Digestive Enzymes Secreted Where

Stomach related Naturally happening organic cycle proteins territory unit a significant a piece of your systema digestorium.Digestive enzyme secreted by stomach while not them, your body can't separate food sources all together that supplements are frequently completely assimilated. An absence of organic cycle proteins will bring about a spread of epithelial channel (GI) side effects. It might likewise leave you starving, despite you have a sound eating regimen. Certain ailments will meddle with the gathering of organic cycle proteins. when that is the situation, you'll have the option to add natural interaction compounds before dinners to help your real cycle food effectively.Keep perusing to be told extra concerning organic cycle proteins, what happens once you need something more, and what you'll have the option to do concerning it.
Your body makes proteins in the stomach related framework, including the mouth, stomach, and small digestive system. The biggest offer is crafted by the pancreas. Stomach related catalysts help your body separate carbs, fats, and proteins. This is important to take into consideration the retention of supplements and to keep up ideal wellbeing. Without these proteins, the supplements in your food go to squander. At the point when an absence of stomach related catalysts prompts helpless processing and hunger, it's called exocrine pancreatic deficiency (EPI). At the point when that occurs, stomach related catalyst substitution might be a choice. Some stomach related proteins require a specialist's solution and others are sold preposterous (OTC).
Digestive enzymes are very important and classified based on their target substrates:

Amylase: Breaks down carbs, or starches, into sugar particles. Inadequate amylase can prompt looseness of the bowels.
Lipase: Works with liver bile to separate fats. In the event that you need more lipase, you'll be inadequate in fat-dissolvable nutrients like A, D, E, and K.
Protease: Breaks down proteins into amino acids. It likewise helps keep microbes, yeast, and protozoa out of the digestion tracts. A lack of protease can prompt hypersensitivities or poisonousness in the digestive organs.
Chemical prescriptions and enhancements come in numerous structures with shifted fixings and measurements. Pancreatic compound substitution treatment (PERT) is accessible exclusively by solution. These prescriptions are typically produced using pig pancreases. They are dependent upon the Food and Drug Administration's (FDA) endorsement and guideline. Some remedy catalysts contain pancrelipase, which is comprised of amylase, lipase, and protease. These drugs are typically covered to forestall stomach acids from processing the prescription before it arrives at the digestion tracts. Measurements changes from one individual to another dependent on weight and dietary patterns. Your primary care physician will need to begin you at the most reduced conceivable portion and make changes depending on the situation. OTC protein enhancements can be discovered any place dietary enhancements are sold, including on the web. They might be produced using creature pancreases or plants like molds, yeasts, growths, or organic product. OTC stomach related chemicals are not delegated meds, so they don't need FDA endorsement prior to going available. Fixings and doses in these items may vary from one group to another.
Stomach related catalysts replace regular chemicals, assisting with separating carbs, fats, and proteins. Whenever food sources are separated, supplements are consumed into your body through the mass of the small digestive tract and disseminated through the circulatory system Because they're intended to imitate your characteristic compounds, they should be taken not long before you eat. That way, they can take care of their job as food hits your stomach and small digestive tract. On the off chance that you don't take them with food, they will not be very useful.

Digestive Enzymes Secreted Where

Mouth

Complex food substances that are taken by creatures and people should be separated into straightforward, dissolvable, and diffusible substances before they can be assimilated. In the oral cavity, salivary organs discharge a variety of proteins and substances that guide in absorption and furthermore sterilization. They incorporate the accompanying
• lingual lipase: Lipid assimilation starts in the mouth. Lingual lipase begins the assimilation of the lipids/fats.
• Salivary amylase: Carbohydrate processing likewise starts in the mouth. Amylase, delivered by the salivary organs, breaks complex carbs, mostly cooked starch, to more modest chains, or even straightforward sugars. It is at times alluded to as ptyalin.
• lysozyme: Considering that food contains something other than fundamental supplements, for example microbes or infections, the lysozyme offers a restricted and vague, yet helpful clean capacity in processing.
Above are some digestive enzyme example
Of note is the variety of the salivary organs. There are two kinds of salivary organs:
• serous organs: These organs produce an emission wealthy in water, electrolytes, and compounds. An incredible illustration of a serous oral organ is the parotid organ.
• Mixed organs: These organs have both serous cells and mucous cells, and incorporate sublingual and submandibular organs. Their discharge is mucinous and high in consistency.

