class is a grouping of different drugs that have similar chemical and pharmacologic properties. Their chemical structures may look comparable, and drugs within the same class may kill the same or related bacteria.

However, it is important not to use an antibiotic for an infection unless your doctor specifically prescribes it, even if it's in the same class as another drug you were previously prescribed. Antibiotics are specific for the kind of bacteria they kill. Plus, you would need a full treatment regimen to effectively cure your infection, so don't use or give away leftover antibiotics.

1. Penicillins
Another name for this class is the beta-lactam antibiotics, referring to their structural formula. The penicillin class contains five groups of antibiotics: aminopenicillins, antipseudomonal penicillins, beta-lactamase inhibitors, natural penicillins, and the penicillinase resistant penicillins.
Common antibiotics in the penicillin class include: amoxicillin, amoxicillin and clavulanate, ampicillin, dicoxacillin, oxacillin and penicillin V potassium. Certain penicillinase-resistant penicillins (such as oxacillin or dicloxacillin) are inherently resistant to certain beta-lactamase enzymes by themselves. Others, for example, amoxicillin or ampicillin have greater antibacterial activity when they are combined with a beta-lactamase inhibitor like clavulanate, sulbactam, or tazobactam.

2. Tetracyclines
Tetracyclines are broad-spectrum against many bacteria and treat conditions such as acne, urinary tract infections (UTIs), intestinal tract infections, eye infections, sexually transmitted diseases, periodontitis (gum disease), and other bacterial infections. The tetracycline class contains drugs such as: demeclocycline, doxycycline, eravacycline, minocycline, omadacycline and tetracycline.

3. Cephalosporins
There are five generations of cephalosporins, with increasing expanded coverage across the class to include gram-negative infections. Newer generations with updated structures are developed to allow wider coverage of certain bacteria. Cephalosporins are bactericidal (kill bacteria) and work in a similar way as the penicillins. Cephalosporins treat many types of infections, including strep throat, ear infections, urinary tract infections, skin infections, lung infections, and meningitis. Common medications in this class include: cefaclor, cefdinir, cefotaxime, ceftazidime, ceftriaxone and cefuroxime.
The fifth generation (or next generation) cephalosporin known as ceftaroline is active against methicillin-resistant Staphylococcus aureus (MRSA). Avycaz contains the the beta-lactamase inhibitor avibactam.

4. Quinolones
The quinolones, also known as the fluoroquinolones, are a synthetic, bactericidal antibacterial class with a broad-spectrum of activity. The quinolones can be used for difficult-to-treat urinary tract infections when other options are aren’t effective, hospital-acquired pneumonia, bacterial prostatitis, and even anthrax or plague. The FDA has issued several strong warnings about this class due to potential disabling side effects.
Common drugs in the fluoroquinolone class include: ciprofloxacin, levofloxacin and moxifloxacin. Several quinolones are also available in drop form to treat eye or ear infections.

5. Lincomycins
This class has activity against gram-positive aerobes and anaerobes (bacteria that can live without oxygen), as well as some gram-negative anaerobes. The lincomycin derivatives may be used to treat serious infections like pelvic inflammatory disease, intra-abdominal infections, lower respiratory tract infections, and bone and joint infections. Some forms are also used topically on the skin to treat acne. These drugs include: clindamycin and lincomycin.

6. Macrolides
The macrolides can be use to treat community-acquired pneumonia, pertussis (whooping cough), or for uncomplicated skin infections, among other susceptible infections. Ketolides are a newer generation of antibiotic developed to overcome macrolide bacterial resistance. Frequently prescribed macrolides are: azithromycin, clarithromycin and erythromycin.

7. Sulfonamides
Sulfonamides are effective against some gram-positive and many gram-negative bacteria, but resistance is widespread. Uses for sulfonamides include urinary tract infections (UTIs), treatment or prevention of pneumocystis pneumonia, or ear infections (otitis media). Familiar names include: sulfamethoxazole and trimethoprim, sulfasalazine and sulfisoxazole.

8. Glycopeptide Antibiotics
Members of this group may be used for treating methicillin-resistant staphylococcus aureus (MRSA) infections, complicated skin infections, C. difficile-associated diarrhea, and enterococcal infections such as endocarditis which are resistant to beta-lactams and other antibiotics. Common drug names include: dalbavancin, oritavancin, telavancin and vancomycin.

9. Aminoglycosides
Aminoglycosides inhibit bacterial synthesis by binding to the 30S ribosome and act rapidly as bactericidal antibiotics (killing the bacteria). These drugs are usually given intravenously (in a vein through a needle). Common examples in this class are: gentamicin, tobramycin and amikacin.

10. Carbapenems
These injectable beta-lactam antibiotics have a wide spectrum of bacteria-killing power and may be used for moderate to life-threatening bacterial infections like stomach infections, pneumonias, kidney infections, multidrug-resistant hospital-acquired infections and many other types of serious bacterial illnesses. They are often saved for more serious infections or used as "last-line" agents to help prevent resistance. Members of this class include: imipenem and clistatin, meropenem, doripenem, and ertapenem.

Side effects of antibiotics

Antibiotics commonly cause the following side effects:
• diarrhea
• nausea
• vomiting
• rash
• upset stomach
• with certain antibiotics or prolonged use, fungal infections of the mouth, digestive tract, and vagina

Less common side effects of antibiotics include:
• formation of kidney stones, when taking sulphonamides
• abnormal blood clotting, when taking some cephalosporins)
• sensitivity to sunlight, when taking tetracyclines
• blood disorders, when taking trimethoprim
• deafness, when taking erythromycin and the aminoglycosides

Some people, especially older adults, may experience bowel inflammation, which can lead to severe, bloody diarrhea. In less common instances, penicillins, cephalosporins, and erythromycin can also cause inflamed bowels.

Overuse of antibiotics

The overuse of antibiotics — especially taking antibiotics even when they're not the appropriate treatment — promotes antibiotic resistance. According to the Centers for Disease Control and Prevention, up to one-third to one-half of antibiotic use in humans is unnecessary or inappropriate. Antibiotics treat bacterial infections but not viral infections. For example, an antibiotic is an appropriate treatment for strep throat, which is caused by the bacterium Streptococcus pyogenes. But it's not the right treatment for most sore throats, which are caused by viruses.

Other common viral infections that don't benefit from antibiotic treatment include:
• Cold
• Flu (influenza)
• Bronchitis
• Most coughs
• Some ear infections
• Some sinus infections
• Stomach flu

Taking an antibiotic for a viral infection:
• Won't cure the infection
• Won't keep other people from getting sick
• Won't help you or your child feel better
• May cause unnecessary and harmful side effects
• Promotes antibiotic resistance

If you take an antibiotic when you actually have a viral infection, the antibiotic attacks bacteria in your body — bacteria that are either beneficial or at least not causing disease. This misdirected treatment can then promote antibiotic-resistant properties in harmless bacteria that can be shared with other bacteria, or create an opportunity for potentially harmful bacteria to replace the harmless ones.

Antibiotic Resistance

Antibiotics are powerful medications that work very well for certain types of illnesses. However, some antibiotics are now less useful than they once were due to an increase in antibiotic resistance. Antibiotic resistance occurs when bacteria can no longer be controlled or killed by certain antibiotics. In some cases, this can mean there are no effective treatments for certain conditions. Each year, 2 million people are infected with bacteria that are resistant to antibiotics, resulting in at least 23,000 deaths.

Antibiotic Resistance

When you take an antibiotic, the sensitive bacteria are eliminated. The bacteria that survive during antibiotic treatment are often resistant to that antibiotic. These bacteria often have unique characteristics that prevent antibiotics from working on them. Some serious antibiotic-resistant infections include:

• Clostridium difficile (C. diff)
The overgrowth of this type of bacteria causes infection in both your small and large intestines. This often occurs after someone’s treated with antibiotics for a different bacterial infection. C. diff is naturally resistant to many antibiotics.

• Vancomycin-resistant enterococcus (VRE)
These bacteria often infect your bloodstream, urinary tract, or surgical wounds. This infection typically occurs in people who are hospitalized. Enterococci infections may be treated with the antibiotic vancomycin, but VRE is resistant to this treatment.

• Methicillin-resistant Staphylococcus aureus (MRSA)
This type of infection is resistant to traditional staph infection antibiotics. MRSA infections typically occur on your skin. It’s most common in people in hospitals and those with weakened immune systems.

• Carbapenem-resistant Enterobacteriaceae (CRE)
This class of bacteria are resistant to a lot of other antibiotics. CRE infections typically occur in people in hospitals and who are on a mechanical ventilator or have indwelling catheters.

The most important cause of antibiotic resistance is inappropriate use or overuse of antibiotics. As much as 30 percent of antibiotic use is thought to be unnecessary. This is because antibiotics are often prescribed when they aren’t needed.

Several important steps can be taken to decrease inappropriate antibiotic use:
- Take antibiotics only for bacterial infections: Don’t use antibiotics for conditions caused by viruses such as the common cold, flu, cough, or sore throat.
- Take antibiotics as directed by your healthcare provider: Using the wrong dose, skipping doses, or taking it longer or shorter than directed might contribute to bacteria resistance. Even if you feel better after a few days, talk with your healthcare provider before discontinuing an antibiotic.
- Take the right antibiotic: Using the wrong antibiotic for an infection might lead to resistance. Don’t take antibiotics prescribed for someone else. Also, don’t take antibiotics left over from a previous treatment. Your healthcare provider will be able to select the most appropriate antibiotic for your specific type of infection.

Consequences of antibiotic resistance

Consequences of antibiotic resistance

For many years, the introduction of new antibiotics outpaced the development of antibiotic resistance. In recent years, however, the pace of medication resistance has contributed to an increasing number of health care problems. Approximately 2 million infections from antibiotic-resistant bacteria occur in the United States each year, resulting in 23,000 deaths.

