Learning Disabilities

Learning disabilities or learning disorders are umbrella terms for a wide variety of learning problems. A learning disability is not a problem with intelligence or motivation and kids with learning disabilities are not lazy or dumb. In fact, most are just as smart as everyone else is. Their brains are simply wired differently—and this difference affects how they receive and process information. Simply put, children and adults with learning disabilities see, hear, and understand things differently. This can lead to trouble with learning new information and skills, and putting them to use.

The common symptoms of learning disabilities in children include difficulty in rhyming, confusion between words while reading, difficulty in reading and poor handwriting. The most common types of learning disabilities in children involve problems with reading, writing, math, reasoning, listening, and speaking. While every kid has trouble with homework from time to time, if a certain area of learning is consistently problematic, it might indicate a learning disorder.

Learning Disabilities in Children

What is a Learning Disability?

A learning disability is a neurological disorder. In simple terms, learning disabilities in children results from a difference in the way a person's brain is "wired." Children with learning disabilities are as smart as or smarter than their peers. However, they may have difficulty reading, writing, spelling, and reasoning, recalling and/or organizing information if left to figure things out by themselves or if taught in conventional ways.

A learning disability cannot be cured or fixed; it is a lifelong issue. With the right support and intervention, however, children with learning disabilities can succeed in school and go on to successful, often distinguished careers later in life.

Parents can help children with learning disabilities achieve such success by encouraging their strengths, knowing their weaknesses, understanding the educational system, working with professionals and learning about strategies for dealing with specific difficulties.

Common learning disabilities in children include:

• Dyslexia
• Dysgraphia
• Dyscalculia
• Dyspraxia
• Dysphasia
• Auditory processing disorder
• Nonverbal Learning Disabilities

Which Skills are Affected by Learning Disabilities in Children?

Common learning disorders affect a child's abilities in reading, written expression, math or nonverbal skills.

1. Reading

Learning disorders in reading are usually based on difficulty perceiving a spoken word as a combination of distinct sounds. This can make it hard to understand how a letter or letters represent a sound and how letter combinations make a word. Problems with working memory — the ability to hold and manipulate information in the moment — also can play a role.

Even when basic reading skills are mastered, children may have difficulty with the following skills:

• Reading at a typical pace
• Understanding what they read
• Recalling accurately what they read
• Making inferences based on their reading
• Spelling

A learning disorder in reading is usually called dyslexia, but some specialists may use the term to describe only some of the information-processing problems that can cause difficulty with reading.

2. Written expression

Writing requires complex visual, motor and information-processing skills. A learning disorder in written expression may cause the following:

• Slow and labor-intensive handwriting
• Handwriting that's hard to read
• Difficulty putting thoughts into writing
• Written text that's poorly organized or hard to understand
• Trouble with spelling, grammar and punctuation

3. Math

A learning disorder in math may cause problems with the following skills:

• Understanding how numbers work and relate to each other
• Calculating math problems
• Memorizing basic calculations
• Using math symbols
• Understanding word problems
• Organizing and recording information while solving a math problem

4. Nonverbal skills

A child with a learning disorder in nonverbal skills appears to develop good basic language skills and strong rote memorization skills early in childhood. Difficulties are present in visual-spatial skills, visual-motor skills, and other skills necessary in social or academic functioning.

A child with a learning disorder in nonverbal skills may have trouble with the following skills:

• Interpreting facial expressions and nonverbal cues in social interactions
• Using language appropriately in social situations
• Physical coordination
• Fine motor skills, such as writing
• Attention, planning and organizing
• Higher-level reading comprehension or written expression, usually appearing in later grade school

Signs and Symptoms of Learning Disabilities in Children

Learning disabilities in children look very different from one child to another. One child may struggle with reading and spelling, while another loves books but cannot understand math. Still another child may have difficulty understanding what others are saying or communicating aloud. The problems are very different, but they are all learning disorders.

It is not always easy to identify learning disabilities in children. Because of the wide variations, there is no single symptom or profile that you can look to as proof of a problem. However, some warning signs are more common than others are at different ages. If you are aware of what they are, you will be able to catch a learning disorder early and quickly take steps to get your child help.

Symptoms of Learning Disabilities in Children

The signs and symptoms of learning disabilities in children include the following:

Preschool: The child may have some of these difficulties in preschool.

• Developing speaking skills at normal age (15-18 months) when speech typically develops in children
• Pronouncing simple words
• Recognizing letters and words
• Learning numbers, rhymes or songs
• Concentrating on tasks
• Following rules and directions
• Using fine/gross motor skills to do physical tasks.

Primary School: The child may have difficulty in:

• Connecting letters and sounds
• Differentiating between similar sounding words or rhyming words
• Reading, spelling, or writing accurately
• Distinguishing right from left, for example, confusing 25 with 52, “b” with “d,” “on” with “no,” “s” with “5”
• Recognizing letters of the alphabet
• Using correct mathematical symbols for doing math problems
• Remembering numbers or facts
• Learning new skills; the child may be slower than other children of his or her age
• Memorizing poems or answers
• Understanding the concept of time
• Hand-to-eye coordination, being unable to gauge the distance or speed, thus leading to accidents
• Tasks involving fine motor skills: holding pencil, tying shoe lace, buttoning shirt and so on
• Keeping track of own possessions like stationery items

Middle School: The child may have difficulty in:

• Spelling similar words (sea/see, week/weak), usage of prefixes, suffixes
• Reading aloud, writing assignments, solving word problems in math (the child may avoid doing tasks involving these skills)
• Handwriting (child may grip the pencil tightly)
• Memorizing or recalling facts
• Understanding body language and facial expressions
• Showing appropriate emotional reactions in a learning environment (the child may behave in an aggressive or rebellious way, and react with an excess of emotion)

High School: The child may have difficulty in:

• Spelling words accurately (the child may write the same word with different spellings in a single writing assignment)
• Reading and writing tasks
• Summarizing, paraphrasing, answering application problems or questions in tests
• Poor memory
• Adjusting to new surroundings
• Understanding abstract concepts
• Focusing consistently: the child may lack concentration on some tasks, while focusing excessively on others

Causes of Learning Disabilities in Children

Experts say that there is no single, specific cause for learning disabilities in children. However, some factors could cause a learning disability are-

• Family history and genetics: A family history of learning disorders increases the risk of a child developing a disorder.

• Illness during and after births: An illness or injury during or after birth may cause learning disabilities in children. Other possible factors could be drug or alcohol consumption during pregnancy, physical trauma, poor growth in the uterus, low birth weight, and premature or prolonged labor.

• Psychological trauma: Psychological trauma or abuse in early childhood may affect brain development and increase the risk of learning disorders.

• Physical trauma: Head injuries or nervous system infections might play a role in the development of learning disorders.

• Environmental exposure: Exposure to high levels of toxins, such as lead, has been linked to an increased risk of learning disorders.

• Stress during infancy: A stressful incident after birth such as high fever, head injury, or poor nutrition.

• Comorbidity: Children with learning disabilities are at a higher-than-average risk for attention problems or disruptive behavior disorders. Up to 25 percent of children with reading disorder also have ADHD. Conversely, it is estimated that between 15 and 30 percent of children diagnosed with ADHD have a learning disorder.

Diagnosis and Testing for Learning Disabilities in Children

Since diagnosing learning disabilities in children is not always easy, do not assume you know what your child’s problem is, even if the symptoms seem clear. It is important to have your child tested and evaluated by a qualified professional. That said, you should trust your instincts. If you think something is wrong, listen to your gut. If you feel that a teacher or doctor is minimizing your concerns, seek a second opinion. Do not let anyone tell you to “wait and see” or “don’t worry about it” if you see your child struggling. Regardless of whether or not your child’s problems are due to a learning disability, intervention is needed. You cannot go wrong by looking into the issue and taking action.

Diagnosing learning disabilities in children is a process. It involves testing, history taking, and observation by a trained specialist. Finding a reputable referral is important. Start with your child’s school, and if they are unable to help you, ask your doctor or friends and family who have dealt successfully with learning disabilities in children.

Types of specialists who may be able to test for and diagnose learning disabilities in children include:

1. Clinical psychologists
2. School psychologists
3. Child psychiatrists
4. Educational psychologist
5. Developmental psychologist
6. Neuropsychologist
7. Psychometrics
8. Occupational therapist (tests sensory disorders that can lead to learning problems)
9. Speech and language therapist

Sometimes several professionals coordinate services as a team to obtain an accurate diagnosis. They may also ask for input from your child’s teachers.

Treating Learning Disabilities in Children

If your child has a learning disorder, your child's doctor or school might recommend:

• Extra help- A reading specialist, math tutor or other trained professional can teach your child techniques to improve his or her academic, organizational and study skills.

• Individualized education program (IEP)- Public schools in the United States are mandated to provide an individual education program for students who meet certain criteria for a learning disorder. The IEP sets learning goals and determines strategies and services to support the child's learning in school.

• Accommodations- Classroom accommodations might include more time to complete assignments or tests, being seated near the teacher to promote attention, use of computer applications that support writing, including fewer math problems in assignments, or providing audiobooks to supplement reading.

• Therapy- Some children benefit from therapy. Occupational therapy might improve the motor skills of a child who has writing problems. A speech-language therapist can help address language skills.

• Medication- Your child's doctor might recommend medication to manage depression or severe anxiety. Medications for attention-deficit/hyperactivity disorder may improve a child's ability to concentrate in school.

