Behavioral Disorders in Children

Raising children is difficult, and raising difficult children can be life disrupting. However, being able to tell whether your child is just going through a stage, or if something is wrong is not always that easy. A tantrum does not automatically mean your 2-year-old has a problem with authority, and a kindergartner who does not want to sit still does not necessarily have an attention disorder. When it comes to understanding our children’s behavior, experts say diagnoses and labels should be kept to a minimum. All young children display impulsive or defiant behavior occasionally. Sometimes, this is part of a normal emotional reaction. Nevertheless, if these behaviors are extreme or outside the norm for their level of development, it could be a sign of a behavioral disorder. The most common behavioral disorders in children include attention deficit hyperactivity disorder (ADHD), oppositional defiant disorder (ODD) and conduct disorder (CD).

Behavioral Disorders

What is a Behavioral Disorder?

The U.S. Department of Health and Human Services describes behavioral disorders as involving “a pattern of disruptive behaviors in children that last for at least 6 months and cause problems in school, at home, and in social situations”.

This is different from the challenging behaviors children sometimes display. Almost all children will have tantrums, or act in aggressive, angry, or defiant ways at some point. While challenging, these behaviors are a normal part of childhood development. Often, they are the result of strong emotions that the child is expressing in the only way they know how.

As a result, healthcare professionals only diagnose a behavioral disorder when the disruptive behaviors are severe, persistent, and outside the norm for the child’s developmental stage.

The most common behavioral disorders in children include:

• Attention deficit hyperactivity disorder (ADHD)
• Oppositional defiant disorder (ODD)
• Autism spectrum disorder (ASD)
• Anxiety disorder
• Depression
• Bipolar disorder
• Learning disorders
• Conduct disorders

Risk Factors in Children’s Behavioral Disorders

There is no single cause for the common behavioral disorders. It is likely that a mixture of physiological and environmental factors play a role. However, it is important to note that a child of any background, sex, or gender can have a behavioral disorder. The causes of attention deficit hyperactivity disorder (ADHD), oppositional defiant disorder (ODD), conduct disorder (CD) are unknown but some of the risk factors include:

1. Gender – Boys are much more likely than girls to suffer from behavioral disorders. It is unclear if this is due to biological differences, or whether differences in gender norms and expectations influence how male children behave or develop.

2. Gestation and birth- Difficult pregnancies, premature birth and low birth weight may contribute in some cases to the child’s problem behavior later in life. Oppositional defiant disorder (ODD) may also be more common in children exposed to toxins in the womb, such as tobacco smoke, or in children, whose parents or caregivers have substance abuse disorders.

3. Temperament- Children who are difficult to manage, temperamental or aggressive from an early age are more likely to develop behavioral disorders later in life.

4. Family life- Behavioral disorders are more likely in dysfunctional families. For example, a child is at increased risk in families where domestic violence, poverty, poor parenting skills or substance abuse is a problem.

5. Learning difficulties- Problems with reading and writing are often associated with behavior problems.

6. Intellectual disabilities- Children with intellectual disabilities are twice as likely to have behavioral disorders.

7. Brain development - Evidence suggests that changes in brain structure, development, and neurotransmitter levels may influence behavioral disorders. For example, areas of the brain that control attention are less active in children with ADHD. Low serotonin and high sensitivity to cortisol, a stress hormone, may play a role in aggression. Additionally, conditions that affect learning ability may have an impact, as children with intellectual disabilities are twice as likely to have a behavioral disorder.

8. Genetics- Behavioral disorders can run in families. This could indicate a genetic predisposition for some people to develop them. However, in the case of oppositional defiant disorder (ODD), scientists’ specific gene that could explain this. Older studies have shown that people with attention deficit hyperactivity disorder (ADHD), oppositional defiant disorder (ODD), conduct disorder (CD) share similar genetic traits, but none was unique to these disorders. For example, girls with oppositional defiant disorder (ODD) may be more likely to express aggression through words, rather than actions. This may mean the behavior is less obvious, and so less likely to receive a diagnosis.

9. Trauma- Psychological trauma is a complex emotional and physical response to severe or chronic stress. Early exposure to trauma can affect child development. Any experience that causes significant distress can be traumatic, but common examples that may affect children include:

• An unstable home life
• Difficult relationships with parents or caregivers
• Inconsistent or harsh discipline
• Physical or emotional abuse

Behavioral disorders are more common in people from low-income backgrounds, which may be due to increased levels of stress. It is also possible to confuse child traumatic stress with a behavioral disorder, as they have overlapping symptoms.

Risk Factors for Behavioral Disorders

Diagnosis of Children’s Behavioral Disorders

Disruptive behavioral disorders are complicated and may include many different factors working in combination. For example, a child who exhibits the delinquent behaviors of conduct disorder (CD) may also have ADHD, anxiety, depression, and a difficult home life.

Diagnosis methods may include:

• Diagnosis by a specialist service, which may include a pediatrician, psychologist or child psychiatrist
• In-depth interviews with the parents, child and teachers
• Behavior check lists or standardized questionnaires

A diagnosis is made if the child’s behavior meets the criteria for disruptive behavior disorders in the Diagnostic and Statistical Manual of Mental Disorders from the American Psychiatric Association.

It is important to rule out acute stressors that might be disrupting the child’s behavior. For example, a sick parent or victimizing by other children might be responsible for sudden changes in a child’s typical behavior and these factors have to be considered initially.

Treatment of Behavioral Disorders in Children

Untreated children with behavioral disorders may grow up to be dysfunctional adults. Generally, the earlier the intervention, the better the outcome is likely to be.

A large study in the United States, conducted for the National Institute of Mental Health and the Office of School Education Programs, showed that carefully designed medication management and behavioral treatment for ADHD improved all measures of behavior in school and at home.

The management of behavioral disorders can vary depending on the child’s needs, their family’s needs, and the type and severity of their disorder. Approaches that may help include:

• Parent management training: This helps parents and caregivers manage their child’s behavior, learn effective ways of communicating with them, and effective ways of setting rules and boundaries. For young children, this is often the main approach.

• Individual therapy: This can help older children and adolescents learn techniques for managing their emotions and responding to stressful situations.

• Family therapy: This may help household members learn how to talk to each other about emotions and problems, and find ways to solve them.

• Social or school-based programs: These programs help children and adolescents learn how to relate to peers in a healthy way. The child is taught important social skills, such as how to have a conversation or play cooperatively with others.

• Support for learning difficulties or disabilities: Professional support with learning difficulties may improve the child’s well-being and help them get on better at school.

• Medication: If a child has a coexisting disorder, such as ADHD or a mental health condition, medication can reduce the symptoms. However, medications do not cure behavioral disorders.

• Cognitive behavioral therapy: To help the child to control their thoughts and behavior.

• Anger management: The child is taught how to recognize the signs of their growing frustration and given a range of coping skills designed to defuse their anger and aggressive behavior. Relaxation techniques and stress management skills are also taught.

• Encouragement: Many children with behavioral disorders experience repeated failures at school and in their interactions with others. Encouraging the child to excel in their particular talents (such as sport) can help to build self-esteem.

Patience, empathy, and encouragement are important for helping to boost self-esteem. An authoritative parenting style, which involves listening to children whilst also setting reasonable rules and boundaries, is also helpful. It is important to note that boot camp-style programs and “tough love” are not effective for behavioral disorders. In fact, they can be very damaging.

Treatment for Behavioral Disorders

Parenting for Childhood Success

Parenting styles are rarely to blame for childhood behavioral problems. In addition, if you are searching out solutions to help your family cope, that is a good indication that you are not causing your child’s issues. Still, parents play a crucial role in treating early childhood behavioral issues.

When we talk about parenting styles, there are four main types, one of which is most effective in raising well-adjusted and well-behaved children:

1. Authoritarian parenting: Strict rules with no compromise, and no input from the children.

2. Authoritative parenting: Strict rules, but parents are willing to listen and cooperate with their children. More of a democracy than authoritarian parenting.

3. Permissive parenting: Few rules, and few demands put on children. There is little to no discipline in this home, and parents typically take on the role of friend.

4. Uninvolved parenting: No rules and very little interaction. These parents are detached and may reject or neglect their children.

Authoritative parenting is most likely to raise well-adjusted and happy children. Uninvolved parents are most likely to raise children lacking self-esteem, self-control, and general competency. What we can learn from these parenting styles is that children need clear rules and consequences, but they also need a parent who is willing to listen and guide.

What Is Oppositional Defiant Disorder (ODD)?

Even the most mild-mannered children have occasional outbursts of frustration and disobedience. Nevertheless, a persistent pattern of anger, defiance, and vindictiveness against authority figures could be a sign of oppositional defiant disorder (ODD).

Oppositional Defiant Disorder (ODD) is a behavioral disorder that results in defiance and anger against authority. It can affect a person’s work, school, and social life.

Oppositional Defiant Disorder (ODD) affects between 1 and 16 percent of school age children. It’s more common in boys than girls. Many children start to show symptoms of ODD between the ages of 6 and 8 years. Oppositional Defiant Disorder (ODD) also occurs in adults. Adults with oppositional defiant disorder (ODD) who were not diagnosed as children often go undiagnosed.

