Difference between Food and Dietary Supplements

Introduction


It is believed that over 80 percent of the people in general would look for a “supplement” when they want to strengthen their body or enhance their beauty; and thus, the word “supplement” is something that most people are familiar with. But not many people know that we have been using the term incorrectly.
According to the pharmaceutical regulations, "food supplement" is a natural food that contains dietary ingredient meant to add additional, nutritional value to your diet. In other words, food supplements can help prevent malnutrition while filling the gaps in your diet as to help promote good health.
From the abovementioned information about food supplements, many people might have a rough understanding of its meaning and benefits. But because the word “food supplement” has been used interchangeably with “dietary supplement products”, it always causes some confusion amongst us consumers. In truth, “dietary supplement products” is different to “food supplements”. When speaking of it is the supplements taken in addition to your regular diet. Most dietary supplement products are extractions from plants, animals, or it can be of synthesized enzymes that the body cannot create on its own. Dietary supplements usually come in the form of capsules or tablets, which are portable and easy to consume. Although dietary supplements can help nourish the body, it cannot cure or treat illnesses like medicines.
With this being said and done, although “food supplements” and “dietary supplements” are similar in a way, it is different. Remember that food supplements are regular food that you consume each and every day to maintain good health. But if you know that you are working too hard, and that your body needs more nutrients, then try to look for dietary supplements that suits your needs.
Over-dependence on supplements is not a good idea, in fact, using these products can land you in the emergency department.

Supplements

What are food supplements?


The idea behind food supplements, also called dietary or nutritional supplements, is to deliver nutrients that may not be consumed in sufficient quantities. Food supplements can be vitamins, minerals, amino acids, fatty acids, and other substances delivered in the form of pills, tablets, capsules, liquid, etc. Supplements are available in a range of doses, and in different combinations. However, only a certain amount of each nutrient is needed for our bodies to function, and higher amounts are not necessarily better. At high doses, some substances may have adverse effects, and may become harmful. For the reason of safeguarding consumers’ health, supplements can therefore only be legally sold with an appropriate daily dose recommendation, and a warning statement not to exceed that dose.
Supplement use varies in Europe. For example, it is common in Germany and Denmark (43% and 59% of the adult population respectively) but is less so in Ireland and Spain (23% and 9% respectively). Women use supplements more than men.

Who needs food supplements?

Supplements are not a substitute for a balanced healthy diet. A diet that includes plenty of fruits, vegetables, whole grains, adequate protein, and healthy fats should normally provide all the nutrients needed for good health. Most European countries agree that messages aimed at the general public should focus on food-based dietary guidelines. Supplements do not feature in these guidelines, but there are certain population groups or individuals who may need advice about supplements, even when they eat a healthy balanced diet, i.e. women of childbearing age, individuals on specific medications.
Partly due to our modern lifestyle, not everyone manages to eat a healthy diet. In Europe, dietary surveys have suggested that there are suboptimal intakes for several micronutrients. The EU-funded EURRECA project found inadequate intakes for vitamin C, vitamin D, folic acid, calcium, selenium and iodine. A recent comparison of national surveys showed widespread concern about vitamin D intakes, whereas certain age groups are more likely to have low intakes of minerals. For example, there is concern about adequate intakes of iron amongst teenage girls in Denmark, France, Poland, Germany and the UK. Poor iron status in young women also increases the risk of infants being born with low-birth weight, iron deficiency and delayed brain development. Folate status is also critical for women who may become pregnant. They are advised to take folic acid before conception, and continue for the first 12 weeks of pregnancy. An adequate folate status can decrease the risk of having a baby with neural tube defects such as spina bifida. Recent research suggests that 50–70% of Europeans have poor vitamin D status. Since vitamin D status is dependent not only on dietary intake but also exposure to UV light, there may be a stronger case for advising supplements for vitamin D in Northern European countries. In some countries (including UK, Ireland, the Netherlands and Sweden) there are already recommendations for certain groups in the population to take a vitamin D supplement, although there are calls for more research. Over-dependence on supplements is not a good idea, in fact, using these products can land you in the emergency department.

Analysis of Nutrition of India

India is one of the world’s largest producers of milk & pulses and ranks as the second-largest producer of rice, wheat, sugarcane, groundnut, vegetables, fruits, and cotton, as per the Food and Agriculture Organization of the United Nations (FAO). Despite the status, 14 per cent of India’s population is undernourished, according to ‘The State of Food Security and Nutrition in the World, 2020’ report. The report states 189.2 million people are undernourished in India and 34.7 % of the children aged under five in India are stunted. It further reports that 20 per cent of India’s children under the age of 5 suffer from wasting, meaning their weight is too low for their height.
In fact, India is home to the greatest number of malnourished children all across the world. We get a clear picture of this when we compare the nutritional status of India in National Family Health Survey 2015-2016 to the previous edition of the survey, the percentage of children who are anaemic has come down from 69.4 per cent in the country, but it still stands at 58.6 per cent. The level of children under 5 years who are severely wasted has increased from 6.4 per cent to 7.5 per cent, and child stunting which was previously marked as 48 per cent stands at a soaring 38.4 per cent even today!
In the country, 35 percent of malnourished children are below the age of five years. Bihar and Uttar Pradesh have the highest number of malnourished children, followed by Jharkhand, Meghalaya, and Madhya Pradesh. In Madhya Pradesh, 42 percent of children under the age of five are malnourished, while in Bihar it is 48.3 percent. Although, the situation is better in states like Kerala, Goa, Meghalaya, Tamil Nadu, and Mizoram.
The data certainly shows that malnutrition is indeed one of the most underrated problems faced by the country. Over the course of time, various governments have initiated several large-scale supplementary feeding programmes aimed at overcoming specific deficiency diseases to combat malnutrition. This includes programmes such as the distribution of prophylaxis against nutritional anaemia, Special Nutrition Programme, Balwadi Nutrition Programme, ICDS programme, and Mid-day meal programmes. Even though most of these programmes which are aimed at children, lactating mothers, pregnant women, and women in reproductive age groups have brought in results, its large-scale implementation is still a distant dream for the nation!

health and well-being

What are dietary supplements?


A dietary supplement is a manufactured product intended to supplement uses one's diet by taking a pill, capsule, tablet, powder or liquid. The class of nutrient compounds includes vitamins, minerals, fiber, fatty acids and amino acids. A supplement can provide nutrients either extracted from food sources or that are synthetic in order to increase the quantity of their consumption.
For many people, a healthy lifestyle means more than eating a good diet and getting enough exercise — vitamins, supplements, and complementary nutritional products are also part of the plan. But though there is much publicity about their potential benefits, there is less awareness of their possible harmful effects.
Dietary supplements can also contain substances that have not been confirmed as being essential to life, but are marketed as having a beneficial biological effect, such as plant pigments or polyphenols. Animals can also be a source of supplement ingredients, such as collagen from chickens or fish for example.
You’ve heard about them, may have used them, and may have even recommended them to friends or family. While some dietary supplements are well understood and established, others need further study. Before making decisions about whether to take a supplement, talk to your healthcare provider. They can help you achieve a balance between the foods and nutrients you personally need. Over-dependence on supplements is not a good idea, in fact, using these products can land you in the emergency department.
A dietary supplement is a product made that aims to supplement a person's diet by taking a pill, capsule, tablet, powder or liquid. The supplement may provide nutrients extracted from food or synthetic sources to increase the amount of their use. The component includes vitamins, minerals, fiber, fatty acids and amino acids. Dietary supplements may also contain substances that have not been confirmed as essential for health, but are marketed as having a positive biological effect, such as plant colors or polyphenols. Animals can also be a source of supplements, such as collagen from chickens or fish for example. These are sold individually and in combination, and can be combined with nutritional supplements. In the United States and Canada, dietary supplements are considered a dietary supplement, and they are properly regulated. The European Commission has also enacted regulations to help ensure that food ingredients are safe and labeled appropriately.
Products sold as food additives come with a Supplement Facts label that lists active ingredients, price per serving (dose), and other ingredients, such as filling, packaging, and flavor. The manufacturer recommends the size of the supply, but your healthcare provider may decide that a different price is more appropriate for you. Some nutritional supplements can help you get the right amount of essential nutrients if you do not eat a variety of nutritious foods. However, supplements cannot replace the various foods that are essential to a healthy diet.
Some dietary supplements can improve overall health and help manage other health conditions. For example:
• Calcium and vitamin D help keep bones strong and reduce bone loss. Benefits of vitamins are seen at every stage of life.
• Folic acid reduces the risk of certain birth defects.
• omega-3 fatty acids from fish fillets can help some people with heart disease.
• The combination of vitamins C and E, zinc, copper, lutein, and zeaxanthin (also known as AREDS) can reduce vision loss in people with age-related macular degeneration (AMD).
Many other supplements need more study to determine if they have the right value. The U.S. The Food and Drug Administration (FDA) does not determine whether dietary supplements are effective before they are marketed.

