Diverticulitis symptoms and treatment

Introduction

Although it was rare before the 20th century, diverticular disease is now one of the most common health problems in the Western world. It’s a group of conditions that can affect your digestive tract.

The most serious type of diverticular disease is diverticulitis. It can cause uncomfortable symptoms and, in some cases, serious complications. If left untreated, these complications can cause long-term health problems.

The causes of diverticulitis are very uncertain. Risk factors include obesity, lack of exercise, smoking, family history of the disease is also found , and the use of nonsteroidal anti-inflammatory drugs (NSAIDs). The role of a low fiber diet as a risk factor is unclear. Having pouches in the large intestine that are not inflamed is known as diverticulosis. Inflammation occurs between 10% and 25% at some point of time, and it is due to a bacterial infection.

In the Western world about 35% of people have diverticulosis while it affects less than 1% of those in rural Africa, and 4 to 15% of those may go on to develop diverticulitis. In North America and Europe the abdominal pain is usually on the left lower side (sigmoid colon), while in Asia it is usually on the right (ascending colon).

Symptoms of diverticulitis

Diverticulitis can cause symptoms ranging from mild to severe. Diverticulitis disease treatment is needed if these symptoms can appear suddenly or they can develop gradually over several days.
symptoms of diverticular disease include:
•pain in your abdomen
•bloating
•diarrhea
•constipation
If you develop diverticulitis, you might experience:
•constant or severe pain in your abdomen
•nausea and vomiting
•fever and chills
•blood in your stool
•bleeding from your rectum
Abdominal pain is the most common symptom of diverticulitis. It will mostly likely occur in the lower left side of your abdomen. But it can also develop in the right side of your abdomen.
If you develop any of the above symptoms, such as vomiting or blood in your stool you may need a diverticulitis disease treatment, it may be a sign of a serious complication from diverticulitis or another condition. Call your doctor right away.
There are four different manifestations of the condition:
•Diverticulosis – the presence of diverticula (asymptomatic, incidental on imaging)
•Diverticular disease – symptoms arising from the diverticula
•Diverticulitis – inflammation of the diverticula
•Diverticular bleed – where the diverticulum erodes into a vessel and causes a large volume painless bleed (discussed here)
Diverticulosis is present in around 50% of >50yrs and 70% of >80yrs, but only 25% of these cases become symptomatic. The disease affects men more than women and is more prevalent in developed countries.

Diverticulitis

Pathophysiology

In an aging bowel that has naturally become weakened over time, the movement of stool within the lumen will cause an increase in luminal pressure. This results in an outpouching of the mucosa through the weaker areas of the bowel wall (at the junctions of the triangular muscle sheets and blood vessels penetrate to supply the bowel wall).
Bacteria can overgrow within the outpouchings, leading to inflammation of the diverticulum (diverticulitis) which can sometimes perforate, potentially leading to diffuse peritonitis sepsis and death. In chronic cases, fistulae can form, most commonly colovesical or colovaginal.
Diverticulitis is classified as either simple or complicated. Complicated diverticulitis refers to abscess presence or free perforation, whilst simple diverticulitis describes inflammation without these features.
Right-sided diverticula are micro-hernias of the colonic mucosa and sub mucosa through the colonic muscular layer where blood vessels penetrate it. Left-sided diverticula are pseudo diverticula, since the herniation is not through all the layers of the colon. Diverticulitis is postulated to develop because of changes inside the colon, including high pressures because of abnormally vigorous contractions this requires immediate diverticulitis disease treatment.
Acute diverticulitis however will present with acute abdominal pain*, typically sharp in nature and normally localised in the left iliac fossa pain, worsened by movement. On examination, there will be localised tenderness, alongside features of systemic upset, such as decreased appetite, pyrexia, or nausea.
A perforated diverticulum will present with signs of localised peritonism or generalised peritonitis. These patients are frequently extremely unwell and the condition can often be fatal and they need to have diverticulitis disease treatment.
Diverticula usually develop when naturally weak places in your colon give way under pressure. This causes marble-sized pouches to protrude through the colon wall.Diverticulitis occurs when diverticula tear, resulting in inflammation, and in some cases, infection.

Diverticulitis and its pathophysiology

Risk factors related Diverticulitis

Several factors may increase your risk of developing diverticulitis:
•Aging. The incidence of diverticulitis increases with age.
•Obesity. Being seriously overweight increases your odds of developing diverticulitis.
•Smoking. People who smoke cigarettes are more likely than non-smokers to experience diverticulitis.
•Lack of exercise. Vigorous exercise appears to lower your risk of diverticulitis.
•Diet high in animal fat and low in fiber. A low-fibre diet in combination with a high intake of animal fat seems to increase risk, although the role of low fibre alone isn't clear.
•Certain medications. Several drugs are associated with an increased risk of diverticulitis, including steroids, opioids and nonsteroidal anti-inflammatory drugs, such as ibuprofen (Advil, Motrin IB, others) and naproxen sodium (Aleve).
•An abscess, which occurs when pus collects in the pouch. A blockage in your bowel caused by scarring.An abnormal passageway (fistula) between sections of bowel or the bowel and other organs.Peritonitis, which can occur if the infected or inflamed pouch ruptures, spilling intestinal contents into your abdominal cavity. Peritonitis is a medical emergency and requires immediate care and diverticulitis disease treatment.


Diagnosis for diverticular disease

The differential diagnoses for patients presenting with lower abdominal pain and bowel symptoms are inflammatory bowel disease or bowel cancer.
Other causes of abdominal pain should also be sought including mesenteric ischemia, gynaecological causes, or renal stones.
Required investigation for diverticular disease :
Laboratory Tests
Any patient presenting acutely with suspected diverticular disease should have initial routine blood tests performed, including FBC, CRP, and U&Es. Consider a faecal calprotectin if the diagnosis is less clear.
Those with suspected diverticulitis, should also have a Group and Save and a venous blood gas. A urine dipstick may prove helpful to exclude any urological causes.
Imaging
For cases of suspected diverticulitis, a CT abdomen-pelvis scan (Fig. 2) is the investigation of choice. CT findings that can suggest diverticulitis include thickening of the colonic wall, pericolonic fat stranding, abscesses, localised air bubbles, or free air.
colonoscopy should never be performed in any presenting cases of suspected diverticulitis, due to the increased risk of perforation
In patients with suspected uncomplicated diverticular disease, a flexible sigmoidoscopy* is a good initial approach as this will identify any obvious rectosigmoidal lesion. If the patient is not a suitable candidate for endoscopy, CT colonography is an alternative option.
Disease Staging
Acute diverticulitis can be staged using the Hinchey Classification, a classification system based on CT findings. It can be used to aid clinical management; higher stages are associated with higher morbidity and mortality.
Stage Computed Tomography Description
Stage 1 Phlegmon (1a) or diverticulitis with pericolic or mesenteric abscess (1b)
Stage 2 Diverticulitis with walled off pelvic abscess
Stage 3 Diverticulitis with generalised purulent peritonitis
Stage 4 Diverticulitis with generalised faecal peritonitis

