Complications of Diabetes

Complications of Diabetes

Overview

Diabetes is a condition in which the blood glucose, also known as blood sugar, is abnormally high. Your main source of energy is blood glucose, which is the most common form of sugar found in your blood. Glucose is produced in your liver and muscles, as well as from the food you eat. Glucose is carried by your blood to all of your body's cells, where it is used for energy.

Pancreas, a digestive organ situated between your stomach and spine produces a hormone called Insulin. It releases insulin into your bloodstream, which aids glucose absorption into cells for use as energy by transporting glucose to all of the body's cells. But sometimes your body does not produce enough insulin, or the insulin does not work properly. Glucose remains in your blood and does not enter your cells as a result blood glucose levels rise too high, developing diabetes or prediabetes. Therefore, Diabetes is caused by either a lack of insulin production by the pancreas or a lack of insulin response by the body's cells.

Getting too much glucose in your blood can lead to health issues over time. While there is no cure for diabetes, you can take measures to control it and remain healthy. Diabetes is often referred to as "a bit of sugar" or "borderline diabetes." When the level of glucose in your blood is higher than average but not high enough to be diagnosed as diabetes, you have prediabetes. Prediabetes increases the risk of developing type 2 diabetes, heart disease, and stroke. You can postpone or avoid type 2 diabetes by losing weight and engaging in moderate physical activity. You may also be able to return to normal glucose levels without the use of any medications.

Frequent urination, increased thirst, and increased appetite are common symptoms. Diabetes, if left unchecked, can lead to a slew of health issues. Diabetic ketoacidosis, hyperosmolar hyperglycaemia, and death are all examples of acute complications. Cardiovascular disease, stroke, chronic kidney disease, foot ulcers, nerve injury, eye damage, and cognitive disability are all serious long-term complications.

Diabetes mellitus is divided into three types.

1. Type 1 diabetes: Type 1 Diabetes is caused by the lack of beta cells in the pancreas, which prevents the pancreas from producing enough insulin. Previously, this condition was known as "insulin-dependent diabetes mellitus" (IDDM) or "juvenile diabetes". An autoimmune reaction causes the loss of beta cells. This autoimmune response's cause is unknown. Insulin injections are used to treat type 1 diabetes.

2. Type 2 Diabetes: Insulin resistance, a disease in which cells do not respond properly to insulin, is the starting point for type 2 diabetes. A lack of insulin can develop as the disease progresses. Previously, this condition was known as "non-insulin-dependent diabetes mellitus" (NIDDM) or "adult-onset diabetes." A combination of excessive body weight and inadequate exercise is the most common cause. Type 2 diabetes can be prevented and treated by eating a balanced diet, exercising regularly, maintaining a healthy weight, and not smoking. Insulin sensitizers, both with and without insulin, can be used to treat type 2 diabetes. Controlling blood pressure and providing adequate foot and eye care are critical for those suffering from the disease. Low blood sugar may be caused by insulin and certain oral drugs. In people with type 2 diabetes, weight loss surgery is often a successful treatment option..

3. Gestational diabetes is the third most common form of diabetes, and it occurs when pregnant women who have never had diabetes experience elevated blood sugar levels. Gestational diabetes normally goes away after the baby is born.

Diabetes affected an estimated 463 million people worldwide (8.8% of the adult population) in 2019, with type 2 diabetes accounting for nearly 90% of cases. Women and men have equal rates. Rates are expected to grow more in the future, based on current trends. Diabetes more than doubles a person's chance of dying young. Diabetes claimed the lives of nearly 4.2 million people in 2019. It is the world's seventh leading cause of death. In 2017, the global economic cost of diabetes-related medical expenses was reported to be US$727 billion. Diabetes cost almost $327 billion in the United States in 2017. Diabetes patients spend 2.3 times more on medical care than non-diabetics.

Symptoms of Diabetes

Unintended weight loss, polyuria (increased urination), polydipsia (increased thirst), and polyphagia are all classic signs of untreated diabetes (increased hunger). In type 1 diabetes, symptoms may appear quickly (weeks or months), while in type 2 diabetes, symptoms normally appear much more slowly and may be gradual or absent.

While not unique to diabetes, a number of other signs and symptoms of diabetes may indicate the disease's onset. They include blurred vision, headache, nausea, sluggish wound healing, and itchy skin, in addition to the previously mentioned symptoms.

High blood glucose levels over an extended period of time can cause glucose absorption in the lens of the eye, resulting in changes in its shape and vision changes. Diabetic retinopathy may also cause long-term vision loss. Diabetic dermadromes refer to a group of skin rashes that may occur as a result of diabetes.

Complications of Diabetes

Types of Diabetes in detail

Type 1, type 2, and gestational diabetes are the three primary forms of diabetes. Diabetes can affect someone at any age. Diabetes may affect both men and women.

Type 1 Diabetes: Also known as Juvenile Diabetes.
Type 1 diabetes, formerly known as juvenile diabetes, affects mostly children and adolescents, but it can also affect adults. Since the immune system, which usually protects you from infection by removing bacteria, viruses, and other harmful substances, has attacked, and killed the cells that produce insulin in type 1 diabetes, the body no longer produces insulin or enough insulin.

Diabetes type 1

Characteristics of Diabetes Type 1
1. Insulin-Dependent Diabetes Mellitus (IDDM) was the previous name for this condition (IDDM).
2. It is most common in children and adolescents (although can occur later in life).
3. Hyperglycaemia is caused by a complete lack of the insulin hormone released by the pancreas, resulting in hyperglycaemia.
4. Patients must receive insulin injections for the rest of their lives.
5. Significant symptoms of diabetes type 1, such as coma or ketoacidosis, can occur.
6. Patients with this form of diabetes are rarely obese, but obesity is not incompatible with the disease.
7. Microvascular and macrovascular complications are more likely to occur in patients.

Causes of Diabetes Type 1
1. The presence of such antibodies in the blood is normally (but not always) associated with autoimmune destruction of the pancreas beta cells.
2. A multi-gene disorder triggered by environmental factors as well as mutations in multiple genes.

Symptoms of Diabetes Type 1
1. Polyuria (frequent urination), thirst (polydipsia), appetite (polyphagia), and unexplained weight loss are all symptoms of polyphagia.
2. Numbness in the extremities, pain in the feet (disesthesias), exhaustion, and blurred vision are all symptoms of diabetes type 1 condition.
3. Infections that recur or are serious.
4. Ketoacidosis (loss of consciousness) or coma (severe nausea/vomiting). Ketoacidosis is more common in T1D patients than in T2D patients.

Diagnosis of Diabetes Type 1
1. The occurrence of classic hyperglycemia signs and an irregular blood test are used to make the diagnosis.
2. A plasma glucose concentration >=7 mmol/L (or 126 mg/dL) or >=11.1mmol/L ( or 200mg/dL) 2 hours after a 75g glucose drink.
3. Two irregular blood tests on different days can also be used to diagnose a patient without classic symptoms of diabetes type 1.
4. Another test called HbA1C is used in most settings (though not always in resource-poor countries) to estimate metabolic control over the previous 2-3 months and direct treatment decisions.

Treatment of Diabetes Type 1
1. The end goal of treatment is to alleviate symptoms of diabetes type 1 and avoid or postpone complications by maintaining normal blood glucose levels.
2. Insulin injections for the rest of your life in a variety of combinations: short-acting/long-acting, aggressive care with several injections before meals, once or twice daily injections, insulin pump.
3. Having a steady supply of insulin is important (however, insulin is unavailable and unaffordable in many poor countries).
4. self-monitoring blood glucose through glucometers.
5. Eye check, urine examination, foot care, and specialist referral as required for early detection and treatment of complications (at intervals recommended by national and international guidelines)
6. Patient education on self-monitoring for hypoglycaemia (signs and symptoms of diabetes type 1 include hunger, palpitations, shakiness, sweating, drowsiness, and dizziness)
7. Patient education on self-monitoring for hyperglycaemia (signs and symptoms of diabetes type 1 include hunger, palpitations, shakiness, sweating, drowsiness, and dizziness).
8. Diet, exercise, and foot care education for patients.
9. Patient-led support groups and community engagement should be considered wherever possible.

Type 2 Diabetes: Also known as NIDDM.
Type 2 diabetes, also known as adult-onset diabetes, can strike anyone at any age, including children. Type 2 diabetes, on the other hand, is more common in middle-aged and older people. Obese and inactive people are also more likely to develop type 2 diabetes.

Insulin resistance, which occurs when fat, muscle, and liver cells do not use insulin to transport glucose into the body's cells for use as energy, is the most common cause of type 2 diabetes. As a result, more insulin is needed to help glucose reach cells. At first, the pancreas responds by producing more insulin to meet the increased demand.