Benefits of Dietary Supplements

Although dietary supplements can cure and treat diseases such as medications, there are still some health benefits; including:
• Helps nourish and strengthen the body
• Helps to supply the nutrients the body needs but cannot produce
• Helps slow down the aging process and keep the body functioning properly
• Improves skin, making it glossy inside and out
• Keep their health normal
• Support mental performance related to sports performance
• Provide immune support
However, some people may need them especially, including:
• Pregnant or Non-Pregnant Women - Pregnant women should consume 400 micrograms of fodder daily, either in diet or supplements, to prevent birth defects. Folate is a B-vitamin, which is essential for the production of genetic material, including DNA. It is found in prenatal vitamins which may also have beneficial levels of iron and calcium.
• Older Adults - As we get older, we may need more vitamins and minerals than younger people. These can include calcium and Vitamin D, which are essential for bone strength, Vitamin B-6 which helps build red blood cells, and Vitamin B-12 which helps maintain nerve and red blood cells.
• People with Food or Allergy Food Allergies - If you are vegan, have food allergies or lactose intolerance, or have trouble digesting or absorbing nutrients, dietary supplements can give you important benefits.
To be on the safe side and increase the effectiveness of dietary supplements, you should check the labels, certified labels and instructions before using it. In addition, you should take notes on the proper use of your dietary supplements because some supplements should be taken with food to act like those of fat-soluble vitamins, while water-soluble ingredients absorb well on an empty stomach. Over-dependence on supplements is not a good idea, in fact, using these products can land you in the emergency department.

over-dependence on supplements

Dietary supplements for different age groups


A. Children

According to the American Academy of Pediatrics, healthy children should be able to receive the recommended daily allowances for all the vitamins and minerals they need in their diet. But some children do not eat "normal, balanced food." If you think your baby may need a vitamin supplement, talk to your doctor first, especially if your child:
• You are a food eater (multivitamin and mineral supplement)
• You lose one or more food groups such as vegetables or meat (multivitamin)
• Not drinking enough milk or eating other dairy products (vitamin D and calcium)
• You drink too much milk and not enough other foods (iron)
• Eat a vegetarian diet (may need vitamin B12, vitamin D, iron, calcium, and zinc if you do not eat enough of a protective diet)
• Eat lots of junk food (multivitamin and mineral supplement)
• Do not drink fluoridated water (fluoride)
• You have a health condition, such as short bowel disease, malabsorption, or cystic fibrosis, which can lead to problems in absorbing vitamins and minerals from the food they eat (multivitamin and / or mineral supplements)
• taking anti-convulsions (vitamin D) medication
• It is a limited diet due to allergies to several foods or health conditions

Fish Oil

The food pyramid recommends that children eat "fish rich in omega-3 fatty acids, such as salmon, trout, and herring," because fish oil can help prevent coronary heart disease. Because most children do not eat fish, and because fish oil can also promote mental development and prevent disease, many parents give their children omega-3 fish oil supplement with DHA and EPA. Although fish oil may not be considered harmful to children, it is a minor issue, as not all studies have shown that it is beneficial.

Vitamin D

Vitamin D is an important vitamin that helps children grow strong bones and protects adults from developing osteoporosis (weak bones break easily). That makes it very important for children to take a vitamin D supplement with 400 IU of vitamin D if they are not getting enough of their vitamin D-fortified foods. Most children do not need high doses of vitamin D, however, and the American Academy of Pediatrics recommends that those who need vitamin D should be tested their levels.

Gummy Vitamins

Parents often give their children gummy vitamins because this is the only type of vitamin their children will take. It is easy to see why, since most gummies are like candy. In fact, one gummy vitamin is spiced Jolly Rancher.
Benefits of vitamins are seen at every stage of life. It is important to keep these types of vitamins out of the reach of your children so that they do not take more than the recommended amount and get overdose. Keep in mind that gummy vitamins do not contain iron, an essential mineral that many children take supplements usually need, and most do not have calcium.

Vitamin C

Almost all baby vitamins, whether they are chewing multivitamins or gummy vitamins, include vitamin C. Most children, even those who are rich, get enough vitamin C from their diet, as most fruit juices contain 100% of your daily vitamin needs. C one service. But what about mega doses of vitamin C for children? Although some parents use extra vitamin C as a flu shot, this is controversial and is not recommended by many experts.
Antioxidants (vitamins A, C, and E)
As with vitamin C, some parents give other antioxidants - vitamins A and E - to their children as immune boosters. This has no proven benefits either. Also, keep in mind that most foods are now fortified with vitamins A, C, and E. There are other non-vitamin or mineral supplements that many parents give to their children.

Fibre

Many children, especially those who do not eat fruits and vegetables, are less likely to get enough fiber in their diet. Recent recommendations that children should consume approximately 14g grams of fiber for every 1,000 calories consumed. Those with a low fiber diet often experience constipation and abdominal pain.
If your child does not get enough fiber by eating a high-fat diet, they can benefit from a fiber supplement such as Benefiber, Citrucel, or Metamucil. There are even fiber gummies for young children.

Probiotics

Another popular supplement for children is probiotics such as Culturelle for Kids and Florastor Kids. Probiotics, also found in many types of yoghurt, are thought to work by increasing the number of beneficial intestinal bacteria that live in the intestinal tract and preventing the growth and proliferation of harmful bacteria.
Remember that apart from the use of children with severe diarrhea, such as gastroenteritis, probiotics have no real benefit yet, so you may want to wait until more research is done before giving probiotics to your children regularly.

B. Adult

Food is the best source of nutrients, including vitamins and minerals. Different foods have different types and amounts of vitamins and minerals. For example, milk contains high amounts of calcium, a small amount of vitamin C, and other nutrients such as vitamins A, B12, and D. Oranges are low in calcium, high in vitamin C, and other nutrients such as folate and potassium. Foods provide protein, fat, carbohydrate, fiber and other natural nutrients that are healthy. Eating a variety of foods including vegetables, fruits, whole grains, milk and other alternatives, and protein foods such as legumes, nuts and seeds, fish, and lean meats can help you meet your nutritional needs. Benefits of vitamins are seen at every stage of life. Most people get enough vitamins and minerals from food only if they follow a nutritious and varied diet. However, some people may need to add vitamins or minerals or both to help meet their needs. Ask your healthcare provider if you will benefit from the subsidy.
The need for vitamin D increases after age 50. It is recommended that adults over the age of 50 take daily vitamin D 400 IU (world units) and eat foods rich in vitamin D including:
• Milk, powdered milk and sugar-free condensed milk
• Soy drinks are fortified with vitamin D
• Oily fish such as salmon and sardines
More than 50 adults are recommended to take a vitamin B12 supplement or eat a vitamin B12 supplement. As you grow older, your body absorbs less vitamin B12 from natural sources including milk and dairy products, meat, fish, poultry and eggs. Vitamin B12 nutrients include:
• Other soy drinks
• Other meat options such as veggie burger and lean chicken, fish, and meatballs
See the Nutrition Facts table on the food label to see if food is fortified with vitamin B12. If vitamin B12 is not registered, the diet is not fortified.
• Special Food Considerations
People who do not eat animal products need to eat foods rich in vitamin B12 or take supplements. Vitamin D requirements can also be difficult to meet and supplementation can help.
• People who do not drink milk, calcium-rich drinks, or who eat a high-calcium diet may need a calcium supplement. Multivitamin / mineral supplements do not have enough calcium to meet daily needs.
• People with osteoporosis may need calcium and / or vitamin D supplements to meet their needs.
• People who are allergic to food or intolerant or who may have a limited diet may need a vitamin or mineral supplement or both to help meet their needs.
• Not always. A large number of certain vitamins or minerals may be recommended to treat a specific health condition. For example, you may need an iron supplement if you have low iron in your blood.
• Avoid taking large amounts of vitamins or minerals unless your healthcare provider recommends you. This may add more than a Safe Limit or Unbearable Import Level (UL). UL is a high daily dose of safe vitamins or minerals.
• If you are buying a vitamin and mineral supplement, look for an Environmental Product Number (NPN). The NPN states that the supplement meets Health Canada's safety standards for natural and illegal health products. Check the expiration date. Do not buy outdated or expired additives before completing the bottle.