Other consequences of medication-resistant infections include:
• More-serious illness
• Longer recovery
• More-frequent or longer hospitalization
• More doctor visits
• More-expensive treatments

Antibiotic Stewardship

The appropriate use of antibiotics, often called antibiotic stewardship, can help to:
• Preserve the effectiveness of current antibiotics
• Extend the life span of current antibiotics
• Protect people from antibiotic-resistant infections
• Avoid side effects from using antibiotics inappropriately

Many hospitals and medical associations have implemented new diagnostic and treatment guidelines to ensure effective treatments for bacterial infections and reduce inappropriate use of antibiotics.

The public also plays a role in antibiotic stewardship. You can help reduce the development of antibiotic resistance if you:
• Avoid pressuring your doctor to give you an antibiotic prescription. Ask your doctor for advice on how to treat symptoms.
• Practice good hygiene, to avoid bacterial infections that need antibiotic treatment.
• Make sure you and your children receive recommended vaccinations. Some recommended vaccines protect against bacterial infections, such as diphtheria and whooping cough (pertussis).
• Reduce your risk of getting a foodborne bacterial infection. Don't drink raw milk, wash your hands, and cook foods to a safe internal temperature.
• Use antibiotics only as prescribed by your doctor. Take the prescribed daily dosage, and complete the entire course of treatment.
• Never take leftover antibiotics for a later illness. They may not be the correct antibiotic and would not be a full course of treatment.
• Never take antibiotics prescribed for another person.

How do antibiotics work?

There are different types of antibiotic, which work in one of two ways:
• A bactericidal antibiotic, such as penicillin, kills the bacteria. These drugs usually interfere with either the formation of the bacterial cell wall or its cell contents.
• A bacteriostatic stops bacteria from multiplying.

There are many uses of antibiotics.

Cassification

Uses of antibiotics

Antibiotics are ineffective against viruses. A doctor prescribes antibiotics for the treatment of a bacterial infection. It is not effective against viruses. Know whether an infection is bacterial or viral helps to effectively treat it. Viruses cause most upper respiratory tract infections (URTIs), such as the common cold and flu. Antibiotics do not work against these viruses. If people overuse antibiotics or use them incorrectly, the bacteria might become resistant. This means that the antibiotic becomes less effective against that type of bacterium, as the bacterium has been able to improve its defenses.

A doctor can prescribe a broad-spectrum antibiotic to treat a wide range of infections. A narrow-spectrum antibiotic is only effective against a few types of bacteria. Some antibiotics attack aerobic bacteria, while others work against anaerobic bacteria. Aerobic bacteria need oxygen and anaerobic bacteria do not.

In some cases, a healthcare professional may provide antibiotics to prevent rather than treat an infection, as might be the case before surgery. This is one of the ‘prophylactic’ uses of antibiotics. People commonly use these antibiotics before bowel and orthopedic surgery.

When To Use Antibiotics

Antibiotics are specific for the type of bacteria being treated and, in general, cannot be interchanged from one infection to another. When antibiotics are used correctly, they are usually safe with few side effects.

However, as with most drugs, antibiotics can lead to side effects that may range from being a nuisance to serious or life-threatening. In infants and the elderly, in patients with kidney or liver disease, in pregnant or breastfeeding women, and in many other patient groups antibiotic doses may need to be adjusted based upon the specific characteristics of the patient, like kidney or liver function, weight, or age. Drug interactions can also be common with antibiotics. Health care providers are able to assess each patient individually to determine the correct antibiotic and dose.

When NOT To Use Antibiotics

Antibiotics are not the correct choice for all infections. For example, most sore throats, cough and colds, flu or acute sinusitis are viral in origin (not bacterial) and do not need an antibiotic. These viral infections are “self-limiting”, meaning that your own immune system will usually kick in and fight the virus off. In fact, using antibiotics for viral infections can increase the risk for antibiotic resistance, lower the options for future treatments if an antibiotic is needed, and put a patient at risk for side effects and extra cost due to unnecessary drug treatment.

Antibiotic resistant bacteria cannot be fully inhibited or killed by an antibiotic, even though the antibiotic may have worked effectively before the resistance occurred. Don't share your antibiotic or take medicine that was prescribed for someone else, and don't save an antibiotic to use the next time you get sick.

Antibiotics allergy

Some people may develop an allergic reaction to antibiotics, especially penicillins. Side effects might include a rash, swelling of the tongue and face, and difficulty breathing. Allergic reactions to antibiotics might be immediate or delayed hypersensitivity reactions. Anyone who has an allergic reaction to an antibiotic must tell their doctor or pharmacist. Reactions to antibiotics can be serious and sometimes fatal. They are called anaphylactic reactions. People with reduced liver or kidney function should be cautious when using antibiotics. This may affect the types of antibiotics they can use or the dose they receive. Likewise, women who are pregnant or breast-feeding should speak with a doctor about the best antibiotics to take.

Antibiotics allergy

Symptoms of an allergic reaction to an antibiotic

Some people are allergic to certain types of antibiotics, most commonly penicillin. If you have a question about a potential allergy, ask your doctor or pharmacist before taking the medicine.

Allergic reactions commonly have the following symptoms:
• Shortness of breath
• Rash
• Hives
• Itching
• Swelling of the lips, face, or tongue
• Fainting

Antibiotics interactions

Individuals taking an antibiotic should not take other medicines or herbal remedies without speaking with a doctor first. Certain OTC medicines might also interact with antibiotics. Some doctors suggest that antibiotics can reduce the effectiveness of oral contraceptives. However, research does not generally support this. Nonetheless, people who experience diarrhea and vomiting or are not taking their oral contraceptive during illness because of an upset stomach might find that its effectiveness reduces. In these circumstances, take additional contraceptive precautions.

How to use antibiotics?

Uses of antibiotics

People must not stop a course of antibiotics halfway through. If in doubt, they can ask their doctor for advice. People usually take antibiotics by mouth. However, doctors can administer them by injection or apply them directly to the part of the body with infection. There are many uses of antibiotics. Most antibiotics start combating infection within a few hours. Complete the whole course of medication to prevent the return of the infection.

Stopping the medication before the course has finished increases the risk that the bacteria will become resistant to future treatments. The ones that survive will have had some exposure to the antibiotic and may consequently develop resistance to it. An individual needs to complete the course of antibiotic treatment even after they see an improvement in symptoms.

Do not take some antibiotics with certain foods and drinks. Take others on an empty stomach, about an hour before meals, or 2 hours after. Follow the instructions correctly for the medication to be effective. People taking metronidazole should not drink alcohol. Avoid dairy products when taking tetracyclines, as these might disrupt the absorption of the medication.

Missing a dose of antibiotics

If you forget to take a dose of your antibiotics, take that dose as soon as you remember and then continue to take your course of antibiotics as normal. But if it's almost time for the next dose, skip the missed dose and continue your regular dosing schedule. Do not take a double dose to make up for a missed one.

Accidentally taking an extra dose

There's an increased risk of side effects if you take 2 doses closer together than recommended. Accidentally taking 1 extra dose of your antibiotic is unlikely to cause you any serious harm. But it will increase your chances of getting side effects, such as pain in your stomach, diarrhoea, and feeling or being sick. If you accidentally take more than 1 extra dose of your antibiotic, are worried or you get severe side effects, speak to your GP as soon as possible.

Are there any bacteria that are resistant to all antibiotics?

There are several different types of bacteria that are resistant to the antibiotics that have been the most effective against them. Some examples include:
• ethicillin-resistant Staphylococcus aureus (MERSA); multi-drug-resistant Mycobacterium tuberculosis (MDR-TB)
• carbapenem-resistant Enterobacteriaceae (CRE) gut bacteria
• vancomycin-resistant Enterococcus (VRE)

When one of these bacteria causes an infection, it can be very difficult, if not impossible, to cure.

List of Common Infections Treated with Antibiotics

Following are some common infections treated by antiotics:
• Acne
• Bronchitis
• Conjunctivitis (Pink Eye)
• Otitis Media (Ear Infection)
• Sexually Transmitted Diseases (STD’s)
• Skin or Soft Tissue Infection
• Streptococcal Pharyngitis (Strep Throat)
• Traveler’s diarrhea
• Upper Respiratory Tract Infection
• Urinary Tract Infection (UTI)

Are There Any Over-the-Counter Antibiotics?

Over-the-counter (OTC) oral antibiotics are not approved in the U.S. A bacterial infection is best treated with a prescription antibiotic that is specific for the type of bacteria causing the infection. Using a specific antibiotic will increase the chances that the infection is cured and help to prevent antibiotic resistance. In addition, a lab culture may need to be performed to pinpoint the bacteria and to help select the best antibiotic. Taking the wrong antibiotic (or not enough) may worsen the infection and prevent the antibiotic from working the next time.

There are a few over-the-counter topical antibiotics that can be used on the skin. Some products treat or prevent minor cuts, scrapes or burns on the skin that may get infected with bacteria. These are available in creams, ointments, and even sprays.

Common OTC topical antibiotics:
• Neosporin (bacitracin, neomycin, polymyxin B)
• Polysporin (bacitracin, polymyxin B)
• Triple antibiotic, generic (bacitracin, neomycin, polymyxin B)
• Neosporin + Pain Relief Ointment (bacitracin, neomycin, polymyxin B, pramoxine)

There are some OTC antibacterials for treating acne, too. They contain the antibacterial benzoyl peroxide, which also has mild drying effect for acne. Many products are found on the pharmacy shelves as gels, lotions, solutions, foams, cleaning pads, and even facial scrubs.

Which antibiotic is usually prescribed?

