Blood transfusion and Blood donation

ABO blood group system

Blood groups was discovered in 1900 by Landsteiner for which he got the Nobel prize in 1930. The ABO system is the most important of all the blood group systems.

The ABO system contains 4 blood groups and is determined by the presence or absence of 2 distinct antigens A and B, on the surface of RBC’s. Red cells of group A carry antigen A, cells of group B carry antigen B and cells of group AB have both antigen A and B and group O cells have neither A or B antigens. The 4 groups are also distinguished by the presence or absence of 2 distinct isoantibodies in the serum. The serum contains the iso-antibodies specific for the antigen that is absent on the cell. The serum of group A individual has anti-B antibody, group B individual has anti-A antibody and group O individual has both anti-A and anti-B antibody, while in whole group, individual with group AB has neither anti-A antibody nor anti-B antibody.

These polysaccharides antigens are inherited according to a simple mendelian system involving 3 allelic genes called A, B and O. A and B genes are dominant over O. Thus, an AB person is heterozygous having inherited an A gene from one parent and B gene from another. An O person must be homozygous for O. And persons with group A and B must either be homozygous (AA or BB) or heterozygous (AO or BO).

The frequency of ABO distribution differs in different people. Group O is the commonest group and AB is the rarest. In India, the distribution is approximately 40% for O, 22% for A, 33% for B and 15% AB.

Genotype Blood group phenotype Antigens Antibodies
AA or AO A A Anti B
BB or BO B B Anti A
AB AB A and B none
O O None Anti A and Anti B

Anti A and anti B isoantibodies appear in the serum of infants by the age of 6 months and persist thereafter. These are called natural antibodies because they seem to arise under genetic control without any apparent antigenic stimulation. However, it is likely that they develop as a result of unidentified environmental stimuli with the blood group like antigens present in bacteria or other sources. Natural anti A and anti B antibodies are saline agglutination antibodies reacting optimally between 4⸰C to 18⸰C but active also at 37⸰C.

Ideally the donor and recipient should belong to the same ABO group. O group are universal donors. The anti A and B antibodies in the transfused O blood group do not ordinarily cause any damage to the red cells of the A or B group recipients. The anti A antibody in the O blood group is generally more potent than the anti B antibody. Hence the O blood group is more likely to cause an adverse reaction when given to the A group recipients than to those of the B groups.

As AB blood group has no antibodies in plasma, they are the universal recipients. In case no AB blood group is available for transfusion a group A blood is safer than group B because the anti A antibodies is usually more potent than the anti B antibodies.

Understanding of blood group is very necessary before it is transfused from one person to another, as the wrong blood group can cause allergic reactions in the recipients.

Rh blood group system

In 1940 Landsteiner showed that antibodies produced against rhesus monkey’s red blood cells agglutinated the RBCs of 85% of a human population. The antibodies were directed against the molecule called rhesus (Rh) antigen and individuals possessing it were called Rh positive. The remaining 15% who did not carry it were called Rh negative. Natural antibodies against the Rh antigens do not occur. Immunologically the Rh system has been shown to be immensely complex and approximately 30 antigenic types have been identified. The system consists of 5 isoforms (C, D, E, c and e), the products of three closely linked loci. The most important of these loci is D and is responsible for the production of the D antigen, the most important of Rh antigens.

A person is Rh positive if he inherits D from either parent. A homozygous parent transmits D to all his or her children. A heterozygous parent transmits it to only half his or her children.

Rh positive CDe cDE cDe CDE
Rh negative Cde cdE cde CdE

Rh typing is done by testing with anti D serum. The distribution of Rh positive is different in different regions. Europeans are 85% Rh positive, Indians are 93% positive. There are no anti Rh antibodies in the serum.

Rh incompatibility is important only when the recipient is Rh negative. A Rh-positive person may receive either Rh positive or negative blood. But a Rh-negative individual receiving Rh positive blood may form antibodies against the Rh antigen. A subsequent transfusion with Rh positive blood may then cause an adverse reaction. An additional risk in women is Rh sensitisation leading to haemolytic disease of the new born. Therefore, it is particularly important that Rh negative women who are not past the child bearing age receive only Rh-negative blood.

ABO-blood-group-system

Blood transfusion

Blood transfusion is a medical process where the donated blood is provided to the recipient through a narrow tube inserted within a vein in your arm. Red blood cells can readily be transfused from one animal to another. If the donor red blood cells carry antigens identical to those found on the recipient’s RBC’s no immune response will result. If, however, the transfused red cells are foreign to the recipient then they will be destroyed. This can happen in 2 ways.

• If as in the ABO system, the recipient possesses pre-existing antibodies to the antigens on the foreign RBC’s, then they will be destroyed immediately. When these antibodies combine with foreign blood group antigens, they cause agglutination, haemolysis, opsonization and phagocytosis of the transfused cells.

• In the absence of pre-existing antibodies, the foreign red cells stimulate a 1⸰ immune response in the recipient. The transfused cells therefore circulate freely until antibodies production takes place and immune elimination occurs. A second transfusion with identical foreign red cells results in their immediate destruction in the sensitised recipient.

This medical process can help in replacing blood that is lost due to surgery or injury. And blood transfusion also can help in case an illness prevents your body from making blood or some of your blood's components correctly.

Blood transfusions usually occur without complications. When complications do occur, they're typically mild.

Types of blood transfusions

There are four common types of blood transfusions:

• Red blood cell transfusions: in case the person has experienced blood loss if they have anemia (such as iron deficiency anemia), or if they have a blood disorder, he or she may receive a red blood cell transfusion.

• Platelet transfusions: individuals who have lower platelet count can undergo a platelet transfusion, such as from chemotherapy or a platelet disorder.

• Plasma transfusions: Plasma contains proteins important for health. A person may receive a plasma transfusion if they have experienced severe burns, infections, or liver failure.

• Whole blood transfusion: A person may receive a whole blood transfusion if they have experienced a severe traumatic hemorrhage and require red blood cells, white blood cells, and platelets.

Before a blood transfusion takes place, a healthcare professional will remove the white blood cells from the blood. This is because they can carry viruses.

All things considered; they may transfuse white blood cells called granulocytes to assist an individual from recovering a contamination that has not reacted to antibiotic agents. Medical care experts can gather granulocytes utilizing a process called apheresis.

Why is blood transfusion done?

There are many reasons for which blood transfusions are done such as for surgery, in case of any injury, disease and bleeding disorders.

Blood has several components, including:

• Red cells carry oxygen and help remove waste products

• White cells help your body fight infections

• Plasma is the liquid part of your blood

• Platelets help your blood clot properly

A transfusion gives the part or parts of blood you need, with red blood cells being the most normally transfused. You can likewise get whole blood, which contains all the parts, however whole blood transfusions aren't normal.

Analysts are dealing with creating artificial blood. So far, nothing but bad good alternative for human blood is accessible.

Blood transfusions are essential when the body needs sufficient blood to work appropriately. For instance, an individual may require a blood transfusion if they have sustained a serious injury or in the event that they have lost blood during a medical procedure.

Some people need blood transfusions for specific conditions and problems, including:

• Anemia: This happens when an individual's blood does not have enough red blood cells. It can develop for various reasons, for example, if an individual does not have enough iron in their body. This is known as iron deficiency anemia.

• Hemophilia: This is a bleeding issue wherein the blood can't clot as expected.

• Cancer: This happens when cells in the body divide and spread to the surrounding tissues.

• Sickle cell infection: This is a group of red blood cell disorders that change the structure of red blood cells.

• Kidney sickness: This happens when the kidneys are harmed.

• Liver sickness: This happens when the liver quits working appropriately.

blood-transfusion

Blood transfusion risks

Although the body can eliminate small numbers of aged RBCs on a continuing basis, the rapid destruction of many foreign red blood cells from an incompatible transfusion can lead toblood transfusion risks causing severe tissue damage. This damage results from massive intravascular haemolysis, which triggers clotting, as a result of blockage of capillaries by microthrombi. There are nervous system signs such as tumours, headache, paralysis and convulsions. In some individuals, difficulty in breathing as well as coughing and diarrhoea may occur.

Other common reactions include allergic reactions, which might cause hives and itching, and fever.

Some reactions occur immediately, while others can take several days to appear. Examples include:

Allergies

One of the blood transfusion risks is allergic reactions. In fact, according to the Centers for Disease Control and Prevention (CDC), allergic reactions make up over 50% of reported reactions to blood transfusions. Thus, antihistamine medications are given to recipients to overcome the allergic reactions.

Fever

Other blood transfusion risks is fever. Although this is not serious, but in case they also experience chest pain or nausea, they should let a doctor know as soon as possible.