• Complementary and alternative medicine- Further research is needed to determine the effectiveness of alternative treatments, such as dietary changes, use of vitamins, eye exercises, neuro-feedback and use of technological devices.

Parenting a Child with a Learning Disability

In addition to working with your child's teachers and doctors, you can help support your child with learning disabilities and difficulties. For example:

• Focus on strengths

All children have things they do well and things that are difficult for them. Find your child's strengths and help them learn to use them. Your child might be good at math, music, or sports. She could be skilled at art, working with tools, or caring for animals. Be sure to praise your child often when she does well or succeeds at a task.

• Develop social and emotional skills

Learning differences combined with the challenges of growing up can make your child sad, angry, or withdrawn. Help your child by providing love and support while acknowledging that learning is hard because their brain learns in a different way. Try to find clubs, teams, and other activities that focus on friendship and fun. These activities should also build confidence. Moreover, remember, competition is not just about winning.

• Learn the specifics about your child’s learning disability

Learn about your child’s type of learning disability. Find out how the disability affects the learning process and what cognitive skills are involved. It is easier to evaluate learning techniques if you understand how the learning disability affects your child.

• Pursue treatment and services at home

Even if the school doesn’t have the resources to treat your child’s learning disability optimally, you can pursue these options on your own at home or with a therapist or tutor.

• Make sure your child has healthy habits

A child who gets plenty of sleep at night, eats a balanced diet, and gets plenty of exercise is a healthier child, both mentally and physically.

• Pay attention to your child's mood

Learning disabilities can be bad for a child's self-esteem. Keep an eye out for symptoms of depression, such as moodiness, changes in sleep or appetite, or loss of interest in their usual activities.

Parenting a Child with Learning Disability

Dyslexia

Dyslexia is a learning disorder that affects your ability to read, spell, write, and speak. Kids who have it are often smart and hardworking, but they have trouble connecting the letters they see to the sounds those letters make. Dyslexia is the most common learning disability in children and persists throughout life. The severity of dyslexia can vary from mild to severe.

Dyslexia

Symptoms of Dyslexia

Dyslexia symptoms change at different ages and stages of life. Each child with dyslexia has unique strengths, and faces distinct challenges. The symptoms of dyslexia change with age. Below, learn how the condition presents at different stages of life.

1. Before children enter school, they may show:

• Delayed speech and vocabulary development
• Difficulties in forming and choosing words, for example, by mixing up words with similar sounds
• Problems retaining information, such as numbers, the alphabet, and the names of colors

2. When children are school-aged, they may:

• Have a low reading level for their age group
• Have difficulties processing information and remembering sequences
• Have trouble processing the sounds of unfamiliar words
• Take longer with reading and writing
• Avoid tasks that involve reading

3. Teens and adults may:

• Have difficulty reading aloud
• Take longer to read and write
• Have trouble with spelling
• Mispronounce words
• Have trouble recalling words for particular objects or topics
• Have difficulties learning another language, memorizing text, and doing math
• Find it hard to summarize a story

Symptoms of Dyslexia

Causes of Dyslexia

There appears to be a genetic link, because dyslexia runs in families. Some researchers have associated changes in the DCDC2 gene with reading problems and dyslexia.

It is thought to be caused by impairment in the brain's ability to process phonemes (the smallest units of speech that make words different from each other). It does not result from vision or hearing problems. It is not due to mental retardation, brain damage, or a lack of intelligence.

A person’s native language can influence their experience of the condition. It may, for example, be easier for a person with mild-to-moderate dyslexia to learn a language with clear connections between the written form and its sounds and with consistent grammar rules — such as Italian or Spanish.

Treatment for Dyslexia

If your child has dyslexia, a few different treatments can improve their ability to read and write. The treatment includes:

1. Reading Programs: Your child can work with a reading specialist to learn how to:

• Sound out letters and words (“phonics”)
• Read faster
• Understand more of what they read
• Write more clearly

2. Special education: A learning specialist or reading specialist can do one-on-one or group sessions, either in the classroom or in a separate room in the school.

3. Accommodations: An IEP outlines special services your child needs to make school easier. These might include audio books, extra time to finish tests, or text-to-speech—a technology that reads words out loud from a computer or book.

Dysgraphia

Dysgraphia is a learning disability characterized by problems with writing. It’s a neurological disorder that can affect children or adults. In addition to writing words that are difficult to read, people with dysgraphia tend to use the wrong word for what they’re trying to communicate.

Dysgraphia

Symptoms of Dysgraphia

Some common characteristics of dysgraphia include:

• Incorrect spelling and capitalization
• Mix of cursive and print letters
• Inappropriate sizing and spacing of letters
• Difficulty copying words
• Difficulty visualizing words before writing them
• Unusual body or hand position when writing
• Tight hold on pen or pencil resulting in hand cramps
• Omitting letters and words from sentences

Causes of Dysgraphia

If dysgraphia appears in childhood, it’s usually the result of a problem with orthographic coding. This is an aspect of working memory that allows you to permanently remember written words, and the way your hands or fingers must move to write those words.

When dysgraphia develops in adults, the cause is usually a stroke or other brain injury. In particular, injury to the brain’s left parietal lobe may lead to dysgraphia. You have a right and left parietal lobe in the upper part of your brain. Each is associated with a range of skills, such as reading and writing, as well as sensory processing, including pain, heat, and cold.

Treatment for Dysgraphia

Occupational therapy may be helpful in improving handwriting skills. Therapeutic activities may include:

• Holding a pencil or pen in a new way to make writing easier
• Working with modeling clay
• Tracing letters in shaving cream on a desk
• Drawing lines within mazes
• Doing connect-the-dots puzzles

Dyscalculia

Dyscalculia is a diagnosis used to describe learning difficulties related to math concepts. It is a brain-related condition that makes basic arithmetic hard to learn. It may run in families, but scientists have not found any genes related to it.

Dyscalculia goes beyond having a hard time understanding math. It is bigger than making mistakes when you add numbers or reversing digits when you write something down. If you have dyscalculia, it is difficult to understand the wider concepts that govern the rules of math, like whether one amount is greater than another is or how algebra works.

Dyscalculia

Symptoms of Dyscalculia

Kids with dyscalculia may lose track when counting. They may count on their fingers long after kids the same age have stopped doing it. A child with dyscalculia also may have a lot of anxiety about numbers. For example, they may panic at the thought of math homework.

Other symptoms include:

• Estimate things, like how long something takes or the ceiling height
• Understand math word problems
• Learn basic math, like addition, subtraction, and multiplication
• Link a number (1) to its corresponding word (one)
• Understand fractions
• Understand graphs and charts (visual-spatial concepts)
• Count money or make change
• Remember phone numbers or ZIP codes
• Tell time or read clocks

Causes of Dyscalculia

Some researchers believe that dyscalculia is the result of a lack of concrete early instruction in mathematics. Children who are taught that math concepts are simply a series of conceptual rules to follow, instead of being instructed in the hands-on reasoning behind those rules, may not develop the neural pathways they need to understand more complicated mathematical frameworks.

Under this strain of logic, a child who has never been taught to count using an abacus, or never shown multiplication using items that increase in tangible amounts, might be more likely to develop dyscalculia. Dyscalculia may occur by itself, or it may occur alongside other developmental delays and neurological conditions.

Children and adults may be more likely to receive a diagnosis of dyscalculia if they have:

• Dyslexia
• Attention deficit hyperactivity disorder
• Depression
• Anxiety

Dyscalculia may also have a genetic component. Mathematical aptitude tends to run in families, as do learning disabilities. It’s hard to tell how much of aptitude is hereditary and how much is the result of your family culture.

Treatment for Dyscalculia

Dyscalculia can be managed with treatment strategies. If left untreated, dyscalculia in adults can result in difficulties at work and trouble managing finances. Fortunately, there are strategies available for children and adults.

1. For Children

A special education specialist may suggest treatment options for your child to use in school and at home. These may include:

• Repeated practice of basic math concepts, such as counting and addition
• Segmenting subject material into smaller units to make it easier to digest information
• Use of small groups of other children for math instruction
• Repeated review of basic math concepts in hands-on, tangible demonstrations

2. For adults

Dyscalculia treatment for adults can be more challenging if you’re not in an academic setting with special education resources available. Your healthcare professional may also be able to help you with exercises and education material to help you strengthen the neural pathways used for mathematics. Training or private tutoring can help treat adult dyscalculia, as well as adult dyslexia.

Dyspraxia

Dyspraxia is a neurological disorder that impacts an individual’s ability to plan and process motor tasks. Individuals with dyspraxia often have language problems, and sometimes a degree of difficulty with thought and perception. Dyspraxia, however, does not affect the person’s intelligence, although it can cause learning problems in children.

The brain does not process information in a way that allows for a full transmission of neural messages. A person with dyspraxia finds it difficult to plan what to do, and how to do it.

Dyspraxia

Symptoms of Dyspraxia

Symptoms tend to vary depending on the age of the individual. Later, we will look at each age group in more detail. Some of the general symptoms of dyspraxia include:

• Poor posture
• Fatigue
• Differences in speech
• Perception problems
• Poor hand-eye coordination

Causes of Dyspraxia

Experts believe the person’s nerve cells that control muscles (motor neurons) are not developing correctly. If motor neurons cannot form proper connections, for whatever reason, the brain will take much longer to process data.

Treatment for Dyspraxia

1. Occupational therapy: An occupational therapist will evaluate how the child manages with everyday functions both at home and at school. They will then help the child develop skills specific to daily activities which they find difficult.