Stomach

The proteins that are discharged in the stomach are gastric chemicals. The stomach assumes a significant part in absorption, both from a mechanical perspective by blending and smashing the food, and furthermore from an enzymatic perspective, by processing it. Coming up next are proteins delivered by the stomach and their separate capacity:
• Pepsin a digestive enzyme secreted by stomach is the principle gastric protein. It is created by the stomach cells called "boss cells" in its idle structure pepsinogen, which is a zymogen. Pepsinogen is then initiated by the stomach corrosive into its dynamic structure, pepsin. Pepsin separates the protein in the food into more modest particles, for example, peptide pieces and amino acids. Protein processing, consequently, basically begins in the stomach, in contrast to starch and lipids, what start their absorption in the mouth (nonetheless, follow measures of the chemical kallikrein, which catabolises certain protein, is found in spit in the mouth).
• Gastric lipase a digestive enzyme secreted by stomach : Gastric lipase a digestive enzyme example is an acidic lipase emitted by the gastric boss cells in the fundic mucosa in the stomach. It has a pH ideal of 3–6. Gastric lipase, along with lingual lipase, contain the two acidic lipases. These lipases, in contrast to antacid lipases (like pancreatic lipase), don't need bile corrosive or colipase for ideal enzymatic movement. Acidic lipases make up 30% of lipid hydrolysis happening during processing in the human grown-up, with gastric lipase contributing the greater part of the two acidic lipases. In children, acidic lipases are considerably more significant, giving up to half of all out lipolytic action.
Chemicals or mixtures created by the stomach and their separate capacity:
• Hydrochloric corrosive (HCl) a digestive enzyme secreted by stomach : This is basically decidedly charged hydrogen molecules (H+), or in lay-terms stomach corrosive, and is created by the phones of the stomach called parietal cells. HCl basically capacities to denature the proteins ingested, to obliterate any microscopic organisms or infection that stays in the food, and furthermore to initiate pepsinogen into pepsin.
• Intrinsic factor (IF): Intrinsic factor is created by the parietal cells of the stomach. Nutrient B12 (Vit. B12) is a significant nutrient that needs support for assimilation in terminal ileum. At first in the salivation, haptocorrin emitted by salivary organs ties Vit. B, making a Vit. B12-Haptocorrin complex. The reason for this complex is to shield Vitamin B12 from hydrochloric corrosive created in the stomach. When the stomach content leaves the stomach into the duodenum, haptocorrin is separated with pancreatic chemicals, delivering the flawless nutrient B12. Inborn factor (IF) delivered by the parietal cells at that point ties Vitamin B12, making a Vit. B12-IF complex. This complex is then assimilated at the terminal part of the ileum.
• Mucin: The stomach has a need to annihilate the microscopic organisms and infections utilizing its exceptionally acidic climate yet in addition has an obligation to shield its own covering from its corrosive. The way that the stomach accomplishes this is by emitting mucin and bicarbonate by means of its mucous cells, and furthermore by having a quick cell turn-over.
• Gastrin: This is a significant chemical created by the "G cells" of the stomach. G cells produce gastrin in light of stomach extending happening after food enters it, and furthermore after stomach openness to protein. Gastrin is an endocrine chemical and along these lines enters the circulatory system and in the end gets back to the stomach where it invigorates parietal cells to create hydrochloric corrosive (HCl) and Intrinsic factor (IF).
Of note is the division of capacity between the phones covering the stomach. There are four sorts of cells in the stomach:
• Parietal cells: Produce hydrochloric corrosive and inherent factor.
• Gastric boss cells: Produce pepsinogen. Boss cells are chiefly found in the assemblage of stomach, which is the center or predominant anatomic bit of the stomach.
• Mucous neck and pit cells: Produce mucin and bicarbonate to make a "unbiased zone" to shield the stomach lining from the corrosive or aggravations in the stomach chyme.
• G cells: Produce the chemical gastrin because of enlargement of the stomach mucosa or protein, and invigorate parietal cells creation of their discharge. G cells are situated in the antrum of the stomach, which is the most substandard district of the stomach. Discharge by the past cells is constrained by the enteric sensory system. Expansion in the stomach or innervation by the vagus nerve (through the parasympathetic division of the autonomic sensory system) initiates the ENS, thus prompting the arrival of acetylcholine. When present, acetylcholine initiates G cells and parietal cells.

Pancreas

"Pancreatic catalyst" and "pancrease" divert to this conversation of endogenous structures. For exogenous structures, see Pancreatic proteins (drug).
Pancreas is both an endocrine and an exocrine organ, in that it capacities to deliver endocrinic chemicals delivered into the circulatory framework (like insulin, and glucagon), to control glucose digestion, and furthermore to emit stomach related/exocrinic pancreatic juice, which is discharged in the end by means of the pancreatic conduit into the duodenum. Stomach related or exocrine capacity of pancreas is as important to the upkeep of wellbeing as its endocrine capacity.
Two of the number of inhabitants in cells in the pancreatic parenchyma make up its stomach related chemicals:
• Ductal cells: Mainly liable for creation of bicarbonate (HCO3), which acts to kill the causticity of the stomach chyme entering duodenum through the pylorus. Ductal cells of the pancreas are invigorated by the chemical secretin to create their bicarbonate-rich emissions, in what is generally a bio-input system; profoundly acidic stomach chyme entering the duodenum animates duodenal cells called "S cells" to deliver the chemical secretin and delivery to the circulatory system. Secretin having entered the blood in the long run comes into contact with the pancreatic ductal cells, animating them to deliver their bicarbonate-rich juice. Secretin additionally hinders creation of gastrin by "G cells", and furthermore invigorates acinar cells of the pancreas to deliver their pancreatic compound.
• Acinar cells: Mainly liable for creation of the latent pancreatic chemicals (zymogens) that, when present in the little inside, become initiated and play out their significant stomach related capacities by separating proteins, fat, and DNA/RNA. Acinar cells are invigorated by cholecystokinin (CCK), which is a chemical/synapse delivered by the intestinal cells (I cells) in the duodenum. CCK invigorates creation of the pancreatic zymogens.
Pancreatic juice, made out of the emissions of both ductal and acinar cells, contains the accompanying stomach related enzymes:[2]
• Trypsinogen, which is an inactive(zymogenic) protease that, when actuated in the duodenum into trypsin, separates proteins at the essential amino acids. Trypsinogen is actuated through the duodenal compound enterokinase into its dynamic structure trypsin.
• Chymotrypsinogen, which is a latent (zymogenic) protease that, once enacted by duodenal enterokinase, transforms into chymotrypsin and separates proteins at their fragrant amino acids. Chymotrypsinogen can likewise be actuated by trypsin.
• Carboxypeptidase, which is a protease that removes the terminal amino corrosive gathering from a protein
• Several elastases that corrupt the protein elastin and some different proteins.
• Pancreatic lipase a digestive enzyme example that corrupts fatty substances into two unsaturated fats and a monoglyceride.[3]
• Sterol esterase
• Phospholipase
• Several nucleases that corrupt nucleic acids, as DNAase and RNAase
• Pancreatic amylase another digestive enzyme example that separates starch and glycogen which are alpha-connected glucose polymers. People come up short on the cellulases to process the starch cellulose which is a beta-connected glucose polymer.
A portion of the first endogenous compounds have drug partners (pancreatic proteins (prescription)) that are regulated to individuals with exocrine pancreatic deficiency.
The pancreas' exocrine capacity owes part of its remarkable dependability to biofeedback instruments controlling discharge of the juice. The accompanying huge pancreatic biofeedback systems are fundamental for the support of pancreatic juice balance/production:[4]
• Secretin, a chemical created by the duodenal "S cells" because of the stomach chyme containing high hydrogen particle focus (high acidicity), is delivered into the circulation system; upon get back to the stomach related plot, emission diminishes gastric discharging, builds discharge of

