Can Male Infertility Be Cured

can male infertility be cured-01

Male infertility is any health condition in a man that reduces the chances of the female partner getting pregnant.

There is more than one cause for infertility. It might take a few tests to determine the actual cause of infertility. In some conditions, the cause is never diagnosed.

Once the diagnosis is done there are many treatments available for male infertility.

Male infertility diagnosis

can male infertility be cured-02

Male fertility causes, can sometimes be difficult to diagnose. These problems are mostly related to sperm production or delivery. The procedure of male infertility diagnosis starts with a history and physical exam. This can further be continues with blood tests and semen tests.

• History and Physical Exam
The doctor will obtain your health and surgical histories for male infertility diagnosis. He will inquire about anything that might lower your fertility like defects in the reproductive system, improper hormone levels, sickness or any accidents.
The doctor will acquire information about any illnesses during childhood, any current health problems, or medications. Some diseases like mumps, diabetes and steroids may affect fertility. He will inquire about your use of alcohol, tobacco, marijuana and other recreational drugs. The doctor may ask about your exposure to radiation, heavy metals or pesticides.
The physical exam will be done to look for problems in the penis, epididymis, vas deferens, and testicles. The doctor will look for signs of varicoceles. They can be found very easily through a physical exam.

• Semen Analysis
Semen analysis is a routine test performed in labs for male infertility diagnosis. It aids to analyze the level of sperm production and functionality of sperm (like, their movement, measured as sperm motility). This test is usualy done at least twice, if sperm amount in the first one are abnormal. Semen is collected in a sterile cup and sample is studied. It is also checked for components that promote or hurt conception (fertilization).
The sperm volume, count, concentration, motility, and structure is checked. The result of this test shows the ability to conceive.

• Transrectal Ultrasound
This ultrasound procedure uses sound waves that when projected, bounces off an organ to give a picture of the organ. A probe is positioned in the rectum which beams sound waves to the nearby ejaculatory ducts. The doctor can see if structures are poorly formed and functioning or not.

• Testicular Biopsy
If the semen tests shows very low number of sperm or no sperm than a testicular biopsy is required. In this test, a small cut is made in the scrotum or it is performed using a needle through the numbed scrotal skin. Small pieces of tissue are taken from each testicle and studied under microscope. This test helps to find the cause of infertility and can collect sperm for use in assisted reproduction procedures.

• Hormonal Profile
The doctor may check the level of fertility related hormones. This is to identify the capacity of testicles to make sperm. It can also be used to rule out some major health conditions. For instance, follicle-stimulating hormone is responsible to signal the testicles to make sperms. High levels of this indicated that the pituitary gland is trying to get the testicles to make sperm, but they won't.

Once male infertility diagnosis is done there are many treatments available for male infertility.

Treatments available for male infertility

Male infertility treatment depends on what the causes are. Many conditions can be fixed with drugs or sometimes it may need surgery. After this conception could be done through normal sex. The treatments available for male infertility are divided into 3 categories:

1. Non-surgical therapy for Male Infertility treatment
2. Surgical Therapy for Male Infertility treatment
3. Treatment for Unknown Causes of Male Infertility treatment

1. NON-SURGICAL THERAPY FOR MALE INFERTILITY

Many male fertility conditions can be treated without need of a surgery.

• Anejaculation /dry ejaculate
Anejaculation is a condition when there is no semen released during sexual climax. This not a common condition, but can be caused due to:
- spinal cord injury
- prior surgery
- diabetes
- multiple sclerosis
- abnormalities present at birth
- other mental, emotional or unknown problems

Drugs are often the primary mode of treatment for this condition. If they fail, there are several other options.
- Penile vibratory stimulation (PVS) - may induce ejaculation
- Rectal probe electroejaculation (also called electroejaculation or EEJ) - may induce ejaculation
- Testicular Sperm Aspiration – sperm can directly be retrieved from testicle

• Genital Tract Infection
Genital tract infection is rare condition and is not much linked to infertility. This problem is usually diagnosed through a semen test. White blood cells produce too much reactive oxygen species (ROS). If too many WBCs are found in semen, it can damage sperm, lowering the chances of sperm being able to fertilize an egg. For treatment of this infection, antibiotics are often given. Some antibiotics can harm sperm production and function. Non-steroidal anti-inflammatories are also used in place of antibiotics.

• Hyperprolactinemia
Hyperprolactinemia is a condition when the pituitary gland produces excess of prolactin. It is a major factor for causing infertility and erectile dysfunction. Treatment for this depends on the cause of increase in prolactin. Mostly drugs are given or treatment, surgery may be required if tumors are present in pituitary.