c. Old

People over the age of 50 may need more vitamins and minerals than adults. Your doctor or dietitian may tell you if you need to change your diet or take a vitamin or mineral supplement to get the most out of:
• Calcium: Calcium works with vitamin D to keep bones strong throughout the years. Bone loss can lead to fractures in older women and men. Calcium is found in dairy and dairy products (low-fat or low-fat), canned fish with soft bones, green leafy vegetables such as kale, and foods high in calcium, such as breakfast cereals.
• Vitamin D: Benefits of vitamins are seen at every stage of life. Most people in the United States eat less than the recommended amount of vitamin D. Talk to your doctor about adding milk and dairy products that contain vitamin D, vitamin D fortified cereals, and fatty fish to your diet, or using vitamin D supplements.
• Vitamin B6: This vitamin is needed to build red blood cells. It is found in potatoes, bananas, chicken breasts, and hard grains.
• Vitamin B12: Benefits of vitamins are seen at every stage of life. This helps keep your red cells and nerves healthy. While older adults need as much vitamin B12 as other adults, some have difficulty finding the natural vitamin in their diet. If you have this problem, your doctor may recommend that you eat foods such as fortified foods with this vitamin supplement, or take a B12 supplement. People who eat only vegetables and vegans are at greater risk of developing vitamin B12 deficiency because natural sources of vitamin B12 are limited to animal foods. Talk to your doctor about taking a B12 supplement.

benefits of dietary supplements

Over-dependence on Supplements


For many people, a healthy lifestyle means more than eating a good diet and getting enough exercise — vitamins, supplements, and complementary nutritional products are also part of the plan. But though there is much publicity about their potential benefits, there is less awareness of their possible harmful effects.
Over-dependence on supplements is not a good idea, in fact, using these products can land you in the emergency department.
A study published today in The New England Journal of Medicine found that adverse effects of supplements were responsible for an average of about 23,000 emergency department (ED) visits per year. That’s a lot for something that is supposed to be good for you.
In this 10-year study, researchers looked at surveillance data from 63 hospital emergency departments to estimate the annual number of ED visits associated with adverse effects from dietary supplements. The authors defined “dietary supplements” as herbal or complementary products, and vitamin or amino acid micronutrients. Patients visiting the ED for symptoms related to supplement use were an average of 32 years old, and women made up more than half of all visits. Just over 10% of these visits resulted in admission to the hospital, especially among adults older than 65.
Weight-loss products accounted for one quarter of all single-product ED visits and disproportionately affected women, while men were more likely to experience adverse effects from products advertised for sexual enhancement and body building. Energy-boosting products made up another 10% of these visits.
Young adults weren’t the only ones affected. Many children under 4 years of age suffered allergic reactions or digestive symptoms (nausea, vomiting, abdominal pain) from unsupervised, accidental ingestion of vitamins. Patients older than 65 were more likely to have trouble swallowing after taking vitamins or micronutrients of large pill size.
Although the study’s findings are annual estimates based on ED visits to a relatively small number of hospitals, they reflect the growing use of dietary supplements and micronutrients. These products are widely available without prescription and are advertised as alternatives or complements to therapeutically prescribed pharmaceutical drugs. As a result, dietary or herbal supplements are widely perceived to be natural and safe. The most recent figures indicate that there are more than 55,000 such products available in the United States.

over-dependence on supplements



The above essentials are available with AFD SHIELD.
AFD Shield capsule is a combination of 12 natural ingredients among which are Algal DHA, Ashwagandha, Curcumin and Spirullina. AFD Shield reduces TG, increases HDL and improves age related cognitive decline. It also reduces stress and anxiety and performs anti-aging activity.Moreover, it also enhances the immunomodulatory activity, improves immunity and reduces inflammation and oxidative stress. Nutralogicx: AFD SHIELD

आहार की खुराक बनाम खाद्य की खुराक

परिचय


यह माना जाता है कि सामान्य रूप से 80 प्रतिशत से अधिक लोग "पूरक" की तलाश करेंगे जब वे अपने शरीर को मजबूत करना चाहते हैं या अपनी सुंदरता को बढ़ाना चाहते हैं; और इस प्रकार, शब्द "पूरक" कुछ है कि ज्यादातर लोगों से परिचित हैं। लेकिन बहुत से लोगों को पता नहीं है कि हम शब्द का गलत तरीके से उपयोग कर रहे हैं ।
दवा नियमों के अनुसार, "खाद्य पूरक" एक प्राकृतिक भोजन है जिसमें आहार घटक होता है जो आपके आहार में अतिरिक्त, पोषण मूल्य जोड़ने के लिए होता है। दूसरे शब्दों में, खाद्य की खुराक अच्छे स्वास्थ्य को बढ़ावा देने में मदद करने के लिए अपने आहार में अंतराल को भरने के दौरान कुपोषण को रोकने में मदद कर सकते हैं ।
फूड सप्लीमेंट के बारे में उपरोक्त जानकारी से, कई लोगों को इसके अर्थ और लाभों की कोई न कोई समझ हो सकती है। लेकिन क्योंकि शब्द "खाद्य पूरक" "आहार पूरक उत्पादों" के साथ एक दूसरे के साथ इस्तेमाल किया गया है, यह हमेशा हमारे उपभोक्ताओं के बीच कुछ भ्रम का कारण बनता है । सच में, "आहार पूरक उत्पाद" "खाद्य पूरक" के लिए अलग है। जब यह बात की बात अपने नियमित आहार के अलावा लिया की खुराक है। अधिकांश आहार पूरक उत्पाद पौधों, जानवरों से निष्कर्षण होते हैं, या यह संश्लेषित एंजाइमों का हो सकता है जो शरीर अपने आप नहीं बना सकता है। आहार की खुराक आमतौर पर कैप्सूल या गोलियों के रूप में आती है, जो पोर्टेबल और उपभोग करने में आसान हैं। हालांकि आहार की खुराक शरीर को पोषण में मदद कर सकते हैं, यह इलाज या दवाओं की तरह बीमारियों का इलाज नहीं कर सकते ।
इस के साथ कहा जा रहा है और किया है, हालांकि "खाद्य की खुराक" और "आहार की खुराक" एक तरह से समान हैं, यह अलग है । याद रखें कि फूड सप्लीमेंट नियमित भोजन होते हैं जिन्हें आप अच्छे स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए हर दिन उपभोग करते हैं। लेकिन अगर आप जानते हैं कि आप बहुत मेहनत कर रहे हैं, और आपके शरीर को अधिक पोषक तत्वों की जरूरत है, तो आहार की खुराक है कि अपनी जरूरतों के अनुरूप के लिए देखने की कोशिश करो ।
पूरक पर अधिक निर्भरता एक अच्छा विचार नहीं है, वास्तव में, इन उत्पादों का उपयोग आप आपातकालीन विभाग में भूमि कर सकते हैं ।

पूरक आहार

फूड सप्लीमेंट क्या हैं?