Characteristics of Diabetes Type 2
1. Previously known as non-insulin-dependent diabetes mellitus (NIDM) (NIDDM).
2. Hyperglycaemia is caused by a deficiency in insulin secretion, which is normally accompanied by insulin resistance.
3. Patients normally do not need insulin for the rest of their lives, but they can regulate their blood sugar with diet and exercise alone, in conjunction with oral drugs, or with insulin.
4. Adulthood is when it normally (but not always) occurs (and is on the rise in children and adolescents).
5. Obesity, a lack of physical activity, and a poor diet are all linked to this condition.
6. Patients with T1D are more likely to develop microvascular and macrovascular complications.

Causes of Diabetes Type 2
1. Obesity, a lack of physical activity, and a poor diet are all linked to this condition (and involves insulin resistance in nearly all cases).
2. It is a part of "metabolic syndrome" and is more common in people with hypertension, dyslipidaemia (abnormal cholesterol profile), and central obesity.
3. While it is a disease that runs in families, it is a complex disease caused by mutations in several genes as well as environmental factors.

Symptoms of Diabetes Type 2
1. Patients may have no or minor symptoms of diabetes for years before receiving a diagnosis.
2. Polyuria, thirst (polydipsia), hunger (polyphagia), and unexplained weight loss are all possible symptoms.
3. Numbness in the extremities, pain in the feet (dysesthesias), and blurred vision are all possible side effects.
4. It is possible that you'll get chronic or serious infections.
5. Patients with T2D may experience loss of consciousness or coma, but this is less normal.

Diagnosis of Diabetes Type 2
1. The occurrence of classic hyperglycaemia signs and an irregular blood test are used to make the diagnosis.
2. 2 hours after a 75g glucose drink, a plasma glucose concentration of >=7 mmol/L (or 126 mg/dL) or >=11.1 mmol/L (or 200 mg/dL).
3. Two irregular blood tests on different days can also be used to diagnose a patient without classic symptoms of diabetes.
4. Another test called HbA1C is used in most settings (although it may not be available in some resource-poor settings) to estimate metabolic control over the previous 2-3 months and direct treatment decisions. This test can also be used to determine whether or not you have type 2 diabetes.
5. Via "opportunistic screening" of high-risk populations, some asymptomatic patients are diagnosed (at a routine medical visit, the health care provider may identify the patient as being at higher risk of diabetes and recommend a screening test).
6. For e.g., being over 45 years old, having a BMI of more than 25 kg/m2, belonging to a certain ethnic group, or being hypertensive may all trigger a screening test.
7. In certain cases, the patient initiates the screening process.

Treatment of Diabetes Type 2
1. The end goal of treatment is to relieve symptoms of diabetes type 2and avoid or postpone complications by maintaining normal blood glucose levels.
2. Patients were managed with diet and exercise, as well as one or more types of oral medications, a mixture of oral medications and insulin, or only insulin.
3. Self-monitoring blood glucose glucometers (with less frequency than with T1D).
4. Eye check, urine examination, foot care, and specialist referral as required for early detection and treatment of complications (at intervals prescribed by national and international guidelines).
5. Self-monitoring for hypoglycaemia and hyperglycaemia signs and symptoms of diabetes (such as hunger, palpitations, shakiness, sweating, drowsiness, and dizziness).
6. Diet, exercise, and foot care are all topics that patients are educated on.
7. When blood sugar levels rise, such as after meals, the pancreas produces insufficient insulin over time. You would need to treat your type 2 diabetes if your pancreas can no longer produce enough insulin.

Gestational Diabetes
When a woman is pregnant, she will develop gestational diabetes. Insulin resistance can be caused by hormones produced by pregnant women. Late in pregnancy, both women develop insulin resistance. Gestational diabetes occurs when the pancreas does not produce enough insulin during pregnancy.

Women who are overweight or obese are more likely to develop gestational diabetes. Additionally, gaining too much weight during pregnancy can increase your risk of gestational diabetes.

After the baby is born, gestational diabetes usually goes away. A woman with gestational diabetes, on the other hand, is more likely to develop type 2 diabetes later in life. Obesity and type 2 diabetes are more common in babies born to mothers who had gestational diabetes.

Gestational diabetes risk factor

Characteristics of Gestational Diabetes
1. Hyperglycaemia of varying degree is diagnosed during pregnancy (in the absence of prior diabetes) and normally (but not always) resolves within 6 weeks of delivery.
2. Congenital malformations, higher birth weight, and an increased risk of perinatal mortality are all risks associated with pregnancy.
3. Women have a higher chance of developing diabetes (T2D) later in life.

Causes of Gestational Diabetes
1. Although the mechanism is not well known, pregnancy hormones tend to interfere with insulin action.

Symptoms of Gestational Diabetes
1. Polydipsia (increased thirst) and polyuria (increased urination) are the most common symptoms of diabetes during gestation (although other symptoms can be present).
2. Since increased urination is a common part of pregnancy, these symptoms of diabetes during gestation can be difficult to spot as irregular.
3. During pregnancy, a larger-than-normal baby (noticed on a regular prenatal exam) can prompt diabetic screening.

Diagnosis of Gestational Diabetes
1. After an overnight quick, a regular OGTT is performed at 24-28 weeks (fasting plasma glucose and a plasma glucose 2 hours after 75g glucose drink is done).
2. A level of >=7.8 mmol/L (or 140 mg/dL) after 2 hours is diagnostic of gestational diabetes.
3. If your fasting and postprandial blood sugars are high in the first trimester, it could mean you have diabetes (which is considered a different condition, with different implications).

Treatment of Gestational Diabetes
1. Patients treated with diet/exercise, the use of oral drugs, or the use of insulin to achieve strict metabolic regulation of blood glucose to reduce obstetrical risks.
2. Glucometers are devices that allow you to track your blood glucose levels on your own.
3. Diet and fitness education for patients.
4. After delivery, patients are educated about how to lose weight and exercise to avoid diabetes in the future.
5. T2D screening will be needed for the rest of the patient's life because he or she will be in the high-risk group.

Complications of Diabetes

Complications of Diabetes

There are two types of Complications of Diabetes (due to damage to blood vessels).
1. Microvascular complications (caused by damage to small blood vessels): The complications in this category include damage to the eyes (retinopathy) may lead to blindness, the kidneys (nephropathy) may lead to renal failure, and the nerves (neuropathy) may lead to impotence and diabetic foot problems (which include severe infections leading to amputation).
2. Macrovascular complications (caused by damage to large blood vessels): The complications in this category include Cardiovascular disorders such as heart attacks, strokes, and poor blood flow to the legs are examples of macrovascular complications.

Wide randomized-controlled trials have shown that good metabolic control can delay the development and progression of these complications in both type 1 and type 2 diabetes.

Complications of Diabetes with Heart Problems
Blood vessel disease, heart attack, and stroke are all examples of cardiovascular disease.
People with diabetes have a higher risk of cardiovascular disease since their cholesterol and blood pressure levels are generally higher. Being inactive, smoking, and having a family history of cardiovascular disease all increase your risk.

To lower your risk and catch any problems early, follow these steps:
1. Check your blood pressure at least once every six months, or more frequently if you have high blood pressure or are using blood pressure medication.

2. Check your HbA1c at least once a year, or three to six times a year if suggested.

3. Make sure you get your cholesterol examined at least once a year. Your doctor may also order further pathological tests, like as an electrocardiogram (ECG) or an exercise stress test.

Complications of Diabetes with Eye Problem
The following are examples of diabetes-related vision problems:
Retinopathy is a condition in which blood vessels in the retina become damaged, causing vision loss. There are several stages of retinopathy. Because there are usually no symptoms of diabetes in the early stages, a comprehensive eye examination is necessary to diagnose it early. Regular eye exams enable for early detection of any changes and, if necessary, treatment to prevent further harm.

Macular oedema - the macula is a region of the retina that aids in vision clarity. When the blood vessels in the retina are injured, fluid builds up, causing swelling in this area. The macula may be injured as a result, and vision may become fuzzy. Medications is available.

Cataracts - the lens of the eye gets clouded, causing vision to become blurry, distorted, or sensitive to glare – require early detection. People with diabetes are more likely to acquire cataracts at a younger age than people without diabetes.

Glaucoma occur when the pressure of the fluid within the eye rises over what is healthy. Over time, this pressure might cause damage to the eye. Glaucoma can affect people with or without diabetes, but it is more frequent in diabetics.

While the majority of persons with eye injury have no symptoms in the early stages, certain symptoms might arise and require immediate attention. See your doctor right away if you see flashes of light, floaters, blots and spots, or if part of your vision is missing.

Complications of Diabetes with the kidneys
Changes in the tiny blood arteries of the kidneys put people with diabetes at risk for kidney illness (nephropathy). Kidney disease is painless, and symptoms do not appear until the disease has progressed.