2. Speech and language therapy: The speech-language pathologist will conduct an assessment of the child’s speech, and then implement a treatment plan to help them to communicate more effectively.

3. Perceptual motor training: This involves improving the child’s language, visual, movement, and auditory skills. The individual is set a series of tasks that gradually become more advanced – the aim is to challenge the child so that they improve, but not so much that it becomes frustrating or stressful.

Dysphasia

Dysphasia, also called aphasia, is a language disorder. It affects how you speak and understand language. People with dysphasia might have trouble putting the right words together in a sentence, understanding what others say, reading, and writing.

Dysphasia

Symptoms of Dysphasia

The most common symptoms of dysphasia include difficulties speaking, difficulties with expression and understanding spoken language.

1. Verbal signs of dysphasia include:

• Speaking slowly and with great difficulty
• The use of bad grammar when forming a sentence and the omission of grammar
• Struggling to remember words and using a limited vocabulary
• Speaking fluently but in a nonsensical manner

2. Signs of dysphasia in relation to comprehension:

• Difficulty understanding spoken language
• Difficulty understanding complex grammar or fast speech
• Difficulty processing and remembering long sentences
• Misinterpretation of sentences

Causes of Dysphasia

Dysphasia occurs when areas of the brain responsible for language production and comprehension are damaged. A number of conditions can cause brain damage. Strokes are the most common cause of dysphasia. During a stroke, a blockage in the blood vessels of the brain can starve brain cells of blood and oxygen, causing them to die. This leads to brain damage.

Treatment for Dysphasia

Speech and language therapy is used in milder cases of dysphasia to restore speech and language skills.

Exercises used to improve speech and language include:

• Exercises to distinguish sounds
• Pronunciation exercises
• Auditory memory exercises that involve listening exercises, processing information and recall
• Vocabulary exercises to increase vocabulary
• Semantic exercises to improve understanding of context and meaning
• Morpho-syntactic exercises for example; knowing when to use the correct pronouns and prepositions when forming a sentence

Auditory Processing Disorder (APD)

Auditory processing disorder (APD) is a hearing condition in which your brain has a problem processing sounds. This can affect how you understand speech and other sounds in your environment.

Auditory Processing Disorder

Symptoms of APD

Your child also may find it hard to:

• Follow conversations
• Know where a sound came from
• Listen to music
• Remember spoken instructions, particularly if there are multiple steps
• Understand what people say, especially in a loud place or if more than one person is talking

Causes of APD

Doctors don't know exactly what causes APD, but it may be linked to:

• Illness. APD can happen after chronic ear infections, meningitis, or lead poisoning.
• Premature birth or low weight.
• Head injury.
• Genes

Treatment for APD

Treatment for APD focuses on following:

1. Classroom support: Electronic devices, like an FM (frequency modulation) system, can help your child hear the teacher more clearly. And their teachers can suggest ways to help them focus their attention, like sitting toward the front of the class and limiting background noise.

2. Making other skills stronger: Things like memory, problem solving, and other learning skills can help your child deal with APD.

3. Therapy: Speech therapy can help your child recognize sounds and improve conversational skills. Moreover, reading support that focuses on specific areas where your child has trouble can be helpful as well.

Non- Verbal Learning Disabilities (NVLD)

Nonverbal learning disabilities (NVLD) is a term that refers to challenges with a specific group of skills. These skills aren’t language-based like reading and writing are. They’re nonverbal skills, and they include motor, visual-spatial, and social skills.

The brain-based condition is characterized by poor visual, spatial, and organizational skills; difficulty recognizing and processing nonverbal cues; and poor motor performance.

Non- Verbal Learning Disabilities

Symptoms of NVLD

NVLD varies from person to person. However, commonly known symptoms include:

• Trouble recognizing nonverbal cues
• Early speech and language acquisition
• Poor coordination; seen as “clumsy” or always “getting in the way”
• Poor fine motor skills
• Always asking questions, to the point of being repetitive or interrupting the regular flow of conversation
• Needs to verbally “label” information in order to understand it; difficulty comprehending unsaid or spatial information
• Visual-spatial difficulties
• Extremely “literal;” struggles with sarcasm, innuendo, or other linguistic nuances
• “Naïve” or overly-trusting
• Difficulty coping with change
• Trouble following multi-step directions
• Difficulty making generalizations or seeing the “big picture”
• Overall challenges often masked by highly advanced verbal skills

Causes of NVLD

Nonverbal learning disorder is thought to be related to a deficit in the right cerebral hemisphere of the brain, where nonverbal processing occurs. Over time, the child may develop systems, including rote memories of past experiences, as a guide for how to behave in new situations rather than responding to specific social cues.

Treatment for NVLD

Occupational therapy builds fine motor skills, and can teach the meaning and importance of facial expressions.

Recording classroom lectures, to be replayed at a later date, can children who learn best by listening. Audio books are also helpful in this regard

Using a daily planner can help students build time-management strategies and stay organized.




The above essentials are available with AFD SHIELD.
AFD Shield capsule is a combination of 12 natural ingredients among which are Algal DHA, Ashwagandha, Curcumin and Spirullina. AFD Shield reduces TG, increases HDL and improves age related cognitive decline. It also reduces stress and anxiety and performs anti-aging activity.Moreover, it also enhances the immunomodulatory activity, improves immunity and reduces inflammation and oxidative stress. Nutralogicx: AFD SHIELD

सीखने की अक्षमताओं के सामान्य प्रकार

सीखने की अक्षमता या सीखने के विकार विभिन्न प्रकार की सीखने की समस्याओं के लिए छत्र शब्द हैं। सीखने की अक्षमता बुद्धि या प्रेरणा की समस्या नहीं है और सीखने की अक्षमता वाले बच्चे आलसी या गूंगे नहीं होते हैं। वास्तव में, अधिकांश उतने ही स्मार्ट हैं जितने कि बाकी सभी हैं। उनके दिमाग को बस अलग तरह से तार-तार किया जाता है - और यह अंतर प्रभावित करता है कि वे कैसे जानकारी प्राप्त करते हैं और प्रक्रिया करते हैं। सीधे शब्दों में कहें तो सीखने की अक्षमता वाले बच्चे और वयस्क चीजों को अलग तरह से देखते, सुनते और समझते हैं। इससे नई जानकारी और कौशल सीखने और उनका उपयोग करने में परेशानी हो सकती है।

बच्चों में सीखने की अक्षमता के सामान्य लक्षणों में तुकबंदी में कठिनाई, पढ़ने के दौरान शब्दों के बीच भ्रम, पढ़ने में कठिनाई और खराब लिखावट शामिल हैं। बच्चों में सबसे आम प्रकार की सीखने की अक्षमता में पढ़ने, लिखने, गणित, तर्क, सुनने और बोलने में समस्याएं शामिल हैं। जबकि हर बच्चे को समय-समय पर होमवर्क में परेशानी होती है, अगर सीखने का एक निश्चित क्षेत्र लगातार समस्याग्रस्त है, तो यह सीखने की बीमारी का संकेत हो सकता है।

बच्चों में सीखने की अक्षमता

सीखने में अक्षमता क्या है?

सीखने की अक्षमता एक स्नायविक विकार है। सरल शब्दों में, बच्चों में सीखने की अक्षमता किसी व्यक्ति के मस्तिष्क के "वायर्ड" होने के तरीके में अंतर के परिणामस्वरूप होती है। सीखने की अक्षमता वाले बच्चे अपने साथियों की तरह ही स्मार्ट या होशियार होते हैं। हालांकि, अगर उन्हें खुद चीजों को समझने के लिए छोड़ दिया जाता है या पारंपरिक तरीकों से पढ़ाया जाता है, तो उन्हें पढ़ने, लिखने, वर्तनी और तर्क करने, याद रखने और/या जानकारी व्यवस्थित करने में कठिनाई हो सकती है।

सीखने की अक्षमता को ठीक या ठीक नहीं किया जा सकता है; यह एक आजीवन मुद्दा है। हालांकि, सही समर्थन और हस्तक्षेप के साथ, सीखने की अक्षमता वाले बच्चे स्कूल में सफल हो सकते हैं और जीवन में बाद में सफल, अक्सर प्रतिष्ठित करियर में आगे बढ़ सकते हैं।

माता-पिता सीखने की अक्षमता वाले बच्चों को उनकी ताकत को प्रोत्साहित करके, उनकी कमजोरियों को जानकर, शैक्षिक प्रणाली को समझने, पेशेवरों के साथ काम करने और विशिष्ट कठिनाइयों से निपटने के लिए रणनीतियों के बारे में सीखने के द्वारा ऐसी सफलता प्राप्त करने में मदद कर सकते हैं।

बच्चों में आम सीखने विकलांग शामिल हैं:

• डिस्लेक्सिया
• डिसग्राफिया
• डिसकैलकुलिया
• दुष्क्रिया
• डिस्पैसिया
• श्रवण प्रसंस्करण विकार
• नॉनवर्बल सीखना विकलांग

बच्चों में सीखने की अक्षमताओं से कौन से कौशल प्रभावित होते हैं?