Antibiotics usually prescribed

The choice of antibiotic mainly depends on which infection you have and the germ (bacterium or parasite) your doctor thinks is causing your infection. This is because each antibiotic is effective only against certain bacteria and parasites. For example, if you have pneumonia, the doctor knows what kinds of bacteria typically cause most cases of pneumonia. He or she will choose the antibiotic that best combats those kinds of bacteria.

There are other factors that influence the choice of an antibiotic. These include:
• How severe the infection is.
• How well your kidneys and liver are working.
• Dosing schedule.
• Other medications you may be taking.
• Common side-effects.
• A history of having an allergy to a certain type of antibiotic.
• If you are pregnant or breastfeeding.
• Pattern of infection in your community.
• Pattern of resistance to antibiotics by germs in your area.

Even if you are pregnant or breastfeeding there are a number of antibiotics that are thought to be safe to take.

What Antibiotics Can and Can’t Do

Most bacteria that live in your body are harmless. Some are even helpful. Still, bacteria can infect almost any organ. Fortunately, antibiotics can usually help. These are the types of infections that can be treated with antibiotics:
• Some ear and sinus infections
• Dental infections
• Skin infections
• Meningitis (swelling of the brain and spinal cord)
• Strep throat
• Bladder and kidney infections
• Bacterial pneumonias
• Whooping cough

Only bacterial infections can be killed with antibiotics. The common cold, flu, most coughs, some bronchitis infections, most sore throats, and the stomach flu are all caused by viruses. Antibiotics won’t work to treat them. Your doctor will tell you either to wait these illnesses out or prescribe antiviral drugs to help you get rid of them. It’s not always obvious whether an infection is viral or bacterial. Sometimes your doctor will do tests before deciding which treatment you need. Some antibiotics work on many different kinds of bacteria. They’re called “broad-spectrum.” Others target specific bacteria only. They’re known as “narrow-spectrum.”

How long do antibiotics take to work?

Antibiotics begin to work right after you start taking them. However, you might not feel better for two to three days. How quickly you get better after antibiotic treatment varies. It also depends on the type of infection you’re treating. Most antibiotics should be taken for 7 to 14 days. In some cases, shorter treatments work just as well. Your doctor will decide the best length of treatment and correct antibiotic type for you.

Even though you might feel better after a few days of treatment, it’s best to finish the entire antibiotic regimen in order to fully resolve your infection. This can also help prevent antibiotic resistance. Don’t stop your antibiotic early without first talking with your healthcare provider.

Related topics:

1. What are Hemorrhoids?

Male infertility is a condition in a man that reduces the chances of producing offspring. There are many modern treatments available to treat this condition. To know more visit: What are Hemorrhoids?

2. What Is Fertility and Infertility?

Fertility and infertility are related to the ability of a person to produce offspring. The cause of infertility could be many. It can be tested and treated. To know more visit: What Is Fertility and Infertility

3. Importance Of Proper Nutrition

Proper nutrition provides your body all the necessary nutrients, this can be achieved by eating a well-balanced diet. Poor nutrition can cause health issues. To know more visit: Importance Of Proper Nutrition

4. What Is Immunity?

Immunity is the ability of the body to recognize what belongs to self and what is foreign. The immune system works to build resistance to harmful organisms. To know more visit: What Is Immunity




The above essentials are available with AFD SHIELD.

AFD Shield capsule is a combination of 12 natural ingredients among which are Algal DHA, Ashwagandha, Curcumin and Spirullina. AFD Shield reduces TG, increases HDL and improves age related cognitive decline. It also reduces stress and anxiety and performs anti-aging activity.Moreover, it also enhances the immunomodulatory activity, improves immunity and reduces inflammation and oxidative stress.
Nutralogicx: AFD SHIELD

ड्रग थेरेपी एंटीबायोटिक्स

एक नज़र में:

  1. एंटीबायोटिक्स क्या हैं?

  2. एंटीबायोटिक्स के प्रकार

  3. एंटीबायोटिक दवाओं के दुष्प्रभाव

  4. एंटीबायोटिक दवाओं का अत्यधिक उपयोग

  5. एंटीबायोटिक प्रतिरोध

  6. एंटीबायोटिक प्रबंधन

  7. एंटीबायोटिक्स कैसे काम करते हैं?

  8. एंटीबायोटिक्स के उपयोग

  9. एंटीबायोटिक्स एलर्जी

  10. एंटीबायोटिक्स परस्पर क्रिया

  11. एंटीबायोटिक्स का उपयोग कैसे करें?

  12. क्या कोई बैक्टीरिया है जो सभी एंटीबायोटिक दवाओं के लिए प्रतिरोधी है?

  13. एंटीबायोटिक्स से उपचारित सामान्य संक्रमणों की सूची

  14. क्या काउंटर पर मिलने वाली कोई एंटीबायोटिक हैं?

  15. आमतौर पर कौन सा एंटीबायोटिक दिया जाता है?

  16. एंटीबायोटिक्स क्या कर सकते हैं और क्या नहीं

  17. एंटीबायोटिक्स को काम करने में कितना समय लगता है?

  18. संबंधित विषय:


एंटीबायोटिक्स क्या हैं?

एंटीबायोटिक्स

एंटीबायोटिक्स दवाओं का एक समूह है जिसका उपयोग कुछ कीटाणुओं (बैक्टीरिया और कुछ परजीवी) के कारण होने वाले संक्रमण के इलाज के लिए किया जाता है। वे वायरस के कारण होने वाले संक्रमणों के खिलाफ काम नहीं करते हैं - उदाहरण के लिए, सामान्य सर्दी या फ्लू। कभी-कभी, एक वायरल संक्रमण या मामूली जीवाणु संक्रमण एक अधिक गंभीर माध्यमिक जीवाणु संक्रमण में विकसित होता है। इस मामले में, एंटीबायोटिक दवाओं की आवश्यकता होगी। एंटीबायोटिक्स आमतौर पर केवल अधिक गंभीर जीवाणु संक्रमण के लिए निर्धारित होते हैं, क्योंकि कई संक्रमण अपने आप ठीक हो जाते हैं। एंटीबायोटिक प्रतिरोध को कम करने में मदद करने के लिए एंटीबायोटिक दवाओं का सही उपयोग नितांत आवश्यक है। समय के साथ रोगाणु एंटीबायोटिक दवाओं के प्रति प्रतिरोधी हो जाते हैं, जो तब उन्हें कम प्रभावी बनाता है।

एंटीबायोटिक्स शक्तिशाली दवाएं हैं जो कुछ संक्रमणों से लड़ती हैं और सही तरीके से उपयोग किए जाने पर जान बचा सकती हैं। वे या तो बैक्टीरिया को प्रजनन करने से रोकते हैं या उन्हें नष्ट कर देते हैं। इससे पहले कि बैक्टीरिया गुणा कर सकें और लक्षण पैदा कर सकें, प्रतिरक्षा प्रणाली आमतौर पर उन्हें मार सकती है। श्वेत रक्त कोशिकाएं (WBC) हानिकारक जीवाणुओं पर हमला करती हैं और, भले ही लक्षण दिखाई दें, प्रतिरक्षा प्रणाली आमतौर पर संक्रमण का सामना कर सकती है और उससे लड़ सकती है। कभी-कभी, हालांकि, हानिकारक जीवाणुओं की संख्या अत्यधिक होती है, और प्रतिरक्षा प्रणाली उन सभी से नहीं लड़ सकती है। इस परिदृश्य में एंटीबायोटिक्स उपयोगी हैं। एंटीबायोटिक्स के कई उपयोग हैं।

पहला एंटीबायोटिक पेनिसिलिन था। पेनिसिलिन-आधारित एंटीबायोटिक्स, जैसे एम्पीसिलीन, एमोक्सिसिलिन और पेनिसिलिन जी, अभी भी विभिन्न प्रकार के संक्रमणों के इलाज के लिए उपलब्ध हैं और लंबे समय से आसपास हैं। कई प्रकार के आधुनिक एंटीबायोटिक्स उपलब्ध हैं, और वे आमतौर पर अधिकांश देशों में केवल नुस्खे के साथ उपलब्ध होते हैं। सामयिक एंटीबायोटिक्स ओवर-द-काउंटर (ओटीसी) क्रीम और मलहम में उपलब्ध हैं। विभिन्न एंटीबायोटिक्स उपलब्ध हैं और वे विभिन्न ब्रांड नामों में आते हैं। एंटीबायोटिक्स को आमतौर पर एक साथ समूहीकृत किया जाता है कि वे कैसे काम करते हैं। प्रत्येक प्रकार का एंटीबायोटिक केवल कुछ प्रकार के बैक्टीरिया या परजीवियों के खिलाफ काम करता है। यही कारण है कि विभिन्न प्रकार के संक्रमण के इलाज के लिए विभिन्न एंटीबायोटिक दवाओं का उपयोग किया जाता है।

एंटीबायोटिक्स के प्रकार

अधिकांश एंटीबायोटिक्स अपने व्यक्तिगत एंटीबायोटिक वर्गों में आते हैं। एक एंटीबायोटिक वर्ग विभिन्न दवाओं का एक समूह है जिसमें समान रासायनिक और औषधीय गुण होते हैं। उनकी रासायनिक संरचना तुलनीय दिख सकती है, और एक ही वर्ग की दवाएं समान या संबंधित जीवाणुओं को मार सकती हैं।

हालांकि, यह महत्वपूर्ण है कि संक्रमण के लिए एंटीबायोटिक का उपयोग तब तक न करें जब तक कि आपका डॉक्टर विशेष रूप से इसे निर्धारित न करे, भले ही वह उसी वर्ग में हो, जिस श्रेणी में आपको पहले दी गई थी। एंटीबायोटिक्स उस प्रकार के बैक्टीरिया के लिए विशिष्ट होते हैं जो वे मारते हैं। इसके अलावा, आपको अपने संक्रमण को प्रभावी ढंग से ठीक करने के लिए एक पूर्ण उपचार आहार की आवश्यकता होगी, इसलिए बचे हुए एंटीबायोटिक दवाओं का उपयोग या उन्हें न दें।