Small intestine

The accompanying chemicals/chemicals are delivered in the duodenum:
• secretin: This is an endocrine chemical created by the duodenal "S cells" because of the corrosiveness of the gastric chyme.
• Cholecystokinin (CCK) is a special peptide delivered by the duodenal "I cells" because of chyme containing high fat or protein content. In contrast to secretin, which is an endocrine chemical, CCK really works through incitement of a neuronal circuit, the final product of which is incitement of the acinar cells to deliver their content.[5] CCK likewise expands gallbladder withdrawal, causing arrival of pre-put away bile into the cystic channel, and in the long run into the basic bile conduit and by means of the ampulla of Vater into the second anatomic situation of the duodenum. CCK additionally diminishes the tone of the sphincter of Oddi, which is the sphincter that controls course through the ampulla of Vater. CCK likewise diminishes gastric movement and diminishes gastric discharging, consequently giving more opportunity to the pancreatic juices to kill the sharpness of the gastric chyme.
• Gastric inhibitory peptide (GIP): This peptide diminishes gastric motility and is delivered by duodenal mucosal cells.
• motilin: (digestive enzyme example) This substance increments gastro-intestinal motility by means of specific receptors called "motilin receptors".
• somatostatin: This chemical is delivered by duodenal mucosa and furthermore by the delta cells of the pancreas. Its primary capacity is to hinder an assortment of secretory systems.
All through the coating of the small digestive tract there are various brush line catalysts whose capacity is to additional separate the chyme delivered from the stomach into absorbable particles. These proteins are ingested while peristalsis happens. A portion of these catalysts include:
• Various exopeptidases and endopeptidases including dipeptidase and aminopeptidases that convert peptones and polypeptides into amino acids.[6]
• Maltase: changes over maltose into glucose.
• Lactase: This is a critical catalyst that changes over lactose into glucose and galactose. A dominant part of Middle-Eastern and Asian populaces come up short on this chemical. This catalyst additionally diminishes with age. As such lactose bigotry is regularly a typical stomach grumbling in the Middle-Eastern, Asian, and more seasoned populaces, showing with bulging, stomach torment, and osmotic loose bowels.
• Sucrase: changes over sucrose into glucose and fructose.
• Other disaccharidases

Plants

In predatory plants stomach related chemicals and acids separate creepy crawlies and in certain plants little creatures. In certain plants the leaf falls on the prey to build contact, others have a little vessel of stomach related fluid. At that point processing liquids are utilized to process the prey to get at the required nitrates and phosphorus. The retention of the required supplements are generally more productive than in different plants. Stomach related proteins autonomously occurred in rapacious plants and animals.
Some rapacious plants, similar to the Heliamphora don't utilize stomach related catalysts, yet use microscopic organisms to separate the food. These plants don't have stomach related juices, yet utilize the decay of the prey.[10]
Some flesh eating plants stomach related digestive enzyme example :
• Hydrolytic measure
• Esterase a hydrolase compound
• Proteases compound
• Nucleases compound
• Phosphatases compound
• Glucanases compound
• Peroxidases compound
• Ureas a natural mixtures
• Chitinase compound

Related topics:

1. Detail Knowledge of digestive enzymes

What are-digestive-enzymes

2. Use of digestive enzymes in dyspepsia

Role of-digestive-enzymes-in-dyspepsia

3. Digestive enzymes in indigestion

Can we take-digestive-enzymes-in-indigestion




The above essentials are available with AFD SHIELD

AFD Shield capsule is a combination of 12 natural ingredients among which are Algal DHA, Ashwagandha, Curcumin and Spirullina. AFD Shield reduces TG, increases HDL and improves age related cognitive decline. It also reduces stress and anxiety and performs anti-aging activity.Moreover, it also enhances the immunomodulatory activity, improves immunity and reduces inflammation and oxidative stress. Nutralogicx: AFD SHIELD

पाचन एंजाइमों का स्राव कहां होता है

पेट से संबंधित स्वाभाविक रूप से हो रहा जैविक चक्र प्रोटीन क्षेत्र इकाई आपके सिस्टेमा डाइजोरियम का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। उन्हें नहीं, आपका शरीर सभी खाद्य स्रोतों को एक साथ अलग नहीं कर सकता है कि पूरक अक्सर पूरी तरह से आत्मसात किए जाते हैं। जैविक चक्र प्रोटीन की अनुपस्थिति उपकला चैनल (जीआई) के दुष्प्रभावों का प्रसार करेगी। इसी तरह आप भूख से मरना छोड़ सकते हैं, इसके बावजूद कि आपके पास एक ध्वनि खाने वाला आहार है। कुछ बीमारियां कार्बनिक चक्र प्रोटीन के एकत्रीकरण के साथ ध्यान केंद्रित करेंगी। जब वह स्थिति होती है, तो आपके पास अपने वास्तविक चक्र भोजन को प्रभावी ढंग से मदद करने के लिए रात्रिभोज से पहले प्राकृतिक संपर्क यौगिकों को जोड़ने का विकल्प होगा। जैविक चक्र प्रोटीन के बारे में अतिरिक्त रूप से बताने से इनकार करते हुए, क्या होता है एक बार जब आपको कुछ और चाहिए, और आपको ' इसे करने का विकल्प होगा। आपका शरीर मुंह, पेट और छोटे पाचन तंत्र सहित पेट से संबंधित ढांचे में प्रोटीन बनाता है। सबसे बड़ी पेशकश अग्न्याशय द्वारा तैयार की जाती है। पेट से संबंधित उत्प्रेरक आपके शरीर को अलग-अलग कार्ब्स, वसा और प्रोटीन की मदद करते हैं। पूरक के प्रतिधारण और आदर्श भलाई को ध्यान में रखना महत्वपूर्ण है। इन प्रोटीनों के बिना, आपके भोजन में पूरक स्क्वैंडर में जाते हैं। जब पेट से संबंधित उत्प्रेरक की अनुपस्थिति असहाय प्रसंस्करण और भूख को बढ़ावा देती है, तो इसे एक्सोक्राइन अग्नाशय की कमी (ईपीआई) कहा जाता है। जब ऐसा होता है, तो पेट से संबंधित उत्प्रेरक प्रतिस्थापन एक विकल्प हो सकता है। पेट से संबंधित कुछ प्रोटीनों को एक विशेषज्ञ के समाधान की आवश्यकता होती है और दूसरों को प्रीपोस्टीरस (ओटीसी) बेचा जाता है। पाचन एंजाइमों को उनके लक्ष्य सब्सट्रेट के आधार पर वर्गीकृत किया जाता है:

एमाइलेज: कार्ब्स या स्टार्च को चीनी कणों में तोड़ देता है। अपर्याप्त एमाइलेज आंतों के ढीलेपन का संकेत दे सकता है।
लाइपेज: वसा को अलग करने के लिए यकृत पित्त के साथ काम करता है। इस घटना में कि आपको अधिक लाइपेज की आवश्यकता होती है, आप ए, डी, ई और के।
प्रोटीज जैसे वसा-विघटित पोषक तत्वों में अपर्याप्त होंगे : प्रोटीन को अमीनो एसिड में तोड़ देता है। इसी तरह पाचन तंत्र से रोगाणुओं, खमीर और प्रोटोजोआ को बाहर रखने में मदद करता है। प्रोटीज की कमी से हाइपरसेंसिटिव या पाचन अंगों में जहरीलापन हो सकता है।
रासायनिक नुस्खे और संवर्द्धन कई संरचनाओं में स्थानांतरित किए गए निर्धारण और माप के साथ आते हैं। अग्नाशयी यौगिक प्रतिस्थापन उपचार (PERT) विशेष रूप से समाधान द्वारा सुलभ है। ये नुस्खे आम तौर पर सुअर के पैंक्रियास का उपयोग करके बनाए जाते हैं। वे खाद्य और औषधि प्रशासन (एफडीए) के समर्थन और दिशानिर्देश पर निर्भर हैं। कुछ उपाय उत्प्रेरकों में पैनारेलिपेज़ होता है, जिसमें एमाइलेज, लाइपेज़ और प्रोटीज़ शामिल होते हैं। पाचन तंत्र में आने से पहले इन दवाओं को आम तौर पर पर्चे को संसाधित करने से फॉरेस्टल एसिड के लिए कवर किया जाता है। माप एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति के वजन और आहार पैटर्न पर निर्भर करता है। आपके प्राथमिक देखभाल चिकित्सक को आपको सबसे कम बोधगम्य भाग में शुरू करने और स्थिति के आधार पर परिवर्तन करने की आवश्यकता होगी। ओटीसी प्रोटीन संवर्द्धन का पता लगाया जा सकता है कि किसी भी स्थान पर आहार वृद्धि बेची जाती है, जिसमें वेब भी शामिल है। इन्हें क्रिएचर पेनक्रियाज या प्लांट्स जैसे मोल्ड्स, यीस्ट, ग्रोथ या ऑर्गेनिक प्रोडक्ट के इस्तेमाल से तैयार किया जा सकता है। ओटीसी पेट से संबंधित रसायनों को मेड नहीं दिया जाता है, इसलिए उन्हें उपलब्ध होने से पहले एफडीए एंडोर्समेंट की आवश्यकता नहीं होती है। इन मदों में फिक्सिंग और खुराक एक समूह से दूसरे में भिन्न हो सकते हैं।
पेट से संबंधित उत्प्रेरक नियमित रसायनों की जगह लेते हैं, कार्ब, वसा और प्रोटीन को अलग करने में सहायता करते हैं। जब भी खाद्य स्रोतों को अलग किया जाता है, तो छोटे पाचन तंत्र के द्रव्यमान के माध्यम से आपके शरीर में पूरक आहार का सेवन किया जाता है और संचार प्रणाली के माध्यम से प्रसार किया जाता है क्योंकि वे आपके विशिष्ट यौगिकों की नकल करने का इरादा रखते हैं, उन्हें आपके खाने से बहुत पहले नहीं लिया जाना चाहिए। इस तरह, वे अपनी नौकरी का ख्याल रख सकते हैं क्योंकि भोजन आपके पेट और छोटे पाचन तंत्र को प्रभावित करता है। बंद मौका है कि आप उन्हें भोजन के साथ नहीं लेते हैं, वे बहुत उपयोगी नहीं होंगे।