Oppositional Defiant Disorder

Symptoms of Oppositional Defiant Disorder

1. In children and adolescents

Oppositional defiant disorder (ODD) most commonly affects children and adolescents. Symptoms of ODD include:

• Frequent temper tantrums or episodes of anger
• Refusal to comply with adult requests
• Excessive arguing with adults and authority figures
• Always questioning or actively disregarding rules
• Behavior intended to upset, annoy, or anger others, especially authority figures
• Blaming others for their own mistakes or misbehaviors
• Being easily annoyed
• Vindictiveness

None of these symptoms alone points to oppositional defiant disorder (ODD). There needs to be a pattern of multiple symptoms occurring over a period of at least six months.

2. In adults

There is some overlap in oppositional defiant disorder (ODD) symptoms between children and adults. Symptoms in adults with ODD include:

• Feeling angry at the world
• Feeling misunderstood or disliked
• Strong dislike for authority, including supervisors at work
• Identifying as a rebel
• Defending themselves vehemently and not being open to feedback
• Blaming others for their own mistakes

The disorder is often difficult to diagnose in adults because many of the symptoms overlap with antisocial behaviors, substance abuse, and other disorders.

Symptoms of ODD

Causes of Oppositional Defiant Disorder

There is no proven cause of ODD, but there are theories that can help identify potential causes. It has thought a combination of environmental, biological, and psychological factors cause ODD. For example, it is more common in families with a history of attention deficit hyperactivity disorder (ADHD).

One theory suggests oppositional defiant disorder (ODD) can begin to develop when children are toddlers, because children and adolescents with ODD show behaviors typical of toddlers. This theory also suggests that the child or adolescent is struggling to become independent from parental or authority figures they were emotionally attached to.

It is also possible that oppositional defiant disorder (ODD) develops because of learned behaviors, reflecting negative reinforcement methods some authority figures and parents use. This is especially true if the child uses bad behavior to get attention. In other cases, the child could adopt negative behaviors from a parent.

Other possible causes include:

• Certain personality traits, like being strong-willed
• Lack of positive attachment to a parent
• Significant stress or unpredictability in the home or daily life

Criteria to Diagnose Oppositional Defiant Disorder

A trained psychiatrist or psychologist can diagnose children and adults with ODD. The Diagnostic and Statistical Manual of Mental Disorders, known as the DSM-5, outlines three main factors needed to make a diagnosis of ODD:

1. They show a behavioral pattern

A person must have a pattern of angry or irritable moods, argumentative or defiant behaviors, or vindictiveness lasting at least six months. During this time, they need to display at least four of the following behaviors from any category. At least one of these symptoms must be displayed with someone who is not a sibling. The categories and symptoms include:

Angry or irritable mood, which includes symptoms like:

• Often losing their temper
• Being touchy
• Being easily annoyed
• Often becoming angry or resentful

Argumentative or defiant behavior, which includes symptoms like:

• Having frequent arguments with authority figures or adults
• Actively defying requests from authority figures
• Refusing to comply with requests from authority figures
• Deliberately annoying others
• Blaming others for misbehavior

Vindictiveness

• Acting spitefully at least twice in a six-month period

2. The behavior disrupts their life

The second thing a professional looks for is if the disturbance in behavior is associated with distress in the person or their immediate social circle. The disruptive behavior may negatively affect important areas like their social life, education, or occupation.

3. It is not linked to substance abuse or mental health episodes

For diagnosis, the behaviors cannot occur exclusively during the course of episodes that include:

• Substance abuse
• Depression
• Bipolar disorder
• Psychosis

4. Severity

The DSM-5 also has a scale of severity. A diagnosis of ODD can be:

• Mild: Symptoms are confined to only one setting.
• Moderate: Some symptoms will be present in at least two settings.
• Severe: Symptoms will be present in three or more settings.

Treatment for Oppositional Defiant Disorder

Early treatment is essential for people with oppositional defiant disorder (ODD). Teens and adults with untreated ODD have increased risk for depression and substance abuse, according to the American Academy of Child & Adolescent Psychiatry. Treatment options can include:

1. Individual cognitive behavioral therapy: A psychologist will work with the child to improve:

• Anger management skills
• Communication skills
• Impulse control
• Problem-solving skills

They may also be able to identify potential contributing factors.

2. Family therapy: A psychologist will work with the whole family to make changes. This can help parents find support and learn strategies for handling their child’s ODD.

3. Parent-child interaction therapy (PCIT): Therapists will coach the parents as they interact with their children. Parents can learn more effective parenting techniques.

4. Peer groups: The child can learn how to improve their social skills and relationships with other children.

5. Medications: These can help treat causes of ODD, such as depression or ADHD. However, there is no specific medication to treat ODD itself.

What is Attention deficit Hyperactivity Disorder (ADHD)?

Attention deficit hyperactivity disorder (ADHD) is a mental health disorder that can cause above-normal levels of hyperactive and impulsive behaviors. People with ADHD may also have trouble focusing their attention on a single task or sitting still for long periods. Both adults and children can have ADHD.

Attention deficit Hyperactivity Disorder

ADHD Symptoms

A wide range of behaviors is associated with ADHD. Some of the more common ones include:

• Having trouble focusing or concentrating on tasks
• Being forgetful about completing tasks
• Being easily distracted
• Having difficulty sitting still
• Interrupting people while they’re talking

If you or your child has ADHD, you may have some or all of these symptoms. The symptoms you have depend on the type of ADHD you have.

ADHD symptoms in children are as follow:

1. Self-focused behavior

A common sign of ADHD is what looks like an inability to recognize other people’s needs and desires. This can lead to the next two signs:

• Interrupting
• Trouble waiting their turn

2. Interrupting Self-focused behavior

May cause a child with ADHD to interrupt others while they’re talking or butt into conversations or games they’re not part of.

3. Trouble waiting their turn

Kids with ADHD may have trouble waiting their turn during classroom activities or when playing games with other children.

4. Emotional turmoil

A child with ADHD may have trouble keeping their emotions in check. They may have outbursts of anger at inappropriate times. Younger children may have temper tantrums.

5. Fidgeting

Children with ADHD often can’t sit still. They may try to get up and run around, fidget, or squirm in their chair when forced to sit.

6. Problems playing quietly

Fidgetiness can make it difficult for kids with ADHD to play quietly or engage calmly in leisure activities.

7. Unfinished tasks

A child with ADHD may show interest in lots of different things, but they may have problems finishing them. For example, they may start projects, chores, or homework, but move on to the next thing that catches their interest before finishing.

8. Lack of focus

A child with ADHD may have trouble paying attention — even when someone is speaking directly to them. They will say they heard you, but they will not be able to repeat back what you just said.

9. Avoidance of tasks needing extended mental effort

This same lack of focus can cause a child to avoid activities that require a sustained mental effort, such as paying attention in class or doing homework.

10. Mistakes

Children with ADHD may have trouble following instructions that require planning or executing a plan. This can then lead to careless mistakes — but it does not indicate laziness or a lack of intelligence.

11. Daydreaming

Children with ADHD are not always rambunctious and loud. Another sign of ADHD is being quieter and less involved than other kids. A child with ADHD may stare into space, daydream, and ignore what is going on around them.

12. Trouble getting organized

A child with ADHD may have trouble keeping track of tasks and activities. This can cause problems at school, as they can find it hard to prioritize homework, school projects, and other assignments.

13. Forgetfulness

Kids with ADHD may be forgetful in daily activities. They may forget to do chores or their homework. They may also lose things often, such as toys.

14. Symptoms in multiple settings

A child with ADHD will show symptoms of the condition in more than one setting. For instance, they may show lack of focus both in school and at home.

What Causes ADHD?

Despite how common ADHD is, doctors and researchers still aren’t sure what causes the condition. It’s believed to have neurological origins. Genetics may also play a role.

It is suggested that a reduction in dopamine is a factor in ADHD. Dopamine is a chemical in the brain that helps move signals from one nerve to another. It plays a role in triggering emotional responses and movements.

Other suggests a structural difference in the brain. Findings indicate that people with ADHD have less gray matter volume. Gray matter includes the brain areas that help with:

• Speech
• Self-control
• Decision-making
• Muscle control

Causes of ADHD

ADHD Treatment

Treatment for ADHD typically includes behavioral therapies, medication, or both.

1. Therapy

Types of therapy include psychotherapy, or talk therapy. With talk therapy, you or your child will discuss how ADHD affects your life and ways to help you manage it. Another therapy type is behavioral therapy. This therapy can help you or your child with learning how to monitor and manage your behavior.

2. Medication

The two main types of medications used to treat ADHD are stimulants and non-stimulants.

Central nervous system (CNS) stimulants are the most commonly prescribed ADHD medications. These drugs work by increasing the amounts of the brain chemicals dopamine and norepinephrine. Examples of these drugs include methylphenidate (Ritalin) and amphetamine-based stimulants (Adderall).

If stimulants don’t work well for you or your child, or if they cause troublesome side effects, your doctor may suggest a non-stimulant medication. Certain non-stimulant medications work by increasing levels of norepinephrine in the brain. These medications include atomoxetine (Strattera) and some antidepressants such as bupropion (Wellbutrin). ADHD medications can have many benefits, as well as side effects.

3. Home remedies

In addition to — or instead of — medication, several remedies have been suggested to help improve ADHD symptoms.

For starters, following a healthy lifestyle may help you or your child manage ADHD symptoms. The Centers for Disease Control and Prevention (CDC) recommends the following:

• Eat a healthy, balanced diet
• Get at least 60 minutes of physical activity per day
• Get plenty of sleep
• Limit daily screen time from phones, computers, and TV

Studies have also shown that yoga, tai chi, and spending time outdoors can help calm overactive minds and may ease ADHD symptoms.