सामान्य सीखने के विकार पढ़ने, लिखित अभिव्यक्ति, गणित या अशाब्दिक कौशल में बच्चे की क्षमताओं को प्रभावित करते हैं।

1. पठन पढ़ने में

अधिगम विकार आमतौर पर किसी बोले गए शब्द को अलग-अलग ध्वनियों के संयोजन के रूप में समझने में कठिनाई पर आधारित होते हैं। इससे यह समझना मुश्किल हो सकता है कि अक्षर या अक्षर ध्वनि का प्रतिनिधित्व कैसे करते हैं और अक्षर संयोजन कैसे शब्द बनाते हैं। कार्यशील स्मृति के साथ समस्याएं - पल में जानकारी को पकड़ने और हेरफेर करने की क्षमता - भी एक भूमिका निभा सकती है।

यहां तक ​​कि जब बुनियादी पढ़ने के कौशल में महारत हासिल हो जाती है, तब भी बच्चों को निम्नलिखित कौशलों में कठिनाई हो सकती है:

• सामान्य गति से पढ़ना
• वे जो पढ़ते हैं उसे समझना
• उनके पढ़ने के आधार पर अनुमान लगाना
• वर्तनी पढ़ने में

एक सीखने की गड़बड़ी को आमतौर पर डिस्लेक्सिया कहा जाता है, लेकिन कुछ विशेषज्ञ इस शब्द का उपयोग केवल कुछ सूचना-प्रसंस्करण समस्याओं का वर्णन करने के लिए कर सकते हैं जो पढ़ने में कठिनाई पैदा कर सकते हैं।

2. लिखित अभिव्यक्ति

लेखन के लिए जटिल दृश्य, प्रेरक और सूचना-प्रसंस्करण कौशल की आवश्यकता होती है। लिखित अभिव्यक्ति में एक शिक्षण विकार निम्नलिखित कारण हो सकता है:

• धीमे और श्रम प्रधान लिखावट
• लिखावट कि पढ़ने के लिए मुश्किल है
• कठिनाई लेखन में विचार प्रस्तुत करने
• लिखित पाठ जो खराब व्यवस्थित या समझने में कठिन है
• वर्तनी, व्याकरण और विराम चिह्न के साथ परेशानी

3. गणित

सीखने की गड़बड़ी निम्नलिखित कौशलों के साथ समस्याएँ पैदा कर सकती है:

• यह समझना कि संख्याएँ कैसे काम करती हैं और एक दूसरे से संबंधित हैं
• गणित की समस्याओं की गणना करना
• बुनियादी गणनाओं को याद रखना
• गणित के प्रतीकों का उपयोग करना
• शब्द समस्याओं को समझना
• गणित की समस्या को हल करते समय सूचनाओं को व्यवस्थित और रिकॉर्ड करना

4. अशाब्दिक कौशल

अशाब्दिक कौशल में एक सीखने के विकार वाला बच्चा बचपन में ही अच्छे बुनियादी भाषा कौशल और मजबूत रटने के कौशल विकसित करता है। दृश्य-स्थानिक कौशल, दृश्य-मोटर कौशल और सामाजिक या शैक्षणिक कामकाज में आवश्यक अन्य कौशल में कठिनाइयाँ मौजूद हैं।

अशाब्दिक कौशल में सीखने की गड़बड़ी वाले बच्चे को निम्नलिखित कौशलों में परेशानी हो सकती है:

• सामाजिक अंतःक्रियाओं में चेहरे के भावों और अशाब्दिक संकेतों की व्याख्या करना
• सामाजिक परिस्थितियों में भाषा का उचित प्रयोग
• शारीरिक समन्वय
• ठीक मोटर कौशल, जैसे लेखन
• ध्यान, योजना और आयोजन
• उच्च-स्तरीय पढ़ने की समझ या लिखित अभिव्यक्ति, आमतौर पर बाद के ग्रेड स्कूल में दिखाई देती है

बच्चों में सीखने की अक्षमता के लक्षण

बच्चों में सीखने की अक्षमता एक बच्चे से दूसरे बच्चे में बहुत अलग दिखती है। एक बच्चा पढ़ने और वर्तनी के साथ संघर्ष कर सकता है, जबकि दूसरे को किताबें पसंद हैं लेकिन गणित नहीं समझ सकते। फिर भी दूसरे बच्चे को यह समझने में कठिनाई हो सकती है कि दूसरे क्या कह रहे हैं या जोर से संवाद कर रहे हैं। समस्याएं बहुत अलग हैं, लेकिन वे सभी सीखने के विकार हैं।

बच्चों में सीखने की अक्षमता की पहचान करना हमेशा आसान नहीं होता है। व्यापक विविधताओं के कारण, कोई एक लक्षण या प्रोफ़ाइल नहीं है जिसे आप किसी समस्या के प्रमाण के रूप में देख सकते हैं। हालांकि, कुछ चेतावनी के संकेत अलग-अलग उम्र में दूसरों की तुलना में अधिक सामान्य हैं। यदि आप जानते हैं कि वे क्या हैं, तो आप सीखने के विकार को जल्दी पकड़ने में सक्षम होंगे और अपने बच्चे की मदद लेने के लिए जल्दी से कदम उठाएंगे।

बच्चों में सीखने की अक्षमता के लक्षण

बच्चों में सीखने की अक्षमता के संकेतों और लक्षणों में निम्नलिखित शामिल हैं:

प्रीस्कूल: बच्चे को प्रीस्कूल में इनमें से कुछ कठिनाइयाँ हो सकती हैं।

• सामान्य उम्र (15-18 महीने) में बोलने का कौशल विकसित करना जब बच्चों में भाषण आम तौर पर विकसित होता है
• सरल शब्दों का उच्चारण
• अक्षरों और शब्दों को पहचानना
• सीखना संख्या, तुकबंदी या गीत
• कार्यों पर ध्यान केंद्रित करना
• नियमों और निर्देशों का पालन करना
• ठीक / सकल मोटर का उपयोग करना शारीरिक कार्यों को करने का कौशल

प्राथमिक विद्यालय: बच्चे को इसमें कठिनाई हो सकती है:

• अक्षरों और ध्वनियों को जोड़ना
• समान लगने वाले शब्दों या तुकबंदी वाले शब्दों के बीच अंतर करना
• सही ढंग से पढ़ना, वर्तनी या लिखना
• बाएं से दाएं भेद करना, उदाहरण के लिए, 25 को 52, "बी" को "डी," "ऑन" के साथ "नहीं," "एस" के साथ भ्रमित करना "5" के साथ
• वर्णमाला के अक्षरों को पहचानना
• गणित की समस्याओं को हल करने के लिए सही गणितीय प्रतीकों का उपयोग करना
• संख्याओं या तथ्यों को याद रखना
• नए कौशल सीखना; बच्चा अपनी उम्र के अन्य बच्चों की तुलना में धीमा हो सकता है
• कविताओं या उत्तरों को याद रखना
• समय की अवधारणा को समझना
• हाथ से आँख का समन्वय, दूरी या गति को नापने में असमर्थ होना, जिससे दुर्घटनाएं होती हैं
• ठीक मोटर कौशल से जुड़े कार्य: पेंसिल पकड़ना, जूते का फीता बांधना, शर्ट का बटन लगाना वगैरह
• स्टेशनरी की वस्तुओं जैसी अपनी संपत्ति पर नज़र रखना

मिडिल स्कूल: बच्चे को इसमें कठिनाई हो सकती है:

• समान शब्दों की वर्तनी (समुद्र/देखें, सप्ताह/कमजोर) ), उपसर्गों, प्रत्ययों का उपयोग
• जोर से पढ़ना, असाइनमेंट लिखना, गणित में शब्द समस्याओं को हल करना (बच्चा इन कौशलों से जुड़े कार्यों को करने से बच सकता है)
• लिखावट (बच्चा पेंसिल को कसकर पकड़ सकता है)
• तथ्यों को याद रखना या याद रखना
• शरीर की भाषा को समझना और चेहरे के भाव
• सीखने के माहौल में उचित भावनात्मक प्रतिक्रियाएं दिखाना (बच्चा आक्रामक या विद्रोही तरीके से व्यवहार कर सकता है, और भावनाओं की अधिकता के साथ प्रतिक्रिया कर सकता है )

हाई स्कूल: बच्चे को कठिनाई हो सकती है:

• शब्दों की सही वर्तनी (बच्चा वही लिख सकता है) एक ही लेखन कार्य में अलग-अलग वर्तनी वाले शब्द)
• पढ़ने और लिखने के कार्य
• परीक्षण में आवेदन की समस्याओं या प्रश्नों का सारांश, व्याख्या, उत्तर देना
• खराब स्मृति
• नए परिवेश में समायोजन
• अमूर्त अवधारणाओं को समझना
• लगातार ध्यान केंद्रित करना: बच्चे में कुछ पर एकाग्रता की कमी हो सकती है। कार्य, दूसरों पर अत्यधिक ध्यान केंद्रित करते हुए

बच्चों में सीखने की अक्षमता के कारण

विशेषज्ञों का कहना है कि बच्चों में सीखने की अक्षमता का कोई एक विशिष्ट कारण नहीं है। हालाँकि, कुछ कारक सीखने की अक्षमता का कारण बन सकते हैं-

• पारिवारिक इतिहास और आनुवंशिकी: सीखने के विकारों का पारिवारिक इतिहास बच्चे में विकार विकसित करने के जोखिम को बढ़ाता है।

• जन्म के दौरान और बाद में बीमारी: जन्म के दौरान या बाद में कोई बीमारी या चोट बच्चों में सीखने की अक्षमता का कारण बन सकती है। अन्य संभावित कारक गर्भावस्था के दौरान दवा या शराब का सेवन, शारीरिक आघात, गर्भाशय में खराब वृद्धि, जन्म के समय कम वजन और समय से पहले या लंबे समय तक श्रम हो सकता है।