1. पेनिसिलिन
इस वर्ग का दूसरा नाम बीटा-लैक्टम एंटीबायोटिक्स है, जो उनके संरचनात्मक सूत्र का जिक्र करता है। पेनिसिलिन वर्ग में एंटीबायोटिक दवाओं के पांच समूह होते हैं: एमिनोपेनिसिलिन, एंटीस्यूडोमोनल पेनिसिलिन, बीटा-लैक्टामेज अवरोधक, प्राकृतिक पेनिसिलिन और पेनिसिलिनस प्रतिरोधी पेनिसिलिन।
पेनिसिलिन वर्ग में आम एंटीबायोटिक दवाओं में शामिल हैं: एमोक्सिसिलिन, एमोक्सिसिलिन और क्लैवुलनेट, एम्पीसिलीन, डाइकोक्सासिलिन, ऑक्सैसिलिन और पेनिसिलिन वी पोटेशियम। कुछ पेनिसिलिनस-प्रतिरोधी पेनिसिलिन (जैसे ऑक्सैसिलिन या डाइक्लोक्सासिलिन) अपने आप में कुछ बीटा-लैक्टामेज़ एंजाइमों के लिए स्वाभाविक रूप से प्रतिरोधी हैं। अन्य, उदाहरण के लिए, एमोक्सिसिलिन या एम्पीसिलीन में अधिक जीवाणुरोधी गतिविधि होती है जब उन्हें बीटा-लैक्टामेज अवरोधक जैसे क्लैवुलनेट, सल्बैक्टम, या टैज़ोबैक्टम के साथ जोड़ा जाता है।

2. टेट्रासाइक्लिन
टेट्रासाइक्लिन कई बैक्टीरिया के खिलाफ व्यापक स्पेक्ट्रम हैं और मुँहासे, मूत्र पथ के संक्रमण (यूटीआई), आंतों के संक्रमण, आंखों में संक्रमण, यौन संचारित रोग, पीरियोडोंटाइटिस (मसूड़ों की बीमारी) और अन्य जीवाणु संक्रमण जैसी स्थितियों का इलाज करते हैं। टेट्रासाइक्लिन वर्ग में दवाएं शामिल हैं जैसे: डेमेक्लोसाइक्लिन, डॉक्सीसाइक्लिन, एरावासाइक्लिन, मिनोसाइक्लिन, ओमाडासाइक्लिन और टेट्रासाइक्लिन।

3. सेफलोस्पोरिन्स
सेफलोस्पोरिन की पांच पीढ़ियां हैं, जिसमें ग्राम-नकारात्मक संक्रमणों को शामिल करने के लिए पूरे वर्ग में विस्तारित कवरेज शामिल है। कुछ बैक्टीरिया के व्यापक कवरेज की अनुमति देने के लिए अद्यतन संरचनाओं के साथ नई पीढ़ियों को विकसित किया गया है। सेफलोस्पोरिन जीवाणुनाशक होते हैं (बैक्टीरिया को मारते हैं) और पेनिसिलिन की तरह ही काम करते हैं। सेफलोस्पोरिन कई प्रकार के संक्रमणों का इलाज करता है, जिनमें गले में खराश, कान में संक्रमण, मूत्र मार्ग में संक्रमण, त्वचा में संक्रमण, फेफड़ों में संक्रमण और मेनिन्जाइटिस शामिल हैं। इस वर्ग में सामान्य दवाओं में शामिल हैं: सेफैक्लोर, सेफडिनिर, सेफोटैक्सिम, सेफ्टाजिडाइम, सेफ्ट्रिएक्सोन और सेफुरोक्साइम।
पांचवीं पीढ़ी (या अगली पीढ़ी) सेफलोस्पोरिन जिसे सेफ्टारोलिन के रूप में जाना जाता है, मेथिसिलिन प्रतिरोधी स्टैफिलोकोकस ऑरियस (MRSA) के खिलाफ सक्रिय है। अवीकाज़ में बीटा-लैक्टामेज़ अवरोधक एविबैक्टम होता है।

4. क्विनोलोन
क्विनोलोन, जिसे फ्लोरोक्विनोलोन के रूप में भी जाना जाता है, गतिविधि के व्यापक स्पेक्ट्रम के साथ एक सिंथेटिक, जीवाणुनाशक जीवाणुरोधी वर्ग है। जब अन्य विकल्प प्रभावी नहीं होते हैं, तो अस्पताल से प्राप्त निमोनिया, बैक्टीरियल प्रोस्टेटाइटिस और यहां तक ​​कि एंथ्रेक्स या प्लेग के लिए क्विनोलोन का उपयोग मुश्किल-से-इलाज मूत्र पथ के संक्रमण के लिए किया जा सकता है। संभावित अक्षम करने वाले दुष्प्रभावों के कारण FDA ने इस वर्ग के बारे में कई कड़ी चेतावनियाँ जारी की हैं।
फ्लोरोक्विनोलोन वर्ग में सामान्य दवाओं में शामिल हैं: सिप्रोफ्लोक्सासिन, लेवोफ़्लॉक्सासिन और मोक्सीफ़्लोक्सासिन। आंख या कान के संक्रमण के इलाज के लिए कई क्विनोलोन ड्रॉप के रूप में भी उपलब्ध हैं।

5. लिनकोमाइसिन्स
इस वर्ग में ग्राम-पॉजिटिव एरोबेस और एनारोबेस (बैक्टीरिया जो ऑक्सीजन के बिना रह सकते हैं) के साथ-साथ कुछ ग्राम-नेगेटिव एनारोबेस के खिलाफ गतिविधि है। लिनकोमाइसिन डेरिवेटिव का उपयोग पैल्विक सूजन की बीमारी, इंट्रा-पेट में संक्रमण, निचले श्वसन पथ के संक्रमण और हड्डी और जोड़ों के संक्रमण जैसे गंभीर संक्रमणों के इलाज के लिए किया जा सकता है। मुँहासे के इलाज के लिए कुछ रूपों का त्वचा पर शीर्ष पर भी उपयोग किया जाता है। इन दवाओं में शामिल हैं: क्लिंडामाइसिन और लिनकोमाइसिन।

6. मैक्रोलाइड्स
मैक्रोलाइड्स का उपयोग समुदाय-अधिग्रहित निमोनिया, पर्टुसिस (काली खांसी), या अन्य अतिसंवेदनशील संक्रमणों के बीच सीधी त्वचा संक्रमण के इलाज के लिए किया जा सकता है। केटोलाइड मैक्रोलाइड जीवाणु प्रतिरोध को दूर करने के लिए विकसित एंटीबायोटिक की एक नई पीढ़ी है। अक्सर निर्धारित मैक्रोलाइड हैं: एज़िथ्रोमाइसिन, क्लैरिथ्रोमाइसिन और एरिथ्रोमाइसिन।

7. सल्फोनामाइड्स
सल्फोनामाइड्स कुछ ग्राम-पॉजिटिव और कई ग्राम-नेगेटिव बैक्टीरिया के खिलाफ प्रभावी हैं, लेकिन प्रतिरोध व्यापक है। सल्फोनामाइड्स के उपयोग में मूत्र पथ के संक्रमण (यूटीआई), न्यूमोसिस्टिस निमोनिया का उपचार या रोकथाम, या कान में संक्रमण (ओटिटिस मीडिया) शामिल हैं। परिचित नामों में शामिल हैं: सल्फामेथोक्साज़ोल और ट्राइमेथोप्रिम, सल्फ़ासालज़ीन और सल्फिसोक्साज़ोल।

8. ग्लाइकोपेप्टाइड एंटीबायोटिक्स
इस समूह के सदस्यों का उपयोग मेथिसिलिन-प्रतिरोधी स्टैफिलोकोकस ऑरियस (MRSA) संक्रमण, जटिल त्वचा संक्रमण, सी। डिफिसाइल से जुड़े दस्त, और एंडोकार्टिटिस जैसे एंटरोकोकल संक्रमणों के इलाज के लिए किया जा सकता है जो बीटा-लैक्टम और अन्य एंटीबायोटिक दवाओं के प्रतिरोधी हैं। सामान्य दवाओं के नामों में शामिल हैं: डाल्बावैंसिन, ओरिटावंसिन, टेलवैंसिन और वैनकोमाइसिन।

9. एमिनोग्लीकोसाइड्स
अमीनोग्लाइकोसाइड्स 30S राइबोसोम से जुड़कर जीवाणु संश्लेषण को रोकते हैं और जीवाणुनाशक एंटीबायोटिक (बैक्टीरिया को मारने) के रूप में तेजी से कार्य करते हैं। इन दवाओं को आमतौर पर अंतःशिरा (एक सुई के माध्यम से एक नस में) दिया जाता है। इस वर्ग में सामान्य उदाहरण हैं: जेंटामाइसिन, टोब्रामाइसिन और एमिकासिन।

10. कार्बापेनेम्स
इन इंजेक्टेबल बीटा-लैक्टम एंटीबायोटिक्स में बैक्टीरिया को मारने की शक्ति का एक विस्तृत स्पेक्ट्रम होता है और इसका उपयोग मध्यम से जीवन के लिए खतरनाक जीवाणु संक्रमण जैसे पेट में संक्रमण, निमोनिया, गुर्दे में संक्रमण, मल्टीड्रग-प्रतिरोधी अस्पताल से प्राप्त संक्रमण और कई अन्य प्रकार के गंभीर बैक्टीरिया के लिए किया जा सकता है। बीमारियाँ। उन्हें अक्सर अधिक गंभीर संक्रमणों के लिए बचाया जाता है या प्रतिरोध को रोकने में मदद करने के लिए "अंतिम-पंक्ति" एजेंटों के रूप में उपयोग किया जाता है। इस वर्ग के सदस्यों में शामिल हैं: इमिपेनेम और क्लिस्टैटिन, मेरोपेनेम, डोरिपेनेम और एर्टापेनम।

