Information on COVID-19 Vaccine

COVID-19

What if you could be wrong?

The Immune System—the Body’s Defense Against Infection
To understand how COVID-19 vaccines work, it helps to first look at how our bodies fight illness. When germs, such as the virus that causes COVID-19, invade our bodies, they attack and multiply. This invasion, called an infection, is what causes illness. Our immune system uses several tools to fight infection. Blood contains red cells, which carry oxygen to tissues and organs, and white or immune cells, which fight infection. Different types of white blood cells fight infection in different ways:
Macrophages are white blood cells that swallow up and digest germs and dead or dying cells. The macrophages leave behind parts of the invading germs, called “antigens”. The body identifies antigens as dangerous and stimulates antibodies to attack them.
B-lymphocytes are defensive white blood cells. They produce antibodies that attack the pieces of the virus left behind by the macrophages.
T-lymphocytes are another type of defensive white blood cell. They attack cells in the body that have already been infected.
The first time a person is infected with the virus that causes COVID-19, it can take several days or weeks for their body to make and use all the germ-fighting tools needed to get over the infection. After the infection, the person’s immune system remembers what it learned about how to protect the body against that disease.

The body keeps a few T-lymphocytes, called “memory cells,” that go into action quickly if the body encounters the same virus again. When the familiar antigens are detected, B-lymphocytes produce antibodies to attack them. Experts are still learning how long these memory cells protect a person against the virus that causes COVID-19.

How COVID-19 Vaccines Work
COVID-19 vaccines help our bodies develop immunity to the virus that causes COVID-19 without us having to get the illness.

COVID vaccine
Different types of vaccines work in different ways to offer protection. But with all types of vaccines, the body is left with a supply of “memory” T-lymphocytes as well as B-lymphocytes that will remember how to fight that virus in the future.
It typically takes a few weeks after vaccination for the body to produce T-lymphocytes and B-lymphocytes. Therefore, it is possible that a person could be infected with the virus that causes COVID-19 just before or just after vaccination and then get sick because the vaccine did not have enough time to provide protection.

Sometimes after vaccination, the process of building immunity can cause symptoms, such as fever. These symptoms are normal and are signs that the body is building immunity.

Learn more about getting your vaccine.

Types of Vaccines
Currently, there are three main types of COVID-19 vaccines that are authorized and recommended or undergoing large-scale (Phase 3) clinical trials in the United States.
Below is a description of how each type of vaccine prompts our bodies to recognize and protect us from the virus that causes COVID-19. None of these vaccines can give you COVID-19.

m-RNA vaccines
m-RNA vaccine contain material from the virus that causes COVID-19 that gives our cells instructions for how to make a harmless protein that is unique to the virus. After our cells make copies of the protein, they destroy the genetic material from the vaccine. Our bodies recognize that the protein should not be there and build T-lymphocytes and B-lymphocytes that will remember how to fight the virus that causes COVID-19 if we are infected in the future.
Vaccines prevent many millions of illnesses and save numerous lives every year1. As a result of widespread vaccine use, the smallpox virus has been completely eradicated and the incidence of polio, measles and other childhood diseases has been drastically reduced around the world2. Conventional vaccine approaches, such as live attenuated and inactivated pathogens and subunit vaccines, provide durable protection against a variety of dangerous diseases3. Despite this success, there remain major hurdles to vaccine development against a variety of infectious pathogens, especially those better able to evade the adaptive immune response4. Moreover, for most emerging virus vaccines, the main obstacle is not the effectiveness of conventional approaches but the need for more rapid development and large-scale deployment. Finally, conventional vaccine approaches may not be applicable to non-infectious diseases, such as cancer. The development of more potent and versatile vaccine platforms is therefore urgently needed.
Nucleic acid therapeutics have emerged as promising alternatives to conventional vaccine approaches. The first report of the successful use of in vitro transcribed (IVT) mRNA in animals was published in 1990, when reporter gene mRNAs were injected into mice and protein production was detected5. A subsequent study in 1992 demonstrated that administration of vasopressin-encoding mRNA in the hypothalamus could elicit a physiological response in rats6. However, these early promising results did not lead to substantial investment in developing mRNA therapeutics, largely owing to concerns associated with mRNA instability, high innate immunogenicity and inefficient in vivo delivery. Instead, the field pursued DNA-based and protein-based therapeutic approaches7,8.
Over the past decade, major technological innovation and research investment have enabled mRNA to become a promising therapeutic tool in the fields of vaccine development and protein replacement therapy. The use of mRNA has several beneficial features over subunit, killed and live attenuated virus, as well as DNA-based vaccines. First, safety: as mRNA is a non-infectious, non-integrating platform, there is no potential risk of infection or insertional mutagenesis. Additionally, mRNA is degraded by normal cellular processes, and its in vivo half-life can be regulated through the use of various modifications and delivery methods9,10,11,12. The inherent immunogenicity of the mRNA can be down-modulated to further increase the safety profile9,12,13. Second, efficacy: various modifications make mRNA more stable and highly translatable9,12,13. Efficient in vivo delivery can be achieved by formulating mRNA into carrier molecules, allowing rapid uptake and expression in the cytoplasm (reviewed in Refs 10,11). mRNA is the minimal genetic vector; therefore, anti-vector immunity is avoided, and mRNA vaccines can be administered repeatedly. Third, production: mRNA vaccines have the potential for rapid, inexpensive and scalable manufacturing, mainly owing to the high yields of in vitro transcription reactions.

The mRNA vaccine field is developing extremely rapidly; a large body of preclinical data has accumulated over the past several years, and multiple human clinical trials have been initiated. In this Review, we discuss current mRNA vaccine approaches, summarize the latest findings, highlight challenges and recent successes, and offer perspectives on the future of mRNA vaccines. The data suggest that mRNA vaccines have the potential to solve many of the challenges in vaccine development for both infectious diseases and cancer.

Basic mRNA vaccine pharmacology
mRNA is the intermediate step between the translation of protein-encoding DNA and the production of proteins by ribosomes in the cytoplasm. Two major types of RNA are currently studied as vaccines: non-replicating mRNA and virally derived, self-amplifying RNA. Conventional mRNA-based vaccines encode the antigen of interest and contain 5′ and 3′ untranslated regions (UTRs), whereas self-amplifying RNAs encode not only the antigen but also the viral replication machinery that enables intracellular RNA amplification and abundant protein expression.
The construction of optimally translated IVT mRNA suitable for therapeutic use has been reviewed previously14,15. Briefly, IVT mRNA is produced from a linear DNA template using a T7, a T3 or an Sp6 phage RNA polymerase16. The resulting product should optimally contain an open reading frame that encodes the protein of interest, flanking UTRs, a 5′ cap and a poly(A) tail. The mRNA is thus engineered to resemble fully processed mature mRNA molecules as they occur naturally in the cytoplasm of eukaryotic cells.

Complexing of mRNA for in vivo delivery has also been recently detailed10,11. Naked mRNA is quickly degraded by extracellular RNases17 and is not internalized efficiently. Thus, a great variety of in vitro and in vivo transfection reagents have been developed that facilitate cellular uptake of mRNA and protect it from degradation. Once the mRNA transits to the cytosol, the cellular translation machinery produces protein that undergoes post-translational modifications, resulting in a properly folded, fully functional protein. This feature of mRNA pharmacology is particularly advantageous for vaccines and protein replacement therapies that require cytosolic or transmembrane proteins to be delivered to the correct cellular compartments for proper presentation or function. IVT mRNA is finally degraded by normal physiological processes, thus reducing the risk of metabolite toxicity.

Protein subunit vaccines
Protein subunit vaccines include harmless pieces (proteins) of the virus that causes COVID-19 instead of the entire germ. Once vaccinated, our bodies recognize that the protein should not be there and build T-lymphocytes and antibodies that will remember how to fight the virus that causes COVID-19 if we are infected in the future.
Rather than injecting a whole pathogen to trigger an immune response, subunit vaccines (sometimes called acellular vaccines) contain purified pieces of it, which have been specially selected for their ability to stimulate immune cells. Because these fragments are incapable of causing disease, subunit vaccines are considered very safe. There are several types: protein subunit vaccines contain specific isolated proteins from viral or bacterial pathogens; polysaccharide vaccines contain chains of sugar molecules (polysaccharides) found in the cell walls of some bacteria; conjugate subunit vaccines bind a polysaccharide chain to a carrier protein to try and boost the immune response. Only protein subunit vaccines are being developed against the virus that causes COVID-19.
Other subunit vaccines are already in widespread use. Examples include the hepatitis B and acellular pertussis vaccines (protein subunit), the pneumococcal polysaccharide vaccine (polysaccharide), and the MenACWY vaccine, which contains polysaccharides from the surface of four types of the bacteria which causes meningococcal disease joined to diphtheria or tetanus toxoid (conjugate subunit).

ADVANTAGES AND DISADVANTAGES OF PROTEIN SUBUNIT VACCINES
Well-established technology
Suitable for people with compromised immune systems
No live components, so no risk of the vaccine triggering disease
Relatively stable
Relatively complex to manufacturAdjuvants and booster shots may be required
Determining the best antigen combination takes time

HOW DO SUBUNIT VACCINES TRIGGER IMMUNITY?
Subunit vaccines contain fragments of protein and/or polysaccharide from the pathogen, which have been carefully studied to identify which combinations of these molecules are likely to produce a strong and effective immune response. By restricting the immune system’s access to the pathogen in this way, the risk of side effects is minimised. Such vaccines are also relatively cheap and easy to produce, and more stable than those containing whole viruses or bacteria.
A downside of this precision is that the antigens used to elicit an immune response may lack molecular structures called pathogen-associated molecular patterns which are common to a class of pathogen. These structures can be read by immune cells and recognised as danger signals, so their absence may result in a weaker immune response. Also, because the antigens do not infect cells, subunit vaccines mainly only trigger antibody-mediated immune responses. Again, this means the immune response may be weaker than with other types of vaccines. To overcome this problem, subunit vaccines are sometimes delivered alongside adjuvants (agents that stimulate the immune system) and booster doses may be required.