• मनोवैज्ञानिक आघात : बचपन में मनोवैज्ञानिक आघात या दुर्व्यवहार मस्तिष्क के विकास को प्रभावित कर सकता है और सीखने संबंधी विकारों के जोखिम को बढ़ा सकता है।

• शारीरिक आघात: सिर की चोट या तंत्रिका तंत्र के संक्रमण सीखने के विकारों के विकास में भूमिका निभा सकते हैं।

• पर्यावरणीय जोखिम: सीसा जैसे विषाक्त पदार्थों के उच्च स्तर के संपर्क को सीखने संबंधी विकारों के बढ़ते जोखिम से जोड़ा गया है।

• शैशवावस्था के दौरान तनाव: जन्म के बाद एक तनावपूर्ण घटना जैसे तेज बुखार, सिर में चोट या खराब पोषण।

• सहरुग्णता: सीखने की अक्षमता वाले बच्चों में ध्यान समस्याओं या विघटनकारी व्यवहार विकारों के लिए औसत से अधिक जोखिम होता है। पठन विकार वाले 25 प्रतिशत बच्चों में एडीएचडी भी होता है। इसके विपरीत, यह अनुमान लगाया गया है कि एडीएचडी के निदान वाले 15 से 30 प्रतिशत बच्चों में सीखने की बीमारी है।

बच्चों में सीखने की अक्षमताओं का निदान और परीक्षण

चूंकि बच्चों में सीखने की अक्षमता का निदान करना हमेशा आसान नहीं होता है, इसलिए यह न मानें कि आप जानते हैं कि आपके बच्चे की समस्या क्या है, भले ही लक्षण स्पष्ट हों। एक योग्य पेशेवर द्वारा अपने बच्चे का परीक्षण और मूल्यांकन करवाना महत्वपूर्ण है। उस ने कहा, आपको अपनी प्रवृत्ति पर भरोसा करना चाहिए। अगर आपको लगता है कि कुछ गलत है, तो अपनी आंत की सुनें। अगर आपको लगता है कि कोई शिक्षक या डॉक्टर आपकी चिंताओं को कम कर रहा है, तो दूसरी राय लें। यदि आप अपने बच्चे को संघर्ष करते हुए देखते हैं, तो किसी को भी यह न कहें कि "प्रतीक्षा करें और देखें" या "इसके बारे में चिंता न करें"। चाहे आपके बच्चे की समस्याएं सीखने की अक्षमता के कारण हों या नहीं, हस्तक्षेप की आवश्यकता है। आप इस मुद्दे को देखकर और कार्रवाई करके गलत नहीं हो सकते।

बच्चों में सीखने की अक्षमता का निदान करना एक प्रक्रिया है। इसमें एक प्रशिक्षित विशेषज्ञ द्वारा परीक्षण, इतिहास लेना और अवलोकन शामिल है। एक सम्मानित रेफरल ढूँढना महत्वपूर्ण है। अपने बच्चे के स्कूल से शुरू करें, और अगर वे आपकी मदद करने में असमर्थ हैं, तो अपने डॉक्टर या दोस्तों और परिवार से पूछें, जिन्होंने बच्चों में सीखने की अक्षमता का सफलतापूर्वक सामना किया है।

बच्चों में सीखने की अक्षमता का परीक्षण और निदान करने में सक्षम विशेषज्ञों के प्रकार में शामिल हैं:

1. नैदानिक ​​मनोवैज्ञानिक
2. स्कूल मनोवैज्ञानिक
3. बाल मनोचिकित्सक
4. शैक्षिक मनोवैज्ञानिक
5. विकास मनोवैज्ञानिक
6. न्यूरोसाइकोलॉजिस्ट
7. साइकोमेट्रिक्स
8. व्यावसायिक चिकित्सक (संवेदी विकारों का परीक्षण जो सीखने की समस्याओं को जन्म दे सकता है)
9. भाषण और भाषा चिकित्सक

कभी-कभी कई पेशेवर सटीक निदान प्राप्त करने के लिए एक टीम के रूप में सेवाओं का समन्वय करते हैं। वे आपके बच्चे के शिक्षकों से भी इनपुट मांग सकते हैं।

बच्चों में सीखने की अक्षमता का इलाज

यदि आपके बच्चे को सीखने की बीमारी है, तो आपके बच्चे के डॉक्टर या स्कूल निम्नलिखित की सिफारिश कर सकते हैं:

• अतिरिक्त सहायता- एक पठन विशेषज्ञ, गणित शिक्षक या अन्य प्रशिक्षित पेशेवर आपके बच्चे को उसके शैक्षणिक, संगठनात्मक और अध्ययन कौशल में सुधार करने की तकनीक सिखा सकते हैं।

• व्यक्तिगत शिक्षा कार्यक्रम (आईईपी)- युनाइटेड स्टेट्स में पब्लिक स्कूलों को उन छात्रों के लिए एक व्यक्तिगत शिक्षा कार्यक्रम प्रदान करना अनिवार्य है जो सीखने संबंधी विकार के लिए कुछ मानदंडों को पूरा करते हैं। आईईपी सीखने के लक्ष्य निर्धारित करता है और स्कूल में बच्चे के सीखने का समर्थन करने के लिए रणनीतियों और सेवाओं को निर्धारित करता है।

• आवास- कक्षा में रहने में असाइनमेंट या परीक्षण पूरा करने के लिए अधिक समय शामिल हो सकता है, ध्यान को बढ़ावा देने के लिए शिक्षक के पास बैठना, कंप्यूटर अनुप्रयोगों का उपयोग करना जो लेखन का समर्थन करते हैं, जिसमें असाइनमेंट में कम गणित की समस्याएं शामिल हैं, या पूरक पढ़ने के लिए ऑडियोबुक प्रदान करना शामिल है।

• चिकित्सा- कुछ बच्चों को चिकित्सा से लाभ होता है। व्यावसायिक चिकित्सा से उस बच्चे के मोटर कौशल में सुधार हो सकता है जिसे लिखने में समस्या है। एक भाषण-भाषा चिकित्सक भाषा कौशल को संबोधित करने में मदद कर सकता है।

• दवा- आपके बच्चे का डॉक्टर अवसाद या गंभीर चिंता को प्रबंधित करने के लिए दवा की सिफारिश कर सकता है। अटेंशन-डेफिसिट/हाइपरएक्टिविटी डिसऑर्डर के लिए दवाएं बच्चे की स्कूल में ध्यान केंद्रित करने की क्षमता में सुधार कर सकती हैं।

• पूरक और वैकल्पिक चिकित्सा- वैकल्पिक उपचारों की प्रभावशीलता को निर्धारित करने के लिए और अधिक शोध की आवश्यकता है, जैसे कि आहार परिवर्तन, विटामिन का उपयोग, आंखों के व्यायाम, न्यूरो-फीडबैक और तकनीकी उपकरणों का उपयोग।

सीखने की अक्षमता वाले बच्चे का पालन-पोषण

अपने बच्चे के शिक्षकों और डॉक्टरों के साथ काम करने के अलावा, आप सीखने की अक्षमताओं और कठिनाइयों वाले अपने बच्चे की सहायता कर सकते हैं। उदाहरण के लिए:

• ताकत पर ध्यान दें

सभी बच्चों के पास वे चीजें हैं जो वे अच्छा करते हैं और वे चीजें जो उनके लिए कठिन हैं। अपने बच्चे की खूबियों का पता लगाएं और उनका उपयोग करना सीखने में उनकी मदद करें। आपका बच्चा गणित, संगीत या खेलकूद में अच्छा हो सकता है। वह कला में कुशल हो सकती है, औजारों के साथ काम कर सकती है, या जानवरों की देखभाल कर सकती है। अपने बच्चे की अक्सर प्रशंसा करना सुनिश्चित करें जब वह अच्छा करता है या किसी कार्य में सफल होता है।

• सामाजिक और भावनात्मक कौशल विकसित करें

बड़े होने की चुनौतियों के साथ सीखने में अंतर आपके बच्चे को दुखी, क्रोधित या पीछे हटने वाला बना सकता है। यह स्वीकार करते हुए कि सीखना कठिन है, प्यार और समर्थन प्रदान करके अपने बच्चे की मदद करें क्योंकि उनका मस्तिष्क एक अलग तरीके से सीखता है। क्लब, टीमों और अन्य गतिविधियों को खोजने की कोशिश करें जो दोस्ती और मस्ती पर केंद्रित हों। इन गतिविधियों से आत्मविश्वास भी पैदा होना चाहिए। इसके अलावा, याद रखें, प्रतियोगिता केवल जीतने के बारे में नहीं है।

• अपने बच्चे की सीखने की अक्षमता के

बारे में जानें अपने बच्चे की सीखने की अक्षमता के प्रकार के बारे में जानें। पता लगाएँ कि विकलांगता सीखने की प्रक्रिया को कैसे प्रभावित करती है और इसमें कौन से संज्ञानात्मक कौशल शामिल हैं। सीखने की तकनीकों का मूल्यांकन करना आसान है यदि आप समझते हैं कि सीखने की अक्षमता आपके बच्चे को कैसे प्रभावित करती है।

• घर पर उपचार और सेवाएं जारी रखें

यहां तक ​​​​कि अगर स्कूल में आपके बच्चे की सीखने की अक्षमता का बेहतर इलाज करने के लिए संसाधन नहीं हैं, तो आप घर पर या चिकित्सक या ट्यूटर के साथ इन विकल्पों का पालन कर सकते हैं।