एंटीबायोटिक्स के दुष्प्रभाव

एंटीबायोटिक्स आमतौर पर निम्नलिखित दुष्प्रभाव पैदा करते हैं:
• दस्त
• मतली
• उल्टी
• दाने
• पेट खराब
• कुछ एंटीबायोटिक दवाओं या लंबे समय तक उपयोग के साथ, मुंह, पाचन तंत्र और योनि के फंगल संक्रमण

एंटीबायोटिक दवाओं के कम आम दुष्प्रभावों में शामिल हैं:
• सल्फोनामाइड्स लेते समय गुर्दे की पथरी का बनना
• कुछ सेफलोस्पोरिन लेते समय असामान्य रक्त का थक्का जमना)
• टेट्रासाइक्लिन लेते समय सूर्य के प्रकाश के प्रति संवेदनशीलता
• रक्त विकार, ट्राइमेथोप्रिम लेते समय
• एरिथ्रोमाइसिन और एमिनोग्लाइकोसाइड लेते समय बहरापन

कुछ लोगों, विशेष रूप से वृद्ध वयस्कों को आंत्र सूजन का अनुभव हो सकता है, जिससे गंभीर, खूनी दस्त हो सकते हैं। कम आम मामलों में, पेनिसिलिन, सेफलोस्पोरिन और एरिथ्रोमाइसिन भी आंतों में सूजन पैदा कर सकते हैं।

एंटीबायोटिक्स का अत्यधिक उपयोग

एंटीबायोटिक दवाओं का अत्यधिक उपयोग - विशेष रूप से एंटीबायोटिक्स लेना, भले ही वे उचित उपचार न हों - एंटीबायोटिक प्रतिरोध को बढ़ावा देता है। सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन के अनुसार, मनुष्यों में एक तिहाई से लेकर आधे तक एंटीबायोटिक का उपयोग अनावश्यक या अनुचित है। एंटीबायोटिक्स बैक्टीरिया के संक्रमण का इलाज करते हैं लेकिन वायरल संक्रमण का नहीं। उदाहरण के लिए, एक एंटीबायोटिक स्ट्रेप गले के लिए एक उपयुक्त उपचार है, जो जीवाणु स्ट्रेप्टोकोकस पाइोजेन्स के कारण होता है। लेकिन अधिकांश गले में खराश के लिए यह सही इलाज नहीं है, जो वायरस के कारण होता है।

अन्य सामान्य वायरल संक्रमण जो एंटीबायोटिक उपचार से लाभान्वित नहीं होते हैं, उनमें शामिल हैं:
• ठंडा
• फ्लू (इन्फ्लूएंजा)
• ब्रोंकाइटिस
• अधिकांश खांसी
• कान के कुछ संक्रमण
• साइनस के कुछ संक्रमण
• पेट फ्लू

वायरल संक्रमण के लिए एंटीबायोटिक लेना:
• संक्रमण ठीक नहीं होगा
• दूसरे लोगों को बीमार होने से नहीं रोकेंगे
• आपको या आपके बच्चे को बेहतर महसूस करने में मदद नहीं करेगा
• अनावश्यक और हानिकारक दुष्प्रभाव हो सकते हैं
• एंटीबायोटिक प्रतिरोध को बढ़ावा देता है

यदि आप वास्तव में एक वायरल संक्रमण होने पर एंटीबायोटिक लेते हैं, तो एंटीबायोटिक आपके शरीर में बैक्टीरिया पर हमला करता है - बैक्टीरिया जो या तो फायदेमंद होते हैं या कम से कम बीमारी पैदा नहीं करते हैं। यह गलत तरीके से किया गया उपचार तब हानिरहित बैक्टीरिया में एंटीबायोटिक-प्रतिरोधी गुणों को बढ़ावा दे सकता है जिन्हें अन्य बैक्टीरिया के साथ साझा किया जा सकता है, या संभावित हानिकारक बैक्टीरिया को हानिरहित बैक्टीरिया को बदलने का अवसर बना सकता है।

एंटीबायोटिक प्रतिरोध

एंटीबायोटिक्स शक्तिशाली दवाएं हैं जो कुछ प्रकार की बीमारियों के लिए बहुत अच्छा काम करती हैं। हालांकि, एंटीबायोटिक प्रतिरोध में वृद्धि के कारण कुछ एंटीबायोटिक्स अब पहले की तुलना में कम उपयोगी हैं। एंटीबायोटिक प्रतिरोध तब होता है जब बैक्टीरिया अब कुछ एंटीबायोटिक दवाओं द्वारा नियंत्रित या मारे नहीं जा सकते हैं। कुछ मामलों में, इसका मतलब यह हो सकता है कि कुछ शर्तों के लिए कोई प्रभावी उपचार नहीं है। हर साल, 2 मिलियन लोग बैक्टीरिया से संक्रमित होते हैं जो एंटीबायोटिक दवाओं के लिए प्रतिरोधी होते हैं, जिसके परिणामस्वरूप कम से कम 23,000 मौतें होती हैं।

एंटीबायोटिक प्रतिरोध

जब आप एक एंटीबायोटिक लेते हैं, तो संवेदनशील बैक्टीरिया समाप्त हो जाते हैं। एंटीबायोटिक उपचार के दौरान जीवित रहने वाले जीवाणु अक्सर उस एंटीबायोटिक के प्रतिरोधी होते हैं। इन जीवाणुओं में अक्सर अनूठी विशेषताएं होती हैं जो एंटीबायोटिक दवाओं को उन पर काम करने से रोकती हैं। कुछ गंभीर एंटीबायोटिक प्रतिरोधी संक्रमणों में शामिल हैं:

• क्लोस्ट्रीडियम डिफिसाइल
इस प्रकार के जीवाणुओं की अतिवृद्धि आपकी छोटी और बड़ी दोनों आंतों में संक्रमण का कारण बनती है। यह अक्सर किसी अन्य जीवाणु संक्रमण के लिए एंटीबायोटिक दवाओं के साथ इलाज के बाद होता है। C. diff कई एंटीबायोटिक दवाओं के लिए स्वाभाविक रूप से प्रतिरोधी है।

• वैनकोमाइसिन-प्रतिरोधी एंटरोकोकस
ये बैक्टीरिया अक्सर आपके रक्त प्रवाह, मूत्र पथ, या सर्जिकल घावों को संक्रमित करते हैं। यह संक्रमण आमतौर पर अस्पताल में भर्ती लोगों में होता है। एंटरोकॉसी संक्रमण का एंटीबायोटिक वैनकोमाइसिन के साथ इलाज किया जा सकता है, लेकिन वीआरई इस उपचार के लिए प्रतिरोधी है।

• मेथिसिलिन प्रतिरोधी स्टैफिलोकोकस ऑरियस
इस प्रकार का संक्रमण पारंपरिक स्टैफ संक्रमण एंटीबायोटिक दवाओं के लिए प्रतिरोधी है। मेथिसिलिन प्रतिरोधी स्टैफिलोकोकस ऑरियस संक्रमण आमतौर पर आपकी त्वचा पर होता है। यह अस्पतालों में लोगों और कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली वाले लोगों में सबसे आम है।

• कार्बापेनम प्रतिरोधी एंटरोबैक्टीरिया (सीआरई)
बैक्टीरिया का यह वर्ग कई अन्य एंटीबायोटिक दवाओं के लिए प्रतिरोधी है। सीआर संक्रमण आमतौर पर अस्पतालों में लोगों में होता है और जो मैकेनिकल वेंटिलेटर पर हैं या जिनके पास कैथेटर हैं।

एंटीबायोटिक प्रतिरोध का सबसे महत्वपूर्ण कारण एंटीबायोटिक दवाओं का अनुचित उपयोग या अति प्रयोग है। 30 प्रतिशत तक एंटीबायोटिक का उपयोग अनावश्यक माना जाता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि एंटीबायोटिक्स अक्सर तब निर्धारित किए जाते हैं जब उनकी आवश्यकता नहीं होती है।

अनुचित एंटीबायोटिक उपयोग को कम करने के लिए कई महत्वपूर्ण कदम उठाए जा सकते हैं:
- केवल जीवाणु संक्रमण के लिए एंटीबायोटिक्स लें: सामान्य सर्दी, फ्लू, खांसी, या गले में खराश जैसे वायरस के कारण होने वाली स्थितियों के लिए एंटीबायोटिक दवाओं का उपयोग न करें।
- अपने स्वास्थ्य सेवा प्रदाता के निर्देशानुसार एंटीबायोटिक्स लें: गलत खुराक का उपयोग करना, खुराक छोड़ना, या इसे निर्देशित से अधिक या कम लेना बैक्टीरिया प्रतिरोध में योगदान कर सकता है। भले ही आप कुछ दिनों के बाद बेहतर महसूस करें, एंटीबायोटिक बंद करने से पहले अपने स्वास्थ्य सेवा प्रदाता से बात करें।
- सही एंटीबायोटिक लें: किसी संक्रमण के लिए गलत एंटीबायोटिक का उपयोग करने से प्रतिरोध हो सकता है। किसी और के लिए निर्धारित एंटीबायोटिक्स न लें। इसके अलावा, पिछले उपचार से बचे हुए एंटीबायोटिक्स न लें। आपका स्वास्थ्य सेवा प्रदाता आपके विशिष्ट प्रकार के संक्रमण के लिए सबसे उपयुक्त एंटीबायोटिक का चयन करने में सक्षम होगा।