Vector vaccines
Vector vaccines contain a modified version of a different virus than the one that causes COVID-19. Inside the shell of the modified virus, there is material from the virus that causes COVID-19. This is called a “viral vector.” Once the viral vector is inside our cells, the genetic material gives cells instructions to make a protein that is unique to the virus that causes COVID-19. Using these instructions, our cells make copies of the protein. This prompts our bodies to build T-lymphocytes and B-lymphocytes that will remember how to fight that virus if we are infected in the future.
Viral vector-based vaccines differ from most conventional vaccines in that they don’t actually contain antigens, but rather use the body’s own cells to produce them. They do this by using a modified virus (the vector) to deliver genetic code for antigen, in the case of COVID-19 spike proteins found on the surface of the virus, into human cells. By infecting cells and instructing them to make large amounts of antigen, which then trigger an immune response, the vaccine mimics what happens during natural infection with certain pathogens - especially viruses. This has the advantage of triggering a strong cellular immune response by T cells as well the production of antibodies by B cells. An example of a viral vector vaccine is the rVSV-ZEBOV vaccine against Ebola.

ADVANTAGES AND DISADVANTAGES OF VIRAL VECTOR-BASED VACCINES
Well-established technology
Strong immune response
Immune response involves B cells and T cells
Previous exposure to the vector could reduce effectiveness
Relatively complex to manufacture

HOW DO SUCH VACCINES TRIGGER IMMUNITY?
Viruses survive and replicate by invading their host’s cells and hijacking their protein-making machinery, so it reads the virus’ genetic code and makes new viruses. These virus particles contain antigens, molecules that can trigger an immune response. A similar principle underpins viral vector vaccines - only in this case, the host cells only receive code to make antigens. The viral vector acts as a delivery system, providing a means to invade the cell and insert the code for a different virus’ antigens (the pathogen you’re trying to vaccinate against). The virus itself is harmless, and by getting the cells only to produce antigens the body can mount an immune response safely, without developing disease.

Various viruses have been developed as vectors, including adenovirus (a cause of the common cold), measles virus and vaccinia virus. These vectors are stripped of any disease-causing genes and sometimes also genes that can enable them to replicate, meaning they are now harmless. The genetic instructions for making the antigen from the target pathogen are stitched into the virus vector’s genome.

There are two main types of viral vector-based vaccines. Non-replicating vector vaccines are unable to make new viral particles; they only produce the vaccine antigen. Replicating vector vaccines also produce new viral particles in the cells they infect, which then go on to infect new cells that will also make the vaccine antigen. The COVID-19 viral vector vaccines under development use non-replicating viral vectors.

Once injected into the body, these vaccine viruses begin infecting our cells and inserting their genetic material – including the antigen gene – into the cells’ nuclei. Human cells manufacture the antigen as if it were one of their own proteins and this is presented on their surface alongside many other proteins. When the immune cells detect the foreign antigen, they mount an immune response against it.

This response includes antibody-producing B cells, as well as T cells, which seek out and destroy infected cells. T cells do this by examining the repertoire of proteins expressed on the surfaces of cells. They have been trained to recognise the body’s own proteins as ‘self’, so if they notice a foreign protein, such as an antigen from the pathogen, they will mount an immune response against the cell carrying it.

One challenge of this approach is that people may previously have been exposed to the virus vector and raise an immune response against it, reducing the effectiveness of the vaccine. Such “anti-vector immunity” also makes delivering a second dose of the vaccine challenging, assuming this is needed, unless this second dose is delivered using a different virus vector.

COVID-19 Vaccine
COVID-19 Vaccine 2

Advantages after getting vaccine

The vaccine reduces your risk of infection.
Once you receive your first shot, your body begins producing antibodies to the coronavirus. These antibodies help your immune system fight the virus if you happen to be exposed, so it reduces your chance of getting the disease. There are three vaccines authorized for use in the United States, and they are all more than 70% effective in preventing infection. Learn more about effectiveness.
It’s true that you can still become infected after being vaccinated, but once more of the population is vaccinated, those chances are further reduced thanks to something called herd immunity. So, getting vaccinated not only reduces your chance of being infected, it also contributes to community protection, reducing the likelihood of virus transmission.

The vaccine can help your unborn baby or newborn.
A new study found that expectant mothers who receive the COVID-19 vaccine create antibodies to the virus and pass those to their unborn baby through the placenta. Mothers were also shown to pass antibodies to their newborns through breast milk. This suggests those newborns have some immunity to the virus, which is especially important as young children cannot get the vaccine. Learn more about vaccine considerations for pregnant and nursing women.

The vaccine protects against severe illness.
During studies, the three authorized vaccines have shown to be effective at preventing severe illness from COVID-19. So even if you were vaccinated and become infected, you are very unlikely to become severely ill. The clinical trials for the Pfizer-BioNTech and Moderna vaccines showed they were 100% effective at preventing severe illness. The Johnson & Johnson vaccine showed 85% effectiveness against severe illness.
Studies have shown vaccinated people who do get infected have mild to moderate cases of COVID-19 compared to those who aren’t vaccinated. So, your risk of hospitalization and death because of COVID-19 is nearly eliminated once you are fully vaccinated.

The vaccine (eventually) will help us ditch the masks.
The vaccine is the final step in our effort to get back to a more normal way of life. Public health measures such as mask wearing, physical distancing and hand-washing were implemented to slow the spread of the virus, and they have proven to work. We should continue with these precautions until enough people are immunized, especially the most vulnerable in our community.
However, these rules will not be in place forever. New evidence suggests that vaccinated people who might be infected with the coronavirus have fewer virus particles in their nose and mouth and are less likely to spread it to others. This finding is important as getting vaccinated now not only protects you, but also limits spreading the virus to loved ones and friends.
When enough people are protected through vaccination and prior infection, we can reach herd immunity, which means the spread of the virus becomes unlikely. At that time, masks and physical distancing might not be required any longer. But, for the time being, we need to continue to follow public health guidance.

You can attend small events in person
In April, the Centers for Disease Control and Prevention updated their guidance on small public gatherings. For fully vaccinated individuals, “small gatherings in a home or private setting with other fully vaccinated people” are safe.
However, large public events such as sporting events and concerts are still not recommended.

“For fully vaccinated people, it is safe to gather with other small groups without a mask inside a home or private setting, although medium and large gatherings are not recommended at this time, even if everyone is fully vaccinated,” said Rachael Lee, M.D., assistant professor in the UAB Division of Infectious Diseases.“Large public events can return, but only once 70 percent of the population is vaccinated,” Judd said. “Israel has vaccinated 80 percent of their adult population and has been able to start returning back to the ways things were before the pandemic.”

You can travel
A second benefit to getting vaccinated is fully vaccinated people can travel without quarantining, both domestically and internationally. “However, outside of the home setting, I recommend continuing to wear masks to prevent transmission of COVID-19, particularly given the rise of COVID variants of concern that may bypass our immune system,” Lee said.

You can reconnect with loved ones and co-workers
Another benefit to getting vaccinated is families could feel comfortable gathering again, sharing meals and enjoying each other’s company.“Grandparents may see grandchildren again, and people who have health concerns or are undergoing cancer therapy may be able to get out and see friends, which could really help to boost their mood,” Judd said.
With more indian being vaccinated every day, the reconnecting could be more than just family. Many companies are allowing their employees to return to the office, allowing co-workers to reconnect after many months.

You could see immediate health benefits
Receiving a COVID-19 vaccine can decrease the chances of catching COVID-19 by a remarkable percentage. Judd notes that getting a vaccine is much more likely to protect one’s health than masking or social distancing. “The clinical trial data has demonstrated the vaccines reduce the rate of COVID by 90 percent. That is huge,” Judd said. “Our best interventions to slow case transmission in 2020 were social interventions like masking and distancing, which resulted in only a 20 percent to 60 percent reduction in COVID, depending on where and how implemented.”
Stopping the spread of COVID means slowing mutations of the virus too. Every time the virus spreads to a new person, it has the chance to mutate. The vaccine gives us a much better chance at getting COVID case levels to a manageable level so we could see more places reopen and see the restrictions lessen. In addition to having a significantly lower risk of catching COVID, a vaccine could help reduce long-term symptoms if you have already had COVID-19. According to Judd, health professionals are hearing that some people with lingering COVID symptoms see easing of symptoms following vaccination.

Long-term benefits
Researchers have yet to determine what all the long-term consequences of COVID could be, even for those who had a mild case and were not hospitalized. Judd observes that previous infectious diseases caused health problems after many years. “A good example of this is chicken pox,” Judd said. “Many of us in our 40s and beyond had chicken pox, while our children were given the varicella vaccine. Those of us who had chicken pox are at risk of shingles, while those who had the vaccine seem to be at lower risk for shingles. “Even though we lived through chicken pox with only a few scars, there are long-term consequences to the infection in terms of risk of shingles,” she said. “The same may be true for COVID. Given that we have no idea what future risks may occur from having had a COVID infection, that is a huge risk for an individual to take with their health.”

COVID-19 Vaccines

Side Effects of COVID-19 Vaccines

COVID-19 vaccines are safe, and getting vaccinated will help protect you against developing severe COVID-19 disease and dying from COVID-19. You may experience some mild side effects after getting vaccinated, which are signs that your body is building protection.

Why it’s normal to have mild side effects from vaccines
Vaccines are designed to give you immunity without the dangers of getting the disease. It’s common to experience some mild-to-moderate side effects when receiving vaccinations. This is because your immune system is instructing your body to react in certain ways: it increases blood flow so more immune cells can circulate, and it raises your body temperature in order to kill the virus.
Mild-to-moderate side effects, like a low-grade fever or muscle aches, are normal and not a cause for alarm: they are signs that the body’s immune system is responding to the vaccine, specifically the antigen (a substance that triggers an immune response), and is gearing up to fight the virus. These side effects usually go away on their own after a few days.
Common and mild or moderate side effects are a good thing: they show us that the vaccine is working. Experiencing no side effects doesn’t mean the vaccine is ineffective. It means everybody responds differently.