• Hypogonadotropic Hypogonadism
Hypogonadotropic hypogonadism is a condition when the testicles stop producing sperm due to improper stimulation by pituitary hormones. This is clearly due to a dysfunction in the pituitary gland or hypothalamus. This condition can be there from birth or it can be acquired. The congenital form of this condition is called Kallmann's syndrome, and is caused due to lower amounts of gonadotropin-releasing hormone. The acquired form of this condition can be due to other health issues like:
- pituitary tumors
- head trauma
- anabolic steroid use
The diagnosis for this condition is done by MRI and blood test. Gonadotropin replacement therapy is given for treatment of this condition.

• Genetic Conditions
Sometimes men are born with some genetic condition that may be new to the family or hereditary in the family. The causes of genetic abnormalities are mostly detected in men with no sperm presence in the ejaculate (azoospermia). Here, the condition has affected the sperm production (such as, Klinefelter syndrome where an extra chromosome is present in man, or Y chromosome microdeletions where a small segment of some genetic tissue is missing). Genetic conditions can also affect the development of the tract that carries sperm.

• Retrograde Ejaculation
Retrograde ejaculation is condition where the semen flows back instead of going out the penis. This condition has many causes, which include:
- prostate or bladder surgeries
- diabetes
- spinal cord injury
- anti-depressants
- certain anti-hypertensives
- medications used for treatment of prostate enlargement
This condition is diagnosed by checking the urine for presence of sperm. Drugs are prescribed as treatment to correct retrograde ejaculation. If medications don't work, assisted reproductive techniques (ARTs) might be needed.

2. SURGICAL THERAPY FOR MALE INFERTILITY

• Varicocele Treatments
Varicoceles can be treated with a minor outpatient surgery known as varicocelectomy. The treatment of these swollen veins improves sperm movement, amount, and structure.

• Azoospermia Treatments
In azoospermia, when the semen lacks sperm because of a blockage, there are many surgical procedures to treat it. Even men no sperm in the ejaculate can be treated with surgery to find sperm, together with assisted reproduction.

• Microsurgical Vasovasostomy
Vasovasostomy is a treatment used to undo a vasectomy. This treatment uses microsurgery procedure to join back the two cut parts of the vas deferens in each testicle.

• Vasoepididymostomy
Vasoepididymostomy is the surgical treatment where the upper end of the vas deferens and the epididymis are joined. It is the most common microsurgical method for the treatment of epididymal blocks.

• Transurethral Resection of the Ejaculatory Duct (TURED)
Blockage in the ejaculatory duct can be treated through surgical procedure. In this treatment, a cystoscope is passed into the urethra and a small incision is made in the ejaculatory duct. This can help gets sperm into the semen in most men. But there can be issues and blockages could return. Other damages like incontinence and retrograde ejaculation from bladder can also occur.

can male infertility be cured-03

3. TREATMENT FOR UNKNOWN CAUSES OF MALE INFERTILITY

When it is difficult to tell the cause of male infertility, the condition is known as idiopathic male infertility. Here empiric therapy is used where the experience of doctor works.

• Assisted Reproductive Techniques
If the treatment done for infertility fails or no treatment is available, the ways to get pregnant without sex are used. Such methods are referred to as assisted reproductive techniques (ARTs). Depending on the specific type of infertility and the cause, the technique may be suggested:

Intrauterine Insemination (IUI) - In this procedure, the sperm is placed into the female partner's uterus through a tube. It is often used when there is low sperm count and motility problems, retrograde ejaculation, and other causes of infertility.

In Vitro Fertilization (IVF) - In this procedure, the egg of the female partner or donor is joined with sperm in a lab Petri dish. For this the ovaries has to be stimulated to produce multiple eggs. After the lab growth for 3 - 5 days, the fertilized embryo is put placed into the uterus.

Intracytoplasmic Sperm Injection (ICSI) – This procedure is basically a variation of normal IVF technique. Here, a single sperm is injected into the egg with a micro needle. After the fertilization of the egg, it is placed back in the female partner's uterus. Sperm may be collected from semen or directly from the testicles or epididymis by surgery.

Sperm Retrieval for ART - Many microsurgical methods can be used to remove sperm block caused by obstructive azoospermia. These surgical methods include:
- Testicular Sperm Extraction (TESE
- Testicular Fine Needle Aspiration (TFNA)
- Percutaneous Epididymal Sperm Aspiration (PESA)
- Microsurgical Epididymal Sperm Aspiration (MESA)

When treatment doesn't work

In some rare cases, the conditions of male fertility cannot be treated, and it becomes impossible for the man to become a father. In such conditions, the doctor might suggest to consider using sperm from a donor or adopting a child.

Medicine

The evidence available is limited on to what extent herbs or supplements helps to increase male fertility. None of these available supplements are targeted to treat a specific underlying cause of infertility.

Supplements having possible benefits for improving sperm count or quality include:

• Coenzyme Q10

• Folic acid and zinc combination

• L-carnitine

• Selenium

• Vitamin C

• Vitamin E

Consultation from a doctor should be done before taking any dietary supplements for male infertility. There is no clear proof that these supplements work, and some of these may also cause side effects.

