Bronchitis and its remedies

What is bronchitis?

Bronchitis occurs when the bronchioles (air-carrying tubes in the lungs) are inflamed and make too much mucus. There are two basic types of bronchitis:

Chronic bronchitis is defined as cough productive of sputum that persists for three months out of the year for at least two consecutive years. The cough and inflammation may be caused by initial respiratory infection or illness, exposure to tobacco smoke or other irritating substances in the air. Chronic bronchitis can cause airflow obstruction and then is grouped under the term chronic obstructive pulmonary disease (COPD).

Acute or short-term bronchitis is more common and usually is caused by a viral infection. Episodes of acute bronchitis can be related to and made worse by smoking. Acute bronchitis could last for 10 to 14 days, possibly causing symptoms for three weeks. Bronchitis home remedies should be started in acute phase itself.

Bronchitis

Causes

Causes of acute bronchitis include viral and bacterial infections, environmental factors, and other lung conditions.
Viral infection: Viruses cause 85 to 95 percentTrusted Source of acute bronchitis cases in adults. The same viruses that cause the common cold or flu can cause acute bronchitis.
Bacterial infection: In rare cases, bacterial bronchitis can develop after a viral infection of bronchitis. This can result from infections by bacteria such as Mycoplasma pneumoniae, Chlamydia pneumoniae, and Bordetella pertussis (which causes whooping cough).
Irritants: Breathing in irritants such as smoke, smog, or chemical fumes can cause inflammation in your trachea and bronchial tubes. This can lead to acute bronchitis. Other lung conditions: People with chronic bronchitis or asthma sometimes develop acute bronchitis. In these cases, acute bronchitis isn’t likely to be contagious because it’s not caused by an infection.Quit smoking and start salt water gargles which can be good bronchitis home remedies.
Risk factors
Factors that increase your risk of acute bronchitis include:
•breathing in cigarette smoke, including secondhand smoke
•low resistance to illnesses or a weakened immune system
•gastric reflux
•frequent exposure to irritants, including dust or chemical fumes
•lack of vaccinations for the flu, pneumonia, and whooping cough
•age older than 50 years

bronchitis and its causes

What are the types of bronchitis?

There are two types of bronchitis
1) acute bronchitis
2) chronic bronchitis.

What is acute bronchitis?
Acute bronchitis is inflammation of the bronchial tubes (the airways that allow air to pass from the mouth to the lungs) that usually is caused by viruses or bacteria. Although other irritants for example, smoke or pollution, also may cause the disease, they are far less frequent causes.
When you have acute bronchitis, the cells that line your airways, called bronchi, become inflamed. The infection usually starts in the nose or throat and travels to the lungs. When the body tries to fight the infection, it causes the tubes leading to your lungs to swell. This causes you to cough. Sometimes it is a dry cough, but often you will cough up mucus.Because your airways are swollen, less air can move through the tubes to your lungs. This can cause wheezing, chest tightness, and shortness of breath.
Eventually, your body fights the infection and heals. Acute bronchitis usually lasts for 3 to 10 days. However, you may cough and produce mucus for several weeks after the infection heals.

Etiology
Acute bronchitis is caused by infection of the large airways commonly due to viruses and is usually self-limiting. Bacterial infection is uncommon. Approximately 95% of acute bronchitis in healthy adults are secondary to viruses. It can sometimes be caused by allergens, irritants, and bacteria. Irritants include smoke inhalation, polluted air inhalation, dust, among others.

Epidemiology
Acute bronchitis is one of the common presentations in any healthcare setting. It is estimated that every year, 5% of the general population reports an episode of acute bronchitis, accounting for more than 10 million office visits yearly. Like most of the viral diseases of the respiratory tract, acute bronchitis is commonly seen during the flu season. In the United States, flu season is common during autumn and winter. It can follow any viral upper respiratory infection (URI). The common pathogens are a respiratory syncytial virus, Influenza virus A and B, Parainfluenza, rhinovirus, and similar viruses.
Factor like a history of smoking, living in a polluted place, crowding, and a history of asthma, are all risk factors for acute bronchitis. In some people, acute bronchitis can be triggered by particular allergens like pollens, perfume, and vapors.
When the infection is bacterial, the isolated pathogens are usually the same as those responsible for community-acquired pneumonia, for example, Streptococcus pneumonia and Staphylococcus aureus.

Pathophysiology
Acute bronchitis is the result of acute inflammation of the bronchi secondary to various triggers, most commonly viral infection, allergens, pollutants, etc. Inflammation of the bronchial wall leads to mucosal thickening, epithelial-cell desquamation, and denudation of the basement membrane. At times, a viral upper respiratory infection can progress to infection of the lower respiratory tract resulting in acute bronchitis.

History and Physical
An acute bronchitis patient presents with a productive cough, malaise, difficulty breathing, and wheezing. Usually, their cough is the predominant complaint and is clear or yellowish, although sometimes it can be purulent. Purulent sputum does not correlate with bacterial infection or antibiotic use. Cough after acute bronchitis typically persists for 10 to 20 days but occasionally may last for 4 or more weeks. The median duration of cough after acute bronchitis is 18 days .Paroxysms of cough accompanied by inspiratory whoop or post-tussive emesis should raise concerns for pertussis. A prodrome of URI symptoms like runny nose, sore throat, fever, and malaise are common. A low-grade fever may be present as well. High-grade fevers in the setting of acute bronchitis are unusual and further diagnostic workup is required.
On physical exam, lung auscultation may be significant for wheezing; pneumonia should be suspected when rales, rhonchi or egophony are appreciated. Tachycardia can be present reflecting fever as well as dehydration secondary to the viral illness. Rest of the systems are typically within normal limits.

Evaluation
Acute bronchitis is a clinical diagnosis based on history, past medical history, lung exam, and other physical findings. Oxygen saturation plays an important role in judging the severity of the disease along with the pulse rate, temperature, and respiratory rate. No further workup is needed if vital signs are normal, no exam findings suggestive of pneumonia. An exception to this rule is elderly patients >75 years old. Also, further workup is needed when pneumonia is suspected, clinical diagnosis is in question or in cases of high suspicion for influenza or pertussis.
Chest x-ray findings are not specific and are typically normal. Occasionally, chest x-ray demonstrates increased interstitial markings consistent with thickening of bronchial walls. A chest x-ray differentiates pneumonia from acute bronchitis when infiltrates are seen. Evidence-based guidelines from the American College of Chest Physicians(ACCP) recommends obtaining a CXR only when heart rate > 100/min, respiratory rate >24 breaths/min, oral body temperature > 38 degree C and chest examination findings of egophony or fremitus.
Complete blood count and chemistry may be ordered as a workup for fever. White blood count might be mildly elevated in some cases of acute bronchitis. Blood chemistry can reflect dehydration changes.
Routine use of rapid microbiological testing is not cost-effective and would not change management except during influenza season and in cases with high suspicion of pertussis or other bacterial infection. Gram stain and bacterial sputum cultures are specifically discouraged bacteria is rarely the causative agent.