Common side effects of COVID-19 vaccines
Like any vaccine, COVID-19 vaccines can cause side effects, most of which are mild or moderate and go away within a few days on their own. As shown in the results of clinical trials, more serious or long-lasting side effects are possible. Vaccines are continually monitored to detect adverse events.
Reported side effects of COVID-19 vaccines have mostly been mild to moderate and have lasted no longer thana few days. Typical side effects include pain at the injection site, fever, fatigue, headache, muscle pain, chills and diarrhoea. The chances of any of these side effects occurring after vaccination differ according to the specific vaccine.COVID-19 vaccines protect against the SARS-CoV-2 virus only, so it’s still important to keep yourself healthy and well.

Less common side effects
Upon receiving the vaccine, a person should be requested to stay for 15–30 minutes at the vaccination site so health workers are available in case of any immediate reactions. Individuals should alert their local health providers following vaccination if they experience any unexpected side effects or other health events – such as side effects lasting more than three days. Less common side effects reported for some COVID-19 vaccines have included severe allergic reactions such as anaphylaxis; however, this reaction is extremely rare.

Long-term side effects
Side effects usually occur within the first few days of getting a vaccine. Since the first mass vaccination programme started in early December 2020, hundreds of millions of vaccine doses have been administered.There have been concerns about COVID-19 vaccines making people sick with COVID-19. But none of the approved vaccines contain the live virus that causes COVID-19, which means that COVID-19 vaccines cannot make you sick with COVID-19.
After vaccination, it usually takes a few weeks for the body to build immunity against SARS-CoV-2, the virus that causes COVID-19. So it’s possible a person could be infected with SARS-CoV-2 just before or after vaccination and still get sick with COVID-19. This is because the vaccine has not yet had enough time to provide protection.Experiencing side effects after getting vaccinated means the vaccine is working and your immune system is responding as it should. Vaccines are safe, and getting vaccinated will help protect you against COVID-19.

How long do side effects last?
Adverse effects of COVID-19 vaccines should only last for a few daysTrusted Source. If they last longer, contact a doctor.Some side effects, such as a fever, chills, and fatigue, are also symptoms of COVID-19. It is possible to get a SARS-CoV-2 infection right before or after receiving the vaccine — before the body has a chance to produce the right antibodies and build up immunity. Also, while the vaccines are very effective, they do not guarantee 100% protection against the virus.
It is important to keep in mind that no vaccine can cause COVID-19 because none contains the entire SARS-CoV-2 virus. Anyone who develops COVID-19 after receiving the vaccine was likely exposed to the virus before they could build up enough immunity.If side effects that resemble COVID-19 symptoms persist, take a COVID-19 test and follow local guidelines about self-isolation.

COVID-19 India

Treatment after getting vaccinated

Over-the-counter treatments
Anyone concerned about the side effects of vaccination might wonder they should take an over-the-counter medication before getting the vaccine, to ward off any side effects before they occur.However, the Centers for Disease Control and Prevention (CDC)Trusted Source do not recommend it. While taking steps to prevent symptoms of other health issues is a good idea, that is not the case here.It is best to wait and see whether any side effects arise, then treat these individually, as opposed to guessing and taking several over-the-counter products ahead of time.
A person should visit their local pharmacist before taking any over-the-counter medications to ease side effects of the vaccine. Because a pharmacist is aware of a person’s medications and medical history, they have a good understanding of any interactions that may occur.
But what if a person is unable to contact their pharmacist and needs immediate relief from muscle aches, injection site pain, a fever, or a combination of these issues? In this case, the following may help:
ibuprofen (Advil)
acetaminophen or paracetamol (Tylenol)
aspirin

Home remedies
For anyone who prefers not to take over-the-counter medications or is looking for additional treatments, several self-care techniques can help ease any COVID-19 vaccination side effects.For reactions at the injection site, such as pain or swelling, use a clean, cool wet washcloth to create a compress. This might also help with muscle and joint aches.To ease soreness or stiffness in the arm, move it as much as possible. This may seem counterintuitive and cause a little discomfort, but it helps prevent further stiffness by loosening up sore muscles.

COVID-19

Related topics:

1. What is bronchitis and how it's treatable ?

Bronchitis and its remedies

2. How harmfull is diverticulitis ?

Diverticulitis symptoms and treatment

3. Know more about boosting immunity

How to boost immunity




The above essentials are available with AFD SHIELD.
AFD Shield capsule is a combination of 12 natural ingredients among which are Algal DHA, Ashwagandha, Curcumin and Spirullina. AFD Shield reduces TG, increases HDL and improves age related cognitive decline. It also reduces stress and anxiety and performs anti-aging activity.Moreover, it also enhances the immunomodulatory activity, improves immunity and reduces inflammation and oxidative stress. Nutralogicx: AFD SHIELD

आप सभी को COVID-19 वैक्सीन के बारे में जानना आवश्यक है

COVID-19

क्या होगा यदि आप गलत हो सकते हैं?

प्रतिरक्षा प्रणाली-संक्रमण के खिलाफ शरीर की रक्षा
यह समझने के लिए कि COVID-19 टीके कैसे काम करते हैं, यह सबसे पहले यह देखने में मदद करता है कि हमारा शरीर बीमारी से कैसे लड़ता है। जब रोगाणु, जैसे कि वायरस जो COVID-19 का कारण बनते हैं, हमारे शरीर पर आक्रमण करते हैं, तो वे हमला करते हैं और गुणा करते हैं। यह आक्रमण, जिसे संक्रमण कहा जाता है, वही बीमारी का कारण बनता है। हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली संक्रमण से लड़ने के लिए कई उपकरणों का उपयोग करती है। रक्त में लाल कोशिकाएं होती हैं, जो ऊतकों और अंगों तक ऑक्सीजन ले जाती हैं, और सफेद या प्रतिरक्षा कोशिकाएं, जो संक्रमण से लड़ती हैं। विभिन्न प्रकार की श्वेत रक्त कोशिकाएं अलग-अलग तरीकों से संक्रमण से लड़ती हैं:
मैक्रोफेज श्वेत रक्त कोशिकाएं होती हैं जो कीटाणुओं और मृत या मरने वाली कोशिकाओं को निगलती और पचाती हैं। मैक्रोफेज हमलावर कीटाणुओं के कुछ हिस्सों को पीछे छोड़ देते हैं, जिन्हें "एंटीजन" कहा जाता है। शरीर एंटीजन को खतरनाक के रूप में पहचानता है और उन पर हमला करने के लिए एंटीबॉडी को उत्तेजित करता है।
बी-लिम्फोसाइट्स रक्षात्मक श्वेत रक्त कोशिकाएं हैं। वे एंटीबॉडी का उत्पादन करते हैं जो मैक्रोफेज द्वारा पीछे छोड़े गए वायरस के टुकड़ों पर हमला करते हैं।
टी-लिम्फोसाइट्स एक अन्य प्रकार की रक्षात्मक श्वेत रक्त कोशिका हैं। वे शरीर में उन कोशिकाओं पर हमला करते हैं जो पहले ही संक्रमित हो चुकी हैं।
पहली बार जब कोई व्यक्ति उस वायरस से संक्रमित होता है जो COVID-19 का कारण बनता है, तो उसके शरीर को संक्रमण से उबरने के लिए आवश्यक सभी रोगाणु-विरोधी उपकरणों को बनाने और उपयोग करने में कई दिन या सप्ताह लग सकते हैं। संक्रमण के बाद, व्यक्ति की प्रतिरक्षा प्रणाली को याद रहता है कि उसने शरीर को उस बीमारी से कैसे बचाया जाए, इसके बारे में क्या सीखा।

शरीर कुछ टी-लिम्फोसाइट्स रखता है, जिन्हें "मेमोरी सेल्स" कहा जाता है, जो शरीर में फिर से उसी वायरस का सामना करने पर जल्दी से काम करते हैं। जब परिचित एंटीजन का पता लगाया जाता है, तो बी-लिम्फोसाइट्स उन पर हमला करने के लिए एंटीबॉडी का उत्पादन करते हैं। विशेषज्ञ अभी भी सीख रहे हैं कि ये मेमोरी सेल कितने समय तक किसी व्यक्ति को उस वायरस से बचाते हैं जो COVID-19 का कारण बनता है।

COVID-19 टीके कैसे काम करते हैं
COVID-19 टीके हमारे शरीर को उस वायरस के प्रति प्रतिरोधक क्षमता विकसित करने में मदद करते हैं जो हमें बीमारी के बिना COVID-19 का कारण बनता है।

COVID वैक्सीन
विभिन्न प्रकार के टीके सुरक्षा प्रदान करने के लिए अलग-अलग तरीकों से काम करते हैं। लेकिन सभी प्रकार के टीकों के साथ, शरीर को "मेमोरी" टी-लिम्फोसाइट्स के साथ-साथ बी-लिम्फोसाइट्स की आपूर्ति के साथ छोड़ दिया जाता है जो याद रखेगा कि भविष्य में उस वायरस से कैसे लड़ना है।
टी-लिम्फोसाइट्स और बी-लिम्फोसाइट्स का उत्पादन करने के लिए शरीर को टीकाकरण के बाद आमतौर पर कुछ सप्ताह लगते हैं। इसलिए, यह संभव है कि कोई व्यक्ति उस वायरस से संक्रमित हो सकता है जो टीकाकरण के ठीक पहले या बाद में COVID-19 का कारण बनता है और फिर बीमार हो जाता है क्योंकि वैक्सीन के पास सुरक्षा प्रदान करने के लिए पर्याप्त समय नहीं था।