Mindfulness meditation is another option. Research in adults and teens has shown meditation to have positive effects on attention and thought processes, as well as on anxiety and depression. Avoiding certain allergens and food additives are also potential ways to help reduce ADHD symptoms.

Treatment for ADHD

What is Conduct Disorder?

Conduct disorder is a group of behavioral and emotional problems that usually begins during childhood or adolescence. Children and adolescents with the disorder have a difficult time following rules and behaving in a socially acceptable way. They may display aggressive, destructive, and deceitful behaviors that can violate the rights of others. Adults and other children may perceive them as “bad” or delinquent, rather than as having a mental illness.

If your child has conduct disorder, they may appear tough and confident. In reality, however, children who have conduct disorder are often insecure and inaccurately believe that people are being aggressive or threatening toward them.

Conduct Disorder

What are the Symptoms of Conduct Disorder?

Children who have conduct disorder are often hard to control and unwilling to follow rules. They act impulsively without considering the consequences of their actions. They also don’t take other people’s feelings into consideration. Your child may have conduct disorder if they persistently display one or more of the following behaviors:

1. Aggressive Conduct

Aggressive conduct may include:

• Intimidating or bullying others
• Physically harming people or animals on purpose
• Committing rape
• Using a weapon

2. Deceitful Behavior

Deceitful behavior may include:

• Lying
• Breaking and entering
• Stealing
• Forgery

3. Destructive Behavior

Destructive conduct may include arson and other intentional destruction of property.

4. Violation of Rules

Violation of rules may include:

• Skipping school
• Running away from home
• Drug and alcohol use
• Sexual behavior at a very young age

Boys who have conduct disorder are more likely to display aggressive and destructive behavior than girls. Girls are more prone to deceitful and rule-violating behavior.

Causes of Conduct Disorder

Genetic and environmental factors may contribute to the development of conduct disorder.

1. Genetic Causes

Damage to the frontal lobe of the brain has been linked to conduct disorder. The frontal lobe is the part of your brain that regulates important cognitive skills, such as problem-solving, memory, and emotional expression. It’s also home to your personality. The frontal lobe in a person with conduct disorder may not work properly, which can cause, among other things:

• A lack of impulse control
• A reduced ability to plan future actions
• A decreased ability to learn from past negative experiences

The impairment of the frontal lobe may be genetic, or inherited, or it may be caused by brain damage due to an injury. A child may also inherit personality traits that are commonly seen in conduct disorder.

2. Environmental Factors

The environmental factors that are associated with conduct disorder include:

• Child abuse
• A dysfunctional family
• Parents who abuse drugs or alcohol
• Poverty

Causes of Conduct Disorder

How is Conduct Disorder Diagnosed?

If your child is showing signs of conduct disorder, they should be evaluated by a mental health professional. They’ll ask you and your child questions about their behavioral patterns to make a diagnosis. For a conduct disorder diagnosis to be made, your child must have a pattern of displaying at least three behaviors that are common to conduct disorder. Your child must also have shown at least one of the behaviors within the past six months. The behavioral problems must also significantly impair your child socially or at school.

How is Conduct Disorder Treated?

Children with conduct disorder who are living in abusive homes may be placed into other homes. If abuse isn’t present, your child’s mental healthcare provider will use behavior therapy or talk therapy to help your child learn how to express or control their emotions appropriately. The mental healthcare provider will also teach you how to manage your child’s behavior. If your child has another mental health disorder, such as depression or ADHD, the mental healthcare provider may prescribe medications to treat that condition as well.

Since it takes time to establish new attitudes and behavior patterns, children with conduct disorder usually require long-term treatment. However, early treatment may slow the progression of the disorder or reduce the severity of negative behaviors.

Related topics

1. Why B complex is required

B complex plays a vital role in maintaining good health by preventing infections and promoting cell health. This emphasizes b complex requirement in the body. To know more visit: Why B complex is required

2. Side effects of B complex

Vitamins are compounds which are needed in small amount and are present in food because they are not produced by the body. However, B vitamins are vital of all but there are some B complex side effects too. To know more visit: Side effects of B complex

3. How much B12 is require daily

Vitamin B12, one of eight B vitamins is a cofactor in DNA synthesis, and in both fatty acid and amino acid metabolism. Its deficiency can lead to Anaemia. To know more visit: How much B12 is require daily

4. Suitable age to start B complex tablet

Vitamins are compounds needed in small amount, present in food because the body does not produce them. Out of all, vitamin B is vital. Thus, irrespective of age it is necessary to consume B complex tablet. To know more visit: Suitable age to start B complex Tablet




The above essentials are available with AFD SHIELD.
AFD Shield capsule is a combination of 12 natural ingredients among which are Algal DHA, Ashwagandha, Curcumin and Spirullina. AFD Shield reduces TG, increases HDL and improves age related cognitive decline. It also reduces stress and anxiety and performs anti-aging activity.Moreover, it also enhances the immunomodulatory activity, improves immunity and reduces inflammation and oxidative stress. Nutralogicx: AFD SHIELD

बच्चों में व्यवहार संबंधी विकार

एक नजर में:

  1. व्यवहार विकार क्या है?

  2. बच्चों के व्यवहार संबंधी विकारों में जोखिम कारक

  3. बच्चों के व्यवहार संबंधी विकारों का निदान

  4. बच्चों में व्यवहार संबंधी विकारों का उपचार

  5. बचपन की सफलता के लिए पेरेंटिंग

  6. विपक्षी अवज्ञा विकार (ओडीडी) क्या है?

  7. विपक्षी अवज्ञा विकार के लक्षण

  8. विपक्षी अवज्ञा विकार के कारण

  9. विपक्षी उद्दंड विकार का निदान करने के लिए मानदंड

  10. विपक्षी अवज्ञा विकार के लिए उपचार

  11. अटेंशन डेफिसिट हाइपरएक्टिविटी डिसऑर्डर (एडीएचडी) क्या है?

  12. एडीएचडी लक्षण

  13. एडीएचडी का क्या कारण है?

  14. एडीएचडी उपचार

  15. आचरण विकार क्या है?

  16. आचरण विकार के लक्षण क्या हैं?

  17. आचरण विकार के कारण

  18. आचरण विकार का निदान कैसे किया जाता है?

  19. आचरण विकार का इलाज कैसे किया जाता है?

  20. संबंधित विषय


बच्चों की परवरिश करना मुश्किल है, और मुश्किल बच्चों की परवरिश करना जीवन को अस्त-व्यस्त कर सकता है। हालाँकि, यह बताने में सक्षम होना कि क्या आपका बच्चा अभी एक अवस्था से गुज़र रहा है, या यदि कुछ गलत है, तो हमेशा इतना आसान नहीं होता है। टैंट्रम का मतलब यह नहीं है कि आपके 2 साल के बच्चे को अधिकार के साथ समस्या है, और एक किंडरगार्टनर जो अभी भी बैठना नहीं चाहता है, उसे ध्यान विकार नहीं है। जब हमारे बच्चों के व्यवहार को समझने की बात आती है, तो विशेषज्ञों का कहना है कि निदान और लेबल को न्यूनतम रखा जाना चाहिए। सभी छोटे बच्चे कभी-कभी आवेगी या उद्दंड व्यवहार प्रदर्शित करते हैं। कभी-कभी, यह एक सामान्य भावनात्मक प्रतिक्रिया का हिस्सा होता है। फिर भी, यदि ये व्यवहार उनके विकास के स्तर के लिए चरम या आदर्श से बाहर हैं, तो यह व्यवहार संबंधी विकार का संकेत हो सकता है।

व्यवहार संबंधी विकार

व्यवहार विकार क्या है?

अमेरिकी स्वास्थ्य और मानव सेवा विभाग व्यवहार संबंधी विकारों का वर्णन करता है, जिसमें "बच्चों में विघटनकारी व्यवहार का एक पैटर्न शामिल है जो कम से कम 6 महीने तक रहता है और स्कूल, घर और सामाजिक स्थितियों में समस्याएं पैदा करता है"।

यह बच्चों द्वारा कभी-कभी प्रदर्शित किए जाने वाले चुनौतीपूर्ण व्यवहारों से भिन्न होता है। लगभग सभी बच्चों में नखरे होंगे, या किसी बिंदु पर आक्रामक, क्रोधित या उद्दंड तरीके से कार्य करेंगे। चुनौतीपूर्ण होने पर, ये व्यवहार बचपन के विकास का एक सामान्य हिस्सा हैं। अक्सर, वे मजबूत भावनाओं का परिणाम होते हैं जिन्हें बच्चा उसी तरह व्यक्त कर रहा है जिस तरह से वे जानते हैं कि कैसे।

नतीजतन, स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर केवल एक व्यवहार संबंधी विकार का निदान करते हैं जब विघटनकारी व्यवहार गंभीर, लगातार और बच्चे के विकास के चरण के लिए आदर्श से बाहर होते हैं।

बच्चों में सबसे आम व्यवहार संबंधी विकारों में शामिल हैं:

• अटेंशन डेफिसिट हाइपरएक्टिविटी डिसऑर्डर (एडीएचडी)
• विपक्षी अवज्ञा विकार (ओडीडी)
• ऑटिज्म स्पेक्ट्रम डिसऑर्डर (एएसडी)
• चिंता विकार
• अवसाद
• द्विध्रुवी विकार
• सीखने के विकार
• आचरण विकार