Hemolytic reaction

Other blood transfusion risks is haemolytic reaction. This happen when the blood types are not compatible, causing the immune system to attack the new blood cells.

This is a serious reaction, but it is very rare.

Symptoms may include:

• lower back pain

• chest pain

• dark urine

• nausea

• fever

Transmission of infections

In very rare cases, one of the blood transfusion risks is transmission of bacteria, viruses, or parasites causing infections such as HIV or hepatitis B or C.

However, according to the CDC, experts test every blood donated for these contaminants. It is therefore very rare for a person to contract an infection from a blood transfusion.

In fact, according to the American Red Cross, the chance of a person contracting hepatitis B is 1 in 300,000, and the likelihood of contracting hepatitis C is 1 in 1.5 million.

The chances of getting HIV from a blood transfusion in the United States is less than 1 in 1 million.

Bloodborne infections

Blood banks, screen donors and test donated blood in order to reduce the blood transfusion risks of getting infections, such as HIV or hepatitis B or C, are extremely rare.

Other serious reactions

Also rare, these include:

• Acute immune hemolytic reaction: Your immune system attacks the transfused red blood cells because the donor blood type is not a good match. The attacked cells release a substance into your blood that harms your kidneys. Thus, acute immune hemolytic reaction is the other blood transfusion risks.

• Delayed hemolytic reaction. Similar to an acute immune hemolytic reaction, this reaction occurs more slowly. It can take one to four weeks to notice a decrease in red blood cell levels. Thus, delayed hemolytic reaction is the other blood transfusion risks.

• Graft-versus-host disease. In this condition, transfused white blood cells attack your bone marrow. Usually fatal, it's more likely to affect people with severely weakened immune systems, such as those being treated for leukemia or lymphoma. Thus, graft-versus-host disease is the other blood transfusion risks.

Transfusion reactions are treated by stopping the transfusion and maintaining urine flow with a diuretic, since accumulation of haemoglobin in the kidney will cause severe damage.

How you prepare for blood transfusion?

Your blood will be tested before a transfusion to decide if your blood classification is A, B, AB or O and whether your blood is Rh positive or Rh negative. The donated blood utilized for your transfusion should be compatible with your blood type.

Tell your medical services supplier if you've had a response to a blood transfusion before.

What you can expect in blood transfusion?

Blood transfusions are typically done in an emergency clinic, an outpatient facility or a specialist's office. The technique commonly takes one to four hours, depending upon what parts of the blood you receive and how much blood you need.

Most blood transfusions occur in a clinic or at a facility. However, visiting nurses might have the option to perform blood transfusions at home. Before this, a specialist should perform a blood test to decide an individual's blood type.

During a blood transfusion, a healthcare professional will put a little needle into the vein, ordinarily in the arm or hand. The blood then moves from a bag, through a rubber tube, and into the individual's vein through the needle.

They will cautiously screen fundamental signs all through the procedure. It can require as long as 4 hours to finish a blood transfusion.

Before the procedure

In some cases, you can donate blood for yourself before elective surgery, but most transfusions involve blood donated by strangers. An identification check will ensure you receive the correct blood.

Safety in blood transfusion requires the following conditions to be satisfied in choosing a donor:

• The recipient’s plasma should not contain any antibodies that will damage the donor’s erythrocytes.

• The donor plasma should not have any antibody that will damage the recipients red cells.

• The donor red cells should not have any antigen that is lacking in the recipient.

During the procedure

An intravenous (IV) line with a needle is inserted into one of your blood vessels. The donated blood that's been stored in a plastic bag enters your bloodstream through the IV. You'll be seated or lying down for the procedure, which usually takes one to four hours.

A nurse will monitor you throughout the procedure and take measures of your blood pressure, temperature and heart rate. Tell the nurse immediately if you develop:

• Fever

• Shortness of breath

• Chills

• Unusual itching

• Chest or back pain

• A sense of uneasiness

After the procedure

The needle and IV line will be removed. You might develop a bruise around the needle site, but this should go away in a few days.

Contact your health care provider if you develop shortness of breath or chest or back pain in the days immediately following a blood transfusion.

Recovery time may depend on the reason for the blood transfusion. However, a person can be discharged less than 24 hours after the procedure.

A person may feel an ache in the hand or arm after a transfusion. There may also be some bruising at the site.

There may be a very small risk of a delayed reaction to the transfusion. Although this does not typically cause problems, a person should consult a doctor if they feel unwell and have unexpected symptoms, such as nausea, swelling, jaundice, or an itchy rash.

It is important to let a doctor know about any symptoms that might signal a reaction, such as nausea or difficulty breathing.

Summary

A blood transfusion is a safe procedure that replaces blood lost to injury or surgery. It can also help treat certain medical conditions.

Blood transfusions can be lifesaving, but they can cause some mild side effects.

Although infections are very rare, it is possible for the body to react to the new blood. In most cases, however, these reactions are mild.

Overview of blood doantion

Blood donation is donating blood to the blood bank and is a voluntary procedure that can help save the lives of others. There are various types of blood donation. Each of these type helps to meet different medical needs.

Whole blood donation

This is the most common type of blood donation, during which you donate about a pint (about half a liter) of whole blood. The blood is then separated into its components — red blood cells, plasma and sometimes platelets.

Apheresis

In apheresis, you are hooked up to a machine which can collect and separate blood components, including red blood cells, plasma and platelets, and return unused components back to you.

• Platelet donation (plateletpheresis) collects only platelets — the cells that help stop bleeding by clumping and forming plugs (clotting) in blood vessels. Donated platelets are commonly given to people with clotting problems or cancer and people who will have organ transplants or major surgeries.

• Double red cell donation allows you to donate a concentrated amount of red blood cells. Red blood cells deliver oxygen to your organs and tissues. Donated red blood cells are typically given to people with severe blood loss, such as after an injury or accident, and people with sickle cell anemia.

• Plasma donation (plasmapheresis) collects the liquid portion of the blood (plasma). Plasma helps blood clot and contains antibodies that help fight off infections. Plasma is commonly given to people in emergency and trauma situations to help stop bleeding.

Why is blood donated?

Blood donation is done in order to give blood someone who is in need of blood due to accident, injury or some other incident.

There are millions of people in the world who require blood transfusions each year. For instance, some may need blood during surgery. Others depend on it after an accident or because they have a disease that requires blood components. Thus, blood donation is done to make all of this possible. There is no substitute for human blood — all transfusions use blood from a donor.

blood-donation

Risks of donating blood

Blood donation is safe. New, sterile disposable equipment is used for each donor, so there's no risk of contracting a bloodborne infection by donating blood.

If you're a healthy adult, you can usually donate a pint (about half a liter) of blood without endangering your health. Within a few days of a blood donation, your body replaces the lost fluids. And after two weeks, your body replaces the lost red blood cells.

How you prepare before donating blood

Eligibility requirements

To be eligible to donate whole blood, plasma or platelets, you must be:

• In good health.

• Age should be at least 16-17, depending on the law in your state. Some states allow legal minors to donate with parent permission. While there's no legal upper age limit, policies may vary between individual donor centers.

• At least 110 pounds (about 50 kilograms).

• Able to pass the physical and health-history assessments.

Eligibility requirements differ slightly between different types of blood donation.

Food and medications

Before your blood donation:

• Get plenty of sleep the night before you plan to donate.

• Eat a healthy meal before your donation. Avoid fatty foods, such as a hamburger, fries or ice cream.

• Drink plenty of water before the donation.

• Check to see if any medications you are taking or recently took would prevent you from donating. For example, if you are a platelet donor, you must not take aspirin for two days prior to donating. Talk to your doctor before discontinuing any medications.

• Wear a shirt with sleeves that can be rolled up.

What you can expect before donating?

Before you donate blood, you are supposed to fill out a confidential medical history which includes questions about behaviours known to carry a higher risk of bloodborne infections — infections that are transmitted through the blood.

Due to the risk of bloodborne infections, so not everyone can donate blood. Some of the high-risk groups who are not eligible to donate blood are:

• Individuals who have used injected drugs, steroids or another substance not prescribed by a doctor in the past three months

• Men who have had sexual contact with other men in the past three months

• Someone who has a congenital coagulation factor deficiency

• Anyone who has had a positive test for HIV

• Anyone who has engaged in sex for money or drugs in the past three months

• Anyone who, in the past 12 months, has had close contact with — lived with or had sexual contact with — a person who has viral hepatitis

• Anyone who has had babesiosis, a rare and severe tick-borne disease, or the parasitic infection Chagas' disease

• Anyone who has taken the psoriasis medication etretinate (Tegison), which has been discontinued in the U.S.

