Can Liver Disease Be Cured

What is the function of the liver?

As a part of its function, the liver produces bile, a fluid that contains water, chemicals, bile acids (made from stored cholesterol in the liver) and some other substances. Bile is stored within the gallbladder and when food enters the duodenum (the first part of the small intestine), bile is secreted in the duodenum, to help in the digestion process of food.

function of the liver

Liver is the only organ in the human body that can effortlessly replace damaged cells, but if excess cells are lost in the process, the liver may not be able to meet the requirements of the body.
The liver is often considered a factory and performs various functions, including:
• Production of bile which is necessary in the digestion of food, especially fats
• Storage of extra glucose or sugar in the form of glycogen, and then converting it back into glucose when the body wants it for energy
• Production of blood clotting factors
• Production of amino acids
• Processing and storage of iron essential for production of red blood cell
• Production of cholesterol and other chemicals necessary for fat transport
• Conversion of waste products from body metabolism into urea which is furthur excreted in the urine
• Metabolism of medications to break them into their active ingredient
The permanent scarring of the liver is termed as cirrhosis. In cirrhosis, the normal liver cells are replaced by scar tissues that are unable to perform any liver function.
Acute liver failure condition may not be curable. Curcumin for Liver Disease and other treatments help liver to recover and continue its normal functions.

What is liver disease?

Liver disease is any condition that causes irritation or inflammation in the liver which can then lead to in scar tissue formation in the liver. As more and more scar tissue forms in the liver, cirrhosis can be developed. This essentially means end-stage scar tissue in the liver where the liver is no more smooth, nice and red. It is kind of lumpy, bumpy, and gravely, and this prevents it from functioning appropriately. There are many treatments available for liver disease cure.

liver-01

What causes liver disease?

People usually think of alcohol as the cause of liver disease but that is only one of a huge number of causes and it is not even the commonest cause. The most common liver disease currently is fatty liver, where fat actually gets accumulated in the liver. This can result in irritation and inflammation in the liver and then lead to scar tissue development.

Liver disease has multiple causes, including:

1.Infections
Many parasites and viruses can infect the liver, causing inflammation that makes liver inefficient to function. These viruses can be transmitted through blood, semen, contaminated food and water, or close contact with infected person. The most common types of liver infection are the one contracted due to hepatitis viruses, which include:
• Hepatitis A
• Hepatitis B
• Hepatitis C

2. Immune system abnormalities
Diseases in which the immune system of the body attacks some other parts of the body (autoimmune) can also affect the liver. Some examples of such autoimmune liver diseases are:
• Autoimmune hepatitis
• Primary biliary cholangitis
• Primary sclerosing cholangitis

3. Genetic disorders
An abnormal gene inherited from one or both of the parents can cause various substances to build up in the liver, which can further result in liver damage. Examples of such genetic liver diseases are:
• Hemochromatosis
• Wilson's disease
• Alpha-1 antitrypsin deficiency

4. Cancer and other growths
Cancerous cell can grow in any region of the body. These cells spread and cause tumours which make the organ inefficient to function. Examples of the cancers that cause liver damage include:
• Liver cancer
• Bile duct cancer
• Liver adenoma

5. Other causes
With the above mentioned causes there are some other common causes of liver disease, which include:
• Chronic alcohol abuse
• Fat accumulation in the liver, also called non-alcoholic fatty liver disease
• Certain medications (prescription or over-the-counter)
• Certain herbal compounds

Some serious causes lead to harmful repercussions. Thus being aware is very important as once it is known, there are many treatments available for liver disease cure.

Liver disease symptoms

Liver disease symptoms are dependent on the exact type of liver disease that has caused. Some of liver disease symptoms are:
• jaundice
• abdominal pain and swelling
• itchy skin
• dark urine color
• nausea
• vomiting
• chronic fatigue
• pale stool color
• bloody stool
• tar-colored stool
• swelling in the ankles and legs
• loss of appetite
• easy bruising
Many liver disease treatments are available for severe liver disease symptoms.

liver disease

Liver disease treatment

Liver disease treatment means treating the cause that is irritating the liver. For example, if someone is infected with Hepatitis C, the treatment will be for Hepatitis C. If someone drinks excessive alcohol, the treatment will be to stop them from drinking alcohol. Whatever the cause of the liver disease is, it is first thing that is treated which will ultimately allow the liver to start healing by itself, as the liver can actually repair some of the damage that is done by itself.