बच्चों के व्यवहार संबंधी विकारों में जोखिम कारक

सामान्य व्यवहार संबंधी विकारों का कोई एक कारण नहीं है। यह संभावना है कि शारीरिक और पर्यावरणीय कारकों का मिश्रण एक भूमिका निभाता है। हालांकि, यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि किसी भी पृष्ठभूमि, लिंग या लिंग के बच्चे में व्यवहार संबंधी विकार हो सकते हैं। अटेंशन डेफिसिट हाइपरएक्टिविटी डिसऑर्डर (एडीएचडी), विपक्षी डिफेंट डिसऑर्डर (ओडीडी), कंडक्ट डिसऑर्डर (सीडी) के कारण अज्ञात हैं, लेकिन कुछ जोखिम कारकों में शामिल हैं:

1. लिंग– लड़कियों की तुलना में लड़कों में व्यवहार संबंधी विकारों से पीड़ित होने की संभावना अधिक होती है। यह स्पष्ट नहीं है कि यह जैविक मतभेदों के कारण है, या लिंग मानदंडों और अपेक्षाओं में अंतर यह प्रभावित करता है कि पुरुष बच्चे कैसे व्यवहार करते हैं या विकसित होते हैं।

2. गर्भ और जन्म- मुश्किल गर्भधारण, समय से पहले जन्म और जन्म के समय कम वजन कुछ मामलों में बच्चे के बाद के जीवन में समस्या व्यवहार में योगदान दे सकता है। गर्भ में विषाक्त पदार्थों के संपर्क में आने वाले बच्चों, जैसे तंबाकू के धुएं, या बच्चों में, जिनके माता-पिता या देखभाल करने वालों को मादक द्रव्यों के सेवन के विकार हैं, में विपक्षी अवज्ञा विकार (ओडीडी) अधिक आम हो सकता है।

3. स्वभाव- जिन बच्चों को कम उम्र से ही प्रबंधन करना मुश्किल होता है, स्वभाव से या आक्रामक होते हैं, उनके जीवन में बाद में व्यवहार संबंधी विकार विकसित होने की संभावना अधिक होती है।

4. पारिवारिक जीवन- व्यवहारिक विकारों की संभावना दुराचारी परिवारों में अधिक होती है। उदाहरण के लिए, एक बच्चे को उन परिवारों में अधिक जोखिम होता है जहां घरेलू हिंसा, गरीबी, खराब पालन-पोषण कौशल या मादक द्रव्यों का सेवन एक समस्या है।

5. सीखने की कठिनाइयाँ- पढ़ने और लिखने की समस्या अक्सर व्यवहार संबंधी समस्याओं से जुड़ी होती है।

6. बौद्धिक अक्षमता- बौद्धिक अक्षमता वाले बच्चों में व्यवहार संबंधी विकार होने की संभावना दोगुनी होती है।

7. मस्तिष्क का विकास- साक्ष्य बताते हैं कि मस्तिष्क की संरचना, विकास और न्यूरोट्रांसमीटर के स्तर में परिवर्तन व्यवहार संबंधी विकारों को प्रभावित कर सकता है। उदाहरण के लिए, मस्तिष्क के क्षेत्र जो ध्यान को नियंत्रित करते हैं, एडीएचडी वाले बच्चों में कम सक्रिय होते हैं। कम सेरोटोनिन और कोर्टिसोल के प्रति उच्च संवेदनशीलता, एक तनाव हार्मोन, आक्रामकता में भूमिका निभा सकता है। इसके अतिरिक्त, सीखने की क्षमता को प्रभावित करने वाली स्थितियों का प्रभाव हो सकता है, क्योंकि बौद्धिक अक्षमता वाले बच्चों में व्यवहार संबंधी विकार होने की संभावना दोगुनी होती है।

8. आनुवंशिकी- परिवारों में व्यवहार संबंधी विकार चल सकते हैं। यह कुछ लोगों के लिए उन्हें विकसित करने के लिए आनुवंशिक प्रवृत्ति का संकेत दे सकता है। हालांकि, विपक्षी अवज्ञा विकार (ओडीडी) के मामले में, वैज्ञानिकों का विशिष्ट जीन जो इसे समझा सकता है। पुराने अध्ययनों से पता चला है कि अटेंशन डेफिसिट हाइपरएक्टिविटी डिसऑर्डर (एडीएचडी), विपक्षी डिफेंट डिसऑर्डर (ओडीडी), कंडक्ट डिसऑर्डर (सीडी) वाले लोग समान आनुवंशिक लक्षण साझा करते हैं, लेकिन इन विकारों के लिए कोई भी अद्वितीय नहीं था। उदाहरण के लिए, विपक्षी अवज्ञा विकार (ओडीडी) वाली लड़कियों में कार्यों के बजाय शब्दों के माध्यम से आक्रामकता व्यक्त करने की अधिक संभावना हो सकती है। इसका मतलब यह हो सकता है कि व्यवहार कम स्पष्ट है, और निदान प्राप्त करने की संभावना कम है।

9. आघात- मनोवैज्ञानिक आघात गंभीर या पुराने तनाव के लिए एक जटिल भावनात्मक और शारीरिक प्रतिक्रिया है। आघात के प्रारंभिक संपर्क से बाल विकास प्रभावित हो सकता है। कोई भी अनुभव जो महत्वपूर्ण संकट का कारण बनता है वह दर्दनाक हो सकता है, लेकिन सामान्य उदाहरण जो बच्चों को प्रभावित कर सकते हैं उनमें शामिल हैं

• एक अस्थिर गृह जीवन
• माता-पिता या देखभाल करने वालों के साथ कठिन संबंध
• असंगत या कठोर अनुशासन
• शारीरिक या भावनात्मक दुर्व्यवहार

निम्न स्तर के लोगों में व्यवहार संबंधी विकार अधिक आम हैं -आय पृष्ठभूमि, जो तनाव के बढ़े हुए स्तर के कारण हो सकती है। व्यवहार संबंधी विकार के साथ बच्चे के दर्दनाक तनाव को भ्रमित करना भी संभव है, क्योंकि उनके पास अतिव्यापी लक्षण हैं।

व्यवहार संबंधी विकारों के लिए जोखिम कारक

बच्चों के व्यवहार संबंधी विकारों का निदान

विघटनकारी व्यवहार संबंधी विकार जटिल हैं और इसमें संयोजन में काम करने वाले कई अलग-अलग कारक शामिल हो सकते हैं। उदाहरण के लिए, एक बच्चा जो आचरण विकार (सीडी) के अपराधी व्यवहार को प्रदर्शित करता है, उसमें एडीएचडी, चिंता, अवसाद और एक कठिन घरेलू जीवन भी हो सकता है।

निदान विधियों में शामिल हो सकते हैं:

• एक विशेषज्ञ सेवा द्वारा निदान, जिसमें एक बाल रोग विशेषज्ञ, मनोवैज्ञानिक या बाल मनोचिकित्सक शामिल हो सकते हैं
• माता-पिता, बच्चे और शिक्षकों के साथ गहन साक्षात्कार
• व्यवहार जांच सूची या मानकीकृत प्रश्नावली

बच्चे के व्यवहार के अनुरूप होने पर निदान किया जाता है अमेरिकन साइकियाट्रिक एसोसिएशन से मानसिक विकारों के नैदानिक ​​​​और सांख्यिकीय मैनुअल में विघटनकारी व्यवहार विकारों के मानदंड।

ऐसे तीव्र तनावों से इंकार करना महत्वपूर्ण है जो बच्चे के व्यवहार को बाधित कर सकते हैं। उदाहरण के लिए, एक बीमार माता-पिता या अन्य बच्चों द्वारा पीड़ित बच्चे के विशिष्ट व्यवहार में अचानक बदलाव के लिए जिम्मेदार हो सकते हैं और इन कारकों पर शुरू में विचार किया जाना चाहिए।

बच्चों में व्यवहार संबंधी विकारों का उपचार

व्यवहार संबंधी विकारों वाले अनुपचारित बच्चे बड़े होकर निष्क्रिय वयस्क हो सकते हैं। आम तौर पर, पहले हस्तक्षेप, बेहतर परिणाम होने की संभावना है।

नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ मेंटल हेल्थ और ऑफिस ऑफ स्कूल एजुकेशन प्रोग्राम्स के लिए संयुक्त राज्य अमेरिका में किए गए एक बड़े अध्ययन से पता चला है कि एडीएचडी के लिए सावधानीपूर्वक तैयार किए गए दवा प्रबंधन और व्यवहारिक उपचार ने स्कूल और घर में व्यवहार के सभी उपायों में सुधार किया है।

व्यवहार संबंधी विकारों का प्रबंधन बच्चे की जरूरतों, उनके परिवार की जरूरतों और उनके विकार के प्रकार और गंभीरता के आधार पर भिन्न हो सकता है। दृष्टिकोण जो मदद कर सकते हैं उनमें शामिल हैं:

• अभिभावक प्रबंधन प्रशिक्षण: यह माता-पिता और देखभाल करने वालों को अपने बच्चे के व्यवहार का प्रबंधन करने, उनके साथ संवाद करने के प्रभावी तरीके सीखने और नियम और सीमा निर्धारित करने के प्रभावी तरीके सीखने में मदद करता है। छोटे बच्चों के लिए, यह अक्सर मुख्य दृष्टिकोण होता है।

• व्यक्तिगत उपचार : यह बड़े बच्चों और किशोरों को अपनी भावनाओं को प्रबंधित करने और तनावपूर्ण स्थितियों का जवाब देने की तकनीक सीखने में मदद कर सकता है।.