• Anyone who has risk factors for the degenerative brain disorder Creutzfeldt-Jakob disease (CJD)

• Anyone who spent three months or more in the United Kingdom from 1980 through 1996

• Anyone who received a blood transfusion in the United Kingdom or France from 1980 to the present

• Anyone who has spent time that adds up to five years or more in France or Ireland from 1980 to 2001

You will also have to give a brief physical exam, which includes checking your blood pressure, pulse and temperature. A small sample of blood is taken from a finger prick and is used to check the oxygen-carrying component of your blood (hemoglobin level). If your hemoglobin concentration is normal and you've met all the other screening requirements, you can donate blood.

blood-donating

COVID-19 concerns

The virus that causes coronavirus disease 2019 (COVID-19) hasn't been shown to be transmitted through blood transfusions. However, the U.S. Food and Drug Administration suggests waiting to donate blood for at least 14 days after a positive diagnostic test for COVID-19 without symptoms or for at least 14 days after symptoms of COVID-19 have completely cleared up. Those who have tested positive for COVID-19 antibodies but didn't have a diagnostic test and never developed symptoms can donate without a waiting period or having a diagnostic test done before donation.

If you get a nonreplicating, inactivated or mRNA-based COVID-19 vaccine, you can donate blood without a waiting period. However, if a live attenuated viral COVID-19 vaccine becomes available and you get it, wait 14 days after being vaccinated before donating blood. If you aren't sure what type of vaccine you got, wait 14 days before donating blood.

During the procedure

You need to initially lie or sit in a reclining chair with your arm stretched out on an armrest. In the event that you have a preference for which arm or vein is utilized, share it. A blood pressure cuff or tourniquet is put around your upper arm to fill your veins with more blood. This makes the veins simpler to see and simpler to embed the needle into, and furthermore helps fill the blood bag more rapidly. At that point the skin within your elbow is cleaned.

Another, sterile needle is embedded into a vein in your arm. This needle is attached to a thin, plastic tube and a blood bag. When the needle is set up, you tighten your fist several times to help the blood flow from the vein. Blood at first is collected into tubes for testing. When these have been collected, blood is permitted to fill the bag, about a pint (about half a liter). The needle is typically set up around 10 minutes. At the point when complete, the needle is taken out, a small bandage is put on the needle site and a dressing is wrapped over your arm.

Another technique for giving blood turning out to be progressively normal is apheresis. During apheresis, you are hooked to a machine that can collect and separate blood parts, like red blood cells, plasma and platelets. This process allows more of a single component to be collected. It takes longer than standard blood donation — typically up to two hours.

After the blood donation

After donating, the donor is supposed to sit in an observation room, where he/she is told to rest and eat a light snack. After 15 minutes, the donor can leave. After donating the blood:

• It is advised to drink extra fluids.

• Avoid strenuous physical activity or heavy lifting for about five hours.

• If you feel lightheaded, lie down with your feet up until the feeling passes.

• Do not remove the bandage for the next five hours.

• In case you have bleeding after removing the bandage, put pressure on the site and raise your arm until the bleeding stops.

• In case of bruising, apply a cold pack to the area periodically during the first 24 hours.

• It is advised to add iron-rich foods to your diet to replace the iron lost with blood donation.

Contact the blood donor center or your doctor in case you:

• Forgot to report any important health information.

• Have any kind of signs and symptoms of an illness, such as a fever, within several days after your blood donation.

• Are diagnosed with COVID-19 within 48 hours after donating blood.

Results

Your blood will be tested to determine your blood type and your Rh factor. Blood type is classified as A, B, AB or O. The Rh factor refers to the presence or absence of a specific antigen — a substance capable of stimulating an immune response — in the blood. You'll be classified as Rh positive or Rh negative, meaning you do or don't carry the antigen. This information is important because your blood type and Rh factor must be compatible with the blood type and Rh factor of the person receiving your blood.

Your blood will also be tested for bloodborne diseases, such as hepatitis and HIV. If these tests are negative, the blood is distributed for use in hospitals and clinics. If any of these tests are positive, the donor center notifies you, and your blood is discarded.




The above essentials are available with AFD SHIELD.
AFD Shield capsule is a combination of 12 natural ingredients among which are Algal DHA, Ashwagandha, Curcumin and Spirullina. AFD Shield reduces TG, increases HDL and improves age related cognitive decline. It also reduces stress and anxiety and performs anti-aging activity.Moreover, it also enhances the immunomodulatory activity, improves immunity and reduces inflammation and oxidative stress. Nutralogicx: AFD SHIELD

रक्त आधान और दान

एबीओ ब्लड ग्रुप सिस्टम

ब्लड ग्रुप की खोज 1900 में लैंडस्टीनर ने की थी जिसके लिए उन्हें 1930 में नोबेल पुरस्कार मिला था। ABO सिस्टम सभी ब्लड ग्रुप सिस्टम में सबसे महत्वपूर्ण है।

एबीओ प्रणाली में 4 रक्त समूह होते हैं और यह आरबीसी की सतह पर 2 अलग-अलग एंटीजन ए और बी की उपस्थिति या अनुपस्थिति से निर्धारित होता है। समूह ए की लाल कोशिकाओं में एंटीजन ए होता है, ग्रुप बी की कोशिकाओं में एंटीजन बी होता है और समूह एबी की कोशिकाओं में एंटीजन ए और बी दोनों होते हैं और समूह ओ कोशिकाओं में न तो ए या बी एंटीजन होते हैं। 4 समूहों को सीरम में 2 अलग-अलग आइसोएंटिबॉडी की उपस्थिति या अनुपस्थिति से भी अलग किया जाता है। सीरम में एंटीजन के लिए विशिष्ट आइसो-एंटीबॉडी होते हैं जो कोशिका पर अनुपस्थित होते हैं। समूह ए व्यक्ति के सीरम में एंटी-बी एंटीबॉडी है, ग्रुप बी व्यक्ति में एंटी-ए एंटीबॉडी है और ग्रुप ओ व्यक्ति में एंटी-ए और एंटी-बी एंटीबॉडी दोनों हैं, जबकि पूरे समूह में, ग्रुप एबी वाले व्यक्ति में न तो एंटी-ए एंटीबॉडी है। न ही एंटी-बी एंटीबॉडी।

ये पॉलीसेकेराइड एंटीजन एक साधारण मेंडेलियन प्रणाली के अनुसार विरासत में मिले हैं, जिसमें ए, बी और ओ नामक 3 एलील जीन शामिल हैं। ए और बी जीन ओ पर हावी हैं। इस प्रकार, एक एबी व्यक्ति विषमयुग्मजी होता है, जिसे एक माता-पिता से ए जीन और बी जीन से विरासत में मिला है। दूसरा। एक O व्यक्ति को O के लिए समयुग्मजी होना चाहिए। और समूह A और B वाले व्यक्तियों को या तो समयुग्मजी (AA या BB) या विषमयुग्मजी (AO या BO) होना चाहिए।

अलग-अलग लोगों में ABO बंटन की आवृत्ति अलग-अलग होती है। समूह O सबसे सामान्य समूह है और AB सबसे दुर्लभ समूह है। भारत में, वितरण O के लिए लगभग 40%, A के लिए 22%, B के लिए 33% और AB का 15% है।

Genotype Blood group phenotype Antigens Antibodies
AA or AO A A Anti B
BB or BO B B Anti A
AB AB A and B none
O O None Anti A and Anti B

6 महीने की उम्र तक शिशुओं के सीरम में एंटी ए और एंटी बी आइसोएंटीबॉडी दिखाई देते हैं और उसके बाद बने रहते हैं। इन्हें प्राकृतिक एंटीबॉडी कहा जाता है क्योंकि वे बिना किसी स्पष्ट एंटीजेनिक उत्तेजना के आनुवंशिक नियंत्रण में उत्पन्न होते हैं। हालांकि, यह संभावना है कि वे बैक्टीरिया या अन्य स्रोतों में मौजूद एंटीजन जैसे रक्त समूह के साथ अज्ञात पर्यावरणीय उत्तेजनाओं के परिणामस्वरूप विकसित होते हैं। प्राकृतिक एंटी ए और एंटी बी एंटीबॉडी खारा एग्लूटिनेशन एंटीबॉडी हैं जो 4⸰C से 18⸰C के बीच बेहतर प्रतिक्रिया करते हैं लेकिन 37⸰C पर भी सक्रिय होते हैं।