Diverticulitis and its Treatment

Diverticulitis disease treatment

Diverticular Disease
•Patients with uncomplicated diverticular disease can often be managed as an outpatient* with simple analgesia and encouraging oral fluid intake. Outpatient colonoscopy should be arranged to exclude any masked malignancies.
•Patients with diverticular bleeds can often be managed conservatively (as discussed here) as most cases will be self-limiting*. Any significant bleeding will need appropriate resuscitation, including the use of blood products, and stabilisation.
•Those that fail to respond to conservative management may warrant embolisation or surgical resection. Indeed, if a second bleeding episode occurs there is a significant chance of further episodes (up to 50%)
•Hospital admission may be required in cases of uncontrolled pain, concerns of dehydration, significant co-morbidities or immunocompromise, significant PR bleeding, or symptoms persisting for longer than 48 hours despite conservative management.
Acute Diverticulitis
•Most patients with acute diverticulitis can be managed conservatively, with antibiotics, intravenous fluids, and analgesia. Indeed, young patients with uncomplicated diverticulitis can be considered for ambulatory management, especially if the patient is systemically otherwise well and no significant co-morbidities or immunosuppression.
•Symptoms typically improve within 2-3 days after the initiation of treatment for uncomplicated cases. Clinical deterioration (or a lack of improvement) should prompt repeat imaging to check for disease progression / complication. Oral intake should be encouraged where possible.
Antibiotics
Antibiotics were traditionally recommended for all cases of acute diverticulitis whether or not they were complicated. However, recent data suggest that antibiotics may not improve outcome in uncomplicated diverticulitis, therefore, selected patients with acute uncomplicated diverticulitis can be managed conservatively. (See also the American Gastroenterological Association's 2015 guidelines on management of acute diverticulitis.). Antibiotic therapy should be reserved for patients with acute but complicated diverticulitis, immunosuppression, or significant comorbidities.
If antibiotics are used, they should cover gram-negative rods and anaerobic bacteria.
Oral antibiotic regimens that can be given to outpatients for whom treatment is elected include 7 to 10 days of
•Metronidazole (500 mg every 8 hours) plus a fluoroquinolone (eg, ciprofloxacin 500 mg every 12 hours)
•Metronidazole (500 mg every 8 hours) plus a cephalexin (500 mg every 6 or 8 or 12 hours)
•Metronidazole (500 mg every 8 hours) plus trimethoprim/sulfamethoxazole (800/160 mg every 12 hours)
•Amoxicillin (875 mg every 12 hours) plus clavulanate (125 mg every 12 hours)
•Moxifloxacin (400 mg once/day for patients unable to take penicillins or metronidazole)
•IV antibiotic regimens for hospitalized patients are selected based on many factors, including the severity of illness, risk of adverse outcome (eg, due to other illnesses, older age, immunosuppression), and likelihood of resistant organisms. Many regimens exist.
•There are no well-defined standards relating abscess size to the need for surgery or interventional (ultrasound- or CT-guided) drainage. However, small pericolic abscesses (less than 2 to 3 cm in diameter) often resolve with broad-spectrum antibiotics and bowel rest alone.
•If response is satisfactory, the patient remains hospitalized until symptoms are relieved and a soft diet is resumed. After the episode resolves, patients should consume a high-fiber diet and avoid routine analgesic use of nonsteroidal anti-inflammatory drugs (NSAIDs) or aspirin to prevent recurrence.
Surgical Management
Surgical intervention is required in those with perforation with faecal peritonitis or overwhelming sepsis. This is a major procedure and usually involves a Hartmann’s procedure (a sigmoid colectomy with formation of an end colostomy. Fig. 3); an anastomosis with reversal of colostomy may be possible at a later date (but this only occurs in ~50% of cases).

Why should I have diverticulitis surgery?
Diverticulitis surgery is usually done if your diverticulitis is severe or life-threatening. You can usually manage your diverticulitis by doing the following:
taking prescribed antibiotics
using nonsteroidal anti-inflammatory drugs (NSAIDs), such as ibuprofen (Advil)
drinking fluids and avoiding solid food until your symptoms go away

Your doctor may recommend surgery if you have:
multiple severe episodes of diverticulitis uncontrolled by medications and lifestyle changes
bleeding from your rectum
intense pain in your abdomen for a few days or more
constipation, diarrhea, or vomiting that lasts longer than a few days
blockage in your colon keeping you from passing waste (bowel obstruction)
a hole in your colon (perforation)
signs and symptoms of sepsis

What are the types of diverticulitis surgery?
The two main types of surgery for diverticulitis are:
1)Bowel resection with primary anastomosis: In this procedure, your surgeon removes any infected colon (known as a colectomy) and sews together the cut ends of the two healthy pieces from either side of the previously infected area (anastomosis).
Bowel resection with colostomy: For this procedure, your surgeon performs a colectomy and connects your bowel through an opening in your abdomen (colostomy). This opening is called a stoma. Your surgeon may do a colostomy if there’s too much colon inflammation. Depending upon how well you recover over the next few months, the colostomy may be either temporary or permanent.
Each procedure can be done as open surgery or laparoscopically:
Open: Your surgeon makes a six- to eight-inch cut in your abdomen to open your intestinal area to view.
2)Laparoscopic: Your surgeon makes only small cuts. The surgery is accomplished by placing small cameras and instruments into your body through small tubes (trocars) that are usually less than one centimeter in size.

What are the risks associated with this surgery?
As with any surgery, your risk of complications may be increased if you:
are obese
are over the age of 60
have other significant medical conditions such as diabetes or high blood pressure
have had diverticulitis surgery or other abdominal surgery before
are in overall poor health or not getting enough nutrition
are having emergency surgery

How do I prepare for this surgery?
A few weeks before your surgery, your doctor may ask you to do the following:
Stop taking medications that may thin your blood, such as ibuprofen (Advil) or aspirin.
Stop smoking temporarily (or permanently if you’re ready to quit). Smoking can make it harder for your body to heal after surgery.
Wait for any existing flu, fever, or cold to break.
Replace most of your diet with liquids and take laxatives to empty your bowels.

In the 24 hours before your surgery, you may also need to:
Only drink water or other clear liquids, such as broth or juice.
Not eat or drink anything for a few hours (up to 12) before the surgery.
Take any medications that your surgeon gives you right before surgery.
Make sure you take some time off work or other responsibilities for at least two weeks to recover in the hospital and at home. Have someone ready to take you home once you’re released from the hospital.

How is this surgery done?
To perform a bowel resection with primary anastomosis, your surgeon will:
Cut three to five small openings in your abdomen (for laparoscopy) or make a six- to eight-inch opening to view your intestine and other organs (for open surgery).
Insert a laparoscope and other surgical tools through the cuts (for laparoscopy).
Fill your abdominal area with gas to allow more room to do the surgery (for laparoscopy).
Look at your organs to make sure there aren’t any other issues.
Find the affected part of your colon, cut it from the rest of your colon, and take it out.
Sew the two remaining ends of your colon back together (primary anastomosis) or open a hole in your abdomen and attach the colon to the hole (colostomy).
Sew up your surgical incisions and clean the areas around them.

Are there any complications associated with this surgery?
Possible complications of diverticulitis surgery include:
• blood clots
• surgical site infection
• hemorrhage (internal bleeding)
• sepsis (an infection throughout your body)
• heart attack or stroke
• respiratory failure requiring the use of a ventilator for breathing
• heart failure
• kidney failure
• narrowing or blockage of your colon from scar tissue
• formation of an abscess near the colon (bacteria-infected pus in a wound)
• leaking from area of anastomosis
• nearby organs getting injured
• incontinence, or not being able to control when you pass stool

How long does it take to recover from this surgery?
You’ll spend about two to seven days in the hospital after this surgery while your doctors monitor you and make sure you can pass waste again.
Once you go home, do the following to help yourself recover:
Don’t exercise, lift anything heavy, or have sex for at least two weeks after you leave the hospital. Depending on your preoperative status and how your surgery went, your doctor may recommend this restriction for longer or shorter periods of time.
Have only clear liquids at first. Slowly reintroduce solid foods into your diet as your colon heals or as your doctor instructs you to.
Follow any instructions you were given for taking care of a stoma and colostomy bag.

Foods to avoid with diverticulitis
When you have diverticulosis, or have had diverticulitis in the past, the diet recommendations are different compared with during a flare.
Some foods can increase or reduce the risk of flares from occurring.
The following sections look at the research behind different foods you might want to avoid with diverticulosis or diverticulitis.
High FODMAP foods
Following a low FODMAP diet has benefits for people with irritable bowel syndrome (IBS), and it might also help some people with diverticulitis.
FODMAPs are a type of carbohydrate. It stands for fermentable oligosaccharides, disaccharides, monosaccharides, and polyols.
Some research suggests that a low FODMAP diet could prevent high pressure in the colon, which, in theory, could help people avoid or correct diverticulitis.
In this diet, people avoid foods that are high in FODMAPS. Examples of foods to avoid include:
certain fruits, such as apples, pears, and plum
dairy foods, such as milk, yogurt, and ice cream
fermented foods, such as sauerkraut or kimchi
beans
cabbage
Brussels sprouts
onions and garlic
Red and processed meat
According to researchTrusted Source, eating a diet high in red and processed meats could increase your risk for developing diverticulitis.
On the other hand, a diet high in fruits, vegetables, and whole grains is associated with a decreased risk.