Is acute bronchitis contagious?
The majority of people with acute bronchitis are contagious if the cause is an infectious agent such as a virus or bacterium. The contagious period for both bacteria and viruses is usually as long as the patient has symptoms although for a few viruses, then maybe contagious a few days before symptoms appear. Contagious viruses that may cause acute bronchitis are listed in the causes section. Tracheobronchitis (inflammation of both the bronchiole(s) and the trachea) may lead to lung infections (respiratory infections like pneumonia).
People usually are less likely to be contagious as the symptoms wane. However, acute bronchitis caused by the immune system, exposure to pollutants, tobacco smoke, or other environmental chemicals or toxins that are bronchiole and/or lung irritants are not contagious.

What is chronic bronchitis?
Chronic bronchitis is a type of COPD (chronic obstructive pulmonary disease). COPD is a group of lung diseases that make it hard to breathe and get worse over time. The other main type of COPD is emphysema. Most people with COPD have both emphysema and chronic bronchitis, but how severe each type is can be different from person to person.
Chronic bronchitis is inflammation (swelling) and irritation of the bronchial tubes. These tubes are the airways that carry air to and from the air sacs in your lungs. The irritation of the tubes causes mucus to build up. This mucus and the swelling of the tubes make it harder for your lungs to move oxygen in and carbon dioxide out of your body.
Chronic bronchitis occurs when the lining of the bronchial tubes repeatedly becomes irritated and inflamed. The continuous irritation and swelling can damage the airways and cause a buildup of sticky mucus, making it difficult for air to move through the lungs. This leads to breathing difficulties that gradually get worse. The inflammation can also damage the cilia, which are the hair-like structures that help to keep the air passages free of germs and other irritants. When the cilia don’t work properly, the airways often become a breeding ground for bacterial and viral infections.
Infections typically trigger the initial irritation and swelling that lead to acute bronchitis. Chronic bronchitis, however, is most commonly caused by cigarette smoking. In fact, over 90 percent of those with the disease have a history of smoking. Inhaling cigarette smoke temporarily paralyzes the cilia, so frequent smoking over an extended period can severely damage the cilia. Chronic bronchitis may develop over time due to this damage.
Secondhand smoke can also contribute to the development of chronic bronchitis. Other possible causes include extended exposure to air pollution, industrial or chemical fumes, and toxic gases. Repeated lung infections may also cause further damage to the lungs and make chronic bronchitis symptoms worse.
After a long period of inflammation and irritation in the bronchial tubes, chronic bronchitis can result in several hallmark symptoms, including a persistent, heavy cough that brings up mucus from the lungs. The mucus may be yellow, green, or white.
As time passes, the amount of mucus gradually increases due to the increased production of mucus in the lungs. The mucus eventually builds up in the bronchial tubes and restricts airflow, causing breathing to become increasingly difficult. This shortness of breath may be accompanied by wheezing that gets worse during any type of physical activity.

Other symptoms of chronic bronchitis may include:
fatigue
a fever
chills
chest discomfort
sinus congestion
bad breath

In the later stages of chronic bronchitis, the skin and lips may develop a bluish color due to a lack of oxygen in the bloodstream. Decreased levels of oxygen in the blood can also lead to peripheral edema, or swelling in the legs and ankles.
As chronic bronchitis progresses, the symptoms can also vary in severity and frequency. For example, a cough may disappear temporarily, only to be followed by a period of more intense coughing. More severe episodes may be triggered by various factors, including:
respiratory tract infections, such as the cold or flu
infections elsewhere in the body
exposure to environmental irritants, such as air pollution or dust
heart conditions

What are the treatments for chronic bronchitis?
There is no cure for chronic bronchitis. However, treatments can help with symptoms, slow the progress of the disease, and improve your ability to stay active. There are also treatments to prevent or treat complications of the disease. Treatments include
• Lifestyle changes, such as Quitting smoking if you are a smoker. This is the most important step you can take to treat chronic bronchitis.Avoiding secondhand smoke and places where you might breathe in other lung irritants these are some bronchitis home remedies.
• Medicines, such as Bronchodilators, which relax the muscles around your airways. This helps open your airways and makes breathing easier. Most bronchodilators are taken through an inhaler. In more severe cases, the inhaler may also contain steroids to reduce inflammation.
• Vaccines for the flu and pneumococcal pneumonia, since people with chronic bronchitis are at higher risk for serious problems from these diseases.
• Antibiotics if you get a bacterial or viral lung infection
• Oxygen therapy, if you have severe chronic bronchitis and low levels of oxygen in your blood. Oxygen therapy can help you breathe better. You may need extra oxygen all the time or only at certain times.
• Pulmonary rehabilitation, which is a program that helps improve the well-being of people who have chronic breathing problems. It may include An exercise program , Disease management training ,Nutritional counselling , Psychological counseling
• A lung transplant, as a last resort for people who have severe symptoms that have not gotten better with medicines
• If you have chronic bronchitis, it's important to know when and where to get help for your symptoms. You should get emergency care if you have severe symptoms, such as trouble catching your breath or talking. Call your health care provider if your symptoms are getting worse or if you have signs of an infection, such as a fever.
• Types of COPD Surgery
• Several types of surgery can treat advanced COPD if other treatments aren’t enough:

Bullectomy
This is surgery to remove large damaged air sacs, called bullae (or blebs), that can form inside your lungs. If they’re removed, you may be able to breathe more easily. But most people don’t have bullae that are big enough for this operation.
• You’ll be under general anesthesia for this operation. The most common complication is an air leak. As with other surgeries, there’s also the risk of infection and post-surgery pain. As you recover, you’ll need to do pulmonary rehabilitation. If you smoke, it’s very important to quit.

Lung volume reduction surgery (LVRS)
• This is used to treat people who have emphysema in the upper lobes of their lungs. Diseased tissue can make an open space in that area, and air can get stuck there. That makes one lung too large, and it fills up with too much air when you breathe in (called hyperinflation). LVRS takes out about a third of the diseased tissue in the upper lobe area of your lung. Even though it makes your lung smaller, it may help the healthy parts of your lungs work better.
• You’ll be under general anesthesia for this surgery. Your surgeon will take out the part of the upper lobe of your lung(s) that’s been damaged by the disease. They may also have to take out some of the healthy air sacs around the damaged part.
• Recovery from LVRS surgery includes being in the hospital for 5-10 days right after the operation and going to pulmonary rehabilitation.
• Endobronchial valves. A newer -- but still rare -- way to treat hyperinflation is to put a tiny, one-way air valve in the diseased lobe. The valve lets air out but not in. Within a few hours, all the air is pushed out.
• To qualify for this type of surgery, you must have damage only in one area of your lung, not all over. Your treated lung can’t get any air from the lobe or lung that borders it. It must be airtight, or the surgery won’t work. You’ll have to get an imaging scan and other tests to be sure valve surgery will work for you. If not, you may still be able to get LVRS.
• If you are a good candidate and decide to get these valves, the doctor will use a thin, flexible tube called a bronchoscope to position the valves in your affected lung. The valves are about the size of a pencil’s eraser. You’ll either be sedated or under general anesthesia during the procedure and you may stay in the hospital for a short time afterward.

