Benefits Of Having Ashwagandha

Ashwagandha

Ashwagandha is scientifically known as Withania somnifera belonging to the family of Solanaceae. It is also known as Indian Ginseng or winter cherry. It is a little bush that is short and squat with velvet leaves and bell flowers containing orange-coloured berries just like tomatoes which grows in different parts of the world like India, the middle east and parts of Africa. The roots, leaves, fruit and seeds are the parts of the plant being used. Out of which root and berry are used for medical purposes. Since many years it is being used as conventional medicine. It's an ancient medicinal herb.

“Ashwagandha” is named so because ashwa means horse and it depicts the “smell of its roots”, signifying like a horse. This is one of the benefits of ashwagandha, it provides energy just like horse. Apart from this there are many advantage of using ashwagandha and also some side effects. Thus, it is recommended to take advice from doctor before consuming it.

Some of the benefits of ashwagandha are: It is used to relief stress, take care of youth mentally, have long existence, boost brain function, lower blood sugar levels and help fight with anxiety and depression.

It is used as an adaptogen promoting balance between different systems of the body.

Adaptogens have to be:

• Non toxic

• Reduce and regulate stress

• Benefit overall well being

And fortunately, ashwagandha meets all these criteria.

No evidence is found related to the use of ashwagandha in treating of patient with Covid-19. But there are certain areas where it actually works well. Such as it is used in shoring of bones, healing of wounds, boosting of immune system, repair cellular damage by converting food into energy and since it's an adaptogen it can reduce stress and anxiety.

ashwagandha benefits

What are the uses of Ashwagandha

Ashwagandha is a significant herb in Ayurvedic medication where it is considered as Rasayana which looks after youth intellectually and genuinely and lead a long life. This is one of the world's most seasoned clinical frameworks and one of India's medical care frameworks.

Apart from above mention uses, there are some evidences to propose that the herb can have neuroprotective and mitigating impacts. Irritation supports numerous medical issues, and lessening aggravation can secure the body against an assortment of conditions.

It’s a rasayana that promotes longevity, vitality and happiness.

For instance, individuals use ashwagandha to help treat the accompanying:

• stress

• anxiety

• fatigue

• pain

• skin conditions

• diabetes

• arthritis

• epilepsy

Ashwagandha is a churna, a fine sieved powder which can be mixed with water, ghee or honey to enhance the function of brain and nervous system. It is often given to children and adults where ashwagandha is mixed with ghee or honey to avoid bitter taste and is consumed before bedtime. It is also mixed with golden milk made from turmeric to provide relaxation.

Ashwagandha is perhaps the most ordinarily utilized spices for the "Vata" constitution, which is related with air and space. Adjusted Vata energy keeps up graceful skin and joints, a sound body weight, essentialness, solid intellectual capacity, and a healthy nervous system.

Ashwagandha is considered to be:

• Grounding

• Calming

• Restoring

The key synthetic constructions of Ashwagandha invest it with its special restorative properties. It works this way - All plants have a variety of unique mixtures known as phytochemicals. In straightforward words, since plants can't move around, these phytochemicals exist to perform explicit errands. A few phytochemicals go about as a safe framework, reacting to assaulting antibodies. Some exist to discourage creepy crawlies from eating them as the plant can't move around to guard itself. A few phytochemicals essentially assist the plant with developing further. At the point when devoured, these synthetic substances can cover with ones that enact pathways in our bodies and can have a significant impact on our bodies. What makes ashwagandha so exceptional is that it has an enormous amount of these phytochemicals, which makes it amazingly useful and emphatically influences different frameworks in our bodies.

Health Benefits of ashwagandha

Some of the benefits of ashwagandha are:

• Stress and anxiety: The first advantage of using ashwagandha is stress and anxiety. Ashwagandha when compared to drug lorazepam has more quieting impact on nervousness indications. In 2000 a study was conducted by the researcher on mice that the ashwagandha had comparable quieting impact as lorazepam. In a 2019 study, specialists tracked down that taking 240 milligrams (mg) of ashwagandha fundamentally diminished individuals' feelings of anxiety when contrasted with a placebo. This included diminished degrees of cortisol, which is a pressure chemical.