Foods high in sugar and fat
A standard Western diet high in fat and sugar and low in fiber may be linked with an increased incidence of diverticulitis.

Research suggests that avoiding the following foods may help prevent diverticulitis or reduce its symptoms:
red meat
refined grains
full fat dairy
fried foods
Other foods and drinks
Doctors used to recommend avoiding nuts, popcorn, and most seeds, the theory being that the tiny particles from these foods might get lodged in the pouches and cause infection.
Some older research has also suggested that people with diverticulitis should avoid alcohol.

What foods should I eat during a diverticulitis flare?
In some cases, your doctor might suggest certain dietary changes to make the condition easier to tolerate and less likely to worsen over time.If you’re having an acute attack of diverticulitis, your doctor may suggest either a low fiber diet or a clear liquid diet to help relieve your symptoms.Once symptoms improve, they may then recommend sticking with a low fiber diet until the symptoms disappear, then building up to a high fiber diet to prevent future flares.
Low fiber foods
Low fiber foods to consider eating if you have symptoms of diverticulitis include:
white rice, white bread, or white pasta, but avoid foods that contain gluten if you’re intolerant
dry, low fiber cereals
processed fruits, such as applesauce or canned peaches
cooked animal proteins, such as fish, poultry, or eggs
olive oil or other oils
yellow squash, zucchini, or pumpkin: peeled, seeds removed, and cooked
cooked spinach, beets, carrots, or asparagus
potatoes with no skin
fruit and vegetable juices

Clear liquid diet
A clear liquid diet is a more restrictive approach to relieving diverticulitis symptoms. Your doctor may prescribe it for a short period of time.
A clear liquid diet usually consists of:
water
ice chips
ice pops with frozen fruit purée or pieces of finely chopped fruit
soup broth or stock
gelatin, such as Jell-O
tea or coffee without any creams, flavors, or sweeteners
clear electrolyte drinks
Other dietary considerations
Whether on a clear liquid diet or not, it’s generally helpful to drink at least 8 cups of fluid daily. This helps keep you hydrated and supports your gastrointestinal health.
Be sure to talk with your doctor before making any dramatic dietary changes.
If you’re doing a clear liquid diet, after your condition improves, your doctor may recommend slowly adding low fiber foods back into your diet, building up to a high fiber diet.

Diverticulitis

Myths about Diverticulitis

Myth 1: Diverticulosis is the same as diverticulitis
The truth: They’re different. Diverticulosis refers to the condition of simply having the little pouches called diverticula. Diverticulitis occurs when those diverticula become inflamed or infected. In medical terminology, “-osis” refers to a medical condition, and “-itis” usually refers to an infection or inflammation.
Myth 2: If you have diverticular disease, you can’t eat popcorn
The truth: No specific foods are known to cause diverticular disease or cause flare-ups in patients who already have the condition. In the past, it was thought that popcorn could lodge into the diverticula in patients with diverticulosis — and lead to diverticulitis. However, no evidence was ever found that this is true.
Myth 3: If you have diverticular disease, you can’t eat nuts or seeds
The truth: This myth likely stems from the same thought pattern that produced the no-popcorn myth. It makes sense to think that nuts and seeds might cause inflammation of diverticula, but in reality, they’re a great source of healthy fiber — and increased fiber intake is a top recommendation for solving diverticulitis.
Myth 4: Eating red meat causes diverticular disease
The truth: Again, no specific foods are known to contribute to the formation of diverticular disease. This myth was likely formed after studies showed that vegetarians were less likely to develop diverticular disease than non-vegetarians. In general, vegetarians tend to eat more fiber than non-vegetarians, so it’s more likely that fiber is the key aspect, not red meat.
Myth 5: Diverticular disease always requires surgery
The truth: Nope. In fact, diverticulosis generally never requires treatment, and some people with diverticulosis never know they have it. Diverticulitis, on the other hand, sometimes requires treatment or surgery — but not always. If you have painful diverticulitis flare-ups often or conservative treatments don’t work very well, surgery may be an option. If this has been your experience with your diverticular disease, coming in for a consultation with Dr. Candela or Dr. Schreier can give you the answers you need.

Related topics:

1. Why B complex is required
2. Guide to consumption of probiotics
3. Bronchitis and its remedies




The above essentials are available with AFD SHIELD.
AFD Shield capsule is a combination of 12 natural ingredients among which are Algal DHA, Ashwagandha, Curcumin and Spirullina. AFD Shield reduces TG, increases HDL and improves age related cognitive decline. It also reduces stress and anxiety and performs anti-aging activity.Moreover, it also enhances the immunomodulatory activity, improves immunity and reduces inflammation and oxidative stress. Nutralogicx: AFD SHIELD

डायवर्टीकुलिटिस के लक्षण और उपचार

परिचय

हालांकि यह २०वीं सदी से पहले दुर्लभ था, डायवर्टीकुलर रोग अब पश्चिमी दुनिया में सबसे आम स्वास्थ्य समस्याओं में से एक है। यह स्थितियों का एक समूह है जो आपके पाचन तंत्र को प्रभावित कर सकता है।

डायवर्टीकुलिटिस का सबसे गंभीर प्रकार डायवर्टीकुलिटिस है। यह असहज लक्षण पैदा कर सकता है और, कुछ मामलों में, गंभीर जटिलताएं भी पैदा कर सकता है। यदि अनुपचारित छोड़ दिया जाता है, तो ये जटिलताएं दीर्घकालिक स्वास्थ्य समस्याएं पैदा कर सकती हैं।

डायवर्टीकुलिटिस के कारण बहुत अनिश्चित हैं। जोखिम कारकों में मोटापा, व्यायाम की कमी, धूम्रपान, बीमारी का पारिवारिक इतिहास भी पाया जाता है, और गैर-स्टेरायडल विरोधी भड़काऊ दवाओं (एनएसएआईडी) का उपयोग शामिल है। जोखिम कारक के रूप में कम फाइबर आहार की भूमिका स्पष्ट नहीं है। बड़ी आंत में ऐसे पाउच होने से जिनमें सूजन नहीं होती है, डायवर्टीकुलोसिस के रूप में जाना जाता है। किसी समय सूजन 10% से 25% के बीच होती है, और यह एक जीवाणु संक्रमण के कारण होता है।

पश्चिमी दुनिया में लगभग ३५% लोगों को डायवर्टीकुलोसिस है, जबकि यह ग्रामीण अफ्रीका में १% से भी कम लोगों को प्रभावित करता है, और उनमें से ४ से १५% डायवर्टीकुलिटिस विकसित कर सकते हैं। उत्तरी अमेरिका और यूरोप में पेट दर्द आमतौर पर बाईं ओर निचले हिस्से (सिग्मॉइड कोलन) में होता है, जबकि एशिया में यह आमतौर पर दाईं ओर (आरोही बृहदान्त्र) होता है।

