Can We Take Ashwagandha Daily ?

What is Ashwagandha


Ashwagandha Plant

Ashwagandha (Withania somnifera, Solanaceae) is also known as "Indian Ginseng" or "Indian Winter Cherry." It is a small evergreen shrub that is used to treat a variety of ailments. It is one of the most essential herbs in Ayurveda (India's traditional medical system), and it has been used as a Rasayana for centuries for its wide-ranging health benefits. Rasayana is an herbal or metallic preparation that encourages a youthful physical and mental state of health as well as happiness. These treatments are offered to small children as tonics, and they are often used by the middle-aged and elderly to extend their lives. Ashwagandha is the most well-known of the Rasayana herbs in Ayurveda. The herb is named “Sattvic Kapha Rasayana” (Changhadi, 1938). Adaptogens and anti-stress agents make up the majority of Rasayana plants. It can be found in India, the Middle East, and Africa. Medicine is made from its root and berry.

The stress-relieving properties of Ashwagandha are widely known. It is also used as an "adaptogen" for a variety of other ailments. The stress-relieving properties of ashwagandha can help a person in many ways. Chemicals in ashwagandha can help to relax the brain, reduce swelling (inflammation), lower blood pressure, and change the immune system. It also improves memory and improves the activity of the brain and nervous system. It promotes a healthy sexual and reproductive balance by improving the role of the reproductive system. But there is no solid scientific evidence to back up these claims.

Best time to take Ashwagandha

To get the benefits of ashwagandha, it can be taken during the day, at night, or both, depending on the condition you're trying to treat with it.
Ashwagandha can be taken twice a day after meals. Ashwagandha capsules contain higher doses, and you can take 2-3 capsules with water after each meal (lunch and dinner) or as directed by your doctor.

Benefits of Ashwagandha in the morning: When taken first thing in the morning, the medicinal benefits of using ashwagandha will ensure that you have a full day of energy.

Benefits of Ashwagandha in the night: By naturally reenergizing your system, taking it at night the medicinal benefits of using ashwagandha holds lassitude at bay. Before bedtime or right after dinner 1/4-1/2 teaspoon Ashwagandha powder with milk, 1 Ashwagandha capsule/tablet with water, or as directed by your doctor According to studies, taking 300 mg of Ashwagandha extract twice a day will help cure insomnia and improve sleep quality.

***However, if you have any questions about the dose, talk to your doctor.

Dosage Recommendation


Dosage

The right dosage for you is determined by the problem you are trying to solve with ashwagandha.

1. Doses ranging from 250 mg to 5 g have been used in studies around a variety of health issues. Participants in a 2014 placebo-controlled study who were given ashwagandha root and leaf extract received doses as low as 250 mg daily for 60 days, which significantly decreased self-reported anxiety and serum cortisol levels (Auddy, 2008).

2. In studies seeking to relieve anxiety, daily doses range from 250 mg to 600 mg the dosage was divided such that the herbal supplement was taken 2–4 times a day rather than all at once. As a caution before enjoying the benefits like the stress-relieving properties of ashwagandha it is better to consult a doctor regarding its efficient dosage.

Health Benefits of Ashwagandha

Ashwagandha Flower, Berry and root

Reduces Stress and Anxiety: The stress-relieving properties of Ashwagandha are well-known. The medicinal herb tends to help lower cortisol levels, a stress hormone released by your adrenal glands. Cortisol levels were reduced by 11–32 percent when normal doses of 125 mg to 5 grammes were taken for 1–3 months. Not surprisingly, ashwagandha can be the treatment you seek to alleviate mood disorders, anxiety, and problems, as well as stress-related symptoms. Because of the stress-relieving properties of ashwagandha in ayurvedic teachings, a single root of ashwagandha will help you deal with stress, anxiety, and boost your mental wellbeing by lowering your cortisol levels, a stress hormone. It is soothing and therapeutic in nature, and it works just as well as antidepressants. It can instil positive vibes and foster well-being when consumed on a regular basis. It can also be used as a great sleeping aid.
Furthermore, taking 500–600 mg of ashwagandha a day for 6–12 weeks will help people with stress and anxiety disorders feel less anxious and sleep better.