Lung transplant
• If your advanced COPD has so severely damaged your lung that it no longer works well, you may qualify for an organ transplant. This is major surgery to remove your diseased lung and replace it with a donated lung.
• This is thought of as a last resort for advanced COPD treatment. Your doctor may recommend it if you have very severe COPD that’s getting worse even with treatment and you have at least one of the following:
• You’ve had to go into the hospital to treat hypercapnia -- too much carbon dioxide in your blood from poor breathing.
• You have pulmonary hypertension or an enlarged heart even though you’re on oxygen therapy.
• You have emphysema throughout your lung.
• You’ll also need to be healthy enough to qualify for a transplant. If you meet the requirements, you’ll go on the wait list of the National Organ Procurement and Transplantation Network. When a donated lung becomes available, you’ll have the lung transplant surgery done in a hospital while you’re under general anesthesia. Your surgeon will cut your chest open, replace the diseased lung with the donated one, reconnect the blood vessels going to that lung, and close up your chest.
• The recovery will start in the hospital’s intensive care unit. You’ll then move to another part of the hospital for up to 3 weeks. You may need to do pulmonary rehabilitation, and you’ll need to take medication for the rest of your life so your body doesn’t reject your transplanted lung. Those medications make you more likely to get infections and over time raise your risk of cancer, diabetes, osteoporosis, and kidney problems. But they’re a key part of helping your lung transplant succeed. You’ll have a lot of check-ups to make sure your donated lung stays healthy and that your body accepts it.

Complications of bronchitis

The most common complication of bronchitis is pneumonia. This can happen if the infection spreads further into the lungs. In a person with pneumonia, the air sacs within the lungs fill with fluid.Pneumonia is more likely to develop in older adults, smokers, those with other medical conditions, and anyone with a weakened immune system. It can be life threatening and needs medical attention.

Infection: You can become more susceptible to another respiratory tract infection if you have bronchitis. If you get another infection while you have acute bronchitis, it can delay your recovery. If you develop a respiratory infection when you have chronic bronchitis, you are essentially having an attack of acute bronchitis on top of your chronic illness. As a result, an episode of acute bronchitis is likely to be more severe and last longer than it would if you didn’t have chronic bronchitis.Pneumonia: If you have bronchitis of any type, your lungs are more likely to become infected, resulting in pneumonia. Pneumonia is a more persistent infection that makes you feel sicker than acute bronchitis does.

Aspiration pneumonia: The coughing of bronchitis can make you choke on your food if you cough while eating. This can cause the food that you eat to go down the wrong pipe, into your lungs, instead of your stomach. Aspiration pneumonia can be a persistent infection that takes a toll on your health and takes months to recover from.

Heart disease: The long-term breathing difficulties of chronic bronchitis can put additional strain on your heart, causing heart disease or exacerbating heart failure.

bronchitis and pneumonia

When to see a doctor ?

Most people with bronchitis can recover at home with rest, anti-inflammatory medication, and plenty of fluids.
However, a person should see a doctor if they have the following:
• a cough that lasts more than 3 weeks
• a fever that lasts 3 days or longer
• blood in their mucus
• rapid breathing, chest pains, or both
• drowsiness or confusion
• recurring or worsening symptoms
• Anyone with an existing lung or heart condition should see a doctor if they start to have symptoms of bronchitis.

Bronchitis home remedies

It is not always possible to prevent acute or chronic bronchitis, but several bronchitis home remedies can reduce the risk.
These include:
• avoiding or quit smoking
• avoiding lung irritants, such as smoke, dust, fumes, vapors, and air pollution
• wearing a mask to cover the nose and mouth when pollution levels are high
• washing the hands often to limit exposure to germs and bacteria
• asking about vaccinations to protect from pneumonia and the flu

1. Ginger
Ginger can have an anti-inflammatory effect against respiratory infection It can be one of the bronchitis home remedies. You can take ginger in several ways:
• Chew dried, crystallized ginger.
• Use fresh ginger to make tea.
• Eat it raw or add it to food.
• Take it in capsule form as directed.
But do not take ginger as a supplement or medication as bronchitis home remedies if you:
• are pregnant or breastfeeding
• have diabetes
• have heart problems
• have any type of blood disorder

2. Garlic
Garlic is said to have countless healing properties. This finding suggests garlic can be used as a natural bronchitis home remedies .
Fresh garlic is best, but if you dislike the taste you may take garlic in capsule form.
Use garlic with caution if you have a bleeding disorder. Always take it in small amounts to make sure it doesn’t upset your stomach.

3. Turmeric
Last bronchitis home remedies include turmeric which is a spice often used in Indian foods. Turmeric also increases antioxidant activity. That means it may help reduce irritation and boost your immunity.

4. Lifestyle changes
A healthy lifestyle goes hand in hand with the prevention of illnesses. It can help you recover faster when you’re sick, too. A minor illness may even be your body’s way of telling you to slow down and take it easy.
The following changes may help improve your recovery and reduce your risk of getting sick in the future:
• Avoid smoking and second-hand smoke environments.
• Avoid polluted environments.
• Wear a surgical mask if you’re exposed to pollution.
• Boost your immunity with a healthy diet.
• Exercise at least 3 times per week for a minimum of 20 minutes each time.
• Wash your hands frequently to prevent the spread of infection.
• Use a humidifier and clean it regularly following the manufacturer’s guidelines.

5. Steam
Steam helps break up mucus so you can expel it more easily. The easiest way to use steam is in the bath or shower. Make your shower as hot as you can handle, step in, then breathe deeply through your mouth and nose.
The hot water will also help relax muscles that may be tense from coughing. You can also visit a steam room at a gym or spa, if one’s available and you have enough energy. It’s best not to soak in a hot bath if you feel ill or short of breath.
Another steam option involves putting hot water in a bowl, covering your head with a towel, and inhaling the steam. Some people add a mentholated vapor rub to the hot water to help with moving mucus. The bowl-and-towel method can be dangerous, though, because the water could be hotter than you intended, which could cause the steam to burn your airways. Do not stay over the hot water for more than a minute or two at a time, and don’t continue to heat the water.

6. Salt water
Gargling salt water may help break up mucus and reduce pain in your throat. Dissolve a teaspoon of salt into a glass of warm water. Sip small amounts of the salt water and gargle at the back of your throat. Do not swallow the water. Instead, spit it out in the sink. Repeat as often as you like. Afterwards, you may want to rinse your mouth with plain water.

7. Sleep
Get plenty of sleep and allow your body to rest. It may be difficult to sleep soundly while fighting a cough, but take care to avoid any unnecessary activity. It is during the deep stages of sleep that you repair and enhance immune function so your body can better fight the inflammation.

Related topics:

1. Why B complex is required
2. Side effects of B complex
3. Sign and-symptoms-of-liver-disease




The above essentials are available with AFD SHIELD.
AFD Shield capsule is a combination of 12 natural ingredients among which are Algal DHA, Ashwagandha, Curcumin and Spirullina. AFD Shield reduces TG, increases HDL and improves age related cognitive decline. It also reduces stress and anxiety and performs anti-aging activity.Moreover, it also enhances the immunomodulatory activity, improves immunity and reduces inflammation and oxidative stress. Nutralogicx: AFD SHIELD

ब्रोंकाइटिस और उसके उपाय

ब्रोंकाइटिस क्या है?