खाद्य की खुराक के पीछे विचार, जिसे आहार या पोषण की खुराक भी कहा जाता है, उन पोषक तत्वों को वितरित करना है जिनका पर्याप्त मात्रा में सेवन नहीं किया जा सकता है। खाद्य की खुराक विटामिन, खनिज, अमीनो एसिड, फैटी एसिड, और गोलियों, गोलियों, कैप्सूल, तरल, आदि के रूप में वितरित अन्य पदार्थ हो सकते हैं। खुराक की एक श्रृंखला में और विभिन्न संयोजनों में पूरक उपलब्ध हैं। हालांकि, हमारे शरीर को कार्य करने के लिए प्रत्येक पोषक तत्व की केवल एक निश्चित मात्रा की आवश्यकता होती है, और उच्च मात्रा जरूरी बेहतर नहीं होती है। उच्च खुराक पर, कुछ पदार्थों के प्रतिकूल प्रभाव हो सकते हैं, और हानिकारक हो सकते हैं। उपभोक्ताओं के स्वास्थ्य की सुरक्षा के कारण के लिए, की खुराक इसलिए केवल कानूनी तौर पर एक उचित दैनिक खुराक सिफारिश के साथ बेचा जा सकता है, और एक चेतावनी बयान है कि खुराक से अधिक नहीं है ।
पूरक उपयोग यूरोप में बदलता रहता है। उदाहरण के लिए, यह जर्मनी और डेनमार्क (वयस्क आबादी का क्रमशः 43% और 59%) में आम है, लेकिन आयरलैंड और स्पेन (क्रमशः 23% और 9%) में कम है। महिलाएं पुरुषों की तुलना में सप्लीमेंट का ज्यादा इस्तेमाल करती हैं।

कौन खाद्य की खुराक की जरूरत है?

पूरक एक संतुलित स्वस्थ आहार के लिए एक विकल्प नहीं हैं। एक आहार जिसमें बहुत सारे फल, सब्जियां, साबुत अनाज, पर्याप्त प्रोटीन और स्वस्थ वसा शामिल हैं, को सामान्य रूप से अच्छे स्वास्थ्य के लिए आवश्यक सभी पोषक तत्व प्रदान करना चाहिए। ज्यादातर यूरोपीय देशों का मानना है कि आम जनता के उद्देश्य से संदेश खाद्य आधारित आहार दिशा निर्देशों पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए । इन दिशानिर्देशों में पूरक की सुविधा नहीं है, लेकिन कुछ जनसंख्या समूह या व्यक्ति हैं जिन्हें पूरक के बारे में सलाह की आवश्यकता हो सकती है, यहां तक कि जब वे एक स्वस्थ संतुलित आहार खाते हैं, यानी प्रसव आयु की महिलाएं, विशिष्ट दवाओं पर व्यक्ति।
आंशिक रूप से हमारी आधुनिक जीवन शैली के कारण, हर कोई एक स्वस्थ आहार खाने के लिए प्रबंधन करता है। यूरोप में, आहार सर्वेक्षणों ने सुझाव दिया है कि कई सूक्ष्म पोषक तत्वों के लिए उप-सूक्ष्म सेवन हैं। यूरोपीय संघ द्वारा वित्तपोषित यूरेका परियोजना में विटामिन सी, विटामिन डी, फोलिक एसिड, कैल्शियम, सेलेनियम और आयोडीन के लिए अपर्याप्त सेवन पाया गया । राष्ट्रीय सर्वेक्षणों की हाल ही में तुलना में विटामिन डी के सेवन के बारे में व्यापक चिंता दिखाई गई, जबकि कुछ आयु समूहों में खनिजों की मात्रा कम होने की संभावना अधिक होती है । उदाहरण के लिए, डेनमार्क, फ्रांस, पोलैंड, जर्मनी और ब्रिटेन में किशोर लड़कियों के बीच लोहे के पर्याप्त सेवन के बारे में चिंता का विषय है । युवा महिलाओं में आयरन की खराब स्थिति से शिशुओं के पैदा होने का खतरा भी कम जन्म, आयरन की कमी और देरी से ब्रेन डेवलपमेनटी के साथ पैदा होने का खतरा बढ़जाता है । फोलेट स्थिति उन महिलाओं के लिए भी महत्वपूर्ण है जो गर्भवती हो सकती हैं। उन्हें गर्भधारण से पहले फोलिक एसिड लेने की सलाह दी जाती है, और गर्भावस्था के पहले 12 हफ्तों तक जारी रहती है। एक पर्याप्त फोलेट स्थिति स्पाइना बिफिडा जैसे तंत्रिका ट्यूब दोषों के साथ एक बच्चे होने के जोखिम को कम कर सकती है। हाल के शोध से पता चलता है कि 50-70% गोरों में विटामिन डी की स्थिति खराब है। चूंकि विटामिन डी की स्थिति न केवल आहार के सेवन पर निर्भर है बल्कि यूवी प्रकाश के संपर्क में भी है, इसलिए उत्तरी यूरोपीय देशों में विटामिन डी के लिए पूरक सलाह देने के लिए एक मजबूत मामला हो सकता है। कुछ देशों में (ब्रिटेन, आयरलैंड, नीदरलैंड और स्वीडन सहित) वहां पहले से ही जनसंख्या में कुछ समूहों के लिए सिफारिशें कर रहे है एक विटामिन डी पूरक ले, हालांकि वहां और अधिक अनुसंधान के लिए कहते हैं । पूरक पर अधिक निर्भरता एक अच्छा विचार नहीं है, वास्तव में, इन उत्पादों का उपयोग आप आपातकालीन विभाग में भूमि कर सकते हैं ।

त के पोषण का विश्लेषण

संयुक्त राष्ट्र (एफएओ) के खाद्य और कृषि संगठन के अनुसार भारत दूध और दालों के दुनिया के सबसे बड़े उत्पादकों में से एक है और चावल, गेहूं, गन्ना, मूंगफली, सब्जियां, फल और कपास के दूसरे सबसे बड़े उत्पादक के रूप में शुमार है । 'द स्टेट ऑफ फूड सिक्योरिटी एंड न्यूट्रिशन इन द वर्ल्ड, 2020' रिपोर्ट के अनुसार, स्थिति के बावजूद, भारत की 14 प्रतिशत आबादी कुपोषित है। रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत में १८९,२००,० लोग कुपोषित हैं और भारत में पांच वर्ष से कम आयु के ३४.७% बच्चे अविकसित हैं । इसमें आगे बताया गया है कि 5 साल से कम उम्र के भारत के 20 फीसदी बच्चे बर्बाद होने से पीड़ित हैं, मतलब उनकी हाइट के लिए उनका वजन बहुत कम है ।
वास्तव में, भारत दुनिया भर में कुपोषित बच्चों की सबसे बड़ी संख्या का घर है । जब हम राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण 2015-2016 में भारत की पोषण स्थिति की तुलना सर्वेक्षण के पिछले संस्करण से करते हैं तो हमें इसकी स्पष्ट तस्वीर मिलती है, देश में खून की कमी वाले बच्चों का प्रतिशत 694 प्रतिशत से कम हो गया है, लेकिन यह अभी भी 586 प्रतिशत है। 5 वर्ष से कम आयु के बच्चों का स्तर जो गंभीर रूप से बर्बाद हो जाता है, ६.४ प्रतिशत से बढ़कर ७.५ प्रतिशत हो गया है, और बाल स्टंटिंग जो पहले ४८ प्रतिशत के रूप में चिह्नित किया गया था, आज भी ३८.४ प्रतिशत पर खड़ा है ।
देश में 35 फीसद कुपोषित बच्चे पांच साल से कम उम्र के हैं। बिहार और उत्तर प्रदेश में सबसे ज्यादा कुपोषित बच्चों की संख्या है, इसके बाद झारखंड, मेघालय और मध्य प्रदेश हैं । मध्य प्रदेश में पांच साल से कम उम्र के 42 प्रतिशत बच्चे कुपोषित हैं, जबकि बिहार में यह 48.3 प्रतिशत है। हालांकि, केरल, गोवा, मेघालय, तमिलनाडु और मिजोरम जैसे राज्यों में स्थिति बेहतर है।
आंकड़ों से निश्चित रूप से पता चलता है कि कुपोषण वास्तव में देश के सामने आने वाली सबसे कम रेटेड समस्याओं में से एक है । समय के साथ, विभिन्न सरकारों ने कुपोषण से निपटने के लिए विशिष्ट कमी रोगों पर काबू पाने के उद्देश्य से कई बड़े पैमाने पर अनुपूरक आहार कार्यक्रम शुरू किए हैं । इसमें पोषण अनीमिया के खिलाफ प्रोफिलैक्सिस का वितरण, विशेष पोषण कार्यक्रम, बलवाड़ी पोषण कार्यक्रम, आईसीडीएस कार्यक्रम और मध्याह्न भोजन कार्यक्रम शामिल हैं । यद्यपि इनमें से अधिकांश कार्यक्रम जो बच्चों, स्तनपान कराने वाली माताओं, गर्भवती महिलाओं और प्रजनन आयु वर्ग की महिलाओं के उद्देश्य से किए गए हैं, परिणाम आए हैं, फिर भी इसका बड़े पैमाने पर कार्यान्वयन राष्ट्र के लिए एक दूर का सपना है ।

स्वास्थ्य और अच्छाई

आहार की खुराक क्या हैं?