There are many treatments available for liver disease cure. Depending on the condition affecting the liver, medical treatment are provided, which include:

• antiviral drugs to treat hepatitis

• steroids to reduce liver inflammation

• blood pressure medication

• antibiotics

• medications for specific symptoms, like itchy skin

• vitamins and supplements to boost liver health

If the liver gets excess damage with the cirrhosis and scar tissue, then it can be damaged to an extent where it can no more heal itself and at then, the treatment would be a liver transplant or replacing the liver with a healthy one. Usually, a liver transplant is done only when other treatment options fails.

Can liver disease be prevented?

Liver disease can be prevented by keeping the following in mind:

• Drink alcohol in moderation
For healthy adults the recommended alcohol limit is up to one drink a day for women and up to two drinks a day for men. Excessive or high-risk drinking is considered as more than eight drinks in a week for women and more than 15 drinks in a week for men.

• Avoid risky behaviour
Use a condom during any sexual act.
During the procedures of tattoos or body piercings, ensure that the shop is clean and safe.
Seek help if addicted to use of illegal intravenous drugs, and never share needles to inject drugs.

• Get vaccinated
If you are at more prone to contracting hepatitis or if you have ever been infected with the hepatitis virus, consult your doctor and get hepatitis A and hepatitis B vaccines.

• Use medications wisely
Use of prescription and non prescription drugs should be done only when required and in recommended doses only. Never mix or consume medications with alcohol. Consult your doctor before mixing herbal supplements or prescription or non prescription drugs.

• Avoid contact with body fluids and blood of other people
Hepatitis viruses can be spread by needle sticks or improper cleanup of blood or body fluids. This decreases the risk of contracting Hepatitis B and C.
Do not share personal items that might have blood on them such; as Razors, Toothbrushes, Manicuring tools, pierced earrings; as it can transmit diseases.

• Keep your food safe
Ensure to wash hands meticulously before eating or preparing foods. Ensure cleanliness and safety of restaurants you go to.

• Take care with aerosol sprays
Ensure to use this stuff in a well-ventilated area, with a mask when spraying insecticides, fungicides, paint and other harmful chemicals. Ensure to follow the instructions given.

• Protect your skin.
When using insecticides and other harmful chemicals; wear gloves, long sleeves, a hat and a mask so that chemicals aren't absorbed through the skin.

• Maintain a healthy weight
This is significant as obesity can cause non-alcoholic fatty liver disease.

• Healthcare and public safety workers, should always follow routine barrier precautions and safely handle needles and other sharp instruments.

• Wear gloves when touching or cleaning up body fluids on items such as bandages, band-aids, tampons and linens.

• Cover open cuts or wounds

• If you are a frequent traveller to high risk regions of hepatitis, take the following precautions:
Drink bottled water.
Avoid ice chips.
Wash fruits well.
Eat well-cooked food.
At least one month before travel, consult your doctor if you need a hepatitis vaccine or immune globulin shot.

When should you visit the doctor for liver disease?

Usually, the beginning of a liver disease is steady and there are no specific symptoms that bring it to attention. When a person undergoes unexplained fatigue, weakness and weight loss, he/she should prompt a visit for medical examination. Jaundice or yellow skin is never normal and should immediately be followed by a doctor visit. Persistent fever, vomiting, and abdominal pain should also call for a doctor visit as soon as possible. Such condition would require liver disease treatment as soon as possible.
Acetaminophen or Tylenol overdose can cause acute liver failure. In such case, emergent examination and treatment is required. There are many treatments available for liver disease cure. Like antidotes to protect the liver can be provided, but are effective only when given within a few hours. Without this, acetaminophen overdose can lead to liver failure. Symptoms for this condition only occur after potential liver damage has been caused.

Early Diagnosis of Liver Disease is Very Important

Early diagnosis of liver disease may prevent damage that could have been caused to the liver. If the diagnosis is done when some scar tissue has already formed, the liver can still repair and even regenerate itself. Because of this, any damage from liver disease can usually be reversed with a well-managed treatment plan, unless the damage is done to an extent where liver stops performing its functions. Once the disease is diagnosed then there are many treatments available for liver disease cure.
Many people with liver disease do not look or feel sick even while damage is happening to their liver. At a certain point the damage can become irreversible and lead to liver failure, liver cancer, or even death.