ब्रोंकाइटिस तब होता है जब ब्रोन्किओल्स (फेफड़ों में हवा ले जाने वाली नलियाँ) में सूजन आ जाती है और बहुत अधिक बलगम बन जाता है। ब्रोंकाइटिस के दो बुनियादी प्रकार हैं:

क्रोनिक ब्रॉन्काइटिस को थूक के उत्पादक खांसी के रूप में परिभाषित किया जाता है जो कम से कम दो लगातार वर्षों तक वर्ष में तीन महीने तक बना रहता है। खांसी और सूजन प्रारंभिक श्वसन संक्रमण या बीमारी, तंबाकू के धुएं या हवा में अन्य परेशान करने वाले पदार्थों के संपर्क में आने के कारण हो सकती है। क्रोनिक ब्रोंकाइटिस वायु प्रवाह में रुकावट पैदा कर सकता है और फिर इसे क्रॉनिक ऑब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिजीज (COPD) शब्द के तहत समूहीकृत किया जाता है।

तीव्र या अल्पकालिक ब्रोंकाइटिस अधिक आम है और आमतौर पर वायरल संक्रमण के कारण होता है। तीव्र ब्रोंकाइटिस के एपिसोड धूम्रपान से संबंधित और बदतर हो सकते हैं। तीव्र ब्रोंकाइटिस 10 से 14 दिनों तक रह सकता है, संभवतः तीन सप्ताह तक लक्षण पैदा कर सकता है। ब्रोंकाइटिस के घरेलू उपचार तीव्र चरण में ही शुरू कर देना चाहिए।

ब्रोंकाइटिस

का कारण बनता है

तीव्र ब्रोंकाइटिस के कारणों में वायरल और जीवाणु संक्रमण, पर्यावरणीय कारक और फेफड़ों की अन्य स्थितियां शामिल हैं।
वायरल संक्रमण: वायरस वयस्कों में तीव्र ब्रोंकाइटिस के 85 से 95 प्रतिशत मामलों का कारण बनते हैं। वही वायरस जो सामान्य सर्दी या फ्लू का कारण बनते हैं, तीव्र ब्रोंकाइटिस का कारण बन सकते हैं।
जीवाणु संक्रमण: दुर्लभ मामलों में, ब्रोंकाइटिस के वायरल संक्रमण के बाद जीवाणु ब्रोंकाइटिस विकसित हो सकता है। यह माइकोप्लाज्मा न्यूमोनिया, क्लैमाइडिया न्यूमोनिया और बोर्डेटेला पर्टुसिस (जो काली खांसी का कारण बनता है) जैसे बैक्टीरिया द्वारा संक्रमण के परिणामस्वरूप हो सकता है।
जलन पैदा करने वाले पदार्थ: धुंआ, स्मॉग या रासायनिक धुएं जैसे उत्तेजक पदार्थों में सांस लेने से आपके श्वासनली और ब्रोन्कियल ट्यूबों में सूजन हो सकती है। इससे तीव्र ब्रोंकाइटिस हो सकता है। अन्य फेफड़ों की स्थिति: क्रोनिक ब्रोंकाइटिस या अस्थमा वाले लोग कभी-कभी तीव्र ब्रोंकाइटिस विकसित करते हैं। इन मामलों में, तीव्र ब्रोंकाइटिस संक्रामक होने की संभावना नहीं है क्योंकि यह किसी संक्रमण के कारण नहीं होता है। धूम्रपान छोड़ें और नमक के पानी से गरारे करना शुरू करें जो ब्रोंकाइटिस के लिए अच्छा घरेलू उपचार हो सकता है।
जोखिम कारक
कारक जो आपके तीव्र ब्रोंकाइटिस के जोखिम को बढ़ाते हैं उनमें शामिल हैं:
• सिगरेट के धुएं में सांस लेना, जिसमें सेकेंड हैंड धुएं शामिल हैं
• बीमारियों के लिए कम प्रतिरोध या कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली
• गैस्ट्रिक भाटा
• धूल या रासायनिक धुएं सहित जलन के लगातार संपर्क में आना
• फ्लू, निमोनिया, और काली खांसी के लिए टीकाकरण की कमी
• 50 वर्ष से अधिक आयु

ब्रोंकाइटिस

ब्रोंकाइटिस के प्रकार क्या हैं?

ब्रोंकाइटिस दो प्रकार के होते हैं
1) तीव्र ब्रोंकाइटिस
2) क्रोनिक ब्रोंकाइटिस।

तीव्र ब्रोंकाइटिस क्या है?
तीव्र ब्रोंकाइटिस ब्रोन्कियल ट्यूब (वायुमार्ग जो हवा को मुंह से फेफड़ों तक जाने की अनुमति देता है) की सूजन है जो आमतौर पर वायरस या बैक्टीरिया के कारण होता है। हालांकि अन्य अड़चनें, उदाहरण के लिए, धूम्रपान या प्रदूषण, भी बीमारी का कारण बन सकते हैं, वे बहुत कम लगातार कारण होते हैं।
हालांकि अन्य अड़चनें, उदाहरण के लिए, धूम्रपान या प्रदूषण, भी बीमारी का कारण हो सकते हैं, वे बहुत कम लगातार कारण हैं।
जब आपको तीव्र ब्रोंकाइटिस होता है, तो आपके वायुमार्ग को लाइन करने वाली कोशिकाएं, जिन्हें ब्रोंची कहा जाता है, सूजन हो जाती हैं। संक्रमण आमतौर पर नाक या गले में शुरू होता है और फेफड़ों तक जाता है। जब शरीर संक्रमण से लड़ने की कोशिश करता है, तो यह आपके फेफड़ों की ओर जाने वाली नलियों को सूज जाता है। इससे आपको खांसी होने लगती है। कभी-कभी यह सूखी खांसी होती है, लेकिन अक्सर आपको बलगम वाली खांसी होती है। क्योंकि आपके वायुमार्ग सूज गए हैं, कम हवा आपके फेफड़ों में ट्यूबों के माध्यम से जा सकती है। इससे घरघराहट, सीने में जकड़न और सांस की तकलीफ हो सकती है।
आखिरकार, आपका शरीर संक्रमण से लड़ता है और ठीक हो जाता है। तीव्र ब्रोंकाइटिस आमतौर पर 3 से 10 दिनों तक रहता है। हालांकि, संक्रमण ठीक होने के बाद आपको कई हफ्तों तक खांसी और बलगम का उत्पादन हो सकता है

एटियलजि
तीव्र ब्रोंकाइटिस आमतौर पर वायरस के कारण बड़े वायुमार्ग के संक्रमण के कारण होता है और आमतौर पर आत्म-सीमित होता है। जीवाणु संक्रमण असामान्य है। स्वस्थ वयस्कों में लगभग 95% तीव्र ब्रोंकाइटिस वायरस के लिए माध्यमिक होते हैं। यह कभी-कभी एलर्जी, जलन और बैक्टीरिया के कारण हो सकता है। चिड़चिड़ापन में धूम्रपान साँस लेना, प्रदूषित हवा में साँस लेना, धूल, अन्य शामिल हैं।