Coping and support

Coping with infertility can be difficult, but it is an issue of the unknown and cannot predict anything about it. The emotional burden due to this on a couple is significant, and plans for coping can help with it.

can male infertility be cured-04

Planning for emotional turmoil

• Set limits - Decide in the number and kind of procedures that would be emotionally and financially acceptable for you and your partner. Treatments for fertility are expensive and usually are not covered by insurance.

• Consider other options - Determine alternatives at the early stage of the procedure (like adoption or donor sperm). This can help to reduce anxiety during treatments and helps to avoid feelings of hopelessness procedure fails.

• Talk about your feelings – Find out support groups or counseling services for help before and after treatment to help endure the process and bear the grief in case of failure of treatment.

Management of emotional stress during infertility treatment:

• Practice stress-reduction techniques - like yoga, meditation and massage therapy.

• Consider going to counseling - Counseling techniques may help to relieve stress, especially the one like cognitive behavioral therapy, which uses methods that include relaxation training and stress management.

• Express yourself – Reach out and express yourself to others rather than holding the feelings of guilt or anger.

• Stay in touch with loved ones - Talking to the partner, family and friends help in coping with the stress.

Related topics:

1. What is fertility and infertility?

Fertility and infertility are related to the ability of a person to produce offspring. The cause of infertility could be many. It can be further tested and treated. To know more visit: What is fertility and infertility

2. Factors Responsible for Male Infertility

Infertility is characterized as a couple's inability to have a child after a year of daily unprotected intercourse, and it affects 10 to 15% of couples. According to the most recent WHO estimates, 50–80 million people around the world suffer from...To know more visit: Factors Responsible for Male Infertility

3. Is Too Much Weight Responsible for Male Infertility?

Obesity among men of reproductive age has nearly tripled in the last 30 years, coinciding with a rise in male infertility around the world. Male obesity has now been linked to a reduction in male reproductive ability, according to new research. To know more visit: Is Too Much Weight Responsible for Male Infertility

4. Is Infertility in Male Common?

Male infertility refers to a male's inability to impregnate a fertile woman. Its common causes are low sperm count, low quality sperm or some genetic disorder. To know more visit: Is Infertility in Male Common




The above essentials are available with LYBER

Lyber is a unique oral nutraceutical product containing a combination of Lycopene and Shilajit. It works great for management of male infertility. Lycopene is for better sperm health. It prevents oxidative damage to sperm cells, improves sperm count by 70% and motility by 53%, and improves sperm morphology by 38%. Shilajit is for improving performance. It improves sperm count by 60%, improves sperm activity by 12%, and increases testosterone and FSH levels.

Nutralogicx: Lyber



क्या पुरुष बांझपन को ठीक किया जा सकता है

क्या पुरुष बांझपन को ठीक किया जा सकता है -01

पुरुष बांझपन एक आदमी में किसी भी स्वास्थ्य की स्थिति है कि महिला साथी गर्भवती होने की संभावना कम कर देता है।

बांझपन के लिए एक से अधिक कारण हैं। बांझपन के वास्तविक कारण को निर्धारित करने के लिए कुछ परीक्षण लग सकते हैं। कुछ स्थितियों में, कारण का निदान कभी नहीं होता है।

एक बार निदान किया जाता है वहां कई पुरुष बांझपन के लिए उपलब्ध उपचार कर रहे हैं।

पुरुष बांझपन का निदान

क्या पुरुष बांझपन को ठीक किया जा सकता है -02

पुरुष प्रजनन का कारण बनता है, कभी-कभी निदान करना मुश्किल हो सकता है। ये समस्याएं ज्यादातर शुक्राणु उत्पादन या प्रसव से संबंधित होती हैं। निदान की प्रक्रिया एक इतिहास और शारीरिक परीक्षा के साथ शुरू होता है। यह आगे रक्त परीक्षण और वीर्य परीक्षण के साथ जारी किया जा सकता है।

• इतिहास और शारीरिक परीक्षा
डॉक्टर आपके स्वास्थ्य और शल्य चिकित्सा इतिहास प्राप्त करेंगे। वह कुछ भी है कि प्रजनन प्रणाली में दोष, अनुचित हार्मोन के स्तर, बीमारी या किसी भी दुर्घटनाओं की तरह अपनी प्रजनन क्षमता कम हो सकता है के बारे में पूछताछ करेंगे ।
डॉक्टर बचपन के दौरान किसी भी बीमारी, किसी भी वर्तमान स्वास्थ्य समस्याओं, या दवाओं के बारे में जानकारी प्राप्त करेगा। गलसुआ, मधुमेह और स्टेरॉयड जैसी कुछ बीमारियां प्रजनन क्षमता को प्रभावित कर सकती हैं। वह शराब, तंबाकू, मारिजुआना और अन्य मनोरंजक दवाओं के अपने उपयोग के बारे में पूछताछ करेंगे। डॉक्टर विकिरण, भारी धातुओं या कीटनाशकों के लिए अपने जोखिम के बारे में पूछ सकते हैं।
शारीरिक परीक्षा लिंग, एपीडिडिमिस, वास डिफेरेन्स, और अंडकोष में समस्याओं की तलाश के लिए किया जाएगा। डॉक्टर वैरिकेल्स के लक्षणों की तलाश करेंगे। वे एक शारीरिक परीक्षा के माध्यम से बहुत आसानी से पाया जा सकता है।