• Arthritis: The second advantage of using ashwagandha is arthritis. Ashwagandha may go about as an agony reliever, forestalling torment signals from going along the central nervous system. It might likewise have some calming properties. Therefore, some exploration has demonstrated it to be successful in treating types of joint inflammation, including rheumatoid arthritis. A little 2015 study in 125 individuals with joint torment discovered the spice to have potential as a treatment alternative for rheumatoid joint inflammation.

• Useful for nervous system: The next advantage of using ashwagandha is useful for nervous system. The sensory system impacts each breath, feeling, choice, and experience in our lives and is essential for overall health and well-being. Ashwagandha supports the structure and function of the nervous system, and it is considered to be a neurosupportive by giving antioxidant support and normally supporting the pathways in the brain for Gamma-aminobutyric acid (GABA), a synapse that is liable for supporting serenity and keeping up muscle tone. Ashwagandha also makes the state of mind calm and stable since it helps regulate natural cortisol rhythm, so it has generally been utilized as a supplement for individuals adapting to adrenal fatigue.

• Heart health: The fourth advantage of usinga ashwagandha is for heart health.Antioxidant support is offered by ashwagandha to the heart protecting it against free radicals in the blood. It also provides anti-inflammatory benefits for the heart to work efficiently. It also supports healthy cholesterol and triglycerides which care the major factors in stroke, heart attack and other cardiovascular problems.

• Alzheimer’s treatment: Ashwagandha has the ability to prevent the loss of brain function in people suffering from Alzheimer’s, Huntington’s disease and Parkinson’s disease.

• Cancer: Ashwagandha prevents new cell growth in certain cancers and also induce death in pre-existing cancer cells. This includes lung tumor in animal studies.

• Reduces blood sugar levels: Other advantage of using ashwagandha is, it helps in reducing blood sugar level. Ashwagandha increase insulin secretion and insulin sensitivity lowering blood sugar in people with and without diabetes.

• Sleep: Proper sleep is important for living a healthy life. Since ashwagandha has grounding and recuperative properties thus it supports healthy sleep. That is why it is included in some of the supplements to support sleep.

• Immune system: Ashwagandha is believed to be one of the most powerful herbs for immune-system for everyone. One animal study found that Ashwagandha strengthened the immune systems of mice by promoting an increase in white blood cells. Thus, this increase in WBC help humans maintain their health longer.

• Fitness: One of the advantage of using ashwagandha is for the fitness of our body. Ashwagandha is known to have an overall anabolic action, that supports weight gain during the natural growth phase. Ashwagandha when taken with milk supports a healthy weight, as well as healthy total plasma proteins and haemoglobin levels. Ashwagandha may also support healthy fat oxidation and support healthy blood glucose and blood lipid levels within already normal, healthy ranges.

Side-Effects

Besides benefits of ashwagandha, some of the side effects of ashwagandha are:

• It may be harmful during pregnancy

• It may cause liver damage

• Might lower the blood sugar level too much

• Might aggravate autoimmune disease

• Cause drowsiness

• Cause gastrointestinal issues

• Erectile dysfunction

• Allergies

• Fever

• Bleeding

• Dry mouth

Precautions

Apart from benefits of ashwagandha, there are some side effects. Thus, it is necessary to have some precautions. So, some of the precautions are:

• Pregnancy and breast-feeding: It is said that it is unsafe to use ashwagandha when a women is pregnant. Because there might be a chance of miscarriage. Also, there isn't enough information if ashwagandha is safe to use while breast-feeding. Stay on the safe side to avoid side effects of ashwagandha.v

• Auto-immune diseases such as multiple sclerosis (MS), lupus (systemic lupus erythematosus, SLE), rheumatoid arthritis (RA), or other conditions: Immune system tends to be more active when ashwagandha is taken causing an increase in the symptoms of auto-immune diseases. If you have one of these conditions, it's best to avoid using ashwagandha.