महामारी विज्ञान
तीव्र ब्रोंकाइटिस किसी भी स्वास्थ्य देखभाल सेटिंग में आम प्रस्तुतियों में से एक है। यह अनुमान लगाया गया है कि हर साल, सामान्य आबादी का 5% तीव्र ब्रोंकाइटिस के एक प्रकरण की रिपोर्ट करता है, जो सालाना 10 मिलियन से अधिक कार्यालय यात्राओं के लिए जिम्मेदार है। श्वसन पथ के अधिकांश वायरल रोगों की तरह, तीव्र ब्रोंकाइटिस आमतौर पर फ्लू के मौसम में देखा जाता है। संयुक्त राज्य अमेरिका में, शरद ऋतु और सर्दियों के दौरान फ्लू का मौसम आम है। यह किसी भी वायरल अपर रेस्पिरेटरी इंफेक्शन (यूआरआई) का पालन कर सकता है। सामान्य रोगजनक एक श्वसन संक्रांति वायरस, इन्फ्लुएंजा वायरस ए और बी, पैरैनफ्लुएंजा, राइनोवायरस और इसी तरह के वायरस हैं।
धूम्रपान का इतिहास, प्रदूषित स्थान पर रहना, भीड़भाड़ और अस्थमा का इतिहास जैसे कारक तीव्र ब्रोंकाइटिस के लिए सभी जोखिम कारक हैं। कुछ लोगों में, पराग, इत्र और वाष्प जैसे विशेष एलर्जी से तीव्र ब्रोंकाइटिस शुरू हो सकता है।
जब संक्रमण जीवाणु होता है, तो पृथक रोगजनक आमतौर पर समुदाय-अधिग्रहित निमोनिया के लिए जिम्मेदार होते हैं, उदाहरण के लिए, स्ट्रेप्टोकोकस निमोनिया और स्टैफिलोकोकस ऑरियस।

pathophysiology
तीव्र ब्रोंकाइटिस विभिन्न ट्रिगर्स के लिए ब्रोंची माध्यमिक की तीव्र सूजन का परिणाम है, सबसे आम तौर पर वायरल संक्रमण, एलर्जी, प्रदूषक इत्यादि। ब्रोन्कियल दीवार की सूजन से म्यूकोसल मोटा होना, उपकला-कोशिका desquamation, और बेसमेंट झिल्ली का अनाच्छादन होता है। कभी-कभी, एक वायरल ऊपरी श्वसन संक्रमण निचले श्वसन पथ के संक्रमण में प्रगति कर सकता है जिसके परिणामस्वरूप तीव्र ब्रोंकाइटिस हो सकता है।

इतिहास और भौतिक
एक तीव्र ब्रोंकाइटिस रोगी एक उत्पादक खांसी, अस्वस्थता, सांस लेने में कठिनाई और घरघराहट के साथ प्रस्तुत करता है। आमतौर पर, उनकी खांसी प्रमुख शिकायत होती है और स्पष्ट या पीली होती है, हालांकि कभी-कभी यह पीप हो सकती है। पुरुलेंट थूक जीवाणु संक्रमण या एंटीबायोटिक उपयोग से संबंधित नहीं है। तीव्र ब्रोंकाइटिस के बाद खांसी आमतौर पर 10 से 20 दिनों तक बनी रहती है लेकिन कभी-कभी 4 या अधिक सप्ताह तक रह सकती है। तीव्र ब्रोंकाइटिस के बाद खाँसी की औसत अवधि १८ दिन है। खांसी के पेरोक्सिस्म के साथ इंस्पिरेटरी हूप या पोस्ट-ट्यूसिव इमिशन के साथ पर्टुसिस के लिए चिंता पैदा करनी चाहिए। नाक बहना, गले में खराश, बुखार और अस्वस्थता जैसे यूआरआई लक्षणों का एक प्रकोप आम है। एक निम्न श्रेणी का बुखार भी मौजूद हो सकता है। तीव्र ब्रोंकाइटिस की स्थिति में उच्च श्रेणी के बुखार असामान्य होते हैं और आगे नैदानिक ​​कार्य की आवश्यकता होती है।
शारीरिक परीक्षण पर, घरघराहट के लिए फेफड़े का गुदाभ्रंश महत्वपूर्ण हो सकता है; निमोनिया का संदेह होना चाहिए जब राल्स, रोंची या अहंकार की सराहना की जाती है। तचीकार्डिया वायरल बीमारी के लिए बुखार के साथ-साथ निर्जलीकरण माध्यमिक को दर्शाता है। शेष प्रणालियाँ आमतौर पर सामान्य सीमा के भीतर होती हैं।

मूल्यांकन
तीव्र ब्रोंकाइटिस इतिहास, पिछले चिकित्सा इतिहास, फेफड़ों की परीक्षा और अन्य शारीरिक निष्कर्षों के आधार पर एक नैदानिक ​​निदान है। पल्स रेट, तापमान और श्वसन दर के साथ-साथ रोग की गंभीरता का आकलन करने में ऑक्सीजन संतृप्ति महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। यदि महत्वपूर्ण संकेत सामान्य हैं, तो कोई और काम करने की आवश्यकता नहीं है, कोई परीक्षा निष्कर्ष निमोनिया का संकेत नहीं देता है। इस नियम का अपवाद बुजुर्ग मरीज> 75 वर्ष के हैं। इसके अलावा, जब निमोनिया का संदेह होता है, नैदानिक ​​​​निदान प्रश्न में होता है या इन्फ्लूएंजा या पर्टुसिस के लिए उच्च संदेह के मामलों में आगे काम करने की आवश्यकता होती है।
छाती का एक्स-रे निष्कर्ष विशिष्ट नहीं हैं और आमतौर पर सामान्य होते हैं। कभी-कभी, छाती का एक्स-रे ब्रोन्कियल दीवारों के मोटे होने के अनुरूप बढ़े हुए अंतरालीय चिह्नों को दर्शाता है। जब घुसपैठ देखी जाती है तो छाती का एक्स-रे निमोनिया को तीव्र ब्रोंकाइटिस से अलग करता है। अमेरिकन कॉलेज ऑफ चेस्ट फिजिशियन (एसीसीपी) के साक्ष्य-आधारित दिशानिर्देश केवल सीएक्सआर प्राप्त करने की सलाह देते हैं जब हृदय गति> 100 / मिनट, श्वसन दर> 24 सांस / मिनट, मौखिक शरीर का तापमान> 38 डिग्री सेल्सियस और अहंकार या फ्रेमिटस की छाती की जांच के निष्कर्ष .
बुखार के लिए वर्कअप के रूप में पूर्ण रक्त गणना और रसायन शास्त्र का आदेश दिया जा सकता है। तीव्र ब्रोंकाइटिस के कुछ मामलों में श्वेत रक्त की मात्रा में मामूली वृद्धि हो सकती है। रक्त रसायन निर्जलीकरण परिवर्तनों को प्रतिबिंबित कर सकता है।
तेजी से सूक्ष्मजीवविज्ञानी परीक्षण का नियमित उपयोग लागत प्रभावी नहीं है और इन्फ्लूएंजा के मौसम के अलावा और पर्टुसिस या अन्य जीवाणु संक्रमण के उच्च संदेह वाले मामलों को छोड़कर प्रबंधन को नहीं बदलेगा। ग्राम दाग और जीवाणु थूक संस्कृतियों को विशेष रूप से हतोत्साहित किया जाता है बैक्टीरिया शायद ही कभी प्रेरक एजेंट होता है।