• पारिवारिक चिकित्सा: इससे घर के सदस्यों को यह सीखने में मदद मिल सकती है कि भावनाओं और समस्याओं के बारे में एक-दूसरे से कैसे बात करें और उन्हें हल करने के तरीके खोजें।

• सामाजिक या स्कूल-आधारित कार्यक्रमs: ये कार्यक्रम बच्चों और किशोरों को यह सीखने में मदद करते हैं कि स्वस्थ तरीके से साथियों के साथ कैसे संबंध स्थापित करें। बच्चे को महत्वपूर्ण सामाजिक कौशल सिखाया जाता है, जैसे कि बातचीत कैसे करें या दूसरों के साथ सहयोगात्मक रूप से कैसे खेलें।

• सीखने की कठिनाइयों या अक्षमताओं के लिए सहायताs: सीखने की कठिनाइयों के साथ पेशेवर समर्थन बच्चे की भलाई में सुधार कर सकता है और उन्हें स्कूल में बेहतर बनाने में मदद कर सकता है।

• दवा: अगर किसी बच्चे को एडीएचडी या मानसिक स्वास्थ्य की स्थिति जैसी कोई सह-अस्तित्व विकार है, तो दवा लक्षणों को कम कर सकती है। हालांकि, दवाएं व्यवहार संबंधी विकारों का इलाज नहीं करती हैं।

• संज्ञानात्मक व्यवहार थेरेपी: बच्चे को अपने विचारों और व्यवहार को नियंत्रित करने में मदद करने के लिए।

• क्रोध प्रबंधन: बच्चे को सिखाया जाता है कि उनकी बढ़ती हताशा के संकेतों को कैसे पहचाना जाए और उनके क्रोध और आक्रामक व्यवहार को कम करने के लिए डिज़ाइन किए गए कई प्रकार के मैथुन कौशल दिए गए हैं। विश्राम तकनीक और तनाव प्रबंधन कौशल भी सिखाया जाता है।

• प्रोत्साहन: व्यवहार संबंधी विकारों वाले कई बच्चे स्कूल में और दूसरों के साथ बातचीत में बार-बार असफलताओं का अनुभव करते हैं। बच्चे को उनकी विशेष प्रतिभा (जैसे खेल) में उत्कृष्टता प्राप्त करने के लिए प्रोत्साहित करना आत्म-सम्मान का निर्माण करने में मदद कर सकता है।

आत्म-सम्मान को बढ़ावा देने में मदद करने के लिए धैर्य, सहानुभूति और प्रोत्साहन महत्वपूर्ण हैं। एक आधिकारिक पालन-पोषण शैली, जिसमें उचित नियम और सीमाएँ निर्धारित करने के साथ-साथ बच्चों को सुनना भी शामिल है, भी सहायक है। यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि बूट कैंप-शैली के कार्यक्रम और "कठिन प्रेम" व्यवहार संबंधी विकारों के लिए प्रभावी नहीं हैं। वास्तव में, वे बहुत हानिकारक हो सकते हैं।

व्यवहार विकारों के लिए उपचार

बचपन की सफलता के लिए पेरेंटिंग

बचपन की व्यवहार संबंधी समस्याओं के लिए पेरेंटिंग शैलियों को शायद ही कभी दोषी ठहराया जाता है। इसके अलावा, यदि आप अपने परिवार की मदद करने के लिए समाधान खोज रहे हैं, तो यह एक अच्छा संकेत है कि आप अपने बच्चे के मुद्दों का कारण नहीं बन रहे हैं। फिर भी, माता-पिता बचपन के व्यवहार संबंधी मुद्दों के इलाज में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

जब हम पेरेंटिंग शैलियों के बारे में बात करते हैं, तो चार मुख्य प्रकार होते हैं, जिनमें से एक अच्छी तरह से समायोजित और अच्छे व्यवहार वाले बच्चों की परवरिश में सबसे प्रभावी है:

1. सत्तावादी पालन-पोषण: बिना किसी समझौता के सख्त नियम, और बच्चों से कोई इनपुट नहीं।

2. आधिकारिक पालन-पोषण: सख्त नियम, लेकिन माता-पिता अपने बच्चों के साथ सुनने और सहयोग करने के लिए तैयार हैं। अधिनायकवादी पालन-पोषण से अधिक लोकतंत्र।

3. अनुमेय पालन-पोषण: कुछ नियम, और कुछ मांगें बच्चों पर रखी जाती हैं। इस घर में कोई अनुशासन नहीं है, और माता-पिता आमतौर पर दोस्त की भूमिका निभाते हैं।

4. बिन बुलाए पालन-पोषण: कोई नियम नहीं और बहुत कम बातचीत। ये माता-पिता अलग हैं और अपने बच्चों को अस्वीकार या उपेक्षा कर सकते हैं।

आधिकारिक पालन-पोषण सबसे अच्छी तरह से समायोजित और खुश बच्चों की परवरिश करने की संभावना है। असंबद्ध माता-पिता आत्म-सम्मान, आत्म-नियंत्रण और सामान्य योग्यता की कमी वाले बच्चों की परवरिश करने की सबसे अधिक संभावना रखते हैं। इन पेरेंटिंग शैलियों से हम जो सीख सकते हैं, वह यह है कि बच्चों को स्पष्ट नियमों और परिणामों की आवश्यकता होती है, लेकिन उन्हें एक ऐसे माता-पिता की भी आवश्यकता होती है जो सुनने और मार्गदर्शन करने के लिए तैयार हो।

विपक्षी अवज्ञा विकार (ओडीडी) क्या है?

यहां तक ​​​​कि सबसे हल्के-फुल्के बच्चों में भी कभी-कभी निराशा और अवज्ञा का प्रकोप होता है। फिर भी, सत्ता के आंकड़ों के खिलाफ क्रोध, अवज्ञा और प्रतिशोध का एक सतत पैटर्न विपक्षी अवज्ञा विकार (ओडीडी) का संकेत हो सकता है।

विपक्षी अवज्ञा विकार (ओडीडी) एक व्यवहार संबंधी विकार है जिसके परिणामस्वरूप अधिकार के खिलाफ अवज्ञा और क्रोध होता है। यह किसी व्यक्ति के काम, स्कूल और सामाजिक जीवन को प्रभावित कर सकता है।

विपक्षी अवज्ञा विकार (ओडीडी) स्कूली उम्र के 1 से 16 प्रतिशत बच्चों को प्रभावित करता है। यह लड़कियों की तुलना में लड़कों में अधिक आम है। कई बच्चे 6 से 8 साल की उम्र के बीच ओडीडी के लक्षण दिखाना शुरू कर देते हैं। वयस्कों में विपक्षी अवज्ञा विकार (ओडीडी) भी होता है। विपक्षी अवज्ञा विकार (ओडीडी) वाले वयस्क जिन्हें बच्चों के रूप में निदान नहीं किया गया था, अक्सर निदान नहीं किया जाता है।

विपक्षी उद्दंड विकार

विपक्षी अवज्ञा विकार के लक्षण

1. बच्चों और किशोरों में

विपक्षी अवज्ञा विकार (ओडीडी) सबसे अधिक बच्चों और किशोरों को प्रभावित करता है। ओडीडी के लक्षणों में शामिल हैं:

• बार-बार गुस्सा आना या क्रोध की घटनाएँ
• वयस्क अनुरोधों का पालन करने से इनकार करना
• वयस्कों और अधिकार के आंकड़ों के साथ अत्यधिक बहस करना
• हमेशा सवाल करना या सक्रिय रूप से नियमों की अवहेलना करना
• दूसरों को परेशान करना, नाराज़ करना या गुस्सा करना, विशेष रूप से प्राधिकरण के आंकड़े
• अपनी गलतियों या दुर्व्यवहारों के लिए दूसरों को दोष देना
• आसानी से नाराज़ होना
• प्रतिशोधी होना

इनमें से कोई भी लक्षण अकेले विपक्षी अवज्ञा विकार (ओडीडी) की ओर इशारा नहीं करता है। कम से कम छह महीने की अवधि में होने वाले कई लक्षणों का एक पैटर्न होना चाहिए।

2. वयस्कों में

बच्चों और वयस्कों के बीच विपक्षी अवज्ञा विकार (ओडीडी) के लक्षणों में कुछ ओवरलैप होता है। ओडीडी वाले वयस्कों में लक्षणों में शामिल हैं:

• दुनिया में गुस्सा महसूस करना
• गलत समझा या नापसंद महसूस करना
• काम पर पर्यवेक्षकों सहित अधिकार के लिए मजबूत नापसंदगी
• एक विद्रोही के रूप में पहचान करना
• खुद का बचाव करना और प्रतिक्रिया के लिए खुला नहीं होना
• अपनी गलतियों के लिए दूसरों को दोष देना

वयस्कों में विकार का निदान करना अक्सर मुश्किल होता है क्योंकि कई लक्षण असामाजिक व्यवहार, मादक द्रव्यों के सेवन और अन्य विकारों के साथ ओवरलैप होते हैं।

ओडीडी के लक्षण

विपक्षी अवज्ञा विकार के कारण

ओडीडी का कोई सिद्ध कारण नहीं है, लेकिन ऐसे सिद्धांत हैं जो संभावित कारणों की पहचान करने में मदद कर सकते हैं। इसने सोचा है कि पर्यावरणीय, जैविक और मनोवैज्ञानिक कारकों का संयोजन ओडीडी का कारण बनता है। उदाहरण के लिए, यह अटेंशन डेफिसिट हाइपरएक्टिविटी डिसऑर्डर (एडीएचडी) के इतिहास वाले परिवारों में अधिक आम है।