आहार पूरक एक निर्मित उत्पाद है जो एक गोली, कैप्सूल, टैबलेट, पाउडर या तरल लेकर किसी के आहार का उपयोग करता है। पोषक तत्वों के यौगिकों की कक्षा में विटामिन, खनिज, फाइबर, फैटी एसिड और अमीनो एसिड शामिल हैं। एक पूरक या तो खाद्य स्रोतों से निकाले गए पोषक तत्व प्रदान कर सकता है या जो उनकी खपत की मात्रा बढ़ाने के लिए सिंथेटिक हैं।
कई लोगों के लिए, एक स्वस्थ जीवन शैली का मतलब है एक अच्छा आहार खाने और पर्याप्त व्यायाम प्राप्त करने से अधिक - विटामिन, पूरक और पूरक पोषण उत्पाद भी योजना का हिस्सा हैं। लेकिन हालांकि उनके संभावित लाभों के बारे में बहुत प्रचार है, लेकिन उनके संभावित हानिकारक प्रभावों के बारे में कम जागरूकता है।
आहार की खुराक में ऐसे पदार्थ भी हो सकते हैं जिनकी पुष्टि जीवन के लिए आवश्यक होने के रूप में नहीं की गई है, लेकिन पौधे के पिगमेंट या पॉलीफेनॉल जैसे लाभकारी जैविक प्रभाव के रूप में विपणन किया जाता है। जानवर भी पूरक अवयवों का स्रोत हो सकते हैं, जैसे कि उदाहरण के लिए मुर्गियों या मछली से कोलेजन।
आपने उनके बारे में सुना है, हो सकता है कि उन्होंने उनका उपयोग किया हो, और हो सकता है कि उन्हें दोस्तों या परिवार के लिए भी सिफारिश की हो। जबकि कुछ आहार की खुराक अच्छी तरह से समझ और स्थापित कर रहे हैं, दूसरों को आगे के अध्ययन की जरूरत है । पूरक लेने के बारे में निर्णय लेने से पहले, अपने स्वास्थ्य सेवा प्रदाता से बात करें। वे आपको व्यक्तिगत रूप से आवश्यक खाद्य पदार्थों और पोषक तत्वों के बीच संतुलन प्राप्त करने में मदद कर सकते हैं। पूरक पर अधिक निर्भरता एक अच्छा विचार नहीं है, वास्तव में, इन उत्पादों का उपयोग आप आपातकालीन विभाग में भूमि कर सकते हैं ।
आहार पूरक एक ऐसा उत्पाद है जिसका उद्देश्य एक गोली, कैप्सूल, टैबलेट, पाउडर या तरल लेकर किसी व्यक्ति के आहार को पूरक करना है। पूरक उनके उपयोग की मात्रा बढ़ाने के लिए भोजन या सिंथेटिक स्रोतों से निकाले गए पोषक तत्व प्रदान कर सकता है। घटक विटामिन, खनिज, फाइबर, फैटी एसिड और अमीनो एसिड शामिल हैं । आहार की खुराक में ऐसे पदार्थ भी हो सकते हैं जिन्हें स्वास्थ्य के लिए आवश्यक के रूप में पुष्टि नहीं की गई है, लेकिन पौधे के रंग या पॉलीफेनॉल जैसे सकारात्मक जैविक प्रभाव के रूप में विपणन किया जाता है। जानवर भी पूरक का स्रोत हो सकते हैं, जैसे कि उदाहरण के लिए मुर्गियों या मछली से कोलेजन। इन्हें व्यक्तिगत रूप से और संयोजन में बेचा जाता है, और पोषण की खुराक के साथ जोड़ा जा सकता है। संयुक्त राज्य अमेरिका और कनाडा में, आहार की खुराक एक आहार पूरक माना जाता है, और वे ठीक से विनियमित कर रहे हैं। यूरोपीय आयोग ने यह सुनिश्चित करने में मदद करने के लिए विनियम भी लागू किए हैं कि खाद्य सामग्री सुरक्षित और उचित रूप से लेबल की गई है ।
खाद्य योजक के रूप में बेचे जाने वाले उत्पाद एक पूरक तथ्य लेबल के साथ आते हैं जो सक्रिय अवयवों, प्रति सेवारत मूल्य (खुराक) और अन्य अवयवों, जैसे भरने, पैकेजिंग और स्वाद को सूचीबद्ध करता है। निर्माता आपूर्ति के आकार की सिफारिश करता है, लेकिन आपका स्वास्थ्य सेवा प्रदाता यह तय कर सकता है कि आपके लिए एक अलग कीमत अधिक उपयुक्त है। अगर आप कई तरह के पौष्टिक आहार नहीं खाते हैं तो कुछ पोषण आहार आपको सही मात्रा में आवश्यक पोषक तत्व प्राप्त करने में मदद कर सकते हैं। हालांकि, पूरक विभिन्न खाद्य पदार्थों की जगह नहीं ले सकते हैं जो स्वस्थ आहार के लिए आवश्यक हैं।
कुछ आहार की खुराक समग्र स्वास्थ्य में सुधार और अन्य स्वास्थ्य स्थितियों का प्रबंधन करने में मदद कर सकते हैं। उदाहरण के लिए:
• कैल्शियम और विटामिन डी हड्डियों को मजबूत रखने और हड्डियों के नुकसान को कम करने में मदद करते हैं। विटामिन के लाभ जीवन के हर चरण में देखे जाते हैं।
• फोलिक एसिड कुछ जन्म दोषों के खतरे को कम करता है।
• मछली के पट्टिकाओं से ओमेगा-3 फैटी एसिड हृदय रोग से पीड़ित कुछ लोगों की मदद कर सकता है।
• विटामिन सी और ई, जिंक, कॉपर, ल्यूटिन और जेक्सेंथिन (जिसे एर्ड्स के नाम से भी जाना जाता है) का संयोजन उम्र से संबंधित मैकुलर डिजनरेशन (एएमडी) वाले लोगों में दृष्टि हानि को कम कर सकता है।
कई अन्य की खुराक और अधिक अध्ययन की जरूरत है निर्धारित करने के लिए अगर वे सही मूल्य है. अमेरिका खाद्य एवं औषधि प्रशासन (एफडीए) निर्धारित नहीं करता है कि आहार की खुराक से पहले वे विपणन कर रहे है प्रभावी हैं ।