• सुनिश्चित करें कि आपके बच्चे में स्वस्थ आदतें हैं

एक बच्चा जो रात में भरपूर नींद लेता है, संतुलित आहार खाता है, और भरपूर व्यायाम करता है वह मानसिक और शारीरिक रूप से स्वस्थ बच्चा होता है।

• अपने बच्चे के मूड पर ध्यान दें

सीखने की अक्षमता बच्चे के आत्मसम्मान के लिए खराब हो सकती है। अवसाद के लक्षणों पर नज़र रखें, जैसे कि मिजाज, नींद या भूख में बदलाव, या उनकी सामान्य गतिविधियों में रुचि की कमी।

सीखने की अक्षमता वाले बच्चे का पालन-पोषण

डिस्लेक्सिया

डिस्लेक्सिया एक सीखने की बीमारी है जो आपके पढ़ने, वर्तनी, लिखने और बोलने की क्षमता को प्रभावित करती है। जिन बच्चों के पास यह होता है वे अक्सर होशियार और मेहनती होते हैं, लेकिन उन्हें उन अक्षरों को उन ध्वनियों से जोड़ने में परेशानी होती है जो वे देखते हैं। डिस्लेक्सिया बच्चों में सबसे आम सीखने की अक्षमता है और जीवन भर बनी रहती है। डिस्लेक्सिया की गंभीरता हल्के से लेकर गंभीर तक हो सकती है।

डिस्लेक्सिया

डिस्लेक्सिया के लक्षण

डिस्लेक्सिया लक्षण अलग अलग उम्र और जीवन के चरणों में बदल जाते हैं। डिस्लेक्सिया से पीड़ित प्रत्येक बच्चे में अनूठी ताकत होती है, और वह अलग चुनौतियों का सामना करता है। डिस्लेक्सिया के लक्षण उम्र के साथ बदलते हैं। नीचे, जानें कि जीवन के विभिन्न चरणों में स्थिति कैसे प्रस्तुत होती है।

1. बच्चों के स्कूल में प्रवेश करने से पहले, वे दिखा सकते हैं:

• भाषण और शब्दावली के विकास में देरी
• शब्दों को बनाने और चुनने में कठिनाइयाँ, उदाहरण के लिए, समान ध्वनियों वाले शब्दों को मिलाकर
• जानकारी को बनाए रखने में समस्याएँ, जैसे कि संख्याएँ, वर्णमाला और नाम रंगों का

2. जब बच्चे स्कूली उम्र के होते हैं, तो वे हो सकते हैं:

• उनके आयु वर्ग के लिए पढ़ने का स्तर निम्न हो
• जानकारी को संसाधित करने और अनुक्रमों को याद रखने में कठिनाई होती है
• अपरिचित शब्दों की ध्वनियों को संसाधित करने में परेशानी होती है
• पढ़ने और लिखने में अधिक समय लगता है
• पढ़ने और लिखने वाले कार्यों से बचें

3. किशोर और वयस्क हो सकते हैं:

• जोर से पढ़ने में कठिनाई हो सकती है
• पढ़ने और लिखने में अधिक समय लग सकता है
• वर्तनी में परेशानी है
• शब्दों का गलत उच्चारण करें
• विशेष वस्तुओं या विषयों के लिए शब्दों को याद करने में परेशानी होती है
• दूसरी भाषा सीखने, पाठ याद करने और गणित करने में कठिनाई होती है
• कहानी को संक्षेप में प्रस्तुत करना कठिन लगता है

डिस्लेक्सिया के लक्षण

डिस्लेक्सिया के कारण

एक आनुवंशिक लिंक प्रतीत होता है, क्योंकि डिस्लेक्सिया परिवारों में चलता है। कुछ शोधकर्ताओं ने डीसीडीसी2 जीन में परिवर्तन को पढ़ने की समस्याओं और डिस्लेक्सिया के साथ जोड़ा है।

ऐसा माना जाता है कि यह मस्तिष्क के स्वरों को संसाधित करने की क्षमता में कमी के कारण होता है (भाषण की सबसे छोटी इकाइयाँ जो शब्दों को एक दूसरे से अलग बनाती हैं)। यह दृष्टि या सुनने की समस्याओं से उत्पन्न नहीं होता है। यह मानसिक मंदता, मस्तिष्क क्षति या बुद्धि की कमी के कारण नहीं है।

किसी व्यक्ति की मूल भाषा स्थिति के उनके अनुभव को प्रभावित कर सकती है। उदाहरण के लिए, हल्के से मध्यम डिस्लेक्सिया वाले व्यक्ति के लिए लिखित रूप और उसकी ध्वनियों के बीच स्पष्ट संबंध और संगत व्याकरण नियमों के साथ-जैसे इतालवी या स्पेनिश के साथ एक भाषा सीखना आसान हो सकता है।

डिस्लेक्सिया के लिए उपचार

यदि आपके बच्चे को डिस्लेक्सिया है, तो कुछ अलग उपचार उनकी पढ़ने और लिखने की क्षमता में सुधार कर सकते हैं। उपचार में शामिल हैं:

1. पढ़ना कार्यक्रम: आपका बच्चा पढ़ने के विशेषज्ञ के साथ काम कर सकता है कि कैसे सीखें:

• अक्षरों और शब्दों ("ध्वनिकी") को उच्चारण करें
• तेजी से पढ़ें
• वे जो पढ़ते हैं उसे अधिक समझें
• अधिक स्पष्ट रूप से लिखें

2. विशेष शिक्षा: एक शिक्षण विशेषज्ञ या पठन विशेषज्ञ कक्षा में या स्कूल में एक अलग कमरे में आमने-सामने या समूह सत्र कर सकता है।

3. आवास: एक आईईपी आपके बच्चे को स्कूल को आसान बनाने के लिए आवश्यक विशेष सेवाओं की रूपरेखा देता है। इनमें ऑडियो पुस्तकें, परीक्षण समाप्त करने के लिए अतिरिक्त समय, या टेक्स्ट-टू-स्पीच-एक ऐसी तकनीक शामिल हो सकती है जो कंप्यूटर या पुस्तक से शब्दों को ज़ोर से पढ़ती है।

डिसग्राफिया

डिस्ग्राफिया एक सीखने की अक्षमता है जो लेखन के साथ समस्याओं की विशेषता है। यह एक स्नायविक विकार है जो बच्चों या वयस्कों को प्रभावित कर सकता है। पढ़ने में मुश्किल शब्दों को लिखने के अलावा, डिस्ग्राफिया वाले लोग गलत शब्द का इस्तेमाल करते हैं जो वे संवाद करने की कोशिश कर रहे हैं।

डिसग्राफिया

डिस्ग्राफिया के लक्षण

डिस्ग्राफिया की कुछ सामान्य विशेषताओं में शामिल हैं:

• गलत वर्तनी और पूंजीकरणn
• कर्सिव और प्रिंट अक्षरों का मिश्रणकर्सिव और प्रिंट अक्षरों का मिश्रण
• अक्षरों का अनुचित आकार और रिक्ति
• शब्दों की नकल करने में कठिनाई
• उन्हें लिखने से पहले शब्दों को देखने में कठिनाई
• लिखते समय असामान्य शरीर या हाथ की स्थिति तंग
• पेन या पेंसिल को कसकर पकड़ें जिसके परिणामस्वरूप हाथ में ऐंठन हो सकती है
• वाक्यों से अक्षरों और शब्दों को छोड़ना

डिसग्राफिया के कारण

यदि डिस्ग्राफिया बचपन में प्रकट होता है, तो यह आमतौर पर ऑर्थोग्राफ़िक कोडिंग की समस्या का परिणाम होता है। यह कामकाजी स्मृति का एक पहलू है जो आपको लिखित शब्दों को स्थायी रूप से याद रखने की अनुमति देता है, और जिस तरह से आपके हाथ या उंगलियां उन शब्दों को लिखने के लिए चलती हैं।

जब वयस्कों में डिस्ग्राफिया विकसित होता है, तो इसका कारण आमतौर पर एक स्ट्रोक या मस्तिष्क की अन्य चोट होती है। विशेष रूप से, मस्तिष्क के बाएं पार्श्विका लोब में चोट लगने से डिस्ग्राफिया हो सकता है। आपके मस्तिष्क के ऊपरी भाग में दायां और बायां पार्श्विका लोब होता है। प्रत्येक कौशल की एक श्रृंखला के साथ जुड़ा हुआ है, जैसे पढ़ना और लिखना, साथ ही साथ दर्द, गर्मी और ठंड सहित संवेदी प्रसंस्करण।

डिस्ग्राफिया के लिए उपचार

व्यावसायिक चिकित्सा हस्तलेखन कौशल में सुधार करने में सहायक हो सकती है। चिकित्सीय गतिविधियों में शामिल हो सकते हैं:

• लेखन को आसान बनाने के लिए पेंसिल या पेन को नए तरीके से पकड़ना
• मॉडलिंग क्ले के साथ काम करना
• डेस्क पर शेविंग क्रीम में अक्षरों का पता लगाना
• भूलभुलैया के भीतर रेखाएँ खींचना
• कनेक्ट-द-डॉट्स पहेली करना

डिसकैलकुलिया

डिसकैलकुलिया एक निदान है जिसका उपयोग गणित की अवधारणाओं से संबंधित सीखने की कठिनाइयों का वर्णन करने के लिए किया जाता है। यह मस्तिष्क से संबंधित स्थिति है जो बुनियादी अंकगणित को सीखना कठिन बना देती है। यह परिवारों में चल सकता है, लेकिन वैज्ञानिकों को इससे संबंधित कोई जीन नहीं मिला है।