Road to Recovery and After Care

After liver disease treatment, it is essential to ensure excellent care to prevent organ rejection or infection. Ensure the following for recovery.

• Ensure hygienic surroundings

• Take proper diet and nutrition

• Follow appropriate exercise regime

• Go for regular checkups

• Medication
Most vital for the recovery process are the medicines. Ensure to take medications at any cost. It is necessary that the patient's family be familiarized with the medicines and ensures that the patient has taken the medicines.

Related topics:

1. How To Maintain Liver Health Naturally?

Healthy diet for healthy liver is the key solution. Natural remedies like balanced diet by having food and drinks like coffee/green tea, oatmeal, grapefruit & avoiding fatty/sugary food. To know more visit: How To Maintain Liver Health Naturally

2. Ways To Boost Liver Health

Maintaining a good liver health is very crucial. Not treating it right, may lead you to some serious health issues because everything you consume passes through it. To know more visit: Ways To Boost Liver Health

3. Signs And Symptoms of Liver Disease

The liver performs a variety of important roles, including removing toxins from the body. Learn about potential liver disorders and how to prevent them. To know more visit: Signs And Symptoms of Liver Disease

4. How Long Do We Need to Take Liver Supplements?

Supplements for the liver claim to aid in the maintenance of a healthy liver. Here's where you can learn more about whether liver supplements function and how to keep your liver in good shape. To know more visit: How Long Do We Need to Take Liver Supplements

5. Do Liver Supplements Have Any Side Effects?

In addition to storing and releasing energy from foods, Liver acts as your body’s natural filter.But Do liver supplements work? Liver supplement labels claim their products will “detoxify,” “regenerate,” and “rescue” your liver. To know more visit: Do Liver Supplements Have Any Side Effects

6. Curcumin for Liver

Turmeric contains the chemical curcumin. Curcumin and other chemicals in turmeric for Liver might decrease swelling (inflammation). Because of this, turmeric might be beneficial for treating liver health. To know more visit: Does Turmeric Have Any Role In Maintaining Liver Health

7. Is Eating Fast Food Harmful For Liver?

Combination of fast food and lack of physical activity can cause substantial liver damage. Foods which are high in fat, salt/sodium and sugar content like fried/fats food are harmful for your health, especially liver health. To know more visit: Is Eating Fast Food Harmful For Liver




The above essentials are available with LIVOCUMIN

Livocumin is the combination of natural ingredients like Curcumin, Ardraka (Ginger), Katuka, Yavakshara, Chitraka, March (Black pepper), Sarjikakshara, Amlakai (Amla), Chuna, Haritaki in the management of NAFLD (Non Alcoholic Fatty Liver Disease), Infective Hepatitis, Gall Stones, Jaundice & Indigestion.

Nutralogicx: Livocumin



क्या लिवर की बीमारी ठीक हो सकती है

जिगर का कार्य क्या है?

इसके कार्य के एक हिस्से के रूप में, जिगर पित्त का उत्पादन करता है, एक तरल पदार्थ जिसमें पानी, रसायन, पित्त एसिड (जिगर में संग्रहीत कोलेस्ट्रॉल से बना) और कुछ अन्य पदार्थ होते हैं। पित्त पित्ताशय की थैली के भीतर जमा होता है और जब भोजन ग्रहणी (छोटी आंत का पहला भाग) में प्रवेश करता है, तो भोजन की पाचन प्रक्रिया में मदद करने के लिए पित्त ग्रहणी में स्रावित होता है।