The importance of screening cannot be overstated. Microalbumin (extremely minute levels of protein) in the urine can be checked at least once a year to detect kidney impairment early. A blood test will be used to assess your kidney function, including the estimated glomerular filtration rate (e-GFR).

With the correct treatment, nephropathy can be slowed or prevented if problems are detected early. Angiotensin-converting enzyme inhibitors (ACE inhibitors) and angiotensin receptor antagonists (ARBs) are drugs that protect the kidneys from further injury. High blood pressure can also be treated with these medicines.

Complications of Diabetes with nerves
High blood glucose levels are the most common cause of nerve injury (neuropathy), although comparable nerve damage can also be caused by:
1. Consuming copious amounts of alcohol
2. Long-term usage of the diabetes medication Metformin (three to five years) can raise the risk of vitamin B12 insufficiency. Your doctor may do a test to see if this is the case.

Sensory (feeling) and motor (movement) nerves in the legs and feet, arms, hands, chest, and stomach, as well as nerves that govern the movements of body organs, can all be damaged.
To help prevent nerve injury, do the following:
1. Maintain a healthy blood glucose level in the target range.
2. If you drink alcohol, stick to the suggested limits.
3. Please don't smoke.
4. Any issues with your hands, arms, feet, or legs, as well as your stomach, bowels, or bladder, should be discussed with your doctor.

Complications of Diabetes with foot
When the blood supply to both major and tiny blood vessels in a diabetic's feet is diminished, the feet are at danger of harm. Nerve damage (peripheral neuropathy) is common, as are issues with the structure of the foot, such as clawed toes.

Reduced blood supply and nerve function can cause ulcers and structural foot problems by delaying healing, increasing the risk of infection, reducing feeling in the feet, and causing ulcers.

Take care of your feet by:
1. At least once a year, see a podiatrist. They will examine the health of your feet by testing blood flow and nerve activity, as well as examining for changes in the structure of your feet on a daily basis (get someone to help you if you are unable to check them yourself).

2. Cuts, blisters, calluses, corns, tinea (particularly between the toes), and any other changes should all be looked for.

3. You can help prevent issues by using a moisturiser (such as sorbolene) if addressed early and without delay, especially if you have regions of dry, rough, or cracked skin on your feet and heels — this can help keep your feet healthy.

4. Protect your feet by wearing shoes that are both comfortable and supportive.

Complications of Diabetes with sexual function
Sexual function can be harmed by a lack of blood supply and nerve injury. In men, erectile dysfunction (impotence) is defined as the inability to produce or sustain an erection that is sufficient for sexual performance. This is an issue that affects males of all ages, although it is more prevalent among diabetic men.

Erectile dysfunction is an indication of another problem, whether physical, psychological, or a combination of both. Physical causes of erectile dysfunction, such as nerve or blood vessel injury, account for the majority of instances.

Sexual dysfunction is frequently observed among women, albeit there is little research on the subject. It's difficult to say if this is caused by hormonal changes like menopause or by diabetes.

Oral health and Diabetes
Tooth decay and gum infections are more common in people with poorly controlled diabetes. This is due to the possibility of harm to the little blood vessels that nourish your teeth and gums. (High blood glucose levels can also be caused by dental and gum infections.)

Gums can become inflamed and loosen around your teeth as a result of poor dental hygiene. It's also associated with a higher risk of heart disease. To lower your chances of developing tooth and gum problems, do the following:
1. See your dentist six times a year for a check-up.
2. Brush your teeth at least twice a day (with a gentle toothbrush) and floss at least once a day.
3. If you have dentures, make sure to brush them and your gums with a soft toothbrush.

Complications of Diabetes with mental health
Living with type 1 or type 2 diabetes and managing it can cause stress, anxiety, and despair. This can have an impact on your blood glucose levels and overall diabetes management. This can have a negative impact on your health over time.

If you are experiencing stress, depression, or anxiety, it is critical that you speak with your doctor. A diabetes mental health plan from your doctor can recommend you to a counsellor or psychologist. This item is covered by Medicare.

Why one should be serious about Diabetes

Diabetes may cause severe complications with your blood vessels, heart, nerves, kidneys, mouth, eyes, and feet over time. Amputation, which is surgery to remove a broken toe, foot, or leg, for example, may be the result of these issues.
Heart disease is the most severe complication of diabetes. Diabetes increases the risk of heart disease and stroke by more than double that of those without diabetes. You do not notice the typical signs and symptoms of a heart attack if you have diabetes. Working with your health care team to keep your blood glucose, blood pressure, and cholesterol levels within your target range is the safest way to take care of your health. Targets are numbers that you want to achieve.

Related topics:

1. Why B complex is required

B complex plays a vital role in maintaining good health by preventing infections and promoting cell health. This emphasizes b complex requirement in the body. To know more visit: Why B complex is required

2. Side effects of B complex

Vitamins are compounds which are needed in small amount and are present in food because they are not produced by the body. However, B vitamins are vital of all but there are some B complex side effects too. To know more visit: Side effects of B complex

3. How much B12 is require daily

Vitamin B12, one of eight B vitamins is a cofactor in DNA synthesis, and in both fatty acid and amino acid metabolism. Its deficiency can lead to Anaemia. To know more visit: How much B12 is require daily

4. Suitable age to start B complex tablet

Vitamins are compounds needed in small amount, present in food because the body does not produce them. Out of all, vitamin B is vital. Thus, irrespective of age it is necessary to consume B complex tablet. To know more visit: Suitable age to start B complex Tablet




The above essentials are available with AFDSHIELD.
AFDShield capsule is a combination of 12 natural ingredients among which are Algal DHA, Ashwagandha, Curcumin and Spirullina. AFD Shield reduces TG, increases HDL and improves age related cognitive decline. It also reduces stress and anxiety and performs anti-aging activity.Moreover, it also enhances the immunomodulatory activity, improves immunity and reduces inflammation and oxidative stress. Nutralogicx: AFDShield

मधुमेह क्या है

Diabetes

अवलोकन

मधुमेह एक ऐसी स्थिति है जिसमें रक्त ग्लूकोज, जिसे रक्त शर्करा भी कहा जाता है, असामान्य रूप से अधिक होता है। आपकी ऊर्जा का मुख्य स्रोत रक्त ग्लूकोज है, जो आपके रक्त में पाए जाने वाले चीनी का सबसे आम रूप है। ग्लूकोज आपके जिगर और मांसपेशियों में पैदा होता है, साथ ही आपके द्वारा खाए जाने वाले भोजन से भी। ग्लूकोज आपके रक्त द्वारा आपके शरीर की सभी कोशिकाओं तक ले जाया जाता है, जहां इसका उपयोग ऊर्जा के लिए किया जाता है।

अग्न्याशय, आपके पेट और रीढ़ के बीच स्थित एक पाचन अंग इंसुलिन नामक हार्मोन पैदा करता है। यह आपके खून में इंसुलिन जारी करताहै, जो शरीर की सभी कोशिकाओं को ग्लूकोज परिवहन करके ऊर्जा के रूप में उपयोग के लिए कोशिकाओं मेंग्लूकोज अवशोषण को सहायता देता है। लेकिन एसऑमटाइम आपके शरीर में पर्याप्त इंसुलिन का उत्पादन नहीं होता है, या इंसुलिन ठीक से काम नहीं करता है। ग्लूकोज आपके रक्त में रहता है और एक परिणाम के रूप में अपनी कोशिकाओं में प्रवेश नहीं करता है रक्त शर्करा का स्तर बहुत अधिक वृद्धि, मधुमेह या प्रीडायबिटीज का विकास । इसलिए, मधुमेह या तो अग्न्याशय द्वारा इंसुलिन उत्पादन की कमी या शरीर की कोशिकाओं द्वारा इंसुलिन प्रतिक्रिया की कमी के कारण होता है ।

अपने रक्त में बहुत अधिक ग्लूकोज हो रही समय के साथ स्वास्थ्य के मुद्दों के लिए नेतृत्व कर सकते हैं । हालांकि डायबिटीज का कोई इलाज नहीं है, लेकिन आप इसे नियंत्रित करने और स्वस्थ रहने के उपाय कर सकते हैं। मधुमेह अक्सर "चीनी का एक सा" या "सीमा रेखा मधुमेह के रूप में संदर्भित किया जाता है." जब आपके रक्त में ग्लूकोज का स्तर औसत से अधिक होता है लेकिन मधुमेह के रूप में निदान करने के लिए पर्याप्त उच्च नहीं होता है, तो आपके पास प्रीडायबिटीज होते हैं। प्रीडायबिटीज टाइप 2 डायबिटीज, हृदय रोग और स्ट्रोक विकसित होने का खतरा बढ़ाता है। आप वजन कम करके और मध्यम शारीरिक गतिविधि में संलग्न करके टाइप 2 मधुमेह को स्थगित या टाल सकते हैं। आप किसी भी दवा के उपयोग के बिना सामान्य ग्लूकोज के स्तर पर लौटने में भी सक्षम हो सकते हैं।