आदर्श रूप से दाता और प्राप्तकर्ता एक ही एबीओ समूह से संबंधित होने चाहिए। ओ समूह सार्वभौमिक दाता हैं। ट्रांसफ्यूज्ड ओ ब्लड ग्रुप में एंटी ए और बी एंटीबॉडी आमतौर पर ए या बी ग्रुप प्राप्तकर्ताओं की लाल कोशिकाओं को कोई नुकसान नहीं पहुंचाते हैं। O रक्त समूह में एंटी ए एंटीबॉडी आमतौर पर एंटी बी एंटीबॉडी की तुलना में अधिक शक्तिशाली होता है। इसलिए जब ए समूह प्राप्तकर्ताओं को दिया जाता है तो बी समूह की तुलना में ओ रक्त समूह के प्रतिकूल प्रतिक्रिया होने की अधिक संभावना होती है।

चूंकि एबी रक्त समूह के प्लाज्मा में कोई एंटीबॉडी नहीं होते हैं, वे सार्वभौमिक प्राप्तकर्ता होते हैं। यदि कोई एबी रक्त समूह आधान के लिए उपलब्ध नहीं है तो समूह ए रक्त समूह बी की तुलना में अधिक सुरक्षित है क्योंकि एंटी ए एंटीबॉडी आमतौर पर बी विरोधी एंटीबॉडी की तुलना में अधिक शक्तिशाली होते हैं।

ब्लड ग्रुप को एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में ट्रांसफ़्यूज़ करने से पहले समझना बहुत आवश्यक है, क्योंकि गलत ब्लड ग्रुप प्राप्तकर्ताओं में एलर्जी का कारण बन सकता है।

आरएच रक्त समूह प्रणाली

1940 में लैंडस्टीनर ने दिखाया कि रीसस बंदर की लाल रक्त कोशिकाओं के खिलाफ उत्पादित एंटीबॉडी ने मानव आबादी के 85% आरबीसी को बढ़ा दिया। एंटीबॉडी को रीसस (आरएच) एंटीजन नामक अणु के खिलाफ निर्देशित किया गया था और इसे रखने वाले व्यक्तियों को आरएच पॉजिटिव कहा जाता था। शेष 15% जिन्होंने इसे नहीं रखा उन्हें Rh नेगेटिव कहा गया। Rh एंटीजन के खिलाफ प्राकृतिक एंटीबॉडी नहीं होते हैं। इम्यूनोलॉजिकल रूप से आरएच प्रणाली को अत्यधिक जटिल दिखाया गया है और लगभग 30 एंटीजेनिक प्रकारों की पहचान की गई है। प्रणाली में 5 आइसोफॉर्म (सी, डी, ई, सी और ई) होते हैं, जो तीन बारीकी से जुड़े लोकी के उत्पाद होते हैं। इन लोकी में सबसे महत्वपूर्ण डी है और डी एंटीजन के उत्पादन के लिए जिम्मेदार है, जो आरएच एंटीजन का सबसे महत्वपूर्ण है।

एक व्यक्ति आरएच पॉजिटिव होता है यदि उसे किसी भी माता-पिता से डी विरासत में मिलता है। एक समयुग्मक माता-पिता अपने सभी बच्चों को D संचारित करते हैं। एक विषमयुग्मजी माता-पिता इसे अपने आधे बच्चों तक ही पहुँचाते हैं।

Rh positive CDe cDE cDe CDE
Rh negative Cde cdE cde CdE

एंटी डी सीरम के साथ परीक्षण करके आरएच टाइपिंग की जाती है। आरएच पॉजिटिव का वितरण अलग-अलग क्षेत्रों में अलग-अलग होता है। यूरोपीय लोग 85% आरएच पॉजिटिव हैं, भारतीय 93% पॉजिटिव हैं। सीरम में कोई एंटी आरएच एंटीबॉडी नहीं होते हैं।

आरएच असंगतता तभी महत्वपूर्ण है जब प्राप्तकर्ता आरएच ऋणात्मक हो। एक आरएच-पॉजिटिव व्यक्ति आरएच पॉजिटिव या नेगेटिव ब्लड प्राप्त कर सकता है। लेकिन आरएच-नकारात्मक रक्त प्राप्त करने वाला एक आरएच-नकारात्मक व्यक्ति आरएच एंटीजन के खिलाफ एंटीबॉडी बना सकता है। आरएच पॉजिटिव रक्त के साथ बाद में आधान प्रतिकूल प्रतिक्रिया का कारण बन सकता है। महिलाओं में एक अतिरिक्त जोखिम आरएच संवेदीकरण है जो नवजात शिशु के हेमोलिटिक रोग का कारण बनता है। इसलिए, यह विशेष रूप से महत्वपूर्ण है कि आरएच नकारात्मक महिलाएं जो बच्चे पैदा करने की उम्र पार नहीं कर चुकी हैं उन्हें केवल आरएच-नकारात्मक रक्त प्राप्त होता है।

ABO-blood-group-system

रक्त आधान

रक्त आधान एक चिकित्सा प्रक्रिया है जहां दान किया गया रक्त प्राप्तकर्ता को आपकी बांह में एक नस के भीतर डाली गई एक संकीर्ण ट्यूब के माध्यम से प्रदान किया जाता है। लाल रक्त कोशिकाओं को आसानी से एक जानवर से दूसरे जानवर में स्थानांतरित किया जा सकता है। यदि दाता लाल रक्त कोशिकाओं में प्राप्तकर्ता के आरबीसी पर पाए जाने वाले एंटीजन के समान एंटीजन होते हैं, तो कोई प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया नहीं होगी। यदि, हालांकि, ट्रांसफ्यूज्ड लाल कोशिकाएं प्राप्तकर्ता के लिए विदेशी हैं तो वे नष्ट हो जाएंगी। यह 2 तरह से हो सकता है।

• यदि एबीओ प्रणाली की तरह, प्राप्तकर्ता के पास विदेशी आरबीसी पर एंटीजन के लिए पहले से मौजूद एंटीबॉडी हैं, तो उन्हें तुरंत नष्ट कर दिया जाएगा। जब ये एंटीबॉडी विदेशी रक्त समूह प्रतिजनों के साथ जुड़ते हैं, तो वे ट्रांसफ्यूज्ड कोशिकाओं के एग्लूटिनेशन, हेमोलिसिस, ऑप्सोनाइजेशन और फागोसाइटोसिस का कारण बनते हैं।

• पहले से मौजूद एंटीबॉडी की अनुपस्थिति में, विदेशी लाल कोशिकाएं प्राप्तकर्ता में 1⸰ प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को उत्तेजित करती हैं। इसलिए ट्रांसफ्यूज्ड कोशिकाएं तब तक स्वतंत्र रूप से प्रसारित होती हैं जब तक कि एंटीबॉडी का उत्पादन नहीं हो जाता और प्रतिरक्षा उन्मूलन नहीं हो जाता। समान विदेशी लाल कोशिकाओं के साथ एक दूसरे आधान के परिणामस्वरूप संवेदनशील प्राप्तकर्ता में उनका तत्काल विनाश होता है।

यह चिकित्सा प्रक्रिया सर्जरी या चोट के कारण खोए हुए रक्त को बदलने में मदद कर सकती है। और यदि कोई बीमारी आपके शरीर को रक्त या आपके रक्त के कुछ घटकों को सही ढंग से बनाने से रोकती है तो रक्त आधान भी मदद कर सकता है।

रक्त आधान आमतौर पर जटिलताओं के बिना होता है। जब जटिलताएं होती हैं, तो वे आम तौर पर हल्के होते हैं।

रक्त आधान के प्रकार

रक्त आधान के चार सामान्य प्रकार हैं:

• लाल रक्त कोशिका आधान: यदि व्यक्ति को रक्ताल्पता (जैसे लोहे की कमी से एनीमिया) है, या यदि उन्हें रक्त विकार है, तो उसे रक्त की हानि का अनुभव हुआ है, तो उसे लाल रक्त कोशिका आधान प्राप्त हो सकता है।

• प्लेटलेट ट्रांसफ़्यूज़न: जिन व्यक्तियों में प्लेटलेट्स की संख्या कम होती है, वे प्लेटलेट ट्रांसफ़्यूज़न से गुज़र सकते हैं, जैसे कि कीमोथेरेपी या प्लेटलेट डिसऑर्डर से।

• प्लाज्मा आधान: प्लाज्मा में स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण प्रोटीन होते हैं। एक व्यक्ति को प्लाज्मा आधान प्राप्त हो सकता है यदि उन्होंने गंभीर जलन, संक्रमण या यकृत की विफलता का अनुभव किया हो।

• संपूर्ण रक्त आधान: यदि किसी व्यक्ति को गंभीर दर्दनाक रक्तस्राव हुआ हो और उसे लाल रक्त कोशिकाओं, श्वेत रक्त कोशिकाओं और प्लेटलेट्स की आवश्यकता हो, तो उसे संपूर्ण रक्त आधान प्राप्त हो सकता है।

रक्त आधान होने से पहले, एक स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर रक्त से श्वेत रक्त कोशिकाओं को हटा देगा। ऐसा इसलिए है क्योंकि वे वायरस ले जा सकते हैं।

सब बातों पर विचार; वे किसी व्यक्ति को ऐसे संदूषण से उबरने में सहायता करने के लिए ग्रैन्यूलोसाइट्स नामक श्वेत रक्त कोशिकाओं को ट्रांसफ़्यूज़ कर सकते हैं जिसने एंटीबायोटिक एजेंटों पर प्रतिक्रिया नहीं की है। चिकित्सा देखभाल विशेषज्ञ एफेरेसिस नामक प्रक्रिया का उपयोग करके ग्रैन्यूलोसाइट्स एकत्र कर सकते हैं।

रक्त आधान क्यों किया जाता है?