एक सिद्धांत से पता चलता है कि विपक्षी अवज्ञा विकार (ओडीडी) तब विकसित होना शुरू हो सकता है जब बच्चे छोटे होते हैं, क्योंकि ओडीडी वाले बच्चे और किशोर टॉडलर्स के विशिष्ट व्यवहार दिखाते हैं। यह सिद्धांत यह भी बताता है कि बच्चा या किशोर माता-पिता या अधिकार के आंकड़ों से स्वतंत्र होने के लिए संघर्ष कर रहा है, जिससे वे भावनात्मक रूप से जुड़े थे।

यह भी संभव है कि विपक्षी अवज्ञा विकार (ओडीडी) सीखे हुए व्यवहारों के कारण विकसित होता है, नकारात्मक सुदृढीकरण विधियों को दर्शाता है जो कुछ प्राधिकरण आंकड़े और माता-पिता उपयोग करते हैं। यह विशेष रूप से सच है यदि बच्चा ध्यान आकर्षित करने के लिए बुरे व्यवहार का उपयोग करता है। अन्य मामलों में, बच्चा माता-पिता से नकारात्मक व्यवहार अपना सकता है।

अन्य संभावित कारणों में शामिल हैं:

• कुछ व्यक्तित्व लक्षण, जैसे दृढ़-इच्छाशक्ति होना
• माता-पिता के प्रति सकारात्मक लगाव की कमी
• घर या दैनिक जीवन में महत्वपूर्ण तनाव या अप्रत्याशितता

विपक्षी उद्दंड विकार का निदान करने के लिए मानदंड

एक प्रशिक्षित मनोचिकित्सक या मनोवैज्ञानिक ओडीडी वाले बच्चों और वयस्कों का निदान कर सकता है। डायग्नोस्टिक एंड स्टैटिस्टिकल मैनुअल ऑफ मेंटल डिसऑर्डर, जिसे डीएसएम-5 के रूप में जाना जाता है, ओडीडी का निदान करने के लिए आवश्यक तीन मुख्य कारकों की रूपरेखा तैयार करता है:

1. वे एक व्यवहारिक पैटर्न दिखाते हैं एक

व्यक्ति के पास गुस्से या चिड़चिड़े मूड, तर्कपूर्ण या उद्दंड का एक पैटर्न होना चाहिए। व्यवहार, या प्रतिशोध कम से कम छह महीने तक चलने वाला। इस समय के दौरान, उन्हें किसी भी श्रेणी से निम्न में से कम से कम चार व्यवहार प्रदर्शित करने होंगे। इनमें से कम से कम एक लक्षण किसी ऐसे व्यक्ति के साथ प्रदर्शित होना चाहिए जो भाई-बहन नहीं है। श्रेणियों और लक्षणों में शामिल हैं:

गुस्सा या चिड़चिड़ा मूड, जिसमें लक्षण शामिल हैं:

• अक्सर अपना आपा खोना
• स्पर्शी होना
• आसानी से नाराज़ होना
• अक्सर क्रोधित या नाराज़ होना

तर्कपूर्ण या उद्दंड व्यवहार, जिसमें निम्न लक्षण शामिल हैं:

• प्राधिकरण के आंकड़ों या वयस्कों के साथ लगातार बहस करना
• प्राधिकरण के आंकड़ों के अनुरोधों को सक्रिय रूप से खारिज करना
• प्राधिकरण के आंकड़ों के अनुरोधों का पालन करने से इनकार करना
• जानबूझकर दूसरों को परेशान करना
• दुर्व्यवहार के लिए दूसरों को दोष देना

प्रतिशोध

• छह महीने की अवधि में कम से कम दो बार द्वेषपूर्ण कार्य करना

2. व्यवहार उनके जीवन को बाधित करता है

दूसरी चीज जो एक पेशेवर देखता है वह यह है कि क्या व्यवहार में गड़बड़ी व्यक्ति या उनके तत्काल सामाजिक दायरे में संकट से जुड़ी है। विघटनकारी व्यवहार उनके सामाजिक जीवन, शिक्षा या व्यवसाय जैसे महत्वपूर्ण क्षेत्रों को नकारात्मक रूप से प्रभावित कर सकता है।

3. यह मादक द्रव्यों के सेवन या मानसिक स्वास्थ्य एपिसोड से जुड़ा नहीं है

निदान के लिए, व्यवहार विशेष रूप से एपिसोड के दौरान नहीं हो सकते हैं जिनमें शामिल हैं:

• मादक द्रव्यों का सेवन
• अवसाद
• द्विध्रुवी विकार
• मनोविकृति

4. गंभीरता

डीएसएम-5 का भी एक पैमाना होता है गंभीरता का। ओडीडी का निदान हो सकता है:

• हल्का: लक्षण केवल एक सेटिंग तक ही सीमित हैं।
• मध्यम: कुछ लक्षण कम से कम दो सेटिंग्स में मौजूद होंगे।
• गंभीर: लक्षण तीन या अधिक सेटिंग्स में मौजूद होंगे।

विपक्षी अवज्ञा विकार के लिए उपचार

विपक्षी अवज्ञा विकार (ओडीडी) वाले लोगों के लिए प्रारंभिक उपचार आवश्यक है। अमेरिकन एकेडमी ऑफ चाइल्ड एंड अडोलेसेंट साइकियाट्री के अनुसार, अनुपचारित ओडीडी वाले किशोरों और वयस्कों में अवसाद और मादक द्रव्यों के सेवन का खतरा बढ़ गया है। उपचार के विकल्पों में शामिल हो सकते हैं:

1. Iव्यक्तिगत संज्ञानात्मक व्यवहार थेरेपी: एक मनोवैज्ञानिक बच्चे के साथ सुधार करने के लिए काम करेगा:

• क्रोध प्रबंधन कौशल
• संचार कौशल
• आवेग नियंत्रण
• समस्या को सुलझाने के कौशल

वे संभावित योगदान कारकों की पहचान करने में सक्षम हो सकते हैं।

2. पारिवारिक चिकित्सा: एक मनोवैज्ञानिक बदलाव लाने के लिए पूरे परिवार के साथ काम करेगा। यह माता-पिता को समर्थन खोजने और अपने बच्चे के ओडीडी को संभालने के लिए रणनीति सीखने में मदद कर सकता है।

3. पैरेंट-चाइल्ड इंटरेक्शन थेरेपी (पीसीआईटी): थेरेपिस्ट माता-पिता को उनके बच्चों के साथ बातचीत के दौरान प्रशिक्षित करेंगे। माता-पिता अधिक प्रभावी पेरेंटिंग तकनीक सीख सकते हैं।

4. सहकर्मी समूह: बच्चा सीख सकता है कि अपने सामाजिक कौशल और अन्य बच्चों के साथ संबंधों को कैसे सुधारें।

5. दवाएं: ये ओडीडी के कारणों का इलाज करने में मदद कर सकते हैं, जैसे कि अवसाद या एडीएचडी। हालांकि, ओडीडी के इलाज के लिए कोई विशिष्ट दवा नहीं है।

अटेंशन डेफिसिट हाइपरएक्टिविटी डिसऑर्डर (एडीएचडी) क्या है?

अटेंशन डेफिसिट हाइपरएक्टिविटी डिसऑर्डर (एडीएचडी) एक मानसिक स्वास्थ्य विकार है जो अतिसक्रिय और आवेगी व्यवहार के सामान्य स्तर से ऊपर पैदा कर सकता है। एडीएचडी वाले लोगों को एक ही काम पर अपना ध्यान केंद्रित करने या लंबे समय तक स्थिर बैठने में भी परेशानी हो सकती है। वयस्कों और बच्चों दोनों में एडीएचडी हो सकता है।

ध्यान आभाव सक्रियता विकार

एडीएचडी लक्षण

व्यवहार की एक विस्तृत श्रृंखला एडीएचडी से जुड़ी है। अधिक सामान्य में से कुछ में शामिल हैं:

• कार्यों पर ध्यान केंद्रित करने या ध्यान केंद्रित करने में परेशानी होना
• कार्यों को पूरा करने के बारे में भूल जाना
• आसानी से विचलित होना
• आराम से बैठने में कठिनाई होना
• लोगों को बात करते समय बाधित करना

यदि आप या आपके बच्चे को एडीएचडी है, इनमें से कुछ या सभी लक्षण। आपके लक्षण आपके एडीएचडी के प्रकार पर निर्भर करते हैं।

बच्चों में एडीएचडी के लक्षण इस प्रकार हैं:

1. स्व-केंद्रित व्यवहार

एडीएचडी का एक सामान्य संकेत वह है जो अन्य लोगों की जरूरतों और इच्छाओं को पहचानने में असमर्थता की तरह दिखता है। इससे अगले दो संकेत हो सकते हैं:

• बाधा डालना
• अपनी बारी का इंतजार करने में परेशानी

2. आत्म-केंद्रित व्यवहार में

बाधा डालने से एडीएचडी वाला बच्चा बात करते समय दूसरों को बाधित कर सकता है या बातचीत या गेम में बट सकता है जिसका वे हिस्सा नहीं हैं।

3. अपनी बारी का इंतजार करने में परेशानी

एडीएचडी वाले बच्चों को कक्षा की गतिविधियों के दौरान या अन्य बच्चों के साथ खेल खेलते समय अपनी बारी का इंतजार करने में परेशानी हो सकती है।