बार-बार पेशाब आना, प्यास बढ़जाना और भूख लगना आम बात है। मधुमेह, अगर अनियंत्रित छोड़ दिया, स्वास्थ्य के मुद्दों के कई करने के लिए नेतृत्व कर सकते हैं । मधुमेह कीटोएसिडोसिस, हाइपरोस्मोलर हाइपरग्लिकेमिया, और मृत्यु तीव्र जटिलताओं के सभी उदाहरण हैं। हृदय रोग, स्ट्रोक, क्रोनिक किडनी रोग, पैर अल्सर, तंत्रिका चोट, आंखों की क्षति, और संज्ञानात्मक विकलांगता सभी गंभीर दीर्घकालिक जटिलताएं हैं।

मधुमेह मेलिटस को तीन प्रकारों में विभाजित किया गया है । :

1. टाइप 1 डायबिटीज: टाइप 1 डायबिटीज अग्न्याशय में बीटा कोशिकाओं की कमी के कारण होता है, जो अग्न्याशय को पर्याप्त इंसुलिन का उत्पादन करने से रोकता है। पहले, इस स्थिति को "इंसुलिन-निर्भर मधुमेह मेलिटस" (IDDM) या "किशोर मधुमेह" केरूप में जाना जाताथा। एक ऑटोइम्यून प्रतिक्रिया बीटा कोशिकाओं के नुकसान का कारण बनती है। इस ऑटोइम्यून प्रतिक्रिया का कारण अज्ञात है। टाइप 1 डायबिटीज के इलाज के लिए इंसुलिन के इंजेक्शन का इस्तेमाल किया जाता है।।

2. टाइप 2 मधुमेह: इंसुलिन प्रतिरोध, एक बीमारी जिसमें कोशिकाएं इंसुलिन के लिए ठीक से प्रतिक्रिया नहीं करती हैं, टाइप 2 मधुमेह के लिए प्रारंभिक बिंदु है। रोग की प्रगति के रूप में इंसुलिन की कमी विकसित हो सकती है। पहले, इस हालत के रूप में जाना जाता था "गैर इंसुलिन पर निर्भर मधुमेह मेलिटस" (NIDDM) या "वयस्क शुरुआत मधुमेह." अत्यधिक शरीर के वजन और अपर्याप्त व्यायाम का एक संयोजन सबसे आम कारण है। टाइप 2 संतुलित आहार खाकर, नियमित रूप से व्यायाम करने, स्वस्थ वजन बनाए रखने और धूम्रपान न करके मधुमेह को रोका और इलाज किया जा सकता है। इंसुलिन संवेदीकरण, दोनों के साथ और इंसुलिन के बिना, टाइप 2 मधुमेह के इलाज के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। रक्तचाप को नियंत्रित करना और इस बीमारी से पीड़ित लोगों के लिए पर्याप्त पैर और आंखों की देखभाल प्रदान करना महत्वपूर्ण है। कम रक्त शर्करा इंसुलिन और कुछ मौखिक दवाओं के कारण हो सकता है। टाइप 2 डायबिटीज वाले लोगों में वजन घटाने की सर्जरी अक्सर एक सफल इलाज विकल्प होता है।

3. गर्भावधि मधुमेह: मधुमेह का तीसरा सबसे आम रूप है, और यह तब होता है जब गर्भवती महिलाओं को जो मधुमेह कभी नहीं किया है ऊंचा रक्त शर्करा के स्तर का अनुभव । गर्भावधि मधुमेह सामान्य रूप से बच्चे के जन्म के बाद दूर हो जाता है।

मधुमेह ने 2019 में दुनिया भर में अनुमानित 463 मिलियन लोगों (वयस्क आबादी का 8.8%) को प्रभावित किया, जिसमें टाइप 2 मधुमेह लगभग 90% मामलों के लिए लेखांकन था। महिलाओं और पुरुषों के बराबर रेट हैं। वर्तमान रुझानों के आधार पर भविष्य में दरें और बढ़ने की उम्मीद है । मधुमेह से अधिक युवा मरने का एक व्यक्ति की संभावना दोगुनी हो गई है । मधुमेह ने 2019 में लगभग 4.2 मिलियन लोगों की जान ली। यह मौत का दुनिया का सातवां प्रमुख कारण है । 2017 में, मधुमेह से संबंधित चिकित्सा खर्चों की वैश्विक आर्थिक लागत 727 बिलियन अमेरिकी डॉलर बताई गई थी। मधुमेह की लागत 2017 में संयुक्त राज्य अमेरिका में लगभग $ 327 बिलियन थी। मधुमेह के मरीज गैर-मधुमेह रोगियों की तुलना में चिकित्सा देखभाल पर २.३ गुना अधिक खर्च करते हैं ।

मधुमेह के लक्षण

अनपेक्षित वजन घटाने, पॉलीयूरिया (पेशाब में वृद्धि), पॉलीडिप्सिया (बढ़ी हुई प्यास), और पॉलीफैजिया अनुपचारित मधुमेह (बढ़ी हुई भूख) के सभी क्लासिक संकेत हैं। टाइप 1 मधुमेह में, लक्षण जल्दी (सप्ताह या महीने) दिखाई दे सकते हैं, जबकि टाइप 2 मधुमेह में, लक्षण आम तौर पर बहुत अधिक धीरे-धीरे दिखाई देते हैं और क्रमिक या अनुपस्थित हो सकते हैं।
जबकि मधुमेह के लिए अद्वितीय नहीं है, कई अन्य संकेत और लक्षण बीमारी की शुरुआत का संकेत दे सकते हैं। इनमें पहले बताए गए लक्षणों के अलावा धुंधली दृष्टि, सिरदर्द, मतली, सुस्त घाव भरने और खुजली वाली त्वचा शामिल हैं।
समय की एक विस्तारित अवधि में उच्च रक्त शर्करा का स्तर आंख के लेंस में ग्लूकोज अवशोषण पैदा कर सकता है, जिसके परिणामस्वरूप इसके आकार और दृष्टि परिवर्तन में परिवर्तन हो सकता है। डायबिटिक रेटिनोपैथी के कारण भी लंबे समय तक दृष्टि हानि हो सकती है। मधुमेह डर्माड्रोम त्वचा के चकत्ते के एक समूह को संदर्भित करता है जो मधुमेह के परिणामस्वरूप हो सकता है।

मधुमेह के लक्षण

विस्तार से मधुमेह के प्रकार

टाइप 1, टाइप 2, और गर्भावधि मधुमेह मधुमेह के तीन प्राथमिक रूप हैं। डायबिटीज किसी भी उम्र में किसी को प्रभावित कर सकती है। मधुमेह पुरुषों और महिलाओं दोनों को प्रभावित कर सकता है।

टाइप 1 मधुमेह: यह भी किशोर मधुमेहके रूप में जानाजाता है ।
टाइप 1 मधुमेह, पूर्व में किशोर मधुमेह के रूप में जाना जाता है, ज्यादातर बच्चों और किशोरों को प्रभावित करता है, लेकिन यह भी वयस्कों को प्रभावित कर सकते हैं । चूंकि प्रतिरक्षा प्रणाली, जो आमतौर पर बैक्टीरिया, वायरस और अन्य हानिकारक पदार्थों को हटाकर आपको संक्रमण से बचाती है, ने हमला किया है, और टाइप 1 मधुमेह में इंसुलिन का उत्पादन करने वाली कोशिकाओं को मार डाला है, इसलिए शरीर अब इंसुलिन या पर्याप्त इंसुलिन पैदा नहीं करता है।

टाइप 1 मधुमेह

मधुमेह प्रकार 1 के बारे में
1. यह बच्चों और किशोरों में सबसे आम है (हालांकि जीवन में बाद में हो सकता है)।
2. हाइपरग्लिकेमिया अग्न्याशय द्वारा जारी इंसुलिन हार्मोन की पूरी कमी के कारण होता है, जिसके परिणामस्वरूप हाइपरग्लिका एमिया होता है।
3. रोगियों को अपने जीवन के आराम के लिए इंसुलिन इंजेक्शन प्राप्त करना चाहिए ।
4. कोमा या कीटोएसिडोसिस जैसे महत्वपूर्ण लक्षण हो सकते हैं।
5. मधुमेह के इस रूप के साथ रोगियों को शायद ही कभी मोटापे से ग्रस्त हैं, लेकिन मोटापा रोग के साथ असंगत नहीं है ।
6. रोगियों में माइक्रोवैस्कुलर और मैक्रोवैस्कुलर जटिलताएं होने की संभावना अधिक होती है।