एंटीबायोटिक प्रतिरोध के परिणाम

एंटीबायोटिक प्रतिरोध के परिणाम

कई वर्षों तक, नई एंटीबायोटिक दवाओं की शुरूआत ने एंटीबायोटिक प्रतिरोध के विकास को पीछे छोड़ दिया। हाल के वर्षों में, हालांकि, दवा प्रतिरोध की गति ने स्वास्थ्य देखभाल समस्याओं की बढ़ती संख्या में योगदान दिया है। संयुक्त राज्य अमेरिका में हर साल एंटीबायोटिक प्रतिरोधी बैक्टीरिया से लगभग 2 मिलियन संक्रमण होते हैं, जिसके परिणामस्वरूप 23,000 मौतें होती हैं।

दवा प्रतिरोधी संक्रमण के अन्य परिणामों में शामिल हैं:
• अधिक गंभीर बीमारी
• लंबी रिकवरी
• बार-बार या लंबे समय तक अस्पताल में भर्ती रहना
• अधिक डॉक्टर मिलते हैं
• अधिक महंगे उपचार

एंटीबायोटिक प्रबंधन

एंटीबायोटिक्स का उचित उपयोग, जिसे अक्सर एंटीबायोटिक स्टीवर्डशिप कहा जाता है, निम्न में मदद कर सकता है:
• मौजूदा एंटीबायोटिक दवाओं की प्रभावशीलता को बनाए रखें
• मौजूदा एंटीबायोटिक दवाओं के जीवन काल का विस्तार करें
• लोगों को एंटीबायोटिक प्रतिरोधी संक्रमणों से बचाएं
• एंटीबायोटिक दवाओं के अनुपयुक्त उपयोग से होने वाले दुष्प्रभावों से बचें

कई अस्पतालों और चिकित्सा संघों ने जीवाणु संक्रमण के लिए प्रभावी उपचार सुनिश्चित करने और एंटीबायोटिक दवाओं के अनुचित उपयोग को कम करने के लिए नए नैदानिक ​​और उपचार दिशानिर्देश लागू किए हैं।

जनता एंटीबायोटिक प्रबंधन में भी भूमिका निभाती है। आप एंटीबायोटिक प्रतिरोध के विकास को कम करने में मदद कर सकते हैं यदि आप:
• आपको एंटीबायोटिक नुस्खे देने के लिए अपने डॉक्टर पर दबाव डालने से बचें। लक्षणों का इलाज कैसे करें, इस बारे में अपने डॉक्टर से सलाह लें।
• जीवाणु संक्रमण से बचने के लिए, जिसमें एंटीबायोटिक उपचार की आवश्यकता होती है, अच्छी स्वच्छता का अभ्यास करें।
• सुनिश्चित करें कि आप और आपके बच्चे अनुशंसित टीकाकरण प्राप्त करते हैं। कुछ अनुशंसित टीके बैक्टीरिया के संक्रमण से बचाते हैं, जैसे कि डिप्थीरिया और काली खांसी (पर्टुसिस)।
• खाद्य जनित जीवाणु संक्रमण होने के अपने जोखिम को कम करें। कच्चा दूध न पिएं, अपने हाथ धोएं और खाद्य पदार्थों को सुरक्षित आंतरिक तापमान पर पकाएं।
• केवल अपने चिकित्सक द्वारा बताए अनुसार एंटीबायोटिक दवाओं का प्रयोग करें। निर्धारित दैनिक खुराक लें, और उपचार का पूरा कोर्स पूरा करें।
• बाद की बीमारी के लिए कभी भी बचे हुए एंटीबायोटिक्स न लें। हो सकता है कि वे सही एंटीबायोटिक न हों और इलाज का पूरा कोर्स न हों।
• कभी भी किसी अन्य व्यक्ति के लिए निर्धारित एंटीबायोटिक्स न लें।

एंटीबायोटिक्स कैसे काम करते हैं?

एंटीबायोटिक विभिन्न प्रकार के होते हैं, जो दो में से एक तरीके से काम करते हैं:
• एक जीवाणुनाशक एंटीबायोटिक, जैसे पेनिसिलिन, जीवाणुओं को मारता है। ये दवाएं आमतौर पर या तो जीवाणु कोशिका भित्ति या इसकी कोशिका सामग्री के निर्माण में हस्तक्षेप करती हैं।
• बैक्टीरियोस्टेटिक बैक्टीरिया को गुणा करने से रोकता है।

एंटीबायोटिक्स के कई उपयोग हैं।

कैसिफिकेशन

एंटीबायोटिक दवाओं के उपयोग

एंटीबायोटिक्स वायरस के खिलाफ अप्रभावी होते हैं। एक जीवाणु संक्रमण के उपचार के लिए एक डॉक्टर एंटीबायोटिक्स निर्धारित करता है। यह वायरस के खिलाफ प्रभावी नहीं है। जानें कि कोई संक्रमण जीवाणु है या वायरल इसका प्रभावी ढंग से इलाज करने में मदद करता है। वायरस अधिकांश ऊपरी श्वसन पथ के संक्रमण (यूआरटीआई) का कारण बनते हैं, जैसे कि सामान्य सर्दी और फ्लू। एंटीबायोटिक्स इन वायरस के खिलाफ काम नहीं करते हैं। यदि लोग एंटीबायोटिक दवाओं का अत्यधिक उपयोग करते हैं या उनका गलत उपयोग करते हैं, तो बैक्टीरिया प्रतिरोधी बन सकते हैं। इसका मतलब यह है कि उस प्रकार के जीवाणु के खिलाफ एंटीबायोटिक कम प्रभावी हो जाता है, क्योंकि जीवाणु अपनी सुरक्षा में सुधार करने में सक्षम रहा है।

एक डॉक्टर संक्रमण की एक विस्तृत श्रृंखला के इलाज के लिए एक व्यापक स्पेक्ट्रम एंटीबायोटिक लिख सकता है। एक संकीर्ण स्पेक्ट्रम एंटीबायोटिक केवल कुछ प्रकार के जीवाणुओं के खिलाफ प्रभावी होता है। कुछ एंटीबायोटिक्स एरोबिक बैक्टीरिया पर हमला करते हैं, जबकि अन्य एनारोबिक बैक्टीरिया के खिलाफ काम करते हैं। एरोबिक बैक्टीरिया को ऑक्सीजन की जरूरत होती है और एनारोबिक बैक्टीरिया को नहीं।

कुछ मामलों में, एक स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर संक्रमण का इलाज करने के बजाय रोकथाम के लिए एंटीबायोटिक्स प्रदान कर सकता है, जैसा कि सर्जरी से पहले हो सकता है। यह एंटीबायोटिक दवाओं के 'रोगनिरोधी' उपयोगों में से एक है। लोग आमतौर पर आंत्र और आर्थोपेडिक सर्जरी से पहले इन एंटीबायोटिक दवाओं का उपयोग करते हैं।

एंटीबायोटिक्स का उपयोग कब करें

एंटीबायोटिक्स विशिष्ट प्रकार के बैक्टीरिया के इलाज के लिए होते हैं और सामान्य तौर पर, एक संक्रमण से दूसरे संक्रमण में नहीं बदले जा सकते। जब एंटीबायोटिक्स का सही तरीके से उपयोग किया जाता है, तो वे आमतौर पर कुछ दुष्प्रभावों के साथ सुरक्षित होते हैं।

हालांकि, अधिकांश दवाओं की तरह, एंटीबायोटिक्स के दुष्प्रभाव हो सकते हैं जो परेशानी से लेकर गंभीर या जानलेवा तक हो सकते हैं। शिशुओं और बुजुर्गों में, गुर्दे या जिगर की बीमारी वाले रोगियों में, गर्भवती या स्तनपान कराने वाली महिलाओं में, और कई अन्य रोगी समूहों में रोगी की विशिष्ट विशेषताओं के आधार पर एंटीबायोटिक खुराक को समायोजित करने की आवश्यकता हो सकती है, जैसे कि गुर्दा या यकृत समारोह, वजन, या उम्र। एंटीबायोटिक दवाओं के साथ ड्रग इंटरैक्शन भी आम हो सकता है। स्वास्थ्य देखभाल प्रदाता सही एंटीबायोटिक और खुराक निर्धारित करने के लिए प्रत्येक रोगी का व्यक्तिगत रूप से आकलन करने में सक्षम हैं।

एंटीबायोटिक्स का प्रयोग कब नहीं करना चाहिए

एंटीबायोटिक्स सभी संक्रमणों के लिए सही विकल्प नहीं हैं। उदाहरण के लिए, अधिकांश गले में खराश, खांसी और सर्दी, फ्लू या तीव्र साइनसिसिस मूल रूप से वायरल होते हैं (बैक्टीरिया नहीं) और उन्हें एंटीबायोटिक की आवश्यकता नहीं होती है। ये वायरल संक्रमण "आत्म-सीमित" हैं, जिसका अर्थ है कि आपकी अपनी प्रतिरक्षा प्रणाली आमतौर पर वायरस से लड़ेगी और लड़ेगी। वास्तव में, वायरल संक्रमण के लिए एंटीबायोटिक दवाओं का उपयोग करने से एंटीबायोटिक प्रतिरोध का खतरा बढ़ सकता है, यदि एंटीबायोटिक की आवश्यकता हो तो भविष्य के उपचार के विकल्प कम हो सकते हैं, और रोगी को साइड इफेक्ट और अनावश्यक दवा उपचार के कारण अतिरिक्त लागत के जोखिम में डाल सकते हैं।