डायवर्टीकुलिटिस के लक्षण

डायवर्टीकुलिटिस हल्के से लेकर गंभीर तक के लक्षण पैदा कर सकता है। डायवर्टीकुलिटिस रोग के उपचार की आवश्यकता होती है यदि ये लक्षण अचानक प्रकट हो सकते हैं या वे कई दिनों में धीरे-धीरे विकसित हो सकते हैं।
डायवर्टीकुलर रोग के लक्षणों में शामिल हैं:
• आपके पेट में दर्द
• सूजन
• दस्त
• कब्ज
यदि आप डायवर्टीकुलिटिस विकसित करते हैं, तो आप अनुभव कर सकते हैं:
• आपके पेट में लगातार या गंभीर दर्द
• मतली और उल्टी
• बुखार और ठंड लगना
• आपके मल मेंखून
• खून बह रहा है आपका मलाशय
पेट दर्द डायवर्टीकुलिटिस का सबसे आम लक्षण है। यह ज्यादातर आपके पेट के निचले बाएं हिस्से में होने की संभावना है। लेकिन यह आपके पेट के दाहिने हिस्से में भी विकसित हो सकता है।
यदि आप उपरोक्त लक्षणों में से कोई भी विकसित करते हैं, जैसे कि उल्टी या आपके मल में रक्त, तो आपको डायवर्टीकुलिटिस रोग के उपचार की आवश्यकता हो सकती है, यह डायवर्टीकुलिटिस या किसी अन्य स्थिति से गंभीर जटिलता का संकेत हो सकता है। अपने डॉक्टर को तुरंत बुलाएं।
इस स्थिति की चार अलग-अलग अभिव्यक्तियाँ हैं:
• डायवर्टीकुलोसिस - डायवर्टिकुला की उपस्थिति (लक्षणों पर, इमेजिंग पर आकस्मिक)
• डायवर्टीकुलर रोग - डायवर्टीकुला से उत्पन्न होने वाले लक्षण
• डायवर्टीकुलिटिस - डायवर्टीकुला की सूजन
• डायवर्टीकुलम ब्लीड - जहां डायवर्टीकुलम एक बर्तन में मिट जाता है और बड़ी मात्रा में दर्द रहित रक्तस्राव का कारण बनता है (यहां चर्चा की गई है)
डायवर्टीकुलोसिस> ५० वर्ष के लगभग ५०% और > ८० वर्ष के ७०% में मौजूद है, लेकिन इनमें से केवल २५% मामलों में रोगसूचक हो जाते हैं। यह रोग महिलाओं की तुलना में पुरुषों को अधिक प्रभावित करता है और विकसित देशों में अधिक प्रचलित है।

Diverticulitis

pathophysiology

उम्र बढ़ने वाली आंत में जो स्वाभाविक रूप से समय के साथ कमजोर हो गई है, लुमेन के भीतर मल की गति ल्यूमिनल दबाव में वृद्धि का कारण बनेगी। यह आंत्र की दीवार के कमजोर क्षेत्रों के माध्यम से म्यूकोसा के बाहर निकलने का परिणाम है (त्रिकोणीय मांसपेशियों की चादरों के जंक्शन पर और रक्त वाहिकाएं आंत्र की दीवार की आपूर्ति करने के लिए प्रवेश करती हैं)।
बैक्टीरिया आउटपाउचिंग के भीतर बढ़ सकते हैं, जिससे डायवर्टीकुलम (डायवर्टीकुलिटिस) की सूजन हो सकती है जो कभी-कभी छिद्रित हो सकती है, संभावित रूप से पेरिटोनिटिस सेप्सिस और मृत्यु को फैलाने का कारण बनती है। पुराने मामलों में, फिस्टुला बन सकता है, जो आमतौर पर कोलोवेसिकल या कोलोवैजिनल होता है।
डायवर्टीकुलिटिस को सरल या जटिल के रूप में वर्गीकृत किया गया है। जटिल डायवर्टीकुलिटिस फोड़ा उपस्थिति या मुक्त वेध को संदर्भित करता है, जबकि साधारण डायवर्टीकुलिटिस इन विशेषताओं के बिना सूजन का वर्णन करता है।
दाएं तरफा डायवर्टिकुला कोलोनिक म्यूकोसा और उप म्यूकोसा के सूक्ष्म हर्निया हैं जो कोलोनिक पेशी परत के माध्यम से होते हैं जहां रक्त वाहिकाएं इसमें प्रवेश करती हैं। बाएं तरफा डायवर्टिकुला छद्म डायवर्टिकुला है, क्योंकि हर्नियेशन बृहदान्त्र की सभी परतों के माध्यम से नहीं होता है। डायवर्टीकुलिटिस को बृहदान्त्र के अंदर परिवर्तन के कारण विकसित होने के लिए पोस्ट किया गया है, जिसमें असामान्य रूप से जोरदार संकुचन के कारण उच्च दबाव शामिल हैं, इसके लिए तत्काल डायवर्टीकुलिटिस रोग उपचार की आवश्यकता होती है।
तीव्र डायवर्टीकुलिटिस हालांकि तीव्र पेट दर्द * के साथ उपस्थित होगा, आमतौर पर प्रकृति में तेज और सामान्य रूप से बाएं इलियाक फोसा दर्द में स्थानीयकृत, आंदोलन से खराब हो जाता है। जांच करने पर, प्रणालीगत गड़बड़ी की विशेषताओं के साथ-साथ स्थानीयकृत कोमलता भी होगी, जैसे कि भूख में कमी, पायरेक्सिया, या मतली।
एक छिद्रित डायवर्टीकुलम स्थानीयकृत पेरिटोनिज्म या सामान्यीकृत पेरिटोनिटिस के संकेतों के साथ उपस्थित होगा। ये रोगी अक्सर बेहद अस्वस्थ होते हैं और स्थिति अक्सर घातक हो सकती है और उन्हें डायवर्टीकुलिटिस रोग के उपचार की आवश्यकता होती है।
डायवर्टिकुला आमतौर पर तब विकसित होता है जब आपके बृहदान्त्र में स्वाभाविक रूप से कमजोर स्थान दबाव में आ जाते हैं। इससे संगमरमर के आकार के पाउच बृहदान्त्र की दीवार से बाहर निकल जाते हैं। डायवर्टीकुलिटिस तब होता है जब डायवर्टिकुला फट जाता है, जिसके परिणामस्वरूप सूजन होती है, और कुछ मामलों में, संक्रमण होता है।

Diverticulitis and its pathophysiology

डायवर्टीकुलिटिस से संबंधित जोखिम कारक

कई कारक आपके डायवर्टीकुलिटिस के विकास के जोखिम को बढ़ा सकते हैं:
• बुढ़ापा। डायवर्टीकुलिटिस की घटना उम्र के साथ बढ़ जाती है।
•मोटापा। गंभीर रूप से अधिक वजन होने से डायवर्टीकुलिटिस विकसित होने की संभावना बढ़ जाती है।
•धूम्रपान। जो लोग सिगरेट पीते हैं, उनमें धूम्रपान न करने वालों की तुलना में डायवर्टीकुलिटिस का अनुभव होने की संभावना अधिक होती है।
•व्यायाम की कमी। जोरदार व्यायाम डायवर्टीकुलिटिस के आपके जोखिम को कम करता प्रतीत होता है।
• पशु वसा में उच्च और फाइबर में कम आहार। पशु वसा के उच्च सेवन के साथ कम फाइबर वाला आहार जोखिम को बढ़ाता है, हालांकि अकेले कम फाइबर की भूमिका स्पष्ट नहीं है।
• कुछ दवाएं। कई दवाएं डायवर्टीकुलिटिस के बढ़ते जोखिम से जुड़ी हैं, जिनमें स्टेरॉयड, ओपिओइड और नॉनस्टेरॉइडल एंटी-इंफ्लेमेटरी दवाएं शामिल हैं, जैसे कि इबुप्रोफेन (एडविल, मोट्रिन आईबी, अन्य) और नेप्रोक्सन सोडियम (एलेव)।
• एक फोड़ा, जो तब होता है जब थैली में मवाद जमा हो जाता है। निशान के कारण आपके आंत्र में रुकावट। आंत्र या आंत्र और अन्य अंगों के बीच एक असामान्य मार्ग (फिस्टुला)। पेरिटोनिटिस, जो तब हो सकता है जब संक्रमित या सूजन वाली थैली फट जाती है, आंतों की सामग्री को आपके उदर गुहा में फैला देती है। पेरिटोनिटिस एक चिकित्सा आपात स्थिति है और इसके लिए तत्काल देखभाल और डायवर्टीकुलिटिस रोग के उपचार की आवश्यकता होती है।