यकृत का कार्य

मानव शरीर में लिवर एकमात्र ऐसा अंग है जो आसानी से क्षतिग्रस्त कोशिकाओं की जगह ले सकता है, लेकिन यदि प्रक्रिया में अतिरिक्त कोशिकाएं खो जाती हैं, तो लीवर शरीर की आवश्यकताओं को पूरा करने में सक्षम नहीं हो सकता है।
यकृत को अक्सर एक कारखाना माना जाता है और विभिन्न कार्यों को करता है, जिसमें शामिल हैं:
• पित्त का उत्पादन जो भोजन के पाचन में आवश्यक है, विशेष रूप से वसा
• ग्लाइकोजन के रूप में अतिरिक्त ग्लूकोज या चीनी का भंडारण, और फिर इसे ग्लूकोज में परिवर्तित करते समय शरीर ऊर्जा के लिए यह चाहता है
• रक्त के थक्के कारकों में से उत्पादन
• अमीनो एसिड के उत्पादन लाल रक्त कोशिका के उत्पादन के लिए
• लाल रक्त कोशिका के उत्पादन के लिए आवश्यक लोहे का प्रसंस्करण और भंडारण
• वसा परिवहन के लिए आवश्यक कोलेस्ट्रॉल और अन्य रसायनों का उत्पादन
• शरीर के चयापचय से अपशिष्ट उत्पादों को यूरिया में परिवर्तित किया जाता है जो मूत्र में उत्सर्जित होता है
• दवाओं के चयापचय को उनके सक्रिय संघटक में तोड़ने के लिए
यकृत का स्थायी निशान सिरोसिस के रूप में कहा जाता है। सिरोसिस में, सामान्य यकृत कोशिकाओं को निशान ऊतकों द्वारा प्रतिस्थापित किया जाता है जो किसी भी यकृत कार्य को करने में असमर्थ होते हैं।
तीव्र यकृत विफलता की स्थिति ठीक नहीं हो सकती है या नहीं। कुछ अवसरों पर, एक उपचार योग्य कारण होता है और यकृत अपने सामान्य कार्यों को ठीक करने और जारी रखने में सक्षम हो सकता है।

जिगर की बीमारी क्या है?

जिगर की बीमारी किसी भी स्थिति है जो जिगर में जलन या सूजन का कारण बनती है जो बाद में जिगर में निशान ऊतक के गठन का कारण बन सकती है। यकृत में अधिक से अधिक निशान ऊतक के रूप में, सिरोसिस विकसित किया जा सकता है। यह अनिवार्य रूप से जिगर में अंत-चरण निशान ऊतक का मतलब है जहां जिगर अधिक चिकनी, अच्छा और लाल नहीं है। यह एक प्रकार का ढेलेदार, ऊबड़-खाबड़ और गंभीर किस्म का है, और यह इसे उचित रूप से कार्य करने से रोकता है। यकृत रोग के इलाज के लिए कई उपचार उपलब्ध हैं।

जिगर -01

जिगर की बीमारी किन कारणों से होती है?

लोग आमतौर पर शराब को लिवर की बीमारी का कारण मानते हैं लेकिन यह बहुत बड़ी संख्या में से एक कारण है और यह सामान्य कारण भी नहीं है। सबसे आम यकृत रोग वर्तमान में वसायुक्त यकृत है, जहां वसा वास्तव में यकृत में जमा होता है। इससे यकृत में जलन और सूजन हो सकती है और फिर निशान ऊतक विकास हो सकता है।

जिगर की बीमारी के कई कारण हैं, जिनमें शामिल हैं:

1. संक्रमण
कई परजीवी और वायरस जिगर को संक्रमित कर सकते हैं, जिससे सूजन होती है जो जिगर को कार्य करने में अक्षम बनाता है। ये वायरस रक्त, वीर्य, दूषित भोजन और पानी या संक्रमित व्यक्ति के साथ निकट संपर्क के माध्यम से प्रेषित हो सकते हैं। हेपेटाइटिस वायरस के कारण सबसे आम प्रकार के यकृत संक्रमण होते हैं, जिनमें शामिल हैं:
• हेपेटाइटिस ए
• हेपेटाइटिस बी
• हेपेटाइटिस सी

2. इम्यून सिस्टम की असामान्यताएं
रोग जिसमें शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली शरीर के कुछ अन्य हिस्सों (ऑटोइम्यून) पर हमला करती है, यकृत को भी प्रभावित कर सकती है। ऐसे ऑटोइम्यून लिवर रोगों के कुछ उदाहरण हैं:
• ऑटोइम्यून हेपेटाइटिस
• प्राथमिक पित्तवाहिनीशोथ
• प्राइमरी स्केलेरोसिंग कोलिन्जाइटिस

3. आनुवंशिक विकार
एक असामान्य जीन जो एक या दोनों माता-पिता से विरासत में मिला है, यकृत में विभिन्न पदार्थों का निर्माण कर सकता है, जिसके परिणामस्वरूप जिगर की क्षति हो सकती है। इस तरह के आनुवंशिक यकृत रोग के उदाहरण हैं:
• हेमोक्रोमैटोसिस
• विल्सन के रोग
• अल्फा -1 ऐन्टीट्रिप्सिन की कमी