कभी-कभी टीकाकरण के बाद, प्रतिरक्षा के निर्माण की प्रक्रिया बुखार जैसे लक्षण पैदा कर सकती है। ये लक्षण सामान्य हैं और संकेत हैं कि शरीर प्रतिरक्षा का निर्माण कर रहा है।
अपना टीका लगवाने के बारे में और जानें।

टीकों के प्रकार
वर्तमान में, तीन मुख्य प्रकार के COVID-19 टीके हैं जो अधिकृत और अनुशंसित हैं या संयुक्त राज्य अमेरिका में बड़े पैमाने पर (चरण 3) नैदानिक ​​परीक्षणों से गुजर रहे हैं।
नीचे इस बात का विवरण दिया गया है कि कैसे प्रत्येक प्रकार का टीका हमारे शरीर को उस वायरस को पहचानने और उससे बचाने के लिए प्रेरित करता है जो COVID-19 का कारण बनता है। इनमें से कोई भी टीका आपको COVID-19 नहीं दे सकता है।

एम-आरएनए टीके
एम-आरएनए वैक्सीन में वायरस से सामग्री होती है जो COVID-19 का कारण बनती है जो हमारी कोशिकाओं को निर्देश देती है कि कैसे एक हानिरहित प्रोटीन बनाया जाए जो वायरस के लिए अद्वितीय हो। हमारी कोशिकाएं प्रोटीन की प्रतियां बनाने के बाद, टीके से आनुवंशिक सामग्री को नष्ट कर देती हैं। हमारा शरीर मानता है कि प्रोटीन नहीं होना चाहिए और टी-लिम्फोसाइट्स और बी-लिम्फोसाइट्स का निर्माण करना चाहिए जो याद रखेंगे कि भविष्य में संक्रमित होने पर COVID-19 का कारण बनने वाले वायरस से कैसे लड़ना है।
टीके कई लाख बीमारियों को रोकते हैं और हर साल कई लोगों की जान बचाते हैं। व्यापक टीके के उपयोग के परिणामस्वरूप, चेचक के वायरस को पूरी तरह से समाप्त कर दिया गया है और दुनिया भर में पोलियो, खसरा और अन्य बचपन की बीमारियों की घटनाओं में भारी कमी आई है। पारंपरिक टीके दृष्टिकोण, जैसे जीवित क्षीण और निष्क्रिय रोगजनक और सबयूनिट टीके, विभिन्न प्रकार की खतरनाक बीमारियों के खिलाफ टिकाऊ सुरक्षा प्रदान करते हैं। इस सफलता के बावजूद, विभिन्न प्रकार के संक्रामक रोगजनकों के खिलाफ टीके के विकास में बड़ी बाधाएँ बनी हुई हैं, विशेष रूप से वे जो अनुकूली प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया से बचने में सक्षम हैं। इसके अलावा, अधिकांश उभरते वायरस टीकों के लिए, मुख्य बाधा पारंपरिक दृष्टिकोणों की प्रभावशीलता नहीं है, बल्कि अधिक तेजी से विकास और बड़े पैमाने पर तैनाती की आवश्यकता है। आखिरकार, पारंपरिक वैक्सीन दृष्टिकोण गैर-संक्रामक रोगों, जैसे कि कैंसर पर लागू नहीं हो सकते हैं। इसलिए अधिक शक्तिशाली और बहुमुखी वैक्सीन प्लेटफार्मों के विकास की तत्काल आवश्यकता है।
न्यूक्लिक एसिड थैरेप्यूटिक्स पारंपरिक वैक्सीन दृष्टिकोणों के आशाजनक विकल्प के रूप में उभरा है। जानवरों में इन विट्रो ट्रांसक्राइब्ड (आईवीटी) एमआरएनए के सफल उपयोग की पहली रिपोर्ट 1990 में प्रकाशित हुई थी, जब रिपोर्टर जीन एमआरएनए को चूहों में इंजेक्ट किया गया था और प्रोटीन उत्पादन का पता चला था। 1992 में एक बाद के अध्ययन ने प्रदर्शित किया कि हाइपोथैलेमस में वैसोप्रेसिन-एन्कोडिंग mRNA का प्रशासन चूहों में एक शारीरिक प्रतिक्रिया प्राप्त कर सकता है। हालांकि, इन शुरुआती आशाजनक परिणामों ने एमआरएनए चिकित्सा विज्ञान के विकास में पर्याप्त निवेश नहीं किया, मुख्य रूप से एमआरएनए अस्थिरता, उच्च जन्मजात इम्युनोजेनेसिटी और विवो डिलीवरी में अक्षम से जुड़ी चिंताओं के कारण। इसके बजाय, क्षेत्र ने डीएनए-आधारित और प्रोटीन-आधारित चिकित्सीय दृष्टिकोण का अनुसरण किया।
पिछले एक दशक में, प्रमुख तकनीकी नवाचार और अनुसंधान निवेश ने mRNA को वैक्सीन विकास और प्रोटीन रिप्लेसमेंट थेरेपी के क्षेत्र में एक आशाजनक चिकित्सीय उपकरण बनने में सक्षम बनाया है। एमआरएनए के उपयोग में सबयूनिट, मृत और जीवित क्षीणित वायरस, साथ ही डीएनए-आधारित टीकों पर कई लाभकारी विशेषताएं हैं। सबसे पहले, सुरक्षा: चूंकि एमआरएनए एक गैर-संक्रामक, गैर-एकीकृत मंच है, इसलिए संक्रमण या सम्मिलन उत्परिवर्तन का कोई संभावित जोखिम नहीं है। इसके अतिरिक्त, एमआरएनए सामान्य सेलुलर प्रक्रियाओं द्वारा अपमानित होता है, और इसके विवो अर्ध-जीवन में विभिन्न संशोधनों और वितरण विधियों ९,१०,११,१२ के उपयोग के माध्यम से विनियमित किया जा सकता है । सुरक्षा प्रोफाइल को और बढ़ाने के लिए एमआरएनए की अंतर्निहित इम्युनोजेनेसिटी को डाउन-मॉड्यूल किया जा सकता है9,12,13। दूसरा, प्रभावकारिता: विभिन्न संशोधन एमआरएनए को अधिक स्थिर और अत्यधिक अनुवाद योग्य ९,१२,१३ बनाते हैं। विवो डिलीवरी में कुशल वाहक अणुओं में एमआरएनए तैयार करके प्राप्त किया जा सकता है, जिससे साइटोप्लाज्म में तेजी से तेज और अभिव्यक्ति की अनुमति मिलती है (रेफरी 10,11 में समीक्षा की गई)। एमआरएनए न्यूनतम आनुवंशिक वेक्टर है; इसलिए, एंटी-वेक्टर प्रतिरक्षा से बचा जाता है, और एमआरएनए टीके बार-बार प्रशासित किए जा सकते हैं। तीसरा, उत्पादन: एमआरएनए टीकों में तेजी से, सस्ती और स्केलेबल निर्माण की क्षमता है, मुख्य रूप से इन विट्रो ट्रांसक्रिप्शन प्रतिक्रियाओं की उच्च पैदावार के कारण।

एमआरएनए वैक्सीन क्षेत्र बहुत तेजी से विकसित हो रहा है; पिछले कई वर्षों में प्रीक्लिनिकल डेटा का एक बड़ा हिस्सा जमा हुआ है, और कई मानव नैदानिक ​​परीक्षण शुरू किए गए हैं। इस समीक्षा में, हम वर्तमान mRNA वैक्सीन दृष्टिकोणों पर चर्चा करते हैं, नवीनतम निष्कर्षों को संक्षेप में प्रस्तुत करते हैं, चुनौतियों और हाल की सफलताओं पर प्रकाश डालते हैं, और mRNA टीकों के भविष्य पर दृष्टिकोण प्रस्तुत करते हैं। आंकड़े बताते हैं कि एमआरएनए टीकों में संक्रामक रोगों और कैंसर दोनों के लिए टीके के विकास में कई चुनौतियों का समाधान करने की क्षमता है।

बेसिक एमआरएनए वैक्सीन फार्माकोलॉजी
mRNA प्रोटीन-एन्कोडिंग डीएनए के अनुवाद और साइटोप्लाज्म में राइबोसोम द्वारा प्रोटीन के उत्पादन के बीच का मध्यवर्ती चरण है। आरएनए के दो प्रमुख प्रकारों का वर्तमान में टीकों के रूप में अध्ययन किया जाता है: गैर-प्रतिकृति एमआरएनए और वायरल रूप से व्युत्पन्न, स्व-प्रवर्धक आरएनए। पारंपरिक एमआरएनए-आधारित टीके ब्याज के प्रतिजन को सांकेतिक शब्दों में बदलते हैं और इसमें 5′ और 3′ अनट्रांसलेटेड क्षेत्र (यूटीआर) होते हैं, जबकि स्व-प्रवर्धक आरएनए न केवल एंटीजन को बल्कि वायरल प्रतिकृति मशीनरी को भी एनकोड करते हैं जो इंट्रासेल्युलर आरएनए प्रवर्धन और प्रचुर मात्रा में प्रोटीन अभिव्यक्ति को सक्षम बनाता है।
चिकित्सीय उपयोग के लिए उपयुक्त रूप से अनुवादित आईवीटी एमआरएनए के निर्माण की समीक्षा पहले १४,१५ की गई है। संक्षेप में, IVT mRNA एक T7, एक T3 या एक Sp6 फेज RNA पोलीमरेज़ का उपयोग करके एक रैखिक डीएनए टेम्पलेट से निर्मित होता है। परिणामी उत्पाद में बेहतर रूप से एक खुला पठन फ्रेम होना चाहिए जो ब्याज की प्रोटीन, फ़्लैंकिंग यूटीआर, एक 5′ कैप और एक पॉली (ए) पूंछ को एन्कोड करता है। इस प्रकार एमआरएनए पूरी तरह से संसाधित परिपक्व एमआरएनए अणुओं के समान होता है क्योंकि वे यूकेरियोटिक कोशिकाओं के कोशिका द्रव्य में स्वाभाविक रूप से होते हैं।