डायवर्टीकुलर रोग के लिए निदान

पेट के निचले हिस्से में दर्द और आंत्र लक्षणों वाले रोगियों के लिए विभेदक निदान सूजन आंत्र रोग या आंत्र कैंसर हैं।
पेट दर्द के अन्य कारणों की भी तलाश की जानी चाहिए जिसमें मेसेंटेरिक इस्किमिया, स्त्री रोग संबंधी कारण या गुर्दे की पथरी शामिल हैं।
डायवर्टीकुलर रोग के लिए आवश्यक जांच :
प्रयोगशाला परीक्षण
संदिग्ध डायवर्टीकुलर रोग के साथ तीव्र रूप से पेश होने वाले किसी भी रोगी को एफबीसी, सीआरपी, और यू एंड ई सहित प्रारंभिक नियमित रक्त परीक्षण किया जाना चाहिए। यदि निदान कम स्पष्ट है तो एक मल कैलप्रोटेक्टिन पर विचार करें।
जिन लोगों को डायवर्टीकुलिटिस का संदेह है, उनके पास एक समूह और बचाओ और एक शिरापरक रक्त गैस भी होनी चाहिए। यूरिन डिपस्टिक किसी भी यूरोलॉजिकल कारणों को बाहर करने में मददगार साबित हो सकता है।
इमेजिंग
संदिग्ध डायवर्टीकुलिटिस के मामलों के लिए, एक सीटी पेट-श्रोणि स्कैन (चित्र 2) पसंद की जांच है। सीटी के निष्कर्ष जो डायवर्टीकुलिटिस का सुझाव दे सकते हैं, उनमें कोलोनिक दीवार का मोटा होना, पेरीकोलोनिक फैट स्ट्रैंडिंग, फोड़े, स्थानीयकृत हवाई बुलबुले या मुक्त हवा शामिल हैं।
वेध के बढ़ते जोखिम के कारण संदिग्ध डायवर्टीकुलिटिस के किसी भी वर्तमान मामलों में कोलोनोस्कोपी कभी नहीं किया जाना चाहिए,
संदिग्ध जटिल डायवर्टीकुलर बीमारी वाले रोगियों में, एक लचीला सिग्मोइडोस्कोपी * एक अच्छा प्रारंभिक दृष्टिकोण है क्योंकि यह किसी भी स्पष्ट रेक्टोसिग्मोइडल घाव की पहचान करेगा। यदि रोगी एंडोस्कोपी के लिए उपयुक्त उम्मीदवार नहीं है, तो सीटी कॉलोनोग्राफी एक वैकल्पिक विकल्प है।
रोग मंचन
सीटी निष्कर्षों के आधार पर एक वर्गीकरण प्रणाली, हिन्ची वर्गीकरण का उपयोग करके तीव्र डायवर्टीकुलिटिस का मंचन किया जा सकता है। इसका उपयोग नैदानिक ​​प्रबंधन में सहायता के लिए किया जा सकता है; उच्च चरण उच्च रुग्णता और मृत्यु दर के साथ जुड़े हुए हैं।
स्टेज कंप्यूटेड टोमोग्राफी विवरण
स्टेज 1 फ्लेगमन (1 ए) या डायवर्टीकुलिटिस पेरिकोलिक या मेसेन्टेरिक फोड़ा के साथ (1 बी)
स्टेज 2 डायवर्टीकुलिटिस विद ऑफ पेल्विक फोड़ा
स्टेज 3 डायवर्टीकुलिटिस सामान्यीकृत प्यूरुलेंट पेरिटोनिटिस के साथ
स्टेज 4 डायवर्टीकुलिटिस सामान्यीकृत फेकल पेरिटोनिटिस के साथ

Diverticulitis and its Treatment

डायवर्टीकुलिटिस रोग उपचार

डायवर्टीकुलर डिजीज
• सीधी डायवर्टीकुलर बीमारी वाले मरीजों को अक्सर साधारण एनाल्जेसिया और मौखिक तरल पदार्थ के सेवन को प्रोत्साहित करने के साथ एक आउट पेशेंट के रूप में प्रबंधित किया जा सकता है। किसी भी नकाबपोश विकृतियों को बाहर करने के लिए आउट पेशेंट कोलोनोस्कोपी की व्यवस्था की जानी चाहिए।
• डायवर्टीकुलर ब्लीड वाले मरीजों को अक्सर रूढ़िवादी तरीके से प्रबंधित किया जा सकता है (जैसा कि यहां चर्चा की गई है) क्योंकि ज्यादातर मामले स्वयं सीमित होंगे*। किसी भी महत्वपूर्ण रक्तस्राव के लिए उचित पुनर्जीवन की आवश्यकता होगी, जिसमें रक्त उत्पादों का उपयोग और स्थिरीकरण शामिल है।
• जो लोग रूढ़िवादी प्रबंधन का जवाब देने में विफल रहते हैं, उन्हें एम्बोलिज़ेशन या सर्जिकल रिसेक्शन की आवश्यकता हो सकती है। वास्तव में, यदि दूसरा रक्तस्राव एपिसोड होता है, तो आगे के एपिसोड (50% तक) की एक महत्वपूर्ण संभावना है।
• अनियंत्रित दर्द, निर्जलीकरण की चिंता, महत्वपूर्ण सह-रुग्णता या इम्युनोकॉम्प्रोमाइज, महत्वपूर्ण पीआर रक्तस्राव, या रूढ़िवादी प्रबंधन के बावजूद 48 घंटों से अधिक समय तक बने रहने वाले लक्षणों के मामलों में अस्पताल में प्रवेश की आवश्यकता हो सकती है।
तीव्र डायवर्टीकुलिटिस
• तीव्र डायवर्टीकुलिटिस वाले अधिकांश रोगियों को एंटीबायोटिक दवाओं, अंतःशिरा तरल पदार्थ और एनाल्जेसिया के साथ रूढ़िवादी रूप से प्रबंधित किया जा सकता है। वास्तव में, सीधी डायवर्टीकुलिटिस वाले युवा रोगियों को एम्बुलेटरी प्रबंधन के लिए माना जा सकता है, खासकर यदि रोगी व्यवस्थित रूप से अन्यथा ठीक है और कोई महत्वपूर्ण सह-रुग्णता या इम्यूनोसप्रेशन नहीं है।
• जटिल मामलों में उपचार शुरू होने के 2-3 दिनों के भीतर लक्षणों में आमतौर पर सुधार होता है। नैदानिक ​​गिरावट (या सुधार की कमी) को रोग की प्रगति/जटिलता की जांच के लिए बार-बार इमेजिंग का संकेत देना चाहिए। जहां संभव हो मौखिक सेवन को प्रोत्साहित किया जाना चाहिए।
एंटीबायोटिक दवाओं
एंटीबायोटिक्स को पारंपरिक रूप से तीव्र डायवर्टीकुलिटिस के सभी मामलों के लिए अनुशंसित किया गया था, चाहे वे जटिल हों या नहीं। हालांकि, हाल के आंकड़ों से पता चलता है कि एंटीबायोटिक्स सीधी डायवर्टीकुलिटिस में परिणाम में सुधार नहीं कर सकते हैं, इसलिए, तीव्र सीधी डायवर्टीकुलिटिस वाले चयनित रोगियों को रूढ़िवादी रूप से प्रबंधित किया जा सकता है। (तीव्र डायवर्टीकुलिटिस के प्रबंधन पर अमेरिकन गैस्ट्रोएंटेरोलॉजिकल एसोसिएशन के 2015 दिशानिर्देश भी देखें।) एंटीबायोटिक चिकित्सा को तीव्र लेकिन जटिल डायवर्टीकुलिटिस, इम्यूनोसप्रेशन, या महत्वपूर्ण सहरुग्णता वाले रोगियों के लिए आरक्षित किया जाना चाहिए।
यदि एंटीबायोटिक्स का उपयोग किया जाता है, तो उन्हें ग्राम-नकारात्मक छड़ और एनारोबिक बैक्टीरिया को कवर करना चाहिए।
मौखिक एंटीबायोटिक आहार जो बाह्य रोगियों को दिए जा सकते हैं जिनके लिए उपचार चुना गया है, उनमें 7 से 10 दिन शामिल हैं
•मेट्रोनिडाजोल (हर 8 घंटे में 500 मिलीग्राम) प्लस एक फ्लोरोक्विनोलोन (जैसे, सिप्रोफ्लोक्सासिन 500 मिलीग्राम हर 12 घंटे)
•मेट्रोनिडाजोल (हर 8 घंटे में 500 मिलीग्राम) प्लस एक सेफैलेक्सिन (500 मिलीग्राम हर 6 या 8 या 12 घंटे)
•मेट्रोनिडाजोल (500 मिलीग्राम) हर 8 घंटे में) प्लस ट्राइमेथोप्रिम/सल्फामेथोक्साज़ोल (हर 12 घंटे में 800/160 मिलीग्राम)
•एमोक्सिसिलिन (हर 12 घंटे में 875 मिलीग्राम) प्लस
क्लैवुलनेट ( हर 12 घंटे में 125 मिलीग्राम) •मोक्सीफ्लोक्सासिन (पेनिसिलिन लेने में असमर्थ रोगियों के लिए प्रति दिन 400 मिलीग्राम मेट्रोनिडाजोल)
• अस्पताल में भर्ती मरीजों के लिए IV एंटीबायोटिक रेजीमेंन्स का चयन कई कारकों के आधार पर किया जाता है, जिसमें बीमारी की गंभीरता, प्रतिकूल परिणाम के जोखिम (जैसे, अन्य बीमारियों के कारण, वृद्धावस्था, इम्यूनोसप्रेशन) और प्रतिरोधी जीवों की संभावना शामिल हैं। कई नियम मौजूद हैं।
• सर्जरी या इंटरवेंशनल (अल्ट्रासाउंड- या सीटी-निर्देशित) जल निकासी की आवश्यकता के लिए फोड़े के आकार से संबंधित कोई अच्छी तरह से परिभाषित मानक नहीं हैं। हालांकि, छोटे पेरिकोलिक फोड़े (व्यास में 2 से 3 सेमी से कम) अक्सर व्यापक स्पेक्ट्रम एंटीबायोटिक दवाओं और अकेले आंत्र आराम के साथ हल होते हैं।
• यदि प्रतिक्रिया संतोषजनक है, तो रोगी तब तक अस्पताल में भर्ती रहता है जब तक कि लक्षणों से राहत नहीं मिल जाती और नरम आहार फिर से शुरू नहीं हो जाता। प्रकरण के हल होने के बाद, रोगियों को उच्च फाइबर आहार का सेवन करना चाहिए और पुनरावृत्ति को रोकने के लिए गैर-स्टेरायडल विरोधी भड़काऊ दवाओं (एनएसएआईडी) या एस्पिरिन के नियमित एनाल्जेसिक उपयोग से बचना चाहिए।
सर्जिकल प्रबंधनt
मल पेरिटोनिटिस या भारी सेप्सिस वाले वेध वाले लोगों में सर्जिकल हस्तक्षेप की आवश्यकता होती है। यह एक प्रमुख प्रक्रिया है और इसमें आमतौर पर हार्टमैन की प्रक्रिया शामिल होती है (अंत कोलोस्टॉमी के गठन के साथ एक सिग्मॉइड कोलेक्टोमी। चित्र 3); कोलोस्टॉमी के उत्क्रमण के साथ सम्मिलन बाद की तारीख में संभव हो सकता है (लेकिन यह केवल ~ ५०% मामलों में होता है)।