आहार की खुराक के लाभ

हालांकि आहार की खुराक का इलाज और दवाओं के रूप में रोगों का इलाज कर सकते हैं, वहां अभी भी कुछ स्वास्थ्य लाभ कर रहे हैं; सहित:
• शरीर को पोषण और मजबूत करने में मदद करता है
• शरीर की जरूरतों के पोषक तत्वों की आपूर्ति करने में मदद करता है, लेकिन उत्पादन नहीं कर सकते
• उम्र बढ़ने की प्रक्रिया को धीमा करने और शरीर को ठीक से काम करने में मदद करता है
• त्वचा में सुधार करता है, जिससे यह अंदर और बाहर चमकदार हो जाता है
• उनके स्वास्थ्य को सामान्य रखें
• खेल प्रदर्शन से संबंधित मानसिक प्रदर्शन का समर्थन करें
• प्रतिरक्षा सहायता प्रदान करें
हालांकि, कुछ लोगों को विशेष रूप से उनकी आवश्यकता हो सकती है, जिसमें शामिल हैं:
• गर्भवती या गैर-गर्भवती महिलाओं - गर्भवती महिलाओं को जन्म दोषों को रोकने के लिए दैनिक आहार या पूरक में 400 माइक्रोग्राम चारे का सेवन करना चाहिए। फोलेट एक बी-विटामिन है, जो डीएनए सहित आनुवंशिक सामग्री के उत्पादन के लिए आवश्यक है। यह जन्म के पूर्व विटामिन में पाया जाता है जिसमें आयरन और कैल्शियम का लाभकारी स्तर भी हो सकता है।
• पुराने वयस्कों - जैसा कि हम बड़े हो, हम युवा लोगों की तुलना में अधिक विटामिन और खनिजों की आवश्यकता हो सकती है। इनमें कैल्शियम और विटामिन डी शामिल हो सकते हैं, जो हड्डियों की ताकत के लिए आवश्यक हैं, विटामिन बी-6 जो लाल रक्त कोशिकाओं के निर्माण में मदद करता है, और विटामिन बी-12 जो तंत्रिका और लाल रक्त कोशिकाओं को बनाए रखने में मदद करता है ।
• खाद्य या एलर्जी खाद्य एलर्जी वाले लोग - यदि आप शाकाहारी हैं, खाद्य एलर्जी या लैक्टोज असहिष्णुता है, या पोषक तत्वों को पचाने या अवशोषित करने में परेशानी होती है, तो आहार की खुराक आपको महत्वपूर्ण लाभ दे सकती है।
सुरक्षित पक्ष पर होने के लिए और आहार की खुराक की प्रभावशीलता में वृद्धि करने के लिए, आप इसे का उपयोग करने से पहले लेबल, प्रमाणित लेबल और निर्देशों की जांच करनी चाहिए । इसके अलावा, आपको अपने आहार की खुराक के उचित उपयोग पर नोट लेना चाहिए क्योंकि वसा में घुलनशील विटामिन की तरह कार्य करने के लिए कुछ पूरक भोजन के साथ लिया जाना चाहिए, जबकि पानी में घुलनशील सामग्री खाली पेट पर अच्छी तरह से अवशोषित होती है। पूरक पर अधिक निर्भरता एक अच्छा विचार नहीं है, वास्तव में, इन उत्पादों का उपयोग आप आपातकालीन विभाग में भूमि कर सकते हैं ।

पूरक पर अधिक निर्भरता

विभिन्न आयु समूहों के लिए आहार की खुराक


बच्चे

अमेरिकन एकेडमी ऑफ पीडियाट्रिक्स के अनुसार, स्वस्थ बच्चों को अपने आहार में आवश्यक सभी विटामिन और खनिजों के लिए अनुशंसित दैनिक भत्ते प्राप्त करने में सक्षम होना चाहिए। लेकिन कुछ बच्चे "सामान्य, संतुलित भोजन" नहीं खाते हैं। यदि आपको लगता है कि आपके बच्चे को विटामिन पूरक की आवश्यकता हो सकती है, तो पहले अपने डॉक्टर से बात करें, खासकर यदि आपका बच्चा:
• आप एक खाद्य भक्षक हैं (मल्टीविटामिन और खनिज पूरक)
• आप सब्जियों या मांस (मल्टीविटामिन) जैसे एक या एक से अधिक खाद्य समूहों को खो देते हैं
• पर्याप्त दूध न पीएं या अन्य डेयरी उत्पादों (विटामिन डी और कैल्शियम) को न पीएं
• आप बहुत अधिक दूध पीते हैं और पर्याप्त अन्य खाद्य पदार्थ नहीं (लोहा)
• शाकाहारी आहार खाएं (यदि आप पर्याप्त सुरक्षात्मक आहार नहीं खाते हैं तो विटामिन बी 12, विटामिन डी, आयरन, कैल्शियम और जिंक की आवश्यकता हो सकती है)
• बहुत सारे जंक फूड खाएं (मल्टीविटामिन और मिनरल सप्लीमेंट)
• फ्लोराइडयुक्त पानी (फ्लोराइड) न पीएं
• आपके पास एक स्वास्थ्य स्थिति है, जैसे कि छोटी आंत की बीमारी, मैलासोर्प्शन, या सिस्टिक फाइब्रोसिस, जो विटामिन और खनिजों को उनके द्वारा खाए जाने वाले भोजन (मल्टीविटामिन और/
• एंटी-आक्षेप (विटामिन डी) दवा लेना
• यह कई खाद्य पदार्थों या स्वास्थ्य की स्थिति के लिए एलर्जी के कारण एक सीमित आहार है

मछली का तेल

खाद्य पिरामिड की सिफारिश की है कि बच्चों को खाने "ओमेगा-3 फैटी एसिड, जैसे सामन, ट्राउट, और हेरिंग में अमीर मछली," क्योंकि मछली के तेल कोरोनरी हृदय रोग को रोकने में मदद कर सकते हैं । क्योंकि ज्यादातर बच्चों को मछली नहीं खाते हैं, और क्योंकि मछली के तेल भी मानसिक विकास को बढ़ावा देने और रोग को रोकने के लिए कर सकते हैं, कई माता पिता अपने बच्चों को DHA और EPA के साथ ओमेगा-3 मछली तेल पूरक दे । हालांकि मछली के तेल को बच्चों के लिए हानिकारक नहीं माना जा सकता है, लेकिन यह एक मामूली मुद्दा है, क्योंकि सभी अध्ययनों से पता नहीं चला है कि यह फायदेमंद है ।

विटामिन डी

विटामिन डी एक महत्वपूर्ण विटामिन है जो बच्चों को मजबूत हड्डियों को विकसित करने में मदद करता है और वयस्कों को ऑस्टियोपोरोसिस विकसित करने से बचाता है (कमजोर हड्डियां आसानी से टूट जाती हैं)। कि यह बहुत महत्वपूर्ण बच्चों के लिए विटामिन डी के ४०० आईयू के साथ एक विटामिन डी पूरक लेने के लिए अगर वे अपने विटामिन डी के लिए पर्याप्त नहीं हो रही है फोर्टिफाइड खाद्य पदार्थ बनाता है । ज्यादातर बच्चों को विटामिन डी की उच्च खुराक की आवश्यकता नहीं है, हालांकि, और अमेरिकन एकेडमी ऑफ पीडियाट्रिक्स की सिफारिश की जाती है कि जिन्हें विटामिन डी की आवश्यकता होती है, उनके स्तर का परीक्षण किया जाना चाहिए।

गमी विटामिन

माता-पिता अक्सर अपने बच्चों को गमी विटामिन देते हैं क्योंकि यह एकमात्र प्रकार का विटामिन है जो उनके बच्चे लेंगे। यह देखने के लिए क्यों आसान है, क्योंकि अधिकांश गमी कैंडी की तरह हैं। दरअसल, एक गमी विटामिन मसालेदार जॉली रैंचर होता है।
विटामिन के लाभ जीवन के हर चरण में देखे जाते हैं। इस प्रकार के विटामिन को अपने बच्चों की पहुंच से बाहर रखना महत्वपूर्ण है ताकि वे अनुशंसित राशि से अधिक न लें और ओवरडोज प्राप्त करें। ध्यान रखें कि गमी विटामिन में आयरन नहीं होता, एक जरूरी मिनरल जिसे कई बच्चे आमतौर पर सप्लीमेंट लेते हैं, और ज्यादातर में कैल्शियम नहीं होता है।

विटामिन सी

लगभग सभी बेबी विटामिन, चाहे वे मल्टीविटामिन या गमी विटामिन चबा रहे हों, इसमें विटामिन सी शामिल है। ज्यादातर बच्चों, यहां तक कि जो लोग अमीर हैं, अपने आहार से पर्याप्त विटामिन सी मिलता है, के रूप में सबसे फलों के रस अपने दैनिक विटामिन की जरूरत का १००% होते हैं । सी एक सेवा। लेकिन बच्चों के लिए विटामिन सी की मेगा खुराक के बारे में क्या? हालांकि कुछ माता पिता एक फ्लू शॉट के रूप में अतिरिक्त विटामिन सी का उपयोग करें, यह विवादास्पद है और कई विशेषज्ञों द्वारा सिफारिश नहीं है ।