4. कैंसर और अन्य वृद्धि
कैंसर कोशिका शरीर के किसी भी क्षेत्र में बढ़ सकती है। ये कोशिकाएं फैलती हैं और ट्यूमर का कारण बनती हैं जो अंग को कार्य करने में अक्षम बनाती हैं। यकृत को नुकसान पहुंचाने वाले कैंसर के उदाहरणों में शामिल हैं:
• लिवर कैंसर
• पित्त नली का कैंसर
• यकृत एडेनोमा

5. अन्य कारण
उपरोक्त कारणों से यकृत रोग के कुछ अन्य सामान्य कारण हैं, जिनमें शामिल हैं:
• पुरानी शराब का दुरुपयोग
• जिगर में वसा का संचय, जिसे गैर-मादक वसायुक्त यकृत रोग भी कहा जाता है
• कुछ दवाएं (डॉक्टर के पर्चे या ओवर-द-काउंटर)
• कुछ हर्बल यौगिक

कुछ गंभीर कारणों से हानिकारक नतीजे हो सकते हैं। इस प्रकार जागरूक होना बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि एक बार यह ज्ञात हो जाता है, यकृत रोग के इलाज के लिए कई उपचार उपलब्ध हैं।

जिगर की बीमारी के सामान्य लक्षण क्या हैं?

जिगर की बीमारी से जुड़े लक्षण उस प्रकार के यकृत रोग पर निर्भर होते हैं, जो उत्पन्न हुआ है। लिवर की बीमारी के कुछ लक्षण और लक्षण इस प्रकार हैं:
• पीलिया
• पेट में दर्द और सूजन
• खुजली वाली त्वचा
• गहरे रंग का मूत्र
• मतली
• उल्टी
• पुरानी थकान
• पीला मल का रंग
• खूनी मल
• टार-रंग का मल
• टखनों और पैरों में सूजन
• भूख न लगना
• आसान चोट लगना
गंभीर लक्षणों के लिए कई यकृत रोग उपचार उपलब्ध हैं।

जिगर की बीमारी

जिगर की बीमारी का इलाज

लिवर की बीमारी के इलाज का मतलब है कि लीवर में जलन पैदा करने वाले कारण का इलाज करना। उदाहरण के लिए, यदि कोई हेपेटाइटिस सी से संक्रमित है, तो उपचार हेपेटाइटिस सी के लिए होगा। यदि कोई अत्यधिक शराब पीता है, तो उपचार उन्हें शराब पीने से रोकना होगा। लीवर की बीमारी का कारण जो भी हो, यह पहली बात है कि इलाज किया जाता है जो अंततः यकृत को अपने आप से चिकित्सा शुरू करने की अनुमति देगा, क्योंकि यकृत वास्तव में स्वयं द्वारा किए गए कुछ नुकसान की मरम्मत कर सकता है।

यकृत रोग के इलाज के लिए कई उपचार उपलब्ध हैं। यकृत को प्रभावित करने वाली स्थिति के आधार पर, चिकित्सा उपचार प्रदान किया जाता है, जिसमें शामिल हैं:

• हेपेटाइटिस के इलाज के लिए एंटीवायरल ड्रग्स

• जिगर की सूजन को कम करने के लिए स्टेरॉयड

• रक्तचाप की दवा

• एंटीबायोटिक्स

• खुजली वाले त्वचा जैसे विशिष्ट लक्षणों के लिए दवाएं

• जिगर स्वास्थ्य को बढ़ावा देने के लिए विटामिन और पूरक

यदि सिरोसिस और निशान ऊतक के साथ यकृत को अतिरिक्त नुकसान होता है, तो यह एक हद तक क्षतिग्रस्त हो सकता है जहां यह खुद को और अधिक चंगा नहीं कर सकता है और फिर, उपचार यकृत प्रत्यारोपण होगा या एक स्वस्थ के साथ जिगर की जगह होगी। आमतौर पर, एक यकृत प्रत्यारोपण तभी किया जाता है जब अन्य उपचार विकल्प विफल हो जाते हैं।

क्या लीवर की बीमारी को रोका जा सकता है?