• Surgery: There are studies which shows that ashwagandha slows down the central nervous system. Healthcare providers worry that anaesthesia and other medications during and after surgery might increase this effect. Stop taking ashwagandha at least 2 weeks before a scheduled surgery.

• Thyroid disorders: Ashwagandha might cause hyperthyroidism. Ashwagandha should be used cautiously or avoided if you have a thyroid condition or take thyroid hormone medications. Consult a doctor before taking ashwagandha in case of hyperthyroidism or else there might be a chance of side effects of ashwagandha.

Dosage

• Ashwagandha root extract 300 mg twice daily after food or 240 mg daily for 60 days can be taken while the person suffering through stress.

• Also, the amount should be first confirmed from a health practitioner before consuming it to avoid any side effects.

• Daily dose of 125 mn to 5 grams for 1–3 months lowers cortisol levels by 11–32% and 500-600mg for 6-12 weeks reduces anxiety and insomnia in people with stress and anxiety.

• 2-3 equal doses of 250mg of ashwagandha equally everyday can help to reduce blood sugar levels.

• 5gm of ashwagandha per day may boost fertility in men in three months.

• Daily 750-1250 mg of ashwagandha for 4 weeks led to a 1.5–1.7 times larger increase in muscle strength and 1.6–2.3 times higher increase in muscle size.

• Daily 250–500 mg of ashwagandha over 60 days may reduce C-reactive protein levels up to 30%.

• 500 mg of ashwagandha per day for 2 weeks performed significantly better on tests for task performance and reaction time.

Though the dosage is mentioned here, it is important you talk to the doctor before taking medicines to get benefits of ashwagandha.

The bottom line

Ashwagandha is an ancient medicinal herb with multiple health benefits.

It can reduce anxiety and stress, help fight depression, boost fertility and testosterone in men, and even boost brain function.

Supplementing with ashwagandha may be an easy and effective way to improve your health and quality of life.

Related topics:

1. Can we take ashwagandha daily?

Ashwagandha, a medicinal plant known for stress relieving properties. It's used as an "adaptogen" for a variety of ailments. Its roots and berries are used for medicinal purpose. But, it needs to have a proper dosage. To know more visit: Can We Take Ashwagandha Daily

2. SIde effects of ashwagandha

Ashwagandha (Withania somnifera) is used for medical purposes, provides energy like horse. Apart from this some ashwagandha benefits are: relief stress, take care of youth mentally etc. To know more visit: Side effects of Ashwagandha




The above essentials are available with AFD SHIELD

AFD Shield capsule is a combination of 12 natural ingredients among which are Algal DHA, Ashwagandha, Curcumin and Spirullina. AFD Shield reduces TG, increases HDL and improves age related cognitive decline. It also reduces stress and anxiety and performs anti-aging activity.Moreover, it also enhances the immunomodulatory activity, improves immunity and reduces inflammation and oxidative stress. Nutralogicx: AFD SHIELD

अश्वगंधा होने के फायदे

अश्वगंधा

अश्वगंधा को वैज्ञानिक रूप से विथानिया सोम्निफेरा के रूप में जाना जाता है जो सोलनैसी के परिवार से संबंधित है। इसे भारतीय जिनसेंग या शीतकालीन चेरी के रूप में भी जाना जाता है। यह थोड़ा झाड़ीदार होता है जो मखमली पत्तियों और बेल के फूलों से युक्त होता है और नारंगी रंग के जामुनों के साथ बेल के फूल होते हैं जो दुनिया के विभिन्न हिस्सों जैसे भारत, मध्य पूर्व और अफ्रीका के कुछ हिस्सों में उगते हैं। जड़ें, पत्तियां, फल और बीज पौधे के उपयोग के हिस्से हैं। जिसमें से जड़ और बेरी का उपयोग चिकित्सा प्रयोजनों के लिए किया जाता है। कई वर्षों से यह पारंपरिक चिकित्सा के रूप में उपयोग किया जा रहा है। यह एक प्राचीन औषधीय जड़ी बूटी है।