विवो डिलीवरी के लिए mRNA का कॉम्प्लेक्सिंग भी हाल ही में विस्तृत १०,११ किया गया है। नग्न mRNA को बाह्य कोशिकीय RNases द्वारा जल्दी से नीचा दिखाया जाता है और कुशलता से आंतरिक नहीं किया जाता है। इस प्रकार, इन विट्रो और इन विवो ट्रांसफेक्शन अभिकर्मकों की एक महान विविधता विकसित की गई है जो एमआरएनए के सेलुलर उत्थान की सुविधा प्रदान करती है और इसे गिरावट से बचाती है। एक बार जब एमआरएनए साइटोसोल में स्थानांतरित हो जाता है, तो सेलुलर अनुवाद मशीनरी प्रोटीन का उत्पादन करती है जो पोस्ट-ट्रांसलेशनल संशोधनों से गुजरती है, जिसके परिणामस्वरूप एक अच्छी तरह से मुड़ा हुआ, पूरी तरह कार्यात्मक प्रोटीन होता है। एमआरएनए फार्माकोलॉजी की यह विशेषता टीकों और प्रोटीन प्रतिस्थापन उपचारों के लिए विशेष रूप से फायदेमंद है जिसके लिए साइटोसोलिक या ट्रांसमेम्ब्रेन प्रोटीन को उचित प्रस्तुति या कार्य के लिए सही सेलुलर डिब्बों में वितरित करने की आवश्यकता होती है। आईवीटी एमआरएनए अंतत: सामान्य शारीरिक प्रक्रियाओं द्वारा अवक्रमित हो जाता है,

प्रोटीन सबयूनिट टीके
प्रोटीन सबयूनिट टीकों में वायरस के हानिरहित टुकड़े (प्रोटीन) शामिल होते हैं जो पूरे रोगाणु के बजाय COVID-19 का कारण बनते हैं। एक बार टीका लग जाने के बाद, हमारे शरीर यह मानते हैं कि प्रोटीन नहीं होना चाहिए और टी-लिम्फोसाइट्स और एंटीबॉडी का निर्माण करना चाहिए जो याद रखेंगे कि भविष्य में संक्रमित होने पर COVID-19 का कारण बनने वाले वायरस से कैसे लड़ना है।
एक प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को ट्रिगर करने के लिए एक पूरे रोगज़नक़ को इंजेक्ट करने के बजाय, सबयूनिट टीकों (कभी-कभी अकोशिकीय टीके कहा जाता है) में इसके शुद्ध टुकड़े होते हैं, जिन्हें विशेष रूप से प्रतिरक्षा कोशिकाओं को उत्तेजित करने की उनकी क्षमता के लिए चुना गया है। चूंकि ये टुकड़े बीमारी पैदा करने में असमर्थ हैं, इसलिए सबयूनिट टीके बहुत सुरक्षित माने जाते हैं। कई प्रकार हैं: प्रोटीन सबयूनिट टीकों में वायरल या बैक्टीरियल रोगजनकों से विशिष्ट पृथक प्रोटीन होते हैं; पॉलीसेकेराइड टीकों में कुछ जीवाणुओं की कोशिका भित्ति में पाए जाने वाले चीनी अणुओं (पॉलीसेकेराइड्स) की श्रृंखलाएँ होती हैं; संयुग्मित सबयूनिट टीके एक पॉलीसेकेराइड श्रृंखला को एक वाहक प्रोटीन से बांधते हैं और प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को बढ़ावा देने के लिए प्रयास करते हैं। COVID-19 का कारण बनने वाले वायरस के खिलाफ केवल प्रोटीन सबयूनिट टीके विकसित किए जा रहे हैं।
अन्य सबयूनिट टीके पहले से ही व्यापक उपयोग में हैं। उदाहरणों में हेपेटाइटिस बी और अकोशिकीय पर्टुसिस टीके (प्रोटीन सबयूनिट), न्यूमोकोकल पॉलीसेकेराइड वैक्सीन (पॉलीसेकेराइड), और मेनएसीडब्ल्यूवाई वैक्सीन शामिल हैं, जिसमें चार प्रकार के बैक्टीरिया की सतह से पॉलीसेकेराइड होते हैं जो मेनिंगोकोकल रोग को डिप्थीरिया या टेटनस टॉक्सोइड में शामिल करते हैं। संयुग्म सबयूनिट)।

प्रोटीन सबयूनिट वैक्सीन के फायदे और नुकसान
अच्छी तरह से स्थापित तकनीक
समझौता प्रतिरक्षा प्रणाली वाले लोगों के लिए उपयुक्त
कोई जीवित घटक नहीं है, इसलिए वैक्सीन ट्रिगर रोग का कोई जोखिम नहीं है
अपेक्षाकृत स्थिर
निर्माण के लिए अपेक्षाकृत जटिल सहायक और बूस्टर शॉट्स की आवश्यकता हो सकती है
सबसे अच्छा एंटीजन संयोजन निर्धारित करने में समय लगता है

सबयूनिट टीके प्रतिरक्षा को कैसे ट्रिगर करते हैं?
सबयूनिट टीकों में रोगज़नक़ से प्रोटीन और/या पॉलीसेकेराइड के टुकड़े होते हैं, जिनका सावधानीपूर्वक अध्ययन किया गया है ताकि यह पता लगाया जा सके कि इन अणुओं के कौन से संयोजन एक मजबूत और प्रभावी प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया उत्पन्न करने की संभावना रखते हैं। इस तरह से रोगज़नक़ तक प्रतिरक्षा प्रणाली की पहुंच को प्रतिबंधित करके, साइड इफेक्ट के जोखिम को कम किया जाता है। इस तरह के टीके अपेक्षाकृत सस्ते और उत्पादन में आसान होते हैं, और पूरे वायरस या बैक्टीरिया वाले टीकों की तुलना में अधिक स्थिर होते हैं।
इस सटीकता का एक नकारात्मक पहलू यह है कि एक प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया प्राप्त करने के लिए उपयोग किए जाने वाले एंटीजन में आणविक संरचनाओं की कमी हो सकती है जिन्हें रोगज़नक़ से जुड़े आणविक पैटर्न कहा जाता है जो रोगज़नक़ों के एक वर्ग के लिए सामान्य हैं। इन संरचनाओं को प्रतिरक्षा कोशिकाओं द्वारा पढ़ा जा सकता है और खतरे के संकेतों के रूप में पहचाना जा सकता है, इसलिए उनकी अनुपस्थिति के परिणामस्वरूप कमजोर प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया हो सकती है। इसके अलावा, क्योंकि एंटीजन कोशिकाओं को संक्रमित नहीं करते हैं, सबयूनिट टीके मुख्य रूप से केवल एंटीबॉडी-मध्यस्थता प्रतिरक्षा प्रतिक्रियाओं को ट्रिगर करते हैं। फिर, इसका मतलब है कि अन्य प्रकार के टीकों की तुलना में प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया कमजोर हो सकती है। इस समस्या को दूर करने के लिए, कभी-कभी सहायक (प्रतिरक्षा प्रणाली को उत्तेजित करने वाले एजेंट) के साथ सबयूनिट टीके दिए जाते हैं और बूस्टर खुराक की आवश्यकता हो सकती है।

वेक्टर टीके
वेक्टर टीकों में COVID-19 पैदा करने वाले वायरस से भिन्न वायरस का संशोधित संस्करण होता है। संशोधित वायरस के खोल के अंदर, वायरस से सामग्री होती है जो COVID-19 का कारण बनती है। इसे "वायरल वेक्टर" कहा जाता है। एक बार जब वायरल वेक्टर हमारी कोशिकाओं के अंदर होता है, तो आनुवंशिक सामग्री कोशिकाओं को एक प्रोटीन बनाने के निर्देश देती है जो उस वायरस के लिए अद्वितीय है जो COVID-19 का कारण बनता है। इन निर्देशों का उपयोग करते हुए, हमारी कोशिकाएं प्रोटीन की प्रतियां बनाती हैं। यह हमारे शरीर को टी-लिम्फोसाइट्स और बी-लिम्फोसाइट्स बनाने के लिए प्रेरित करता है जो याद रखेगा कि भविष्य में संक्रमित होने पर उस वायरस से कैसे लड़ना है।
वायरल वेक्टर-आधारित टीके अधिकांश पारंपरिक टीकों से इस मायने में भिन्न होते हैं कि उनमें वास्तव में एंटीजन नहीं होते हैं, बल्कि उनका उत्पादन करने के लिए शरीर की अपनी कोशिकाओं का उपयोग करते हैं। वे मानव कोशिकाओं में वायरस की सतह पर पाए जाने वाले COVID-19 स्पाइक प्रोटीन के मामले में एंटीजन के लिए आनुवंशिक कोड देने के लिए एक संशोधित वायरस (वेक्टर) का उपयोग करके ऐसा करते हैं। कोशिकाओं को संक्रमित करने और उन्हें बड़ी मात्रा में एंटीजन बनाने का निर्देश देकर, जो तब एक प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को ट्रिगर करता है, वैक्सीन कुछ रोगजनकों - विशेष रूप से वायरस के साथ प्राकृतिक संक्रमण के दौरान क्या होता है, की नकल करता है। इसका टी कोशिकाओं द्वारा एक मजबूत सेलुलर प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया के साथ-साथ बी कोशिकाओं द्वारा एंटीबॉडी के उत्पादन को ट्रिगर करने का लाभ है। वायरल वेक्टर वैक्सीन का एक उदाहरण इबोला के खिलाफ rVSV-ZEBOV वैक्सीन है।