पाचन एंजाइमों का स्राव कहां होता है

मुंह

प्राणियों और लोगों द्वारा लिए जाने वाले जटिल खाद्य पदार्थों को सीधे आत्मसात करने से पहले उन्हें सीधा, असंतुष्ट और प्रसार योग्य पदार्थों में विभाजित किया जाना चाहिए। मौखिक गुहा में, लार वाले अंग विभिन्न प्रकार के प्रोटीन और पदार्थों का निर्वहन करते हैं जो अवशोषण और इसके अलावा नसबंदी में मार्गदर्शन करते हैं। वे साथ में शामिल होते हैं
• भाषिक लाइपेस: मुंह में लिपिड आत्मसात। भाषाई लिपेज लिपिड / वसा को आत्मसात करना शुरू कर देता है।
• लारयुक्त एमाइलेज: कार्बोहाइड्रेट प्रसंस्करण इसी तरह मुंह में शुरू होता है। Amylase, लार के अंगों द्वारा वितरित, जटिल कार्ब्स को तोड़ता है, ज्यादातर पकाया स्टार्च, अधिक मामूली जंजीरों, या यहां तक ​​कि सीधे शर्करा के लिए। यह कई बार पाइटलिन के रूप में पहचाना जाता है।
• लाइसोजाइम: यह मानते हुए कि भोजन में मौलिक पूरक के अलावा कुछ और भी है, उदाहरण के लिए रोगाणुओं या संक्रमणों के लिए, लाइसोजाइम एक प्रतिबंधित और अस्पष्ट, फिर भी प्रसंस्करण में सहायक स्वच्छ क्षमता प्रदान करता है।
ध्यान दें लार अंगों की विविधता है। दो प्रकार के लार वाले अंग होते हैं:
• सीरियस ऑर्गन्स: ये ऑर्गन्स पानी, इलेक्ट्रोलाइट्स और यौगिकों में एक उत्सर्जन धनी पैदा करते हैं। एक गंभीर मौखिक अंग का एक अविश्वसनीय चित्रण पैरोटिड अंग है।
• मिश्रित अंग: इन अंगों में सीरस कोशिकाएँ और श्लेष्मा कोशिकाएँ होती हैं, और यह सब्लिंगुअल और सबमांडिबुलर अंगों को शामिल करती है। उनका निर्वहन श्लेष्म और स्थिरता में उच्च है।

पेट


पेट में जिन प्रोटीनों का निर्वहन होता है, वे गैस्ट्रिक रसायन होते हैं। पेट अवशोषण में एक महत्वपूर्ण भाग मानता है, दोनों एक यांत्रिक दृष्टिकोण से भोजन को मिश्रित और स्मैश करता है, और इसके अलावा एक एंजाइमेटिक दृष्टिकोण से, इसे संसाधित करके। अगले आने वाले प्रोटीन पेट द्वारा वितरित होते हैं और उनकी अलग क्षमता होती है:
• पेप्सिन सिद्धांत गैस्ट्रिक प्रोटीन है। यह अपने निष्क्रिय संरचना पेप्सिनोजेन में "बॉस कोशिकाओं" नामक पेट की कोशिकाओं द्वारा बनाई गई है, जो कि एक जाइमोजेन है। पेप्सिनोजेन को पेट की संक्षारक द्वारा इसकी गतिशील संरचना, पेप्सिन में शुरू किया जाता है। पेप्सिन भोजन में प्रोटीन को अधिक मामूली कणों में अलग करता है, उदाहरण के लिए, पेप्टाइड टुकड़े और अमीनो एसिड। प्रोटीन प्रसंस्करण, परिणामस्वरूप, मूल रूप से पेट में शुरू होता है, स्टार्च और लिपिड के विपरीत, मुंह में उनका अवशोषण क्या शुरू होता है (फिर भी, रासायनिक कैलिकेरिन के उपायों का पालन करें, जो कुछ प्रोटीन को कैटाबोलिस करता है, मुंह में थूक पाया जाता है)।
• गैस्ट्रिक लाइपेस: गैस्ट्रिक लाइपेज पेट में श्लेष्मिक म्यूकोसा में गैस्ट्रिक बॉस कोशिकाओं द्वारा उत्सर्जित एक अम्लीय लाइपेस है। इसका पीएच आदर्श 3-6 है। गैस्ट्रिक लाइपेस, लिंगुअल लिपेज के साथ, दो अम्लीय लिपेस होते हैं। ये लिपिड, एंटासिड लिपेस (जैसे अग्नाशयी लाइपेस) के विपरीत, आदर्श एंजाइमेटिक आंदोलन के लिए पित्त संक्षारक या कोलिपेज़ की आवश्यकता नहीं होती है। अम्लीय लिपिड 30% लिपिड हाइड्रोलिसिस बनाते हैं जो मानव के अप-अप में प्रसंस्करण के दौरान होते हैं, गैस्ट्रिक लिपेस के साथ दो अम्लीय लिपिस के अधिक से अधिक भाग में योगदान करते हैं। बच्चों में, अम्लीय लिप्स काफी अधिक महत्वपूर्ण होते हैं, जो कि बाहर के लिपोलाइटिक क्रिया में से आधे तक देते हैं।
पेट द्वारा निर्मित रसायन या मिश्रण और उनकी अलग क्षमता:
• हाइड्रोक्लोरिक संक्षारक (एचसीएल): यह मूल रूप से निश्चित रूप से हाइड्रोजन अणुओं (एच +), या लेटे-लेटे पेट संक्षारक में चार्ज किया जाता है, और पेट के फोन द्वारा निर्मित होता है जिसे पार्श्विका कोशिका कहा जाता है। एचसीएल मूल रूप से भोजन में रहने वाले किसी भी सूक्ष्म जीव या संक्रमण को खत्म करने के लिए, प्रोटीन को बदनाम करने की क्षमता रखता है, और इसके अलावा पेप्सिन में पेप्सिनोजेन शुरू करता है।
• आंतरिक कारक (IF): आंतरिक कारक पेट की पार्श्विका कोशिकाओं द्वारा बनाया जाता है। पोषक तत्व बी 12 (विट। बी 12) एक महत्वपूर्ण पोषक तत्व है जिसे टर्मिनल इलियम में आत्मसात करने के लिए समर्थन की आवश्यकता होती है। सबसे पहले लार में, लार के अंगों द्वारा उत्सर्जित हैप्टोकोरिन विट को सम्‍मिलित करता है। बी, एक विट बना रहा है। बी 12-हैप्टोकोरिन कॉम्प्लेक्स। इस परिसर का कारण पेट में निर्मित हाइड्रोक्लोरिक संक्षारक से विटामिन बी 12 को ढाल देना है। जब पेट की सामग्री पेट को ग्रहणी में छोड़ देती है, तो हैप्टोकोरिन को अग्नाशयी रसायनों के साथ अलग किया जाता है, जिससे निर्दोष पोषक तत्व बी 12 पहुंचता है। उस बिंदु पर पार्श्विका कोशिकाओं द्वारा वितरित जन्मजात कारक (IF) विटामिन बी 12 को बनाता है, जिससे एक विट बनता है। B12-IF जटिल। इस परिसर को इलियम के टर्मिनल भाग में आत्मसात किया जाता है।
• म्यूसीन: पेट को सूक्ष्म जीवों और इसके असाधारण अम्लीय जलवायु के उपयोग से होने वाले संक्रमण को खत्म करने की आवश्यकता होती है, इसके अलावा इसके संक्षारक से स्वयं को ढंकने का दायित्व भी है। जिस तरह से यह पेट को पूरा करता है वह श्लेष्म और बाइकार्बोनेट को अपने श्लेष्म कोशिकाओं के माध्यम से उत्सर्जित करने के द्वारा होता है, और इसके अलावा एक त्वरित सेल टर्न-ओवर होने से।
• गैस्ट्रिन: यह पेट की "जी कोशिकाओं" द्वारा बनाया गया एक महत्वपूर्ण रसायन है। जी कोशिकाएं पेट के प्रकाश में गैस्ट्रिन का उत्पादन करती हैं जो भोजन में प्रवेश करने के बाद होता है, और इसके अलावा प्रोटीन के लिए पेट के खुलेपन के बाद। गैस्ट्रिन एक अंतःस्रावी रसायन है और इन रेखाओं के साथ संचार प्रणाली में प्रवेश करती है और अंत में वापस पेट में पहुंच जाती है जहां यह हाइड्रोक्लोरिक संक्षारक (HCl) और आंतरिक कारक (IF) बनाने के लिए पार्श्विका कोशिकाओं को प्रभावित करती है।
नोट पेट को कवर करने वाले फोन के बीच क्षमता का विभाजन है। पेट में चार प्रकार की कोशिकाएं होती हैं:
• पार्श्विका कोशिकाएं: हाइड्रोक्लोरिक संक्षारक और अंतर्निहित कारक का उत्पादन करती हैं।
• गैस्ट्रिक बॉस कोशिकाएं: पेप्सिनोजेन का उत्पादन करती हैं। बॉस कोशिकाएं मुख्य रूप से पेट के असेंबली में पाई जाती हैं, जो पेट के केंद्र या प्रमुख शारीरिक रचना है।
• श्लेष्म गर्दन और गड्ढे की कोशिकाएं: पेट के श्लेष्म में संक्षारक या वृद्धि से पेट के अस्तर को ढालने के लिए "निष्पक्ष क्षेत्र" बनाने के लिए श्लेष्म और बाइकार्बोनेट का उत्पादन करें।
• जी कोशिकाएं: पेट के श्लेष्मा या प्रोटीन के बढ़ने के कारण रासायनिक गैस्ट्रिन का उत्पादन करते हैं, और पार्श्विका कोशिकाओं को उनके स्त्राव के निर्माण में मदद करते हैं। जी कोशिकाएं पेट के एंट्राम में स्थित होती हैं, जो पेट का सबसे घटिया जिला है। पिछली कोशिकाओं द्वारा निर्वहन एंटरिक संवेदी प्रणाली द्वारा विवश है। वेजस नर्व द्वारा पेट में संक्रमण या स्वायत्त संवेदी प्रणाली के पैरासिम्पेथेटिक डिवीजन के माध्यम से विस्तार ईएनएस को शुरू करता है, इस प्रकार एसिटाइलकोलाइन के आगमन को रोकता है। उपस्थित होने पर, एसिटाइलकोलाइन जी कोशिकाओं और पार्श्विका कोशिकाओं को आरंभ करता है।