डिस्क्लेकुलिया गणित को समझने में कठिन समय होने से परे है। जब आप कुछ लिखते हैं तो संख्याएँ जोड़ते समय या अंकों को उलटते समय गलतियाँ करने से बड़ा होता है। यदि आपके पास डिस्केकुलिया है, तो गणित के नियमों को नियंत्रित करने वाली व्यापक अवधारणाओं को समझना मुश्किल है, जैसे कि एक राशि दूसरे से अधिक है या बीजगणित कैसे काम करता है।

डिसकैलकुलिया

डिसकैलकुलिया के लक्षण

डिसकैलकुलिया वाले बच्चे गिनती करते समय ट्रैक खो सकते हैं। वे अपनी उंगलियों पर तब तक गिन सकते हैं जब तक कि उसी उम्र के बच्चों ने ऐसा करना बंद कर दिया हो। डिस्केकुलिया से पीड़ित बच्चे को भी संख्याओं को लेकर बहुत अधिक चिंता हो सकती है। उदाहरण के लिए, वे गणित के होमवर्क के बारे में सोचकर घबरा सकते हैं।

अन्य लक्षणों में शामिल हैं:

• चीजों का अनुमान लगाएं, जैसे किसी चीज में कितना समय लगता है या छत की ऊंचाई
• गणित की शब्द समस्याओं को समझें
• बुनियादी गणित सीखें, जैसे जोड़, घटाव और गुणा
• एक संख्या (1) को उसके संबंधित शब्द (एक) से लिंक करें
• समझें भिन्न
• ग्राफ़ और चार्ट को समझें (दृश्य-स्थानिक अवधारणाएं)
• पैसे गिनें या बदलाव करें
• फोन नंबर या ज़िप कोड याद रखें
• समय बताएं या घड़ियां पढ़ें

डिसकैलकुलिया के कारण

कुछ शोधकर्ताओं का मानना ​​है कि डिस्क्लेकुलिया गणित में ठोस प्रारंभिक निर्देश की कमी का परिणाम है। जिन बच्चों को सिखाया जाता है कि गणित की अवधारणाएं केवल उन नियमों के पीछे व्यावहारिक तर्क में निर्देश दिए जाने के बजाय, पालन करने के लिए वैचारिक नियमों की एक श्रृंखला है, वे अधिक जटिल गणितीय ढांचे को समझने के लिए आवश्यक तंत्रिका पथ विकसित नहीं कर सकते हैं।

तर्क के इस तनाव के तहत, एक बच्चा जिसे अबेकस का उपयोग करके गिनना कभी नहीं सिखाया गया है, या कभी भी उन वस्तुओं का उपयोग करके गुणा नहीं दिखाया गया है जो मूर्त मात्रा में वृद्धि करते हैं, डिस्केकुलिया विकसित होने की अधिक संभावना हो सकती है। डिसकैलकुलिया अपने आप हो सकता है, या यह अन्य विकासात्मक देरी और तंत्रिका संबंधी स्थितियों के साथ हो सकता है।

बच्चों और वयस्कों के अधिक होने की संभावना हो सकता है अगर वे डिसकैलकुलिया का निदान प्राप्त करने के लिए:

• डिस्लेक्सिया
• ध्यान अभाव अतिसक्रियता विकार
• अवसाद
• चिंता

डिसकैलकुलिया में एक आनुवंशिक घटक भी हो सकता है। सीखने की अक्षमताओं के रूप में गणितीय योग्यता परिवारों में चलती है। यह बताना कठिन है कि कितनी योग्यता वंशानुगत है और आपकी पारिवारिक संस्कृति का कितना परिणाम है।

डिसकैलकुलिया के लिए उपचार

डिसकैलकुलिया को उपचार रणनीतियों के साथ प्रबंधित किया जा सकता है। यदि अनुपचारित छोड़ दिया जाता है, तो वयस्कों में डिस्केल्कुलिया के परिणामस्वरूप काम में कठिनाई हो सकती है और वित्त के प्रबंधन में परेशानी हो सकती है। सौभाग्य से, बच्चों और वयस्कों के लिए रणनीतियाँ उपलब्ध हैं।

1. बच्चों के लिए

एक विशेष शिक्षा विशेषज्ञ आपके बच्चे को स्कूल और घर पर उपयोग करने के लिए उपचार के विकल्प सुझा सकता है। इनमें शामिल हो सकते हैं:

• गणित की बुनियादी अवधारणाओं का बार-बार अभ्यास, जैसे कि गिनती और जोड़
• जानकारी को पचाने में आसान बनाने के लिए विषय सामग्री को छोटी इकाइयों में विभाजित करना
• गणित की शिक्षा के लिए अन्य बच्चों के छोटे समूहों का उपयोग
• व्यावहारिक, मूर्त प्रदर्शनों में बुनियादी गणित अवधारणाओं की बार-बार समीक्षा

2. वयस्कों के लिए

यदि आप विशेष शिक्षा संसाधनों के साथ शैक्षणिक सेटिंग में नहीं हैं, तो वयस्कों के लिए डिस्केकुलिया उपचार अधिक चुनौतीपूर्ण हो सकता है। आपका स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर गणित के लिए उपयोग किए जाने वाले तंत्रिका मार्गों को मजबूत करने में आपकी सहायता करने के लिए व्यायाम और शिक्षा सामग्री के साथ आपकी सहायता करने में सक्षम हो सकता है। प्रशिक्षण या निजी शिक्षण वयस्क डिस्केल्कुलिया के साथ-साथ वयस्क डिस्लेक्सिया के इलाज में मदद कर सकता है।

दुष्क्रिया

डिस्प्रेक्सिया एक न्यूरोलॉजिकल विकार है जो किसी व्यक्ति की मोटर कार्यों की योजना बनाने और उन्हें संसाधित करने की क्षमता को प्रभावित करता है। डिस्प्रेक्सिया वाले व्यक्तियों को अक्सर भाषा की समस्या होती है, और कभी-कभी विचार और धारणा के साथ कुछ कठिनाई होती है। हालाँकि, डिस्प्रेक्सिया व्यक्ति की बुद्धि को प्रभावित नहीं करता है, हालाँकि यह बच्चों में सीखने की समस्या पैदा कर सकता है।

मस्तिष्क सूचनाओं को इस तरह से संसाधित नहीं करता है जिससे तंत्रिका संदेशों के पूर्ण संचरण की अनुमति मिलती है। डिस्प्रेक्सिया से पीड़ित व्यक्ति के लिए यह योजना बनाना मुश्किल होता है कि क्या करना है और कैसे करना है।

दुष्क्रिया

डिस्प्रेक्सिया के लक्षण

व्यक्ति की उम्र के आधार पर लक्षण अलग-अलग होते हैं। बाद में, हम प्रत्येक आयु समूह को अधिक विस्तार से देखेंगे। डिस्प्रेक्सिया के कुछ सामान्य लक्षणों में शामिल हैं:

• खराब मुद्रा
• थकान
• भाषण में अंतर
• धारणा की समस्याएं
• खराब हाथ-आंख समन्वय

डिस्प्रेक्सिया के कारण

विशेषज्ञों का मानना ​​है कि मांसपेशियों (मोटर न्यूरॉन्स) को नियंत्रित करने वाली व्यक्ति की तंत्रिका कोशिकाएं ठीक से विकसित नहीं हो रही हैं। यदि मोटर न्यूरॉन्स उचित कनेक्शन नहीं बना सकते हैं, तो किसी भी कारण से, मस्तिष्क को डेटा संसाधित करने में अधिक समय लगेगा।

डिस्प्रेक्सिया के लिए उपचार

1. व्यावसायिक चिकित्सा: एक व्यावसायिक चिकित्सक यह मूल्यांकन करेगा कि बच्चा घर और स्कूल दोनों में रोजमर्रा के कार्यों के साथ कैसे प्रबंधन करता है। फिर वे बच्चे को दैनिक गतिविधियों के लिए विशिष्ट कौशल विकसित करने में मदद करेंगे जो उन्हें मुश्किल लगता है।

2. भाषण और भाषा चिकित्सा: भाषण-भाषा रोगविज्ञानी बच्चे के भाषण का आकलन करेगा, और फिर उन्हें अधिक प्रभावी ढंग से संवाद करने में मदद करने के लिए एक उपचार योजना लागू करेगा।

3. अवधारणात्मक मोटर प्रशिक्षण: इसमें बच्चे की भाषा, दृश्य, गति और श्रवण कौशल में सुधार करना शामिल है। व्यक्ति को कार्यों की एक श्रृंखला निर्धारित की जाती है जो धीरे-धीरे और अधिक उन्नत हो जाती है - उद्देश्य बच्चे को चुनौती देना है ताकि वे सुधार करें, लेकिन इतना नहीं कि यह निराशाजनक या तनावपूर्ण हो जाए।

डिस्पैसिया

डिस्फेसिया, जिसे वाचाघात भी कहा जाता है, एक भाषा विकार है। यह प्रभावित करता है कि आप भाषा कैसे बोलते और समझते हैं। डिस्पैसिया से पीड़ित लोगों को वाक्य में सही शब्दों को एक साथ रखने, दूसरे क्या कहते हैं, पढ़ने और लिखने को समझने में परेशानी हो सकती है।

डिस्पैसिया

डिस्पैसिया के लक्षण

डिस्पैसिया के सबसे आम लक्षणों में बोलने में कठिनाई, अभिव्यक्ति में कठिनाई और बोली जाने वाली भाषा को समझना शामिल है।