वायरल वेक्टर-आधारित टीकों के लाभ और नुकसान
अच्छी तरह से स्थापित तकनीक
मजबूत प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया
प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया में बी कोशिकाएं और टी कोशिकाएं शामिल हैं
वेक्टर के लिए पिछला एक्सपोजर प्रभावशीलता को कम कर सकता
है निर्माण करने के लिए अपेक्षाकृत जटिल ऐसे

टीके ट्रिगर प्रतिरक्षा कैसे करते हैं?
वायरस अपने मेजबान की कोशिकाओं पर आक्रमण करके और उनकी प्रोटीन बनाने वाली मशीनरी को अपहरण करके जीवित रहते हैं और दोहराते हैं, इसलिए यह वायरस के आनुवंशिक कोड को पढ़ता है और नए वायरस बनाता है। इन वायरस कणों में एंटीजन, अणु होते हैं जो प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को गति प्रदान कर सकते हैं। एक समान सिद्धांत वायरल वेक्टर टीकों को रेखांकित करता है - केवल इस मामले में, मेजबान कोशिकाओं को केवल एंटीजन बनाने के लिए कोड प्राप्त होता है। वायरल वेक्टर एक डिलीवरी सिस्टम के रूप में कार्य करता है, जो सेल पर आक्रमण करने के लिए एक साधन प्रदान करता है और एक अलग वायरस एंटीजन (जिस रोगज़नक़ के खिलाफ आप टीकाकरण करने की कोशिश कर रहे हैं) के लिए कोड सम्मिलित करते हैं। वायरस स्वयं हानिरहित है, और केवल एंटीजन का उत्पादन करने के लिए कोशिकाओं को प्राप्त करके शरीर रोग विकसित किए बिना, सुरक्षित रूप से एक प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को माउंट कर सकता है।

विभिन्न वायरस वैक्टर के रूप में विकसित किए गए हैं, जिनमें एडेनोवायरस (सामान्य सर्दी का एक कारण), खसरा वायरस और वैक्सीनिया वायरस शामिल हैं। ये वैक्टर किसी भी बीमारी पैदा करने वाले जीन और कभी-कभी ऐसे जीन भी छीन लेते हैं जो उन्हें दोहराने में सक्षम बनाते हैं, जिसका अर्थ है कि वे अब हानिरहित हैं। लक्ष्य रोगज़नक़ से प्रतिजन बनाने के आनुवंशिक निर्देश वायरस वेक्टर के जीनोम में सिले जाते हैं।

वायरल वेक्टर-आधारित टीके दो मुख्य प्रकार के होते हैं। गैर-प्रतिकृति वेक्टर टीके नए वायरल कण बनाने में असमर्थ हैं; वे केवल वैक्सीन एंटीजन का उत्पादन करते हैं। वेक्टर टीकों की प्रतिकृति बनाने से वे संक्रमित कोशिकाओं में नए वायरल कण भी पैदा करते हैं, जो फिर नई कोशिकाओं को संक्रमित करते हैं जो वैक्सीन एंटीजन भी बनाएंगे। विकास के तहत COVID-19 वायरल वेक्टर टीके गैर-प्रतिकृति वायरल वैक्टर का उपयोग करते हैं।

एक बार शरीर में इंजेक्ट होने के बाद, ये वैक्सीन वायरस हमारी कोशिकाओं को संक्रमित करना शुरू कर देते हैं और अपनी आनुवंशिक सामग्री - एंटीजन जीन सहित - को कोशिकाओं के नाभिक में सम्मिलित करते हैं। मानव कोशिकाएं एंटीजन का निर्माण करती हैं जैसे कि यह उनके स्वयं के प्रोटीन में से एक हो और यह कई अन्य प्रोटीनों के साथ उनकी सतह पर प्रस्तुत किया जाता है। जब प्रतिरक्षा कोशिकाएं विदेशी प्रतिजन का पता लगाती हैं, तो वे इसके खिलाफ प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को माउंट करती हैं।

इस प्रतिक्रिया में एंटीबॉडी-उत्पादक बी कोशिकाएं, साथ ही टी कोशिकाएं शामिल हैं, जो संक्रमित कोशिकाओं की तलाश करती हैं और उन्हें नष्ट कर देती हैं। टी कोशिकाएं कोशिकाओं की सतहों पर व्यक्त प्रोटीन के प्रदर्शनों की सूची की जांच करके ऐसा करती हैं। उन्हें शरीर के अपने प्रोटीन को 'स्व' के रूप में पहचानने के लिए प्रशिक्षित किया गया है, इसलिए यदि वे एक विदेशी प्रोटीन को देखते हैं, जैसे कि रोगज़नक़ से एंटीजन, तो वे इसे ले जाने वाली कोशिका के खिलाफ एक प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को माउंट करेंगे।

इस दृष्टिकोण की एक चुनौती यह है कि लोग पहले वायरस वेक्टर के संपर्क में आ सकते हैं और इसके खिलाफ प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया बढ़ा सकते हैं, जिससे टीके की प्रभावशीलता कम हो सकती है। इस तरह की "एंटी-वेक्टर इम्युनिटी" भी वैक्सीन की दूसरी खुराक देने को चुनौतीपूर्ण बना देती है, यह मानते हुए कि इसकी आवश्यकता है, जब तक कि यह दूसरी खुराक एक अलग वायरस वेक्टर का उपयोग करके नहीं दी जाती है।

COVID-19 Vaccine
COVID-19 Vaccine 2

टीका लगवाने के बाद लाभ

टीका आपके संक्रमण के जोखिम को कम करता है।
एक बार जब आप अपना पहला शॉट प्राप्त कर लेते हैं, तो आपका शरीर कोरोनावायरस के प्रति एंटीबॉडी का उत्पादन शुरू कर देता है। ये एंटीबॉडी आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को वायरस से लड़ने में मदद करते हैं यदि आप इसके संपर्क में आते हैं, तो इससे आपके रोग होने की संभावना कम हो जाती है। संयुक्त राज्य अमेरिका में उपयोग के लिए अधिकृत तीन टीके हैं, और ये सभी संक्रमण को रोकने में 70% से अधिक प्रभावी हैं। प्रभावशीलता के बारे में अधिक जानें।
यह सच है कि टीकाकरण के बाद भी आप संक्रमित हो सकते हैं, लेकिन एक बार जब अधिक आबादी को टीका लगाया जाता है, तो झुंड प्रतिरक्षा नामक किसी चीज के कारण उन संभावनाओं को और कम कर दिया जाता है। इसलिए, टीका लगवाने से न केवल आपके संक्रमित होने की संभावना कम हो जाती है, बल्कि यह सामुदायिक सुरक्षा में भी योगदान देता है, जिससे वायरस संचरण की संभावना कम हो जाती है।

टीका आपके अजन्मे बच्चे या नवजात शिशु की मदद कर सकता है।
एक नए अध्ययन में पाया गया कि COVID-19 वैक्सीन प्राप्त करने वाली गर्भवती माताएं वायरस के लिए एंटीबॉडी बनाती हैं और प्लेसेंटा के माध्यम से अपने अजन्मे बच्चे को पास करती हैं। माताओं को अपने नवजात शिशुओं को स्तन के दूध के माध्यम से एंटीबॉडी पारित करने के लिए भी दिखाया गया था। इससे पता चलता है कि उन नवजात शिशुओं में वायरस के प्रति कुछ प्रतिरोधक क्षमता होती है, जो विशेष रूप से महत्वपूर्ण है क्योंकि छोटे बच्चों को टीका नहीं मिल सकता है। गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं के लिए टीकों के बारे में अधिक जानें।

टीका गंभीर बीमारी से बचाता है।
अध्ययनों के दौरान, तीन अधिकृत टीके COVID-19 से गंभीर बीमारी को रोकने में कारगर साबित हुए हैं। इसलिए भले ही आपको टीका लगाया गया हो और आप संक्रमित हो गए हों, आपके गंभीर रूप से बीमार होने की संभावना बहुत कम है। फाइजर-बायोएनटेक और मॉडर्न टीके के नैदानिक ​​परीक्षणों से पता चला है कि वे गंभीर बीमारी को रोकने में 100% प्रभावी थे। जॉनसन एंड जॉनसन के टीके ने गंभीर बीमारी के खिलाफ 85% प्रभावशीलता दिखाई।
अध्ययनों से पता चला है कि जो लोग संक्रमित होते हैं, उनमें सीओवीआईडी ​​​​-19 के हल्के से मध्यम मामले उन लोगों की तुलना में होते हैं जिन्हें टीका नहीं लगाया जाता है। इसलिए, एक बार जब आप पूरी तरह से टीका लगवा लेते हैं, तो आपके अस्पताल में भर्ती होने और COVID-19 के कारण मृत्यु का जोखिम लगभग समाप्त हो जाता है।

वैक्सीन (आखिरकार) हमें मास्क को खत्म करने में मदद करेगी।
जीवन के अधिक सामान्य तरीके से वापस आने के हमारे प्रयास में टीका अंतिम चरण है। सार्वजनिक स्वास्थ्य उपायों जैसे मास्क पहनना, शारीरिक दूरी और हाथ धोना वायरस के प्रसार को धीमा करने के लिए लागू किया गया था, और वे काम करने के लिए सिद्ध हुए हैं। हमें इन सावधानियों को तब तक जारी रखना चाहिए जब तक कि पर्याप्त लोगों का टीकाकरण न हो जाए, विशेष रूप से हमारे समुदाय में सबसे कमजोर लोगों को।
हालांकि, ये नियम हमेशा के लिए लागू नहीं होंगे। नए सबूत बताते हैं कि जो लोग कोरोना वायरस से संक्रमित हो सकते हैं, उनके नाक और मुंह में वायरस के कण कम होते हैं और दूसरों में इसके फैलने की संभावना कम होती है। यह खोज महत्वपूर्ण है क्योंकि अब टीका लगवाना न केवल आपकी रक्षा करता है, बल्कि प्रियजनों और दोस्तों में वायरस के प्रसार को भी सीमित करता है।
जब टीकाकरण और पूर्व संक्रमण के माध्यम से पर्याप्त लोगों की रक्षा की जाती है, तो हम झुंड प्रतिरक्षा तक पहुँच सकते हैं, जिसका अर्थ है कि वायरस के फैलने की संभावना नहीं है। उस समय, मास्क और शारीरिक दूरी की अब और आवश्यकता नहीं हो सकती है। लेकिन, कुछ समय के लिए, हमें सार्वजनिक स्वास्थ्य दिशानिर्देशों का पालन करना जारी रखना होगा।