मधुमेह टाइप 1 के कारण
1. रक्त में इस तरह के एंटीबॉडी की उपस्थिति सामान्य रूप से (लेकिन हमेशा नहीं) अग्न्याशय बीटा कोशिकाओं के ऑटोइम्यून विनाश से जुड़ी होती है।
2. पर्यावरणीय कारकों के साथ-साथ कई जीनों में उत्परिवर्तन से शुरू होने वाला एक बहु-जीन विकार।

मधुमेह टाइप 1 के लक्षण
1. पॉलीयूरिया (बार-बार पेशाब), प्यास (पॉलीडिप्सिया), भूख (पॉलीफैजिया), और अस्पष्टीकृत वजन घटाने सभी पॉलीफैजिया के लक्षण हैं।
2. हाथ-पैरों में सुन्न होना, पैरों में दर्द(डिसेस्थेसियास),थकावट और धुंधली दृष्टि इस स्थिति के सभी लक्षण हैं।
3. संक्रमण जो पुनरावृत्ति या गंभीर हैं।
4. कीटोएसिडोसिस (चेतना की हानि) या कोमा (गंभीर मतली/उल्टी)। टी2डी रोगियों की तुलना में T1D रोगियों में कीटोएसिडोसिस अधिक आम है।

मधुमेह प्रकार 1 का निदान
1. क्लासिक हाइपरग्लाइसीमिया संकेतों की घटना और निदान करने के लिए एक अनियमित रक्त परीक्षण का उपयोग किया जाता है।
2. एक प्लाज्मा ग्लूकोज एकाग्रता > = 7 mmol/L (या १२६ मिलीग्राम/डीएल) या > = 11.1mmol/L (या 200mg/dL) एक 75g ग्लूकोज पीने के बाद 2 घंटे ।
3. अलग-अलग दिनों में दो अनियमित रक्त परीक्षणों का उपयोग क्लासिक लक्षणों के बिना रोगी का निदान करने के लिए भी किया जा सकता है।
4. एचबीए1सी नामक एक अन्य परीक्षण का उपयोग अधिकांश सेटिंग्स में किया जाता है (हालांकि हमेशा संसाधन-गरीब देशों में नहीं) पिछले 2-3 महीनों और प्रत्यक्ष उपचार निर्णयों पर मेटाबोलिक नियंत्रण का अनुमान लगाने के लिए।

मधुमेह टाइप 1 का उपचार
1. उपचार का अंतिम लक्ष्य लक्षणों को कम करना और सामान्य रक्त शर्करा के स्तर को बनाए रखते हुए जटिलताओं से बचना या स्थगित करना है।
2. संयोजन की एक किस्म में अपने जीवन के आराम के लिए इंसुलिन इंजेक्शन: लघु अभिनय/लंबे समय से अभिनय, भोजन से पहले कई इंजेक्शन के साथ आक्रामक देखभाल, एक या दो बार दैनिक इंजेक्शन, इंसुलिन पंप ।
3. इंसुलिन की एक स्थिर आपूर्ति होने महत्वपूर्ण है (हालांकि, इंसुलिन अनुपलब्ध है और कई गरीब देशों में सस्ती) ।
4. ग्लूकोमीटर के माध्यम से सेल्फ मॉनिटरिंग ब्लड ग्लूकोज.
5. जटिलताओं का जल्दी पता लगाने और उपचार के लिए आवश्यक आंखों की जांच, मूत्र परीक्षा, पैर की देखभाल, और विशेषज्ञ रेफरल (राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय दिशानिर्देशों द्वारा अनुशंसित अंतराल पर)
6. हाइपोग्लाइकेमिया के लिए आत्म-निगरानी पर रोगी शिक्षा (लक्षण और लक्षणों में भूख, धड़कन, शक्ति, पसीना, उनींदापन और चक्कर आना शामिल हैं)
7. हाइपरग्लाइकेमिया के लिए आत्म-निगरानी पर रोगी शिक्षा (लक्षण और लक्षणों में भूख, धड़कन, शक्ति, पसीना, उनींदापन और चक्कर आना शामिल हैं)।
8. रोगियों के लिए आहार, व्यायाम, और पैर की देखभाल शिक्षा।
9. जहां भी संभव हो, रोगी के नेतृत्व वाले सहायता समूहों और सामुदायिक जुड़ाव पर विचार किया जाना चाहिए ।

टाइप 2 मधुमेह: इसे एनआईडीएमके रूप में भी जाना जाताहै।
टाइप 2 मधुमेह, जिसे वयस्क-शुरुआत मधुमेह के रूप में भी जाना जाता है, बच्चों सहित किसी भी उम्र में किसी को भी हड़ताल कर सकता है। टाइप 2 मधुमेह, दूसरी ओर, मध्यम आयु वर्ग और बड़े लोगों में अधिक आम है ।

मोटे और निष्क्रिय लोगों में टाइप 2 डायबिटीज विकसित होने की संभावना भी अधिक होती है। इंसुलिन प्रतिरोध, जो तब होता है जब वसा, मांसपेशियों और यकृत कोशिकाओं को ऊर्जा के रूप में उपयोग के लिए शरीर की कोशिकाओं में ग्लूकोज परिवहन करने के लिए इंसुलिन का उपयोग नहीं करते हैं, टाइप 2 मधुमेह का सबसे आम कारण है। नतीजतन, ग्लूकोज तक पहुंचने में मदद करने के लिए अधिक इंसुलिन की आवश्यकता होती है। सबसे पहले, अग्न्याशय बढ़ी हुई मांग को पूरा करने के लिए अधिक इंसुलिन का उत्पादन करके प्रतिक्रिया देता है।

मधुमेह प्रकार 2 के बारे में
1. हाइपरग्लाईकेमिया इंसुलिन स्राव में कमी के कारण होता है, जो सामान्य रूप से इंसुलिन प्रतिरोध के साथ होता है।
2. रोगियों को आम तौर पर अपने जीवन के आराम के लिए इंसुलिन की जरूरत नहीं है, लेकिन वे आहार और अकेले व्यायाम के साथ अपने रक्त शर्करा को विनियमित कर सकते हैं, मौखिक दवाओं के साथ संयोजन के रूप में, या इंसुलिन के साथ ।
3. वयस्कता तब होती है जब यह सामान्य रूप से (लेकिन हमेशा नहीं) होता है (और बच्चों और किशोरों में वृद्धि हो रही है)।
4. मोटापा, शारीरिक गतिविधि की कमी, और एक गरीब आहार सभी इस हालत से जुड़े हुए हैं ।
5. T1D वाले रोगियों में माइक्रोवैस्कुलर और मैक्रोवैस्कुलर जटिलताओं के विकसित होने की संभावना अधिक होती है।

मधुमेह टाइप 2 के कारण
1. मोटापा, शारीरिक गतिविधि की कमी है, और एक गरीब आहार सभी इस हालत से जुड़े हुए है (और लगभग सभी मामलों में इंसुलिन प्रतिरोध शामिल है) ।
2. यह "मेटाबोलिक सिंड्रोम" का एक हिस्सा है और उच्च रक्तचाप, डिस्लिपिडीमिया (असामान्य कोलेस्ट्रॉल प्रोफ़ाइल), और केंद्रीय मोटापे वाले लोगों में अधिक आम है।
3. हालांकि यह एक ऐसी बीमारी है जो परिवारों में चलती है, लेकिन यह कई जीन के साथ-साथ पर्यावरणीय कारकों में म्यूटेशन के कारण होने वाली एक जटिल बीमारी है ।

मधुमेह टाइप 2 के लक्षण
1. रोगियों को निदान प्राप्त करने से पहले वर्षों के लिए कोई या मामूली लक्षण हो सकते हैं ।
2. पॉलीयूरिया, प्यास (पॉलीडिप्सिया), भूख (पॉलीफैगिया), और अस्पष्टीकृत वजन घटाने के सभी संभावित लक्षण हैं।
3. हाथ-पैरों में सुन्नता, पैरों में दर्द(डिस्ेस्थेसिया)और धुंधली दृष्टि सभी संभावित दुष्प्रभाव हैं।
4. यह संभव है कि आपको पुरानी या गंभीर संक्रमण मिलेगा।
5. T2D वाले रोगियों को चेतना या कोमा के नुकसान का अनुभव हो सकता है, लेकिन यह कम सामान्य है।