Lower Blood Sugar Level: Ashwagandha has been shown to reduce blood sugar levels in both healthy and diabetic people. Ashwagandha decreased fasting blood sugar levels three times more than a placebo in a small four-week study of 25 participants. Another research found that taking an ashwagandha supplement for 30 days reduced fasting blood sugar levels as effectively as taking oral diabetes medicine in people with type 2 diabetes. The doses used in these studies ranged from 250 mg to 3 grams and were usually divided into two or three equivalent doses spaced out during the day.

Fertility Boost: Ashwagandha has been shown to improve fertility and reproductive health, especially in men. Five grams of ashwagandha taken daily for three months improved sperm count and motility in 75 infertile males. In another report, five grams of ashwagandha per day improved sperm quality in highly stressed males. Furthermore, 14 percent of their partners had become pregnant by the end of the three-month survey. Other studies have reported similar findings with comparable data.

Muscle Growth: Taking ashwagandha supplements will help you gain muscle mass and strength. Men given 500 mg of this medicinal herb per day improved their muscular strength by 1% in an 8-week trial, while the placebo group saw no change. As compared to a placebo, 600 mg of ashwagandha per day for eight weeks resulted in a 1.5–1.7 times higher increase in muscle strength and 1.6–2.3 times higher increase in muscle size in men. Taking 750–1,250 mg of ashwagandha a day for 30 days had similar results.

Fight Infection: Ashwagandha can also aid in the reduction of inflammation and the enhancement of immunity. According to studies, taking 12 ml of ashwagandha root extract per day will boost immune cell levels and help combat infection. Furthermore, taking 250–500 mg of ashwagandha daily for 60 days can lower C-reactive protein levels by up to 30%, which is an inflammatory marker.

Memory Booster: Ashwagandha has long been used in Ayurveda to aid memory, and some scientific studies back up this claim. In a small 8-week study, for example, 300 mg of ashwagandha root extract twice a day significantly improved general memory, concentration, and task efficiency compared to a placebo. Furthermore, when healthy men were given 500 mg of the medicinal herb a day for two weeks, they performed significantly better on task success and reaction time measures than those who were given a placebo.
The above factors clearly shows us the medicinal benefits of using Ashwagandha

Who should avoid taking Ashwagandha?

For the most part, ashwagandha is considered to be healthy. But it may not be suitable for everyone and may end up having some side effects. Hence following people should be careful:

1. People with autoimmune disorders including lupus, rheumatoid arthritis, type 1 diabetes, and Hashimoto's thyroiditis, as well as pregnant or breastfeeding mothers (might need to avoid it)

2. If you're on thyroid hormone medication, ashwagandha may increase your thyroid function, which could interfere with your prescription.

3. Thyroid, blood sugar, and blood pressure medications can all interact with ashwagandha.

4. Since Ashwagandha is part of the Solanaceae or nightshade family, it should be avoided by those on a diet that excludes this category of plants (which includes tomatoes, peppers, and eggplants).
Until supplementing with the medicinal herb, people who are taking these types of medications should check with their doctor.

***There are multiple medicinal benefits of using Ashwagandha but we should also keep in mind that the majority of ashwagandha studies were limited and of poor quality. As a result, knowledge about dosage efficacy and protection can be unreliable. More investigation is needed

Conclusion

Ashwagandha is a medicinal herb that has been shown to enhance blood sugar levels, inflammation, mood, memory, stress, and anxiety, as well as increase muscle strength and fertility. It is one of the most essential herbs in Ayurveda (India's traditional medical system), and it has been used as a Rasayana for centuries for its wide-ranging health benefits. Rasayana is an herbal or metallic preparation that encourages a youthful physical and mental state of health as well as happiness. Adaptogens and anti-stress agents make up the majority of Rasayana plants.