आप व्यक्तिगत रूप से छोटे कार्यक्रमों में भाग ले सकते हैं
अप्रैल में, रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र ने छोटे सार्वजनिक समारोहों पर अपने मार्गदर्शन को अपडेट किया। पूरी तरह से टीका लगाए गए व्यक्तियों के लिए, "एक घर या निजी सेटिंग में अन्य पूरी तरह से टीकाकरण वाले लोगों के साथ छोटी सभा" सुरक्षित हैं।
हालांकि, खेल आयोजनों और संगीत कार्यक्रमों जैसे बड़े सार्वजनिक कार्यक्रमों की अभी भी अनुशंसा नहीं की जाती है।
"पूरी तरह से टीकाकरण वाले लोगों के लिए, घर या निजी सेटिंग के अंदर बिना मास्क के अन्य छोटे समूहों के साथ इकट्ठा होना सुरक्षित है, हालांकि इस समय मध्यम और बड़े समारोहों की सिफारिश नहीं की जाती है, भले ही सभी को पूरी तरह से टीका लगाया गया हो," राचेल ली, एमडी ने कहा , संक्रामक रोगों के यूएबी डिवीजन में सहायक प्रोफेसर। "बड़े सार्वजनिक कार्यक्रम वापस आ सकते हैं, लेकिन केवल एक बार 70 प्रतिशत आबादी को टीका लगाया जाता है," जुड ने कहा। "इज़राइल ने अपनी 80 प्रतिशत वयस्क आबादी का टीकाकरण किया है और महामारी से पहले जिस तरह से चीजें थीं, उस पर वापस लौटने में सक्षम हो गया है।"

आप यात्रा कर सकते हैं
टीका लगवाने का एक दूसरा लाभ यह है कि पूरी तरह से टीका लगवाने से लोग घरेलू और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बिना क्वारंटाइन किए यात्रा कर सकते हैं। "हालांकि, घरेलू सेटिंग के बाहर, मैं COVID-19 के संचरण को रोकने के लिए मास्क पहनना जारी रखने की सलाह देता हूं, विशेष रूप से चिंता के COVID वेरिएंट के उदय को देखते हुए जो हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली को बायपास कर सकता है," ली ने कहा।

आप अपने प्रियजनों और सहकर्मियों के साथ फिर से जुड़ सकते हैं
टीकाकरण प्राप्त करने का एक अन्य लाभ यह है कि परिवार फिर से इकट्ठा होने, भोजन साझा करने और एक-दूसरे की कंपनी का आनंद लेने में सहज महसूस कर सकते हैं। “दादा-दादी फिर से पोते-पोतियों को देख सकते हैं, और जिन लोगों को स्वास्थ्य संबंधी चिंताएँ हैं या वे कैंसर चिकित्सा से गुजर रहे हैं, वे हो सकते हैं। बाहर निकलने और दोस्तों को देखने में सक्षम हो, जो वास्तव में उनके मूड को बढ़ावा देने में मदद कर सकता है," जुड ने कहा।
हर दिन अधिक भारतीयों के टीकाकरण के साथ, फिर से जुड़ना सिर्फ परिवार से अधिक हो सकता है। कई कंपनियां अपने कर्मचारियों को कार्यालय लौटने की अनुमति दे रही हैं, जिससे सहकर्मियों को कई महीनों के बाद फिर से जुड़ने की अनुमति मिल रही है।

आप तत्काल स्वास्थ्य लाभ देख सकते हैं
COVID-19 वैक्सीन प्राप्त करने से COVID-19 को पकड़ने की संभावना उल्लेखनीय प्रतिशत तक कम हो सकती है। जड ने नोट किया कि एक वैक्सीन प्राप्त करने से किसी के स्वास्थ्य की रक्षा करने की संभावना मास्किंग या सामाजिक दूरी से अधिक होती है। “नैदानिक ​​​​परीक्षण के आंकड़ों ने दिखाया है कि टीके COVID की दर को 90 प्रतिशत तक कम कर देते हैं। यह बहुत बड़ा है, ”जड ने कहा। "2020 में केस ट्रांसमिशन को धीमा करने के लिए हमारा सबसे अच्छा हस्तक्षेप मास्किंग और डिस्टेंसिंग जैसे सामाजिक हस्तक्षेप थे, जिसके परिणामस्वरूप COVID में केवल 20 प्रतिशत से 60 प्रतिशत की कमी हुई, यह इस बात पर निर्भर करता है कि कहां और कैसे लागू किया गया है।"
COVID के प्रसार को रोकने का मतलब वायरस के म्यूटेशन को भी धीमा करना है। हर बार जब वायरस किसी नए व्यक्ति में फैलता है, तो उसे उत्परिवर्तित करने का मौका मिलता है। वैक्सीन हमें COVID केस के स्तर को एक प्रबंधनीय स्तर पर लाने का एक बेहतर मौका देती है ताकि हम और अधिक स्थानों को फिर से देख सकें और प्रतिबंधों को कम देख सकें। COVID को पकड़ने का जोखिम काफी कम होने के अलावा, एक टीका दीर्घकालिक लक्षणों को कम करने में मदद कर सकता है यदि आपके पास पहले से ही COVID-19 है। जुड के अनुसार, स्वास्थ्य पेशेवर सुन रहे हैं कि कुछ लोगों में लंबे समय तक रहने वाले सीओवीआईडी ​​​​लक्षण टीकाकरण के बाद लक्षणों में आसानी दिखाई देते हैं।

दीर्घकालिक लाभterm
शोधकर्ताओं ने अभी तक यह निर्धारित नहीं किया है कि सीओवीआईडी ​​​​के सभी दीर्घकालिक परिणाम क्या हो सकते हैं, यहां तक ​​​​कि उन लोगों के लिए भी जिनके मामले हल्के थे और अस्पताल में भर्ती नहीं थे। जुड ने देखा कि पिछले संक्रामक रोगों ने कई वर्षों के बाद स्वास्थ्य समस्याओं का कारण बना। "इसका एक अच्छा उदाहरण चिकन पॉक्स है," जुड ने कहा। “हमारे ४० के दशक और उसके बाद के कई लोगों को चिकन पॉक्स था, जबकि हमारे बच्चों को वैरिकाला वैक्सीन दिया गया था। हममें से जिन लोगों को चिकन पॉक्स हुआ था, उन्हें दाद होने का खतरा होता है, जबकि जिन लोगों को टीका लगाया गया था, उन्हें दाद होने का खतरा कम होता है। "हालांकि हम केवल कुछ निशान के साथ चिकन पॉक्स के माध्यम से रहते थे, फिर भी दाद के जोखिम के मामले में संक्रमण के दीर्घकालिक परिणाम होते हैं," उसने कहा। “यह COVID के लिए भी सच हो सकता है। यह देखते हुए कि हमें इस बात का कोई अंदाजा नहीं है कि COVID संक्रमण होने से भविष्य में क्या जोखिम हो सकते हैं,

COVID-19 Vaccines

COVID-19 टीकों के दुष्प्रभाव

COVID-19 के टीके सुरक्षित हैं, और टीका लगवाने से आपको गंभीर COVID-19 बीमारी विकसित होने और COVID-19 से मरने से बचाने में मदद मिलेगी। टीका लगवाने के बाद आपको कुछ हल्के साइड इफेक्ट्स का अनुभव हो सकता है, जो संकेत हैं कि आपका शरीर सुरक्षा का निर्माण कर रहा है।

टीकों से हल्के साइड इफेक्ट होना सामान्य क्यों है
टीके रोग होने के खतरों के बिना आपको प्रतिरक्षा प्रदान करने के लिए डिज़ाइन किए गए हैं। टीकाकरण प्राप्त करते समय कुछ हल्के से मध्यम दुष्प्रभावों का अनुभव करना आम है। ऐसा इसलिए है क्योंकि आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली आपके शरीर को कुछ तरीकों से प्रतिक्रिया करने का निर्देश दे रही है: यह रक्त के प्रवाह को बढ़ाता है ताकि अधिक प्रतिरक्षा कोशिकाएं प्रसारित हो सकें, और यह वायरस को मारने के लिए आपके शरीर के तापमान को बढ़ाती है।
हल्के से मध्यम दुष्प्रभाव, जैसे निम्न-श्रेणी का बुखार या मांसपेशियों में दर्द, सामान्य हैं और अलार्म का कारण नहीं हैं: वे संकेत हैं कि शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली टीके के प्रति प्रतिक्रिया कर रही है, विशेष रूप से एंटीजन (एक पदार्थ जो ट्रिगर करता है एक प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया), और वायरस से लड़ने के लिए कमर कस रहा है। ये दुष्प्रभाव आमतौर पर कुछ दिनों के बाद अपने आप दूर हो जाते हैं।
सामान्य और हल्के या मध्यम दुष्प्रभाव अच्छी बात हैं: वे हमें दिखाते हैं कि टीका काम कर रहा है। कोई साइड इफेक्ट नहीं होने का मतलब यह नहीं है कि टीका अप्रभावी है। इसका मतलब है कि हर कोई अलग तरह से प्रतिक्रिया करता है।