एंटीऑक्सीडेंट (विटामिन ए, सी और ई)

विटामिन सी के साथ के रूप में, कुछ माता पिता अन्य एंटीऑक्सीडेंट देते हैं - विटामिन ए और ई - प्रतिरक्षा बूस्टर के रूप में अपने बच्चों को। यह कोई सिद्ध लाभ भी है । इसके अलावा, ध्यान रखें कि अधिकांश खाद्य पदार्थ अब विटामिन ए, सी और ई के साथ मजबूत होते हैं। अन्य गैर विटामिन या खनिज की खुराक है कि कई माता पिता अपने बच्चों को दे रहे हैं।

रेशा

कई बच्चों, खासकर जो लोग फल और सब्जियां नहीं खाते हैं, उनकी डाइट में पर्याप्त फाइबर मिलने की संभावना कम होती है। हाल की सिफारिशों कि बच्चों को हर 1,000 कैलोरी की खपत के लिए फाइबर के लगभग 14g ग्राम का उपभोग करना चाहिए। कम फाइबर आहार वाले लोग अक्सर कब्ज और पेट दर्द का अनुभव करते हैं।
यदि आपके बच्चे को उच्च वसा वाले आहार खाने से पर्याप्त फाइबर नहीं मिलता है, तो वे बेनेफ़िबर, सिट्रुसेल या मेटामुसिल जैसे फाइबर पूरक से लाभान्वित हो सकते हैं। छोटे बच्चों के लिए फाइबर गमियां भी हैं।

प्रोबायोटिक्स

बच्चों के लिए एक और लोकप्रिय पूरक प्रोबायोटिक्स है जैसे कि किड्स और फ्लोरास्टर किड्स के लिए कल्चरल। प्रोबायोटिक्स, दही के कई प्रकार में भी पाया जाता है, आंतों के पथ में रहने वाले लाभकारी आंतों के बैक्टीरिया की संख्या में वृद्धि और हानिकारक बैक्टीरिया के विकास और प्रसार को रोकने के द्वारा काम करने के लिए सोचा जाता है ।
याद रखें कि गंभीर दस्त वाले बच्चों के उपयोग के अलावा, जैसे आंत्रशोथ, प्रोबायोटिक्स का अभी तक कोई वास्तविक लाभ नहीं है, इसलिए आप नियमित रूप से अपने बच्चों को प्रोबायोटिक्स देने से पहले अधिक शोध किए जाने तक इंतजार करना चाह सकते हैं।

B. वयस्क

भोजन विटामिन और खनिजों सहित पोषक तत्वों का सबसे अच्छा स्रोत है। विभिन्न खाद्य पदार्थों में विभिन्न प्रकार और विटामिन और खनिजों की मात्रा होती है। उदाहरण के लिए, दूध में कैल्शियम की उच्च मात्रा, विटामिन सी की थोड़ी मात्रा और विटामिन ए, बी 12 और डी संतरे जैसे अन्य पोषक तत्व कैल्शियम में कम, विटामिन सी में उच्च और फोलेट और पोटेशियम जैसे अन्य पोषक तत्व होते हैं। खाद्य पदार्थ प्रोटीन, वसा, कार्बोहाइड्रेट, फाइबर और अन्य प्राकृतिक पोषक तत्व प्रदान करते हैं जो स्वस्थ हैं। सब्जियों, फलों, साबुत अनाज, दूध और अन्य विकल्पों सहित विभिन्न प्रकार के खाद्य पदार्थों को खाने से फलियां, नट और बीज, मछली और दुबला मांस जैसे प्रोटीन खाद्य पदार्थ आपको अपनी पोषण संबंधी जरूरतों को पूरा करने में मदद कर सकते हैं। विटामिन के लाभ जीवन के हर चरण में देखे जाते हैं। अधिकांश लोगों को भोजन से पर्याप्त विटामिन और खनिज तभी मिलता है जब वे पौष्टिक और विविध आहार का पालन करते हैं। हालांकि, कुछ लोगों को अपनी जरूरतों को पूरा करने में मदद करने के लिए विटामिन या खनिज या दोनों जोड़ने की आवश्यकता हो सकती है। अपने हेल्थकेयर प्रोवाइडर से पूछें कि क्या आपको सब्सिडी से फायदा होगा ।
50 की उम्र के बाद विटामिन डी की जरूरत बढ़ जाती है। यह सिफारिश की जाती है कि 50 से अधिक आयु के वयस्क दैनिक विटामिन डी 400 आईयू (विश्व इकाइयां) लें और विटामिन डी में समृद्ध खाद्य पदार्थ खाएं जिनमें शामिल हैं:
• दूध, पाउडर दूध और चीनी मुक्त गाढ़ा दूध
• सोया पेय विटामिन डी के साथ मजबूत कर रहे हैं
• तैलीय मछली जैसे सामन और सार्डिन
50 से अधिक वयस्कों को विटामिन बी 12 पूरक लेने या विटामिन बी 12 पूरक खाने की सिफारिश की जाती है। जैसे-जैसे आप बड़े होते हैं, आपका शरीर दूध और डेयरी उत्पादों, मांस, मछली, पोल्ट्री और अंडे सहित प्राकृतिक स्रोतों से कम विटामिन बी 12 को अवशोषित करता है। विटामिन बी 12 पोषक तत्वों में शामिल हैं:
• अन्य सोया पेय
• वेजी बर्गर और दुबला चिकन, मछली और मीटबॉल जैसे अन्य मांस विकल्प
खाद्य लेबल पर पोषण तथ्य तालिका देखें कि क्या भोजन विटामिन बी 12 के साथ दृढ़ है। यदि विटामिन बी 12 पंजीकृत नहीं है, तो आहार मजबूत नहीं है।
• विशेष खाद्य विचार
जो लोग पशु उत्पाद नहीं खाते हैं, उन्हें विटामिन बी 12 से भरपूर खाद्य पदार्थ खाने या सप्लीमेंट लेने की जरूरत होती है। विटामिन डी की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए भी मुश्किल हो सकता है और पूरकता मदद कर सकते हैं।
• जो लोग दूध, कैल्शियम युक्त पेय नहीं पीते हैं, या जो उच्च कैल्शियम युक्त आहार खाते हैं, उन्हें कैल्शियम सप्लीमेंट की आवश्यकता हो सकती है। मल्टीविटामिन/मिनरल सप्लीमेंट में दैनिक जरूरतों को पूरा करने के लिए पर्याप्त कैल्शियम नहीं होता है ।
• ऑस्टियोपोरोसिस वाले लोगों को अपनी जरूरतों को पूरा करने के लिए कैल्शियम और/या विटामिन डी की खुराक की आवश्यकता हो सकती है ।
• जिन लोगों को भोजन या असहिष्णु से एलर्जी है या जिनके पास सीमित आहार हो सकता है, उन्हें विटामिन या खनिज पूरक या दोनों की आवश्यकता हो सकती है ताकि उनकी आवश्यकताओं को पूरा करने में मदद मिल सके।
• हमेशा नहीं। एक विशिष्ट स्वास्थ्य स्थिति के इलाज के लिए बड़ी संख्या में कुछ विटामिन या खनिजों की सिफारिश की जा सकती है। उदाहरण के लिए, यदि आपके रक्त में आयरन कम है तो आपको आयरन सप्लीमेंट की आवश्यकता हो सकती है।
• जब तक आपका स्वास्थ्य सेवा प्रदाता आपकी सिफारिश न करे तब तक बड़ी मात्रा में विटामिन या मिनरल लेने से बचें। यह एक सुरक्षित सीमा या असहनीय आयात स्तर (यूएल) से अधिक जोड़ सकता है। उल सुरक्षित विटामिन या खनिजों की एक उच्च दैनिक खुराक है।
• यदि आप विटामिन और खनिज पूरक खरीद रहे हैं, तो पर्यावरण उत्पाद संख्या (एनपीएन) की तलाश करें। NPN राज्यों है कि पूरक प्राकृतिक और अवैध स्वास्थ्य उत्पादों के लिए स्वास्थ्य कनाडा के सुरक्षा मानकों को पूरा करती है । समाप्ति तिथि की जांच करें। बोतल को पूरा करने से पहले पुरानी या समाप्त हो चुकी योजक न खरीदें।