Ashwagandha is sold as a churna, a finely sieved powder that can be mixed with water, ghee (clarified butter), or honey. It improves memory and improves the activity of the brain and nervous system. It promotes a healthy sexual and reproductive balance by improving the role of the reproductive system. It boosts the body's stress resistance because it's a strong adaptogen. By enhancing cell-mediated immunity, Ashwagandha strengthens the body's protection against disease. It also has powerful antioxidant properties, which help to protect cells from free radical damage. Doses vary depending on your needs, but at least one month of 250–500 mg per day appears to be effective.

Related Topics

1 Vitamin B12, one of eight B vitamins is a cofactor in DNA synthesis, and in both fatty acid and amino acid metabolism. Its deficiency can lead to Anaemia. Read more: How much Vitamin B12 is required daily?

2 Vitamin C (Ascorbic acid) is a water-soluble vitamin known for its antioxidant properties. It is necessary for normal growth, development and general well being. Read more: How much Vitamin C is required for general well being?

3 Occasionally enjoying an alcoholic beverage is unlikely to cause harm to your health, but drinking in huge amount even for few days can build up fat in the liver. This accumulation of alcoholic fat in liver can lead to ARLD (Alcohol Related Liver Disease).
Read More: Is drinking too much alcohol harmful for the liver?

Need more such information on health and well-being, Visit our Blog: nutralogicx.com/blogs/




The above essentials are available with AFD SHIELD

Nutralogicx: AFD SHIELD

AFD Shield capsule is a combination of 12 natural ingredients among which are Algal DHA, Ashwagandha, Curcumin and Spirullina. AFD Shield reduces TG, increases HDL and improves age related cognitive decline. It also reduces stress and anxiety and performs anti-aging activity.Moreover, it also enhances the immunomodulatory activity, improves immunity and reduces inflammation and oxidative stress.


क्या हम प्रतिदिन अश्वगंधा ले सकते हैं ?

अश्वगंधा क्या है ?


अश्वगंधा का पौधा

अश्वगंधा को "इंडियन जिनसेंग" या "इंडियन विंटर चेरी" के रूप में भी जाना जाता है। यह एक छोटी सदाबहार झाड़ी है जिसका उपयोग कई तरह की बीमारियों के इलाज में किया जाता है। यह आयुर्वेद (भारत की पारंपरिक चिकित्सा प्रणाली) की सबसे आवश्यक जड़ी-बूटियों में से एक है, और इसके व्यापक स्वास्थ्य लाभों के लिए सदियों से इसे रसयाना के रूप में इस्तेमाल किया जाता रहा है। रसयाणा एक हर्बल या धात्विक तैयारी है जो एक युवा शारीरिक और मानसिक स्थिति के स्वास्थ्य के साथ-साथ खुशी को प्रोत्साहित करती है। ये उपचार छोटे बच्चों को टॉनिक के रूप में पेश किए जाते हैं, और वे अक्सर मध्यम आयु वर्ग और बुजुर्गों द्वारा अपने जीवन का विस्तार करने के लिए उपयोग किए जाते हैं। अश्वगंधा आयुर्वेद में रसयाना जड़ी-बूटियों का सबसे चर्चित है। इस जड़ी बूटी का नाम "सात्विक कफ रसियाना" (चांगहाड़ी, 1938) रखा गया है। एडाप्टोजेन्स और एंटी-स्ट्रेस एजेंट रसयाना पौधों के बहुमत को बनाते हैं। यह भारत, मध्य पूर्व और अफ्रीका में पाया जा सकता है। दवा इसकी जड़ और बेरी से बनाई जाती है।

अश्वगंधा एक आम तनाव रिलीवर है। इसका उपयोग विभिन्न अन्य बीमारियों के लिए "एडाप्टोजन" के रूप में भी किया जाता है। अश्वगंधा में रसायन मस्तिष्क को आराम देने, सूजन (सूजन) को कम करने, रक्तचाप कम करने और प्रतिरक्षा प्रणाली को बदलने में मदद कर सकते हैं। यह याददाश्त को भी बेहतर बनाता है और दिमाग और नर्वस सिस्टम की एक्टिविटी को बेहतर बनाता है। यह प्रजनन प्रणाली की भूमिका में सुधार करके एक स्वस्थ यौन और प्रजनन संतुलन को बढ़ावा देता है। लेकिन इन दावों को वापस करने के लिए कोई ठोस वैज्ञानिक सबूत नहीं है ।