• वीर्य विश्लेषण
वीर्य विश्लेषण प्रयोगशालाओं में किया जाने वाला एक नियमित परीक्षण है। यह शुक्राणु उत्पादन और शुक्राणु की कार्यक्षमता के स्तर का विश्लेषण करने के लिए एड्स (जैसे, उनके आंदोलन, शुक्राणु गतिशीलता के रूप में मापा) । यह परीक्षण आमतौर पर कम से कम दो बार किया जाता है, अगर पहले में शुक्राणु की मात्रा असामान्य होती है। वीर्य एक बाँझ कप में एकत्र किया जाता है और नमूना अध्ययन किया जाता है। यह उन घटकों के लिए भी जांचा जाता है जो गर्भधारण (निषेचन) को बढ़ावा देते हैं या चोट पहुंचाते हैं।
शुक्राणु की मात्रा, गिनती, एकाग्रता, गतिशीलता, और संरचना की जांच की जाती है। इस परीक्षा का परिणाम गर्भ धारण करने की क्षमता को दर्शाता है।

• ट्रांसरेक्टल अल्ट्रासाउंड
यह अल्ट्रासाउंड प्रक्रिया ध्वनि तरंगों का उपयोग करती है जो अनुमानित होने पर अंग की तस्वीर देने के लिए एक अंग से उछलती है। मलाशय में एक जांच तैनात है जो पास के स्खलन नलिकाओं के लिए ध्वनि तरंगों मुस्कराते हुए । डॉक्टर देख सकते हैं कि संरचनाएं खराब होती हैं और कार्य कर रही हैं या नहीं।

• टेस्टिकुलर बायोप्सी
अगर वीर्य परीक्षणों से पता चलता है कि शुक्राणु की संख्या बहुत कम है या वृषण बायोप्सी की तुलना में कोई शुक्राणु नहीं है। इस परीक्षण में, अंडकोष में एक छोटा सा कट बनाया जाता है या इसे सुन्न स्क्रोटल त्वचा के माध्यम से सुई का उपयोग करके किया जाता है। ऊतक के छोटे टुकड़े प्रत्येक अंडकोष से लिए जाते हैं और माइक्रोस्कोप के तहत अध्ययन किए जाते हैं। यह परीक्षण बांझपन के कारण को खोजने में मदद करता है और सहायता प्राप्त प्रजनन प्रक्रियाओं में उपयोग के लिए शुक्राणु एकत्र कर सकता है।

• हार्मोनल प्रोफाइल
डॉक्टर फर्टिलिटी से संबंधित हार्मोन्स के स्तर की जांच कर सकता है। यह शुक्राणु बनाने के लिए अंडकोष की क्षमता की पहचान करने के लिए है। इसका उपयोग कुछ प्रमुख स्वास्थ्य स्थितियों से इंकार करने के लिए भी किया जा सकता है। उदाहरण के लिए, कूप उत्तेजक हार्मोन शुक्राणुओं को बनाने के लिए अंडकोष का संकेत देने के लिए जिम्मेदार है। इस के उच्च स्तर संकेत दिया है कि पीयूष ग्रंथि शुक्राणु बनाने के लिए अंडकोष प्राप्त करने की कोशिश कर रहा है, लेकिन वे नहीं होगा।

एक बार निदान किया जाता है वहां कई पुरुष बांझपन इलाज के लिए उपलब्ध उपचार कर रहे हैं।

पुरुष बांझपन के लिए उपलब्ध उपचार

पुरुष बांझपन उपचार इस बात पर निर्भर करता है कि कारण क्या हैं। कई शर्तों दवाओं के साथ तय किया जा सकता है या कई बार यह सर्जरी की आवश्यकता हो सकती है । इस गर्भाधान के बाद सामान्य सेक्स के माध्यम से किया जा सकता है। पुरुष बांझपन के लिए उपलब्ध उपचार 3 श्रेणियों में विभाजित हैं:

1. पुरुष बांझपन उपचार के लिए गैर सर्जिकल थेरेपी
2. पुरुष बांझपन उपचार के लिए सर्जिकल थेरेपी
3. पुरुष बांझपन उपचार के अज्ञात कारणों के लिए उपचार