"अश्वगंधा" का नाम इसलिए रखा गया है क्योंकि अश्व का अर्थ घोड़ा होता है और यह "अपनी जड़ों की गंध" को दर्शाता है, जो घोड़े की तरह संकेत करता है। यह अश्वगंधा के लाभों में से एक है, यह घोड़े की तरह ऊर्जा प्रदान करता है। इसके अलावा अश्वगंधा होने के कई आवश्यक और कुछ दुष्प्रभाव भी हैं। इस प्रकार, इसका सेवन करने से पहले डॉक्टर से सलाह लेने की सलाह दी जाती है।

अश्वगंधा के कुछ लाभ हैं: इसका उपयोग तनाव को राहत देने, मानसिक रूप से युवाओं की देखभाल करने, लंबे समय तक अस्तित्व रखने, मस्तिष्क के कार्य को बढ़ावा देने, रक्त शर्करा के स्तर को कम करने और चिंता और अवसाद से लड़ने में मदद करने के लिए किया जाता है।

इसका उपयोग शरीर के विभिन्न प्रणालियों के बीच एक एडाप्टोजेन को बढ़ावा देने वाले संतुलन के रूप में किया जाता है।

एडाप्टोजेन्स होना चाहिए:

• गैर विषैले

• तनाव को कम करें और नियंत्रित करें

• समग्र रूप से लाभान्वित होना

और सौभाग्य से, अश्वगंधा इन सभी मानदंडों को पूरा करता है।

कोविद -19 के साथ रोगी के उपचार में अश्वगंधा के उपयोग से संबंधित कोई सबूत नहीं मिला है। लेकिन कुछ ऐसे क्षेत्र हैं जहां यह वास्तव में अच्छा काम करता है। जैसे कि इसका उपयोग हड्डियों के क्षरण, घावों को भरने, प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देने, भोजन को ऊर्जा में परिवर्तित करके सेलुलर क्षति की मरम्मत करने के लिए किया जाता है और चूंकि यह एक एडेपोजेन है, इसलिए यह तनाव और चिंता को कम कर सकता है।

अश्वगंधा लाभ करता है

अश्वगंधा के उपयोग क्या हैं

अश्वगंधा आयुर्वेदिक दवा में एक महत्वपूर्ण जड़ी बूटी है जहां इसे रसायण माना जाता है जो युवा बौद्धिक और वास्तविक रूप से देखता है और लंबे जीवन का नेतृत्व करता है। यह दुनिया के सबसे अनुभवी नैदानिक ढांचे में से एक है और भारत के चिकित्सा देखभाल ढांचे में से एक है।

उपर ब्लॉग में बताई गई उपयोगों के अलावा, कुछ सबूत हैं जो यह प्रस्तावित करते हैं कि जड़ी-बूटियों में न्यूरोप्रोटेक्टिव और शमन प्रभाव हो सकते हैं। चिड़चिड़ापन कई चिकित्सा मुद्दों का समर्थन करता है, और वृद्धि को कम करने से स्थितियों की एक किस्म के खिलाफ शरीर को सुरक्षित किया जा सकता है।

यह एक ऐसी रसना है जो दीर्घायु, जीवन शक्ति और खुशी को बढ़ावा देती है।

उदाहरण के लिए, व्यक्ति अश्वगंधा का उपयोग उपचार में मदद करने के लिए करते हैं:

• तनाव

• चिंता

• थकान

• दर्द

• त्वचा की स्थिति

• मधुमेह

• वात रोग

• मिर्गी

अश्वगंधा एक चूर्ण, एक महीन छलनी का पाउडर होता है जिसे मस्तिष्क और तंत्रिका तंत्र के कार्य को बढ़ाने के लिए पानी, घी या शहद के साथ मिलाया जा सकता है। यह अक्सर बच्चों और वयस्कों को दिया जाता है जहां अश्वगंधा घी या शहद के साथ मिश्रित होता है ताकि कड़वा स्वाद से बचा जा सके और सोने से पहले इसका सेवन किया जाता है। आराम देने के लिए हल्दी से बने सुनहरे दूध के साथ इसे भी मिलाया जाता है।