तीव्र ब्रोंकाइटिस संक्रामक हैं?
तीव्र ब्रोंकाइटिस वाले अधिकांश लोग संक्रामक होते हैं यदि इसका कारण एक संक्रामक एजेंट जैसे वायरस या जीवाणु है। बैक्टीरिया और वायरस दोनों के लिए संक्रामक अवधि आमतौर पर तब तक होती है जब तक रोगी में लक्षण होते हैं, हालांकि कुछ वायरस के लिए, फिर लक्षण प्रकट होने से कुछ दिन पहले संक्रामक हो सकता है। संक्रामक वायरस जो तीव्र ब्रोंकाइटिस का कारण हो सकते हैं, कारण अनुभाग में सूचीबद्ध हैं। Tracheobronchitis (ब्रोंकिओल और श्वासनली दोनों की सूजन) से फेफड़ों में संक्रमण (निमोनिया जैसे श्वसन संक्रमण) हो सकता है।
लक्षण कम होने के कारण लोग आमतौर पर संक्रामक होने की संभावना कम होते हैं। हालांकि, प्रतिरक्षा प्रणाली, प्रदूषकों के संपर्क में आने, तंबाकू के धुएं, या अन्य पर्यावरणीय रसायनों या विषाक्त पदार्थों जो ब्रोन्किओल और / या फेफड़ों में जलन पैदा करते हैं, के कारण तीव्र ब्रोंकाइटिस संक्रामक नहीं हैं।

क्रोनिक ब्रोंकाइटिस क्या है?
क्रोनिक ब्रोंकाइटिस एक प्रकार का सीओपीडी (क्रोनिक ऑब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिजीज) है। सीओपीडी फेफड़ों की बीमारियों का एक समूह है जिससे सांस लेना मुश्किल हो जाता है और समय के साथ खराब हो जाता है। सीओपीडी का अन्य मुख्य प्रकार वातस्फीति है। सीओपीडी वाले अधिकांश लोगों में वातस्फीति और पुरानी ब्रोंकाइटिस दोनों होते हैं, लेकिन प्रत्येक प्रकार कितना गंभीर होता है यह एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में भिन्न हो सकता है।
क्रोनिक ब्रोंकाइटिस सूजन (सूजन) और ब्रोन्कियल ट्यूबों की जलन है। ये नलिकाएं वायुमार्ग हैं जो आपके फेफड़ों में हवा की थैली से हवा को ले जाती हैं। नलिकाओं में जलन के कारण बलगम का निर्माण होता है। यह बलगम और नलियों की सूजन आपके फेफड़ों के लिए आपके शरीर से ऑक्सीजन और कार्बन डाइऑक्साइड को बाहर निकालना कठिन बना देती है।
क्रोनिक ब्रोंकाइटिस तब होता है जब ब्रोन्कियल ट्यूबों की परत बार-बार चिड़चिड़ी और सूजन हो जाती है। लगातार जलन और सूजन वायुमार्ग को नुकसान पहुंचा सकती है और चिपचिपा बलगम का निर्माण कर सकती है, जिससे फेफड़ों में हवा का चलना मुश्किल हो जाता है। इससे सांस लेने में तकलीफ होती है जो धीरे-धीरे खराब होती जाती है। सूजन सिलिया को भी नुकसान पहुंचा सकती है, जो बालों जैसी संरचनाएं हैं जो वायु मार्ग को कीटाणुओं और अन्य परेशानियों से मुक्त रखने में मदद करती हैं। जब सिलिया ठीक से काम नहीं करती है, तो वायुमार्ग अक्सर बैक्टीरिया और वायरल संक्रमण के लिए प्रजनन स्थल बन जाते हैं।
संक्रमण आमतौर पर प्रारंभिक जलन और सूजन को ट्रिगर करते हैं जो तीव्र ब्रोंकाइटिस की ओर ले जाते हैं। हालांकि, क्रोनिक ब्रोंकाइटिस आमतौर पर सिगरेट पीने के कारण होता है। वास्तव में, बीमारी वाले 90 प्रतिशत से अधिक लोगों का धूम्रपान का इतिहास है। सिगरेट के धुएं में सांस लेने से सिलिया अस्थायी रूप से पंगु हो जाती है, इसलिए लंबे समय तक लगातार धूम्रपान करने से सिलिया गंभीर रूप से क्षतिग्रस्त हो सकती है। इस क्षति के कारण समय के साथ क्रोनिक ब्रोंकाइटिस विकसित हो सकता है।
पुराना धूम्रपान भी क्रोनिक ब्रोंकाइटिस के विकास में योगदान कर सकता है। अन्य संभावित कारणों में वायु प्रदूषण, औद्योगिक या रासायनिक धुएं और जहरीली गैसों के लिए विस्तारित जोखिम शामिल हैं। बार-बार फेफड़ों में संक्रमण भी फेफड़ों को और नुकसान पहुंचा सकता है और क्रोनिक ब्रोंकाइटिस के लक्षणों को बदतर बना सकता है।
ब्रोन्कियल ट्यूबों में सूजन और जलन की लंबी अवधि के बाद, क्रोनिक ब्रोंकाइटिस के परिणामस्वरूप कई लक्षण लक्षण हो सकते हैं, जिसमें लगातार, भारी खांसी शामिल है जो फेफड़ों से बलगम लाती है। बलगम पीला, हरा या सफेद हो सकता है।
जैसे-जैसे समय बीतता है, फेफड़ों में बलगम के उत्पादन में वृद्धि के कारण बलगम की मात्रा धीरे-धीरे बढ़ती है। बलगम अंततः ब्रोन्कियल ट्यूबों में बनता है और वायु प्रवाह को प्रतिबंधित करता है, जिससे सांस लेना मुश्किल हो जाता है। सांस की यह कमी घरघराहट के साथ हो सकती है जो किसी भी प्रकार की शारीरिक गतिविधि के दौरान खराब हो जाती है।

क्रोनिक ब्रोंकाइटिस के अन्य लक्षणों में शामिल हो सकते हैं
थकान
बुखार,
ठंड लगना,
सीने में परेशानी,
साइनस की भीड़
सांसों की दुर्गंध

क्रोनिक ब्रोंकाइटिस के बाद के चरणों में, रक्तप्रवाह में ऑक्सीजन की कमी के कारण त्वचा और होंठों का रंग नीला पड़ सकता है। रक्त में ऑक्सीजन के स्तर में कमी से परिधीय शोफ, या पैरों और टखनों में सूजन भी हो सकती है।
जैसे-जैसे क्रोनिक ब्रोंकाइटिस बढ़ता है, लक्षण गंभीरता और आवृत्ति में भी भिन्न हो सकते हैं। उदाहरण के लिए, खांसी अस्थायी रूप से गायब हो सकती है, केवल अधिक तीव्र खांसी की अवधि के बाद। विभिन्न कारकों से अधिक गंभीर एपिसोड शुरू हो सकते हैं, जिनमें शामिल हैं:
श्वसन पथ के संक्रमण, जैसे
कि शरीर में कहीं और सर्दी या फ्लू के संक्रमण
पर्यावरण संबंधी परेशानियों, जैसे वायु प्रदूषण या धूल
हृदय की स्थिति