निम्नलिखित को ध्यान में रखकर जिगर की बीमारी को रोका जा सकता है:

• संयम में शराब पीना
स्वस्थ वयस्कों के लिए अनुशंसित शराब की सीमा एक दिन में महिलाओं के लिए एक पेय और पुरुषों के लिए एक दिन में दो पेय तक है। अत्यधिक या उच्च जोखिम वाले पेय को महिलाओं के लिए एक सप्ताह में आठ से अधिक पेय और पुरुषों के लिए एक सप्ताह में 15 से अधिक पेय माना जाता है।

• जोखिम भरे व्यवहार से बचें
किसी भी यौन कार्य के दौरान कंडोम का उपयोग करें।
टैटू या बॉडी पियर्सिंग की प्रक्रियाओं के दौरान, सुनिश्चित करें कि दुकान साफ और सुरक्षित हो।
यदि अवैध रूप से अंतःशिरा दवाओं के उपयोग के आदी हैं तो मदद लें, और ड्रग्स को इंजेक्ट करने के लिए सुइयों को साझा न करें।

• टीकाकरण करवाएं
यदि आप हेपेटाइटिस के संपर्क में आने की अधिक संभावना रखते हैं या यदि आप कभी भी हेपेटाइटिस वायरस से संक्रमित हुए हैं, तो अपने डॉक्टर से परामर्श करें और हेपेटाइटिस ए और हेपेटाइटिस बी के टीके लगवाएं।

• दवाओं का प्रयोग समझदारी से करें
डॉक्टर के पर्चे और गैर पर्चे वाली दवाओं का उपयोग केवल आवश्यक होने पर और अनुशंसित खुराक में ही किया जाना चाहिए। शराब के साथ दवाओं को कभी भी मिलाएं या सेवन न करें। हर्बल सप्लीमेंट या प्रिस्क्रिप्शन या नॉन प्रिस्क्रिप्शन दवाओं को मिलाने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह लें।

• शरीर के तरल पदार्थ और अन्य लोगों के रक्त के संपर्क में आने से बचें
हेपेटाइटिस के वायरस सुई की छड़ें या रक्त या शरीर के तरल पदार्थ के अनुचित सफाई से फैल सकते हैं। यह हेपेटाइटिस बी और सी के अनुबंध के जोखिम को कम करता है।
व्यक्तिगत वस्तुओं को साझा न करें जो उन पर रक्त हो सकते हैं; रेजर के रूप में, टूथब्रश, मैनीक्योरिंग उपकरण, छेदा झुमके; क्योंकि यह बीमारियों को प्रसारित कर सकता है।

• अपने भोजन को सुरक्षित रखें
खाद्य पदार्थ खाने या तैयार करने से पहले सावधानीपूर्वक हाथ धोना सुनिश्चित करें। आपके द्वारा जाने वाले रेस्तरां की स्वच्छता और सुरक्षा सुनिश्चित करें।

• एरोसोल स्प्रे के साथ देखभाल करें
कीटनाशक, कवकनाशी, पेंट और अन्य हानिकारक रसायनों का छिड़काव करते समय एक मास्क के साथ एक अच्छी तरह हवादार क्षेत्र में इस सामान का उपयोग करना सुनिश्चित करें। दिए गए निर्देशों का पालन करना सुनिश्चित करें।

• अपने त्वचा की रक्षा करें
कीटनाशक और अन्य हानिकारक रसायनों का उपयोग करते समय; दस्ताने, लंबी आस्तीन, एक टोपी और एक मुखौटा पहनें ताकि रसायन त्वचा के माध्यम से अवशोषित न हों।

• स्वस्थ वजन बनाए रखें
यह महत्वपूर्ण है क्योंकि मोटापा गैर-मादक फैटी लीवर रोग का कारण बन सकता है।

• स्वास्थ्य सेवा और सार्वजनिक सुरक्षा कर्मचारियों को हमेशा नियमित अवरोधक सावधानियों का पालन करना चाहिए और सुरक्षित रूप से सुइयों और अन्य तेज उपकरणों को संभालना चाहिए।

• बॉडी फ्लूड्स जैसे बैंडेज, बैंड-एड्स, टैम्पोन और लिनन को छूने या साफ करने के दौरान दस्ताने पहनें।

• खुले कट या घाव को कवर करें

• यदि आप हेपेटाइटिस के उच्च जोखिम वाले क्षेत्रों के लिए लगातार यात्री हैं, तो निम्न सावधानियां बरतें:
बोतलबंद पानी पिएं।
बर्फ के चिप्स से बचें।
फलों को अच्छे से धोएं।
सुपाच्य भोजन करें।
यात्रा से कम से कम एक महीने पहले, अपने डॉक्टर से परामर्श करें यदि आपको हेपेटाइटिस के टीके या इम्यून ग्लोब्युलिन शॉट की आवश्यकता है।

जिगर की बीमारी के लिए आपको डॉक्टर से कब मिलना चाहिए?