अग्न्याशय

अग्नाशयी उत्प्रेरक" और "अग्न्याशय" अंतर्जात संरचनाओं की इस बातचीत को मोड़ते हैं। बहिर्जात संरचनाओं के लिए, अग्नाशयी प्रोटीन (दवा) देखें।
अग्न्याशय दोनों एक अंतःस्रावी और एक एक्सोक्राइन अंग है, जिसमें यह ग्लूकोज पाचन को नियंत्रित करने के लिए संचार संरचना (इंसुलिन और ग्लूकागन) में वितरित एंडोक्राइनिक रसायनों को वितरित करने की क्षमता रखता है, और इसके अलावा संबंधित / एक्सोक्रिनिक अग्नाशयी रस का उत्सर्जन करता है, जिसे छुट्टी दे दी जाती है अंत में ग्रहणी नाली के माध्यम से ग्रहणी में। अग्न्याशय से संबंधित पेट या एक्सोक्राइन क्षमता इसकी अंतःस्रावी क्षमता के रूप में भलाई के रखरखाव के लिए महत्वपूर्ण है।
अग्नाशय के पैरेन्काइमा में कोशिकाओं में निवासियों की संख्या इसके पेट से संबंधित रसायनों को बनाती है:
• डक्टल कोशिकाएं: मुख्य रूप से बाइकार्बोनेट (एचसीओ 3) के निर्माण के लिए उत्तरदायी है, जो पाइलोरस के माध्यम से ग्रहणी में प्रवेश करने वाले पेट के चिस्म की सावधानी को मारने का कार्य करता है। अग्न्याशय के डक्टल कोशिकाओं को रासायनिक बायोटिन द्वारा अपने बायकार्बोनेट-समृद्ध उत्सर्जन को बनाने के लिए, जो आमतौर पर एक जैव-इनपुट प्रणाली है, में विस्थापित किया जाता है; रासायनिक रूप से अम्लीय पेट का चीम, ग्रहणी में प्रवेश करके रासायनिक स्रावी और संचार प्रणाली को पहुंचाने के लिए "एस कोशिकाओं" नामक ग्रहणी कोशिकाओं को दर्शाता है। लंबे समय में रक्त में प्रवेश करने वाले सेक्रेटिन अग्नाशयी नलिका कोशिकाओं के संपर्क में आते हैं, जो उन्हें अपने बाइकार्बोनेट-समृद्ध रस को वितरित करने के लिए एनिमेट करते हैं। सीक्रेटिन अतिरिक्त रूप से "जी कोशिकाओं" द्वारा गैस्ट्रिन के निर्माण में बाधा डालती है, और इसके बाद अग्नाशय के सेमिनार कोशिकाओं को अपने अग्नाशयी यौगिक को वितरित करने के लिए प्रेरित करती है।
• संगोष्ठी कोशिकाएँ: मुख्य रूप से अव्यक्त अग्नाशयी रसायनों (ज़ाइमोजेन्स) के निर्माण के लिए उत्तरदायी होती हैं, जो कि जब थोड़ा अंदर मौजूद होती हैं, तो आरंभ हो जाती हैं और प्रोटीन, वसा और डीएनए / आरएनए को अलग करके उनकी महत्वपूर्ण पेट संबंधी क्षमताओं को निभाती हैं। कोइलेर कोशिकाओं को कोलेलिस्टोकिनिन (CCK) द्वारा परिशोधित किया जाता है, जो कि ग्रहणी में आंतों की कोशिकाओं (I कोशिकाओं) द्वारा दिया गया एक रासायनिक / अन्तर्ग्रथन है। CCK अग्नाशयी झाइमों के निर्माण को प्रोत्साहित करता है।
vअग्नाशयी रस, दोनों डक्टल और एसिनार कोशिकाओं के उत्सर्जन से बना होता है, जिसमें पेट से संबंधित एंजाइम होते हैं: [२]
• ट्रिप्सिनोजेन, जो एक निष्क्रिय (जिओमोजेनिक) प्रोटीज है, जब ग्रहणी में ट्रिप्सिन में सक्रिय होता है, प्रोटीन को आवश्यक अमीनो एसिड में अलग करता है। ट्रिप्सिनोजेन को ग्रहणी यौगिक एंटरोकिनेस के माध्यम से इसकी गतिशील संरचना ट्रिप्सिन में सक्रिय किया जाता है।
• काइमोट्रिप्सिनोजेन, जो एक अव्यक्त (जिओमोजेनिक) प्रोटीज है, जो एक बार ग्रहणी एंटरोकाइनेज द्वारा अधिनियमित किया जाता है, काइमोट्रिप्सिन में बदल जाता है और उनके सुगंधित अमीनो एसिड में प्रोटीन को अलग करता है। Chymotrypsinogen इसी तरह trypsin द्वारा सक्रिय किया जा सकता है।
• कार्बोक्सीपेप्टिडेज़, एक प्रोटीज़ है जो एक प्रोटीन से टर्मिनल अमीनो संक्षारक इकट्ठा को निकालता है
• कई इलास्टेस जो प्रोटीन इलास्टिन और कुछ अलग प्रोटीन को भ्रष्ट करते हैं।
अग्नाशयी लाइपेस जो वसा पदार्थों को दो असंतृप्त वसा और एक मोनोग्लिसराइड में दूषित करता है। [३]
• स्टेरोल एस्टरेज़
• फॉस्फोलिपेज़
• कई न्युक्लिअसिज़ कि भ्रष्ट न्यूक्लिक एसिड, के रूप में DNAase और RNAase
• अग्नाशय एमिलेज कि अलग स्टार्च और ग्लाइकोजन जो अल्फा जुड़ा ग्लूकोज पॉलिमर हैं। स्टार्च सेलुलोज को संसाधित करने के लिए लोग सेल्युलैस पर कम आते हैं जो एक बीटा-कनेक्टेड ग्लूकोज बहुलक है।
पहले अंतर्जात यौगिकों के एक हिस्से में ड्रग पार्टनर्स (अग्नाशयी प्रोटीन (पर्चे)) होते हैं जो एक्सोक्राइन अग्नाशय की कमी वाले व्यक्तियों के लिए विनियमित होते हैं।
अग्न्याशय की एक्सोक्राइन क्षमता रस के निर्वहन को नियंत्रित करने वाले बायोफीडबैक उपकरणों के लिए इसकी उल्लेखनीय निर्भरता का हिस्सा है। अग्नाशयी रस संतुलन / उत्पादन के समर्थन के लिए मूलभूत अग्नाशयी बायोफीडबैक प्रणाली साथ हैं: [४]
• सीक्रेटिन, उच्च हाइड्रोजन कण फोकस (उच्च अम्लीयता) वाले पेट केम के कारण ग्रहणी "एस कोशिकाओं" द्वारा बनाया गया एक रसायन, परिसंचरण तंत्र में वितरित किया जाता है; पेट से संबंधित भूखंड पर वापस जाने पर, उत्सर्जन गैस्ट्रिक निर्वहन कम हो जाता है, का निर्वहन होता है