रक्त चढ़ाने के कई कारण होते हैं जैसे कि सर्जरी के लिए, किसी चोट, बीमारी और रक्तस्राव विकारों के मामले में।

रक्त में कई घटक होते हैं, जिनमें शामिल हैं:

• लाल कोशिकाएं ऑक्सीजन ले जाती हैं और अपशिष्ट उत्पादों को हटाने में मदद करती हैं

• सफेद कोशिकाएं आपके शरीर को संक्रमण से लड़ने में मदद करती हैं

• प्लाज्मा आपके रक्त का तरल भाग है

• प्लेटलेट्स आपके रक्त के थक्के को ठीक से बनाने में मदद करते हैं

एक आधान रक्त का वह भाग या भाग देता है जिसकी आपको आवश्यकता होती है, जिसमें लाल रक्त कोशिकाओं को सबसे सामान्य रूप से आधान किया जाता है। आप संपूर्ण रक्त भी प्राप्त कर सकते हैं, जिसमें सभी भाग होते हैं, हालांकि संपूर्ण रक्त आधान सामान्य नहीं होता है।

विश्लेषक कृत्रिम रक्त बनाने पर काम कर रहे हैं। अब तक, मानव रक्त के लिए बुरे अच्छे विकल्प के अलावा कुछ भी उपलब्ध नहीं है।

रक्त आधान आवश्यक है जब शरीर को ठीक से काम करने के लिए पर्याप्त रक्त की आवश्यकता होती है। उदाहरण के लिए, किसी व्यक्ति को रक्त आधान की आवश्यकता हो सकती है यदि उसे कोई गंभीर चोट लगी हो या चिकित्सा प्रक्रिया के दौरान रक्त की हानि हुई हो।

कुछ लोगों को विशिष्ट स्थितियों और समस्याओं के लिए रक्त आधान की आवश्यकता होती है, जिनमें शामिल हैं:

• एनीमिया: यह तब होता है जब किसी व्यक्ति के रक्त में पर्याप्त लाल रक्त कोशिकाएं नहीं होती हैं। यह विभिन्न कारणों से विकसित हो सकता है, उदाहरण के लिए, यदि किसी व्यक्ति के शरीर में पर्याप्त आयरन नहीं है। इसे आयरन की कमी वाले एनीमिया के रूप में जाना जाता है।

• हीमोफीलिया: यह एक रक्तस्राव की समस्या है जिसमें रक्त अपेक्षा के अनुरूप थक्का नहीं बन पाता है।

• कैंसर: यह तब होता है जब शरीर में कोशिकाएं विभाजित होती हैं और आसपास के ऊतकों में फैल जाती हैं।

• सिकल सेल संक्रमण: यह लाल रक्त कोशिका विकारों का एक समूह है जो लाल रक्त कोशिकाओं की संरचना को बदल देता है।

• गुर्दे की बीमारी: यह तब होता है जब गुर्दे क्षतिग्रस्त हो जाते हैं।

• जिगर की बीमारी: ऐसा तब होता है जब लीवर ठीक से काम करना बंद कर देता है।

blood-transfusion

रक्त आधान जोखिम

यद्यपि शरीर निरंतर आधार पर कम संख्या में वृद्ध आरबीसी को समाप्त कर सकता है, एक असंगत आधान से कई विदेशी लाल रक्त कोशिकाओं के तेजी से विनाश से रक्त आधान जोखिम हो सकता है जिससे गंभीर ऊतक क्षति हो सकती है। यह क्षति बड़े पैमाने पर इंट्रावास्कुलर हेमोलिसिस के परिणामस्वरूप होती है, जो माइक्रोथ्रोम्बी द्वारा केशिकाओं के रुकावट के परिणामस्वरूप थक्के को ट्रिगर करती है। ट्यूमर, सिरदर्द, पक्षाघात और आक्षेप जैसे तंत्रिका तंत्र के लक्षण हैं। कुछ व्यक्तियों में सांस लेने में कठिनाई के साथ-साथ खांसी और दस्त भी हो सकते हैं।

अन्य सामान्य प्रतिक्रियाओं में एलर्जी प्रतिक्रियाएं शामिल हैं, जो पित्ती और खुजली और बुखार का कारण बन सकती हैं।

कुछ प्रतिक्रियाएं तुरंत होती हैं, जबकि अन्य को प्रकट होने में कई दिन लग सकते हैं। उदाहरणों में शामिल:

एलर्जी

रक्त आधान जोखिमों में से एक एलर्जी प्रतिक्रिया है। वास्तव में, रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र (सीडीसी) के अनुसार, रक्त आधान के लिए रिपोर्ट की गई प्रतिक्रियाओं में एलर्जी प्रतिक्रियाएं 50% से अधिक हैं। इस प्रकार, एलर्जी प्रतिक्रियाओं को दूर करने के लिए प्राप्तकर्ताओं को एंटीहिस्टामाइन दवाएं दी जाती हैं।

बुखार

अन्य रक्त आधान जोखिम बुखार है। हालांकि यह गंभीर नहीं है, लेकिन अगर उन्हें सीने में दर्द या मतली का भी अनुभव होता है, तो उन्हें जल्द से जल्द डॉक्टर को बताना चाहिए।

हेमोलिटिक प्रतिक्रिया

अन्य रक्त आधान जोखिम हेमोलिटिक प्रतिक्रिया है। यह तब होता है जब रक्त के प्रकार संगत नहीं होते हैं, जिससे प्रतिरक्षा प्रणाली नई रक्त कोशिकाओं पर हमला करती है।

यह एक गंभीर प्रतिक्रिया है, लेकिन यह बहुत दुर्लभ है।

लक्षणों में शामिल हो सकते हैं:

• निचली कमर का दर्द

• छाती में दर्द

• गहरा मूत्र

• जी मिचलाना

• बुखार

संक्रमण का संचरण

बहुत ही दुर्लभ मामलों में, रक्त आधान जोखिमों में से एक बैक्टीरिया, वायरस या परजीवी का संचरण होता है जो एचआईवी या हेपेटाइटिस बी या सी जैसे संक्रमण पैदा करता है।

हालांकि, सीडीसी के अनुसार, विशेषज्ञ इन दूषित पदार्थों के लिए दान किए गए प्रत्येक रक्त का परीक्षण करते हैं। इसलिए किसी व्यक्ति के लिए रक्त आधान से संक्रमण का अनुबंध करना बहुत दुर्लभ है।

वास्तव में, अमेरिकन रेड क्रॉस के अनुसार, हेपेटाइटिस बी से संक्रमित व्यक्ति की संभावना 300,000 में 1 है, और हेपेटाइटिस सी के अनुबंध की संभावना 1.5 मिलियन में 1 है।

संयुक्त राज्य अमेरिका में रक्त आधान से एचआईवी होने की संभावना 1 मिलियन में 1 से कम है।

रक्तजनित संक्रमण

एचआईवी या हेपेटाइटिस बी या सी जैसे संक्रमण होने के जोखिम को कम करने के लिए ब्लड बैंक, स्क्रीन डोनर और टेस्ट डोनेट किए गए रक्त अत्यंत दुर्लभ हैं।

अन्य गंभीर प्रतिक्रियाएं

इसके अलावा दुर्लभ, इनमें शामिल हैं:

• तीव्र प्रतिरक्षा हेमोलिटिक प्रतिक्रिया: आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली रक्ताधानित लाल रक्त कोशिकाओं पर हमला करती है क्योंकि दाता रक्त प्रकार एक अच्छा मेल नहीं है। हमला की गई कोशिकाएं आपके रक्त में एक पदार्थ छोड़ती हैं जो आपके गुर्दे को नुकसान पहुंचाती है। इस प्रकार, तीव्र प्रतिरक्षा हेमोलिटिक प्रतिक्रिया अन्य रक्त आधान जोखिम है।

• विलंबित रक्तलायी प्रतिक्रिया। एक तीव्र प्रतिरक्षा हेमोलिटिक प्रतिक्रिया के समान, यह प्रतिक्रिया अधिक धीरे-धीरे होती है। लाल रक्त कोशिका के स्तर में कमी को नोटिस करने में एक से चार सप्ताह लग सकते हैं। इस प्रकार, विलंबित हेमोलिटिक प्रतिक्रिया अन्य रक्त आधान जोखिम है।

• भ्रष्टाचार बनाम मेजबान रोग। इस स्थिति में, ट्रांसफ्यूज्ड श्वेत रक्त कोशिकाएं आपके अस्थि मज्जा पर हमला करती हैं। आमतौर पर घातक, यह गंभीर रूप से कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली वाले लोगों को प्रभावित करने की अधिक संभावना है, जैसे कि ल्यूकेमिया या लिम्फोमा के लिए इलाज किया जा रहा है। इस प्रकार, भ्रष्टाचार बनाम मेजबान रोग अन्य रक्त आधान जोखिम है।

आधान प्रतिक्रियाओं का उपचार आधान को रोककर और मूत्रवर्धक के साथ मूत्र प्रवाह को बनाए रखते हुए किया जाता है, क्योंकि गुर्दे में हीमोग्लोबिन के संचय से गंभीर क्षति होगी।

आप रक्त आधान की तैयारी कैसे करते हैं?

यह तय करने के लिए कि आपका रक्त वर्गीकरण ए, बी, एबी या ओ है या नहीं और आपका रक्त आरएच पॉजिटिव है या आरएच नेगेटिव है, यह तय करने के लिए आधान से पहले आपके रक्त का परीक्षण किया जाएगा। आपके आधान के लिए उपयोग किया गया दान किया गया रक्त आपके रक्त प्रकार के अनुकूल होना चाहिए।

अपने चिकित्सा सेवा प्रदाता को बताएं कि क्या आपको पहले रक्त आधान के प्रति प्रतिक्रिया हुई है।

रक्त आधान में आप क्या उम्मीद कर सकते हैं?

रक्त आधान आमतौर पर एक आपातकालीन क्लिनिक, एक आउट पेशेंट सुविधा या किसी विशेषज्ञ के कार्यालय में किया जाता है। इस तकनीक में आमतौर पर एक से चार घंटे लगते हैं, यह इस बात पर निर्भर करता है कि आपको रक्त का कौन सा भाग प्राप्त होता है और आपको कितना रक्त चाहिए।

अधिकांश रक्त आधान एक क्लिनिक या एक सुविधा में होता है। हालांकि, आने वाली नर्सों के पास घर पर रक्त आधान करने का विकल्प हो सकता है। इससे पहले, एक विशेषज्ञ को किसी व्यक्ति के रक्त प्रकार का निर्धारण करने के लिए रक्त परीक्षण करना चाहिए।

रक्त आधान के दौरान, एक स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर नस में, आमतौर पर हाथ या हाथ में एक छोटी सी सुई डालेगा। रक्त फिर एक बैग से, एक रबर ट्यूब के माध्यम से, और सुई के माध्यम से व्यक्ति की नस में चला जाता है।

वे पूरी प्रक्रिया के दौरान मूलभूत संकेतों की सावधानीपूर्वक जांच करेंगे। रक्त आधान समाप्त करने में 4 घंटे तक लग सकते हैं।

प्रक्रिया से पहले

कुछ मामलों में, आप वैकल्पिक सर्जरी से पहले अपने लिए रक्तदान कर सकते हैं, लेकिन अधिकांश आधान में अजनबियों द्वारा दिया गया रक्त शामिल होता है। एक पहचान जांच सुनिश्चित करेगी कि आपको सही रक्त प्राप्त हो।

रक्ताधान में सुरक्षा के लिए दाता को चुनने में निम्नलिखित शर्तों को पूरा करना आवश्यक है:

• प्राप्तकर्ता के प्लाज्मा में कोई एंटीबॉडी नहीं होनी चाहिए जो दाता के एरिथ्रोसाइट्स को नुकसान पहुंचाए।

• दाता प्लाज्मा में कोई एंटीबॉडी नहीं होनी चाहिए जो प्राप्तकर्ता की लाल कोशिकाओं को नुकसान पहुंचाए।

• दाता लाल कोशिकाओं में ऐसा कोई एंटीजन नहीं होना चाहिए जिसमें प्राप्तकर्ता में कमी हो।

प्रक्रिया के दौरान

आपके रक्त वाहिकाओं में से एक में सुई के साथ एक अंतःशिरा (IV) लाइन डाली जाती है। दान किया गया रक्त जिसे प्लास्टिक की थैली में रखा गया है, IV के माध्यम से आपके रक्तप्रवाह में प्रवेश करता है। प्रक्रिया के लिए आप बैठे या लेटे रहेंगे, जिसमें आमतौर पर एक से चार घंटे लगते हैं।

एक नर्स पूरी प्रक्रिया के दौरान आपकी निगरानी करेगी और आपके रक्तचाप, तापमान और हृदय गति को मापेगी। विकसित होने पर तुरंत नर्स को बताएं:

• बुखार

• सांस लेने में कठिनाई

• ठंड लगना

• असामान्य खुजली

• सीने या पीठ दर्द

• बेचैनी की भावना

प्रक्रिया के बाद

सुई और IV लाइन को हटा दिया जाएगा। आप सुई साइट के आसपास एक खरोंच विकसित कर सकते हैं, लेकिन यह कुछ दिनों में दूर हो जाना चाहिए।

यदि आप रक्त आधान के तुरंत बाद के दिनों में सांस की तकलीफ या छाती या पीठ दर्द का अनुभव करते हैं, तो अपने स्वास्थ्य देखभाल प्रदाता से संपर्क करें।

रिकवरी का समय रक्त आधान के कारण पर निर्भर हो सकता है। हालांकि, प्रक्रिया के 24 घंटे से कम समय के बाद किसी व्यक्ति को छुट्टी दी जा सकती है।

आधान के बाद एक व्यक्ति को हाथ या बांह में दर्द महसूस हो सकता है। साइट पर कुछ चोट भी लग सकती है।

आधान के लिए विलंबित प्रतिक्रिया का बहुत कम जोखिम हो सकता है। हालांकि यह आम तौर पर समस्याओं का कारण नहीं बनता है, अगर किसी व्यक्ति को अस्वस्थ महसूस होता है और अप्रत्याशित लक्षण होते हैं, जैसे कि मतली, सूजन, पीलिया, या खुजली वाली धड़कन होती है तो उसे डॉक्टर से परामर्श लेना चाहिए।

डॉक्टर को किसी भी लक्षण के बारे में बताना महत्वपूर्ण है जो प्रतिक्रिया का संकेत दे सकता है, जैसे कि मतली या सांस लेने में कठिनाई।

सारांश

रक्त आधान एक सुरक्षित प्रक्रिया है जो चोट या सर्जरी के कारण खोए हुए रक्त की जगह लेती है। यह कुछ चिकित्सीय स्थितियों के उपचार में भी मदद कर सकता है।

रक्त आधान जीवन रक्षक हो सकता है, लेकिन वे कुछ हल्के दुष्प्रभाव पैदा कर सकते हैं।

हालांकि संक्रमण बहुत दुर्लभ हैं, शरीर के लिए नए रक्त पर प्रतिक्रिया करना संभव है। हालांकि, ज्यादातर मामलों में, ये प्रतिक्रियाएं हल्की होती हैं।

रक्तदान का अवलोकन

रक्तदान ब्लड बैंक को रक्तदान करना है और यह एक स्वैच्छिक प्रक्रिया है जो दूसरों के जीवन को बचाने में मदद कर सकती है। रक्तदान विभिन्न प्रकार के होते हैं। इनमें से प्रत्येक प्रकार विभिन्न चिकित्सा आवश्यकताओं को पूरा करने में मदद करता है।

संपूर्ण रक्तदान

यह सबसे सामान्य प्रकार का रक्तदान है, जिसके दौरान आप लगभग एक पिंट (करीब आधा लीटर) पूरा रक्त दान करते हैं। फिर रक्त को उसके घटकों में विभाजित किया जाता है - लाल रक्त कोशिकाएं, प्लाज्मा और कभी-कभी प्लेटलेट्स।