आमतौर पर, एक जिगर की बीमारी की शुरुआत स्थिर होती है और कोई विशिष्ट लक्षण नहीं होते हैं जो इसे ध्यान में लाते हैं। जब कोई व्यक्ति अस्पष्टीकृत थकान, कमजोरी और वजन घटाने से गुजरता है, तो उसे चिकित्सा परीक्षा के लिए यात्रा पर जाना चाहिए। पीलिया या पीली त्वचा कभी भी सामान्य नहीं होती है और इसके तुरंत बाद डॉक्टर से मिलना चाहिए। लगातार बुखार, उल्टी और पेट में दर्द के लिए जल्द से जल्द डॉक्टर की यात्रा के लिए भी फोन करना चाहिए। ऐसी स्थिति में यकृत रोग के उपचार की आवश्यकता होगी जितनी जल्दी हो सके।
एसिटामिनोफेन या टाइलेनॉल ओवरडोज से लीवर की खराबी हो सकती है। ऐसे मामले में, आकस्मिक परीक्षा और उपचार की आवश्यकता होती है। यकृत रोग के इलाज के लिए कई उपचार उपलब्ध हैं। जैसे जिगर की रक्षा के लिए एंटीडोट्स प्रदान किए जा सकते हैं, लेकिन केवल कुछ घंटों के भीतर ही प्रभावी होते हैं। इसके बिना, एसिटामिनोफेन ओवरडोज से लीवर फेल हो सकता है। इस स्थिति के लक्षण केवल यकृत के खराब होने के कारण होते हैं।

जिगर की बीमारी का प्रारंभिक निदान बहुत महत्वपूर्ण है

यकृत रोग का शीघ्र निदान उस क्षति को रोक सकता है जो यकृत के कारण हो सकती है। यदि निदान तब किया जाता है जब कुछ निशान ऊतक पहले ही बन चुके होते हैं, यकृत अभी भी मरम्मत कर सकता है और यहां तक कि खुद को पुन: उत्पन्न कर सकता है। इस वजह से, यकृत रोग से किसी भी नुकसान को आमतौर पर एक अच्छी तरह से प्रबंधित उपचार योजना के साथ उलटा किया जा सकता है, जब तक कि क्षति एक हद तक नहीं होती है जहां यकृत अपने कार्यों को करना बंद कर देता है। एक बार जब बीमारी का निदान हो जाता है तो यकृत रोग के इलाज के लिए कई उपचार उपलब्ध हैं।
जिगर की बीमारी वाले कई लोग अपने जिगर को नुकसान पहुंचाते हुए भी बीमार नहीं दिखते या महसूस नहीं करते हैं। एक निश्चित बिंदु पर क्षति अपरिवर्तनीय हो सकती है और यकृत की विफलता, यकृत कैंसर, या मृत्यु भी हो सकती है।

स्वास्थ्य लाभ और देखभाल का मार्ग

जिगर की बीमारी के उपचार के बाद, अंग की अस्वीकृति या संक्रमण को रोकने के लिए उत्कृष्ट देखभाल सुनिश्चित करना आवश्यक है। वसूली के लिए निम्नलिखित सुनिश्चित करें।

• स्वच्छ वातावरण सुनिश्चित करें

• उचित आहार और पोषण लें

• उपयुक्त व्यायाम शासन का पालन करें

• नियमित जांच के लिए जाएं

• दवा
स्वास्थ्य लाभ की प्रक्रिया के लिए दवा सबसे महत्वपूर्ण है। किसी भी कीमत पर दवाएं लेना सुनिश्चित करें। यह आवश्यक है कि रोगी के परिवार को दवाओं से परिचित किया जाए और यह सुनिश्चित किया जाए कि रोगी ने दवाएं ली हैं।

संबंधित विषय:

1. स्वाभाविक रूप से जिगर के स्वास्थ्य को कैसे बनाए रखें?