अश्वगंधा शायद "वात" संविधान के लिए सबसे अधिक उपयोग किया जाने वाला मसाला है, जो वायु और अंतरिक्ष से संबंधित है। समायोजित वात ऊर्जा सुंदर त्वचा और जोड़ों को बनाए रखती है, एक ध्वनि शरीर का वजन, आवश्यकता, ठोस बौद्धिक क्षमता और एक स्वस्थ तंत्रिका तंत्र।

अश्वगंधा माना जाता है:

• ग्राउंडिंग

• शांत करनाg

• बहाल करना

अश्वगंधा के प्रमुख सिंथेटिक निर्माण इसे अपने विशेष पुनर्स्थापनात्मक गुणों के साथ निवेश करते हैं। यह इस तरह से काम करता है - सभी पौधों में विभिन्न प्रकार के अद्वितीय मिश्रण होते हैं जिन्हें फाइटोकेमिकल्स के रूप में जाना जाता है। सीधे शब्दों में, चूँकि पौधे इधर-उधर नहीं जा सकते हैं, ये फाइटोकेमिकल्स स्पष्ट रूप से प्रदर्शन करने के लिए मौजूद हैं। कुछ फाइटोकेमिकल्स एक सुरक्षित ढांचे के रूप में जाते हैं, जो एंटीबॉडी हमला करने के लिए प्रतिक्रिया करते हैं। कुछ खौफनाक क्रॉलियों को खाने से हतोत्साहित करने के लिए मौजूद हैं क्योंकि संयंत्र खुद को बचाने के लिए चारों ओर नहीं घूम सकता है। कुछ फाइटोकेमिकल्स अनिवार्य रूप से पौधे को आगे विकसित करने में सहायता करते हैं। इस बिंदु पर जब भस्म हो जाता है, तो ये सिंथेटिक पदार्थ उन लोगों के साथ कवर हो सकते हैं जो हमारे शरीर में पथ का निर्माण करते हैं और हमारे शरीर पर महत्वपूर्ण प्रभाव डाल सकते हैं। अश्वगंधा को इतना असाधारण बनाता है कि इसमें इन फाइटोकेमिकल्स की भारी मात्रा होती है, जो इसे आश्चर्यजनक रूप से उपयोगी बनाती है और हमारे शरीर में विभिन्न संरचनाओं को प्रभावित करती है।

अश्वगंधा के स्वास्थ्य लाभ

अश्वगंधा के कुछ लाभ हैं:

• तनाव और चिंता: अश्वगंधा होने की पहली आवश्यक आवश्यकता तनाव और चिंता है। अश्वगंधा जब ड्रग लोरज़ेपम की तुलना में घबराहट के संकेतों पर अधिक शांत प्रभाव पड़ता है। 2000 में शोधकर्ताओं द्वारा चूहों पर एक अध्ययन किया गया था कि अश्वगंधा में लोरेज़ेपम के रूप में तुलनीय शांत प्रभाव था। 2019 के एक अध्ययन में, विशेषज्ञों ने पता लगाया कि एक प्लेसबो के साथ विपरीत होने पर अश्वगंधा के 240 मिलीग्राम (मिलीग्राम) लेने से मौलिक रूप से व्यक्तियों की चिंता कम हो जाती है। इसमें कोर्टिसोल की कम डिग्री शामिल थी, जो एक दबाव रसायन है।

• गठिया: अश्वगंधा होने की दूसरी आवश्यक आवश्यकता गठिया है। अश्वगंधा एक पीड़ा निवारक के रूप में जा सकता है, केंद्रीय तंत्रिका तंत्र के साथ जाने से पीड़ा संकेत देता है। इसी तरह कुछ शांत गुण हो सकता है। इसलिए, कुछ अन्वेषणों ने यह दिखाया है कि संधिशोथ संधिशोथ सहित संयुक्त सूजन के प्रकारों के इलाज में सफल रहा है। संयुक्त पीड़ा के साथ 125 व्यक्तियों में 2015 के एक छोटे से अध्ययन ने रुमेटी संयुक्त सूजन के लिए उपचार के विकल्प के रूप में क्षमता की खोज की।