छोटी आंत

ग्रहणी / रसायन को ग्रहणी में वितरित किया जाता है:
• स्रावी: यह एक एंडोक्राइन रसायन है जो गैस्ट्रिक चाइम के संक्षारण के कारण ग्रहणी "S कोशिकाओं" द्वारा बनाया जाता है।
• Cholecystokinin (CCK) एक विशेष पेप्टाइड है जो ड्यूओडेनल "I कोशिकाओं" द्वारा दिया जाता है क्योंकि इसमें उच्च वसा या प्रोटीन की मात्रा वाले चाइम होते हैं। सेक्रेटिन के विपरीत, जो एक अंतःस्रावी रसायन है, CCK वास्तव में एक न्यूरोनल सर्किट को उकसाने के माध्यम से काम करता है, जिनमें से अंतिम उत्पाद अपनी सामग्री को वितरित करने के लिए एक सेमिनार कोशिकाओं को उत्तेजित करता है। [५] CCK इसी तरह पित्ताशय की थैली की निकासी का विस्तार करता है, जिससे पुटीय पित्त का आगमन सिस्टिक चैनल में होता है, और लंबे समय तक मूल पित्त नाली में और वेटर के एम्पुल्ला के माध्यम से ग्रहणी की दूसरी शारीरिक स्थिति में होता है। CCK अतिरिक्त रूप से Oddi के स्फिंक्टर के स्वर को कम करता है, जो कि Sphincter है जो Vater के ampulla के माध्यम से पाठ्यक्रम को नियंत्रित करता है। CCK इसी तरह गैस्ट्रिक आंदोलन को कम करता है और गैस्ट्रिक निर्वहन को कम करता है,
• गैस्ट्रिक इनहिबिटरी पेप्टाइड (GIP): यह पेप्टाइड गैस्ट्रिक गतिशीलता को कम करता है और ग्रहणी संबंधी श्लैष्मिक कोशिकाओं द्वारा दिया जाता है।
• motilin: यह पदार्थ विशिष्ट रिसेप्टर्स के माध्यम से गैस्ट्रो-आंत्र गतिशीलता को बढ़ाता है जिसे "motilin रिसेप्टर्स" कहा जाता है।
• सोमैटोस्टैटिन: यह रसायन ग्रहणी म्यूकोसा द्वारा दिया जाता है और इसके अलावा अग्न्याशय के डेल्टा कोशिकाओं द्वारा दिया जाता है। इसकी प्राथमिक क्षमता स्रावी प्रणालियों के वर्गीकरण में बाधा है।
छोटे पाचन तंत्र के कोटिंग के माध्यम से विभिन्न ब्रश लाइन उत्प्रेरक होते हैं, जिनकी क्षमता पेट से वितरित चिमटे को अवशोषित कणों में अतिरिक्त रूप से अलग करना है। इन प्रोटीनों को अंतर्ग्रहण किया जाता है जबकि क्रमाकुंचन होता है। इन उत्प्रेरकों के एक हिस्से में शामिल हैं:
• विभिन्न एक्सोपेप्टिडेस और एंडोपेप्टिडैस सहित डाइप्टिपिडेस और अमीनोपेप्टिडेस, जो पेप्टोन और पॉलीपेप्टाइड को अमीनो एसिड में परिवर्तित करते हैं।
• माल्टेस: माल्टोज में ग्लूकोज में परिवर्तन।
• लैक्टेज: यह एक महत्वपूर्ण उत्प्रेरक है जो लैक्टोज से अधिक ग्लूकोज और गैलेक्टोज में बदल जाता है। मध्य-पूर्वी और एशियाई आबादी का एक प्रमुख हिस्सा इस रसायन पर कम आता है। यह उत्प्रेरक अतिरिक्त रूप से उम्र के साथ कम हो जाता है। इस तरह के लैक्टोज बिगोट्री नियमित रूप से मध्य-पूर्वी, एशियाई और अधिक अनुभवी आबादी में एक विशिष्ट पेट की गड़गड़ाहट है, जो उभड़ा हुआ, पेट की पीड़ा, और आसमाटिक ढीली आंतों के साथ दिखाई देता है।
• सुक्रेज: सुक्रोज पर ग्लूकोज और फ्रुक्टोज में परिवर्तन।
• अन्य डिसैकराइड

पौधों

शिकारी पौधों में पेट से संबंधित रसायन और एसिड अलग-अलग रेंगते हैं और कुछ पौधों में छोटे जीव होते हैं। कुछ पौधों में पत्ती संपर्क बनाने के लिए शिकार पर गिरती है, दूसरों के पेट से संबंधित तरल पदार्थ का एक छोटा पोत होता है। उस बिंदु पर प्रसंस्करण तरल पदार्थ का उपयोग आवश्यक नाइट्रेट और फास्फोरस को प्राप्त करने के लिए शिकार को संसाधित करने के लिए किया जाता है। आवश्यक सप्लीमेंट्स की अवधारण विभिन्न पौधों की तुलना में आम तौर पर अधिक उत्पादक होती है। पेट से संबंधित प्रोटीन स्वायत्त रूप से पौधे और जानवरों में पाए जाते हैं।
हेलियमफोरा के समान कुछ रसदार पौधे, पेट से संबंधित उत्प्रेरक का उपयोग नहीं करते हैं, फिर भी भोजन को अलग करने के लिए सूक्ष्म जीवों का उपयोग करते हैं। इन पौधों में पेट से संबंधित रस नहीं होते हैं, फिर भी शिकार के क्षय का उपयोग करते हैं। [१०]
कुछ मांस खाने वाले पौधों के पेट संबंधित एंजाइम:
• हाइड्रोलाइटिक उपाय
• एस्टरेज़ एक जलविद्युत यौगिक
•प्रोटिएजों यौगिक
• न्युक्लिअसिज़ यौगिक
• फास्फेटेजों यौगिक
• ग्लूकेनेसिस यौगिक
• पराक्सिडेजों यौगिक
• यूरियास एक प्राकृतिक मिश्रण
• काइटिनेस यौगिक

संबंधित विषय:

1. पाचन एंजाइमों का विस्तार से ज्ञान

पाचन-एंजाइम क्या हैं

2. अपच में पाचक एंजाइमों का उपयोग

पाचन-एंजाइम-इन-अपच की भूमिका

3. अपच में पाचन एंजाइम

क्या हम पाचन-एंजाइम-इन-अपच ले सकते हैं




उपर ब्लॉग में बताई गई उपलब्धिया AFD-SHIELD के साथ उपलब्ध हैं

एएफडी शील्ड कैप्सूल 12 प्राकृतिक अवयवों का एक संयोजन है जिनमें से अलगल डीएचए, अश्वगंधा, करक्यूमिन और स्पिरुलिना हैं। एएफडी शील्ड टीजी को कम करता है, एचडीएल बढ़ाता है और उम्र से संबंधित संज्ञानात्मक गिरावट में सुधार करता है। यह तनाव और चिंता को भी कम करता है और एंटी-एजिंग गतिविधि करता है। इसके अलावा, यह इम्युनोमॉड्यूलेटरी गतिविधि को बढ़ाता है, प्रतिरक्षा में सुधार करता है और सूजन और ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करता है। Nutralogicx: एएफडी-शील्ड


AFDIL Ltd.
+91 9920121021

order@afdil.com

Read Also:


Disclaimer
Home