1. पुरुष बांझपन के लिए गैर सर्जिकल थेरेपी

कई पुरुष प्रजनन स्थितियों को सर्जरी की आवश्यकता के बिना इलाज किया जा सकता है।

• एनीकुलेशन /ड्राई स्खलन
एनीकुलेशन एक ऐसी स्थिति है जब यौन चरमोत्कर्ष के दौरान कोई वीर्य जारी नहीं किया जाता है । यह एक आम स्थिति नहीं है, लेकिन कारण हो सकता है:
- रीढ़ की हड्डी की चोट
- पूर्व सर्जरी
- मधुमेह
- मल्टीपल स्क्लेरोसिस
- जन्म के समय मौजूद असामान्यताएं
- अन्य मानसिक, भावनात्मक या अज्ञात समस्याएं

दवाएं अक्सर इस स्थिति के लिए उपचार का प्राथमिक तरीका होती हैं। यदि वे असफल होते हैं, तो कई अन्य विकल्प हैं।
- लिंग कंपन उत्तेजना (पीवीएस) – स्खलन को प्रेरित कर सकता है
- रेक्टल प्रोब इलेक्ट्रो स्खलन (जिसे इलेक्ट्रो स्खलन या ईईजे भी कहा जाता है) - स्खलन को प्रेरित कर सकता है
- वृषण शुक्राणु आकांक्षा - शुक्राणु सीधे अंडकोष से प्राप्त किया जा सकता है

• जननांग पथ संक्रमण
जननांग पथ संक्रमण दुर्लभ स्थिति है और बांझपन से ज्यादा जुड़ा हुआ नहीं है। आमतौर पर वीर्य परीक्षण के माध्यम से इस समस्या का निदान किया जाता है। सफेद रक्त कोशिकाएं बहुत अधिक प्रतिक्रियाशील ऑक्सीजन प्रजातियों (आरओएस) का उत्पादन करती हैं। यदि वीर्य में बहुत सारे सफेद रक्त कोशिकाएं पाए जाते हैं, तो यह शुक्राणु को नुकसान पहुंचा सकता है, शुक्राणु के अंडे को निषेचित करने में सक्षम होने की संभावना को कम कर सकता है।
इस संक्रमण के उपचार के लिए, एंटीबायोटिक्स अक्सर दिए जाते हैं। कुछ एंटीबायोटिक्स शुक्राणु उत्पादन और कार्य को नुकसान पहुंचा सकते हैं। एंटीबायोटिक दवाओं के स्थान पर गैर-स्टेरॉयड विरोधी भड़काऊ का भी उपयोग किया जाता है।

• हाइपरप्रोलैकेक्टिनेमिया
हाइपरप्रोलेक्टिनेमिया एक ऐसी स्थिति है जब पिट्यूटरी ग्रंथि प्रोलैक्टिन की अधिकता पैदा करती है। यह बांझपन और स्तंभन दोष पैदा करने के लिए एक प्रमुख कारक है। इसके लिए उपचार प्रोलैक्टिन में वृद्धि के कारण पर निर्भर करता है। ज्यादातर दवाएं दी जाती हैं या इलाज, अगर ट्यूमर पिट्यूटरी में मौजूद हो तो सर्जरी की जरूरत पड़ सकती है।

• हाइपोगोनाडोट्रोपिक हाइपोगोनाडोट्रोपिक हाइपोगोनाडिज्म
एक ऐसी स्थिति है जब अंडकोष पीयूष हार्मोन द्वारा अनुचित उत्तेजना के कारण शुक्राणु का उत्पादन बंद कर देते हैं। यह स्पष्ट रूप से पीयूष ग्रंथि या हाइपोथैलेमस में शिथिलता के कारण होता है। यह स्थिति जन्म से हो सकती है या इसे प्राप्त किया जा सकता है। इस स्थिति के जन्मजात रूप को कल्मान सिंड्रोम कहा जाता है, और यह गोंडोट्रोपिन-रिलीज हार्मोन की कम मात्रा के कारण होता है। इस स्थिति का अधिग्रहीत रूप अन्य स्वास्थ्य मुद्दों के कारण हो सकता है जैसे:
- पिट्यूटरी ट्यूमर
- सिर आघात
- एनाबोलिक स्टेरॉयड का उपयोग
इस स्थिति के निदान एमआरआई और रक्त परीक्षण द्वारा किया जाता है। इस स्थिति के उपचार के लिए गोंडोट्रोपिन रिप्लेसमेंट थेरेपी दी जाती है।