ग. ओल्ड

50 से अधिक उम्र के लोगों को वयस्कों की तुलना में अधिक विटामिन और खनिजों की आवश्यकता हो सकती है। आपका डॉक्टर या आहार विशेषज्ञ आपको बता सकता है कि क्या आपको अपने आहार को बदलने या विटामिन या खनिज पूरक लेने की आवश्यकता है ताकि सबसे अधिक प्राप्त किया जा सके:
• कैल्शियम: कैल्शियम विटामिन डी के साथ काम करता है ताकि हड्डियों को साल भर मजबूत रखा जा सके। हड्डी के नुकसान से बड़ी उम्र की महिलाओं और पुरुषों में फ्रैक्चर हो सकता है। कैल्शियम डेयरी और डेयरी उत्पादों (कम वसा या कम वसा), नरम हड्डियों के साथ डिब्बाबंद मछली, काले जैसे हरे पत्तेदार सब्जियों, और कैल्शियम में उच्च खाद्य पदार्थों, जैसे नाश्ता अनाज में पाया जाता है ।
• विटामिन डी: विटामिन के लाभ जीवन के हर चरण में देखे जाते हैं। संयुक्त राज्य अमेरिका में अधिकांश लोग विटामिन डी की अनुशंसित मात्रा से कम खाते हैं दूध और डेयरी उत्पादों को जोड़ने के बारे में अपने डॉक्टर से बात करें जिनमें विटामिन डी, विटामिन डी फोर्टिफाइड अनाज, और फैटी मछली आपके आहार में होते हैं, या विटामिन डी की खुराक का उपयोग करते हैं।
• विटामिन बी 6: लाल रक्त कोशिकाओं के निर्माण के लिए इस विटामिन की आवश्यकता होती है। यह आलू, केले, चिकन स्तनों, और कठोर अनाज में पाया जाता है।
• विटामिन बी 12: विटामिन के लाभ जीवन के हर चरण में देखे जाते हैं। यह आपकी लाल कोशिकाओं और नसों को स्वस्थ रखने में मदद करता है। जबकि पुराने वयस्कों के रूप में अंय वयस्कों के रूप में ज्यादा विटामिन बी 12 की जरूरत है, कुछ कठिनाई अपने आहार में प्राकृतिक विटामिन खोजने है । यदि आपको यह समस्या है, तो आपका डॉक्टर सलाह दे सकता है कि आप इस विटामिन पूरक के साथ फोर्टिफाइड खाद्य पदार्थ जैसे खाद्य पदार्थ खाएं, या बी 12 पूरक लें। जो लोग केवल सब्जियां और शाकाहारी खाते हैं, उन्हें विटामिन बी 12 की कमी विकसित होने का अधिक खतरा होता है क्योंकि विटामिन बी 12 के प्राकृतिक स्रोत पशु खाद्य पदार्थों तक सीमित होते हैं। B12 पूरक लेने के बारे में अपने डॉक्टर से बात करें।

आहार की खुराक के लाभ

पूरक पर अधिक निर्भरता


कई लोगों के लिए, एक स्वस्थ जीवन शैली का मतलब है एक अच्छा आहार खाने और पर्याप्त व्यायाम प्राप्त करने से अधिक - विटामिन, पूरक और पूरक पोषण उत्पाद भी योजना का हिस्सा हैं। लेकिन हालांकि उनके संभावित लाभों के बारे में बहुत प्रचार है, लेकिन उनके संभावित हानिकारक प्रभावों के बारे में कम जागरूकता है।
न्यू इंग्लैंड जर्नल ऑफ मेडिसिन में आज प्रकाशित एक अध्ययन में पाया गया कि पूरक के प्रतिकूल प्रभाव प्रति वर्ष लगभग २३,००० आपातकालीन विभाग (ईडी) यात्राओं के औसत के लिए जिम्मेदार थे । यह कुछ है कि आप के लिए अच्छा माना जाता है के लिए एक बहुत कुछ है ।
इस 10 साल के अध्ययन में, शोधकर्ताओं ने ६३ अस्पताल आपातकालीन विभागों से निगरानी डेटा को देखा ताकि आहार की खुराक से प्रतिकूल प्रभावों से जुड़े ईडी यात्राओं की वार्षिक संख्या का अनुमान लगाया जा सके । लेखकों ने हर्बल या पूरक उत्पादों, और विटामिन या अमीनो एसिड माइक्रोन्यूट्रिएंट्स के रूप में "आहार की खुराक" को परिभाषित किया। पूरक उपयोग से संबंधित लक्षणों के लिए ईडी का दौरा करने वाले रोगियों की उम्र औसतन 32 वर्ष थी, और महिलाओं ने सभी यात्राओं में से आधे से अधिक को बनाया। इन यात्राओं के सिर्फ 10% से अधिक अस्पताल में प्रवेश के परिणामस्वरूप, विशेष रूप से ६५ से अधिक पुराने वयस्कों के बीच ।
वजन घटाने वाले उत्पादों में सभी एकल उत्पाद ईडी विज़िट और असंगत रूप से प्रभावित महिलाओं के एक चौथाई के लिए हिसाब लगाया गया, जबकि पुरुषों को यौन वृद्धि और शरीर निर्माण के लिए विज्ञापित उत्पादों से प्रतिकूल प्रभाव का अनुभव होने की अधिक संभावना थी। ऊर्जा बढ़ाने वाले उत्पादों ने इन यात्राओं का एक और 10% बना दिया ।
युवा वयस्कों केवल प्रभावित लोगों को नहीं थे । 4 साल से कम उम्र के कई बच्चों को एलर्जी या पाचन लक्षण (मतली, उल्टी, पेट दर्द) से बिना पर्यवेक्षित, विटामिन के आकस्मिक घूस से पीड़ित थे। ६५ से अधिक पुराने रोगियों को बड़ी गोली के आकार के विटामिन या माइक्रोन्यूट्रिएंट्स लेने के बाद निगलने में परेशानी होने की संभावना अधिक थी ।
हालांकि अध्ययन के निष्कर्षों के वार्षिक अस्पतालों की एक अपेक्षाकृत कम संख्या के लिए ईडी यात्राओं के आधार पर अनुमान हैं, वे आहार की खुराक और सूक्ष्म पोषक तत्वों के बढ़ते उपयोग को प्रतिबिंबित । इन उत्पादों को पर्चे के बिना व्यापक रूप से उपलब्ध है और विकल्प या चिकित्सकीय निर्धारित दवा दवाओं के लिए पूरक के रूप में विज्ञापित कर रहे हैं । नतीजतन, आहार या हर्बल की खुराक व्यापक रूप से प्राकृतिक और सुरक्षित माना जाता है। सबसे हालिया आंकड़े बताते हैं कि अमेरिका में 55,000 से ज्यादा ऐसे उत्पाद उपलब्ध हैं।

पूरक पर अधिक निर्भरता



उपर ब्लॉग में बताई गई उपलब्धिया AFD-SHIELD के साथ उपलब्ध हैं
एएफडी शील्ड कैप्सूल 12 प्राकृतिक अवयवों का एक संयोजन है जिनमें से अलगल डीएचए, अश्वगंधा, करक्यूमिन और स्पिरुलिना हैं। एएफडी शील्ड टीजी को कम करता है, एचडीएल बढ़ाता है और उम्र से संबंधित संज्ञानात्मक गिरावट में सुधार करता है। यह तनाव और चिंता को भी कम करता है और एंटी-एजिंग गतिविधि करता है। इसके अलावा, यह इम्युनोमॉड्यूलेटरी गतिविधि को बढ़ाता है, प्रतिरक्षा में सुधार करता है और सूजन और ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करता है। न्यूट्रोग्लिग्क्स: एएफडी-शील्ड

AFDIL Ltd.
+91 9920121021

order@afdil.com

Read Also:


Disclaimer
Home