अश्वगंधा, फिसालिस अल्केनेंगी के समान नहीं है। दोनों को विंटर चेरी कहा जाता है। यहां तक कि अश्वगंधा को अमेरिकी जिनसेंग, पैनैक्स जिनसेंग या एल्यूथेरो के साथ भ्रमित नहीं किया जाना चाहिए ।

अश्वगंधा लेने के लिए सबसे अच्छा समय

आप अश्वगंधा को दिन में, रात में या दोनों समय ले सकते हैं। यह उस स्थिति पर निर्भर करता है जिस स्थिति का आप इलाज करने की कोशिश कर रहे हैं।
भोजन के बाद दिन में दो बार अश्वगंधा लिया जा सकता है। अश्वगंधा कैप्सूल में उच्च खुराक होती है, और आप प्रत्येक भोजन (दोपहर का भोजन और रात का खाना) के बाद या अपने डॉक्टर द्वारा निर्देशित पानी के साथ 2-3 कैप्सूल ले सकते हैं।

अश्वगंधा को सुबह लेने के लाभ: जब आप सुबह में अश्वगंधा लेते हैं, तो अश्वगंधा के औषधीय लाभ यह सुनिश्चित करेंगे कि पूरे दिन आप ऊर्जा से भरपूर हों।

रात्रि में अश्वगंधा के लाभ: स्वाभाविक रूप से अपने सिस्टम को पुन: सक्रिय करके, अश्वगंधा को रात में लेने से अवसाद में आराम मिलता है। सोने से पहले या रात के खाने के ठीक बाद 1 / 4-1 / 2 चम्मच अश्वगंधा पाउडर दूध के साथ, 1 अश्वगंधा कैप्सूल / टैबलेट पानी के साथ, या अपने चिकित्सक द्वारा निर्देशित के अनुसार, अध्ययनों के अनुसार, दिन में दो बार 300 मिलीग्राम अश्वगंधा अर्क लेने से अनिद्रा को ठीक करने में मदद और नींद की गुणवत्ता में सुधार मिलेगी।

***हालांकि, अगर आपके पास खुराक के बारे में कोई सवाल है, तो अपने डॉक्टर से बात करें।

1

खुराक की सिफारिश


खुराक

आपके लिए सही खुराक उस समस्या से निर्धारित होता है जिसे आप अश्वगंधा के साथ हल करने की कोशिश कर रहे हैं।

1. विभिन्न स्वास्थ्य मुद्दों के आसपास के अध्ययनों में 250 मिलीग्राम से 5 ग्राम तक की खुराक का उपयोग किया गया है। 2014 के प्लेसबो-नियंत्रित अध्ययन में भाग लेने वालों को अश्वगंधा की जड़ और पत्ती का अर्क 60 दिनों के लिए प्रतिदिन 250 मिलीग्राम के रूप में कम मात्रा में प्राप्त किया गया था, जो आत्म-रिपोर्ट की चिंता और सीरम कोर्टिसोल के स्तर (ऑडडी, 2008) को काफी कम कर देता है।

2. चिंता से राहत पाने के लिए अध्ययन में, दैनिक खुराक 250 मिलीग्राम से 600 मिलीग्राम तक होती है, खुराक को इस तरह विभाजित किया गया था कि हर्बल पूरक दिन में 2-4 बार लिया जाता था, बजाय एक बार में।