एंटीबायोटिक प्रतिरोधी बैक्टीरिया को एंटीबायोटिक द्वारा पूरी तरह से रोका या मारा नहीं जा सकता है, भले ही एंटीबायोटिक प्रतिरोध होने से पहले प्रभावी ढंग से काम कर चुका हो। अपना एंटीबायोटिक साझा न करें या किसी और के लिए निर्धारित दवा न लें, और अगली बार बीमार होने पर उपयोग करने के लिए एंटीबायोटिक न बचाएं।

एंटीबायोटिक्स एलर्जी

कुछ लोगों को एंटीबायोटिक दवाओं, विशेष रूप से पेनिसिलिन से एलर्जी की प्रतिक्रिया हो सकती है। साइड इफेक्ट्स में दाने, जीभ और चेहरे की सूजन और सांस लेने में कठिनाई शामिल हो सकती है। एंटीबायोटिक दवाओं से एलर्जी की प्रतिक्रिया तत्काल या विलंबित अतिसंवेदनशीलता प्रतिक्रियाएं हो सकती हैं। जिस किसी को भी एंटीबायोटिक से एलर्जी की प्रतिक्रिया होती है, उसे अपने डॉक्टर या फार्मासिस्ट को बताना चाहिए। एंटीबायोटिक दवाओं के प्रति प्रतिक्रिया गंभीर और कभी-कभी घातक हो सकती है। उन्हें एनाफिलेक्टिक प्रतिक्रियाएं कहा जाता है। कम जिगर या गुर्दा समारोह वाले लोगों को एंटीबायोटिक दवाओं का उपयोग करते समय सतर्क रहना चाहिए। यह उनके द्वारा उपयोग किए जा सकने वाले एंटीबायोटिक दवाओं के प्रकार या उन्हें मिलने वाली खुराक को प्रभावित कर सकता है। इसी तरह, जो महिलाएं गर्भवती हैं या स्तनपान करा रही हैं, उन्हें डॉक्टर से बात करनी चाहिए कि कौन से एंटीबायोटिक्स लेने चाहिए।

एंटीबायोटिक्स एलर्जी

किसी एंटीबायोटिक से एलर्जी की प्रतिक्रिया के लक्षण

कुछ लोगों को कुछ खास प्रकार के एंटीबायोटिक दवाओं से एलर्जी होती है, आमतौर पर पेनिसिलिन। यदि आपके पास संभावित एलर्जी के बारे में कोई प्रश्न है, तो दवा लेने से पहले अपने डॉक्टर या फार्मासिस्ट से पूछें।

एलर्जी प्रतिक्रियाओं में आमतौर पर निम्नलिखित लक्षण होते हैं:
• सांस की तकलीफ
• दाने
• पित्ती
• खुजली
• होठों, चेहरे या जीभ की सूजन
• बेहोशी

एंटीबायोटिक्स परस्पर क्रिया

एंटीबायोटिक लेने वाले व्यक्तियों को पहले डॉक्टर से बात किए बिना अन्य दवाएं या हर्बल उपचार नहीं लेना चाहिए। कुछ ओटीसी दवाएं एंटीबायोटिक दवाओं के साथ भी बातचीत कर सकती हैं। कुछ डॉक्टरों का सुझाव है कि एंटीबायोटिक्स मौखिक गर्भ निरोधकों की प्रभावशीलता को कम कर सकते हैं। हालांकि, शोध आम तौर पर इसका समर्थन नहीं करते हैं। फिर भी, जो लोग दस्त और उल्टी का अनुभव करते हैं या पेट खराब होने के कारण बीमारी के दौरान मौखिक गर्भनिरोधक नहीं ले रहे हैं, वे पा सकते हैं कि इसकी प्रभावशीलता कम हो जाती है। इन परिस्थितियों में, अतिरिक्त गर्भनिरोधक सावधानियां बरतें।

एंटीबायोटिक्स का उपयोग कैसे करें?

एंटीबायोटिक्स का उपयोग

लोगों को एंटीबायोटिक्स का कोर्स बीच में ही बंद नहीं करना चाहिए। यदि संदेह है, तो वे अपने डॉक्टर से सलाह ले सकते हैं। लोग आमतौर पर मुंह से एंटीबायोटिक्स लेते हैं। हालांकि, डॉक्टर उन्हें इंजेक्शन द्वारा प्रशासित कर सकते हैं या संक्रमण के साथ शरीर के उस हिस्से पर सीधे लगा सकते हैं। एंटीबायोटिक दवाओं के कई उपयोग हैं। अधिकांश एंटीबायोटिक्स कुछ ही घंटों में संक्रमण का मुकाबला करना शुरू कर देते हैं। संक्रमण की वापसी को रोकने के लिए दवा का पूरा कोर्स पूरा करें।

पाठ्यक्रम समाप्त होने से पहले दवा बंद करने से यह जोखिम बढ़ जाता है कि बैक्टीरिया भविष्य के उपचार के लिए प्रतिरोधी बन जाएंगे। जो बच जाते हैं उन्हें एंटीबायोटिक का कुछ जोखिम होता है और इसके परिणामस्वरूप इसके प्रतिरोध का विकास हो सकता है। लक्षणों में सुधार देखने के बाद भी एक व्यक्ति को एंटीबायोटिक उपचार का कोर्स पूरा करने की आवश्यकता होती है।

कुछ खाद्य पदार्थों और पेय पदार्थों के साथ कुछ एंटीबायोटिक्स न लें। दूसरों को खाली पेट, भोजन से लगभग एक घंटे पहले या 2 घंटे बाद लें। दवा के प्रभावी होने के लिए निर्देशों का सही ढंग से पालन करें। मेट्रोनिडाजोल लेने वाले लोगों को शराब नहीं पीनी चाहिए। टेट्रासाइक्लिन लेते समय डेयरी उत्पादों से बचें, क्योंकि ये दवा के अवशोषण को बाधित कर सकते हैं।

एंटीबायोटिक्स की खुराक न लेना

यदि आप अपनी एंटीबायोटिक दवाओं की एक खुराक लेना भूल जाते हैं, तो याद आते ही वह खुराक ले लें और फिर सामान्य रूप से अपना एंटीबायोटिक लेना जारी रखें। लेकिन अगर अगली खुराक का समय हो गया है, तो छूटी हुई खुराक को छोड़ दें और अपना नियमित खुराक कार्यक्रम जारी रखें। छूटी हुई खुराक की भरपाई के लिए दोहरी खुराक न लें।

गलती से एक अतिरिक्त खुराक लेना

यदि आप सिफारिश की तुलना में 2 खुराक एक साथ लेते हैं, तो साइड इफेक्ट का खतरा बढ़ जाता है। गलती से आपके एंटीबायोटिक की 1 अतिरिक्त खुराक लेने से आपको कोई गंभीर नुकसान होने की संभावना नहीं है। लेकिन इससे आपके पेट में दर्द, दस्त, और महसूस या बीमार होने जैसे दुष्प्रभाव होने की संभावना बढ़ जाएगी। यदि आप गलती से अपने एंटीबायोटिक की 1 से अधिक अतिरिक्त खुराक लेते हैं, चिंतित हैं या आपको गंभीर दुष्प्रभाव मिलते हैं, तो जल्द से जल्द अपने चिकित्सक से बात करें।

क्या कोई बैक्टीरिया है जो सभी एंटीबायोटिक दवाओं के लिए प्रतिरोधी है?

कई अलग-अलग प्रकार के बैक्टीरिया हैं जो एंटीबायोटिक दवाओं के लिए प्रतिरोधी हैं जो उनके खिलाफ सबसे प्रभावी रहे हैं। कुछ उदाहरणों में शामिल हैं:
• एथिसिलिन प्रतिरोधी स्टैफिलोकोकस ऑरियस; बहु-दवा प्रतिरोधी माइकोबैक्टीरियम ट्यूबरकुलोसिस (एमडीआर-टीबी)
• कार्बापेनम-प्रतिरोधी एंटरोबैक्टीरिया (सीआरई) आंत बैक्टीरिया
• वैनकोमाइसिन-प्रतिरोधी एंटरोकोकस

जब इनमें से कोई एक जीवाणु संक्रमण का कारण बनता है, तो इसे ठीक करना असंभव नहीं तो बहुत मुश्किल हो सकता है।

एंटीबायोटिक्स से उपचारित आम संक्रमणों की सूची

निम्नलिखित कुछ सामान्य संक्र मण हैं जिनका उपचार एंटीओटिक्स द्वारा किया जाता है:
• मुँहासे
• ब्रोंकाइटिस
• नेत्रश्लेष्मलाशोथ (गुलाबी आँख)
• ओटिटिस मीडिया (कान का संक्रमण)
• यौन संचारित रोग (एसटीडी)
• त्वचा या कोमल ऊतकों का संक्रमण
• स्ट्रेप्टोकोकल ग्रसनीशोथ (गले का स्ट्रेप)
• ट्रैवलर्स डायरिया
• ऊपरी श्वसन तंत्र में संक्रमण
• मूत्र मार्ग में संक्रमण (यूटीआई)

क्या कोई ओवर-द-काउंटर एंटीबायोटिक्स हैं?