COVID-19 टीकों के सामान्य दुष्प्रभाव
किसी भी टीके की तरह, COVID-19 टीके दुष्प्रभाव पैदा कर सकते हैं, जिनमें से अधिकांश हल्के या मध्यम होते हैं और कुछ दिनों के भीतर अपने आप चले जाते हैं। जैसा कि नैदानिक ​​परीक्षणों के परिणामों में दिखाया गया है, अधिक गंभीर या लंबे समय तक चलने वाले दुष्प्रभाव संभव हैं। प्रतिकूल घटनाओं का पता लगाने के लिए टीकों की लगातार निगरानी की जाती है।
COVID-19 टीकों के रिपोर्ट किए गए दुष्प्रभाव ज्यादातर हल्के से मध्यम रहे हैं और कुछ दिनों से अधिक समय तक नहीं रहे हैं। विशिष्ट दुष्प्रभावों में इंजेक्शन स्थल पर दर्द, बुखार, थकान, सिरदर्द, मांसपेशियों में दर्द, ठंड लगना और दस्त शामिल हैं। टीकाकरण के बाद इनमें से किसी भी दुष्प्रभाव की संभावना विशिष्ट टीके के अनुसार भिन्न होती है। COVID-19 टीके केवल SARS-CoV-2 वायरस से रक्षा करते हैं, इसलिए यह अभी भी महत्वपूर्ण है कि आप स्वयं को स्वस्थ और स्वस्थ रखें।

कम आम दुष्प्रभाव
वैक्सीन प्राप्त करने पर, एक व्यक्ति को टीकाकरण स्थल पर १५-३० मिनट तक रहने का अनुरोध किया जाना चाहिए ताकि किसी भी तत्काल प्रतिक्रिया के मामले में स्वास्थ्य कार्यकर्ता उपलब्ध हों। व्यक्तियों को टीकाकरण के बाद अपने स्थानीय स्वास्थ्य प्रदाताओं को सतर्क करना चाहिए यदि वे किसी अप्रत्याशित दुष्प्रभाव या अन्य स्वास्थ्य घटनाओं का अनुभव करते हैं - जैसे कि तीन दिनों से अधिक समय तक चलने वाले दुष्प्रभाव। कुछ COVID-19 टीकों के लिए रिपोर्ट किए गए कम आम साइड इफेक्ट्स में एनाफिलेक्सिस जैसी गंभीर एलर्जी प्रतिक्रियाएं शामिल हैं; हालाँकि, यह प्रतिक्रिया अत्यंत दुर्लभ है।

दीर्घकालिक दुष्प्रभाव
साइड इफेक्ट आमतौर पर टीका लगवाने के पहले कुछ दिनों के भीतर होते हैं। दिसंबर 2020 की शुरुआत में पहला सामूहिक टीकाकरण कार्यक्रम शुरू होने के बाद से, लाखों टीकों की खुराक दी जा चुकी है। COVID-19 के टीके लोगों को COVID-19 से बीमार करने के बारे में चिंताएँ हैं। लेकिन स्वीकृत टीकों में से कोई भी जीवित वायरस नहीं है जो COVID-19 का कारण बनता है, जिसका अर्थ है कि COVID-19 टीके आपको COVID-19 से बीमार नहीं कर सकते।
टीकाकरण के बाद, आमतौर पर शरीर को SARS-CoV-2, वायरस जो COVID-19 का कारण बनता है, के खिलाफ प्रतिरक्षा बनाने में कुछ सप्ताह लगते हैं। इसलिए यह संभव है कि कोई व्यक्ति टीकाकरण से ठीक पहले या बाद में SARS-CoV-2 से संक्रमित हो सकता है और फिर भी COVID-19 से बीमार हो सकता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि टीके को अभी तक सुरक्षा प्रदान करने के लिए पर्याप्त समय नहीं मिला है। टीका लगवाने के बाद दुष्प्रभावों का अनुभव करने का मतलब है कि टीका काम कर रहा है और आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली उसी तरह प्रतिक्रिया कर रही है जैसी उसे करनी चाहिए। टीके सुरक्षित हैं, और टीका लगवाने से आपको COVID-19 से बचाने में मदद मिलेगी।

दुष्प्रभाव कितने समय तक चलते हैं?
COVID-19 टीकों के प्रतिकूल प्रभाव केवल कुछ दिनों तक ही रहने चाहिए। यदि वे अधिक समय तक चलते हैं, तो डॉक्टर से संपर्क करें। बुखार, ठंड लगना और थकान जैसे कुछ दुष्प्रभाव भी COVID-19 के लक्षण हैं। वैक्सीन प्राप्त करने से ठीक पहले या बाद में SARS-CoV-2 संक्रमण प्राप्त करना संभव है - इससे पहले कि शरीर को सही एंटीबॉडी का उत्पादन करने और प्रतिरक्षा का निर्माण करने का मौका मिले। इसके अलावा, जबकि टीके बहुत प्रभावी हैं, वे वायरस से 100% सुरक्षा की गारंटी नहीं देते हैं।
यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि कोई भी टीका COVID-19 का कारण नहीं बन सकता क्योंकि किसी में भी संपूर्ण SARS-CoV-2 वायरस नहीं होता है। जो कोई भी वैक्सीन प्राप्त करने के बाद COVID-19 विकसित करता है, वह पर्याप्त प्रतिरक्षा का निर्माण करने से पहले वायरस के संपर्क में आने की संभावना थी। यदि COVID-19 लक्षणों के समान दुष्प्रभाव बने रहते हैं, तो COVID-19 परीक्षण करें और आत्म-अलगाव के बारे में स्थानीय दिशानिर्देशों का पालन करें।

COVID-19 India

टीकाकरण के बाद उपचार

ओवर-द-काउंटर उपचार
टीकाकरण के दुष्प्रभावों के बारे में चिंतित कोई भी व्यक्ति यह सोच सकता है कि टीका लगवाने से पहले उन्हें एक ओवर-द-काउंटर दवा लेनी चाहिए, ताकि उनके होने से पहले किसी भी दुष्प्रभाव को दूर किया जा सके। हालांकि, रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र (सीडीसी)विश्वसनीय स्रोत इसकी अनुशंसा नहीं करते हैं। जबकि अन्य स्वास्थ्य समस्याओं के लक्षणों को रोकने के लिए कदम उठाना एक अच्छा विचार है, यहां ऐसा नहीं है। यह इंतजार करना और यह देखना सबसे अच्छा है कि क्या कोई दुष्प्रभाव उत्पन्न होता है, फिर अनुमान लगाने और कई बार लेने के विपरीत इनका व्यक्तिगत रूप से इलाज करें। - समय से पहले उत्पादों का मुकाबला करें।
टीके के साइड इफेक्ट को कम करने के लिए किसी भी ओवर-द-काउंटर दवा लेने से पहले एक व्यक्ति को अपने स्थानीय फार्मासिस्ट से मिलना चाहिए। चूंकि एक फार्मासिस्ट किसी व्यक्ति की दवाओं और चिकित्सा इतिहास से अवगत होता है, इसलिए उन्हें होने वाली किसी भी बातचीत की अच्छी समझ होती है।
लेकिन क्या होगा यदि कोई व्यक्ति अपने फार्मासिस्ट से संपर्क करने में असमर्थ है और मांसपेशियों में दर्द, इंजेक्शन साइट दर्द, बुखार, या इन मुद्दों के संयोजन से तत्काल राहत की आवश्यकता है? इस मामले में, निम्नलिखित मदद कर सकते हैं:
इबुप्रोफेन (एडविल)
एसिटामिनोफेन या पैरासिटामोल (टाइलेनॉल)
एस्पिरिन

घरेलू उपचार
कोई भी जो बिना पर्ची के मिलने वाली दवाएं नहीं लेना पसंद करता है या अतिरिक्त उपचार की तलाश में है, कई स्व-देखभाल तकनीकें किसी भी COVID-19 टीकाकरण दुष्प्रभाव को कम करने में मदद कर सकती हैं। इंजेक्शन स्थल पर प्रतिक्रियाओं के लिए, जैसे दर्द या सूजन एक सेक बनाने के लिए एक साफ, ठंडा गीला वॉशक्लॉथ। यह मांसपेशियों और जोड़ों के दर्द में भी मदद कर सकता है। हाथ में दर्द या जकड़न को कम करने के लिए, इसे जितना हो सके हिलाएँ। यह उल्टा लग सकता है और थोड़ी परेशानी पैदा कर सकता है, लेकिन यह गले की मांसपेशियों को ढीला करके और अधिक कठोरता को रोकने में मदद करता है।

COVID-19

संबंधित विषय:

1. ब्रोंकाइटिस क्या है और इसका इलाज कैसे किया जाता है?

ब्रोंकाइटिस और उसके उपाय

2. डायवर्टीकुलिटिस कितना हानिकारक है?

डायवर्टीकुलिटिस के लक्षण और उपचार

3. प्रतिरक्षा बढ़ाने के बारे में और जानें

इम्युनिटी कैसे बढ़ाएं




उपर ब्लॉग में बताई गई उपलब्धिया AFD-SHIELD के साथ उपलब्ध हैं
एएफडी शील्ड कैप्सूल 12 प्राकृतिक अवयवों का एक संयोजन है जिनमें से अलगल डीएचए, अश्वगंधा, करक्यूमिन और स्पिरुलिना हैं। एएफडी शील्ड टीजी को कम करता है, एचडीएल बढ़ाता है और उम्र से संबंधित संज्ञानात्मक गिरावट में सुधार करता है। यह तनाव और चिंता को भी कम करता है और एंटी-एजिंग गतिविधि करता है। इसके अलावा, यह इम्युनोमॉड्यूलेटरी गतिविधि को बढ़ाता है, प्रतिरक्षा में सुधार करता है और सूजन और ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करता है। न्यूट्रोग्लिग्क्स: एएफडी-शील्ड

AFDIL Ltd.
+91 9920121021

order@afdil.com

Read Also:


Disclaimer
Home