• आनुवांशिक स्थितियां
कभी-कभी पुरुषों का जन्म कुछ आनुवांशिक स्थिति के साथ होता है जो परिवार में परिवार या वंशानुगत के लिए नया हो सकता है। आनुवंशिक असामान्यताओं के कारणों का पता ज्यादातर पुरुषों में पता लगाया जाता है जिसमें स्खलन (एजूस्पेरमिया) में शुक्राणु की उपस्थिति नहीं होती है। यहां, हालत शुक्राणु उत्पादन प्रभावित किया है (जैसे, क्लाइनफेल्टर सिंड्रोम जहां एक अतिरिक्त गुणसूत्र आदमी में मौजूद है, या वाई गुणसूत्र माइक्रोएलेटमेंट जहां कुछ आनुवंशिक ऊतक का एक छोटा सा खंड याद आ रही है) । आनुवंशिक स्थितियां शुक्राणु को ले जाने वाले पथ के विकास को भी प्रभावित कर सकती हैं।

• प्रतिगामी स्खलन
प्रतिगामी स्खलन ऐसी स्थिति है जहां वीर्य लिंग से बाहर जाने के बजाय वापस बहता है। इस स्थिति में कई कारण हैं, जिनमें शामिल हैं:
- प्रोस्टेट या मूत्राशय की सर्जरी
- मधुमेह
- रीढ़ की हड्डी की चोट
- एंटी-डिप्रेसेंट
- कुछ एंटी-हाइपरटेंस
- प्रोस्टेट इज़ाफ़ा के उपचार के लिए उपयोग की जाने वाली दवाएं
शुक्राणु की उपस्थिति के लिए मूत्र की जांच करके इस स्थिति का निदान किया जाता है। प्रतिगामी स्खलन को सही करने के लिए दवाओं को उपचार के रूप में निर्धारित किया जाता है। यदि दवाएं काम नहीं करते हैं, तो सहायता प्राप्त प्रजनन तकनीकों की आवश्यकता हो सकती है।

2. पुरुष बांझपन के लिए सर्जिकल थेरेपी

• वैरिकोले उपचार
वैरिकोसेल का इलाज एक मामूली पेशेंट सर्जरी के साथ किया जा सकता है जिसे वैरिकोइलेक्टोमी के नाम से जाना जाता है। इन सूजन नसों के उपचार शुक्राणु आंदोलन, मात्रा, और संरचना में सुधार।

• अज़ोस्पेरमिया उपचार अज़ोस्परमिया
में, जब वीर्य में रुकावट के कारण शुक्राणु की कमी होती है, तो इसके इलाज के लिए कई सर्जिकल प्रक्रियाएं होती हैं। यहां तक कि पुरुषों स्खलन में कोई शुक्राणु सर्जरी के साथ इलाज किया जा सकता है शुक्राणु खोजने के लिए, एक साथ सहायता प्राप्त प्रजनन के साथ।

• माइक्रोसर्जिकल वास्कोस्टोटॉमी वास्ओस्टोटॉमी
एक ऐसा उपचार है जो पुरुष नसबंदी को पूर्ववत करने के लिए उपयोग किया जाता है। यह उपचार प्रत्येक अंडकोष में वास डिफेरेन्स के दो कट हिस्सों को वापस शामिल करने के लिए माइक्रोसर्जरी प्रक्रिया का उपयोग करता है।

• वासोपिडिडिमोमी
वासोपिडिडिमोमी सर्जिकल उपचार है जहां वास डिफेरेंस और एपिडिडिमिस के ऊपरी छोर शामिल होते हैं। यह एपिडिडिमल ब्लॉक के उपचार के लिए सबसे आम माइक्रोसर्जिकल विधि है।

• स्खलन वाहिनी में स्खलन वाहिनी
रुकावट के ट्रांसयूरेथ्रल रिसेक्शन को सर्जिकल प्रक्रिया के माध्यम से इलाज किया जा सकता है। इस उपचार में, एक सिस्टोस्कोप मूत्रमार्ग में पारित किया जाता है और स्खलन वाहिनी में एक छोटा सा चीरा बनाया जाता है। यह ज्यादातर पुरुषों में वीर्य में शुक्राणु हो जाता है मदद कर सकते हैं। लेकिन वहां मुद्दों और रुकावटें वापस आ सकता है हो सकता है । मूत्राशय से असंयम और प्रतिगामी स्खलन जैसे अन्य नुकसान भी हो सकते हैं।

पुरुष बांझपन ठीक हो सकता है -03

3. पुरुष बांझपन के अज्ञात कारणों के लिए उपचार

जब पुरुष बांझपन का कारण बताना मुश्किल होता है, तो हालत को इडियोपैथिक पुरुष बांझपन के रूप में जाना जाता है। यहां अनुभवजन्य चिकित्सा का उपयोग किया जाता है जहां डॉक्टर का अनुभव काम करता है।

• असिस्टेड रिप्रोडक्टिव तकनीक
अगर बांझपन के लिए किया गया इलाज फेल हो जाता है या कोई इलाज उपलब्ध नहीं होता है तो बिना सेक्स के गर्भवती होने के तरीकों का इस्तेमाल किया जाता है। इस तरह के तरीकों को असिस्टेड प्रजनन तकनीक (एआरटीएस) के रूप में जाना जाता है। विशिष्ट प्रकार के बांझपन और कारण के आधार पर, तकनीक का सुझाव दिया जा सकता है:

इंट्रायूटेरिन गर्भाधान (आईयूआई) - इस प्रक्रिया में, शुक्राणु को एक ट्यूब के माध्यम से महिला साथी के गर्भाशय में रखा जाता है। इसका उपयोग अक्सर तब किया जाता है जब कम शुक्राणुओं की संख्या और गतिशीलता की समस्या, प्रतिगामी स्खलन और बांझपन के अन्य कारण होते हैं।

इन विट्रो फर्टिलाइजेशन (आईवीएफ) - इस प्रक्रिया में, महिला साथी या दाता के अंडे को लैब पेट्री डिश में शुक्राणु के साथ शामिल किया जाता है। इसके लिए अंडाशय को कई अंडे का उत्पादन करने के लिए उत्तेजित किया जाना चाहिए। 3 - 5 दिनों के लिए प्रयोगशाला वृद्धि के बाद, निषेचित भ्रूण को गर्भाशय में रखा जाता है।

इंट्रासाइटोप्लाज्मिक स्पर्म इंजेक्शन (आईसीएसआई) – यह प्रक्रिया मूल रूप से सामान्य आईवीएफ तकनीक की भिन्नता है। यहां एक भी शुक्राणु को सूक्ष्म सुई से अंडे में इंजेक्ट किया जाता है। अंडे के निषेचन के बाद, इसे महिला साथी के गर्भाशय में वापस रखा जाता है। शुक्राणु वीर्य से या सीधे अंडकोष या एपिडिडिमिस से सर्जरी द्वारा एकत्र किया जा सकता है।

एआरटी के लिए शुक्राणु पुनः प्राप्ति - ऑब्सट्रक्टिव एजूस्पेरमिया की वजह से स्पर्म ब्लॉक को हटाने के लिए कई माइक्रोसर्जिकल तरीकों का इस्तेमाल किया जा सकता है। इन शल्य चिकित्सा विधियों में शामिल हैं:
- वृषण शुक्राणु निष्कर्षण
- वृषण ठीक सुई आकांक्षा
- पर्क्यूटेनियस एपिडीडिमल स्पर्म एस्पिरेशन
- माइक्रोसर्जिकल एपिडिमाइलल शुक्राणु आकांक्षा

जब उपचार काम नहीं करता है

कुछ दुर्लभ मामलों में पुरुष प्रजनन क्षमता की स्थितियों का इलाज नहीं किया जा सकता और आदमी के लिए पिता बनना असंभव हो जाता है। ऐसी स्थितियों में, डॉक्टर एक दाता से शुक्राणु का उपयोग करने या एक बच्चे को गोद लेने पर विचार करने का सुझाव दे सकता है।

दवाई

उपलब्ध सबूत किस हद तक जड़ी बूटी या पूरक पुरुष प्रजनन क्षमता को बढ़ाने में मदद करता है पर सीमित है । इन उपलब्ध की खुराक में से कोई भी बांझपन के एक विशिष्ट अंतर्निहित कारण के इलाज के लिए लक्षित कर रहे हैं।

शुक्राणुओं की संख्या या गुणवत्ता में सुधार के लिए संभावित लाभ होने की खुराक में शामिल हैं:

• कोएनजाइम Q10

• फोलिक एसिड और जिंक कॉम्बिनेशन

• एल-कार्निटाइन

• सेलेनियम

• विटामिन सी

• विटामिन ई

पुरुष बांझपन के लिए किसी भी आहार की खुराक लेने से पहले डॉक्टर से परामर्श किया जाना चाहिए। इस बात का कोई स्पष्ट सबूत नहीं है कि ये सप्लीमेंट काम करते हैं, और इनमें से कुछ साइड इफेक्ट्स भी पैदा कर सकते हैं।

मुकाबला और समर्थन

बांझपन के साथ मुकाबला करना मुश्किल हो सकता है, लेकिन यह अज्ञात का मुद्दा है और इसके बारे में कुछ भी भविष्यवाणी नहीं कर सकता है। भावनात्मक एक जोड़े पर इस के कारण बोझ महत्वपूर्ण है, और मुकाबला करने के लिए योजना इसके साथ मदद कर सकते हैं।

क्या पुरुष बांझपन को ठीक किया जा सकता है -04

भावनात्मक उथल-पुथल के लिए योजना बनाना

• सीमा निर्धारित करें - संख्या और प्रक्रियाओं की तरह है कि भावनात्मक और आर्थिक रूप से आप और आपके साथी के लिए स्वीकार्य होगा में तय करें । प्रजनन क्षमता के लिए उपचार महंगे होते हैं और आमतौर पर बीमा द्वारा कवर नहीं किए जाते हैं।