1. डिस्फेसिया के मौखिक संकेतों में शामिल हैं:

• धीरे और बड़ी कठिनाई से बोलना
• वाक्य बनाते समय खराब व्याकरण का उपयोग और व्याकरण की चूक
• शब्दों को याद रखने के लिए संघर्ष करना और सीमित शब्दावली का उपयोग करना
• धाराप्रवाह बोलना लेकिन निरर्थक तरीके से बोलना

2. समझ के संबंध में डिस्पैसिया के लक्षण:

• बोली जाने वाली भाषा को समझने में कठिनाई
• जटिल व्याकरण या तेज भाषण को समझने में कठिनाई
• लंबे वाक्यों को संसाधित करने और याद रखने में कठिनाई
• वाक्यों की गलत व्याख्या

डिस्पैसिया के कारण

डिस्पैसिया तब होता है जब भाषा उत्पादन और समझ के लिए जिम्मेदार मस्तिष्क के क्षेत्र क्षतिग्रस्त हो जाते हैं। कई स्थितियां मस्तिष्क क्षति का कारण बन सकती हैं। डिस्पैसिया का सबसे आम कारण स्ट्रोक हैं। एक स्ट्रोक के दौरान, मस्तिष्क की रक्त वाहिकाओं में रुकावट मस्तिष्क की रक्त और ऑक्सीजन की कोशिकाओं को भूखा कर सकती है, जिससे उनकी मृत्यु हो सकती है। इससे ब्रेन डैमेज होता है।

डिस्पैसिया के लिए उपचार

भाषण और भाषा चिकित्सा को भाषण और भाषा कौशल को बहाल करने के लिए डिस्पैसिया के मामूली मामलों में उपयोग किया जाता है।

भाषण और भाषा में सुधार के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले व्यायामों में शामिल हैं:

• ध्वनियों को अलग करने के लिए व्यायाम
• उच्चारण अभ्यास
• श्रवण स्मृति अभ्यास जिसमें सुनने के व्यायाम, सूचना को संसाधित करना और याद करना शामिल है
• शब्दावली बढ़ाने के लिए शब्दावली अभ्यास
• संदर्भ और अर्थ की समझ में सुधार के लिए सिमेंटिक अभ्यास
• उदाहरण के लिए मॉर्फो-सिंटेक्टिक अभ्यास; यह जानना कि वाक्य बनाते समय सही सर्वनाम और पूर्वसर्गों का उपयोग कब करना है

श्रवण प्रसंस्करण विकार (एपीडी)

श्रवण प्रसंस्करण विकार (एपीडी) एक सुनने की स्थिति है जिसमें आपके मस्तिष्क को ध्वनियों को संसाधित करने में समस्या होती है। यह प्रभावित कर सकता है कि आप अपने वातावरण में भाषण और अन्य ध्वनियों को कैसे समझते हैं।

श्रवण प्रसंस्करण विकार

एपीडी के लक्षण

आपके बच्चे को भी यह मुश्किल लग सकता है:

• बातचीत का पालन करें
• जानिए कहां से आई आवाज
• संगीत सुनें
• बोले गए निर्देशों को याद रखें, खासकर यदि कई चरण हैं
• समझें कि लोग क्या कहते हैं, खासकर ऊंची जगह पर या यदि एक से अधिक व्यक्ति बात कर रहे हों

एपीडी के कारण

डॉक्टरों को ठीक से पता नहीं है कि एपीडी का क्या कारण है, लेकिन इसे इससे जोड़ा जा सकता है:

• बीमारी। एपीडी पुराने कान के संक्रमण, मेनिन्जाइटिस या लेड पॉइज़निंग के बाद हो सकता है
• समय से पहले जन्म या कम वजन
• सिर पर चोट
• जीन

एपीडी के लिए उपचार

एपीडी के लिए उपचार निम्नलिखित पर केंद्रित है:

1. कक्षा समर्थन: इलेक्ट्रॉनिक उपकरण, जैसे कि एफएम (फ़्रीक्वेंसी मॉड्यूलेशन) सिस्टम, आपके बच्चे को शिक्षक को अधिक स्पष्ट रूप से सुनने में मदद कर सकता है। और उनके शिक्षक उन्हें अपना ध्यान केंद्रित करने में मदद करने के तरीके सुझा सकते हैं, जैसे कक्षा में सबसे आगे बैठना और पृष्ठभूमि के शोर को सीमित करना।

2. अन्य कौशल को मजबूत बनाना: स्मृति, समस्या समाधान और अन्य सीखने के कौशल जैसी चीजें आपके बच्चे को एपीडी से निपटने में मदद कर सकती हैं।

3. चिकित्सा: स्पीच थेरेपी आपके बच्चे को ध्वनियों को पहचानने और संवादी कौशल में सुधार करने में मदद कर सकती है। इसके अलावा, पढ़ने का समर्थन जो विशिष्ट क्षेत्रों पर ध्यान केंद्रित करता है जहां आपके बच्चे को परेशानी होती है, सहायक भी हो सकता है।

गैर-मौखिक सीखने की अक्षमता (एनवीएलडी)

अशाब्दिक सीखने की अक्षमता (एनवीएलडी) एक ऐसा शब्द है जो कौशल के एक विशिष्ट समूह के साथ चुनौतियों को संदर्भित करता है। ये कौशल भाषा-आधारित नहीं हैं जैसे पढ़ना और लिखना। वे अशाब्दिक कौशल हैं, और उनमें मोटर, दृश्य-स्थानिक और सामाजिक कौशल शामिल हैं।

मस्तिष्क-आधारित स्थिति खराब दृश्य, स्थानिक और संगठनात्मक कौशल की विशेषता है; अशाब्दिक संकेतों को पहचानने और संसाधित करने में कठिनाई; और खराब मोटर प्रदर्शन।

गैर-मौखिक सीखने की अक्षमता

एनवीएलडी के लक्षण

एनवीएलडी एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में भिन्न होता है। हालांकि, आमतौर पर ज्ञात लक्षणों में शामिल हैं:

• अशाब्दिक संकेतों को पहचानने में परेशानी
• प्रारंभिक भाषण और भाषा अधिग्रहण
• खराब समन्वय; "अनाड़ी" या हमेशा "रास्ते में आने" के रूप में देखा जाता है
• खराब ठीक मोटर कौशल
• हमेशा सवाल पूछना, बार-बार होने या बातचीत के नियमित प्रवाह में बाधा डालने के बिंदु तक
• इसे समझने के लिए मौखिक रूप से "लेबल" जानकारी की आवश्यकता है; अनकही या स्थानिक जानकारी को समझने में कठिनाई
• दृश्य-स्थानिक कठिनाइयाँ
• अत्यंत "शाब्दिक;" कटाक्ष, सहज ज्ञान युक्त, या अन्य भाषाई बारीकियों के साथ संघर्ष
• "भोले" या अति-भरोसा
• परिवर्तन का सामना करने में कठिनाई
• बहु-चरणीय निर्देशों का पालन करने में समस्या
• सामान्यीकरण करने या "बड़ी तस्वीर" देखने में कठिनाई
• अत्यधिक उन्नत मौखिक कौशल द्वारा अक्सर समग्र चुनौतियों का मुखौटा लगाया जाता है

एनवीएलडी के कारण

अशाब्दिक सीखने का विकार मस्तिष्क के दाहिने मस्तिष्क गोलार्द्ध में कमी से संबंधित माना जाता है, जहां अशाब्दिक प्रसंस्करण होता है। समय के साथ, बच्चा विशिष्ट सामाजिक संकेतों का जवाब देने के बजाय नई परिस्थितियों में व्यवहार करने के तरीके के लिए एक गाइड के रूप में, पिछले अनुभवों की रटनी यादों सहित सिस्टम विकसित कर सकता है।

एनवीएलडी के लिए उपचार

व्यावसायिक चिकित्सा ठीक मोटर कौशल बनाता है, और चेहरे के भावों का अर्थ और महत्व सिखा सकता है।

रिकॉर्डिंग कक्षा व्याख्यान, बाद की तारीख में फिर से चलाए जाने के लिए, क्या वे बच्चे जो सुनकर सबसे अच्छा सीखते हैं। ऑडियो पुस्तकें भी इस संबंध में सहायक होती हैं

दैनिक योजनाकार का उपयोग करना छात्रों को समय-प्रबंधन रणनीति बनाने और संगठित रहने में मदद कर सकता है।




उपर ब्लॉग में बताई गई उपलब्धिया AFD-SHIELD के साथ उपलब्ध हैं
एएफडी शील्ड कैप्सूल 12 प्राकृतिक अवयवों का एक संयोजन है जिनमें से अलगल डीएचए, अश्वगंधा, करक्यूमिन और स्पिरुलिना हैं। एएफडी शील्ड टीजी को कम करता है, एचडीएल बढ़ाता है और उम्र से संबंधित संज्ञानात्मक गिरावट में सुधार करता है। यह तनाव और चिंता को भी कम करता है और एंटी-एजिंग गतिविधि करता है। इसके अलावा, यह इम्युनोमॉड्यूलेटरी गतिविधि को बढ़ाता है, प्रतिरक्षा में सुधार करता है और सूजन और ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करता है। न्यूट्रोग्लिग्क्स: एएफडी-शील्ड

AFDIL Ltd.
+91 9920121021

order@afdil.com

Read Also:


Disclaimer
Home