अश्वगंधा के स्वास्थ्य लाभ

अश्वगंधा फूल, बेरी और जड़

तनाव और चिंता को कम करता है: अश्वगंधा के तनाव से राहत देने वाले गुण काफी प्रसिद्ध हैं। औषधीय जड़ी बूटी कोर्टिसोल के स्तर को कम करने में मदद करता है, एक तनाव हार्मोन जो आपके अधिवृक्क ग्रंथियों द्वारा जारी किया जाता है। कोर्टिसोल का स्तर 11-32 प्रतिशत कम हो गया जब सामान्य मिलीग्राम खुराक 5 ग्राम से 1-3 महीने के लिए लिया गया।
इसके अलावा, 6-12 सप्ताह के लिए एक दिन में 500 से 600 मिलीग्राम अश्वगंधा लेने से तनाव और चिंता विकारों से पीड़ित लोगों को कम चिंताजनक और बेहतर नींद लेने में मदद मिलेगी।

निम्न रक्त शर्करा का स्तर: अश्वगंधा में स्वस्थ और मधुमेह दोनों लोगों में ब्लड शुगर लेवल को कम करने के लिए दिखाया गया है। अश्वगंधा ने 25 प्रतिभागियों के एक छोटे से चार सप्ताह के अध्ययन में एक प्लेसबो से तीन गुना अधिक उपवास रक्त शर्करा का स्तर घटाया । एक अन्य शोध में पाया गया कि 30 दिनों के लिए अश्वगंधा पूरक लेने से उपवास रक्त शर्करा का स्तर कम हो गया, जितना कि टाइप 2 मधुमेह वाले लोगों में मौखिक मधुमेह की दवा लेना । इन अध्ययनों में उपयोग की जाने वाली खुराक 250 मिलीग्राम से लेकर 3 ग्राम तक थी और आमतौर पर दिन के दौरान दो या तीन समकक्ष खुराकों में विभाजित की जाती थी।

प्रजनन क्षमता कोबढ़ावा: अश्वगंधा को प्रजनन क्षमता और प्रजनन स्वास्थ्य में सुधार करने के लिए दिखाया गया है, विशेष रूप से पुरुषों में। तीन महीने तक रोजाना ली जाने वाले पांच ग्राम अश्वगंधा में 75 पुरुषों में स्पर्म काउंट और मोटिविटी में सुधार होता है। एक अन्य रिपोर्ट में प्रतिदिन पांच ग्राम अश्वगंधा अत्यधिक तनावग्रस्त पुरुषों में शुक्राणु की गुणवत्ता में सुधार हुआ। इसके अलावा, उनके 14 प्रतिशत साथी तीन महीने के सर्वेक्षण के अंत तक गर्भवती हो गए थे । अन्य अध्ययनों ने तुलनीय आंकड़ों के साथ इसी तरह के निष्कर्षों की सूचना दी है ।

मांसपेशियों कीवृद्धि: अश्वगंधा की खुराक लेने से आपको मांसपेशियों और ताकत हासिल करने में मदद मिलेगी। पुरुषों प्रति दिन इस औषधीय जड़ी बूटी के ५०० मिलीग्राम दिया एक 8 सप्ताह के परीक्षण में 1% से अपनी मांसपेशियों की ताकत में सुधार हुआ है, जबकि placebo समूह कोई परिवर्तन नहीं देखा । प्लेसबो की तुलना में, आठ सप्ताह तक प्रति दिन 600 मिलीग्राम अश्वगंधा के परिणामस्वरूप मांसपेशियों की ताकत में 1.5-1.7 गुना अधिक वृद्धि हुई और पुरुषों में मांसपेशियों के आकार में 1.6-2.3 गुना अधिक वृद्धि हुई। 30 दिनों के लिए एक दिन में 750-1,250 मिलीग्राम अश्वगंधा लेने के समान परिणाम थे।

संक्रमण से लड़ें: अश्वगंधा सूजन को कम करने और प्रतिरक्षा को बढ़ाने में भी सहायता कर सकता है। अध्ययनों के अनुसार, प्रति दिन 12 मिलीलीटर अश्वगंधा रूट एक्सट्रैक्ट लेने से प्रतिरक्षा कोशिका के स्तर को बढ़ावा मिलेगा और संक्रमण से निपटने में मदद मिलेगी। इसके अलावा, 60 दिनों के लिए रोजाना 250-500 मिलीग्राम अश्वगंधा लेने से सी-रिएक्टिव प्रोटीन के स्तर को 30% तक कम किया जा सकता है, जो एक भड़काऊ मार्कर है।