• अन्य विकल्पों पर विचार करें - प्रक्रिया के प्रारंभिक चरण में विकल्प निर्धारित करें (जैसे गोद लेने या दाता शुक्राणु)। यह उपचार के दौरान चिंता को कम करने में मदद कर सकता है और निराशा प्रक्रिया की भावनाओं से बचने में मदद करता है।

• अपनी भावनाओं के बारे में बात करें – इस प्रक्रिया को सहने और उपचार की विफलता के मामले में दुख सहन करने में मदद करने के लिए उपचार से पहले और बाद में मदद के लिए सहायता समूहों या परामर्श सेवाओं का पता लगाएं।

बांझपन उपचार के दौरान भावनात्मक तनाव का प्रबंधन:

• तनाव कम करने की तकनीक का अभ्यास करें - जैसे योग, ध्यान और मालिश चिकित्सा।

• परामर्श के लिए जाने पर विचार करें - परामर्श तकनीकों तनाव को दूर करने में मदद कर सकते हैं, विशेष रूप से संज्ञानात्मक व्यवहार चिकित्सा की तरह एक है, जो तरीकों का उपयोग करता है कि विश्राम प्रशिक्षण और तनाव प्रबंधन शामिल हैं।

• खुद को एक्सप्रेस करें – अपराध बोध या क्रोध की भावनाओं को धारण करने के बजाय दूसरों के प्रति स्वयं को व्यक्त करें।

• प्रियजनों के संपर्क में रहें - पार्टनर से बात करने से परिवार और दोस्त तनाव से मुकाबला करने में मदद करते हैं।

संबंधित विषय:

1. प्रजनन और बांझपन क्या है?

प्रजनन और बांझपन किसी व्यक्ति की संतान पैदा करने की क्षमता से संबंधित होते हैं। बांझपन का कारण कई हो सकता है। इसका आगे परीक्षण और इलाज किया जा सकता है। अधिक यात्रा जानने के लिए: प्रजनन और बांझपन क्या है

2. पुरुष बांझपन के लिए जिम्मेदार कारक

बांझपन दैनिक असुरक्षित संभोग के एक साल के बाद एक बच्चे के लिए एक जोड़े की असमर्थता के रूप में विशेषता है, और यह जोड़ों के 10 से 15% को प्रभावित करता है। सबसे हाल ही में डब्ल्यूएचओ के अनुमानों के अनुसार, दुनिया भर में 50-80 मिलियन लोग पीड़ित हैं ... अधिक यात्रा जानने के लिए:पुरुष बांझपन के लिए जिम्मेदार कारक

3. क्या पुरुष बांझपन के लिए बहुत अधिक वजन जिम्मेदार है?

प्रजनन आयु के पुरुषों के बीच मोटापा लगभग पिछले 30 वर्षों में तीन गुना है, दुनिया भर में पुरुष बांझपन में वृद्धि के साथ मेल खाता है। नए शोध के अनुसार पुरुष मोटापे को अब पुरुष प्रजनन क्षमता में कमी से जोड़ा गया है। अधिक यात्रा जानने के लिए:पुरुष बांझपन के लिए बहुत अधिक वजन जिम्मेदार है

4. पुरुष आम में बांझपन है?

पुरुष बांझपन एक उपजाऊ महिला को गर्भवती करने में पुरुष की असमर्थता को संदर्भित करता है। इसके सामान्य कारण कम शुक्राणुओं की संख्या, निम्न गुणवत्ता वाले शुक्राणु या कुछ आनुवंशिक विकार हैं। अधिक यात्रा जानने के लिए: पुरुष आम में बांझपन है




उपर ब्लॉग में बताई गई उपलब्धियाक लिबर के साथ उपलब्ध हैं

लिबर एक अद्वितीय मौखिक न्यूट्रास्यूटिकल उत्पाद है जिसमें लाइकोपीन और शिलाजीत का संयोजन होता है। यह पुरुष बांझपन के प्रबंधन के लिए बहुत अच्छा काम करता है। लाइकोपीन बेहतर शुक्राणु स्वास्थ्य के लिए है। यह शुक्राणु कोशिकाओं को ऑक्सीडेटिव क्षति से बचाता है, शुक्राणुओं की संख्या में 70% और गतिशीलता में 53% तक सुधार करता है, और शुक्राणु आकृति विज्ञान में 38% तक सुधार करता है। शिलाजीत प्रदर्शन में सुधार के लिए है। यह शुक्राणुओं की संख्या में 60% तक सुधार करता है, शुक्राणु गतिविधि में 12% तक सुधार करता है, और टेस्टोस्टेरोन और एफएसएच के स्तर को बढ़ाता है।

न्यूट्रालॉजिक्स: लिबर


AFDIL Ltd.
+91 9920121021

order@afdil.com

Read Also:


Disclaimer
Home