• तंत्रिका तंत्र के लिए उपयोगी: अश्वगंधा होने की अगली आवश्यक आवश्यकता तंत्रिका तंत्र के लिए उपयोगी है। संवेदी प्रणाली हमारे जीवन में प्रत्येक सांस, महसूस, पसंद और अनुभव को प्रभावित करती है और समग्र स्वास्थ्य और कल्याण के लिए आवश्यक है। अश्वगंधा तंत्रिका तंत्र की संरचना और कार्य का समर्थन करता है, और इसे एंटीऑक्सिडेंट समर्थन देकर और सामान्य रूप से गामा-अमीनोब्यूट्रिक एसिड (GABA) के लिए मस्तिष्क में पथ का समर्थन करके एक न्यूरोसुपोर्टिव माना जाता है, एक समरूपता जो सहजता और समर्थन को बनाए रखने के लिए उत्तरदायी है मांसपेशी टोन। अश्वगंधा मन की स्थिति को शांत और स्थिर बनाता है क्योंकि यह प्राकृतिक कोर्टिसोल लय को विनियमित करने में मदद करता है, इसलिए इसे आमतौर पर अधिवृक्क थकान के लिए अनुकूल व्यक्तियों के पूरक के रूप में उपयोग किया जाता है।

• दिल की सेहत: अश्वगंधा द्वारा हृदय में एंटीऑक्सीडेंट का समर्थन किया जाता है, जो रक्त में मुक्त कणों से बचाता है। यह हृदय को कुशलतापूर्वक काम करने के लिए विरोधी भड़काऊ लाभ भी प्रदान करता है। यह स्वस्थ कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड्स का भी समर्थन करता है जो स्ट्रोक, दिल के दौरे और हृदय संबंधी अन्य समस्याओं में प्रमुख कारकों की देखभाल करता है।

• अल्जाइमर का इलाज: अश्वगंधा में अल्जाइमर, हंटिंग्टन रोग और पार्किंसंस रोग से पीड़ित लोगों में मस्तिष्क के कार्य को रोकने की क्षमता है।

• कैंसर: अश्वगंधा कुछ कैंसर में नए सेल विकास को रोकता है और पहले से मौजूद कैंसर कोशिकाओं में मृत्यु को भी प्रेरित करता है। इसमें जानवरों के अध्ययन में फेफड़े का ट्यूमर शामिल है।

• रक्त शर्करा के स्तर को कम करता है: अश्वगंधा मधुमेह वाले लोगों में और बिना मधुमेह वाले रक्त शर्करा को कम करके इंसुलिन स्राव और इंसुलिन संवेदनशीलता को बढ़ाता है।

• नींद: स्वस्थ जीवन जीने के लिए उचित नींद महत्वपूर्ण है। चूंकि अश्वगंधा में ग्राउंडिंग और पुनरावर्तक गुण होते हैं इसलिए यह स्वस्थ नींद का समर्थन करता है। यही कारण है कि यह नींद का समर्थन करने के लिए कुछ पूरक में शामिल है।

• प्रतिरक्षा प्रणाली: अश्वगंधा को सभी के लिए प्रतिरक्षा प्रणाली के लिए सबसे शक्तिशाली जड़ी बूटियों में से एक माना जाता है। एक पशु अध्ययन में पाया गया कि अश्वगंधा सफेद रक्त कोशिकाओं में वृद्धि को बढ़ावा देकर चूहों की प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करता है। इस प्रकार, डब्ल्यूबीसी में यह वृद्धि मनुष्यों को उनके स्वास्थ्य को लंबे समय तक बनाए रखने में मदद करती है।

• स्वास्थ्य: अश्वगंधा एक समग्र एनाबॉलिक क्रिया के लिए जाना जाता है, जो प्राकृतिक विकास के चरण के दौरान वजन बढ़ाने का समर्थन करता है। दूध के साथ लिया जाने वाला अश्वगंधा एक स्वस्थ वजन, साथ ही स्वस्थ कुल प्लाज्मा प्रोटीन और हीमोग्लोबिन के स्तर का समर्थन करता है। अश्वगंधा स्वस्थ वसा ऑक्सीकरण का भी समर्थन कर सकता है और पहले से ही सामान्य, स्वस्थ श्रेणियों के भीतर स्वस्थ रक्त शर्करा और रक्त लिपिड स्तर का समर्थन कर सकता है।