4. भावनात्मक उथल-पुथल

एडीएचडी वाले बच्चे को अपनी भावनाओं को नियंत्रण में रखने में परेशानी हो सकती है। अनुचित समय पर उनमें क्रोध का प्रकोप हो सकता है। छोटे बच्चों में गुस्सा नखरे हो सकते हैं।

5. फिडगेटिंग

एडीएचडी वाले बच्चे अक्सर शांत नहीं बैठ सकते। बैठने के लिए मजबूर होने पर वे उठने और इधर-उधर भागने की कोशिश कर सकते हैं, अपनी कुर्सी पर बैठ सकते हैं या फुसफुसा सकते हैं।

6. चुपचाप खेलने में समस्या

एडीएचडी वाले बच्चों के लिए चंचलता से खेलना मुश्किल हो सकता है या आराम से अवकाश गतिविधियों में संलग्न हो सकते हैं।

7. अधूरे काम

एडीएचडी वाला बच्चा कई अलग-अलग चीजों में दिलचस्पी दिखा सकता है, लेकिन उन्हें उन्हें पूरा करने में समस्या हो सकती है। उदाहरण के लिए, वे प्रोजेक्ट, काम या होमवर्क शुरू कर सकते हैं, लेकिन अगली चीज़ पर आगे बढ़ सकते हैं जो खत्म करने से पहले उनकी रुचि को पकड़ती है।

8. फोकस की कमी

एडीएचडी वाले बच्चे को ध्यान देने में परेशानी हो सकती है - तब भी जब कोई उनसे सीधे बात कर रहा हो। वे कहेंगे कि उन्होंने आपकी बात सुनी, लेकिन जो आपने अभी कहा, वे उसे दोबारा नहीं दोहरा पाएंगे।

9. विस्तारित मानसिक प्रयास की आवश्यकता वाले कार्यों से बचना

ध्यान की यही कमी बच्चे को उन गतिविधियों से बचने का कारण बन सकती है जिनके लिए निरंतर मानसिक प्रयास की आवश्यकता होती है, जैसे कक्षा में ध्यान देना या गृहकार्य करना।

10. गलतियाँ

एडीएचडी वाले बच्चों को उन निर्देशों का पालन करने में परेशानी हो सकती है जिनके लिए योजना बनाने या उसे क्रियान्वित करने की आवश्यकता होती है। इसके बाद लापरवाह गलतियाँ हो सकती हैं - लेकिन यह आलस्य या बुद्धि की कमी का संकेत नहीं देता है।

11. दिवास्वप्न देखना

एडीएचडी वाले बच्चे हमेशा उग्र और तेज आवाज वाले नहीं होते हैं। एडीएचडी का एक और संकेत अन्य बच्चों की तुलना में शांत और कम शामिल होना है। एडीएचडी वाला बच्चा अंतरिक्ष में देख सकता है, दिवास्वप्न देख सकता है और अपने आसपास क्या हो रहा है उसे अनदेखा कर सकता है।

12. संगठित होने में परेशानी

एडीएचडी वाले बच्चे को कार्यों और गतिविधियों पर नज़र रखने में परेशानी हो सकती है। यह स्कूल में समस्याएँ पैदा कर सकता है, क्योंकि उन्हें होमवर्क, स्कूल प्रोजेक्ट्स और अन्य असाइनमेंट को प्राथमिकता देना मुश्किल हो सकता है।

13. भूलने की बीमारी

एडीएचडी वाले बच्चे दैनिक गतिविधियों में भुलक्कड़ हो सकते हैं। वे काम या अपना होमवर्क करना भूल सकते हैं। वे अक्सर चीजें भी खो सकते हैं, जैसे खिलौने।

14. कई सेटिंग्स में लक्षण

एडीएचडी वाला बच्चा एक से अधिक सेटिंग में स्थिति के लक्षण दिखाएगा। उदाहरण के लिए, वे स्कूल और घर दोनों में फोकस की कमी दिखा सकते हैं।

एडीएचडी का क्या कारण है?

एडीएचडी कितना आम है, इसके बावजूद डॉक्टर और शोधकर्ता अभी भी सुनिश्चित नहीं हैं कि इस स्थिति का क्या कारण है। ऐसा माना जाता है कि इसकी स्नायविक उत्पत्ति होती है। आनुवंशिकी भी एक भूमिका निभा सकती है।

यह सुझाव दिया गया है कि डोपामाइन में कमी एडीएचडी में एक कारक है। डोपामाइन मस्तिष्क में एक रसायन है जो संकेतों को एक तंत्रिका से दूसरी तंत्रिका तक ले जाने में मदद करता है। यह भावनात्मक प्रतिक्रियाओं और आंदोलनों को ट्रिगर करने में एक भूमिका निभाता है।

अन्य मस्तिष्क में संरचनात्मक अंतर का सुझाव देते हैं। निष्कर्ष बताते हैं कि एडीएचडी वाले लोगों में ग्रे पदार्थ की मात्रा कम होती है। ग्रे मैटर में मस्तिष्क के क्षेत्र शामिल हैं जो इसमें मदद करते हैं:

• भाषण
• आत्म-नियंत्रण
• निर्णय लेना
• मांसपेशियों पर नियंत्रण

एडीएचडी के कारण

एडीएचडी उपचार

एडीएचडी के उपचार में आमतौर पर व्यवहारिक उपचार, दवा या दोनों शामिल होते हैं।

1. थेरेपी थेरेपी के

प्रकारों में मनोचिकित्सा, या टॉक थेरेपी शामिल हैं। टॉक थेरेपी के साथ, आप या आपका बच्चा चर्चा करेंगे कि एडीएचडी आपके जीवन को कैसे प्रभावित करता है और इसे प्रबंधित करने में आपकी मदद करने के तरीके। एक अन्य चिकित्सा प्रकार व्यवहार चिकित्सा है। यह थेरेपी आपको या आपके बच्चे को यह सीखने में मदद कर सकती है कि आपके व्यवहार की निगरानी और प्रबंधन कैसे करें।

2. दवा

एडीएचडी के इलाज के लिए इस्तेमाल की जाने वाली दो मुख्य प्रकार की दवाएं उत्तेजक और गैर-उत्तेजक हैं।

केंद्रीय तंत्रिका तंत्र (सीएनएस) उत्तेजक सबसे अधिक निर्धारित एडीएचडी दवाएं हैं। ये दवाएं मस्तिष्क के रसायनों डोपामाइन और नॉरपेनेफ्रिन की मात्रा को बढ़ाकर काम करती हैं। इन दवाओं के उदाहरणों में मेथिलफेनिडेट (रिटाइनिन) और एम्फ़ैटेमिन-आधारित उत्तेजक (एडडरॉल) शामिल हैं।

यदि उत्तेजक आपके या आपके बच्चे के लिए अच्छा काम नहीं करते हैं, या यदि वे परेशानी का कारण बनते हैं, तो आपका डॉक्टर एक गैर-उत्तेजक दवा का सुझाव दे सकता है। कुछ गैर-उत्तेजक दवाएं मस्तिष्क में नॉरपेनेफ्रिन के स्तर को बढ़ाकर काम करती हैं। इन दवाओं में एटमॉक्सेटीन (स्ट्रैटेरा) और कुछ एंटीडिप्रेसेंट जैसे बुप्रोपियन (वेलब्यूट्रिन) शामिल हैं। एडीएचडी दवाओं के कई फायदे हो सकते हैं, साथ ही साइड इफेक्ट भी।

3. घरेलू उपचार

इसके अलावा - या इसके बजाय - दवा, एडीएचडी के लक्षणों को सुधारने में मदद करने के लिए कई उपायों का सुझाव दिया गया है।

शुरुआत के लिए, एक स्वस्थ जीवन शैली का पालन करने से आपको या आपके बच्चे को एडीएचडी लक्षणों का प्रबंधन करने में मदद मिल सकती है। रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र (सीडीसी) निम्नलिखित की सिफारिश करता है:

• स्वस्थ, संतुलित आहार लें
• प्रतिदिन कम से कम 60 मिनट की शारीरिक गतिविधि करें
• भरपूर नींद लें
• फ़ोन, कंप्यूटर और टीवी से दैनिक स्क्रीन समय सीमित करें

अध्ययनों से यह भी पता चला है कि योग, ताई ची, और बाहर समय बिताना अति सक्रिय दिमाग को शांत करने में मदद कर सकता है और एडीएचडी के लक्षणों को कम कर सकता है।

माइंडफुलनेस मेडिटेशन एक और विकल्प है। वयस्कों और किशोरों में शोध ने ध्यान और विचार प्रक्रियाओं के साथ-साथ चिंता और अवसाद पर सकारात्मक प्रभाव डालने के लिए ध्यान को दिखाया है। कुछ एलर्जी और खाद्य योजक से बचना भी एडीएचडी के लक्षणों को कम करने में मदद करने के संभावित तरीके हैं।

एडीएचडी के लिए उपचार

आचरण विकार क्या है?