क्रोनिक ब्रोंकाइटिस के लिए उपचार क्या हैं?
क्रोनिक ब्रोंकाइटिस का कोई इलाज नहीं है। हालांकि, उपचार लक्षणों में मदद कर सकते हैं, रोग की प्रगति को धीमा कर सकते हैं और सक्रिय रहने की आपकी क्षमता में सुधार कर सकते हैं। रोग की जटिलताओं को रोकने या उनका इलाज करने के लिए उपचार भी हैं। उपचार में शामिल हैं
• जीवनशैली में बदलाव, जैसे यदि आप धूम्रपान करने वाले हैं तो धूम्रपान छोड़ना। क्रोनिक ब्रोंकाइटिस के इलाज के लिए आप यह सबसे महत्वपूर्ण कदम उठा सकते हैं। सेकेंड हैंड धुएं और उन जगहों से बचना जहां आप अन्य फेफड़ों की जलन में सांस ले सकते हैं, ये कुछ ब्रोंकाइटिस के घरेलू उपचार हैं।
• दवाएं, जैसे ब्रोंकोडायलेटर्स, जो आपके वायुमार्ग के आसपास की मांसपेशियों को आराम देती हैं। यह आपके वायुमार्ग को खोलने में मदद करता है और सांस लेना आसान बनाता है। अधिकांश ब्रोन्कोडायलेटर्स इनहेलर के माध्यम से लिए जाते हैं। अधिक गंभीर मामलों में, इनहेलर में सूजन को कम करने के लिए स्टेरॉयड भी हो सकते हैं।
• फ्लू और न्यूमोकोकल निमोनिया के टीके, क्योंकि क्रोनिक ब्रोंकाइटिस से पीड़ित लोगों को इन बीमारियों से गंभीर समस्याओं का खतरा अधिक होता है।
• जीवाणु या वायरल फेफड़ों में संक्रमण होने पर एंटीबायोटिक्स
• ऑक्सीजन थेरेपी, यदि आपको गंभीर क्रोनिक ब्रोंकाइटिस और आपके रक्त में ऑक्सीजन का स्तर कम है। ऑक्सीजन थेरेपी आपको बेहतर सांस लेने में मदद कर सकती है। आपको हर समय या केवल निश्चित समय पर अतिरिक्त ऑक्सीजन की आवश्यकता हो सकती है।
• पल्मोनरी रिहैबिलिटेशन, जो एक ऐसा कार्यक्रम है जो सांस लेने की पुरानी समस्याओं वाले लोगों की भलाई में सुधार करने में मदद करता है। इसमें व्यायाम कार्यक्रम, रोग प्रबंधन प्रशिक्षण, पोषण परामर्श, मनोवैज्ञानिक परामर्श शामिल हो सकते हैं
• एक फेफड़े का प्रत्यारोपण, उन लोगों के लिए अंतिम उपाय के रूप में, जिनके गंभीर लक्षण हैं जो दवाओं के साथ ठीक नहीं हुए हैं
• यदि आपको पुरानी ब्रोंकाइटिस है, तो यह जानना महत्वपूर्ण है कि कब और अपने लक्षणों के लिए सहायता कहाँ से प्राप्त करें। यदि आपको गंभीर लक्षण, जैसे कि सांस लेने में परेशानी या बात करने में परेशानी हो, तो आपको आपातकालीन देखभाल मिलनी चाहिए। अपने स्वास्थ्य देखभाल प्रदाता को कॉल करें यदि आपके लक्षण खराब हो रहे हैं या यदि आपके पास संक्रमण के लक्षण हैं, जैसे कि बुखार।

ब्रोंकाइटिस की जटिलताओं

ब्रोंकाइटिस की सबसे आम जटिलता निमोनिया है। यह तब हो सकता है जब संक्रमण फेफड़ों में और फैल जाए। निमोनिया से ग्रसित व्यक्ति में, फेफड़ों के भीतर की वायु थैली द्रव से भर जाती है। पुराने वयस्कों, धूम्रपान करने वालों, अन्य चिकित्सीय स्थितियों वाले और कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली वाले किसी भी व्यक्ति में निमोनिया विकसित होने की अधिक संभावना है। यह जीवन के लिए खतरा हो सकता है और चिकित्सा ध्यान देने की आवश्यकता है।

संक्रमण: यदि आपको ब्रोंकाइटिस है तो आप दूसरे श्वसन पथ के संक्रमण के प्रति अधिक संवेदनशील हो सकते हैं। यदि आपको तीव्र ब्रोंकाइटिस होने पर एक और संक्रमण हो जाता है, तो यह आपके ठीक होने में देरी कर सकता है। यदि आपको क्रोनिक ब्रोंकाइटिस होने पर श्वसन संक्रमण विकसित होता है, तो आपको अनिवार्य रूप से अपनी पुरानी बीमारी के शीर्ष पर तीव्र ब्रोंकाइटिस का दौरा पड़ रहा है। नतीजतन, तीव्र ब्रोंकाइटिस का एक प्रकरण अधिक गंभीर होने की संभावना है और यदि आपको पुरानी ब्रोंकाइटिस नहीं है तो इससे अधिक समय तक चलेगा। निमोनिया: यदि आपको किसी भी प्रकार का ब्रोंकाइटिस है, तो आपके फेफड़े संक्रमित होने की अधिक संभावना है, जिसके परिणामस्वरूप निमोनिया में। निमोनिया एक अधिक लगातार होने वाला संक्रमण है जो आपको तीव्र ब्रोंकाइटिस की तुलना में अधिक बीमार महसूस कराता है।

एस्पिरेशन न्यूमोनिया: अगर आप खाते समय खांसते हैं तो ब्रोंकाइटिस की खाँसी आपको अपने भोजन में दम घुट सकती है। यह आपके द्वारा खाए जाने वाले भोजन को आपके पेट के बजाय आपके फेफड़ों में गलत पाइप में जाने का कारण बन सकता है। एस्पिरेशन निमोनिया एक लगातार होने वाला संक्रमण हो सकता है जो आपके स्वास्थ्य पर भारी पड़ता है और इससे उबरने में महीनों लग जाते हैं।

हृदय रोग: क्रोनिक ब्रोंकाइटिस की लंबी अवधि की सांस लेने में कठिनाई आपके दिल पर अतिरिक्त दबाव डाल सकती है, जिससे हृदय रोग हो सकता है या दिल की विफलता बढ़ सकती है।

ब्रोंकाइटिस

डॉक्टर को कब दिखाना है?

ब्रोंकाइटिस से पीड़ित अधिकांश लोग घर पर आराम, सूजन-रोधी दवा और बहुत सारे तरल पदार्थों से ठीक हो सकते हैं।
हालांकि, एक व्यक्ति को डॉक्टर को दिखाना चाहिए यदि उसके पास निम्नलिखित हैं:
• खांसी जो 3 सप्ताह से अधिक समय तक रहती है
• बुखार जो 3 दिन या उससे अधिक समय तक रहता है
• उनके बलगम में रक्त
• तेजी से सांस लेना, सीने में दर्द, या दोनों
• उनींदापन या भ्रम
• आवर्ती या बिगड़ते लक्षण
• किसी मौजूदा फेफड़े या हृदय की स्थिति वाले किसी भी व्यक्ति को अगर ब्रोंकाइटिस के लक्षण दिखाई देने लगें तो उसे डॉक्टर को दिखाना चाहिए।

ब्रोंकाइटिस का घरेलू इलाज

तीव्र या पुरानी ब्रोंकाइटिस को रोकना हमेशा संभव नहीं होता है, लेकिन कई ब्रोंकाइटिस घरेलू उपचार जोखिम को कम कर सकते हैं।
इनमें शामिल हैं:
• धूम्रपान से बचना या छोड़ना
• फेफड़ों की जलन जैसे धुएं, धूल, धुएं, वाष्प और वायु प्रदूषण से बचना
•प्रदूषण का स्तर अधिक होने पर नाक और मुंह को ढंकने के लिए मास्क पहनना
•जोखिम को सीमित करने के लिए बार-बार हाथ धोना रोगाणु और बैक्टीरिया
• निमोनिया और फ्लू से बचाव के लिए टीकाकरण के बारे में पूछना