दुष्प्रभाव

अश्वगंधा के लाभों के अलावा, अश्वगंधा के कुछ दुष्प्रभाव हैं:

• गर्भावस्था के दौरान यह हानिकारक हो सकता है

• इससे लीवर खराब हो सकता है

• रक्त शर्करा का स्तर बहुत कम हो सकता हैh

• ऑटोइम्यून बीमारी बढ़ सकती है

• कारण उनींदापन

• गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल मुद्दों का कारण

• नपुंसकता

• एलर्जी

• बुखार

• खून बह रहा है

• शुष्क मुंह

एहतियात

अश्वगंधा के लाभों के अलावा, कुछ दुष्प्रभाव हैं। इस प्रकार, कुछ सावधानियां रखना आवश्यक है। तो, कुछ सावधानियां हैं:

• गर्भावस्था और स्तनपान: यह कहा जाता है कि जब महिला गर्भवती होती है तो अश्वगंधा का उपयोग करना असुरक्षित होता है। क्योंकि गर्भपात का मौका हो सकता है। इसके अलावा, पर्याप्त जानकारी नहीं है अगर स्तनपान करते समय अश्वगंधा का उपयोग करना सुरक्षित है। अश्वगंधा के दुष्प्रभाव से बचने के लिए सुरक्षित पक्ष पर रहें

• ऑटो-इम्यून रोग जैसे मल्टीपल स्केलेरोसिस (एमएस), ल्यूपस (सिस्टमिक ल्यूपस एरिथेमेटोसस, एसएलई), संधिशोथ (आरए), या अन्य स्थितियां: इम्यून सिस्टम अधिक सक्रिय हो जाता है जब अश्वगंधा लिया जाता है, जिसके लक्षणों में वृद्धि होती है। स्व - प्रतिरक्षित रोग। यदि आपके पास इन स्थितियों में से एक है, तो अश्वगंधा का उपयोग करने से बचना सबसे अच्छा है।

• सर्जरी: ऐसे अध्ययन हैं जो बताते हैं कि अश्वगंधा केंद्रीय तंत्रिका तंत्र को धीमा कर देता है। हेल्थकेयर प्रदाताओं को चिंता है कि सर्जरी के दौरान और बाद में संज्ञाहरण और अन्य दवाएं इस प्रभाव को बढ़ा सकती हैं। अनुसूचित सर्जरी से कम से कम 2 सप्ताह पहले अश्वगंधा लेना बंद करें।

• थायराइड विकार: अश्वगंधा अतिगलग्रंथिता का कारण हो सकता है। अगर आपको थायराइड की स्थिति है या थायराइड हार्मोन की दवाएँ लेनी हैं तो अश्वगंधा का उपयोग सावधानी से या परहेज करना चाहिए। हाइपरथायरायडिज्म की स्थिति में अश्वगंधा लेने से पहले डॉक्टर से सलाह लें अन्यथा अश्वगंधा के दुष्प्रभाव की संभावना हो सकती है।

मात्रा बनाने की विधि

• अश्वगंधा की जड़ का अर्क 300 मिलीग्राम दो बार भोजन के बाद या 240 मिलीग्राम प्रतिदिन 60 दिनों तक लिया जा सकता है, जबकि तनाव से पीड़ित व्यक्ति को।

• साथ ही, किसी दुष्प्रभाव से बचने के लिए इसका सेवन करने से पहले किसी स्वास्थ्य चिकित्सक से राशि की पुष्टि कर लेनी चाहिए।

• 1-3 महीने के लिए 125 mn से 5 ग्राम की दैनिक खुराक 11–32% से कोर्टिसोल के स्तर को कम करती है और 6-12 सप्ताह के लिए 500-600mg तनाव और चिंता वाले लोगों में चिंता और अनिद्रा को कम करती है।