मधुमेह प्रकार 2 का निदान
1. क्लासिक हाइपरग्लिक की घटनाएकएमिया संकेत और एक अनियमित रक्त परीक्षण निदान करने के लिए उपयोग किया जाता है।
2. 75g ग्लूकोज पीने के 2 घंटे बाद, > = 7 mmol/L (या १२६ मिलीग्राम/डीएल) या > = 11.1 mmol/L (या २०० मिलीग्राम/डीएल) की प्लाज्मा ग्लूकोज एकाग्रता ।
3. अलग-अलग दिनों में दो अनियमित रक्त परीक्षणों का उपयोग क्लासिक लक्षणों के बिना रोगी का निदान करने के लिए भी किया जा सकता है।
4. एचबीए1सी नामक एक अन्य परीक्षण का उपयोग अधिकांश सेटिंग्स में किया जाता है (हालांकि यह पिछले 2-3 महीनों और प्रत्यक्ष उपचार निर्णयों पर मेटाबोलिक नियंत्रण का अनुमान लगाने के लिए कुछ संसाधन-खराब सेटिंग्स में उपलब्ध नहीं हो सकता है। इस टेस्ट का इस्तेमाल यह तय करने के लिए भी किया जा सकता है कि आपको टाइप 2 डायबिटीज है या नहीं ।
5. उच्च जोखिम वाली आबादी की "अवसरवादी स्क्रीनिंग" के माध्यम से, कुछ स्पर्शोन्मुख रोगियों का निदान किया जाता है (एक नियमित चिकित्सा यात्रा में, स्वास्थ्य देखभाल प्रदाता रोगी को मधुमेह के उच्च जोखिम पर होने के रूप में पहचान सकता है और स्क्रीनिंग परीक्षण की सिफारिश कर सकता है)।
6. ई के लिए। जी. , ४५ साल से अधिक पुराना होने के नाते, 25 किलो से अधिक का बीएमआई होने/
7. कुछ मामलों में, रोगी स्क्रीनिंग प्रक्रिया शुरू करता है।

मधुमेह टाइप 2 का उपचार
1. उपचार का अंतिम लक्ष्य लक्षणों को दूर करना और सामान्य रक्त शर्करा के स्तर को बनाए रखते हुए जटिलताओं से बचना या स्थगित करना है।
2. रोगियों को आहार और व्यायाम के साथ प्रबंधित किया गया था, साथ ही एक या अधिक प्रकार की मौखिक दवाएं, मौखिक दवाओं और इंसुलिन का मिश्रण, या केवल इंसुलिन।
3. आत्म निगरानी रक्त ग्लूकोज ग्लूकोमीटर (T1D के साथ की तुलना में कम आवृत्ति के साथ) ।
4. जटिलताओं का जल्दी पता लगाने और उपचार के लिए आवश्यक आंखों की जांच, मूत्र परीक्षा, पैर की देखभाल और विशेषज्ञ रेफरल (राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय दिशानिर्देशों द्वारा निर्धारित अंतराल पर)।
5. हाइपोग्लाइक के लिए आत्म-निगरानीएकएमिया और हाइपरग्लिकएकएमिया संकेत और लक्षण (जैसे भूख, धड़कन, शक्ति, पसीना, उनींदापन और चक्कर आना)।
6. आहार, व्यायाम, और पैर की देखभाल सभी विषयों है कि रोगियों पर शिक्षित कर रहे हैं ।
7. जब रक्त शर्करा का स्तर बढ़ जाता है, जैसे भोजन के बाद, अग्न्याशय समय के साथ अपर्याप्त इंसुलिन पैदा करता है। यदि आपका अग्न्याशय अब पर्याप्त इंसुलिन का उत्पादन नहीं कर सकता है तो आपको अपने प्रकार 2 मधुमेह का इलाज करने की आवश्यकता होगी।

गर्भावधि मधुमेह
जब एक महिला गर्भवती है, वह गर्भावधि मधुमेह का विकास होगा। इंसुलिन प्रतिरोध गर्भवती महिलाओं द्वारा उत्पादित हार्मोन के कारण हो सकता है। गर्भावस्था में देर से, दोनों महिलाओं को इंसुलिन प्रतिरोध विकसित होता है। गर्भावधि मधुमेह तब होता है जब अग्न्याशय गर्भावस्था के दौरान पर्याप्त इंसुलिन का उत्पादन नहीं करता है।

जिन महिलाओं का वजन या मोटापे से ग्रस्त होता है, उनके गर्भावधि मधुमेह के विकसित होने की संभावना अधिक होती है। इसके अतिरिक्त, गर्भावस्था के दौरान बहुत अधिक वजन बढ़ने से गर्भावधि मधुमेह का खतरा बढ़ सकता है।

बच्चे के पैदा होने के बाद गर्भावधि मधुमेह आमतौर पर दूर चला जाता है। गर्भावधि मधुमेह के साथ एक महिला, दूसरी ओर, अधिक प्रकार के विकास की संभावना है 2 मधुमेह जीवन में बाद में । मोटापा और टाइप 2 मधुमेह माताओं जो गर्भावधि मधुमेह था करने के लिए पैदा हुए बच्चों में अधिक आम हैं ।

गर्भावधि मधुमेह

गर्भावधि मधुमेह के बारे में
1. हाइपरग्लैकगर्भावस्था के दौरान (पूर्व मधुमेह की अनुपस्थिति में) और सामान्य रूप से (लेकिन हमेशा नहीं) प्रसव के 6 सप्ताह के भीतर हल करता है।
2. जन्मजात विकृतियां, जन्म के उच्च वजन, और प्रसवकालीन मृत्यु दर का बढ़ा हुआ जोखिम गर्भावस्था से जुड़े सभी जोखिम हैं।
3. महिलाओं को जीवन में बाद में मधुमेह (T2D) विकसित करने की संभावना अधिक होती है ।

गर्भावधि मधुमेह के कारण
1. हालांकि तंत्र अच्छी तरह से ज्ञात नहीं है, गर्भावस्था हार्मोन इंसुलिन कार्रवाई के साथ हस्तक्षेप करते हैं।

गर्भावधि मधुमेह के लक्षण
1. पॉलीडिप्सिया (प्यास में वृद्धि) और पॉलीयूरिया (पेशाब में वृद्धि) सबसे आम लक्षण हैं (हालांकि अन्य लक्षण मौजूद हो सकते हैं)।
2. चूंकि बढ़ी हुई पेशाब गर्भावस्था का एक आम हिस्सा है, इसलिए इन लक्षणों को अनियमित रूप में हाजिर करना मुश्किल हो सकता है।
3. गर्भावस्था के दौरान, एक बड़ा से अधिक सामांय बच्चे (एक नियमित रूप से जंम के पूर्व परीक्षा पर देखा) मधुमेह स्क्रीनिंग का संकेत कर सकते हैं ।

गर्भावधि मधुमेह का निदान
1. एक रात की जल्दी के बाद, एक नियमित रूप से OGTT 24-28 सप्ताह में किया जाता है (उपवास प्लाज्मा ग्लूकोज और एक प्लाज्मा ग्लूकोज 2 घंटे के बाद 75g ग्लूकोज पेय किया जाता है) ।
2. 2 घंटे के बाद > = 7.8 mmol/L (या 140 मिलीग्राम/डीएल) का स्तर गर्भावधि मधुमेह का निदान है।
3. यदि आपके उपवास और postprandial रक्त शर्करा पहली तिमाही में उच्च रहे हैं, इसका मतलब यह हो सकता है आप मधुमेह है (जो एक अलग स्थिति माना जाता है, अलग निहितार्थ के साथ) ।

गर्भावधि मधुमेह का उपचार
1. आहार/व्यायाम के साथ इलाज रोगियों, मौखिक दवाओं का उपयोग, या इंसुलिन के उपयोग के लिए रक्त ग्लूकोज के सख्त चयापचय विनियमन प्राप्त करने के लिए प्रसूति जोखिम को कम करने के लिए ।
2. ग्लूकोमीटर ऐसे उपकरण हैं जो आपको अपने रक्त शर्करा के स्तर को अपने स्वयं के ट्रैक करने की अनुमति देते हैं।
3. रोगियों के लिए आहार और फिटनेस शिक्षा।
4. प्रसव के बाद मरीजों को इस बारे में शिक्षित किया जाता है कि भविष्य में मधुमेह से बचने के लिए वजन कम करने और व्यायाम कैसे किया जाए।
5. टी2डी स्क्रीनिंग की जरूरत बाकी मरीज की जिंदगी के लिए होगी क्योंकि वह हाई रिस्क ग्रुप में होगा ।

मधुमेह की जटिलताओं

मधुमेह की जटिलता

मधुमेह जटिलताओं के दो प्रकार (रक्त वाहिकाओं को नुकसान के कारण)हैं:
1. माइक्रोवैस्कुलर जटिलताएं (छोटी रक्त वाहिकाओं को नुकसान के कारण): इस श्रेणी में जटिलताओं में आंखों (रेटिनोपैथी) के लिए डी एमेज शामिल हैं, गुर्दे (नेचुरोपैथी) गुर्दे की विफलता का कारण बन सकते हैं, और नसों (न्यूरोपैथी) नपुंसकता और मधुमेह पैर की समस्याओं का कारण बन सकता है (जिसमें गंभीर संक्रमण शामिल हैं जो विच्छेदन के लिए अग्रणी)।