अफेरेसिस

एफेरेसिस में, आप एक ऐसी मशीन से जुड़े होते हैं जो लाल रक्त कोशिकाओं, प्लाज्मा और प्लेटलेट्स सहित रक्त के घटकों को एकत्र और अलग कर सकती है, और अप्रयुक्त घटकों को आपको वापस कर सकती है।

• प्लेटलेट डोनेशन (प्लेटलेटफेरेसिस) केवल प्लेटलेट्स एकत्र करता है - वे कोशिकाएं जो रक्त वाहिकाओं में क्लंपिंग और प्लग (थक्के) बनाकर रक्तस्राव को रोकने में मदद करती हैं। दान किए गए प्लेटलेट्स आमतौर पर थक्के की समस्या या कैंसर वाले लोगों और ऐसे लोगों को दिए जाते हैं जिनके अंग प्रत्यारोपण या बड़ी सर्जरी होगी।

• डबल रेड सेल डोनेशन आपको रेड ब्लड सेल्स की एक केंद्रित मात्रा दान करने की अनुमति देता है। लाल रक्त कोशिकाएं आपके अंगों और ऊतकों तक ऑक्सीजन पहुंचाती हैं। दान की गई लाल रक्त कोशिकाएं आमतौर पर गंभीर रक्त हानि वाले लोगों को दी जाती हैं, जैसे कि चोट या दुर्घटना के बाद, और सिकल सेल एनीमिया वाले लोग।

• प्लाज्मा दान (प्लाज्माफेरेसिस) रक्त के तरल भाग (प्लाज्मा) को एकत्रित करता है। प्लाज्मा रक्त के थक्के में मदद करता है और इसमें एंटीबॉडी होते हैं जो संक्रमण से लड़ने में मदद करते हैं। रक्तस्राव को रोकने में मदद करने के लिए आमतौर पर आपातकालीन और आघात की स्थिति में लोगों को प्लाज्मा दिया जाता है।

blood-donation

रक्तदान क्यों किया जाता है?

रक्तदान किसी ऐसे व्यक्ति को रक्तदान करने के लिए किया जाता है जिसे दुर्घटना, चोट या किसी अन्य घटना के कारण रक्त की आवश्यकता होती है।

दुनिया में ऐसे लाखों लोग हैं जिन्हें हर साल रक्त चढ़ाने की जरूरत होती है। उदाहरण के लिए, कुछ को सर्जरी के दौरान रक्त की आवश्यकता हो सकती है। अन्य लोग इस पर दुर्घटना के बाद या इसलिए निर्भर करते हैं क्योंकि उन्हें कोई ऐसी बीमारी है जिसके लिए रक्त घटकों की आवश्यकता होती है। इस प्रकार, यह सब संभव बनाने के लिए रक्तदान किया जाता है। मानव रक्त का कोई विकल्प नहीं है - सभी आधान एक दाता के रक्त का उपयोग करते हैं।

रक्तदान के जोखिम

रक्तदान सुरक्षित है। प्रत्येक दाता के लिए नए, बाँझ डिस्पोजेबल उपकरण का उपयोग किया जाता है, इसलिए रक्तदान करने से रक्तजनित संक्रमण होने का कोई खतरा नहीं होता है।

यदि आप एक स्वस्थ वयस्क हैं, तो आप आमतौर पर अपने स्वास्थ्य को खतरे में डाले बिना एक पिंट (लगभग आधा लीटर) रक्त दान कर सकते हैं। रक्तदान के कुछ दिनों के भीतर, आपका शरीर खोए हुए तरल पदार्थों को बदल देता है। और दो सप्ताह के बाद, आपका शरीर खोई हुई लाल रक्त कोशिकाओं को बदल देता है।

रक्तदान करने से पहले आप कैसे तैयारी करते हैं

जरूरी योग्यता

संपूर्ण रक्त, प्लाज्मा या प्लेटलेट्स दान करने के योग्य होने के लिए, आपको होना चाहिए:

• तंदुरुस्त।

• आपके राज्य में कानून के आधार पर आयु कम से कम 16-17 होनी चाहिए। कुछ राज्य कानूनी नाबालिगों को माता-पिता की अनुमति से दान करने की अनुमति देते हैं। जबकि कोई कानूनी ऊपरी आयु सीमा नहीं है, अलग-अलग दाता केंद्रों के बीच नीतियां भिन्न हो सकती हैं।

• कम से कम 110 पाउंड (लगभग 50 किलोग्राम)।

• शारीरिक और स्वास्थ्य-इतिहास का आकलन पास करने में सक्षम।

विभिन्न प्रकार के रक्तदान के बीच पात्रता आवश्यकताएं थोड़ी भिन्न होती हैं।

भोजन और दवाएं

आपके रक्तदान से पहले:

• दान करने की योजना बनाने से एक रात पहले भरपूर नींद लें।

• दान करने से पहले स्वस्थ भोजन करें। वसायुक्त खाद्य पदार्थों से बचें, जैसे हैमबर्गर, फ्राइज़ या आइसक्रीम।

• दान से पहले खूब पानी पिएं।

• यह देखने के लिए जांचें कि क्या आप जो दवाएं ले रहे हैं या हाल ही में ली हैं, वे आपको दान करने से रोक रही हैं। उदाहरण के लिए, यदि आप एक प्लेटलेट डोनर हैं, तो आपको दान करने से दो दिन पहले एस्पिरिन नहीं लेनी चाहिए। किसी भी दवा को बंद करने से पहले अपने डॉक्टर से बात करें।

• आस्तीन वाली शर्ट पहनें जिसे ऊपर की ओर घुमाया जा सके।

दान करने से पहले आप क्या उम्मीद कर सकते हैं?

रक्तदान करने से पहले, आपको एक गोपनीय चिकित्सा इतिहास भरना होता है जिसमें रक्तजनित संक्रमणों के उच्च जोखिम वाले व्यवहारों के बारे में प्रश्न शामिल होते हैं - संक्रमण जो रक्त के माध्यम से संचरित होते हैं।

रक्त जनित संक्रमण के जोखिम के कारण, हर कोई रक्तदान नहीं कर सकता है। कुछ उच्च जोखिम वाले समूह जो रक्तदान करने के योग्य नहीं हैं, वे हैं:

• ऐसे व्यक्ति जिन्होंने पिछले तीन महीनों में इंजेक्शन वाली दवाओं, स्टेरॉयड या किसी अन्य पदार्थ का इस्तेमाल किया है जो डॉक्टर द्वारा निर्धारित नहीं किया गया है

• वे पुरुष जिन्होंने पिछले तीन महीनों में अन्य पुरुषों के साथ यौन संपर्क किया है

• कोई व्यक्ति जिसे जन्मजात जमावट कारक की कमी है

• कोई भी व्यक्ति जिसका एचआईवी के लिए सकारात्मक परीक्षण हुआ है

• पिछले तीन महीनों में पैसे या ड्रग्स के लिए सेक्स करने वाला कोई भी व्यक्ति

• पिछले 12 महीनों में, कोई भी व्यक्ति, जिसके साथ निकट संपर्क रहा हो - उसके साथ रहा हो या उसके साथ यौन संपर्क रहा हो - वायरल हेपेटाइटिस से पीड़ित व्यक्ति

• कोई भी व्यक्ति जिसे बेबियोसिस हुआ हो, एक दुर्लभ और गंभीर टिक-जनित रोग, या परजीवी संक्रमण चागास रोग

• कोई भी व्यक्ति जिसने सोरायसिस की दवा एट्रेटिनेट (टेगिसन) ली है, जिसे अमेरिका में बंद कर दिया गया है

• कोई भी व्यक्ति जिसके पास अपक्षयी मस्तिष्क विकार Creutzfeldt-Jakob रोग (CJD) के जोखिम कारक हैं

• कोई भी व्यक्ति जिसने १९८० से १९९६ तक यूनाइटेड किंगडम में तीन महीने या उससे अधिक समय बिताया हो

• 1980 से वर्तमान तक यूनाइटेड किंगडम या फ़्रांस में रक्ताधान प्राप्त करने वाला कोई भी व्यक्ति

• कोई भी व्यक्ति जिसने १९८० से २००१ तक फ़्रांस या आयरलैंड में पाँच वर्ष या उससे अधिक समय बिताया हो