स्वस्थ जिगर के लिए स्वस्थ आहार महत्वपूर्ण समाधान है। संतुलित आहार जैसे प्राकृतिक आहार जैसे कॉफी / ग्रीन टी, दलिया, अंगूर और वसायुक्त / शक्करयुक्त भोजन से परहेज करना। अधिक यात्रा के बारे में जानने के लिए:प्राकृतिक रूप से जिगर के स्वास्थ्य को कैसे बनाए रखें

2. जिगर के स्वास्थ्य को बढ़ावा देने के तरीके

एक अच्छा जिगर स्वास्थ्य बनाए रखना बहुत महत्वपूर्ण है। इसे सही नहीं मानने से आप कुछ गंभीर स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं से ग्रस्त हो सकते हैं क्योंकि आप जो कुछ भी खाते हैं वह उसी से होकर गुजरता है। अधिक यात्रा जानने के लिए: लिवर स्वास्थ्य को बढ़ावा देने के तरीके

3. लिवर की बीमारी के लक्षण

यकृत शरीर से विषाक्त पदार्थों को निकालने सहित कई महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। संभावित यकृत विकारों और उन्हें रोकने के तरीके के बारे में जानें। अधिक जाने के लिए:लिवर की बीमारी के लक्षण

4. हमें कब तक लीवर सप्लीमेंट लेने की आवश्यकता ह?

जिगर के लिए पूरक एक स्वस्थ जिगर के रखरखाव में सहायता करने का दावा करते हैं। यहाँ आप यकृत के कार्य करने और अपने जिगर को अच्छे आकार में रखने के तरीके के बारे में अधिक जान सकते हैं। अधिक यात्रा जानने के लिए: हमें कब तक लीवर सप्लीमेंट लेने की आवश्यकता है

5. क्या लीवर की खुराक का कोई दुष्प्रभाव है?

भंडारण और खाद्य पदार्थों से ऊर्जा जारी करने के अलावा, लिवर आपके शरीर के प्राकृतिक फिल्टर के रूप में कार्य करता है। लेकिन क्या लीवर की खुराक काम करती है? लीवर सप्लीमेंट लेबल का दावा है कि आपके उत्पाद आपके लिवर को “डिटॉक्सिफाई”, “पुनर्जीवित” और “रेस्क्यू” करेंगे। अधिक यात्रा जानने के लिए: क्या लीवर की खुराक का कोई दुष्प्रभाव है

6. क्या हल्दी का लिवर स्वास्थ्य को बनाए रखने में कोई भूमिका है?

हल्दी में केमिकल करक्यूमिन होता है। हल्दी में करक्यूमिन और अन्य रसायन सूजन (सूजन) को कम कर सकते हैं। इस वजह से हल्दी लीवर की सेहत के लिए फायदेमंद हो सकती है। अधिक यात्रा को जानने के लिए:क्या हल्दी की लीवर स्वास्थ्य को बनाए रखने में कोई भूमिका है

7. क्या फास्ट फूड खाना लिवर के लिए हानिकारक है?

फास्ट फूड के संयोजन और शारीरिक गतिविधि की कमी से यकृत को काफी नुकसान हो सकता है। जो खाद्य पदार्थ वसा, नमक / सोडियम और चीनी सामग्री जैसे तले हुए / वसा वाले भोजन में उच्च होते हैं, वे आपके स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होते हैं, विशेषकर यकृत स्वास्थ्य के लिए। अधिक यात्रा जानने के लिए:क्या लिवर के लिए फास्ट फूड खाना हानिकारक है




उपर ब्लॉग में बताई गई आवश्यक चीजें लिवोकेमिन के साथ उपलब्ध हैं

नेवफ्लड (नॉन अल्कोहलिक फैटी लिवर डिजीज) के प्रबंधन में लिवोकेमिन प्राकृतिक तत्व जैसे कॉर्किमिन, अर्द्राका (अदरक), कतुका, यवक्षरा, चित्रका, मार्च (काली मिर्च), सरजिक्क्षरा, अमलाकाई (आंवला), चूना, हरीताकी का संयोजन है। संक्रामक हेपेटाइटिस, पित्त पथरी, पीलिया और अपच।

न्यूट्रोग्लिग्क्स: लिवोकुमिन

AFDIL Ltd.
+91 9920121021

order@afdil.com

Read Also:


Disclaimer
Home