स्मृति में वृद्धि: अश्वगंधा का उपयोग लंबे समय से आयुर्वेद में स्मृति सहायता के लिए किया जाता रहा है, और कुछ वैज्ञानिक अध्ययन इस दावे को वापस करते हैं। एक छोटे से 8 सप्ताह के अध्ययन में, उदाहरण के लिए, दिन में दो बार 300 मिलीग्राम अश्वगंधा रूट निकालने से प्लेसबो की तुलना में सामान्य स्मृति, एकाग्रता और कार्य दक्षता में काफी सुधार हुआ। इसके अलावा, जब स्वस्थ पुरुषों को दो सप्ताह के लिए एक दिन में 500 मिलीग्राम औषधीय जड़ी बूटी दी गई, तो उन्होंने उन लोगों की तुलना में कार्य सफलता और प्रतिक्रिया समय उपायों पर काफी बेहतर प्रदर्शन किया जिन्हें प्लेसबो दिया गया था।
उपरोक्त कारक हमें स्पष्ट रूप से अश्वगंधा का उपयोग करने के औषधीय लाभ दिखाते हैं

अश्वगंधा किसे नहीं लेना चाहिए ?

अधिकांश भाग के लिए, अश्वगंधा स्वस्थ माना जाता है। लेकिन यह सभी के लिए उपयुक्त नहीं हो सकता है और इसके कुछ दुष्प्रभाव हो सकते हैं। इसलिए निम्नलिखित लोगों को सावधान रहना चाहिए

1. ल्यूपस, रूमेटॉयड गठिया, टाइप 1 मधुमेह, और हाशिमोटो के थायराइडाइटिस, साथ ही गर्भवती या स्तनपान कराने वाली माताओं सहित ऑटोइम्यून विकारों वाले लोगों को इससे बचने की आवश्यकता हो सकतीहै)

2. यदि आप थायराइड हार्मोन दवा पर हैं, तो अश्वगंधा आपके थायराइड कार्य को बढ़ा सकता है, जो आपके पर्चे में हस्तक्षेप कर सकता है।

3. 3. थायराइड, ब्लड शुगर और ब्लड प्रेशर की दवाएं सभी अश्वगंधा से बातचीत कर सकती हैं।

4. 4. चूंकि अश्वगंधा सोलानेसी या नाइटशेड परिवार का हिस्सा है, इसलिए इसे उन आहार पर उन लोगों द्वारा टाला जाना चाहिए जो पौधों की इस श्रेणी (जिसमें टमाटर, मिर्च और बैंगन शामिल हैं) शामिल हैं।
औषधीय जड़ी बूटी के साथ पूरक तक, जो लोग इस प्रकार की दवाएं ले रहे हैं, उन्हें अपने डॉक्टर से जांच करनी चाहिए।

***ध्यान रखें कि अश्वगंधा अध्ययन के बहुमत सीमित और खराब गुणवत्ता के थे । नतीजतन, खुराक प्रभावकारिता और सुरक्षा के बारे में ज्ञान अविश्वसनीय हो सकता है। और जांच की जरूरत है ।

निष्कर्ष

अश्वगंधा एक औषधीय जड़ी बूटी है जिसे रक्त शर्करा के स्तर, सूजन, मनोदशा, स्मृति, तनाव और चिंता को बढ़ाने के साथ-साथ मांसपेशियों की ताकत और प्रजनन क्षमता को बढ़ाने के लिए दिखाया गया है। यह आयुर्वेद (भारत की पारंपरिक चिकित्सा प्रणाली) की सबसे आवश्यक जड़ी-बूटियों में से एक है, और इसके व्यापक स्वास्थ्य लाभों के लिए सदियों से इसे रसयाना के रूप में इस्तेमाल किया जाता रहा है। रसयाणा एक हर्बल या धात्विक तैयारी है जो युवा शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य के साथ - साथ खुशी को भी प्रोत्साहित करतीहै । एडाप्टोजेन्स और एंटी-स्ट्रेस एजेंट रसयाना पौधों के बहुमत को बनाते हैं।