• अश्वगंधा के 250 मिलीग्राम की 2-3 समान खुराक हर रोज रक्त शर्करा के स्तर को कम करने में मदद कर सकती हैं।

• प्रतिदिन 5 ग्राम अश्वगंधा पुरुषों में तीन महीने में प्रजनन क्षमता बढ़ा सकती है।

• दैनिक 750-1250 मिलीग्राम अश्वगंधा के 4 सप्ताह के लिए मांसपेशियों की ताकत में 1.5-1.7 गुना अधिक वृद्धि हुई और मांसपेशियों के आकार में 1.6-2.3 गुना अधिक वृद्धि हुई।

• 60 दिनों में अश्वगंधा के दैनिक 250-500 मिलीग्राम सी-प्रतिक्रियाशील प्रोटीन के स्तर को 30% तक कम कर सकते हैं।

• 2 सप्ताह के लिए प्रति दिन 500 मिलीग्राम अश्वगंधा को कार्य प्रदर्शन और प्रतिक्रिया समय के लिए परीक्षण पर काफी बेहतर प्रदर्शन किया।

हालांकि यहां खुराक का उल्लेख किया गया है, लेकिन यह महत्वपूर्ण है कि आप अश्वगंधा के लाभ प्राप्त करने के लिए दवाएं लेने से पहले डॉक्टर से बात करें।

तल - रेखा

अश्वगंधा एक प्राचीन औषधीय जड़ी बूटी है जिसके कई स्वास्थ्य लाभ हैं।

यह चिंता और तनाव को कम कर सकता है, अवसाद से लड़ने में मदद कर सकता है, पुरुषों में प्रजनन क्षमता और टेस्टोस्टेरोन को बढ़ा सकता है और यहां तक कि मस्तिष्क की कार्यक्षमता को भी बढ़ा सकता है।

अश्वगंधा के साथ पूरक अपने स्वास्थ्य और जीवन की गुणवत्ता में सुधार करने के लिए एक आसान और प्रभावी तरीका हो सकता है।

संबंधित विषय:

1. क्या हम अश्वगंधा रोज ले सकते हैं?

अश्वगंधा, एक औषधीय पौधा जो तनाव से राहत देने वाले गुणों के लिए जाना जाता है। इसका उपयोग विभिन्न बीमारियों के लिए "एडेप्टोजेन" के रूप में किया जाता है। इसकी जड़ों और जामुन का उपयोग औषधीय उद्देश्य के लिए किया जाता है। लेकिन, इसके लिए उचित खुराक की जरूरत होती है। अधिक यात्रा जानने के लिए: क्या हम अश्वगंधा दैनिक ले सकते हैं

2. अश्वगंधा के दुष्प्रभाव

अश्वगंधा (विथानिया सोमनीफेरा) का उपयोग चिकित्सा उद्देश्यों के लिए किया जाता है, घोड़े जैसी ऊर्जा प्रदान करता है। इसके अलावा कुछ अश्वगंधा लाभ हैं: राहत तनाव, मानसिक रूप से युवाओं की देखभाल आदि अधिक यात्रा जानने के लिए: अश्वगंधा के दुष्प्रभाव




उपर ब्लॉग में बताई गई उपलब्धिया एएफडी-शील्ड के साथ उपलब्ध हैं

एएफडी शील्ड कैप्सूल 12 प्राकृतिक अवयवों का एक संयोजन है जिनमें से अलगल डीएचए, अश्वगंधा, करक्यूमिन और स्पिरुलिना हैं। एएफडी शील्ड टीजी को कम करता है, एचडीएल बढ़ाता है और उम्र से संबंधित संज्ञानात्मक गिरावट में सुधार करता है। यह तनाव और चिंता को भी कम करता है और एंटी-एजिंग गतिविधि करता है। इसके अलावा, यह इम्युनोमॉड्यूलेटरी गतिविधि को बढ़ाता है, प्रतिरक्षा में सुधार करता है और सूजन और ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करता है। न्यूट्रोग्लिग्क्स: एएफडी-शील्ड


AFDIL Ltd.
+91 9920121021

order@afdil.com

Read Also:


Disclaimer
Home