ओवर-द-काउंटर मौखिक एंटीबायोटिक दवाओं को यू.एस. में अनुमोदित नहीं किया जाता है। एक जीवाणु संक्रमण का सबसे अच्छा इलाज एक नुस्खे एंटीबायोटिक के साथ किया जाता है जो संक्रमण पैदा करने वाले बैक्टीरिया के प्रकार के लिए विशिष्ट है। एक विशिष्ट एंटीबायोटिक का उपयोग करने से संक्रमण ठीक होने की संभावना बढ़ जाएगी और एंटीबायोटिक प्रतिरोध को रोकने में मदद मिलेगी। इसके अलावा, बैक्टीरिया को इंगित करने और सर्वोत्तम एंटीबायोटिक का चयन करने में सहायता के लिए एक प्रयोगशाला संस्कृति की आवश्यकता हो सकती है। गलत एंटीबायोटिक (या पर्याप्त नहीं) लेने से संक्रमण खराब हो सकता है और अगली बार एंटीबायोटिक काम करने से रोक सकता है।

कुछ ओवर-द-काउंटर सामयिक एंटीबायोटिक्स हैं जिनका उपयोग त्वचा पर किया जा सकता है। कुछ उत्पाद त्वचा पर मामूली कट, खरोंच या जलन का इलाज करते हैं या रोकते हैं जो बैक्टीरिया से संक्रमित हो सकते हैं। ये क्रीम, मलहम और यहां तक ​​कि स्प्रे में भी उपलब्ध हैं।

आम ओटीसी सामयिक एंटीबायोटिक्स:
• नियोस्पोरिन (बैकीट्रैसिन, नियोमाइसिन, पॉलीमीक्सिन बी)
• पॉलीस्पोरिन (बैकीट्रैसिन, पॉलीमीक्सिन बी)
• ट्रिपल एंटीबायोटिक, जेनेरिक (बैकीट्रैसिन, नियोमाइसिन, पॉलीमीक्सिन बी)
• नियोस्पोरिन + दर्द निवारक मरहम (बैकीट्रैसिन, नियोमाइसिन, पॉलीमीक्सिन बी, प्रामॉक्सिन)

मुँहासे के इलाज के लिए कुछ ओटीसी जीवाणुरोधी भी हैं। उनमें जीवाणुरोधी बेंज़ॉयल पेरोक्साइड होता है, जिसका मुँहासे के लिए हल्का सुखाने वाला प्रभाव भी होता है। कई उत्पाद फ़ार्मेसी अलमारियों पर जैल, लोशन, समाधान, फोम, सफाई पैड और यहां तक ​​कि चेहरे के स्क्रब के रूप में पाए जाते हैं।

आमतौर पर कौन सा एंटीबायोटिक दिया जाता है?

एंटीबायोटिक्स आमतौर पर निर्धारित

एंटीबायोटिक का चुनाव मुख्य रूप से इस बात पर निर्भर करता है कि आपको कौन सा संक्रमण है और आपके डॉक्टर के अनुसार रोगाणु (जीवाणु या परजीवी) आपके संक्रमण का कारण बन रहे हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि प्रत्येक एंटीबायोटिक केवल कुछ बैक्टीरिया और परजीवियों के खिलाफ ही प्रभावी होता है। उदाहरण के लिए, यदि आपको निमोनिया है, तो डॉक्टर जानता है कि किस प्रकार के बैक्टीरिया आमतौर पर निमोनिया के अधिकांश मामलों का कारण बनते हैं। वह उस प्रकार के जीवाणुओं का सबसे अच्छा मुकाबला करने वाले एंटीबायोटिक का चयन करेगा।

ऐसे अन्य कारक भी हैं जो एंटीबायोटिक के चुनाव को प्रभावित करते हैं। इनमें शामिल हैं:
• संक्रमण कितना गंभीर है।
• आपकी किडनी और लीवर कितनी अच्छी तरह काम कर रहे हैं।
• खुराक अनुसूची।
• अन्य दवाएं जो आप ले रहे होंगे।
• आम दुष्प्रभाव।
• एक निश्चित प्रकार के एंटीबायोटिक से एलर्जी होने का इतिहास।
• अगर आप गर्भवती हैं या स्तनपान करा रही हैं।
• आपके समुदाय में संक्रमण का पैटर्न।
• आपके क्षेत्र में रोगाणुओं द्वारा एंटीबायोटिक प्रतिरोध का पैटर्न।

भले ही आप गर्भवती हों या स्तनपान करा रही हों, ऐसे कई एंटीबायोटिक्स हैं जिन्हें लेना सुरक्षित माना जाता है।

एंटीबायोटिक्स क्या कर सकते हैं और क्या नहीं

आपके शरीर में रहने वाले अधिकांश जीवाणु हानिरहित होते हैं। कुछ मददगार भी हैं। फिर भी, बैक्टीरिया लगभग किसी भी अंग को संक्रमित कर सकते हैं। सौभाग्य से, एंटीबायोटिक्स आमतौर पर मदद कर सकते हैं। ये इस प्रकार के संक्रमण हैं जिनका एंटीबायोटिक दवाओं से इलाज किया जा सकता है:
• कान और साइनस के कुछ संक्रमण
• दांतों में संक्रमण
• त्वचा में संक्रमण
• मेनिनजाइटिस (मस्तिष्क और रीढ़ की हड्डी में सूजन)
• गले में खराश
• मूत्राशय और गुर्दे में संक्रमण
• बैक्टीरियल निमोनिया
• काली खांसी

एंटीबायोटिक दवाओं से केवल जीवाणु संक्रमण को मारा जा सकता है। सामान्य सर्दी, फ्लू, अधिकांश खांसी, कुछ ब्रोंकाइटिस संक्रमण, अधिकांश गले में खराश और पेट फ्लू सभी वायरस के कारण होते हैं। एंटीबायोटिक्स उनके इलाज के लिए काम नहीं करेंगे। आपका डॉक्टर आपको या तो इन बीमारियों का इंतजार करने के लिए कहेगा या इनसे छुटकारा पाने में मदद करने के लिए एंटीवायरल दवाएं लिखेंगे। यह हमेशा स्पष्ट नहीं होता है कि कोई संक्रमण वायरल है या बैक्टीरियल। कभी-कभी आपका डॉक्टर यह तय करने से पहले परीक्षण करेगा कि आपको किस उपचार की आवश्यकता है। कुछ एंटीबायोटिक्स कई तरह के बैक्टीरिया पर काम करते हैं। उन्हें "ब्रॉड-स्पेक्ट्रम" कहा जाता है। अन्य केवल विशिष्ट बैक्टीरिया को लक्षित करते हैं। उन्हें "संकीर्ण-स्पेक्ट्रम" के रूप में जाना जाता है।

एंटीबायोटिक्स को काम करने में कितना समय लगता है?

एंटीबायोटिक्स लेना शुरू करने के तुरंत बाद काम करना शुरू कर देते हैं। हालाँकि, हो सकता है कि आप दो से तीन दिनों तक बेहतर महसूस न करें। एंटीबायोटिक उपचार के बाद आप कितनी जल्दी ठीक हो जाते हैं यह अलग-अलग होता है। यह इस बात पर भी निर्भर करता है कि आप किस प्रकार के संक्रमण का इलाज कर रहे हैं। अधिकांश एंटीबायोटिक्स 7 से 14 दिनों तक लेनी चाहिए। कुछ मामलों में, छोटे उपचार भी काम करते हैं। आपका डॉक्टर आपके लिए उपचार की सर्वोत्तम अवधि और सही एंटीबायोटिक प्रकार तय करेगा।

भले ही आप उपचार के कुछ दिनों के बाद बेहतर महसूस करें, अपने संक्रमण को पूरी तरह से ठीक करने के लिए संपूर्ण एंटीबायोटिक आहार को समाप्त करना सबसे अच्छा है। यह एंटीबायोटिक प्रतिरोध को रोकने में भी मदद कर सकता है। पहले अपने स्वास्थ्य सेवा प्रदाता से बात किए बिना अपने एंटीबायोटिक को जल्दी बंद न करें।

संबंधित विषय:

1. बवासीर क्या हैं?

पुरुष बांझपन एक ऐसी स्थिति है जो किसी पुरुष में संतान पैदा करने की संभावना को कम कर देती है। इस स्थिति के इलाज के लिए कई आधुनिक उपचार उपलब्ध हैं। अधिक जानने के लिए यहां जाएं: बवासीर क्या हैं?

2. प्रजनन क्षमता और बांझपन क्या है?

फर्टिलिटी और इनफर्टिलिटी का संबंध किसी व्यक्ति की संतान पैदा करने की क्षमता से है। बांझपन के कारण कई हो सकते हैं। इसका परीक्षण और इलाज किया जा सकता है। अधिक जानने के लिए यहां जाएं: फर्टिलिटी और इनफर्टिलिटी क्या है

3. उचित पोषण का महत्व

उचित पोषण आपके शरीर को सभी आवश्यक पोषक तत्व प्रदान करता है, यह एक संतुलित आहार खाने से प्राप्त किया जा सकता है। खराब पोषण स्वास्थ्य समस्याओं का कारण बन सकता है। अधिक जानने के लिए यहां जाएं: उचित पोषण का महत्व

4. प्रतिरक्षा क्या है?

प्रतिरक्षा शरीर की यह पहचानने की क्षमता है कि क्या स्वयं का है और क्या विदेशी है। प्रतिरक्षा प्रणाली हानिकारक जीवों के प्रतिरोध का निर्माण करने का काम करती है। अधिक जानने के लिए यहां जाएं: इम्यूनिटी क्या है




उपरोक्त आवश्यक वस्तुएं एएफडी शील्ड के पास उपलब्ध हैं।

एएफडी शील्ड कैप्सूल 12 प्राकृतिक अवयवों का एक संयोजन है, जिनमें अल्गल डीएचए, अश्वगंधा, करक्यूमिन और स्पिरुलिना शामिल हैं। एएफडी शील्ड टीजी को कम करता है, एचडीएल बढ़ाता है और उम्र से संबंधित संज्ञानात्मक गिरावट में सुधार करता है। यह तनाव और चिंता को भी कम करता है और एंटी-एजिंग गतिविधि करता है। इसके अलावा, यह इम्यूनोमॉड्यूलेटरी गतिविधि को भी बढ़ाता है, प्रतिरक्षा में सुधार करता है और सूजन और ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करता है।
न्यूट्रालॉजिकक्स: एएफडी शील्ड

AFDIL Ltd.
+91 9920121021

order@afdil.com

Read Also:


Disclaimer
Home