आचरण विकार व्यवहारिक और भावनात्मक समस्याओं का एक समूह है जो आमतौर पर बचपन या किशोरावस्था के दौरान शुरू होता है। विकार वाले बच्चों और किशोरों को नियमों का पालन करने और सामाजिक रूप से स्वीकार्य तरीके से व्यवहार करने में मुश्किल होती है। वे आक्रामक, विनाशकारी और धोखेबाज व्यवहार प्रदर्शित कर सकते हैं जो दूसरों के अधिकारों का उल्लंघन कर सकते हैं। वयस्क और अन्य बच्चे मानसिक बीमारी होने के बजाय उन्हें "बुरा" या अपराधी के रूप में देख सकते हैं।

यदि आपके बच्चे को आचरण विकार है, तो वे सख्त और आत्मविश्वासी दिखाई दे सकते हैं। हकीकत में, हालांकि, आचरण विकार वाले बच्चे अक्सर असुरक्षित होते हैं और गलत तरीके से मानते हैं कि लोग उनके प्रति आक्रामक या धमकी दे रहे हैं।

आचरण विकार

आचरण विकार के लक्षण क्या हैं?

आचरण विकार वाले बच्चों को अक्सर नियंत्रित करना मुश्किल होता है और वे नियमों का पालन करने के लिए तैयार नहीं होते हैं। वे अपने कार्यों के परिणामों पर विचार किए बिना आवेगपूर्ण कार्य करते हैं। वे दूसरे लोगों की भावनाओं को भी ध्यान में नहीं रखते हैं। आपके बच्चे को आचरण विकार हो सकता है यदि वह लगातार निम्न में से एक या अधिक व्यवहार प्रदर्शित करता है:

1. आक्रामक आचरण

आक्रामक आचरण शामिल हो सकते हैं:

• डराना या दूसरों डराने-धमकाने
• शारीरिक रूप से उद्देश्य पर मनुष्यों व पशुओं के नुकसान पहुँचाने
• बलात्कार स्वीकार हो रहे हैं
• एक हथियार का उपयोग करना

2. धोखेबाज व्यवहार

धोखेबाज व्यवहार में शामिल हो सकते हैं::

• झूठ बोलना
• तोड़ना और प्रवेश करना
• चोरी करना
• जालसाजी

3. विनाशकारी व्यवहार

विनाशकारी आचरण में आगजनी और अन्य जानबूझकर संपत्ति का विनाश शामिल हो सकता है।

4. नियम का उल्लंघन

नियमों के उल्लंघन में शामिल हो सकते हैं:

• स्कूल छोड़ना
• घर से भागना
• नशीली दवाओं और शराब का सेवन
• नशीली दवाओं और शराब का सेवन

आचरण विकार वाले लड़कों में लड़कियों की तुलना में आक्रामक और विनाशकारी व्यवहार प्रदर्शित करने की अधिक संभावना होती है। लड़कियों में धोखेबाज और नियम-उल्लंघन करने वाले व्यवहार की प्रवृत्ति अधिक होती है।

आचरण विकार के कारण

आनुवंशिक और पर्यावरणीय कारक आचरण विकार के विकास में योगदान कर सकते हैं।

1. आनुवंशिक कारण

मस्तिष्क के ललाट लोब को नुकसान आचरण विकार से जोड़ा गया है। ललाट लोब आपके मस्तिष्क का वह हिस्सा है जो महत्वपूर्ण संज्ञानात्मक कौशल को नियंत्रित करता है, जैसे समस्या-समाधान, स्मृति और भावनात्मक अभिव्यक्ति। यह आपके व्यक्तित्व का भी घर है। आचरण विकार वाले व्यक्ति में ललाट लोब ठीक से काम नहीं कर सकता है, जो अन्य चीजों के साथ पैदा कर सकता है:

• आवेग नियंत्रण की कमीl
• भविष्य के कार्यों की योजना बनाने की क्षमता में कमी
• पिछले नकारात्मक अनुभवों से सीखने की क्षमता में कमीs

ललाट लोब की हानि अनुवांशिक, या विरासत में मिली हो सकती है, या यह चोट के कारण मस्तिष्क क्षति के कारण हो सकती है। एक बच्चे को व्यक्तित्व लक्षण भी विरासत में मिल सकते हैं जो आमतौर पर आचरण विकार में देखे जाते हैं।

2. पर्यावरणीय कारक

आचरण विकार से जुड़े पर्यावरणीय कारकों में शामिल हैं:

• बाल शोषण
• एक बेकार परिवार
• ड्रग्स या शराब का दुरुपयोग करने वाले माता-पिता
• गरीबी

आचरण विकार के कारण

आचरण विकार का निदान कैसे किया जाता है?

यदि आपका बच्चा आचरण विकार के लक्षण दिखा रहा है, तो उसका मूल्यांकन मानसिक स्वास्थ्य पेशेवर द्वारा किया जाना चाहिए। निदान करने के लिए वे आपसे और आपके बच्चे से उनके व्यवहार पैटर्न के बारे में सवाल पूछेंगे। एक आचरण विकार निदान के लिए, आपके बच्चे के पास कम से कम तीन व्यवहार प्रदर्शित करने का एक पैटर्न होना चाहिए जो विकार का संचालन करने के लिए आम हैं। आपके बच्चे ने भी पिछले छह महीनों में कम से कम एक व्यवहार दिखाया होगा। व्यवहार संबंधी समस्याएं आपके बच्चे को सामाजिक रूप से या स्कूल में भी महत्वपूर्ण रूप से प्रभावित करती हैं।

आचरण विकार का इलाज कैसे किया जाता है?

आचरण विकार वाले बच्चे जो अपमानजनक घरों में रह रहे हैं उन्हें दूसरे घरों में रखा जा सकता है। यदि दुर्व्यवहार मौजूद नहीं है, तो आपके बच्चे का मानसिक स्वास्थ्य देखभाल प्रदाता व्यवहार चिकित्सा या टॉक थेरेपी का उपयोग करेगा ताकि आपके बच्चे को यह सीखने में मदद मिल सके कि उनकी भावनाओं को उचित रूप से कैसे व्यक्त या नियंत्रित किया जाए। मानसिक स्वास्थ्य देखभाल प्रदाता आपको यह भी सिखाएगा कि अपने बच्चे के व्यवहार का प्रबंधन कैसे करें। यदि आपके बच्चे को कोई अन्य मानसिक स्वास्थ्य विकार है, जैसे कि अवसाद या एडीएचडी, तो मानसिक स्वास्थ्य सेवा प्रदाता उस स्थिति के इलाज के लिए दवाएं भी लिख सकता है।

चूंकि नए दृष्टिकोण और व्यवहार पैटर्न स्थापित करने में समय लगता है, आचरण विकार वाले बच्चों को आमतौर पर दीर्घकालिक उपचार की आवश्यकता होती है। हालांकि, प्रारंभिक उपचार विकार की प्रगति को धीमा कर सकता है या नकारात्मक व्यवहार की गंभीरता को कम कर सकता है।

संबंधित विषय:

1. बी कॉम्प्लेक्स की आवश्यकता क्यों है

बी कॉम्प्लेक्स संक्रमण को रोकने और सेल स्वास्थ्य को बढ़ावा देकर अच्छे स्वास्थ्य को बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यह शरीर में बी जटिल आवश्यकता पर जोर देता है। अधिक यात्रा जानने के लिए: बी कॉम्प्लेक्स की आवश्यकता क्यों है

2. बी कॉम्प्लेक्स के साइड इफेक्ट

विटामिन ऐसे यौगिक होते हैं जिनकी कम मात्रा में आवश्यकता होती है और भोजन में मौजूद होते हैं क्योंकि वे शरीर द्वारा निर्मित नहीं होते हैं। हालांकि, बी विटामिन सभी के लिए महत्वपूर्ण हैं लेकिन कुछ बी कॉम्प्लेक्स साइड इफेक्ट्स भी हैं। अधिक यात्रा जानने के लिए: बी कॉम्प्लेक्स के साइड इफेक्ट

3. B12 की प्रतिदिन कितनी आवश्यकता है

विटामिन बी 12, आठ बी विटामिनों में से एक डीएनए संश्लेषण में एक कॉफ़ेक्टर है, और फैटी एसिड और एमिनो एसिड चयापचय दोनों में। इसकी कमी से एनीमिया हो सकता है। अधिक यात्रा जानने के लिए: B12 की प्रतिदिन कितनी आवश्यकता है

4. बी कॉम्प्लेक्स टैबलेट शुरू करने के लिए उपयुक्त उम्र

विटामिन कम मात्रा में आवश्यक यौगिक होते हैं, भोजन में मौजूद होते हैं क्योंकि शरीर उनका उत्पादन नहीं करता है। सभी में से, विटामिन बी महत्वपूर्ण है। इस प्रकार, उम्र के बावजूद बी कॉम्प्लेक्स टैबलेट का सेवन करना आवश्यक है। अधिक यात्रा जानने के लिए: बी कॉम्प्लेक्स टैबलेट शुरू करने के लिए उपयुक्त आयु




उपर ब्लॉग में बताई गई उपलब्धिया AFD-SHIELD के साथ उपलब्ध हैं
एएफडी शील्ड कैप्सूल 12 प्राकृतिक अवयवों का एक संयोजन है जिनमें से अलगल डीएचए, अश्वगंधा, करक्यूमिन और स्पिरुलिना हैं। एएफडी शील्ड टीजी को कम करता है, एचडीएल बढ़ाता है और उम्र से संबंधित संज्ञानात्मक गिरावट में सुधार करता है। यह तनाव और चिंता को भी कम करता है और एंटी-एजिंग गतिविधि करता है। इसके अलावा, यह इम्युनोमॉड्यूलेटरी गतिविधि को बढ़ाता है, प्रतिरक्षा में सुधार करता है और सूजन और ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करता है। न्यूट्रोग्लिग्क्स: एएफडी-शील्ड

AFDIL Ltd.
+91 9920121021

order@afdil.com

Read Also:


Disclaimer
Home