2. मैक्रोवैस्कुलर जटिलताएं (बड़ी रक्त वाहिकाओं को नुकसान केकारण) : इस श्रेणी में जटिलताओं में हृदय संबंधी विकार जैसे हृदय संबंधी विकार शामिल हैं जैसे कि दिल का दौरा, स्ट्रोक और पैरों में खराब रक्त प्रवाह मैक्रोवैस्कुलर जटिलताओं के उदाहरण हैं।

व्यापक यादृच्छिक नियंत्रित परीक्षणों से पता चला है कि अच्छा मेटाबोलिक नियंत्रण टाइप 1 और टाइप 2 मधुमेह दोनों में इन जटिलताओं के विकास और प्रगति में देरी कर सकता है।

मधुमेह और हृदय की समस्याएं
रक्त वाहिका रोग, दिल का दौरा और स्ट्रोक हृदय रोग के सभी उदाहरण हैं।

मधुमेह वाले लोगों में हृदय रोग का खतरा अधिक होता है क्योंकि उनके कोलेस्ट्रॉल और रक्तचाप का स्तर आमतौर पर अधिक होता है। निष्क्रिय रहना, धूम्रपान करना, और हृदय रोग का पारिवारिक इतिहास होना ये सभी आपके जोखिम को बढ़ाते हैं।

अपने जोखिम को कम करने और किसी भी समस्या को जल्दी पकड़ने के लिए, इन चरणों का पालन करें:
1. यदि आपको उच्च रक्तचाप है या आप रक्तचाप की दवा का उपयोग कर रहे हैं तो हर छह महीने में कम से कम एक बार या अधिक बार अपने रक्तचाप की जाँच करें।
2. साल में कम से कम एक बार अपने एचबीए1सी की जांच कराएं, या सुझाव दिए जाने पर साल में तीन से छह बार जांच कराएं।
3. सुनिश्चित करें कि आप साल में कम से कम एक बार अपने कोलेस्ट्रॉल की जांच करवाएं। आपका डॉक्टर आगे के पैथोलॉजिकल परीक्षणों का भी आदेश दे सकता है, जैसे इलेक्ट्रोकार्डियोग्राम (ईसीजी) या व्यायाम तनाव परीक्षण।

मधुमेह और नेत्र समस्या
मधुमेह से संबंधित दृष्टि समस्याओं के उदाहरण निम्नलिखित हैं:
1. रेटिनोपैथी एक ऐसी स्थिति है जिसमें रेटिना में रक्त वाहिकाएं क्षतिग्रस्त हो जाती हैं, जिससे दृष्टि हानि होती है। रेटिनोपैथी के कई चरण हैं। चूंकि मधुमेह के शुरुआती चरणों में आमतौर पर कोई लक्षण नहीं होते हैं, इसलिए इसका शीघ्र निदान करने के लिए एक व्यापक नेत्र जांच आवश्यक है। नियमित नेत्र परीक्षण किसी भी परिवर्तन का शीघ्र पता लगाने में सक्षम होते हैं और, यदि आवश्यक हो, तो आगे के नुकसान को रोकने के लिए उपचार।

2. मैक्यूलर एडिमा - मैक्युला रेटिना का एक क्षेत्र है जो दृष्टि स्पष्टता में सहायता करता है। जब रेटिना में रक्त वाहिकाएं घायल हो जाती हैं, तो द्रव का निर्माण होता है, जिससे इस क्षेत्र में सूजन आ जाती है। परिणामस्वरूप मैक्युला घायल हो सकता है, और दृष्टि धुंधली हो सकती है। दवाएं उपलब्ध हैं।

3. मोतियाबिंद - आंख का लेंस बादल जाता है, जिससे दृष्टि धुंधली, विकृत या चकाचौंध के प्रति संवेदनशील हो जाती है - इसका शीघ्र पता लगाने की आवश्यकता होती है। मधुमेह वाले लोगों में मधुमेह के बिना लोगों की तुलना में कम उम्र में मोतियाबिंद होने की संभावना अधिक होती है।

ग्लूकोमा तब होता है जब आंख के भीतर तरल पदार्थ का दबाव स्वस्थ पर बढ़ जाता है। समय के साथ, यह दबाव आंख को नुकसान पहुंचा सकता है। ग्लूकोमा मधुमेह वाले या बिना मधुमेह वाले लोगों को प्रभावित कर सकता है, लेकिन यह मधुमेह रोगियों में अधिक बार होता है।

जबकि आंखों की चोट वाले अधिकांश व्यक्तियों में प्रारंभिक अवस्था में कोई लक्षण नहीं होते हैं, कुछ लक्षण उत्पन्न हो सकते हैं और तत्काल ध्यान देने की आवश्यकता होती है। अपने चिकित्सक को तुरंत देखें यदि आपको प्रकाश की चमक, फ्लोटर्स, धब्बे और धब्बे दिखाई देते हैं, या यदि आपकी दृष्टि का कोई हिस्सा गायब है।

मधुमेह और गुर्दे
गुर्दे की छोटी रक्त धमनियों में परिवर्तन मधुमेह वाले लोगों को गुर्दे की बीमारी (नेफ्रोपैथी) के खतरे में डाल देता है। गुर्दे की बीमारी दर्द रहित होती है, और जब तक रोग बढ़ नहीं जाता तब तक लक्षण प्रकट नहीं होते हैं।

स्क्रीनिंग के महत्व को कम करके नहीं आंका जा सकता है। मूत्र में माइक्रोएल्ब्यूमिन (प्रोटीन का अत्यंत सूक्ष्म स्तर) की जांच वर्ष में कम से कम एक बार की जा सकती है ताकि गुर्दे की दुर्बलता का शीघ्र पता लगाया जा सके। अनुमानित ग्लोमेरुलर निस्पंदन दर (ई-जीएफआर) सहित, आपके गुर्दा समारोह का आकलन करने के लिए एक रक्त परीक्षण का उपयोग किया जाएगा।

सही उपचार के साथ, अगर समस्याओं का जल्दी पता चल जाए तो नेफ्रोपैथी को धीमा या रोका जा सकता है। एंजियोटेंसिन-परिवर्तित एंजाइम अवरोधक (एसीई अवरोधक) और एंजियोटेंसिन रिसेप्टर विरोधी (एआरबी) ऐसी दवाएं हैं जो गुर्दे को और चोट से बचाती हैं। इन दवाओं से उच्च रक्तचाप का भी इलाज किया जा सकता है।

मधुमेह और तंत्रिकाएं
उच्च रक्त शर्करा का स्तर तंत्रिका चोट (न्यूरोपैथी) का सबसे आम कारण है, हालांकि तुलनीय तंत्रिका क्षति इसके कारण भी हो सकती है:
1. अत्यधिक मात्रा में शराब का सेवन
2. मधुमेह की दवा मेटफोर्मिन (तीन से पांच वर्ष) के लंबे समय तक उपयोग से विटामिन बी12 की कमी का खतरा बढ़ सकता है। आपका डॉक्टर यह देखने के लिए एक परीक्षण कर सकता है कि क्या यह मामला है।

पैरों और पैरों, बाहों, हाथों, छाती और पेट में संवेदी (महसूस) और मोटर (गति) नसों, साथ ही शरीर के अंगों की गतिविधियों को नियंत्रित करने वाली नसों, सभी क्षतिग्रस्त हो सकते हैं।

1. तंत्रिका चोट को रोकने में मदद के लिए, निम्न कार्य करें:
2. लक्ष्य सीमा में एक स्वस्थ रक्त शर्करा का स्तर बनाए रखें।
3. यदि आप शराब पीते हैं, तो सुझाई गई सीमा का पालन करें।
4. कृपया धूम्रपान न करें।
5. आपके हाथ, हाथ, पैर, या पैरों के साथ-साथ आपके पेट, आंतों या मूत्राशय में किसी भी समस्या के बारे में अपने डॉक्टर से चर्चा करनी चाहिए।

मधुमेह और पैर
जब मधुमेह के रोगी के पैरों में बड़ी और छोटी दोनों रक्त वाहिकाओं को रक्त की आपूर्ति कम हो जाती है, तो पैरों को नुकसान होने का खतरा होता है। तंत्रिका क्षति (परिधीय न्यूरोपैथी) आम है, जैसे पैर की संरचना के साथ समस्याएं, जैसे पंजे वाले पैर की उंगलियां।

कम रक्त की आपूर्ति और तंत्रिका कार्य, उपचार में देरी, संक्रमण के जोखिम को बढ़ाने, पैरों में महसूस करने को कम करने और अल्सर पैदा करने से अल्सर और संरचनात्मक पैर की समस्याएं पैदा कर सकता है।