आपको एक संक्षिप्त शारीरिक परीक्षा भी देनी होगी, जिसमें आपके रक्तचाप, नाड़ी और तापमान की जाँच शामिल है। रक्त का एक छोटा सा नमूना एक उंगली की चुभन से लिया जाता है और इसका उपयोग आपके रक्त के ऑक्सीजन-वाहक घटक (हीमोग्लोबिन स्तर) की जांच के लिए किया जाता है। यदि आपका हीमोग्लोबिन एकाग्रता सामान्य है और आप अन्य सभी जांच आवश्यकताओं को पूरा करते हैं, तो आप रक्तदान कर सकते हैं।

blood-donating

COVID-19 चिंताएं

कोरोनावायरस रोग 2019 (COVID-19) का कारण बनने वाले वायरस को रक्त आधान के माध्यम से संचरित होते हुए नहीं दिखाया गया है। हालांकि, यूएस फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन का सुझाव है कि बिना लक्षणों के COVID-19 के लिए सकारात्मक नैदानिक ​​​​परीक्षण के बाद या COVID-19 के लक्षणों के पूरी तरह से ठीक होने के बाद कम से कम 14 दिनों के लिए रक्तदान करने की प्रतीक्षा करें। जिन लोगों ने COVID-19 एंटीबॉडी के लिए सकारात्मक परीक्षण किया है, लेकिन उनके पास नैदानिक ​​​​परीक्षण नहीं है और कभी विकसित लक्षण नहीं हैं, वे प्रतीक्षा अवधि के बिना दान कर सकते हैं या दान से पहले नैदानिक ​​परीक्षण कर सकते हैं।

यदि आपको एक गैर-प्रतिकृति, निष्क्रिय या mRNA- आधारित COVID-19 वैक्सीन मिलती है, तो आप बिना प्रतीक्षा अवधि के रक्तदान कर सकते हैं। हालांकि, यदि एक जीवित क्षीण वायरल COVID-19 वैक्सीन उपलब्ध हो जाता है और आप इसे प्राप्त कर लेते हैं, तो रक्तदान करने से पहले टीकाकरण के 14 दिन बाद प्रतीक्षा करें। यदि आप सुनिश्चित नहीं हैं कि आपको किस प्रकार का टीका लगाया गया है, तो रक्तदान करने से 14 दिन पहले प्रतीक्षा करें।

प्रक्रिया के दौरान

आपको शुरुआत में लेटने या बैठने की कुर्सी पर बैठने की जरूरत है, जिसमें आपकी बांह आर्मरेस्ट पर फैली हुई हो। यदि आपके पास पसंद है कि किस हाथ या नस का उपयोग किया जाता है, तो इसे साझा करें। आपकी नसों में अधिक रक्त भरने के लिए आपके ऊपरी बांह के चारों ओर एक ब्लड प्रेशर कफ या टूर्निकेट लगाया जाता है। यह नसों को देखने में आसान और सुई को अंदर डालने में आसान बनाता है, और इसके अलावा रक्त बैग को और तेज़ी से भरने में मदद करता है। उस समय आपकी कोहनी के भीतर की त्वचा साफ हो जाती है।

एक और, बाँझ सुई आपकी बांह में एक नस में एम्बेडेड होती है। यह सुई एक पतली, प्लास्टिक ट्यूब और एक खून की थैली से जुड़ी होती है। जब सुई को सेट किया जाता है, तो आप अपनी मुट्ठी को कई बार कसते हैं ताकि नस से रक्त प्रवाह में मदद मिल सके। सबसे पहले रक्त को परीक्षण के लिए ट्यूबों में एकत्र किया जाता है। जब इन्हें एकत्र कर लिया जाता है, तो रक्त को बैग में भरने दिया जाता है, लगभग एक पिंट (लगभग आधा लीटर)। सुई आमतौर पर लगभग 10 मिनट के लिए सेट की जाती है। पूरा होने पर, सुई को बाहर निकाल लिया जाता है, सुई की जगह पर एक छोटी पट्टी लगाई जाती है और आपकी बांह पर एक ड्रेसिंग लपेटी जाती है।

रक्त को उत्तरोत्तर सामान्य बनाने की एक अन्य तकनीक एफेरेसिस है। एफेरेसिस के दौरान, आप एक ऐसी मशीन से जुड़ जाते हैं जो लाल रक्त कोशिकाओं, प्लाज्मा और प्लेटलेट्स जैसे रक्त भागों को इकट्ठा और अलग कर सकती है। यह प्रक्रिया एक से अधिक घटक एकत्र करने की अनुमति देती है। इसमें मानक रक्तदान से अधिक समय लगता है - आमतौर पर दो घंटे तक।

रक्तदान के बाद

दान करने के बाद, दाता को एक अवलोकन कक्ष में बैठना चाहिए, जहां उसे आराम करने और हल्का नाश्ता खाने के लिए कहा जाता है। 15 मिनट के बाद, दाता जा सकता है। रक्तदान करने के बाद:

• अतिरिक्त तरल पदार्थ पीने की सलाह दी जाती है।

• लगभग पांच घंटे तक ज़ोरदार शारीरिक गतिविधि या भारी सामान उठाने से बचें।

• यदि आप हल्का महसूस कर रहे हैं, तो अपने पैरों को तब तक ऊपर करके लेटें जब तक कि यह महसूस न हो जाए।

• अगले पांच घंटे तक पट्टी न हटाएं।

• यदि पट्टी हटाने के बाद आपको रक्तस्राव हो रहा है, तो उस स्थान पर दबाव डालें और अपने हाथ को तब तक ऊपर उठाएं जब तक कि खून बहना बंद न हो जाए।

• चोट लगने की स्थिति में, पहले 24 घंटों के दौरान समय-समय पर क्षेत्र पर एक ठंडा पैक लगाएं।

• रक्तदान से खोए हुए आयरन को बदलने के लिए अपने आहार में आयरन युक्त खाद्य पदार्थों को शामिल करने की सलाह दी जाती है।

रक्तदाता केंद्र या अपने चिकित्सक से संपर्क करें यदि आप:

• किसी भी महत्वपूर्ण स्वास्थ्य जानकारी की रिपोर्ट करना भूल गए।

• आपके रक्तदान के बाद कई दिनों के भीतर किसी बीमारी के किसी भी प्रकार के लक्षण और लक्षण हों, जैसे कि बुखार।

• रक्तदान करने के 48 घंटों के भीतर COVID-19 का निदान किया जाता है।

परिणाम

आपके रक्त के प्रकार और आपके आरएच कारक को निर्धारित करने के लिए आपके रक्त का परीक्षण किया जाएगा। रक्त प्रकार को ए, बी, एबी या ओ के रूप में वर्गीकृत किया जाता है। आरएच कारक एक विशिष्ट एंटीजन की उपस्थिति या अनुपस्थिति को संदर्भित करता है - एक पदार्थ जो प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को उत्तेजित करने में सक्षम है - रक्त में। आपको आरएच पॉजिटिव या आरएच नेगेटिव के रूप में वर्गीकृत किया जाएगा, जिसका अर्थ है कि आप एंटीजन करते हैं या नहीं करते हैं। यह जानकारी महत्वपूर्ण है क्योंकि आपका रक्त प्रकार और आरएच कारक आपके रक्त प्राप्त करने वाले व्यक्ति के रक्त प्रकार और आरएच कारक के अनुकूल होना चाहिए।

आपके रक्त का परीक्षण रक्तजनित रोगों, जैसे हेपेटाइटिस और एचआईवी के लिए भी किया जाएगा। यदि ये परीक्षण नकारात्मक हैं, तो रक्त को अस्पतालों और क्लीनिकों में उपयोग के लिए वितरित किया जाता है। यदि इनमें से कोई भी परीक्षण सकारात्मक है, तो दाता केंद्र आपको सूचित करता है, और आपका रक्त निकाल दिया जाता है।




उपर ब्लॉग में बताई गई उपलब्धिया AFD-SHIELD के साथ उपलब्ध हैं
एएफडी शील्ड कैप्सूल 12 प्राकृतिक अवयवों का एक संयोजन है जिनमें से अलगल डीएचए, अश्वगंधा, करक्यूमिन और स्पिरुलिना हैं। एएफडी शील्ड टीजी को कम करता है, एचडीएल बढ़ाता है और उम्र से संबंधित संज्ञानात्मक गिरावट में सुधार करता है। यह तनाव और चिंता को भी कम करता है और एंटी-एजिंग गतिविधि करता है। इसके अलावा, यह इम्युनोमॉड्यूलेटरी गतिविधि को बढ़ाता है, प्रतिरक्षा में सुधार करता है और सूजन और ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करता है। न्यूट्रोग्लिग्क्स: एएफडी-शील्ड

AFDIL Ltd.
+91 9920121021

order@afdil.com

Read Also:


Disclaimer
Home