मुझे डायवर्टीकुलिटिस सर्जरी क्यों करवानी चाहिए?
डायवर्टीकुलिटिस सर्जरी आमतौर पर तब की जाती है जब आपका डायवर्टीकुलिटिस गंभीर या जानलेवा होता है। आप आमतौर पर निम्न कार्य करके अपने डायवर्टीकुलिटिस का प्रबंधन कर सकते हैं: नॉनस्टेरॉइडल एंटी-इंफ्लेमेटरी ड्रग्स (एनएसएआईडी) का उपयोग करके
निर्धारित एंटीबायोटिक्स लेना
जैसे कि इबुप्रोफेन (एडविल)
पीने के तरल पदार्थ और ठोस भोजन से परहेज करना जब तक कि आपके लक्षण दूर न हो जाएं।

डायवर्टीकुलिटिस के कई गंभीर एपिसोड दवाओं और जीवनशैली से अनियंत्रित
होते हैं, आपके मलाशय से रक्तस्राव
कुछ दिनों के लिए आपके पेट में तीव्र दर्द या अधिक
कब्ज, दस्त, या उल्टी जो कुछ दिनों से अधिक समय तक रहती है
आपके बृहदान्त्र में रुकावट आपको अपशिष्ट (आंत्र बाधा) से गुजरने से रोकता
है आपके बृहदान्त्र में एक छेद (वेध)
लक्षण और सेप्सिस के लक्षण

डायवर्टीकुलिटिस सर्जरी के प्रकार क्या हैं?
डायवर्टीकुलिटिस के लिए सर्जरी के दो मुख्य प्रकार हैं:
1) प्राथमिक सम्मिलन के साथ आंत्र का उच्छेदन: इस प्रक्रिया में, आपका सर्जन किसी भी संक्रमित बृहदान्त्र (एक कोलेक्टॉमी के रूप में जाना जाता है) को हटा देता है और दोनों स्वस्थ टुकड़ों के कटे हुए सिरों को एक साथ जोड़ देता है पहले से संक्रमित क्षेत्र (एनास्टोमोसिस)।
कोलोस्टॉमी के साथ आंत्र का उच्छेदन: इस प्रक्रिया के लिए, आपका सर्जन एक कोलेक्टोमी करता है और आपके पेट में एक उद्घाटन के माध्यम से आपके आंत्र को जोड़ता है (कोलस्टोमी)। इस उद्घाटन को रंध्र कहा जाता है। बहुत अधिक बृहदान्त्र सूजन होने पर आपका सर्जन एक कोलोस्टॉमी कर सकता है। अगले कुछ महीनों में आप कितनी अच्छी तरह ठीक हो जाते हैं, इस पर निर्भर करते हुए, कोलोस्टॉमी अस्थायी या स्थायी हो सकती है।
प्रत्येक प्रक्रिया को ओपन सर्जरी या लैप्रोस्कोपिक रूप से किया जा सकता है:
ओपन: आपका सर्जन आपके आंतों के क्षेत्र को देखने के लिए आपके पेट में छह से आठ इंच का चीरा लगाता है।
2) लेप्रोस्कोपिक: आपका सर्जन केवल छोटे चीरे लगाता है। सर्जरी आपके शरीर में छोटे ट्यूबों (ट्रोकार्स) के माध्यम से छोटे कैमरों और उपकरणों को रखकर पूरी की जाती है जो आमतौर पर एक सेंटीमीटर से कम आकार के होते हैं।

इस सर्जरी से जुड़े जोखिम क्या हैं?
किसी भी सर्जरी की तरह, आपकी जटिलताओं का खतरा बढ़ सकता है यदि आप:
मोटे
हैं, 60 वर्ष से अधिक उम्र के
हैं, मधुमेह या उच्च रक्तचाप जैसी अन्य महत्वपूर्ण चिकित्सा स्थितियां हैं,
तो डायवर्टीकुलिटिस सर्जरी या पेट की अन्य सर्जरी से पहले
समग्र खराब स्वास्थ्य या पर्याप्त पोषण नहीं मिल
रहा है आपातकालीन सर्जरी हो रही है

मैं इस सर्जरी के लिए कैसे तैयारी करूं?