1. अदरक
अदरक श्वसन संक्रमण के खिलाफ एक विरोधी भड़काऊ प्रभाव डाल सकता है यह ब्रोंकाइटिस के घरेलू उपचारों में से एक हो सकता है। आप अदरक को कई तरह से ले सकते हैं:
• सूखे, क्रिस्टलीकृत अदरक को चबाएं।
• चाय बनाने के लिए ताजा अदरक का प्रयोग करें।
• इसे कच्चा खाएं या खाने में शामिल करें।
• निर्देशानुसार इसे कैप्सूल के रूप में लें।
लेकिन अदरक को पूरक या दवा के रूप में ब्रोंकाइटिस के घरेलू उपचार के रूप में न लें यदि आप:
• गर्भवती हैं या स्तनपान कराती हैं
• मधुमेह है
• हृदय की समस्या है
• किसी भी प्रकार का रक्त विकार है

2. लहसुन
लहसुन के बारे में कहा जाता है कि इसमें अनगिनत उपचार गुण होते हैं। इस खोज से पता चलता है कि लहसुन को प्राकृतिक ब्रोंकाइटिस के घरेलू उपचार के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है।
ताजा लहसुन सबसे अच्छा है, लेकिन अगर आपको स्वाद पसंद नहीं है तो आप कैप्सूल के रूप में लहसुन ले सकते हैं।
यदि आपको रक्तस्राव विकार है तो सावधानी के साथ लहसुन का प्रयोग करें। इसे हमेशा कम मात्रा में लें ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि इससे आपका पेट खराब तो नहीं हो रहा है।

3. हल्दी
पिछले ब्रोंकाइटिस के घरेलू उपचार में हल्दी शामिल है जो अक्सर भारतीय खाद्य पदार्थों में इस्तेमाल किया जाने वाला मसाला है। हल्दी एंटीऑक्सीडेंट गतिविधि को भी बढ़ाती है। इसका मतलब है कि यह जलन को कम करने और आपकी प्रतिरक्षा को बढ़ावा देने में मदद कर सकता है।

4. जीवनशैली में बदलाव
बीमारियों की रोकथाम के साथ एक स्वस्थ जीवन शैली भी साथ-साथ चलती है। बीमार होने पर भी यह आपको तेजी से ठीक होने में मदद कर सकता है। एक छोटी सी बीमारी भी आपके शरीर को आपको धीमा करने और इसे आसान बनाने के लिए कहने का तरीका हो सकती है।
निम्नलिखित परिवर्तन आपके ठीक होने में सुधार करने और भविष्य में आपके बीमार होने के जोखिम को कम करने में मदद कर सकते हैं:
• धूम्रपान और सेकेंड हैंड धुएं के वातावरण से बचें।
• प्रदूषित वातावरण से बचें।
• यदि आप प्रदूषण के संपर्क में हैं तो सर्जिकल मास्क पहनें।
• स्वस्थ आहार के साथ अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाएँ।
• हर बार कम से कम २० मिनट के लिए प्रति सप्ताह कम से कम ३ बार व्यायाम करें।
• संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए अपने हाथों को बार-बार धोएं।
• एक ह्यूमिडिफायर का उपयोग करें और निर्माता के दिशानिर्देशों का पालन करते हुए इसे नियमित रूप से साफ करें।

5. स्टीम
स्टीम बलगम को तोड़ने में मदद करता है ताकि आप इसे और आसानी से बाहर निकाल सकें। भाप का उपयोग करने का सबसे आसान तरीका स्नान या शॉवर है। अपने शॉवर को जितना हो सके उतना गर्म करें, अंदर कदम रखें, फिर अपने मुंह और नाक से गहरी सांस लें।
गर्म पानी उन मांसपेशियों को आराम देने में भी मदद करेगा जो खांसने से तनावग्रस्त हो सकती हैं। आप जिम या स्पा में स्टीम रूम भी जा सकते हैं, यदि कोई उपलब्ध हो और आपके पास पर्याप्त ऊर्जा हो। यदि आप बीमार या सांस की तकलीफ महसूस करते हैं तो गर्म स्नान में न भिगोना सबसे अच्छा है।
एक अन्य भाप विकल्प में एक कटोरी में गर्म पानी डालना, अपने सिर को एक तौलिये से ढंकना और भाप को अंदर लेना शामिल है। कुछ लोग बलगम को हिलाने में मदद करने के लिए गर्म पानी में मेंथोलेटेड वेपर रब मिलाते हैं। हालाँकि, कटोरा-और-तौलिया विधि खतरनाक हो सकती है, क्योंकि पानी आपकी अपेक्षा से अधिक गर्म हो सकता है, जिससे भाप आपके वायुमार्ग को जला सकती है। एक बार में एक या दो मिनट से अधिक गर्म पानी के ऊपर न रहें और पानी को गर्म करना जारी न रखें।

6. खारा पानी
नमक के पानी से गरारे करने से बलगम को तोड़ने और गले में दर्द को कम करने में मदद मिल सकती है। एक गिलास गर्म पानी में एक चम्मच नमक घोलें। नमक के पानी की थोड़ी मात्रा में घूंट लें और अपने गले के पीछे गरारे करें। पानी न निगलें। इसके बजाय, इसे सिंक में थूक दें। जितनी बार चाहें उतनी बार दोहराएं। बाद में, आप सादे पानी से अपना मुँह कुल्ला करना चाह सकते हैं।

7. नींद
भरपूर नींद लें और अपने शरीर को आराम दें। खांसी से लड़ते हुए चैन की नींद सोना मुश्किल हो सकता है, लेकिन किसी भी अनावश्यक गतिविधि से बचने के लिए सावधानी बरतें। यह नींद के गहरे चरणों के दौरान होता है कि आप प्रतिरक्षा समारोह की मरम्मत और वृद्धि करते हैं ताकि आपका शरीर सूजन से बेहतर तरीके से लड़ सके।

संबंधित विषय:

1. बी कॉम्प्लेक्स की आवश्यकता क्यों है
2. बी कॉम्प्लेक्स के साइड इफेक्ट
3. अपने लीवर के स्वास्थ्य के बारे में अधिक जानें




उपर ब्लॉग में बताई गई उपलब्धिया AFD-SHIELD के साथ उपलब्ध हैं
एएफडी शील्ड कैप्सूल 12 प्राकृतिक अवयवों का एक संयोजन है जिनमें से अलगल डीएचए, अश्वगंधा, करक्यूमिन और स्पिरुलिना हैं। एएफडी शील्ड टीजी को कम करता है, एचडीएल बढ़ाता है और उम्र से संबंधित संज्ञानात्मक गिरावट में सुधार करता है। यह तनाव और चिंता को भी कम करता है और एंटी-एजिंग गतिविधि करता है। इसके अलावा, यह इम्युनोमॉड्यूलेटरी गतिविधि को बढ़ाता है, प्रतिरक्षा में सुधार करता है और सूजन और ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करता है। न्यूट्रोग्लिग्क्स: एएफडी-शील्ड

AFDIL Ltd.
+91 9920121021

order@afdil.com

Read Also:


Disclaimer
Home