अश्वगंधा को एक मंथनके रूप में बेचा जाताहै, एक बारीक छलनी पाउडर जिसे पानी, घी (स्पष्ट मक्खन) या शहद के साथ मिलाया जा सकता है। यह याददाश्त को बेहतर बनाता है और मस्तिष्क और तंत्रिका तंत्र की गतिविधि में सुधार करता है। यह प्रजनन प्रणाली की भूमिका में सुधार करके एक स्वस्थ यौन और प्रजनन संतुलन को बढ़ावा देता है। यह शरीर के तनाव प्रतिरोध को बढ़ा देता है क्योंकि यह एक मजबूत एडाप्टोजेन है। कोशिका-मध्यस्थता प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाकर अश्वगंधा रोग से शरीर की सुरक्षा को मजबूत करती है। इसमें शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट गुण भी होते हैं, जो कोशिकाओं को मुक्त कट्टरपंथी क्षति से बचाने में मदद करते हैं। खुराक आपकी आवश्यकताओं के आधार पर भिन्न होती है, लेकिन प्रति दिन कम से कम एक महीने 250-500 मिलीग्राम प्रभावी प्रतीत होती है।

संबंधित विषय

1 विटामिन बी 12, आठ बी विटामिनों में से एक डीएनए संश्लेषण में एक कॉफ़ेक्टर है, और फैटी एसिड और एमिनो एसिड चयापचय दोनों में। इसकी कमी से एनीमिया हो सकता है। अधिक पढ़ें: प्रतिदिन विटामिन बी 12 की कितनी आवश्यकता होती है?

2 विटामिन सी (एस्कॉर्बिक एसिड) एक पानी में घुलनशील विटामिन है जो अपने एंटीऑक्सीडेंट गुणों के लिए जाना जाता है। यह सामान्य विकास, विकास और सामान्य भलाई के लिए आवश्यक है। अधिक पढ़ें : सामान्य भलाई के लिए विटामिन सी की कितनी आवश्यकता होती है?

3 कभी-कभी एक मादक पेय का आनंद लेने से आपके स्वास्थ्य को नुकसान होने की संभावना नहीं है, लेकिन कुछ दिनों के लिए भारी मात्रा में पीने से यकृत में वसा का निर्माण हो सकता है। यकृत में अल्कोहल वसा के इस संचय से ARLD (अल्कोहल संबंधित लिवर रोग) हो सकता है।
अधिक पढ़ें : क्या ज्यादा शराब पीना लिवर के लिए हानिकारक है?

स्वास्थ्य और कल्याण के बारे में ऐसी और जानकारी चाहिए, हमारे ब्लॉग पर जाएँ: न्यूट्रालॉजिक्स.कॉम/ब्लॉग/




उपर ब्लॉग में बताई गई उपलब्धिया AFD-SHIELD के साथ उपलब्ध हैं

Nutralogicx: AFD SHIELD

एएफडी शील्ड कैप्सूल 12 प्राकृतिक अवयवों का एक संयोजन है जिनमें से अलगल डीएचए, अश्वगंधा, करक्यूमिन और स्पिरुलिना हैं। एएफडी शील्ड टीजी को कम करती है, एचडीएल को बढ़ाती है और उम्र से संबंधित संज्ञानात्मक गिरावट में सुधार करती है। यह तनाव और चिंता को भी कम करता है और एंटी-एजिंग गतिविधि करता है। इसके अलावा, यह इम्युनोमॉड्यूलेटरी गतिविधि को बढ़ाता है, प्रतिरक्षा में सुधार करता है और सूजन और ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करता है।



AFDIL Ltd.
Ajit: +91 9920121021

order@afdil.com

Read Also:


Disclaimer
Home