आपकी सर्जरी से कुछ हफ्ते पहले, आपका डॉक्टर आपको निम्नलिखित करने के लिए कह सकता है:
ऐसी दवाएं लेना बंद कर दें जो आपके खून को पतला कर सकती हैं, जैसे कि इबुप्रोफेन (एडविल) या एस्पिरिन।
अस्थायी रूप से धूम्रपान बंद करें (या स्थायी रूप से यदि आप छोड़ने के लिए तैयार हैं)। धूम्रपान सर्जरी के बाद आपके शरीर को ठीक करना कठिन बना सकता है।
किसी भी मौजूदा फ्लू, बुखार, या सर्दी के टूटने की प्रतीक्षा करें।
अपने अधिकांश आहार को तरल पदार्थों से बदलें और अपनी आंतों को खाली करने के लिए जुलाब लें।

अपनी सर्जरी से पहले 24 घंटों में, आपको निम्न की भी आवश्यकता हो सकती है:
केवल पानी या अन्य स्पष्ट तरल पदार्थ, जैसे शोरबा या जूस पिएं।
सर्जरी से पहले कुछ घंटों (12 तक) तक कुछ भी न खाएं-पिएं।
सर्जरी से ठीक पहले कोई भी दवा लें जो आपका सर्जन आपको देता है।
सुनिश्चित करें कि आप अस्पताल और घर पर ठीक होने के लिए कम से कम दो सप्ताह के लिए काम या अन्य जिम्मेदारियों से कुछ समय निकाल लें। अस्पताल से छूटने के बाद क्या कोई आपको घर ले जाने के लिए तैयार है।

यह सर्जरी कैसे की जाती है?
प्राथमिक सम्मिलन के साथ आंत्र उच्छेदन करने के लिए, आपका सर्जन करेगा:
अपने पेट में तीन से पांच छोटे छिद्रों को काटें (लैप्रोस्कोपी के लिए) या अपनी आंत और अन्य अंगों (खुली सर्जरी के लिए) को देखने के लिए छह से आठ इंच का छेद बनाएं।
कट के माध्यम से एक लैप्रोस्कोप और अन्य सर्जिकल उपकरण डालें (लैप्रोस्कोपी के लिए)।
सर्जरी करने के लिए अधिक जगह की अनुमति देने के लिए अपने पेट के क्षेत्र को गैस से भरें (लैप्रोस्कोपी के लिए)।
यह सुनिश्चित करने के लिए अपने अंगों को देखें कि कोई अन्य समस्या तो नहीं है।
अपने बृहदान्त्र के प्रभावित हिस्से को ढूंढें, इसे अपने बाकी बृहदान्त्र से काट लें और इसे बाहर निकाल दें।
अपने बृहदान्त्र के दो शेष सिरों को एक साथ वापस सीना (प्राथमिक सम्मिलन) या अपने पेट में एक छेद खोलें और बृहदान्त्र को छेद (कोलोस्टॉमी) से जोड़ दें।
अपने सर्जिकल चीरों को सीवे करें और उनके आस-पास के क्षेत्रों को साफ करें।

क्या इस सर्जरी से जुड़ी कोई जटिलताएं हैं?
डायवर्टीकुलिटिस सर्जरी की संभावित जटिलताओं में शामिल हैं:
• रक्त के थक्के
• सर्जिकल साइट संक्रमण
• रक्तस्राव (आंतरिक रक्तस्राव)
• सेप्सिस (आपके पूरे शरीर में एक संक्रमण)
• दिल का दौरा या स्ट्रोक
• सांस की विफलता जिसमें सांस लेने के लिए वेंटिलेटर के उपयोग की आवश्यकता होती है
• दिल की विफलता
• गुर्दे की विफलता
• निशान ऊतक से आपके बृहदान्त्र का संकुचन या रुकावट
• बृहदान्त्र के पास एक फोड़ा का गठन (एक घाव में बैक्टीरिया से संक्रमित मवाद)
• सम्मिलन के क्षेत्र से रिसाव
• आस-पास के अंग घायल हो रहे हैं
• असंयम, या नियंत्रित करने में सक्षम नहीं है जब आप मल त्याग करते हैं तो

इस सर्जरी से ठीक होने में कितना समय लगता है?
आप इस सर्जरी के बाद अस्पताल में लगभग दो से सात दिन बिताएंगे, जबकि आपके डॉक्टर आपकी निगरानी करेंगे और सुनिश्चित करेंगे कि आप फिर से कचरा पास कर सकते हैं।
घर जाने के बाद, अपने आप को ठीक होने में मदद करने के लिए निम्न कार्य करें:
अस्पताल से निकलने के बाद कम से कम दो सप्ताह तक व्यायाम न करें, कुछ भी भारी न उठाएं या सेक्स न करें। आपकी प्रीऑपरेटिव स्थिति और आपकी सर्जरी कैसे हुई, इस पर निर्भर करते हुए, आपका डॉक्टर लंबे या कम समय के लिए इस प्रतिबंध की सिफारिश कर सकता है।
पहले केवल स्पष्ट तरल पदार्थ लें। जैसे ही आपका बृहदान्त्र ठीक हो जाता है या आपका डॉक्टर आपको निर्देश देता है, धीरे-धीरे ठोस खाद्य पदार्थों को अपने आहार में शामिल करें।
रंध्र और कलोस्टॉमी बैग की देखभाल के लिए आपको दिए गए निर्देशों का पालन करें।

डायवर्टीकुलिटिस से बचने के लिए खाद्य पदार्थ
जब आपको डायवर्टीकुलोसिस होता है, या अतीत में डायवर्टीकुलिटिस होता है, तो आहार की सिफारिशें भड़कने की तुलना में भिन्न होती हैं।
कुछ खाद्य पदार्थ फ्लेरेस होने के जोखिम को बढ़ा या कम कर सकते हैं।
निम्नलिखित खंड विभिन्न खाद्य पदार्थों के पीछे के शोध को देखते हैं जिन्हें आप डायवर्टीकुलोसिस या डायवर्टीकुलिटिस से बचना चाहते हैं।
कम FODMAP आहार के बाद चिड़चिड़ा आंत्र सिंड्रोम (IBS) वाले लोगों के लिए लाभ होता है, और यह डायवर्टीकुलिटिस वाले कुछ लोगों की भी मदद कर सकता है।
FODMAPs एक प्रकार का कार्बोहाइड्रेट होता है। यह किण्वित ओलिगोसेकेराइड, डिसाकार्इड्स, मोनोसेकेराइड और पॉलीओल्स के लिए खड़ा है।
कुछ शोध बताते हैं कि कम FODMAP आहार बृहदान्त्र में उच्च दबाव को रोक सकता है, जो सिद्धांत रूप में, लोगों को डायवर्टीकुलिटिस से बचने या ठीक करने में मदद कर सकता है।
कुछ फल, जैसे सेब, नाशपाती, और बेर
डेयरी खाद्य पदार्थ, जैसे दूध, दही, और आइसक्रीम
किण्वित खाद्य पदार्थ, जैसे कि सौकरकूट या किमची
बीन्स
गोभी,
ब्रसेल्स स्प्राउट्स
प्याज और लहसुन
लाल और प्रसंस्कृत मांस
शोध के अनुसार, लाल और प्रसंस्कृत मांस में उच्च आहार खाने से आपका जोखिम बढ़ सकता है डायवर्टीकुलिटिस का विकास।
दूसरी ओर, फलों, सब्जियों और साबुत अनाज में उच्च आहार कम जोखिम के साथ जुड़ा हुआ है।

चीनी और वसा
में उच्च भोजन वसा और चीनी में उच्च और फाइबर में कम एक मानक पश्चिमी आहार डायवर्टीकुलिटिस की बढ़ती घटनाओं से जुड़ा हो सकता है।

शोध से पता चलता है कि निम्नलिखित खाद्य पदार्थों से परहेज करने से डायवर्टीकुलिटिस को रोकने या इसके लक्षणों को कम करने में मदद मिल सकती है
लाल मांस
परिष्कृत अनाज
पूर्ण वसा वाले डेयरी
तला हुआ भोजन
अन्य खाद्य पदार्थ और पेय
डॉक्टर नट्स, पॉपकॉर्न और अधिकांश बीजों से बचने की सलाह देते थे, सिद्धांत यह है कि छोटे कणों से ये खाद्य पदार्थ पाउच में जमा हो सकते हैं और संक्रमण का कारण बन सकते हैं।
कुछ पुराने शोधों ने यह भी सुझाव दिया है कि डायवर्टीकुलिटिस वाले लोगों को शराब से बचना चाहिए।