अपने पैरों की देखभाल करें:
1. साल में कम से कम एक बार पोडियाट्रिस्ट से मिलें। वे रक्त प्रवाह और तंत्रिका गतिविधि का परीक्षण करके आपके पैरों के स्वास्थ्य की जांच करेंगे, साथ ही दैनिक आधार पर आपके पैरों की संरचना में बदलाव की जांच करेंगे (यदि आप उन्हें स्वयं जांचने में असमर्थ हैं तो किसी से मदद लें)।

2. कट, फफोले, कॉलस, कॉर्न्स, टिनिया (विशेषकर पैर की उंगलियों के बीच), और किसी भी अन्य परिवर्तन की तलाश की जानी चाहिए।

3. यदि आप जल्दी और बिना देरी किए एक मॉइस्चराइज़र (जैसे सोरबोलीन) का उपयोग करके मुद्दों को रोकने में मदद कर सकते हैं, खासकर यदि आपके पैरों और एड़ी पर शुष्क, खुरदरी या फटी त्वचा के क्षेत्र हैं - यह आपके पैरों को स्वस्थ रखने में मदद कर सकता है।

4. आरामदायक और सपोर्टिव दोनों तरह के जूते पहनकर अपने पैरों की सुरक्षा करें।

मधुमेह और यौन क्रिया
रक्त की आपूर्ति में कमी और तंत्रिका की चोट से यौन क्रिया को नुकसान हो सकता है। पुरुषों में, स्तंभन दोष (नपुंसकता) को एक ऐसे इरेक्शन को उत्पन्न करने या बनाए रखने में असमर्थता के रूप में परिभाषित किया गया है जो यौन प्रदर्शन के लिए पर्याप्त है। यह एक ऐसा मुद्दा है जो सभी उम्र के पुरुषों को प्रभावित करता है, हालांकि यह मधुमेह पुरुषों में अधिक प्रचलित है।

इरेक्टाइल डिसफंक्शन एक अन्य समस्या का संकेत है, चाहे वह शारीरिक, मनोवैज्ञानिक या दोनों का संयोजन हो। स्तंभन दोष के शारीरिक कारण, जैसे तंत्रिका या रक्त वाहिका की चोट, अधिकांश उदाहरणों के लिए जिम्मेदार हैं।

महिलाओं में यौन रोग अक्सर देखा जाता है, हालांकि इस विषय पर बहुत कम शोध हुआ है। यह कहना मुश्किल है कि यह रजोनिवृत्ति या मधुमेह जैसे हार्मोनल परिवर्तनों के कारण होता है।

मौखिक स्वास्थ्य और मधुमेह
खराब नियंत्रित मधुमेह वाले लोगों में दांतों की सड़न और मसूड़ों में संक्रमण अधिक आम है। यह आपके दांतों और मसूड़ों को पोषण देने वाली छोटी रक्त वाहिकाओं को नुकसान पहुंचाने की संभावना के कारण होता है। (उच्च रक्त शर्करा का स्तर दंत और मसूड़ों के संक्रमण के कारण भी हो सकता है।)

दांतों की खराब स्वच्छता के परिणामस्वरूप मसूड़े आपके दांतों के आसपास सूजन और ढीले हो सकते हैं। यह हृदय रोग के उच्च जोखिम से भी जुड़ा है। दांत और मसूड़े की समस्याओं के विकास की संभावनाओं को कम करने के लिए, निम्न कार्य करें:

1. चेक-अप के लिए साल में छह बार अपने दंत चिकित्सक से मिलें।
2. अपने दांतों को दिन में कम से कम दो बार (एक कोमल टूथब्रश से) ब्रश करें और दिन में कम से कम एक बार फ्लॉस करें।
3. यदि आपके पास दांत हैं, तो उन्हें और अपने मसूड़ों को मुलायम टूथब्रश से ब्रश करना सुनिश्चित करें।

मधुमेह और मानसिक स्वास्थ्य
टाइप 1 या टाइप 2 मधुमेह के साथ रहना और इसे प्रबंधित करना तनाव, चिंता और निराशा का कारण बन सकता है। यह आपके रक्त शर्करा के स्तर और समग्र मधुमेह प्रबंधन पर प्रभाव डाल सकता है। यह समय के साथ आपके स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकता है।

यदि आप तनाव, अवसाद या चिंता का अनुभव कर रहे हैं, तो यह महत्वपूर्ण है कि आप अपने डॉक्टर से बात करें। आपके डॉक्टर से एक मधुमेह मानसिक स्वास्थ्य योजना आपको परामर्शदाता या मनोवैज्ञानिक के पास भेज सकती है। यह आइटम मेडिकेयर द्वारा कवर किया गया है।

मधुमेह के बारे में गंभीर क्यों होना चाहिए?

मधुमेह समय के साथ अपने रक्त वाहिकाओं, दिल, नसों, गुर्दे, मुंह, आंखों, और पैरों के साथ गंभीर जटिलताओं का कारण बन सकता है। विच्छेदन, जो एक टूटे हुए पैर की अंगुली, पैर या पैर को हटाने के लिए सर्जरी है, उदाहरण के लिए, इन मुद्दों का परिणाम हो सकता है।

हृदय रोग मधुमेह की सबसे गंभीर जटिलता है। मधुमेह मधुमेह के बिना उन लोगों की तुलना में दोगुने से अधिक हृदय रोग और स्ट्रोक का खतरा बढ़ जाता है। यदि आपको मधुमेह है तो आप दिल के दौरे के विशिष्ट संकेतों और लक्षणों पर ध्यान नहीं देते हैं। अपने स्वास्थ्य देखभाल टीम के साथ काम करने के लिए अपने लक्ष्य सीमा के भीतर अपने रक्त ग्लूकोज, रक्तचाप, और कोलेस्ट्रॉल के स्तर को रखने के लिए सबसे सुरक्षित तरीका है अपने स्वास्थ्य का ख्याल रखना है । लक्ष्य ऐसे नंबर हैं जिन्हें आप हासिल करना चाहते हैं।।

संबंधित विषय:

1. बी कॉम्प्लेक्स की आवश्यकता क्यों है

बी कॉम्प्लेक्स संक्रमण को रोकने और सेल स्वास्थ्य को बढ़ावा देकर अच्छे स्वास्थ्य को बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यह शरीर में बी जटिल आवश्यकता पर जोर देता है। अधिक यात्रा जानने के लिए: बी कॉम्प्लेक्स की आवश्यकता क्यों है

2. बी कॉम्प्लेक्स के साइड इफेक्ट

विटामिन ऐसे यौगिक होते हैं जिनकी कम मात्रा में आवश्यकता होती है और भोजन में मौजूद होते हैं क्योंकि वे शरीर द्वारा निर्मित नहीं होते हैं। हालांकि, बी विटामिन सभी के लिए महत्वपूर्ण हैं लेकिन कुछ बी कॉम्प्लेक्स साइड इफेक्ट्स भी हैं। अधिक यात्रा जानने के लिए: बी कॉम्प्लेक्स के साइड इफेक्ट

3. B12 की प्रतिदिन कितनी आवश्यकता है

विटामिन बी 12, आठ बी विटामिनों में से एक डीएनए संश्लेषण में एक कॉफ़ेक्टर है, और फैटी एसिड और एमिनो एसिड चयापचय दोनों में। इसकी कमी से एनीमिया हो सकता है। अधिक यात्रा जानने के लिए: B12 की प्रतिदिन कितनी आवश्यकता है

4. बी कॉम्प्लेक्स टैबलेट शुरू करने के लिए उपयुक्त उम्र

विटामिन कम मात्रा में आवश्यक यौगिक होते हैं, भोजन में मौजूद होते हैं क्योंकि शरीर उनका उत्पादन नहीं करता है। सभी में से, विटामिन बी महत्वपूर्ण है। इस प्रकार, उम्र के बावजूद बी कॉम्प्लेक्स टैबलेट का सेवन करना आवश्यक है। अधिक यात्रा जानने के लिए: बी कॉम्प्लेक्स टैबलेट शुरू करने के लिए उपयुक्त आयु




उपर ब्लॉग में बताई गई उपलब्धिया AFD-SHIELD के साथ उपलब्ध हैं
एएफडी शील्ड कैप्सूल 12 प्राकृतिक अवयवों का एक संयोजन है जिनमें से अलगल डीएचए, अश्वगंधा, करक्यूमिन और स्पिरुलिना हैं। एएफडी शील्ड टीजी को कम करता है, एचडीएल बढ़ाता है और उम्र से संबंधित संज्ञानात्मक गिरावट में सुधार करता है। यह तनाव और चिंता को भी कम करता है और एंटी-एजिंग गतिविधि करता है। इसके अलावा, यह इम्युनोमॉड्यूलेटरी गतिविधि को बढ़ाता है, प्रतिरक्षा में सुधार करता है और सूजन और ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करता है। न्यूट्रोग्लिग्क्स: एएफडी-शील्ड

AFDIL Ltd.
+91 9920121021

order@afdil.com

Read Also:


Disclaimer
Home