डायवर्टीकुलिटिस फ्लेयर के दौरान मुझे कौन से खाद्य पदार्थ खाने चाहिए?
कुछ मामलों में, आपका डॉक्टर स्थिति को सहन करने में आसान बनाने और समय के साथ खराब होने की संभावना कम करने के लिए कुछ आहार परिवर्तनों का सुझाव दे सकता है। यदि आपको डायवर्टीकुलिटिस का तीव्र दौरा पड़ रहा है, तो आपका डॉक्टर या तो कम फाइबर आहार या स्पष्ट तरल का सुझाव दे सकता है आपके लक्षणों को दूर करने में मदद करने के लिए आहार। एक बार लक्षणों में सुधार होने पर, वे तब तक कम फाइबर आहार के साथ रहने की सलाह दे सकते हैं जब तक कि लक्षण गायब न हो जाएं, फिर भविष्य में भड़कने से रोकने के लिए उच्च फाइबर आहार का निर्माण करें।
कम फाइबर वाले खाद्
पदार्थ खाने पर विचार करने के लिए कम फाइबर वाले खाद्य पदार्थ में शामिल हैं:
सफेद चावल, सफेद ब्रेड, या सफेद पास्ता, लेकिन उन खाद्य पदार्थों से बचें जिनमें ग्लूटेन होता है यदि आप असहिष्णु
सूखे, कम फाइबर अनाज
संसाधित फल, जैसे सेब सॉस या डिब्बाबंद आड़ू
जैतून का तेल या अन्य तेल
हुए पके हुए पालक, चुकंदर, गाजर, या शतावरी
आलू बिना त्वचा

साफ़ करें तरल आहार
डायवर्टीकुलिटिस के लक्षणों से राहत के लिए एक स्पष्ट तरल आहार एक अधिक प्रतिबंधात्मक दृष्टिकोण है। आपका डॉक्टर इसे थोड़े समय के लिए लिख सकता है।
पानी के
बर्फ के चिप्स
सूप शोरबा या स्टॉक
जिलेटिन के टुकड़े , जैसे जेल-ओ
बिना किसी क्रीम, फ्लेवर या मिठास के चाय या कॉफी
अन्य आहार संबंधी विचार
स्पष्ट तरल आहार पर हों या नहीं, आम तौर पर रोजाना कम से कम 8 कप तरल पदार्थ पीना मददगार होता है। यह आपको हाइड्रेटेड रखने में मदद करता है और आपके गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल स्वास्थ्य का समर्थन करता है।
यदि आप एक स्पष्ट तरल आहार कर रहे हैं, तो आपकी स्थिति में सुधार होने के बाद, आपका डॉक्टर आपको धीरे-धीरे कम फाइबर वाले खाद्य पदार्थों को अपने आहार में शामिल करने की सलाह दे सकता है, जिससे उच्च फाइबर आहार का निर्माण हो सके।

Diverticulitis

डायवर्टीकुलिटिस के बारे में मिथक

मिथक 1: डायवर्टीकुलोसिस डायवर्टीकुलिटिस के समान है
सच्चाई: वे अलग हैं। डायवर्टीकुलोसिस केवल डायवर्टिकुला नामक छोटे पाउच होने की स्थिति को संदर्भित करता है। डायवर्टीकुलिटिस तब होता है जब वे डायवर्टीकुला सूजन या संक्रमित हो जाते हैं। चिकित्सा शब्दावली में, "-ओसिस" एक चिकित्सा स्थिति को संदर्भित करता है, और "-इटिस" आमतौर पर एक संक्रमण या सूजन को संदर्भित करता है।
मिथक २: यदि आपको डायवर्टीकुलर रोग है, तो आप पॉपकॉर्न नहीं खा सकते
। अतीत में, यह सोचा गया था कि पॉपकॉर्न डायवर्टीकुलोसिस के रोगियों में डायवर्टीकुला में प्रवेश कर सकता है - और डायवर्टीकुलिटिस का कारण बन सकता है। हालांकि, ऐसा कोई सबूत कभी नहीं मिला कि यह सच है।
मिथक 3: यदि आपको डायवर्टीकुलर बीमारी है, तो आप नट या बीज नहीं खा सकते हैं
सच्चाई: यह मिथक संभवतः उसी विचार पैटर्न से उपजा है जिसने नो-पॉपकॉर्न मिथक पैदा किया था। यह सोचना समझ में आता है कि नट और बीज डायवर्टीकुला की सूजन का कारण बन सकते हैं, लेकिन वास्तव में, वे स्वस्थ फाइबर का एक बड़ा स्रोत हैं - और फाइबर का सेवन बढ़ाना डायवर्टीकुलिटिस को हल करने के लिए एक शीर्ष सिफारिश है।
मिथक 4: रेड मीट खाने से डायवर्टीकुलर रोग होता है
सच्चाई: फिर से, डायवर्टिकुलर बीमारी के गठन में योगदान देने के लिए कोई विशिष्ट खाद्य पदार्थ नहीं जाना जाता है। अध्ययनों से पता चला है कि शाकाहारियों को मांसाहारी लोगों की तुलना में डायवर्टीकुलर बीमारी विकसित होने की संभावना कम होने के बाद यह मिथक बनने की संभावना थी। सामान्य तौर पर, शाकाहारियों में मांसाहारी लोगों की तुलना में अधिक फाइबर खाने की प्रवृत्ति होती है, इसलिए इसकी अधिक संभावना है कि फाइबर मुख्य पहलू है, न कि रेड मीट।
मिथक 5: डायवर्टीकुलर बीमारी में हमेशा सर्जरी की आवश्यकता होती है
सच्चाई: नहीं। वास्तव में, डायवर्टीकुलोसिस को आमतौर पर उपचार की आवश्यकता नहीं होती है, और डायवर्टीकुलोसिस वाले कुछ लोग कभी नहीं जानते कि उनके पास यह है। दूसरी ओर, डायवर्टीकुलिटिस को कभी-कभी उपचार या सर्जरी की आवश्यकता होती है - लेकिन हमेशा नहीं। यदि आपके पास अक्सर दर्दनाक डायवर्टीकुलिटिस भड़कते हैं या रूढ़िवादी उपचार बहुत अच्छी तरह से काम नहीं करते हैं, तो सर्जरी एक विकल्प हो सकता है यदि आपके डायवर्टीकुलर रोग के साथ आपका यह अनुभव रहा है, तो डॉ. कैंडेला या डॉ. श्रेयर के परामर्श के लिए आने से आपको वह उत्तर मिल सकता है जिसकी आपको आवश्यकता है।

संबंधित विषय:

1. बी कॉम्प्लेक्स की आवश्यकता क्यों है
2. प्रोबायोटिक्स की खपत के लिए गाइड
3. ब्रोंकाइटिस और उसके उपाय




उपर ब्लॉग में बताई गई उपलब्धिया AFD-SHIELD के साथ उपलब्ध हैं
एएफडी शील्ड कैप्सूल 12 प्राकृतिक अवयवों का एक संयोजन है जिनमें से अलगल डीएचए, अश्वगंधा, करक्यूमिन और स्पिरुलिना हैं। एएफडी शील्ड टीजी को कम करता है, एचडीएल बढ़ाता है और उम्र से संबंधित संज्ञानात्मक गिरावट में सुधार करता है। यह तनाव और चिंता को भी कम करता है और एंटी-एजिंग गतिविधि करता है। इसके अलावा, यह इम्युनोमॉड्यूलेटरी गतिविधि को बढ़ाता है, प्रतिरक्षा में सुधार करता है और सूजन और ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करता है। न्यूट्रोग्लिग्क्स: एएफडी-शील्ड

AFDIL Ltd.
+91 9920121021

order@afdil.com

Read Also:


Disclaimer
Home